हिंदी में जंगली बीएफ

छवि स्रोत,लड़की लड़कियों के बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी राजस्थानी लड़की: हिंदी में जंगली बीएफ, वो मेरे लंड से चूत हटा कर अलग हुईं और मेरा लंड मुँह में लेकर चूसने लगीं.

बीएफ दिखाओ सेक्स करते हुए

लेकिन इतने दर्द के बावजूद भी उसने विकास से लंड निकालने के लिए नहीं कहा. लंड चूत की बीएफ सेक्सीमैंने कहना जारी रखा- अब मैं इस टास्क का इस्तेमाल करते हुए तुझसे कुछ कहूंगा, जो तुझे करना होगा क्योंकि तेरी गोटी कटी है और तेरे दो कपड़े भी उतर चुके हैं.

मैंने अपने लंड को उसके मुँह में भी आगे पीछे करना शुरू किया और जोर जोर से उसके मुँह को चोदने लगा. बीएफ चाहिए बीपीउसको मेरी टांगें खुली होने से मेरी चूत की गुलाबी फांकें साफ साफ दिख रही थीं.

मैंने बोला- अगर मुँह में ही पानी निकल जाता तो?किशन बोला- उसके लिए भी मैं रेडी ही था … बल्कि मैं आपका रस मुँह में लेने के लिए ही सोच रहा था लेकिन थोड़ा डर था कि कहीं कुछ गलत ना हो जाए.हिंदी में जंगली बीएफ: थोड़ी देर बूब्स मसलने के बाद में उसके ऊपर चढ़ गया और एक दूध को पीने लगा.

फिर मुझे ख्याल आया कि अरुणिमा को इस फोटो के लिए क्या बहाना बताऊंगा.इस जबरदस्त चुदाई के बाद कुछ देर तो मेरी हिम्मत नहीं हुई कि पलट कर उससे दूर हो जाता.

बीएफ चाहिए सेक्सी एचडी - हिंदी में जंगली बीएफ

वो दोनों हाथों से मेरी गदरायी जांघों को सहलाते जा रहे थे और मेरी चूत को मलाई की तरह चाट रहे थे.इसमें भाभी को बहुत दर्द हो रहा था लेकिन वो मेरे लिए थोड़ा भी नहीं हिलीं.

मुझको लगा था कि वो नशे में है मगर वो मस्त नजरों से मुझे देख रही थी. हिंदी में जंगली बीएफ हमारे होटल में कर्मचारियों को कुछ इस तरह से नियमित किया गया था कि सभी को हफ्ते में एक दिन की छुट्टी रहती थी और सुलेमान को दूसरे दिन रविवार न होने के बावजूद भी छुट्टी मिली थी मगर मेरी नहीं थी.

कुछ देर बाद मैंने अपनी चूत में लंड को झेल लिया था और मादक आवाजें निकालती हुई अपनी ब्लू-फिल्म बनवाने लगी.

हिंदी में जंगली बीएफ?

नमस्कार दोस्तो, मैं विक्की एक बार फिर से इस चुदाई की साइट पर एक और कामुक और उत्तेजित सेक्स कहानी के साथ आपका स्वागत करता हूं. उसे थोड़ी ठंडक का अहसास हुआ, अपना पूरा हाथ उसकी ब्रा के नीचे किया और ब्रा के नीचे से पीठ से उसकी कांख तक हाथ फिराया. मैंने खुद को आईने में देखा, झुकने पर मेरे चूचों का आधा भाग दिख रहा था.

वैसे मैं बता दूँ कि फहीमा ने पेशाब सिर्फ मुँह में ली थी मगर पी नहीं थी. वे सब नेहा को भी उकसाने की कोशिश करती थीं लेकिन विकास के कारण नेहा आगे नहीं बढ़ पा रही थी. उसके जाते ही मैंने दारू की बोतल मुँह से लगाई और चार बड़े घूँट नीट ही पी लिए.

