जवान लड़कियों के बीएफ

छवि स्रोत,बनारस का सेक्सी बीएफ वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

जानवर वाली bf: जवान लड़कियों के बीएफ, मैंने जीजा का लंड अपने मुंह से बाहर निकाल लिया तो जीजा बोले- 2 मिनट रुक जाओ नहीं तो मैं तुम्हारे मुंह में ही पानी निकाल दूंगा अभी.

बीएफ सेक्सी पिक्चर बीएफ बीएफ बीएफ

इससे पहले कि मैं अपनी नई कहानी शुरू करूँ मैं आप सबसे कहना चाहती हूं कि जो भी मैं यहाँ पर कहानियों के माध्यम से बताती हूँ वह सब मेरे साथ असल जिन्दगी में ही घटित हो चुका होता है. बीएफ गर्ल पिक्चरएक-दो बार उन्होंने पास आने के लिए बोला भी, पर मुझे उनको तरसाने में मजा आ रहा था.

अब जब भी उनकी पत्नी घर से बाहर होती है भैया मुझे चोदने के लिए बुला लेते हैं. बीएफ सेक्सी गर्ल पिक्चरफिर मैंने उससे पूछा- दूध पीयोगी?पहले वह ना बोली, फिर अपने आप बोल दी- थोड़ा सा ले लूंगीवो किचन में जाने लगी तो मैंने कहा- आप रुको, मैं ला देता हूँ.

उनकी पत्नी की उम्र करीब 36 साल लेकिन उनको देख कर कोई नहीं कह सकता कि उनकी उम्र 36 है.जवान लड़कियों के बीएफ: दोस्तो, यारों के महायाराना के आगाज़ की पहली चुदाई की शुरूआत हो चुकी है.

अब चुदाई की कमान मैंने पुनः संभाल ली और उसकी रिसती चूत में आड़े तिरछे शॉट्स लगाता हुआ उसे चोदने लगा.‘आआआहह … उउइइ म्म्म्माआ!’आज मेरी ज़िंदगी में ऐसा पहली बार हो रहा था कि मैं एक साथ दो लोगों के साथ मज़े कर रही थी.

ब्लू बीएफ भेजिए - जवान लड़कियों के बीएफ

जब मैं आगे की तरफ नहीं हो पाया तो वो पलट कर सीधी हो गई और मैं उसके ऊपर आ गया.मैं बोली- ओह हो मेरे लाल … मेरे लिये भी मलाई बचा के रखना … मैं भी तेरी गांड को ऐसे ही चाटूंगी.

फिर मैं उसके मम्मों को छोड़कर उसके पेट पे चुम्बन करने लगा, उसकी नाभि में जीभ डाल के घुमाने लगा. जवान लड़कियों के बीएफ मैंने अपनी पैंट से रुमाल निकाल कर उसकी बुर को अच्छी तरह से पौंछते हुए साफ किया और शलाका को अपनी गांड आगे-पीछे करते हुए घपा-घप धक्का देकर चोदने लगा.

वाकई में इंडियन लौड़े बहुत दमदार होते हैं, मुझे बहुत मजा आया तुम्हारे लंड से चुदते हुए.

जवान लड़कियों के बीएफ?

मेरे कपड़ों को सही जगह रखा और हम एक बार फिर बहुत लंबे चुम्बन में डूब गए. चूची देख नहीं रहे हो, खरबूजे जैसी बड़ी हो चुकी हैं और मेरे निप्पल भी तुम्हारी गांड को भी टच नहीं कर पाएंगे. मैं आनन्द से सागर में डूबने लगी और मेरी चूत पनिया गई और रस बहाने लगी.

दीपाली- नहीं … मुझे सिर्फ चुत ही चटवाना है, क्योंकि मेरी वर्जिनिटी सिर्फ मेरे बॉयफ्रेंड की है. खाना खाने के दौरान मैं नोटिस कर रहा था कि खुशी प्रतिभा और सुमन से ठीक से बात नहीं कर रही थी. हीना को अब जो आनन्द मिल रहा था, उसका बखान उसके अलावा और किसी के वश में नहीं हो सकता था.

फिर मैंने अदिति किए बाल साइड में किये और उसकी गर्दन के पीछे चूमने लगा. कुछ देर बाद मैंने उसकी सलवार खोली और लंड को चूत पर लगा कर धकापेल चुदाई शुरू कर दी. मैं आपको ऐसी मस्त सेक्स कहानी सुनाने वाला हूँ, जिसे आप सुनकर काफी आनंदित हो जाएंगे.

एक-दो बार उन्होंने पास आने के लिए बोला भी, पर मुझे उनको तरसाने में मजा आ रहा था. मैं हंस कर बोली- क्या मैं पहले सुन्दर नहीं थी?वंश बोला- वो बात नहीं है मम्मी.

