बीएफ शादी वाली

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर हिंदी मराठी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी एक्स वीडियो कॉम: बीएफ शादी वाली, अब मैंने उसके मम्मों को ब्लाउज़ के ऊपर से ही दबाया … तो वो ‘हम्म्म्म हहहहह.

सेक्सी हीरोइन वाली

गहरी नाभि, रंग एकदम दूधिया तन बुर्के में ढके रहने के कारण।अब अगर जींस टी-शर्ट पहना दी जाए तो उसके चूचे और कूल्हे पच्चीस से ज़्यादा नहीं लगते।मेरी नज़र से झेंपकर आएशा मेरे बांहों में झूल गई। उसका गुदाज़ और गर्म जिस्म मेरे तन बदन में आग लगा रहा था।धीरे धीरे मैंने उसकी रसीले होंठों और नर्म चूचियों को चूसना शुरू कर दिया. सिर्फ तुम फिल्म फुल मूवीयह सुनते ही एक बुजुर्ग लेडी बोली- यह झूठ बोल रहा है, इसने अपनी पैंट खोली हुई थी और यह लड़की इसके साथ ग़लत हरकत कर रही थी.

गाड़ी अपनी स्पीड में दौड़ती जा रही थी और इस बीच कई गांव और कस्बे पीछे निकलते जा रहे थे. जानवर सेक्सी वीडियो फिल्ममैंने नेहा को कहा- क्यों तेरी गांड नहीं फटी क्या?मेरी बात का जवाब देती हुई गीत ने नेहा को सुना कर कहा- इसकी कहाँ फटी है, इसके अंदर तो दो दो लौड़े भी एक साथ चले जाएँ तो भी न फटे.

बस आते जाते उनके हिलते हुए चुचे और थिरकती गांड देख कर लंड सहला लिया करता था.बीएफ शादी वाली: उसके बाद वो किस करते हुए अपनी जीभ से मेरे पेट और नाभि पर चूमने लगे.

मैंने कहा- मादरचोद, अब चोदेगा भी कि दूध ही चूसता रहेगा!मेरा इतना बोलते ही मेरा पालतू कुत्ता मेरी चुदाई करने लगा.मैंने उसका जोश बढ़ाने के लिए कहा- चाचा औ भोसड़ी वाले चाचा … जरा आराम से करो! वरना 2 मिनट में निकल लोगे.

गोल्डन नवरत्न - बीएफ शादी वाली

कभी मैं उनके ऊपर और नीचे के होंठ को चूसती, तो कभी वो मेरे ऊपर नीचे के होंठों को बारी बारी चूस रहे थे.देखते ही देखते भाभी ने अपने हाथ में लिया एक छोटा सा पैकेट फाड़ा और उसमें से निरोध निकाल कर उस खीरे पर चढ़ा कर उसके ऊपर रब्बर की ही गांठ मार दी और उसे हाथ से मसलते हुए बोली- देख रानी, ऐसा ही होता है लण्ड.

उन्होंने अपनी साड़ी और पेटीकोट को अपनी कमर तक उठाया और चौड़ी टांगें करके फर्श पर खड़ी हो गई. बीएफ शादी वाली थोड़ी देर में मामी को थोड़ा आराम मिला तो मामी बोलीं- राहुल बहुत दर्द हो रहा है … प्लीज़ छोड़ दे मुझे … मेरी गांड को छोड़ दे.

कुछ देर बाद वो बोलीं- बस कर, अभी इतने में ही मैं झड़ गयी … तो बाद में क्या करूंगी.

बीएफ शादी वाली?

हमने खाना खाया और मेरे घर की तरफ चल दिए।उसने मुझे रात के लिए भी बोला लेकिन मैं नहीं चाहती थी रात को होटल में रूकूं।उसने मुझे मेरे घर से 100 मीटर दूर छोड़ दिया और वो अपने होटल की तरफ चल दिया।ना ही मैंने और ना ही मयंक ने एक दूसरे का कॉन्टेक्ट नंबर लिया ना ही कोई जान पहचान की।ना ही हम कभी दोबारा मिले।धन्यवादआपको मेरी ये Hot Sence of Sex स्टोरी कैसी लगी मुझे[emailprotected]पर मेल कर के जरूर बताना।. मैंने भी देर न की और उसकी चूत के रस से अपना लौड़ा गीला करके उसके चूत पर टिका दिया. उसने कहा- आप क्या लेंगे जूस या कॉफी!मैंने उसको थैंक्स कहते हुए बोला- बस मुझे कुछ नहीं चाहिए.

