वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर

छवि स्रोत,नेपाली एक्स एक्स बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

कॉल गर्ल एक्स वीडियो: वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर, अब मैं उठा और लाइट जला दी तो देखा की उसको आराम मिलने की वजह से वो आखें बंद करके सोई सी लेटी थी.

बीएफ स्टार

वो बोली- थैंक्स!उसने अन्दर आने को कहा, मैं अन्दर जाकर सोफे पर बैठ गया. हिंदी बीएफ बहन भाईकुछ देर बाद मैंने उसके मुँह से लंड बाहर निकाला और उसकी ब्लैक कलर की पेंटी को उतार कर साइड में रख दिया.

मुँह से मुँह लगा कर चुम्मी लेने से मेरा 7 इंच का लंड अब पूरा मोटा तंबू बना हुआ था. देहाती चुदाई चूतइसकी मम्मी भी आ रही है, उसकी एज लगभग 45 वर्ष है, पर वह इसकी मम्मी है, इसलिए उसको भी चोदना जरूरी है.

मैंने जैसे ही उसको किस किया, तो वो थोड़ी डरी कि कहीं कुछ होगा तो नहीं ना.वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर: अभी दो काले सांड नीग्रो यह ऐसे मस्त लिपटे और उनका लंड तेरी गांड और चूत में सैट हैं, ऐसा लग रहा है कि तू अप्सरा है, कयामत है.

उसकी चुत पहले ही कमरस से तर थी और अब तो उसमें जैसे बाढ़ ही आ गयी थी.मैंने उसको रोका पर उसने पकड़ कर मेरे स्तन दबा दिए।उसने अपने कपड़े उतारे और मुझे पकड़ कर बिस्तर पर ले गई.

सन 2019 की बीएफ - वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर

नमस्कार दोस्तो, मैं नरसिंह प्रधान फिर एक बार अपनी मजेदार अनुभव को लेकर प्रस्तुत हूँ.उस लम्बे आदमी ने उस लड़की को जैसे ही गोदी में उठाया, वैसे ही उसकी शक्ल मैंने देख ली.

फिर राहुल ने मेरी चूत में दोबारा से उंगली डाल दी और मेरी चूत में उंगली डालकर अंदर-बाहर करने लगा. वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर कुछ देर के बाद मेरी चूत ने बहुत सारा पानी छोड़ दिया और मैं थोड़ा ठंडी हो गयी.

मैं समझ ही नहीं पा रहा था कि सभी लोग मेरी जिन्दगी के साथ क्या मजाक कर रहे हैं… मुझे बिना पूछे मेरी शादी तय कर दी?फिर मैंने सोचा अकेले रहने से अच्छा है शादी कर लेना ठीक रहेगा.

वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर?

फिर मैंने तुम्हारे मम्मों की घुंडियों को दोनों उंगलियों से दबाते हुए तुम्हारी सलवार के ऊपर से ही तुम्हारी चुत की पखुड़ियों पर उंगली फिराना शुरू किया. अभी 11 ही बज रहे थे तो हमने सोचा अभी 2-3 घंटे तो हैं ही अपने पास। तभी मैंने नोटिस किया कि हमारे ही कॉलेज के सीनियर भी वहाँ पर हैं जो काफी देर से हमें घूर रहे थे मगर हमने उनको इग्नोर किया।उनमें से एक का नाम राहुल और एक का अमित था जो हमें बाद में पता चला। वो दोनों कब से हमें देख रहे थे जो मुझे भी अच्छा लग रहा था।तभी रजनी स्टोर से वॉलीबॉल ले आयी और हम खेलने लगे. मेरी फैली बाँहों पर सिर रख दिया और मेरे पेट पर हाथ रख कर लिपट सी गई.

इधर मेरा लंड भी हमारी कामुक बातों के कारण पूरा तना हुआ था और मेरी पैंट में अलग से ही शेप बना रहा था. मैं सोनू की मां को देखता रहा और मन ही मन सोनू के बताए हुए उनके नंगे शरीर की कल्पना करता रहा. उसका लंड एकदम लोहे की रॉड के जैसा है जो ढीली हो चुकी चूत से भी 5 मिनट में ही पानी निकलवाने औकात रखता है.

