एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी एक्स एक्स एक्स हॉट

तस्वीर का शीर्षक ,

डब्ल्यू डब्ल्यू सट्टा: एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो, थोड़ी देर बाद जीजू ने मुझे फर्श पर नीचे बैठा दिया और अपने लंड को मेरे होठों पर रख दिया और मुझसे कहा- इसे चूमो!तो मैं उनके लंड को अपने हाथों में पकड़ कर चूमने लगी.

पाकिस्तानी सेक्सी ब्लू फिल्म

तभी मैं झड़ने वाला था तो उसने कहा- जीजू, प्लीज मुंह में छोड़ना!मैंने सारा माल उसके मुंह में छोड़ दिया, वो बहुत खुश हो गयी. और भाभी का सेक्स वीडियोवैसे हमारे बीच बातें तो होती थीं … लेकिन मैंने कभी उससे कभी सेक्सी बातें नहीं की थीं.

उसने बात खत्म करते ही जोर से धक्का मारा और लिंग मेरी योनि की दीवार फैलता हुआ भीतर चला गया. लंबे लंड से चूत की चुदाईपर वे रूके ही नहीं, उन्होंने मेरी कमर पकड़ कर अपना पूरा पेल ही दिया.

मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था और मेरे स्तन उनके कठोर चौड़े सीने से दबे हुए पिस रहे थे.एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो: अब मुझे आगे बढ़ना था, तो मैंने अपना एक हाथ उनकी कमर के नीचे ले जाकर उनकी ब्रा के स्ट्रिप का हुक खोलने की कोशिश करने लगा.

अगर तुम अपने दोस्त के साथ मेरी बात करवा सकते हो तो बताओ?मुझे इस वक्त उसके साथ बहस करना ठीक नहीं लगा.मैंने रूपा से कहा- मेरा पानी निकलने वाला है, क्या करूं?रूपा बोली- पहली धार तो आप मेरी बुर में ही निकाल दो.

हॉट सेक्सी वीडियो जबर्दस्त - एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो

मेरा मन तो किया कि उन्हें अभी पकड़ कर दबा दूं … पर मैं कुछ कर भी नहीं सकता था.उस हसीना का नाम सुप्रिया था लेकिन सब उसे प्यार से वेलम्मा बुलाते थे.

उसकी वासना में डूबी आंखें बता रही थीं कि जैसे वो कह रही हो कि अपना मूसल मेरे अन्दर ठोक दो. एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो तीसरी बार में उन्होंने मुझे बेड पर नीचे लटका कर चोदा और इस प्रकार उस रात चार बार पापा ने मेरी चूत को पेला.

चूची चूस रहे थे, चाट रहे थे और हाथ मम्मी की जांघों के बीच में ले जाकर चूत को सहला और दबा रहे थे.

एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो?

धकाधक धकाधक धकाधक … फचक फचक फचक … रानी अब राजधानी एक्सप्रेस की गति से धक्के ठोक रही थी. मेरे बीवी ने मेरा दायां हाथ लेकर अपने बांये मम्मे पर रखकर मम्मे को दबाने का इशारा किया. वैसे तो पापा शराब नहीं पीते थे मगर उनके दिमाग को शांत करने के लिए वह आज पी रहे थे.

मैंने एक टाइट लोवर पहना जिसमें मेरी गांड उभर कर आ रही थी और टी-शर्ट डाल कर उनका वेट करने लगा. थोड़ी देर में उसका शरीर अकड़ने लगा और वो झड़ गयी और उसने मुझे अपने से अलग कर दिया. दस मिनट तक मेरा लंड चूसने के बाद मेरी बीवी मेरे ऊपर आकर मेरी कमर की दोनों बाजू अपने चिकने पैर रखकर कमर पर बैठ गई.

गेम फिर से शुरू हो गया, ताश के पत्ते एक बार फिर से बंट गए और इस बार नतीजा ये आया कि टास्क करने की बारी सोनल की थी. उसने बोला- मैं तुम्हारा लंड चूसकर शांत कर देती हूं।मैं भी कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था. मैंने अपनी साड़ी और पेटीकोट एक साथ उठाकर अपनी फूल की डिजाइन वाली चड्डी को निकाल दिया और अपने पति की तरफ अपनी गोरी गांड करके आगे की तरफ झुक कर खड़ी हो गई.

