बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,चुदाई वाली वीडियो सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बिहार सेक्स: बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ, तो मैंने अपने होंठ अपनी साली की चुत पर रख दिए और उसकी चूत को मजे से चाटने लगा.

पाकिस्तान पोर्न वीडियो

मुझे एक आध इंच तक तो कुछ नहीं हुआ, पर उसके बाद लगा जैसे चूत चिर जाएगी. सेक्सी ब्लू बीपी पिक्चरअगर दुनिया में कोई मेरी नजर से बची है, तो शायद केवल मेरे घर की ही औरतें और दोस्तों की बीवी या बहनें ही अब तक बची हुई थीं.

मैं अपनी जीभ उसकी गांड में डालकर जीभ को खींचते हुए चुत तक ला रहा था. लंड का पानी निकालाअंकल ने मेरा दुपट्टा हटाया और चूची पकड़ते हुए बोले- तेरे कबूतर बड़े सुन्दर हैं.

मैं- चाची, आप हो ही इतनी सेक्सी कि आपको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ: उसने एक पल की देरी नहीं की और मेरा मूसल सा फूला हुआ लंड अपने मुँह में भर लिया.

मैंने उससे कहा- फिर आपका दिल कैसे लगेगा?इस पर वो कुछ उदास सी हो गयी.वैसे तो वो पंजाब की थी, लेकिन उसके हज़्बेंड अपनी जॉब के लिए यहां काफ़ी दिनों से रह रहे थे.

देसी गण्ड चुड़ै - बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ

मैं भी पूरे जोश में आंटी की चुत को पैंटी के ऊपर से ही चूमता और काटता गया.वैसे मैं सीरियसली पूछ रहा हूँ, मुझसे चुदवाओगी?”नहीं बाबा नहीं!”मैंने उसका हाथ पकड़कर अपने लण्ड पर रखते हुए पूछा- बिल्कुल नहीं?अब मेरा इम्तहान न लो, राजा.

भोला सिंह तेजी के साथ मेरी गांड में उंगली चलाता रहा और मुझे मजा आने लगा. बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ मैंने कह दिया कि आंटी नींद नहीं आ रही थी, तो यहां खड़ा होकर दोस्तों से फ़ोन पर बात कर रहा हूँ.

जब वो चलती थी तो ऐसे लग रहा था कि कोई हिरणी अपनी सुंदरता पूरे जंगल में बिखेर कर जा रही हो।मैं बार-बार ऊपरवाले को इस रात के लिये धन्यवाद दिये जा रहा था।अक्षिता ने फिर मुझसे पूछा- आप कुछ पीएंगे?मैंने अचानक ही कह दिया- मेरे काम की चीज़ अभी यहाँ नहीं मिलेगी.

बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ?

मैंने अब भी धक्के लगाना चालू रखा था, जिससे श्वेता मैडम फिर गरम होने लगीं. फिर नम्रता ने अपनी चूत के अन्दर उंगली डालने के साथ ही अपने बाएं मम्मे को हाथ में लिया और उसको मुँह की तरफ उठाते हुए मुझे नशीली नजर से देखते हुए तन चुकी निप्पल पर जीभ फिराने लगी. भाबी- अच्छा तो इसका मतलब ये हुआ कि तुम सीधा अन्दर आ जाओगे और कल भी तुम आए थे ना?मैं उनके मुँह से ये सुनकर चौंक गया.

अब मैं कोई मर्द कहां से लाऊं? मैं तो इन चक्करों में कभी पड़ी ही नहीं. उसने मेरे चेहरे पर अपने दोनों हाथ रखकर मुझे अपने होंठों को चूमने के लिए आमंत्रित किया. ‘ऊई मां …’ कहकर चिल्लाई तो मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रख दिये और कंधों से पकड़ कर नीचे दबाया तो पूरा लण्ड गुफा के अन्दर हो गया.

दोस्तो, मैं क्या बताऊं, उस समय मैं इतना जान गया था कि पारुल भाभी ने मुझे ख़ुश कर दिया है. कुछ देर बाद मैंने उसकी पैन्टी में हाथ डालकर चूत पर उंगलियां चलानी शुरू कर दीं तो उसने अपने चूतड़ उचकाकर पैन्टी नीचे खिसका दी जिसको अपने पैर से फंसाकर मैंने बेबी के शरीर से अलग कर दिया. उसका पति बस उसके साथ है, लेकिन वो घर वालों के सामने कुछ नहीं बोल सकता.

