साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,सेक्सी ममता सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ ढाका: साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी, उस दिन मैंने एक बार और दीदी की गांड मारी, आज दीदी ने मुझे चूत में लंड घुसने ही नहीं दिया, उनको तो आज सिर्फ़ गांड चुदाई का मज़ा लेना था.

घड़ी सेक्सी गीत

फिर दुबारा शायद इस मक्खन गांड को चोदने का कभी मौका मिले ना मिले, मैंने तय कर लिया कि आज गांड भी बजा कर मजा ले लूँगा. हिंदी सेक्सी वीडियो में नंगीविवेक धीरे धीरे पीछे से मेरी चुत में धक्के लगा रहा था और आगे से रवि अपना लंड मेरे मुँह में पेल रहा था.

मैंने कोमल को उसी तरह ही रहने दिया क्योंकि वो संतुष्टि का अनुभव कर रही थी. मां बेटे की हिंदी सेक्सी फिल्मतब मैंने काकी को देखा वो मुझे घूर कर देख रही थीं, उन्होंने कहा- तू बहुत बड़ा हो गया.

मैं इस कदर बहशी होकर चुसाई कर रहा था, मानो आज उसको मम्मों का पूरा रस ही निकाल लूँगा.साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी: अब आगे:इधर नीचे राजेंद्र अंकल मेरी चूत को जोर से अंदर तक जीभ से चाटने लगे, मैं कामुकता के वश में होकर उनके लंड को खुद से बहुत रगड़ने लगी.

अब आकांक्षा ने मुझे कस कर अपने गले से लगा लिया था और धीरे से वो अपनी कुर्सी से उठ कर मेरी गोद में बैठ गई, मैंने उसे गोद में बिठा कर बहुत देर तक प्यार किया, उसका सर सहलाया, उसकी पीठ पर हाथ फेरा और थपथपाया.आह…कुछ टाइम में मैं झर गया और उसने पी लिया शायद उसे टेस्ट अच्छा लगा होगा।हम ऐसे ही नंगे लेट गए बेड पर और कुछ टाइम बाद उसने मेरा लंड सहलाना शुरू कर दिया, मेरा लंड भी खड़ा हो गया, मैंने उसे किस किया और लंड को उसकी प्यारी सी चूत पे रगड़ने लगा.

चोदा चोदी देसी सेक्सी वीडियो - साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी

रोज किसी ना किसी बहाने स्नेहा भाभी के घर जाने लगा और कभी उन्हें नहाते या कभी कपड़े बदलते देखने लगा.हम दोनों इतने मदहोश हो चुके थे कि रिश्ते नाते शर्म हया सब कुछ भूल कर उस पल का आनन्द ले रहे थे.

मेरी सास चिल्लाई- आहहहह हहह ओहहह हहह! ना…नो… निशा फट गई मेरी चूत!मैं उठी, अपनी चूत सास के मुँह पर रख दी और मेरी सास चूत को चाटने लगी, मेरी सासू माँ मेरी चूत को खाये जा रही थी, उधर रिया सास की चूत को फाड़े जा रही थी. साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी फिर वो चला गया, मैं इस सब में इतना थक गई थी कि मैंने जल्दी से ड्रेस बदली और ब्रा पैंटी पहनी और बिस्तर पर आकर सो गई.

उस वक़्त देखा मैंने मीना पूरी गर्म हो चुकी थी और दोनों हाथों से सागर को कसके पकड़ा था, लेकिन उसी समय सागर ने मीना का ब्रा निकाल कर मीना को झट से अपने से दूर कर दिया.

साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी?

मेरी यह पहली हिंदी में देसी चोदन की कहानी है, जो मैंने अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के माध्यम से आप सभी को बताई, आप चाहें तो मेरी कहानी पर मुझे अपने सुझाव मेल कर सकते हैं. मगर ये तो कम से कम अस्सी किलो की थी और मुझे अपनी कमर तुड़वाने का कोई शौक़ नहीं था. मैंने सिगरेट जलाई और पार्किंग में टहल रहा था कि किसी ने बहुत ही मधुर आवाज में मुझे ‘एक्सक्यूज़ मी.

मैं अपनी जीभ से उनकी जांघ को, तो कभी उनकी चूत को चाटता, इससे उनकी हालात खराब हो रही थी. उसे खड़ा करके, उसका मुँह अपनी तरफ करके अपनी टांगों पर बैठाया और कहा- चलो आ जाओ और अपने हाथों से अपनी चूत डालो, और हाँ दोनों की किस्सी जरूर कराना. मैंने किचन में ही वर्षा की सब्जी में एक कैप्सूल कूट कर पावडर करके मिला दिया, फिर थोड़ा सोच कर एक और कैप्सूल और कूट कर मिला दिया.

