देहाती बीएफ एचडी मूवी

छवि स्रोत,भाभी को चोदना

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू हिंदी में वीडियो: देहाती बीएफ एचडी मूवी, मैंने कंडोम की कमी का अहसास दिलाया तो उसने अपने गद्दे के नीचे इशारा किया.

चुदाई साडी

उस समय जो मजा और फीलिंग आ रही थी, उसे शब्दों में ब्यान करना मुश्किल है. रेप पिक्चरमहीने भर के बाद तो हम दोनों इतने ज्यादा खुल गए कि वो मुझे अपने फ़ोन के वाट्सअप पर दोहरे मतलब वाले चुटकुले, मजाकिया अश्लील तस्वीरें व अन्य कई वयस्क सामग्री दिखाने और साझा करने लगी.

मैंने एक चूची हाथ से सहलाते हुए निपल्स दबाना शुरू किया और दूसरे को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. योगा एक्सरसाइजवो मेरी चुचियां चूस रहा था, मैं उसका लौड़ा सहला रही थी, तब मैंने उसे बताया कि मेरी बहन कल आएगी.

मैं उसकी नाभि को अपनी जीभ से चाटता रहा और धीरे धीरे उसके मम्मों पर किस करते हुए उसका टॉप उतार दिया.देहाती बीएफ एचडी मूवी: मुझे उस दिन पता नहीं क्यों सुखबीर ने ढेर सारे संदेश भेजे और मैंने भी खुशी से उत्तर दिए.

यह हरकत चाची ने चुपके से देख ली, पर मेरा ध्यान तो सिर्फ़ बड़े बड़े मम्मों पर टिका हुआ था.मूवी देखने के टाइम उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरे कंधे पे सर रख के बैठ गईं.

राजस्थानी सेक्सी चोदा चोदी - देहाती बीएफ एचडी मूवी

भाभी- तो मेरा एक काम कर दे बस … फिर कुछ नहीं … और फिर उसके मजे और भी दिलवाऊंगी.भाभी- तो मेरा एक काम कर दे बस … फिर कुछ नहीं … और फिर उसके मजे और भी दिलवाऊंगी.

मैं भी उसकी इस मुस्कान को देखकर समझ गया था कि वह मुझसे क्या चाहती है. देहाती बीएफ एचडी मूवी मैं उसको चित लिटा कर उसकी बुर की फांकें खोल कर जीभ से चूत को चाटने लगा.

इस बार वो छत पर जाने वाली सीढ़ियों की ओर भागीं और छत का दरवाजा खोल उस पर चली गईं.

देहाती बीएफ एचडी मूवी?

उसकी मुस्कराहट के तो क्या कहना; यारों कुल मिलाकर एक नपुंसक भी यदि उसके सामने आ जाए, तो वो भी मर्द बन जाए. इंदु जोर जोर से लंड की सवारी कर रही थी, मैं भी नीचे से उसे जोर जोर से धक्के मार रहा था. मेरे दोस्तो, इस कहानी के बारे में आप मुझे जरूर बताना कि आपको यह कहानी पसंद आई या नहीं.

फिर दीदी खाना बनाने लगी और हम लोग टीवी देखने लगे। मैंने देखा वे सब मुझसे छुपाकर कुछ बात कर रहे थे. मैं और मोहित दोनों को बस हर जगह सुमन ही दिखती। आते जाते हम दोनों सिर्फ उसको ही घूरते रहते। उसके मम्मे, उसकी गांड। उसका हँसना, बोलना, बात करना, चलना, चहकना। बस हम दोनों तो उसी को देख देख कर दीवाने हो रखे थे।कहानी जारी रहेगी. फिर उसने मुझे डॉगी पोज में झुका लिया और घुटनों के बल खड़ा होकर मेरी गांड में अपना लंड पेलने लगा.

मैंने पूछा- फिर क्या?तब उसने बताया कि वो मुझे कुतिया की तरह पेशाब करते हुए देखना चाहता है और फिर उसे सूंघना चाहता है. मैंने झट भाई का लंड मुंह में ले लिया क्योंकि मेरी बुर में आग लगी हुई थी तो मुझे कुछ बुरा नहीं लगा, मैं तो बस अपने भाई की बात मान रही थी. तब आशीष ने बोला- हां मैंने तेरी फ्रैंड को खूब चाय पिलाई, खाना खिलाया, स्वागत में कोई कमी नहीं छोड़ी.

