अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,बीएफ बीएफ न्यूज़ meaning no

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ एकदम: अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो, इस्स्स् करने लगे जिनमें हल्के मीठे दर्द का भाव भी था।उसकी ये हालत देखकर मैं ज्यादा देर खुद को संभाल नहीं पाया और 4-5 धक्कों के बाद ही मेरे लंड ने उसकी चूत में थूकना शुरु कर दिया।ये क्या हुआ…मैंने मन ही मन कहा.

ఇంగ్లీష్ బ్లూ ఫిలిం బిఎఫ్

यह कह कर मनोरमा ने उसकी पैन्ट की जिप नीचे कर दी और उसका पूरे 7 इंच का लंड बाहर निकल कर सलामी देने लगा. भोजपुरी भोजपुरी बीएफ भोजपुरी बीएफमैं तड़प उठा, पर उसने पूरी अन्दर तक दोनों उंगलियां ठूंस दीं और उन्हें चलाने लगा.

मैंने भी जिद नहीं की लेकिन मैंने बोला कि फिलहाल इस खड़े लंड का क्या करूं?दीदी बोली कि इस खड़े लंड को मेरी दोनों चूचियों के बीच में डाल कर इसे चुत समझ कर चोद लो और रस टपका दो. लड़की घोड़े की बीएफअचानक रोशनी ने अपनी गांड को एक झटका देकर ऊपर उठा लिया, उसका भी स्पॉट मैंने छू लिया था.

इसी दरमियान उसने मेरे लंड का उभार भी देख लिया, लेकिन वो कुछ बोली नहीं.अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो: मैं आगे कुर्सी में बैठ गई और भाभी को चुदते हुए अपनी आंखों के सामने देख रही थी.

” कह कर हँसने लगी फिर छोटी बच्ची की तरह रोने लगी।राजू ने मेरी तरफ देखा, मैंने आँखों से ही उसे लाने का इशारा किया।ठीक है मेमसाब लावत है…” कहकर वह नीचे चला गया।रंजू अब अपने दुप्पटे को हाथों में लेकर खेलने लगी, राखी रोना बंद करके बाथरूम चली गई, चेतना तो एकटक दरवाजे को देखती रही।मैं सब को देखकर हँसने लगी।तभी दरवाजे पे दस्तक हुई।आ जाओ.वो हंस कर बोलीं- पहले दिन ही फ्रेंक हो रहे हो?मैंने कहा- सॉरी अगर आपको बुरा लगा हो तो.

सेक्सी पिक्चर बीएफ हिंदी - अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो

अब पूरे शरीर में मेरे अकड़न और दर्द हो गया, तब आशीष मेरी चूत और गांड दोनों को चाट कर साफ किया.साथ ही अपने खड़े होते लंड को अपने हाथ से दबाने की कोशिश कर देता, जिससे लंड दबने की बजाए और फूला जा रहा था.

मैं खुद को काफ़ी फिट महसूस कर रहा था और मेरा लंड भी पहले से कई गुना ताक़तवर हो गया था. अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो दीदी का सिर नीचे लटका हुआ था, मैंने खड़ा होकर अपना लंड दीदी के होंठों पर रख दिया.

पकौड़े बहुत अच्छे थे और फ्रूट चाट में मसाला बहुत अच्छा था; बहुत ही स्वादिष्ट.

अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो?

मैंने सुमन भाभी को जोर से पेलना शुरू किया तो सुमन भाभी भी स्पीड के साथ रिप्लाइ करने लगीं. वो बड़बड़ा रही थीं- आह सैम… मेरे सपनों के राजकुमार… आआहह… उफ्फ… क्या जादू है तुम्हारे हाथ में… उफ्फ… अगर हाथ में इतना जादू है, तो लंड में कितना होगा!थोड़ी देर उनके जिस्म को कपड़ों के ऊपर से सहलाने के बाद मेरी नज़र एक कैंची पे पड़ी. मैं बेतहाशा उस कली का रस चूसने में लग गया और कुछ ही पलों में अंजलि ने अपनी चुत को उठा कर मेरे मुँह के लिए समर्पित कर दिया.

जब रात को हम सोने गए तो भाबी ने मुझे बीच में खिसका दिया और खुद साइड में सो गईं. गरम गरम जीभ का प्रहार से मैं बहुत जल्द उत्तेजित होने लगी थी, उनके सिर के बाल को पकड़ कर अपने चूत में दबाने लगी थी. तभी दीक्षा बोली- पागल, लंड तो चूत को फाड़ कर ही अंदर घुसता है।फिर प्रीति को पेशाब लगी लेकिन उससे बिस्तर से उठा नहीं गया तो मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और बाथरूम में ले जाकर उंगली डाल कर उसकी पानी से चूत साफ की और अपना भी लंड धोया।करीब आधा आधा घंटे के रेस्ट के साथ मैंने दीक्षा और दिशा की चुदाई भी बिल्कुल उसी तरह से की.