वो लड़की बात करते हुए मुझसे शर्मा रही थी, पर उसके चेहरे से जाहिर था कि उसने मेरे लंड का खूब आनन्द उठाया है. उसने कहा- जब मेरे पति डालते थे तो मुझे बहुत दर्द होता था जबकी उनका लंड तो बहुत छोटा और पतला था. मैं- ये बात तुम मुझसे भी या किसी से भी नहीं बताओगे, जब तक मैं नहीं कहूँगी.

तभी तो लौड़े आयेंगे तेरे पास! फिर किसी को अपना बना लेना!मैं नहीं नहीं कहती रही, मौसी बोली- जैसे मैं कहती हूँ, वैसा कर… फिर देख!और जबरन मुझे वे कपड़े पहनाने लगी. जींस उतार कर उसकी पेंत्य्य के ऊपर से चूत पर हाथ लगाया तो उसकी चूत में से पहले ही पानी निकल रहा था और पेंटी को गीली कर रहा था.

आज मैंने गुस्से में उसका नाड़ा तोड़ दिया और कहा कि आज खेल करके ही जाऊंगा.

उसी वक्त ड्राइवर ने जैसे ही ब्रेक मारे, मेरा लंड उनकी गांड में और अन्दर तक घुस गया.

जब मैंने रानी को पूरी नंगी कर दिया तो मैंने अपने पजामे और टी शर्ट को भी उतार दिया. अंदर से गुलाबी, जब पुलकित ने उसकी चूत के दोनों होंठ अपनी उंगली से खोल कर देखे तो अंदर से उसकी चूत पूरी तरह से गीली थी. पर अचानक…जैसे अंजलि दीदी की खुशियों को किसी की नजर लग गई, शादी के 3 साल बाद भरे यौवन में 29 साल की जवान और हसीन औरत अंजलि विधवा हो गयी.

मैंने उसे बांहों में भींच लिया और उसकी सलवार को उतार दिया साथ ही पैंटी भी निकाल दी. उसने मयूरी की ब्लैक कलर की पैंटी को उसकी चूत के ऊपर से हटाया और देखा कि मयूरी की चूत बहुत गीली हो चुकी थी. जैसे ही मैंने उसको कहा कि मैं छूटने वाला हूँ तो उसने मुझे उसके मुँह में आने को कहा और तेजी से चूसने लगी.

मैंने शीतल की ब्रा खोली और उसके मम्मों को दबाने लगा और निप्पल चूसने लगा.

फिर लड़की और लड़के के यौन अंगों का रस से भरपूर वर्णन, आकार, रंगरूप आदि. तभी रवि मेरी चुत पर अपने लंड को रखकर रगड़ने लगा और फिर मेरी चुत पर निशाना लगाते हुए एक हल्का सा धक्का लगा दिया. एड्रिआना तो 3 बार झाड़ कर जैसे बेसुध ही हो गई थी और मैं भी खुद को साफ करने के लिए बाथरूम में आ गया.

इससे उसकी गोल गोल चूचियाँ एकदम से यूं हिल जातीं जैसे सीने से उखड़ कर निकलने वाली हों. उसने मेरे हाथ को नीचे पकड़ लिया और फिर उसने वो पट्टी खोल कर दूसरे हाथ से नीचे खींच दिया. मेरे कसे हुए लंबे तगड़े शरीर का एहसास उन्हें भी हो रहा था, वो मदहोश हो कर मुझ से चिपकी रहीं.

उसके गरम गरम वीर्य की गर्मी से मैं भी एक बार और झड़ गयी औऱ हम दोनों भाई बहन ऐसे ही नंगे चिपक कर सो गए।सुबह 5 बजे मेरी नींद खुली तो देखा कि भाई और मैं नंगे सो रहे हैं, उसका लंड सिकुड़ कर 2.

मेरी मामी की डेथ हो गई थी कार एक्सीडेंट में… तब से पापा ने ही मेरी देखभाल की, वही मेरे सब कुछ हैं. मैं वो ड्रेस पहन कर अमित के सामने आ गई तो अमित बड़ी तेजी से उठा और मुझे आगे से ही मेरे गले से लग गया.

साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी मैं अपने एक हाथ से उनके एक चूचे को मसल रहा था और उनके दूसरे चूचे के निप्पल को चूस रहा था. एक दिन योगिता बालकनी में बैठी थी, मैं भी चेयर लाकर बैठ गया और बातें शुरू की। वो डीप गले की शर्ट पहने थी, ऊपर से उस की गोरी चूचियाँ नजर आ रही थी, मेरा मन हो रहा था कि पकड़ कर चूस लूँ।मैंने योगिता से बोला कि पति से अलग अकेले रहना बहुत मुश्किल है.

साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी मेरी इच्छा है कि मुझे तीन दिन ऐसे मिल जायें कि उन दिनों में मैं और मेरी भाभी घर में सिर्फ नंगे ही घूमें और हर काम हम नंगे ही करें!12. इतना कहते ही मैंने पूनम को ज़बरदस्ती हग किया और उसके गालों की एक जम कर चुम्मी ले डाली.

करीब 20 मिनट की लगातार चुदाई के बाद झड़ कर फिर से सब लोग आराम करने लगे.

