बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो प्ले दिखाएं

तस्वीर का शीर्षक ,

एमपी का सेक्स: बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी, फिर मैंने खुद को समझाया कि जूसी को कोई शक न हो इसके लिए ड्रामा तो करना ही पड़ेगा.

सेक्सी माल की चुदाई

वो मेरे घर पर 3 दिन रुकी और 3 दिन तक मैंने उसको खूब चोदा, मैंने उसकी गांड भी मारी और अब जब भी मौका मिलता है, मैं उसको चोदता हूँ. पंजाबी भाषा सेक्सी वीडियोजूसी ने हाथ राजे की छाती पर जमाये और ऐसे धक्के लगाए जो वो लेटी हुई अवस्था में कभी नहीं लगा सकती थी.

जवाब में वो कुछ नहीं बोली सिर्फ हाँ में गर्दन हिला कर सर झुका लिया. किन्नर का सेक्सी फिल्मबहुत ही टेस्टी खाना बनाया था उसने, गजब का स्वाद था उसके हाथों में!किसी नवयौवना के साथ नंगे बैठ के साथ साथ खाना खाना, एक दूसरे को अपने हाथों से खिलाना और एक दूसरे को छेड़ना बहुत ही अच्छा अनुभव लगा मुझे!खाना खाने के बाद हम लोग एक बार फिर बिस्तर पर गुत्थमगुत्था हो गये और दूसरे दौर की घनघोर चुदाई के बाद नंगे ही लिपट कर सो गये.

प्लीज़ बाहर निकाल लो।मैं रुक गया और उनको चूमने लगा।थोड़ी ही देर में भाभी कुछ शांत हुईं.बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी: मैंने उससे कल मेरे कमरे में आने को कहा, तो उसने एक बार में ही हाँ कर दी.

जब उसको लगा कि काका सो गए। तो वो उठी उसने अपनी सेक्सी सी नाईटी पहनी और सीधी छत पर चली आई क्योंकि वो लड़का अपने घर की छत पे ही सोता था।मोना जब ऊपर गई तो वो लड़का ऊपर टहल रहा था। मोना को देख कर उसके चेहरे पर ख़ुशी के भाव आ गए।दोस्तों राजू की उम्र कोई 20 साल की होगी.तू समझा कर, सही मौका आएगा तब तुझे बता दूँगा। फिलहाल तू कपड़े निकाल लंड में दर्द होने लगा है।टीना- ही ही ऐसा क्या हो गया.

मद्रासी सेक्सी डांस - बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी

आंटी हंसने लगी और बोली- बेटा अभी नया नया है ना, जब थोड़ा तजुर्बा आएगा ने तब जा कर कुछ ज्यादा मजा कर पायेगा! यह उम्र तो नूरा कुश्ती लड़ने की है.वो तो मानो जैसे बहुत प्यासी थी- रोहन, अब चोद भी दे यार… बहुत प्यासी हूँ तेरे लंड की मैं… चोद ना तेरी रंडी अंजलि को!मैंने भाभी की टांगें ऊपर की और अपना लंड डाला और भाभी को चोदना शुरू कर दिया।भाभी कामुक आवाज़ निकाल रही थी, सिसकारियां ले रही थी- आआआ आईई चोद चोद… और तेज़ चोद.

आप काफ़ी स्मार्ट लगती हैं।अब रात में भाभी से बातें होने लगीं तो मैंने पूछा- भाभी आज नींद नहीं आ रही है क्या?वो बोलीं- नहीं. बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी अब हम दोनों के मुख से मादक आवाजें आने लगी और वो बोल रही थी- मादरचोद… तुझे मुझसे नहीं, मेरी चूत से प्यार है… चोद मादरचोद!मुझे और जोश बढ़ता जा रहा था… उसके मुख से लगातार गालियाँ और मादक आवाजें ‘आह उह आह ओ याह आह आह… आह फ़क मी… कमीने चोद!’ निकल रही थी.

कोई देखता तो उसे ऐसा लगता कि कई लड़कों ने मुट्ठ मार के लावा बिखरा दिया है.

बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी?

करीब 10 मिनट तक मैं उससे इसी तरह चोदता रहा, फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उससे चूमने लगा. जूसी ने अलमारी से एक वाइब्रेटर निकाल के नक़ली लंड चूत में घुसेड़ दिया और लगी अपने आप को तेज़ तेज़ चोदने. लेकिन मैंने तो तुम्हें कुछ कहा ही नहीं।तब मैंने थोड़ा सामान्य होते हुए कहा- वास्तव में मुझे कुछ मेल करने वालों की करतूत याद आ गई तो मैं भड़क उठा.

और उसका लंड फट गया। सारा रस टीना के गले में जा पहुँचा और लंड पिचकारी पे पिचकारी मारता रहा। शायद आज से पहले उसका इतना रस नहीं निकला था. अब मैं उसके ब्लाऊज के एक एक बटन खोलने लगा और उसका ब्लाऊज निकाल दिया।उसने अंदर लाल रंग की ब्रा पहनी थी। मैं ब्रा के ऊपर से उसकी चुची दबाने लगा और दोनों चुची के बीच में किस करने लगा।मैंने उसकी पीठ अपनी तरफ़ करके ब्रा का हुक खोल दिया और उसकी गोरी पीठ पर ऊपर से कमर तक किस करने लगा. बीस मिनट वैसे ही लेटे रहने के बाद हम दोनों उठ कर बाथरूम में गए और एक दूसरे की जननेन्द्रियों को अच्छे से साफ़ किया.

पर मुझे एक बात पता लगानी थी कि आखिर मैं किसकी औलाद हूँ क्योंकि अम्मी और चाचा ने उस बारे में कुछ ज्यादा बात नहीं की थी. वो धीरे-धीरे चलने लगी। उसकी ये सब हरकतें टीना चुपके से मोबाइल में कैद करती जा रही थी।दस मिनट तक अलग-अलग स्टाइल में सुमन को वॉक करवाने के बाद वो वापस नीचे आ गई और टीना वहाँ से चली गई, मगर सुमन को एक अलग ही असमंजस में डाल गई।सुमन को ये सब अच्छा भी लगा और थोड़ा बुरा भी फील हुआ, अगर कोई देख लेता तो क्या होता. वो बिल्कुल मेरे सामने था। फिर उसने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मुझे चूमने लगा। कुछ पलों बाद पता नहीं मुझे क्या हुआ, मैं भी उसे चूमने लगी।फिर मैंने उसे दूर कर दिया और कहा- मुझे टॉयलेट जाना है।‘तो मतलब टॉयलेट में चलें।’‘नॉट यू.

