भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,इंग्लिश ब्लू सेक्सी हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

सोनालीxxx: भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म, मैंने अपने इस संदेह को लेकर भाभी को मैसेज किया कि भाभी अपने बीच प्यार कैसे हो पाएगा?भाभी बोलीं- तू चिंता मत कर, वो सब मैं संभाल लूंगी.

इंडियन सेक्सी वीडियो ग्रुप

फिर सोचा घर पर तो माँ और पिता जी के अलावा कोई है नहीं … तो ये कौन हैं. सेक्सी व्हिडीओ नेपाल काभाई ने मुझे बिस्तर में ही डॉगी बनने के लिए कहा और मैं अपनी गांड को उठा कर जैसे ही कुतिया की पोजीशन में आई तो भाई ने मेरी गांड में लंड को पेल दिया.

उसने मेरी गोद में आकर अपना जाम खत्म किया और मेरे हाथ से सिगरेट ले ली. अंग्रेजी सेक्सी वीडियो चूत वालीअंकित ने उसकी तरफ असमंजस में देखा और मुस्कराते हुए चुम्बन का जवाब देने के लिए उसकी तरफ बढ़ा.

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोअप्रैल 2019 प्रकाशित हिंदी सेक्स स्टोरीज में से पाठकों की पसंद की पांच बेस्ट सेक्स कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये …पूरी कहानी यहाँ पढ़ कर मजा लीजिये ….भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म: उसके बाद मैंने रजू के चूचों को जोर से दबाते हुए उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया.

चयन बोला- लड़की की चूत से ज्यादा लड़के की गांड में मज़ा आता है मोंटू … कभी लड़के को चोद कर देखना.मेरी बीवी की चूत अब अपना चिकना पानी छोड़ रही थी और लंड को निगलने के लिए खुल चुकी थी, खिल चुकी थी.

हिंदी भाषा वाली सेक्सी फिल्म - भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म

” नीलम ने ज़ोर से तड़पते हुए कहा।क्या घुसाऊं बेटी?” महेश ने अपनी बहू से मज़े लेते हुए कहा।ओहहहह पिता जी वह… अपना लंड घुसाओ ना!” नीलम ने भी अपनी शर्म छोड़ते हुए कहा।क्या बेटी, तुम्हें मेरा लंड चाहिए, कहाँ पर, किधर घुसाऊं मैं अपना लंड?” महेश ने इस बार अपनी बहू की चूत के दाने पर अपना लंड घिसकर उसे छेड़ते हुए कहा।पिता जी, मेरी चूत में घुसाओ अपना लंड.मेरी चूची को चूसने के बाद वो अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को आराम से चोद रहे थे.

शायद वह भी इसी का इंतज़ार कर रही थी और पिघली हुई आइसक्रीम की तरह मेरी बांहों में सिमटती चली गयी. भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म मैं उठा और उनके पैर छुए और उन्होंने भी मुझे हंस के देखा और कहा- खुश रहो.

अब धीरे धीरे मेरा लंड किसी को पेलने को उतावला हो रहा था, लेकिन चयन पहले अपने मुँह को मेरे लंड से सन्तुष्ट करना चाहता था.

भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म?

मैं उसके पेट पर अपनी चूत टिका कर बैठ गई और चूत को उसके पेट से रगड़ने लगी. फिर रिंकी ने कहा- क्या आप मेरे ब्वॉयफ्रेंड बनोगे?मानो जैसे मुझे जन्नत मिल गई हो. ऐसा अनेक बार होता है और जब सबके पार्टनर बदल जाते हैं तो दूसरा राउंड शुरू होता है जिसमें बोतल नीचे रख कर घुमाई जाती है.

मैं कुछ नहीं बोली, बस अपनी चूत में उसकी उंगली की रगड़ का मजा लेती रही. मुझे भी मज़ा आ रहा था, मेरे शरीर के स्पर्श से उसको भी खुशी मिल रही थी और उसकी खुशी उसके पजामे में से बड़ी होती दिखाई दे रही थी।वह मुझसे हँसी मजाक कर रहा था. मेरे जीवन की हर सच्चाई को मैंने आपके सामने अपने शब्दों में लिखा जिसे आपने पढ़ा और सराहा भी, उसके लिए मैं अंतर्वासना व इसके पाठकों का बारम्बार आभार व्यक्त करती हूं।मेरा नाम बंध्या है.