भाभी मुझे आप अपनी चूत की छतरछांव में रख लो।इतना कहकर मैं मुँह खोल कर नीचे लेट गया।भाभी ऊकड़ू मेरे मुँह पर चूत टिका कर बैठ गयी और मूतने लगी, साथ ही गाली देते हुए बोलने लगी- ले कर ले अपने मन की मुराद पूरी साले गटर के कीड़े. जिससे प्रीकम की वह बूंद मेरी नाक में किसी दवा की बूंद की तरह चली गयी और साथ ही उनके चॉकलेटी लंड से आती मदहोश कर देने वाली वीर्य की महक मेरी नाक से होते हुए मेरे दिमाग में घुल गयी.

मेरी बीवी बनेगी इसलिए आगे चल के तुझे बहुत बचाना होगा क्योंकि हर कोई तुझे चोदना चाहेगा.

फिर कुछ समये बाद कौशल्या जी ने हमारी मुलाकात एक बड़े बिज़नसमैन से करवाई, जो उनके कंपनी के अच्छे खासे इन्वेस्टर थे मिस्टर रंजन घोष।घोष बाबू- हेलो सर, नाइस मीटिंग यू! और कैसा चल रहा है, घर पे सब ठीक ठाक है ना सर!मैं- बस सब प्रभु की कृपा है घोष बाबू, आप सुनाइये, और कौन कौन आये हैं पार्टी में साथ?घोष बाबू- मेरी पत्नी और मैं … रुकिए उनसे मिलवाता हूँ.

मैंने उसको उसके पैरों के तलवों से किस करना शुरू किया और धीरे धीरे उसकी स्कर्ट को मैं ऊपर करता रहा. मैं उसके चूचों को पूरा ज़ोर लगाकर दबा रहा था जिससे उसके जवान चूचे जल्दी ही तनकर टाइट हो गए थे और उसके मुंह से कामुक आवाज़ें निकलने लगी थीं. रूपा- मालिक आज नाश्ते में क्या खाएंगे?रमेश ने मेरे बोलने से पहले मुस्कुराते हुए कहा- नाश्ता बनाने की कोई जरूरत नहीं है रूपा, क्योंकि मैंने पास के गांव के फेमस नाश्ता मंगवाया हैं, भूरिया कुछ देर में लेकर ही आ रहा होगा.

मैंने उसे को पूछा कि क्या हुआ?पर वो शर्माए और मुझे कुछ बताये ना!मेरे बहुत पूछने पर वो शर्मा कर बोली- मम्मी, वो कुछ करते नहीं हैं. इसके बाद के स्टेज पर नीना अपनी चूचियों की घाटी में लंड को समेटकर अप-डाउन करने लगी, जो प्रशांत के लिए सेक्सी फोरप्ले का अद्भुत नजारा था. मैडम ने भी अपनी टांगें फैला दीं और मेरा सर अपनी चूत पर दबाते हुए अन्दर की तरफ दबा दिया.

साड़ी निकालने के बाद मैंने उसकी ब्लाउज़ के डोरे खोल दिये और उसे निकाल दिया.

लगभग एक घंटे बाद मैंने उसको अपने गले लगाया और उसको गोद में उठा कर फिर से बेडरूम में ले गया. मैंने उसकी चूत पर होंठ रख दिये तो मेरे लंड ने एक जोर का झटका दे दिया. मैंने किस करते हुए ही उसके टॉप के अन्दर हाथ डाल कर उसके मम्मों को सहलाना शुरू किया और झटके से उसका टॉप खोल दिया.

फिर नवीन ने प्लेटें और कटोरी निकाली और खाने को गद्दे के बीच में रख दिया. कुछ देर बाद मुझे अपनी फुद्दी में गीला सा महसूस हुआ और अंदर सनसनी सी महसूस हुई. फिर मैं जल्दी से चाची के पास गया और चाची की गांड मारने के लिए तैयार हो गया.

वो चिल्लाने लगी- बाहर निकालो!मैंने उसकी बात नहीं सुनी और धीरे धीरे पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

बहुत देर तक उसके कमर की मसाज करने के बाद धीरे धीरे ऊपर की ओर बढ़ने लगा. वह बोली- इतना बड़ा?मैंने कहा- क्यूँ, इससे पहले तुमने लंड नहीं देखा क्या?वह बोली- मैंने तुम्हें बताया तो था कि मैं वर्जिन हूँ.

देहाती बीएफ एचडी मूवी अब जब भी, हम दोनों में से किसी का भी जी करता है, तो हम दोनों मिलकर चुदाई कर लेते हैं. देखो, चिकन के साथ दोनों चिकनी भी खिला कर आ रही हूँ, वर्ना आप ही कहने लगतीं कि मेरे पति का तो कोई ख्याल ही नहीं रखता.

