स्कूली लड़कियों का बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ सेक्सी भेजें

तस्वीर का शीर्षक ,

বাংলাদেশী সেক্স ভিডিও: स्कूली लड़कियों का बीएफ, मैंने कहा- किस तरह की मदद चाहिए तुम्हें?वो बोली- मैं तुम्हारे साथ भाग चलने के लिए तैयार हूं लेकिन इस शादी के लिए तैयार नहीं हूं.

सेक्सी वीडियो बीएफ अंग्रेजी बीएफ

अंकल बोले- अभी तेरी अम्मी आने वाली है, वो मेरे लिए नाश्ता लेकर आएगी. बीएफ फिल्म हिंदी देसीदस मिनट में उसने मेरा काम खत्म कर दिया और मैं जाने लगा तब उसने कहा- अगर तुम्हारे पास बाइक है तो तुम मुझे बस स्टैंड तक छोड़ डोज?तो इस पर मैंने हाँ कर दिया और साथ में हम नीचे आ गए.

मैंने सोचा कि शायद हो सकता है कि अनजाने में काजल का हाथ मेरी जांघ पर आ गया हो इसलिए इतनी जल्दी किसी निष्कर्ष पर पहुंचना ठीक नहीं था. क्सनक्सक्स इंडियाइसी छीना झपटी में अदिति मेरे ऊपर आ गयी और उसके होंठ मेरे होंठों क़े बिल्कुल पास आ गई.

किसी भी समय, किसी भी स्थान पर, किसी भी आसन में बेबी मजे से चुदवाती थी.स्कूली लड़कियों का बीएफ: इसी बीच नम्रता ने अपनी उंगली पर बहुत सारा थूक उड़ेला और फिर अपने चूत की मालिश उसी थूक से करने लगी.

फिर अपने लंड लायक मेरी गांड को फैला दिया था, वो मेरी गांड के छेद में चिकनाई लगा कर सुपारा धकेलता रहता.कभी कभी मन में एक अपराधी सी भावना पैदा होने लगती, एक बार लगता के मैं यह ना करूं … अंकल शादी शुदा हैं … आंटी को कैसा लगेगा … मम्मी पापा क्या सोचेंगे … पर जब भी फ़िल्म देखते वक्त हीरो हेरोइन को गले लगाने का सीन आता, तब हीरो के रूप में मुझे अंकल दिखाई देते और हीरोइन में मैं खुद को महसूस करने लगती.

बीएफ हिंदी वीडियो सेक्सी - स्कूली लड़कियों का बीएफ

पॉर्न देखते देखते मेरे लंड ने खड़े होकर मेरी पैंट को तंबू बना दिया था.मैं खड़ी होकर सौरव के पास गई और उससे पूछने लगी कि मेरी बुक में तो ये लेसन है ही नहीं।तो उसने मेरे हाथ से बुक लेकर देखा और बोला- हां, आपकी बुक में नहीं है।मेरे दिमाग में आईडिया आया.

कैसे??? ऐसा क्या हुआ?” मैंने हकलाते हुए से पूछा।आपतो पता है वो … वो … ” गौरी बोलते बोलते रूक गयी। उसका पूरा चेहरा लाल हो गया और उसने अपनी मोटी-मोटी आँखें ऐसे फैलाई जैसे वो राफेल जैसा कोई बड़ा घोटाला उजागर करने जा रही है।अब आप मेरी उत्सुकता का अंदाज़ा लगा सकते हैं।वो … वो क्या … साफ बताओ ना?” मेरे दिल की धड़कन और उत्सुकता दोनो ही प्राइस इंडेक्स की तरह बढ़ती जा रही थी।वो … वो … तुत्ते से तलवाती है. स्कूली लड़कियों का बीएफ मुझे अपनी बेगम की चूत चुदाई करनी थी लेकिन कौसर को सोयी हुई देख मुझे ऐसा लगा कि शायद वो बेचारी काम करने में थक गयी है तो मैंने चुदाई का इरादा छोड़ दिया। मन ही मन में मैंने सोचा कि चुदाई का क्या है, कल कर लेंगे और मैं सो गया.

अब उनके शरीर सिर्फ़ ब्रा-पेंटी ही बची थी मैंने खड़े होकर उनकी कमर पर मालिश करना शुरू किया … मगर उनकी ब्रा बार-बार मेरे उंगली पर लग रही थी.

स्कूली लड़कियों का बीएफ?