मैंने बेख़ौफ़ अपना हाथ उनकी जांघ पर रख दिया और धीरे से अपने हाथ को उनकी चुत तक सरका दिया. ये सब उनका वहम है क्योंकि अपनी पत्नी को किसी दूसरे से चुदवा देना, अपनी पत्नी के लिए एक आत्मसमर्पण है और अपनी पत्नी के प्रति प्यार है. वहां क्या क्या कारनामे हुए … वो कहानी फिर कभी।तब तक के लिए विदा लेती हूं, अपना प्यार बरकरार रखियेगा।सेक्स इन बस का मजा आपको भी मिला होगा? कमेंट्स में लिखें.

वो लंड पर थूक लगा कर उसे मस्त कर रही थीं और बार बार मुँह में लेकर चूस रही थीं. ये सब मैंने इतनी जल्दी किया कि आयेशा को पता भी नहीं चला कि उसके साथ हो क्या रहा है.

वो- मुझे भी बहुत इंतजार था इस दिन का साहब, आप रोज मुझे छेड़ देते थे और मैं तड़पकर रह जाती थी.

Xxx अंकल चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अन्तर्वासना के एक लेखक को अपने घर बुलाया अपने पति की गैरमौजूदगी में! हमने मिल कर सेक्स का मजा कैसे लिया?दोस्तो, मैं कोमल मिश्रा कहानी का अगला भाग लेकर पेश हूँ.

दोनों ताबड़तोड़ गांड मारे जा रहे थे और दोनों ने अपना अपना वीर्य अम्मी और बहन की गांड में छोड़ दिया. कुछ देर बाद जया ने करवट ली और मेरे बगल में आकर मुझसे सट गई और अपना हाथ मेरे सीने पर रख दिया. आपकी हॉट गर्ल वांट सेक्स[emailprotected]हॉट गर्ल वांट सेक्स का अगला भाग:मेरे भैया ने मेरी कुंवारी बुर चोद दी- 2.

चाची बोलीं- क्या हो रहा है!मैं चुप … गला सूख गया, जुबान हलक में जाम हो गई. मॉम- तेरा लौड़ा बहुत मोटा है बेटा … कितनी को चोदा है इससे?वो हंसती हुई बोलीं और मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगीं. वो बोला- भैया मुझे भी करना है, कैसे भी करके कुछ हेल्प करो न!मैं बोला- टाइम आने पर सब हो जाएगा.

ये सब बात हम छत पर कर रहे थे कि तभी उनकी सास की आवाज आई- कहां हो, किसी का फोन आ रहा है.

सारी रात की चुदाई के बाद सुबह हम दोनों देर से उठे और ऑफिस भी नहीं जा पाए. थोड़ी देर बाद मैं बोला- कुछ बुरा लगा क्या?वो बोली- नहीं बुरा तो नहीं लगा, लेकिन पहले ये तो बताओ कि मैं आपकी क्या हूँ. अब अंकल ने मुझे बेड के किनारे घोड़ी बनाया और एक ही झटके में पूरा महाकाय लौड़ा पेल दिया.

उसने फटाफट चखने के लिए सलाद काट लिया और कुछ पनीर पकोड़े और नमकीन हम बाहर से खरीद कर लाये थे. वैसे तो पारवारिक रिश्ते होने के कारण उसको शायद पता था लेकिन बताना जरूरी था. उसे हमेशा से देर तक सोने की आदत थी तो मैं उसे ऐसे ही नंगी बिस्तर पर छोड़कर घर की साफ़ सफाई करने लगी.

साक्षी को मैंने काफी दिनों बाद देखा था, वो काफी भर गई थी और एक कांटा माल बन गई थी.

और आज हमारे रूल के हिसाब से तू आज किसी भी लड़के को मना नहीं कर सकती. मेरे हज़्बेंड और ससुराल वाले मुझे इस बच्चा पैदा ना करने के कारण भला बुरा कहने लगे और मुझे ही कसूरवार ठहराने लगे.

