फुल सेक्सी बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स गाना में

तस्वीर का शीर्षक ,

छोटू दादा की मौत: फुल सेक्सी बीएफ फिल्म, ना ही हम इतनी दूर ट्रेन से जा सकते थे और ना ही बस से बैठ कर ट्रैवल कर सकते थे.

प्रियंका चोपड़ा की सेक्सी सेक्सी वीडियो

येबातसलोनीसमझगईतोउसनेअपनेहाथसेमेरासरपकड़केझुकायाऔरमेरेहोंठोंकोअपनेहोंठोंसे जोड़ दिया. सेक्स वीडियो ओपन बीएफऊपर से रोड पर हर 2-3 मिनट में एक मोटरसाइकिल हमारे नज़दीक से गुजरती थी.

अब ये बात शायद सुलेखा भाभी को मंजूर नहीं हुई, इसलिए भाभी ने मेरे होंठों को अब एक बार तो जोर से चूमा. बीएफ वीडियो बताइएमेरे ‘मतलब …?’ पूछने पर मेमसाब बोलीं- इतनी बड़ी हो गयी शादी हो गयी तेरी … तुझे पता नहीं कि मर्द को कैसे खुश रखते हैं.

इसी दरम्यान मैंने भाभी का हाथ धीरे से पकड़ कर अपने पास में लाकर उनके गाल पर चुम्मी कर ली.फुल सेक्सी बीएफ फिल्म: उसने मुझे अपनी एक ढीली सी जीन्स लाकर पहनने को दी, क्योंकि मेरी जीन्स चाय गिरने से गंदी हो गई थी … जो उसके बाथरूम में गीली पड़ी थी.

उसके मुँह से पहले उसकी मूंछें और दाढ़ी मेरी योनि से छू गईं, जिसकी गुदगुदी से मेरे रोंये खड़े हो गए.तो मैं उन्हें ट्रेन में चढ़ाने के लिए स्टेशन तक गया और उन्हें गाड़ी बिठाकर वापसी आया.

एक्स एक्स एक्स इंग्लिश चुदाई - फुल सेक्सी बीएफ फिल्म

आज फाड़ ही दे इसकी चूत, मैं जवान होता तो बताता, अब मेरे लंड में इतना दम बचा नहीं.उस दिन वह मुझसे अपने दोस्त के फ्लैट में मिलना चाहता था तो मैने भी हाँ कह दी.

फिर मेरे पास बैठकर मेरा पेटीकोट और मेरी पैंटी दोनों को काट कर मेरी शरीर से अलग कर दिए. फुल सेक्सी बीएफ फिल्म तभी महेश ने फिर से मेरे मुँह में अपना लंड डाल दिया और बोला- साली चिल्ला मत कुतिया … अभी ठीक हो जाएगा, नई नवेली है इसलिए अभी एक दो साल थोड़ा दर्द होगा, पर मजा भी उतना ही मिलेगा.

वह अपने लंड को हाथ में लेकर हिला रहा था और साथ में अपने लंड की मुट्ठ भी मार रहा था.

फुल सेक्सी बीएफ फिल्म?

नेहा ने मेरे हाथ को पकड़ कर खींचने की कोशिश भी की, मगर कामयाब नहीं हो पायी. अपनी चूत से नेहा ने मेरा हाथ खींच कर मेरी उंगली अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी- वाह राजू. जब करण कमरे में अनु को चोदता था, तो उसकी कामुक आवाजों में मुझे बहुत मजा आता था.

झड़ने के बाद जैसे जैसे वो आगे पलंग पर लेटती गयी, मैं उसके ऊपर लेट गया और फ़िर साइड में लुढ़क गया. आंटी ने बताया कि उन्होंने मॉम को अभी के खाने में फिर से उत्तेजित करने वाली दवा दे दी है. तभी उसने अपना हाथ अपने स्तनों पर रखकर मेरे चेहरे पर अपना दूध उड़ाया और हंस दी.

मैं इतना जोर से चिल्लाने लगी कि कमरा गूँजने लगा था- बचाओ बचाओ बचाओ … ये साले मुझे मार डालेंगे. वो बाथरूम में गयी और चेहरा साफ करके वापस आई और मुझे फिर से किस करने लगी. एक शाम, मैं अपने दोस्त के साथ एक सुनसान रोड पर बाइक पर बैठ कर सिगरेट पी रहा था.

