हैदराबादी बीएफ

छवि स्रोत,एचडी सेक्सी वीडियो हिंदी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

मासूम मूवी: हैदराबादी बीएफ, फिर 12 बजे तक इसी तरह अन्दर बाहर करता रहा, लेकिन इस बीच मैं एक बार भी नहीं झड़ी.

अंग्रेजी सेक्सी वीडियो चोदने वाली

हाय मर जाऊंगा … आआह्ह आआह्ह!रानी ने मेरे होंठ चूसते हुए फुसफुसाते हुए कहा- राजे, माँ के लौड़े … अभी देती हूँ तेरे संड मुसण्ड को इनाम … तूने अमृत पीकर अपनी रानी को बहुत खुश किया … अब से तू अपनी बाली रानी का गुलाम पिल्ला बन के रहेगा. चाची की सेक्सी वीडियो चुदाईअब चुदाई की कमान मैंने पुनः संभाल ली और उसकी रिसती चूत में आड़े तिरछे शॉट्स लगाता हुआ उसे चोदने लगा.

इधर मैं भी उसकी दोनों चूचियों से खेल रहा था।जब उसने काफी देर मेरा लंड चूस लिया तो मैंने उसे अपनी गोदी में उठाया और बेड पर लेटा दिया और उसकी दोनों जांघों के बीच बैठकर उसकी चूत पर लंड सेट किया. सेक्सी पिक्चर हिंदी नंगी चुदाईरात की ठंडी ठंडी हवाएं मेरे नंगे कूल्हों से टकरा कर मुझे और ज्यादा उत्तेजित कर रही थी,मैंने अपने होंठ उसके होंठों से अलग करते हुए उसको अलग करते हुए उसको बड़े ही शरारती ढंग में पूछा- ड्यूटी से फ्री हो गए क्या? तो तुम्हारे लिए भी एक पेग बना दूं!उसने कहा- हां शालिनी जी, अब तो आज की रात शराब और शवाब दोनों को मजा लेना चाहता हूं.

मन करता कि उसको पटक-पटक चोद दूं लेकिन मैं नीचे लेटा हुआ था और जूली को अपने मन की हसरत पूरी करने का पूरा मौका दे रहा था.हैदराबादी बीएफ: मेरी बात पर हीना ने कहा- तो क्या हुआ सर … आप मेरे अन्दर ही समा जाइए न … बाकी मैं संभाल लूंगी.

क्या उसका भी पहली बार है?मीता- हांमैं- उसने कभी किस करते हुए तुम्हारी चूची दबाई है और तुमने उसका लंड पकड़ा है?मैंने जानबूझ कर एक कदम आगे जाकर लंड चूची जैसे शब्द बोले.मैंने भाभी को अपनी तरफ खींचा और उनके बोबे दबाते हुए उनको किस करने लगा.

ममता सोनी ना सेक्सी वीडियो - हैदराबादी बीएफ

प्रतिभा ने आगे बताया कि मैंने वैभव से कहा- पर ये रिटर्न गिफ्ट तुम्हें खुशी ही देगी.कुछ ही देर बाद मेरा भी पानी निकला और मैंने भी उसके मुंह में सारा माल भर दिया.

जब भी मैं उसके घर जाता तो हमारे बीच में किस होती और ऊपर से ही एक दूसरे को सहला लेते थे. हैदराबादी बीएफ मैं उसको पागलों की तरह किस कर रहा था और वो मेरे बालों को पकड़ कर नोंच रही थी.

अब तक की मेरी चुदाई की कहानी में आपने पढ़ा था कि थॉमस मुझे चोदने के लिए मेरे साथ चूमाचाटी करने लगा था.

हैदराबादी बीएफ?

तो वह राजी हो गई।फिर वहां से मैं उसे पास ही के नलबन पार्क में ले गया. आपने ड्यूटी लगवाने से पहले एक बार भी नहीं सोचा?वो अहसान सा करते हुए बोले- मैं इसमें क्या कर सकता हूं सोनल जी. ये सुनकर मैंने शरमाते हुए भार्गव को हाथ पर एक चपेट लगाई और हम सब हंसी मज़ाक करने लगे.

आंटी कुछ दूर जाने तक अंकल ने मुश्किल से खुद को कंट्रोल किया, लेकिन फिर उन्होंने मुझे ऐसा चोदा कि पूछो मत. नील- चिंता मत करो जान, इतना तो मैंने भी इस आदमी को समझ लिया है। कुछ भी गलत नहीं होगा, अब मैं फोन रख रहा हूं. हम्म … ठीक है अंकल जी!”सोनम बेटा, अगर तेरे पास टाइम हो तो कभी आना मुझसे मिलने!”जी अंकल जी, आ तो जाऊँगी मैं … पर डर भी बहुत लगता है, कोई देख लेगा तो?” मैंने हिचकिचाते हुए कहा.

