बीएफ देसी चुदाई हिंदी

छवि स्रोत,एक्स एक्स सेक्सी कहानियां

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन सेक्स करते हुए: बीएफ देसी चुदाई हिंदी, डॉक्टर ने कुछ ऐसा बताया कि उसको डॉक्टर के बाद कुछ हफ़्तों तक जाना पड़ा.

सेक्सी व्हिडिओ चुत की चुदाई

उसके बाद उस दुकान वाले अंकल ने जल्दी से मेरी मां की चुदाई वाली वीडियो मुझे दिखाई. स्कूल की बच्ची की सेक्सी वीडियोमैं आगे बढ़ रहा था और मुझे अहसास नहीं था कि मेरे हाथों का जोर कितना उनकी चूची पर पड़ रहा है.

मैं भी फ़ुल जोश में था- हां मेरी बहन, आज तेरी चुत … गांड सब फाड़ दूँगा. सुहागरात का सेक्सी विडियोफिर भाभी ने मुझे बताया कि उनके पति को कुछ दिन के लिए बाहर जाने का प्लान बन गया है … आप आ जाओ.

थोड़ी देर बाद मैंने लंड निकाल लिया और थूक से गीला करके फिर से घुसा दिया.बीएफ देसी चुदाई हिंदी: उसने कुछ देर बाद नहा कर टॉवल लपेटा और दरवाजा खोल कर अन्दर से बाहर निकली.

लेकिन सागर नहीं माना और रुका रहा।देखते देखते आधा घंटा हो गया लेकिन कोई गाड़ी नहीं आई.देसी नंगी भाभी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे अपनी अपनी बीवी की सहेली के सेक्स से जुड़े अरमान उसकी सेक्स फंतासी को पूरा करके उसे संतुष्ट किया.

सेक्सी पिक्चर चोपड़ा - बीएफ देसी चुदाई हिंदी

उसने अपने कपडे़ कार की अगले सीट पर डाले और बाइक को साइड में खडा़ करके कार की पिछली सीट पर आ गया.जब से तूने हमें नंगा देखा है, तेरा ये खड़ा ही है … चक्कर क्या है?मैं बोला- वो पहली बार किसी को ऐसे देखा, तो खड़ा हो गया.

वो कुछ ही देर में मेरी अम्मी को ताबड़तोड़ चोद रहा था और मेरी अपनी कुहनियों के बल रसोई की स्लैब से अपने आपको टिकाए हुए खड़ी थीं. बीएफ देसी चुदाई हिंदी मेरी मौसी ने उसे फिर से सहलाना शुरू कर दिया लिंग के पूरी तरह से खड़े हो जाने के बाद मौसी कंडोम का पैकट निकाल कर फाड़ने लगीं.

ये बात तब की है, जब मैंने 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली थी और ग्रेजुएशन में अपना एडमिशन लेने की सोच रहा था.

बीएफ देसी चुदाई हिंदी?

पहली चुदाई बहुत मजा आया … सच में!उसके बाद हम दोनों चिपक कर सो गये सुबह चार बजे का अलार्म लगाकर क्योंकि सुबह अपनी अपनी रजाई में जाना था. उसको ब्रा पैंटी में देखते ही मेरे छक्के छूट गए … क्योंकि आज से पहले मैंने कभी उस जैसी लड़की नहीं देखी थी. एक हाथ से मैं उसकी चूत को सहला रहा था और ऊपर से उसके होंठों को पीने में लगा हुआ था.

मैं- ओह भाभी आप हैं … ओके अभी चलना है क्या ड्राइविंग सीखने!निशा भाभी- नहीं यार … नंबर चैक कर रही थी और आपके पास मेरा नंबर नहीं था, तो सोचा अपना नंबर भी दे दूं. उस दिन मैंने अम्मी के पैरों की और कमर की मालिश की क्योंकि उनको बहुत तेज दर्द हो रहा था. फिर उसका ब्लाउज खोल दिया और अब वो पिंक ब्रा में और पिंक पेंटी में थी.

मैंने उसकी पैंट खोलनी शुरू की तो उसने हाथ पकड़ा लेकिन मैं झटक दिया. फिर मैंने उसकी स्कर्ट ऊपर करके उसकी पैंटी को निकाल कर एक बार उसकी पैंटी को सूंघा … आह क्या गजब की खुशबू थी उसकी पैंटी में से … थोड़ी सी पेशाब और थोड़ी उसकी कच्ची बुर का रस … दोनों आपस में मिलकर जो महक आ रही थी, वो मुझे किसी परफ़्यूम की खुशबू से कहीं ज्यादा अच्छी लग रही थी. पहली बार मोटे लंड से चुद कर मजा ले ले … पता नहीं तेरे नसीब में किसका लंड लिखा होगा.