मैंने कहा- नहीं भैया, अब मैं रवि के पास ही जा रहा हूँ और किसी के पास ऐसा गलत काम नहीं करना चाहता. माँ की मस्ती अब चरम पर थी, उनकी आवाजें कमरे में गूंज रही थी- ऊऊऊह्ह्ह… आआह्ह्ह… अब मजा आ रहा है, और चोद… ज़ोर से चोद… फ़ाड दे इस हसीन चूत और गांड को!फिर आलोक ने मुझे रुकने के लिए बोला, मैं माँ की चूत में लंड पूरा डाल कर रुक गया, आलोक ने अपना लंड निकाल कर मेरी माँ की चूत के मुँह पर रगड़ा, उसके लंड की रगड़ मुझे महसूस हो रही थी.

उन्होंने मुझे एक और राऊंड के लिए पूछा तो मैंने भी हाँ कर दी और एक राउंड और चुदाई का खेल लिया.

उसकी सहमति पाकर मैंने फिर से उसकी कमर में हाथ डाल कर अपने से लिपटा लिया उसे और धीरे धीरे उसकी पीठ सहलाने लगा.

वो तड़प रही थी और उसकी सिसकारियाँ तेज हो रही थी- अहह… अहहह… आराम से कर मादरचोद… सीसीसी… ऊइ उइ उइउ माँआया… मेरी चूत… आहाहाहा ईईईई… मार डाला इस हरामी ने…कुछ मिनट बाद जब मेरा निकलने वाला था, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और पागलों की तरह धक्का लगाने लगा. चल अब सो जा, मॉम उठ जाएंगी, तो फिर तू मुझे ही कहेगा।दोनों चुपचाप अपने कमरे में चले गए और अपने अपने बिस्तर पे सो गए।आप सोच रहे होंगे कि ये मॉंटी कहाँ से आ गया, तो भाई मैंने पहले ही बता दिया था कि टीना का एक भाई है और सुमन आई, तब ये स्कूल जा चुका था। ज़्यादा सोचा मत करो यार. उनको थोड़ा गुस्सा आया तो मैंने कहा- बुरा ना मानो होली है!उसके बाद वो मेरे को गीला करने के लिए कहने लगी तो मैंने कहा- ठीक है, डाल लो पानी!चाची बाल्टी लेकर आई तो मैंने बाल्टी पकड़ कर उनके ऊपर ही सारा पानी डाल दिया.

अभी तो बहुत फाड़ना है तुझे।तो उसने कहा- मुझे दूसरे काम भी हैं तो आज नहीं कर सकती।उसकी बात को अनसुना करके मैं पानी पीकर आया और उसे अपना खड़ा लंड थमाते हुए कहा- अब इसका क्या करूँ?तो वो बोली- आज चूस के शांत कर दूँगी कल नीचे डाल लेना. मेरी चचेरी बहन की कामुकता इतनी अधिक बढ़ गई थी कि उसने खुद ही अपनी पैंट निकाल कर एक तरफ रख दी।फिर वो मेरी तरफ बढ़ी और मेरा पैंट भी खोल दिया। अब तक मैं भी अपनी शर्ट और बनियान निकाल चुका था। मैं बिल्कुल नंगा था और मेरा लंड एकदम फूलकर लोहे की रॉड की तरह हो चुका था।फिर प्रीति जो कि अभी भी रेड ब्रा और पेंटी में थी. रजनी उस रात हमारे घर पे ही रुकी थी, मैं जैसे ही ऑफिस से वापिस आया तो मेरी पत्नी ने उनके बीच हुई सारी बातचीत जो मैंने बताई है, ये बता दी.

मगर भाभी ये सब देख कर बस मुस्कुरा कर रह जाती थीं।अब मैंने ठान लिया था कि सोना भाभी को चोदना ही है। मैंने एक दिन मौका देख कर किचन में भाभी की गांड पर हाथ फेर दिया.

मुझे सच में नहीं पता।टीना- क्यों तू अंडरगार्मेंट्स नहीं पहनती क्या. एक दिन मेरे घर में कोई नहीं था और पायल दीदी अपने घर की चाबी मुझे दे कर ‘रोमा, नीलेश जब घर आयें तो उन्हें ये चाबी दे देना, मुझे आज हॉस्पिटल से आने में देर हो जाएगी. आराम से, आज की पूरी रात है हमारे पास!भाभी ने मेरी टी-शर्ट उतारी और फिर उन्होंने थोड़ा सा केक अपने हाथों में लिया और उसे मेरी गरदन और मेरी छाती पर लगा दिया और फिर उसे चाटने लगीं।मैं- आआअहह.

कैसे बंदर की तरह हाथों में लोवर पकड़े अपनी इज़्ज़त छुपा रहा है हाहहहाहा. तो मम्मी ने बोला- किरण को भी साथ में ले जा, दोनों साथ में पढ़ाई कर लेना!मैंने कहा- ठीक है मम्मी!हम ऊपर वाले रुम में चले गये और दरवाजा बंद कर लिया. डोरा वेंटर और जूली सिल्वर की श्रेणी में अपना नाम लिखवा चुकी मेरी नताशा अपने चौपाए गद्दे पर टिकाए एंड्रयू के लंड के ऊपर अपनी चूत पहनाए लेटी हुई ऊपर अपनी गांड में स्वान का गर्दभ लंड पिलवा रही थी.