करीब 4 बजे मैंने अपने कपड़े पहने और बुरका पहन के अपने घर के अन्दर आ गयी. इस बार उनकी नुकीली झांटें मेरी चिकनी चूत से जा मिलीं और मैं चुभन और दर्द से बिलख उठी.

उसी समय चारू ने बताया कि उसके स्कूल की भी आज जल्दी छुट्टी हो गयी और अभी घर नहीं जाना चाहती.

अम्मी ने घर के चारों तरफ निगाह दौड़ते हुए कहा- इतने बड़े घर में आप अकेले रहते हैं?तब अंकल बोले- शायद खुदा को यही मंजूर है.

उसके मुंह से आह-स्स् … आह … साजिद निकल रहा था और वो अपने चूचों में मेरे होंठों को दबा रही थी. उसे देख कर भाभी का मुँह शरम से लाल हो गया लेकिन उन्होंने निगाह नहीं हटाई. वह कह रही थी- काश तुम मेरे पति होते … मैं तो रात भर तुमको सोने नहीं देती मेरे राजा … रात भर तुम्हारा लंड लेती रहती.

मैं परवीन की चूत में धक्के पर धक्का मारता रहा और और परवीन ‘आहह अऊह ह्म्म्म आऊर्रर जजोरर से. उसका कहना था- तुम नहीं थके तो आ जाओ, मैं भी तैयार हूं जंग के लिये।फिर मैंने अपना लिंग एक ही झटके में अंदर डाल दिया और अक्षिता के मुँह से फिर एक सिसकारी निकली. मैंने उसे देखा तो मन खुश हो गया- अरे तुम क्यों ले आयी? मैं नीचे आ जाता!नेहा- पागल … ज्यादा हीरो मत बन! कब से चिल्ला रही हूँ, सुनता ही नहीं है.

क्या आप मुझे राज का लंड दिलवा सकती हो?हेतल बोली- मैं कोशिश करूंगी, क्योंकि अब मैं शादीशुदा हूं और इस काम के लिए मुझे काफी प्लानिंग करनी पड़ेगी.

हम दोनों एक साथ कितनी जगहों पर अकेले गए और आज भी हम दोनों एक ही बिस्तर पर लेटे हैं. ऊपर जाकर मैंने देखा कि कमरे में एक तख्त लगा हुआ था और उस पर एक गद्दा बिछा हुआ था. फिर वो धीरे-धीरे उसके बूब्स को चूमते हुए नीचे उसके पेट पर किस करता हुआ उसकी नाभि तक पहुंच गया था.

फिर सोनू ने उत्तेजित होकर मेरे अंडरवियर के कट के अंदर हाथ डाल दिया और मेरे गर्म लौड़े पर उसके नर्म कोमल हाथों के स्पर्श ने मेरे मुंह से एक स्स्स … की आवाज बाहर निकाल दी. मां इतनी थक चुकी थी कि वह रमेश अंकल को ऐसा करने से रोक भी नहीं पाई, रमेश अंकल अभी भी धीरे-धीरे शॉट मारते हुए बचा हुआ माल मेरी मां की चूत में डालते रहे और आखिर में थक कर मेरी मां के ऊपर गिर गए।उन्होंने अपना एक हाथ मेरीमां की चूतपर रखा और अपना सिकुड़ा हुआ लंड अंदर ही दबाए रखा ताकि उनका माल बाहर न निकल सके।कुछ देर बाद दोनों की आंख लग गई. अपनी चार उंगलियाँ मेरी चूत में डाल कर उसने उंगलियों को अंदर और बाहर करना शुरू कर दिया.

पूरी शिद्दत से मैंने उसके एक मम्मे को चूसना चालू किया और दूसरे हाथ से दूसरा मम्मा दबाना चालू कर दिया.

मैं अपनी कहानी में आपको बताउंगी कि अपने पापा के दोस्त के लड़के से मेरी की दोस्ती हुई, कैसे हम दोनों ने एक दूसरे के साथ सेक्स किया, मैं अपने पापा के दोस्त के लड़के से चुदी. इधर किधर?”आपको आप की मंज़िल तक पहुँचाना नहीं क्या?” मैंने थोड़ा हंस कर कहा, हालांकि ठण्ड से मेरी कुल्फी जमे जा रही थी.

बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ नेहा- क्या हुआ, तुम तो सब्जी लेने गये थे?मैं- आज किसी ने बारिश की वजह से दुकान नहीं लगाई. अदिति मेरे बगल में ही लेटी थी, वो मुझसे बोली कि तुमने कभी किसी लड़की को किस भी नहीं किया क्या या मुझे ही सब सिखाना पड़ेगा?मैंने बोला- किया तो नहीं है, पर अब कर सकता हूँ.

बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ वो अकेले रहते थे, इसीलिए मेरी माँ पिता जी और मैं उनका ख्याल रखते थे. मैं रोज कभी चूत में खीरा या बैंगन डाल कर खुद को शांत करती, पर लंड की कमी खलती रहती.

मैंने सोचा कि वो साथ-साथ नहायेगी, जैसा कि मूवी में या कहानियों में अक्सर लड़के और लड़की को साथ नहाने की बात कही जाती है, पर ऐसा कुछ भी नहीं हुआ.

एक्स मराठी सेक्सी वीडियो

वो मेरे सामने को हुई, तो मैंने भी ज्योति के पैरों को पकड़ा और उसके लहंगे को थोड़ा सा उठाकर पायल को निकालने लगा. बस वो लंड चूत न कह कर अंग्रेजी में बूब्स और लॉलीपॉप सकिंग फकिंग जैसे शब्द यूज कर रही थीं. रोज रात में मुझे आंटियों को चोदने के सपने भी आते थे, लेकिन सुबह उठने के बाद पता चलता था कि यह सिर्फ एक सपना ही था और उसके बाद मैं तैयार हो कर कॉलेज के लिए निकल जाता.

अजय किसी कम्पनी में जॉब करता था और अक्सर 3-4 दिनों के टूर पे जाता था. नैना फिर से उठ के बैठ गई और मेरी निक्कर नीचे करके मेरे लंड को पकड़ लिया. वह औरत मेरी आंखों की दरिंदगी समझ गई, उसने तुरंत अपना मुँह दूसरी तरफ से लिया.

नम्रता दरवाजे को धक्का देते हुए बोली- दरवाजा क्यों बंद कर रहे हो?मैं- कुछ नहीं यार प्रेशर बन रहा है, इसलिए पेट खाली करना है.

उस रात जब मैंने उससे बात की तो मैं समझ गया था कि वो क्या चाहती है लेकिन वो अपने घर चली गई थी इसलिए हमारे बीच में कुछ हो नहीं पाया था. ऐसा करने से ऋतु की वासना एकदम से भड़क उठी थी और वो तेज-तेज सिसकारियां लेने लगी थी. मैं वहीं पर खड़ी होकर अपने कपड़े बदलने लगी, सबसे पहले साड़ी उतारी फिर अपने शरीर को पौंछने लगी.

उसकी इस बात से मुझे पक्का यकीन हो गया कि लौंडिया चुदने को मचल रही है. तब उन दोनों ने अपने लंड झटके से मुँह में डाल कर अपने अपने लंड के वीर्य मेरे मुँह में छोड़ दिए. फिर राहुल ने धीरे से संगीता को अलग किया और बोला- मैम… मैं अब चलना चाहूँगा.

मेरे प्यारे दोस्तो, मैं रॉकी एक बार फिर हाज़िर हूँ आपकी सेवा में, सभी को मेरा नमस्कार!मेरी पिछली कहानीइंजीनियरिंग की लड़की की पहली चुदाईपर आपके आये ईमेल के लिए सभी का शुक्रिया अदा करता हूँ. उनका फ़िगर एकदम सेक्सी … भरे हुए मम्मे, पतली कमर, सफ़ेद रंग, भरी और उठी हुई गांड मैंने पार्क में नोटिस की थी और उनका कामुक फिगर सोच कर मुठ भी मारी हुई थी.

ज्योति नीचे से मेरा साथ दे रही थी, बोली- आह जान … अब जरा किस भी कर लो. लेकिन मैंने अपनी चुदाई की स्पीड कम नहीं की, जिससे अब आंटी तड़प उठीं, वे बोलीं- रुक जा मादरचोद … थोड़ा सांस तो लेने दे … क्या मेरी जान ले लेगा इस भोसड़ी के चक्कर में. अब शायद उसे भी मेरी उत्तेजना का पता चल गया और वह भी अपनी पैंट में खड़े हुए लंड को मेरी नंगी गांड में जोर से दबा रहा था.