मैंने उसे एक दिन पूरा यही समझाया कि हम दोनों नाम का रिश्ता था, वो मेरी गर्लफ्रेंड सिर्फ नाम भर के लिए थी. मेरे लेडीज़ गार्मेंट के शॉप पर एक सेक्सी भाभी ब्रा-पैंटी खरीदने आई. मैंने पूछा कि रुक क्यों गए भोसड़ी के … और ऐसे क्या देख रहे हो मादरचोद!मेरा पालतू कुत्ता बोला- मालकिन अभी तक मैंने आपकी इन कसी हुई टाइट चूची का रस नहीं पिया है, अगर आप बुरा न मानो तो इनको चूस लूँ.

अब वो अपनी कमर मेरी जीभ के साथ चलाने लगी और अपने मुँह से ‘उह्ह आह …’ की आवाजें भी कर रही थी. अपने लंड को चिकना करने के बाद रॉनी में मेरी गांड पर भी तेल की शीशी उलट दी और उंगली से मेरी गांड के अन्दर तक तेल मल दिया. 00 बजे के बाद मेन स्विच कभी भी दो बार ऑफ कर दोगे तो मैं तुम्हारे अंकल को नीचे बंद करके तुम्हारे पास आ जाऊँगी.

हमें समझ में ही नहीं आ रहा था कि कैसे दोनों के मुँह में थूक और लार कम नहीं हो रहे थे. मैंने उसे अपनी कसम देते हुए कहा- प्लीज़ देखो, यहां न तो माँ बाबू जी का डर है.

अब संजय जैसे ही लेटा तो मैंने नेहा को संजय की टांगों की तरफ़ मुंह करके संजय के लंड के ऊपर अपनी गांड रख कर बैठने को बोल दिया और नेहा ने भी बिलकुल वैसे ही किया.

तो चलिए शुरू करते हैं जीजा साली का प्यार कहानी को।नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम नीलम है मेरी लम्बाई लगभग पाँच फुट है और मेरे बदन का साइज़ 32-30-32 है.

ये देख कर मामी खुश हो गईं और बोलीं- राहुल सच में तुम मेरा कितना ख्याल रखते ही … आई लव यू. वो मुझसे पूछने लगी- आप कहां चले गए थे?मैंने उसे लेटे लेटे ही पास आने को बोला, क्योंकि हम दोनों के मुँह पर मास्क लगा होने के कारण बोलने के लिए जोर से बोलना पड़ रहा था. पतली कमर की चिकनाई और और कसी हुई टांगें मेरी कामवासना को उद्वेलित कर रही थीं.

ये कहावत कैसे बनी, आइए मेरे साथ इस कुंवारी Xxx चुत कहानी में जानते हैं. उसने लंड को थूक से गीला किया और बैठ गई लंड सट्ट से अंदर चला गया। अब वो उछल उछल कर अपनी चूत से मेरे लौड़े को चोदने लगी।अब हम दोनों ही सिसकारियां निकलने लगी. चूसने चाटने की आवाजें होने लगीं- ऊम्म … हम्म … ऊउहह … याल्ला … चाटो अंकल, आह्ह मजा आ रहा है.

मेरे घर पर नौकर भी काम करते हैं … इसलिए अम्मी और दोनों चाचियां अपने अपने सवेरे के काम निपटा कर हमेशा बन संवर कर तैयार ही रहती हैं.

तो मैं भी उसके कपड़े उतारने लगा कुछ ही पलों में हम दोनों ने एक दूसरे को नंगा कर लिया!अब वो मुझे किस करने लगी और किस करते-करते हम दोनों बिस्तर पर गिर गये!मैंने उसकी चूचियां चूसनी शुरू कीं तो ज़ारा तड़प उठी और नीचे हाथ ले जा कर मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाने लगी. तू इसको किसी और को दे देना, किसी और की चूत मरवा देना, तेरा काफी सारा पैसा तो ऐसे ही वसूल हो जायेगा. उसका पति मिन्नतें करने लगा, मगर अनीता गुस्से के मारे बकती ही जा रही थी.

इतने में चाची बोलीं- तुमने मुझे देख लिया था न?मैंने पूछा- हां, वो लड़का कौन था?उन्होंने बिंदास कहा- वो मेरा ब्वॉयफ्रेंड है. भाभी बोली- अरे तुमने कल क्यों नहीं बताया? और फिर सुबह तुम नेहा के रूम में चले जाते, यह तो जल्दी उठ जाती है, आज ऐसे करना, मैं अपना रूम अंदर से लॉक नहीं करूंगी, तुम जब चाहो मेरा बाथरूम यूज़ कर लेना, अब तुम इस घर के सदस्य हो, तुम में और इन बच्चों में क्या अंतर है. मैंने हाय कहा, तो उसने हाथ बढ़ा दिया और उसके नाजुक हाथों के स्पर्श ने मेरे हृदय के तारों को झंकृत कर दिया.