देहाती बीएफ एचडी मूवी एक प्लेट में 20 रोटियां रखी थीं और एक दो कटोरियों में सब्जी डाली गई थी. जब वो दोनों नंगे हो गये तो आरती ने मुझसे कहा- देख पुन्नी, इस कमरे में सभी के सभी नंगे होकर ही रहेंगे.

एक दिन मैं अपने सिस्टम पर बैठा अपना वर्क कर रहा था कि तभी हमारी मैनेजर, जिनका नाम मीरा है, उम्र 38 साल है, उन्होंने मुझे अपने ऑफिस में बुलाया.

बंगाली भाभी के बीएफ

उसका सांवला रंग, अच्छी देह और सवा पांच फुट की हाइट, उस पर तने हुए मस्त बोबे, चौड़ी गांड … बड़ी मस्त माल में बदल चुकी थी वो. फिर बोली- जो बात वहां बोल रहे थे, उसे साबित कर सकते हो?मुझे उसके इस बर्ताव से बहुत हैरानी हुई. मैं साइड टेबल से सिगरेट का पैकेट उठा कर सिगरेट पीने ही लगा था कि उसने मुझे फ्लास्क से दूध निकाल कर गिलास को भर कर दिया … जो नीम गरम था.

फिर एक जोर के धक्के के साथ मेरा लगभग 2 इंच लंड चूत में अन्दर फंस गया. मैंने सीमा के होंठों पर अपने होंठों को रख दिया और सीमा के होंठों को चूसते हुए उसको बांहों में पकड़ कर उसकी चूत को पेलने लगा. मैंने उसको और ज्यादा उत्तेजित करने के लिए अपनी लुंगी को थोड़ा सा ऊपर उठा दिया और मैं उसकी नजरों के सामने जाकर खड़ी हो गई.

उन्होंने थोड़ा खाना खाया और कहा- बाकी मैं घर जाकर खाऊंगी अभी आपके जितना ही बनाया है, आप भूखे रह जाओगे तो मुझे दूध पिलाना पड़ेगा.

पहले तो मैंने उसे देख कर कोई रेस्पॉन्स नहीं दिया, लेकिन वो अपनी तिरछी निगाहों से मेरे सुडौल बदन को निहार रहा था. पहले तो मैंने मना कर दिया फिर कहा- ठीक है, मैं रुक जाता हूँ।मैं वहीं सोफे पर बैठकर टीवी देखने लगा. मैंने बोला- भाभी क्या ग़लत किया?भाभी बोलीं- चलो रूम में चलो, कुछ बताती हूं.

चाची मेरा मोटा सा खड़ा लंड देख कर बोलीं- क्या बात है, तेरी चाची ने तो खड़ा कर दिया तेरा. पायल इतरा के बोली- जीजू, अन्दर नहीं बुलाओगे?मैं उसे देखता ही रह गया था … जिसके बारे में सोच रहा था, उसे सामने देख कर ही मैं सब भूल गया था. उनकी जीभ कभी मेरी जीभ से लिपट जाती तो कभी मेरे मुंह में पूरा चक्कर लगाती.

दोस्तो, मैं आपको बता दूँ कि इस तरीके की चुदाई से लड़की जल्दी झड़ जाती है. मैं भी उसको किस करता हुआ उसकी चूत में लंड को अंदर-बाहर होने दे रहा था.

वह बिल्कुल डंडे की तरह खड़ा हुआ और कम से भी कम 7 इंच लम्बा और ढाई इंच मोटा।मैं डर गयी और चाचा से कहने लगी- चाचा जी, प्लीज मुझे छोड़ दे … ये बहुत बड़ा है. मैंने मन ही मन सोचा कि कहीं उसका भाई फ़ोन न करा रहा हो, ये सोच कर मैंने उसको ऐसा फील कराया जैसे उसने नंबर गलत मिलाया हो. हाँ! ले मेरे लंड को अपनी चूत में!मैंने करीब 15 मिनट तक अपनी बड़ी बेगम सारा की चूत चुदाई की और इस बीच में वो दो बार मेरे लंड के ऊपर ही झड़ गई.

उन्होंने बताया कि वह बहुत बिज़ी रहते हैं और चाहते हैं कि यहां पर किसी प्रकार की डिस्टरबेंस न हो.