इतनी देर से मैं उसको हिला रही थी मगर उसमें वो पहले जैसा कड़कपन और सख्ती महसूस नहीं हो रही थी. वसुन्धरा जी …”राज … एक मिनट! आप मुझे बिना ‘जी’ के नहीं बुला सकते? मैं भी तो आप को बिना ‘जी’ के बुला रहीं हूँ. इधर आने का कारण ये था कि उसकी रूम की निगरानी हो सकती थी कि पूरी रात किधर रही.

जब मां चलती हैं, तो उनकी मस्तानी चाल देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा. हालांकि मानसी की चुदाई करके मैं कुंवारी चूत को भी भोग चुका था लेकिन हेतल की शादीशुदा चूत को चोद कर मुझे अलग ही अहसास हुआ.

पर मुझे यह नहीं पता था कि मेरी इस पोजीशन का अंकल को फायदा ही होने वाला है.

इसी दौरान मेरे एक बॉयफ्रेंड ने मुझको अन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़वाई.

इस उम्र में कुछ लड़कियां बहक जाती हैं तो कुछ अपना टाइम ठीक ठाक निकाल लेती हैं. कहीं कुछ उल्टा सीधा हो गया तो … और मुझे अभी तक उस पर विश्वास भी नहीं हो पाया है. कुछ देर बाद लड़की ने अपनी पैंटी भी एक झटके में निकाल दी और बैड पर चौड़ी टांगें करके लेट गई.

मैंने उसको थोड़ी देर इंतज़ार करने को कहा क्योंकि भैया बिल्कुल साइड में थे. थोड़ी देर में भाभी पानी लेकर आईं और इस बार वे बड़ी कामुक नज़रों से मुझे देख रही थीं. डॉक्टर के जाने के बाद सारा मेरे ऊपर आ गयी और मैंने उसे चोदा उसके बाद उसके अंदर पानी छोड़ा और तीनों सो गए.

मैं कुछ नहीं बोला, फिर मैं पता नहीं क्या सोच कर वहां से उठकर अपने घर आ गया.

मेरे इस रवैये से मौसी ने एक बार फिर मेरी तरफ देखा और हल्के से मुस्कुरा दीं. जैसे ही प्रियंका को मालूम हुई कि हम लोग मुम्बई लैंड करेंगे, तो प्रियंका और जीजू दोनों बहुत जिद करने लगे कि हम लोग उसके यहां आएं. राजेश ने अपनी उंगली को बाहर निकाला और फिर अपने मुँह में उंगली भरकर चटकारे लेते हुए बोले- वाह क्या स्वाद है तुम्हारी चूत के रस का.

अब मैं कैपरी और टाईट टॉप, जो कि स्लीब लैस हुआ करता था, पहनने लगी थी. साना भाभी अभी तक कुंवारी चूत लिये ही घूम रही थी इसलिए उसको मेरे लंड से चुदने की ख्वाहिश हो रही थी. धीरे-धीरे सुमन भी सेक्स कहानी पढ़ने लगी, पर खुशी पढ़ती थी या नहीं … ये पता ही नहीं चला.

”क्या करोगे, चूत मारोगे?”उनके मुँह से साफ़ चूत मारने की बात सुनकर मैं भी खुल गया- नहीं … आपकी गांड भी मारूंगा और आपके मुँह को भी चोदूँगा.

उन बातों को बीते हुए आठ साल हो गये थे मगर आज जब जीजा जी फिर से मुझे बाइक पर बिठाकर ले जाने की बात कर रहे थे तो वही पुरानी यादें फिर से ताजा हो गईं. तुम दोनों तो एक दूसरे में इतना खोये हुए थे कि कुछ होश ही नहीं था तुम्हें!फिर वो जूली को पकड़ कर वॉशरूम में ले गयी और उसे नहलाया.

हैदराबादी बीएफ तो पता नहीं फिर नौकरी मिलती है या नहीं? और घर की हालत भी ठीक नहीं है. मैंने हंसते हुए उसकी बात को टाल दिया, मैंने कहा- उनमें कोई भी लड़की आपके जैसी नहीं है.

