बीएफ की मूवी

छवि स्रोत,xnxx வீடியோ

तस्वीर का शीर्षक ,

पंजाब के बीएफ पिक्चर: बीएफ की मूवी, ‘ऊउ ममम्मी आआह आऊच्च आह … कितना अन्दर पेल रहे हो आंह …’यही सब करती हुई रूना मेरी कमर को पकड़कर जोर जोर से हिलने लगी.

कृष्ण भगवान के वॉलपेपर

उसने मुझे अपने पास बुलाया और बोली- माशाल्लाह … क्या चिकना और सुंदर लौंडा है. गाना वाला सेक्सी एचडी वीडियोमैंने उससे पूछा- तुम्हारे हज़्बेंड कहां हैं?उसने बताया- वो आउट ऑफ जयपुर हैं और 2 दिन बाद वापस आएंगे.

लेकिन लंड महाराज ने अंगड़ाई लेते हुए समझाया कि बेटा रास्ता एकदम साफ़ है … जाओ और पूनम की सुलगती जवानी का भोग लगा आओ. लेडीस साड़ीउसने बोला- निक्कू तू घुसा … कितना भी दर्द हो, मैं बाहर नहीं निकालूंगी.

उसके दोनों हाथ अब मेरी पीठ पर आ चुके थे और टांगें भी ढीली हो चुकी थीं.बीएफ की मूवी: नत्थूलाल ने अञ्जलि की चूत में प्रवेश करने से पहले उसकी चूत के दरवाजे पर लंड से दस्तक देकर खटखटा कर पूछा- क्या मैं अन्दर आ सकता हूँ?लंड को उसकी चूत फंसा कर मैं उसकी चूत के होंठों में रगड़ने लगा.

उसकी गांड के टाइट होल ने और उसकी गर्म आंहों ने मुझे ऐसा महसूस कराया था मानो मैं किसी सील पैक माल को चोद रहा हूँ तो मेरा मन रुकने का नहीं था.मैं भी उसके चूतड़ों को दोनों हाथों से फैलाकर जोर जोर से मेरा लौड़ा उसकी फूल सी मखमली गांड में पेल रहा था.

चौधरी सेक्सी फोटो - बीएफ की मूवी

गॉक-गॉक की आवाजें निकालती हुई किसी मंजी हुई रंडी की तरह शिराज की बहन मेरे लौड़े से अपना मुँह चुदवाती रही.बिना देर किए मैं भी अपने हाथ उसकी पीठ पर ले गया और उसकी ब्रा का इकलौता हुक खोल कर उसके चूचे नंगे कर दिए.

लेकिन अच्छा माहौल वाला हॉस्टल ना मिलने की वजह से मैंने रूम लेकर रहना पसंद किया. बीएफ की मूवी उसे यक़ीन नहीं हो रहा था कि उसके साथ कभी वासना का इतना मादक खेल भी खेलेगा कोई!अब धारा ने थोड़ा और आगे सरकते हुए अपनी चूत को शेखर के होठों के बीच रखा और अपनी उंगली जो शेखर के मुँह में थी उसे बाहर निकाला.

साबिरा का थूक देख कर मैंने शिराज को गालियां देते हुए कहा- तेरी मां का भोसड़ा साले, मेरी बेगम के मुँह में झड़ गया कुत्ते? अब चाट ये फर्श, तेरे अम्मी की भोसड़ी हिजड़े, तुझे आज इसकी सजा मिलेगी.

बीएफ की मूवी?

दोस्तो, मेरा कम्प्यूटर सर्विस का छोटा सा बिजनेस है और मेरी यह कॉलेज सेक्सी गर्ल देसी कहानी भी मेरे बिजनेस की वजह से ही शुरू हुई. आपको मेरी लंड गांड की कहानी कैसी लगी, मुझे मेल व कमेंट्स करके जरूर बताएं. भाभी ने अपने घर में तीन गाय पाली हुई थीं, तो उनके घर में गायों के लिए चारा काटने वाली हाथ मशीन थी.

पता नहीं उस दिन मॉम को भी क्या हुआ था, मॉम ने मुझे दो चांटे मारे और कहा- चोद इसको अच्छे से. मैं बहुत ही हल्के से अपने चूतड़ को कभी कभी थोड़ा सा ऊपर कर देता था, बर्दाश्त ही नहीं हो रहा था।भाभी समझ चुकी थी कि चूत की हवस जाग गई है।वो बोली- मैं कुछ हेल्प कर दूं क्या इस तंबू को और ऊंचा करने में?मैंने कहा- जो मन करे, करो!भाभी बोली- इसे बाहर निकाल दूं क्या?मैंने कहा- निकाल दो!जैसे ही मैंने कहा, भाभी तुरंत मेरे बड़े से लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया. मैंने उसके कान को अपना निशाना बनाते हुए अपने मुँह में उसके कान की लौ दबा लीं और धीरे धीरे उसको चूसने लगा.