इतनी बात सुनने के बाद मैं उसके निप्पल को मुँह में भरकर चूसने लगा, तो मुझे हटाते हुए बोली- दो मिनट रूको.

मेरी दोनों बेगमें पूरी गर्म हो गयी, दोनों की चूत पूरी गीली हो गयी, दोनों ने अपना चूत रस मेरे लण्ड पर लगा कर उसे चिकना कर दिया.

बहन की चिकनी चूत पाव रोटी की तरह उभर कर मेरे सामने आ गयी। कहानी में पढ़ा था कि चुदाई के समय क्या होता है और कितनी मस्ती आती है, लेकिन जब हकीकत सामने आयी तो पता चला कि चोदन कार्य जितना सरल दिखता है उतना ही कठिन होता है. मैंने उसके लंड को मुँह से बाहर निकाला और थॉमस का सारा पानी को धीरे धीरे गटक लिया. मैंने तुषार से कहा- यार प्लीज़ मेरी गांड में अपना लंड मत डालो, मुझे बहुत दुखेगा.

हालांकि उसके इस प्रयास से उसकी चूत से लंड बाहर आ जा रहा था।लेकिन एक बार जब वो समझ गई तो एक एक्सपर्ट की तरह वो भी मुझसे खेलने लगी।कई मिनट तक जूली मेरे लंड पर कूदती रही और मैं आनंद में गोते लगाता रहा. दादा दादी के जाने के बाद वो जब भी मुझसे बात करतीं, तो मुझसे डबल मीनिंग बात किया करती थीं. मैंने रजाई हटाई तो उसका लंड पूरा अकड़ा हुआ था, मेरी भी नियत दुबारा से खराब हो गई और मैंने जैसे ही उसके लंड को टच किया तो पवन ने एकदम मुझे दबोच लिया और अपने नीचे ले लिया और सुबह सुबह एक बार और अपने लंड की सवारी मुझे करवा दी.

मैं भी उसको चोदने लगा, लेकिन यह क्या, फिर वही कहानी, 10-12 धक्के के बाद वो अलग हुई और जमीन पर नागिन की भाँति लेटकर रेंगने लगी और अपनी जीभ को छत पर भर चुके पानी पर चलाने लगी.

भाभी मेरे लंड से खेलते हुए बोली- मुझे मां बना दो प्लीज …मेरा लंड अब दोबारा से खड़ा हो चुका था. फिर मैंने घूमने का या फिर यूं कहिए कि अनिता को भोग करने का प्लान बनाया।उसके बाद आया वो दिन जिसका मैं कितने दिन से इन्तजार कर रहा था. इसके कुछ देर बाद मैं नाश्ता करके ऑफिस निकल गया और अपने काम में लग गया.

रमेश उसके बालों को संवारते हुए उसकी ओर प्यार से देख रहा था। रिया ने उसकी ओर देखा और कहा- मेरी गांड तो बहुत मीठी है डैड. उन्होंने बैग से शराब की बोतल निकाली और मुझसे पूछा- तुम पीती हो?मैं बोली- शादी से पहले पी चुकी हूं. तब भी चाची जोर से चिल्लाई और कहा- धीरे कमबख्त … मेरी गांड फाड़ेगा क्या?मैं भी कहाँ सुनने वाला था, मैंने वैसे ही गांड चुदाई चालू रखी.

फिर गर्लफ्रेंड ने भी मेरे हाथ पर किस किया। अब थोड़ी हिम्मत आ गई और थोड़ी आगे वो बढ़ी, थोड़ा आगे मैं बढ़ा.

तभी मेरे हाथ भी स्वतः ही उसकी चूची को भींचने लगे।थोड़ी देर तक वो ऐसा ही करती रही। जब शुभ्रा का मन रसपान करने से भर गया तो उसने जल्दी से अपनी मैक्सी को उतारा. बस हम दोनों आज भी अपनी हवस मिटाने के लिए कहीं ना कहीं मिलते रहते हैं.

जवान लड़कियों के बीएफ धीरे-धीरे सुमन भी सेक्स कहानी पढ़ने लगी, पर खुशी पढ़ती थी या नहीं … ये पता ही नहीं चला. मैं- मैं तुम्हारी मदद करूं क्या?मीता- आप और मदद कैसी मदद? और आप क्यों करोगे मदद?मैं- देखो, तुम मेरी अच्छी कस्टमर हो और फिर मेरी दोस्त जैसी भी हो … और मैं तुम्हारे राज को राज भी रखता हूँ.

जवान लड़कियों के बीएफ उनके लंड का सुपाड़ा जैसे ही निपोरकर मैंने अपने होंठों के पास किया तो मुझे उससे अजीब सी गंध आने लगी. भाभी सारा रस पी गईं और अब उन्होंने अपनी चूत की तरफ इशारा करके कहा- तुम्हारी बारी.