वो मुझे होंठों से लेकर गालों और गले में चूमते हुए मेरे दोनों मांसल स्तनों को मसलने लगा. मेरा इतना करना ही हुआ था कि उनकी सांसें तेज़ तेज चलने लगीं और उन्होंने मुझे कसके अपनी बांहों में जकड़ लिया. दोस्तो! हेमा भाभी के बात करने के तरीके और उनकी नशीली आंखों से मुझे लग रहा था कि यह लेडी इस प्रोफेसर के मतलब की नहीं है और यह ज़रूर पट जाएगी.

थोड़ी देर बाद मेरा दोस्त उसकी वाली को लेकर झाड़ियों में एक कोने में चला गया. मैं बोली- अंकल, आप का काम हो गया हो तो मैं जाऊं?अंकल मुझे रोकते हुए बोले- अरे नीतू रुको, तुम्हें यह सब अच्छा नहीं लग रहा क्या?अब उनको कैसे बताती कि मेरे पूरे बदन की हर तार झनकार कर रही थी.

बेचैन होकर मैं रोने लगी, तब दीदी ने अजय को रोकने का प्रयास किया पर अजय गुर्राकर आंख दिखाने लगा. मगर मैं कैसे इस तरह की बन गई, इसकी भी एक पूरी कहानी है जो मैं आज सब के सामने बिना कुछ भी छुपाए बताने जा रही हूँ. अब वो एक मिनी नाईटी में थीं जो उनके घुटनों के तीन चार इंच ऊपर तक ही थी और लगभग पूर्णतया पारदर्शी थी.

आंटी की बीएफ वीडियो

फिर मैंने अपनी पैंट को बिल्कुल ही अपनी टांगों से अलग कर दिया और मैं अब सिर्फ अंडरवियर में था.

मेरे सवाल पर उसने कहा- हां पर पहले उत्तेजना अधिक होती थी, जिस वजह आनन्द आता था. उन्होंने मुझे बताया कि उनके पति ऐसा कभी नहीं करते हैं, बस कुछ झटके लगाते हैं और सो जाते हैं. फिर हमारी बातें शुरू हुईं, लेकिन वो अपने बारे में ज्यादा बताती नहीं थी.

अब मेरी बिटिया आरज़ू पूरी नंगी थी और मैं विडियो देख कर अपना लंड पकड़कर बैठा सब देख रहा था. मेरी सेक्स स्टोरी के पहले भागशौहर के लंड के बाद चूत की नई शुरूआत-1में आपने अब तक पढ़ा कि शौहर से सम्बन्ध खत्म होने के बाद मेरे ऑफिस में मेरे साथ काम करने वाले स्टीव से मेरी हसरतों ने कुछ खेलना शुरू कर दिया था. देहाती लड़की की फोटो’‘मतलब तुम उसके साथ सब कुछ …?’‘हाँ मैं उसके साथ सब कुछ करती हूँ, मैं उसकी हूँ.

मेरा मन करता है कि अपने दोनों हाथों से उसकी गांड पकड़ कर उसे उठा लूं और उसकी कमर पे अपने माथे को सटा दूं और ऐसे ही मिनटों तक उसी अपनी बांहों में भर के मजे से चिपका रहूं और उनके यौवन का रसपान करूं. थोड़ा सा अड्जस्ट करते हुए उसने मेरी चूत में फिर से अपना लंड घुसा दिया.

मैंने कहा- तो मुझे कमरे पर बुलाने का प्लान आपका था या संजीव का?वह बोला- संजीव को गांडुओं में इतना इंटरेस्ट नहीं है लेकिन मैंने तो अपने गांव में गई लौंडों की गांड मारी हुई है. कोमल की गांड गड्डा बन गई थी और चूत सूज कर पकौड़ा बन गई थी, उससे चला भी नहीं जा रहा था. उसका गोल चेहरा, लंबी नाक, गुलाबी होंठ, ऐसा लग रहा था मानो कोई पहाड़ी कश्मीरी महिला हो, जिसे देख किसी भी मर्द का मन मचल उठे.

मैंने इसके बाद उससे पूछा कि उस दिन रसोई में तुम्हारी छोटी बहन ने देखा था तो उसने कुछ कहा था. फिर बाद में मामा सीधे मुद्दे पे आ गए कि यार तेरी मामी का प्रॉब्लम खत्म कर दे, वो मेरा दिमाग खा गयी है. मामी की जवानी को किस तरह से लूटा, इस घटना को पूरे विस्तार से लिखने के कारण कहानी का अगला भाग जल्द ही आपकी खुजली को दूर कर देगा.