एक दिन मैं उसके घर गया तो उसकी जवान बेटी को देख मेरा लंड उछलने लगा. अब मैंने उससे पूछा- तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?बहन ने बताया- नहीं, मेरा कोई नहीं है …. मैं इतना सब इसलिए बोल रहा था क्योंकि मुझे भी हल्का हल्का सा नशा हो रहा था.

मैं ऐसे ही ऊपर लेटा हुआ था, तभी रवीना मौसी आ गईं और दोनों को देखकर गाली देने लगीं. मगर मैंने मेरी बीवी के जिस्म पर काटने चूसने के निशाँ देखे तो …दोस्तो, मैं सुधीर, कोमल मिश्रा के जरिए आपको अपनी हॉट एंड सेक्सी बीवी की चुदाई की कहानी सुना रहा था.

मेरी आंखों में गुस्सा देख कर उसने चुपचाप मेरा लौड़ा अपने हाथ में लिया.

हाँ धारा … बस ऐसे ही … उफ़्फ़ … ओह्ह्ह … मेरी धारा!” शेखर भी मज़े में धारा का नाम लेकर बड़बड़ाते हुए उसकी गांड में अपना मूसल ठूँसने लगा.

तो सीमा हंसती हुई बोली- अब इसकी क्या जरूरत है, सारा तो तुमने अंदर भर दिया. कुछ देर बाद जब सब लोग चले गए, तब संजीव भैया मेरे लिए केक, चॉकलेट्स, नाश्ते के लिए भी बहुत कुछ लेकर आ गए. ये Xxx सिस फक़ स्टोरी तब की है, जब मैं अपनी सेक्स की बढ़ती भूख के चलते मैं पूरे पूरे दिन भाई बहन की चुदाई वाली वीडियो देखता रहता था.

पेंटी उनकी डोरी वाली थी जिससे पैंटी की डोरी उनकी गांड के छेद में होकर निकल रही थी. फिर तुरन्त उसने मेरे कंधे से हाथ ले जाकर मेरी चूची दबानी शुरू कर दी. फिर उसने मेरे बाजू में लेट कर मुझे एक लंबा किस किया और हम दोनों एक दूसरे को पकड़ कर लेट गए और एक दूसरे को सहलाते रहे.

जैसे जैसे मेरा लंड अन्दर जा रहा था, उसकी बुर की चमड़ी फैलती जा रही थी.

मैं अपने दोनों हाथ आगे ले जाकर निधि के बूब्स दबाने लगा और उनके मुंह को पीछे की तरफ लाकर किस करने लगा. भाभी के घर में निर्माण का काम चालू था, जिस वजह से छत पर जाने के लिए उनको मेरे घर से हो कर जाना होता था. [emailprotected]टीचर स्टूडेंट Xxx कहानी का अगला भाग:मेरी नंगी जवानी की चुदाई की कहानी- 3.

मैंने लंड की तरफ इशारा करते हुए भाभी से पूछा कि लंड चाहिए?भाभी ने हाथ में लंड पकड़कर मुँह खोल कर लंड चूसने का इशारा किया. वह पूछने लगी- हर्षद क्या तुम्हारा पूरा लंड मेरी चूत में ही है, या अभी कुछ और बाकी है?मैंने कहा- हां, अभी ये दो इंच बाहर है. अंकल मुझे किस करके चले गए और मैंने अगले लंड के बारे सोचना शुरू कर दिया.

आंटी ने बताया कि उन्होंने ललिता जी को मेरे रूम में आता देख लिया था और उनको पता चल गया था कि मैं ललिता जी को चोदता हूं.

भाभी भी काफी मजाकिया थी, उन्हें मैं रोजाना बाजार से लाकर कुछ न कुछ खाने की चीज देता रहता था. उसकी गर्म गर्म सांसें मेरी छाती पर लग रही थी और मेरा लंड खड़ा होकर उसके पेट पर टक्कर मार रहा था.