तभी सामने मेरी कामवाली लड़की शमा न जाने कैसे आ गई थी और हम सबको सेक्स के खेल में लिप्त देख रही थी.

बस वो दोनों किस करते और गले लग कर एक दूसरे से प्यार का इजहार कर लेते थे. चाचियों के हाथ मेरे सीने पर और पेन्ट के उभरे हुए हिस्से पर चल रहे थे.

बीएफ शादी वाली भाभी चादर को देखकर मुस्करा कर बोली- कितना डिस्चार्ज करते हो!कुछ देर बाद भाभी एक बड़ा गिलास गर्म दूध और काफी सारे ड्राई फ्रूट लेकर आई और बोली- लो मेरे शेर, ये पी लो और बादाम खाओ. उन्होंने आखिरी दो तीन झटके में अपना सारा पानी मेरी गांड में निकाल दिया; जिसे मैंने महसूस किया.

बीएफ शादी वाली खैर … मैं तो फिर और कभी तुमसे मिल लूंगी … क्योंकि मुझे हड़बड़ी का काम पसंद नहीं. मैंने तत्काल फोन बेड पर रख दिया ताकि वो अपना फोन नंबर टाइप कर दे … तो मैं उससे आसानी से बात कर सकूं.

रात को जब उसने लंड चुसाई की थी, तब उसे मालूम था कि अंडकोष पर जब तक चुसाई नहीं होगी, तब तक लंड का स्खलित होना मुश्किल है.

बीएफ सेक्स चुदाई एचडी

अगले 15 दिन, जब तक मेरे सास ससुर और पति की रिपोर्ट नेगेटिव नहीं आ गई, तब तक मैं मायके में ही रही. सबसे पहले रिजवान ही आया और उसने मेरी टांगों के बीच में एक झटके में अंदर डाल दिया. जांघों की मसाज करते करते मैं दादी की चूत की मसाज करने लगा, दादी को भी शायद अच्छा लग रहा था.

आँटी मुझसे कहने लगी- अच्छा देखूं तो मेरी पशुशाला के भैंसा का हथियार कैसा है?और यह कहते हुए उन्होंने मेरे पैंट में तने हुए लंड पर हाथ फिरा दिया. मैंने गेटमैन से हाय हैलो की और उससे निवेदन किया कि अगर वो मुझे किसी एटीएम तक ले जाकर वापिस यहां ले आएगा, तो मैं उसे दो हजार रूपये दूंगा. तो मैंने चुदाई की स्पीड और तेज़ कर दी और वो सिसकारियां भरते हुए झड़ने लगी.

कविता भाभी मुस्कुरा कर बोलीं- अब मेरे से क्या शर्म, ऐसे ही अच्छे लग रहे हो.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज की कई कहानियां तो बहुत कामुक होती हैं और मैं कई बार तो एक ही कहानी को पढ़कर तीन चार बार मुठ मार लेता हूं. फिर दो-तीन घंटे के बाद जब सारा स्टाफ बिजी हो गया तो मैंने उसको एक तरफ बुलाया और पूछा- नाराज हो क्या? लंच क्यों नहीं किया आज मेरे साथ?वो बोली- मुझे तुमसे बात ही नहीं करनी. उसकी चूचियों को नंगी करके वो उसके बूब्स को मुंह में लेकर चूसने लगा.

भाभी देसी सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी जवान पड़ोसन ने मुझसे दोस्ती करके सेक्स के लिए उकसाया. थोड़ी देर में भाभी मेरी बांहों में सो गईं तो मैंने उसे उठाकर उनके बिस्तर पर लेटा दिया और खुद सोफे पर लेटकर मोबाइल में एक पॉर्न मूवी देखने लगा. हम बातें कर थे कि तब तक मैकेनिक ने उसे ठीक कर दिया और फिर से घर के लिए चल‌ पड़े.

वहां क्या हुआ?नमस्कार दोस्तो, आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद, आपने मेरी सेक्स कहानीपार्क में मिली लंड की प्यासी आंटीपसंद की और बहुत से लोगों ने अपना रिव्यू दिए … मुझे मेल किए. वैसे दोस्तो सच कहूँ, तो मुस्कान, पूजा से भी ज़्यादा सुंदर थी, लेकिन हमारे बीच कुछ खास प्यार नहीं था.

वो कंपकपाती आवाज से बोली- जीजा अभी कुछ न बोलो … पहले मैं एक बार अपनी चूत की प्यास बुझा लूं, फिर बात करूंगी. फिर जब आगे से थोड़ी गर्मी मिली और उसे थोड़ी राहत महसूस हुई तो उसने फिर वही प्रक्रिया दोहराई।थोड़ी देर में उसका छेद शिवम के हिसाब से भी एडजस्ट हो गया, भले दर्द बना रहा हो पर वह अंदर बाहर होने लगा।अब झुको. मेरे लंड से इतना पानी रिस रहा था कि उसने दीदी की चूत को भी चिकनी कर दिया था.