सीमा ने एक बड़ा तौलिया राहुल को दिया और एक तौलिया से उसने अपने बदन को सुखाया. इस तरह अब रोज ही सोनल मुझे पार्क में मिल जाया करती थी और मैं उसके इर्द-गिर्द मंडराता रहता था. वह मेरे सामने नीले कलर की चड्डी में खड़ा था और मुझे पागलों की तरह किस कर रहा था.

मेरे बूब्स की दोनों निप्पल टाइट हो गयी थी और मेरे बूब्स भी लाल हो गए थे. यह कहते हुए उन्होंने मुझे अपनी ओर खींचा और अपने पैर को फैला के लंड खुद से ही चूत में डाल लिया. अगर आपको मेरी सेक्स स्टोरी मजेदार लगी हो, तो आप सविता जी को मेल कर सकते हैं.

संजीव ने पीछे हाथ ले जाकर मेरे ब्लाउज को खोल दिया और मेरी ब्रा को भी खोल दिया. जिस कारण नताशा वहां और रुकने की इच्छा जाहिर कर रही थी, मैं उसकी बात मान गई हूँ. चूंकि मैं पहले से ही चुदासी हो चुकी थी तो मैंने उसका कोई विरोध नहीं किया.

मैंने धीरे-धीरे मोनिषा को चोदने की स्पीड बढ़ा दी और मोनिषा की चुत में अच्छी तरह से लंड घुसा दिया. कुल नौ दस घंटे का रास्ता था, तो दिन मैं चार बजे की बस पकड़ के बारह घर पहुंच जाया करता था.

शुभम जी ये बोलकर गए थे कि किसी दिन और अच्छे से चुदाई करूँगा, अभी मेरा मन नहीं भरा है.

जैसे ही उसने मेरे लंड को देखा, तो काँप कर बोली- देवर ज़ी आपका लंड तो बहुत ही बड़ा है.

चाचा जी की नौकरी शहर में है तो वे कम ही गांव में आ पाते हैं, इधर का काम चाची और उन ताऊ जी के जिम्मे है. हवस की एक विशेषता यह होती है कि उसको जितना शांत करने की कोशिश करो, वो और बढ़ती जाती है. ऐसा कहकर दरवाजे की ओर चलने को हुई तो मैंने कहा- मैंने भी आपसे कुछ पूछना है.

तो सीमा ने आज राहुल से बोल दिया कि वो भी डिनर राहुल के साथ ही करेगी तो राहुल दो लोगों के लिए डिनर आर्डर करे. क्या करूँ कुछ समझ नहीं आ रहा था, मैं फ्रेश हो गयी, हल्का मेकअप किया और घर में पहनने के कपड़े, शर्ट और स्कर्ट पहनकर उनकी राह देखने लगी. उधर नम्रता भी अपने सांसों पर काबू पा रही थी, इधर उसकी चूत से निकलने वाला सारा रस मेरे अन्दर समा चुका था.

मैं- तुम ठीक कह रही मेरी जानेमन, लेकिन उसके पहले लंड महाराज तुम्हारी चूत का बाजा तो बजा ही डालता है.

भाभी कमर उठा कर बोले जा रही थी- आआआह … और जोर से चोद दे … और जोर से … हईई … मजा आ गया … मेरी जान … राज लव यू … और जोर से पेल दे … यस यस आआहह. वो मुझे अन्दर ले गई और सोफे पर बिठा कर बोली- आप बैठो … मैं आपके लिए पानी लाती हूँ. उसकी चुदाई को कुछ पल बीत गये तो अब मुझे भी थोड़ी-थोड़ी राहत महसूस होती जा रही थी.

भोला बोला- देख साले, आज तुझे भी हिरोइन जैसी मस्त आइटम का मजा मिल रहा है. लेकिन मेरा मानना है कि लंड की लंबाई से सेक्स के दौरान कोई फर्क नहीं पड़ता है. ओहह ओहह ऊहह मुझे बहुत मजा आ रहा था, आज तक ऐसा किसी ने नहीं किया था.

वो अहह ओहह हहह हाह करती रही, फिर मुझे उसकी चूत में लण्ड डालने को कहने लगी।मैंने उसकी एक ना सुनी, मैं चूत चाटता रहा.

फिर उसने मेरे निक्कर को इलास्टिक से चुटकियों से पकड़ा और ऊपर उठाया और झुक कर मेरे लंड को देखने की कोशिश करने लगी. मेरी सहेली डॉली ने बतलाया था कि जब सील टूटेगी तो थोड़ासा दर्द होता है पर ऐसा दर्द होगा इसकी तो मैंने कल्पना भी नहीं की थी.