हैदराबादी बीएफ मैं किस पर विश्वास कर सकती हूँ?मेरे मुंह से निकल गया- मुझ पर!चांदनी- तुम पागल हो गये हो क्या? मेरे पति तुम्हारे इतने अच्छे दोस्त हैं और तुम मेरे बारे में ऐसा सोच रहे हो? भाभी ने गुस्से भरे लहजे में कहा।मेरी बोलती वहीं पर बंद हो गई. उसने भाई की तरफ देखने के बाद पीछे अपनी माँ को देख आश्वस्त हो मेरा मोबाईल अपने हाथ में ले कर नंबर टाइप कर के एक मिस काल कर दी.

उम्मीद करती हूं कि आगे भी तुम मेरी प्यास बुझाते रहोगे।मैंने वादा किया कि जब उसे जरूरत होगी मैं हाजिर हो जाऊंगा.

ब्लू पिक्चर हिंदी देसी

”सोनम बेटा, तू रियली बहुत ही सुन्दर है तन से भी और मन से भी!”सच्ची में अंकल जी?” मैंने खुश होकर कहा. उसने मेरा चेहरा ऊपर उठाया और मुझे मेरे हाथ पर प्यार से एक चुम्बन लिया. मैंने अपना मोबाइल पर्स से निकाला … और देखा तो मोबाइल की बैटरी बची ही नहीं थी.

न चाहते हुए भी मैंने ना जाने क्यूँ राज का लन्ड मुँह में ले लिया और चूसने लगी. उस दिन मैं घर से ऑफिस की यूनीफॉर्म सफ़ेद रंग की शर्ट और नीले रंग की पैन्ट पहन के निकली तो बाहर बहुत तेज़ बारिश हो रही थी. कहिये! मंज़ूर?”तत्काल वसुन्धरा के चेहरे पर एक मुस्कान आ गयी और उसने अपनी स्वप्निलिप्त आधी खुली आँखों सहित हाँ” में सर हिला कर हामी भरी.

मोनी ने अपना मुँह दूसरी तरफ किया हुआ था और उसने अपनी जांघों को भी जोरों से भींचा हुआ था इसलिये मैं अपने लंड को अब और ज्यादा अन्दर तो कर नहीं सकता था क्योंकि मोनी के नितम्ब अब मेरी जांघों से लग गये थे। मैंने उसकी जांघों को खोलने की भी कोशिश की, मगर वो शायद उन्हें खोलने को तैयार नहीं थी इसलिये मैंने भी ज्यादा जबरदस्ती‌ नहीं की और वैसे ही मेरा जितना लंड मोनी‌ की चूत में घुसा हुआ था.

जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया कि रेखा ने तुरन्त ही अपनी कमर को उचकाना शुरू कर दिया. पर एक दिन मेरी किस्मत बदल गई, एक शाम को 8 बजे मैं घर जाने के लिए बस स्टॉप पर खड़ी थी, पर कुछ साधन मिल नहीं रहा था. उन्होंने मेरे गांड की फांकों को पूरा खोला और टांगों को भी जितना दूर कर सकते थे … किया.

इस पोज़ में लेटकर लंड सीधा कंचन की चुत में डाल दिया। और चाची जो कंचन के पैरों की तरफ टांगें फैला कर बैठी हुई थी, उनकी चुत चाटने लगा. फिर मैं उसके मम्मों को छोड़कर उसके पेट पे चुम्बन करने लगा, उसकी नाभि में जीभ डाल के घुमाने लगा. फोन पर ही हमने सेक्स की बातें की।और जब भी छुट्टियाँ शुरू होती थी तो हम साथ आकर अपनी सेक्स की प्यास बुझाते थे।तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी चाची और गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स की कहानी? मुझे जरूर बताएं।और मुझसे गलती से कोई भूल चूक हुई है तो माफ करना। मेरी कहानी जरूर पढ़ते रहना। और अगर आपको सेक्स स्टोरी पोस्ट करने में कोई परेशानी या झिझक हो रही हो तो मेरे मेल पर बात करें, मैं आपकी मदद जरूर करूँगा.

मैं उसके पैरों के बीच में बैठा और उसके चूतड़ों को किस करने लगा, जो बहुत गोरे थे. शुरुआत में तो वह एकदम शांत थी लेकिन दो-चार मिनट के बाद ही वह अजीब-अजीब आवाजें निकाल रही थी- उम्म याह उम्म याह ओह इइइइइ आईईईई ओ मां!और मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर पूरी ताकत से दबाने लगी.

जब मैं छत पे गया और लाइट फेंक कर मारी, तो देखा की वहां तो दीदी कम भाभी, मेरा मतलब चाँदनी भाभी खड़ी थीं. और यह लैला भी अपनी जवानी की भूख को अब और सहन करने के पक्ष में बिल्कुल नहीं लगती है।ज … जया जी … आप ब … बहादुर औरत हैं आपको हौसला नहीं छोड़ना चाहिए. जब पढ़ा कर आया, तो देखा कि आज तो अर्चना भी कुछ अलग ही कयामत ढाने पर तुली है.