बीएफ की मूवी चाची को देखा तो मन हुआ कि अभी इनकी गांड में लंड डाल कर चोद दूँ लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता था. पाटिल जी- आज तो आपने हमें अपनाकर हमारा जीवन खुशियों से भर दिया रेशमा जी … और मुझे यकीन है कि आपको इस फैसले से कभी पछताना नहीं पड़ेगा.

बीएफ की मूवी उसने अपने दोनों हाथों से मेरी गांड सहलाते हुए कहा- हर्षद, अब मुझसे नहीं रहा जाता, तुम्हारे लंड ने मेरी चूत रगड़कर फिर से आग लगा दी है. मैंने उसे अपनी गोद में बैठा लिया और अपने एक हाथ से उसकी कमर को कस लिया.

मैं भी एक बड़ा सा गलियारा पार करते हुए किरण को लेकर उसी कमरे की तरफ आ गया.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी एचडी मूवीस

शाम को डैड आए, उन्होंने फ्रेश होकर खाना खाया और अपने रूम में सोने चले गए. बीच बीच में मैं अपनी कमर थोड़ी से ऊपर करके लौड़ा फिर से गांड के अन्दर दबाता जा रहा था. आइए चलते हैं इस कहानी के अगले और अंतिम भाग की ओर …बिस्तर पे असहाय बंधे हुए शेखर के सामने एक और रोमांच खड़ा था … अपने चेहरे को पूरी तरह से मास्क से ढक कर एक झीनी साई छोटी नाइटी में!शायद शेखर के रोमांच की सभी इच्छाओं की पूर्ति आज ही हो जानी थी.

मेरी हाईट 5 फुट 7 इंच है और मैं एक हट्टा-कट्टा 23 साल का हैंडसम मर्द हूं. काफी दुकानों पर घूमने के बाद जब हमें मिलने का मौका नहीं मिला तो मैंने मां से कहा कि मैं और आरती दूसरी दुकान पर जाकर सामान देखते हैं. कभी रात को व्हाट्सअप पर भी चैट हो जाती थी, फ़ोन पर रात को बात नहीं होती थी क्योंकि उसका जयपुर में ही घर था तो सभी घर पर ही रहते थे.

कुछ ही देर बाद वो झड़ गई लेकिन मेरा काम नहीं हुआ था इसलिए मैं लगा रहा.

तीन दिनों बाद जब मैं घर गया, तब तक बॉस जा चुका था और मेघना अकेली थी. खाना खत्म करके हम जल्दी ही वापिस होटल पर आ गए क्यूंकि अब तक हमारे बदन की थकान कम नहीं हुई थी. अब वो आहह आहह करके अपनी गांड आगे पीछे करने लगी, मैं भी तेज़ी से चोदने लगा.

उसके बड़े बड़े दूध, बाल छोटे और गांड तो पूछो ही मत!पता नहीं कैसे उसकी पैंटी उसकी चूत को संभाल रही होगी. कहानी के पिछले भागदोस्त की बहन की चूत चाट कर मजामें आपने पढ़ा कि मैंने अपने दोस्त की शादीशुदा बहन को उसकी चूत चाट कर परमा आनन्द दिलवा दिया था. मुझे जहां जाना था, वहां मैं पहुंच गया और एक होटल में अपने लिए एक कमरा बुक कर लिया.

दोस्तो, उम्मीद करता हूं कि मेरी ये रण्डी की गांड की सेक्स कहानी आप सभी लोगों को पसंद आएगी. आंटी बोलीं- बाप रे!मैंने कहा- क्या हुआ?वो बोलीं- तेरा लंड तो बिल्कुल तैयार है.

अगर वो मुझे पाना चाहते है और हां उनको मेरी कुछ शर्तें भी माननी होंगी. रेशमा- चलिए आप तो कुछ करने वाले तो हो नहीं, जाइये बोल दीजिये पाटिल जी को कि रेशमा तैयार है उनके नीचे बिछने को. फिर ऊपर से बरसाती डाली और पूरे चेहरे को ढकने वाला हेलमेट पहना, जिससे मैं अन्दर से लड़की बनी हुई हूं, किसी को मालूम नहीं चले.

मैंने उसके दोनों चूतड़ों को एक साथ कई बार चटाक, चटाक, की आवाज करते हुए पीटे और हर चांटे के बाद दोनों चूतड़ों को अपनी मुट्ठियों में कसने लगा.

शराब की हल्की सी खुमारी होने के बावजूद रेशमा उनके पीछे पीछे चलने लगी. कोई कंप्यूटर भी खाली नहीं था जिस पर मैं प्रैक्टिस करके टाइम बिता सकूं. मैं अब घबरा भी रही थी क्योंकि मेरे बच्चों के आने का टाइम हो गया था.

