नंगी चोदा चोदी बीएफ

छवि स्रोत,फिल्म दिखाएं सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी ब्लू हिंदी ब्लू: नंगी चोदा चोदी बीएफ, तो मैंने उससे कहा- क्या हम कहीं अकेले में मिल सकते हैं?उसने मना कर दिया.

सेक्सी वीडियो प्लीज सेक्सी

क्योंकि आज मेरा बर्थ-डे है और मैं इस दिन को और यादगार दिन बनाना चाहती हूँ। आज मेरी दोस्त की वाइल्डनैस को आपने देखना है और उसको बस संतुष्ट करना है।ये सब कह कर उसने हम दोनों को एक-एक किस कर दी।अब सिमरन भी आ गई और उसने सारा सामान टेबल पर सजा दिया। मैंने और संजय ने केक के ऊपर मोमबत्तियां लगा दीं. हिंदी सेक्सी पिक्चर बताइए हिंदी मेंपर आज तक उसका किसी से कोई चक्कर नहीं रहा।मैंने थोड़ी और हिम्मत की और थोड़ा ज़ोर से दबाने लगा.

मैंने पैंट की चैन खोलकर लौड़ा निकालकर भाभी के चूतड़ों पर लगाकर भाभी के पेट को कस कर पकड़ लिया।भाभी बोलीं- छोड़. एक्स एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो चुदाईआज तुझे जन्नत का मज़ा देती हूँ।उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे कमरे में ले गई।कमरे में जाते ही साथ उसने कहा- पहले कुछ पीते हैं.

उठता हूँ।मैं यह बात सुनकर घर से जल्दी बाहर आया, फिर थोड़ी देर बाद में घर का दरवाजा खटखटाया।पूजा बुआ ने मुझे अन्दर आने को कहा और मुझे राकेश के पास छोड़ कर अन्दर चली गईं।राकेश- क्या बात है अवि.नंगी चोदा चोदी बीएफ: जिसे उसकी चूत पूरा खाए जा रही थी।सुरभि अपनी चूत मेरे मुँह में रख कर प्रियंका की तरफ मुड़ कर झुक गई और उसके चूचों को हाथ से दबाने लगी।प्रियंका लौड़े पर कूदती रही और सुरभि उसके चूचों को बिना रुके मसल रही थी।थोड़ी देर बाद दोनों ने बोला- चलो उठ जाओ शेर.

पर अब मेरी नजर सीधा उसके चूचों पर थी, उसने ब्लू सूट पहना हुआ था और क्या क़यामत लग रही थी।शरमाते हुए बोली- यश शाम को 8 बजे मेरे घर आ जाना।‘हैप्पी बर्थ-डे.ये डान्स की जगह है।टोनी- यार तू है ही ऐसी कमाल की चीज कि मेरा लौड़ा तो मानता ही नहीं.

सेक्सी चूत लंड वाली वीडियो - नंगी चोदा चोदी बीएफ

तो मेरा हौसला बढ़ गया।उसकी बात सुनकर मुझे जिगोलो बनने का ख़याल आने लगा। सोचा कि जब लण्ड शानदार है.मैं बाहर निकाल कर झाड़ दूंगा।यह कहते हुए मैंने एकदम से लंड उसकी चूत में डाल कर तगड़ा धक्का मार दिया।वह एकदम से चिल्लाई- ऊ मम्मी.

उसके साथ निधि भी थी। उनको देख कर अर्जुन के पैरों तले ज़मीन निकल गई. नंगी चोदा चोदी बीएफ हाँ में सिर हिला कर फ़ौरन गाड़ी में बैठ गया और दोनों वहाँ से मॉल की तरफ़ जाने लगे। रास्ते में सन्नी ने आगे का प्लान अर्जुन को बताया तो उसके चेहरे पर एक मुस्कान आ गई।सन्नी- तू अच्छी तरह समझ गया ना.

मेरा लौड़ा उसको चोदने के लिए दोबारा तैयार हो गया, मैंने उसको अपना लौड़ा चूसने के लिए बोला.

नंगी चोदा चोदी बीएफ?

अर्जुन ने ‘फक’ से लौड़ा बाहर निकाल लिया, एनी का योनि रस उस पर लगा हुआ था. और उसके पति ने सुहागरात को शराब पीकर उसके जिस्म को बेदर्दी से नोंच कर. पता ही नहीं चला।रात में मुझे कुछ भारीपन महसूस होने के कारण मेरी नींद खुल गई। जब आँख खुली.

चारों तरफ आरक्षण की आग फैली हुई थी और उस दिन मैं भी इसी आग की चपेट में आ गया।मुझे कॉलेज से घर जाना था लेकिन बाहर निकला तो सब कुछ चक्का जाम था, न कोई सवारी और न कोई यातायात का साधन. जो कल तुमने मुझे दिया था। कल से पहले मुझे किसी ने भी इतना सुख नहीं दिया।मैं तो जैसे मानों सातवें आसमान पर था. मैं ऊपर आती हूँ।फिर हम दोनों ने अपना-अपना स्थान बदला, मैं चित्त लेट गया.

मुझे तो खयाल ही नहीं रहा कि घर में उनकी सासू माँ भी हैं।जब ख्याल आया तो मैं उठा और एक बार देख कर आया कि वो कहीं जाग तो नहीं गईं।फिर मैं वापस आया और अभी कुछ और करता कि भाभी ने कह दिया- जल्दी से अब चोद दो ना. और वहाँ से हम दोनों साथ में चलेंगे।मैंने ‘हाँ कह दी।नियत दिन और समय पर मैं बताई हुई जगह पर वहाँ चला गया।थोड़ी देर मैं वो कार से आ गईं, आते ही हम दोनों उनकी सहेली के घर गए। उन्होंने मुझे अपनी सहेली से मिलवाया. तो मैंने पहले उसको गर्म करना ठीक समझा।मैंने उसके मम्मों को चूसना शुरू किया तो वो मछली की तरह ‘उईई ईई ईईई.