वो देखने में तो सीधी-सादी दिखती थी लेकिन उसके पहनावे से पता लग रहा था कि उसको भी कुछ चाहिये है. इसे सुंदरता और समझदारी का संगम कहते हैं”मैं तो आज पूरा 100 ग्राम मक्खन लगाने के मूड में था।हूँ. अब आशा ने सुमिना की चूत से उंगली निकाल ली और वो सुमिना के सिर की तरफ आकर अपनी चूत खोल कर बैठ गई.

जब खाना बन गया, तो उसने खाना टेबल पर लगाया और हम दोनों ने साथ ही बैठ कर खाना खाया. कुछ ही देर में हस्तमैथुन करके मैं झड़ गई और अपनी चुत को धोकर आराम करने अपने कमरे में चली गयी.

मैं अपने बिस्तर पर लेटा हुआ अंकल के बारे में ही सोच रहा था कि तभी मेरे रूम के दरवाज़े पर खटखट की आवाज़ होने लगी.

इधर आपस में होंठ और जीभ बुरी तरह उलझे थे और नीचे मेरी चूत में उनका लंड बुरी तरह फंसा हुआ था.

हम चलने लगे तो चलते हुए पीछे से एक आदमी ने कहा कि बहुत मस्त माल है जीजा के पास तो. कुछ लोगों को ये बात अटपटी लगे लेकिन हम दोनों भाई-बहन ने तो ऐसा ही किया. नीता तो बातों बातों में कह देती- आजा चढ़ जा मेरे ऊपर!अनीता का सेट हो गया था- चुप हो जा वर्ना तेरे मम्मे चूस कर लाल कर दूँगी.

जब भी कोई सेक्सी जवान खूबसूरत सी नंगी लड़की जूम करने के बाद फोन की स्क्रीन पर उभर कर आती थी तो अंदर से दबी हुई सी वासना भरी स्स्स … आह्ह … की सिसकारी निकल जाती थी. अब मुझसे भी नहीं रहा जा रहा था तो मैंने बोला- अब मुझे डालना है, तुम तैयार हो?ठीक है लेकिन आराम से डालना।” उसने हवस भरी आवाज में जवाब दिया. दो घन्टे निकल गए उसी कॉफी शॉप में!करीब डेढ़ महीने बाद जाकर मुझे उसका नाम पता चला, जैसी वो वैसा ही उसका नाम था उपासना। जैसी उसमें एक अलग सी कशिश थी वैसा ही उसके नाम में था। मुझे तो बस ऐसा लग रहा था कि सुबह, शाम, रात, दिन बस उसी कि उपासना करूँ।अब हमारे अलग होने का समय आ गया था, उसने चलने को कहा.

जब मैंने उसके पास जाकर देखा, तो वो पहले से ही अपनी गांड में तेल लगा कर आयी थी.

मॉम ने अपनी नाइटी को कमर तक उठा रखी थी और अपने और अपने एक हाथ से अपनी चूत को सहला रही थीं. नीता ने बताया कि आज घर पर कोई नहीं है, तुम लोगों को जितना कमीनापन करना हो कर लो!सब हंस पड़ीं … नाश्ता करने के बाद सभी हॉल में पसर गयीं … पेट भर गया था और मस्ती हावी हो रही थी. माँ बोली- अभी तो रितिका सो रही है, जाओ उठा दो जाकर!हर्ष यह सुनकर सीधा मेरे कमरे में आ गया.

आज भी मैं उस बात को सोच कर हैरान हो जाता हूँ कि उस लड़की ने मेरे साथ वो सब कैसे किया. ”ऐसे बोलते हुए मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसके बूब्स को देखने लगा।उसने मुझे देखा और बोली- भाई, तेरी बहन लगती हूं. मैंने उससे कहा- ठीक है, फिर मैं जाता हूं।जैसे ही मैं जाने के लिए अपने कदम उठाए, उसने मेरा हाथ पकड़ लिया.

मैंने उसे जोर से अपनी बांहों में भर लिया और उसे गोद में उठा कर अन्दर कमरे में ले आया.

मैं उस दिन शिवानी के गले लग कर बहुत रोई, मगर यह सब आंसू खुशी के थे … ना कि दुख के. तब से हमारे बीच झगड़े होते रहते हैं और हमारे बीच में दूरियां बहुत बढ़ गई थीं.

भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म मुकुल राय- हां बेटी … पूरा ले लिया है तूने … ऐसे ही बेकार में डर रही थी. आंटी ने वो पूरा रस पी लिया … फिर मेरे ऊपर लेट कर मुझे प्यार करने लगीं.

भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म न उनके मन में कुछ था और न मेरे मन में। मैं जीजा के साथ बस से चित्रकूट पहुंच गई. मेरी ये सेक्सी कहानी और नया लिखने का प्रयोग कैसा लगा? जरूर मेल कीजियेगा.

तो दोस्तो, यह थी मेरी कॉलेज फ्रेंड चारू की पहली गांड चुदाई की कहानी.

लड़की और कुत्ता का सेक्सी बीएफ

हां आप ठीक समझे … भाभी की प्यारी सी चुत की मालिश करने बारी आ गई थी. वो जब मेरी चूत पर लंड को रगड़ने लगा तो मुझे ऐसा लगा कि मेरा पानी अभी निकल जायेगा. लेकिन दोस्तो अभी तक न तो आंटी के ही मन में और न ही मेरे ही मन में कुछ गलत विचार आये थे.

मैंने पीछे का दरवाजा खोला, लेकिन ज्योति आगे का दरवाजा खोलकर बैठ गई. मुझे उसकी आंखें वासना से भरी ऐसी दिख रही थीं … जैसे वो मुझे अभी ही खा जाएगी. मैंने उनकी फुद्दी की फांकों को रगड़ा, तो वो मचल उठीं और पीठ के बल सोफ़े पे ही गिर गईं.

अब स्विमिंग पूल में भी वो एक दूसरे के प्राईवेट पार्ट्स को छेड़ने लगी थीं.

बाबूजी! प्लीज छोड़िये मुझे … कोई देख लेगा ” नीलम अपने आप को उनसे छुड़ाने लगी। नीलम को खुली छत पर बहुत डर लग रहा था।महेश ने नीलम को छोड़ दिया और तेज़ी से दरवाज़े की तरफ़ जाकर छत का दरवाज़ा बंद कर दिया। नीलम एकदम हक्की बक्की रह गई कि ससुरजी ये क्या कर रहे हैं।अब तो डर नहीं लग रहा है न बेटी?” महेश ने नीलम की तरफ अपने कदम बढ़ाते हुए कहा।नीलम ने दबी आवाज में कहा- बाबूजी कोई देख लेगा। प्लीज … मुझे जाने दीजिए. अंकल उनको बाहर छोड़ कर मेरे पास आए और बोले- सीमा बुरा मत मानना, लेकिन तुम्हारी अभी तक सील नहीं टूटी है. उसने मुझे ठिठोली करते हुए कहा- अरे मामा आज हम लोगों की याद कैसे आ गयी?मुझे उसके बात करने का अंदाज कुछ अलग सा लगा.

मेरे रखते ही मानो उसके बदन में बिजली दौड़ गयी।अब मैंने धीरे धीरे अपने लंड से उसकी चूत के दाने को रगड़ते हुए चूत के मुंह पे लगा दिया और हल्का सा धक्का दिया. रीतिका बोली- पहले चाची से अकेले मज़े कर लो … फिर बाद में थ्री-सम करेंगे. अब वो मेरे ऊपर ही झुक आये थे, अपने होंठों से मेरे निचले होंठ को चूसने लगे.

मेरे लंड ने मेरी पैंट पर निशान बना दिया था और आंटी अब मेरे लंड को पहले से ज्यादा जोर से दबाने लगी थी. तभी अंकल ने ममता को नीचे बैठा दिया और मेरी चूत से निकला हुआ लंड उसके मुँह में दे दिया.

उसके बाद हमने कुछ देर एक दूसरे से बात की और उसके बाद हम दोनों बहुत बार होटल में मिले. आधी रात के बाद मुझे पेशाब का प्रेशर महसूस हुआ तो मैं टॉयलेट में जाने के लिए उठ गया. भाभी बोलीं- मेरी तरफ से तुम्हें पूरी छूट है … मेरे ऊपर चाहे जैसे चढ़ जाओ.

ये दोनों तो निचोड़ लेंगी आज मुझे।आंटी ने फिर उठ कर कमरे में चलने के लिए कहा और अंदर ले जाकर मुझे बिस्तर पर लिटा दिया.

उसने मेरी शर्ट के बटन को खोल दिया और मेरे सीने पर अपने हाथ चलाते हुए नीचे की तरफ चलने लगी. अगर तुम में हिम्मत है और तुम उसको बहला फुसला कर ले सकती हो, ले लो मैं एकदम चुप रहूंगी. मेरा वीर्य बाहर निकल कर सीधा रुचि के मुँह में जा रहा था और वो बहुत अनुभवी औरत की तरह मेरा सारा वीर्य चट कर गई.