जब मेरा पानी निकालने को हुआ तो मैंने झटके मार मार कर भाभी का मुख चोदन करने लगा. उन्होंने एक संडे को हमको खाने पे इन्वाइट किया, तो वहां उनके पति के साथ भी मुलाक़ात हुई. शादी में उसकी बिगड़ी चाल देख कर कोई भी शक कर सकता था कि कहीं ये ठुक कर तो नहीं आ गई और हम फॅस सकते थे.

दस मिनट तक उसी स्पीड में दौड़ने के बाद वो मेरे करीब आईं, मशीन को बंद किया और मुझको सहारा देकर चेयर पे बिठाकर बोलीं- बैठो यहां पे… मैं तुम्हारे लिए प्रोटीन शेक लाती हूँ. मैंने लंड को चूत में घिसते घिसते उसकी चूत में हल्का से अन्दर किया, मेरा सुपाड़े के बहुत थोड़ा ही हिस्सा अन्दर गया होगा कि सोनी के मुंह से उफ्फ निकला।फिर बोली- सर आपका लंड तो बहुत गर्म है।हाँ… साथ ही तुम्हारी चूत भी काफी गर्म है।” कहते हुए मैंने हल्के से एक और झटका दिया, सुपारा जाकर उसकी चूत में फंस गया.

कहो आज से काम शुरू करना है क्या?मैं उसे अपने साथ बाथरूम में ले जाकर आई और अपनी चुत को दिखा कर बोली- यह देख तेरे यार ने मेरी चुत के साथ अपने नाम का ठप्पा लगा कर क्या किया है.

डेढ़ दो महीने बाद उसका फोन मेरे पास आया, उसने मुझे बताया कि वो गर्भवती है.

जब मैं उठी तो रात भर की चुदाई से मेरी टाँगें पूरी तरह से खड़ी नहीं हो पा रही थीं. अब मैंने एक जोर का धक्का मारा तो इस बार मेरा आधे से ज्यादा लंड उसकी चुत में चला गया. कुछ अफ़सोस का दिखावा करती हुई लड़की बोली- ओह तब तो आप पर दुखों का पहाड़ ही आ पड़ा होगा.

मैंने उसकी पेंटी के अन्दर हाथ डाल कर चूत को सहलाया और पेंटी को खींच कर अलग कर दिया. जब मेरी नींद खुली तो मैंने देखा भाभी मेरे लिए दूध लेकर आई थीं, उन्होंने कहा- उठो 9 बज गए हैं, तुम्हारे घर वालों का कॉल आया था, वो आने ही वाले हैं. और ना जाने कब मैंने अपना हाथ उस की तरफ बढ़ा दिया। वो मेरे सामने बैठी थी, हमारे बीच में टेबल थी, वो मेरे हाथ की तरफ देख रही थी।मैंने नीचे से उस का पैर अपने पैर से सहला दिया।उसने मेरा हाथ पकड़ लिया.

यही सोच रही थी कि निक्कर में इतना तगड़ा दिख रहा है तो बिना निक्कर का कैसा होगा.

तभी भाभी अकड़ गईं और वो मेरे सिर को पकड़ कर चुत के अन्दर दबाने लगीं. तभी उसने एक अपनी एक उंगली मेरी गांड में डाल दी और गांड में उंगली को आगे पीछे करने लगा. उसके मस्त मक्खन मम्मों को मसलने से मेरी हालत और भी खराब होने लगी थी.

तो हुआ यों कि एक दिन हम लोग यानि मैं और अनामिका सेक्स कर रहे थे और चुत चुदाई के बाद ऐसे ही साथ में लेटे हुए थे और बातें कर रहे थे और हम एकदम नंगे थे।और तब अनामिका ने ऐसा कुछ कहा जिससे मेरा दिल एकदम ख़ुशी से झूमने लगा था. 3-4 बार मेरे साथ ऐसा हुआ वो कुछ नहीं बोल रही थी। मुझे भी उनके बूब्स मसलने में मजा आ रहा था, क्योंकि उनके बूब्स बड़ेऔर गोल जो हैं।15 मिनट हम एक दूसरी को किस करती रहीं; फिर मैंने ही उन्हें अलग किया. फिर लड़का पूछता है गांड के बारे में तो रेशमा बताती है कि वो गांड मरवाती है, उसे गांड मरवाना पसंद है.

