एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदी में एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

नेपाली स्कूल सेक्सी: एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी, लेकिन मैं उसकी चूत देखने को बेचैन था तो मैंने उसे दोबारा कहा और उसने धीरे धीरे अपनी पेंटी अपनी जांघों से सरका कर पैरों से निकाल दी.

বিএফ সেক্স ইংলিশ

अपने मन में भूमिका की चुत को घर में, या ट्रेन में लेने की।यह चुदाई की कहानी आपको पसंद आई तो भूमिका के नाम पर मुठ मार लीजिएगा।लेखक के आग्रह पर इमेल आईडी नहीं दिया गया है। लेकिन आप कमेंट्स में अपने विचार लिख सकते हैं।. मिठाइयों के फोटोअब मैंने फिर से डिब्बे से तेल निकाल कर अपनी त्रिपतिव्रता पत्नी की गांड पर मल दिया और अपनी दो उंगलियों को अन्दर घुसेड़ दिया.

फिर कई पोजीशन में करीब 4-5 बार हमने सेक्स का आनन्द लिया और फिर आधे घंटे तक हम दोनों नंगे ही एक दूसरे के साथ यों ही चिपक कर लेटे रहे. सूट सलवार की सेक्सीअब यह बात घर तक कैसे पहुंचायें! उऩ दिनों में मोबाईल भी इतने नहीं थे.

उसकी माँ ने बोला कि उसकी सर्वेंट के गांव में मक़ान गिर गया है, वो 3-4 दिन के लिए गांव चली गई है, एमरजेंसी में!खैर अब मैं बेफिक्र था कि हम दोनों को कोई डिस्टर्ब नहीं करेगा.एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी: वो कहने लगी- अभी तो कितना छोटा था… अब देखो कैसे तन के खड़ा हो गया है.

संगीता भाभी की‌ रसीली‌ जीभ को‌ चूसने में मैं इतना मशगूल हो‌ गया कि धक्के लगाना ही‌ भूल गया, मैं बस कुछ देर के लिये ही रुका था कि‌ तड़प कर संगीता भाभी ने अपनी जीभ को‌ मुझसे छुड़वा लिया और वो खुद ही अपने हाथों व पैरों से मेरे कूल्हों पर दबाव डालकर मुझे हिलाने लगी.वो बोली- और कस के चोदो! कस के!मैं पूरी अपने दम से चुदाई कर रहा था और वो आआहहा आआ कर रही थी.

देशी भाभी सेक्सी विडिओ - एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी

उसकी चूत नहीं।उसने नीचे खुद को देखा और शर्मा कर कमरे में चली गई। फिर वो तैयार होकर नीचे आई और बाइक पर बैठ गई।मेरी हालत खराब हो रही थी.उसकी सीईई ईईई… उम्म्ह… अहह… हय… याह… सस्स्स स्स्स्सरर… निकल रही थी, वो मेरे बाल कस कर पकड़े हुए थी और कभी पीठ पर नाखूनों से खरोंचती थी.

माँ नहाने गई हुई थी और मैंने उनको बोला था कि मैं दोस्त के यहाँ जाऊंगा तो उन्हें लगा कि घर पर कोई नहीं है, वो भी बड़े आराम से नहाने लगी. एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी मैं- कनफर्म कि मेरा फेस कहीं भी नहीं होगा?मनजीत- हाँ… बिल्कुल कन्फर्म.

आंटी की इस अदा पर मैं फिदा था।फिर मैंने उनको पकड़ा और लेटा दिया और उनके ऊपर आकर पैर को थोड़ा हिलाकर उनके चूत की जगह थोड़ा जगह करके अपना लंड घुसड़ने की कोशिश करने लगा, पर समझ में ही नहीं आ रहा था कि क्या करूँ।फिर आंटी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर सैट किया और बोलीं- फ़क मी.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी?

मैं हतप्रभ रह गया कि मेरे हाथ में एक सीलपैक चुत आ चुकी है। मैंने उनकी चुत पर पहले हाथ फेरा. तो अपने होंठों से लंड को रगड़ते हुए निचोड़ डालतीं।अब नशा रसीली भाभी की आँखों में भी भर गया था। मैं भी लंड चूत में डालने को बेताब था। मैंने रसीली भाभी के निप्पल पकड़ कर उन्हें खड़ा किया।‘देवर जी चूत लंड मांग रही है. फिर गर्दन को मैं चूमता चला गया और वो गर्म होती गईं।भाभी के भी दोनों हाथ मेरे सर पर घूम रहे थे। मैंने भाभी के टॉप के अन्दर हाथ डाल कर उनके मम्मों को दबाने लगा।क्या मस्त टाईट चूचे थे.

मेरी कहानी को पढ़ने के लिए धन्यवाद। आपको मेरी कहानी कैसी लगी, जरूर बतायें![emailprotected]. उसने दरवाजा खोला और मुझे अन्दर बुला लिया।उस टाइम वो बहुत सेक्सी लग रही थी. मैं तुम्हारा लंड चूस लूँगी और जब चोदने का मौका मिले तो मुझे चोद भी देना। मैं रोज तुम्हारे लंड का इन्तजार करूँगी।यह कह कर मुझे किस करके विदा कर दिया। उसके बाद मैं हर दिन अपना लंड भाभी को चुसवाता और जब मौका मिलता, तब उनको चोद भी देता।आपको मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, जरूर बताइएगा।[emailprotected].

दिन बीतते गए, मुठ मारने का सिलसिला चलता रहा, मयंक की संगति ख़राब कर रही थी मुझे लेकिन जवानी का जोश ऐसा ही होता है. किस करता गया। फिर मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर करके उसके चूचे ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा। कुछ देर बाद मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी, तो वो रोने लगी।मुझे पता चल गया कि इसका भी मन है, पर ये नखरे दिखा रही है।फिर मैंने उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके एक चुचे को मुँह में लिया तो वो एकदम से चीख पड़ी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहह. म्म्ह… अहह… हय… याह…’ये सब आवाजें वो शायद सुन रही थी।काफ़ी देर तक मैं देखता रहा.