सलोनी सिर्फ मैरून कलर की ब्रा और पैंटी में थी जबकि मैं नीचे अभी भी कपड़ा पहने था. मैं- शर्म नहीं आती है भतीजे से चुदवाने में?चाची- अगर शर्म करती तो ऐसी चुदाई कहाँ से करवा पाती.

मैं समझ गया कि कौशल्या के पति का लिंग इतना छोटा होगा कि वो सील भी नहीं तोड़ पाया होगा.

मैंने उससे पानी मांगा तो वो पानी देने के लिए कातिलाना अदा के साथ नीचे झुकी.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:बीमारी ने दिलायी प्यासी भाभी की चूत-3. मैंने सोनू से कहा- यदि फ्रेंडशिप करनी हो तो कल शाम को अपनी मम्मी से पूछ कर पढ़ाई के बहाने ऊपर मेरे कमरे में आ जाना. अब उन्होंने अपनी पोजिशन को और भी मज़बूत बनाने के लिए अपना एक पैर खटिया पर रख दिया और अपनी स्पीड बढ़ा दी.

मैं आशा करता हूँ आप लोगों को मेरी जिंदगी के बारे में जान कर मज़ा आया होगा. मैंने लॉन्ग स्कर्ट पहन लिया और ऊपर एक अच्छा सा टॉप पहन कर तैयार हो गई. मैंने जेठ जी के लंड को अपने मुँह से बाहर निकाला और उनसे बोली- बस बहुत हो गयी चुसाई … जेठ जी, अब सहन नहीं होता … अब डाल भी दो आप अपना लंड मेरी चुत में.

मैं पहले से सारी संभावनाएं बना लेना ठीक समझती हूं ताकि वो बाद में सम्बन्ध बनाने के लिए मेरा भयादोहन न करे.

मुंबई में गर्मी काफी रहती है, तो किस करते करते ही हम सभी ने कपड़े भी निकालना चालू कर दिए. वो बोली- क्या यार … आपको नहीं आना था तो बोल देते, मैं सुबह से आपके आने के सपने नहीं देखती. सुनील जो अब तक मेरी चूत चाट रहा था, वो उठा और बोला- सच में यार, भैन की लौड़ी बहुत गर्म माल है.

मुझे उठाने के बाद मम्मी मुझसे नजरें नहीं मिला पा रही थीं, ना मुझसे बात कर पा रही थीं. आप जानते ही हैं कि 35 से 55 वर्ष के बीच की आयु यौन जीवन की सब से कामुक अवस्था होती है. पहली बार किसी ने चूत चाटी थी।पिंकी उठी औऱ मेरे मुंह के ऊपर अपनी चिकनी चूत टिका कर बोली- मेरी चाट … मैं तेरी चाटूंगी।मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। उस दिन ज़िंदगी में पहली बार उसने मुझे चरम सीमा तक पहुंचाया और मैंने भी उसको चरम पर पहुंचाया। काफी देर तक हम दोनों सहेलियां नंगी लेटी रही।उस दिन के बाद मैं अक्सर पिंकी के घर तब जाती जब कोई ना होता.

मैंने एक और धमाकेदार धक्का लगा कर अपना पूरा लंड भाभी की चूत अन्दर डाल दिया.

जब उसके फोन में जांच-तलाश करने में लगा हुआ था तो वो एकदम दुकान में वापस आ धमकी. अब मैं और आनन्द हम दोनों ने पूजा की चूत में एक साथ लंड डाले हुए थे.

फुल सेक्सी बीएफ फिल्म उनकी इस चुदाई की इच्छा भरी कामुक मस्ती के जवाब में मैं भी अपना करतब दिखाने को व्याकुल था. मैं नींद में थी, तभी मुझे महसूस हुआ कि मेरे पति ने मेरे दोनों हाथों को पकड़ा हुआ है और अपने पैरों से मेरे पैरों को भी जकड़ रखा है.

फुल सेक्सी बीएफ फिल्म भीड़ बढ़ने लगी तो वह फिर मेरे पास आया और बोला- और कुछ चाहिए?मैं- चाहिए तो सही … पर आप दोगे?वह- जी हाँ! दूकान खोली ही इसलिए है, दूकान का सारा माल बेचने के लिए है. इस कारण से जो भी हमें बात करनी थी, थोड़ा बहुत इशारे में ऐसे ही बात होने लगी.

मेरी कसी हुई छातियों को दबाते हुए बोले- खुदा ने खूब तराशा है।मैंने बांहें उनके गले में डालते हुए कहा- आप जैसे कद्रदानों के लिये तराशा है। कर लो अपनी चाहतें पूरी और इस अधूरी तनु को अपने जोश से संपूर्ण कर दीजिए।लगता है हुस्न के इस बगीचे का माली कमज़ोर है.

