बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो दिखाएं चलती हुई

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी मूवी ऑडियो: बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड, मुझे मालूम था कि औरतों को भी झांटें होती हैं।लेकिन फिर भी मैंने भोला बनकर रसीली भाभी से पूछा- भाभी जी मैंने सुना था कि औरतों की भी झांटें होती हैं लेकिन आपकी तो नहीं हैं?वो हँसकर बोलीं- हाँ होती है न.

सेक्सी बी पंजाबी

सम्पादक जूजामैंने आपी को आँख मारते हुए बाथरूम की तरफ आँख से इशारा करते हुए हाथ ऐसे हिलाया जैसे मैं आपी को बता रहा होऊँ कि हनी के सीने के उभार कितने मस्त हो गए हैं।हनी जब तौलिये में लिपटी बाहर निकली थी. ಕನ್ನಡ ಸಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ ಕಮ್तब मैंने अपनी मुन्डी नीचे की और खाना खाने लगा।मम्मी बुआ को इशारा करते हुए बोलीं- अपना पल्लू ठीक करो.

अब एकदम से उन्होंने मुझे उठाया और मेरी पेंट की बेल्ट खोलने लगे।मैं घबराया- सर ये क्या रहे हो?‘अब तूने लौड़े को गर्म कर दिया है. भाई बहन की ब्लू सेक्सी पिक्चर?मैंने बोला- हाँ आंटी।तो उन्होंने ने मुझसे आईडी कार्ड दिखाने को बोला।थैंक गॉड हम दोनों का सरनेम सेम था.

विवेक और सुनील आपको कार्ड्स देंगे और रॉनी सन्नी मेरे भाई को कार्ड्स देंगे।कोमल की बात सुनकर पुनीत हिल गया उसकी तो सारी प्लानिंग धरी की धरी रह गई थी।पुनीत- ये क्या बकवास है.बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड: ’ के अलावा कुछ नहीं निकल रहा था।मैं फिर से आशा की चूत चाटने में लग गया।आशा कहने लगी- सनी.

जिसे देख कर मैं अपने होश-हवाश खो बैठा और मैंने उसी पल सोच लिया कि आज नहीं.तभी मेरे दोस्त ने मुझे कहा- मेरी तरफ से ये तेरे लिए आज की रात का गिफ्ट है।उसने मेरी जान-पहचान करवा दी।उसका नाम शामली था.

टैबू सेक्स क्या होता है - बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड

अभी तक आपने पढ़ा …मैंने उसकी फ्रेंची में लगे उसके प्रीकम को चाट लिया।अब उसने मेरा मुँह अपने लौड़े के नीचे लटके आंडों में दे दिया जहाँ जांघों पर हल्के बाल भी थे।मैं उसके आंडों को चूसने लगा.एक रूम भाड़े पर ले लिया और वहाँ रहने लगा। कुछ दिन बाद मैंने देखा कि मेरे पड़ोस में एक बहुत ही खूबसूरत माल था और वह भाभी छत पर कपड़े सुखा रही थी।मैंने जब उसे देखा.

फिर मैंने धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करना शुरू किया। वो दर्द से कराह रही थी और मैं उसे चोदता जा रहा था।वो धीरे धीरे कराह रही थी- आह्ह. बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड इसलिए वो भी मेरी सारी बातें मान रही थी।घर में अन्दर जाकर मैंने सोनिया को बैठाया.

पर प्रीत की चूत अभी भी बहुत टाइट थी। मैं एक हाथ से उसके चूचों को दबा रहा था और दूसरे हाथ से मैंने उसकी कमर को पकड़ रखा था।थोड़ी ही देर में प्रीत ठीक हुई.

बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड?

प्रियंका ने किसी तरह से उसके नीचे से निकल कर तुरंत ही उसकी गाण्ड में वही बैंगन पेल दिया. तुम्हारी छोटी सी नाज़ुक सी चूत में मेरा इतना बड़ा लण्ड समाया हुआ है. शायद फरहान भी आपी की यहाँ मौजूदगी से एग्ज़ाइटेड हो रहा था।मैंने फरहान के होंठों से अपने होंठों को अलग किया और फरहान की शर्ट और शॉर्ट मुकम्मल उतार दिए।अब हम दोनों बिल्कुल नंगे हो चुके थे, दोनों आपी की तरफ घूम गए।आपी के गाल सुर्ख हो रहे थे और उनकी आँखें भी नशीली हो चुकी थीं।‘आपी कैसा लग रहा है आपको.

मेरा इंजिन बहुत तेज हो गया था। मेरे शॉट से उसके कबूतर जोरों से हिल रहे थे।जैसे मेरी स्पीड बढ़ रही थी उसके चूचे भी तेज तेज हिलते जा रहे थे। मैंने उसकी चूत की पूरी तरह से वाट लगा दी थी।उसके बिस्तर पर बहुत खून फ़ैल गया था. मेरी योनि में मीठी सी चुभन मुझे आनन्द भरी टीस दे रही थी।लगभग 7-8 मिनट तक धक्के लगाने के बाद मुझे चरमोत्कर्ष प्राप्त होने लगा और मुझे योनि के अन्दर संकुचन सा महसूस हुआ। मुझे योनि के अन्दर कुछ रिसता हुआ सा महसूस हुआ. थोड़ी सी टाँगें खुली हुईं और ठीक टाँगों के दरमियान वाली जगह पर ब्लैक सलवार के ऊपर गुलाबी खूबसूरत हाथ.