ये सब बातें मेरी सास चुपके से देख सुन रही थी। यह बात उन्होंने मुझे बाद में बताई थी।मैं बहुत मायूस हो गया, सोचा कि ये तो खडे लंड पे धोखा हो गया। मैं गुस्सा होकर वापिस अपने कमरे में आ गया और हाथ से अपना लंड हिलाने लगा. तो उसके लंड में तनाव आने लगा तो उसने शनाया से कहा कि वो उसके लंड को मुँह में ले ले तो शनाया ने छी कहते हुए मना कर दिया।तो उसने मुझे छोड़कर शनाया को अपना सुपारा खोलकर दिखाया- देखो कहाँ से गंदा लग रहा है?और उसके मुँह को उसके लंड के पास लाकर सुंघाया कि बताओ कि क्या इसमें से किसी तरह की कोई बदबू आ रही है?तो शनाया ने मना कर दिया.

तो मेरे को कुछ समझ नहीं लग रहा था कि यह है कौन?मैंने उनसे फिर पूछा कि मैंने किस को अपना नंबर दिया? मैंने तो किसी को अपना नंबर नहीं दिया.

तभी मेरे बेटे के क्लास टीचर भी आ गया और वो मेरी बगल वाली कुर्सी में बैठ गया.

सागर ने अपनी शर्ट निकाल दी और वहीं पर टंगी अपनी शॉर्ट्स पहनकर वो वहीं सोफे पर लेट गया. वो भी अपने दूध मेरे मुँह में ठेलते हुए सिस्याने लगी- आह पी लो … चूस लो … बहुत दिनों से तुम्हारे लिए तड़फ रही थी. और उनकी सुनहरी मेहंदी लगी चूत का रस ऐसे लग रहा था जैसे शहद का तालाब हो.

उस वक्त मैं अपनी बीएससी पूरी कर चुका था और मास्टर्स शुरू करने वाला था. नीता कभी बारी बारी से मेरे होंठों को चूसती तो कभी मेरी जीभ को अपने मुंह में लेकर चूसने लगती. दोनों इस समय बेड पर ही थे, तो मैं उनके चूचों को कुछ जोर से दबाने लगा.

मैंने उससे पूछा- क्या तुम वाकयी में मुझे नहीं जानती हो?तो वो बोली- सॉरी यार … लेकिन मुझे सच में नहीं मालूम कि तुम मेरी क्लास में हो.

तो मैंने लाये हुए दोनों चॉकलेट के पैकेट उसके हाथों में दिए और उसको गोद में उठाकर उसके कमरे में ले आया।बाहर जाकर उसकी मम्मी के कमरे का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया और पीहू के रूम में आया। चॉकलेट के दोनों पैकेट पिघल गए थे।पीहू ने कहा- भइया, ये तो पिघल गए हैं. हॉल में मेरे से बात करके शनाज़ थोड़ा दुखी सी होकर चली गई कि उसे मेरी इच्छा पूरी करने में दिक्कत हो रही है. संजना आंटी का जिस वक्त चुत रस छूटता है, उस समय उनका पूरा बदन छटपटाती मछली जैसा कंपने लगता है.

ये सब दिन भर यूं ही चलता रहा, लेकिन मैंने गौर किया कि तनिष्क बार बार मेरे पास से गुजरने की कोशिश करता. उसके बाद उसने मेरा हाथ पकड़ कर कहा- इस दीये के चारों तरफ हम सात फेरे लेंगे।फिर हमने दीये के चारों तरफ घूमकर सात फेरे पूरे किए।मैंने पीहू को अपने सीने से लगाते हुए कहा- अब तुम मेरी दुल्हन हो, तुम्हारे मन और इस खूबसूरत तन पर किसका अधिकार है?तो वो बोली- मेरे प्यारे भइया का … जो अब मेरे सईंया भी हैं।मैंने पीहू से कहा- अब हम सुहागरात मनाएंगे. दोस्तो, आप लोग को तो पता ही है पेपर डांस में कितना चिपकना पड़ता है.

उसके बाद उसने मेरा हाथ पकड़ कर कहा- इस दीये के चारों तरफ हम सात फेरे लेंगे।फिर हमने दीये के चारों तरफ घूमकर सात फेरे पूरे किए।मैंने पीहू को अपने सीने से लगाते हुए कहा- अब तुम मेरी दुल्हन हो, तुम्हारे मन और इस खूबसूरत तन पर किसका अधिकार है?तो वो बोली- मेरे प्यारे भइया का … जो अब मेरे सईंया भी हैं।मैंने पीहू से कहा- अब हम सुहागरात मनाएंगे.

