हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती

छवि स्रोत,ससुराल बहू की सेक्सी चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहारी सेक्सी बीएफ देसी: हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती, फिर उसने धीरे धीरे मेरी गर्दन को चूमते हुए मुझे नीचे लिटा लिया और मेरी पूरी बॉडी को चूमने लगी.

एक्स एक्स सेक्सी नंगी

सुनीता ने कहा- ठीक है, आज मेरे पति की नाइट ड्यूटी हैं तभी तो मैं तुम्हारे बुलाने पर आ गई थी. मोठ्या सेक्सीसर- आंह बहुत गर्म चूत है तुम्हारी जान … बहुत दिन से इस मौके की तलाश में था मैं … आह लंड को बहुत मज़ा आ रहा है.

मॉम आगे की ओर भागने लगी लेकिन अंकल ने फिर से उनको पकड़ कर अपनी ओर कर लिया. न्यू सेक्सी वीडियो फुल एचडी हिंदीमैं उससे बोला- अब मेरा लंड चूस कर गीला कर दे, ताकि ये आसानी से अन्दर जा सके.

मेरी यह तमन्ना कैसे पूरी हुई?सभी पाठकों को मेरा नमस्कार।यह मेरी पहली कहानी है.हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती: मेरे दोनों चूचे एकदम लाल हो गए थे, लेकिन मैं कुछ नहीं कर पा रही थी.

पांच मिनट चोदने के बाद वह सही हो गई और नीचे से अपनी गांड को उछाल उछाल कर मेरा साथ देने लगी.मैं ही क्या, बहुत से लोग उन दोनों को चाहते होंगे, क्योंकि उनका फिगर था ही ऐसा.

सेक्सी हिंदी वीडियो एचडी फुल - हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती

वो बोली- ऐसा क्यों?मैंने कहा- जिसकी इतनी सेक्सी गर्लफ्रेंड होगी वो तो सच में ही लकी होगा.लेकिन मुझे फर्क नही पड़ा और फिर अंकल ने पिंकी के दोनों पैरों को चौड़ा कर कर फैला दिया.

उसके बूब्स हैं तो बड़े … यानि 36 के हैं … पर वो 34 की ब्रा पहनती थी. हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती फिर उसके बाद क्या हुआ? मजा लें यह सेक्स स्टोरी पढ़ कर!कुछ ही देर बाद अंकल बुआ को लेकर आ गए.

तब से लेकर अब तक से हफ्ते दस दिन में कोई न कोई मौका ढूंढकर मेरी भांजी अवनीत आ जाती है और बेझिझक चुदवाती है, हमारे बीच मामा भांजी जैसा कोई रिश्ता नहीं है.

हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती?

साथियो, मैं अपनी ममेरी बहन की चुदाई की कहानी को यहां एक विराम दे रहा हूँ. मैंने भाभी के मम्मों को चूसते हुए ही अपना एक हाथ उनकी चूत की तरफ़ बढ़ा दिया. मैंने अपने और पापा के कमरे के बीच के दरवाजे में जगह देखी तो मुझे उधर एक बड़ी सी झिरी दिखने लगी.

न्यूड भाभी सेक्स कहानी में पढ़ें कि लॉकडाउन में भाई कई महीने घर नहीं आये. मुझे नहीं पता कि उसको कुछ पता चलता था या नहीं लेकिन कभी मैंने उसके चेहरे पर कोई रिएक्शन नहीं देखा. तेज धक्कों से माही रोने लगी और बीच बीच में मुझे गालियां देती रही- आआहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद कुत्ते साले अह्ह आईईई … भैन के लंड धीरे चोद साले … थोड़ा धीरे कर … मैं तेरी कोई रांड नहीं हूँ … धीरे कर साले!उसकी गालियां सुनकर मुझे और जोश चढ़ रहा था.

वह मेरी गांड को दाँतों से काटता और कभी कभी मेरी गांड के छेद को जीभ से चाट जाता जिससे मेरी आह… सी निकल जाती।मैं अज़ीम का लंड दिल भर कर चूस रहा था जैसे कभी मैंने जवान लड़के का लंड देखा ही नहीं हो. मैंने अपने फोन की रिंगटोन बंद की और अपनी बहन को 5 मिनट बाद कॉल किया और पूछा- गैस है क्या सिलिंडर में? हिला कर देखना वरना मंगवाना होगा।तो वो किचन में गयी और सिलिंडर हिला कर चेक करने लगी. आज मां ने कहा- बेटा कपड़ों में तो बहुत गर्मी लगती है, तो मैं आज साड़ी निकाल देती हूँ.