वह कहने लगा- आप ऐसा करें, आप इन लड़का लड़की के साथ पार्क के बाहर तक आ जाओ, इन्हें इनके घर भेज देंगे और हम अपनी ड्यूटी पर चले जायेंगे.

हम होंठों के दरवाजे को धक्का देकर थोड़े अन्दर गए और एक दूसरे की जीभ के साथ खेलने लगे. ये भी बेचारा क्या करे!भाभी बोलीं- इसकी तड़प का इलाज तुम खुद करो, मेरे पास इसका इलाज नहीं है. थोड़ी ही देर में मेरा लण्ड कड़क हो गया तो दादी ने मेरा लोअर नीचे खिसकाया और मेरा लण्ड चूसने लगी.

मैंने सलोनी भाभी से विनती की- भाभी, आप मुझे अपनी चुत चूसने दो, आपको मजा आएगा. मौसी बोलीं- तू कह कर जल्दी से चला ही गया, अगर कुछ देर रुक जाता तो कल ही चुदवा लेती.

एक बार की बात है, मुझे एक फोन आया कि उनको एक कार और ड्राईवर की आवश्यकता है. अनु बोले- ठीक है … अब देखो अपनी हीनू को कैसा मस्त हेयर कट देता हूँ. मैं उनके इस तरह के रूखे जवाब से मैं और भी डर गया कि यार भाभी मुझे एक घंटे पहले क्यों बुला रही हैं.

इंग्लिश बीएफ पिक्चरें

वो बोले- वो उस्तरा होता है, रिस्की रहेगा … तुम मेरा रॉकेट कट कर दोगी.

यदि आप लोगों को मेरी पूरी दास्तान जाननी है, तो आप लोगों मेरी पिछली सेक्स कहानीबिजनेस बचाने के लिए अफ्रीकन लंड से चुद गयीको जरूर पढ़ें. ”ओह … पर मम्मी यहाँ क्यों आ रही है? मैंने तो कुछ नहीं किया है?”अरे ऐसा कुछ नहीं है … उसे कुछ पैसों की जरूरत है तो लेने आ रही है. मैंने कहा- मैडम जी, मेरा क्या होगा?वो हाँफते हुए बोली- रुको एक मिनट, सांस लेने दो मुझे.

वाह क्या नजारा था!साली जी की गुलाबी चिकनी जांघें और उसके बीच हल्की हल्की काली झांटों वाली चूत का उभरा हुआ त्रिभुज बड़ा प्यारा लग रहा था. भाभी बोली- राज, एक बार मुझे नीचे गिरा कर रगड़ कर चोद दो ताकि कुछ चैन पड़े, बाकी काम फिर रस लेकर सारी रात करते रहेंगे. चुत चुदाई कहानीफिर आंटी ने मेरे साथ क्या किया?अब आगे की नंगी आंटी सेक्स स्टोरी:भाभी- अभी इतना मजा आया तो फिर जब लंड अंदर जाएगा तो क्या होगा?मैं- तो क्या आदमी के साथ करने में और भी ज्यादा मजा आता है?भाभी बोली- पागल अगर आदमी ठीक ढंग का हो और उसका लंड भी ठीक साइज का हो, तो मजे का तो कोई अंत ही नहीं है.

मेरी कुंवारी चूत को फाड़ता हुआ भाईजान का लंड अंदर घुसने लगा और दर्द के मारे मेरी जान निकलने लगी. मैं एक भूखे हब्शी की तरह उनके दोनों चूचों को बारी बारी से चूस रहा था.

इसलिए मैंने सोचा कि क्यों न अपनी आपबीती भी आप लोगों के साथ बाँटूं?मैं पहली बार कोई कहानी लिखने जा रहा हूं. फिर उसने मेरी कमीज़ और ब्रा को भी मेरे गले तक ऊपर उठा दिया और मेरे बूब्स को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. दीपिका के चूचों, चूत के डिज़ाइन और उसके हुस्न को देखते ही मेरे लौड़े में कसाव आना शुरू हो गया, जिसे दीपिका देखने लगी थी.

उन्होंने मेरी नजरों को पढ़ते हुए मुस्कुराते हुए कहा- मैंने खाना लगा दिया है, चलो साथ में खा लेते हैं. अब मैं अपने लंड को हाथ में लेकर सहलाने और मुट्ठ मारने के लिए मजबूर हो गया था कि जो कि मैं कभी नहीं किया करता था. अब आगे इस तरह की चुदाई किस तरह कर पाऊंगी, ये सोच कर ही मुझे रोना आ गया.