सेक्सी बीएफ देहाती औरतों की

अरे उससे किसी मॉल में जाकर मिलो, जैसे मैं अमित से पहली बार पीवीआर में मिली थी. मेरी इच्छा है कि मेरी भाभी पैन्टी पहन रही हों, तब मैं उनके पीछे जाकर उनकी चड्डी थोड़ी नीचे सरका कर उनकी गांड में अपना लंड डालूं और गांड में ही मेरा वीर्य छोड़ दूँ!37. मैं आगे बढ़ा और मैंने भाभी को बांहों में भर लिया, मैं उन के शरीर को चूमने लगा.

उसको इतना कसके गले लगाया मैंने कि उसकी कमर की हड्डियों से चट की आवाज आई. फिर मीना ने हिम्मत करके चाय टेबल पर रखी और सागर के पास बेड पर बैठ गई. तो दोस्तो, कैसे लगी मेरी मॉम की चुदाई की आँखों देखी कहानी, अपने रिप्लाई मुझे मेल जरूर करें.

मैं जब भी उनको भाभी कहकर पुकारता, तो मुझसे गुस्सा हो जातीं और बात नहीं करती थीं.

मैं हर महीने के आखिरी 7 दिन जयपुर अपनी एक फ्रेंड के घर आकर रुकती हूँ. मेरा लंड उसकी गांड की दरार में घुसा हुआ था और उसे मेरे लंड की गर्मी का एहसास हो रहा था. तभी ललित बोला- यार मुझे शायद ज्यादा दिन भी लग सकते हैं तो तू प्लीज इधर का ख्याल रखना.

मैंने भाभी को अपने शॉर्टस के ऊपर से अपना छह इंच लंबा और तीन इंच मोटा लंड दिखाते हुए कहा, जो शॉर्टस में तम्बू बना रहा था. मैंने जोरों से धक्के लगाना चालू किए, जिस से कुछ पल बाद भाभी भी जोश में आ कर मेरा साथ देने लगीं और अपने हाथ मेरी पीठ और छाती पर चलाने लगीं. इधर बाईं तरफ वाली चूची थोड़ी खुली रह जा रही थी जैसे ऊपर दाहिनी तरफ वाली थी.

ऐसे बोलते बोलते कुछ मिनट बाद राखी झड़ गई और निढाल से स्वर में बोली- बस जीजा जी, बस मेरा हो गया. यह सेक्सी कहानी मेरी मौसी की शादी में मेरी मॉम की किसी अनजान लड़के से चुदाई की है.

अगर कोई गलती हुई हो तो माफ करना और मेरी कहानी कैसी लगी, मेल जरूर करना. अब मैं तो बड़ी असमंजस में पड़ गई कि क्या करूं, क्या ना करूं!तो रिसेप्शन पर बैठी लड़की बोली- आप चाहें तो हमारे किसी दूसरे आर्टिस्ट से भी अपनी जॉब पूरी करवा सकती हैं।मैंने कुछ सोच कर कहा- और कौन है?कहानी जारी रहेगी. मुझे टॉयलेट जाना था, मैं उठकर टॉयलेट गया, तब तक बीना स्टेशन आ गया और ट्रेन रुक गई.

कुछ ही पलों बाद मैंने उस की नेकर को निकाल दिया और उस ने इस काम में अपने मोटे चूतड़ों को उठा कर मेरी मदद की.

बीस मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद मेरा वीर्य उनकी गांड में निकल गया और मुझे बहुत आनन्द का अनुभव प्राप्त हुआ. मैं अपनी सीट से खड़ा हो गया और उसका सर पकड़ के ज़ोर ज़ोर से उसके मुंह को चोदने लगा, मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाला जिससे वो सांस भी नहीं ले पा रही थी, उसकी आवाज़ बंद हो गयी थी गुपप्प्ग प्प्प हहहा आअक ककक काह हहहाआ सीईई ईईई…”अब मैंने देर ना करते हुए अपना लंड उसकी चूत पर रखा और रगड़ने लगा जिससे उसकी आवाजें और बढ़ने लगी, वो सब कुछ भूल चुकी थी बस चुदने का मज़ा ले रही थी. सिराज के उस धक्के से मैं तो आगे गिरने को हुई मगर आगे दूसरा था, जिसका लंड मेरे गले में अंदर तक घुस गया.

इसलिए!भाभी ने कहा- क्यों तुम्हारी गर्लफ्रेंड अच्छी नहीं है क्या? उसे तुम किस नहीं करते?मैंने भाभी को खुश करने के लिए कहा- भाभी, मेरी कोई गर्लफ्रेंड ही नहीं है. हम सगे भाई बहन हैं और तुम ऐसा सोच रही हो?मीना- कल जब मैंने तुम्हारे लंड का पानी चखा, तब से मैं पागल ही हो गई हूँ.