सीधी तरफ मैं और लेफ्ट में पूजा थी। पूजा की टाँगें मेरी जाँघ और मेरी टाँगें पूजा से भिड़ी हुई थीं। मुझे आदत है कि लड़की पास हो और उसे ना छेड़ूँ. उसने देर ना करते हुए मेरी चूत पर अपना लंड रखा और एक ही झटके में पूरा 7 इंच का मुस्टंडा लंड मेरी चूत में पेल दिया।जैसे ही लंड मेरी चूत में गया.

मेरी नज़र उस पर से हट ही नहीं रही थी।इतने में उसने मेरे सीने पर जानबूझ कर एक धौल जमाई और कहा- ऊ.

फिर अपने आप मेरा हाथ उनके पेट पर चला गया और उन्होंने भी मेरे हाथ पर अपना हाथ रख दिया जैसे एक पति पत्नी सोते समय रख लेते हैं वैसे ही हाथों की स्थिति हो गई।हमारे इस खेल को शुरू हुए लगभग 15 मिनट हो गए थे। मेरा लण्ड बुरी तरह से सख्त हो चुका था.

क्योंकि मैं उनसे पहली बार मिल रही थी और सब कुछ करने की हामी भी भर दी थी।उन्होंने बातचीत शुरू की. जो मेरे बीज के साथ-साथ भाभी के चूत से निकले खून और रज से भीगा हुआ था।भाभी हैरानी से कभी मेरे लंड को देखतीं. हम दोनों मदन के घर आ गए।मैंने सोनिया को रिंकू से मिलवाया और पूछा- तुम को रिंकू कैसा लगा?‘थोबड़े से ज्यादा लौड़े में दम होना चाहिए.

अब मुझसे नहीं जा रहा था। मैंने पहली बार उसकी बांह में चुटकी काटी। वो कुछ नहीं बोली। फिर मैंने उसके गाल पर चुटकी काटी। वो फिर भी कुछ नहीं बोली। फिर मैंने हिम्मत करके उसकी समीज़ के ऊपर से ही उसकी चूचियों पर चुटकी काटी. ’कहते हुए उसने रोना शुरू कर दिया, उसकी आँखों से पानी बहने लगा।धीरे-धीरे सौम्या का दर्द कम होने लगा। फिर वो खुद ही गाण्ड हिला-हिला कर गाण्ड मरवाने लगी।‘साली तूने मुझे बताया क्यों नहीं कि दोषी का लंड है. आज तुम कली से फूल बन गई हो।मैं छटपटाती रही और वो धीरे-धीरे अपने मूसल लवड़े को चूत में आगे-पीछे करने लगा और बोला- अब तुम्हें इतना मजा आएगा कि आज तक कभी नहीं आया होगा।मैं भी अब सहन कर रही थी वो हचक कर लौड़े को आगे-पीछे करने लगा। करीब 10 मिनट बाद मुझे भी मजा आने लगा और मेरे मुँह से ‘उम्म्म्मम.

पर मेरे दोस्तों का कहना है कि मेरी हाइट 6 फिट और गोरा दिखना लड़कियों को मेरी तरफ आकर्षित करता है।बात तब की है.

इसे मैंने हल्के से बाँध लिया और बेड पर लेट गई।ऐसी नाइटी मेरे घर में मेरी मॉम भी इस्तेमाल करती थीं. तो कभी लहंगे के अन्दर मासूम चूत देखने की जिद कर रही थी।वो दोनों तो अपनी बातों में लगी हुई थीं और मैं अपने काम में लगा था। उनकी सहेली ने मेरी निगाहें पढ़ लीं. यह मेरी रियल स्टोरी है। मैं अपनी स्टोरी पहली बार लिख रहा हूँ। इसलिए हो सकता है कि कुछ गलती भी हो जाए और कोई चीज छूट भी जाए.

जिसे देख कर एनी मुस्कुरा दी और अपने होंठ उस पर टिका दिए।वो बड़े प्यार से सुपारे को किस करने लग गई. सच बताऊँ आज तक 6 इन्च से ज़्यादा बड़ा मेरी चूत और गाण्ड में नहीं गया और इतना मोटा लौड़ा तो कभी मैंने देखा भी नहीं. उसने उसे स्वीकार कर लिया और मैंने उसी समय उसके होंठ को चूम लिए।थोड़ी देर में मैंने अपना हाथ उसकी जाँघों पर रख दिया.

एक लड़की योनि को और अपने स्तनों को चूसने मात्र से ही गरम हो जाती है।8.

मैंने भी जल्दबाज़ी ना दिखाते हुए उसके चूचुकों से छेड़छाड़ जारी रखी और उसकी चूत को सलवार के ऊपर से ही छेड़ने लगा।उसकी कुँवारी चूत ने पानी छोड़ दिया था।इस बार जब मैंने उसके नाड़े को खोलना चाहा. लेकिन मेरे लण्ड का सुपारा ही चूत में जा पाया।दर्द के मारे उसकी चीख निकल गई, मैं डर गया और लौड़ा हटा लिया।वो उठी और रसोई से जा कर सरसों का तेल ले आई।मैंने तेल से अपने लण्ड और उसकी चूत को तर कर दिया, फिर मैंने लण्ड को सैट किया और एक जोरदार झटके के साथ चूत में पेल दिया।वो दर्द के मारे करहाने लगी और उसकी चूत से खून भी निकल आया था।वो कराहते हुए बोली- कुछ देर रूक जाओ.

नंगी चोदा चोदी बीएफ पर ये तो मेरी बदनसीबी थी कि तुम मुझे बाद में मिले ही नहीं।वो सच कह रही थी क्योंकि मैंने 7वीं कक्षा के बाद स्कूल बदल लिया था।वो बोलने लगी- तुम मुझे पहले मिल जाते. आज फिर आपके लिए एक नई कहानी ले कर आया हूँ।मेरी पिछली कहानी आप सभी के द्वारा काफी पसंद की गई थी और उसके काफी ईमेल भी आए थे, उसके लिए आप सब का तहे-दिल से शुक्रिया।आप जब मेरे बारे में सब जानते हैं तो मैं सीधे ही अपनी कहानी पर आता हूँ।मैं अपने भाई को उसके स्कूल से लेकर आता हूँ, बात दिसम्बर की है, एक दिन जब मैं उसे स्कूल से लेने गया.