हिंदी में जंगली बीएफ लेकिन मैंने किसी तरह से अपने आप पर कण्ट्रोल किया और उसका पूरा जॉगर्स खोलकर एक तरफ डाल दिया. मैं उससे ये कहना चाहता था कि पहले मेरी कार का सामान ले आओ … मुझे जल्दी जाना है.

हिंदी में जंगली बीएफ नीचे चूत में लंड चल रहा था और ऊपर उसकी दोनों चूचियां मेरे मुँह को मजा दे रही थीं. मैं- मैं तुमसे कुछ क्यों बोलूं, जो बोलना होगा … तुम्हारे पापा ही बोलेंगे.

बाथरूम में जैसे ही मैं पेशाब करने के लिए बैठी, मेरी चूत से तेज धार निकल पड़ी.

लवली इमेज

मैंने उसे अपनी गोदी में उठा लिया और बेड पर लिटा दिया और मैं भी उसके होंठों पर किस करने लगा. मैंने कहा- कोई बात नहीं, इस बार अच्छे से मेहनत करना, तो पास हो जाओगी. फिर 12वीं कंप्लीट होने के बाद मुझे नर्सिंग कॉलेज में एडमिशन लेना था तो मेरे घर वालों ने तय किया कि मैं अपने नाना नानी के घर जाकर वहीं के कॉलेज में दाखिला ले लूं क्योंकि मेरे घर वाले गांव में रहते थे.

ये दीपक ने भी देखा, अब वो मचल रहे थे मेरे चूचे भींचने के लिए!पर संकोच कर रहे थे. उन्हें देखकर मैं सोचने लगा कि ये लड़की इतनी गोरी है, क्या इसकी झांट भी ऐसी ही भूरी होगी. उम्मीद है कि सब मस्त ही होंगे और तालाबन्दी यानि लॉकडाउन के दौरान मज़े लिए होंगे.

हालांकि इस तरह से चुत चूसने में थोड़ी परेशानी हो रही थी पर इसके बावजूद मैं उसकी चूत को चाटे जा रहा था.

मैं उससे दो साल बाद मिला तो वो काफी बदल गयी थी, उसका रिश्ता तय हो चुका था. मदन जी ने मेरा चेहरा हाथ में लेकर कहा- सजनी, तुम बहुत सुन्दर लग रही हो. हम सब गाड़ी से उतर कर अन्दर जाने लगे, तो अमित का हाथ मेरी गांड पर जम गया था.

अब मैंने अपना एक हाथ उसके दोनों पैरों के बीच में डालकर उसके गांड तक ले गया और उसे अपने कंधे पर उठा लिया. मुझे अपनी चूत की फांकों को चिरता सा महसूस होने लगा और बहुत दर्द होने लगा. उसके बाद मेरा या उसका जब मन होता, हम दोनों रात में मिलकर प्यास बुझा लेते.

ऐसा करते हुए कभी कभी कच्छे के ऊपर से ही वह सुपारे को थोड़ा-सा काट लेती. उसे सिर्फ स्कार्पियो से ही घर पहुंचाया जा सकता था और ये बात ड्राइवर बहुत अच्छे से जानता था.

मैं एक को हाथ से पकड़ कर मुँह से चूस रहा था, दूसरी को हाथ से ही मसल कर मजा ले रहा था. फिर से रूम में कामुक आवाज गूंज उठीं ‘आआह ईईउआह …’कुछ देर तक दोनों चूत चोदते रहे. जिस किसी को भी गांड मरवाने में मजा आता है, उसका एक सपना होता है कि एक बार बड़ा और मोटा लंड गांड में लेकर देखे.

मैंने कहा- अच्छा एक बार फिर से वही बोल कर देख?वो बोली- क्या बोल कर देखूँ?मैंने कहा- वो ही जो तूने अभी झेलने वाली बात को लेकर कहा था.

रोहित उठा और मेरे पैर छूने लगा और अपने हाथ को ऊपर की तरफ बढ़ाने लगा. इस दौरान उसका हाथ मेरे मुँह पर जमा था, तो मैं बस गों गों करके गांड में लंड लेती रही. अब मुझे समझ आया कि चौधरी जी की दूसरी बीवी क्यों गांड मराने की शुरुआत होते ही भाग गयी थी.