वो मेरे लंड के सुपारे पर चिकोटी काटते हुए बोली- जब तुम चक्कर लगा रहे थे, तो तुम्हारी मटकती हुई गांड मुझे बहुत अच्छी लग रही थी, मन कर रहा था कि तुम्हारे कूल्हे को कच्चा खा जाऊं.

अब मेरी भी रफ्तार बढ़ चुकी थी और चूत रस से पूरी चिकनी हो कर चमक रही थी. ढीला पड़ने पर जब लंड बाहर आ गया, तो सुपाड़े पर लगी हुई एक दो बूंद को उसने जीभ से चाट कर साफ कर दिया. मेरी रंडी छिनाल, गुलाम बनी है, तो फिर तुझे अपने मालिक का हुकुम तो मानना ही पड़ेगा ना.

मैं समझ गया कि आज रात भाभी की चुदाई निश्चित है। उस रात को मैंने पहले की तरह भाभी के दरवाजे से कान लगा कर खड़ा हो गया. संगीता ने कहा कि शाम को ठीक 4 बजे वो गाड़ी हॉस्पिटल भेज देगी और वही गाड़ी उसे 5.

उनकी टाईट जींस और चुस्त टॉप से उनकी चुत का फूला हुआ आकार और उठी हुई गांड बड़ी मस्त लग रही थी. मैं कुछ देर तक उसे देखता ही रहा और उसके बाहर आने के बाद मैं जल्दी से नहाने घुस गया. मुझे पता था कि इस मूवी में बहुत सारे सेक्स सीन्स हैं तो मैंने ज्यादा जल्दबाज़ी नहीं की, बल्कि इन्तजार किया.

சாரி செக்ஸ் வீடியோ

फिर मैंने मौसी को उठ कर घोड़ी बनने के लिए कहा और मौसी वहीं फर्श के कालीन पर कुतिया की पोजीश में आकर अपनी गांड को उठाकर अपनी चूत को मेरे लंड के सामने ले आई.

फिर मैंने उनको खींचकर उनके होंठों पर किस कर लिया और जब मैं उनके होंठों को किस कर रहा था, तब वह ना-नुकुर कर तो रही थीं, लेकिन उनकी ये नानुकुर बनावटी थी. चाची के मुँह से एक तेज ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आऊऊऊ … मर गई …’ की आवाज निकली. मैं- लेकिन आपको इस तरह से रोता हुआ छोड़ कर मैं कैसे सो जाऊं?भाभी- तो क्या आप सारी रात ऐसे ही बैठे रहेंगे?मैं- अगर आप बैठी रहेंगी, तो मैं भी बैठा रहूंगा.

ऋतु ने कहा- सर, अगर मेरे पति आकाश को इस बारे में पता लग गया तो बात बिगड़ जायेगी. मैं बोली- तुम्हारे कमरे में कोई बैठा है, मुझे जाने दो, अच्छा नहीं लगेगा. खून निकलने वाली चुदाईजिस कारण नताशा वहां और रुकने की इच्छा जाहिर कर रही थी, मैं उसकी बात मान गई हूँ.

मैंने तो नहीं की लेकिन तुम कब कर रही हो?हीना- वो तो अरमान मामा ही बता सकते हैं. पर मैं ध्यान दिए बिना अपनी जीभ चलाता रहा, जब उसने मूतना बंद कर दिया, तो मैंने उसकी चूत को भी साथ ही चाटना शुरू कर दिया.

उसने राहुल को जोर से बेड पर धक्का दिया और उसके बगल में लेट कर उसकी आँखों में आँखें डाल कर उसे कभी देखती कभी चूमती. करीब ऐसे ही 10 मिनट तक घमासान चुदाई के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा, तो मैं समझ गया कि अब वो झड़ेगी. मैं उठ के बैठा, तो नैना ने एक पैर मोड़ा हुआ था मैं उसके पैरों के बिल्कुल नीचे आ बैठा और मैंने उसकी सिल्की निक्कर को हल्का सा जांघों से उठा दिया.

करीब दस मिनट ऐसे ही रहने के बाद मैंने चुत को साफ किया, वहां एक कम्बल रखा हुआ था, उसी से चूत की साफ़ सफाई की. श्वेता मैडम की गर्माहट की वजह से मेरा लंड फिर से जल्दी कड़क होने लगा. पूरे कमरे में हमारी हमारी गर्म सांसों का कोलाहल था और कमरा गर्म आवाजों से भर गया था.

