हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर चुदाई वाली फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

தமிழ் xxx.village: हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर, जब भी मेरा उसकी ससुराल जाना होता, तो मेरी साली मुझे किसी न किसी बहाने से छेड़ ही देती थी.

पंजाबी फिल्म सेक्सी सेक्सी

अब हमारे दोनों के बीच का फ़ासला कम हो गया था, शरीर आपस में सट चुके थे और दोनों एक दूसरे के शरीर की गर्मी महसूस कर रहे थे. भोसड़ी वाली सेक्सी वीडियोअब मुझसे रहा नहीं गया और मैंने पूरा का पूरा लंड सुमन की बुर में डाल दिया तो वो जोर से चीखी उम्म्ह… अहह… हय… याह… तो मैंने उसके होठों पर होठ रख दिया और लिपलॉक कर दियासुमन की आँखों से आंसू बह रहे थे और वो मुझसे छुड़ाने की भरपूर कोशिश कर रही थी.

इसी बीच एक और लड़की, जो कि कोचिंग के कैश काउंटर पर बैठती थी, उसका नाम श्यामली था. सेक्सी वीडियो कार्टून में दिखाइएब्रा और पैंटी पहनने के बाद मैंने एक गुलाबी रंग की ही पारदर्शी नाइटी भी पहन ली.

बोली- घोड़ी बन जाऊं? मतलब?मैंने उसको कमर से पकड़कर घोड़ी बनाते हुए कहा- ऐसे.हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर: पहले बुरके के ऊपर से वो मेरी गांड दबाने लगा, फिर अन्दर हाथ डाल दिया.

उस रात उसने मुझसे बहुत सारी बातें कीं और फिर अगले दिन वो अपने घर दिल्ली चली गई.बीच बीच में उनकी उंगलियां चुत के दाने को छूतीं और पूरे बदन में करंट दौड़ पड़ता.

सेक्सी वीडियोxxxii - हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर

इस बात पर मैंने उसे जिम ज्वाइन करने की सलाह दे डाली कि पास में ही जिम है, जहां और भी लेडीज आती हैं, तो वो भी आराम से वहां जिम कर सकती है.मैंने कहा- तो तुम शादी में क्यों नहीं गयी?सुमन बोली- मेरी तबियत ठीक नहीं है आज!मैंने कहा- सुमन क्या हो गया तुम्हारी तबियत को आज?सुमन बोली- बुखार हो रहा है.

वो पूरा नीचे तक लिंग महाराज मुँह में लेती और फिर ऊपर आते वक्त मेरे लिंग के टोपे को जोर से चूसती. हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर तभी मेरी कौसर जान एक बार फिर परमानन्द की तरफ बढ़ चली और साथ ही मेरे अब्बू ने अपनी मनी उसकी चूत में ही छोड़ दी।अब्बू कुछ देर तक मेरी बीवी के नंगे जिस्म के ऊपर ही पड़े रहे.

मैंने उसके लिए भी पैग बनाया और हम दोनों चियर्स बोल कर पैग पीने लगे.

हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर?

अगली कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि भाभी के प्रेग्नेंट होने के बाद कैसे उन्होंने अर्चना को पटाने में मेरी मदद की. मैंने पापा से कहा- मैं ख्याल रखूंगा लेकिन आज मुझे अपने फ्रेंड के घर पर पढ़ाई करने के लिए जाना है और मैं रात को वहीं रहूंगा. जैसा मैंने पहले बताया था कि मेरे चाचा थोड़े समलैंगिक किस्म के व्यक्ति हैं.

मैं बीच-बीच में हल्की-हल्की आंख खोलने की कोशिश भी कर रहा था लेकिन मुझे पूरी तरह से होश नहीं था. अपनी ओर से ग्रीन सिगनल दिखाती हुई मैं फ़ौरन अपना हाथ चूत पर ले गई और अपनी पेंटी से ही चुत को खुजलाते हुए उसको देखने लगी. फिर मैंने प्यार से उसके मुंह को पकड़ा और उसको होंठों को पूरा का पूरा अपने मुंह में ले लिया ताकि बाहर किसी तरह की आवाज न निकल सके.