उसने नीचे काले रंग की ब्रा पहनी थी, जिसमें उसके बड़े-बड़े मम्मे मस्त लग रहे थे।मैं ऊपर से ही जोर-जोर से मम्मे को मसलने लगा और फिर उसकी पेंट भी निकाल दी। उसने काले रंग की पेंटी पहनी थी. वो वॉक से लौटेगी और मैं उसके ड्रिंक में 25 एमजी मिक्स करके रखूँगा। बस फिर प्रोग्राम स्टार्ट होने के बाद मैं खुद अपना ड्रिंक ले लूँगा, जो कि मैंने बना के फ्रिज में रख दिया था।मैडम आईं.

मेरे लंड ने रुक-रुक कर पिचकारियाँ छोड़ी और उसका विशाल आकार सिमटने लगा।हम सब बहुत खुश थे।जब हमने घड़ी देखी तो सुबह के चार बज रहे थे.

उसे देखते ही सबसे पहले मेरी नज़र उसके बूब्स पर गई जो बहुत ही आकर्षक थे.

फ्रिज से एक-2 ठंडी बोतल बियर निकाल कर हम दोनों भी अपने-2 बाथरूम में शावर लेने चल दिए. मुझे बस इतना ही सुनाई दिया- कितना छोटा है!यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!‘क्या बोला तू? ला वो इधर!’ मैंने हाथ आगे किया. गजब की गर्मी है इसके अन्दर और अभी तो इतनी जगह बाकी है अन्दर कि तुम्हारा पति भी आराम से अन्दर घुस सकता है.

चलो अब बिस्तर पर लेट जाओ।’वो अब बिस्तर पर लेट गया और मैं उसके लंड के ऊपर बैठने हो गई. उन्होंने मुझे कैसे पटा कर टॉयलेट में अपनी चूत चुदवाई, इस सेक्सी कहानी में पढ़ें. मुझसे अब रुका नहीं जा रहा था, मैं स्वाति की नंगी चूचियां और चूत देखने को बेचैन हो चुका था तो मैंने उसे XXX कैम सेक्स के लिए कहा.

तो मैं जल्दी से उठा और बाथरूम के दरवाजे के एक छेद में से देखने लगा। उन्होंने अपने सारे कपड़े उतार दिए थे और वे नीचे अपनी गांड हिला रही थीं, ऊपर अपने एक हाथ से अपने दूध दबा रही थीं.

धकापेल चुदाई होने लगी।कुछ ही देर में वो एक बार झड़ गई थी। इसके बाद जब मेरा झड़ने का टाइम आया… तो मैंने उससे बोला- कहाँ निकालूँ?तो बोली- मेरी चूत में ही. ल मेरे को काट लो चूस लो!कोमल का एक हाथ मेरे जिस्म को सहला रहा था तो दूसरा लंड को मसल रहा था. अब आगे से नहीं होगा प्लीज।लेकिन आंटी बोलीं- नहीं, अब तो तू गया समझ.

दोस्तो उसकी चूत एकदम टाइट थी। कुछ देर चूत की फिंगरिंग की तो वो चुदाई के लिए मचलने लगी।मैंने जैसे ही पोजीशन बना कर उसकी चूत में लंड डाला. तब उनकी वो सहेली ने हम दोनों को घर पर सेक्स करते भी देख लिया था, तब से उनकी भी चुत में भी चुदवाने की आग लगी गई थी। लेकिन वो दोनों पक्की सहेलियाँ थीं तो उन्होंने कभी भी मेरी दोस्त को नहीं बोला कि मुझे भी इस आदमी (मेरे साथ) के साथ सेक्स करना है।जब मेरी दोस्त अमेरिका गई. जा बोल दे।यह कहते ही वो जाने लगी तो मैं डर गया। फिर मैंने अपना लास्ट और जबरदस्त वाला जाल फेंका।मैंने उससे बोला- जाने से पहले एक चीज को देख कर समझ लो.

तो मैंने कैम चालू किया, मैं सिर्फ अंडरवियर में था तो मैंने अपना अंडरवीयर कैम के सामने ही उतारा.

वापस आने के बाद मैंने उसको मेसेज किया जिसमें मैंने काफी कुछ गलत भी बोला. मुझे लगा कि बापू चूमने के बाद मुझे छोड़ देंगे पर बापू तो नशे में धुत थे और इससे पहले मुझे कुछ पता चलता या मैं कुछ कर पाती उन्होंने मेरी कमीज़ को गले से पकड़ा और एक ही झटके में फाड़ दिया, ऊपर से उस दिन मैं अंदर कुछ पहन भी नहीं रखा था, मैं हाथों से अपनी छातियाँ ढक पाती उससे पहले ही बापू ने एक निप्पल को मुंह में ले लिया और चूसने लगे.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी मैंने चाची को बताया तो चाची तैयार होने चली गई, मैं बैठ कर टीवी देखने लगा. वो भी वीर्य को मज़े से पी गई।तब से लेकर आज तक मैं अपनी दीदी की बहुत बार चुदाई कर चुका हूँ और मैंने दीदी की गांड भी मारी है।आपको मेरी दीदी की चुदाई की इस सेक्स स्टोरी पर क्या कहना है.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि एक कमसिन कन्या को दो बार चोद चुका हूँ… वाइल्ड सेक्स हो चूका था… और ये चुदाई अब रुकने वाली नहीं थी… दो दिन थे हमारे पास…उसका तराशा सा बदन. इसी वजह से मैं दुखी हूँ।यह बात मुझे पता नहीं थी।उन्होंने कहा- ये बात तू किसी को मत बताना।मेरी सोच अब बदल गई और मैं उन्हें चोदने का प्लान बनाने लगा था।मैंने उनसे कह दिया- आप मत रोओ.

vip भी अन्तर्वासना वालों की है तो मैं इस साईट की क्वालिटी के बारे में आश्वस्त था, मैंने पैसे खर्चा करने में देर नहीं लगाई क्योंकि मुझे पता था कि मेरे पैसों से मुझे एकदम झक्कास मजा मिलेगा.