तब मेरे दिमाग़ में एक जगह याद आई और मैंने अपने दोस्त से कहा कि पार्क से जल्दी निकल, मैं तुझे सही जगह ले चलता हूँ.

मैं उसको थूकना चाहती थी मगर अशोक मेरे को लंड का वीर्य पिलाना चाहता था. मैंने उसकी दोनों टांगें काफी फैला दी और पूजा ने दोनों हाथ से चूत को जितना खुल सकती थी खोली.

अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो उसके बाद मैंने उसकी पूरी कमर पर धीरे धीरे किस किया और अपने दोनों हाथों से उसकी चुचियों को पकड़ कर धीरे धीरे से दबाना शुरू कर दिया. थोड़ी देर तक उसके लिप्स को चूसा, फिर उसके चूचों को दबाया, उसने अपनी कमीज को ऊपर किया और उसके दोनों चूचों को आज़ाद कर दिया.

अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो आखिर चार दिन बाद जाकर मुझे एक मौका मिला, मेरे घर के लोग सामान की खरीदारी करने बाज़ार जा रहे थे, जो मेरे घर करीब पांच किलोमीटर दूर है, उस मैं घर पर अकेला रहने वाला था, मेरा पूरा ध्यान अब योजना बनाने पर था कि अब कैसे क्या करना है।सुबह करीब ग्यारह बजे सब लोग बाजार की ओर निकल गये, मेरी तैयारी भी पूरी हो चुकी थी. उसने भी फुसफुसा के कहा- अरे सुस्सू करने नहीं गयी थी… मेरी माहवारी अभी शुरू हो गयी थी… खून निकलने लगा था… पैड लगाने गयी थी.

इसके बाद मैं अपने रूम में चला गया, फिर कुछ देर बाद वहां से अपने ऑफिस चला गया.

मासिक धर्म चक्र

पर आज मेरा सपना पूरा होने की घड़ी आ गई थी, आज मोहन के बड़े भाई की शादी थी और मैं अपने पति रवि के साथ शादी में जाने वाली थी. उनकी पतली कमर को अपने मजबूत हाथों में पकड़ा और एक ज़ोरदार झटका मारा. बोलते हुए उसने मुझे जोर से खींचा और अपने सीने से लगाते हुए अपने दोनों हाथ मेरे लोवर के अंदर डालते हुए मेरी गान्ड के दोनों उभारों को बहुत तेज दबा दिया.

समीर- देख, मैं टॉयलेट में जा रहा हूँ, मेरे जाने के ठीक 2 मिनट बाद, तू आ कर 3 बार नॉक करना मैं दरवाजा खोलूंगा, तू अंदर आ जाना. अन्तर्वासना पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम आकाश है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. ऐसे में मेरे अंदर का शैतान जाग गया और मैं भी थोड़ा अपने गांड को बाहर निकाल के खड़ा हो गया और मज़े लेने लगा.

इसी अवस्था में लगभग बीस मिनट तक मैंने बिना रुके ताबड़तोड़ भाबी की चुत चुदाई की.

जब मैं सो कर उठा, तब तक सुबह हो चुकी थी और हम बंगलोर के बाहरी इलाक़े में पहुँच चुके थे. फिर उसके एक बोबे पे हाथ रखके उससे पूछा- इन्हें चूसा है उसने?उसका जवाब हाँ था. बहुत कोशिश के बाद एक ही बटन खुल पाया। प्रिया ने शिकायत भरी नज़रों से मुझे देखा.

आप अपना यह लंड मेरी चूत में घुसा दीजिए, फिर इस पर कूद कूद कर खुद भी मज़े लो और मुझे भी दो. बाद में आप अपनी गांड को ऐसे बाहर कर के खड़े हो गए कि मुझसे रहा ही नहीं गया, कण्ट्रोल ही नहीं हुआ. मैंने झट से उसे बाँहों में उठाया और बेड पर पटक कर, उसकी टांगें चौड़ी करके एक ही झटके में पूरा लण्ड चूत में ठोक दिया.

मेरी नींद खुल गई पर मैं चुपचाप लेटा रहा, शायद राम सुख का कोई साथी था. मैंने कहा- अगर तुम्हारा बेटा मुझे छोड़गा तभी तो जा पाऊंगी ना… वरना वो मुझे जाने ही नहीं देता है.