वो उसे हाथ में लेकर मेरी पीठ और चूतड़ों पर मारते और मुँह खोलने को कहते. मैंने पूछा- आज पूरा मजा लेना है या ऊपर ऊपर वाला ही लेना है?वो बोली- आज मेरी फाड़ दो भैया.

भैया भी बड़ी चतुराई से नींद में होने जैसा होकर, ये काम कर रहा था कि अगर मैं नींद से उठ जाती, तो मेरे को लगे कि वो नींद में है. उसके अन्दर का वेश्यापना अब जाग गया था और उसने सच में रंडियों वाली हरकतें करना चालू कर दी थीं. चूंकि बारिश आने वाली थी, इसलिए मैं उनके साथ गांव नहीं जाना चाहता था.

एनिमल्स ब्लू पिक्चर

शाम होते ही प्रिया ने खाना के लिए बोला तो मैंने मना कर दिया क्योंकि मेरा बिल्कुल भी मन नहीं था.

मैंने अपनी बहन की पन्द्रह मिनट तक मस्त चुदाई की, उसके बाद वो झड़ गई. उसने ‘आह … हह …’ कराह कर अपना टॉप नीचे की ओर खींचा और खुद को ढकना चाहा. संजना के मुँह से आह निकला पर मैं अब संजना की गांड बहुत तेजी से चोदने लगा.

मैं अन्दर नहीं डाल पा रही थी थी तो मैंने तुम्हारी अंडरवियर नीचे की और तुम्हारे पप्पू पर अपने दोनों हाथों से रुच रुच कर हल्दी लगा दी. थ्रीसम सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मेरी बुआ ने अपनी सहेली को वादा किया था मेरा लंड दिलाने का. अमेरिका एक्स एक्स एक्स बीएफकहानी के पांचवें भागपुत्रवधू की छोटी बहन खुल कर चुदीमें आपने पढ़ा था कि रात भर की चुदाई के बाद प्रिया और मैं दोनों ही बुरी तरह से थक चुके थे.

मैं उनकी गांड मारने से पहले गांड को अच्छे से चाटता हूं और चूसता हूं. मैंने देखा तो उसने अपनी ऊपर की टी-शर्ट निकाल दी थी और बस एक स्पोर्ट ब्रा में ही गाड़ी धोने में लगी थी.

मैंने नीचे आकर उनकी चूत पर जैसे ही अपनी जीभ को रखा, उन्होंने जोर की सिसकारी ली- आह मर गई राजा … ये सब बाद में भी कर लेना … अभी मेरी प्यास बुझा दो, पहले मुझे चोद दो. ये सुन कर मामी ने मेरे होंठों को अपने मुँह में भर लिया और एक लम्बा सा चुम्बन जड़ दिया. मैं बस मदहोश होकर अंकुश से अपनी चुदाई करा रही थी और उस पल का मजा ले रही थी.

वो खुश हो गए थे और उन्होंने आंटी से कहा- मुझे कंपनी वापस जाना पड़ेगा. तो बहाने से मैंने उसे अपने घर बुलाया और योजना बना कर उसे उत्तेजित करके चोदा. नेहा बोली- विकास सच सच बताना … तुम्हें मुझे देखकर क्या महसूस होता है?विकास बोला- जब तुम मुझसे इतना खुलकर बात कर रही हो, तो मैं भी तुम्हें अपने दिल की बात बताता हूं.

कुछ देर उसी पोजीशन में रहने के बाद मैं धीरे धीरे धक्का देने लगा और मैंने उनकी चूची को मसलना चालू रखा.

गांड X कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी दोस्त को घोड़ी बनाकर चोद रहा था तो मैंने उसकी गांड में उंगली कर दी. मैं अपना लंड उनके पैर, फिर घुटने पर रगड़ते हुए उनकी जांघों पर रगड़ने लगा.