उसकी गांड मारने का मजा मैं आपको जरूर सुनाऊंगा, पर पहले आपकी मेल मुझे प्रोत्साहित करेगी. आह्ह … काजल की चूत … आह्ह … उसकी चूत में लंड को पेल दूं … स्स्सस … काजल के चूचे … उसके नंगे चूचे … हाय … काट लूं उसके चूचों को … पी जाऊं उनको दबा कर … आह्ह स्स्स … मन में ऐसे उमड़ते भावों के साथ मैं अपने ही हाथ से अपने लंड को बुरे तरीके से रगड़ने लगा. थोड़ी देर में सीमा को लगा कि वो थक गयी है और झड़ने वाली है, राहुल ने भी कहा- मेरा होने वाला है, कहाँ निकालूँ?सीमा ने उसे बाहर नहीं आने दिया और उसकी छाती से अपने मम्मे मिला कर उसकी होंठों से अपने होंठ मिला दिए.

मैं भी सीमा भाबी के सामने खुल कर चुदाई भरे शब्द इस्तेमाल करता हुआ बात करने लगा, जिससे भाबी गर्म हो जाएं. अब्बू ने पहने और फिर कौसर से बोले- कैसा लगा?कौसर मुस्कुरा कर नंगी ही उठ बैठी और अपना चेहरा अपनी चूचियों और घुटनों में छिपा लिया.

फिर मैंने जल्दी से अपनी कज़िन की शर्ट उतार दी और वह मेरे सामने ब्रा में ही रह गयी थी.

अब आगे क्या हुआ, मैं ये जल्द ही आपको एक अलग चुदाई की कहानी में लिखूंगा.

तो भाभी बोलीं- वही होगा भोसड़ी का … तुम रुको मत … क्योंकि वो तो मादरचोद पूरे नशे में धुत्त रहेगा … उसे कुछ भी पता नहीं चलेगा. इसी समय मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी और जैसे ही हम दोनों के नंगे जिस्म एक दूसरे से मिले, तो मानो भूसे में आग सी लग गयी. पर हम मानव, सभ्य समाज में रहते हैं और समाज की कुछ वर्जनायें, कुछ बंदिशें होती हैं जोकि सबको माननी ही पड़ती हैं.

मेरा मन कर रहा था कि अभी अन्दर जाकर भाभी को उल्टा करके उसकी गांड में पूरा लंड घुसा दूँ. मैंने लण्ड को निकाला और उसके मुँह में डाल दिया। लेकिन आपने महसूस किया होगा दोस्तो … कि ऐसे समय पर चूत में से लण्ड निकलते ही वो मज़ा एकदम से ख़राब सा हो जाता है. उसने एक उंगली की जगह दो उंगलियों से मेरी गांड के छेद को फैला दिया था.

पूरा लंड एक बार में अन्दर जाते ही सीमा की आह निकल गई- आह … सी … क्या जान लेने का मन है … राजा जरा धीरे पेलो … तुम्हारा मूसल बहुत बड़ा है.

पर मेरी बात अनसुनी करके अंकल जी ने फिर से दो तीन बार लण्ड को अन्दर बाहर किया और फिर से बाहर तक निकाल कर मेरे दोनों बूब्स दबोच कर एक धक्का और मार दिया. मेरी तरफ से सबको इजाजत है कि वो मेरे लंड को चूसते हुए खुद को ऐसे तगड़े लंड से चुदवाने का सोच सकती हैं. ज्योति की चूत की खुशबू से मेरा लण्ड और ज्यादा सख्त हो गया।फिर मैंने उसकी चूत के दोनों होंठों को अलग किया और हल्के हल्के फूँक मारने लगा तो ज्योति छटपटाने लगी.

मेरे मन में उसकी चुत को लेकर लाखों ख्याल अपनी जगह बना चुके थे जिन्हें निकालना मुश्किल था. रात को 11 बजे कॉल आया कि भाभी जी आप दरवाजा खोल के रखो, मैं आ रहा हूँ. कुछ देर बाद उसने धक्का देकर मुझे बेड पर गिरा दिया और मेरी शर्ट खोलने लगी.

जिस लड़की को आप पेलना चाहते हो, वो आप को देख कर मुस्कुरा दे तो आप समझ ही सकते हो मन में क्या क्या ख्याल आनेलगते हैं.