एक बार इशारा कर, तेरे लिये वो खुद तेरे सामने नंगी होने के लिये तैयार हैं।मैं उसे देखता ही रह गया लेकिन कुछ बोला नहीं। फिर कुछ देर तक वो अपनी नजर मुझ पर गड़ाये रही.

हिंदी में नया सेक्सी

उसके बाद उसने अपनी खुद की नाइटी भी अपने जिस्म से अलग करके एक ओर फेंक दी. जैसे ही मेरा लंड झड़ने वाला था, मैंने अपना लंड बाहर निकाला, उसके ऊपर से कंडोम उतार कर सारा माल मैंने रश्मि के मुँह पर झाड़ दिया. पर एक दिन मेरी किस्मत बदल गई, एक शाम को 8 बजे मैं घर जाने के लिए बस स्टॉप पर खड़ी थी, पर कुछ साधन मिल नहीं रहा था.

उस दिन मैं साड़ी पहन कर गयी थी … जिसमें मेरी बॉडी काफी खुली दिख रही थी. मेरी मकान मालिकन जिसका नाम बसंती था, उसने मुझे अपने यहां चिकन खाने का न्यौता दिया. जब छोटे की शादी हो जायेगी तो फिर तुम मेरे पास आ जाना।तो बात तब की है जब मेरे पति मुझे मेरी ससुराल में छोड़ कर अपने काम पर वापस जा चुके थे।वैसे तो घर का माहौल खुशनुमा था, सहेली जैसी एक ननद और छोटे भाई सा एक देवर और एक ससुर!सब ठीक था, किसी तरह की कोई कमी नहीं थी.

इस 6-8 घंटे में ही मेरी जिंदगी कितनी बदल गयी है, जहां मैं अपने आदमी से खुलकर सेक्स शब्द नहीं बोल सकती थी, वहीं आज मैंने एक रंडी की तरह बुर, लौड़ा, गांड, एक से एक गंदी गाली तुम्हारे साथ शेयर की और चूत को कुतिया की तरह चुदवायी.

रितेश छत के रास्ते मीरा से मिलने निकल पड़ा, उसने इस वक्त सिर्फ़ लुंगी पहनी हुई थी और ऊपर टी-शर्ट को डाला था. इस तरह होंठ चूसते हुए उसने अचानक से अपनी जीभ निकाल कर मेरे मुँह डाल दी. मैंने अपना हाथ मौसी के ब्लाउज में डाल कर उनके चूची को मुट्ठी में भर लिया और उससे खेलने लगा, कभी चूची को दबा देता तो कभी मसल देता और बीच बीच में निप्पल को भी मसल देता.

वो मुझसे कहती थी- जानू जब रात को तुम्हारी याद आती है, तो मैं तकिये से चिपट कर सोती हूँ. अपने बारे में एक बार फिर से बता दूं कि मैं एक साधारण सा दिखने वाला शहरी लड़का हूं. कुछ भी हो सकता है।जब मैं उनके बूब्स को घूर घूर कर देखने लगा तो वो मुझसे बोली- समर क्या देख रहे हो?मैं- कुछ नहीं आंटी, बस ऐसे ही।वो- मुझे पता है तुम क्या देख रहे हो.

लेकिन आज सुबह से ही वो भी काफी खुश दिखाई दे रही थी, खुश तो मैं भी था. मैंने पूछा- फिर तुम्हारी सील कैसे टूटी?वो बोली- मैंने खुद कैंडल से तोड़ी.

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सैट किया और उसकी पतली कमर पकड़ कर एक झटका दे मारा. लेकिन मैं तो एक तुच्छ मानव था और वसुन्धरा को देने के लिए मेरे हाथ और मेरा दामन, दोनों खाली थे. जब दिन इतना उत्तेजक था, तो रात कितनी कामुक होगी … यही सोच कर मेरा लंड उफान मार रहा था.

कुछ ही देर के इस मदमस्त युद्ध में हीना अब मदहोशी के शिखर पर पहुंच चुकी थी.

यह सुन के वो जोर जोर से हंसने लगीं और बोलीं- साले चूत तो ऐसे चाट रहा था, जैसे रोज चाटता है और बोल रहा है चोदना सिखाओ. ”अंकल ने मेरे चेहरे पर हल्के दर्द के भाव को देखकर बोला, सच में उनको मेरी कितनी फिक्र थी. कुछ ही देर में कमरे की लाइट बंद हो गई और वह लड़की नीचे आकर बाहर खड़ी हो गई और बार-बार मेरी बालकोनी की तरफ देखने लगी.

वो मेरे दर्द को समझ तो रहा था लेकिन वो इस बात को जानता था कि एक बार लंड के एडजस्ट होते ही दर्द खत्म हो जाएगा. पति- मैं समझ रहा था कि तुम्हारी चुल्ल उठेगी, तुम अपने पर काबू रखो न.