मैंने जो देखा उसे देखने के बाद मेरे तो होश ही उड़ गए और मुझे अपनी आंखों पर यकीन नहीं हो रहा था. ‘आआह आह आआह …’बहुत देर ऐसे ही चुदने के बाद वो अपने पैरों के पंजों के बल ऐसे बैठ गई, जिस तरह देसी टॉयलेट सीट पर बैठते हैं.

मैं उसकी दोनों चूचियों को बारी बारी से दबाने लगा और सटासट सटासट अन्दर बाहर करने लगा. मैं कभी उनकी गर्दन पर किस करता तो कभी उनके कान पर अपनी जीभ चलाता और कान के निचले हिस्से को चूसता. कुछ देर बाद मैंने कपड़े उतारे और अपने कमरे में ही छोड़ कर चाचा की चड्डी को एक बार फिर से धोने लगा.

गर्भवती औरत की सेक्सी वीडियो

ये कौन है सर?सर मुझे देखकर मुस्कुराते हुए बोले- वही, जिसे कल तुम घूर रहे थे और आज जिसका इंतजार कर रहे हो.

जब भी मैं कहीं मोटी चूची वाली लड़की महिला या भाभी को देखता हूं तो मेरा लौड़ा खड़ा हो जाता है. वो बोली- याद है तुमने मुझे पति के बारे में पूछा था, तो मैं कुछ बोली नहीं थी!मैं- हां तो … उसका और इसका क्या संबंध है जस्सी?मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था. उसने मुस्कुरा कर पूछा- ऐसे क्या देख रहे हो?मैं बोला- तुमको?‘पहली बार थोड़ा देख रहे हो, रोज तो देखते हो.

अब धारा का गोरा नंगा जिस्म किसी चमकते हुए संगेमरमर की मूर्ति की तरह नज़र आने लागा. उनका बेटा अतुल मेरे साथ ही खेलता रहता था और भाभी से भी मेरी अच्छी दोस्ती हो चुकी थी. चॉकलेट पिक्चररेशमा पर वो ड्रेस इतनी जंच रही थी मानो टेलर ने रेशमा का बदन ध्यान में रख कर ही इसको बनाया हो.

इसकी वजह से कुछ खेलने के लिए मैंने अपनी बहनों को ढूंढा तो वो मुझे नहीं मिलीं. मैं उस समय अपनी सुसराल में रहकर अपना काम करता था और कभी कभी ही घर जा पाया करता था.

सुमैत्री कीगांड मारने की इच्छाथी मेरी फिर से … मगर उसने मुझे उस रात अपनी गांड को दुबारा नहीं चोदने दिया. मैंने उसके सर को पकड़ा और बालों को खींचते हुए ऊपर उठाने का प्रयास करने लगी ताकि हम चुदाई शुरू करें!पर वो मेरी चूत से हिलने को तैयार नहीं था. मैंने ओके कह कर चूत से लंड निकाला और सुमैत्री की गांड पर अपना लंड रख दिया.

मोटे लंड के चलते मुझे बहुत दर्द हुआ मगर मैं मज़ा लेती हुई अपना मुँह तकिया से दबा कर लंड झेलने लगी. भैया के रूम में एक रोशनदान था, जो पीछे की गैलरी की ओर खुलता था और उधर कोई आता-जाता भी नहीं था. लंड चूसने और चूत, गांड चाटने का कार्यक्रम करने के बाद, डैड आफिस चले गए.

अब जब मुझे फोन चार्ज करना होता था तो उनके रूम में मोबाइल लगा आता था.

वो मेरी बात सुनकर हंस पड़ी और बोली- तुम कैसे समझीं कि मैं अलग सी हूँ?मैंने कुछ नहीं कहा, बस उसकी आंखों में झांकती रही. यही सब सोचते हुए और धड़कते दिल के साथ मैंने दरवाजा खोल कर देखा कि कोई है तो नहीं बाहर.

जब तक शिराज और उसकी अम्मी खाना खाने में लगे थे, तभी साबिरा चुपके से ऊपर की तरफ आ गयी. इस तरह प्रिया को खूब लन्ड रस मिल रहा था और जिंदगी बड़े मजे से कट रही थी. अब इस बात को सुनकर मैंने बनते हुए कहा- क्यों आज सुबह से कोई उल्लू बनाने के लिए मिला नहीं क्या?इस पर हम दोनों हंस पड़े.