फिर शुरू हुआ चुम्बनों का सिलसिला!उनके बारिश में भीगे बाल गालों और गले से चिपके हुए थे। मैं उन पर चुम्बनों की बौछार कर रहा था और मेरे हाथ उनके बूब्स मसल रहे थे. ज्योति का जेठ होने के कारण उससे कभी डायरेक्ट बात तो नहीं होती थी, पर कभी फ़ोन उठा लेती, तो ‘नमस्ते भाईसाहब, देती हूँ इनको फोन.

खैर … भैया भाभी की चुदाई होने लगी और करीब करीब 10-15 मिनट की चुदाई के बाद भाई भाभी की चूत में ही झड़ गए. इतना कह कर वो मेरे लंड को कसके चूसने लगे और अपने मुँह को आगे पीछे करने लगे. चूंकि उसने कमीज़ के नीचे कुछ नहीं पहना था, इसलिए उसके मम्मे सागर के हाथों से दब रहे थे.

बीएफ बीएफ गाना

अगले दिन शाम को मैं भी दिल्ली से इंदौर के लिए निकल गया और रिंकी को कॉल करके बता दिया.

बस अब क्या था … सभी ने एक दूसरे के कपड़े नोच डाले … सीमा और अनीता एक दूसरे के मम्मों को चूसने लगीं और रेखा ने अपनी जीभ रीमा की चूत में कर दी. जब आंटी से रहा न गया तो वो उठ गई और मेरे होंठों को चूसते हुए मेरे कपड़ों को खोलने लगी. साली बहुत प्यासी लग रही थी मेरे लंड की।मैंने तीन-चार मस्ती भरे धक्के लगाए और उसकी चूत में वीर्य की पिचकारी छोड़नी शुरू कर दी.

दीदी ने उस लंड वाले खिलौने को मेरी चूत पर लगा कर रगड़ना शुरू कर दिया. मैंने उन्हें अपनी गोद में उठाया और उन्हें कमरे में ले जाकर बेड पे पटक दिया. अन्वेशा सेक्सीउसी दिन मैं इस बात की परख कर लूंगा कि तुम्हारी बीवी सच में इतनी सीधी है या वो सती-सावित्री होने का नाटक तुम्हारे सामने ही कर रही है.

हम दोनों ने एक दो डॉक्टर्स को भी दिखाया, लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ. मैंने पूछा- तुम इतने बड़े घर में अकेले रहती हो, तुम्हें डर नहीं लगता?उसने कहा- नहीं, डर कैसा? बल्कि मुझे तो यहाँ अकेले रहने में मज़ा आता है.

”कौन सी जॉब के लिए जा रहे हो नितिन?”एक मैनेजर पोस्ट की जॉब है … एक बड़ी कंपनी में … पहले स्टेशन पर जाना होगा और फिर ट्रेन पकड़ कर आगे जाना पड़ेगा. मैंने लोअर पहनी हुई थी जिसे मैंने नीचे करके अपनी चूत को नंगी कर लिया. कॉलेज की पढ़ाई के साथ साथ मैंनेकॉलेज के दोस्तों के साथ चूत चुदाई का खेलखूब खेला.

जब डॉक्टर मेरी बीबी की चूत को भरपूर चूस चुका तो बोला- बोला हो गई क्लीन तो!लेकिन मेरी वाइफ की चूत सुलग चुकी थी, वो बोली- ऐसे कैसे पता कि क्लीन हुई या नहीं?यह कहते हुए उसने अपनी चूत में उसके चेहरे को भींच लिया. अब समस्या ये थी कि पार्ट्नर कहां से खोजा जाए क्योंकि साथ के लड़के इतने हरामी थे कि साले सबको बता सकते थे. तभी अंकल ने मुझे कुतिया बना दिया और मेरी चूत में लंड लगा कर मुझे रगड़ने लगा.

जिस्म वहीं बाथरूम में कैद था लेकिन मैं और मेरा मन कहीं अपने ही ख्यालों में उड़ रहा था.

लेकिन तुम ही बताओ प्रकाश, अगर औरत के ऊपर सेक्स हावी होता है, तो वो क्या करे. मैंने सासू माँ से कहा- यार, ऐसे कैसे चलेगा कि महफ़िल में तीन लोग हैं, मगर पैग एक का ही चल रहा है.