उस दिन पूरे दिन होटल में उसने मुझे बहुत चूसा मेरे कामुक बदन को … उसके दबाने काटने से मेरा सारा बदन लाल हो गया था. मैंने उनसे मेरे बेटे के लिए पूछा, तो वो बोले- आप अपना नंबर दे दीजिए, काम हो जाएगा.

फिर मैंने उसकी सलवार उतार दी और पैन्टी भी उतार दी और रजाई ऊपर तक ओढ़ ली.

मैं उसकी चूत को चोदता रहा और साथ में उसका होंठों को चूसता रहा और उसकी चूचियों को भी दबा रहा था.

उन्होंने हंसते हुए बोला कि ओके … लेकिन एक बात सुनो, जैसी सेवा तुमने मेरी की है, अगर वैसी ही मेरी सहेलियों की भी करोगे … तो मोटा माल भी मिलेगा और मजा भी. फिर मैंने उसकी पैंटी को निकाल दिया और उसकी चूत में उंगली अन्दर बाहर करने लगा. धीरे धीरे धक्कों का वेग बढ़ता गया और वो जोर जोर से मेरी चूत को चोदने लगा.

भाभी भी अब अपनी गांड उठा उठा कर मेरे हर धक्के का जवाब देने लगी थीं. इस सबके फलस्वरूप मेरी दिनचर्या भी बदल गई और अब धीरे धीरे मैं अपना ज्यादा समय उनके यहां ही बिताने लगा. उनको देख कर मेरे तो पैंट में लंड ने आन्दोलन करना शुरू कर दिया था, लौड़ा पैंट फाड़कर बाहर आने को मचलने लगा था.

दो मिनट बाद ही मेरी बहन का फोन आया, उसने बताया कि गैस मंगवाने की जरूरत नहीं है.

मैंने मैम से कहा कि मैम यह स्कूटी अभी ठीक नहीं हो सकती, आप इसे किसी गैराज में दे दें. यानि दीदी के दोनों बड़े-बड़े बूब्स दबा रहा था और निप्पल चूस रहा था. आज रात को हमें एक ही रूम में सोना था क्योंकि कल शिल्पी और नीता अपनी आंटी के साथ सोयी थी और मैं अंकल के साथ नीता वाले रूम में था।मौका अच्छा था और मुझसे रुका न गया और मैंने नीता को शिल्पी की चुदाई के बारे में कहा.

मैंने दायें हाथ से उसके बायें गाल को खींच दिया और दायें गाल पर किस कर दिया।मैं उसके स्तनों को सहलाने-दबाने लगा. मुझे लगा कि शायद नीता और शिल्पी में पहले भी ऐसे कुछ हो चुका था वर्ना शिल्पी पहली बार में इस तरह उसकी चूत में उंगली करने के लिए नहीं मानती।शिल्पी को लिटाकर वो उसकी चूत में उंगली करने लगी. जब रात हो गई और भाभी नहा चुकी थीं तब मैंने भाभी को अपने कपड़े सूखने टांगने के लिए छत पर जाते देखा.

मैंने गर्दन से नीचे की ओर चूमते हुए अपना सिर उसके उरोजों की घाटी के बीच फंसा दिया और अपनी जीभ उसके दोनों उरोजों के बीच फिराने लगा.

उसकी नशीली आंखें जैसे कह रही थीं कि आ जाओ … अब देर न करो … मेरे जिस्म को ठंडक दे दो. वो ऐसे बातें करने लगी जैसे वो हमारे परिवार का ही हिस्सा हो।तभी मुझे पता चला था कि मीनाक्षी की शादी को ढाई साल होने को आये थे लेकिन अभी तक भी उसके कोई औलाद नहीं हुई थी.

हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती आप प्लीज़ उनका काम कर दीजियेगा।अमित जी कहा- ये भी कोई पूछने वाली बात है. पर बदले में तुम्हें मुझे भी चोदना पड़ेगा।मैंने उनसे कहा- ठीक है, मुझे आपकी शर्त मंजूर है।और मैं अपने घर चला आया।दोस्तो, आपको मेरे दोस्त और मेरी गर्लफ्रेंड की मम्मी की चुदाई की कहानी कैसी लगी? बताना मत भूलियेगा.

हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती मेरा लण्ड शांता की चूत को चीरते हुए अंदर घुस गया।वो एकदम से चिल्लाई- आआआ … ऊऊऊ … मर गयी साब … आह्ह … गयी मेरी चूत काम से … हाय दैया … ओह्ह … फट गयी रे!मैं बोला- घबरा मत रानी. मेरा लंड रानी की चूत में घुस गया था और पिंकी की चूत मेरे ठीक सामने थी.

मैं तो नंगा ही था, फिर मैंने झट से टॉवल पहनी और रिंकी और में उसको मम्मी पापा को बताने से मना करने लगे.

देहात की लड़कियों की बीएफ

कभी मेरे हाथ उनकी गांड पर सहला रहे थे तो कभी उनकी चूत पर सहला रहे थे. मैंने उसकी चुत पर अपने होंठ रख कर चूसने लगा, जिससे वो बहुत ज्यादा गर्म हो गई. मेरी गांड में उसका मोटा लंड घुसा, तो मैं बस तड़फ गई … मगर दो तीन शॉट के बाद ही मेरे मुँह से मस्त आवाजें निकलने लगीं- बसस्स … अहह उफफ्फ़!करीब आधे घंटे तक उसने अलग अलग पोज़ में मेरी चुत और गांड मारी.

तब उसने बोला- क्या हुआ?मैंने बोल दिया- अब आई हो … एक बार बताया भी नहीं कि तुम्हारा दर्द कैसा है? मैं तो यह सोच सोच कर परेशान हो रहा था कि पता नहीं तुम कैसी हो?वो कुछ नहीं बोली. मैंने उसके पूरे शरीर पर किस करके उसको गर्म कर दिया और उसने भी मेरे लंड को चूस कर खड़ा कर दिया. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी गर्लफ्रेंड की सुहागरात की कहानी-2.

मगर मैंने ज्यादा नहीं सोचा क्योंकि अभी तो बस चूत चोदने का पूरा मजा लेना था.

संदीप ने मोबाइल उठाया और अपने फोन पर बात करने के लिये दूसरे कमरे में चला गया. जब अम्मी ने घुमा फिरा कर उनको पिछली रात जैसी चुदाई दुबारा से मिलने को बोली तो अशफ़ाक भाई ने हाँ क्यों बोल दिया?इसका मतलब ज़ोहरा आपा की दुबारा चुदाई करने में अशफ़ाक भाई को कोई एतराज नहीं था. फिर हम दोनों किस करने लगे और ऐसे ही थोड़ी देर के बाद फिर से गर्म हो गये.

जब मैं अपने प्रेमी से चूत चुदवा रही थी तो इसने मुझे देख लिया था इसलिए मेरी चूत चोदने की जिद कर रहा था. कुछ पल मैंने उसकी चूत को उंगली से रगड़ा और फिर उसने खुद ही टांगें हल्की सी फैला दीं. ’दोस्तो, मेरी इस देसी नंगी भाभी सेक्स स्टोरी पर आपके मेल का इन्तजार रहेगा.

सुनीता ने इस पर कहा- क्यों? ऐसा क्या प्यार?शकील ने सुनीता को कहा- मैं बचपन से यहीं रहा हूं और मेरी मामी मेरी सारी बात जानती है. लंड हिलाते समय मैंने उसके लंड का विकराल रूप देखा, तो मेरी धड़कनें बढ़ गई थीं.

जोश जोश में मैंने उसकी चूचियों को इतनी जोर से मसल दिया कि उसकी बहुत तेज आवाज में आह्ह … निकल गयी. मैं भी शादी में गया लेकिन मुझे भाभी के साथ चुदाई भी करनी थी इसलिए मैं ज्यादा देर रुका नहीं और तबियत ठीक न होने का बहाना करके वापस घर आ गया. कुछ देर तक वो मेरे लंड को पर हाथ फिराती रही और मैं उसकी पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत को मसलता रहा.

उनका यह रूप देख कर मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं और मैं चाबी के छेद से देखने लगा.

तो मेरे प्यारे दोस्तो और भाभियो, रिश्तों में चुदाई की मेरी यह सच्ची सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल जरूर करना।[emailprotected]. धीरे धीरे करके अंकल ने तीन बार में अपना पूरा मूसल सा लंड मेरी गांड में पेल दिया. करीब तीन चार मिनट मेरे होंठों को चूसने के बाद उन्होंने मेरे टीशर्ट और बनियान को निकाल दिया।अब वो मेरे पूरे सीने को चूमने लगी.

