बीएफ सनी सनी

छवि स्रोत,वीडियो में सेक्सी डॉट कॉम

तस्वीर का शीर्षक ,

देहाती आंटी सेक्स वीडियो: बीएफ सनी सनी, तो मैं वहां पर काम कर रहा था तभी वहां लैब का काम संभालने वाली मैम आईं और मेरे से इधर उधर की बात करने लगीं.

पंजाबी सेक्सी दीजिए

हम दोनों एक दूसरे की बांहों में लिपटे हुए कुछ मिनट तक ऐसे ही चूमते रहे. सोनाक्षी की नंगी फोटो सेक्सीउसने मुझसे कहा कि वो मुझसे सिर्फ बातचीत तक ही फ्रेंडशिप रखेगी लेकिन साथ में ही उसने मुझे दिल्ली आने का भी न्योता दिया.

इतने में अनवर अपना लंड पूरा खींच लिया और जोर से पकड़ कर मेरी जांघों को फैलाकर अपने लंड का सुपाड़ा मेरी चूत में जैसे ही फंसाया, मैं कस के लिपट गई. एक्स एक्स एक्स सेक्सी मूवी पिक्चरमैं जैसे ही थोड़ा हाथ ढीला करता, वो अपने हाथ से जोर से दबा देती और जैसे ही मैं थोड़ा धीरे से चूसता, वो मेरे बाल खींच कर चुची पर मेरा मुँह दबा देती, जैसे पूरी चुची को मेरे मुँह में ही डाल देगी.

उनकी धमकियों से एक टाइम तो मेरी गांड फट गई थी, लेकिन फाइनली वो मान गईं.बीएफ सनी सनी: मुझे कुछ देर दर्द हुआ पर गांड का कोरापन खत्म होते ही मुझे बहुत अच्छा लगने लगा था.

जब नेहा ने फिर से अपनी जांघों को भींचा, तो अब मेरा हाथ उसकी जांघों के बीच, उसकी कमसिन मुनिया पर जम गया था.तभी मैंने उनको मेरी तरफ देखते हुए पाया और फिर वो नीचे घर में जाने लगीं.

भाभी और देवर की सेक्सी फिल्म हिंदी - बीएफ सनी सनी

मैंने विंडो ग्लास खोल दिया तो जगत अंकल बहाने से बोलते हुए मेरे कान में धीरे से बोले- ये दादा साहब तुम्हें बहुत पसंद करते हैं.मैं भी कोई कच्ची खिलाड़ी तो थी नहीं इसलिए समझते हुए मुझे देर नहीं लगी कि वह जरूर अपने लंड को हाथ में लेकर सहला रहा है या फिर मुट्ठ मार रहा है.

इसके साथ ही मेरी योनि की फाँकें अलग-अलग होकर सर को आक्रमण के लिए आमंत्रित करने लगीं. बीएफ सनी सनी एकता की फ्रेंड ने चौंक कर कहा- क्या बात कर रही है यार?उसने बोला- हां यार … आठ इंच का लंड है साले का!सब मेरी तरफ बड़ी हैरानी से देख रही थीं.

मैंने तुम्हारी नाभि को जैसे चूमना शुरू किया, वैसे ही तुम अपनी क़मर उठाने लगीं.

बीएफ सनी सनी?

इसलिए मैं खुद ही राहुल को अपनी चुदाई करने के लिए बुला लेती हूँ। वह आता है और मेरी चुदाई करके चला जाता है. मैं उसे रोकते हुए बोली- नहीं यहां नहीं, केवल रूम में करना … और ऐसे नहीं करना. फुल जोश में आकर उन्होंने मेरी पूरी स्कर्ट को पहले ऊपर उठाया और जैसे ऊपर किया तो नीचे सीधे मेरी चूत दिखने लगी तो बोले- अरे तूने तो पैंटी पहनी ही नहीं है वन्द्या!फिर जैसे उनको कुछ याद आ गया हो, वो बोले- अच्छा छत्तू ने बताया था कि वह तुम्हें चोद रहा था.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… गयी मैं तो!मैं भी उसके मम्मों को दबा कर जोर जोर से गांड उठाते हुए चूत चुदाई करते जा रहा था. मेरे तनकर खड़े लंड पर धीरे धीरे अपनी चूत दबाकर लंड को अन्दर घुसा रही थीं. आज मेरा नौकर छुट्टी पे था तो मुझे खाना बाहर खाना था लेकिन बाहर तो बारिश हो रही थी.