30 बज रहे थे इसलिए ज्यादा विस्तार में पूछे बिना हम दोनों ने कपड़े पहने और अपने अपने बिस्तर पर लेट गए. मैं वो विदेशी दवाई को निकालने लगा, उसको कैसे यूज़ करते हैं, ये सब पढ़ रहा था. इस तरह के खयाल मेरे मन में आ रहे थे।मैं आंटी के पास गया डरता-डरता हुआ।आंटी बोली- तुम्हारा नाम हिमांशु है?मैं बोला- जी हां।फिर वो बोली- नेहा ने तुम्हारे बारे में कुछ बताया है मुझे।मैं- जी, मैं कुछ समझा नहीं?वो बोली- नेहा कह रही थी कि एक दिन तुम मुझे गंदी नजरों से देख रहे थे और साथ में कुछ और भी कर रहे थे.

मुकुल राय धीरे धीरे परीशा के कपड़े निकालने लगता है। वह अपनी बेटी परीशा को पूरी नंगी कर देता है. मेरी बीवी और साली डबलबेड में … और मेरी सास साईड में बेड लगा कर सोती थीं. वो बार-बार मुझे ना करती रही लेकिन उसकी हर ना मुझे हां छुपी हुई दिखाई दे रही थी.

भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म ‘अहहा … उम्म्ह… अहह… हय… याह… उम्म्म्म … ओह ओह … और चूस और चूस उम्म्म्म … आह आह. शादी हुयी थी, लेकिन नयी नयी नौकरी लगी है, इसलिए फैमिली को साथ नहीं ला सका.

कैटरीना कैफ का बीएफ सेक्सी वीडियो

इससे पहले भी लड़के मुझ पर लाइन मारते थे लेकिन मैं उन पर इतना ध्यान नहीं देती थी. हम दोनों खुले विचारों के थे इसलिए हम दोनों की आपस में बहुत अच्छी बनती भी थी और हम दोनों हमेशा एक दूसरे को किस करते रहते थे. उसने मेरी शर्त को ऊपर करके मेरी ब्रा को निकाल दिया और मेरी चूची को चूसने लगा.

हम तीनों में बहुत गहरी दोस्ती है और सब कुछ एक-दूसरे के साथ शेयर कर लेते हैं. मैंने भाभी के कंधे दबाते हुए उनसे पूछा- भाभी इधर दबाने से आपको कैसा लग रहा है?भाभी बोलीं- सच में मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. सेक्सी बीपी गर्ल्स वीडियोअपने आप को सँभालते हुए, उसने कहा- अन्दर आ जाओ अंकित!अपने आप पर किसी तरह काबू पाते हुए उसने कहा.

उनके पति सरकारी नौकरी में किसी ऊंचे पद पर थे, तो वो अक्सर बाहर रहा करते थे.

दीदी भी अपने पैर मेरी कमर के पीछे लॉक करके हर धक्के का आनंद ले रही थी। इसी पोजीशन में मैंने लगभग काफी देर तक दीदी को चोदा। हम दोनों पसीने से भीग गये थे।मेरे धक्के तेज हो गये और हम दोनों का शरीर अब अकड़ने लगा था. फिर मैं उनके दोनों टांगों के बीच में आ गया और उनकी चुत को पीने लगा.

फिर मैंने मौका देख कर शालिनी की चूत पर लंड रखा और एक धक्का दे दिया. कहानी के पहले भाग में मैंने बताया था कि मैं अपने मामा के घर में अपनी दीदी और भाई के साथ मजे लेकर आई. डॉक्टर ने एक नजर अपनी बीवी की तरफ डाली, उसकी बीवी भी शरारत से बोली- हां हां कर सकते हो! तुम चूत चूसने में बड़े उस्ताद हो, मुझे पता है.

भाभी मेरे लंड से खेलने लगीं और बोलीं- मुझे भी कुछ करने दोगे?मैंने कहा- क्या?उन्होंने कहा- मुझे लंड चूसना है.

जब मैं सुबह उठा और अपने कमरे से बाहर आया, तो मॉम रसोई में खाना बना रही थीं. अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ने में मुझे बहुत ही आनन्द प्राप्त होता है. मैंने अपने बेकाबू से लंड को दीदी के हाथ में पकड़ा कर दीदी को चूसने का इशारा किया तो दीदी ने खड़ी होकर मुझे जोरदार तमाचा मारा और कहा- बहनचोद, मैं रंडी हूं क्या जो तू मुझे अपना लंड चूसने के लिए बोल रहा है?दीदी की इस बात पर मुझे गुस्सा आया लेकिन मैंने कुछ कहा नहीं क्योंकि बना बनाया काम बिगड़ सकता था.