मैंने उससे कारण पूछा, तो उसने उत्तर दिया कि अभी कुछ खेल और बाकी है.

थॉमस का खड़ा लंड मेरी गांड की दरार में मुझे गड़ता सा महसूस हो रहा था. अपने दोनों हाथों से मैं अपने स्तनों को छुपाने की कोशिश कर रही थी।तभी डाक्टर ने मुझे बुलाया और मेरे दोनों स्तनों को हल्के से दबाते हुए चेकअप करने लगा.

मामी की गांड खुल बंद होने लगी और वो गांड में उंगली से मस्त होने लगीं. यह कह कर मैंने प्रवीण को नीचे लिटाया और उसके खड़े लंड पर जाकर बैठ गई. आदमी ने पूछा- आपके पास किराये के लिए फ्लैट खाली है?मैं- जी हाँ, है.

शायद ये शायरा के पति ने भेजा था … क्योंकि उस पर एक तरफ तो यहां का पता था, मगर दूसरी तरफ सऊदी का कोई पता लिखा हुआ था. अनु दीदी की जगह अर्चना अपनी चुदी हुई चुत पर हाथ फेरते दीपक के साथ पहली बार चुदवाने हाज़िर हो गई. मैंने धीरे धीरे गीतिका के प्लाजो को नीचे किया और उसकी नाभि और चूत के ऊपर के हिस्से को अपने हाथ से नर्म नर्म सहलाया.

बीएफ शादी वाली मैं- तो क्या उसे बस खड़ा करके दिखाने के लिए ही खरीदा है?मैंने हंसते हुए कहा, जिससे वो थोड़ी खीज सी गयी. ” सानिया ने उलाहना दिया।थैंक यू मेरी जान … वैसे एक बात बोलूँ?”क्या?”सानू यार आज तो तुम इस पेंट-शर्ट में बहुत ही खूबसूरत लग रही हो.

हिंदी बीएफ ब्लू सेक्सी पिक्चर

मुझे कुछ नया मिला है।रिया रमेश की बात सुनकर उलझन में पड़ गयी और बोली- क्या?रमेश- यह तो सरप्राइज है. दोस्तो … मैं सुहानी चौधरी आप सबका अपनी पहली चुदाई की कहानी में स्वागत करती हूँ. आदमी तो बिल्कुल साधारण था लेकिन उसके साथ जो लेडी थी वह बला की सुन्दर, दूध जैसी गौरी, हसीन और गजब की सेक्सी लेडी थी.

उस दिन भी भाभी हमेशा की तरह शाम को छत पर आयी थी और उनका बच्चा खेल रहा था. वो भी साला कुत्ता मादरचोद मेरे मुँह को अपने लंड से चोदने का मजा ले रहा था. বিএফ বাংলাएक दिन दीदी ने पैंटी उतरवा कर देखे भी थे।उस दिन से जीजू और भी ज्यादा मजाक करने लगे.

उसने पीछे से मेरे दोनों मम्मों को पकड़ा और अपने लण्ड को मेरी गांड में चुभोने लगा.

हालांकि मूड तो सभी मर्दों का यही था कि वो अपना माल गिरा कर ही हटें, अब चाहे वो माल मेरी चूत में गिरे या मेरे मुँह में. मेरे पास कोई लड़कियों के कपड़े नहीं थे लेकिन रोहन ने बताया कि वो एक जोड़ी और निशु दो जोड़ी एक्स्ट्रा कपड़े लाये हैं.

मैंने उनके ऊपर झुककर उनके होंठों को किस किया और धीरे से अपना हथियार बाहर निकाला. मर्द को तो पराई औरत को कहीं भी देखने को या छूने को मिल जाए, उसे तो उसी में मज़ा आ जाता है. ये देख कर मैंने देर ना करते हुए लंड एक ही ज़ोर के झटके में चुत की जड़ तक अन्दर पेल दिया.

अब आँटी पूछने लगी- राज, तुम्हें क्या पसंद है, अपना तो बताओ?मैंने आँटी से कहा- मुझे आप जैसी गुदाज शरीर वाली मस्त हसीना की मस्त फूली हुई चूत को तरह तरह से चोदना पसंद है, मैं चाहता हूँ कि हर वक्त मेरा लौड़ा उस चूत में चलता रहे.

मैंने कहा- मैडम जी, मेरा क्या होगा?वो हाँफते हुए बोली- रुको एक मिनट, सांस लेने दो मुझे. मेघा अब जोर से सिसकारने लगी- ओह्ह … मेरे राजा … ये क्या कर रहे हो … तुम ऐसा नहीं कर सकते … ये गलत है … मैं शादीशुदा हूं … आह्ह … तुम्हारा लंड हटा लो यहां से … आह्ह … नहीं … मत करो।मैं- अगर ये गलत है तो फिर तुम अपनी चूचियों को क्यों मसल रही हो? जो खेल शुरू किया है उसको हमें खत्म भी करना चाहिए. अब आगे भाभी की बुर की कहानी:जब भाभी जी ने मुझे देखा तब मेरी हालत एक कुंवारे जवान लड़के जैसी ही थी.