मैं और मामी भी एक-दूसरे को देखने लगे, शरीर में एक अजीब ही सनसनी हो रही थी, उसे बताना मेरे लिए असम्भव है।मुझे बड़ा मजा आ रहा था और मेरे लंड में अजीब सा कम्पन महसूस हो रहा था। मैं सिर्फ मामी को देख रहा था. और ना ही कोई ब्लू-फिल्म देखी थी।असल बात तो यह थी कि रीना तो खेली खाई लड़की थी और सब कुछ जानती थी। रीना को पता था कि उसकी चूत की सील नहीं बल्कि प्रवीण के लंड का टांका टूटा है।मगर प्रवीण के हट जाने के बाद रीना अपनी पैन्टी ऊपर चढ़ाते हुए प्रवीण को गाली देते हुए बोली- भोसड़ी के तू तो पक्का मादरचोद है. उसके बाद मैंने उससे कहा- वो चेंज कर ले और आराम से बिस्तर पर आ जाए।उसने कहा- जी ठीक है।वो अलमारी से अपने कपड़े निकाल कर बाथरूम में जा कर चेंज करने लगी।लगभग 5 मिनट बाद वो नाइट सूट पहन कर बाहर आ गई।अब वो और मैं एक साथ बिस्तर में बैठे थे, मैंने धीरे से उसके चेहरे को पकड़ कर अपनी तरफ किया और उसके माथे पर एक चुम्बन किया.

जिसे देख कर पुनीत आग-बबूला हो गया।टोनी ने उसका मुँह खोला और उसके मुँह पर थूक दिया- साला बहनचोद कहीं का. तो पीछे-पीछे ममता भी आ गई और मेरे साथ में नहाने लगी, वो मुझे भी नहला कर साफ़ करने लगी।उसकी कामुक हरकतों से ऐसा लग रहा था कि वो एक बार और चुदना चाहती हो।मेरा लण्ड भी सलामी देने लगा और उसने भी मेरे लण्ड को सहलाना शुरू कर दिया।बाथरूम में भी हमारा एक राउंड चुदाई का चला।फिर हम नहा कर बाहर निकले तो देखा कि घड़ी में 3:30 बज रहे थे।मैं भाभी और ममता से बोला- भाभी मुझे थोड़ा सोना है.

’वो जोर-जोर से आवाजें निकाल रही थी।फिर मैंने उसकी पैंटी उतार दी और मैं तो बस अपनी लपलपाती जीभ से उसे चाटे जा रहा था।‘साले चाट इसे.

इस कारण हम दोनों ही शादी में जा नहीं पाए। मॉम-डैड भी एक दिन के लिए ही गए.

घबराते-घबराते उसने मेरी अंडरवियर पकड़ी और नीचे खींच दी।अब तक मेरी अंडरवियर दो बार गीली हो चुकी थी. जिसमें मैं तीन गोरों से चुद गई और उन्होंने जी भरकर मुझे अपनी हवस का शिकार बनाया।वो लोग हम लोगों से दिल्ली के एक पब में मिले थे. बोल न?रॉनी- रात को एक्सीडेंट में इसके पापा और मेरी माँ चल बसे।सन्नी- वॉट.

तो कम से कम अकेले होने का डर तो नहीं रहेगा।’‘क्या आपने घर वालों को इंफॉर्म कर दिया है?’ मैंने पूछा।‘हाँ. तो आँख खुलते ही जेहन में पहला सवाल ये ही था कि अब क्या होगा??मैं कॉलेज के लिए तैयार होकर बाहर निकला तो अम्मी टेबल पर नाश्ता लगा रही थीं. अम्मी… मर गई मैं!’ निकल गई।उसका लंड बहुत मोटा था।‘क्यों क्या हुआ रंडी.

लेकिन अब मैं यह सब बिना डरे करना चाहती थी।उसी दिन जब मैं नहाने जा रही थी तो अम्मी बाथरूम में आ गईं और दरवाजा बंद कर लिया।वे बोलीं- अपने कपड़े उतारो।मैंने अम्मी से कहा- अम्मी.

अगर रोशनी और अंकित जाग गए तो दिक्कत हो सकती है।मैंने भी उसकी बात मान ली और हम दोनों वहाँ से उठ कर छत पर ही बने एक कमरे में चले गए।दोस्तो, आज नीलम की चूत की सील टूटने का वक्त आ गया है. लेकिन वो एक पढ़ाकू लड़की होने कारण इन बातों में अधिक ध्यान नहीं देती। उसका फिगर 36-28-36 का है ऐसा लगता है वो कि कोई मॉडल हो बस कद में कमी है।बात दरअसल यह है कि हम दोनों ने ही 12 वीं के एग्जाम के बाद NDA का एंट्रेन्स एग्जाम दिया था और हम दोनों ही उसमें पास हो गए थे। उसके बाद हमें फिज़िकल टेस्ट के लिए 3 दिन के लिए आगरा जाना था।हमारे दोनों के पिता भी सरकारी जॉब में एक ही फील्ड में हैं. ’ की आवाज़ के साथ मेरा आधा लंड उनकी चूत की गहराई में उतर गया।वो एकदम से चिल्ला उठीं- नहीं.

क्योंकि हमारी नजरों की गिरफ्त में अब रियल लण्ड भी थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !जब मैं डिसचार्ज होने के क़रीब हुआ. मैंने अब तक किसी के साथ ये नहीं किया है।मैंने कहा- मैं केवल इनको बाहर निकाल कर इनको किस करूँगा. साथ ही लौड़ा अन्दर ठेलते समय मैं उसकी चूचियों को भी जोर से भींचने लगा।पूरे कमरे में फिर से एक बार मादक सीत्कारें गूँजने लगीं। कुछ देर हम दोनों ऐसे ही चुदाई का खेल करते रहे.

तो कोई ऐसा ख़तरा भी नहीं था कि कोई चोर डाकू आ जाएं। हमारे घर के चारों तरफ लॉन था उसके बाद दीवारें बनी हुई थीं.

तो मैंने अपना सर नीचे झुका लिया।इस पर अंकल ने मेरा चेहरा अपने हाथों से ऊपर उठाते हुए कहा- इसमें शरमाने वाली क्या बात है। तुम बालिग हो और मैं समझता हूँ कि तुम्हें औरत और मर्द के रिश्तों के बारे में सब कुछ पता होगा।चूँकि मैं ज़्यादा संकोची या दकियानूसी ख़यालों वाली लड़की नहीं थी. ’ कहकर वो अपने कपड़े फर्श पर सुखाने के लिए फ़ैलाने लगीं।मैं भी जब कपड़े धोकर और नहा कर बाहर आया तो ठंड से कांप रहा था।‘आपको भी ठंड लग रही है ना?’ उन्होंने हँसते हुए पूछा।‘हाँ.

बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड और अपना चेहरा मेरी तरफ करके मेरे लण्ड के ऊपर बैठो और अपनी टाँगें मेरी कमर के इर्द-गिर्द कर लो. तो घर से बाहर किसी और के साथ जाकर करो।फिर कुछ देर और खामोशी में ही गुज़र गई, मैंने आपी के चेहरे की तरफ देखा.

बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड जिससे मेरी गाण्ड की फांक में उनका लंड आ गया। अब मैं उनके लण्ड को अच्छी तरह से महसूस कर रही थी।मैंने अपना हाथ धीरे से बढ़ा कर अपने शॉर्ट्स को सरका कर नीचे कर दिया। अब मैं सिर्फ़ पैन्टी में रह गई थी. लेकिन मेरा काम आधे घंटे में ही हो गया और मैं घर आ गया।घर आ कर मैंने आवाज़ लगाई.

उनकी जांघों को रगड़ने के बाद मैंने उनके अधखुले ब्लाउज को भी निकाल डाला।मेरी नज़रें उनकी बगलों पर गईं.

जानवर के सेक्सी चाहिए

जिसके कारण उन्हें कई जगह चोट आई और कमर के निचले हिस्से में चोट लगने के कारण वे अपनी पिता बनने की शक्ति को खो बैठे हैं।यह बात सुन मेरे रोंगटे खड़े हो गए. जो कि दूर से ही ब्रा के ऊपर दिख रहा था।मैंने उसके निप्पल को पकड़ कर ब्रा से बाहर निकाल लिया। गुलाबी निप्पल को देख कर लग रहा था कि वो बाहर निकलने का इंतज़ार ही कर रहा था. पर मैंने तुमसे सच्चा प्यार किया है। इस ज़िन्दगी में तुम मुझे हमेशा अपने साथ खड़ा पाओगी।सोनाली ने मुझे कस कर अपने गले लगा लिया और मेरे माथे पर एक भीनी-भीनी पप्पी भी दी।मैंने महसूस किया जैसे सोनाली को थोड़ा दर्द हो रहा था.

!’ और ‘व्हाट आर यू डूइंग?’फिर मैंने भी उसे ‘हैलो’ में रिप्लाई दिया।उसका मैसेज आया- क्या आप बात कर सकते हो?मैंने तुरंत कॉल किया।मैंने कहा- अपेक्षा मेरा मन नहीं लग रहा है. मेरा अंडरवियर जैसे ही मेरी जांघों तक आया। अंकल ने अपना हाथ लगा कर उसे नीचे सरका दिया। वह मेरी चिकनी बुर देख कर मचल उठे।बोले- वाऊ. तो मैंने फिर से दुपट्टा उतार कर साइड में रख दिया। आज मुझे एहसास था कि वो पक्का मुझे देख रहा होगा। मैं थोड़ी देर तेज कदमों से चहलकदमी करती रही.

जब तक मैं पूरा घर भी देख लूँगी।अंकल ने खाने का आर्डर फ़ोन पर दिया और मुझे अपना पूरा मकान दिखाने लगे। नीचे हिस्से में दस कमरे थे.

इतनी हॉट कि उन्हें देखते ही चोदने का मन करता था।लेकिन मुझे डर भी लगता था कि अगर मैंने कुछ करने की कोशिश की और उन्हें बुरा लगा, उन्होंने किसी को बता दिया तो मेरी दाई चुद जाएगी. मैं उनको भी चूसने लगा।थोड़ी देर बाद हम वापस मिशनरी पोज़िशन में आ गए। नीलम चाची ने अपनी पकड़ बहुत ही मजबूत कर दी।‘राहुल. उनका शरीर इठने लगा और वो झड़ गईं।उनका गरम पानी मैंने अपने लंड पर महसूस किया। सच में मज़ा आ गया.

इस बात को समझ सकते हो कि जब हमारे जिस्मों को जेहन के बजाए टाँगों के बीच वाली जाघें कंट्रोल करने लगती हैं. पर मैं स्कूल नहीं गया। स्कूल के रास्ते पर ही मैं सोनिया का इंतजार कर रहा था।जब सोनिया आई तो मैंने उस से कहा- सोनिया. मुझे अपने आस-पास का बिल्कुल होश नहीं रहा था और मेरी नजरें अपनी सग़ी बहन के मम्मों पर जम गई थीं।मेरी बहन के मम्मे बिल्कुल गुलाबी थे, उनकी जिल्द बहुत ज्यादा चिकनी थी.

तो मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला और उसे डॉगी स्टाइल में चोदने लगा। उसकी गाण्ड बहुत प्यारी थी और मैं बार-बार उसपर चपत लगा रहा था।जैसे ही चपत लगाता. कॉम पर…मुझे उनका अंदाज़ थोड़ा ठीक नहीं लगा फिर मैं घर आ गया।रात को लेडीज संगीत था.

तब तक मैं भी घर साफ़ करके नहा लेती हूँ।तो वो मेरे साथ ऊपर चली आई।ऊपर आते ही मैंने उसको अपने तरफ़ खींचा और अपने होंठों को उसके होंठों पर रख दिए।उफ़. तो लौड़ा उनकी गाण्ड में अच्छी तरह से रगड़ गया।उन्होंने मेरी तरफ देखा और मुस्कुराईं।इतने में चाचा जी आए और बोलने लगे- वीजे भण्डार से खाने का सामान लेकर आओ।मेरे मुँह में पानी आ गया कि इशिका को गर्म करने का मौका है. बोलो?मैंने रिप्लाई किया- कहाँ हो?कीर्ति- रोड पर बैठ कर बातें कर रहे हैं घंटे भर में आ जाऊँगी।तभी वो लड़का दो गिलास लेकर वापस आया और दोनों ने पी.