उसका लंड रस बहुत तेजी से मेरी गांड में इतना ज्यादा भर गया था कि मुझे होश ही नहीं रहा. पर मैं अभी नहीं झड़ा था क्योंकि मैंने थोड़ी देर पहले ही नहाते हुए मुठ मारी थी. मैं क्या करता दोस्तो … इसके आगे तो करण ने मेरी बीवी अनु को न केवल खुद खूब चोदा बल्कि अपने फायदे के लिए अपने दोस्त से … और यहां तक कि एक 65 साल के वहां के नेता से भी अनु की चूत चुदाई करवा दी.

उससे बहुत सारी बातें करने के दौरान उसने बताया कि उसके घर का कम्प्यूटर भी ठीक नहीं है. मामा के इस लुक को देखकर मैं वासना के सागर में डूब गया और उनके लंड की प्यास में उनके आगे पीछे घूमने लगा.

मैंने गीला लंड उसकी गांड में लगाया और एक कस के धक्का मारा तो एक ही धक्के में मेरा पूरा लंड उसकी गांड में चला गया.

फिर कुछ 20-25 दमदार शॉट लगाने के बाद, वो भी फिर से चार्ज हो गई और गांड को उछाल उछाल कर मेरा साथ देने लगी.

हम दोनों कभी कभी मिल तो लेते हैं, लेकिन चाची के संग दुबारा सेक्स सिर्फ़ एक बार ही करने का मौका मिला था. लंड पर साबुन लगाकर मैं स्टूल पर खड़ा होकर सुनीता को देखकर मुठ मारने लगा. मेरे पति, जिनका नाम प्रवीण है, मुझे नई नई पोजिशनों में काफी देर तक चोदते हैं, जो मुझे बहुत पसंद है.

दोस्तों आज पहली बार में उसकी चूत की चमड़ी को अपने लंड की चमड़ी पर रगड़ते हुए देख रहा था और मैं आपको बता नहीं सकता कि मुझे उस समय कितना मज़ा आ रहा था. आज इतने साल बाद मेरा लंड इतना खड़ा हुआ है और मैंने इतना चोद पाया है तुझे. मुझे चुत चाटना बहुत अच्छा लगता है, लेकिन मुझे एकदम क्लीन शेव चुत अच्छी लगती है.

कुछ देर के बाद जैसे ही वो शांत हुईं तो मैं उनके मम्मों को चूसने लगा.

उनके पति अब इस दुनिया में नहीं हैं और वो हमारे पड़ोस में अकेली रहती हैं. उसका ध्यान भी शायद चाय पर कम और मेरी जांघों के मध्य में हो रहे लंड के उभार पर ज़्यादा था, जिसकी वजह से उसने मुझे चाय देते वक्त मेरे ऊपर चाय गिरा दी. वो अभी एक हफ़्ते की छुट्टियां लेकर अपनी फैमिली के पास रहने जा रही थी.

प्रशांत को वैसे भी वाशरूम तो जाना नहीं था, उसने तो नीना को आज फिर पेलने के चक्कर में इस ओर रुख किया था. नेहा अब भी अपना सिर मेरे पैरों की तरफ ही करके लेटी हुई थी, उसकी जांघें खुली हुई थीं, इसलिए उसकी फुली हुई चुत ने अब फिर से मेरा ध्यान अपनी तरफ खींच लिया. मैंने अपनी कमर को झुकाया और अपनी जांघें खोलते हुए अपने नितम्बों को पीछे धकेल सा दिया, मेरी योनि अब लगभग बाहर की ओर निकल चुकी थी.

उसके छोटे छोटे संतरे जैसे बूब्स और उसकी जांघों के बीच छोटे बालों से घिरी छोटी सी चूत देखकर मेरा लंड उफान मारने लगा.

मैंने हाथ बढ़ाकर दरवाजे की कुंडी लगाई और सोनू को अपनी बाहों में भरकर ऊपर उठा लिया. वो मेरे कंधे को पीछे से पकड़ कर बहुत तेजी से धक्के लगाने लगा और एक मिनट के अन्दर ही रमीज का पूरा रस मेरी गांड में भर गया.

वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर तेरा कोई जवाब नहीं है यार … तुझे चुदते और सेक्स करते देखने में बहुत मजा आता है. उसके होंठ चूसने के बाद मैं उसकी गर्दन चाटने लगा … अब वो पूरी तरह से तैयार थी.

वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर मुझे खुद को उम्मीद है कि अन्तर्वासना पर मेरी लेस्बियन कहानी को पढ़ कर कोई न कोई पाठिका जरूर मुझे मौका देगी. आज पहली बार उन्हें नग्न अवस्था में तने हुए मूसल से लंड लिए काम करते देख रहा था.