खाना खाने के बाद कोमल एक लोटे में पानी लेकर और डिब्बे में तेल लेकर जैसे ही ताऊ जी के पास जाने लगी.

तभी उसने अचानक से एक ज़ोर का झटका मारा और आधे से ज्यादा लंड मेरे अन्दर घुसा दिया. वो पूछने लगी- कितना टाइम लगेगा?मैंने कहा- अभी कहाँ!तो बोली- फिर बेडरूम में चलो.

मैंने मधु के चेहरे को उठाया और उसे रोता देख कर उसके होंठों को चूमने लगा. बबीता बोली- जितना मजा करना है आज ही कर लो मंजू, उसके बाद ऐसा मजा नहीं मिलेगा. पर मैंने देखा उसे भी ये सब अच्छा लगा, तो मैं दोबारा उसके करीब गया और धीरे से उसकी जांघ को सहलाने लगा.

पोर्च में वसुन्धरा के पापा ने कार रोक कर मुझे उतारा और खुद कार गैरेज़ में पार्क करने के लिए आगे बढ़ा ले गए. उस समय घर पर मेरी चाची और कजन और उस बुड्डे आदमी को, जिसे हम ताऊ कहके बुलाते हैं, के अलावा और कोई नहीं था. इससे पहले कि मैं इस कहानी में आगे बढूँ, मैं आप सभी को सीमा भाबी के बारे में बताना चाहूँगा.

बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ इसके बाद जब तक मैं जयपुर में रहा मैंने कई बार परवीन को चोदा, अब उसकी शादी होने वाली है. इस चुदाई के बाद मैं पूरी तरह से संतुष्ट हो गया और भाभी की हालत तो खराब हो ही गयी थी.

நியூ செக்ஸ் ஃபிலிம்

मैंने परवीन की मस्त गदराई गांड को ऊपर उठाकर उसके नीचे तकिया लगाया और अपने लंड पर कंडोम लगा लिया, मैं कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था. मैंने उसके लंड को पैंट के ऊपर से ही किस कर दिया और फिर उसकी शर्ट के बटन खोलने लगी. मैं इस पल को यादगार बनाना चाहता था … इसलिये मैंने अपनी पैन्ट की जेब से डेरी मिल्क का पैकेट निकाला.

पूरी यात्रा में उसकी चूत का रस लिया मैंने।हम अभी भी चोरी-छिपे मिलते रहते हैं क्योंकि दुनिया के रीति-रिवाज से तो डरना ही पड़ता है. मैं वहीं पर खड़ी होकर अपने कपड़े बदलने लगी, सबसे पहले साड़ी उतारी फिर अपने शरीर को पौंछने लगी. கர்நாடக செக்ஸ்படம்बाकी की डिटेल मैनेजर ने खुद ही हम दोनों को पति पत्नी मानते हुए भर ली.

रजनी उसे नीचे ही मिल गयी, बोली- क्या बात है, कोई बात नहीं करते?राहुल बोला- ऐसी कोई बात नहीं!फिर उसने विजय के लिए पूछा.

जब बीयर का हमारा पहला ग्लास खत्म हो गया तो मैं दूसरा बनाने के लिए उठा तो उसने कहा- एक ही बनाना, अब दोनों एक में ही पियेंगे. और तो और इस बार वो अपनी हथेलियों को मेरी जांघों पर कस कस कर रगड़ रही थी और लंड को उमेठ रही थी.

तभी तन्वी ने एक बॉक्स मेरे हाथ में रख दिया और बोला- ये मेरी तरफ से गिफ्ट।मैंने उसे खोला तो उसमें मेरे लिए साड़ी के मैचिंग रंग का ब्लाउज़ और पेटीकोट था।मैंने दोनों शुक्रिया कहा. फिर उसके लंड से जब पानी निकलने को हुआ तो उसने लंड को बाहर निकलवा दिया. मैंने फ़ौरन भाबी को अपने ऊपर खींच लिया और 69 में आकर भाबी की झांटों भरी चुत पर अपने होंठ रख दिए.

कैसे दोनों से नजरे मिलाऊंगा? रीना को इस घटना के बारे में क्या बताऊंगा?मुझे तो कल रात क्या हुआ था यह पता भी नहीं था.