सेक्सी वीडियो नौकर वाली

मेरे लंड पर हल्का सा खून लगा हुआ था और थोड़ा खून पायल की चूत में दिखाई दिया. वो अपनी चूत पर मस्त खुशबू लगा कर आई थी, जो चाटते वक्त किसी मीठी चॉकलेटी स्वाद दे रही थी. बातें करते हुए मैंने हिम्मत करके ज्योति से पूछा- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड तो नहीं है न?उसने बताया कि उसे यह सब पसंद नहीं है.

फिर दूसरे दिन सुबह जब मैं उठा, तब तक उनके दोनों बच्चे स्कूल चले गये थे. यह वाकयी बेहद जरूरी था, क्योंकि एक बार फिर से मेरी नीना रानी मुख-मैथुन का सुख देकर अपने किराएदार प्रशांत के लौड़े का एहसान उतारना चाह रही थी और उसने किया भी. मुझे समझ नहीं आया कि कोई भी इंसान इस स्टेज पे आकर किसी को चोदने या चुदवाने से कैसे रोक सकता है.

छछो …ड़ो …” वो टूटे फूटे शब्दों में बोल ही रही थी कि मैंने अपने होंठ उसके रसीले होंठों पर रख दिए और उसके नर्म नाजुक अधरों को हल्के हल्के चूसने लगा.

वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुराई और मुझसे बोली- तुम भी मुझे बहुत अच्छे लगने लगे हो जानू. उसने अश्लीलता से अपने होंठ काटे और बड़ी ही कातिल हंसी के साथ बोला कि जूठा पीने से प्यार बढ़ता है. उसने मुझे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी और मैंने स्वीकार भी कर डाली और मेसेंजर पर उसने मुझे वेव किया हाथ हिला कर.

तो जगत अंकल बोले- अरे उठते समय वन्द्या का सर कार की छत से लग गया था. वो बोलीं- ओह्ह विक्रम … मेरा तन बदन जल रहा है, आग लग चुकी है मेरे ज़िस्म में … जल्दी से बुझा दो इसे. घर में साड़ी, कभी सलवार कमीज कभी स्कर्ट और कभी जीन्स टॉप में रहती थी.

साथ ही में वो बोली- रमित क्या कर रहे हो? मैं तो रात से पागल हुई पड़ी हूँ तुम्हारा यूँ मेरे लिप्स पे किस करना मुझे पागल सा कर गया, मैं रात से आग में जल रही हूँ और तुम मुझे छोड़ के जाने की बात कर रहे हो. अब आगे:चल … टेबल पर झुक जा … पहले तेरा रस पी लूँ …” सर ने कहते हुए मेरी कमर पर हाथ रख कर आगे दबा दिया और ना चाहते हुए भी मुझे झुकना पड़ा.

मैं अब उसकी उंगलियों से अपनी चूत में होने वाले घर्षण का मजा लेने लगी थी. मुझे भूख लगी थी तो मैं हिम्मत करके उतर गया और अपने लिए चिप्स और चाय ले आया. उसकी उम्र कोई 27-28 के करीब होगी। उसका फिगर ऐसा था कि जैसे ऊपर वाले ने बिकुल फ़ुर्सत में बनाया हो। वो खूबसूरत इतनी अधिक थी कि मैं तो बस उसकी खूबसूरती में खो ही गया।उसने मुझे ‘हैलो’ कहा.

फिर तुम उसको भी जम के चुदाई का पूरा सुख देना … बेचारी चुदाई के लिए बहुत तड़पी है.

फिर मैंने मनीषा को ढूंढा और बोला- मामा जी ने एक काम करने को बोला है. एक उंगली से मैं प्रमिला की चुत के दाने को भी सहला रहा था, जिससे प्रमिला भी सिसकारियों के साथ मुँह से ‘ऊऊ ह्ह्ह आआअह्हह …’ की आवाजें निकाल रही थी. उस दिन जब उनका फोन आया, तो हम दोनों ने बात बात में मूवी जाने का पक्का कर लिया.