फिल्म क्रोधीउसकी चूचियों के निप्पल और मेरे निप्पल दोनों एक दूसरे से रगड़ खा रहे थे. मैरुन कलर की पैन्टी में दादी के गोरे गोरे चूतड़ देखकर मेरा दिमाग खराब हो गया.

सूट सूट बीएफ

शायरा आंखें बन्द करके अब ये इंतजार कर रही थी कि मैं आगे क्या करने वाला हूँ. अब हम दोनों इतने तक गए थे कि कुछ देर तक ऐसे ही पड़े रहे और एक दूसरे को चूमते और चाटते रहे. मैं- वो ऐसे कि जब तुम मेरे पास आओगी, तो मैं तुम्हें सबसे पहले अपनी बांहों में भर लूंगा और गले से लगा लूंगा.

मैं निशु को कुर्सी पर बैठने को बोला और मैं और रोहन उसका मेकअप करने लगे. अब कपिल परेशान था कि उसे उसको देखने भी जाना था जो कि गुड़गांव से 200 किलोमीटर से ज्यादा दूर था. अब मैं सिर्फ सफेद रंग की ब्रा में थी।फिर जीजू ने अपनी जींस, टी-शर्ट और बनियान को निकाल दिया और अंडरवियर में हो गये.

बस वो दोनों किस करते और गले लग कर एक दूसरे से प्यार का इजहार कर लेते थे. एक दो बार मुंह में अंदर बाहर करने के बाद उसने डिल्डो को मुंह में गहराई तक ले लिया. मेरी इस नई फ्री चैट गर्ल स्टोरी के सभी पात्र और जगह का नाम आदि काल्पनिक हैं.

फिर दो साल तक पूजा और हमारी दोस्ती के कारण हमारी प्रेम कहानी की नींव बहुत गहरी होती चली गयी. अभी मैं कुछ समझ पाती, तब तक उसकी कामुक जीभ मेरी चुदासी गांड के छेद पर लग चुकी थी.

हम दोनों ने हंस कर हाथ मिलाया, तभी मैं वीणा को एक आंख मार के मुस्कुरा दिया.

मैं- अब क्या हुआ?वो- तुम चलोगे या फिर इनके साथ ही जाना है?मैं- चल तो रहा हूँ. गांव वाली का सेक्सी वीडियोदाह संस्कार करने के पश्चात तीसरे दिन मंदिर जाने का रिवाज था, इस कारण मुझे पत्नी के साथ ससुराल में ही रुकना पड़ा. गांव की लड़की के सेक्सजैसे ही अरुण ने मेरे पेटीकोट नाड़ा खींचा वैसे ही मेरा पेटीकोट मेरी चिकनी और गोरी टांगों से सरकता हुआ जमीन पर गिर गया. आखिर जब मुझसे रहा नहीं गया और मैंने घड़ी देखी कि रात के एक बज रहा था.

नर्स के जाने के 10 मिनट बाद ही मैंने उस लड़के को अपने रूम में बुला लिया.

मैं- बोलो न फिर … जान मेरी चूत में लंड डाल दो!नीरा- अमन, प्लीज़ मेरी चूत में लन्ड डाल दो प्लीज़!मुझे खुद पर गर्व महसूस हो रहा था. फिर अचानक से ही अनामिका अकड़ने लगी और उसने प्रियंका का सर पकड़ कर अपनी चूत में धंसा लिया. फिर वह सारे बर्तन समेटकर बुआ के साथ बिस्तर पर सोने चली गई।मैंने अपनी बहन की मदद से उसकी पड़ोसन को चोदा.

चुदासी भाभी की सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे बस में मुझे एक भैया भाभी मिले. आज रात तक वैभव और उसका परिवार उस होटल (दूसरा होटल, जहाँ उन्हें ठहराया जा रहा था) में आ जायेंगे. उस दिन मैं उनके घर खाना खाया, खाना खाते समय भाभी की चुचियों को खूब गौर से देख रहा था.

एचडी बीएफ हिंदी में सेक्सी

एक दिन में अपने काम से किसी दुकान पर गया, वहीं मेरी मुलाकात एक स्कूल टीचर से हुई. मैंने अपने मुँह से सलोनी भाभी की चुत से दो इंच दूर से फूंक मारी, तो उनकी गांड का छेद ऊपर नीचे होने लगा. मैंने झट से एक एक करके उन दोनों की पैन्टी उनकी टांगों से अलग कर दी.