फिर मैंने एक और झटका मारा और अपना पूरा लंड उसकी चूत में अन्दर तक डाल दिया. उसके स्कर्ट से उसकी चिकनी जांघें साफ़ दिख रही थीं और टॉप भी बहुत कसा हुआ था … तो उसके चूचे बड़े ही मादक लग रहे थे.

अपना हाथ नीचे उसकी सलवार तक ले गया और धीरे-धीरे उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया.

थोड़ी देर में उन्होंने खुद ही अपनी ब्रा को निकाल कर साइड में यूं फेंक दिया, जैसे उन्हें अब ब्रा की जरूरत ही ना हो.

कुछ ही पलों में उसकी वासना भरी चूत अपना गर्म चूतरस मेरे लंड पर छोड़ने लगी थी. पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि मेरी बहन को कुछ नया करने का मन था तो मैंने उसको अपने कमरे में ले जा कर नये तरीके से चोदा. मैं सोच में पड़ गया कि कहीं भाभी साथ में नहा लेने की बात तो नहीं कर रही हैं.

ज्यादा देर न करते हुए मैंने उसकी चूत के ऊपर अपना लंड रखा, तो वह लंड के आगे अपना दबाव बनाने लगी. लगातार 15 मिनट तक उसकी चुदाई करके मैंने उसकी आंखों में देखा, तो वो भी चरम पर आ गई थी. मेरा तो सिर फटा जा रहा है जब से विपिन जी का लंड मेरी चूत से छूकर गया है.

फिर निशा ने कपड़े उठाए और बाथरूम में फ्रेश होकर कपड़े पहन कर बाहर आ गई.

जब उससे बात हुई तो पता लगा कि उसका पति आर्मी में है और शादी को 2 ही महीने हुए हैं. आप सभी से निवेदन है सेक्स कहानी को पूरा जरूर पढ़िएगा और अपने विचार दीजिएगा. मुझे खासतौर पर मां बेटा की चुदाई कहानियां पढ़ना पसंद हैं क्योंकि मैं अपनी मां को बहुत प्यार करता हूं और अपनी मम्मा की तरफ सेक्सुअली आकर्षित भी हूं.

थोड़ी देर बाद माया भाभी रुक गयी, तो मैंने उसकी तरफ देखा तो वो आंखों ही आंखों में जैसे ये बोल रही थी कि यूँ ही देखते ही रहोगे या धक्के लगाकर चुदाई भी करोगे. हमने थोड़ी बहुत बात की, फिर उसने मुझे कॉफ़ी के लिए पूछा, तो मैंने उन्हें मना नहीं किया. उधर मीना जल बिन मछली सी तड़प रही थी, उसे अब भोग चाहिए था, संभोग का भोग! लिहाजा उसने मुझे फिर से अपने ऊपर खींच लिया और अपनी टांगों को फैला दिया जिससे मेरा लन्ड उसकी चूत में जल्दी से जा सके.

जब भाभी पूरी तरह से गर्म हो गई तो वह खुद ही मेरा लंड लेने के लिए मचलने लगी.

शीतल भाभी के मुँह से यह बात सुन कर मुझे लगा कि जरूर भाभी के मन में कुछ है. आंटी ने हंस कर कहा- आज कैसे दरवाज़ा खटखटा रहे हो, उस दिन तो सीधे अन्दर आ गए थे?उनकी ये बात सुनकर मुझे थोड़ी शर्मिंदगी सी महसूस हुई, मैंने उन्हें सॉरी कहा.

एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो उसकी चिकनी टांगें मुझे साफ दिखाई दे रही थी। उसको देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया। मुझे डर लग रहा था कि कहीं बहन जाग न जाये और मैं अपनी जगह पर आकर सो गया. मैं हताश हो गया और सोचा कि ये तो हाथ में आया मौका निकल गया लाईव चुदाई देखने का.

एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो मैंने अपना सुपारा दोबारा चूत पर लगाया और पानी छोड़ चुकी चूत में लंड को एक ही झटके में अंदर तक पेल दिया. उसने इतना जोर से मुझे कंधे से जकड़ लिया कि मैं तड़पने लगी और फिर अचानक उसके लंड से बहुत गर्म लावा, उसका लंड रस मेरी चुत में भरने लगा.

मैंने सरिता को अपनी बांहों में उठाकर बेडपर लिटा दिया और उसकी जांघों के बीच घुटने के बल बैठ गया.