मुझे चांदबालियां और लंबे झुमके बेहद पसंद हैं, इससे सेक्सी लुक दिखता है. भैया के रूम में एक रोशनदान था, जो पीछे की गैलरी की ओर खुलता था और उधर कोई आता-जाता भी नहीं था. मैंने अपना सारा वीर्य उस Xxx लड़की के मुँह में डाल दिया और उसने वीर्य की एक एक बूंद चाट कर लंड साफ़ कर दिया.

बीएफ की मूवी धारा ने उसकी आँखों में एकटक देखते हुए हल्की सी मुस्कान के साथ एक बार फिर से उसके होठों को अपने होठों में क़ैद कर लिया और लंड के सुपारे को अपनी गांड के छेद पे रगड़ना चालू रखा. पहले खड़े होकर पहले उसकी चूत में लंड पेला, फिर उसकी गांड चोदी और अपना मुठ उसकी गांड में ही झाड़ दिया.

भाग्यश्री की सेक्सी वीडियो

क्यों रेशमा रांड … बोल चुदेगी उस हिजड़े सलमान के सामने भोसड़ीवाली?रेशमा का मुँह तो मेरे गांड के नीचे दबा था इसीलिए वो तो कुछ बोल नहीं सकी पर किरण ने अपना मुँह पाटिल जी की गांड से बाहर निकाला और मेरी तरफ मुस्कुरा कर देखने लगी. बेल्ट का दूसरा सिरा जो बिस्तर पर था, उसको उठा कर मैंने रेशमा का गला कस लिया और जोर जोर उसके चूतड़ पीटने लगा. मैंने भी अब दरवाजा जोर से खोलते हुए किरण को अन्दर की तरफ खींचा और उसको रेशमा की नंगी गांड की तरफ ले गया.

उन्होंने अपने हाथ की तरफ देखा, फिर दूसरे हाथ से मेरे लंड को मेरे लोअर अन्दर करके वो उठ कर वहां से चली गईं. मैंने उसे अपनी ओर खींचा और उसे किसी गुड़िया की तरह अपनी गोद में उठा लिया. सेक्सी डामेरा नाम रिशु है (बदला हुआ)जनवरी का महीना था और मैं एक इंटरव्यू के लिए अहमदाबाद जा रहा था.

उन दोनों को चुदाई करते हुए लगभग आधे घंटे से ज्यादा का समय हो चुका था और अभी तक बॉस का पानी नहीं निकला था.

इसका लंड था तो मेरे पति की ही तरह, पर थोड़ा टेड़ा था, एकदम केले के तरह. मैंने अपने हाथों से पकड़ कर लंड का सुपारा सरिता की चूत के खुले हुए मुँह पर रख दिया और थोड़ा सा रगड़ कर एक जोर का धक्का मार दिया.

आम दिनों में मैं अपने मम्मों को एक बहुत ही चुस्त पट्टे से और बनियान से दाब कर रखती थी. अब रूपा ने मुझे अपना पर्सनल नंबर दे दिया, जिससे मैं कभी भी उसे अपने पास बुला सकता था. दोस्तो, रेशमा की गांड फट चुकी है और पेनफुल एनल चुदाई का मजा सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूँगा.

मुस्कुराती हुई वो बोली- अच्छा, बातें तो बहुत अच्छी करते हो।मैं- धन्यवाद। वैसे इस खूबसूरत लड़की का नाम क्या है?वो- मेरा नाम सोनम है, आपका?मैं- शैलेश.

बड़ी मिन्नतों के बाद उन्होंने मुझे छोड़ा, नहीं तो वो वहीं मुझे चोद देते. कभी पेट चाट रहा था, कभी भाभी के बड़े मम्मे को मुँह में भर लेता, तो कभी गर्दन को चाटने लगता. सरिता भाभी ने सबके चाय के कप बटोरने लगीं तो पिताजी बोले- सरिता बेटी, हम लोग जरा गांव में घूम कर आते हैं.

𝐭𝐚𝐦𝐢𝐥 𝐬𝐞𝐱वो भैया के हाथ को बार बार पकड़ रही थीं मगर भैया ने चूत में तेल लगाना नहीं छोड़ा. मैंने अपनी आंखें खोलीं और झूठमूठ का गुस्सा दिखाकर कहा- नीता, सोने दो ना मुझे.