मगर उसी ने गुंजन के साथ मिलकर मुझे धोखा दे दिया, यह बात मुझसे बर्दाश्त नहीं हुई और मैंने सदमे में आकर ज़हर पीकर अपनी जान देने की कोशिश कर डाली.

नहाने के बाद कॉल की, तो पता चला कि घर में कुछ जरूरी काम आ गया था, जिसके कारण मुझे तुरन्त घर वापसी जाना था. जब मैं 10 बजकर 30 मिनट पर फ्लैट पर आई थी तो तब से ही उसका लिंग तना हुआ था.

चाची बोलीं- ला … मैं देखती हूँ, तेरे कहां दर्द हो रहा है?मैंने भी पैर आगे कर दिया. मैंने दोपहर को सब काम खत्म करके थोड़ी देर आराम किया, फिर मैं दरवाजे को लॉक करके अंकल के क्वार्टर की तरफ गयी. यदि उनको नींद नहीं आएगी, तो मैंने उनके लिए नींद की टैबलेट ला कर रखी है, वो कल उनको दे दूँगी.

मैंने उसके दाने को अपने होंठों से पकड़ कर खींचा तो समझो बिलबिला उठी. इस कहानी पर अपनी राय देने के लिए आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करें या फिर नीचे दी गई मेल आई-डी मेल करें. मैंने भाभी से पूछा- यह हर रोज पहनती हो क्या?तो भाभी ने बताया- नहीं, पता नहीं क्यों आज मैंने सोच रखा था कि आज मैं तुम से चुदवा लूंगी और यह मैंने तुम्हारे लिए ही पहनी है.

देहाती बीएफ एचडी मूवी मैं बोली- हां आशीष, जो तुम्हारा मन करे, जिससे तुम्हें खुशी मिले, सब करो. एक दिन तो अजीब ही हो गया, दीपक ने मुझे अपनी बड़ी भाभी के बारे में बताना शुरू किया.

बीएफ सेक्सी पिक्चर देखना

मैंने आंख मारते हुए कहा- नेकी और पूछ पूछ … आप सिर्फ उसे दोपहर को तैयार रहने को बोलना बस, इधर दोपहर में मामी जी को सुला कर मैं उसके पास आता हूँ. अब मुझे समझ में आया कि सीमा की यह पहली चुदाई थी इसलिए मुझे इतनी जोर से लंड नहीं डालना चाहिए था. साथ ही साथ वह मुझे भी देख रही थी कि मैं उसकी हरकतें कितनी ध्यान से देख रहा हूँ.

ये देख कर मैं चिल्लाया- साली रांड में कब से तेरी चूत के लिए तरस रहा था. मैंने कहा- ठीक है, मैं ज्यादा फोर्स नहीं करूंगा, मगर तुम अंदर नहीं करवा सकती तो ऊपर से ही दिखा दो. छोड़ा छोड़ि दिखाओमैं थोड़ा सा घबरा गया लेकिन मैंने भी ठरकी बनते हुए धीरे से उनके मम्मों पर हाथ रख दिया.

अगर तुम मुझे पहले मिल गए होते तो मुझे अब तक प्यासी नहीं रहना पड़ता। आह्ह्ह … आइ लव यू …उसने कहा- मेरा पानी निकलने वाला है रूतुल … आहाह …ऐसा कहते हुए उसकी चूत से पानी निकलने लगा.

कुछ देर बाद मैंने चुदाई की गति बढ़ा दी और वो भी एक छिपकली की तरह मुझसे चिपक गयी. उसकी शेव्ड गुलाबी चूत देखकर मेरे मुँह में पानी आ गया और मैंने उसकी चूत मैं अपने जीभ लगा दी.

घर आते हुए रास्ते में बारिश होने लगी और हम भीग गए तो मैंने मामी को कॉल करके कोमल को मेरे ही घर रुकने के लिए कह दिया. मैंने एक जांघ पर अपनी बेटी को बिठाया औऱ दूसरी जांघ पर उसे बैठा लिया. कहीं बाहर घूमने से तो अच्छा है हम दोनों रूम पर ही कुछ वक्त बिता लेंगे.

गुस्से के कारण उसने मुझे अपने से दूर कर दिया उसकी चूत मेरे वीर्य से लबालब भर गयी थी,मैंने उसे दोबारा चोदने को बोला तो उसने गुस्से के कारण मना कर दिया.