मेरे लेटते ही भाभी मेरे ऊपर लेट गईं और हम दोनों में चूमाचाटी होने लगी. मंदिर में पंडित जी ने हम दोनों को शादी के बंधन में बांधा और आशीर्वाद दिया. वो पूरी तरह से अनुभवी रंडी की तरह मेरा लंड चूस रही थी, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

संजना ने आंख बंद करके अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ लिया और सहलाने लगी. फिर हवलदार बोला- देख रंडी घुस गया ना!अरुणिमा की मरी कुतिया सी आवाज आई- भैया कबसे चुद रही हूँ. वो अम्मी से बोला- यास्मीन डार्लिंग, आज तुझे खूब खुल कर सेक्स करना होगा, तभी काला साया शांत होगा.

हिंदी में जंगली बीएफ मेरी नंगी चाची भतीजा सेक्स कहानी आपका मनोरंजन करेगी, ये मेरा दावा है. मैं आंख बंद करके मंजू के हाथ का स्पर्श अपने लंड पर पाने को बेचैन हो गया था.

गले का मंगलसूत्र

इतना कहकर वो सामने पड़े सोफे पर जाकर बैठकर हम दोनों की चुदाई देखने लगी. इस समय मेरा लंड उसकी चूत में पूरा घुस गया था और संजना उस पल के मीठे दर्द का इजहार अपने होंठ दबा कर कर रही थी. हुआ ये कि हम दोनों मनाली में अपनी छुट्टी खत्म करके वापस पुणे जाने के लिए तैयार हो गए थे.

फिर वो पल भी आया, जब मैंने उसके मुलायम कोमल होंठों को पहली बार किस किया. उनको देख कर ऐसा लगा कि उन्होंने अन्दर कुछ नहीं पहना हुआ है, बस नाइटी ही पहनी है. बीएफ बलात्कार वालाफिर मैंने पांव हटा दिया और थोड़ी देर दूर सोने के बाद मैं फिर से उनकी तरफ हो गया.

मेरे मामा के घर में पांच लोग रहते हैं, मामा-मामी, उनकी दो बेटियां और उनका एक बेटा, जो उम्र में बहुत ही छोटा है.

दोस्तो, उम्मीद करता हूं कि आप सभी लोगों को ये हाउस मेड पोर्न कहानी पसंद आई होगी, मुझे मेल जरूर करें. उनका लंड मेरी गांड में काफी टाइट जा रहा था, जिससे हम दोनों को ही काफी मजा आ रहा था.

एक तो उसकी गांड फटी हुई थी कि मैं उसकी पोर्न मूवी वाली बात किसी से कह न दूँ और दूसरे उसे भी मैथ्स पढ़ना था. मामा मामी बाहर के रूम में और हम सब लोग घर के अन्दर बने कमरों में सो रहे थे. तभी मेरे घर से फोन आया तो मैंने उनसे झूठ बोल दिया कि मैं एक दोस्त के घर पर हूँ और बारिश रुकते ही आ जाऊंगा.

बस हल्का सा हुक खुला नहीं कि स्तन झटके के साथ खुली हवा में सांस लेने को ऐसे भागे, जैसे किसी का मुँह दबाकर रखा हो और छूटते ही सांस लेने की जद्दोजहद करने लगा हो.

अब मैंने सीमा को तैयार करके बिठा दिया और उस लड़के के आने की राह देखने लगे. मैंने अपना लंड उसकी गांड के साथ लगाते हुए जोर लगाया और लंड एक ही बार में उसके नीचे चला गया. मेरी साली अपनी बुर की गर्मी से परेशान होकर अपने बॉयफ्रेंड से सेक्स का प्लान बना रही थी.

बीएफ भेज सेक्सी वीडियोजिस पर उसकी मादक सिसकारियां निकलने लगीं- आह आह आह … मां मर गई रे कहां फंस गईभैन के लंडचूत की मां चोद दी तूने तो. वो पहले गांड में उंगली डालने के लिए ना ना कर रही थीं लेकिन मैंने अपना लंड पर लगे हुए उसके थूक से अपनी उंगली पूरी गीली कर दी और धीरे धीरे उनकी गांड को अपनी उंगली से चोदने लगा था.