उनकी इस बात को सुनकर मैं नीचे देख रहा था, लेकिन जब मैंने सर उठ कर भाभी का चेहरा देखा तो वह मुस्कुरा रही थीं. तभी उसने खुद ही कह दिया- अपने कपड़े नहीं उतारोगे क्या?उसके कहते ही मैंने अपनी टीशर्ट और लोअर उतार दी.

मैंने हां में सिर हिला दिया और मां वहां से चुपचाप दुम दबाकर निकल गयी. फूफा जी ने अम्मी को अपनी बांहों में भरा और उनके होंठों से होंठों को मिला दिया. इस तरह से मैं तीन दिन चाची के यहां रहा और इन तीन दिनों में मैंने चाची की चुदाई बड़े ही मस्त ढंग से की.

हिंदी बीएफ पंजाबी में

उसके छोटे छोटे सन्तरे मेरी छाती से टकराने लगे।मेघा के बूब्स मेरे हाथ में आ जाएं इतने ही बड़े थे।मैं दोनों हाथों से दोनों बूब्स को दबा रहा था। मैं उसके गले पर लव बाइट देने लगा और उसके फूले हुए गालों को काटने लगा।नीचे से मेरा लौड़ा मेघा की चूत में जाने को तैयार हो गया।उसको मैं किस करता जा रहा था.

टीना- अच्छा जी!ऐसा कहने के बाद वो मेरे होंठों से अपने गर्म गर्म होंठों मिला कर मुझे किस करने लगी. मैंने नोटिस किया कि निशा भाभी के मम्मों को पकड़ने पर भी उन्होंने मुझसे कुछ नहीं कहा, जिससे मेरी हिम्मत बढ़ गई. तो मैंने उसे कहा- हम बाहर नहीं मिलेंगे तो कहां मिलेंगे?उसने मेरे को कहा कि मैं उसके घर आ जाऊं.

मगर चारू को यह नहीं पता था शायद कि मैं उसकी चूत मारने की फिराक में हूं. मैं- ठीक है तब सुषमा मादरचोद … अब तू देख … कैसे तुझे रंडियों के जैसे चोदता हूँ. इंडियन सेक्सी वीडियो चुदाई कामैंने उनके सर के बाल भी खोल दिए, इससे वह और भी ज्यादा सेक्सी दिखने लगी थीं.

उनके मुँह से ज़ोर से एक चीख निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैंने अपने होंठ उनके होंठों पर लगा दिए, तो वो चुप हो गईं. तो उन्होंने मुझे अपनी बांहों में लपेट लिया और मेरे होंठों से अपने होंठ जोड़ कर मेरे होंठ चूसने लगे.

कई मिनट तक इसी तरह उस लड़की के साथ होंठ चूसने का मजा लेकर फिर उसके बाद वो लड़की मेरे कपड़े खोलने लगी. जब तक आप मुझे अपनी मेल लिख कर बताएं कि आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी, तब तक मैं मुठ मारके आता हूँ. उसके मम्में काफी बड़े थे और गांड देख कर तो लंड एकदम से तन कर खड़ा हो जाता था.

मेरी सच्ची हिंदी सेक्सी चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे बड़े भाई ने छोटी बहन को चोदा. वो उम्म्ह… अहह… हय… याह… करते हुए मुझसे लिपट गईं और मैं उनके होंठों को पीने लगा. मैंने देखा वो आदमी अपने ऊपर वाली बर्थ से दीदी की मिड्ल बर्थ में दीदी से कुछ बोल रहा था.

आज उसको मम्मी ने रोक लिया रात में अपने ही घर!तो मैं और मामी खुश हो गये.

मैंने चाची से पूछा कि क्यों क्या हुआ, आप ऐसा क्यों बोल रही हो?चाची बोलीं- ऐसे ही, मैं तुम दोनों को बीच में कवाब में हड्डी बनना नहीं चाहती. इतना कहकर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और अवनीत से अपना लण्ड चूसने को कहा.

उसने अपने दोनों पैरों से मेरी कमर को जोर से पकड़ लिया और अपने होटों को जीभ से चाटने लगी और मुख से सेक्सी आवाज़ में आहें भरने लगी. तुम मेरी बाकी सहेलियों को भी जानती हो, उनका भी तुम्हारी तरह हाल है. उस रात में वहीं रुका और पूरी रात मैंने और भाभी ने 3 बार सेक्स किया.