तो मैं उसके पीछे गया और उससे चिपक कर अपना शरीर उसके लहंगे से पौंछने लगा.

डब्लू डब्लू सेक्सी पिक्चर बीएफ

दूसरी तरफ प्रीति मेरी सहेली थी, इस वजह से मेरा सुखबीर के साथ कोई विचार अभी तक नहीं बन सका था. मैं मेरी मॉम के बारे में बता दूँ कि मेरी मॉम का नाम निशा है और उनकी उम्र अभी 41 साल है. तो वंदना बोली- अब यहीं खड़े-खड़े सुहागरात मनाओगे क्या?? बेड पर भी चलोगे या नहीं?मैंने उसे गोद में उठा कर बेड पर लेटाया और जो अपने साथ बाजार से गोल्ड रिंग लेकर आया था, वह उसको दी.

पांच, दस, पंद्रह, बीस, पच्चीस … मिनट पर मिनट घड़ी की सुई भागती जा रही थी. मैं थोड़ा मजाक वाला मूड बना कर बोला- तो मैं आ जाऊं क्या?भाभी ने भी इठलाते हुए कहा- आ जा. इतनी भी जल्दी किस बात की है देवर जी?मुझे समझ आ गया कि ये नशे में मेरे लंड को लील रही है यदि होश में होती तो पक्का इसकी चूत की माँ चुद जाती.

मेरे पास अपनी वासना को शांत करने के विकल्प बहुत हैं, पर समय और स्थान का अभाव था.

उसका लंड रस बहुत तेजी से मेरी गांड में इतना ज्यादा भर गया था कि मुझे होश ही नहीं रहा. ललिता से मुलाकात मेरी एक शादी में हुई थी, शादी मेरे एक दोस्त की बहन की थी, वहां पर मैं भी काम में हाथ बंटाने गया था. लंड चूत की फांकों में जैसे ही सैट हुआ तो मेरे पति ने एक हल्का सा धक्का मार दिया.

धीरे-धीरे मैंने चाची के पेट को चाटते हुए उनके पूरे पेट को गीला कर डाला और फिर मैं नीचे की तरफ बढ़ने लगा. दोस्तो, आपको मेरी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके ज़रूर बतायें! मेरा मेल आई डी है[emailprotected]. मेरे होश उड़ गए सफेद चिट्टी बुर की बीच की लकीर के आस पास हल्के हल्के बालों के रोयें थे, बाक़ी की जगह साफ़ थी, शायद आज ही बना कर आई थी उसकी चूत पर हल्का हल्का रोया आना शुरू हो गया था.

मैं जैसे ही थोड़ा हाथ ढीला करता, वो अपने हाथ से जोर से दबा देती और जैसे ही मैं थोड़ा धीरे से चूसता, वो मेरे बाल खींच कर चुची पर मेरा मुँह दबा देती, जैसे पूरी चुची को मेरे मुँह में ही डाल देगी. निश्चित तौर पर यह उस दिन हुई ग्रैंड चुदाई की याद थी, जो तन्हाई में सामना होते ही वे खुलकर हंसे बिना नहीं सके.

मैं- क्या बात है … आज रात में याद किया?भाभी- क्यों … क्या मैं आपको याद नहीं कर सकती?मैं- कर सकती हो भाभी जी, लेकिन अचानक याद किया, तो कुछ खास बात होगा तभी ना!भाभी- नहीं वैसे कुछ नहीं है, बस आपकी याद आ रही थी, तो मैंने सोच कॉल कर लेती हूँ. साथ ही लंड हल्के हल्के मधुर ध्वनि के साथ पच्च पच्च अन्दर बाहर हो रहा था. यह सुनकर मैं जोर से हंसा और रूपा के चूतड़ों पर एक प्यार भरा झापड़ लगते हुए हंसते हुए रमेश काका से कहा- लो काका पकड़ो अपनी मस्त लुगाई.

प्लीज मैं तुम्हें देखूंगा लेकिन कुछ नहीं बोलूंगा … प्लीज मेरे सामने करो.

यह बिल्कुल सच्ची कहानी है। मैं आशा करता हूँ कि यह स्टोरी आपको बहुत पसंद आएगी. अपनी चूत से नेहा ने मेरा हाथ खींच कर मेरी उंगली अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी- वाह राजू. मैंने अपने रूम का गेट बंद करके उस ब्रा को देखने लगा और उसके थनों को इमेजिन करने लगा.