उस वक्त मैं कहीं व्यस्त था इसलिए मैंने उस फोन कॉल पर ध्यान नहीं दिया. फिर जब भाभी से रहा नहीं गया तो उसने मुझे नीचे पटक लिया और मेरे अंडरवियर को नीचे खींच कर एकदम से मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया. सुबह में फिर से एक बार मस्ती भरी चुदाई हुई और मैं फिर हॉस्टल में वापस चली गई.

जबकि दो साल से चुदाई न होने पर मैंने तो यही सोच लिया था कि अब मेरी चुदाई कभी नहीं होगी, पर इतने अच्छे लौड़े से चुद कर तो मुझे मानो जन्नत मिल गई थी. मैं फिर से गर्म होने लगा और मेरा लंड फिर से जोश में आ गया, मैंने जल्दी से मनीषा के सारे कपड़े उतार दिए और उसने भी मेरे सारे कपड़े उतार के मुझे नंगा कर दिया.

कुछ ही देर में मैं नीचे से जोर से चूतड़ उठा उठा कर सुनीता की चूत में झटके मारने लगा.

मैं हमेशा यही सोचता कि कैसे मैं इसकी गांड को अपने हाथों से भींचू और मसलूँ … कब इसके मस्त छोटे पतले पतले और गुलाबी होंठ चूस लूँ.

पांच मिनट तक मेरी चुत चोदने के बाद फिर से अपना लंड मेरी गांड में डालकर मेरी गांड मारने लगे. मेरे साथ सेक्स करने के बाद उसे एक संतुष्टि मिली, जो उसके चहेरे पर दिखाई दे रही थी. हुआ यूं पूजा का मेरे पास फोन आया कि मैं शहर से बाहर जा रही हूँ और मुझे लौटने में बहुत देर हो जाएगी, आपको मुझे रिसीव करने आना है.

मैं टॉयलेट जाकर आया और एक नज़र सारे बच्चों पर से घुमाई, सब के सब घोड़े बेच कर सो रहे थे. जब वो होटल वगैरह जाती थी तो अपने पति से कोई बहाना बना देती थी कि उसे आज अपनी किसी सहेली के घर जाना है या बहन के घर जाना है. अभी मेरा दिमाग बिल्कुल सुन्न था, चारों तरफ से गाड़ी बंद कर दिया था.

मैं फिर उसके दूध पीने लगा और साथ ही साथ दूसरे हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा। रोजी फिर से सिसकारियां लेने लगी.

पड़ोसी होने की वजह से वो अक्सर हमारे घर आया करती थी और मेरी बहू से भी उसकी अच्छी खासी मित्रता हो गयी थी. कुछ जिन्हें रास्ते में उल्टी हुई और कुछ जेंट्स जिनको ड्रिंक्स ज़्यादा हो गयी, वो लोग बस में आराम कर रहे थे. इस वक्त मैंने उसके लंड को अपने मुँह से निकाल दिया था और बस अपनी चूत चटवाने का मजा ले रही थी.

पति ने मेरी गांड में उंगली करना शुरू की, जिससे मुझे शुरूआती दर्द हुआ, पर तेल से सनी उंगली ने मेरी गांड में अन्दर तक जाकर मुझे गुदगुदी करना शुरू कर दी. उस दिन सिंगल रूम खाली नहीं था तो मजबूरी में मैंने डबल्स वाला रूम लिया था. तुमने ही उससे मेरी चुदाई के लिए हां कहा था, तुम्हारे कहने पर मैंने पहली बार उससे चूत चुदवाई थी.

भाभी के जालीदार ब्लाउज के नीचे उसकी लाल रंग की ब्रा की भी झलक मुझे दिखाई दे रही थी.

अच्छा जी … खानी है तो चुपचाप ये दवाई खा लो … नहीं तो चिल्लाकर अभी मम्मी को बुला लूँगी. शाम के वक्त चाची का मेरी माँ के पास फोन आता है और वह उनको बताती है कि वह घर पर अकेली हैं.

बीएफ सनी सनी मेरे हाथ से भी ज्यादा मोटा और करीब 10 से 12 इंच से भी लंबा लंड फनफना रहा था. मैं चाय पीने लगा तो अनिल ने कहा- अगर तुझे सब पता चल गया है, तो ठीक है … अब तो तुम्हें पता ही है कि मैं तेरी बहन को तेरे सामने ही चोदूँगा.