उनकी जांघों में उनकी चूत पर जो पैंटी थी वो तो और भी ज्यादा कहर ढहा रही थी. तो दोस्तो, ये थी मेरी और मेरी बहन युविका के चुदाई के सफर की कहानी। आप इस कहानी के बारे में क्या सोचते हैं ये कमेंट करके जरूर बताइयेगा।धन्यवाद।[emailprotected]चुदाई के सफर की कहानी से आगे की कहानी:लॉकडाउन में फिर से दीदी को चोदा- 1. और जब आप आपकी सहेली के साथ बाहर गयी थी तब पापा ने भी पूर्वी की चुदाई की।माँ ने आश्चर्य से कहा- मतलब बेटा, कल रात जब तुम मुझे चोद रहे थे तब तुम्हारे पापा पूर्वी को चोद रहे थे?तभी पूर्वी और पापा भी चौक पड़े कि ये जानकर कि मैंने और माँ ने भी चुदाई की हुई है।अब सबके बीच सबकुछ साफ़ था।काफी देर लण्ड चूसाई के बाद पूर्वी ने कहा- माँ, आप भैया का रस मत पीना.

हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती तभी गाना खत्म हुआ और माधवी भाभी ने मेरे पास आकर अपने आपको मेरे ऊपर गिरा दिया. मैंने चिल्ला कर कहा- नहीं बेबी, वहां नहीं!लेकिन वह धीरे-धीरे ऐसे ही करता रहा, कभी जीभ से चाटता, बार-बार कभी उंगली कभी चाटना!इस वजह से मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

सी वीडियो हिंदी बीएफ

उसके बाद मौसी की लड़की कोमल लौट आई और फिर चुदाई का मौका मिलना कम हो गया. कभी कभी मैं नीचे से धक्का देता तो लंड उसकी बच्चेदानी तक पहुंच जाता और उसकी एक तेज चीख निकल जाती- आहह …वो जब धक्के लगा रही थी तब उसके बूब्स ऊपर-नीचे हो रहे थे, जिनको मैं अपने दोनों हाथों से मसल रहा था. वो मेरे पास आईं और मेरे गालों पर किस करते हुए बोलीं- कहां खो गए राजाधिराज?तब जा कर कहीं मुझे होश आया.

मैंने पापा को कह दिया कि मैं भी आ रही हूँ बैंक में, मैं आपके साथ चलूंगी. फिर जब उसने हल्के से अपनी कमर हिलाई, तो मैं भी आधे लंड से ही उसको धीरे धीरे चोदने लगा. गोवा सेक्सी बीपी वीडियोमैंने उसको पूछा कि उसके पति कहां पर हैं तो उसने जवाब दिया कि वे ड्राइवर हैं.

आप मुझे[emailprotected]पर ईमेल कर सकते हैं। जल्द ही आपसे एक नई अन्तर्वासना कहानी के साथ मुलाकात होगी.

फिर उसने धीरे धीरे मेरी गर्दन को चूमते हुए मुझे नीचे लिटा लिया और मेरी पूरी बॉडी को चूमने लगी. नीचे बैठते ही उन्होंने मेरे मुंह को पकड़ा और खुलवाकर अपना लंड उसमें दे दिया.

मैंने देखा कि चाची मेरी बगल में ही थी मगर उनकी साड़ी उनके सीने पर नहीं थी. फिर मैंने अपने दोनों हाथ उसकी गांड के नीचे डालकर उसकी कमर को उठा लिया और अपनी जीभ से उसकी चूत को चोदने लगा. अंकल आंटी शाम को लौट आए मगर दोनों भाई भाभी एक हफ्ते के लिए बाहर गए हुए थे.

मेरा कमरा और मेरे माता पिता का कमरा अगल बगल में ही था, जिससे उनके कमरे की कुछ आवाजें मैं आसानी से सुन सकता था.

आप सब अन्तर्वासना पर इस सेक्स कहानी को पढ़ना न भूलें और हां मुझे मेल करना भी न भूलें. मेरा लंड इस समय पत्थर के जैसा कड़क होकर भाभी की चुत में फुल स्पीड में आगे पीछे हो रहा था. मैंने पूछा- तुझे प्रिया मैडम वाली बात अभी भी याद है?आकांक्षा- और नहीं तो क्या … ये भी कोई भूलने वाली बात है … क्या तू भूल गया?मैं- नहीं यार, वो आवाजें रात को बहुत याद आती हैं.