मैं तो मरा जा रहा था क्योंकि वो मेरे सामने भीगी हुई साड़ी में खड़ी थीं, जो गीली होने की वजह से उनके जिस्म से एकदम चिपकी हुई थी।मैंने अपने पर बहुत कंट्रोल किया।तभी आंटी ने फिर धीरे से कहा- आप अपने कमरे में क्या देख रहे थे?तो मुझे याद आया कि मैं जल्दबाजी में अपने कमरे की टीवी बंद करना भूल ही गया था और जब आंटी मेरे कमरे में प्लायर लेने गई होंगी तब उन्होंने वो सब कुछ देख लिया होगा.

यह तो किसी के साथ भी हो सकता है। अब आप आँखें बंद करो और मुझे लोवर पहनने दो।वो बोलीं- मैं तेरे खड़े होने के स्टाइल को देख कर हंस रही हूँ. और निप्पल लालिमा लिए हुए थे।गुप्ता जी संजना के कान को चुभलाते हुए उसकी गर्दन पर किस करते हुए गर्दन से नीचे दोनों चूचों के बीच अपनी जीभ फिराने लगे और वे दोनों हाथों से उसकी चूचियों को मसल भी रहे थे।संजना ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… सी.

बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी बेड पर पहुंचते ही सबसे पहले संजय ने मुझे किस करना स्टार्ट किया और एक हाथ से मेरी चूत को और दूसरे हाथ से मेरे बूब्स को मसलने लगा. जवाब आया- मैं तेरी दादी माँ हूं और साथ ही स्माईली जिसमें वो मुझे चिढ़ा रही थी।साली कमीनी मेरी सिधाई का फायदा उठा रही थी।मेरी दादी तो अपना गिलास नहीं उठा सकती तो फोन क्या खाक चलायेगी।मैं झुँझला रहा था, तभी उसी नम्बर से कॉल आया, मैं फोन उठाकर बकने ही वाला था कि मेरे कानों में खनकती आवाज आई.

बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी पूल में आते ही अजय ने रूबी को चिपटा लिया और विवेक ने साराह को… पूल छोटा सा था, पर सेक्स और रोमांच के लिए बहुत था. अचानक साहिल रूक गये और मेरे दोनों पैरों को पकड़कर अपने कंधे से टिका दिया और मेरे घुटने के ऊपर के हिस्से को अपने दोनों हाथों के बीच दबाकर एक बार फिर वो धक्का लगाने लगे, समय के साथ-साथ उनके धक्के तेज होने लगे, एक बार फिर मुझे लगा कि मेरे अन्दर से कुछ छूट गया और मेरा जिस्म ढीला पड़ गया.

मैं उठ के खड़ा हो गया रानी भी मेरे पास आकर खड़ी हो गई और अपनी बाहों का हार मेरे गले में पहना के चूम लिया मुझे!‘थैंक्स अंकल जी, आज मैं तृप्त हुई!’ वो बोली और अपना सिर मेरे सीने पर रख दिया.

सेक्स ब्लू पिक्चर हिंदी

मैंने उसके पैर अपने कन्धों से उतारे और मोड़ कर उसी को पकड़ा दिये इससे उसकी चूत अच्छी तरह से उठ गई; अब मैंने चूत में चक्की चलाना शुरू की… सीधी फिर उल्टी. भाई ने अपनी बहन की चूत और गांड की चुदाई कैसे की, बहन के मुख से ही सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है. उन्हीं मेल में एक मेल एक जयपुर की भाभी का था, उस भाभी को कैसे चोदा, यह कहानी उसी के बारे में है.

चलो सीधे शाम की पार्टी का मज़ा लेते हैं।जैसे कि संजय ने पहले ही सबको समझा दिया था कि क्या करना है। टीना के दिल में आया कि वो सुमन को भी साथ ले ले, मगर संजय ने उसको मना कर दिया।शाम को 7 बजे सब संजय के पुराने घर पर पार्टी की तैयारी कर रहे थे।टीना ने रेड गाउन पहना हुआ था वो बहुत मस्त आइटम लग रही थी, जिसे देख कर विक्की और अजय लार टपका रहे थे।अजय- हे टीना क्या लग रही है तू. मगर मेरी गुडलक कहाँ हैं आज उठी नहीं क्या वो?सुमन- मैं आ गई पापा जी. कभी वो पूरा का पूरा लंड बाहर निकाल कर दुबारा चूत में धड़ाम से घुसाती और कभी वो सिर्फ चूत को लप लप करते हुए लंड को ज़बरदस्त मज़ा देती.

ऐसा भी बोल रही थी कि अब वो फरीदाबाद वाला घर छोड़ के बाल बच्चों सहित राजे के घर पर ही रहा करेगी ताकि रोज़ रोज़ चुद सके.

भाभी के नाज़ुक गोरे-गोरे भरे पेट पर हल्के से हाथ फिराते हुए उनके मम्मों को दबाने लगा. मेरे मम्मे मुलायम हो गए थे, चूत मस्त पड़ी थी, तथा मुझे अपनी रूह तक आनन्द में डूबी हुई अनुभव हो रही थी. मतलब वो अपनी चूत में बीच वाली उंगली से कुछ और ज्यादा गहराई तक मोमबत्ती घुसा के खुद को चोदती है.

पर मेरी तरफ बड़े ध्यान से देखते हुए वो बोली- आयुष?तो मैंने भी उसके चेहरे पर नजर डाली तो देखा कि यह तो मेरी क्लासमेट आकृति थी जिसको क्लास में कोई देखता भी नहीं था उसके मोटापे की वजह से… पर आज वो बदल चुकी थी, उसका फिगर तो कमाल का हो चुका था, गोरा बदन, नशीली आँखें. तो सुन!टीना बोलती रही और सुमन आँखें फाड़े उसकी बातें सुनती रही। टीना ने अपनी बात पूरी करके जब सुमन को देखा तो उसको आँख मार कर शुरू होने को कहा।सुमन- नहीं नहीं. तो वो मुझे गुस्से से देखने लगीं और बोलीं- देवर जी आपको अभी शादी कर लेनी चाहिए।मैं सिटपिटा कर वहाँ से चला गया। फिर चैट पर मैंने भाभी से सॉरी बोल दिया।अचानक उनका जवाब आया- कैसा लगा?मैं सोचने लगा शायद भाभी को मेरा सहलाना पसंद आया। तो मेरी हिम्मत बढ़ गई.