मैंने कहा- तुम बेफिक्र रहो, मैं आराम से चुदाई करूँगा, तुम्हें बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा बल्कि ज़्यादा मजा आएगा. जैसे ही मैं अपना पहला शॉट मारने वाला था कि मेरा फौलाद जैसा लंड सिकुड़ कर रह गया. ”बस इतना बोलने के बाद मैंने वहीं उनका गाउन उतार दिया और फिर जो दोनों चुचियों को इतना प्यार किया कि बता नहीं सकता.

पंजाबी भाषा में बीएफ

मैंने पूछा- रोज मस्ती होती होगी?मेरे दोस्त ने कहा- हां यार… बिन नागा… हर रोज… किसी दिन मेरा मूड ना हो तो रेणुका ही पहल कर देती है.

इसके बाद ओमार और काला चश्मा लगाया मोलेट काफी देर तक बातें करते रहे और अंत में मेरी पत्नी ओमार की नाव से सावधानी पूर्वक मोलेट की नाव में शिफ्ट हो गई और मोलेट संग वो दोनों ओमार की नाव से दूसरी दिशा में चल दिए. हाई हील सैंडल पहने मेरी खुली हुई टांगें कार से बाहर सीट से नीचे लटकी हुई थीं और चौड़ी खुली हुई थीं. सच में इतनी सेक्सी लौंडिया के हाथ में लंड था कि बस मेरा काम तो ऐसे ही हो गया.

मेरी गांड फटने लगी कि अगर भाई को भाभी ने सब बात दिया होगा, तो मेरी कितनी बेइज्जती होगी, मैं ये सोच सोच कर घबराने लगा. मीना- नहीं भैया मैंने बहुत इन्जॉय किया, भैया एक बात पूछू आपसे, अगर आप बुरा ना माने तो?सागर- अरे डरो नहीं, खुल के कुछ भी पूछो. देवर भाभी सुहागरात सेक्सी वीडियोकुछ देर बाद मैंने उससे मुँह में लेने के लिए बोला, तो उसने लंड मुँह में लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

उसने कोई प्रतिरोध नहीं किया मतलब कामुकता उसके दिमाग में चढ़ चुकी थी, मेरा रास्ता साफ़ था. मैंने उससे कहा कि आपने आज पेंटी नहीं पहनी है क्या?वो अंजान बन कर बोली- तुझे कैसे पता?मैंने कहा- आपकी वो दिख रही है ना!अनुष्का ने पूछा- वो क्या?तो मैंने कहा- जहां से पेशाब करते हैं ना.

एक गोरी जवान और गदराई विधवा बिल्कुल नंगी इस कमरे के अटैच्ड बाथरूम में नहा रही है और यहाँ मेरे अलावा और कोई नहीं है. मैंने तुरंत अपनी उंगली हटा कर उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और स्मूच करने लगा. सच बताऊं तो वह भी पूरे मूड में थी, घर से यही सोच कर आई थी कि आज इसका लंड लेकर ही रहूंगी.

भाभी- आह… राजा… धीरे मसलो… उम्म्ह… अहह… हय… याह… प्लीज़ धीरे करो!वो सीत्कार करती ही रह गईं. मेरी बहन को अबोध होने के ये मालूम ही नहीं चला था कि ये बच्ची कौन है, जिसे हम लोग पाल रहे हैं. मंजरी ने उसको एक मीठी झिड़की दी- छी… ऐसे नहीं बोलते, ऐसे कहो कि मेरी चॉकलेट खाओगी क्या?अच्छा जी” पुलकित बोला- और अगर मुझे तुम्हारी चूत चाटनी हो तो?मंजरी ने बनावटी गुस्सा दिखाते हुये कहा- उंह, फिर वही बात, आप बोलो, मुझे कचोड़ी खानी है.

मुझे इस तरह देख कर रिया की आँखे चौड़ी हो गयी मगर अगले ही पल मैंने उसकी भी नाइटी खींच कर उतार दी.

अकीरा का यह पहला अनुभव था ऊपर से इतने हैवी लन्ड की मुठ मारते मारते वो सच में थक गई थी पर वो विक्रांत का मजा खराब नहीं करना चाहती थी इसिलए वो नीचे झुकी और अपना पूरा मुँह खोल के लन्ड को मुँह में ले लिया पर सिर्फ टोपे से उसका मुँह भर गया।मुँह की गर्मी विक्रांत से बर्दाश्त न हुई और एक लंबी आह के साथ उसने अकीरा के मुँह में ही झड़ना शुरू कर दिया। अकीरा का मुँह वीर्य से भर गया, होंठ वीर्य से लथपथ हो गए. यह मैं 1 घंटे से भी ज्यादा समय तक करता रहा और फिर हम डिनर करके रात में 11.