नसीब पिक्चर

फिर मुँह से लंड निकाल कर बोली- आज मेरे मुँह में ही कर दो, मैं भी तुम्हारे मूत को चखना चाहती हूँ. पर जब वो नहीं हिली तब मैंने उसके कपड़े बदलने का सोचा और उसके वनपीस की चैन पीछे से खोल दी. वो मेरे लंड को अच्छे से चूसने लगीं और आवाजें निकालने लगीं- उम्म … उंहाआ आह!मॉम मेरे लौड़ा को पकड़ कर पूरा मुँह में लेकर मजा देने लगी थीं.

इधर मैं भाभी की चूत में जीभ अन्दर बाहर करने लगा और वो ‘ऊई ऊईई आआहह …’ करती हुई मेरे मुँह में झड़ गईं. वो मेरे सुपारे पर अपनी जीभ भी चला रही थी जिससे मेरा मजा दुगना हो गया. पर जो मौका हम दोनों के पास है, वो हम ज़ाया क्यों करें?यह कहकर मैंने रोशनी के होंठों की पप्पी ले ली।जवाब में रोशनी ने भी मुझे किस करना शुरू कर दिया।उसने कहा- साड़ी पहने तुम कल इतनी खूबसूरत दिख रही थी कि मन किया, तुम्हें उसी वक्त बांहों में लेकर किस कर दूं!मैंने हंसते हुए कहा- तो फिर किया क्यों नहीं?मुझे नहीं पता था तुम्हें लड़कियां पसंद हैं!” रोशनी ने कहा.

तो दोस्तो, ये था मेरा पूरे लॉकडाउन का सफर भाभी और उनकी सहेली पिंकी भाभी के साथ. हम दोनों नंगे, बन्द कमरा, किसी के आने की कोई संभावना नहीं, एक जवान बेचैन लंड और एक वासना की आग धधकती जवान और खूबसूरत चूत. वो लोग लड़की की जगह लड़कों की तरफ आकर्षित होते हैं और गांड मरवाना पसंद करते हैं.

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था और मुझे मालूम था कि नमन भैया तो बहुत डरपोक है, वो तो कुछ करने वाला नहीं था. जब चाची ने मना कर दिया, तब मैंने पापा को बोला कि आप उससे पैसे ले लेना.

मैंने उसको उठाया और हम दोनों बाथरूम मैं जाकर नहाए, फिर बेड पर आ गए.

फिर विकास ने एक बार और जोर से बुर की चुसाई करके अपनी बहन को एक बार फिर से झाड़ दिया. उड़ीसा बीएफ सेक्सरात में दस बजे से चोदना चालू किया गया था और चोदते चोदते एक बज गया था. ममता भाभी की बीएफमैंने साली से कहा- क्यों चिल्ला रही है … क्या कभी इतने बड़े लंड से नहीं चुदी?वो बोली- जीजू अब बस 3 बार ही सेक्स किया है. दोस्तो, यह मॉम चुत चुदाई कहानी कैसी लगी आपको? आप मुझे मेल करके जरूर बताएं.

इनके मम्मी पापा दोनों जॉब करते थे, तो वो दोनों ही इन लोगों को उतना टाइम नहीं दे पाते थे.

‘आआह हहह मम्मीईई …’‘क्या हुआ?’‘कुछ नहीं आपने तो एकदम से पूरा डाल दिया. अब मैंने अपने लंड में दबाब बनाया और संजना की गांड में अपना लंड डालने लगा. वो इतना ज्यादा टल्ली हो गया था कि उसके दो दोस्त उसे घर तक पंहुचा कर गए.