दोस्तो पहले तो मैं तहे दिल से शुक्रिया करना चाहूँगा कि आपने मेरी पिछली कहानीट्रेन में मिली लखनवी भाभी की चुदाईको इतना प्यार दिया. शुरुआत में उसे लंड का स्वाद थोड़ा अजीब लगा लेकिन बाद में वो उसको लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी थी. मेरी सेक्सी कहानी में आपने अभी तक पढ़ा कि मेरी कम्पनी में मेरा असिस्टेंट नया आया था.

मैं अपनी सीट पर गया, वहां देखा कि एक बहुत ही सेक्सी सा मर्द, लंबा हट्टा कट्टा गोरा, चौड़ी छाती आह.

उसकी बुर काफी लपलपा रही थी, उसमें से प्रीकम निकल रहा था, जो चुदाई के लिए चिकनाहट बना रहा था. मौसी ने अपने चूतड़ ऊपर कर दिये तो मैंने उनका पेटीकोट उनकी टांगों पर से उतार कर फेंक दिया. चूंकि वो दो बार मेरी चुत चोद चुका था, इसलिए उसका पानी जल्दी नहीं निकलने वाला था.

उनकी ब्लू कलर की ब्रा एकदम टाईट पहनी थी, जो उनके सफ़ेद कुर्ते में से साफ दिख रही थी. आहहह आहहह और चोद मैगी यस… साले पूरी रात मुझे चोद आहहह…”फिर कुछ देर हम 69 पोजीशन में आ गए.

इसके बाद उसने धीरे से मेरी पीठ पे हाथ रख कर मेरी वन पीस की चैन को खोल दिया. मेरी हिम्मत थोड़ी और बढ़ी, मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मेरा लंड खड़ा हो चुका था और अब तो आर या पार ही होगा या तो चूत मिलेगी या नहीं मिलेगी. फिर धीरे धीरे उसकी जाँघों से किस करते हुए नीचे तक पूरे पैर पर किस किया, सभी उंगलियों को मुँह में ले कर चूसा.

पिंकी का मोबाइल नंबर

भाबी- मेरी ननद रानी, इतना क्यों शर्मा रही हो… कल से तुमको यही कपड़े पहने हैं.

बता ना?मैंने उसको बताया कि आज शाम को उस दलाल ने बुलाया है मुझे चुदवाने के लिए. मैं उस वक्त बहुत कोशिश की थी कि चाची बस एक बार कोई इशारा कर दें तो सिनेमा हॉल के अँधेरे में चाची के साथ मस्ती करके कुछ शुरुआत कर सकूँ. बहुत बड़ा मिरर लगा रखा था, जिसमें अपने आप को नंगा नहाते देख सकते हों.

मैं अपनी चुदक्कड़ दीदी को नंगा देखा कर गर्म होने लगा और बोला- जानूं, मुझे भी अपने होंठों का रस पिला दो. जिगोलो की परिभाषा क्या है? इसमें कोई भी गैरकानूनी काम का जिक्र नहीं है. सेक्स करो सेक्स करो सेक्सपरंतु दोस्तो, मुझे जो मजा औरत की सुन्दर चूत मारने में आता है वह किसी और छेद में नहीं आता.

भाई ने भी फ्री की चूत मिलते देख मंजरी को सब्जबाग दिखाए और एक दिन उसकी चूत की सील उसी के घर में तोड़ दी. सर ने अपनी नाक से पहले मेरी फुद्दी को सहलाना शुरु किया, सांसों की गर्म हवा से मेरी चूत पिघलने लगी थी, फिर जीभ से फुद्दी को सहलाने लगे.

चंदर ने पलंग पर मेरे दोनों टांगें अच्छी तरह से फैला कर दोनों तरफ से टांगों को एक रस्सी से बांध दिया. उसके बाद कुछ देर तक हम लोग चूमा चाटी करके अपने अपने कपड़े पहनने लगे. कुछ ही देर में मेरा लंड अकड़ गया और उसका पैन्ट में रुक पाना दूभर सा लगने लगा.

मेरे उतरते कपड़ों के साथ उसके धीरज का बाँध खत्म होता जा रहा था और मेरा भी. मैंने अपनी बेटी जैसी पुत्रवधू के होंठों का चुम्मा किया और वो भी मुझे किस करने लगी. इस मकान में मकान मालिक नहीं रहता था और उन्होंने भी पूरा मकान किराये पर ले रखा था.

मैंने अगले दिन उस अफसर को शाम को अपने घर आने को बोला, वो तय समय पर मेरे घर आ गया.

30 बज गए, जब मैंने समय देखा तो सबको चलने का इशारा किया और फिर हम चारों घर की ओर चल दिए. धीरे धीरे मेरा उनमें इंटरेस्ट बढ़ने लगा और मेरे मन में उन्हें प्यार करने की इच्छा जागने लगी.