तो जुगत भी मुझे ही लगानी थी।कोई एक महीने बाद बेबी को अपने एग्जाम के सिलसिले में मायके जाना था और दो-तीन दिन वहाँ रुकने का प्रोग्राम था।मैंने चाल चल दी और बेबी के बार-बार मना करने पर भी जाने से एक रात पहले उसकी गाण्ड फाड़ दी। मैंने उसको बहुत बेरहमी से पीछे से चोदा.

अवि- फिर अभी आपकी वजह से मुझे अच्छे मार्क मिले हैं।मैडम- मेरी तारीफ़ मत करो. तो एक न्यूज़ चैनल पर ‘एयर ब्रा’ का एड आ गया।भभी ने मज़ाक में कहा- देखो ये चोली (ब्रा) कितनी फिट आ रही है।मैंने कहा- हाँ भाभी।उस दिन से उनसे मेरी खुल कर बातचीत होने लगी थी।फिर थोड़े दिनों बाद भाभी का बर्थडे आ गया. ’फिर असलम अंकल ने मेरे छोटे-छोटे चूचों को चूसना छोड़ कर होंठों का किस लेना शुरू कर दिया- तू तो मेरी गुड़िया रही है ज़ीनत.

ये बात किसी को भी नहीं पता चलेगी।मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसको अपने सीने से लगा कर उसे चुम्बन कर दिया।नीलम कहने लगी- छोड़ो मुझे. दोस्तो,मेरा नाम प्रेम है और मैं नागपुर का रहने वाला हूँ। मैं अभी 25 साल का हूँ। मुझे घूमना-फिरना बहुत अच्छा लगता है.

मैं गर्म होने लगी थी। वो मेरे मम्मे मसलता हुआ आहिस्ता से मेरे कान में बोला- शमा तुझे मज़ा आ रहा है ना?मैंने कहा- हाँ. फरहान और हनी के स्कूल शुरू हो चुके थे।अम्मी ने हमेशा की तरह सबका ही बता दिया और मुझे भी लेक्चर पिलाने लगीं।वो ज़रा सांस लेने को रुकीं. मैंने उसे उठाया बिस्तर पर बिठाया।उससे कहा- अपनी आँखें खोलो और देखो बहाने मत करो।मैंने उसे जबरदस्ती लौड़ा देखने के लिए मजबूर किया। उसने देखा और फिर आँखें झुका लीं। अब मैंने उसे लिटा दिया और पास में पड़ी उसकी ओढ़नी से उसके हाथों को बिस्तर से बाँध दिया।अब मैंने उसकी चूत में उंगली करनी चालू कर दी.

इंडियन कॉलेज सेक्सी गर्ल

वो वास्तव में बहुत प्यासी थी।उस दिन से लेकर एक सप्ताह बाद मैडम का फोन आया- जानू क्या कर रहे हो.

पायल थोड़ी गुस्सा होकर बोली और नीचे से बियर की बोतल उठा कर गटागट तीन-चार घूँट स्पीड से गटक गई।टोनी- जाओ भाई निकालो पैन्ट. हम और कुछ नहीं करेंगे। मैंने पहले ही तुम्हें कहा था कि तुम सिर्फ़ मेरी चूत चाट सकते हो।मैं सोचने लगा कि साली चूत चुसवा तो सकती है पर चुदवा नहीं सकती है. फूफाजी ने भी आव ना ताव देखा और शुरूआत बुआ की गाण्ड से की, उन्होंने अपना पूरे 6 इंन्च का मोटा लंड बुआ की गाण्ड में घुसेड़ दिया।हल्के से बुआ चिल्लाईं.

’ की आवाजें निकल रही थीं।मुझे अपने मुँह में आपी चूत फड़कती हुई सी महसूस हो रही थी।मैंने ज़िंदगी में पहली बार किसी चूत का ज़ायक़ा चखा था और मुझे उस वक़्त ही पता चला के चूत के पानी का कोई ज़ायक़ा नहीं होता. उस दिन मैं सासू आंटी को कार में बिठा कर पटियाला ले गया। उन दिनों बेबी पेट से थी. सेक्सी हिंदी चुदाई मूवीअगर आप लोगों का प्यार मुझे मिला तो मैं अपनी कहानियाँ आप तक भेजता रहूँगा।अपना प्यार मुझे[emailprotected]पर भेजें।.

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मैं इसमें प्रकाशित हर कहानी को पढ़ता हूँ और इन कहानियों को पढ़ते हुए मैंने सोचा क्यों न आज मैं भी अपनी कहानी यहाँ लिख भेजूँ ताकि आपको भी मजा आए।कहानी लिखने से पहले मैं आपको अपने बारे में आपको बता दूँ, मेरा नाम मोनू (नाम बदला हुआ) है। अभी मेरी आयु 25 साल है. उसके बाद तो मैं और वो बहुत मिलते और कभी-कभी एक-दूसरे को किस भी करते।फिर एक दिन मैंने उससे बोला- मेरे दोस्त का फ्लैट खाली है.

तो उसने मुझसे पूछा- मुझे उसका घर क्यों चाहिए?तो मैंने उसको बता दिया- मुझे सोनिया की चुदाई करनी है।उसने कहा- यार तू तो सोनिया को चोद लेगा. क्योंकि यह मेरा भाभी के साथ फर्स्ट टाइम था। मेरे मुँह से भी आवाज़ निकलनी शुरू हो गई- आआहह… मेरी जान ऊऊ. जिससे मेरी गाण्ड की फांक में उनका लंड आ गया। अब मैं उनके लण्ड को अच्छी तरह से महसूस कर रही थी।मैंने अपना हाथ धीरे से बढ़ा कर अपने शॉर्ट्स को सरका कर नीचे कर दिया। अब मैं सिर्फ़ पैन्टी में रह गई थी.

ब्लू-फ़िल्म देख कर उसी की स्टाइल में चुदाई करते थे।आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी. थोड़ा सा खुला पर बहुत प्यारा व कसा हुआ काम प्रवेश द्वार…यह सब देख कर तो पप्पू की हालत खराब होनी ही थी, वो तो बावरा सा हो गया और उसने अपना मुँह. ज़रा सोचें कि आपकी सग़ी बहन ऐसे लेटी हो और उसकी गाण्ड और चूत का सुराख उसके सगे भाइयों के मुँह में हो.