एचडी सेक्सी नंगी फिल्म

मैंने उनको बिस्तर पर लिटा दिया और उनकी टांगें फैला कर चूत को चाटने लगा. दरवाजे पर कान लगा कर ध्यान से सुना तो यकीन और पक्का हो गया कि ये लोग पक्का चुदाई ही कर रहे थे. चार साल पहले मैं जब राजकोट में रहता था, मेरे पड़ोस में एक फैमिली थी, जिसमें अंकल आंटी, उनका बेटा और उनकी बहू नफीसा थे.

एक मिनट के बाद चाची मेरे लिए कुछ तेल जैसा लेकर आईं, जो कि शायद अंकल काम में लिया करते थे. कल्पना- ह्म्म्म, बाकी का तो पता नहीं, पर तुमने मुझे पूरी तरह से खुश कर दिया. शाम को नफीसा ने मुझसे मेरे घर मिलने का कहा, मैंने कहा- ठीक है भाभी.

तो आप ही बताएं … क्या करें?” इसके आगे बहस बंद थी क्योंकि इस बात का कोई जवाब था ही नहीं.

आज मैं अपने यौवन के सुख का अहसास करना चाहती हूँ।उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- आज अपनी इच्छा से अपने लिये कुछ कर रही हूँ और मेरे परिवार में किसी को कुछ नहीं मालूम है।मैंने कहा- कोई बात नहीं, अगर तुम नहीं चाहती तो कोई बात नहीं, कोई जबरदस्ती नहीं है. आज मुझे अकेले ही तुम्हारा स्वागत करना पड़ रहा है, सुनीता अपने भाई के बेटे की शादी की तैयारी करने गयी है. उस दिन हम मौसम का आनन्द लेते रहे और अपना पूरा ट्यूशन का समय वहीं पर बिताया.

अगर दुनिया में कोई मजा है तो वह मेरी इस बहन की चुदाई करने में ही है. जब आरती की माँ कुछ जानना चाहा तो मैंने धीरज की बहुत ही तारीफ की और उनके मन में ऐसे लड़के को अपना दामाद बनाने की इच्छा होने लगी. फिर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी, जिससे उन्हें भी जोश चढ़ गया और हम दोनों में चुदाई का घमासान होने लगा.

घर आया तो मेरी आंखों के आगे बार बार भाभी की बड़ी बड़ी सेक्सी चूचियां घूम रही थीं. तो वो बोली- आप बनोगे मेरे दोस्त?मैंने हाँ कर दी, तो उन्होंने हंस के अपना हाथ आगे किया और बोली- लेट्स बिगिन न्यू फ्रेंडशिप …मैंने भी अपना हाथ बढ़ा दिया.

लेकिन मैंने उनको अपनी बांहों में खींचा तो वो कहने लगीं- बस अब मुझे और मत तड़पाओ, अन्दर तो बहुत तेज़ी दिखा रहा था … फिर यहाँ पर इतना चुप क्यों हो गए हो? अब मेरी चूत की प्यास बुझा दो ना. मैं और विलियम बहुत ज्यादा डर गए कि अचानक बस क्यों रुक गई और लाइट ऑन क्यों हुई. अब हम दोनों रोज रात को फोन पे बातें करते और ये बातें दो तीन घंटे से पहले खत्म ही न होती थीं.

मैं बाहर के कमरे तक पहुंचा ही था कि उन्होंने मुझे पीछे से आवाज़ लगा कर पूछा- गौरव, क्या तुम्हें घर में कोई काम है?मैंने कहा- नहीं, ऐसा कोई जरूरी काम तो नहीं है, क्यों आपको कुछ और भी काम था क्या?उन्होंने बोला- हां, कल मैं पौंछा लगा रही थी, तो मेरा पैर पानी में थोड़ा फिसल गया था.

फिर मैंने उनको बोल दिया कि मैं अपनी बीवी अंजलि से ही बात करके बताऊंगा. मार्केट पहुंच कर भाभी ने सारा सामान ले लिया और थोड़ा बहुत चाट पकौड़ी खा पीकर हम घर के लिए वापस निकल पड़े. इस घटना के बाद मेरी और नफ़ीसा की सेक्स लाइफ़ बहुत अच्छे से चल रही थी.