बीएफ सनी सनी मैं- ज्यादा मजा किस के सथ चुदवाने में आया … मेरे साथ या चाचा के साथ. मेरी बहन अब पूरी तरह गर्म हो चुकी थी, उसने लपक कर मेरा लौड़ा पकड़ लिया और उसे चाटने लगी.

मैंने उसको अपनी गोद में बिठा लिया, जिससे उसकी गांड मेरे लंड पर आ गई.

सेक्सी बीएफ हिंदी देहाती लड़की

एक रात वो पीने बैठे थे, तो उन्होंने थोड़ी अधिक पी ली और इस वजह मुझसे और दिनों की अपेक्षा अधिक बातें करने लगे. तेरे चाचा का तो पतला सा है!यह कहते ही वो जमीन पर बैठ कर मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. उसने जब ये बात मुझसे कही, तो मैं समझ गई कि इसको अपनी बहन की चुदाई की आदत के बारे में सब पता है.

अब वह मेरी जीन्स को खोलने की कोशिश करने लगे, जिसमे मैंने उनकी मदद करते हुए अपनी जीन्स का बटन और चैन खोल दी. फिर मैं भाभी को ड्राइंगरूम में ले गया और सोफे पर खड़ी करके उसकी चुदाई की. प्रिया से ये बर्दाश्त नहीं हुआ … उसने दोनों हाथों से मेरे सिर को पकड़कर अपनी गर्दन पर से हटा दिया और मेरे चेहरे को घुमाकर मेरे होंठों को चूसने लगी.

जेठ- नीतू मुझे तुम्हारी मुनिया को चाटना है, उसके बाद ही मैं तुम्हें चोदूंगा.

चुत के रस का स्वाद तो मैं काफी बार ले चुका था मगर आज अपने ही वीर्य को स्वाद लेना ये कुछ अजीब सा लग रहा था. वह बोली कि मैं तुम्हारी दूसरी शर्त मान लूंगी … पर पहली शर्त नहीं हो सकती. मैंने अपनी बीवी और साली को बुर की दरार और फैलाने के लिए बोला और अपने लंड का सुपारा कुछ आगे दबाया.

मैं दूध लाने जा रहा था, तो भाभी जी ने बोला- आशिक, कहाँ जा रहे हो?तो मैं बोला- भाभी जी दूध लाने!भाभी जी बोलीं- क्या करोगे, मैं चाय बना रही हूँ. सलोनीकेचेहरेकोदेखकरलगरहाथाकिवोकुछसोचरहीहै,कुछकश्मकशमेंहै किक्याकरे औरक्यानकरे!फिरएकगहरीसाँसलीऔरउठ करबाथरूम चलीगई. उसने कह दिया कि उसको पति के सामने कुछ बहाना बनाना पड़ेगा उसके बाद ही चल पाएगी.

मेरी गांड चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी जरूर बताना और प्लीज़ मुझसे कोई उम्मीद न करना. मैं उस पल को एहसास को कभी नहीं भूलना चाहता जब मैंने धीरे धीरे अपने लंड को आंटी की चूत की गहराई में उतारा था; मानो मैंने लंड चूत में नहीं किसी गर्म भट्टी में झोंक दिया हो!जैसे ही मैंने लंड अंदर किया, एक आह चाची के मुख से निकली जिसमें सुकून भरा दर्द था.

मैं भी कहां पीछे रहने वाला था, मैं उसके कुर्ते के अन्दर हाथ डाल कर उसकी चुच्ची जोर के मसलने लगा. मैंने उसकी तरफ खिसकते हुए अपने होंठ आगे बढ़ा दिए तो उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिये और किस करने लगी. लंड क्या घुसा, स्वीटी बड़ी जोर से चिल्लाई- आइइइई मर … गईइ रॉकी … साले मेरी चूत फट गईइ …वो जोर जोर से रोने लगी.

इस प्यार से सील तोड़ने वाली चुदाई की कहानी पर आ मुझे मेल लिख सकते हैं.

उन्होंने मुझसे बोला- ले … मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ और थोड़ा पहले दो चार मिनट अपने मुँह से चूस ले. तभी अचानक नंगा नामित पीछे को मुड़ गया और मॉम उसका लम्बा लंड देखते रह गईं. एक बार तो मैं सोच रहा था कि अपने लंड को वंदना की गांड में डाल दूँ, पर सभी के होने के कारण मैं ऐसा नहीं कर पाया.