हिंदी सेक्सी बड़ा लंडआह्ह …आशीष बोला- तुम अपनी चूत में उंगली डाल कर ऐसी कल्पना करो कि वह मेरा लंड है जो तुम्हारी चूत में जा रहा है. फिर वो बोली- तुम खड़े हो जाओ, अब मैं भी वो करूंगी … जो तुमने सोचा भी नहीं होगा.

सेक्सी वीडियो बीएफ 2020 का

”अरे नहीं प्रेम! आश्रम में मुझे 2-3 जोड़े मिले थे वो बता रहे थे कि उनको तो गुरूजी की कृपा से ही संतान सुख मिला है।”सब बकवास है. रानी के जाने के बाद नीता ने एक एक के कमरे में जाकर उन्हें उठाया … सब बहुत खुश थीं. इतने में यशिमा बोली- साली रंडी मुझे लगा था कि तू इसके साथ मजे करने का सोच रही होगी.

उन्होंने बड़े प्यार से मेरे होंठों को अपने होंठों में भर के चूसा और बोले- तुझे छोड़ने का मन नहीं कर रहा. लेकिन जब वो मेरी ब्रा निकाल कर मेरी चूची को चूस रहा था तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. मां की आवाज को सुन कर हम दोनों हड़बड़ा गये और उसने झट से अपने शार्ट्स को ऊपर कर लिया.

वो असल में उसी दिन से सागर के लंड पाने की कोशिश करने लगी, जिस दिन उसने कहा था कि उसने ख्याल ही छोड़ दिया है. लेकिन मेरा वीर्य अब शायद उबल चुका था और किसी भी समय बाहर निकल कर उसकी चूत में भरने वाला था. वो बोली- हां सच्ची … मेरी मम्मी को भी अंकल ऐसे ही 7-8 मिनट तक करते हैं.

कभी कभी भाभी भी मेरे निप्पल्स को चूसने लगती जिससे मैं और जोश में धक्के लगाने लगता. वस्त्रहीन भीगे जिस्म पर हाथ फिराया और फिर दायें हाथ से पकड़ कर लिंग को शॉवर से गिर रहे पानी के धारे के नीचे कर दिया.

तू बहन मानता है मुझे और मेरे ही बारे में ऐसे बोल रहा है?वो गुस्सा हो गई और मैंने अपने हाथ खींच लिए और उसको सॉरी बोला।मैं उठा और उठ कर बाथरूम की तरफ चला गया लेकिन अपना मोबाइल छोड़ दिया वहीं। मैंने उसमें उसकी कुछ फोटो निकाली थी चुपके से।उसको इस बारे में पता नहीं था.

चूंकि हम बचपन के दोस्त थे इसलिए पवन की उम्र और मेरी उम्र में कोई खास फर्क नहीं था. कर्नाटक सेक्सी ओपनशादी के कुछ दिन बाद मैंने रीतिका से प्रीति की बातें करना शुरू कर दिया. कुत्ता और औरत के साथ सेक्सी वीडियो”अच्छा! फिर क्या है बताओ?”उसने उसकी तरफ देखा फिर अपनी नज़रों को नीचा करते हुए कहा- आंटी आप बहुत खूबसूरत हैं, और मैं आपको पसंद करता हूँ. अब तो वो भी मजे लेकर चुदने लगी- आह राहुल, मरर गयी मैं!मैंने कहा- सब ऐसे ही मरते हैं.

वो मेरी बात से सहमत थी और फिर धीरे धीरे हमारी सेक्स की बातें भी शुरू हो गईं.

ये साली नेहा मुझे मकान से ही न निकलवा दे और एक नई मुसीबत मेरे गले पड़ जाये. उसके बाद मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और खुद भी पूरा नंगा हो गया. थोड़ी देर बाद जब वो सामान्य हुई, तो उसके चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कराहट दिखी.