उसके होंठों को मैंने लिपलॉक कर के पूरी तेजी से उसकी चुदाई शुरू कर दी. जब भाभी किचन में चीनी लेने गई तो मैंने भैया के लंड पर हाथ फेर दिया. फिर उसने अपने हाथ मुंह अच्छे से धोये और वापिस बेडरूम में आकर अपनी सलवार और कुर्ती पहिन ली.

सावर सट्टा ऑनलाइन

कुछ देर बाद मैं नीचे गया तो देखा कि उसकी बड़ी बहन नेहा भी वहाँ आ गई थी.

हमने टीवी देखते हुए खाना खाया। फिर वो मेरी गोद में आकर बैठ गयी। मुझे किस किया और मेरे सीने में अपना सिर छुपाने लगी। मुझे ऐसे ही गले लगाये हुए वो टीवी देख रही थी।कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- चलो कहीं बाहर घूमने चलते हैं।उसने सिर मेरे सीने में छुपाये वैसे ही पूछा- कहाँ?मैंने कहा- वो बाद में डिसाइड करेंगे. उसके साथ के मजे तो मैं कभी भी लिख सकता हूँ, लेकिन आज मैं आपके सामने मेरी साले की पत्नी यानि की मेरी सहलज के साथ हुई रसीली घटना बताने जा रहा हूँ. वो प्यार भरे अंदाज से मेरी चूची को अपने बड़े-बड़े हाथों से सहलाने लगा.

अब इस बार बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा, जो है वो भी जाता रहेगा और आज इतना मजा आएगा पूछ मत. वो बोली कि वो मौसी के पास जा रही है और मुझे उनको छोड़ने जाना है।मैंने यह बात शुभ्रा को बताई तो बोली- चल कोई बात नहीं, अभी मम्मी नहाने जायेगी और फिर तैयार होगी तो कम से कम 30-40 मिनट तो लग ही जायेंगे, तब तक हम लोगों के पास मौका है।तभी मामी की आवाज आयी- लल्ला, मैं नहाने जा रही हूं. पाकिस्तान के सेक्सी वीडियो बीएफमैं बोला- बस? लेकिन मजा तो इसी में है ना।वो बोली- अगर मजा इसी में है तो फिर लोग पेशाब नाली में क्यों करते हैं? फिर तो मुंह में ही कर देना चाहिए?वो मुझसे बहस करने लगी।मैं झल्लाते हुए- अरे यार, ये सब मुझे नहीं मालूम, मगर जो मालूम है उसमें चूत चटाई और लंड चुसाई होती है.

फिर भार्गव कपड़े उठाकर बाहर निकला और अंधेरे में कपड़े पहनने के बाद रुमित के साथ आगे चला गया. रमेश ने उसके बाल संवारते हुए कहा- तुम एक बहुत अच्छी रंडी हो। जैसी हो वैसे ही रहो, बल्कि तुम्हारा ये रूप देख कर मैं तो तुम्हें और ज्यादा चाहने लगा हूं.

सिर्फ तीन ही चीजें पहनी थीं उसने जिन पर लिखा था ‘प्रॉपर्टी ऑफ़ विशाल’ उसके हाथ पीछे बंधे हुए थे. फिर हमारे बॉयफ्रेंड हमें छोड़कर चले गए, खुशी ने उसको हद पार करने नहीं दिया था. तो वो बोला- काफी टाइम से कुछ हलचल हुई नहीं है इसीलिए ये मुरझा गया है … पर तुम सहलाओ और चूसो तो ये अभी खड़ा हो जाएगा.

वो बहुत जोर जोर से मेरे चुचे दबा रहा था मुझे दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था. इधर उंगली से मेरी चूत का भी पानी निकल चुका था।इस सब में मैंने एक काम कर लिया था कि सुमीना और मेरे ससुर की रासलीला की वीडियो अपने मोबाइल से बना ली थी. वसुन्धरा जी! आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया?”इतनी अच्छी शाम, इतना अच्छा साथ … आप कोई और बात कीजिये न प्लीज़! ” वसुन्धरा का मन नहीं था उस टॉपिक पर बात करने को और ऐसी बातों में ज़ोर-ज़बरदस्ती नहीं चलती.

पर आजकल उसका भाई ठीक नहीं है, तो वो उसकी देखभाल में बिजी रहती है, इसलिए वो मिल नहीं पा रही है.