मैंने लिफ्ट में नेहा को फिर छेड़ा- यार देखो तो मैं कैसा लग रहा हूँ?अब नेहा मुझसे थोड़ा खुलने लगी थी, उसने कहा- अच्छे नहीं लग रहे हो।पर उसके बोलने का अंदाज बता रहा था कि मैं बहुत ज्यादा हैंडसम लग रहा था.

फिर मैंने नीचे हाथ ले जाकर दीदी की सलवार का नाड़ा खोल लिया और उसकी चूत पर लंड लगाकर लेट गया.

वो और तेजी से लंड पेलते रहे और 5 मिनट में ही अपना रस मेरी चुत में निकाल दिया. मैंने अपने मुंह की तरफ इशारा करके बताया कि मुंह तो बंद है मेमसाब की चड्डी से. हिंदी में बीपी सेक्सीभाभी- आंह उफ़ … संजय … कितना मज़ा आ रहा है यार … तुम्हारा लंड तो मेरी बच्चेदानी तक पहुंच रहा है … आह अब तो जब जब मेरा मन करेगा, मैं तुम्हारी पैंट की ज़िप को खोल लूंगी, तुम्हारा लंड निकाल लूंगी और अपनी चूत में ले लूंगी.

अब मैं ऊपर से बिल्कुल नंगी थी और बूढ़ा मेरे दोनों मोटे मोटे मम्मों को हाथ में पकड़ कर चूसने में लगा था. सुबह उठा तो देखा दस बज गये थे! ज़ारा अभी भी सोयी हुयी थी तो मैं उसे उठाने लगा- ज़ारा … उठो!ज़ारा- मुझे नींद आ रही है!मैं- उठो! दस बज गये हैं!ज़ारा- जान मुझे सोना है!मैं- उठो! मुझे चाय पीनी है!ज़ारा- आप मेरा दूध पी लो!मैं- तुम्हारी चूचियों में दूध नहीं है! उठो अब!वो उठी और बिस्तर से उतरकर अंगड़ाई ली. उन्होंने ऐतराज जताया तो बड़ी चाची ने अम्मी को धमकाते हुए कहा कि आपने हमारे बारे में किसी से कुछ कहा, तो हम भी आपके बारे में बता देंगे.

चार पांच ठाप पर भाभी और मैं दोनों एक साथ झड़ने लगे। खलास होने पर मैं दोनों हाथों से टांगों को चौड़ा कर भाभी को नीचे लटका दिया जो किसी लाश की तरह लटक रही जैसे जान ही नहीं हो।करीब पांच मिनट बाद उसने सम्हलने के लिए जमीन पर दोनों हाथों का सहारा लिया, फिर भी मैंने नहीं छोड़ा। मैंने मन भर कर पड़ोसन को चोदा. फिर जब आगे से थोड़ी गर्मी मिली और उसे थोड़ी राहत महसूस हुई तो उसने फिर वही प्रक्रिया दोहराई।थोड़ी देर में उसका छेद शिवम के हिसाब से भी एडजस्ट हो गया, भले दर्द बना रहा हो पर वह अंदर बाहर होने लगा।अब झुको.

और मेमरानी तो चुद भी ऐसे रही थी कि जितना ज़्यादा खनक खनक कर सके उतना खनखनाये.

मैं- हां पर क्यों नहीं आती … इसकी वजह तो होगी!वो- अच्छा तुम क्यों जाग रहे हो अभी तक!मैं- वो … मैं तो सो रहा था … तुम्हारे फोन से मेरी नींद खुल गई. मुझे चोदते हुए बहुत टाइम हो गया था इसलिए मैंने पहला सेशन खत्म करने के लिए अपने लौड़े से उसकी चूत में वीर्य की गर्म पिचकारियाँ मारनी शुरू की. और जिस तरह से तुमने मेरी सिस्कारियां निकाली हैं, उससे मुझे तो तुम्हारी बातों पर विश्वास नहीं होता कि तुमने किसी से सेक्स नहीं किया है.

सेक्सी दीदी फिर मैं उन्हें किस करने लगा और उनकी एक टांग को उठा कर उनकी चूत में लंड लगाते हुए एक धक्का दे दिया. अब आगे की इंडियन सेक्सी भाभी की वासना की कहानी:उसी वक्त मेरे रूम में सरोज भाभी, नेहा और बिन्दू भी आ गई.

मैंने उसकी ब्रा और पेंटी दोनों को अलग कर दिया और चूचियों का रसपान करने लगा. अगर उसको मैं ना रोकूं तो वो रोजाना मेरी 7-8 बार अच्छे से चुदाई कर सकता है. आंटी ने अपने हाथ को नीचे करके देखा तो उनका पूरा हाथ वीर्य से भर गया.