जिनके निशान 15-20 दिन तक मेरी पीठ पर बने रहे।मुझे शॉट लगाने में तकलीफ हो रही थी बेबी ने अपने कामरस से मेरा लण्ड.

एक हसीना के दो बहुत गोल-मटोल पके हुए रसीले खरबूजे मस्ती करते हुए बार-बार मेरी आँखों के सामने आ रहे थे।मैं दिल ही दिल में हँस दी और कॉलेज चली गई।रात को फिर मैं चहलकदमी करने गई. जिससे मुझे अपना लौड़ा उसकी चूत में डालने में थोड़ी दिक्कत हो रही थी।वहीं पास में ड्रेसिंग पर क्रीम की शीशी रखी हुई थी.

वैसे-वैसे मेरी उंगली और नीचे जा रही थी।मेरी उंगली एक सुराख तक पहुँच गई. फिर धीरे धीरे उनकी चूत ने मेरे लवड़े को आत्मसात कर लिया।उसके बाद मैं उन्हें धकापेल चोदने लगा था।तो वो अजीब-अजीब सी आवाज़ निकाल रही थीं- आह्ह्ह्ह. आपी ने रोते-रोते ही जवाब दिया- नहीं सगीर तुम्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था.

लंड के चूत में ही जाते ही मानो जन्नत की सैर कर आया। मैं तेज-तेज धक्के लगाने लगा और ‘फॅक. तो रकम बढ़ा भी दूंगी।मैंने भी ‘ओके’ कर दिया, उसने अपना फ़ोन नंबर दिया और मैंने अपना।एक दिन फ़ोन पर बात करने के बाद मैं नियत समय पर उसके घर पहुँच गया।वो एक अपार्टमेंट में रहती है।बेल बजाने पर सुपर्णा ने दरवाज़ा खोला।हाय. 5 इंच का लौड़ा मेरे मुंह में दे दिया।मैं भूखे कुत्ते की तरह उनके लंड को खाने लगा.

बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड समझ नहीं आया।मैं पेशाब करके मामी के पास जाकर बैठ गया। मेरी नजरें झुकी हुई थीं और मैं और मामी एक-दूसरे से काफी देर तक नहीं बोले।तब तक पाड़ा भी अपना काम पूरा कर चुका था। वह भी दूर हट गया।तभी मैंने बोला- मामी. फिर अपने कपड़े उतारे और अपना लण्ड पकड़ कर उसके मुँह में डाल दिया।पहले तो उसने मना किया.

सेक्सी stories in marathi

आराम से मेरे चूचे दर्द कर रहे हैं।मैं बोला- दर्द में तो मजा है साली!मैंने उसको दोनों निप्पल्स को मसल दिए।प्रियंका ने कहा- जीजू मेरी गाण्ड भी मारो न. 8 हाइट होगी। उसके प्यारे कोमल होंठों पर गुलाबी रंग की लिपस्टिक लगी हुई थी. मेरे पति का तो 6 इंच से भी छोटा है और पतला भी है।मैंने कहा- फिर तो तुमको मेरे इस बड़े लण्ड से और मज़ा आएगा.

चल अब जा और नहा कर आ।मैं बोला- तुममें से किसी को आना है तो आ सकता है।नेहा बोली- चल-चल अब जा. तब से मेरी गाण्ड में खुजली होने लग गई है।ये कहते-कहते उसने मेरे होंठों को चूम लिया और काट भी लिया और मेरे कान में कहा- धीरे करना. 𝚋𝚒𝚐𝚋𝚘𝚘𝚋𝚜पर मेरे स्खलित होना का दूर-दूर तक कोई निशान नहीं था।सोनाली की चूत किसी झरने की तरह बह रही थी और पूरे कमरे में ‘फच.

टोपे संग सोनाली की चूत से बाहर आता और फिर मैं उसको तेज़ी से अन्दर डाल देता।ऐसा करने से मेरा भी लावा बनने लगा था और मुझे चुदाई करने में मज़ा भी आ रहा था। क्योंकि हर बार जब लण्ड सोनाली की चूत से बाहर आता.

मेरा लिंग 7 इन्च लम्बा है।मैं आपको अपनी एक सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हूँ. मुझे झड़ने के बाद भी दस सेकंड तक पेलना है।ठीक इसके बाद ही उसने बोल दिया- मैं झड़ने वाली हूँ.

सब कुछ भूल कर हम दोनों अब धीरे-धीरे शांत हो रहे थे।मैं नीलम चाची को गहरे चुम्बन देते हुए उनके ऊपर ही लेटा हुआ था। मेरा लण्ड अभी भी उनकी चूत में था। मेरा लण्ड भी धीरे-धीरे सिकुड़ने लगा था।हम दोनों पसीने से तरबतर थे, हमारी भारी साँसें अब हल्की हो रही थीं।आखिरी चुम्बन करके मैं उनके पास में लेट गया।नीलम चाची बहुत ही खुश थीं. तो वो सब समझ जाएँगी।यही सोचकर मैं भी नीचे जाकर अपने कमरे में सो गया।इस घटना के बाद मौसी अब मुझे बहुत ही अच्छी और खूबसूरत लगने लगी थीं। मौसी मुझसे उम्र में बड़ी थीं पर वो बहुत मस्त कटीली हसीना थीं।मैंने अभी जवानी में कदम ही रखा था. इसलिए मैंने सोचा क्यों न अपनी कहानी भी आप सभी से शेयर की जाए। वैसे यह कहानी नहीं.

पर तुम्हारी कल की हरकतों ने मेरे अन्दर की वासना को भड़का दिया और अब मैं और ज़्यादा कंट्रोल नहीं कर सकती हूँ।वो मुझे बेतहाशा चूमने लगी।मैं अब उठकर बैठा और उससे कहा- मेरा लौड़ा मुँह में लेकर चूसो।पहले तो उसने मना किया.