नंगी चोदा चोदी बीएफ धीरे-धीरे हम और क्लोज़ आते गए, हम दोनों के अब फोन नम्बर भी एक्सचेंज हो गए।जब उसके पति ड्यूटी चले जाते थे. वो रोती रही।दस मिनट बाद मैंने सारा वीर्य उसकी गाण्ड में ही छोड़ दिया और बिस्तर पर उसके ऊपर पड़ा रहा।कुछ देर बाद हम अलग हुए.

मैडम ने मुझे गले लगा लिया।मैडम- आज तो तुम ने मुझे जन्नत दिखा दी।अवि- मैडम थोड़ा पानी मिलेगा।मैडम- अभी तो दो बार में अपनी चूत का पानी पिला चुकी हूँ। फिर भी तुम्हें पानी चाहिए।अवि- मैडम मैं थक गया हूँ थोड़ा।मैं हँस दिया।मैडम मुझे आँख मारते हुए हँसने लगीं- तुम उस पानी की बात कर रहे हो.

गांव की औरत का बीएफ

मुझे तुझसे यह उम्मीद नहीं थी।मैंने मास्टरज़ी के पैर छूकर माफी माँगी और पापा से ना कहने को कहा. ऑफिस में या घर पर भी चुदाई करवा लेती थीं।अब अगले भाग में उनकी बेटी के साथ क्या हुआ वो भी लिखूँगा।. जिससे चूत लाल हो गई।चूस चूसने के बाद उसने कहा- चल सीधी लेट जा साली रंडी।साक्षी सीधी लेट गई.

वो तुरंत इस बात के लिए तैयार हो गई और दो मिनट में ही मेरे लौड़े को चूस कर पूजा एकदम लोहे की रॉड बना चुकी थी।अब रुकना ना मेरे बस में था. अरे…जेम्स ने उसके होंठ फैलाए और फिर जैसे कौए ने कुंड में डुबकी मारी।कल्पना उछल पड़ी- आ… …. मैं भी उसका पूरा साथ दे रहा था।फिर उसने अपनी पैंट को घुटनों तक नीचे सरका दिया और फ्रेंची को जांघों पर ले आया जिससे उसके मोटे मोटे आंड आजाद हो गए.

उन्होंने अपना सवाल पूछा और इस बार मेरे हार जाने पर उन्होंने मेरी जीन्स खोल दी, मेरा अंडरवियर अब एकदम भाभी की नजरों के सामने था और मेरा लौड़ा भी खड़ा हो चुका था।भाभी मेरे लण्ड की साइज को देख कर खुश हो गईं और उनके चेहरे पर एक चमक आ गई। फिर मैंने उनसे अपना सवाल पूछा और इस बार वो जीत गईं.

वो भी नीचे से गांड उठा-उठा कर झटके मार रही थी।उसके मुँह से ‘आह्हह्ह. पर दिव्या ने कहा- मैं कपड़े नहीं खोलूँगी और लाइट बन्द कर दे।मैंने कहा- ओके. पर वो नहीं गया। दो-तीन बार ट्राइ करने के बाद उनने अपने लंड पर बहुत सा तेल लगाया और मेरी गाण्ड में एक बार में ही पूरा लंड घुसेड़ दिया।मैं बुरी तरह रोने लगी.

और वो चली गई।मैं भी उसके पीछे चला गया, वो जानती थी कि मैं पीछे ही हूँ।तभी रिया ने वॉशरूम में जाकर डोर बंद नहीं किया और ‘श्ससस. होंठ छोड़कर वो फिर से मेरी गर्दन पर चूमने लगा और मेरी आहें निकलना शुरु हो गईं। मैंने उसको कसकर बाहों में भर लिया और उसको अपने अंदर समाने के लिए बेताब हो उठा, उसकी छाती से आती पसीने की खुशबू. फिर नीची नजर से मैंने उसकी खाकी पैंट की उठी हुई जिप की तरफ देखा तो उसका सोया हुआ लंड एक तरफ साइड में नजर आ रहा था जिसे देखकर मेरे मुंह में पानी आने लगा.

उसने अपना मुँह शर्म से छुपा लिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने कहा- क्या हुआ मेरी रानी को।वो बोली- अरे मेरे राजा. 5 इंच मोटा होने के कारण मैं अपने मुँह में नहीं ले पा रही थी।उन्होंने दो झटकों में ही लंड मेरे मुँह के अन्दर पेल दिया और मैं उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।वो मुझे गालियाँ दे रहे थे- आह्ह.

तब तक चूमता रहा और बोबे दबाते रहा।अब माँ ने खुद एक झटका नीचे से मारा. बिल्कुल चिकनी और सुडौल जांघें और पैरों में ऊँची हील के सैंडल देखकर मेरा मन ऐसा कर रहा था कि उन पैरों की उगलियों को उसी समय अपने मुँह में लेकर चूसने लगूँ।उसने जब मुझसे कहा- नवीन, अन्दर आओ।तो उसकी सुरीली आवाज सुन कर तो मैं वहीं पर मानो पत्थर हो गया। जब उसने अपने हाथों से मेरे गालों को छू कर मुझे हिलाया. और उन लम्बी टाँगों के आखरी छोर पर 36 के आकार के दो मचलते गोले फिट थे.

आखिर होली है। कब तक मैं सजा-धजा बचा रहूंगा।मैंने हंसते हुए कहा- सारिका यह तो बदमाशी है.