आंटी की सेक्सी वि

[emailprotected]चुदाई की कहानियाँ हिंदी में का अगला भाग:क्लासमेट की डर्टी सेक्स की तमन्ना पूरी की- 2. देविका अपने नाजुक हाथों से मेरा लंड ऊपर नीचे कर रही थी; उसकी चुचियां मेरे सीने पर रगड़ खा रही थीं. अब मैं कैसे बताता कि मुझे क्या चाहिए? मैं उसके शरीर का, मन का मालिक तो नहीं था, जो उसे किसी भी पराए मर्द के नीचे लिटा देता.

गोरे-गोरे हाथ, मासूम सा चेहरा और सीने के उभार देख कर जरूर पाटिल साहब रेशमा को चोदने की मंशा बना रहे होंगे. रूपा इसी साल बारहवीं पास करके हमारे शहर में अपनी कॉलेज की पढ़ाई करने आई थी और एक किराए के रूम में अपनी सहेलियों के साथ रहती थी. पहले तो मैं एकदम से डर गया कि कहीं मुझे उनकी डांट तो नहीं पड़ने वाली है.

उधर गीता हमें देखकर नीचे उतरकर बोली- नीता, क्या तुम अकेली ही रस पियोगी? मुझे भी तो इस अमृत का थोड़ा स्वाद ले लेने दो. मॉम धीमे से बोलीं- बस अब तक 3 बार … उससे मिले ज़्यादा दिन नहीं हुए हैं. मैं उन्हें चूसते हुए साथ में अपने दांतों से हल्का सा काट भी देता था.

उम्म्म … ह्मम्म … शेखरर्र … और … थोड़ा और … आह्ह” अपनी फड़फड़ाती चूत को शेखर के होठों और ज़ुबान पे रगड़ते हुए धारा सिसकारियाँ भरती हुई झड़ने लगी!शेखर के मुँह में हल्का खट्टा नारियल पानी की तरह चिपचिपा सा गाढ़ा पानी गिरने लगा जिसका स्वागत उसने अपना मुँह खोल कर किया और उस दिव्य कामरस को पीने लगा. उसका बस चलता तो वो चूतड़ो में एक नया छेद ही बना डालता और अपना लंड घुसाकर अपना पानी निकाल देता.

मेरी पिछली सेक्स कहानीट्रेन में मिली हॉट मॉडर्न भाभी की चूत चुदाईआपको अच्छी लगी और आप लोगों के मेल भी आए, उसके लिए आप सभी का धन्यवाद.

उसने चुम्बन में मेरा साथ देते देते मेरे चेहरे को दोनों हाथों से पकड़ लिया और मेरे होंठों पर किस करने लगी. ब्लू सेक्सी फिल्में वीडियोपूनम आगे आकर घुटनों के बल बैठ गई और उसने मेरी पैंट को अंडरवियर के साथ ही उतार दिया. ఓన్లీ బాయ్స్ సెక్స్ వీడియోస్जैसे ही उसने चड्डी पहनी चाही, मैं बोला- इतनी जल्दी क्या है जानेमन, अभी तो बहुत कुछ होना बाकी है. मेरा आधा लंड गांड में चला गया और आंटी की मां चुद गई- ऊईई ऊईई ऊईई … मर गई बचाओ बचाओ … मर गई … राज बाहर निकाल … बहुत दर्द हो रहा है … मुझे नहीं करवाना.

साथ ही वो अपने होंठ चबा रही थी और सिसकार रही थी- उफ … चोद सुख … चोद … आह … फाड़ दे मेरी चूत … उफ … आह … ज़ोर से रगड़ दे.

इतनी देर में उसका दर्द कम हो गया और मैंने फिर से एक जोरदार झटका दे दिया. मॉम फिर डरने लगीं और बोलीं- घर पर क्या दिक्कत है?मैंने कहा- मैं अच्छे से एंजाय करूंगा. वो और मैं एक डेट पर गए, एक आम डेट एक रेस्तरां में।जहां हमने खाना खाया, एक दूसरे का हाथ पकड़ के आंखों मे आंखें डालकर बातें की।खुद को लोड़े के लिए इस्तेमाल कर करके मैं भूल चुकी थी कि मैं एक लड़की भी हूं।रात के खाने के बाद वो मुझे अपने फ्लैट पर ले गया, जहां उसने मुझे बड़े प्यार से चोदा.