हम वहाँ गए उसको पता था कि लंड अन्दर क्यों नहीं गया क्योंकि मैंने लोवर और पैंटी उसके पैरों से पूरी तरह नहीं निकाली थी. जब भी जाती भाभी के पास… तो मैं उनकी सेक्स भारी बातें सुनने की कोशिश करती, वो कहती- तू सीधी सादी है री… अभी तेरा वक्त नहीं आया ये बातें सुनने का!यह कह कर भगा देती. सुभाष की शादी फिक्स होने के बाद उसकी शादी का सारा अरेंजमेंट मैंने ही किया क्योंकि सुभाष की फैमिली ओर मेरी फैमिली के रिलेशन बहुत ही अच्छे हैं.

मैंने मोनिका को धीरे से सीढ़ी पर लिटाया, उसके सर के नीचे अपना एक हाथ लगाया. मगर मेरे मन में शरारत थी तो मैंने उसको बोल दिया- तुम फट्टू लड़के ऐसे ही होते हो. अब वे मेरा पूरा लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगीं।मैं तो आनन्द से मस्ती में पागल हो रहा था.

साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी ये क्या जिद है बेटा, तू फ्लाइट से आजा मैं यहां से ट्रेन से आ जाता हूं; इसमें क्या प्रॉब्लम है?”पापा जी, हम दोनों साथ में और छत्तीस घंटे का सफ़र… जरा फिर से सोचो तो सही आप?”हां हां, पता है छत्तीस घंटे लगते हैं ट्रेन में इसमें सोचना क्या. दोस्तो, मेरे जीवन में सिमरन ही एक ऐसी लड़की है जिसकी चूत या गांड में अपना लंड फ्री ऑफ़ कॉस्ट देता हूँ क्योंकि उससे मैं धंधा नहीं करता.

बीएफ वीडियो एक्स एक्स एक्स एचडी

जब लंड अंदर बाहर होता तो चप चप की आवाज़ होती, मैं उसकी चूत मारते समय कभी उसके होंठों को चूसता तो कभी बूब्स चूसता. बॉबी भाई मुझसे करीब 3 साल बड़े थे, इसलिए मैं उन्हें भैया कह कर पुकारता था. मैं- अब क्या है?अमित- मुझे मिनी को बिना कपड़ों के देखना है और इसके लिए मैं कोई भी कीमत चुकाने को तैयार हूँ.

उसने मेरे स्कर्ट को खोलते हुए मेरी छोटी सी लाल चड्डी नीचे सरका दी और फिर मेरे छोटे छोटे चूतड़ों को विपरीत दिशा में खोला और मेरी गांड पर अपने लंड के टोपे को रगड़ने लगा. वो जब चला गया तो मैंने उस ड्रेस को ऊपर से थोड़ी ढील दे दी ताकि जल्दी खुल जाए और थोड़ा नीचे खींच दिया ताकि जब ऊपर अमित खोले तो पूरी चूचियां एक साथ दिख जाएं. सेक्सी गुजराती एचडीफिर मैंने पूछा- भाई साब 6 महीनों में आते हैं, तो आप कैसे करती हो?उसने कहा- कुछ नहीं.

ऐसा मैंने इसलिए कहा कि सच में ये इते पैसे देगा भी या नहीं?अमित- मैं दे दूंगा.

फिर मैं विवेक के लंड को पकड़कर सहलाने लगी और फिर नीचे बैठ कर उसके लंड को अपने मुँह में भर कर फिर से चूसने लगी. पहले तो सुमीना को डर था कि मैं एक कम उम्र के लड़के के साथ कैसी बातें कर रही हूँ.

मैंने भी ओके कहा तो भाभी ने सबसे पहले अपनी साड़ी उतारी फिर अपना ब्लाउज खोला, उसके बाद भाभी ने पीछे की तरफ हाथ बढ़ाकर अपनी ब्रा का हुक खोल दिया, जिससे उनके दोनों दूध उछलकर बाहर आ गए. अब उसकी सिसकारियों में दर्द भी कम हो गया था और बच गई थी सिर्फ़ मस्ती भरी सिसकारियाँ जो कुछ ज़्यादा ही मस्त लग रही थी मैंने दीदी के बूब्स से सर उठा कर दीदी के फेस की तरफ देखा तो वो बडे प्यार से सिसकारियाँ ले रही थी. इधर वो गरम सिसकारियां ले रही थी- आहह आइईई चुसओ औरर जोरर से ईईई मसल दोओ.

मेरा नाम अजय है, मैं राजस्थान के अलवर का रहने वाला हूँ लेकिन अभी नोयडा में रह कर प्राईवेट जॉब कर रहा हूं.

क्योंकि अगर हम नाना के वीर्य से पैदा हुए हैं तो हमारी माँ तो हमारी बहन भी हुई ना. लेकिन मैंने मौके का फायदा उठा कर हुक़ नहीं लगाया बल्कि झट सेब्लाउज में हाथ डाल कर उसके मम्मे दबाने लगा. पूनम को लेकर मैं हमारे वहां पास ही के एक गार्डन में गया, जिसमें सभी कपल्स घूमने आते थे.