भाभी की सेक्सी फोटो एचडीउसने कहा- क्या बात है भाभी, रात में बहुत मजे किये?मैंने मुस्कुरा कर कहा- मेरी तो आदत है. उसने जाते समय दरवाजा उड़का दिया और मैं बिना लॉक किए नंगी ही बिस्तर सो गयी.

देसी बीएफ जंगल

प्रियंका भाभी चिल्लाने लगीं- डाल दो ना अन्दर … क्यों तड़पा रहे हो?मैंने अपने लंड को चुत के मुँह पर रखा और धीरे से धक्का दे दिया. दो मिनट तक दूसरी बार लंड चुसवाने के बाद मुझसे भी फिर रहा न गया और मैंने चाची की टांगों को चौड़ी करते हुए फैला दिया. लंड को चूत पर रखने के बाद मैंने उसकी चूत में लंड को धकेला लेकिन लंड फिसल गया.

मैं बोला- आप दोनों की चूत इतनी टाइट है … मैं जानना चाहता हूँ कि आप आखिरी बार कब चुदी थीं?इस सवाल पर वो दोनों थोड़ा भावुक हो गईं और बोलीं- इसने 11 साल पहले लंड लिया था और मैंने 14 साल पहले. मैं चारू से बोला- यार चारू … मैं पहले दिन से ही तुम्हारा दीवाना हूं. आइला के मम्मों को देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा, ऐसा मेरा दावा है.

उस दिन मैंने भाभी पर ध्यान दिया, तो मुझे वो बहुत ही मस्त माल लग रही थीं. मैंने कहा- चाची, अगर आप मेरी चाची ना होती तो मैं आपको ही अपनी गर्लफ्रेंड बना लेता. उसके होंठों का सारा रस चूसने के बाद मैंने उससे बोला- जीभ बाहर निकालो न … मुझे तेरी जीभ चूसना है.

वो बस थोड़ा नाखून लग गया था कंधे पर साबुन लगाते हुए।शिल्पी- ठीक है, तू नहा ले. मैंने उनसे फिर से मेरे बेटे को स्कूल में पढ़ने आने देने के लिए कहा.

उसकी सोसायटी अमीरों की बस्ती लग रही थी और उसका घर एक सत्रह मंज़िल की बिल्डिंग में सबसे ऊपर था.

चाची के निप्पल एकदम से तन चुके थे जिनको मैं बीच बीच में दांतों से काट लेता था. भोजपुरी फुल सेक्सी गानावो बोली- मुझसे नाराज़ हो क्या … जो बात नहीं कर रहे हो मुझसे?मैंने बोल दिया- जब तुमने मेरी बात का जवाब ही नहीं दिया, तो तुमको मैं क्या बोलूं और क्या बात करूं?इस पर वो चुप रही और थोड़ी देर बाद बोली- ठीक आज रात तक मैं अपना जवाब बता दूंगी. सेक्सी जुदाई हिन्दी मेउसके बाद हम दोनों ने आइसक्रीम खाई और मैंने उसे उसके घर के पास उतार दिया. उसने एक पिंक कलर का सूट पहन रखा था, जिसमें वो बहुत सुंदर लग रही थी.

उसने भी मुझे प्यार से चूमा और अपनी बांहों में भर कर बोली- आई लव यू सो मच जान … तुमने मुझे आज वो सुख दिया है, जो हर एक लड़की अपने पति से चाहती है.

मॉम बोली- ये क्या है?बॉस बोले- तुम्हारी चूत को चोदने की मशीन है ये!बॉस ने अब मॉम को अपनी ओर खींच लिया और उसकी चूत में हाथ को रगड़ने लगे. अचानक उसने कहा- जानू, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है, अब चोदो मुझे!मैं उठा और अपने लण्ड पर ढेर सारा थूक लगाया और उसके बुर की कली पर रगड़ने लगा. मेरा ऐसा करने से वो ज्यादा गरम हो गयी और लंड चूसना छोड़कर खड़ी हो गयी.