मैंने उसे कई बार चोदा और भी कई लड़कियों को चोदा, पर उसे कभी इस बारे में नहीं बताया. तो उनमें से एक बंदे ने मुझसे कहा कि मेम साहब आपको कभी भी चुदाई का मन करे तो हमें बुला लेना.

चाची के तने हुए गोरे मम्मे काली ब्रा में क्या मस्त आम जैसे लग रहे थे. मनीषा- सूर्या जिद मत करो … अभी चलो प्लीज!मैं- मैं नहीं जाऊँगा तुम्हारे साथ! तुम जाओ … और फिर कभी मत बोलना कि तुम मेरे लिए कुछ भी कर सकती हो. आपको याद करके मैं रोज़ मुठ मारता था, पर कभी भी झड़ने में वो मज़ा नहीं आया, जो आज आया है.

चोरी चोरी वाला बीएफ

वो हर एक दिन छोड़ कर आता और मेरी बीवी को रगड़ रगड़ के चोद कर चला जाता.

और 9 इंच का मूसल जैसा लंड मेरी चूत में सेट किया और ज़ोर से धक्का मारा. तभी मेरी पत्नी ने मुझको बोला- अब अपने लंड को इसकी कुंवारी बुर में थोड़ा आगे बढ़ाओ!जैसे ही मैंने अपने लंड को पायल की बुर में थोड़ा आगे बढ़ाया, वह चीख उठी, उसको दर्द हो रहा था. साढ़े अठारह साल की छोटी उम्र में ही मेरी शादी हो गई। मौसी ने अच्छे घर का लड़का ढूंढ़ लिया क्योंकि मैं खूबसूरत थी और जवान भी थी। लड़के की अपनी दुकान थी ऑटो रिपेयर की.

दोस्तो, मेरा नाम अर्पिता वर्मा है, मैं देश की राजाधानी दिल्ली से हूँ. नेहा अब अपने बिस्तर को सही करने का और अपनी मम्मी व प्रिया के आ जाने का हवाला देकर मुझसे जाने की विनती करने लगी. सेक्सी मोटे लंड वालीमौके की नजाकत देखते हुए मैं उसके सोफे पर जाकर बैठ गया और मैंने उसके कंधे पर दाहिना हाथ रखा.

भाभी- नहीं गुस्सा क्यों होऊंगी … आप तो मेरे देवर हो ना!मैं- हां वो तो है … मैं आपका देवर हूँ और वो भी बड़ा केयर करने वाला आपका देवर. उसने हल्के से उनके लंड पर अटकी हुई लुंगी को उंगली से निकाल कर उनके पेट पर धकेल दी.

उसके बड़े-बड़े और गोरे बूब्स को देखकर मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था. मुझे लोन की बहुत ज़रूरत है। उसके बदले आप कुछ भी माँग लो।मैं उसका इशारा समझ गया था पर कुछ कहने से डर रहा था।मैंने उससे विदा माँगी तो वो बोली- आप ऐसे नहीं जा सकते … अगर आप मेरे पति से मिलना चाहते हो तो ठीक है आप मिल लेना. मैं उसके पटों को सहलाता रहा और हाथ फिराते हुए जब मेरा हाथ उसकी चूत पर पहुंचा तो सोनू ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- यह नहीं करना.

वो भावुक होकर एक बार फिर से मुझसे लिपट गयी और उसकी आंखों से आंसू निकल पड़े. लंड पर साबुन लगाकर मैं स्टूल पर खड़ा होकर सुनीता को देखकर मुठ मारने लगा. उनके होंठ रखते ही जाने कैसी गर्मी मुझे होने लगी और उनकी सांसें मेरी सांसों से गरम-गरम अन्दर जाने लगी.

मुझे भी गुस्सा आ गया था, मैंने वैसे ही हाथ हटाया, तो तुम मुझसे लिपट गईं.

प्रिया तड़प उठी … उसने जोरों से इईई … श्श्श्शशशश … ओयह्ह्हहह …” की‌ सिसकारी भरते हुए मेरे कंधे पर अपने दांत गड़ा दिए. मैंने खुद भी देखा था कि एक वीडियो में 2 लड़के मेरी बहन को चोद रहे थे और तीसरा लड़का चुदाई की वीडियो बना रहा था.