जैसे ही हम दूसरे कमरे में पहुँचे तो वहाँ एक और आदमी जो 60 साल के लगभग का होगा, बैठा था. मैंने कहा- अब आप मेरे सामने थोड़ी अदा से नंगी होकर अपना हुस्न दिखाएँ तो मजा दुगना हो जाएगा. परंतु उसकी पिचकारी गीता के मुँह और मम्मों पर जा पड़ी, जिससे उसका सारा जिस्म अपने बेटे के वीर्य से सन गया.

अब उसकी कामुक सिसकारियां निकलने लगीं, वह अजीब अजीब आवाजें निकालने लगी अह अह ओह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह अह… कम ऑन फक मी, यार कम ऑन… ओह… अह्ह…”मैंने उसकी चुत को छोड़ा और चोदने के लिए तैयार हुआ. मैं नहीं माना, मैंने हाथ बेड से ऊपर बाँध दिए और उनकी आँखों पर पट्टी भी कस दी. मैंने उसकी नंगी छाती पर एक बार हाथ घुमाया और उसने अपना शर्ट पहन लिया.

अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो सोनिया- भैया ये गलत है अगर किसी को पता लग गया तो बहुत बेइज्जती होगी. मैंने उसके पेटीकोट को साड़ी समेत ऊपर चढ़ा दिया और उसकी चिकनी जाँघों तक पहुंच गया.

करिश्मा कपूर की सेक्सी वीडियो

मैं अपनी चुदक्कड़ दीदी को नंगा देखा कर गर्म होने लगा और बोला- जानूं, मुझे भी अपने होंठों का रस पिला दो. मैं सोफे की तरफ़ बढ़ा और उनके पास जाकर बैठ गया और उनको अपनी तरफ़ खींच कर उनको किस करने लगा. तो अब मैंने आंटी से पूछा कि आप इतनी रात को एकदम अकेली कहाँ जा रही हैं?तो उन्होंने बताया कि वो बार में जा रही हैं, उसके पति कनाडा में इंजीनियर हैं, उनके दो बच्चे हैं जो देहरादून में पढ़ते हैं और वही होस्टल में रहते हैं.

कुछ देर हम यों ही खड़े रहे, मुझे पता ही नहीं चला कि कब मेरा लंड खड़ा हो गया और भाभी छुप छुप कर मेरे लंड को देखने लगी. ”हां जूही यही तो मैं भी देख रहा था कि तुम्हारे कपड़े अपने आप खुल गए थे सोचा बंद कर दूँ. बात करते हुए बीएफमेरी भोली नताशा ने प्रत्युत्तर में अपने चूतड़ों को पीछे की और चलाते हुए उसके लंड का स्वागत किया! वो एकसमान रफ़्तार में आर्थर का लंड चूसते हुए अपने कूल्हों को एरिक के लंड की ओर चलाते हुए उसका लंड अपनी प्यासी चूत में घुसवाने लगी.

और एक बात मैंने पिछली रात को उस अनजान नंबर को बताया था कि मुझे रेड टॉप में गर्ल्स बहुत अच्छी लगती हैं। सोनू का रेड टॉप में आना मेरे शक़ को और मजबूत कर रहा था। वैसे मेरे दिमाग़ में एक लड़की और घूम रही थी जिस पर मुझे शक़ था.

पहली बार तो मेरा सुपारा फिसल गया, मैंने दोबारा से उसे सेट किया और फिर से धक्का लगा दिया. रूम पर आकर मैंने उसको तौलिया दिया, उसने अपने बाल साफ किए; मैं उसे निहारता रहा.

मैं पूरा 6’1″ लंबा गोरा पंजाबी लड़का हूँ, फ़ुटबाल खेलने का शौक़ीन हूँ इसलिए फिटनेस भी खिलाड़ियों जैसी ही है. 10-15 मिनट के बाद मैं उठा और अलका रानी की चूत प्रदेश को छू के देखा. ऐसे ही एक दिन रात के करीब 11 बजे व्टसऐप पर मुझे उसका मैसेज आया, हमने काफी देर तक बात की और उसने बताया कि हम कल दसुहा आ रहे हैं.

मैंने कहा- हाय आपने मुझे नंगी क्यों कर दिया भाईजान?भाईजान घबराए से बोले- ओह्ह जूही मेरी बहन प्लीज़ तुम किसी से कहना नहीं, एम्म मुझे माफ़ कर दो.