तभी भाबी के सामने ही मम्मी ने मुझे बुलाया और कहा कि रात को भाभी के घर पर सोने चले जाना, वो अकेली हैं घर पर. उसकी चूत के छेद से चड्डी साइड में सरकाई और चूत के छेद में टोपा टच कर दिया.

बीएफ देसी चुदाई हिंदी कुछ देर बाद मैंने लंड चुत से बाहर निकाला और उसकी गांड के नीचे एक तकिया रख दिया. इस बारे में ज्यादा कुछ न बोल कर वो फिर से लंड अन्दर लेकर जोर जोर से चूसने लगी.

बीएफ देसी चुदाई हिंदी लेकिन मैंने अपने कॉलेज की एक सीनियर लड़की को पटाकर लड़की की चूत चुदाई कैसे की? पढ़ें!नमस्कार दोस्तो, आप सभी प्यारे पाठकों को मैं अपना परिचय दे रहा हूँ. वहां ज़ोहरा ने जैसे ही अपनी चिपचिपी चूत देखी तो वो खुशी से लहरा उठी.

कभी होंठों पर तो कभी गालों पर, कभी उनकी चूचियों पर तो कभी गर्दन पर।वो भी अपने हाथों से मेरी पीठ को सहला कर मेरा हौसला बढ़ा रही थी.

बीएफ पिक्चर हिंदुस्तानी

मैं मौक़ा मिलते ही उसकी चुदाई भी कर देता था और मैंने उसकी गांड भी मार ली थी. अगले ही पल वो बाहर से आती मद्धिम रोशनी में ऐसी बल खा रही थी मानो जैसी अंधेरे आसमान में बिजली चमक रही हो. उसने मेरे अंडरवियर को भी मेरी टांगों के अंदर से निकाल दिया और मैं उसके सामने पूरा का पूरा नंगा हो गया था.

उसकी चूचियों को दबाते हुए मैं उस जवान की लड़की की चूत की प्यास को अपने लंड से बुझाने लगा. करीब दो मिनट तक मम्मों को सहलाने और मसलने के बाद वो ब्लाउज के बटन खोलने लगा. मेरा लंड रानी की चूत में घुस गया था और पिंकी की चूत मेरे ठीक सामने थी.

अजीम मेरी कमर पर लेट कर मुझे कुत्ते की तरह काटने लगा और अपना लंड पूरा अंदर तक घुसेड़ते हुए वीर्य छोड़ता रहा.

शाम को 7 बजे के करीब हमने खाना खा लिया और बुआ ने बच्चों को दूध पिला दिया. हमारा ये पहला सेक्स था इसलिए बस जो मन में आ रहा था हम किये जा रहे थे. मैंने किसी तरह अपने आप पर कंट्रोल किया और देखा कि मेरी मां ने पिता का लिंग अपने मुँह से चूमना और चूसना शुरू कर दिया.

तुम आज रात आ जाओ।फिर मैंने सोचा कि मौका तो बढ़िया है और तभी लाइट चली गई।मैं धीरे से दबे पांव उसके घर पहुंचा. चूंकि मेरा घर ज्यादा दूर नहीं था, तो अपने घर पहुंचने के लिए पैदल चलते हुए मुझे आधा घंटा ही लगता है. कई बार ठंड की वजह से वो अम्मी की रजाई में लेट जाता था और हंसी मजाक करता रहता था.

कोई 15 मिनट तक लगातार चुत चोदने पर उसका पानी निकलने लगा और वह मुझको अपने ऊपर एकदम से दबाने लगी. कुछ इस तरह का नजारा था कि लंड को चुत के अन्दर से कोई खींच रहा हो … और जोर से छोड़ देता हो.

अब मेरा वीर्य छूटने वाला था तो मैंने उनको हटाने की कोशिश की पर वो ज़ोर ज़ोर से चूस रही थी तो मेरा पानी छुट गया और उनके मुंह में वीर्य चला गया. लेकिन टाइम नहीं मिल पाने के कारण मैं अपनी कहानी शेयर नहीं कर पा रहा था. शकील अम्मी से- और सुनाओ क्या हाल है मेरी जान?मम्मी शकील से- हाल तो बहुत बुरा है तुम्हारी जान का!शकील- क्यों टाइम पर खुराक नहीं मिल रही क्या?मम्मी- इसी बात का तो रोना है.