तुमने कहा था हाय राम, तुम्हारा तो बहुत बड़ा है, ये तो मेरी छोटी सी मुनिया को फाड़ देगा?मैंने कहा था कि पहली बार तुम्हें दर्द होगा तो जरूर … लेकिन उसके बाद शायद तुम स्वर्ग की सैर करोगी. अब मामा कमर से नीचे बिल्कुल नंगे हो चुके थे और उनका मोटा ताज़ा अकड़ू लंड बिल्कुल सीधा छत को सलामी दे रहा था. करण बोला- साली कुतिया रंडी … तू इतनी खूबसूरत है … इतना जबरदस्त तेरा शरीर है … इतने दिन से इसी कामुक बदन के पीछे ही तो मैं लगा था.

मेरा खड़ा लंड अभी भी उसकी चुत में ही था तो मैं हिल कर उसे अन्दर बाहर करने लगा. करण बोला- ले चूस मेरा लंड … चाट मेरे आंड … मेरी कुतिया … मेरी रंडी … साली वेश्या … आजा!अनु उसका लंड सहलाने लगी और सीधा मुँह में ले लिया. दोस्तो, मेरी पिछली दो कहानियों में आपने पढ़ा कि किस प्रकार मैंने दो पड़ोसन भाभियों को उनके हुस्न के जाल में फंसा कर चोद दिया.

वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर करीब पांच छः मिनट तक मुझे असहनीय दर्द हुआ, फिर धीरे से थोड़ी राहत मिली और मैंने लंड लीलना शुरू कर दिया. मैं चुदासी सी बोल उठी- जेठ जी … यार अब मत तड़पाओ, मेरी चुत कब से आप के लंड के लिए तरस रही है.

बीएफ ब्लू फिल्म चूत लंड

मतलब किसी भी औरत को खूबसूरत बनाने में उसके मम्मे सबसे ज्यादा योगदान देते हैं. मैं भी अब प्रिया की तरफ देखने लगा, जो कि अब अपने पैरों को मेरे दोनों तरफ करके घुटनों के बल खड़ी हो गयी थी और दोनों हाथों से अपनी सलवार के नाड़े को खोलने की‌ कोशिश कर रही थी. तब मैंने मम्मी से कहा- जोधपुर क्यों जा रहे हो?तब मम्मी ने मुझसे कहा कि तुम्हारे पापा को अपने बिजनेस के सिलसिले में अचानक जोधपुर जाना पड़ रहा है.

”वैसे आपकी और मेरी बहू की काफी जमती है, फिर मुझसे बात करने के बहाने क्यों जी?”आप भी ना, अरे दो औरतों … और एक औरत और मर्द के बीच बात का फर्क अलग ही होता है. जेठ जी अपनी उंगली को गोलाकार घुमाते हुए मेरी चुत के अन्दर बाहर करने लगे. मद्रासी ब्लू फिल्म दिखाएंफिर बोली- यह तब तक अन्दर ही रहेगा, जब तक तुम ये नहीं बोलोगी कि हां मज़ा आ रहा है … इसको अन्दर रहने से तुझे मजा आ रहा है.

अब तक आपने पढ़ा था कि दो नीग्रो मैक और गैब्रियल के साथ पुनीत मुझे चोदने की तैयारी में थे.

मजबूत शरीर और मूछों पर ताव देते हुए बोला- रेशमा कैसी हो, अन्नु कैसी हो?हमने कहा- हम तो ठीक हैं. एक दिन सोनू की मम्मी मेरे कमरे में आई और मुझसे पूछने लगी- सोनू की पढ़ाई कैसी चल रही है?मैंने कहा- बहुत अच्छी चल रही है.

ये सब दीदी के साथ ही करना!” प्रिया ने झूठमूठ का गुस्सा दिखाते हुए कहा, मगर मुझे हटाने की कोशिश या फिर मेरा विरोध उसने बिल्कुल भी नहीं किया. यह मेरी पहली कहानी है तो कहीं कुछ लिखने में भूल हुई हो तो माफ करना. कभी घोड़ी स्टाइल में तो कभी डोगी स्टाइल में! और दीवार से सटा कर भी!हमने एक डेढ़ घंटे तक चुदाई का खेल खेला और फिर वापस कमरे में जाके सो गये.

तुम मेरी छोड़ो … अपनी बताओ कितनी गर्ल फ्रेंड हैं तुम्हारी?मदन ने कहा- सर मुझे लड़कियों में कुछ खास इंटरेस्ट नहीं है, पता नहीं क्यों पर मुझे परिपक्व आदमियों से बात करना अच्छा लगता है … जैसे आप! मैं एक होमोसेक्सुअल हूँ.