हम दोनों प्रेमी-प्रेमिका बन कर जाएंगे और वहां मुझे दीदी नहीं जानूं बुलाना और मैं तुझे जानेमन कहूंगी. इस वक्त बड़ा ही गरम माहौल बन गया था, जिससे भाभी फिर से चुदासी हो गईं. ” वह डरते हुए बोला।कुछ नहीं… बस अपनी धोती उतारो!” बोलते हुए राखी वैसे ही ब्रा पैंटी में उसके पास चली गयी।न… न… नहीं…” वह हकलाने लगा- अ.

deepak सेक्सीये भी ले जाके दे देना साथ में…मॉम हंसने लगीं और दरवाज़ा खोलकर बाहर चली गईं. फिर मैं उसकी लेफ्ट चुची पर आया, वहां से मेंगो पीस उठा कर उसका रस मुँह से मम्मों पे डाला.

police एक्स एक्स एक्स

आज शाम कीदुल्हन की चूत की सीलटूट गयी और वो बहुत जोर से चीख उठी और पूजा और भाभी दोनों अन्दर आ गईं. वे बोले- बेटा फोन में देखूँ, टाइम क्या हुआ है?फोन मेरी टांगों के बीच में रखा था. भाभी अपना गाउन पहन कर बाहर आईं और बोलीं- मैं चाय बनाती हूँ, तुम बाहर बैठो.

दोस्तो, मेरी ये मेरी रियलगांड सेक्सस्टोरी है, इसमें कुछ भी झूठ नहीं लिखा है. मुझे महसूस हुआ कि उसने एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और अपनी चूत के नीचे फिट कर लिया. 15 मिनट तक चोदने के बाद मेरे लन्ड का रस निकलने लगा, पूजा बोली- पापा, बड़ा मज़ा आ रहा है, सारा रस मेरी चूत में डाल दो.

तो मॉम अपने घुटनों को ज़मीन पर रखकर नवीन के ऊपर झुक गईं और अपने दोनों हाथों से नवीन की लुंगी. शाम को जब वो पार्क में खेलने जाती तो उसकी चिकनी जांघें देख कर ऐसे लगता मानो संगमरमर के दो तराशे हुए बुलंद स्तम्भ हों. मैं बहुत डर गई और मैं सुरेंद्र जीजा को बोली- प्लीज मेरे साथ चलना, प्लीज जीजा आप मेरे साथ रहना, वरना मैं अपने आपको नहीं छोडूंगी और भाग जाऊंगी।तो जीजा बोले- मेरा मन तो नहीं करता पर तुम कहती हो तो चलो तुम्हारे साथ चलूंगा।और जीजा कैसे भी तो तैयार हुए.

मेरी आवाज़ नहीं निकल पा रही थी क्योंकि बिंदु माँ ने अपने मुँह से मेरे मुँह को दबा कर रखा हुआ था. दोस्तो, कैसी लगी मेरी कहानी, मुझे आप लोगों की राय का इंतजार रहेगा मेरी ईमेल आईडी है.

वह केवल ब्रा और पैंटी में रह गई और डांस करती रही और एक टांग को उठा उठा कर पद्मा खन्ना की तरह घुमाती रही.

यह कह कर मनोरमा ने उसकी पैन्ट की जिप नीचे कर दी और उसका पूरे 7 इंच का लंड बाहर निकल कर सलामी देने लगा. सेक्सी बीएफ वीडियो में दिखाइए”नहीं भाईजान आप इसलिए खुशकिस्मत नहीं हैं कि आपको इतनी खूबसूरत बहन मिली. ब्लू पिक्चर बीएफ हिंदीभाभी अचानक से भलभला कर झड़ने लगीं और उन्होंने मेरे सर को अपनी जाँघों की कैची जैसी पकड़ से दबोच रखा था. अब मुझे ऐसा लगा कि शायद भाभी की नींद खुल गई है और वो सोने का नाटक कर रही है.

वो बोला- फिकर नॉट फिकर नॉट… मैं तेरी चुत क्या तुम्हारे मम्मों को भी आज पकौड़ा बना दूँगा.

गोलू तेरी नुन्नी खड़ी नहीं होती तो क्या हुआ, तू पिंकी की चूत में अपनी कड़क उंगली घुसा दे. तभी चाचा जी ने कहा- मुझे अभी जाना होगा, उनके कंपनी का क्न्साइनमेंट आने वाला है. मैं तो शराब पीता ही रहता था, लिहाजा मुझे थोड़ी कम चढ़ी हुई थी, मंजू कभी कभी बियर पीती थी तो उसको नशा ज्यादा हो गया, अब मंजू बहकने लगी थी, उसके अंदर का जोश छलकने लगा था.