लेकिन मैंने उसे मना कर दिया और उसको अपने बदन से चिपका कर सो गया।मैं 12 बजे उठा तो वो कमरे में नहीं थी। मैं हॉल में आया। किचन में देखा तो वो खाना बना रही थी। मैं हॉल बैठ कर टीवी देखने लगा।कुछ देर में वो खाना लेकर आयी। उसने ऊपर सिर्फ पीली कलर की ब्रा पहन रखी थी. फिर मैंने उसकी कमीज ऊपर की … और अन्दर हाथ डालने की कोशिश की, पर उसकी कमीज बहुत ही ज्यादा टाइट थी.

तब तक चाची की देह और भी ज्यादा निखर चुकी थी और मुझ में काफी बदलाव आ गया था. साली जी मुझे पूरी ताकत से अपने बंधन में बांधे थी कि मुझे हिलना डुलना भी मुश्किल था सो मैं चुपचाप उनके आगोश में पड़ा था मेरा खड़ा लंड उनकी चूत में यूं ही घुसा हुआ चूत-रस प्रवाह का आनंद ले रहा था. फिर मैंने देखा कि उसने अपनी एक उंगली से चूची पर से मेरा रस उठा कर चाटा भी था.

कुछ दिन बड़ी ही चालाकी से रश्मि मेरे दो दोस्तों से भी चुदी … और फिर हम तीनों ने एक साथ उसे कई बार चोदा. हम दोनों लोग पहले भी अकेले में एक दूसरे से बात करते थे तो हमें अकेले में एक दूसरे से बात करने में कोई परेशानी नहीं थी. मैं एक 30 साल का नौजवान आदमी हूँ और एक इंश्योरेंस कम्पनी में जयपुर में काम करता हूँ.

जवान लड़कियों के बीएफ लेकिन वो बिना बोले मेरी कुर्ती में हाथ डालकर मेरी चूचियों को ब्रा के ऊपर से मसलने लगा. इसलिए मैंने एक चौथाई हिस्सा ही लंड का बुर में डाले रखा और उसको अंदर-बाहर करने लगा.

फिल्म की कहानी लिखने का तरीका

मैंने देखा, लड़की ने सामने से अपना टॉप उठाया और उसमें से अपने बड़े बड़े, गोल और दूधिया मम्मों को बाहर निकाला. और मैं उसकी चूत के अंदर झड़ गया और अनिता को छोड़ दिया और उसके बगल में लेट गया।कुछ देर तक सुस्ताने के बाद मैंने उसके चूचों को पकड़ा और पूरी ताकत से दांत काट लिया. मैंने जैसे ही उनके लंड को आज़ाद किया … उन्होंने झटके से मेरे मुँह में लौड़ा घुसा दिया.

मेरा लंड जैसे ही उसके कूल्हों से स्पर्श किया तो उसने हल्की सी कसमसाहट के साथ आगे हटने की कोशिश की और वह अपनी कोशिश में कामयाब होते हुए आगे की तरफ सरक गयी. जब मुझे लगा कि मेरा माल निकल जाएगा, मैंने हल्के से नम्रता के गाल पर एक चपत लगायी. तमिलनाडु सेक्सी बीएफ वीडियोदूसरे दिन सुबह पापा तो चले गए उनके टाइम पर … मैं 10 बजे के आसपास उठा तब दीदी ने चाय बनाई और हमने साथ में चाय नाश्ता किया.

डॉक्टर- मुझे सही सही बताना?मम्मी- डॉक्टर साहब मुझे सेक्स काफी पसंद है.

नम्रता मुझे अपने पति के संग हुई चुदाई के बारे में सुनाने में लगी थी. उसने मेरे माथे पे किस किया और ढेर सारा तेल मेरे मम्मों पे उड़ेल दिया.

कितने बड़े लंड खा चुकी है तू? बता तो सही कितनों से चुदवा चुकी है? मैं तो शर्त लगा कर कह सकता हूं कि तू कईयों से चुदवा चुकी है. मूत्र विसर्जन के बाद वो किचन में गया और वहाँ से दूध की मलाई ले के आया. उसने मेरे लंड को चूसा और मैंने उसकी बुर को अन्दर तक अपनी जीभ से चूसा.

मैंने चाची से कहा- जब आप भीग ही गये हो तो मेरे साथ ही नहा लो!चाची बोली- हट्ट बेशर्म … अगर किसी ने देख लिया तो?मैंने कहा- यहाँ पर कौन है देखने वाला.

बातों ही बातों में मैंने पूछा तो उसके पति ने अपनी परेशानी मेरे सामने बता दी. मैं- मेरे घर में भी अगले हफ्ते शादी है और मैंने भी अपने घर वालों को स्कूल का बहाना बनाया है, देखो उनके लिये ही टिकट बुक कर रहा हूँ, अगर तुम कहो तो तुम्हारी फैमिली के लिये भी टिकट बुक कर दूँ. वो मुझे हटाने की कोशिश कर रही थी लेकिन मैंने अपना मुंह जैसे चाची की चूत में चिपका ही लिया था.

ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी वीडियो बीएफयह सुन के वो जोर जोर से हंसने लगीं और बोलीं- साले चूत तो ऐसे चाट रहा था, जैसे रोज चाटता है और बोल रहा है चोदना सिखाओ. वो आई, तो मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया और उसको मेरी बांहों में भर लिया.

मुझसे दोस्ती करोगे फुल मूवी डाउनलोड

मैंने फिर कहा- नहीं यार तुम गलत समझ रही हो … मैं तो सिर्फ ये जानना चाह रहा था कि मेरी बदनामी की आग कहां तक फैली है. अब तक तो तुम समझ ही चुके होगे कि हमारी सोसायटी में सेक्स कितना कॉमन है. मैंने उसकी लॉन्जरी को उतार दिया और उसने मेरी टी-शर्ट को उतार कर मेरी छाती को नंगी कर दिया.

यह एक ओपन रेस्टोरेंट था; 9 बज रहे होंगे; हल्की-हल्की चाँद की रोशनी में यह नजारा काफी सुन्दर लग रहा था।मेरे डेट के प्लान से वो काफी खुश हुई। हम अपने टेबल की ओर बढे, मैंने चेयर खींची, वो मेरे सामने बैठ गयी।चाँद की हल्की रोशनी में टेबल पर लगी कैंडल की रोशनी में मैं उसके चेहरे को देख पा रहा था. मैंने अपना मोबाइल देखा वह तो खामोश था।ओह … यह तो मेज पर पड़ा कोई दूसरा मोबाइल बज रहा था? लगता है सुहाना अपना मोबाइल यहीं भूल गई है।मैंने फ़ोन को उठाया तो उधर से सुहाना की आवाज आई- सॉरी सर … मैं सुहाना बोल रही हूँ।ओह … हाँ … बोलो डिअर?”सर … वो मेरा मोबाइल …?”अरे हाँ … तुम अपना मोबाइल यही भूल गई लगती हो?”सॉरी सर! आप रख लेना. दूसरी बिल्डिंग में जो कोई एक-दो लोग दिख भी रहे थे, वो भी बारिश की वजह से छत से चले गए थे.

तो उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत पर सैट किया और बोलीं- धक्का दो. आगे से नाकामी हाथ लगने के बाद मैंने पीछे की तरफ से उसके कूल्हों को नंगा कर दिया. जैसे घनघोर बारिश के बाद सारी प्रकृति निखरी-निखरी सी दिखती है वैसे ही अब वसुन्धरा निखरी-निखरी सी दिख रही थी.

मेरी पड़ोस में बहुत सारी सहेलियां हैं और वो लोग भी मुझे पसंद करती हैं. इससे मैं ये समझ गयी आज पहली बार नहीं हो रहा, ये सब शायद बहुत पहले से चल रहा है।इधर पिताजी ने अपनी बेटी सुमीना के 36 के चूचे मुंह में ले लिये और उन्हें चूसते चूसते चुदाई की स्पीड तेज कर दी और पूरा लण्ड सुमीना की चूत में उतार दिया.

करके आ रही थी।रिया एक हाथ से अपनी चूत को रगड़ रही थी। मगर दोनों में से कोई अभी रुकने को तैयार नहीं था। थोड़ी देर बाद रमेश ने फिर लण्ड निकाला और रिया की चुद कर खुली और फैली गांड को निहारा।उसने उसकी गांड में थूका और फिर से अपनी बेटी की गांड चुदाई करने लगा.

मैं दीदी के बूब्स के निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा और काटने लगा और एक हाथ से दूसरे बूब्स को दबाने लगा. इंडियन बीएफ एक्स एक्स एक्स एचडीमैं बोली- जी सर, कहिये क्या बात है?वो बोले- क्या तुम अपनी इस जॉब से खुश हो?तो मैंने हां में सर हिला दिया. बीएफ फिल्म करोवो अपने से दोहरे उम्र के आदमी से बात कर रही थी, पर आजकल के नौजवान किसी से हार मानना पसंद ही नहीं करते. थोड़ी देर बाद उसने अपना पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया … और अन्दर बाहर करते हुए मेरी गांड मारता रहा.

वो अब थोड़ा कम ऊपर नीचे हो रही थी क्योंकि वो झड़ गयी थीं … लेकिन मैं चालू था.

वसुन्धरा का अपने माँ-बाप से इतर रहना, उसके व्यक्तित्व में समायी तमाम बत्तमीज़ी, दबंगई, ख़ुद-पसंदगी और उसके तनहाई-पसंद होने का और मेरे प्रति अनबूझे अनुराग़ का और अभी तक अविवाहित होने का कारण उसके पिता जी का उसकी मुझसे शादी के ख़िलाफ़ लिया गया एक फ़ैसला ही था. गिलास भर कर उसे रिया के हाथ में दे दिया और बोला- ये ले रंडी, पी ले इस अमृत को सारा, तेरा सारा खाना हजम हो जायेगा. हम दोनों की नजरें आपस में मिली और दोनों के होंठ आपस में मिलने को आतुर होने लगे.