स्कूली लड़कियों का बीएफ मेरी मुँह बोली साली सोनम, जो कि मेरी बीवी की कुछ ही समय पहले बनी सहेली है. मैंने अपने कपड़े पहले ही उतार दिए थे।फिर मैं ज्योति के पेट को चूमते हुए नीचे जांघों की तरफ आया और जांघों को चूमने लगा.

स्कूली लड़कियों का बीएफ मैंने उसको उसके बिस्तर पे बिठाया और फिर उसका हाथ अपने हाथों में ले के किस किया. मुझे पता था कि अब चुदाई शुरू हुई, तो काम से काम आधा घंटे तक मेरा लंड झड़ेगा नहीं.

उसने मुझको बेडरूम में चलने के लिए बोला और हम दोनों बेडरूम में आ गए.

बीएफ बलात्कार

मुकुल राय को भी तुरंत आभास होता है और वो एक झटके से अपना पूरा लंड परीशा के हलक से बाहर निकाल देता है। परीशा वही ज़ोर ज़ोर से खांसने लगती है. उसके चूतड़ उठाकर मैंने उसकी गांड के नीचे तकिया रखा और लण्ड उसकी चूत में डालकर मैं उसके ऊपर लेट गया और उसकी चूचियां मलते हुए होठों का रसपान करने लगा. अब तक उसने हीना के ब्लाउज को निकाल कर उसके चूचों को नंगा कर दिया था.

अब आगे:मैं नीना के घर गई और उसके बाप से इंगलिश पढ़ने की बात कही, तो वह मुझे सोफ़ा पर बिठाकर नीना से बोला- बेटी तुम्हारी सहेली को पढ़ा दूँ, तुम अन्दर जाओ. मैंने कहा- भाभी, क्या आपको मेरे साथ अच्छा लग रहा है?भाभी ने मेरे गाल पर हाथ फेर दिया और कहा- मैं इसी प्यार की तो भूखी हूँ. बस बेटा, जो दर्द होना था हो गया … अब और नहीं होगा, चल अब चुप हो जा!” अंकल जी ने मुझे प्यार से सांत्वना दी जिससे मेरी रुलाई और जोर से फूट पड़ी.

उसके बाद श्वेता मैडम बोलीं- संजू हमारा एक दूसरे पे बहुत प्यार और भरोसा है.

दोस्तो, मेरा नाम परम है और मैं दिल्ली में रहता हूं। मैं हमेशा से ही हिन्दी सेक्स स्टोरी पढ़ा करता था। आज मैं भी आपको अपने साथ हुई एक सच्ची घटना बताना चाहता हूं। यह कहानी एकदम सच है। ये मेरी पहली स्टोरी है. मेरी बीवी को मालूम ही नहीं चला क्योंकि मेरे अब्बू का शरीर बिल्कुल मेरे जैसा है. उस दिन हीना ने साहिल को पहली बार देखा था मगर फोन पर होने वाली चैट पर वो एक-दूसरे को पहले से ही जानते थे.

वो मेरे साथ कुल 4 दिन रही … और इन चार दिनों में वो मुझसे कितनी बार किन किन आसनों में चुदी, ये सब आपको लिखूंगा. उसने कहा- ठीक है, वैसे भी आप अपनी भाभी को चोदते रहते हो, तो क्या मैंने कभी कोई आपत्ति जताई है!मेरी भाभी को मैं चोदता हूँ, ये जानकारी मेरे पुराने मित्र जानते हैं. रात को सब लोग सोने के बाद मैंने छुपाई हुई मैगज़ीन निकाली और बाथरूम में जाकर पढ़ने लगी.

’उसने सधे हाथों से संगीता के पीछे खड़े होकर गर्दन और कन्धों को मालिश शुरू की. मैंने कहा कि अब क्या शर्माना, अब तो आपके बच्चे (वीर्य) मेरे अन्दर हैं.

मेरी हालत समझ अंकल जी ने मुझे अच्छे से लिटा कर एक पिलो मेरी कमर के नीचे लगा दिया और मेरी नंगी गोरी जांघों को फैला कर उनके बीच में आके बैठ गए और अपना लण्ड मेरी चूत की दरार में ऊपर से नीचे तक; नीचे से ऊपर तक रगड़ने लगे. मैं उनके ऊपर आ गया और उनके होंठों को चूसने लगा, पूरे चेहरे पर चूसने लगा. मैं वैसी कहानी तो आपको पेश नहीं कर पाऊंगा क्योंकि इस साइट पर उच्च कोटि के लेखक कहानी लिखते हैं.

आज मैं आपको एक मजेदार कहानी बताने जा रहा हूँ, जिसे सुनकर आपके पूरे शरीर में बिजली सी दौड़ उठेगी.