उसका टाइम आ गया है। बस अब कल सूरज किसकी जिंदगी में क्या तूफान लाएगा. तो मैंने किसी तरह जोर लगा कर उसे ऊपर किया और उनकी ब्रा के ऊपर से उनके मम्मे दबाने लगा।हाय. सेजल के बोलते ही मैंने उसे पीछे से अपनी बाँहों में जकड़ लिया और उसकी ब्रा को उतार दिया।उसके मम्मों के निप्पल काले थे.

मेरा खड़ा हुआ लंड एकदम नर्म हो गया। मुझे खीज सी उठी कि दादी को भी अभी ही आवाज़ लगानी थी।मैंने सोनाली से कहा- मैं अभी आता हूँ. फिर बोलीं- मेरा तो सुहागरात से लेकर आज तक जल्दी ही सब कुछ हो जाता है और मैं ऐसे ही रह जाती हूँ।मैंने भाभी का हाथ पकड़ कर कहा- भाभी आप चिंता मत करो.

सन्नी ने टोनी को फ़ोन किया- तुम उन दोनों को पहले भेज देना और पायल के आने के बाद ही तू आना. और यह बोल कर वो मेरे होंठों को चूसने लगी।करीबन 20 सेकंड चूसने के बाद बोली- ये विश है मेरी तरफ से. जिसमें मकान मालिक भैया बैंक में जॉब करते हैं। उनका 5 साल का एक लड़का है.

बीएफ सेक्सी इंग्लिश में दिखाएं

मैंने उसकी दोनों टाँगे उठाईं और अपने कंधों पर रख लीं और अपना लण्ड उसके चूत के मुँह पर रखकर ज़ोरदार झटका लगाकर एक बार में ही पूरा का पूरा लौड़ा चूत में उतार दिया।वो चिल्ला पड़ी- आह्ह.

जिससे मेरी स्पीड भी बढ़ती जा रही थी। ममता भी अपना पूरी गाण्ड उछाल-उछाल कर साथ दे रही थी- ओह. पोलो में पूरा उभरा हुआ दिखाई दे रहा था, पूरा 90 डिगरी में तना हुआ था।मैडम मेरे पास आई. फिर कपड़े पहने और एक बार फिर एक-दूसरे को चूमा और ऊपर आ गए।यह सिलसिला खूब चला.

पर वो छुड़ा कर हँसती हुई भाग गई।रात को जब सो गए तो मैं चुपके से उसके बिस्तर के पास गया. आयशा के मम्मों को सहलाते हुए खूब जोर से मसल और रगड़ रही थी।अब आयशा बोली- प्रियंका. सेक्सी एचडी सनी लियोन कीवो सब वो बहुत पहले से करना चाहती थी।वो बहुत ही गरम लड़की थी और उसे एकदम मस्त और गरम चुदाई ही ठंडा कर सकती थी। सच ये भी था कि चुदवाने में वो बहुत तेज थी.

उसकी बात सुनकर मैं पूजा की तरफ देखकर धीमे से कहने लगा- ले तो मैंने भी ली है यार. पर मैं फिर भी उतना अच्छे से नहीं लिख पाता हूँ।कुछ लोग झूठी स्टोरी को भी इस तरह लिख देंगे कि वो पूरी रियल ही लगने लगती है।अब ज्यादा टाइम ना लेते हुए.

ठीक है मैं चलता हूँ।सन्नी वहाँ से निकल गया और टोनी फिर से लड़कियों के आस-पास मंडराने लगा. तो वो और बेचैन हो गई। मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी और अब 3 फिंगर उसकी चूत में पेल कर अन्दर-बाहर करना शुरू कर दीं।थोड़ी देर बाद ही उसने अपनी दोनों टाँगों के बीच मेरे हाथ को जोर से दबाया तो मैं समझ गया कि इसका काम हो गया है।अब आगे. क्योंकि मुझे तो उसे चोदना था और वहाँ से चुदाई का कोई एंगल नहीं बन रहा था।सो मैंने बोला- बिस्तर पर तकिया लगा कर अच्छे से बैठते हैं.

उसका जिप वाला भाग मेरे लंड के ऊपर टिका हुआ था जिससे मुझे अति आनंद की अनुभूति हो रही थी. उसने मेरे बारे में कुछ नहीं पूछा, इससे मुझे लगा कि शाज़ी अंकल ने मेरे बारे में पहले ही सब कुछ उसे बता दिया था।उसने यह भी बताया- मैं ऐसे ही बड़े साहब लोगों के दस दूसरे घरों में भी केवल उनके बेडरूम और बाथरूम की सफाई का काम करती हूँ। इससे मुझे अच्छेक पैसे भी मिल जाते हैं और काम भी ज्यादा नहीं करना पड़ता। केवल राज़दारी शर्त है. उसके सामने मैं कैसे ये सब कर पाऊँगी भाई?पुनीत- अरे अब उसको कहाँ बीच में ले आई.

भाई बहुत टाइट चूत थी उनकी।फिर मैं ऐसे ही जोर से चुदाई करने लगा।भाभी भी अब मजा लेने लगीं और झटके के साथ उनकी चूचियां भी ऊपर-नीचे हो रही थीं।थोडी़ देर बाद मैं बोला- जान.

आज से आपकी हर इच्छा मैं पूरी करूँगा।और मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए।तक़रीबन दस मिनट तक रसपान करने के बाद मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए।मैंने धीरे से उसके ब्लाउज के बटन खोले और साड़ी हटा कर पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया।हजारों कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर. सो मैं जानबूझ कर शर्त हार गया।अब एक दिन प्रोग्राम तय करके मैं उसे एक सेक्सी पिक्चर दिखाने ले गया। वह भी सेक्सी कपड़े पहनकर और अच्छा मेकअप करके आई थी, उसे देख कर ही मेरा दिल मचलने लगा था।हम दोनों कुछ नाश्ता लेकर पिक्चर हाल में बैठ गए। मैंने एक केबिन पहले से बुक कर लिया था.