एक्स वीडियो बीएफ पिक्चर

पर वो सच में मुझसे प्यार करती है और जब तक पॉसिबल होगा वो प्यार और सेक्स दोनों का संगम करने को हमेशा तैयार रहेगी. जब मैं मना करने लगा तो उसने मुझे मेरे चार्ज से दोगुने पैसे आफर किये तो मैं भी झट से मान गया।अगली शाम मैं उनके घर पहुंचा साऊथ दिल्ली में… वो मुझे लेने आया. ’ की आवाज के साथ पूरा लंड चूत की जड़ तक घुसता चला गया। पीछे से विक्की आया और मेरी गांड में थूक लगा कर मेरी चूत में लंड डाल दिया। अब मैं तो समझो जन्नत में थी.

मस्त चोदते रहो… और तुम्हें कौन सी इसके साथ शादी करनी है। सिर्फ इसको चोदते रहो. उसने मेरा लंड चूस कर खड़ा किया, मैंने भी चाट कर उसकी चूत पूरी गीली कर दी थी. ’ करती रही।अब मैं धीरे-धीरे अपने एक हाथ को उसकी बुर के पास ले गया और जैसे ही चुत पर हाथ फेरा तो ये क्या.

5 मिनट के चुम्बन के बाद बोली- थोड़ा सब्र करो… मैं भागी नहीं जा रही हूँ! रुको, चेंज कर के आती हूँ, तुम भी फ्रेश हो लो!मैं गया और बस शॉर्ट्स और टी शर्ट में आ गया.

मैं उसकी मनोदशा समझ सकता था, आख़िर मेरा भी तो कमोवेश वैसा ही हाल था. पर मैं अब भी चुत चाट रहा था।थोड़ी देर बाद भाभी फिर से मूड में आ गईं और बोलीं- अब मेरी बारी है।मैंने भी तुरंत अपना लौड़ा निकाला और भाभी के मुँह में लगा दिया। भाभी भी एकदम किसी लॉलीपॉप की तरह मेरे लंड को चूसने लगीं। कुछ ही देर में मेरा भी पानी निकल गया और मैं थक सा गया।भाभी मेरी मलाई चाटने के बाद भी मेरे लंड को चूस रही थीं. संगीता ने मेरे वीर्य को बाहर नहीं निकाला बल्कि उसे मुँह के अन्दर ही अन्दर गटकने लगी, जैसे जैसे किश्तों में मेरे लंड से वीर्य निकल रहा था वैसे वैसे ही वो उसे चट करने लगी… मगर वो बस दो तीन किश्तों को ही सम्भाल सकी‌.

देर रात में मेरी नींद खुली तो मैंने देखा मेरे ऊपर कोई हाथ रखा हुआ है. मैं आपको दोबारा कॉल करती हूँ।मैंने कहा- ठीक है मैडम!दो दिन बाद उनका फिर से कॉल आया कि मैं आपकी सर्विस लेना चाहती हूँ, पर घर पर नहीं. उनके साथ सेक्स किए महीनों निकल जाते हैं।मैंने कहा- थैंक्स भाभी आई लाइक हेयरी चुत।यह कहते हुए मैंने अपना सर उनकी चुत में लगा दिया और चूत को खूब चाटा।भाभी चिल्लाने लगीं- अह.

प्रिया कुछ डरी लग रही थी। शायद डर के मारे उसकी बोलती बंद थी।अब मैंने अपना पहला वार किया और मेरा आधा लंड उसकी चूत में था। उम्म्ह… अहह… हय… याह… वो रो रही थी. दोनों ने बियर पीने के बाद भी खूब जम कर सेक्स किया, मेरी वाइफ ने उसका लंड भी खूब चूसा और उसने मेरी वाइफ की चूत भी खूब चाटी और खूब सेक्स भी किया.

फ़क मी।अब वो अपनी गांड उछालने लगीं। अब मैं शुरू में हल्के से धक्के दे रहा था पर आंटी ने कहा- और जोर से. ’ की आवाज निकालने लगी।मैंने विक्की को झटका देकर अलग किया और बिस्तर से उतर कर खड़ी हो गई। मैं उसके सामने एकदम नंगी खड़ी थी, वो मुझे देख रहा था उसकी नजरें मेरी चूत में खुजली मचा रही थी।मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी और उसे लिटा दिया, फिर उसकी छाती को चूमते हुए उसकी पैंट खोली और अंडरवियर के साथ उतार दी।उसका लंड मेरी आँखों के सामने था. फक मी हार्ड!विकास का लंड भी झड़ गया और भूमि की गांड से उसका वीर्य रिसने लगा।अब रोहित भूमि को पलटा कर अकेला चोदने लगा.

जब मैंने पूछा- किसकी पेंटी पहनी है, बड़ी छोटी सी है?तो बोली- यह मेरी बेटी की है.

उस समय लण्ड मेरा सोया हुआ था पर जैसे ही उनका हाथ लगा, मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया. उस दिन मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया और अगले दिन भाभी से बातों बातों में पूछा- भैया से झगड़ा हुआ है क्या?तो वो काम करते करते अचानक रुक गई और घबरा कर बोली- नहीं तो, तुझे ऐसे क्यों लगा?मैंने कहा- ऐसे ही कल रात आवाज़ आ रही थी, इसलिए पूछा. मैंने उस दिन काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी, मेरे गोरे गले पे वो नेकलेस चमक रहा था, वो मुझे ऊपर से नीचे तक निहार रहा था, मैं उसके सामने सिर्फ ब्रा और पेंटी में खड़ी थी.

बस में और सवारियां चढ़ गईं और बस खचाखच भर गई। उस भीड़ में एक लड़की मेरे पास आकर खड़ी हो गई। मैंने दिमाग चलाया, मेरे बाजू में दो लड़के बैठे थे। मैंने उनको थोड़ा सरकने को कहा और उसको मेरे पास बैठने को कहा।वो मेरे पास बैठ गई।थोड़ी देर बाद उसने अपना फोन निकाला और कहीं मिलाया। शायद उसका फोन नहीं लगा. उसी समय उसकी चूत को मैं चूम लेता, मैं उसके एक-एक अंग को चूमता और वो हर चुम्बन में हिस्स्स करके रहे जाती, फिर मैं उसके पीछे खड़े होकर उसकी नाभि में उंगली करने लगता और वो मेरे लंड को अपनी मुट्ठी से दबाने लगती.