वो कोई न कोई जुगाड़ जरूर कर लेगी राज के लंड को मानसी की चूत तक पहुंचाने के लिए. पीते हुए मुझे तो नशा सा होने लगा था लेकिन ऋतु और अजय अभी बिल्कुल होश में रहकर बात कर रहे थे. मैंने मैम से पूछा- कोई जल्दी तो नहीं है ना?तो उसने कहा- नहीं … मज़ा आ रहा है! आराम से करो, बहुत दिन बाद ऐसा सुख मिला है.

इतने करीब कि मेरे और उसके होंठों के बीच शायद एक या दो सूत का फर्क होगा. उसकी दर्द से भरी चीख निकली … लेकिन मेरा मुँह उसके मुँह से लगा होने के कारण उसकी आवाज दबी रह गयी.

उनकी वैसे तो 5 बच्चे थे, पर उनकी एक लड़की, जो लगभग 18 साल की गदराये शरीर की मालकिन थी, वो बहुत मस्त माल थी. जब भाभी ने मेरे कपड़े उतार दिए, तो मैं भाभी के साथ रज़ाई में आ गया और उनको बांहों में लेकर किस करने लगा. अगर दुनिया में कोई मेरी नजर से बची है, तो शायद केवल मेरे घर की ही औरतें और दोस्तों की बीवी या बहनें ही अब तक बची हुई थीं.

छोटी लड़कियों के बीएफ हिंदी में

हीना अपने कपड़ों को दुरुस्त कर रही थी कि तभी पीछे से समीरा दबे पांव स्नैक्स की प्लेट हाथ में लिए उनकी तरफ आती हुई दिखाई दी.

उन लौड़ों को देख कर मेरे मन में भी यही ख्याल आने लगे कि काश मुझे अपनी चूत में ऐसा ही लंड मिल जाये. फिर जब वो थोड़ी सी नॉर्मल हो गई तो मैंने एक जोर का धक्का दिया और पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया. उसने धकाधक उछलना शुरू कर दिया लेकिन थोड़ी देर में ही रुक गई और बोली- बस अब मैं थक गई हूँ.

मैं दिखने में बहुत आकर्षक हूँ, रंग गोरा है, अ़च्छा कसरती शरीर है क्योंकि मैं जिम भी जाता हूँ. फिर उसने समीरा का परिचय साहिल से करवाते हुए कहा- साहिल मामा, ये मेरी बहन समीरा है. सेक्सी बीएफ भेजें वीडियोमेरी पत्नी मुझे बताने लगी- भाभी बोलती बहुत हैं, अभी दस दिन हुए हैं और अपना पूरा इतिहास बता चुकी हैं कि मेरा नाम भूपिन्दर कौर है, वैसे सब मुझे बेबी कहते हैं.

बाजार 1 घंटे की दूरी पर है तो उसे काफी तकलीफ होने वाली थी।बस थोड़ी ही दूर चली थी कि मेरी मां को पीछे कुछ महसूस हुआ. अभी तक उसने ड्रेस भी चेंज नहीं किया था और थोड़ी मदहोश भी हो गयी थी। उसका सर मेरे सीने पर था और उसके सारे बालों से उसका चेहरा ढका हुआ था.

अगले दिन सुबह मैं ब्रश करते करते बाहर गया … तो उन दोनों में से एक लड़की दिखी … पर मैं उससे कुछ नहीं बोला. होली के दिन सुबह मैं नहाकर सफेद फॉर्मल कपड़े पहनकर बाहर आया, तभी सामने का नजारा देखकर मेरा लंड सलामी देने लगा. चाची इतनी कामुक और चिकनी दिखती हैं कि जो भी उनको पहली बार देखेगा, उसका लंड खड़ा हो जाएगा.

मैंने कहा- हीना यही साहिल है जिससे मैंने तुम्हारी फोन पर बात करवाई थी. उसका पति बस उसके साथ है, लेकिन वो घर वालों के सामने कुछ नहीं बोल सकता. ये उससे बात करने का अच्छा मौका था और मैं इस मौके को हाथ से जाने नहीं देना चाहता था.

डिज़ाईनर पेंटी की जाली में से कुछ कुछ रेशमी बालों की झलक सी भी मिली जैसे वैक्स करवाए 15-20 दिन हो गए हों.