इसीलिए मैंने तुमसे बिना पूछे ही तुम्हारा पूरा बीज अपने अन्दर ले लिया.

मैंने अब शीना को अपने गले से लगा लिया था और उसकी चूत में झड़ रहा था. मैंने कई बार देखा है कि उन्हें जो भी पहली बार देखता है, वो अपना लंड सहलाने लगता है. हम दोनों को एक दूसरे के उत्तेजक अंगों से खेलते हुए काफी देर हो चुकी थी.

पानी को एक किनारे रखकर वो चटाई बिछाकर उस पर लेट गयी और मैं कॉटन उठाकर उसकी चूत से रिमूवर साफ करने लगा. मैंने झट से अपने दोनों हाथों से उनके पैंटी में घुस रहे हाथ को पकड़ लिया.

होंठों के चुम्बन में हमारी जीभें एक दूसरे की जीभों से खेल खेल रही थीं. उसने तुरंत ही जूली के मुंह के साथ ही अपना मुंह भी सटा कर मेरे लंड के सुपाड़े की तरफ वीर्य की आस में लगा लिया. मैंने उस कामवाली बाई से कहा- आपा … इतनी रात को घर जा रही हो क्या?वह बोली- हां बशीर, अब मुझे निकलना चाहिए.

நாட்டுப்புற செக்ஸ்

सतीश से चुद रही मुस्कान भी सिसकारियाँ निकाल रही थी।तभी मैंने देखा मोनू और प्रियंका ने कुछ बात की और दोनों बैड से नीचे उतर कर मुस्कान के पास चले गये। प्रियंका ने सतीश से घोड़ी बन कर चुद रही मुस्कान की गांड को हाथों से खोला और उसे ध्यान से देखने लगी।मैंने और सीमा ने उसे ऐसा करते देख लिया.

उसने मुझे बताया कि वो रेड कलर की पोलो में है, जो कि मेरे थोड़ी दूरी पर पार्क थी. रितेश भी मौके की नज़ाकत देख कर तेज़ी से धक्के लगाने लगा और करीब 10-15 मिनट की चुदाई के बाद दोनों झड़ गए. मैंने शलाका की कमर को कस कर अपनी तरफ खींचते हुए अपने से चिपकाने की कोशिश की और मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया.

मुझे उसकी गांड चाटने में आसानी हो, इसलिए वो थोड़ा झुकी और अच्छे से गांड का उठान मेरी तरफ कर दिया. पता नहीं दूसरे ही वक्त पर शीना ने क्या सोचा और वह खड़ी होकर अपनी चूत को मेरे लंड के ऊपर डाल कर बैठ गई. 87 की सेक्सीपायल की शरारत मेरे मन को अब भी गुदगुदा रही थी, पर मुझे प्रतिभा की कमर को छूने का अहसास भी बेचैन कर गया था.

मुझे आज भाभी की चूत को चूसने में मजा आ रहा था और दूसरी तरफ भाभी मेरे लंड को चूस कर मुझे और भी मजा दे रही थी. ये कहकर मैंने उनको बिस्तर पर एक बार फिर लेटाया और उनके जिस्म से चिपकते हुए उनके माल को अपने हाथों से साफ करने लगी.

मनीषा बेडरूम में छिपी हुई थी, जागृति दरवाजे के पीछे और मैं बाथरूम में छिपा हुआ था. मगर चाची के चूचों को चूसते ही वो मुझे चोदना शुरू कर देती थी और मैं उनकी चूत के रसपान से वंचित रह जाता था. उस दिन के बाद मैं टेंशन से अंकल के सामने जाने से भी कतरा रही थी, पर कुछ भी करो, ये सब इतनी जल्दी नहीं भुलाया जा सकता है.

ई … ई … ई … ई … ई!!!!” वसुन्धरा के मुंह से एक तीखी सिसकारी निकल गयी और अपनी उंगलियां मेरे मुंह से निकालने की कोशिश करने लगी. हाय! मेरा नाम गौरव है। अन्तर्वासना पर बहुत सारी कहानियां पढ़ने के बाद मैं आपको अपनी पहली कहानी बताने जा रहा हूं। चूंकि मेरी यह पहली कहानी है इसलिए कहानी को लिखते समय अगर मुझसे कोई गलती हो जाये कृपया मुझे माफ करें. दो मिनट मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेटा रहा, गर्दन, आँखों, कानों पर चुंबन लेने लगा.