नहीं तो कल रात को जब मैं एक बार ज़ोहरा आपा को चोदकर वापिस आ रहा था तो ज़ोहरा आपा ने मुझे रोक कर फिर से 2 बार चुदाई क्यों करवायी?मैं हंस कर अपनी अम्मी को बोला- अगर हम दोनों भाई बहन के बच्चे हमारी शक्ल लेकर पैदा होंगे तो रफ़ीक़ जीजू और शनाज़ का मन छोटा हो जाएगा.

मैं एक शॉर्ट पैंट और बनियान में था और वो एक मिनी स्कर्ट और व्हाइट टॉप पहन कर बाहर आ गयी. लेकिन मम्मी की सोफे पर बैठते ही वो जाग गया और मम्मी से पूछा- क्या हुआ?तो मम्मी बोली- अंदर गर्मी बहुत है. हमने उसके घर में बालकनी, सीढ़ियों पर, किचन में और यहां तक की लिफ्ट लॉबी में भी सेक्स किया.

मैंने कहा- फिर भी कुछ बताओ तो, मुझे क्या पता मेरे अंदर क्या पसंद आयेगा किसी लड़की को. मैंने कमरे में आकर अपने कपड़े उतारे और एक फ्रेंची में खड़ा होकर आवाज लगाने लगा- खुशबू तू जल्दी निकल फिर मुझे भी नहाना है.

आंटी- ओह्ह किशु … तेरा लंड तो बहुत मोटा और लम्बा है … आग लग रही है … मैं तड़प रही हूँ … मेरी चुत इस कड़क लंड के लिए मचल रही है मेरा बेबी … जल्दी से आ जा. जब मुझे लगा कि वो मेरे जिस्म की गर्मी को पाकर मेरे हवाले होने को तैयार हो रही है तो मैंने उसे धीरे से अपनी ओर घुमाया और उसके माथे पर एक प्यारी सी चुम्मी दी. मैं थोड़ा संभला और बोला- आई लव यू … माय क्वीन!माधवी बोली- महाराज, आपकी खिदमत में ये नजराना पेश है.

हिंदी में ब्लू पिक्चर बीएफ सेक्सी

जहां तक मुझे शक था कि कल वाली रात को मेघा जाग रही थी जब मैंने रात को उसकी जांघों को छुआ था।मेघा ने मेरी तरफ देखा मैंने मेघा को किस कर लिया.

हम दोनों दोस्त मेरी माँ की चुदाई की फैंटेसी रखते थे तो हमने यह मनड़ंघत कहानी लिखी. जब मैं स्कूटी चला कर ले जाता था, तो उल्फ़त मेरे पीछे बैठ जाती थी और जब भी ब्रेकर लगता, तो उल्फ़त की चूचियां मेरी पीठ से चिपक जाती थीं. मेरी गांड इतनी गीली हो गई कि बहुत ज्यादा! मैं जानती थी कि अब मेरी गांड की चुदवाने की बारी है।तो उसने अपनी पूरी उंगली गीली करके मेरी गांड में डाल दी.

दिन भर मेरी फटी रही और शाम को जब घर पहुंचा तो पापा और चाचा आ चुके थे लेकिन उन्हें देख कर लग ही नहीं रहा था कि जैसे उन्हें कुछ पता हो।उस दिन सब पहले जैसे ही था और मैं अपने काम करता रहा. फिर मैंने उसकी चुत को चाटा, वह मस्ती में चिल्लाने लगी- आह ज़ोर से चूसो भाईजान … आह मज़ा आ रहा है. गंदे सेक्सीक्योंकि सोनल मुझसे प्यार करने लगी थी और मैंने उससे उसी की कजिन सिस्टर काजल की चूत चुदाई के लिए बोल कर उसका दिल तोड़ दिया था.

और फिर उनकी चूत और गांड को खूब पेला।अब वो दोनों बाथरूम में अपने कपड़े लेकर चले गए नहाने!तो मैं पीछे के दरवाज़े से निकलकर आगे वाले दरवाज़े पर आ गयी. नहाने के बाद मैं कमरे में गया और टी-शर्ट पहन ही रहा था कि वो कमरे में आई और मेरी चूची पर जोरदार दाँत काट कर भाग गई.

ये सब देख मैं घबरा जाता तो मैं वहां से जाने का प्रयास करता, कहता कि मैं बाद में आता हूं. इतना कह कर मेरे पास आकर अमित धीरे से मुझे किस करना शुरू किया पहले गले के पीछे!मेरे मुंह से आह आह आह की सिसकारियां निकलने लगी. क्योंकि आपा की चूत गर्म होकर पानी छोड़ रही थी तो आपा की चूत का पानी मेरी उंगली तक पहुँच गया था.