योगिराज एक ही झटके में कोमल की गान्ड में घुस गया और कोमल की चीख निकल गई, कोमल चीखते हुए बोली- मादरचोद, मैंने तेरा क्या बिगाड़ा था जो मेरी गान्ड फड़वा दी?अब मैंने कोमल की चुचियों को सहलाया और उसको हिम्मत दिलाई- कोई नहीं, दर्द में ही तो मजा है चुदाई का!मैंने कोमल को बाँहों में भर लिया और मोहन को इशारा किया तो मोहन ने कोमल कीचूत में लंडपेल दिया. मैं ये एहसान कभी नहीं भूलूंगी।मैंने उनको चूमते हुए कहा- रानी बुआ क्या एहसान, मैं तो अपना हूँ न आपका आय लव यू बुआ।उन्होंने भी कहा- लव यू टू सोना बेटा।उसके बाद मैंने बहुत बार बुआ को चोदा।मेरी बुआ की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी.

भाई बहन की चुदाई की यह सेक्सी स्टोरी आपको कैसी लगी, मुझे अपने जवाब मेल करना. मेरा लंड पूरी स्पीड से चुत में अन्दर-बाहर होते हुए तूफानी गति पकड़ता जा रहा था. तभी सामने से पुलिस की गाड़ी आई तो मैंने भाभी से जल्दी से कहा- वो कुछ पूछें तो कहना कि हम दोनों पति-पत्नी हैं.

उसके गले में पहनी हुई पतली सी सोने की चेन उसके मम्मों के बीच जाकर छुप गई थी.

गोपाल अब धीरे-धीरे मोना के मम्मों को जोर से दबाने और चूसने में लग गया था और उसका हाथ भी चुत को जोर-जोर से रगड़ रहा था।कुछ देर बाद मोना ने गोपाल को अपने से अलग कर दिया और खुद उस पर सवार हो गई।गोपाल- आह. ’वो चूचे हिलाते हुए बर्तन धोती रही और मैं उनकी चूचियों का मजा लेता रहा. मेरे से पट जाएगी कि नहीं? मैं अपना लंड सहलाता रहा मेरा ले पाएगी या चिल्लाएगी?ऐसी ही बातें सोचते हुए मैं सो गया.

क्या बात है! कितनी ताकत है हमारे राजू के लंड में!! हम बेकार ही बेचारे को डांट रहे है. लंड चूत के अन्दर चूत के ऊपरी भाग को कस के दबा रहा था जिससे भगनासा अच्छे से दब दब के उसे बेइंतिहा मज़ा दे रही थी.

मोहन से योगिराज पर चढ़े कंडोम पर ही कोल्ड क्रीम लगवा के काफी सारी क्रीम कोमल की गांड के छेद में लगवाई और अब कोमल को वापस योगिराज पर बैठने को कहा. थोड़ी देर बाद उसने लंड मुँह में लिया और चूसने लगी।पहली बार मेरा लंड कोई औरत चूस रही थी, उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे भी काफ़ी मजा आ रहा था।दस मिनट तक वो मेरा लंड चूसती रही।वह खड़ी रही, वैसे ही मैंने उसका साड़ी का पल्लू हटाया और गले से लेकर बूब्स तक किस करने लगा. वो दर्द से चिल्ला पड़ी, मैंने परवाह ना करते हुए लंड थोड़ा पीछे निकाला और एक और झटके के साथ पूरा घुसा दिया.

xxx video हिन्दी

मैंने पूछा- आप और मौसाजी किस पोजीशन में सेक्स करती हो?वो एक बार तो शरमाई, फिर धीरे से बोली- उससे क्या फर्क पड़ता है?मैंने कहा- आप शरमाती रहिये, मैं नहीं बताऊंगा ऎसे कुछ भी!तब उन्होंने कहा कि वो तो हमेशा डॉगी स्टाइल में करते हैं.

मेरी चची की चुदाई की इस कहानी पर अपने विचार मुझे निम्न इमेल पर भेजें![emailprotected]. मैंने उनको पलटा दिया और गर्दन से लेकर पूरी पीठ पर किस करना शुरू कर दिया। मैं उन्हें ऐसे किस कर रहा था जैसे शेर किसी भेड़िये पर झपटा हो… वो छटपटा रही थी लेकिन मेरी पकड़ से आजाद नहीं हो पा रहीं थी।मैं धीरे धीरे उनके गांड के उभारों पर पहुंचा और किस करना शुरू ही किया था कि उनकी चूत से झरना बहना शुरू हो गया और वो निढाल होकर लेट गई. तुम निराश मत होना। मेरा दावा है कि 4-5 दिन में तुम्हें कुछ ना कुछ ज़रूर मिलेगा। अगर ब्लैक ब्रा और पेंटी है तो तुम जल्दी जान सकती हो कि यूज्ड ब्रा-पेंटी में वीर्य लगा है कि नहीं। जिस दिन तुम्हें पता चले कि आज कुछ वीर्य जैसा ब्रा और पेंटी में लगा है तो समझ जाना कि तुम्हारा भाई भी तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता है। उसके अगले दिन तुम वाइट कलर का रूमाल लेकर स्कूल में आओगी.

जिंदगी के कटु अनुभवों के साथ मैंने अपनी जॉब छोड़ दी और एक दोस्त की मदद से मुम्बई में नई जॉब कर ली. इसके बाद हम दोनों एक दूसरे की बाहों में सो गए और जब आँख खुली तो रात के दो बजे थे. पवन के सेक्सी वीडियोआंटी खड़ी होकर बोली- ले मैंने आँखें बंद कर ली, अब बता!मैं आंटी के पास गया और उनकी उनकी साड़ी नाभि से नीचे करके उनकी नाभि को जीभ से चाटते हुए बोला- मुझे आपकी नाभि बहुत अच्छी लगती है.

अब मैं सोचने लगा कि लेकिन ऐसा होगा कैसे?उसी दिन शाम को करीब 4 बजे भाभी अपने रूम से उठ कर आई. रूबी ने अजय से कहा- तुम वाशरूम में जाकर कपड़े बदल लो, मैं गेट खोलती हूँ.