मैं जैसे ही बाहर आई और दो कदम चली ही थी कि अचानक वहां पड़े हुए सामान से मुझे ठोकर लगी और मैं गिरते गिरते बची, मेरी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया. उसके इशारे पर कंचन भी नीचे बैठ कर उसके लंड के साथ खेलने लगी और उसे चूमने लगी। उसे उस लड़के के साथ ऐसे करते देखते हुए मुझे थोड़ा दुःख हुआ क्योंकि मैं तो खुद ही चाहता था कि उस लड़के की जगह मैं हो पाता, लेकिन मैं फिर भी उसी तरफ देखता रहा। कंचन ने उसके लंड को चूसना शुरू ही किया था कि वह लड़का फिर रुक गया.

प्रीत के साथ भी मैंने उनकी बात करवा दी।लेकिन 2 दिन बाद भाई को घर जाना था और अपनी जरूरत के कागजात बनवाने थे। तो भाई ने कहा- मैं 20 दिन बाद एक सप्ताह के लिए आऊंगा, तब एन्जॉय करेंगे।दो दिन बाद भाई चले गए।और जब वापस आये तब प्रीत की चुदाई की वो अगली कहानी में बताउंगी। आप मुझे[emailprotected]पर मेल करके बताना कि आपको कैसी लगी मेरी चुदाई।धन्यवाद।. हम दोनों ने रात में अन्तर्वासना की कुछ कहानियां भी पढ़ीं और बातें करते करते सो गए. मैंने कहा- अगर तुम मेरे से बात करोगी, तो तुम्हारा ब्वॉयफ्रेंड नाराज हो जाएगा?सपना बोली कि उसको इस बात का पता ही नहीं चलेगा.

फिर मूवी देखने गए थिएटर में बहुत काम लोग थे, तो मैंने दीक्षा का हाथ अपने हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया. मैंने दोबारा से मेरा लौड़ा उसकी चूत में डाला। मैं झटके पर झटके दे रहा था. मामी मुझसे बोलीं- किसी को बताओगे तो नहीं?मैं बोला- अरे रेशमा जी, अब हम दोनों दोस्त हैं यार … बोलो न.

स्कूली लड़कियों का बीएफ सुमन भाभी चूत चुसाई से एकदम से मचल उठीं और मुझसे कहने लगीं- अब अपना लंड मेरी चुत में डाल दो, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. रीमा ने सुस्ताते हुए पंकज सारिका के बारे में बताया कि दोनों बहुत एडवेंचरस हैं.

ब्रेजर्स बीएफ

वो लंड की हर थाप के साथ ‘उम्म्मम्म हूम्म हम्म उम्ममम…’ की आवाजें निकालते हुए चुत चुदाई का मजा ले रही थी. उसकी इस हरकत से मेरी आंख खुल गई, तो वो हंसने लगी और बोली- चाचू ये लॉलीपॉप आपने पहले कभी नहीं दिया खाने को. ज्योति बोली- मगर अब तुम्हें ये सब करने की जरूरत नहीं।जब मैं उसकी बात समझ नहीं पाया तो वह कहने लगी- तुमने दिन में जो सुना था वह सब सच है.

अगली कहानी मैंने उसकी कमसिन ननद की जवानी पर किस तरह हाथ साफ किया, यह लिखूंगा, तब तक के लिए विदा लेता हूँ. ओह्ह! अच्छा अब क्या होगा पवन?”पवन बोला- तो अभी गाड़ी को गेरेज ले जाना पड़ेगा. हीदी सेकसी वीडीयोमेरे मन में उसकी चुत को लेकर लाखों ख्याल अपनी जगह बना चुके थे जिन्हें निकालना मुश्किल था.

इधर उधर सोचने के बाद मेरी नजर पापा जी (मेरे ससुर जी) के दोस्त चोपडा अंकल पर पड़ी.

मेरा पूरा माल निकलने के बाद उसने ऐसा झटका मारा कि मेरे माल के साथ उसकी चूत से ब्लड भी बाहर गिरने लगा. बहुत कम समय में हम दोनों इतनी अच्छी सहेलियां बन गई कि अब मुझे उसके बिना जी ही नहीं लगता था.

मगर जब मेरे आस-पास इतने सारे लंड मौजूद थे तो मुझे उंगली से मेहनत करने की क्या जरूरत थी भला?मालिश करवाने के बाद मैंने सोचा कि क्यों न कुछ देर पूल में जाकर स्वीमिंग ही कर ली जाए! मैं उसी लाल ब्रा और पैंटी को पहन कर स्वीमिंग पूल में चली गई. अब उसने कहा- जल्दी चोदो मुझे!मैंने कहा- उन लोगों को पूरी तरह जाने तो दो! कहीं वापिस आ गए तो पकड़े जाएंगे … तो उनसे भी चुदवाना पड़ेगा आपको. मन तो कर रहा था कि भाभी को काफी देर तक जम कर चोदूँ मगर चूत इतने दिन बाद मिली थी तो ज्यादा देर मैं रुक नहीं पाया.