मैंने कहा- अब जब तुम्हें याद दिला दिया है तो फिर गिफ्ट कौन देगा?वह बोली- बता क्या चाहिए तुझे?मैंने कहा- सपना तुम्हारी ननद के जैसी ही जरूरत मेरी भी है. रवि बोले- कितने साल की हो?मैं बोली- लड़की से उम्र नहीं पूछते, बस यह जान लीजिए कि अभी मैंने इसी साल जवानी की क्लास पास की है.

मैं बहुत दिनों से सरिता को चोदने की फिराक में था क्योंकि मुझे पता था कि लंड की प्यास तो उसे भी होगी. कुछ देर बाद भाभी फिर से गरम ही उठीं और उन्होंने मेरा लंड चूसना शुरू कर दिया. वो मेरी इस चुदाई से बहुत खुश हो गयी और दोबारा मिलने का वादा लेकर जाने दिया.

बंगाली बीएफ व्हिडिओ सेक्सी

मैंने पिंकी की ओर देखते हुए मुझे सौंपा हुआ काम फिर से चालू कर दिया.

मैंने दिन में हिम्मत करके अपनी बहन मीनाक्षी से पूछा कि रात को 2 घंटे तक अनिल तुम्हारे कमरे में दरवाजे बंद करके क्या कर रहा था?इस पर मीनाक्षी थोड़ी चकित हुई और बोली- नहीं तो … अनिल मेरे कमरे में क्यों आएगा … उसके आने का मतलब ही नहीं है … तुम पागल हो क्या?मैंने कहा- नाटक मत कर मीनाक्षी, मुझे सब पता चल गया है कि तेरी और अनिल की सैटिंग है. उस दिन मैंने घर का सारा काम खत्म किया और शाम के करीब 7 बजे जाने की तैयारी कर ली. मैम ने अपना मेरे लंड पे रख दिया और वे पैंट के ऊपर से ही मेरा लंड मसलने लगीं.

तो वो घोड़ी बन गई और मैंने लगातार धक्के मारते हुए और 10 मिनट तक उसको चोदा. मैंने लंड को मुँह से बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन उनके मज़बूत हाथ के दबाव के आगे मेरी एक ना चली और मैं घबराकर तड़पने लगा. सेक्सी पिक्चर वीडियो द्वाराउसका लंड घुसते ही मुझे ऐसा लगा, मानो किसी ने गर्म सरिया डाल दिया हो.

दस मिनट की लंड चुसाई के बाद मेरा लंड भी झड़ने वाला था, मैंने बोला- कहां गिराऊं?तो बोलीं- मेरी मांग भर दो. मैंने अपने दोस्त को आवाज दी, जब कोई जवाब नहीं आया, तो मैं उसे ढूंढते उसके घर घुस गया.

वो ड्राइवर को बोला- तुम गाड़ी सीधे बंगले तरफ ले लो और पीछे क्या हो रहा है, उसे भूल जाओ. वो मेरा लंड ऐसे हिला रही थी, जैसे उसने ज़िंदगी में पहली बार लंड पकड़ा हो. सलोनी का बदन बुरी तरह से जल रहा था इसलिए उस लार को भाप बनकर उड़ने में पल भी नहीं लगा.

इस छोटी सी मुलाक़ात के बाद हम दोनों ने अपने मोबाइल नम्बर्स एक्सचेंज कर लिए थे. मैंने आगे को सरकते हुए मामा जी के लंड का गुलाबी मोटा सुपाड़ा अपने मुँह में भर लिया. मेरी जैसे ही खिड़की और दरवाजे पर नजर गई तो मैंने जल्दी से अपने देवर को अपने से दूर किया और देवर से रूम की खिड़की और दरवाजा बंद करने के लिए बोला.

फिर मैंने उससे किस मांगा, तो उसने जैसे ही मेरे तरफ मुँह किया, मैंने मेरी जीभ उसके मुँह में डाल दी और नीचे के होंठ काटने लगा.

प्रियंका ने इतना बड़ा लंड आज तक देखा ही नहीं था तो उसका डरना और घबराना ज़ाहिर सी बात थी क्योंकि मेरा लंड भी 5. वो कुछ ही देर बाद बुरी तरह गांड पीछे करके अनिल का लंड ले रही थी और मेरा भी लंड पूरी मस्ती से चूसने लगी थी.

चाची ने फिर मुझसे मिन्नत की- रोहन बेटा, अब तो चोद दे मुझे … मैं बहुत दिनों से प्यासी हूँ।इतना तड़पाने के बाद मैंने चाची को अब और ज्यादा परेशान करना ठीक नहीं समझा. मैंने अब कसके अनवर को बांहों में पकड़ लिया और अपनी कमर आगे पीछे करने लगी. इतनी देर में नुपूर दो बार पानी छोड़ चुकी थी, लेकिन मेरा पानी निकलने का नाम नहीं ले रहा था.