भाभी कराह कर बोलीं- आंह दर्द हो रहा है … धीरे कर!मैंने भाभी की एक बात नहीं सुनी और दूसरा तेज धक्का लगा दिया. आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी, इसके बारे प्लीज कमेंट करके जरूर बतायें और अगर आप मुझसे मैसेज पर बात करना चाहते हैं तो मेल करें.

मेरे घर से थोड़ी दूर पहले मैं स्कूटी के ब्रेक नहीं लगा पाया और मेरी एक सामने से आ रही कार की टक्कर हो गयी. फिर उसके बाद मैंने अपना पूरा बोझ जूली के जिस्म के ऊपर डाल दिया और उसके होंठों को चूसने लगा. मैं अपने पति का चूत रस से लिपटा हुआ लंड पूरा अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी.

बिहार के साथ सेक्सी वीडियो

” मेरा मंतव्य समझ कर वसुंधरा कुछ-कुछ विरोध-भरे स्वर में बोली, हालांकि उस विरोध में ‘न’ की मात्रा तो बस नाममात्र ही थी.

अंकल ने ब्रा के कप पर अपना मुँह रखा, मेरे स्तनों पर उनके मुँह का दबाव महसूस हुआ. अपनी चुचियों और बगलों को मौसी काफी देर तक मसल मसल कर साबुन का झाग लगाती रहीं. गर्म-गर्म वीर्य की एक ज़ोरदार धार सीधी वसुन्धरा वसुन्धरा के गर्भाशय के मुख पर पड़ी … फिर एक और … एक और … एक और! और इस के साथ ही मैं वसुन्धरा के पसीने से लथपथ अर्ध-बेहोश जिस्म पर ढह गया.

उसकी टाइट सी चूत को अपनी आंखों से निहारने की ख्वाहिश मेरे दिल में ही रह गयी. कॉफी लेकर बाहर आने ही वाला था कि राशि भी किचन में आ गई और उसने पीछे से मेरी पीठ पर अपने नर्म होंठों का चुम्बन देते हुए मुझे बांहों में भर लिया. औरतों की ब्लू फिल्मवो बोलीं- क्या हुआ … फौजी नाराज हो गया क्या … मैसेज का जवाब भी नहीं देता.

आशीष मेरे होंठों को अपने होंठों से चूमने लगा, मेरी सांसें उसकी सांसों से. मैंने आगे बढ़ कर नैना को अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों पे अपने होंठ रख दिए.

भाभी मुझसे दूर जाने की कोशिश कर रही थीं, हाथ पैर मार रही थीं पर वो चिल्ला नहीं रही थीं. यह तो वो भी समझ गई कि मैं क्या बोलना चाहता हूं पर क्या बोलूंगा वो मेरे मुंह से सुनना चाहती थी पर उसने एक बार भी हाथ छुड़ाने की चेष्टा नहीं की. रोहन ने मस्का लगाते हुए कहा- तुम एक बार करके देख लो, अगर अच्छा नहीं लगा तो हम फिर कभी ऐसे नहीं करेंगे.

अंदर पहुँचा तो देखा भाभी की बहुत ही करीबी फ्रेंड रश्मि साथ में बैठी हुई थी. वहां पहले वे उसी से लिपटे और उसके तो अन्दर अपना सामान तक डाल दिया था, लेकिन जब मैं चिल्लाई कि मेरी बहन को छोड़ो. मगर एक बार जब वह खुल जाती है तो उनके अंदर सेक्स की ऐसी ज्वाला भड़क जाती है जो मर्दों से कई गुना ज्यादा आग फेंकती है.

मेरे दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्कार! मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ मुझे स्टोरी पढ़ने का बड़ा शौक है। मैं मुम्बई का रहने वाला हूं।मेरा नाम अनुज सिंह है, मेरी उम्र 19 साल है। मेरा लंड 6 इंच का हैं।मैंने अपनी गर्लफ्रैंड को चोदा है। औऱ एक फोरेनर को भी चोदा है गोआ में जब मैं पिछले साल वहाँ गया था.

तीन-चार बार चोदने के बाद चूत की शेप बदल गई थी, अब उसके बाहर का हिस्सा फूल कर ज्यादा मोटा हो गया था. हाँ इतना जरूर था कि मेरे पहल करने पर उसने मुझे कभी मना भी नहीं किया। वो दिन में तो मुझसे दूर ही रहती थी मगर रात को चुपचाप मेरे पास पलंग पर ही आकर सो जाती थी।इस हफ्ते भर में वैसे तो मैंने मोनी के साथ सब कुछ किया मगर न जाने किस संकोच के कारण वो मुझसे खुल नहीं पाई.