मनीष मेरे ससुर से बोला- हां बाबू जी, अभी इधर थोड़ा काम है, उसको निपटा कर आता हूं. वो समझ चुके थे कि मेरी तरफ से हर चीज की इजाजत मिल गई है।अपनी बांहों में लेकर उन्होंने मेरे चेहरे को अपने हाथों में लेकर ऊपर उठाया मेरी नजर नीचे की तरफ थी।पहले उन्होंने अपनी उँगलियों को मेरे गालों पर चलाया और फिर अपने होंठों को मेरे होंठों के करीब लाते चले गए।जल्द ही उनके होंठ मेरे होंठ से टकरा गए और उन्होंने मेरे होंठों को चूमना शुरू कर दिया।सालों बाद आज किसी मर्द ने मेरे होंठों को चूमा था. सुबह चाचा जल्दी ही काम पर निकल गए और उनके जाने के बाद चाची नहाने घुस गईं.

मेरे साथ सेक्सी करोगी

बेचारी वो भी तो तड़प रही थी, उसका शौहर भी तो कब से दुबई में था और वैसे साबिरा की अम्मी अभी बूढ़ी तो थी नहीं, तो स्वाभाविक है उसकी पुरानी भोसड़ी भी अब लौड़ा मांगने लगी थी. मुझे ऐसा आनंद आ रहा था कि मैंने उसका सिर पकड़ कर अपने लंड को उसके गले तक डाल दिया और तभी उसको उल्टी हो गई क्योंकि उसने शराब भी ज्यादा पी ली थी. कहानी के पहले भागमैं अपनी सेक्सी बीवी को मजा नहीं दे पातामें अभी तक आपने पढ़ा था कि मेरी बीवी ने बॉस की चड्डी में हाथ डाल दिया था और वो उसका लंड सहलाने लगी थी.

उसके बाद वो हमेशा मेरे पास ही रहती, मेरे सारे कॉल में अटेंड कर लेती.

उसकी ब्रा का साइज लगभग 40 होगा क्योंकि उसके दूध तो एकदम ब्रा फाड़ने को तैयार थे.

थोड़ी देर तक तो मैंने धीरे धीरे ही किया लेकिन फिर जैसे ही मैंने अपनी स्पीड बढ़ाना शुरू की तो बड़ी बहन का भी मजा बढ़ता चला गया. कायदे से तैयार होकर हम दोनों क्लाइंट से मिलने निकल पड़े और कुछ ही देर में वहां पहुंच गए. bulu सेक्सीक्योंकि हम पहली बार मिल रहे थे तो हम एक दूसरे से इतना खुले भी नहीं थे.

एक दो बार मैंने देखा, उसी समय उसने मेरी नजरों को भांपा और मुस्कुरा दी. अजय ने मेरी टी-शर्ट ऊपर करके निकाल दी और बोला- तो सुनो फिर … मुझे मालिक बोलो … और बताओ क्या तुम अपने मालिक के लिए तैयार हो मनीष?मैं- जी मेरे मालिक, आपका ये गुलाम तैयार है. शेखर को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, चुदायी का खुमार अब भी उसके ऊपर छाया हुआ था.

मैंने ऑफिस से छुट्टी ले ली और तीन बजे तक अपनी सलहज को चोद चोद कर तृप्त कर दिया. मेरी सेक्स कहानी को लेकर जिन भाभी का मेल आय़ा था, वो अपनी चूत की खुजली को मेरे साथ मिटाना चाहती थीं और मैंने उनकी इस मांग को पूरा भी किया.

अगले कुछ ही पलों में भाभी की चूत ने रस छोड़ दिया और उनकी जांघों से चूत की मलाई बहने लगी.

कुछ देर बाद उसकी चूत में अपनी जीभ नुकीली करके डाल दी और चूत के होंठों को अपने मुँह में भरकर आम की तरह चूसने लगा. सर मुझे टोकते हुए कहने लगे- क्या हुआ राजीव, बार बार दरवाजे की ओर क्या देख रहे हो? सोनी का इंतजार कर रहे हो क्या?मैंने चौंकते हुए कहा- सोनी. ये बात सिर्फ शिराज को पता थी, पर साबिरा को नहीं कि उसकी अम्मी आज इतनी जल्दी क्यों सो गयी हैं.

सेक्सी फिल्म हीरोइन वाली मैंने आवाज देकर पूछा- कौन है?तो भाई झट से बाथरूम में घुस आया और मुझे कमोड पर बिठा कर मेरी टांगें खोल दीं. मेरी हाईट 5 फुट 7 इंच है और मैं एक हट्टा-कट्टा 23 साल का हैंडसम मर्द हूं.