लंड का पानी निकलने को होता तो मैं वहीं रुक जाता!थोड़ी देर में भाभी धीरे से बोली- और तेज कर… तेज कर…और उनकी चुत ने लंड को जकड़ लिया. आविष्कारी राजू भी कम न था, उसने किसी तरह नताशा की कमर के ऊपर स्थान बना कर खड़ा होते हुए अपना लंड उर्ध्वाधर स्थिति में मेरी प्राणप्यारी पत्नी की गांड में घुसेड़ दिया. आप मेरी भाभी हो।तब भाभी ने मेरे गले लगते हुए मुझसे कहा- प्लीज़ मुझे माँ बना दो।मैंने कहा- मुझे सोचने के लिए समय चाहिए।मेरे दिमाग में चल रहा था कि मैंने भाभी के साथ सेक्स किया तो इसके पति को शक हो जाएगा तो कहीं कोई लफड़ा न हो जाए।भाभी ने मुझे 2 दिन दिए।दो दिन बाद भाभी मुझसे उत्तर पूछने आईं तो मैंने कहा- भाभी आपके पति तो नपुंसक हैं.

और इस कांड के कारण हम आठ जनों की एक साथ चुदाई का खेल जल्द ही शुरू हुआ. कोई गड़बड़ हो गई तो तू मुझे भी पिटवायेगी और तुझे भी यहाँ से कमरा खाली करना पड़ेगा. दोस्तो, यह कहानी मेरे एक मित्र ने मुझे बताई थी, जिस आदमी की कहानी है, मैं फिर निजी तौर पर उससे मिल कर भी आया क्योंकि जो मैंने सुना था उसे बिना देखे तो एतबार भी नहीं किया जा सकता था.

मैं हाउस वाइफ हूँ, मेरे पति एक बहु राष्ट्रीय कम्पनी में काम करते हैं.

कितनी बार समझाया ये पीना-वीना लड़कियों के लिए अच्छी बात नहीं है।जॉय- अरे क्या हुआ ममता. मेरी सदाबहार बीवी अब सारी शर्मोहया त्याग कर बेशर्मों की तरह स्वान के केले के तने जैसे मोटे-चिकने लंड को चूसने में लगी थी, उसके हैट जैसे विशाल टोपे को किसी लोलीपॉप की तरह चूस रही थी.

उसके गले में पहनी हुई पतली सी सोने की चेन उसके मम्मों के बीच जाकर छुप गई थी. तभी रवि ने मुझे उठाया और उठाकर घोड़ी बना दिया।हमारे बेड के सामने ही ड्रेसिंग टेबल रखी हुई थी, जब मैं घोड़ी बनी तब मेरा मुंह ड्रेसिंग टेबल के ही सामने था और मैं शीशे में ऐसे ही अपने नंगे बदन को निहारने लगी. मेरी पहली गे सेक्स स्टोरी मेरे पड़ोसी लड़के के साथ अट्टा बट्टा करने यानि गांड मारने मरवाने की है!दोस्तो, मेरा नाम निकी है और मैं ऑटोमोबाइल कंपनी में ट्रेनी इंजीनियर हूँ। मैं देहरादून से हूँ और अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूँ। यह मेरे साथ पहला अनुभव है, जो आज से 2 साल पहले हुआ था। मैं आशा करता हूँ कि आपको पसंद आएगा।मेरे लिंग का साइज़ 5.

और कान में धीरे से बोला- थोड़ी देर है।मैंने भी उसके पेंट के हुक खोले, बेल्ट खोला. शुरुआत में ज्यादा बात नहीं होती थी उससे क्योंकि मैं भी नई जॉब में बिजी था. मेरा यह भ्रम तब टूटा जब मेरे उलटे होते ही सुन्दर ने अपने हाथ में थोड़ा थूक ले के मेरी गांड के छेद पर मसल दिया.

बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी जल्दी ही स्नेहा भी कॉफ़ी ले के आ गई और मुझे एक कप पकड़ा दिया और मेरे सामने कुर्सी पर बैठ गई. आंटी हंसने लगी और पूछने लगी और पूछने लगी- और क्या क्या अच्छा लगता है?मैं- एक चीज़ मुझे आपकी बहुत अच्छी लगती है, जो मैंने अब तक नहीं देखी.

नंगी सेक्सी हिंदी

दोस्तो, मेरे इस चुत चुदाई की सेक्सी कहानी के बारे में अपने विचार मुझे भेजें![emailprotected]. साराह और विवेक खूब फोन पर बात करते और साराह सारी बातें चटकारा लेकर रूबी को बताती. कुछ ही देर बाद मेरे दरवाजे पर कोई खटखटा रहा था, मैंने दरवाजा खोला तो जो मैंने देखा उसे देखता ही रह गया.

बाकी लड़के भी तो नॉर्मल हैं, फिर मुझे ही क्यों भगवान ने लड़कों के लिए आकर्षण दिया… और अगर दिया तो ऐसे समाज में पैदा ही क्यों किया. मैं भी उसका साथ दे रही थी। हालांकि मेरी चूत बहुत टाइट थी और मुझे शुरूआत में बड़ा दर्द भी हुआ. भारतीय महिला की सेक्सी वीडियोवो पागलों की तरह कभी उसके चूचे दबाता, कभी उसकी गांड मसकता। वो बस पागल सा हो गया था।मोना- आह ऑउच आराम से करो आह.

राजू एक घुटने के बल बैठ कर बेल्ट में लिपटे लंड को मेरी बीवी के मुंह में घुसेड़-2 कर खेलने लगा, तो मैंने भी छेद बदला और खुद की पोजीशन भी… अब मैं घुटनों के बल बैठा राजू का लंड चूसती अपनी बीवी की बायीं टांग आसमान में उठा कर उसकी गांड मारने लगा.

अचानक मेरी नज़र दरवाजे पर पड़ी और सामने मैंने सोनाली को दरवाजे के पास देखा, वो दरवाजे के बिल्कुल पास आ चुकी थी. मेरे होंठ चूसते वक्त उन्होंने अपने हाथ मेरी पीठ पर गाड़ते हुए मुझे कसना चालू किया ‘मुउउः पुकघ पच्छ.