बस इतना कहना था कि वो इतने में ही चरम पर पहुंचे और जोर की उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकालते हुए मेरी चूत में वीर्य छोड़ने लगे. दोस्तो, काली ब्रा और पैंटी में उसका दूध जैसा गोरा शरीर अलग ही चमक रहा था. मैंने पूछा- तुम घर में क्या बता कर आई हो?वो बोली- मैंने कह दिया है कि मैं खेतों की ओर घूमने जा रही हूं.

उसके बाद मेरे साथ क्या हुआ?शराब और शवाब का नशा कई बार जिन्दगी के सबसे अटूट रिश्तों पर भी कहर बन कर टूट पड़ता है.

हमने एक लम्बा स्मूच किया और फिर अलग हो गये।वो बोली- तेरा स्टेमिना तो बहुत अच्छा है. उसकी बड़ी चुचियां देखकर मुझसे हमेशा से लगता था कि वो किसी से चुदवाती है, पर मैं कभी उसे पकड़ नहीं पाया.

जैसे ही चूत पर हाथ पहुंचा तो मेरे बगल वाले लड़के और मेरे शौहर दोनों के हाथ आपस में टकरा गये. अब में पेट से होते हुए उसकी कमर के चारों ओर अपनी जीभ की नोक फिरा रहा था और वो तड़प रही थी. तो दोस्तो, कैसा लगा तुम लोगों को मेरा यह पुराना अनुभव!और जैसा मैंने इस घटना के शुरू में लिखा है ऐसा लगभग 80% लोगों के साथ होता है.

तो मैंने अपना लन्ड उसके चूत से निकल लिया।दवा अपना असर दिखा रही थी। फिर मैं पीहू को घोड़ी बनाकर पीछे से अपना लन्ड उसकी चूत में डाल कर उसकी कमर पकड़ कर उसे चोदने लगा. फिर मेरा हाथ उसकी चूत पर चला गया और मैं अपनी बहन की चूत मसलने लगा और उंगली करने लगा. फिर उन्होंने मेरी कमर पकड़ कर मुझे थोड़ा सा उठाया और मेरी चूत में अपना पूरा लंड डाल दिया.

बीएफ देसी चुदाई हिंदी इतने में मैं छत से नीचे आकर घर में अंदर छुप गया। घर में करीब करीब सभी लाइट बंद थी, थोड़ी रोशनी थी. इसने यह शर्त रखी थी कि कि तुम अपनी मामी और अपनी चुदाई की बातों का यकीन दिलाओ.

सनी लियोन की बीएफ वीडियोस

उसने मेरे 7 इंच लंबे और 3 इंच मोटे लंड को अपने हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया. छोड़ दो न अब!”सच में पहली बार कोई मर्द मेरे जिस्म के साथ इस तरह खेल रहा था। मुझे बेइंतहा मजा आ रहा था।कुछ ही देर बाद मेरी बुर ये सब सह नहीं सकी और मैं झड़ गई। मेरी बुर से गर्म गर्म पानी मेरी जांघों की तरफ जाने लगा।उसके बाद मुझे कुछ होश आया और मैं तुरंत जीजा से अलग हो गई- बस जीजा जी इतना काफी है. उसने अपने कपडे़ कार की अगले सीट पर डाले और बाइक को साइड में खडा़ करके कार की पिछली सीट पर आ गया.

पहले उसे थोड़ा दर्द हुआ पर थोड़ी देर में वह भी नीचे से अपनी गांड उठाकर मेरा साथ देने लगी. क्योंकि सोनल मुझसे प्यार करने लगी थी और मैंने उससे उसी की कजिन सिस्टर काजल की चूत चुदाई के लिए बोल कर उसका दिल तोड़ दिया था. मराठीमध्ये सेक्सी ओपनमैंने क्या किया? मैं उनको पटा पाया या नहीं?दोस्तो, मेरा नाम विहान है, मेरी उम्र 25 साल है और मैं जम्मू (जम्मू एंड कश्मीर) का रहने वाला हूँ.

कुछ देर तक मैं यूं ही मैम के हुस्न को चाय के साथ पीता रहा और उनकी प्यारी प्यारी बातें सुनता रहा.

तभी उसने अपना लंड मेरी चूत के छेद पर रख कर एक बहुत जोर का धक्का लगाया। धक्का इतना तेज था कि उसका लंड मेरी चूत को फाड़ता हुआ घुस गया. उसकी आह निकली और वो बोली- क्यों मजे ले रहे हो … जरा रुक जाओ न जानू.