उंगलियां चुत के अन्दर जाते ही उसकी चीख निकल गयी, पर होंठ बंद होने से वो सिर्फ ‘ऊंह … ऊंह … ऊंह …’ की ही आवाज कर पा रही थी. मैंने सोचा कि क्या ये कोई इशारा है? लेकिन मैं दूध का जला था, उनकी तरफ़ नज़र भी नहीं उठा रहा था. मैंने अपना लोअर नीचे किया और आसिफा की अम्मी को टेबल पर लिटाकर चुदाई की पोजीशन में कर लिया.

कविता भाभी सेक्सी मूवी

तो विजय ने कहा कि यहीं नहा लेना वो कपड़े दे देगा।पिंकी ने शरारत से मुसकुराते हुए कहा- हाँ ठीक ही तो है, तुम दोनों साथ नहा लो, एक दूसरे को रगड़ भी लेना।तीनों ने बीयर पी. बड़ी मुश्किल में थोड़ी देर बाद दरवाजा खोला तो मैं झट से अन्दर घुस गया और दरवाजा लॉक कर दिया. अंत में उनकी जुबान एक पल को मेरे लंड के सुपारे पर आ ठहरी, पर उन्होंने मेरा लंड चूसा नहीं.

मैंने फिर से अच्छे से लंड को सैट किया और इस बार थोड़ा जोर से धक्का मारा.

मेरी हालत ये हो गई थी कि मैं रात में भी चुत के बारे में ही सोचने लगा था.

रोमा ने मुझे काट दिया और बोली- साले ज्यादा मुँह मत चलाओ, बस चोदते रहो. शायद इसी लिए हम आप हज़ार बार चूत चोदने के बाद फिर से लंड हाथ में हिलाते उसके सामने मुँह बाए पहुंच जाते हैं. सेक्सी बीएफ वीडियो देखमैं समझ गया कि साक्षी का स्खलन होने वाला है तो मैंने मेरी रफ़्तार और तेज़ कर दी और मैं भी उसी के साथ झड़ गया.

मैंने उनकी चूत की झांटों को सहलाया और हाथ की दो उंगलियों को चूत में अन्दर गोल गोल घुमाने लगा. मैं आपको इस बात का विश्वास दिलाता हूं कि मेरी सेक्स कहानी पढ़ने के बाद हर अकेला आदमी अपने लंड को हिलाने और लड़कियां, विशेषकर भाभियां अपनी चूत में उंगली डाले बिना नहीं रह पाएंगी. मैंने भाभी को किस करते हुए उनकी ब्रा को निकाल फैंका और उनके मम्मों पर टूट पड़ा.

मैंने उसके पैरों को अपने कंधों पर रख लिया और चिकने लंड को चूत की फांकों में फेर दिया. फिर हम दोनों ने 69 की पोजिशन ले ली और तकरीबन 20 मिनट की इस चुम्मा चाटी व चुसाई में चाची ने अपना रस मेरे मुँह में ही छोड़ दिया.

उसने जानबूझकर गाड़ी एक गड्डे में से निकाल दी, जिससे मेरा लंड उसकी चूत के अंदर और ज्यादा गड़ गया.

उसके स्तनों ने ब्रा पर इतना दबाव बनाया हुआ था कि उसकी ब्रा पीठ में धंसी हुई थी. तब तक आप अपना बहुत ख्याल रखें और मुझे मेल करके इस बाँडेज सेक्स कहानी पर अपने विचार अवश्य बताएं. मम्मी भी पूरे जोश में पापा का साथ दे रही थी, उनकी सांसें बहुत तेजी से चल रही थीं.

किशोरी की बीएफ मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी आग सी तपती बुर में अपनी जीभ रख दी और उसकी पैंटी में लगे कामरस को चाटने लगा. मुझे लगने लगा था कि हो सकता है कि मैं प्रिया को अपने नीचे लाने में कामयाब हो सकता हूँ.

मैं पहले मुंबई रहता था, वहां मैंने बहुत बार सेक्स किया था लेकिन जब से सूरत आया हूँ, किसी के साथ कभी सेक्स करने का मौका ही नहीं मिल पाया. मैंने संजना की चूत में से अपना लंड निकलने नहीं दिया और ऊपर चढ़ कर उसे धकापेल चोदने लगा. डॉक्टर ने बताया कि आपका दूध बहुत ज्यादा बन रहा है और अभी वो पूरा निकल नहीं पा रहा है, तो वो अन्दर ही अन्दर जम कर दर्द करता है.