उनके घर में तीन लोग हैं, भैया भाभी औरकमसिन देसी जवानीके रस से भरी मेरी जवान भतीजी सोनिया. मैंने उसकी चुत में उंगली करना शुरू कर दिया, जिसकी वजह से वो ऐसे तड़फ़ने लगी थी मानो मुझसे कहना चाह रही थी कि अब जल्दी से मुझे चोद दो. जब उनको लगा कि मैं कुछ नहीं बोल रही हूं तो उन्होंने और थोड़ा आगे आकर मेरी गांड पर लंड रगड़ना शुरू कर दिया.

हिंदी बीएफ कहानी

मैंने अब होंठों को छोड़ा और मौसी की चूचियों को मुंह लगाकर पीने लगा. वो अपनी चूचियों को मेरे मुँह में देते हुए नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर लंड ले रही थीं. मेरी पत्नी मायके से वापिस लौट आयी थी, मैं अपनी बीवी की चुदाई में खुश था.

अब मैं कमरे में जा रही हूँ।और भाग कर कमरे में आ गई।पूरी रात मैं बस उस पल को याद करती रही.

फिर उल्फ़त ने मुझसे पूछा- भाई तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?मैंने भी बोल दिया- नहीं मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

दोस्तो, कहते हैं ना कि हमेशा एक जैसे दो लोग आपस में मिल जाते हैं या फिर दो अलग लोग मिलकर कुछ ही समय में एक दूसरे जैसे हो जाते हैं. तो मैंने लाये हुए दोनों चॉकलेट के पैकेट उसके हाथों में दिए और उसको गोद में उठाकर उसके कमरे में ले आया।बाहर जाकर उसकी मम्मी के कमरे का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया और पीहू के रूम में आया। चॉकलेट के दोनों पैकेट पिघल गए थे।पीहू ने कहा- भइया, ये तो पिघल गए हैं. सेक्सी पिक्चर दिखा दे सेक्सीचूंकि उधर उस समय हल्का सा अंधेरा हो गया था, तो बहुत से कपल भी अपने अपने इसी काम में लगे हुए थे.

अब मुझे तो संडास जाना ही नहीं था, मैं तो सिर्फबुआ की गांडदेखने आया था. तब क्या और कैसे हुआ?हैलो फ्रेंड्स, मैं सोनिया, मैं आपको मेरी सच्ची हिंदी सेक्सी चुदाई कहानी बताने जा रही हूँ. मेरा मन तो कर रहा था कि अभी सड़क पर ही प्रियंका भाभी को पकड़ कर उनके कपड़े उतारकर अपना पूरा का पूरा लंड उनकी चुत में उतार दूं.

कॉलेज में हॉट हॉट लड़कियों को देख कर कौन सा चूतिया नौजवान होगा, जो ये सब करने पर मजबूर न हो जाएगा. थोड़ी देर बाद चाचा भी खाना खाने आ गए तो थोड़ी देर बातें करके घर आ गया.

पार्क से वापस आते हुए मैंने सोचा कि क्यों न संदीप और चारू से ही मिल लिया जाये!इसी विचार के साथ मैंने उनके वहां जाने का सोचा।उनका घर पार्क से थोड़ी ही दूरी पर था, यही सोचकर मैं संदीप के घर की ओर निकल चला.

मैंने अपना लंड उसके मुँह पर, उसकी आंखों में, उसके नाक पर, उसके कानों में, उसकी गर्दन और उसके बालों पर भी रगड़ा और फिर सारा माल उसको पिला दिया. मैंने एक बार मैम की आंखों में झांका, तो मुझे अपने लंड के नीचे एक चुदासी औरत नजर आई जो लंड लेने के लिए मरी जा रही थी. ऐसे ही शादी भी सिमट गई और मैं और रिंकी धीरे धीरे अच्छे दोस्त भी बन गए.

छोटी लड़कियों की सेक्सी इस घबराहट में उसे ये भी पता नहीं था कि वो भी पूरी नंगी है … और राजीव उसे घूर रहा है. ’अंकल जोर जोर से उंगली को मॉम की चूत में घुसा रहे थे और मॉम कामुक सिसकारियां ले रही थीं.