मैं समझ गया कि अब वो भी तैयार हैं और जाग रही हैं।मैंने झट से अपनी कैप्री और अंडरवियर उतार दी और भाभी के ऊपर आ कर उनके होंठों पर किस करने लगा। भाभी भी रिस्पोंस देने लगीं. जो सुरभि की जांघों में लग गया। उसका पानी ऐसे टपक रहा था कि सुरभि ललचा गई. पर मुझे तो उसकी चूत ने दीवाना बना रखा था। मैं कहाँ उसकी सुनने वाला था।एक दिन.

तेरे दोनों मम्मों को मैंने अपने होंठों में ले लिया है और तेरी चूत में अपना लंड डाल दिया है. उसकी एक बहन थी, प्यार से सभी उसको नीतू बुलाते थे।एक दिन रिंकू ने मुझसे कहा- यार तू मेरी छोटी बहन को पढ़ा दिया कर. उसका लंड अब झड़ने वाला था और 15-20 सेकेंड बाद उसके मस्त लौड़े से निकली वीर्य की पिचकारियों ने मेरा मुंह भर दिया.

नंगी चोदा चोदी बीएफ लेकिन साली की चूत पर हाथ जरूर फ़ेरूंगा।मेघा और मैं कार में आकर बैठ गए. पुनीत ने भी ना चाहते हुए एक बार देख ही लिया और उसको देख कर उसकी साँसें रुक गईं।सुनील- थोड़ी आवाज़ तेज़ करो.

बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी वीडियो में

उसे देख कर तो मुझसे रहा ही नहीं गया और मैंने बाथरूम में जाकर प्रीत भाभी के नाम की मुठ मारी. पहले तो गाण्ड फटी में कॉलेज का टेंशन सर पर था।कॉलेज की तरफ से उनको रहने के लिए मकान दिया गया था। शुरू में मैं उनके साथ ही रह रहा था. तो बातों-बातों में पूजा ने मुझसे पूछा- और बताओ क्या ख्वाहिश है तुम्हारी?मैंने पूजा से कहा- जान मुझे एक बार एक भाभी या आंटी के साथ सेक्स करना है.

हाय क्या मस्त लग रहा था, मेरा मन तो हुआ कि सोनी को छोड़ू ही नहीं।कुछ देर ऐसे ही रहने से अब ठीक लगने लगा. मेरी सील अभी तक सलामत थी पर मेरी चूत में खुजली तो गाहे बगाहे होती ही रहती थी।मेरी यह मुराद अब जल्द ही पूरी होने वाली थी पर ये सब कैसे हुआ. मालिश वाली सेक्सी पिक्चरजब मैं जाने लगा तो मम्मी ने बोला- आराम से करना।मैं उस कमरे में पहुँचा.

तो मुझे कुछ शक हुआ तो मैं बाथरूम के पास गई। मुझे कुछ सिसकारियाँ सुनाई पड़ रही थीं।काफ़ी देर बाद जब भैया बाथरूम से निकले.

और सुरुर बढ़ते बढ़ते सबके अंदर किसी महापुरुष की आत्मा आकर बड़े बड़े डॉयलोग मारने लगती है. देखो कहीं और दिमाग कहीं लगाओ।उधर मोहिनी भी अपनी गांड खूब मटका रही थी। मुझे बेकाबू करने के लिए जो भी वो कर सकते थे.

मतलब हॉल में पूरा अंधेरा हो गया था।मैं सबसे किनारे पर बैठा था।मैंने एक ढीली सी जीन्स और एक टी-शर्ट और मेरी गर्लफ्रेण्ड ने भी एक ढीली सी जीन्स और ढीला टॉप पहना था. मैं अपने लंड को भाभी की चूत के छेद पर लगाकर रगड़ने लगा और मैंने सपना से कहा- तुम भाभी की चूची चूसो. यह सब क्या चक्कर है?’ सोचते ही मुझे चक्कर सा आने लगा है।इतना कह कर वह हँस दी।मैंने आगे पूछा- सच बताओ.

सुबह जल्दी निकल जाते हो और रात को इतनी देर से आते हो?तब मैंने कहा- देख काजल मैं तुझसे प्यार करने लगा हूँ और मैं घर में रहूँगा तो तेरे साथ कुछ ऐसा-वैसा कर दूँगा और तू मुझसे गुस्सा हो जाएगी.

उसने मेरा हाथ पकड़ लिया। वो मेरे हाथ को छोड़ ही नहीं रही थी।मैं बड़ी मुश्किल से अपने दूसरे हाथ से रास्ता बना कर उसकी ब्रा तक पहुँचा और उसके हुक को खोल दिया. उतना लंड घुसा दिया और जोर से झड़ने लगा।भाभी भी अब समझ गई थीं कि मैं झड़ रहा हूँ और उन्होंने भी धक्के लगाने बंद कर दिए।मैं जी भर कर दो मिनट तक झड़ता रहा।भाभी की इस प्यार भरी चुदाई के बाद मैं एकदम हल्का महसूस कर रहा था. कमरे में ममता की सेक्सी आवाज़ थी।दोस्तो, कुल मिला कर कमरे का माहौल वासना से सराबोर था।ममता- राजी अब डाल भी दो लण्ड.

सेक्सी भाभी ने चोदाजिससे उसकी सिसकारियां फिर से शुरू हो गईं।अब उसके मुँह से कुछ इस तरह की आवाज़ निकल रही थीं- आआघहाअ. और वो मेरा ऊपर आ कर मुझे चोदने लगा और मेरा मम्मों को दबाने लगा।फिर 5 मिनट के बाद बोला- मेरा निकलने वाला है.

इंडियन बीएफ बीएफ इंडियन बीएफ

जो मेरी मौसी के लड़के का दोस्त था।सब शादी के काम में लगे हुए थे और मेरी नजर सुबह से लेकर रवि पर ही बनी हुई थी।रवि की उम्र करीब 26 साल के आस पास थी, वो 6 फीट का हट्टा कट्टा और अच्छा खासा हैंडसम लड़का था, गेहूँआ रंग. जिनको पढ़कर मेरा भी दिल अपनी आप बीती लिखने का किया और मैं हाजिर हूँ अपनी कहानी के साथ।जब मैं 18 साल का हुआ था. बाहर आने को तरस रहे थे।मेरी नजर वहाँ से हट ही नहीं रही थी, मैं उन्हें ही देखता रहा।सविता भाभी की नजर भी मेरे ऊपर कब पड़ी.