तो मैं जा रही हूँ।मैं- अच्छा मेरी बन्नो, जा ले मज़े उसके लन्ड के और अच्छे से जाना।रजनी- तू भी ले ले मज़े आज अमित के।तभी अमित ने मुझसे चलने के लिए कहा और हम बाहर आ गए।अमित- राहुल और रजनी तो गए।मैं -हाँ।अमित- तो हम भी चलते हैं …मैं उसकी तरफ देखकर मुस्कराई और उसकी बाइक पर बैठ गई। अमित पूरी स्पीड से बाइक चलाने लगा और जल्दी ही हम एक अपार्टमेंट में जा पहुंचे. वो कहने लगी- आह मजा आ गया … फाड़ दो मेरी चूत को … और जोर से चोदो … आहा आह …पूजा कामुक आवाजें निकालने लगी.

अबकी बार उसके मुँह से हल्की सी चीख भी निकली ‘उईई उसस्स स्स्स ह्म्म्म…’ लेकिन चीख मस्ती वाली थी।अब मैं तेज तेज धक्के लगाने लगा. परन्तु उस बुड्ढे ड्राइवर ने बोला कि मालिक दो मिनट इसकी गांड मार लेने दो. एक तरफ तुम थीं जो ओस की पहली बूंद बनकर मेरी प्यास बुझाने आयी थीं, दूसरे तरफ ये समाज था … घरवाले थे, जो इस रिश्ते को कभी मान्य नहीं करते.

कश्मीरी लड़की की सेक्सी

नैना बोली- कब जा रहे हो फ्लैट खाली करके?मैंने बोला- जैसे ही कंपनी दूसरे फ्लैट का इंतज़ाम कर देगी.

एक बार मेरे पति ड्यूटी खत्म करके घर आये और उन्होंने कहा- मेरी ड्यूटी 3 महीनों के लिए पड़ोस के शहर में लग गई है. जगत अंकल एक हाथ मेरे पीछे तरफ से कमर में डालकर मेरे कान में बोले- आई लव यू मेरी प्यारी बीवी … मेरी वन्द्या. उसने यही सवाल मुझसे पूछा तो मैंने भी उसे अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुदने की बात बता दी.

वो मेरा लंड ऐसे हिला रही थी, जैसे उसने ज़िंदगी में पहली बार लंड पकड़ा हो. रोजी ने हल्की सी सिसकारी ली ‘उस्स्स उस्स्स्स … स्स्स्स!दो चार हल्के हल्के धक्के लगाने के बाद मैंने उसकी टांगों को अपने कन्धों पर रखकर अगला धक्का थोड़ा तेज लगाया तो पूरा लंड उसकी चूत में चला गया. एक्स हिंदी एचडी वीडियोसही में उसने अपनी चुत के बालों को अभी कुछ देर‌ पहले ही साफ किया था.

मैं चुपचाप बैठी थी।राहुल और वो दोनों लडकियां आपस में मजाक कर रहे थे।थोड़ी देर बाद राहुल अपनी बहन से बोला- भाभी और मेरे लिए खाना ले आओ. सोनल की जीभ उसके होंठों से बाहर निकली और दादाजी के लंड के सुपारे पर घूमने लगी.

मैं घर से निकल कर थोड़ी दूर पैदल चली, फिर ऑटो पकड़ स्टेशन की ओर चल पड़ी. इस बीच जब-जब प्रशांत से नीना की आंखें चार हुर्इं, तो दोनों ने अपनेआप में अजीब तरह का बदलाव पाया. इसके आधा घंटे के बाद हम दोनों वापस शादी में आ गए और मैंने उसको अपनी बीवी बना कर अपने दोस्तों से मिलवाया.

इस समय के दौरान मेरा मन ऐसा करता था कि कोई आए और मेरी चूत फाड़ दें।मेरे पति जब वापस आए तो करीब रात के 9:00 बजे होंगे. आंटी ने कहा- क्या?मैंने थोड़ा डरते हुए कहा- आप मुझे बहुत ही अच्छी लगती हैं और मैं आपको बहुत प्यार करता हूँ. मैं एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता हूँ तो एक दिन मेरे बॉस ने कहा कि तुम्हें कल ही कोलकाता के लिए निकलना पड़ेगा.

अब अनु भी गांड उछाल कर करण का साथ देने लगी ‘आऊ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह!पूरा कमरा इस चुदाई से गूंज उठा.

मैं उस दुकानदार के पास गया और उससे पूछा कि कोई जुगाड़ हो सकता है क्या?वह बोला- साहब, अकेले सफर कर रहे है क्या?मैंने हां में जवाब दिया. मैंने उनको घुटनों के बल लेटने को कहा तो उन्होंने कहा- यहाँ नहीं, बाथरूम में नहाते हुए!मैं बाथरूम में पानी में उनकी चूत चोदने लगा और उनके मम्मों को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा.