उसने देखा कि गाड़ी में हमारे अलावा कोई नहीं है तो उसने मुझे एक ज़ोर का हग किया और बोली- तुम्हें सबकी कितनी फिकर है. क्योंकि जो डिल्डो आपकी मीता की चूत में पूरा फँसा हुआ था, वो काफ़ी मोटा था और इसलिए जब मालती ने उसको निकाला तो चूत का मुँह पूरी तरह से खुल चुका था. फिर सोचा कि आज इसको पटा ही लूं …मैंने बोला- एक बात बोलूं?तो बोली- हां बोलो.

बीएफ सनी सनी मैडम ने मुस्कुराते हुए कहा- हां सर, स्कूल काफ़ी अच्छा है और स्टाफ के लोग भी काफ़ी अच्छे हैं, काफ़ी मिलनसार भी हैं सभी. जैसा कि हम लोग खेत के पास ही थे, इसलिए आवाज़ से नानाजी की नींद खुल गयी, वो खड़े हुए और खांसते हुए उन्होंने अपनी टॉर्च चालू कर दी.

नई लड़की का बीएफ

कहां जा रही हो अभी?” मैंने उसका हाथ पकड़कर उसे फिर से बिस्तर पर खींचते हुए कहा. नहाने के लगभग दो घंटे बाद मैंने मेरी आगे की बालकॉनी से नीचे देखा, लता बाहर खड़ी थी. सब पता है मुझे … पिछले दो दिन से देख रही हूँ … वो रोज रात को अपने बिस्तर से गायब रहती है …” नेहा ने बनावटी सा गुस्सा दिखाते हुए कहा.

उसको शादी में जाने तो नहीं मिला, लेकिन उसी वजह से शादी वाले दिन खाली घर में उसी के बिस्तर पर उसकी धुआंधार चुदाई का मजा हम दोनों ने दो बार उठाया. मैंने फिर कमरे में रखी क्रीम की डब्बी से बहुत सारी क्रीम निकालकर उसकी गांड पे लगा दी और फिर मैंने अपने लन्ड पे थूक लगा कर गांड की छेद पे रखा और थोड़ा झुककर अंदर की और जोर लगाया तो मेरा आधा लन्ड सरक सरक कर मेरी बहन की गांड में चला गया. हिंदी सेक्सी वीडियो 15 साल की लड़कीफिर बिना जल्दबाजी किये पहले एक बार चुम्बन दिया और अपने होंठ को हटा लिया.

मैं- अह्ह … अमित अह्ह!फिर उसने अचानक से मेरी चूची को मुंह में ले लिया और झटके मारते हुए उसका माल मेरी चूत में गिरने लगा.

रूपा गई और उसने दरवाजा खोलकर रमेश को अन्दर लिया और झट से दरवाजा बंद कर दिया. हम दोनों ने कपड़े पहने और उसने मेरे लंड को भी एक कपड़े से साफ कर दिया.

सर्दियों के दिन थे, इस वजह से हमने उसे वहीं रुकने के लिए कहा और वह मान गया. साथ ही वो अपने मुँह से कुछ बड़बड़ाते हुए कहने लगी- आह … जानू चाट के खा जाओ. काम करते हुए और गायों को पानी पिलाते हुए उनके हाथ पानी से काफी ठंडे हो चुके थे.

अब हम दोनों एक दूसरे के सामने नंगे थे मैं स्वीटी के मम्मों को चूसने लगा.

अब्दुल ने मेरी तरफ देखते हुए बोला कि बता हम चारों का लंड एक साथ ले लेगी?मैं कुछ नहीं बोली, पहली बार किसी दूसरे धर्म वाले को मैं इस तरह से अपने पास देख रही थी. भाभी मादक स्वर में कराह रही थीं- आआह … ओह … देवर जी आज मुझे अपनी बीवी बना लो!फिर मैं भाभी के दूध पीने लगा. उसने एक लम्बी सांस लेते हुए मेरे हाथों को पकड़ लिया और उसी अवस्था में बैठी रही.

देसी गांव की सेक्सी भाभीवो पूरे मस्त हो कर मेरा सुपारा चाट रही थी और गले के अंतिम छोर तक लंड चूस रही थी. कुछ देर में मैंने सोनू की गर्दन पर हाथ रखकर उसे कहा कि अपनी चूचियां बेड पर रख लो.