उसने अपनी टांगें एकदम से फैला दी थीं और वो अपनी गांड उठा कर मेरे मुँह पर चूत को मारे जा रही थी. मैं तो बहुत थक गई हूं।अनन्त जीजू हँसते हुऐ बोले- नहीं जी, तुमने पूरी रात चुदवाने का वादा किया था, अभी तो रात बहुत बाकी है।फिर अनन्त जीजू और विनय जीजू दोनों दीदी से लिपट गये. इसके बाद वंश ने सिगरेट मेरी तरफ बढ़ाई तो मैंने दो तीन कश खींचे और धुंआ वंश के सीने में फूंक दिया.

नंगी ब्लूयहाँ मैं बता दूँ कि जैसा कि आपने मेरी पूर्व की कहानी में पढ़ा ही होगा कि मैं और सन्जू अक्सर इमेजिन करके चुदाई करते हैं।मैं बोला- ठीक है, किसको इमेजिन करोगी?वो बोली- जो आप कहो?मैं जानता था कि उसके मन में कुछ है इसीलिए उसने पहल की है।मैं बोला- नहीं, तुम कहो, मैं तो हमेशा कहता हूँ. इतनी ही देर में विमला दूध लेकर फिर से कमरे में आ गई और मुझे हल्के से डांटने लगी.

एचडी बीएफ सेक्सी वीडियो दिखाइए

मगर गुंजन की बेवफाई के बाद रीना की चुदाई करने से मेरा दिल हल्का हो गया. उसके कपड़े हमेशा ही स्टाइलिश होते हैं और उसके कपड़ों में से उसके चूचों का उभार अलग से ही दिखाई देता रहता है. वो हल्के से सिहर गई लेकिन अगले ही पल वो भी मेरी इस मस्ती में मेरा साथ देने लगी.

सलोनी- आआह … ऊई ई ई … माँ …उसने गर्दन घुमा कर मेरी तरफ देखा, मगर हवस, वासना का आवेश ऐसा था कि मैं उसमें आनंद पा रहा था. उसने इस वक्त ब्लैक जींस और रेड टॉप पहना था … जिसमें वो कयामत लग रही थी. फिर उनमें से एक लड़का पास आया और उसकी टी-शर्ट को पकड़ कर निकाल दिया.

उसने कहा- मैं भी यही चाहती हूँ कि हम दोनों एक साथ उससे मज़ा लें और एक दूसरे के राज़दार बने रहें. उधर मैं और सोनम बैठे ऐसे ही बातें कर रही थीं कि वहां अन्दर से आशीष निकल आया. मुझे अपनी गलती का एहसास था, उस वजह से मैं चुपचाप उनकी जली कटी बातें सुन लेती थी.

अब मैंने उसकी जीन्स घुटनों तक उतार कर उसकी चूत के होंठों पर अपने लबों को रख दिया. उसके फ्लैट की सुविधा के एवज में मणि कोमल को संजय के लंड के लिये तैयार कर रहा था.

जैसा आपने मेरी कहानी के तीसरे भागइश्क विश्क प्यार व्यार और लम्बा इन्तजार-3में पढ़ा था कि मोनिका की शादी हो गई थी.

लेकिन उसे भी ये गुमान नहीं था कि इस मस्ती में इतने बड़े बड़े लंड उसकी चूत और गांड का सत्यानाश करेंगे. ओपन सेक्स फुल एचडीमैंने अपनी एक टांग उठाई और उसकी मोटी जांघों से बीच में उसके लंड वाले एरिया पर रख दी जिससे मेरा घुटना उसके लंड से टच होने लगा. घड़ी कैसे बनती हैफिर जब वह मेरे ऊपर से उठी तो मैंने उसको अपनी गोद में उठाया और उसके बेडरूम में ले जाकर उसके बेड पर पटक दिया. 5-7 धक्कों में वो झड़ने लगी और मेरी पीठ पर नाख़ून गड़ा दिए और वो झड़ गयी.

सारा के मुँह से हल्की सी चीख निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहह अब लंड डाल दो … अब और इंतज़ार नहीं होता … प्लीज जल्दी करो ना … प्लीज आहहह …अब मैं टोपी से लगातार उसकी चूत को छेड़ रहा था और वो ज़ोर से सिसकारियाँ भर रही थी- आमिर ये तूने क्या कर दिया? अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है, जल्दी से चोद दो, मेरी चूत में आग लग रही है.

पहले मैंने सोचा कि उसे भी सलाह दे दूँ कि किसी दूसरे मर्द से ये सुख प्राप्त करने का प्रयास कर ले. साथ ही साथ वह मुझे भी देख रही थी कि मैं उसकी हरकतें कितनी ध्यान से देख रहा हूँ. जैसे ही मैं अपनी जीभ भाभी की चूत पर लगाकर चाटने लगा तो 2 से 3 मिनट में ही भाभी की चूत से अमृत रूपी रस की धार चलने लगी.