वो बहुत अलग ही तरीके से मेरे होंठों में अपनी जीभ को धीरे धीरे ऐसे चला रहा था कि मेरी हालत उसकी हरकत से बिगड़ रही थी. के ग्वालियर का रहने वाला हूँ।इस कहानी को मैं अपनी मदमस्त चाची को समर्पित करना चाहता हूँ।वह एक गर्दाए हुए जिस्म की मालकिन है. मम्मी ने मेरे सर पर हाथ रखा और बोली- जोर से लगा क्या?मैं बोली- हां मम्मी, दर्द है.

बीएफ चुदाई हॉटदोस्तो, मैं अनुज माहेश्वरी 20 वर्ष, मैं आज आपको यहां मेरी और मेरी मौसी की एक प्यारी कहानी बताने वाला हूं। मेरी मौसी 43 वर्ष की हैं पर हुस्न से 30 वर्ष की लगती हैं. इससे नेहा के हाथ अब अपने आप ही मेरे सिर पर आ गए और वो मस्त होकर मुँह से हल्की हल्की सिसकारियां भरने लगी.

बीएफ चोदा चोदी बीएफ चुदाई

मुझे देखते हुए देख कर भाभी बोली- ऐसे क्या देख रहे हो राजा?मैंने खा- भाभी की चूत का मूत देख रहा हूँ. भाभी तो जैसे इसके लिए तैयार ही बैठी थीं, उन्होंने तुरन्त ही अपना मुँह खोलकर मेरी जीभ को अपने मुँह में भर लिया और उसे जोर से चूसने‌ लगीं. मैंने भाभी से कह दिया कि आप मुझे इतनी सेक्सी लगी कि मन करता है मैं आपको चोदता ही रहूँ.

इस वजह से मुझे अपनी चूत में उंगली करके अपनी चूत को शांत करनी पड़ती थी. उसने एकदम से लौड़ा बाहर निकाला, तो मैंने बचा हुआ माल उसके चेहरे पर गिरा दिया. तभी मुझे खिड़की पर किसी के होने का आभास सा हुआ, जिससे मेरी नजर खिड़की पर चली गयी, जो कि हल्की सी खुली हुई थी.

देवी मैडम भी मादक सिसकारियां लेते हुए पूरे जोश में मेरा साथ दे रही थी. क्या बात है रानी साहिबा, मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ?”धत्त … ऐसे क्यों बोलते हैं, वो मैं कह रही थी कि क्या आप मुझे स्कूल के बाद पिक करने मेरे ऑफिस आ सकते हैं? क्या है ना आज ऑटो नहीं चल रहे हैं. मेरी उससे पहले से ही कभी कभी बातें होती थीं, पर मैं कभी लिमिट से आगे नहीं बढ़ा था.

साली कुतिया आंटी ने अपना मुँह खोल दिया और बोलीं- मुझे प्यास लगी है. मैंने उसे बोल दिया कि मैं जिस दिन फ्री रहूंगा उस दिन उसके घर पर आकर उसका कम्प्यूटर ठीक कर दूंगा.

भाबी अपने मम्मों को दबवाते हुए पागल हो रही थी और मेरे लंड को और जोर से चूस रही थी.

हम घर पहुंचे, घर के सभी नौकर घर के बाहर उनके बने मकान में सो गए थे. हिंदी नंगी पिक्चर बीएफमेरे पति ऑफिस के काम से दो दिन के लिए बाहर गए थे, इसलिए मुझे दो दिन अब अकेले ही रहना था. ब्लू फिल्म फुल एचडी में हिंदी मेंशायद मैडम को पता था कि आज मेरा नौकर छुट्टी पे है, इसलिए उसने आज मेरे लिए भी डिनर बना लिया था. इसीलिये वो मॉम को मॉम की चूत चाटकर उनकी चूत की प्यास को शांत करते थे.

अनिल झट से बोला- अरे भाई फ्रेश होने गया था … आज पता नहीं, इस वक्त कैसे प्रेशर बन गया.

कई बार मालती भी मुझको अपने घर पर बुला कर पहले दिन जैसे चुदाई करती और करवाती थी. कुछ ही देर बाद हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए और हम एक दूसरे के सामान को रगड़ने चूसने लगे. मैंने लंड को मुँह से बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन उनके मज़बूत हाथ के दबाव के आगे मेरी एक ना चली और मैं घबराकर तड़पने लगा.