थोड़ी देर चुचे चूसने के बाद मैं खड़ा हो गया और कहा- मैम, अब अपनी चुत दिखाओ.

एक ठाकुर की चुदाई का ऐसा मजा दूंगा तुझे कि तू अपनी सारी चुदास भूल जायेगी मेरी रंडी. लेटे लेटे ट्रेन चलाने में मजा नहीं आ रहा था, मैं उठा, एक एक करके अपनी टांगें सीधी कीं और डॉली को उठाकर अपनी गोद में बैठा लिया और उससे कहा- अब तुम करो. तो वो बोली- मुझे अब बहुत नींद आ रही है, तंग मत करो!उस दिन से पहले कभी कौसर बेगम ने मुझे ऐसा कभी नहीं कहा था.

जानवर की बीएफथोड़ा नीचे होकर मैं उसकी नाभि पर किस करने लगा और जीभ नाभि में डाल दी. मैंने आंटी को घोड़ी बनाया और पीछे से मैंने लण्ड उसकी चूत में डाल दिया.

बीएफ भेजिए भोजपुरी में

पर नितिन थोड़ा शर्मीला था और कम पहल करता। नितिन मुझे लोगों के बीच छूता भी नहीं था. वो हाथ मोड़ के कोहनी के सहारे सोफे के किनारे से अपने को संभाले हुई थी. अंकल ने मेरी शर्ट ऊपर सरका दी और मेरे स्तनों को ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगे.

इससे मुझे अपने लंड की यह खासियत समझ आ गई कि मेरा लंड दिन में 6-7 बार भी चुदाई कर सकता है. थोड़ी देर बाद नौकर बहुत सारे ड्राईफ्रूट्स और दूध लेकर आया। मैं भूखा होने के कारण जल्दी से वो सब चट कर गया और थोड़ी देर इन्तजार करने के बाद जब कोई नहीं आया तो मेरी भी आँख लग गयी।लगभग दोपहर के 2 बजे मैडम आयी और उन्होंने मुझे उठाया. वो भी अब मस्त हो रही थी, मेरा सिर पकड़कर अपने चुचे पर दबाव डाल रही थी.

मैं सोच रहा था कि अब तक इसको किसी ने चोद कैसे नहीं पाया?कुछ ही देर में सोना और मैं, दोनों ही मिल कर सोनम को चाटने लगे. मौसी जब तक हमारे साथ रही उसने कई बार मुझसे अपनी चूत की प्यास बुझवायी. मेरे पास मोबाइल नहीं था इसलिए एक पेपर पर मैंने अपना ईमेल पता दे दिया.

मैंने कहा- मम्मी मुझे तो घर जाना है और मैं भी निहारिका और विक्की भाई के साथ अपने घर जाऊँगी. मुस्कान भी बहुत खुले विचार वाली लड़की थी, इसलिए मेरी और उसकी गहरी दोस्ती हो गई.

कुछ पल लंड चुसाई का मजा लने के बाद मैंने उसे उठाया और झूले के स्टैंड बार के सहारे खड़ा कर दिया.

चूंकि दिल्ली में ट्रैफिक बहुत होता है इसलिए जितना टाइम दिल्ली से निकलने में लग जाता है उतने टाइम में तो आदमी चंढीगढ़ पहुंच जाता है. बड़े लैंड वाली सेक्सी पिक्चरउसने झट से अपना साड़ी का पल्लू ठीक किया और बोली- क्या हुआ बाबूजी?मैं जैसे सोते से जागा. अरे ब्लू पिक्चर दिखाओआप चाहे मुझे पगार मत देना लेकिन इसकी चूत का स्वाद लेने दीजिए मुझे भी. तब तक मैंने अपने कपड़े पहन लिये और जब वो आई तो उसने अपने बदन पर एक तौलिया लपेटा हुआ था.

मैं अपनी दोस्तों के साथ खाने के पंडाल में थी तो संजीव भी वहां आ पहुंचा.

मैं 6 महीने से प्यासी हूँ और अपनी प्यासी चूत को लेकर बैठी रहती हूं. ऐसा कहकर दरवाजे की ओर चलने को हुई तो मैंने कहा- मैंने भी आपसे कुछ पूछना है. फिर उसने उसी टेबिल पर लेटकर अपनी दोनों टांगों को हवा में उठा लिया और एक हाथ की उंगली चूत में चालू कर दी.