फिर भी मैंने गाण्ड मारने के लिए हामी भर दी।अब मैंने उसकी सलवार निकाल दी. और ऊपर गर्दन की तरफ से लेफ्ट चूचे को चूस रहा था और नीचे पीठ की तरफ़ से हाथ डाल कर अन्दर से उसके मम्मों को मसक रहा था।इससे शायद वो अच्छा महसूस करने लगी थी… इसलिए मैंने उसकी ब्रा को पूरी तरह से अलग करके पूरी कमीज़ को ऊपर गर्दन के पास कर दी और खुद उसकी टाँगों की तरफ से उसके ऊपर चढ़ कर उसके दोनों मम्मों को एक-एक करके चूसने लगा। बीच-बीच में मैं उसे किस भी कर रहा था और स्मूच भी. वो मेरी ज़िन्दगी में मेरे साथ हुआ है। मेरी इस घटना में कल्पना का कोई स्थान नहीं है।मैं आज उस चुदाई के बारे में बता रहा हूँ जब मेरे जीवन की पहली कुंवारी लड़की आई थी और जिसका मैंने कौमोर्य भंग किया था।आपकी आशानुसार नाम और जगह दोनों ही काल्पनिक हैं।यह घटना 1970 के दशक के आखिरी सालों की है.

ये खड़ा हो जाएगा।वैसे भी अबकी बार पायल के नाम से तेरी चुदाई करूँगा। इसको खड़ा करने के लिए उस कच्ची कली का तो नाम ही काफ़ी है. मैंने उसे अपने कमरे में अन्दर कर लिया। वो मेरे बिस्तर पर बैठ गई। कोई 2 मिनट तक नॉर्मली बातें करने के बाद मैंने कहा- आप अपनी चप्पल उतार दो और आराम से बैठ जाओ न. अपना वही हाथ मेरी जीन्स के अन्दर डालना शुरू कर दिया। मैंने पहले से ही अपनी बेल्ट ढीली कर ली थी.

जिससे कमरे में ‘छप्प छप्प’ की आवाजें आ रही थीं।चुदाई करते हुए मैंने उससे पूछा- मज़ा आया मेरी जान?वो बोली- हाँ. उसी तरह हर चूत पर चोदने वाले का नाम लिखा होता है।अब आप ही खुद देखो.

ला गाड़ी दे कागज और डीएल दिखा।पुनीत ने पायल को कहा कि वो अन्दर ही रहे और खुद नीचे उतर गया।पुनीत- क्या बात है हवलदार साहब.

क्योंकि मैंने पहली बार ऐसी कोई बात उनसे की थी। उन्होंने एक स्माइल पास की और कहने लगीं- अच्छा बस बस. हिंदी देसी सेक्सी ब्लूमेरे इस छोटे से छेद में कैसे घुसेगा?मैंने उसे समझाया कि लण्ड कितना भी मोटा हो. इंडियन ब्वॉय सेक्सीमगर मैं चाहती हूँ गेम के बारे में आप सब कुछ जान लो तो ज़्यादा अच्छा रहेगा। अब हर कोई तो तीन पत्ती का गेम जानता नहीं है. वो सिसकारियां भर रही थी।फिर उसने मेरी चड्डी को भी निकाल दिया और मेरे लण्ड को अपने होंठों में लेकर चूसने लगी।दोस्तो, मैं बता नहीं सकता.

सामने वाले सोफे पर बैठ गई और कहने लगी- भैया टेन्शन में क्यों हो?वो हंस भी रही थी.

तो झट से लौड़ा बाहर निकाला और सारा वीर्य ट्रे में गिरा दिया।पुनीत- आह्ह. ’मैं लगातार उसे चोदे जा रहा था मेरा लण्ड उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था। उसे भी मजा आ रहा था. और उसकी चूत के पानी ने मेरी दोनों उंगलियों को पूरा चिप-चिपा सा कर दिया.

तो मैंने उसके मुँह से अपना लण्ड निकाला और उसके होंठों पर किस कर दी।अब हम दोनों ही बिस्तर पर नंगे एक-दूसरे से चिपक कर लेट गए।कुछ देर के बाद हम उठ कर बाथरूम गए. ताकि वो आपके पार्ट्नर को आकर्षित कर सके और कमरे में सेक्स करने की जगह शांत होनी चाहिए. ’मैं लगातार उसे चूसता रहा। वो जोर से चिल्लाती रही और अपना हाथ से मेरे सिर को अपनी चूत के ऊपर धकेल रही थी। अपने पैरों को कभी मेरे ऊपर.

हिंदी में सुहागरात वाली बीएफ

मम्मे दबा रहा था।उसने अब दूसरा मम्मा मेरे मुँह में ठूंस दिया।जब तुम औरत का एक स्तन चूसते हो तो वो दूसरा स्तन अपने आप चूसने के लिए दे देती है।उसके हाथ मेरे बालों में घूम रहे थे, अब मैं उसके पेट पर किस करता हुआ नीचे पैंटी पर आ गया।पैंटी के ऊपर से उसकी महक को सूँघ रहा था. उतने में ही आंटी ने पूछा- भाई को लेने आए हो?मैं- हाँ और आप?वो बोली- मैं बेटे को लेने आई हूँ।वो बोली- कौन सी क्लास में है तुम्हारा भाई?मैं- फिफ्थ में. तो मैंने 69 का पोज़ अख्तियार किया।मैं नीचे पीठ के बल लेटा हुआ था और सोनी पेट के बल होकर मेरे ऊपर लेट गई.

उससे साफ पता लग रहा था वो उत्तेजना के भंवर में फँस गई है और अर्जुन का लौड़ा लेने को तैयार है।पायल वापस अपनी जगह बैठ गई और पीछे से अर्जुन उसकी ब्रा हाथ में लिए हुए बाहर आया।टोनी- हे अर्जुन जी.