मैंने सोनू से पूछा- मेरा साथ कैसा लग रहा है?सोनू ने बताया- बहुत अच्छा लग रहा है. अब गुड़िया आहें भरने लगी- आह … आह … ईई … आह …मैंने अपनी चुदाई की रफ्तार बढ़ा दी. मेरी हरकत को देखते हुए रवि मामा ने कहा- यार अभी गांव है, अभी कोई हरकत मत कर.

बीएफ चुदाई दिखाएं वीडियो

निश्चित तौर पर यह उस दिन हुई ग्रैंड चुदाई की याद थी, जो तन्हाई में सामना होते ही वे खुलकर हंसे बिना नहीं सके. मैंने अपने लंड को पीछे निकालते हुए एक बार फिर जोर से शॉट लगा दिया और उसकी चूचियों को चूसने लगा. अपना एक हाथ सलवार में डालकर सीधे उसकी चूत पे रख दिया और सहलाने लगा.

प्रिया ने नीले रंग की पैंटी पहनी हुई थी, मगर उसकी चुत के पास से वो गीली होने के कारण अलग ही नजर आ रही थी.

फिर मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी चूत पे टिकाया और हल्का सा एक धक्का दे मारा.

मेरी इस हरकत पर चाची की सिसकारी निकलना शुरू हो गई और चाची ने मेरे बालों को पकड़ कर मेरे होठों को चूसना शुरू कर दिया. तभी मामी ने मेरे कान में लंड चूसने के लिए बोला और मैं उनका लंड अपने मुंह में भरकर चूसने लगी. सेक्सी ब्लू फिल्म वीडियो दिखाओललिता से मिलने के बाद मैं कहता हूँ कि…चैत में चिड़ियाकातक में कुतियामाघ में बिलाई औरशादी में लुगाईरिफली रिफली हांडा करती है.

साथ ही कॉफी खत्म कर चुकी नीना की पीठ पर अपने हाथों की प्यारी सी झप्पी देते हुए बोला- मेरीजान, आ जा. जीजा जी ने भी लंड बाहर निकाल कर मेरे मम्मों पर माल टपका दिया, जिसे दीदी ने मेरे मम्मों को चूसते हुए चाट लिया. मैंने उसे पलंग के किनारे पर कंधों और घुटनों पर कर दिया और मैं नीचे खड़ा हो कर उसकी चुदाई करने लगा.

फिर मेरे बगल से सामने लेट कर अपना लंड को हाथ से पकड़कर मेरी चूत में सैट किया. उन्होंने मेरी चुत के होंठों को अपनी उंगलियों से अलग किया और मेरी चुत में जीभ घुसा दी.

मैं दोनों घुटने अन्दर कभी बाहर कर रहा था, शायद उसने मेरा लौड़ा देख लिया क्योंकि अब उसका सर मेरे पेट के सामने उठा हुआ था.

वो अपनी चूत पर मस्त खुशबू लगा कर आई थी, जो चाटते वक्त किसी मीठी चॉकलेटी स्वाद दे रही थी. जब वो बाल्टी लेकर चलने लगते, तो मैं लंड को छोड़ देता और जब उस बाल्टी का पानी गाय पीती, तब तक मैं उनके लंड को सहलाता और मौका मिलने पर एक दो बार चूस भी लेता. मेरी बहन उसको देख कर बहुत खुश होती और उसके सामने वो अपने बूब्स और गांड मटका मटका के चलती.

बीएफ दे वीडियो में तब मूछों वाले अंकल ने फिर राज अंकल को बोला- राज भाई, आप होके आ जाओ, मेरा अभी मन नहीं है, मैं यहीं कार में बैठा हूं. लगभग 20 मिनट की चुदाई में स्वीटी 3 बार झड़ी और मैं एक झड़ कर उसके ऊपर ही निढाल होकर गिर गया.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:जनवरी का जाड़ा, यार ने खोल दिया नाड़ा-2. क्या शरीर था … 5 फिट 2 या 3 इंच की हाइट, दूध सा गोरा बदन, बड़े बड़े बूब्स … मैं चुपके चुपके उनके बदन को देख रहा था. मेरी योनि की पंखुड़ियों में सनसनाहट पैदा होने लगी और ऐसा लगने लगा कि कुछ रेंगता हुआ गुदगुदाता हुआ मेरी योनि के भीतर जाने लगा.