बीएफ इंग्लिश वीडियो चाहिए

अपना पैग खाली करके मौसी से बोली- मौसीजी, ज्यादा शर्म करने से कोई फायदा नहीं है. क्या हुआ?”ये कहते हुए अब मैं भी उठकर बैठ गया‌ और देखा, तो सामने ही ममता जी‌ अपनी टांगें चौड़ी किए खड़ी थीं. आंखें भीषण कामोत्तेजना से लाल हो गयी थीं और माथा पसीने से भीग गया था.

वापसी में सूरज ने मुझसे कुछ ना कर पाने के कारण माफी मांगी … और ये बात किसी और को ना बताने की गुजारिश की. अगर मैं अपना लौड़ा उस वक्त गीत की गांड से न निकालता तो मेरा लंड भी वहीं उसकी गांड में खाली हो जाना था.

आंटी फिर बोली- कुछ समझे भी हो?मैं बस आंटी के मुंह की तरफ ही देखता रहा.

पति ने आते उसे सूंघा और बोला- तूने और शराब पी ली, थोड़ी बहुत शर्म है या नहीं! क्या हुआ … तुमने फूफाजी से पूछा … कुछ हुआ या नहीं!वो बोली- फूफाजी धर्म कर्म की दुहाई दे रहे हैं, वो बिल्कुल नहीं मान रहे हैं. वह कहने लगा- आप ऐसा करें, आप इन लड़का लड़की के साथ पार्क के बाहर तक आ जाओ, इन्हें इनके घर भेज देंगे और हम अपनी ड्यूटी पर चले जायेंगे. तीसरे दिन सांय 7 बजे मैं टूर से अपने कमरे पर पहुंच गया और होटल से खाना मंगवा कर और खाकर सो गया.

”हम्म …”तुम मेरे बैंक अकाउंट में बीस हजार रुपये डलवा दो प्लीज!”ओह हाँ ठीक है मैं व्यवस्था कर दूंगा।”थोड़ा अर्जेंट है।”ओह …”क्या हुआ?”ना … कुछ नहीं मैं अभी व्यवस्था करता हूँ. मैंने कहा- बहुत दिनों से मेरे अन्दर ही इच्छा थी कि आपके साथ मुझे थ्री-सम करना है. उस दिन वो थोड़ा गहरे गले का सूट पहने हुई थी जिसमें वो बला की सेक्सी दिख रही थी.

मैं भी उनके पूरी तरह से खुलने का इंतज़ार कर रहा था कि कब वो मुझसे अपनी सेक्स लाइफ की बात करें.

बीएफ शादी वाली: भाभी के मुंह से कामुस सिसकारियां फूट पड़ीं- आह्ह … अम्म … ओह्ह … याह … स्सस … और जोर से … आईई … आआ … आह्ह अंश … बहुत मजा दे रहे हो … आह्ह … ऐसे ही करो।कुछ देर तक मैं उसकी चूचियों पीता रहा और दबाता रहा. मैंने उठ कर भाभी की चुचियों के बीच में लंड को फंसाकर आगे पीछे किया और कुछ ही देर में अपने के जोश को हल्का कर दिया.

कई बार मुझे हैरानी होती थी कि इन दोनों को ये बेतुकी बातें करके आखिर हासिल क्या होता है!उनकी बातें सुन सुनकर धीरे धीरे करके मेरा नजरिया भी आंटी की तरफ बदलने लगा था. हम दोनों ही कामुक सिसकारियां निकल कर पूरे कमरे में गूंज रही थीं ‘आहह ओह … आहह … हम्म … उफ …’कुछ देर तक इसी तरह धक्कम पेल चुदाई के बाद मैंने उसे डॉगी स्टाइल में आने को कहा. उसके गले में लंड फंस गया और उसकी गूं गूं की निकलती आवाज ने मुझे लंड को रगड़ने पर मजबूर कर दिया.

अब आगे होमोसेक्सुअल स्टोरी:कविता लगातार एक ही लय में प्रीति की चूत में धक्के मारे जा रही थी और प्रीति भी उसी लय में कराहती हुई धक्कों का मजा ले रही थी.

फिर वो खुद ही मेरे ऊपर आ गयी और मेरे लंड पर अपनी चूत को रखकर मेरा लंड पूरा का पूरा अंदर समा लिया. उसकी चूत की फांकें आपस में सटी हुई थीं, पर पैर फैलाने की वजह से थोड़ी जगह बन गई थी. मैंने आंटी से पूछा- कैसी हरकतें?आंटी ने बताया- एक रोज, रात को करीब 11:00 बजे के आसपास इसके कमरे से कुछ अजीब अजीब सी आवाजें आ रही थीं.