इसी तरह मामी की चुदाई करते हुए कैसे तीन महीने निकल गए, पता भी नहीं चला. महीने भर के बाद तो हम दोनों इतने ज्यादा खुल गए कि वो मुझे अपने फ़ोन के वाट्सअप पर दोहरे मतलब वाले चुटकुले, मजाकिया अश्लील तस्वीरें व अन्य कई वयस्क सामग्री दिखाने और साझा करने लगी. इस सेक्स स्टोरी के दूसरे भागदीदी को चोद कर बीवी बनाया-2में अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी प्रमिला दीदी मुझे ज्यादा चुदाई नहीं करने देती थी.

कॉलेज सेक्स बीएफ

यह सब करते करते मैडम धीरे धीरे सरक सरक कर कुछ ही दूर रखे दीवान तक जा पहुंची थीं. फिर मैंने उसको सोफे पर बैठा दिया और उसकी दोनों टांगें फैला कर उसकी चूत को चाटने लगा अपनी जीभ से. मैं आशीष से यह सफेद झूठ बोली क्योंकि जब आशीष और मैं उसकी मामी के घर में पकड़े गए थे.

आशीष फिर जोर से पकड़ के मेरे मम्मों को दबाकर बोला- तुम बहुत अच्छी हो, यह तेरे दूध और बड़े कर दूंगा, मैं तुमसे मिलने आता रहूंगा और अब तुम्हें कभी नहीं छोडूंगा.

छोटी सी और मुलायम … हल्के हल्के बाल!मेरा दिमाग जैसा पगला सा गया, मेरा दिल जोरों से धड़क रहा था.

इंदु भी नीचे से कमर हिला हिला कर लंड को अंदर लेती और उम्म्ह… अहह… हय… याह… सीइईई करती चुद रही थी. मैं दिखने में स्मार्ट और क्यूट सा बन्दा हूँ, लेकिन मेरा औजार 7 इंच लम्बा और मोटा है. नंगा बीपीमैं झट से पैर घुटनों के बल करके और हाथों को बिस्तर में टिका कर कुतिया की तरह बन गई.

अब मेरा भी लंड जवाब देने वाला था, मैंने भी जोर जोर से धक्के जारी रखे और आहह हहह उहहह हहह करते इंदु और मैं दोनों एक साथ ही झर गये. मैंने किस करते हुए उनको जोर से दबाया तो उसकी आंखें खुलीं और वो भी मुझको बेसब्र बन कर किस करने लगी. हरक लाल की बीवी सूरती की बहन का बेटा यानि सूरती का भांजा चिन्टू अकसर गाजीपुरा में अपनी मौसी के घर आता-जाता रहता था.

एक दो बार मेरा हाथ मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड के चूतड़ों पर भी टच हो गया. दस मिनट की लंड चुसायी के बाद उसने फिर से किस करना शुरू कर दिया और मेरा होंठ काट लिया.

मैं- अरे मामी जी आप इतने जल्दी क्यों उठ गईं, थोड़ी देर ओर आराम कर थोड़ी लेतीं.

खैर 4-5 दिन बाद एक कर्मचारी ने मुझे बिना बात के डांट दिया, मैं ठहरा देसी गांव वाला, मैंने भी उसे बोल दिया कि साले तेरी ऐसी गांड बजाऊंगा कि सात पीढ़ी गड़वी पैदा होगी. ऊपर से जब वह गांड मटका कर चलती है तो अच्छे-अच्छों के मन को डगमगा देती है. तेज झटको के साथ मैंने इंदु भाभी में मुख में अपना गर्म गर्म वीर्य उम्म्ह… अहह… हय… याह… करते हुए छोड़ दिया.

ब्लू सेक्स देखना है मैं निकाल कर आ जाती हूँ अभी” मैंने कसमसा कर कहा।निकालो, जो कुछ है एक मिनट में निकाल दो यहीं!” सर ने कहा।मैं एक पल के लिए हिचकिचाई और फिर कुछ सोच कर तिरछी हुई और ऊपर से अपनी स्कर्ट में हाथ डाल लिया. खैर अन्दर जाके कुछ खरीदने बाद जब हम निरोध (कंडोम) के सेक्शन के सामने से निकले, तब उसने मेरी कमर से मुझे पास खींचा और कान में फुसफुसाया ‘यू चूज़ …’ उसके हाथ से मेरे शरीर में एक करेंट सा दौड़ गया, योनि में गुदगुदी सी उठी कि आज उससे एक मर्द मिलने वाला है.