उसके बाद मैंने साना को नीचे लेटा दिया और उसकी चूत पर लंड को रख कर रगड़ने लगा.

कुछ ही देर में मुझे राहत मिलने लगी- आआह्ह्ह चोद दे हरामी मादरचोद कुत्ते हां … मैं तेरी रांड हूँ और तू रंडी की औलाद चोद मादरचोद … आआह्ह्ह … उफफ …मेरी हालत ऐसे होने लगी, जैसे 10-15 लोग मिल के मेरा जबर चोदन कर रहे हों. आह्ह्हह माँआआआ आआ … अर्जुन उफ्फ … जोर से चोदो मेरे राजा … फाड़ दो मेरी चूत को … आह्ह्हह उम्म्म आह्ह्ह!” मेरी ऐसी आवाजों से कमरा भर गया.

करीब 5-7 मिनट की मेहनत के बाद मौसी ने एकाएक मेरा हाथ अपनी चूत पर दबा कर पकड़ लिया और एक धीमी आह के साथ उनकी चूत बह गयी. मैंने उसकी तरफ देखा, तो पाया कि उसकी आंखें बंद थीं और वो उंगली चोदन के पूरा मजा ले रही थी. थोड़ी देर बाद उसने मेरी चूत को पौंछा और फिर से अपना लंड मेरी कसकती चूत में घुसेड़ दिया। मैं चुदती रही और पवन मुझे चोदता रहा। फिर तो सारी रात मेरे इंजन में उसका ऑयल भरता रहा।सुबह मैं जल्दी उठ गई.

मेरी परमिशन मिलते ही उन्होंने मेरी पैंटी खींच कर मेरे पैरों से उतार भी दी, मैंने शर्म से अपनी जांघें भींच लीं. पर मुझे 10 मिनट बाद निकलना था और मुझे वो 10 मिनट 10 घंटा लग रहे थे. इसलिये रायपुर से आगे हमें बस से जाना पड़ा और ग्यारह बजे के करीब हम‌ मोनी के घर पहुँच पाये।मोनी के घर के बारे में क्या बताऊं मैं … वो घर तो क्या था, बस चार दिवारी के अन्दर एक कमरा ही था जिसमें सामान के नाम पर बस सोने के‌ लिये एक बेड पड़ा था.

हैदराबादी बीएफ मैं उठा, तो थोड़ा गुस्सा करते हुए नम्रता बोली- तुम्हारी गांड के अन्दर मूत तो गया ही नहीं. पर क्या ये मुझे खुशी का दीवाना समझती है?या जिगोलो?और इसे ये पता कैसे चला होगा?इन सवालों को मैंने जेहन में ही किसी कोने पर दबा दिया और मैं नीचे स्टॉल पर भोजन करने चला गया.

এক্স এক্স এক্স এক্স এক্স এক্স এক্স

ऐसा कहना मेरी सभी सीमाओं को लांघना था, लेकिन नम्रता मुझसे दो कदम आगे थी. इसलिए मैंने और मेरे पति ने तय किया कि हम लोग कुछ दिनों के लिए मुम्बई में ही रहेंगे. नील- चिंता मत करो जान, इतना तो मैंने भी इस आदमी को समझ लिया है। कुछ भी गलत नहीं होगा, अब मैं फोन रख रहा हूं.

शादी होने पर मैंने तरह-तरह के सपने देखे थे मगर जैसा सोचा था वैसा कुछ नहीं हुआ. तत्काल वसुन्धरा की आँखें नशीली होने लगी और एक सिहरन की लहर वसुन्धरा के पूरे शरीर में से गुज़र गयी. एक्स सेक्सी वीडियो हॉटदो मिनट मैं उसके ऊपर ऐसे ही लेटा रहा, गर्दन, आँखों, कानों पर चुंबन लेने लगा.

हरकेश मेरे पास आया और एक ग्लास उठाकर पैग पिया और अपने कपड़े पहनने लगा।मैंने पूछा- क्या हुआ भाई? कहां चल दिए?तो उसने कहा- बस भाई, आज के लिए काफी है.

मैंने पूछा कि सब कहां गए, तो उसने कहा कि सब लोग मार्केट गए हुए हैं. बात आगे बढ़ने से पहले ही मैं बोला- मां पिताजी कहां हैं?वो बोलीं- अभी आ जाएंगे, वो कुछ काम के लिए बाहर गए हैं.