कहानी के पिछले भाग में तनु भाभी की मस्ती और उनसे मेरी दोस्ती कैसे आगे बढ़ रही है वो आपने पढ़ी, अब आगे…भाभी से व्हाटसप में बातें करते वक्त, मैंने उनका मन टटोलते हुए कहा कोई प्यार मोहब्बत का चक्कर तो नहीं था!भाभी ने हाँ कहा और ‘ये बातें फिर कभी करेंगे’ कहकर… बात को टालने लगी और वो अपने अकेलेपन के दर्द को बताने की कोशिश करने लगी. फिर सुबह हुई और हम नाश्ता कर रहे थे, मैं अब चोर नज़र से मैडम को ही बार बार देख रहा था और तभी मैडम मुझसे बोली- क्या बात है, आज तुम बहुत चुपचाप हो?मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है. मैंने मानसी की पैंटी को दोनों हाथों में कस कर पकड़ा और एक झटके में उसके दो टुकड़े करते हुए उसको पूरा नग्न कर दिया.

थोड़ी देर में रीना सीत्कार भरने लगी, उसे मज़ा आने लगा- ओहो उम्म्ह… अहह… हय… याह… सर चोदिये! तेज़ तेज़! आह आह मज़ा आ गया सर!पूरा कमरा फच-फच की आवाज़ों से गूंज उठा था.

अब मैं भी झड़ने वाला था, मैंने उसे चित लिटाया, उसकी टांगें अपने कंधों पर रख उसे धकापेल चोदने लगा. उसकी इस चालाकी पर खुश होकर मैंने रीना रानी के चूतड़ों पर एक ज़ोर की चपत लगाई तो रीना रानी ने मस्ती में किलकारी मारी. हो गई फिर हमारी भी फोन सेक्स चैट शुरू… और मिलने लगे रोजाना उसी की बस में!और मैं उसको बस में ही हाथ लगा लेता था जैसे उसके मम्मों को दबा देना और सलवार के ऊपर से ही चूत को मसल देना…अब वो भी चुदने को तैयार थी और मैं भी चौदने को…तो बस ऐसे ही एक दिन मैं उसको लेकर अपने घर चला आया, घर पर तो कोई होता नहीं क्योंकि ममा पापा दोनों सरकारी जॉब करते है तो 10 से 5 कोई नहीं होता!घर लाकर मैंने उसका स्वागत किया.

ज्योति ज्योति सेक्सीऔर इस कांड के कारण हम आठ जनों की एक साथ चुदाई का खेल जल्द ही शुरू हुआ. कुछ समय बाद मुझे मौसम में परिवर्तन महसूस हुआ, शायद बदली आ गई थी, और अब चेहरे पर सूरज की गर्मी का अहसास कम हो रहा था। अब तक सभी के गर्म कपड़े निकल चुके थे, मैंने भी स्वेटर निकाल कर रख दिया था।मैं अचेत होने जैसी मुद्रा में.

ट्रिपल एक्सxxx

नताशा भी पूरे उत्साह के साथ हम दोनों के लंड अपने रुसी मुंह में लेने का भरसक प्रयत्न करने लगी. चूंकि मैंने हाफ पैंट पहनी हुई थी तो कड़ी चीज़ आंटी ने महसूस की और हंसी. अन्दर तो जाने दे, अभी ढीली कर।फिर मैंने लंड टिकाया और धक्का दिया। एक ही झटके में सुपाड़ा अन्दर था.

मगर जब गाढ़ा सफेद रस आया तो उससे मुझे घिन सी आ गई।टीना- अरे शुरू में अजीब लगता है मगर बाद में उसे चाटने के लिए दिल बेताब हो जाता है. बोली- ठीक है, आप दोनों आराम से निकलो…फिर क्या मेरी तो लाटरी लग गई… बाथरूम के अंदर गया तो सुजाता वैसे ही पड़ी थी… उसको बोला- मीटिंग आठ बजे है… तो अपने पास अभी दो घंटे हैं… क्या चाहती हो अभी तुम?बोली- मुझे दो नंबर को जाना है अभी…मैं बोला- कुछ नया अनुभव करने का क्या?मैं बोला- रुको…मैं बेडरूम में गया और वहाँ से कंडोम लेकर आया. जीजू ने आते से ही पीछे से मेरी ब्रा के हुक को खोल दिया और मेरी दोनों चुची को आजाद कर दिया, फिर मैं उनकी तरफ घूम कर मैं अपने घुटनों के उपर जा बैठी और उस अंडरवीयर को लौड़े के प्रेशर से आजाद करने लगी.

उसका पूरा शरीर मेरे ऊपर था और उसके होंठ बिल्कुल मेरे होंठों से जुड़ गए थे. वो दोबारा मोना के पास आया और उसके मम्मों को दबाने लगा।राजू- मुझे आपके ये खरबूजे भी पसन्द हैं और ये गर्दन और पीछे आपकी भरी हुई गांड और. मैंने उनके पेटीकोट को जाँघों तक उठाया तो भाभी बोलीं- अरे तेरे कपड़ों को तेल लग जाएगा.

मैंने अपनी नाक सुल्लू रानी की झांटों में रगड़ी, झांटों को अच्छे से सूंघ के सुगंध का आनन्द लिया. उसकी ब्रा खुलने के बाद उसके 36″ की चुची बाहर निकल कर आ गई, मैंने उसकी पेंटी भी निकाल दी, उसकी चूत बिल्कुल चिकनी पड़ी थी, मैंने उसकी चूत चूसना और खाना सुरू कर दिया.

कपड़ों से आजाद होते ही रोहन का लण्ड फनफनाने लगा।पूल में झड़ने की वजह से रोहन की चड्डी और उसका लण्ड दोनों ही उसके वीर्य से लथपथ थे.