हम दोनों मिले, मैंने देखा कि वो काफी यंग लग रही थी और थोड़ी मोटी थी. वो कहने लग गई- मिंटू, फ़क मी हार्ड… फ़क फ़क!मैं भी पूरे जोश में उसे चोदता रहा. और वो सफ़ेद ब्रा और पेंटी में रह गई थी।चूंकि कमरे में नाइट बल्ब जल रहा था तो दादी माँ भी कुछ नहीं दिखा।वो बोलीं- नीनू, क्या हुआ क्यों चिल्ला रही हो?नीनू बोली- दादी माँ मेरी नाइटी में काकरोच घुस गया है।वो कुछ नहीं बोलीं और फिर से सो गईं।मैं नीनू को ब्लैक ब्रा-पेंटी में घूर रहा था.

एचडी बीएफ सेक्सी सेक्सी बीएफ

’उसकी बातें सुनकर मैं जोश में आ गया और मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए।उसके मम्मे क्या लग रहे थे। मैं उसके गोरे मम्मों पर टूट पड़ा। एक मम्मे को मुँह में लेकर चूसने लगा व दूसरे मम्मे को हाथ से जोर से दबाए जा रहा था।सोमी आहें भरती बोली- थोड़ा धीरे दबाओ.

वो अपने मुंह से थूक निकाल कर नताली की गांड पर डाल देता और फिर उसे अपनी जीभ से चाटने लगता. इतने में मुझसे रहा नहीं गया और मैं छूट गया, ढेर सारा माल मेरे लंड से छूट कर नीचे चादर पर गिरकर इकट्ठा होने लगा. मेरी टाइट चुत वैसे भी बहुत पानी छोड़ रही थी तो उसे कोई दिक्कत नहीं हुई.

कुछ देर ही चाटने के बाद मेरी पत्नी की चुचियाँ काफी सख्त हो गई, और उसके मुंह से सिसकारियां निकलने लगी. अल्फ नंगी सुनीता की जवानी सुनील को और कामुक बना रही थी, सुनील ने अपने होंठ सुनीता की चूत पे रख दिए और उसको ऐसा चूसा कि सुनीता मछली जैसे लंड लेने के लिए तड़पने लगी. पहली सुहागरात का सेक्सी वीडियोफिर 4-5 आसनों में और चुदाई की। फिर हम दोनों झड़ गए और कुछ देर वहीं लेटे रहे।फिर कुछ देर बाद अपने शरीर से रेत झाड़ कर हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहन लिए।अब तक रात के 9 बज चुके थे.

मैंने उसके मुँह पे थप्पड़ लगा दिया तो उसने मेरे ऊपर आकर किस किया और मेरी चुची चूसने लगा, फिर चूमते हुए नीचे आया और मेरी शॉर्ट्स निकाल दी और उसके बाद पेंटी भी!मुझे अजीब लगा. अन्दर राजू भी बाथरूम जाने की तैयारी में था, मैंने उसे हँसते हुए ‘इंतजाम’ के बारे में बताया तो वो भी खुश हो गया और जल्दी से बालकनी की ओर भागा.

तभी मुझे हरामीपन सूझा, मैंने बड़ी फुर्ती से बाथरूम का दरवाजा खोल दिया, शाहीन एकदम हड़बड़ा गई, मैं नंगा खड़ा था, मैं कुछ नहीं बोला और मैंने नहाना शुरू किया. हमारे पंजाब में खेतों में पानी की मोटर लगी होती है और एक कमरा भी बना होता है. मैं जैसे जैसे नीचे आ रहा था, कोमल के दोनों पैर खुलते जा रहे थे, मैं सर उठा कर कोमल को दिन के उजाले में देखने लगा.

अन्तर्वासना हिंदी सेक्सी कहानी पढ़ने वाले मेरे दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी है, यह सेक्सी कहानी मेरी पड़ोस की एक भाभी की चूत की चुदाई की है।मेरा नाम रेक्स है, अभी मेरी उम्र 29 वर्ष है. उनके जाने के थोड़ी देर बाद रेखा बुआ जी बोलीं- सुंदर, सोफे पर तो तुम्हें ठंड लग जाएगी, तुम भी यहाँ बेड पर ही बैठ जाओ. टाइम बहुत हो गया है।जाते-जाते वो मेरे को एक स्मूच और करके गई।इसके बाद हमें जब भी मौका मिलता है.

क्योंकि हमारी पढ़ाई का कमरा एक ही था। हम दोनों रोज ऐसे ही चुदाई करते। वो मेरा पति की तरह ख़्याल रखती.

मैं तो तेरी रानी हूँ।फिर मैंने उसके होंठों पर किस किया। उसने भी एक लंबा किस किया. ’ करके सीधा हो गईं। अभी मेरे लंड का टोपा उनकी गांड में गया ही था।मैंने उन्हें बोला- अभी तो स्टार्ट हुआ है।फिर मैंने थोड़ा और घुसा दिया तो वो बोलने लगीं- क्या है ये?मैंने जबरदस्ती आधा लंड गांड में घुसा दिया और फिर भी उनकी गांड के छेद से ब्लड निकलने लगा। वो रोने लगीं.

यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो अपने पति को एअरपोर्ट छोड़ के आई और मुझे अपने साथ अपने घर ले गई. इसलिए मैं फोन नहीं उठा सका।फिर नेहा बोली- कोई बात नहीं।उसने मुझसे इधर-उधर की बातें करके फोन काट दिया।फिर रात को उसकी कॉल आई। हमने थोड़ी देर बात की और फिर थकने का बोल कर मैंने फोन कट कर दिया।मैं रूम में जाकर सो गया था। इसके बाद हम दोनों रोज फोन पर बातें करने लगे। उसने मुझे बताया कि शादी के बाद जब बच्चा हुआ तो ऑपरेशान के कारण उसका शरीर खराब हो गया। अब उसका पति भी उसमें रूचि नहीं लेता है. मेरे से ठीक से चला भी नहीं जा रहा था, किसी तरह मैं हॉस्टल आ गई।उसके बाद 3 साल हो गए.