जी! मुझे पता है लेकिन अपना आबाद होना या फना होना … ये तो खुद के इख्तियार में ही है और सपने देखने पर तो कोई पाबंदी नहीं. मैं नताशा भाभी के जाने के दूसरे ही दिन सीमा भाबी से बात करने के लिए ऊपर तीसरे फ्लोर पर गया. मैंने पूछा- अच्छा, अब कब मेरे लण्ड की सवारी करोगी? कल फिर आऊं क्या?भाभी बोली- ना बाबा ना … अब तो एक हफ्ते तक मैं किसी से भी नहीं चुदवाऊंगी। मेरा अब मन नहीं है।मैंने कहा- अच्छा जब भी मैं गांव आऊंगा तो मुझे अपनी चूत चोदने का मौका तो दोगी न?वो बोली- हां क्यों नही … अगर मौका मिला तो जरूर दूंगी। चलो अब जाओ यहां से, मैं बहुत थक गई हूं.

एक्स एक्स एक्स विदबिना कोशिश के मुझे उसकी चूत मिल गई और बड़े प्यार से उसने चुदाई भी करवा ली. फिर उसने मुझे बेड पर प्यार से लेटाया और मेरे पेट के नीचे वाले पूरे हिस्से को चूमने लगा.

जागरण सेक्सी वीडियो

गिन्नी अपनी सीट से उतर कर ड्राइविंग सीट पर आई तो मैंने सीट थोड़ा सा पीछे खिसकाई और अपनी टांगें फैलाकर बीच में उसको बैठा लिया. वैसे भी मुझे बाद में पता लगा कि आग तो दोनों तरफ ही लगी हुई थी, इसलिए चुदाई तो होनी ही थी. सर्दी का मौसम चल रहा था और मैं रोज सुबह अपने घर के पास टहलने के लिए जाया करता था.

उसके काले चमकीले बाल उस टॉप पर उसकी खूबसूरती में चार चांद लगाने के साथ-साथ कितने ही तारे भी साथ में जोड़ रहे थे. अब आगे:आंटी- आह … आह इ इ … खा जा रे भोसड़ी के … खा जा मेरी इस भोसड़ी को. सुबह से ही आसमान में काली घटाओं का आना-जाना लगा हुआ था और तेज़ हवाओं के कारण धूप-छाँव की आँख-मिचौली जारी थी.

बंटी बोला- फिर आगे?फिर मैं नीचे आ जाता और आपका लंड बाहर निकाल कर धीरे से लंड की टोपी पे अपनी जुबान फेरने लगता. यूं ही मुझसे बात करते-करते एक दिन बाबा अपनी पढ़ाई के लिए कानपुर आया. पूरे कमरे में हमारी हमारी गर्म सांसों का कोलाहल था और कमरा गर्म आवाजों से भर गया था.

अंकल ने ये कहते हुए अम्मी की कमर में हाथ डाल कर उनको अपने से चिपटा लिया. मैं बोली- बेटा रोज सुबह मैं तेरा मूत और बीज पियूंगी … आज से सुबह से चाय कॉफ़ी बन्द.

फिर करन ने कहा- अगर कल तुम ये पहन के आओगी तो मुझे बहुत अच्छा लगेगा, मैं कल तुम्हें अपनी बीवी के रूप में देखना चाहता हूँ।मैंने कहा- अरे, मैं ऐसे कैसे पहन के आ जाऊँगी, अभी तो ब्लाउज़ की फिटिंग भी नहीं हुई होगी.

फिर वो बेड के कोने पर जा खड़े हुए और मेरे पैर खींच कर मुझे एकदम कोने पर कर दिया और मेरी टांगें उठा कर मुझे पकड़ा दीं. சுகன்யா செக்ஸ் வீடியோएक-दो बार तो ऋतु को दर्द महसूस हुआ लेकिन फिर वो भी अजय से अपनी गांड चुदाई का मजा लेने लगी. ब्लू सेक्सी चुदाईमेरी बीवी को ज्यादातर टाइट कपड़े पहनने का ही शौक है इसलिए उसका फिगर उसके कपड़ों में बिल्कुल साफ पता चल जाता है. तभी अंकल ने एक और जोरदार शॉट लगाया और आधा लंड मेरी मां की चूत में घुसा दिया। अब मेरी मां दर्द से कांप उठी.