चलिए देखते हैं।गोपाल की आवाज़ के साथ ही एक 20 साल की लड़की, जिसकी हाईट किसी मॉडल की तरह थी और रंग भी साफ फिगर 34-28-32 का, उसने एक ट्रांसपेरेंट ब्लू नाईटी पहन रखी थी। कुल मिला कर वो सेक्स डॉल नज़र आ रही थी।मोना- ओ स्वीटू मैं कहाँ जाऊंगी. बंगाली गर्ल सेक्सीअगले दिन फिर वही लड़की मेरी दुकान पर आई और सीधे शब्दों में मुझे उसके साथ सेक्स करने का प्रस्ताव रखा. गांव की लड़की को चोदा सेक्सीजिन्हें देख के मेरा मिल्क पीने का मन करता है।वो- क्या हो गया है आज तुझे. तभी जीजू ने मेरा हाथ कस कर पकड़ लिया और कहा- मेरे साथ मनाओगी?मैंने कहा- क्या जीजू? आप भी.

पर बियर के नशे में सब अच्छा लग रहा था!तभी मेरे पति ने मेरी चूत को हाथ लगाया.

हालांकि मेरे चूसने की वजह से रवि का लंड बिल्कुल गीला था…पर फिर भी उन्होंने अपने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया… चुदाई के दौरान रवि सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हैं।फिर रवि ने अपने दोनों हाथों से मेरी टांगों को फैलाया और अपने लंड को मेरी चूत के छेद पर रखकर अंदर की तरफ धक्का देने लगे. उनके निप्पल को हल्के से दांतों में दबाकर खींचा तो उनकी तेज चीख निकल गई. मैं भाभी के ऊपर के हिस्से की मालिश करने लगा तो उसी वक्त अचानक उन्होंने मेरा लंड पकड़ कर दबोच लिया, मैं ज़ोर से चीख पड़ा और भाभी की गांड पर एक जोरदार चांटा मार दिया.

उसने साराह के कपड़े भी जबरदस्ती उतरवा दिए, अब चारों नंगे ही पूल में थे. दूर-दूर तक कोई गांव या पंचर की दुकान नजदीक नहीं दिख रही थी।अब मैं और विकास पैदल बाईक को खींचते-खींचते करीब दो किलोमीटर चले होंगे कि रात हो चुकी थी. तो इसकी बॉडी भी अच्छी बनी हुई है।तीसरा विक्की जोशी उम्र 24 ये ठीक-ठाक सा ही है.

चोदने वाला सेक्सी हिंदी

वे गांड सहला रहे थे।मैं परीक्षा के बाद आठ-दस महीने से थोड़ा फ्री था. हमारा लावा फटने की कगार पर ही था कि…‘आआआह्ह ह्ह… जस्सी… मेमेमे… रीरीरीरी… जान…’ कहते हुए मानसी ने मेरे लंड को अपने तपते हुए रसों से भिगो दिया. आपसे मिलाने के लिए माला और बालक को मैं थोड़ी देर बाद घर जा कर ले आऊंगी.

वह आपसे इम्प्रेस है, वैसे यह एक आइडियल डिमोंन्स्ट्रेशन था, दोनों परेशान न हों, ऐसा ही सेक्स होना चाहिये। आपकी जोड़ी भी तो वन टू वन है.

राजे ने चूचियों पर हाथ फिराया, फिर निप्पल को ऐसे उमेठा जैसे निम्बू निचोड़ा जाता है और उसके पश्चात् दोनों मम्मी अच्छे से दबाये.

वो जब बाल साफ कर रही थी, मैं क्या बताऊँ… बहुत कयामत लग रही थी!मैं समझ गया था कि आज तो भैया भाभी की चूत चाट कर भाभी को खूब मजा देने वाले हैं. अब भाई बस लंड मेरी चूत पे रखने ही वाला था कि मेरा मादरचोद बॉयफ्रेंड का फोन आ गया. देसी सेक्सी भेजेंसब अन्दर आ गए, साथ में टीना भी आ गई। वो इस यादगार चुदाई को देखना चाहती थी।अन्दर आने के साथ ही सब एक झटके में नंगे हो गए और गोल घेरा बना कर खड़े हो गए।फ्लॉरा- वाउ यार तुम सबके लंड तो ज़बरदस्त हैं.

आपने मेरी पिछली दो कहानियोंगलती बीवी की सज़ा सास कोऔरसास के साथ मौसेरी साली की चुत चुदाईमें पढ़ा कि मेरी बीवी को सेक्स में कोई इंटरेस्ट नहीं था जिसकी सजा मेरी सास और साली को भुगतनी पड़ी. हम इस हिंदी सेक्सी स्टोरी की ओर अपना पहला कदम ले चलते हैं।सुबह के 6 बजे मुंबई के एक साधारण से परिवार में हलचल थी।‘हेमा ओ हेमा. सुहाना निढाल सी पड़ी हुई थी उसने अपने दोनों हाथों को ढीला छोड़ दिया था, मैं धक्के पे धक्का पेले पड़ा था और सुहाना अपनी आँखें बन्द किये हुये थी.

फिर भी तुझे डर है तो एक ऐसा इलाज बताती हूँ कि तेरी चुत कुँवारी लड़की के जैसी हो जाएगी. तो मैं आधे लंड से ही उसे चोदने लगा। फिर वो भी मेरा साथ देने लगी।उसकी आवाज़ निकल रही थी- ओह उह अहहहहा.

तू क्या अपनी फैमिली के बारे में बता रहा है? यार पूजा के बारे में बता ना मुझे।संजय- अबे साली.

30 पर आबू रोड पहुंचा फिर नजदीक के सुलभ शौचालय में फ्रेश होकर नहाकर वापस बस स्टैंड आकर पहले हिम्मत को फोन किया. भैया-भाभी और उनका 9 साल का बेटा मुंबई में रहते हैं। सोना एक गोरी 5. ये तो चलता है। मैं भी आपको कुछ बताना चाहता हूँ।तो दीदी बोलीं- क्या?तो मैंने कहा- सुनील की बहन रजनी के साथ मेरा भी चक्कर चल रहा है।यह सुन कर दीदी हंसने लगीं और बोलीं- कमीने भाई.

मराठी सेक्सी विडिओ मराठी है कोई?मैं- अब मुझे तो खुद लोग गर्लफ्रेंड बनाने की बात करते हैं।आसिफ़- हम्म. फिर हम दोनों साथ ही खाना खाते हुए बात करेंगे।तो मैं भी राजी हो गया और जल्दी से फ्रेश होकर भाभी के घर पर आ गया।उस वक्त वो अपने पति से फोन पर बात कर रही थीं। भाभी ने पूरा खाना बनाकर टेबल पर रख दिया था। फिर 20 मिनट के बाद भाभी ने फोन रखा और मुझसे कहा- उनके पति 3 दिनों बाद आने वाले थे.