उसने मेरे घर के बारे में पूछा तो मैंने बताया।वो बोला- मैं तो अक्सर उधर काम से आता हूं।तो मैंने भी मौका देख कर बोला- ठीक है, अब आप आना तो हमारे घर भी आना. दिन में मैं कॉलेज गया और शाम को वापस आया, तो भाभी ने बताया कि सुमन को उन्होंने सैट कर लिया है. एक बार चुत ने मेरे लंड का स्वाद चख लिया था, तो ये तो जाहिर था कि वो बार बार मेरे लंड की सवारी करेगी.

वो भी मेरी कमर पर सहला रही थी।आह्ह … दोस्तो, बहुत मज़ा आ रहा था।कुछ देर उसकी चूचियों और चूत को सहलाने के बाद मेरे लंड में फिर से तनाव आने लगा.

मेरी कमर को भैया ने एक हाथ से पकड़ा और मेरी पैंट को एक झटके में खोल दिया. उसने मुझे अंदर किया और गेट बंद कर दिया।मैंने जाते ही उसको गले से लगा लिया. फिर मामी ने मेरे कान में धीरे से कहा- पहले अपने कपड़े उतार लो।मैं बाथरूम में गया और जल्दी से अपने कपड़े वहां पर टांग कर आ गया.

बच्चों सेक्सीमगर नीता ये नहीं जानती थी कि शिल्पी को भी उसकी चुदाई के बारे में पता चल गया है. मौसी मेरी मां के होंठ चूसते हुए मन की चूत पर अपनी चूत रगड़ रही थी।मुझसे रहा नहीं गया और मेरा पूरा माल मौसी के पैरों पर जा गिरा और वो दोनों भी झड़ के शांत हुई और एक दूसरी से चिपक गई।आगे जब कुछ और घटित होगा तो वो भी आपके सामने लेकर आऊंगा.

बीएफ फिल्म बीएफ फोटो

मुझे होश ही नहीं रहा कि कब सर ने परमिशन दी और कब आकांक्षा मेरे ही पास आकर बैठ गयी. मैंने दीदी की चूत पर लंड लगाया और उसको अंदर करने की कोशिश करने लगा. लेकिन करूं तो करूं क्या … दो महीने बाद मेरा फिसड्डी पति विदेश की नौकरी पर 7 महीने के लिए चला गया.

क्या मैं आप दोनों को एक साथ चोद सकता हूँ? आप देख लेना दोनों को मज़ा आ जाएगा. उसने प्रॉमिस किया और बोला- अब मैं खूब मन लगा कर पढूंगा, लेकिन आप ये तो बताओ कि मेरे स्कूल वाले माने कैसे?मैंने उससे झूठ बोला- तुम्हारे पापा के एक फ्रेंड थे, उन्हीं से कॉल कराया था. बुआ बोलीं कि और हम लोग दूध निकालने जाते हैं … लेकिन इतनी जल्दी जाने में हमें डर लगता है.

मैंने बोला कि ठीक है सर … मैं घर पर बात कर लेता हूँ … और कल आपको बता दूंगा. इस पर मैंने जल्दी से भाभी की पैंटी निकाल कर भाभी की गांड में लौड़ा डाल दिया और चोदने लगा. भाभी के आई लव यू बोलते ही मैंने उन्हें अपनी तरफ घुमाया और अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए.

मैं अपने रूम में चली गयी और सामान आदि बिना खोले, कुछ देर के लिए सो गयी. फिर आंटी चटखारा लेते हुए बोलीं- ओह्ह किशु … तेरा पानी तो बड़ा गाढ़ा और मीठा है … इसने तो मेरी प्यास बुझा दी.

मैंने उसके चेहरे को अपने हाथों से उठा कर अपने मुँह के सामने किया और उसके नर्म होंठों पर अपने लाल होंठों को रख दिए.

माँ सोफे पर लेट गई, माँ की टाँगें अंकल ने अपने कंधे पर रखीं और चुदाई शुरू कर दी. फुल सेक्सी आदिवासीअब चिकनाई की वजह से मेरा लंड सरलता से अन्दर बाहर हो रहा था और पूरे रूम में फच फच की आवाज आ रही थीं. सेक्सी आदिवासी आदिवासी सेक्सीमैं चूत में उंगली करने लगा तो मौसी सिसकारते हुए उठी और मेरे सिर को झुकाकर मुझे अपने ऊपर लिटाते हुए मेरे होंठों को चूसने लगी. मुझे आज अन्दर से आग लगी हुई थी तो मैंने सबकी नजर बचा कर एक पूरा गिलास नीट दारू से भरा और ‘कमरे में जाकर लूंगी.