हम एक दूसरे को उकसा रहे थे और करीब 20 मिनट की लगातार गांड ठुकाई के बाद मैं उनकी गांड में झड़ गया. मैंने पूछा- वो क्यों?वो बोलीं कि अब तक जहां कहीं भी मैंने मसाज़ कराई है, वहाँ पर मेरी मसाज़ लड़की ने की है और पहली बार किसी तुम जैसे जवान मर्द जैसे लड़के ने की है, इसलिए मुझे अच्छा लगा. मॉम दबे पांव चलते हुए नवीन की तरफ बढ़ने लगीं, नवीन बिलकुल बेखबर खर्राटे लेता हुआ सो रहा था.

हीरोइन एक्स एक्स वीडियो

मैंने जैसे ही चूचे के निप्पल पर जीभ घुमाई, दीदी का निप्पल कठोर हो गया. फिर उसने मुझे पलट मेरी गांड ऊंची कर ली और अपना 7 इंच का मोटा लंड मेरी गांड में डालने की कोशिश करने लगा. तथा उसको भी जाने के लिए बोल दिया।मुझे ऑफिस में रुक कर काम करना था और आज छुट्टी भी थी.

सुहानी की शादी शाम को थी मातब वो आज दुल्हन बन्ने वाली थी और मैंने सुहानी के कपड़े निकाल दिए.

वो हंस कर बोलीं- पहले दिन ही फ्रेंक हो रहे हो?मैंने कहा- सॉरी अगर आपको बुरा लगा हो तो.

सबसे बाद वो मेरी चूत के बटन को (क्लिट) होंठों से काट काट कर चूसने लगा. इसी के साथ मैंने अपने लंड को भी बाहर निकाल कर भाभी के हाथ पर रख दिया. इंडियन जबरदस्ती सेक्सी व्हिडिओदिशा बोल रही थी- इधर मेरे घर की रसोई की तरफ देखो, मैं अभी रसोई में हूँ और चाय बनाने आई हूँ लेकिन तुम नंगे होकर क्या कर रहे हो?तब मैंने तौलिये से अपना लंड छुपाया और उससे कहा- मैं अपने कपड़े चेंज कर रहा हूँ। तुम अपना काम बताओ?तो दिशा ने जवाब दिया- आपको दीदी पूछ रही है कि आप खाना कितनी देर में खाओगे?मैंने कहा- अभी मेरे पेट में चूहे कूद रहे हैं.

1-2 लोगों के बाद मेरा नंबर आ गया, मैंने अपना टिकट लिया और बाहर आ गया. मैंने कहा- ठीक है!मैं फिर मामी के चुचे दबा दबा कर उसकी चूत में उंगली करने लगा. फिर धीरे धीरे उसकी जाँघों से किस करते हुए नीचे तक पूरे पैर पर किस किया, सभी उंगलियों को मुँह में ले कर चूसा.

मैंने मुँह खोल के पूरा का पूरा लंड मुँह में भर लिया और कोई बच्चा जैसे दूध की बोतल चूसता है, वैसे लंड चूसने लगी. उसने मुझसे पूछा- आप अब तो घर में कुछ नहीं कहेंगे ना?मैंने कहा- मैं पागल हूँ क्या, मेरी इतनी प्यारी साली को मैं कोई तकलीफ कैसे दे सकता हूँ.

मैं कुछ नहीं बोल पाई तो बोला- आओ इधर और सीधी खड़ी हो जाओ और कुछ डांस करके दिखाओ जो कुछ देर पहले तुमको कुसुम ने सिखाया था.

आंटी- तो फिर कौन से अच्छी लग रही है?मैंने कहा- मैं निकाल कर बताता हूँ. फ़िर अपने बैग से वाइब्रेटर निकला और उनके पास जाकर घुटनों के बल बैठ गया. मैं ठंडाई लेकर बाहर आ गया और चाची कुछ खाने के लिए बनाने में जुट गईं.

अनिता सेक्स व्हिडीओ मैं- पक्का प्रॉमिस आपकी कसम!भाभी- जा मेन गेट लगा कर आ!मैं दौड़कर मेन गेट लगा कर आया और मन ही मन खुश हुआ कि एक और शानदार चूत मिली. वह बोला- मैं शादीशुदा हूँ और मेरे पास चोदने के लिये बीवी है लेकिन आज ही सुबह उसे बेटा हुआ है इसलिये पिछले 3 महीनों से उसे चोदा नहीं है… और इसीलिये मैं अस्पताल आया हूँ… तेरी बात सुनकर ये मादरचोद लंड खड़ा होकर झटके मार रहा था और कोई दूसरा इंतज़ाम भी नहीं था इसलिये मुझे तेरे पास आना ही पड़ा.