वसुंधरा के पैरों के तलवे गहरे गुलाबी रंग के, गद्दीदार और वलय वाले थे और पैरों की सारी उंगलियां रोमरहित एवं समानुपात में थी. हॉट गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैंने कैसे अपनी क्लास की सेक्सी लड़की को पटाया. मैं अपने घुटने उसकी जांघों से लगा कर, अपना हाथ उसकी जांघों पर फेरने लगा.

वो बोली- तुम फिर खो गए?तो मैंने बोला- क्या करूँ यार, तुम लग ही इतनी खूबसूरत लग रही हो. कुछ ही मिनट में मैं भी गर्म हो चुकी थी और उनकी पेन्ट और चड्डी को हटा कर उनके खड़े औजार को मैंने आजाद कर दिया. मैंने काफी देर तक सोचा और अपने मोबाइल में अन्तर्वासना की साईट खोल कर भाई बहन सेक्स की कहानी पढ़ने लगा.

एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो मैं एक सीधा साधा सा लड़का हूँ, जिसने कभी किसी लड़की को छुआ भी नहीं था. जब मैंने लंड लगाया था, तब शायद उसको लगा था कि मैं धीरे से लंड डालूँगा.

देसी सेक्सी चोदी चोदा वीडियो

मगर अभी तक रोहित ने मुझे उस दिन के बाद दोबारा से छेड़ने की कोशिश नहीं की है. मगर आपको भी मेरे साथ होना होगा और मैं केवल एक बार ही करूँगी!रोहन ने कहा- थैंक्स अंजलि. मुझे मिनी ने बताया कि नीचे फ्लोर पर एक और रूम बुक है जहां मिनी ने कपड़े बदले हैं.

अपनी मम्मा सौम्या की ये बात सुनकर मेरा मन और लंड दोनों हिलोरें मारने लगे, लेकिन मैंने मना कर दिया. गुलाबो की योनि मेरे लिंग के सम्पूर्ण स्पर्श को पाकर व्याकुलता से पगला गयी थी. सेक्स बीपी वीडियो सेक्सीमैं अपना हाथ बढ़ाकर मामी की चूत के पास ले गयी जिसे मामी ने आज ही शेव किया था.

दो साल बाद भी उसको कोई बच्चा नहीं हुआ, तो एक दिन वह मेरे पास आकर रोने लगी और मुझे बताया कि वह अपने पति से संतुष्ट नहीं है.

दूध लेने जाने पर कभी कभी ऐसा होता था कि हम दोनों एक साथ वापस आते थे. मैंने भी खुद को पहनने के लिये साड़ी और ब्लाउज निकाला, उनको भी प्रेस करना जरूरी था.

रितेश को लेकर मीरा की सोच बदलने लगी और उसकी कामुकता फिर से अंगड़ाई लेने लगी. मैंने अपनी मम्मी के पास आकर उनके गालों पर किस किया और अपने होंठों से उनके कान को सहलाने लगा. उसकी एक टांग को ऊपर उठा दिया और दोनों हाथों से पकड़ कर लंड को उसकी चूत पर सेट कर दिया.

तो मैं और मोहित एक दूसरे को देखने लगे कि ये भाभी भी चूत चुदवाने के लिए बावली हो रही है.

वाह … क्या मजा आ रहा था यार!मैं बहुत गरम हो चुका था और अब मैं उनकी गांड मारना चाहता था. एक और बात … हर लड़की में एक शक्ति होती है जो गॉड गिफ्ट होती है कि वो लड़के की आंखों में देख कर चेहरे के भाव से, बॉडी लैंग्वेज से कुछ पल में समझ लेती है कि लड़का उसके प्रति क्या सोच रहा है और सलोनी भी समझ गई कि मैं क्या सोच रहा हूँ. मैं उन्हें देख कर शर्मा गयी और दूसरे रूम की ओर दौड़ी, तो ठोकर लगने से गिर गयी.

सेक्स वीडियो खुलेआमफिर मैंने उसको दोनों हाथों से एक घेरा बना कर उस से चिपक गई और अपने दोनों हाथ इस तरह से रखा कि वो उसके लंड के आस पास ही रहें. मुझको चूत चोदते चोदते इतना अधिक अनुभव हो गया था कि किस चूत को किस तरह से चोदना है, मुझे इस बात की पूरी जानकारी थी.