आंटी की चुदाई और भाभी की चुदाई भी करके देखी लेकिन पहला सेक्स पहला ही होता है.

उस दिन तो बस इतना ही हुआ और उसके बाद दो हफ्ते तक मैंने प्रिया को नहीं देखा. मगर मेरी खराब किस्मत थी कि आज ग्राउंड पर कुछ लड़के क्रिकेट खेल रहे थे तो हम दोनों ग्राउंड से निकल कर लम्बी ड्राइव पर निकल गए. और साथ ही साथ बोल रही थी- मेरी जान, आज की ये रात तुमको हमेशा याद रहेगी कि कितनी किस्मत वाली गर्लफ्रैंड मिली है तुमको!अब सुधा सागर के होंठों पर अपने होंठ रख कर उसको चूसने लगी जिसमें सागर भी उनका साथ देने लगा.

लेकिन मैंने एक बात नोट की कि काजल जितनी भी देर उधर बैठी, वो बार बार मुझे ही देख कर स्माइल कर रही थी. उमेश सर ने कहा- ठीक है … अब मैं कुछ नहीं कर रहा हूँ … लेकिन बस ऐसे ही रहने दो. पर अब मुझे चैन कहाँ था तो थोड़ी देर बाद मैं फिर से चाची के घर चला गया और उनसे बातें करने लगा.

बीएफ कुश्ती

दो साल मेरी तबियत बहुत खराब थी, इस लिए मेरा स्कूल से 2 साल की पढ़ाई पिछड़ गई थी. फिर धीरे-धीरे मेरा हाथ नीचे की तरफ बढ़ाने लगा और मैं गाउन को ऊपर करने लगा।गाउन को मैंने कमर तक ऊपर कर दिया और हाथ पैंटी के अंदर डाल दिया और धीरे-धीरे उसकी चूत को सहलाने लगा. आप लोगों को मेरी गांड चुदवाने की यह आपबीती कैसी लगी मुझे इसके बारे में जरूर बताना.

मैं उससे बोला- अब मेरा लंड चूस कर गीला कर दे, ताकि ये आसानी से अन्दर जा सके.

माँ के स्तन पूर्वी से बड़े थे पर पूर्वी के स्तन थोड़े छोटे होने की वजह से पापा तो उनको निचोड़े जा रहे थे.

उसने तुरंत अपना लंड दीदी के मुँह में पेल दिया और दीदी के मुख चोदन में लग गया. मैं तेजी से उठा और उसको अपनी बांहों में जकड़ कर उसकी चूची पर दाँत काट लिया. सेक्सी पिक्चर काजल कीउनकी मांसल टांगें मेरे लंड के आजू बाजू वाली जगह पर … और मेरी जांघों से टकरा रही थीं, इसकी वजह से मुझे भरपूर मजा आ रहा था.

मेरे मामू जी ने मेरा और उल्फ़त का एडमिशन एक डिग्री कॉलेज में करा दिया था और आइला और ज़ाफिरा का एडमिशन इंटर कॉलेज में करा दिया. मैं ऊपर से चुदूंगी।मैं लेट गया और रुबीना बाजी मेरे ऊपर नंगी हो कर बैठ गई।उन्होंने अपनी गान्ड में मेरा लंड घुसा लिया और उछलने लगी. पर आज शनाज़ ऐसे अनाड़ी जैसे लंड क्यों चूस रही है?मुझे लंड चुसवाने में मजा नहीं आया तो मैंने अपनी ज़ोहरा आपा के मुँह से अपना लंड निकाला और लंड को सीधा ज़ोहरा आपा की चूत की दरार के बीच में टिका दिया.

मैंने भाभी को पोजीशन में लिटाया और उनकी चुत में लंड डालने की कोशिश की. वो तुम्हें प्यार नहीं करेगा तो पड़ोसन को थोड़े ही करेगा?फिर मैंने हंसते हुए कहा- संदीप ने तो बस गले पर ही निशान डाला है, मैं होता तो न जाने कहां-कहां निशान डालता.

उन्होंने मुझे सहयोग करते देखा, तो मुझे औंधा किया और मेरी गांड फैला कर लंड अन्दर पेल दिया.

भाभी की सेक्सी कहानी में पढ़ें कि कैसे पड़ोसन ने मुझे अपनी चूची से दूध पिलाया. अभी तक मैंने अपनी बीवी शनाज़ से बीती रात की घमासान चुदाई पर बात नहीं की थी. अब उसने मेरी तरफ हवस भरी नजर से देखा और बदले में मुझे भी किस कर दिया.