अन्दर से कोई आवाज़ नहीं आई।तो वो बोलीं- फरहान मुझे तुमसे बिल्कुल भी ये उम्मीद नहीं थी. जो उसने किसी राज नाम के लड़के से ली थी।फिर मुझे यकीन आया और मैंने भी उसको सिर्फ अपने लौड़े के लिए अपने साथ रखा।यह थी मेरी फर्स्ट लव स्टोरी. तो मैंने अंकल की आँखों में अपने लिए बेइंतेहा प्यार देखा। उनके प्यार में डूब कर मैंने अपना दर्द बर्दाश्त करने की पूरी कोशिश की।तभी अंकल ने मेरी आँखों में देखते हुए पूरी ताक़त से ‘खचाक.

सेक्सी वीडियो हिंदी में दीजिए तो’ मैंने भरपूर नज़र आपी पर डालते हुए कहा।‘अच्छा अभी तो तुमने सही तरह से सूट देखा ही कहाँ है. पहले तो दोनों ने मुझे अपनी नशीली आँखों से देखा फिर नेहा खड़ी हुई और मेरे तौलिए को खींच लिया। उसने मुझे धक्का देकर सोफे पर गिरा दिया।अब वे दोनों मुझ पर भूखी शेरनियों की तरह टूट पड़ीं।निधि मेरा लौड़ा पकड़ कर हिलाती तो कभी पूरा मुँह में ले लेती.

गब्बर सेक्सी

मैडम ने नॉर्मल होते हुए कहा- अरे कुछ नहीं।अवि- फिर आप इस तरह खड़ी क्यों थीं. फिर मैं अपना हाथ उनकी चूत की ओर सरका कर ले गया और धीरे-धीरे हाथ फेरने लगा।अचानक वो हिलीं और उन्होंने मेरा हाथ हटा दिया. लेकिन अंकल के हर एक्ट का जवाब बाडी लैंगवेज से बराबर दे रही थी।फिर अचानक ही मैं बोल पड़ी- अंकल यह आप मेरे लिए क्यों लाए?उन्होंने कहा- बस अच्छा लगा तो ले लिया.

तो मैंने भी धीरे-धीरे धक्के मारने शुरू कर दिए, साथ ही मैं उसके चूचों को भी दबा रहा था।प्रीत ‘ऊओह्हह्ह आअह्ह्ह ऊओईई. तुम तेल निकाल कर मेरे लण्ड पर लगाओ।वो तेल निकाल कर मेरे लण्ड पर लगाकर उसकी मुठ मारने लगी।मैं देर करने के मूड में नहीं था. मुझे अच्छा लगेगा।मैं हँस दिया।फिर उन्होंने आगे कहा- आज जिंदगी में पहली बार किसी और का टिकट कटा कर मुझे बहुत ख़ुशी हुई।मुझे यह बात सुनकर बहुत ख़ुशी हुई।ऐसे बातें करते-करते कब अँधेरा होने लगा पता ही नहीं चला। बस वाले ने भी अन्दर के सब लाइट्स बंद कर दी।कुछ सो चुके थे पर हम अब भी बातें करते रहे।फिर कुछ देर बातें करते हुए भाभी ने कहा- सूरज अब कुछ अलग बात करते हैं.

” की आवाज आने लगी। फिर मैंने भाभी को सीधा बिस्तर पर लेटाया और उनकी टाँगें चौड़ी करके अपना सुपारा उनकी चूत के छेद पर लगा कर एक जोर का धक्का दिया. उसने अपनी दोनों बाहें मेरी गर्दन में डाल लीं। मैंने अपना हाथ उसकी चूची पर फेरना शुरू कर दिया. तो उसने कहा- ठीक है ट्राई करती हूँ।उसने नीचे से अपना टी-शर्ट पकड़ी और ऊपर उठाने लगी।सबसे पहले मुझको उसकी नाभि दिखाई दी.

मैं जल्दी ही आशा की टांगों के बीच में आ गया और उसकी चूत के छेद में अपना लण्ड टिका दिया, उसके होंठों को अपने होंठों की गिरफ्त में ले लिया।अब मैंने धीरे से दबाब डाला और मेरा लण्ड उसकी चूत में घुसता चला गया। वो छूटने की बहुत कोशिश कर रही थी. जिसमें उसकी चूचियाँ कसी हुई थीं। उसकी छाती का साइज़ लगभग 30 इंच था.

मुझको बहुत मज़ा आ रहा है।मैं फिर से शुरू हो गया और इस बार मैंने उसको कस-कस के जोर-जोर से बहुत झटके मारे। वो मेरे हर झटके का मज़ा ले रही थी।अब मेरा माल निकलने वाला था.

झूलने की कोई गुंजाइश नहीं।मैं उसकी अधखुली चूचियों को ही चूमने लगा।कुछ देर किस करने के बाद मैं उसकी ब्रा के अन्दर उंगली डाल कर निप्पल को ढूँढने लगा।वैसे ढूँढने की ज़रूरत नहीं थी. वीडियो सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदी मेंमैं झटके मार रहा था और उसके मुँह से सीत्कार निकल रही थी। इतनी मादक सीत्कार थी. सेक्सी वीडियो भाई जीइसलिए हम आँगन में बैठ कर बात करने लगे। बात करते-करते हम दोनों मज़ाक करने लगे। तभी मामा ने मुझे गुदगुदाना चालू कर दिया और मैं बिस्तर पर गिर गया, मामा मेरे ऊपर हो गए थे।हम दोनों ऊपर से बिना कपड़ों के थे और एक-दूसरे से लिपटे हुए थे। हमारी आँखें टकराईं और हम अलग हो गए। फिर हम सीधे होकर बैठ गए।बातें धीरे-धीरे सेक्स तक पहुँचीं. इससे वो भी खुश हो गई।काफी देर तक एंजाय करने के बाद हमने वहाँ से निकलने की सोची।पब से निकलने के बाद हम दोनों पार्किंग में पहुँचे और मैंने रिया से कार की चाभी माँगी.

तो बाकी भी यात्री आ गए और ट्रेन पूरी फुल हो गई।अब मैं अपनी ही सीट पर गया.