बीएफ पिक्चर सहित

मैंने उसके लंड को हाथ से छूकर देखा तो मेरे बदन में बिजली सी दौड़ गई और राहुल ने मुझे फिर से अपनी बांहों में भर लिया. सारा परिवार घर की छत पे इकट्ठा हो गया था और पतंगबाजी का मज़ा लेने लगा. मेरा पानी आने वाला था तो मैंने पूछा- कहाँ निकालूँ?वो बोली- मेरी चूत में ही निकाल दो!एक मिनट बाद मेरे लण्ड ने पानी छोड़ दिया और पूरा पानी उसकी चूत में भर दिया और लण्ड को अंदर ही डाल कर रखा।अब हम दोनों की साँसें तेज़-तेज़ चल रही थीं और मैं भाभी के ऊपर पड़ा हुआ हाँफ रहा था, उसकी चूत मारकर मैं शांत हो गया था। मैंने फिर से उसके होठों को किस करना शुरू किया लेकिन वो मुझसे ज्यादा थकी हुई लग रही थी.

करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद भाबी जी का और मेरा पानी साथ में ही निकल गया. सुनीता का पति एक प्राइवेट नौकरी करता था, जो एक दिन रात को घर में रहता था और अगले दिन की रात में नौकरी पर रहता था. फिर रवि ने चलती गाड़ी में अपने पूरे कपड़े खोल दिए और राज अंकल से बोले कि यार कहीं कॉर्नर में हो सके तो गाड़ी लगा लेना या ऐसे चलाना कि कोई देखे ना.

मैंने जेठ जी के लंड को अपने मुँह से बाहर निकाला और उनसे बोली- बस बहुत हो गयी चुसाई … जेठ जी, अब सहन नहीं होता … अब डाल भी दो आप अपना लंड मेरी चुत में. अंकल मौके को गंवाना नहीं चाहते थे, उन्होंने एक करारा झटका दे मारा और अपना आधे से ज्यादा लंड मेरी बीवी की चूत में उतार दिया. थोड़ी देर बाद स्कूटी की आवाज़ सुनाई दी, मैं समझ गया कि भाबी आ गयी है.

इतने में गैब्रियल अपना लंड गांड से निकाल कर बाकी रस मेरे कूल्हों में और कमर में रगड़ते हुए गिरा दिया. फिर उन्होंने मुझे पकड़ा और बीच वाली लंबी सीट पर वहीं मुझे पकड़ कर पूरा लिटा दिया.

मैंने वंदना की पैंटी को फाड़कर निकाल दी और वंदना की जांघों को चाटने लगा.

जैसे जैसे उनका लंड मेरी मुनिया में घुस रहा था, वैसे ही मेरी चुत खुलने लगी थी. कंडोम लगाकर सेक्सी कैसे करते हैंमेरा दिल अन्दर से रो रहा था, पर शरीर बाहर से सन्नी के साथ चिपका था. बंगाली सेक्सी विडियो हिंदी मेंचूत को हर तरह से बजाने के बाद एक बार मेरे पति को मेरी गांड की चुदाई करनी थी, लेकिन उस वक्त मेरी गांड का उद्घाटन नहीं हुआ था, जिस वजह से मेरी गांड एकदम टाईट थी. फिर मैंने अपना ध्यान हटाते हुए कहा- आइये आइये मैडम … कैसा लगा हमारा स्कूल और हमारा स्टाफ … प्लीज़ बैठिए और ज़रा अपना परिचय भी दीजिए.

उधर नेहा आंटी निशा को अपने बेटे के साथ देखकर और उत्तेजित हो रही थीं.

ये सब दीदी के साथ ही करना!” प्रिया ने झूठमूठ का गुस्सा दिखाते हुए कहा, मगर मुझे हटाने की कोशिश या फिर मेरा विरोध उसने बिल्कुल भी नहीं किया. तभी नामित ने अपनी जेब से दो गोलियां निकाली और मेरे पानी के गिलास में डाल दीं. चलो वो सब भूल जाओ … जो हो गया सो हो गया … अब एक पोर्न फिल्म देखते हैं, मैं यह फ़िल्म खास राकेश के पास से लाई हूँ.