नीचे जाते ही मैं जल्दी से टॉयलेट में घुस गया और भाबी के नाम की मुठ मारने लगा. अभी मेरी नजर उसकी खुली हुई फांकों पर थी और उसकी चूत का गुलाबी द्वार भी खुला हुआ था. ( कहो मैं तुम्हारी जिंदगी भर के लिए रंडी हूँ)उसने वैसा ही बोला- यस विशाल, आई विल बी योर परमानेंट स्लट फॉर लाइफ टाइम.

सेक्सी फिल्म दीजिए बीएफ

एक गिलास ही क्यों लाये हो? तुम क्या चाहते हो कि मैं ना पीयूं?”मेरे ये कहते ही वो बोला- अरे नहीं नहीं मेडम, ये आपके लिए ही है, आप लीजिए, मैं अभी ड्यूटी पर हूँ न … तो मैं नहीं पी सकता।मैंने उसके हाथ से गिलास ली और उसमें एक पेग बनाया और पानी डालकर घूंट लेने लगी लगी, वह भी वापस बाहर कार के बोनट पर जाकर कार सही करने लगा. मैं- मधु अब से तुम भी मेरी बीवी हो और जितना हक़ रश्मि का है, उतना ही तुम्हारा है. उन्होंने बहुत देर तक मेरी जांघों को स्कर्ट के अन्दर हाथ डाल कर मसला.

लगभग आधा घंटे तक बारिश रुकने का इंतजार किया, जब बारिश कुछ हल्की पड़ी तो मैंने फिर से चलने का प्लान बनाया और जैसे ही गाड़ी स्टार्ट की तो ये क्या … गाड़ी तो स्टार्ट ही नहीं हो रही!मैंने बार-बार सेल्फ बंद चालू किया लेकिन गाड़ी तो स्टार्ट ही नहीं ही रही थी और बारिश भी हल्की हल्की हो रही थी.

बीच बीच में शुभम जी लंड निकाल देते, जिससे गांड का छेद खुला का खुला रह जाता.

उसके 35 साइज़ के स्तन, 29 इंच की बलखाती कमर और 38 इंच की उठी हुई गांड है. मैंने रश्मि से पूछा कि क्या बात है … कुछ परेशान सी दिख रही हो?उसने मुझसे बोला कि नहीं ऐसी कोई बात नहीं है … सब ठीक है. হিন্দি ভূতের সিনেমাमैंने हल्के से थोड़ी सी आंख खोल कर देखा तो मौसी मेरी फ्रेंची पर हाथ फिराते हुए मेरे लंड को सहला रही थी.

’उसने इशारे से पूछा- क्या है मेरी सजा?मैंने कहा- मैं तुम्हें बेड पे नहीं चोदूंगा. नीला ने खाना तैयार कर रखा था, तो वो फ्रिज में से वाइन की बोतल निकाल लायी. बस एक बार धक्का लगना क्या शुरू हुआ कि फट-फट, फक-फक की आवाज सुनाई पड़ने लगी.

हल्के रेशमी रोमों की एक रेखा वसुंधरा की नाभि से नीचे की ओर बढ़ती हुई लहंगे के नाड़े के नीचे जाकर अदृश्य हो गयी थी. ये देख कर मेरे चेहरे पर कुटिल मुस्कान आ गई और मैंने उसे घूरते हुए एक बार नजरें उसके ब्लाउज के अन्दर कैद चुचियों पर डालीं.

मैंने पाना पकड़ा और उसके पैन्ट के अंदर खड़े लंड की ओर देखते हुए मुस्कुरा कर बोली- चिंता मत करो, मेरी पकड़ बहुत मजबूत है, मैं एक बार पकड़ने के बाद छोड़ती नहीं.

पांच-सात मिनट की चुदाई के बाद ही मेरा पानी निकलने की कगार पर पहुंचने को हो गया. मैंने मेनगेट का ताला खोला और कार पोर्च में ले जा कर खड़ी की और कार का वसुंधरा वाली साइड का दरवाज़ा खोला और उससे कहा- आइये. रूम में घुसते ही मैंने दरवाजा बंद करते हुए उसको कस कर पकड़ लिया और उसको स्मूच करना शुरू कर दिया.

बीएफ मसाज वीडियो तुम रेडी हो?उसने मेरी आंखों में देख के कहा- चाचू आप मेरे अच्छे चाचू हो ना … तो दर्द क्यों दोगे मुझे?मैंने कहा- बच्चा ये नेचुरल प्रोसीजर है, पहले दर्द फिर सबसे बड़ा मज़ा. नमस्कार दोस्तो, मैं राज, रोहतक से हाजिर हूँ अपनी नई कहानी लेकर, जो अभी पिछले महीने यानि मार्च महीने की है.