लो बताओ … एक मैं ही हूँ जो तुम्हारे लिए कोई गिफ्ट नहीं लाया, बाक़ी सभी कुछ न कुछ उपहार लेकर आये हैं।उसने बड़े ही प्यार से मेरे कंधे पर सर रखा और कहा- मेरे आज का सबसे अच्छा गिफ्ट तो तुम हो जो मेरे साथ हो आज के दिन!फिर वो अपने कुछ दोस्तों के पास चली गयी और पार्टी शुरू हो गयी।काफी देर तक पार्टी चलती रही और फिर एक एक कर के सभी अपने घर चले गए अंत में मैं और वो बच गए.

मुझे लिखना नहीं आता है, इसलिए थोड़ा ऊपर नीचे हो जाए, तो मुझे मेल करके जरूर से बताना कि मेरी गलती कहां हुई है. मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके चुचों को चूमने लगा … जिससे वो भी मस्त हो गई और उसने आहहह निकाल कर अपनी चुदास जाहिर कर दी. शुभम जी ये बोलकर गए थे कि किसी दिन और अच्छे से चुदाई करूँगा, अभी मेरा मन नहीं भरा है.

अब मैंने अपना काम चालू कर दिया, मैं उनके चुचे दबाने लगा और उनका ध्यान दरवाजे पर था. मैंने दिशा के पूरे मम्मे को अपनी हथेली में भर कर पूरी सख्ती से मसला और उसके होंठों को जोर से चूस लिया. मैंने उनके लंड को कपड़े से साफ़ किया और उसके बाद मैं उनका लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

छोटी लड़की का सेक्सी पिक्चर

मैंने जब लंड घुसेड़ा, तब लंड बहुत आसानी से भाभी की टाईट बुर में आने जाने लगा. अब मैं चाची और अपनी बहन कोमल की चुदाई की कहानी याद करता हुआ अपना लंड हिलाने लगा. मैंने आपको अपनी पिछली सेक्स स्टोरीभाबी जी लंड पर हैंमें कैसे मैंने अपने लंड से भाबी की चुत और गांड की सेवा करके उन्हें खुश कर दिया था.

रश्मि- लेकिन इसके बाद अगर तुम्हें राज के लंड की आदत लग गयी, तो मेरा क्या होगा?उसकी इस बात पर सब हँसने लगे.

तभी मैंने नीचे से धक्का लगा दिया और लंड उसकी चुत को फाड़ता हुआ अन्दर चला गया.

लगभग पंद्रह मिनट के बाद ताऊ जी चाची से बोले- कोमल अब जवान हो गई है. मैं उसे जाते देख कर खुश हो गया कि अब मैं एक पर निशाना बड़ी आसानी से साध सकता हूँ. भाभी को देवरशायद हम दोनों ने मिल कर उसको इतना गर्म कर दिया था कि वो रस से भरी हुई थी.

मैंने बोला- मामी आपकी सहेली का घर कहां पर है?तब मामी बोलीं- यार, मुझे मामी मत बोलो … अब सिर्फ रेशमा बोलो … मैं किसी सहेली के घर पर नहीं जा रही हूँ. ये मेरी पहली चुदाई थी इसके बाद तो मैं मामा की पत्नी जैसी बनकर रोज़ चुदी. मेरे मुंह से सहसा ही शान्ति नाम निकला, वैसे मैं उसको कभी सीधे नाम लेकर नहीं बुलाता था.

मैं उसके कंधों और गर्दन के भागों को चूम रहा था तथा साथ में उसके उरोजों को भी दबा रहा था. भाभी जब कमरे में दाखिल हुई तो उनकी नजर मेरी लुंगी के नीचे लटक रहे मेरे लंड पर गई, मेरे बड़े से लंड को देख कर भाभी एकदम से वहीं रुक गई.

मैं उसको काफी दिनों तक रुकवा रही थी क्योंकि मैं अकेली बाहर जा नहीं सकती.

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और फिर सनी जी को कुछ इशारा किया, तो सनी जी पीछे से आ गये. मैं और शिशिर हम दोनों लोग खुश थे कि मेरी सहेली शाम को पार्टी में जाएगी और मैं मेरे पति के सोने के बाद अपनी सहेली के पति से सेक्स करूंगी. फिर एक हाथ से मेरे दूध को जोर जोर से मसलने लगा, मेरी तो जान निकलने लगी थी, उसका किस करना मुझे बहुत गन्दा लग रहा था.