उस समय हाथ मेरे लंड पर चल रहे थे लेकिन मन ख्यालों ही ख्यालों में अनीता की मैक्सी को उठाकर उसके बदन के दर्शन करने की कामुक कल्पनाओं में गोते लगाने लगा था. किरण आंटी फिर से गर्म होने लगीं और कहने लगीं- अब और मत तड़पाओ … जल्दी से डाल तो अन्दर. अब मैं भी सागर की कुछ ज़्यादा ही जासूसी करने लगी कि कहीं यह शिवानी की चूत पर फिसलता है या नहीं.

बीएफ सेक्सी दूध

मेरी इस सेक्स स्टोरी को लेकर अगर किसी को कुछ कहना है तो[emailprotected]पर मुझे मेल करें. मैंने झट अपना लंड बाहर निकाल लिया, जिससे मैं चूत के रस की गर्मी से झड़ न सकूँ. ” नीलम जो इस वक्त मज़े के सागर में तैर रही थी, अचानक उसकी चूत से लंड निकलते हुए वो तड़प उठी थी.

रात पूरी अपनी थी … मुश्ताक ने ड्रिंक्स बनाए … दोनों ने टॉवल ही लपेटे थे.

पानी पीने के बाद मैं बोतल उसको वापस कर रहा ही था कि मुझसे रहा न गया और उसके उभार को मैंने हल्का सा टच किया.

मैंने इसके दूधों को दबाते हुए इसके होंठों को चूस डाला और फिर इसकी गर्म चूत में लौड़ा भी पेल दिया. हम लोग अब रोजाना सेक्स और लंड चूत की बात करने लगे थे, पर अब भी हम दोनों ने फोन पर कभी बात नहीं की थी. त्याची सेक्सी पिक्चरउसने अपनी छाती के पल्लू को ठीक करते हुए पूछा- बताइये, क्या लेंगे, चाय या कॉफी.

हम उस दिन करीब 4 बजे चाय पीने गए और फिर शाम को अपने अपने घर चले गए. चयन ने भी मेरे लंड को तकलीफ न हो, इसलिए वो भी दोनों पैर ऊपर करके मेरा पूरा साथ देने लगा. अब रास्ता बिल्कुल साफ था और उसकी मोटी मोटी चिकनी मुलायम जांघों को सहलाते हुए मैंने धक्के मारना शुरू कर दिया।मुझे नहीं पता वो दर्द से कराह रही थी या मजे से, किंतु मैं अपनी मस्ती में उसको चोद रहा था.

उसने मुझे गले लगा लिया और बोली- आई लव यू हनी …इसके कुछ देर बाद मुझे मालूम हुआ कि उसकी सहेली भी साइड वाले रूम में चुद रही थी. दूध चूसने से और चूत में लंड लेने से वो खुद को रोक नहीं पाई और फिर से झड़ने के करीब हो गई.

जब मनु आयी और उसने मुझे देखा तो वो बोली- अरे, तुम्हारे बॉस ने तो तुम्हारा पूरा रस ही पी लिया.

कुछ देर के बाद उसके कराहने की आवाज आने लगी तो मैं उठ कर उसके कमरे में गया. मेरा सर ऊपर को उठ गया झटके से और मेरे बाल उछल के कमर पर आकर लटक गए।करन ने बिना मेरी परवाह किए ज़ोर ज़ोर से पट्ट पट्ट चोदना शुरू कर दिया और मैं बेड पर आगे पीछे हिलती रही।अब मुझे ज्यादा दर्द नहीं हो रहा था और मैं ‘आहह … आहह … आ…आह करते हुए मजे से चुदवाती रही। करन ने मेरे खुले बालों को मुट्ठी में पकड़ के पीछे खींच लिया और मेरा सर झटके से और ऊपर उठ गया था. अब कैसा डर है हमारे बीच में … तुम कुछ ज्यादा ही शर्मीली हो इसलिए मुझे ही कुछ करना होगा.

देसी आंटी सेक्सी बीपी मैं उसके बदन से लिपटा रहा और वो मेरी पीठ पर अपने हाथों से सहलाती रही. उसको मुम्बई जाना जरूरी था और स्मायरा की मम्मी की अचानक तबियत खराब हो गयी थी.

हम दोनों की बातें कब सेक्स वाली बातें में बदल गयी, हमको पता नहीं चला और हम एक दूसरे से सेक्स वाली बातें करने लगे. फिर ऐसे ही कुछ दिन बीते थे कि एक दिन भाभी ने मम्मी से फोन पे कहा- आज मैं घर पर अकेली हूँ और मेरी तबीयत भी ठीक नहीं है. उपिंदर ने पैंट और सफेद अंडरवियर उतार दिया और दीवार पे दोनों हाथ रख के खड़ा हो गया। शैली उसके पीछे बैठी, चूतड़ों को चूमा- हाय कितने दिनों बाद ये जवां मर्दाने चूतड़ और गांड मिल रही है प्यार करने को!फिर उसने चूतड़ फैलाये और उसके होंठ और जीभ शुरू हो गए। कभी चाटती, कभी चूमती, कभी चूसती।अंशु बोली- साली दीवानी हो गयी है.

सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी में सेक्सी

मैंने दोअर्थी शब्दों में कहा- आपकी और कस्टमर क्या पहन कर करवाती हैं?उसने भी मेरी बात समझते हुए कहा- वो लोग ब्रा और पेंटी में भी करवा लेती हैं … इससे उनके कपड़े ख़राब नहीं होते है. मैं अपनी चूत में फंसे उस मूसल से निजात पाने की सोच ही रही थी कि तभी उसने मेरे मम्मों को भंभोड़ना शुरू कर दिया. मैं जैसे ही उसके घर के बाहर पहुंचा, उसने मुझे अन्दर करके दरवाजा बन्द कर दिया.

कुछ देर इधर-उधर की बातें करने के बाद मैं उसको फिर से उसी विषय पर ले आया जिस विषय पर उसके जाने के पहले हम लोग बातें कर रहे थे. जब पहली बार बहू को घर में लाया गया, तो सब बहू की मुँह दिखाई और बहू से परिचय करने में लग गए.

हम दोनों मियां बीवी अपना एक हफ्ते का समान बाँध कर उनके यहां रहने चले गए.

लेकिन क्या करता, चाची ही नहीं मिली थीं, तो उनकी बहनें कहां से मिल जातीं. जब आंटी से रहा न गया तो वो उठ गई और मेरे होंठों को चूसते हुए मेरे कपड़ों को खोलने लगी. वो जग रहा था पर उसने एक बार भी मुझे नहीं रोका।उस समय के लिये वह रात बहुत भयावह थी पर आज जब सोचता हूं तो लगता है कि काश आज फिर मेरे साथ ऐसा होता!तो भाइयो, जल्द ही अपनी अगली सच्ची कहानी लेकर हाजिर हूँगा और उसमें आपका परिचय अपने घर के सदस्यों से भी करवाऊँगा।उम्मीद है कि मेरे भाइयों को यह कहानी पसन्द आयेगी.

उसके चूचे इतने बड़े थे कि मेरे एक हाथ में उसका एक दूध पूरा नहीं आता था. वो दीदी की चूत में उंगली करने लगा और लंड को मेरे मुंह में देकर चुसवाने लगा. ” महेश ने अपनी बेटी के हाथ को अपनी धोती के ऊपर अपने लंड पर रखते हुए कहा।नहीं पिता जी, आप जाइये मैं आपके साथ यह नहीं कर सकती.

उन पलों को याद करते हुए मैं आज भी पसीना-पसीना हो जाती हूं। मुझे आशीष से मिलने का मन करता रहता था, लेकिन कोई जुगाड़ नहीं बना पा रही थी.

भोजपुरी सेक्सी वीडियो बीएफ फिल्म: कुछ ही पलों बाद वो लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी और साथ में हाथ से आगे पीछे करने लगी. जब मैंने उसको उसके घर के बाहर छोड़ा, तो कार में से उतरते टाइम वो मेरे गाल पर किस करके बाय बोल कर चली गयी.

काफी दिनों तक हम दोनों फेसबुक के जरिए एक दूसरे से अपने मन की बात कह लेते थे. कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मेरी बिल्डिंग में रहने वाली औरत के साथ मेरी दोस्ती हो गई थी. फिर क्या था … मैंने भी पूरा जोर लगा कर एक धक्का दे मारा और मेरा आधा लंड उसकी गांड में घुस गया.

गेम की शर्त यह होती है कि जब तक सब लोगों के कपड़े न उतर जाएँ गेम बंद नहीं हो सकता.

पर रास्ते भर मेरे दिमाग में एक ही बात चल रही थी कि इतनी सुंदर होने के बाद भी उनके पति उनके चोदते क्यों नहीं हैं. बोली- नहीं, अभी जाने दीजिये, मम्मी पापा और भाई कल दो दिन के लिए गोरखपुर जा रहे हैं. इसलिए बहुत बार कोशिश करने पर भी मेरा लंड उसकी कमसिन चूत में नहीं घुस पा रहा था.