अब सलवार का नाड़ा टूटते ही वो बेजान सी होकर तुरन्त नीचे गिर गयी और उसके घुटनों में जाकर फंस गयी, जिसे प्रिया ने अब पूरा ही उतारकर नीचे फर्श पर ऐसे फेंक दिया, जैसे कि वो उसकी सबसे बड़ी दुश्मन हो. मुझे समझते देर नहीं लगी कि ये उसी क्रीम की खुशबू थी, जिससे प्रिया ने अपनी चुत के बालों को साफ़ किया था. उसकी चूत पर थोड़े थोड़े बाल थे और मादक मदन रस टपक रहा था, जिसे मैंने चाट चाट के साफ कर दिया.

हिंदी बीएफ इमेज

मुझे खुशी हुई कि अब बेचारी खुशी से रहेगी और मैंने भी उससे बात करना बंद कर दिया. हम इसी तरह ऑटो, सी-बीच और जहां भी मौका मिलता किसिंग और चुची दबाने या लंड सहलवाने का कार्यक्रम शुरू कर देते. मैं बहुत दिनों से सरिता को चोदने की फिराक में था क्योंकि मुझे पता था कि लंड की प्यास तो उसे भी होगी.

”खाना परोसने के दौरान मेरा सारा ध्यान कौशल्या की बड़े बड़े रसीले स्तनों पर ही था.

मैंने और दोस्त ने मिल कर ट्रेन की टिकेट्स तो कर ली पर बस का इंतजाम यहाँ से करना सम्भव नहीं हो रहा था तो मैंने मेरे पूना के दोस्त से मदद ली और एक अच्छी 32 सीटर बस बुक कर दी.

चूंकि हम दोनों पड़ोसी थे, इसलिए जब मेरी सहेली अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ कहीं घूमने निकल जाती थी, तो मैं उसके भाई से बात कर लेती थी. वो मेरी चीखों को अनसुनी करते हुए मेरी गांड को चोदे जा रहा थाथोड़ी देर तक मेरी गांड चोदते चोदते उसकी स्पीड अचानक बढ़ गयी और उसने अपने सारा माल मेरी गांड में छोड़ दिया. पापा बेटी सेक्सीमैंने अपने अँगूठे और उंगली से चुत की फांकों को थोड़ा सा फैलाकर देखा तो उसकी मुनिया की दरार बंद थी, उसे देखकर तो यही लग रहा था कि ये अभी तक कुंवारी होगी … या फिर नहीं भी हो … क्यूंकि उसकी बहन नेहा की चुत भी तो मुझे ऐसी ही लगी थी.

प्रमिला ने भी अपने अनुभव को साबित किया और झट से मेरे मूसल लंड को मुँह में लेके अन्दर बाहर करने लगी. फिर मैंने अपनी जीभ को नुकीला करके घुमाते हुए उसकी चूत में डाला तो वो सिहर उठी और ‘इसस्सह इसस्स स्स आहौ ऊउउफफफ्फ़. अब बेचारी नीना को अपनी बेइज्जती लगी कि वह प्रशांत के लौड़े का पानी नहीं निकाल सकी.

रमीज तुमने एक नंबर की रंडी बुलाई है, इसकी तो मैं अब गांड बजा के ही रहूंगा. उन्हें शायद यकीन नहीं आ रहा था कि मैं उनके दरवाजे पर उनके सामने खड़ा हूँ.

उस रात करण पाल ने अनु को दो बार और रगड़ रगड़ कर चोदा, उसकी गांड भी मारी थी.

उसके मुँह से एक आह निकली और उसने मेरे लंड को अपनी चूत में जज्ब कर लिया. मुझे ट्रेन से जाना था तो थर्ड एसी का वेटिंग का टिकट ले लिया, लेकिन वो कन्फर्म नहीं हुआ. तुम क्या सोचते थे कि मैं तुम्हारा अच्छा दोस्त हूं या तुम्हारा कोई भाई हूं, जो तुम्हारी ऐसे ही मदद कर रहा हूं.

मल्लिका सेक्सी वो मेरे लंड को मुट्ठी में पकड़ कर आगे पीछे करने लगी और बोली- कितना बड़ा है तुम्हारा!मैंने कहा- तभी तो मजा आता है … एक बार अन्दर ले लोगी, फिर बड़ा नहीं लगेगा. सभी से मुलाकात के बाद मैं मेरे दोस्त के साथ घर में काम करने लगा कि तभी सामने से आ रही एक सुंदर गोरी औरत पर मेरी नजर पड़ी.