अभी जो हुआ था… उसके बारे में कुछ भी बात करने के लिए नहीं था… और हम दोनों नज़रें भी नहीं मिला पा रहे थे पर फिर भी मैंने रोहित से पूछा- रोहन कहाँ है?रोहित ने कहा- वो आलोक भैया के साथ गया है।इससे पहले कि मैं उससे कुछ कहती, रोहन और अन्नू रूम में आ गए… फिर मैंने रोहित से कोई बात नहीं की. मेरी मैडम अब मेरा सर पकड़कर अपनी चूत के ऊपर ज़ोर ज़ोर से दबा रही थी और वो आहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उफफ्फ़ उईईईई की आवाज़ निकाल रही थी. कुछ सेकेण्ड के बाद मैं भी उनकी स्टाईल से उनके जिस्म पर अपनी जीभ चलाने लगी, उनका लंड काफी तन गया और लोहे के रॉड की तरह दिखने लगा.

सनी एक्स एक्स

मैंने उसकी चुत पर सुपारा रख कर दबाया। मुझे उसकी चुत बहुत टाइट लगी। मैंने कहा- क्या हुआ. क्या करूँ?’मैं- आपसे क्यों नहीं रहा जा रहा?‘जब से मैंने आपके साथ सेक्स किया है. भाभी ने मस्त टाइट सूट पहना हुआ था, शरीर का एक एक उभार साफ दिख रहा था और मेरा लंड फिर से कड़क हो गया.

हम दोनों घर में अकेले थे।मौसी के जाने के बाद हम दोनों कुछ देर रुके. कमला दर्द के मारे रोने लगी।मैंने अब थोड़ा इन्तजार करने के बाद लंड को अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे चुत में चिकनापन आने लगा और लंड को अन्दर-बाहर होने में आसानी होने लगी। मैंने एक अब बार अपना पूरा लंड बाहर निकाल के फिर से जोर का धक्का मारा.

20-25 शॉट लगाने के बाद मेरे लंड से माल निकलना शुरू हो गया था, मैंने लंड को सुहाना के मुंह पर कर दिया, सुहाना लंड को अपने मुंह में लेकर मेरे रस को पीने लगी.

वो अपने कमरे में है, जाओ मिल लो तब तक मैं कुछ खाने को लाती हूँ।टीना- अरे नहीं आंटी. आप ही साथ नहीं दोगे तो मज़ा नहीं आएगा।मैंने कहा- बहुत कड़वी लगती है।तो उनमें से अजय बोला- बियर ला देता हूँ. बाकि की रानियों को भी इस नाम का जैसे जैसे पता लगता गया उन्होंने भी मुझे रेखा रंडी बोलना शुरू कर दिया.

उसकी हर कोशिश नाकाम थी, अब मैं उसकी चूत को सहलाने लगा, काफी देर के बाद वो भी अपना सहयोग देने लगी तो मैंने सोचा कि मामला जम गया. ये धधकती आग कैसे मिटेगी मेरे राजा।गोपाल- डार्लिंग रात भर काम करता हूँ. मम्मी ने कहा- क्या ख्याल है?तो यश ने कहा- आज रात मैं तेरी गांड मारना चाहता हूँ.

नमस्ते।मैंने उस लड़के को देखा और चलने लगा।भाईसाहब जोर से हँसे, बोले- इसे सुकांत आपके पास लाएगा।ये कह कर वे मुस्कराए.

बीएफ वीडियो पिक्चर एचडी: उसने अंडरवियर नहीं पहन रखी थी, शायद मुझे चोदने की तैयारी में उसने अपनी अण्डरवीयर पहले ही उतार दी थी।उसका 6 इंच का लण्ड मेरे सामने खड़ा हो गया, उसका लण्ड काफ़ी मोटा था. मैंने भी कहा- कहो तो रात को आपके नाम कर दूं लेकिन मेरे साथ चुदाई में लौड़ा चूसना पड़ेगा.

काफी देर तक ऐसा ही चलता रहा, अब उसकी सिसकी तेज आवाज में बदलने लगी- रवीश मेरा निकलने वाला है!मुझे भी लगा मेरा कुछ फंसा सा बाहर निकलना चाहता है. सुनील की किस्मत कितनी अच्छी है।इसी तरह की बातें चल रही थीं कि मैंने देखा कि दुशाली का पल्लू नीचे गिर गया था। उसकी आँखें बंद थीं और उसके चुचे उसके ब्लाउज से बाहर निकल कर भागने की फिराक में लग रहे थे. पर आज जो हुआ उसके बाद मैं आपसे नजर नहीं मिला पाऊँगी इसलिए मैं अब यहाँ जॉब नहीं कर सकती.

बाबा अब बस कीजिए ना!अब गुप्ता जी ने लंड को बाहर निकाला, उनके लंड पर संजू की चूत का पानी की सफेद परत चढ़ी हुई थी। ऐसा लग रहा था कि बड़ा वाला बेलन दही के कटोरे से बाहर निकाला हुआ हो।अब गुप्ता जी खुद पीठ के बल लेट गए और संजू को अपने ऊपर ले लिया। चुदाई की कमान अब संजू के हाथ में थी। संजना में भी न जाने इतनी ताकत कैसे आ गई.

वो अपने समय पर निकली और जैसे ही उसने मुझे देखा उसके चेहरे पर घबराहट के चिन्ह उभरे और उसने झट से अपना सिर झुका लिया और स्पीड से साइकिल चलाती हुई निकल गई. कहाँ है मेरी जान आज उसका कॉलेज नहीं है क्या?ममता- पता नहीं क्यों नहीं उठी. सुबह उठा तो मेरे सर से वासना का भूत उतर चुका था, अब मुझे चाची के साथ किये गए बेशर्मी से मुझे शर्म महसूस हो रहा था, मैं उठ कर बाथरूम गया और तैयार होकर क्लिनिक चला गया.