पहले एक बार वीर्य निकल जाने की वजह से पूरा टाइम लग रहा था दूसरे राउंड में.

लाल रोशनी में उनका पूरा बदन लाल लावे की तरह बड़ा ही सेक्सी लग रहा था।मैं उनके बदन पर हाथ फेर रहा था।कोई 5 मिनट बाद वो बोलीं- कॉटन लेकर अब ये क्रीम पोंछ दो।मैं रुई लेकर बगलों और चूत पर लगी हुई बालसफा क्रीम को रगड़ते हुए पोंछने लगा।इपहले दोनों बगलों के सारे बाल अपने आप उतर गए।अब नीचे चूत के बाल पोंछने लगा. धीरे-धीरे हम और क्लोज़ आते गए, हम दोनों के अब फोन नम्बर भी एक्सचेंज हो गए।जब उसके पति ड्यूटी चले जाते थे. हॉर्स सेक्सी फिल्मतो मैं उसे बाइक पर छोड़ने गया। पूरे रास्ते में उसने अपने मम्मे मेरी पीठ से सटाए रखे। रात को खाना खाया और थोड़ी देर टीवी देखा, सर्दी का टाइम था.

अब मैं सोच रहा था कि काश कोई मेरी गांड चुदाई की की वीडियो अपने मोबाइल से बना लेता तो उसे मैं गे वीडियो साईट पर जरूर भेजता!दोस्तो, कहानी पसंद आई क्या? अपनी राय दें…[emailprotected]. ’ की आवाज़ निकाल मुझे और भड़का रही थी।अब मैंने उसे मेरा लण्ड मुँह में लेने को बोला. वरना मैं तुम जैसी खूबसूरत लड़की से शादी करके अपने आपको ख़ुशनसीब समझता।मैंने उठकर उसे गले से लगा लिया और धीरे-धीरे बाँहों में समेट लिया।कमैंने कहा- आई लव यू जान.

बाकी हम बाद में आते हैं तब देखते हैं।उन दोनों के जाने के बाद सन्नी ने टोनी को कहा- तुम जाकर शराब का बंदोबस्त करो. लेकिन उसने दरवाज़ा नहीं खोला।मेरे मॉम-डैड का रूम काजल के कमरे से एकदम लगा हुआ था.

मैं भी तेज़ी से अपना लंड मॉम की बुर में अन्दर-बाहर करने लगा।‘आआअहह.

उसने मेरी आवाज़ सुनके फोन काट दिया।रिया बाथरूम से आई तो मैंने पूछा- कोई लड़के का फोन था. वैसा करते जाओ।मैंने तुरंत ‘यस’ कर दिया।मॉम ने अपनी अल्मारी से हेयर रिमूवर क्रीम निकाली और मुझे दे दी।अब उन्होंने मुझसे अपने दोनों हाथ ऊपर करके बाँहों की बगलों के बालों पर लगाने को कहा. जब भी वो चलती है तो अच्छों-अच्छों का लण्ड सलामी देने लगता है।जब वो मेरे सामने से गुजरती है तो पैन्ट में लण्ड लोहे की रॉड बन जाता है। मेरा जी करता है इसे पकड़ कर अभी चोद दूँ.

सेक्सी डाउनलोड वीडियो दिखाओ और मैंने उस चुदासी से पूछ ही लिया- तुमने किस के साथ किया?हंसते हुए बोली- अपने सभी बॉयफ्रेंड के साथ किया है. तो वो बिना कुछ कहे ही वहाँ से चली गईं।मुझे लगा कि मुझे उनसे सॉरी बोलना चाहिए।जब सब रात में सोने की तैयारी कर रहे थे तो मैं चुपचाप जाकर हॉल में भाभी के बगल वाले बिस्तर पर लेट गया.

मैं तो अपनी मर्ज़ी से रंडी बनने जा रही हूँ और मैं तुम्हारे साथ एक हफ्ता वहीं रहूँगी. मैं अपने आप काबू नहीं रख पा रहा था और इसके चलते मैंने अपना हाथ पीयूष के पेट पर रख दिया। मुझे अच्छा लगा और वासना बढ़ने लगी उसके मर्दाना शरीर को छूकर…उसके बाद मैंने अपनी टांग घुटने के पास से मोड़ते हुए उसकी जांघों के बीच में उसके कच्छे में बने उभार पर रख दी. तो सोचा आज चूत को ही तुमसे चुदवा लिया जाए।इतना सुनते ही भाभी को मैंने वहीं चारपाई पर खींच कर लिटा लिया और उनका ब्लाउज खोल दिया। मैं उनके रसीले मम्मों को चूसने लगा। फिर मैंने भाभी की साड़ी को ऊपर कमर तक सरका दिया, भाभी ने अन्दर सिवाय लहंगा के कुछ नहीं पहना था, चूत पर भी घने बाल उगे थे।मैं इन्तजार किए बिना भाभी के ऊपर चढ़ गया और लौड़े को चूत में घुसेड़ कर धक्के मारने लगा। चारपाई बहुत हिल रही थी.

बीएफ दिखाना हिंदी में

और वही डायरी पढ़ कर बाद में मुझे समझ में आया था कि उसका एक नया-नया ब्वॉयफ्रेण्ड भी बना है। वो हमेशा ही डेली रुटीन के साथ-साथ अपने ब्वॉयफ्रेण्ड के साथ क्या किया. उसके लंड से माल गिरने लगा।मॉम अब उठ कर उससे चिपक गईं, दोनों 5 मिनट ऐसे ही लिपटे रहे।फिर सपन ने बोला- मुझे भूख लगी है. तो मुझे महसूस हुआ कि उसकी पैन्टी गीली हो चुकी थी। मतलब वो बहुत गरमा गई थी।वो मेरे कान के पास आकर बोली- आह्ह.