वह अब मेरी चूत को ऊपर से सहलाता और थोड़ी थोड़ी उंगली अन्दर को भी घुसाया करता था. भाबी भी मज़े से अपनी गांड उठा उठा कर अपनी चुत चुदवाने का मजा लूट रही थीं. फिर तो दोस्तो … मैंने उसको सीधा बोल दिया- तुम मुझे एक मौका क्यों नहीं देतीं.

सेक्सी बीएफ देखने की

मैंने जानबूझ कर अपने मम्मे बाहर करके सोते हुए रहने का ड्रामा किया था. आखिर में मेरा टाइम भी आ गया और मैंने अपना लंड बाहर खींच कर पानी उनके पेट पे निकाल दिया. बस बेटा, जो दर्द होना था हो गया … अब और नहीं होगा, चल अब चुप हो जा!” अंकल जी ने मुझे प्यार से सांत्वना दी जिससे मेरी रुलाई और जोर से फूट पड़ी.

इस पोर्न स्टोरी में अब तक आपने पढ़ा कि मैं नम्रता को अपने घर की खिड़की से घोड़ी जैसी बना कर उसकी गांड में लंड पेल रहा था. भाभी बोली- लालू सो रहा है, तो क्या हुआ … लालू की माँ तो है ना … उससे खेल लो.

फिर मैं आंटी की तड़प को देखकर उठा और अपने लौड़े को आंटी की चुत पर रगड़ते हुए घप से ठोक दिया.

फिर बोली- सुनिये!मैं- हां बोलो क्या बात है?बीवी- तुम्हारे बिना वहां मन नहीं लग रहा था. मैं- अरे इसमें गन्दी बात क्या है? सही बताओ, जिस दिन तुम अपनी चूत चोदने देने से मना कर देती हो. मैंने अपनी ड्यूटी ज्वाइन कर ली और कुछ दिन बैंक में ही काम में बिजी हो गया.

मैं उस दिन घर में अकेली थी और मम्मी अपनी पडोसी आंटी के साथ बाहर गयी थी. मुझे यह बात जंच गई, मैं और चाची दिल्ली चले आए और मैंने एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब कर ली. मेरे लिए हर किसी के साथ सेक्स कर पाना या सेक्स चैट कर पाना संभव भी नहीं है.

मेरी सीट सबसे आगे थी क्योंकि मैं यात्रा बस संचालक के साथ ही बैठ कर जाता था.

स्कूली लड़कियों का बीएफ: अंकल चिल्लपौं की परवाह किए बिना आंटी को दनादन चोद रहे थे, उनके धक्कों से पूरा पलंग हिल रहा था. नींद खुलने के बाद जल्दी से उसने अलमारी से निकालकर पैन्टी-ब्रा, पेटीकोट ब्लाउज और साड़ी पहनी.

अंत में तंग आकर अमृता ने उन लोगों से मिलने जाना बंद कर दिया तो उसके बॉयफ्रेंड ने अमृता के प्रेम पत्र सबको दिखाने शुरू कर दिए. मैं तुम्हारा लंड लेने के लिए मरी जा रही हूँ।मैंने भाभी की चूत पर दो-तीन बार लंड को ऊपर नीचे किया तो मुझे तो जैसे स्वर्ग का सा मजा मिला. मैं पतली सी हल्की शर्ट और निक्कर में थी जिसमें से मेरी ब्रा भी दिख रही थी.

मुझे उम्मीद है, जिस तरह आपने मेरी पहली कहानी को पसंद किया, और जो मेल करके मुझे प्यार दिया.

एक गिलास ही क्यों लाये हो? तुम क्या चाहते हो कि मैं ना पीयूं?”मेरे ये कहते ही वो बोला- अरे नहीं नहीं मेडम, ये आपके लिए ही है, आप लीजिए, मैं अभी ड्यूटी पर हूँ न … तो मैं नहीं पी सकता।मैंने उसके हाथ से गिलास ली और उसमें एक पेग बनाया और पानी डालकर घूंट लेने लगी लगी, वह भी वापस बाहर कार के बोनट पर जाकर कार सही करने लगा. उस रात मैंने एक बार मामी की चुत और चोदी और हम दोनों चुदाई के बाद साथ में वॉशरूम में जाकर नंगे ही साथ में नहाये. बस फिर क्या था … मैं कूद पड़ा भाभी के ऊपर और उनके एक मम्मे को एक हाथ से दबाने लगा.