फिर अपने एक हाथ से अपने लंड को पकड़ लिया और दूसरे हाथ से उसके पैर को पकड़ कर मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुंह पर रख दिया और मैं रीना के ऊपर लेटता चला गया. मैं भी समझ गया कि एक बार फिर वो चरम की ओर है,मैं भी अपने जोर पर था. इस तरह सेक्स लाइफ में मेरी शुरुआत गे सेक्स से हुई और करीब डेढ़ से दो साल तक मेरे सिर्फ गे रिलेशन ही रहे.

हिंदी वीडियो हिंदी बीएफ वीडियो

मेरी चुत को और गीला कर रहे थे, मेरी उंगलियों को अपनी ओर खींच रहे थे. मैंने अपने हाथ पीछे ले जाकर उसके दोनों चूतड़ों अपने दोनों हाथों में पकड़ लिए, जो मेरे हाथों में समा चुके थे. अपने बगल की आंटी के साथ तो मामी ने एक बार मुझे लेकर थ्री-सम भी करने को कहा था.

वो अपने साथ एक क्रीम की शीशी लिए हुए था, उसने उसमें से बहुत सी क्रीम निकाल कर मेरी बुर के अंदर अपनी उंगली डाल कर अच्छी तरह से लगा दी. मैंने बोला- भाभी क्या ग़लत किया?भाभी बोलीं- चलो रूम में चलो, कुछ बताती हूं.

थोड़ी देर के बाद उसने अपनी चूत में मेरे सिर को दबा लिया और मेरी नाक भी उसकी चूत में जा घुसी.

मैंने कहा- प्लीज़ हनी आज ये रहने दो, बहुत दिन बाद किया है नहीं झेल पाऊंगी. मैंने रुपये लेने से मना किया, पर वो मानी नहीं और अगली बार मिलने का भी प्रॉमिस किया. उसने मुझसे पूछा- क्या लोगे ठंडा या गर्म?मैंने कुछ भी लेने से मना कर दिया.

मैंने उनके सर के बालों को जोर से पकड़ लिया और अपने आप ही उनका सर और दबाने लगी. मुझे सेक्स के बारे में ज्यादा कुछ नहीं पता था लेकिन अनन्त और विनय जिस तरह से कुसुम दीदी को अपने नीचे लेटा कर उसके बदन को भोग रहे थे. इंदु भी नीचे से कमर हिला हिला कर लंड को अंदर लेती और उम्म्ह… अहह… हय… याह… सीइईई करती चुद रही थी.

मैं- मैडम 10:00 बजे तो मैं नहीं आ सकता, रात के समय पीजी वाले आने नहीं देंगे.

देहाती बीएफ एचडी मूवी: आखिर एक बार जब ननकू गाँव आया तो उसके एक पड़ोसी ने उसे बताया- ननकू, मेरी बात का बुरा मत मनाना लेकिन यह सच है कि तेरी भाभी का भानजा चिन्टू तेरी गैर-मौजूदगी में तेरे घर अक्सर आने लगा है. उसकी मम्मी को भी उसकी मामी और वह उसकी जेठानी ने सब बता दिया था, तो आशीष को भी बहुत डांट पड़ी थी.

उसके बाद मैं चूत उठाते हुए बोली- आशीष तुम बहुत हरामी हो … साले मेरे को यह क्या कर दिया. हम लोगों ने रात का खाना खाया और फिर सब लोग आराम से बेड पर जाकर बातें करने लगे. मेरी इस सेक्स कहानी के दूसरे भाग में आप लोगों ने पढ़ा था कि मैंने कैसे अपने सगे बेटे को पटाया, उसके साथ शिमला गई और अय्याशी की.

मैंने अपने घुटनों को भाई के दायें बायें करके अपनी चूत में उसके लंड को पकड़कर रगड़ती रही.

उसके मुँह पर थप्पड़ से लाल हो गए थे, लेकिन उसने उस बात का बुरा नहीं माना और मेरे लंड को चूस चूस कर फुला दिया. रमेश- ह्म्म्म … ये तो मुझसे बेहतर कौन जानता है मालिक हा हा हा लेकिन आप छोटी बहू की भी चाल बदल देंगे, यह तो मैंने भी नहीं सोचा था. थोड़ी देर उंगली अन्दर बाहर करने के बाद फिर चुत के दाने को छेड़ती रहती.