अह्ह सच में मुदस्सर, तेरे मोटे तगड़े लंड ने तो मेरी गांड खोल ही डाली. एकदम मस्त तितली लगती है। जब भी मैं उसको देखता हूँ तो मेरा लंड खड़ा हो जाता है।वैसे वो मेरी रियल कज़िन नहीं है लेकिन उसकी और मेरी फैमिली काफ़ी क्लोज़ हैं. मैं- कैसे हो और कहाँ हो?आशीष- बस कानपुर पहुँचने वाला हूँ कोई खास काम?मैं- नहीं बस मिलने का मन था।आशीष- यार बहुत काम है लेकिन तुमसे आते ही मिलूँगा जरूर.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी मेरी भी थी। उसका नाम प्रिया था, वो दिखने में अच्छी खूबसूरत थी। हम लोग रोज फ़ोन पर बात किया करते थे। हम दोनों को बात करने की इतनी आदत हो गई थी कि हम लोग दिन भर फ़ोन पर बात किया करते थे।एक दिन उसने बताया कि हमारे बारे में उसकी मम्मी को सब पता चल गया है और उसकी मम्मी ने कुछ नहीं बोला. हँसते-2 ही मैंने अपनी अंडरवियर उतार कर एक तरफ फेंक दी और अपना लंड हाथ में पकड़ कर नताशा के मुंह की तरफ बढ़ाया.

एडल्ट चोदा चोदी

मेरी कज़िन सिस्टर बताया- मेरी शादी को 5 साल हो चुके हैं और मेरे पति कभी बाप नहीं बन सकते हैं. जब थोड़ा जान आई तो उसके बगल में लेट गया।मेरे हटते ही प्रिया का हाथ अपनी बुर के ऊपर चलने लगा। उसकी उंगलियों में उसका खून और मेरा वीर्य लगा हुआ था. मैंने उसकी शर्ट के अंदर हाथ डाला तो उसने हाथ हटाया और मुझे धक्का दिया,फिर कहती- तू यह ग़लत कर रहा था, मैं तुझे सिर्फ़ दोस्त मानती हूँ, यह ग़लत है.

वो मेरे पास आकर लेट गई और मुझसे कहने लगी- तुम किरण से क्यों बात करते हो? किरण उनके चाचा की बेटी है. मैं तुम्हारी ही हूँ।फिर मैं उसे उठा कर बेडरूम में ले गया और उसे किस करने लगा, वो भी मेरा साथ दे रही थी। हम दोनों ने करीब 15 मिनट तक किस किया। मैंने एक हाथ उसके चुचे पर रखा तो वो एकदम से चिहुंक गई. रश्मिका मंदांना सेक्सीउसके बाद बाकी दिन, मैं रोज अपनी बहन की गांड मारता रहा और जोहा की गांड की छेद भी बहुत बड़ा हो गया.

तभी मधु भाभी आ गईं, वो मुझसे बोलीं- प्रिया नहीं है क्या?प्रिया मेरी वाइफ का नाम है।मैंने कहा- वो बाज़ार गई है.

उनकी 18 साल की एक लड़की और 12-13 साल का लड़का है। उनके पति किसी मार्केटिंग जॉब में हैं. प्लीज निकाल लो!लेकिन मैं उसकी कमर पकड़ कर चुत में अन्दर करने लगा।उसने आँखें फैला दीं और चिल्लाते हुए कहने लगी- ओह.

उन दिनों मैंने कभी सेक्स फिल्म नहीं देखी थी इसलिए मुझे नहीं पता था कि नीग्रो लोगों का इतना लंबा होता है. ’ कहने लगी।मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और लंड को उसकी चुत पर रगड़ने लगा. फिर भी मैंने कंट्रोल किया।फिर हमने खाना खाया ही था कि उसके भाई का कॉल आ गया कि उसने बताया वो इसी शहर में है.

फिर भाभी ने देखा कि उनकी पेंटी पर कुछ लगा है। उन्होंने कहा- क्या कर रहे थे.

मेरी उम्र 21 साल है मेरी हाइट 5’11” है और लड़कियां कहती हैं कि मैं हैंडसम भी बहुत हूँ. दर्द हो रहा है।’‘डरो मत कुछ नहीं होगा।’‘हाँ’फिर वो धीरे-धीरे मेरी गांड मारने लगा।‘आ. कर रही थीं और संदीप और भी जोर-जोर से मॉम के चूतड़ों में चमाट मारते हुए गांड मारने लगा।अब मॉम भी जोर से अपनी गांड हिला-हिला साथ देने लगीं। संदीप ने मॉम की गांड को दस मिनट तक ऐसे ही जोर-जोर से ठोका। मॉम की गांड भी मस्त लाल-लाल हो गई थी।फिर संदीप ने झड़ कर अपना वीर्य से लिपटा हुअ लंड मॉम की गांड के छेद के ऊपर रगड़ते हुए निकाला और वो ‘आह आह ओह ओह.

सेक्सी विडियो हिंदी में सेक्सी वीडियोहालाँकि उसका पास आना, बात करना मुझे अच्छा लगता था लेकिन शुरू में मैंने उसको इगनोर किया. इसलिए मैंने भी देर न करते हुए आंटी को अपनी गोद में उठा कर उनके कमरे में पलंग पर ले गया। फिर मैंने आंटी के होंठों को चूमना चालू कर दिया। आंटी सेक्स में मेरा पूरा साथ दे रही थीं और हम दोनों एक-दूसरे को पागल प्रेमी के जैसे किस करने लगे।थोड़ी देर बाद मैं आंटी के मम्मों पर हाथ रख कर दबाने लगा और आंटी चुदास में सीत्कारने लगीं- आआहह.

ब्लू पिक्चर पिक्चर सेक्सी

’ बोला, वो भी मुझे चूमने लगी।इसके बाद तो मैं उसे बहुत बार चोद चुका हूँ।तो कैसी लगी मेरी ये लाइफ की पहली हिंदी सेक्स स्टोरी ‘संगीता के साथ खून भरी चुदाई’ प्लीज़ मुझे मेल कीजिए।[emailprotected]मुझसे फेसबुक से भी जुड़ सकते हैं।facebook. उसमें मैंने बहुत सी लड़कियों को चोदा, लेकिन जब से अपने घर में सगी दीदी की चुदाई शुरू हुई है, तब से मैं बाहर निकल ही नहीं पाया। मैं क्या, मेरी जगह अगर कोई भी होता तो नहीं निकल पाता। आप खुद सोचो, जिसके घर में चोदने के लिए दो-दो मस्त माल हों, वो भला बाहर क्यों जाए. तो ज्यादा देर टिक नहीं सका और आंटी के मुँह में ही झड़ गया।आंटी ने तुरन्त मेरे लंड को बाहर निकाल दिया और मुझ पर चिल्लाने लगीं- ये क्या किया.