अगले भाग में है कि मैंने अपनी गर्लफ्रेंड के साथसुहागरात कैसे मनायी. अब वो मेरी जींस फाड़कर बाहर आने को हो रहा था। मैंने नीता को और अधिक कसकर पकड़ लिया और उसे और जोर से किस करने लगा।मेरा लन्ड अब नीता की चूत में लगने लगा था। नीता ने मुझे थोड़ा दूर किया और नीचे बैठ कर मेरी जीन्स को खोलकर मेरे अंडरवियर में से लंड को बाहर निकाल कर हाथ से मुठ मारने लगी. मौसी- क्या देखा तूने?मैं- मौसी, सब कुछ जो आप मनीष जी के साथ कर री थी!मौसी- आयुष बेटा, यह बात तू किसी को मत बताना वरना हमारी इज्जत मिट्टी में मिल जाएगी.

बीएफ फिल्म हिंदी में देहाती

गांड चुदवाने का पूरा मजा आ रहा था मुझे।चाचा मुझे गाली देते हुए चोद रहे थे- साले गांडू, भोसड़ी के, तेरी गांड मैं बहुत दिनों से मारना चाहता था. मैंने पूरी ताकत से धक्का मारा और एक ही झटके में मेरा पूरा लंड भाभी की चूत के अन्दर चला गया. निशा भाभी- अच्छा जी, जो कल करना है वो कल देखेंगे, अभी बताओ क्या करना है?मैं- मैं आपके घर आ जाता हूँ और रात भर मज़े करेंगे.

इससे मेरी नींद खुल गयी और मुझे अपने भाई की इस गन्दी हरकत का पता चला तो मुझे बहुत बुरा लगा, मुझे बहुत गुस्सा आया. अंदर घुसते ही उसने दरवाजा बंद किया और मुझे कपड़े उतारने के लिये बोला.

फिर मैंने उसकी दोनों टांगों को कंधों पर रखा और उसकी चूत में लंड को आगे पीछे करने लगा.

मैं हंस पड़ा और भाभी की चूची मसलते हुए कहा- सच में भाभी, आपकी चुत चुदाई के लिए मैं न जाने कब से तड़फ रहा था. आप प्लीज़ मुझे मेल करके भाभी की कहानी के बारे में बताना कि कैसी लगी. लेखक की पिछली कहानी:स्विमिंग पूल में दो कोच से चुदीहाय फ्रेंड्स, मेरा नाम माधुरी है.

अब मम्मी ने कहा- मज़ा आया? अब तुम खुश हो?अंकल ने कहा- मैं तुम्हें एक बार और चोदना चाहता हूँ. दस मिनट बाद बड़ी बुआ झड़ गईं, अब मैंने छोटी बुआ को ऊपर बिठाया और उनकी चूत चूसने लगा. शकील ने हंसते हुए कहा- तुम मेरा लंड कई बार खा चुकी हो, मैं हर बार तुम्हें रंडी की तरह चोदता हूं.

हम लोग रात का खाना 8 बजे तक खा लेते हैं, फिर मेरी पत्नी नींद की दवा खाकर 10 बजे तक सो जाती है.

हिंदी वीडियो बीएफ सेक्सी देहाती: मैं- क्यों … अगर मुँह में नहीं लेना है तो बाल साफ करवाने का क्या फायदा?निशा भाभी- तुम मेरी फुद्दी चूसोगे?मैं- हां तभी तो बोला कि चुत साफ़ करके रखा … सारे बाल साफ़ करके चुत चिकनी कर लेना. मैंने अपने यार के लंड को चूस चूस कर इतना गीला कर दिया था कि उसने मुझे धक्का देकर बेड पर सीधा लिटा दिया और मेरी टांगों को हल्की सी ऊपर उठाकर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया.

उनकी जवानी का नमकीन रस उनकी चूत से निकल पड़ा और मैंने उस रस का पूरा आनंद लिया. मुझे ऐसा लगने लगा था कि यदि मैंने अभी चारू को नहीं रोका तो इसके मुख में ही मैं झड़ जाऊंगा. मैंने उसे कुछ इस तरह से उठाया कि लंड चुत में ही रहा और वो मेरी गोद में आ गई.

कुछ ही देर में भाभी मेरे सर को अपनी चुत के ऊपर दबाने लगी और उन्होंने अपने दोनों टांगें मेरी पीठ के पीछे बांध दीं.

तभी उसने खुद ही कह दिया- अपने कपड़े नहीं उतारोगे क्या?उसके कहते ही मैंने अपनी टीशर्ट और लोअर उतार दी. मैंने मां की जांघों पर तेल टपकाया और जांघों पर मल कर मालिश करने लगा. भाभी ने कहा- तुम्हारी गर्ल फ्रेंड नहीं है, इसीलिए तो तुम्हारी यह हालत है.