मुझे अब वेदना और सुख दोनों का अहसास हो रहा था और धीरे धीरे मजा आने लगा था. जिस बॉक्स पर मैं सोता था, वो बॉक्स और चाची का बिस्तर बगल बगल में था और चाची एकदम बॉक्स के बगल में लेटती थी. मुझे आज भाभी की चूत को चूसने में मजा आ रहा था और दूसरी तरफ भाभी मेरे लंड को चूस कर मुझे और भी मजा दे रही थी.

उनका मेरे अंगों को छेड़ने से चुत पर से मेरा कंट्रोल छूट रहा था, मुझे तो डर रहा कि कहीं सुसु पैंटी में ही ना निकल जाये.

मैंने दस लम्बे लम्बे शॉट मार कर उसकी बुर में ही सारा वीर्य डाल दिया. उस गोरी के होंठ जैसे ही मेरे लंड पर लगे तो मुझे जन्नत महसूस हुई। वो कभी लंड को चूस रही थी तो कभी मेरी गोलियों को चूस रही थी. उस समय मुझमें नई नई जवानी भर रही थी और मेरी कामुकता अपने चरम सीमा पर थी.

रिया सेन का सेक्सी वीडियोमैं सोच रहा था कि जिस औरत से मेरी ठीक ढंग से बात भी नहीं होती उससे ऐसे गंभीर मामले के बारे में कैसे बात करूंगा. साथ ही साढ़े छह इंच लम्बे मस्त लंड का मालिक हूँ … और सेक्स में बहुत देर तक एक्टिव रहता हूँ.

न्यूड सेक्स

फिर मैंने उसके गाल पर एक किस किया और अपने लंड को शलाका की बुर में धीरे-धीरे घुसाने लगा. धीरे धीरे हम एक दूसरे से फ़्लर्ट करने लगे और फ़ोन पर भी बहुत बातें करने लगे. लगभग दस मिनट चूसने के बाद थॉमस का शरीर अकड़ने लगा और जिसका मुझे इंतज़ार था, वही हुआ.

जब मेरी चूत झड़ गयी, तब मैंने अपने चड्डी में लगे उस वीर्य को चाट लिया और फिर वही पैंटी पहन ली. नम्रता बोली- जान मैं इस सुख को पाने के लिये पूरी जिंदगी तुम्हारे साथ नंगी जंगल में भी रह सकती हूं. मैं डरते हुए उठ कर बाहर गया तो देखा कि शिखा किचन में चाय बना रही थी.

आज रांची में बहुत ठंड है यार … हां भाई गर्म होते हैं … चल सुट्टा मारते हैं. तभी वो मेरे सीने पर आकर लन्ड को स्तनों के बीच से होते हुए मेरे गले तक लाने लगा. मीता- मैं अभी वर्जिन हूँ, आपको लगता है कि मुझे ये सब अभी इस उम्र में एन्जॉय करना चाहिए?मैं- देखो यदि तुमको लगता है कि तुमको सेक्स की जरूरत है, तो जरूर करो.

कसैला सा स्वाद लिए हुए उसकी गांड को मेरा मन छोड़ने को कर नहीं रहा था. वंश कार चला रहा था, मैं उसके साइड में बैठी, उसकी जांघों में हाथ फेर रही थी.

फिर रंजना ने मेरा लिंग पकड़ा और तेजी के साथ सहलाने लगी। उसके हाथों द्वारा मेरे लिंग को सहलाने से मुझे और जोश आने लगा.

उसने मेरी एक ना सुनते अपना लंड मेरी गांड में लगा दिया और डालने की कोशिश करने लगा. हॉट सुहागरात सेक्सी वीडियोजब भी मैं किसी अच्छे दिखने वाले लड़के की तरफ देखता था तो मेरा ध्यान सबसे पहले उसकी पैंट की ओर चला जाता था. इंडियन सेक्सी वीडियो कॉलेज गर्लनम्रता एक उत्तेजक आवाज के साथ बोली- मेरे जानू, कैसी लगी महक?पति- मत पूछो मेरी जान, तुमने अब तक इस मादक महक को छुपाकर रखा था. ऊपरी गर्दन की त्वचा से धीरे-धीरे अपनी जीभ नीचे … और नीचे उतारता चला गया.

फिर हम दोनों ने कपड़े पहन के थोड़ी देर आराम किया और शाम होते ही दीपाली अपने घर लौट गयी.