चूत में लंड सेक्सी चूत

वो अपने दोस्त को बोला- अबे पकड़ ठीक से इसके दोनों हाथ … बस कस के पकड़ … फिर बताता हूं साली को, सबको बांटती है और हमसे नाटक दिखा रही है. फिर मैंने लंड आधा बाहर निकाला तो सरिता की चूत से चूतरस बाहर बहकर उसकी जांघों पर बहने लगा था. उसके बाद मैंने एलेक्स के लंड को मुंह में ले लिया और उसको चूसने लगी.

मैंने उनकी तरफ सवालिया निगाहों से देखा तो वो मुझे रुकने का इशारा करके चली गईं. उसने मेरी टी-शर्ट उतारी और मेरी बनियान उतारते हुए बोली- इस सर्दी में मेरे कपड़े तो सारे उतार दिए, खुद पहने खड़े हो. Xxx स्वैपिंग सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे जीजू ने मेरी दीदी को अपनी बहन और उसके पति के साथ वाइफ स्वैप के लिए मनाया.

कल्पना की बुर के आसपास हल्का हल्का खून लगा था, जो उनकी ही बुर से निकला था. तभी मेरी सहेली रिम्पी ने मुझे फ़ोन किया कि मैं उसको कुछ देर के बाद होटल में लेने आ जाऊं. मैंने अंगूठे को उनकी गांड के पास रखा और दो उंगलियों को चूत के पास रख दिया और धीरे से अंदर करने लगी.

जिसने भी इस असीम सुख के सागर में गोता लगाया है, सिर्फ वही इसका आनन्द जान सकता है. वसुन्धरा की योनि से निकलते काम-ऱज़ और मेरे लिंग से निकले प्री-कम के कारण मेरे लिंग का उसकी योनि में आवागमन थोड़ा आसान हो गया था.

मैं फिर से जोर जोर से चिल्लाने लगी और उसने पूरी ताकत लगा के चुदाई चालू कर दी.

गुलाबो चीखने चिल्लाने लगी- हाआअ … निकालो … मर गयी मैं!लेकिन मैं गुलाबो के अन्दर उस गहरायी में हो रहे उस अनुभव को लेकर बहुत आश्चर्यकित था. सेक्सी पिक्चर की चुदाईमुझे राशि पर गर्व होता था कि वह खुले दिल से अपनी मन की इच्छाओं को पूरी करती है. देसी हॉट सेक्सी वीडियोजैसा कि मैंने पहले ही बता दिया था कि मैं ऊपर सोता था और दीदी के रूम के पीछे से सीढ़ी चढ़ी हुई थी. वैसे तो कॉलेज जाने के लिए मेरे पास स्कूटी है, लेकिन चलानी नहीं आती है.

मैं- थोड़ा तो दर्द सहना ही पड़ेगा, ये मैंने आपको शुरू में ही बताया था.

उनकी चूत मेरे मुँह पर लगी थी और मेरा लंड उनके मुँह में घुसा हुआ था. अन्तर्वासना में उस सत्य कहानी का टाइटल है ‘भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी. प्रिया- आआअहह!फिर मैंने प्रिया के निप्पल पर जीभ फिराई तो वो मचल गई- उम्म्म्म!फिर मैंने प्रिया के दोनों मम्मों बारी बारी से मुँह में लेकर खूब चूसे.

मैंने सोचा कि जो कोई भी है, अगर इसकी चूत मारने को मिल जाए तो कैसा रहे?बस फिर क्या था, मैं उसको चोदने के सपने देखने लगा. मैंने शर्माकर कहा- नहीं भाभी सिर्फ लड़के दोस्त हैं और वैसे भी मुझे लड़कियों से ज्यादा भाभियों में इंटरेस्ट रहता है. वह मेरे लंड को बाहर निकाल देना चाहती थी लेकिन मैंने ऐसा नहीं होने दिया.

सेक्सी 20 सेक्सी

वैसे भी जब मर्द की कमी महसूस होती है औरत को अपनी प्यास बुझाने के लिए कोई न कोई तरीका तो खोजना ही पड़ता है. मैंने भाभी से पूछा, तो भाभी बोलीं- जानू मेरा पानी शुरू से ही बहुत ज्यादा छूटता है … और आज तो मैं जीवन में पहली बार लगातार दो बार झड़ी हूँ. 30 बजे वो मेरे रूम में आई थी और उसने अपना लहंगा अभी भी नहीं चेंज किया था.