वो पूरी गर्म कामुक हो गई थी, बार बार लुंगी के ऊपर ही मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ रही थी. तभी उसने कहा- बस करो, अब देखते ही रहोगे? मैं गर्मियों की छुट्टियों तक यहीं रहूंगी. वो बोली- क्या यार … आपको नहीं आना था तो बोल देते, मैं सुबह से आपके आने के सपने नहीं देखती.

वह बोली- नहीं यार … जब लोगों को पता चलता है तो कितनी बदनामी होती है. इसके बाद मैंने फिर से धक्कों का रेला पेला जमा दिया तो वो कुछ नहीं बोलीं … शायद पानी छूट गया था. इस केबिन में मेरी ऊपर वाली बर्थ थी, सफर करीब बीस घंटे का था इसलिए खाने के लिए घर का टिफिन साथ में था.

फुल सेक्सी बीएफ फिल्म फिर रवि ने चलती गाड़ी में अपने पूरे कपड़े खोल दिए और राज अंकल से बोले कि यार कहीं कॉर्नर में हो सके तो गाड़ी लगा लेना या ऐसे चलाना कि कोई देखे ना. मैं उसके मुँह की तरफ बढ़ा और उसने मेरी पेंट की जिप खोल कर मेरा लंड मुँह में ले लिया.

सेक्सी अंग्रेजन की फिल्म

मैंने जैसे ही उसमें उंगली डाली, उफ कितनी गर्म और चिकनी चिपचिपे पानी से भरी हुई थी. मैं गांड के मांस को मुठ्ठी भर पकड़ पकड़ कर समूची गांड को मसलने लगा- चाची, क्या गांड बनाई है भगवान ने. अब तो अनिल उसकी चुत को फाड़ देने वाले झटके देने लगा और उसने मीनाक्षी की गांड पर जोर जोर से थप्पड़ मारने स्टार्ट कर दिए.

मेरे हाथों में अपनी चूचियां थमाकर भाभी ने अब खुद मेरे सीने पर हाथ रख लिए और धीरे धीरे अपनी कमर को आगे पीछे हिलाकर धक्के लगाने शुरू कर दिए. मैं इस कहानी का श्रेय अंतर्वासना वेबसाइट को ही देना चाहता हूँ क्योंकि अंतर्वासना की कहानियों से प्रेरित होकर ही मैंने एक भाभी को पटा लिया. बीएफ वीडियो हिंदी न्यूपर आज दस साल बाद मेरा लंड इतना कड़क हुआ है, वो भी इसकी गांड चाटने के बाद हुआ है.

मैंने उससे कहा- ये क्या है … रोज क्यों चुदवाती हो उससे?तो उसने गुस्से से कहा- तुम ही मना कर दो ना उसे … यह सब हुआ तो तुम्हारी वजह से ही है … ना तुम उससे दोस्ती करते … ना उसे घर लाते तो वो क्यों मेरे साथ ये सब करता.

प्रिया अब बिल्कुल नंगी मेरी बगल में लेटी हुई थी और ट्यूबलाईट की दूधिया रोशनी में उसका बदन किसी संगमरमर की मूर्ति की तरह चमक रहा था. अच्छा जी … खानी है तो चुपचाप ये दवाई खा लो … नहीं तो चिल्लाकर अभी मम्मी को बुला लूँगी.

शायद उन्हें भी इसी बात का इंतज़ार था, वो भी जमके मेरा साथ देने लगीं. उसने मेरे कोमल हाथों के अंदर अपने मूसल लंड को पकड़ाए रखा और मैं उसको आगे पीछे करती रही. फिर लड़कियां वहां से चली गयीं।राहुल मुझसे बातें करने लगा, राहुल ने पूछा- भाभी आपको कुछ चाहिए तो नहीं? कोल्ड ड्रिंक वगैरह?मैंने मना कर दिया।फिर थोड़ी देर बाद हम लोग ऊपर छत पर चले गए.

तकरीबन एक हफ्ते बाद ऑफिस में मेरी थोड़ी तबियत खराब होने लगी तो मैं छुट्टी लेकर घर आ गया.

मेरी नीना इस बात से खुश थी कि उसने दो मिनट में प्रशांत के छक्के छुड़ा दिए. तभी शावर में एक मस्त मसाजर आ गया और बोला- कैन आई ज्वाइन यू?मैं बोला- आ जाओ. इतनी आकर्षक और रसीली महिला को अपने सूखे जीवन में देख कर मुझे मज़ा आ गया.

ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो सॉन्गमैंने तीन-चार ज़ोरदार धक्के मारे और मैंने अपना वीर्य उसकी गांड में गिराना शुरू कर दिया. हम दोनों ही समझ गए थे कि अब सिर्फ नॉर्मल बात करने से काम नहीं चलेगा.

सेक्सी फिल्म हिंदी ऑनलाइन

चोदना चुदाने के बाद नंगी तुम मेरी छाती पर सर रखकर मेरे दोनों स्तनों की घुंडियों को दबाकर मुझे उत्तेजित कर रही थीं. मैंने प्रिया का हाथ पकड़ कर उसे अब बिस्तर पर खींच लिया और वो भी लहराती हुई मेरे सीने से चिपक गयी. ऐसी चुदाई हो रही थी, जिससे लग रहा था कि ये ऐसे ही चलती रहे, कभी खत्म ही ना हो.

तभी एकता ने बोला- यार बड़ी मुश्किल से आठ दस दिन के लिए इसे उन दोनों ने छोड़ा है … वो भी ट्रेनिंग के वास्ते गई हैं तब लाने दिया है. मैंने सिर्फ नैना से दोस्ती इसलिए की थी कि वो खुश रहे और उसकी गृहस्थी ठीक से चलती रहे. वो एक पतली सी काली रंग की नाईटी पहनी हुई थी। उसने मुझे अन्दर बुलाया। हम ड्राइंग रूम में बैठ कर बातें करने लगे। मुझे उसके इरादे कुछ ठीक नहीं लग रहे थे। वो बातें करते हुए बार-बार अपनी टाँगें खुजा रही थी … और कभी-कभी नाइटी ऊपर उठा देती।कुछ देर बातें करने के बाद जब मैंने कहा- आपके पति के सिग्नेचर किए बिना लोन पास नहीं होगा।तो उसने कहा- सिग्नेचर मैं कर दूँगी … आप सिग्नेचर करवा लो और लोन पास कर दो.

इसकी चुत में बड़ी गर्मी है, साली दिन भर न जाने किन किन मजदूरों को लंड लेती फिरती है कुतिया. मेरे ऊपर लेटकर धक्के लगाने से भाभी के होंठ, तो कभी गाल अब बार बार मेरे होंठों को छू रहे थे. वैसे तो मेरे कई लड़कियों के साथ रिलेशन्स रहे हैं लेकिन इस कहानी से पहले तक मैंने कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया था.

मेरी गांड चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी जरूर बताना और प्लीज़ मुझसे कोई उम्मीद न करना. मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा था, पर दर्द को छुपाते हुए मैंने कहा- जी मम्मी …अब मम्मी सीधी हो गईं.

लेकिन उस मोटे लंड से मेरा दम घुट रहा था और मेरा सांस लेना भी मुश्किल था.

नमस्कार दोस्तो, मेरी पिछली चुदाई स्टोरीपड़ोसन चाची की चूत की चुदाई https://www. हिंदी बीएफ सेक्सी हिंदी बीएफ सेक्सीये सब दीदी के साथ ही करना!” प्रिया ने झूठमूठ का गुस्सा दिखाते हुए कहा, मगर मुझे हटाने की कोशिश या फिर मेरा विरोध उसने बिल्कुल भी नहीं किया. वीडियो सेक्सी फुल एचडी बीएफमुझे शुरू से ही सेक्स करने का बहुत मन रहता था और मैं अपनी शादी से पहले तक अपने कई बॉयफ्रेंड्स से सेक्स कर लेती थी, लेकिन अब अपने पति के डर से उन सबसे सेक्स नहीं करती हूँ. मैं चुप रहा, वो फिर हंसी और बोली- बस हो गया … इतना ही दम था?इतना सुनते ही मेरा डर गायब हो गया.

मैं शुक्रवार के दिन उसके घर गया था, तब मेरा दोस्त कहीं बाहर गांव गया हुआ था.

करण के दोनों दोस्त भी दारु के नशे में टुन्न होकर बाहर सोफे पर ही सो गए थे. मैंने उसे बोल दिया कि मैं जिस दिन फ्री रहूंगा उस दिन उसके घर पर आकर उसका कम्प्यूटर ठीक कर दूंगा. दरअसल मैं अपनी बहन की चरित्रहीनता के कारण ही घर से बाहर निकल गया था.