दो मिनट बाद मैंने वहीं ज़ीनत को जमीन पर लेटा कर अपना लंड उसकी चूत के दरवाजे पर रख दिया. मैं जिस दिन हॉस्टल में दाखिला लेने के लिए घर से निकला, उस दिन पापा की जरूरी मीटिंग थी. साली कुतिया आंटी ने अपना मुँह खोल दिया और बोलीं- मुझे प्यास लगी है.

रोमांटिक सेक्सी बीएफ हिंदी

ये सब समझते हैं, ये दोनों भी तुझे मस्त चोदेंगे … तू इन्हें बहुत पसंद आ गई है. मैंने प्रिया का हाथ पकड़ कर उसे अब बिस्तर पर खींच लिया और वो भी लहराती हुई मेरे सीने से चिपक गयी. लंड डालने के बाद मैंने उसके घुटनों को मोड़ दिया और उसकी दोनों छातियों को पकड़कर भींचने लगा.

शायद सुलेखा‌ भाभी फिर से उत्तेजित होने लगी थीं इसलिए उनकी सांसें भी अब गहरी हो गयी थीं. कुछ ही देर में मैं नीचे से जोर से चूतड़ उठा उठा कर सुनीता की चूत में झटके मारने लगा.

साथ ही लंड हल्के हल्के मधुर ध्वनि के साथ पच्च पच्च अन्दर बाहर हो रहा था.

मेरे शैतानी दिमाग ने काम किया और मैंने अपनी जेब से चॉकलेट निकालकर अपने लंड पर मल दी. आनन्द भी मेरे जैसे उसकी चूत में उंगली डालकर उसका पानी निकाल रहा था. सुबह 7 बजे जब आँख खुली तो देखा हम दोनों पूरे नंगे एक दूसरे से लिपटे सो रहे थे, मैंने उसे हिलाया और उसके होंठों को चूमते हुए कहा कि सुबह हो गयी.

इस बात को सुनकर मेरे प्यारे पति ने अपना लंड मेरी चुत से निकाल दिया. मुझे भी अब आदत हो गयी थी और ऐसे ही मैं भी अपने देवर से थोड़ा घुल मिल गयी हूँ. इससे भाबी और ज्यादा उत्तेजित हो कर मुझे गालियां देने लगी- मुदित भोसड़ी के … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मादरचोद चोद डाल मुझे … बुझा इस कुतिया की प्यास आह कुत्ते बहनचोद … आ न आह!उसकी गालियों ने मुझे और उत्तेजित कर दिया.

मैंने कहा- यार, पहली बार इसकी बुर में लंड जा रहा है और मेरा लंड भी बहुत तगड़ा है, यह दर्द तो महसूस करेगी ही … इसकी चीख भी निकल सकती है.

बीएफ सनी सनी: मैंने उसकी तरफ देखा तो बोली- यार मुझे रात में जरा फैल कर सोने की आदत है. उसके बाद उसने मेरी ब्रा और पेंटी को भी निकाल दिया और मैं उसके सामने नंगी हो गयी.

मैं भी अपना लंड उसकी सेवा में हाजिर कर देता था और उसकी चूत में वीर्य की धार मारकर उसको गोली खिला देता था ताकि गर्भ धारण जैसी कोई समस्या में न तो वह फंसे और न ही मेरे ऊपर कोई आफत आए. मुझे तुम लोग अच्छे लगते हो, तो मैं बिल्कुल आपके घर आऊंगा … तुम्हें कोई परेशानी है … तो बताओ?मैंने तुरंत डरते हुए कहा- ठीक है. घर आते आते कुछ देर हो गयी थी और वो भी नशे में था, सो मैंने मदन से कहा कि आज रात तुम यहीं सो जाओ और अपने घर पर फोन करके बोल दो कि तुम आज अपने किसी दोस्त के घर में सो रहे हो.

फिर मैंने वंदना की गांड में दो उंगली डाल कर छेद को चौड़ा किया और फिर अपने लंड को पकड़ कर वंदना की गांड में लगा दिया.

मैं उन्हें अपनी छाती से जमकर रगड़ रहा था और उनके कान में बड़बड़ाये जा रहा था- मैं आपके बिना नहीं रह पाऊंगा!फिर मैंने अचानक से उनकी गर्दन पर किस कर दिया जिसकी वजह से वो एकदम मचल गई और उसके बाद मैंने अपने हाथ उनके बूब्स पर घुमाने शुरू कर दिए. मैंने इस बीच उसका गाउन उतारा और उसकी गदराई हुई जवानी को देख देख कर मस्त होने लगा. एक गिलास दूध से मेरा मन नहीं भरा तो मैंने एक गिलास का और आर्डर दिया.