और दोनों खिलखिला के हंस पड़े।उपिंदर ने मम्मी को बांहों में भर के होंठों का भरपूर चुम्बन लिया- मालिनी, आज खुशी का दिन है। अभी थोड़ी देर में अंशु और मैं हम दोनों तेरे दामाद बन जाएंगे। कामिनी तैयार हो रही है. ये बता इस वक्त तेरे घर में कौन कौन है?पजामे का नाड़ा बांधते हुए मैंने कहा- कोई नहीं है. उस दिन अंकल जी से मिल कर घर लौटी तो सारे दिन दिल धक् धक् करता रहा कि अब क्या करूं क्या न करूं.

चूंकि मानसी मुझे एडल्ट चैट साइट पर मिली थी, तो हमारी ओपन सेक्स पर ही बात हुई और हम दोनों ने अपनी पहली ही सेक्स चैट में अपने आपको ठंडा कर लिया. मैं भी समझ रहा था कि मौसी क्या चाहती हैं, पर मुझे मौसी की चुत चाटना था इसलिए मैं अपने घुटनों पर बैठ गया. रितेश को थोड़ा अजीब लगा, लेकिन फिर भी उसने अपने साथ कुछ नींद की गोलियां रख लीं.

इंडेन huge all porn

अब मैंने फिर से मौसी का हाथ पकड़ पर अपना लंड उनके हाथ में पकड़ा दिया. भैया ने मुझे मिशिनरी पोजीशन में कुछ दस मिनट तक आराम से धीरे प्यार से जोर से धक्कों से किस करते हुए, मेरे बोबे काटते हुए अच्छे से चोदा और चरम सीमा पर आने से पहले मेरा लंड हिलाने लगे. मैं यूनिवर्सिटी से दो पीरियड छोड़कर 10:30 बजे निकल लिया और ठीक 11:00 बजे घर पर पहुंच गया.

मैंने एक पॉर्न मूवी में देखा था और बहुत दिनों से चाह रही थी कि कोई मेरे साथ ऐसे ही चुदाई करे.

वह जब अपने मामा के घर जाने लगी तो मेरी माँ ने उसे रुकने के लिए कह दिया.

जब भाभी आ गईं और मैं कुछ नहीं बोला, तो भाभी ने पूछा- क्या हुआ?मैंने अपना ध्यान उनकी चुचियों से हटा कर भाभी से बोला- पानी चाहिये. इधर मेरा लंड भी टाईट होने लगा और आगे-पीछे होने के कारण सुपाड़े की चमड़ी चादर से रगड़ खा रही थी. हॉट सेक्सी मूवी दिखाओअचानक बाली रानी ने जीभ की नोक सुपारी के छेद में घुसाने की कोशिश की.

वो मुझे कहने लगी- पापा, आप यह क्या कर रहे हैं?मैंने कहा- वही जो एक मर्द और औरत आपस में करते हैं. फिर कुछ देर के बाद जब उसको राहत हुई तो शलाका खुद ही अपनी कमर को आगे पीछे करने लगी. घर जाने के बाद मैंने अपनी चूत को साफ़ किया और उसके बाद नहा कर मैं सो गयी.

गिलास भर कर उसे रिया के हाथ में दे दिया और बोला- ये ले रंडी, पी ले इस अमृत को सारा, तेरा सारा खाना हजम हो जायेगा. ”” राज! आप को सारी बात पता है क्या?”डिटेल में तो नहीं … पर इतना पता है कि सालों पहले आपके रिश्ते की बात चली थी कहीं और आपको वो लड़का बेहद पसंद भी था लेकिन आपके पापा को आर्मी ऑफिसर दामाद ही चाहिए था, इसलिए वहां आपका रिश्ता नहीं हो सका.

हम दोनों ने एक दूसरे को किस करना चालू किया और मैं चाची की चुचियों को मसलने लगा.

मेरे एक रिश्तेदार के घर एक हफ्ते के बाद शादी पड़ी थी, जिसका कार्ड कल घर में आया था और उनकी तरफ से पूरी फैमिली को उसमें शामिल होने के लिये खास तौर पर मुझे फोन किया था. मगर दीपिका की सहेली संजना को हम दोनों पर सौ प्रतिशत शक था और वह हमेशा मुझे देखकर मुस्करा कर लाइन देती रहती थी. उसने एकदम से खड़े लंड को अपने मुँह में ले लिया और लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

सनी लियोन सेक्सी सेक्सी फोटो करीब 5-7 मिनट की मेहनत के बाद मौसी ने एकाएक मेरा हाथ अपनी चूत पर दबा कर पकड़ लिया और एक धीमी आह के साथ उनकी चूत बह गयी. उसने भाई की तरफ देखने के बाद पीछे अपनी माँ को देख आश्वस्त हो मेरा मोबाईल अपने हाथ में ले कर नंबर टाइप कर के एक मिस काल कर दी.