मेरी सहेली का पति मुझसे बात करते करते मेरे जिस्म को छूने लगा और उसके बाद वो मुझे अपनी बाँहों में लेकर मुझे किस करने लगा. मुझे भी नहीं पता, वैसे भी जगत अंकल का लौड़ा इतना बड़ा नहीं था, फिर भी मेरी चूत बहुत टाइट थी. मैं धीरे से उठ कर उसके पास गया और एकदम उसके पीछे सट कर खड़ा हो गया.

देसी आदिवासी सेक्सी पिक्चर

उसने मेरी कमर उठाकर मुझे कुतिया बना दिया और पूरा लंड सैट करके मेरी गांड में लंड पेलने लगा. उसके बाद राहुल ने कई बार मेरी चूत और गांड की चुदाई की लेकिन जो मज़ा मुझे पहले दिन आया था वह मज़ा आज तक दोबारा नहीं मिला. इसलिए मैंने अब अपनी एक उंगली से उनके गुदाद्वार को सहलाना शुरू कर दिया.

मैंने उसके बोबों के बीच में तने हुए उसके निप्पल्स को अपनी चुटकी में भरकर मसल दिया तो वो उछल पड़ी.

बिना कपड़ों के क्या माल लग रही थी वो … एकदम रसगुल्ले की तरह गोलू मोलू.

फिर वो हँस दी और उसने बोला- चलो अब कल 5 बजे मिलते हैं, रेलवे स्टेशन पर. कुछ देर तक तो वो कसमसाती रही, मगर फिर उसने भी मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया. वॉलपेपर ब्लू फिल्ममेरे पति ने पीछे से आकर अपनी पेंट और चड्डी एक साथ निकाल कर अपना लंड मेरी चुत की दरार पर रख दिया.

मैंने रूपा की तरफ बुरा सा मुँह करके देखते हुए- जाओ उसे अन्दर ले आओ. वो बोला- मालिकों आपको बहुत बहुत धन्यवाद, मैं आपका एहसान नहीं भूलूंगा, आप लोग कुछ करना या नहीं इसकी गांड जरूर मारना, इसकी गांड बहुत मस्त है. रास्ते में उन्होंने मुझे गन्ने का जूस पिलाया और शाम को करीब 4 बजे के लगभग हम लोग घर मतलब मेरी ससुराल पहुंच गए।वहां मेरा स्वागत हुआ, नाच गाना हुआ, गर्मियों के दिन थे.

मेरी बहन ने जीजा जी को धकेलते हुए कहा- ये तुम दोनों क्या कर रहे हो?मैं तो कुछ बोल ही नहीं पाई. पहले तो मैं दाँत भींचकर दर्द को काबू में कर रहा था लेकिन जब बर्दाश्त के बाहर हो गया तो मैंने पल्लवी के दोनों हाथों को पकड़ लिया.

अब नीरू और मेरी पत्नी दोनों ने उसकी टांगों को चौड़ा किया और उसकी कुंवारी बुर की दरार को खोल कर मुझे दिखा कर बोली- देखो राजा जी, बिनचुदी बुर के दर्शन करो … कितनी मस्त लग रही है पायल की बुर … हम आपके लंड के लिए बंद और नई बुर लेकर आए हैं.

सरिता को भी दो साल बाद लंड मिला था सो उसका थोड़ा दर्द होना वाजिब था. पल्लवी के मुंह से सिसकारी निकलने लगी थी, लेकिन वो सिसकारी इतनी धीमी थी कि केवल मेरे कान को ही सुनाई दे रही थी।इधर पल्लवी ने भी मेरी कैपरी के अन्दर जांघों की जगह से हाथ को डालकर अंडे को पकड़ कर दबा दिया, जितना तेज मैं उसके मम्मे को दबाता, उतना ही तेज वो मेरे अंडकोष को दबा देती। अंडकोष दबने से दर्द तो होता लेकिन मजा भी आ रहा था. मैंने कहा- हां होती है … मगर में किसी से कोई ऐसे संबंध नहीं बनाया करती.

भोजपुरी बीएफ सेक्सी पिक्चर सोनू बोली- आप उनके साथ पिक्चर देखने क्यों गए थे?मैंने सोनू से कहा- वह तो भाभी अकेली थी इसलिए उन्होंने मुझसे कहा कि आप मेरे साथ चल पड़ो तो मैं चला गया था, ऐसी कोई बात नहीं है. उस पर मेरे होंठों के निशान साफ़ दिख रहे थे, मगर उसका चूचुक अब कड़ा होकर तन गया था.