फिर भूमि को चरम प्राप्त हो गया और उसका चूतरस निकलने लगा जिसे मैंने चाट कर देखा और बाकी दोस्तों को भी चटवाया।अब हम पांचों बिस्तर पर नंगे लेट गए, कोई भूमि की चूत पर हाथ रख कर कोई बूब्स पर, कोई गांड में. वो अपने सुपारे को भींच कर तेज धार के साथ भाभी के मुंह-जीभ पर वीर्य उगलने लगा. मैंने उसे जोर से पकड़ रखा था कि वो चाहकर भी दूर न जो जाये! किस में मैं उसके दोनों लिप्स को काटने लगा.

फिर एक दिन हमने मिलने का प्लान बनाया और उसकी बताई हुई जगह पर मैं पहुंचा तो वो अपनी कार में पहले से ही मेरा इंतज़ार कर रही थी. बस अब चोदने की तड़प थी और उसे भी चुदने की चुल्ल हो गई थी।घर मैं ज्यादा लोग होने के कारण मैं अपने ही घर में रिस्क नहीं लेना चाहता था. थोड़ी देर उसके बाद हम दोनों बाथरूम में जाकर फ्रेश हुए और उसे बाथरूम में भी मैंने एक बार चोदा.

अब मुझे बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा था और एक पल को ऐसा लगा मानो मेरा लावा फूट ही पड़ा हो… पर तभी वंदु ने लंड को बिल्कुल आज़ाद छोड़ दिया और मेरी तरफ़ देख कर लम्बी-लम्बी सांसें लेने लगी. जिससे थोड़ी परेशानी हो रही थी। तभी मैंने महसूस किया कि उसका हाथ मेरे लंड पर आ रहा है तो मैंने भी झट से अपने कपड़े निकाल दिए।मेरा 7 इंच का मोटा लंड देख कर वो बोली- इतना टाइट लंड.

मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता तो मैं उसकी टांग को ऊपर किया और नीचे तकिया लगा दिया.

तभी उसने जोर से अपनी गांड पीछे की, पजामे के अंदर मेरा लंड को सीधा खड़ा था इसलिए उसके इस तरह पीछे होने से मेरा लंड उसकी गांड में सट गया. चुदाई चुदाई सेक्सी व्हिडिओलेकिन किस वजह से उसे 4 दिन बाद जाना था। वो अपनी दादी के साथ घर में ही रुक गई।उस दिन शाम को उसने कॉल किया और बताया कि घर में कोई नहीं है. राजस्थानी देसी सेक्सी वीडियो देसीमेरी नज़र भाभी पर पड़ी, तो उन्होंने मेरी तरफ मुस्कुराकर कर देखा और अपना पल्लू हल्का सा खोलकर अपनी नाभि के दर्शन करा कर चिढ़ा रही थी. मैं तुम्हारी सादगी, सौंदर्य और विचारों का पहले से कायल था पर तुम मेरी प्रियसी बनो, यह मैंने ख्वाबों में भी नहीं सोचा था, अब अगर मैं तुम्हारे सामने या पास रहा तो कभी भी तुमसे इजहार कर बैठूंगा और तुम मुझे मौके का फायदा उठाने वाला लड़का समझ बैठोगी, इसलिए मैं अपने मामा के यहाँ आ गया हूँ और मैं यहीं पढ़ाई करुंगा, अब मेरी जिन्दगी में कोई नहीं आयेगी.

तो वह अपना लंड जरूर मसलता है।मैं बहुत दिनों में अपनी सच्ची घटना लिखना चाहती थी, यहाँ मेरा लिखा हुआ एक-एक शब्द सच है.

देखने में घर ज्यादा अच्छा नहीं था पर रहने लायक तो था ही, उसने गेट का ताला खोला और हम अंदर चले गये, उसने मुझसे बोला- अगर फ्रेश होना चाहते हो तो हो सकते हो. आंटी बोली- बहुत मज़ा आया तुम्हारे साथ चुदाई करके!आंटी ने मुझे किस किया और बोली- तेरा जब मन करे, आ जाना अपनी अंती के साथ सेक्स करें!मैं खुश हुआ और आंटी को गले लगाया… मैंने आंटी को बोला- अपनी आंटी की गांड मारूँगा अगली बार!आंटी बोली- अभी नहीं… तुझे तेरे बर्थ डे पे अपनी गांड का गिफ्ट दूँगी. गोरा बदन और लाल रंग!’ क़यामत तक याद रहेगा मुझे!’लाल ब्रा के अंदर गोरे-गोरे और उठे हुए मम्मों के ऊपर उसके गुलाबी निप्पल भी अच्छे लग रहे थे। मैंने उसको पलट दिया, उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया.

एक दिन सुबह 8 बजे उसका फोन आया, बोली- आज 10:30 पर मेरे घर आ जाना!और बोली- मैंने अपना पता फ़ेसबुक पर मेसेज कर दिया है. पर मैं थोड़ा डर रहा था क्योंकि मैंने कभी सेक्स नहीं किया था। इसलिए मैंने बहुत सोचकर तेय किया कि आज कुछ भी हो जाए, पर मैं आंटी की चूत चोद कर ही रहूँगा।फिर हम दोनों बिरयानी बना कर हॉल में सोफे पर बैठे थे, तभी आंटी ने कहा- गर्मी की वजह से मुझे पसीना आया हुआ है. अब मैंने फिर से डिब्बे से तेल निकाल कर अपनी त्रिपतिव्रता पत्नी की गांड पर मल दिया और अपनी दो उंगलियों को अन्दर घुसेड़ दिया.