एक दिन मैंने उससे कहा- मैं तुमसे अकेले में मिलना चाहता हूँ।उसने कहा- ठीक है. उसको कैसे मनाएंगे वो तो एक एक करके चुदने की कह रही है।मदन बोला- कोई बात नहीं. उसके गाल लाल-लाल हो गए थे।फिर मैंने उसके होंठों पर चुम्बन किया और जोर-जोर से उसके होंठ चूसने लगा। वो मेरा साथ नहीं दे रही थी।मैं अचानक किस करते-करते हट गया और नाराज होने वाली एक्टिंग करने लगा।उसने कहा- क्या हुआ.

और बच्चे अपने छोटे चाचा के साथ शादी में गए हैं, कल शाम तक आएंगे।यह सुनकर मैंने कहा- मैं आपको एक और दवा दे देता हूँ. मैंने कुछ नहीं कहा और उसकी सवारी करता रहा।उसकी चीखें निकलती रहीं- आई ईई. तो मेरा उसके घर आना-जाना था और ऐसे ही एक दिन मैं उसके भाई के पास उसके घर गया.

इंग्लिश सेक्सी वीडियो 16 साल

बातों-बातों में हमने एक-दूसरे के होंठ चूसे।मैंने पहले ही मन में ठान लिया था कि शुरूआत मैं नहीं करूँगा।वो बातों-बातों में बहाने से मेरे हाथ अपने उभारों पर ले जाती और बोलती- मेरी दिल की धड़कनें तो देखो. पर रिया तो नई-नई थी, उसे दो पैग में ही नशा चढ़ गया, उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे डान्स करने के लिए बोला।हम दोनों डान्स फ्लोर पर चले गए।रिया को देख कर लग रहा था कि मानो ये पागल सी हो गई हो. वहाँ शॉप का एक वर्कर आया और उसने हमसे कहा- क्या मैं कोई हेल्प करूँ.

यह कहते हुए उसने अपनी चूत की फांकों को खोल दिया और बोली- ले देख अपनी राण्ड की जवानी का जलवा साले.

अगर मदन से चुदने में मज़ा नहीं मिला तो जरूर तुमसे चुद लूँगी।मैंने भी ‘हाँ’ बोल दिया.

मैं उसके रस को पी गया।लेकिन प्रवीण अभी भी मेरी गांड को गचा गच पेल रहा था. मेरे एग्जाम का दिन आ गया मैं उनकी गाड़ी लेकर खुद एग्जाम देने चला गया।जब एग्जाम देकर आया. सेक्सी फिल्म फोटो सेक्सीतो बस अर्जुन बड़े प्यार से उसके टॉप को अलग कर दिया और हल्का सा उसके मम्मों भी दबा दिया।अब कोमल ब्लू ब्रा में सबके सामने बैठ गई। सबकी भूखी नजरें उसको घूरने लगीं। सभी के लौड़े पैन्ट में तंबू बना रहे थे.

आपसे निवेदन है कि अपने ख्याल कहानी के नीचे डिसकस कमेन्ट्स में लिखें।कहानी जारी है।[emailprotected]. तो मैंने अपनी फ़ितरत की मुताबिक़ अपने जेहन को समझा दिया कि जो भी होगा. पर वो कहीं नहीं थी।मैं बार से बाहर निकला तो वो रोड के किनारे खड़ी थी।मैंने जाकर कहा- यहाँ क्या कर रही हो.

जिससे मेरा लण्ड उसकी गीली चूत में आधा घुस गया।वो तेजी से सिसयाई- आह. पर डर भी लग रहा था।थोड़ी देर सर दबवाने के बाद मैं सो गया।बड़ी मामी फिर छोटी मामी को हेल्प करने रसोई में चली गईं।मैं करीब दो घंटे के बाद उठा, मेरा पूरा शरीर पसीने से लथपथ था।मामी ने कहा- जाकर नहा लीजिए।मेरे ननिहाल में बिजली की सुविधा नहीं है.

तो उसने तुरंत ही मेरी ओर आना चालू कर दिया।मुझे ऐसा लग रहा था कि मैं उसे नहीं.

पर वो तो लॉन्ग सफ़ेद सूट पहन कर निकली और क्या प्यारी सी और परी लग रही थी।अब मुझसे रहा नहीं गया और प्रीत का हाथ पकड़ कर अपनी बाँहों में कस कर जकड़ लिया। मैंने प्रीत का चेहरा दोनों हाथों से ऊपर किया. उसने अपना घर कासगंज में बताया था।एक दिन मेरी कम्पनी की छुट्टी थी, मैं घर के बाहर बैठा था. तो वो मेरे पास ही आता था।तो वो भी आई और उसने कहा- आप ही मिस्टर अर्जुन हैं।हाय.

घड़ी सेक्सी ब्लू वीडियो मैंने पैंट की जिप खोल दी।लण्ड के बाहर निकलते ही वो ध्यान से देखने लगी। मैंने उसका एक हाथ लण्ड पर रखकर खुद ही उसके हाथ को आगे-पीछे करने लगा. आपी की चूत के दोनों लबों को समेट कर अपने होंठों में दबा लिया और अपनी पूरी ताक़त से चूत को चूसने लगा।आपी की चूत की दीवारों से रिसता उनका जूस मेरे मुँह में आने लगा और मैंने उसे क़तरा-क़तरा ही अपने हलक़ में उड़ेल लिया।कुछ देर इसी तरह आपी की चूत को चूसने के बाद मैंने उनकी चूत के दाने को चूसते हुए अपनी ऊँगलियों से आपी की चूत के दोनों पर्दों को खोला और एक ऊँगली चूत की लकीर में ऊपर से नीचे.

अंगूठों को सलवार में फँसा दिया और अपने हाथों को नीचे की तरफ दबाने लगीं। आपी की सलवार आहिस्तगी से नीचे सरकना शुरू हो गई। जैसे-जैसे आपी की सलवार नीचे सरक रही थी. मैं थोड़ा पीछे हुआ और मैंने अपनी टी-शर्ट और पजामा उतार दिया।वो डर कर बोली- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं. भगवान के द्वारा फुर्सत में बनाई गई सबसे शानदार चीज़ थी।मैं उसको देखता रहा.