थोड़ा प्रयास करने के बाद आखिरकार उसके लिंग के सुपारे ने मेरी योनि का द्वार भेद ही दिया.

अब मैं उसको किस करने लगा और उसके बूब्स चूसने लगा, जिससे उसका दर्द कुछ कम हुआ.

उनकी चूत मेरे मुँह पर लगी थी और मेरा लंड उनके मुँह में घुसा हुआ था. उस वक्त मैंने एक छोटी सी क्रीम कलर की नाईटी पहनी थी, अंदर कुछ भी नहीं!नौकर मुझे बहुत गौर से घूर रहा था. ब्लू सेक्सी एक्स एक्स एक्सभाभी कराह उठीं उम्म्ह… अहह… हय… याह… और उन्होंने मीठे दर्द के साथ मेरे लंड को सहन कर लिया.

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि श्लोक और सीमा के अहमदाबाद जाने के बाद मैंने विक्रम को जयपुर बुला लिया. मैं उसकी गांड को भी आज ही चोदना चाहता था लेकिन जब मैंने मोबाइल में टाइम देखा तो 2. अब वह खुद ही मुझे बोलने लगी कि तेज करो और तेजी से करो … आह्ह … मजा आ रहा है पंकज, करो … तेज-तेज, फाड़ दो मेरी चूत को.

मैंने लहंगा गोल करके, कुएं की सी शेप बना कर कुर्सी के आगे ज़मीन पर वसुंधरा के पैरों के पास रखा और हाथ बढ़ा कर वसुंधरा के दोनों पांव उठा कर लहंगे के बीचोंबीच रख दिए. मेरा लिंग वसुन्धरा की योनि में करीब डेढ़ इंच प्रवेश कर चुका था कि वहीं अटक गया.

मुझे इधर प्रकाशित होने वाली चुदाई की कहानी पढ़ने में बड़ा मज़ा आता है.

हाँ इतना जरूर था कि मेरे पहल करने पर उसने मुझे कभी मना भी नहीं किया। वो दिन में तो मुझसे दूर ही रहती थी मगर रात को चुपचाप मेरे पास पलंग पर ही आकर सो जाती थी।इस हफ्ते भर में वैसे तो मैंने मोनी के साथ सब कुछ किया मगर न जाने किस संकोच के कारण वो मुझसे खुल नहीं पाई. उसकी ये सेक्सी हरकत देख कर मैंने बॉक्सर भी उतार दिया और अपने खड़े लौड़े को सहलाने लगा. उसने टांगें हवा में उठा दीं और मैंने भी सही मौका देख कर उसके छेद पर मेरा लंड सैट करके एक जोरदार झटका मारने को रेडी हो गया.

क्सनक्सक्स नई मैं बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह्ह सुखबीर जी और जोर से चोदो मुझे, मैं झड़ने वाली हूँ. सोनम मुझे स्कूल में मिली, तो मैं ही उससे बोली कि यार थोड़ी हेल्प कर दे.

मैं दर्द से तिलमिला उठा और मामा से कहने लगा कि मुझे छोड़ दो, लेकिन मामा तो चुदासे थे, तो उन्होंने मेरा मुँह बंद कर लिया और एक जोरदार धक्का मारकर पूरा लंड मेरी गांड में पेल दिया. फिर हम दोनों अपने कपड़े ठीक करके वहां से निकल आए और अपने-अपने घर आ गए. हाँ इतना जरूर था कि मेरे पहल करने पर उसने मुझे कभी मना भी नहीं किया। वो दिन में तो मुझसे दूर ही रहती थी मगर रात को चुपचाप मेरे पास पलंग पर ही आकर सो जाती थी।इस हफ्ते भर में वैसे तो मैंने मोनी के साथ सब कुछ किया मगर न जाने किस संकोच के कारण वो मुझसे खुल नहीं पाई.