सेक्सी पाठवा सेक्सी पाठवाचूंकि वो बहुत गोरे थे इसलिए उनके चेहरे पर काली मूंछें बहुत प्यारी लग रही थीं. मैं- अच्छा तुम मेरे बॉयफ्रेंड हो और तारीफ उसकी कर रहे हो और मुझसे ही उसे गले से लगाने की सिफारिश भी करवा रहे हो.

बीएफ फुल एचडी सेक्स वीडियो

मैं देख रही थी कि मौसी का चेहरा पूरा खिला चुका था।मैंने मन में सोचा कि काश मुझे रोहण मिल जाये!तभी मैंने मौसी से पूछा- काम हो गया?मौसी सकपका गई- कौन सा काम?मौसी के वहीं उसके तोते उड़ गये।मैं ऊपर गई थी।”तूने क्या देखा? बता?”मैं चुप रही तो मौसी समझ गई कि मैंने मौसी को चुदते हुए देख लिया है. मैं बहुत पहले से ही दिल्ली में अपनी पढ़ाई के सिलसिले में रह रहा हूँ और अक्सर दस से पन्द्रह दिन के अंतराल पर घर जाता रहता हूँ. मैं पेंटी के ऊपर से ही उस की चूत चाटने लगा और वो मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत में ऐसे दबाने लगी, जैसे वो मुझ पूरे के पूरे को चूत के अन्दर डाल लेगी.

मैंने घर पहुँचते ही वर्षा से पूछा- हमारे घर का काम कहां तक पहुँचा?वर्षा बोली- दीदी पुराना मकान तोड़ दिया गया है और नए मकान की अभी दीवारें बन गई हैं, अब छत बनेगी. पता नहीं विनीत को क्या हुआ, उसने आरजू के कान में कुछ कहा और वो मुस्कुरा दी, ऐसा होने के बाद आरजू ने अपना फेस हमरी तरफ कर लिया और बात करने लगी, अब विनीत उसके पीछे आ गया और उसकी जीन्स को भी उतार दिया और उसकी चूत को किस करने लगा, जिससे आरजू की आवाज़ और ज्यादा आने लगी और वो रीनू से भी बात कर रही थी. 34-26-36 की फिगर वाला कमाल का बदन जिस पर उसने सफ़ेद कमीज पहनी थी और अंदर का हल्के सफ़ेद रंग की ब्रा दिख रही थी और घुटनों के थोड़ा नीचे तक की स्कर्ट पहनी थी काले रंग की… उम्र तक़रीबन 31-32 के बीच की होगी लेकिन दिखने में 27-28 साल की लग रही थी.

हम घर पहुँचे, एक दो दिन गुज़रे मॉम भी अपने ऑफिस गईं, सब कुछ नॉर्मल रहा. अब रमसुख से मैंने कहा- क्या तू भी मेरी मारेगा?वो हकला गया- भै…या जी… आप मों से भी करवाओगे. उसने भी समझा कि टाइम ज्यादा नहीं है और दोनों का फुल मूड चुदाई का है.

मैंने लेटे लेटे ही पूछा- तूने उनसे मराई?वह बेशर्मी से लंड सहलाते हुए बोला- हां मैंने दोनों से मराई. मैंने पहले उस पर इतना ध्यान नहीं दिया था, मॉल में जब हम मिले तो मैंने उसके फिगर को नजर भर के देखा था.

मुझे जागते देख कर मेरी बेटी रेखा शरमाने लगी लेकिन पिंकी तो पूरी रंडी बन चुकी थी.

मेरी इच्छा है कि मेरी भाभी हमेशा गुलाबी या पीले रंग की पारदर्शक साड़ी पहने रहे, अन्दर सिर्फ काले रंग की ब्रा और पेंटी पहनी हुई हो ताकि कैसे भी भाभी के ब्लाउज के अन्दर की काली ब्रा आसानी से दिख जाये और भाभी की पेंटी की आउटलाइन भाभी की गांड पर आसानी दिख जाये. सेक्सी वीडियो बीपी सेक्सी बीपीउसने कुछ नहीं कहा, फिर हल्के से ऊपर से ही उसकी चुत पे हाथ फिरा दिया. इंडियन एक्स एक्स एक्स सेक्सी फिल्ममेरी तो हालत खराब हो रही थी और रीनू मामी भी कुछ ठीक नहीं लग रही थी. उसने कोई प्रतिरोध नहीं किया मतलब कामुकता उसके दिमाग में चढ़ चुकी थी, मेरा रास्ता साफ़ था.

कभी कभी जब नानी अपने कमरे में होती थीं और मॉम अकेले किचन में होती थीं, तब मैं मॉम के पास जाकर खड़ा हो जाता था और बहाने से मॉम की कमर को टच करके उनको हग करने की कोशिश करता था.

मैंने सरिता को एक तौलिया दे दिया और जिस रूम में उसे कपड़े बदलने थे, उसमें मैंने चुपचाप जाकर एक छोटा सा कैमरा फिट कर दिया और सरिता को अपनी बीवी की एक पतली सी ट्रांसपेरेंट नाइटी दे दी. एक हाथ से मैं एक चूची को दबा रहा था, मसला रहा था तो दूसरी चूची को मैंने अपने होंठों में लेकर चूस रहा था, निप्पल पर जीभ फिरा रहा था. ? डार्लिंग लंड चूसने के बाद चूत मरवाने और मारने में ज़्यादा मजा आता है.