आंटी ने पूछा- हो गया शांत?मैंने कहा- क्या मतलब?उन्होंने कहा- मतलब फ्रेश हो गया. मेरे पापा किसी जानी मानी कंपनी में जनरल मैनेजर थे और बहुत से लोग उन के नीचे काम करते थे. अनुज ने ये सब देख लिया था तो वो मुझे आंख मार कर योंग का साथ देने का इशारा कर रहा था।मैंने भी आंख मार कर अपनी सहमति व्यक्त कर दी और योंग का साथ देने लगी।यह मेरे लिए पहला मौका था जब मैं किसी चाइनीज़ पुरुष के साथ ये सब करने वाली थी। बहुत देर तक वो मेरी जांघ सहलाता रहा, फिर उसने अचानक सबके सामने मेरे बूब्स पकड़ लिए.

बुलबुल शॉप

भाभी बहुत ही बहादुर औरत हैं, तो उनको अकेले रहेने में डर नहीं लगता है. दीवार पर लगी स्क्रीन से कर्णभेदी ऊह-आह की लड़की और लड़कों की आवाजें आनी शुरू हो गईं. उसने कहा कि उसके माता पिता उसे कहीं और जॉब करने को कह रहे है! यहाँ की तनख्वाह उन्हें ठीक नहीं लगती और उसे यही काम करने का मन है लेकिन माता पिता की बात ही माननी पड़ेगी!वो तीन महीने और रूक कर जाने वाली थी.

मैंने मंजू से पूछा- क्या बात है जान, आज बड़ी प्यासी लग रही हो? बहुत आग लगी है क्या चूत में?मंजू मस्ती में थी, बोली- हाँ लगी है, बुझा दो नहीं तो कहीं और चली जाऊँगी. उसने मुझे बोरोप्लस का ट्यूब दिया, जिसे मैंने अपने लंड और उसकी गांड पर अच्छे से लगा दिया.

मैं अब समझ चुकी थी कि नेहा के साथ जो मैंने किया ये मुझको उसी का फल मिल रहा है.

मैं तो उस पटाखा को देखता ही रह गया और सोचने लगा कि काश ये लड़की मिल जाती तो दबा कर चोद दूँ. मैंने भी उसके होंठों को अपने होंठों से लगा लिया और जोर जोर से उसके होंठों को चूमने और काटने लगा. फिर उस रात भर सोचता रहा कि भाभी की चूत कैसे लूँ!कब नींद आई पता ही नहीं चला.

मैं और भाभी बहुत बातें करते हैं और मुझे उनसे बातें करना बहुत अच्छा लगता था. मैंने उसे अपनी तरफ लेते हुए उसके सिर को अपने छाती पर रख लिया और उसे चुप कराने लगा. फिर हम दोनों जॉब से छूटने के बाद बाहर आए, मैं उसकी बाइक पर बैठ कर उसके साथ चल दिया.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी के पिछले भागइंग्लिश की क्लास में चुदाई की पढ़ाई-2में आपने पढ़ा कि मेरे पड़ोस के जवान लड़के लड़की मुझसे इंग्लिश पढ़ने आते थे.

अमरपाली के बीएफ सेक्सी वीडियो: मेरी किस्मत भी क्या है, जिसके लिए यह सब किया, वो ही मुझे आज चोद रहा है. उसने मेरा मुँह अपनी चुत से हटा कर अपनी चुत को मेरे लंड के ऊपर रख दिया.

मकान मालिक मुझे हचक का चोद रहा था और हम दोनों लोग मादक सिसकारियां ले रहे थे और कमरे में आह आह आह की आवाज आ रही थी. फिर उसने नीचे की ड्रेस को उतारने को बोला, ऋतु ने स्कर्ट भी निकाल दी. मैं आंटी की चूत पर झुक गया और लम्बी साँस ली, फिर मैंने अपनी जीभ चूत की दरार पर टिकायी और चूत चाटने लगा.

अनुज ने उसकी टांग उठाई और धीरे धीरे लन्ड चूत में डालना शुरू कर दिया, सेक्टरी को दर्द होने लगा मगर अनुज धीरे धीरे लन्ड डाल रहा था.

मैंने जल्दी से बोतल को पिंकी की चूत पे रखा, उसकी चूत से टप टप करके जूस गिरता जा रहा था. फिर नवीन ने मॉम की पोनी टेल को मुठ्ठी में पकड़ लिया और उठ कर खड़ा हो गया. आंटी ने कहा- मैंने अपना रस बहुत बार पिया है, पर आज जिस तरह से तुमने पिलाया है, उससे बहुत मज़ा आया है.