एक्स वीडियो कैटरीना

इससे पहले कि वो कुछ कहती, मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और दोनों उंगलियां एक साथ उसकी चूत के अन्दर डाल दीं. अमित के ऐसे गांड चाटने से मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, तो मैंने हाथ पीछे ले जाकर उसका मुँह अपनी गांड में दबाना शुरू कर दिया. चार वीडियो देखने के बाद हम सबने तय कर लिया कि चुदाई में क्या क्या करना है और क्या क्या नहीं करना है.

अंत में मैंने अपना आखिरी दांव चला और उससे बोला- तुम्हारे पास सुबह तक का समय है. मोहित ने कहा- यार ये अच्छा नहीं लगेगा कि तुम लड़कियां होकर हमारी गांड मारोगी.

संयोग से उस वक्त जिस्म मूवी चल रही थी, उसमें किसिंग सीन देखकर मैं और मंजू एकटक फिल्म देखने लगीं.

मेरी बात सुनकर वो झट से खड़ा हो गया लेकिन उसकी नजर मेरी चूचियों पर थीं. कुछ समय में हमारे खेल में स्थिति यह थी किसी की भी गोटी अभी मुख्य केंद्र में नहीं गयी थी. आपको मेरी देसी गर्लफ्रेंड फक़ स्टोरी कैसी लगी, जरूर बताइएगा!आपका अर्जुन[emailprotected].

”इतना बोलकर विकास ने उसके दोनों कंधों पर अपना दोनों हाथ रख दिए और उसके एक गाल को प्यार से खींचा. वो कहते थे चाय लाओ, सिगरेट लाओ तो लेकर आते थे। तुम पीती हो सिगरेट?मैंने कहा- नहीं।अभी छोटी है सर, क्या आप भी?” धीरज ने दीपक से कहा।अरे, तो तुमने और मैंने भी तो 21 – 22 में ही पीना शुरू किया था, और फिर ये तो …” बीच में रूक कर उन्होंने मुझसे पूछा- कितने साल की हो तुम?जी पच्चीस!” मैंने जवाब दिया।हां, ये तो फिर भी पच्चीस की है. जब उन्होंने मेरी जांघों पर किस करते हुए मेरे लंड को पकड़ा और मेरी गोटियों को अपने मुँह में लेकर चाटा.

वो वापिस वीडियो देखने लगा और मैं, हम दोनों के लिए कुछ नाश्ता बनाने लगा.

हिंदी में जंगली बीएफ: फिर अचानक से अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और न चाहते हुए भी मुझे उसका लंड चूसना पड़ा. वो क्या ट्विस्ट है, ये मैं अपनी सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूँगी.

ज़रा ज़रा टच मी … टच मी … टच मी … ज़रा ज़रा किस मी … किस मी … किस मी” मैं गा रही थी. विलेज पोर्न स्टोरी में पढ़ें कि एक तरफ मास्टर अपनी स्टूडेंट की कुंवारी बुर की चुदाई के लिए बेताब था। दूसरी तरफ लकी का बाप खेतों में मजदूर औरत को चोद रहा था. मैंने अपनी एक उंगली उनके मुँह में डाल दी और धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा.

अब मैंने रसिका से कहा- चली गई तेरी बहना … चल मेरी धन्नो आज जन्नत घूम ले मेरी साली जान … लंड का मजा ले ले.

वो बोली- भैया, आप भी देखते हो क्या?मैंने कहा- हां कभी कभी … मुझे कहानी पढ़ना ज्यादा पसंद है. मैं बोली कि हां मजा तो आता है लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हो रही है कि फिर से चुदवा लूं. तुम्हारे सुन्दर बड़े स्तन, चिकने शरीर और तुम्हारे खाने पर वह लोग मुग्ध हैं.