मैं नंगा होकर सोफे पे था और मेरे सामने किसी बार डांसर की तरह नंगी मुमताज़ अपनी गांड मटका रही थी. मैंने उस के हाथ में अपना लंड दिया, वो ना ना करने लगी लेकिन मैंने उस को लंड छोड़ने नहीं दिया. कहानी कुछ यूं शुरू हुई कि हमारा घर काफी बड़ा है, घर के पिछले हिस्से में एक और गेट है, जो एक गली की ओर खुलता है.

बिहारी सेक्सी फिल्म बीएफ

इससे मुझे यकीन हो गया कि ये मजा ले रही है जिससे मेरी भी हिम्मत बढ़ गयी और मैं उसे सहला कर गर्म करने लगा. मतलब वो मेरी मॉम के बेटे जैसा था, मेरा कोई बड़ा भाई होता तो इतनी ही उम्र का होता. इसी बीच उन्होंने मेरे हाथ अपने चूचों पर रख दिए और अपने खुद के हाथ से मेरा लौड़ा टटोलने लगीं.

थोड़ी देर में मैंने अपना पूरा लंड अन्दर घुसा दिया और ऐसे ही खड़ा रहा.

इतनी टाइट महसूस हुई मुझे उसकी चूत… ये या तो काफी टाइम बाद सेक्स करने का असर था।उसे भी थोड़ा दर्द हुआ पर धीरे धीरे वो अपनी चुत चुदाई को एन्जॉय करने लगी.

पहले तो उसने मुझे ऐसा करने मना किया… लेकिन मुझे पता था कि एक बार मेरी जीभ उसकी चूत को छू गई तो वो आनन्द से पागल हो जाएगी. मैंने अपना लंड उनकी गांड पे लगाया और जोर से झटका दे दिया तो लंड थोड़ा अन्दर गया और वो दर्द से चिल्ला उठीं और मना करने लगीं, पर मैं कहां मानने वाला था. सेक्सी करते हुए विडियोमगर असल में उसने धीरे से कहा- कमीनी, क्या खेल खेला है तूने। अब ठुकवा ले इन सबसे!और हम धीरे से हंस पड़ी.

फिर सोचेंगे की हाँ कहें या नहीं!फिर मैंने एक आंख दबा कर बहुत डरपोक बच्चे की तरह कहा- अगर तनु नहीं है तो आप और मैं छोटी के सामने सम्भोग…बस इतना ही कह कर रुक गया।फिर आंटी हंस पड़ी. हमेशा उनकी बात सुनो, उसकी इज़्ज़त करो, झूठ मूठ ही सही, और जिस दिन पिटारी में बंद हो जाए जी भर के खाओ. दीदी झड़ने को थी, एक लम्बी सांस के साथ मैंने भी अपना पानी दीदी की झड़ रही चूत में निकाल दिया.

क्या बताऊँ दोस्तो … उस समय वो किसी हूर की परी से कम नहीं लग रही थी. पिंकी और रेखा को भी जब पता चला कि कल शाम तक हम तीनों अकेले हैं तो वो दोनों भी खुश हो गईं.

फिर मैंने एक ज़ोर का धक्का मारा और इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चुत के अन्दर चला गया.

फिर मैंने उसको टेबल से उतार कर टेबल को ही सटा कर घोड़ी बनाया और चोदा. एक दिन मैं सुरेश भैया के घर गया, तो देखा कि घर का दरवाजा हल्का सा टिकाया हुआ था, तो मैं सीधा अन्दर चला गया और स्नेहा भाभी को आवाज देने लगा. साथ में अपनी उंगली भी उसकी चुत में गीली करके उसकी गांड में घुसाता रहा.

सेक्सी पिक्चर वीडियो चुदाई हिंदी मैंने खोलकर देखा तो बोला- देखो लिखा तो 34″ ही है, लो सही से चेक करो जाकर!वो बोली- कर चुकी हूँ! नहीं आ रही है. मैं कभी कभी दिन में जब मौका लगता था, कोई घर में नहीं होता था, तब किसी न किसी बहाने से वासना के वशीभूत मॉम को टच कर लेता था लेकिन उसमें सेक्स जैसा कुछ नहीं था, सब नॉर्मल ही चल रहा था.

आँखें खोलते ही मैंने देखा कि उसकी गोरी कमर मेरे सामने थी और उसकी ब्रा की दोनों तरफ की पट्टी ब्लाउज से नीचे लटकी हुई थीं. मैं अपनी उंगली को भाभी की चूत में अच्छे से घुमा-घुमा कर साफ करने लगा. एड्रिआना अब मस्ती में कराह रही थी और उसके होंठों से सिर्फ एक ही आवाज निकल रही थी- साहिल लव मी लाइक आई कैन नॉट फॉरगेट.