गांव की चाची को चोदा

बाद में उन्होंने मेरा लंड अपने मुख में लिया और लॉलिपोप की तरह चूसने लगी. फिर थोड़ी देर शांत रहने के बाद हम फिर से शुरू हो गये और 69 की पोज़ में करने लगे. मेरा लंड उनकी गांड से उनकी गांड से पीछे से टच हो गया। मेरा लंड एकदम पूरे मज़े में आ गया था।फिर हम दोनों बेडरूम में आकर बैठ गए।भाभी बोलीं- यार, तुम्हारी गर्लफ्रेंड कैसी है?मैंने कहा- मेरी गर्लफ्रेंड?तो बोलीं- हाँ तुम्हारी?मैंने कहा- भाभी मैं गर्ल्स को पसंद नहीं करता हूँ, ये आपको पता तो है.

इस सेक्स वाइफ के शौकीन को भी किस्मत ने यहाँ भेजना था!!मैंने नताशा को इस बारे में बताया तो वो भी आश्चर्यचकित हुए बिना न रह सकी.

’मैं अब और ज़ोर से धक्के देने लगा।उधर आंटी मेरे हर शॉट पर चिल्ला रही थीं- अह.

मैंने कहा- ठीक है जोहा, जब तक जीजू नहीं आ जाते, मैं यहीं रहूँगा तुम्हारे साथ!जोहा बोली- शुक्रिया तारिक!रात का खाना हम दोनों ने साथ में खाया, उसके बाद हम लोग कुछ देर आराम करने की सोच कर बिस्तर में लेटे. अपने छोटे भाई की ख़ुशी के लिए उसको रूम में बुलाकर पहले मुझे चोदा था फिर उससे मुझे चुदवाया था. बंगाली सेक्सी वीडियोस’ राहुल ने अपने फूलते हुए लौड़े को घूरते हुए कहा।4-5 मिनट में ही राहुल का लंड 10 इंच का तम्बूरा बन चुका था और बड़ी मुश्किल से ही शेफाली मुट्ठी में आ पा रहा था.

दरअसल कॉलेज के दिनों में मुदस्सर की छत पर तो कभी मेरी छत पर मैंने उससे काफी गांड मरवाई थी. गुरु जी थे कि अपने मूसल लिंग को उसकी चूत के होंठों पर रगड़े जा रहे थे… रमा का पूरा बदन मस्ती से काँपने लगा. स्वाति के इस कारनामे से मुझे इतना मजा आया कि मुठ मारते मारते मैं झड़ गया.

फिर मुझे भी लगा कि कोई मेरी भी होनी चाहिये।तो मैंने निर्णय लिया कि मैं भी कोई गर्लफ्रेंड बनाऊँ।वैसे मेरी गर्लफ्रेंड मेरे होमटाउन में थी लेकिन काफी दूर होने की वजह से मुलाकात कम हो पाती थी।फिर मैंने 1 जनवरी 2014 को गर्लफ्रेंड बनाने की सोच ही ली और मेट्रो में किसी लड़की को बोला तो उसने मुझे साफ मना कर दिया. मैं उसकी चाटता रहा ओर वो मेरा चूसती रही। कुछ ही पलों में हम दोनों एक साथ जोश से भर गए।वो बोली- अब रहा नहीं जाता यार.

उसने फिर एक धक्का मार कर अपना आधा लंड अंदर घुसेड़ दिया, उसने अपने उंगली से मेरी क्लिट को छेड़ा तो मेरी चुत फिर से गीली होने लगी, उस गीलेपन की मदद से उसने एक ही धक्के में अपना बाकी लंड अंदर घुसेड़ दिया.

दोस्तो, सबसे पहले आप सभी से क्षमा प्रार्थी हूँ कि मैं 3 साल के लम्बे अंतराल के बाद अब अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पर वापस आ पाया हूँ. आंटी बोली- ये क्या कर रहा है?मैं डर कर बोला- कुछ नहीं!और वहाँ से चला आया. मेरे चूचे दबाने लगा।वो बहुत जोर से मम्मों को दबा रहा था तो मैंने कहा- ओह.

प्यार करने वालों की सेक्सी वीडियो फिर 4-5 आसनों में और चुदाई की। फिर हम दोनों झड़ गए और कुछ देर वहीं लेटे रहे।फिर कुछ देर बाद अपने शरीर से रेत झाड़ कर हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े पहन लिए।अब तक रात के 9 बज चुके थे. क्या मादक खुश्बू आ रही थी उनकी चड्डी से… ऐसी खुशबू सिर्फ़ एक चुदासी औरत की चूत से ही आ सकती थी.

एक लड़का है, वो घर में है।वो बोलीं- चलो दुल्हन वाले कमरे में चलते हैं।मैं बोला- मैं तो किसी को पहचानता नहीं हूँ, कोई पूछेगा तो?वो बोलीं- मैं बोल दूँगी कि तुम मेरे साथ हो।हम दोनों अन्दर गए. मुझसे ही कर ले!कह कर हंस दी तो मैं बोला- चाचा का क्या होगा?तो वो उदास होकर बोली- उससे कुछ नहीं होता!कह के मेरे गले लग गई, अपनी चुची मेरी छाती में गड़ा दी. ऊपर आज की टीवी एक्ट्रेस श्वेता तिवारी जैसी शकल!परन्तु राकेश पर तो जैसे इनका कोई असर ही नहीं हो रहा था।‘क्या हुआ? नंगी क्यों घूम रही हो?’‘अजी नाइटी नहीं मिल रही… आप मदद कर दो न!’ रमा ने अपने होंठों को काटते हुए कहा.

बीएफ ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो हिंदी

वो मेरी चुत को अपनी उंगली से चुदाई करके शांत कर देते। मैं कभी-कभी उनके लंड को मुँह में ले लेती ओैर इस तरह दोनों अपनी कामवासना की तुष्टि करने लगे।एक दिन जब उनके घर के सब लोग एक सप्ताह के लिए बाहर जा रहे थे। मुझसे दादा जी का ख्याल रख लेने का कहा गया और वो सब उन्हें छोड़ कर चले गए।उसी दिन मैंने अपनी मम्मी से कहा- मम्मी आज मैं स्कूल नहीं जा रही हूँ।मम्मी ने कहा- तो ठीक है. !मुझे अभी भी भाभी के कॉल का इंतजार है।आपको अनजान भाभी की चोदा चोदी की मेरी कहानी पसंद आई?मुझे मेल कीजिए।[emailprotected]. तभी वो फिर से ड्राइंग रूम में आई और सुनील की चाय जो अब तक ठंडी हो चुकी थी, उठा कर ले गई और उसे गर्म करके साथ ही अपनी भी चाय और साथ में कुछ नमकीन आदि लेकर दुबारा ड्राइंग रूम में आई तो तब तक सुनील भी वाशरूम से बाहर आकर सोफे पे बैठ गया था.