भोजपुरी सेक्सी नंगी पिक्चर मैंने इससे पहले साहिल को हीना की बस एक ही फोटो दिखाई थी जिसको देख कर साहिल मुट्ठ मारा करता था. उसकी चुत के दाने को चूस चूस के लाल कर दिया और जीभ चुत के अन्दर बाहर करने लगा.

वह बोली- रोहन धीरे से चोदो मेरे राजा … बहुत दर्द हो रहा है।इस बार मैं आंटी को बिना कॉन्डम के ही पेल रहा था. मैंने उसी समय उसको कुतिया पोजीशन में किया और लण्ड चूत के छेद पर सेट कर के झटका मारा. मैं पिछले कमरे में आ गया और दरवाजा खोल कर कमरे के कोने में ऐसे खड़ा हो गया कि अनुषी कमरे से बाहर आए, तो उसकी नजर सीधा मुझ पर पड़े.

सेक्सी वीडियो देवर भाभी वाला

वो दोनों भी अदला-बदली की चुदाई का आनंद लेना चाहते थे और जब मैंने हम चारों के साथ चुदाई का आनंद लेने के लिये हामी भर दी तो वो दोनों खुशी से उछल पड़े. मैंने अपने ऊपर से नम्रता को हटाया और वहीं बैठते हुए नम्रता से छत पर चलने की फरमाईश कर दी. एक कमसिन लड़की की पहली चुदाई की इस कहानी में अपने पढ़ा कि मेरी गर्लफ्रेंड एक कमरे में मेरे साथ थी.

पर अब मुझे भी अच्छा लग रहा था और मैं भी गांड फैला कर लंड के मज़े ले रहा था. वो मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी, जबकि मैं उसकी चूत को कप वाली आइसक्रीम समझकर चाट रहा था.

मैंने वैसा ही किया।रात के 11:30 हो चुके थे और एक बोतल बीयर भी खत्म हो चुकी थी.

तेरी उम्र में मेरा भी हाल कुछ ऐसा ही था मगर खुद पर थोड़ा काबू करना भी सीख. भाभी जब कमरे में दाखिल हुई तो उनकी नजर मेरी लुंगी के नीचे लटक रहे मेरे लंड पर गई, मेरे बड़े से लंड को देख कर भाभी एकदम से वहीं रुक गई. जब हम दोनों एक साथ झड़ने को हुए, तो उसने बोला- मैं भी आ रही हूँ … मेरा भी होने वाला है.

मैंने अपनी एक टांग को उठा कर उसकी टांग पर इस तरह रख दिया कि मेरा घुटना मुड़ कर उसके लंड के ऊपर जाकर टच हो गया. जब उसने मुझे ये बताया तो मेरे मन में चुदाई का कीड़ा जाग गया और बाजार जाकर दो कंडोम के पैकेट और डेरी मिल्क की चॉकलेट ले आया. फिर उसने मेरे निक्कर को इलास्टिक से चुटकियों से पकड़ा और ऊपर उठाया और झुक कर मेरे लंड को देखने की कोशिश करने लगी.

सुबह जब हम उठे तो देखा कि मौसी और मौसाजी दोनों तनाव में थे और फोन पर बातें कर रहे थे.

बीएफ भेजिए बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ: जब मुझसे रुका न गया तो मैंने उसका मुंह अपनी तरफ घुमा लिया और उसके होंठों को चूसने लगा. जिससे मेरा वीर्य भाभी के हाथ पे ही छूटा और कुछ बूंदें नीचे गिर गईं.

ये सुनते ही मैंने अपनी कॅप्री निकाल दी और उनको सीधा करके उनके मम्मों की भी मालिश करने लगा. थोड़ा नीचे होकर मैं उसकी नाभि पर किस करने लगा और जीभ नाभि में डाल दी. हम दोनों की बातें प्यार में बदल गयी और हम दोनों को पता भी नहीं चला.

भाभी के किचन में हमारी चुदाई की ‘फच्च … फच्च …’ की मधुर ध्वनि आ रही थी.

कमरे में सर्वत्र काम-गंध फैली थी और रति-कामदेव की लीला अपने चरम पर पहुँचने को अग्रसर थी. मैंने अपना हाथ वापस से हटा लिया और मैं थोड़ी सी आगे को होकर खड़ी हो गई. मेरा खड़ा लंड देखकऱ वो हैरान हो गईं और बोलने लगीं- हाय रब्बा … तुहाडा किन्ना वड्डा ए जी.