दिसणारा बीएफ

उन्होंने अब तक केवल मेरे पापा से ही अपनी आग मिटाई थी और उन्हें सेक्स का असली मजा मिला ही नहीं था. मैं तो जैसे अब पागल ही हो गया था क्योंकि नीचे से तो सुलेखा भाभी की गर्म गर्म चुत मेरे लंड की मालिश कर रही थी और ऊपर से भी उनकी बड़ी बड़ी और भरी हुई चूचियां मेरे सीने को गुदगुदाने लगी थीं. मैं अब खुलकर उसकी मुनिया को सहलाने लगा, मेरी उंगलियां उसकी मुनिया के ऊपरी छोर से लेकर नीचे उसके प्रवेशद्वार और उसके गुदाद्वार तक का सफर करने लगी.

उसने टीसी से बोल कर वो सीट अपने लिए रिज़र्व करवाई थी, जैसा उसने मुझे बताया था. अनिल भी अब तक पूरा नंगा हो गया था, वो मीनाक्षी से बोला- आ जा मेरी कुतिया … मेरी जान … चूस मेरा लंड.

मेरा लंड उसकी छोटी सी चूत में बिल्कुल फंस कर जा रहा था और पायल अपने सिर को थोड़ा ऊपर उठा कर अपनी चूत में मेरे लंड को अंदर बाहर जाते हुए देख कर बोली- नीरू कसम से … मैं बहुत घबरा रही थी कि इतना बड़ा लंड मेरी छोटी सी चूत में कैसे आएगा.

उसकी चूची को चूसते हुए मेरा एक हाथ अब भी उसकी दूसरी चूची पर ही था, जिससे मैं उसकी चूची को मसल भी रहा था. अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार! मेरा नाम रुचित है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. मैं थोड़ी देर तक तो कैंटीन में बैठा रहा, जब बर्दाश्त नहीं हुआ तो अभिषेक का रूम नंबर पता करके नीचे गया और रूम नंबर 2 के पास जा कर उसके गेट के पास खड़ा हो गया.

अब मेरी आंखों के सामने बड़े बड़े सेब के आकार की उसकी दोनों चूचियां आ गयीं, जिनके काले लम्बे निप्पल बिल्कुल तने हुए थे. मेरे दोनों हाथ उसकी चुचियों को मसल रहे थे और मैं उसकी चूत चाटने का आनन्द ले रहा था. मेरी इच्छा पर एक बार और मुझे वह अविस्मरणीय लंड वह पूजनीय लंड दिखाकर गया.

अंकल मौके को गंवाना नहीं चाहते थे, उन्होंने एक करारा झटका दे मारा और अपना आधे से ज्यादा लंड मेरी बीवी की चूत में उतार दिया.

वीडियो बीएफ ब्लू पिक्चर: जब 3 साल पहले हम एक शादी में मिले थे तो उस वक्त वो मुझे इतनी पसंद नहीं थी और हमने कभी भी बात नहीं की थी. जिससे मीनाक्षी हिल रही थी और मेरा लंड खुद ब खुद आगे पीछे हो रहा था.

फिर वो अचानक से चिल्ला भी नहीं सकीं, क्योंकि उनका मुँह मेरे मुँह से दबा था और मैं उनको ज़ोर-ज़ोर से किस करता गया और धक्के लगाते गया. पर उसने ये नहीं बताया कि प्रीति के साथ सम्बन्ध ठीक हो रहे हैं और मैंने भी नहीं कुछ पूछा, वरना उसे शक हो जाता. उन्होंने मेरी पेंटी उतार कर फेंक दी थी और मुझे चुदाई के लिए अपने बंगले पर ले जाने के लिए मेरी मम्मी से भी परमीशन ले ली थी.

सुलेखा भाभी को जल्दी से शिखर तक पहुंचाने के लिए मैं अब उन पर तीन तरफ‌ से हमला करने लगा, एक तरफ मेरा मूसल लंड उनकी चुत को उधेड़ रहा था, तो दूसरी तरफ मेरे होंठ उनको तपा रहे थे और अब तीसरी तरफ से मैंने उनकी चूचियों को भी मसलना शुरू कर दिया, जिससे भाभी अब कोयल के जैसे कूकने लगीं.

रवि ने मुझे उठाया तो मैं घोड़ी टाइप बनने को जैसे ही उठी तो आगे देखा कि राज अंकल अपने पेंट को नीचे करे अपना लंड हाथों से मुझे देख देख कर रगड़ रहे थे. फिर अनवर ने अपने लंड को मेरी चूत में घुसा घुसा कर लंड को अन्दर बाहर किया तो अचानक से मेरा पूरा दर्द अपने आप गायब होने लगा. यही वजह थी कि मेरा देवर जब भी रसोई में आता है, तो वो मुझे छूने की कोशिश करता है.