मेरी इस हिंदी सेक्स स्टोरी में आपने अब तक पढ़ा कि जब मैं नम्रता आंटी की चूत चुदाई करके घर आया और मुझे अंजू के प्यार के इजहार के मैसेज मिले तो मैं हैरान रह गया। दूसरे दिन अंजू का भाई संदीप मेरे पास आकर मुझे बधाई देने लगा, मुझे समझ में नहीं आया कि ये क्या कह रहा है।अब आगे. इसको बुरा कहने वालों के पास कोई तर्क नहीं है जबकि पत्नियों की स्वेच्छापूर्वक स्वैपिंग से रिश्तो में और मज़बूती आती है.

और ये कहते हुए ही वो मुड़ गई थी।मैंने उसकी पीठ पर हाथ फेरा और कहा- सोच लो घूमने जाना है कि रूम पर वापिस चलें?दिव्या बोली- घूमने जाना है।मैंने कहा- अगर मैं शरारत करूँ तो?बोली- मुझे भरोसा है तुम पर!मैंने फिर फीता पकड़ा.

पर सुधीर के मन में क्या है, यह मैं नहीं जानती थी।अब मैंने अपना दुपट्टा उठाया आँसू पौंछे और चिट्ठी पढ़ने लगी. छुट्टियों में हम सब दोस्तों ने बहुत मजा किया, घूमने गए, कई फिल्में देखी और भी बहुत कुछ!अब हमारी छुट्टियाँ खत्म होने वाली थी!तभी मेरे एक फ्रेंड ने हमें कहा- कल रात को मैं तुम सबको एक अलग जगह पे लेकर जाऊँगा!अगली रात हम सब तैयार होकर मिले! तभी वो दोस्त आया और बोला- आज हम सब लोग रंडी की चूत की चुदाई करने रंडी बाज़ार जाने वाले हैं. कभी स्लो कर लेता।फिर कुछ ही झटकों में भाभी झड़ने को मचलने लगी और मैं फुल स्पीड के साथ चुदाई में लग गया.

हम दोनों बात करते रहे, शाम को कोमल घर चली गई और मैं वापस मुंबई आ गया और इस धुआँधार ट्रिप के बाद तो मुझे और कोमल को चुदाई का चस्का लग गया, जब मेरा या उसका मन करता, मैं औरंगाबाद चला जाता दिनभर चुदाई के कई दौर चलते. एक दिन मुझे एक मेल आया कि हमें आपकी सर्विस चाहिए, मेरी उनसे बात हुई तो मैंने अपना फोन नम्बर उनको दे दिया।जब उनका फ़ोन आया तो वहां से एक आदमी की आवाज आई, मैंने पूछा तो उस आदमी ने बताया कि वो मनोहर बोल रहा है (गोपनीयता के कारण उनका नाम बदल दिया गया है)उसने बताया- आपसे मैल पर बात हुई थी. मैं तो मानो आसमान की सैर कर रहा था। कुछ ही देर की लंड चुसाई में मैं भाभी के मुँह में ही झड़ गया।लंड झड़ गया.

मैंने कई बार उसे प्यार से समझाने की कोशिश, कई बार हमारा झगड़ा भी हुआ पर वो नहीं मानती, ज़्यादा कलह करने पर साफ कह देती है कि ज़्यादा चुदास है तो बाहर किसी के साथ सो जाया करो, पर मुझे परेशान मत करो.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो देसी: आरिफ उसके मुँह में लंड दिए हुए था अनुज उसकी चूत की चुदाई कर रहा था. मेरी तो अब 3 दिन ऑफिस से छुट्टी है।तो मैंने कहा- ठीक है मस्ती से 3-4 दोस्त मिल कर दारू पिएंगे।‘आज क्या होगा?फिर मैंने कहा- आज 4 दोस्त नहीं पर हम 3 दोस्त जरूर मिल सकते हैं.

मैं गर्ल्स हॉस्टल में रहने गई तो वहाँ की लड़कियों ने मुझे लेस्बीयन सेक्स से अवगत करवाया. हुआ कुछ यूँ कि दोस्तों एक दिन घूमते हुए मुझे रास्ते में एक बहुत सेक्सी लड़की दिखी तो जब मैं उसकी तरफ देख रहा था तो इसने मुझे देख लिया. वही तगड़ा और मोटा लंड जो मुझे सबसे ज़्यादा पसंद है। मैंने उसका लंड पकड़ा, वो अभी पूरी तरह से खड़ा नहीं था.

दोस्तो, मेरी गर्लफ्रेंड की रूममेट एकदम माल है, गोरा चिट्टा रंग, भूरी आँखें, देख कर लंड खड़ा हो जाए!हमने सेक्स का प्रोग्राम अगले दिन का ही रख लिया क्योंकि मैं भी उसे चोदने के लिए बेताब था क्योंकि मेरी गर्लफ्रेंड की भी डेट चल रही थी, मैंने 2 दिन से चुदाई नहीं की थी.

फिर अचानक ही कहा- दो लड़कियों को संभाल लोगे?पहले तो मैं उसके मुंह से अचानक ही ऐसा सुन कर हड़बड़ा गया फिर सोचा कि जमाना बहुत आगे निकल गया है तो मैं क्यों पीछे रहूं. ’ जैसी आवाजें निकालने लगी।कुछ ही देर में अचानक उसकी गांड उठाने की रफ्तार तेज हो गई और वो दबी हुई चीख के साथ झड़ गई. तो हमेशा मौसी की चुदाई मस्त होकर होती।दोस्तो, मेरी मौसी की चुदाई की चुदाई की कहानी कैसी लगी, अपने विचार जरूर भेजें।[emailprotected].