और दूसरी बार झड़ते ही एकदम से शान्त हो गई और अपनी आंखें बंद करके लेटी गयी. जो लोग कोलकाता में रहते हैं या जानते हैं वो यह बात भी अच्छे से जानते हैं कि नलबन पार्क कितना खुश मिजाज पार्क है. शायद अपनी जिंदगी में पतियों की अदला बदली करने के इतने यारानों में मुझ सा यार तुम्हें कोई मिला नहीं। मैं तुम्हारे पति के अलावा तुम्हें चोदने वाला पहला इंसान हूं और शायद तुम्हें मुझसे प्यार भी है।रीना- ओहो … तो राजवीर ने तुम्हें भी हमारे सभी अदला बदली के जोड़ों के बारे में बता रखा है। यार उसको कोई नहीं समझ सकता.

हिंदी मे सेक्स व्हिडीओ

नम्रता होंठ को छोड़ते हुए बोली- शरद मैं इस अहसान का बदला जिंदगी पर नहीं चुका पाऊंगी. दोस्तो, अब तक की सेक्स कहानीहॉस्टल की सेक्सी लड़की की मस्त चुदाईमें आपने सुधा के संग मेरी चुदाई का मजा लिया था. कुछ नहीं अंकल जी, ऐसी कोई बात नहीं!” मैंने बात टालने के लिए कह दिया.

मुझे उसकी चूत पर हाथ लगाते ही समझ आ गया था कि इसकी चूत बहुत टाईट है और फाड़ने में काफी मेहनत करनी होगी.

कुछ ही देर बाद मेरा बदन अकड़ने लगा, मैं अपने पैर छटपटाते हुए झड़ने लगी.

उसके स्तनों को जोर जोर से मसल रहा था और वह मेरे जिस्म से बेल बन कर लिपट रही थी. अब उसके चूचे पहले से भी बड़े हो गए हैं और उसकी गांड और भी बाहर को निकल आयी है. बीएफ दिखाइए सेक्स वीडियोठीक है, तुम थोड़ा सो लो, तुम्हें अच्छा लगेगा … तब तक मैं नीतू को बेडरूम में ले जाता हूं … तुम्हें चलेगा ना?” शर्मा सर ने नितिन को जानबूझ कर ये सवाल पूछा.

मैंने एक हाथ से लंड पकड़ कर उसकी टांगें फैलाकर लंड को निशाने पर रखा और उसके होंठों से होंठ मिलाकर एक हल्का सा झटका मारा तो लंड का टोपा अन्दर घुस गया था, पर वो छटपटाने लगी. इसलिए उसका क्लेम पास होने के बाद उसने मुझे बहुत बार फ़ोन करके धन्यवाद दिया. उस रात मैंने फिर से तरह तरह के आसनों के साथ भाभी को जम कर चोदा और उन्हें पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया.

इसलिए मैं फिर से खड़ी हुई और थॉमस का लंड अपने हाथ में लेकर फिर से उसे अपने मुँह में डाल कर चूसने लगी. नम्रता- तुम सही कह रहे हो, लेकिन चूत का हाल भी वही होता है, त्राहि-त्राहि जब तक करती जाती है, जब तक कि लंड उसकी बजाता है.

मैंने बोला- वो तो हर साल आता है, उसमें नयी बात क्या है?मेरा इतना बोलते ही वो मुझे घूरने लगी और बोली- वो मुझे नहीं पता, पर मुझे अहमदाबाद जाना है.

मैं भी लंड सहलाता हुआ बोला- ठीक है मेरी जाने बहार … आपका हुकुम मेरे सर माथे. उसने सूट भी हरे रंग का ही पहना हुआ था ताकि कोई ये न जान सके कि खेत में कोई है. देखते ही देखते उसके लंड से निकला हल्के पीले रंग का मूत गिलास में भर गया.

ऑनलाइन बीएफ हिंदी में मैं पीछे हुआ, तो देखा की गांड से निकला खून का रेला जांघ पर आकर अब सूख चुका था. तेरी गांड में जो खीर है वो मुझे तेरी गांड चुदाई का और ज्यादा मजा दे रही है.

मैं धीरे धीरे अपना बायां हाथ नितम्बों की दरार के साथ साथ नीचे की ओर ले जाने लगा. सारा ने भी एक नया काम किया, उसने भी एक झूला बनाया और दिलिया के झूले से बाँध लिया, दिलिया को किश करने लगी और उसके मोमे सहलाने लगी. मैं बाहर आ गई और मम्मी को अंदर भेज दिया, लेकिन उन दोनों की बात सुनने के लिए मैं दरवाजे पर कान लगा कर सुनने लगी.