मैं उसके शरीर पर जैसे लता पेड़ से चिपकती है वैसे चिपक चुकी थी और हमारे होंठों के बीच केवल कुछ सेंटीमीटर का फासला था. राधिका अपनी चूत में उंगली कर रही थी, वो बोली- ओके … सबसे पहले किसकी सील खोलोगे, अपनी बहन का या अपनी साली की?मैं- किसी की भी खोल दूंगा. लेकिन एक बात तो पक्की थी कि वो राधिका नहीं थी, क्योंकि राधिका को मैं अच्छे से पहचानता था.

सेक्सी बफ इंग्लिश में

उसके बाद जब मुझे आभास हो गया कि अनिता पूरी तरह से गर्म हो चुकी है तो मैंने फिर से उसकी चूत चाटी और अपने लन्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा. मैं बयां नहीं कर सकता उस वक्त चाची के होंठों का रस पीने में कितना मजा आ रहा था. मेरे पति के दोस्त ने मुझे नंगी करके मेरे बूब्स पर चुम्बन की बौछार कर दी.

सर्दियों की बारिश में सुनसान जगह पर दिन ढलने के बाद किसी अनजान नवयुवक से चोदन … आह सोच कर ही चूत एक बार झड़ जाती है. कुछ देर लंड चलाने के बाद उन्होंने खुद को मेरे नीचे लिटाया और खुद मुझे लंड पर हिलने को कहा.

दीपाली- तो तुझे टाइम कब है? और हम लोग कहां मिलेंगे?मैं- आज का लेक्चर बहुत बोरिंग था, तो कल हम छुट्टी कर लेते हैं … चलेगा तुम्हें?दीपाली- हां ठीक है … कल तेरे घर पर मिलेंगे.

मेरी कुछ सहेलियां पढ़ाई और जॉब करने के लिए मेरे शहर में किराये से कमरा लेकर रहती थीं. मेरे बाल साइड में कर के उन्होंने अपने होंठ मेरी गर्दन पर रखे और हाथों से मेरी पीठ को सहलाने लगे. नेहा का टॉप उसकी बड़ी बड़ी छातियों के ऊपर से तना हुआ था जिसमें से उसका नंगा सुंदर चिकना पेट दिखाई दे रहा था.

मैं उससे थोड़ी गुस्से में बोली कि अब तुम यहां से बाहर जाओ, नहीं तो मैं मधु को बुलाती हूँ. मैंने दूध की धार अपने लंड के ऊपर छोड़ना शुरू किया, मेरी धार ठीक उसके मुँह के अन्दर जा रही थी. उसने मेरी छाती की घुंडियों चूस चूस कर लाल कर दिया और मेरे निप्पलों पर बाईट करके निशान भी डाल दिए.

फिर मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में दे दी और उसने भी अपनी जीभ मेरे मुँह में दे दी.

हैदराबादी बीएफ: उनके पास जाकर मैंने उनसे अपनी समस्या के बारे में बताया कि मुझे यहां पर इतनी दूर स्कूल में आने में समस्या हो रही है. मैं भी सुमन के पीछे से उससे लिपट गया और उसके मोटे मोटे चूतड़ों को दोनों हाथों से सहलाते हुए उसकी चड्डी नीचे सरका दी.

फिर उसे चुदाई का मजा आने लगा तो …अब आगे की सेक्सी साली की जवानी की चुदाई स्टोरी:बस हो गया न यार … दर्द तो पहली बार होता ही है साली डार्लिंग!” मैंने उनके आंसू अपने होंठों से चूम लिए और फिर उनके पैर जो मैंने अपनी कोहनियों से लॉक कर रखे थे उन्हें रिलीज कर दिया. इसलिए अब मैं भी जल्दी करने में मूड में आ गया और तुरंत अपना पैंट और चड्डी नीचे करके लंड बाहर निकाल लिया. मैंने भी शर्मा सर जैसे तगड़े मर्द के साथ पूरी तरह एन्जॉय करने की सोच ली.

इस पिचकारी की धार शायद कुछ ज्यादा ही तेज थी कि संजना को खांसी आने लगी.

पर एक दो कदम आगे गयी थी कि नीचे पड़ी स्कर्ट में मेरा पैर फंसा और मैं बेड पर गिर गई. फिर काफी प्रशंसकों की रिक्वेस्ट पर मैं अपनी ये पुरानी चुदाई की कहानी पोस्ट कर रही हूँ. हालांकि मेरी सहेली डॉली ने भी मेरे मम्मे कई बार दबाये थे, चूसे भी थे पर ऐसा सुख मुझे पहली बार ही मिल रहा था.