सेक्सी चुटकुला सुनाइए

बिस्तर में जाते ही उसने खुद को समेट सा लिया मानो अभी भी उसके अंदर की पतिव्रता नारी ने हार न मानी हो!मैंने फिर से उसके चेहरे को चूमना चालू कर दिया. उन्होंने हल्के से मेरे वक्ष को छुआ, मेरे पूरे शरीर में सनसनी दौड़ गई. मैंने उनसे जल्दी आने का कारण पूछा, तो शीतल भाभी ने बताया कि मेरे पति एक बिज़नेसमैन हैं और वो कल रात से बिज़नेस के सिलसिले में 15 दिनों के लिए बाहर गए हैं.

पर इसको अपनी लानी चाहिए … देखो ना … तुम्हारी भी तो कैसे चोंच उठाए खड़ी हैं … तुम ब्रा भी नहीं पहनती हो … है ना?”सर की बात सुनकर पिंकी का चेहरा सच में ही गुलाबी सा हो गया … अब शायद उसके मन में भी सर की बातें सुन कर घंटियाँ सी बजने लगी थीं. नीता और मेरा अफेयर बहुत सालों तक चला, फिर उसका अपने हस्बैंड के साथ फिर से पैचअप हो गया और हमारी मुलाकातें कम हो गईं.

कुछ ही देर में मैंने रानी का चूत प्रदेश, झांटें इत्यादि सब साफ कर दी थी.

मैं दिलिया की जीभ चूसने लगा और मेरी दुल्हन दिलिया की चूत मेरे लण्ड का रस निचोड़ती रही. सन्जू की चूत अभी तक गीली ही थी सो फच की आवाज के साथ मेरा लंड अन्दर चला गया और मैं उसे रोहित के सामने ही चोदने लगा।ये सब देखकर रोहित का लंड पैन्ट में हरकत करने लगा और कुछ पैन्ट में उभार भी आ गया। ये सब सन्जू देख रही थी. मैं अपने हाथ को भाभी के मम्मों से हटा कर धीरे धीरे नीचे लेकर जाने लगा.

मैं उसके विश्वास में बेफिक्र हो गई और अन्दर कमरे में, जहां चारपाई लगी थी, वहां आशीष और मैं पहुंच गए. मैं खाना खा रहा था, तभी मेरे दिमाग में एक आईडिया आया, मैं बोला- काश अभी भाई होता तो मेरे पैरों की मालिश कर देता, तो मेरा दर्द थोड़ा कम हो जाता. मैं कभी कभी मुठ भी मार लेता हूं, लेकिन उससे कहां प्यास बुझने वाली थी.

मैंने अपनी जीभ को होंठों पर फेरा और उसकी तरफ देखते हुए कहा- मजा आ गया.

एक्स एक्स बीएफ इंग्लिश वीडियो: उससे कुछ नहीं हुआ था, मेरी सील कैसे किसने तोड़ी थी, यह तो आप जब उस मेरी कहानी को पढ़ेंगे, तभी सच्चाई का पता चलेगा. उसको देख कर कहीं नहीं लगा कि सलोनी इतनी स्वाबलंबी और आत्मनिर्भर लड़की होगी.

उसके एप्रेन के बटन खुले ही थे, जिस वजह से मुझे उसके ब्लाउज के स्लीबलैस होने का अंदाजा हो गया था. कुछ देर तक इसी पोज में चोदने के बाद पूजा को घुमाकर उसकी गांड के नीछे दोनों तकिये रख दिये और पूजा ने दोनों पैर अपने दोनों तरफ कर लिये. ऐसे ही प्यार से … हां, ऐसे ही! ओह … खा जाओ मेरी बुर को, चूस लो इसका सारा रस!उसके मुख से लगातार सीत्कारें निकल रही थीं, मुझे भी उसकी सीत्कारों को सुन कर बहुत ही मजा आ रहा था और साथ ही डर भी लग रहा था कि कहीं कोई आ न जाये, पर ये दोनों लगे हुये थे अपनी कामवासना की सैर करने में.

इतना बोलकर उसने लंड को थोड़ा-सा चूस कर गीला किया और खुद कुतिया बन कर अपनी गांड और चूत मेरे लंड के सामने रख दी.

मैंने कहा- पाण्डे जी, अगर मैंने बात की और उसने कुछ बोल दिया तो मेरी इज़्जत की तो वाट लग जायेगी. जवानी के साथ ही मेरे अंदर सेक्स करने की इच्छा भी तेजी से बढ़ रही थी. उसका शौहर उसको खुश नहीं कर पाता और उस वजह से हम दोनों में थोड़ी अनबन होती रहती है.