जानवर और आदमी की सेक्सी वीडियो

कुछ देर बाद डिनर खत्म हुआ और रितेश और मीरा मिल कर टेबल से बर्तन उठाकर किचन में रखने के बहाने अन्दर चले गए. सोनल की पीठ पर चढ़ने के दौरान ही मेरा खड़ा लंड उसकी गांड की दरार को टच कर रहा था. अभी मैं माल चाट ही रही थी कि मेरे बेटे वंश ने मेरे ऊपर मूतना चालू कर दिया.

सफाई करते करते वहाँ मुझे कंडोम का पैकेट मिला और एक 72 घंटे के अन्दर खाने वाली गर्भनिरोधक गोली का पैकेट मिला. मेरा लंड पहली बार किसी औरत के मुंह में गया था इसलिए मैं जल्दी ही अपना संयम खो बैठा और मैंने भाभी के मुंह में वीर्य निकाल दिया.

मैंने कहा- हां, सच में ही आशीष, तुम्हारे लंड ने मेरी चूत को फाड़ दिया है.

मेरी इज्जत जो मेरी चूत के साथ ही नंगी हो गयी थी अब मैं कुछ नहीं कर सकती थी क्योंकि मेरी चूत को तो उस ठरकी प्रिंसीपल ने देख ही लिया था. ”तभी मेरी मम्मी ने आवाज़ लगाई- विपुल, तेरा फोन बज रहा है … देख कौन से दोस्त ने फ़ोन किया है. अतः हम एक दूसरे की बांहों में चिपक कर सो गए और इतने दिनों में जो घटित हुआ उसकी बातें एक दूसरे से करने लगे। करीब 2:00 बजे थे और बातें करते करते हमारे नीचे के सामान (लंड और चूत) फिर तैयार हो गए थे और हमने तीसरे राउंड की चुदाई की।आज की रात मैंने अपने दोस्त की बीवी की गांड नहीं मारी थी.

तब तक मेरे मन में ऐसा कुछ नहीं था, पर अब मुझे अपनी सलहज काजल का पूरा जिस्म मेरे आंखों के सामने आ गया, जिसमें मेरे लाए ब्रा और पैन्टी पहन कर वो मेरे सामने खड़ी थी. मैंने लुंगी में हाथ डालकर जांघिया को नीचे कर दिया … और लंड को आजाद कर दिया. मेरी चीखें निकलने लगी थी- अह्ह अह्ह येस अह्ह येस!और दिलिया चिल्ला रही थी- जोर से चोदो मुझे … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मजा आ गया,सारा भी दिलिया के साथ साथ उसे किस करती हुई घूम रही थी.

ज्यादा उल्टियां आने पर सीमा ने नितिन से कहा- इसे लेकर डॉक्टर के यहाँ जाना पड़ेगा.

जवान लड़कियों के बीएफ: उधर राधिका और दिशा दोनों बहनें सिगरेट का मजा लेते हुए हम दोनों भाई बहन को सेक्स में फोरप्ले का मजा लेते देख रही थीं. मेरे दोस्त की बीवी का दूध जैसा सफेद जिस्म होटल के उस कमरे की चकाचौंध भरी लाइट में इतना जोर से चमक मार रहा था कि ऐसा लगा कि सामने कोई अंग्रेज विदेशी महिला नंगी हो रखी हो.

मैंने सारा से कहा- दिलिया के ऊपर नीचे के ओंठ बारी बारी चूसो और जीभ भी चूसो!मैंने उसे कहा- जब मैं एक कहूँ तो निचला होंठ … दो कहूँ तो ऊपर का ओंठ … और तीन कहूँ तो जीभ चूसो. मेरा कमरा बेड के चरमराने और लण्ड की चूतड़ों पर थाप की आवाजों से गूंजने लगा. उसने मेरा हाथ पकड़कर मुझे अन्दर खींच लिया और दरवाजा बंद करते ही मेरे ऊपर भूखी शेरनी की तरह टूट पड़ी.

लेकिन दोनों में चुदाई की भूख इतनी बढ़ गयी थी कि वो अब ज़्यादा समय तक अकेले मिलना चाहते थे और सेक्स का मज़ा लेना चाहते थे.

मैं जाकर बेड पर बैठ गया, मेरा लंड जो लगभग 70 से 90 डिग्री के एंगल पर खड़ा था. बाहर से तल्ख़, ठंडी, कठोर वसुन्धरा के अंदर अनछुये एहसासों का, प्यार की प्यासी भावनाओं का एक धधकता हुआ ज्वालामुखी छुपा हुआ था. इधर जीजू मेरे पर लाइन मार रहे थे और उधर मेरे पति ना जाने दीदी के साथ क्या कर रहे थे.