हिंदी में हिंदी वीडियो सेक्सी इतने पर भी उसकी कामुकता कम नहीं हुई थी और उसकी चूत में से काफी रस बह रहा था. अंजलि मजाक में आंखें बड़ी कर रही थी लेकिन उसे भी मजा आ रहा था।मौसी किचन में थी.

इतनी जबरदस्त चुदाई करने के बाद भी जब मैं नहीं झड़ा तो मैंने उसको सीधी कर लिया. मैंने भाभी के मदमस्त रूप को देखा और पूछा- प्रिया कहां है?भाभी बोलीं- आज वो अपनी नानी के घर गई है. थोड़ी देर में मेरा लंड फिर से तैयार हो गया और अब मैंने मेरे दोस्त की बीबी को डागी स्टाइल में लिया और अपना लंड उसकी गांड पर सेट किया.

मुंबई वाली बीएफ

चारू प्यार से मुस्करायी और बोली- सच्ची मेरे राजा? तुमने तो मुझे निशब्द कर दिया. एकदम से सुडौल बदन था उनका, जैसा कसरत करने वाले पहलवानों का होता है. फिर एक दिन क्लास में कुसुम को छेड़ते हुए मेरा हाथ उसके मम्मों में जोर से लगा गया.

जब घर पहुंचे तो अवनीत ने कहा- मामू, आप तो घर ले आये?मैंने घड़ी देखते हुए कहा- वहां 9 बजे का समय है और अभी साढ़े सात बजे हैं. मैंने अपनी भानजी से कहा- बेटा, मैं जीजा जी को मना लूंगा लेकिन पहले तुमसे पूरा मामला समझना पड़ेगा.

फिर उनके बॉस ने मॉम की चूत को चाटना शुरू कर दिया और वो दोनों एक दूसरे को पागलों की तरह चूसने लगे.

हमारी क्लास में बहुत सी सुंदर लड़कियां थीं, उन्हीं में से एक कुसुम थी, जिसे मैं पसंद करता था … या यूं कहूं कि उसके साथ चुदाई करना चाहता था. उनको चोदने के बाद मैं अपने कमरे में वापस आ गया और 2 घंटे तक सोता रहा. क्योंकि कोमलप्रीत जी उस लड़के के टच में थी तो उन्होंने उसे वो बात उसे बोल दी.

थोड़ी देर बाद मॉम अपनी गांड को मलने लगीं और ये सीन देख कर मैं अपने हाथ की स्पीड बढ़ा रहा था. मैंने पूछा- तुम अभी लौटे हो?वो बोला- नहीं, मैं तो यहीं बाहर से छुपकर तुम्हारी जोरदार चुदाई देख रहा था. यह उसकी पहली चुदाई थी, तो मैंने भी उसे भरपूर मजा देते हुए उसकी चूत को अपनी गर्म वीर्य से लबालब भर दिया.

उसने कहा- क्या बात है भाभी, रात में बहुत मजे किये?मैंने मुस्कुरा कर कहा- मेरी तो आदत है.

बीएफ देसी चुदाई हिंदी: फिर उसने पूछा- तुम भी सिंगल हो क्या?मैंने कहा- अगर मेरी लाइफ में कोई होती तो मैं इस वक्त किसी और के साथ डिनर कर रहा होता. फिर बाजी बोली- इमरान यकीन नहीं होता कि तूने और रुबीना ने एक बच्चा पैदा कर लिया और परिवार की तरह रहते हो।मैंने कहा- बाजी, मगर अम्मी और नजमा बाजी को ये हराम लगता है.

शकील ने पूछा- क्यों क्या हुआ?अम्मी ने कहा- बेचारी को कोई भी बच्चा नहीं है जिसकी वजह से काफी परेशान है. फिर धीरे धीरे उनके लंड को अपने मुँह के अन्दर तक लेकर चूसना शुरू कर दिया. कुछ बूंदें भाभी के मुँह में गईं, कुछ उनके चेहरे पर गिरीं और कुछ उनके मम्मों पर आ गिरीं.

इसके बाद जब मैंने पट्टा खींचा, तो उसके बाल खिंचने लगे और उसे बहुत दर्द होने लगा.

मेरी इस हॉट फॅमिली सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैंने दो बुआ की चुदाई कैसे की. फिर उन्होंने मुझे अपनी मेज पर सीधे लिटा दिया और मेरी पेंटी को उतार कर मेरे चूत को चाटने लगे. अब मेरे सामने एकदम संगमरमर की मूर्ति की माफिक, हुस्न की मल्लिका, मेरी रानी चारू बिल्कुल नंगी थी.