मैंने जैसे ही धक्का लगाया मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया और मौसी ‘ऊईई ईई ऊई ईईई आहह आहहह …’ चिल्लाने लगीं. मुझे एक पल के लिए तो हंसी आ गयी कि कैसे मैंने इन दोनों भाई बहन की वासना को जगा कर अपने जाल में फंसा लिया. मैं ये भाभी हिंदी कहानी में आपको अपनी चुदाई की सच्ची घटना बता रहा हूँ.

चिंटू पांडे सेक्सी वीडियो

भाभी एकदम से चीख उठीं- अअह मर गई आह!मैंने पहली बार अपना लंड चूत में डाला था तो मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी गर्म भट्टी में मैंने पना लंड डाल दिया हो. मोटे लंड के चलते मुझे बहुत दर्द हुआ मगर मैं मज़ा लेती हुई अपना मुँह तकिया से दबा कर लंड झेलने लगी. पहले तो उसने सिर्फ फातिमा पर अपना जोर चलाया और हमारी बातें कम हो गईं.

भाभी- पर आप तो कह रहे थे कि आपकी कोई जीएफ ही नहीं है, तो किसके साथ सेक्स किया है?मैं- एक पड़ोस में भाभी जी हैं, उनके साथ मेरी अच्छी बनती थी. आशा करता हूँ कि आप सभी को यह सिस्टर एनल सेक्स स्टोरी बहुत पसन्द आएगी.

शर्म से मेरी आंखें अपने आप बंद हो गई।जल्द ही मेरा ब्लाउज भी मेरे जिस्म से अलग हो गया.

रात में मेरी नींद खुली तो मेरा ध्यान मौसी कि तरफ गया तो वो मेरी तरफ मुँह करके सो रही थीं. स्कूल टीचर को चूत देकर खुश कियाअब तक आपने पढ़ा था कि उस दिन सुबह से ही बारिश हो रही थी और मेरा भी मौसम बना हुआ था. कुछ देर बाद संजीव भैया मेरे लिए केक, चॉकलेट्स, नाश्ते के लिए भी बहुत कुछ लेकर आ गए.

ऐसे दर्दनाक वहशी तरीके से अपनी चूत की हो रही बरबादी रेशमा सह ना सकी. मैंने उस पैकेट को खोला तो उसमें गुलाबी रंग की बहुत ही खूबसूरत सी फ्रॉक थी. आह्ह … ओह्ह” धारा ने दर्द भरी सिसकारी भरी और उसी हालत में अपनी कमर झुकाते हुए शेखर के ऊपर झुकने लगी … मानो ख रही हो कि लो मैंने दरवाज़े में तुम्हारे सिपाही को दाखिल तो करवा दिया है लेकिन ये दर्द मुझे आगे बढ़ने नहीं दे रहा है.

अब तुम अपना मोटा लंड मेरी चूत में डाल दो और इसे अपने अमृत से भर दो.

बीएफ की मूवी: फिर पूरी गति से तेज तेज धक्के मार कर लंड को उसकी चूत की खाई में ठोकने लगा. उस समय उनके गहरे गले से आधे से अधिक झांकते चूचों की छटा कुछ और थी और इस वक्त बिना ब्रा के होलते हुए चूचों की अदा कुछ और थी.

तो दोस्तो, ये थी मेरी Xxx जीजा साली सेक्स स्टोरी, अब आप लोग ही बताओ कि ये सही हुआ या गलत. वो अपने दोनों हाथों से मेरी जांघें सहलाने लगी, साथ में लंड मुँह में तेज गति से अन्दर बाहर कर रही थी. पाटिल जी- आअह तेरे मां को चोदूं बहनचोद, चूस अच्छे से लौड़ा मादरचोद आज देख कैसे इस हिजड़े की बीवी की गांड फाड़ कर इसे घर भेजूंगा.

माया मॉम- इसको हिन्दी में लंड बोलते हैं, एक औरत हो या लड़की, लंड दोनों की एक बड़ी जरूरत होती है, समझे?मैं- अच्छा, तो आपको इसकी जरूरत है?माया मॉम- हां बेटा, मुझे इसकी जरूरत तो बहुत ज्यादा है, पर तुम सोनिया दीदी को बता दोगे, तो उनको बुरा लगेगा.

शिराज वहीं पर बैठे बैठे अपने बहन को पहली बार चुदवाते हुए देख रहा था. इतना कहते हुए मैंने उसे फिर से बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया. चूंकि दोनों में एक साल का ही अंतर है तो हमारा बचपन साथ ही गुजरा था.