उन्होंने अपनी आंखें बन्द की हुई थीं और मुँह से सिसकारियां भरते हुए वो अपने खुद के ही होंठ को काट‌ रही थीं. मैंने तेजी बढ़ा दी, वो भी सिसकारियां लेने लगा- अहह आह्ह आहह …फिर एक जोर के झटके के साथ मैं उसकी गांड में झड़ गया और वो भी मेरे तोंद पर झड़ गया. मैंने अंकल की तरफ जोर से घूरा कि बगल से दो अनजान व्यक्ति हैं … और आगे मम्मी हैं … तो वो इस तरह की हरकत न करें.

घर की सेक्सी मूवी

हम सब रेलवे स्टेशन पर मिले, मैंने सबका अभिवादन किया और पियू को भी हेलो कहा. इसके बाद मैं आप सभी को बताऊंगा कि मैंने उसे सबसे पहली बार कैसे चोदा था. चुदाई के बाद कुछ देर रुक कर वहां से उठ कर ऊपर रूम में जा कर सो गया.

सामान और स्टूल गिरने की आवाज़ सुनकर नीचे से लता भाभी ऊपर आ गई और उन्होंने मुझे हेमा भाभी के नंगे पाँव में दवाई लगाते देख लिया था. अपने लंड को एक हाथ से पकड़ कर उसकी चुत के छेद पर लगा ही रहा था कि रमेश चिल्लाया- रुकिए मालिक.

लेकिन भाभी ने बोला कि वो यानि मेरे भुआ का लड़का तो बहुत व्यस्त रहते हैं दिन रात बस पैसे के पीछे भागते रहते हैं, तो मैंने सोचा कि मैं अकेले ही आ जाऊँगी.

दिन में एक दो बार मैं उसे लंड चुसवा ही देता और अपना माल उसके मुँह में ही निकालता, जिसे वो पी जाती. मैं उनको देखने लगा, तो उन्होंने हंस कर कहा कि मैं तो न जाने कब से तेरे लंड को लेना चाहती थी. वो सब मुझे कुछ ऐसे निगाहों से देखने लगे … जैसे कि मैं किसी चिड़ियाघर से आई हूँ.

मैंने भी अपना मुँह खोलकर उसका स्वागत किया और उसे होंठों से दबाकर जोरों से चूसने लगा‌ जिससे सुलेखा भाभी के मुँह का मीठा‌ मीठा व चिकना‌ सा स्वाद अब‌ मेरे मुँह में घुल गया. लगभग 4 महीने हो चुके थे और एक दिन दोपहर के वक्त मेरे पास एक मैसेज आया. मैं उसके घर गया, उसने दरवाजा खोला और कहा- तू बाथरूम में जा … मैंने पानी गर्म किया है, वो लेके आती हूँ.

तब भी नामित मेरी नहीं सुन रहा था उसने वहीं सोफे पर मुझे लिटाया और मेरी चूत में अपनी जीभ घुसेड़ दी.

फुल सेक्सी बीएफ फिल्म: बचपन से लेकर आज तक मैंने कई बार रवि मामा के कड़क मेहनती जिस्म को बिना कपड़ों के देखा. मैंने सोनू को फिर प्यार किया और कहा- ठीक है, आज से हम दोनों पक्के फ्रेंड हो गए हैं.

क्या होंठ थे, इतने दिनों बाद किसी स्त्री के बांहों में होना मुझे तरन्नुम दे रहा था. बाकी कहानी आपको में अगले भाग में लिखूंगा, आपको यह कहानी कैसी लगी, मुझे जरूर बताएं. लंड बहुत गर्म था … सच में ठाकुर अंकल का लंड बिना कुछ किए ही पहले से ही बहुत गर्म था.

वो मेरे कंधे को पीछे से पकड़ कर बहुत तेजी से धक्के लगाने लगा और एक मिनट के अन्दर ही रमीज का पूरा रस मेरी गांड में भर गया.

हम दोनों लोग कभी कभी शाम को घूमने जाते थे, तो कॉलोनी के लड़के हम दोनों लोग पर गन्दे कमेंट करते थे. वे दोनों इंग्लिश में बड़बड़ा रही थीं- ऊऊऊ सो बिग कॉक … सक माय बूब्स हार्ड … ऊऊऊ या बेबी सक!मैं भी निप्पल को मुँह में लेके चूसे जा रहा था और कभी कभी हल्के से काट भी लेता. एक बार तो मैं सोच रहा था कि अपने लंड को वंदना की गांड में डाल दूँ, पर सभी के होने के कारण मैं ऐसा नहीं कर पाया.