यह जो तुम्हारे सामने हूँ।’अम्मी उनसे लिपट कर बातें कर रही थीं। कभी तो वो मेरी नजरों के सामने आ जातीं. तो अंकल मुझे ज़ोर से अपने से भींचने लगे।ख़यालों में मुझे महसूस हुआ कि अंकल मेरे मम्मों के निपल्स को अपनी उंगलियों से मसल रहे हैं।मैं एकदम से गनगना उठी। मेरा एक हाथ नीचे बुर की लबों से जा लगा.

जींस के अन्दर भी उभार साफ दिख रहा था।मैंने मेघा का हाथ अपने हाथ में लेकर कहा- एक बार देख तो लो.

मैडम ने मुझे गले लगा लिया।मैडम- आज तो तुम ने मुझे जन्नत दिखा दी।अवि- मैडम थोड़ा पानी मिलेगा।मैडम- अभी तो दो बार में अपनी चूत का पानी पिला चुकी हूँ। फिर भी तुम्हें पानी चाहिए।अवि- मैडम मैं थक गया हूँ थोड़ा।मैं हँस दिया।मैडम मुझे आँख मारते हुए हँसने लगीं- तुम उस पानी की बात कर रहे हो. तो मेरा लण्ड मेरी जीन्स फाड़ कर बाहर निकलने को बेताब था।उसको इतना मस्त देख कर मेरे मन में बस उसको चोदने की ललक लग गई।उसकी चूचियां 36 साइज़ की थीं और गाण्ड भी 36 की थी।मैंने मन में कहा कि दीदी गई माँ चुदाने. तो जनाब उसे घूर क्यों रहे थे।मैंने कहा- वो तो मैं उसकी टी-शर्ट का ब्रांड देख रहा था।मैंने यह बात अपनी जीभ निकालते हुए बोली.

वहीं परी भी एक 5 फुट 6 इंच की सुन्दर फिगर वाली मस्त लड़की बन चुकी थी।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !बाहरी दुनिया से दूरी बनी होने कारण हम दोनों साधारण दोस्त थे. उसने सेंडो बनियान पहन रखी थी जिसकी पट्टी उसकी छाती पर कसी हुई थी और पूरी छाती के बाल दिख रहे थे।उसके हाथ उसके सिर के पीछे खुले हुए थे और उसकी बगल के बालों में से पसीने की भीनी भीनी खुशबू आ रही थी जिसे पाकर मैं मदहोश हुआ जा रहा था. जिसमें लड़का लड़की बहुत पैशन से एक-दूसरे को किस कर रहे थे।वो देख कर बोली- भैया, ये क्या लगा दिया?तो मैंने कहा- ये तो नॉर्मल पिक्चर्स हैं।इस पर वो बोली- ये नॉर्मल है.

उसने मेरी भावनाओं को समझा, मेरे लिए तो वही बहुत बड़ी बात थी।खैर दुल्हन घर आ गई और सारे घर में खुशी और हंसी ठहाकों का माहौल बन गया और रस्में होने लगीं।रवि भी अब आकाश के साथ व्यस्त हो गया था और घर की महिलाएँ दुल्हन की देख रेख में लगी थीं।रात का एक बज चुका था और सभी लोग बेहद थक गए थे। सारा दिन थका होने के बाद मुझे बहुत जोर की नींद आ रही थी और आँखें खुली रखना मुश्किल हो रहा था.

नंगी चोदा चोदी बीएफ: तो दरवाज़े में कुण्डी लगाना भूल गया और उन्हें याद करके मुट्ठ मारने में मगन हो गया। उनकी याद में ऐसा खोया था कि पीछे खड़ी भावना की ओर ध्यान ही नहीं गया। उस दिन तो मैं मुट्ठ मार कर ढीला हो गया और हाथ धोकर ऑफिस में एंट्री करके घर चला गया।उसी रात को लगभग 11 बजे होंगे. ऐसा लग रहा था जैसे कोई गहरा कुँआ हो। उनकी कमर 26 से ज्यादा किसी भी कीमत पर नहीं हो सकती। बिल्कुल ऐसी जैसे दोनों पंजों में समां जाए।कमर के नीचे का भाग देखते ही मेरे तो होंठ और गला सूख गया, उनके चूतड़ों का साइज़ 36 के लगभग था। बिल्कुल गोल.

मुंबई से मेरी चचेरी बहन पिंकी गरमियों की छुट्टियाँ गुजारने मेरे घर आई थी। वो अभी कमसिन उम्र की थी. बस मुझे तो उसके नाम से भी प्यार हो गया और उसके करीब जाने के बहाने तलाशने लगा। लेकिन शाम हो गई मुझे कोई खास कामयाबी नहीं मिली। लेकिन मेरी इन कोशिशों को दीपेश कुछ कुछ समझ रहा था, लेकिन वो चुपचाप मेरे साथ इंटरनेट पर गाने सुनता रहा।रात हुई और हम खाना खाकर सोने लगे. क्या फिर से मेरे सामने नंगा होना चाहोगे?मैं इस सवाल से चौंक गया था.

रवि तो अपनी सुहागरात मना चुका था लेकिन मैंने जो रवि को अंदर ही अंदर अपना पति मान लिया था, वो भावना मेरे भीतर घर कर गई थी जो मुझे हर पल बेचैन रखती थी.

पर शायद उसे इतने धीरे से दबवाने में मज़ा नहीं आया और उसने मेरे हाथ के ऊपर अपना हाथ रखा और अपने दूध ज़ोर-ज़ोर से दबवाने लगी, अपने दूसरे हाथ से उसने मेरा लंड पकड़ लिया. हमारी चुदाई दम से चली।फिर मैंने पूछा- अब बताओ मैं खिलाड़ी हूँ या अनाड़ी?बोली- अरे तुम तो चैंपियन निकले जान. मन करता है बस चुसवाते रहो।अब मेरा लण्ड फुल टाइट हो गया था। मैं उठ कर सोनी के टांगों के बीच में आ गया और अब देखा कि सामने नारियल के तेल की शीशी रखी है.