राजस्थान बीएफ वीडियो

फिर लड़की और लड़के के यौन अंगों का रस से भरपूर वर्णन, आकार, रंगरूप आदि. इसके अलावा उसने मुझसे कभी कोई पैसे नहीं मांगे, या और कुछ भी नहीं माँगा. मैंने भाभी की चूत पर अपना लंड रखा और जोर का धक्का पूरी ताकत से लगाया लेकिन मेरा लंड थोड़ा सा फिसल गया.

वो इतने जोर-जोर से धक्के मार रहा था कि काजल का पूरा शरीर इस चुदाई की वजह से आगे पीछे हो रहा था और उसकी कामुक सिसकारियों की आवाज़ भी काँप रही थी. फिर बहन को बोर्डिंग स्कूल के हॉस्टल में डाला और हम दोनों सूरत के इस घर में रहने लगे.

बात करते करते मीतू मेरी जांघ पे हाथ रखते हुए बोली- भाई पैर ऊपर कर लो!इतना सुनते ही मेरा हाथ उस की जांघ पे चला गया और सहलाने लगा, उसे भी ऐसा करवाने में मजा आ रहा रहा था, परन्तु अचानक वो खड़ी हो गयी और पंखे की स्पीड बढ़ा कर मेरे पास में ही खड़ी हो गयी.

”मैं सोच नहीं पा रही थी कि मम्मी को अचानक कहाँ जाने का प्लान सूझा है. खता हुआ लंड मैं जिंदगी में पहली बार देख रही थी, मुझसे रहा नहीं गया और मैं खुदबखुद नीचे बैठ के उसके लंड को प्यार करने लगी. क्या बताऊं दोस्तों, घुटनों तक के काले वन पीस में शीतल क्या गजब कयामत लग रही थी.

उसको पसीना आने लगा, वो बार बार अपनी चूत के ऊपर से हाथ फेरती, कभी कभी जोर से खुजाने लगती और तिरछी नजर से जब मेरी तरफ देखती कि मैं भी उसे ही देखती होती, तो वो जल्दी से अपना हाथ चूत से हटा लेती. और जैसे ही उसने मेरा व्यवसाय पूछा तो मैंने उसे बताया कि मैं पेशे से एक जिगोलो हूँ!उसे जिगोलो के बारे में पता नहीं था, वो रुक गई और उसने मुझसे पूछा- ये जिगोलो क्या होता है?तो मैंने कहा- आप जिगोलो नहीं जानती?वो बोली- नहीं!तो मैंने बताया कि जिगोलो एक मेल सेक्स वर्कर होता है जो असंतुष्ट स्त्रियों एवं लड़कियों को शारीरिक रूप से संतुष्ट करता है और औरतें और लड़कियाँ उसे फीस देती हैं. उसको भी ये अच्छा लगता था क्योंकि उसको जब पता चला कि मैं उसके लिए वहाँ आता हूं तो वो फिक्स टाइम पर बाहर आने लगी.

उसका फिगर 34-28-36 का होगा, लेकिन जब वो एकदम फिट टॉप पहनती थी, तो लगता था.

साड़ी वाली भाभी के बीएफ सेक्सी: इस बात पर मैंने ध्यान नहीं दिया लेकिन जैसे जैसे मैं ऊपर खिसक रही थी मेरी ड्रेस खुलती जा रही थी. मैंने पूछा तब उन्होंने बताया कि उन के पति का लंड केवल 5″ का ही है और काफी पतला है.

ये क्या कर दिया तुमने रवि, अब मैं आनन्द को क्या कहूंगी?”मैं- ज्यादा शानपट्टी मत करो, मैं भी उसी दिन ऐसे ही रो रहा था, पर तुम पर तो आनन्द का भूत ही सवार था. मैं करवट से हो गया, फिर किसी ने मेरे चूतड़ सहलाए, वह मेरी गांड उस अंधरे में टटोल रहा था. क्या मैं तुझे पसंद नहीं?मैंने उसका लंड पैन्ट से निकाल कर हिलाया, मुँह में लेकर चूम लिया.

मैंने दिन में कुछ काम होने के कारण शाम को छोड़ने जाने का बोला और सब मान गए क्योंकि में पहले भी कई बार ऐसे ही उनको छोड़ने जाता था.

मोना- तमीज से बात करो रवि, मैं अपने पति की बेइज्जती बर्दाश्त नहीं कर सकती. उसके बाद चाची बच्चों को सोने के लिए लेकर गईं और थोड़ी देर बाद मेरे साथ में आकर बैठ गईं. राजेंद्र अंकल की कान में आवाज आई- आरती उठो, हम लोग आ गए तुम्हें चोदने! तुम्हारे पापा आये नहीं, हम ने बाहर का गेट बंद कर दिया है पर लॉक नहीं किया। जल्दी करो, अब हम लोगों से बर्दाश्त नहीं होता.