मोनालीसा का सेक्सी व्हिडिओ

।और हम दोनों छत पर चले गए। मैं भाभी से पहले बार अकेले में मिल रहा था।भाभी ने मुझे मेरे जॉब के बारे में पूछा. अब लंड और अन्दर तक जाने लगा।भैया बिना कुछ बोले मुझे धकापेल चोदे जा रहे थे। फिर कुछ समय के बाद उनका लंड मेरी चूत में पिचकारी छोड़ने लगा. नीचे जाकर देखा तो दूध लेकर वो चाय बना रही थी। उसकी चाल कुछ लंगड़ी सी थी।मैंने पूछा- तुम ऐसी क्यों चल रही हो?‘तुम्हारी वजह से.

अब ये गुस्सा जाने दो और और रूल्स की बात कर लो। सब पहले वाले होंगे या कुछ चेंज करना है।रॉनी- नहीं आज खास गेम के लिए खास रूल होंगे. तब उसके बारे में जितनी हो सकती थी हम दोनों उतनी गन्दी बातें करते रहे।चौथे दिन जब हम वहाँ गए.

उसने हमसे कहा- आप जानती हैं आप किस ट्रेन में और किस कोच में बिना टिकट के यात्रा कर रही हैं.

बिल्कुल हम लड़कों के वीर्य की पिचकारी की तरह।मैंने कभी चाची का पानी निकलते हुए नहीं देखा था. आज मैं पूरा दिन तेरे साथ गुजारना चाहता हूँ।उसी वक़्त मेरी मॉम भी मेरे कमरे में आ गईं।मॉम बोलीं- आज तू कॉलेज नहीं जाएगा क्या?तब मैंने कहा- नहीं मम्मी. हम लोग ऊपर आ गए और अंकल ने कहा- चलो बेडरूम में बैठते हैं।मैं अपने बेडरूम की तरफ बढ़ी.

और अपनी ज़ुबान से आपी की चूत के अंदरूनी गुलाबी नरम हिस्से को चाटने लगा।आपी ने मेरे लण्ड को चूसते-चूसते अब अपनी गाण्ड को आहिस्ता-आहिस्ता हिलाना भी शुरू कर दिया था और मेरी ज़ुबान की रगड़ को अपनी चूत के अंदरूनी हिस्से पर महसूस करके जोश में आती जा रही थीं।कुछ देर ऐसे ही अन्दर ज़ुबान फेरने के बाद मैंने अपनी ज़ुबान चूत के सुराख में दाखिल कर दी। आपी ने एक ‘आहह. तो वो अपना चेहरा मेरे क़रीब लाया और उसने मेरे होंठों पर आहिस्तगी से अपने लब रख दिए।उसने मुझसे कहा- अपना मुँह खोलो. और वो मेरे सामने पूरी नंगी खड़ी थीं। वो अपनी चूत और चूचों को छिपाने की कोशिश कर रही थीं।उन्होंने मेरा लंड पकड़ लिया और बोलीं- तेरा तो बहुत बड़ा है रे?मैंने कहा- हाँ आपके लिए ही इतना बड़ा किया है.

’ पेलना चालू कर दिया।सुरभि मारे गुस्से के प्रियंका के निप्पलों को नोंचते हुए.

बीएफ वीडियो सोंग लिरिक्स2 2017 डाउनलोड: मैं उसके पेट को सहलाते-सहलाते थोड़ा ऊपर आ गया और उसके चूचों को दबाने लगा। पहले तो मैंने उसको पूरा अपने हाथ में पकड़ने की कोशिश की. फिर मेरी बहन भी अपने हॉस्टल वापस चली गई। अब मैं और मेरी मौसी दोनों ही साथ में हँसी-मज़ाक करते हुए रहने लगे।एक दिन मैंने बात-बात में मौसी से पूछा- आपकी शादी को 4 साल हो गए.

जब मैं उदयपुर, राजस्थान में नया-नया आया था।मैंने उदयपुर में रहने के लिए एक घर किराए पर ले लिया, घर दो मंज़िला होने के कारण मुझे दूसरे फ्लोर पर कमरा मिला।नए होने की वजह से मुझे पहले तो काफ़ी अकेलापन महसूस होता था. यह कहकर वो निकल गया और मैं रोता रह गया।रात को वापस आने के बाद हम खाना खाकर लेट गए और वो अपनी गर्लफ्रेंड के साथ चैट करने लगा।मैंने उसके पेट पर हाथ रखा हुआ था. तो हम टैक्सी ले लेते हैं।इस बार दीदी ने ‘हाँ’ कर दी और हम टैक्सी में बैठ गए।मैंने पूछा- दीदी आप शादी की बात सुन कर गुस्सा क्यों हो गई थी?तो उसने कहा- अरे यार वो काफ़ी दुबला पतला है।मैंने पूछा- तो क्या हुआ?उसने कहा- तुम नहीं समझोगे.

उसने टी-शर्ट और लोअर पहन रखा था। क्या कमाल की गाण्ड नज़र आ रही थी।मेरा तो लौड़ा बार-बार खड़ा हो रहा था, मुझसे तो रहा ही नहीं जा रहा था।आधा घंटा पढ़ने के बाद वो बाहर गई और मैं अपना मोबाइल निकाल कर गेम खेलने लगा। अचानक मेरा मोबाइल हैंग हो गया।मैंने स्विच ऑफ कर दिया और सामने बेंच पर रख दिया।मैं वाशरूम चला गया.

पर उसके दिमाग में ये घर करने लगा।फिर डान्स चालू हुआ तो अपर्णा जबरदस्ती मुझे खींच कर ले गई और वो काफी फ्रेन्डली बन कर डान्स कर रही थी. तो प्रियंका और सुरभि दोनों उठ कर मेरा लण्ड चूसने चाटने लगीं।सुरभि लण्ड चूस रही थी. ऐसे ही इन दोनों खरबूजों को मसलते रहो ना।वो थोड़ी देर ऐसे ही मुझे गर्म करता रहा.