अंकल बोले- फिर आज मैं सारी रात यहीं बैठा रहूँगा, चाहे इस ठंड में मैं बीमार ही क्यों न हो जाऊं. शादी के बाद मेरा थ्रीसम सेक्स का मूड बन गया और चुदाई का माहौल बन गया था.

हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर इधर उधर सोचने के बाद मेरी नजर पापा जी (मेरे ससुर जी) के दोस्त चोपडा अंकल पर पड़ी. आखिरकार वासना की जीत हुई और मैंने मेरे घर का दरवाजा खोला, बाहर कोई नहीं देख कर खुशी से मैंने अपने घर का दरवाजा लॉक किया और अंकल के घर की तरफ भागी.

हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर हिरेन को इस बात का अहसास नहीं था कि उसकी बड़ी दीदी उस पर ऐसी नजर रख रही है. मैंने उसको बताया- मुझे जब भी मेरी चॉइस की लड़की मिलेगी, तो मैं अगले दिन ही शादी कर लूंगा.

मेरी सहेली कभी भी मेरे घर आ सकती थी, क्योंकि वो अपने घर की चाभी मुझे ही देकर गयी थी कि उसका पति अगर घर आए, तो मैं उसको चाभी दे दूँ.

धकाधक सेक्सी

चाची- मैं तुम्हारी कामयाबी से बहुत खुश हूं … मेरे घर में रहकर इतने अच्छे अंक लाए हो. मैंने अचकचा कर ऊपर देखा तो पाया कि वसुंधरा की आँखें तो अभी भी बंद ही थी, उल्टे अब तो वसुंधरा की सांसें भी कुछ-कुछ भारी हो चली थी और उस का निचला होंठ रह-रह कर लरज़ रहा था. इसके बाद जब भी हम दोनों को मौका मिलता था, हम चुदाई का मजा ले लेते थे.

अम्मी भी वहीं थी, अम्मी ने कहा- तुम दोनों हमारे कमरे में चले जाओ, हम तुम्हारे कमरे में सो जायेंगे. उसकी चुत गीली होने की वजह से पूरी कमर फच फच और आआहह की आवाज से गूंज रहा था. भाभी दो मिनट में ही ढीली पड़ने लगी और मैं भी भाभी की चूत में अपना लावा उड़ेल कर उसके ऊपर गिर पड़ा.

मैंने उसे एक हजार रुपये दे दिए और कहा- जब भी जरूरत हो, मांग लिया करो.

मैं उसको सहारा देकर बाथरूम ले गया क्योंकि इतनी भयंकर चुदाई के बाद उससे चला नहीं जा रहा था. मेरे सामने खड़ी औरत के जिस्म को नोंच नोंचकर चोदने का मजा लेने वाला था. चुदते हुए हीना के चूचे उसके ब्लाउज में झूल रहे थे जिनको साहिल कैद से आजाद करके उनका रस पीना चाहता था.

मेरे मुंह से जैसे ही उसने आहहह … की आवाज सुनी तो एकदम पीछे की तरफ देखा अचानक मेरे गिरे हुए पल्लू से उसे मेरे बड़े बड़े बड़े बूब्स नजर आए. मैं काम के नशे में चूर थी, उसने कब मेरे मुँह के अन्दर लंड डाला और कब मैं लंड चूसने लगी, कुछ पता ही नहीं चला क्योंकि ये काफी जल्दी हुआ. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:भाभी के साथ मजेदार सेक्स कहानी-2.

यदा-कदा मेरी उंगलियां वसुंधरा की नंगी कमर को छू जाती तो मेरे और वसुंधरा के पूरे बदन में कंपकपी की एक लहर दौड़ जाती. रोते रोते मेरी हिचकी बंध गयी थी और अंकल जी लगातार मुझे प्यार से समझाए जा रहे थे- सोनम बेटा, बस अब चुप हो जा!अंकल जी मेरा गाल चूम कर बोले उनका लण्ड मेरी चूत में किसी कांटे की तरह घुसा हुआ दर्द भरी चुभन दे रहा था.

इस तरह गांव जाकर मेरी चूत मारने की इच्छा पूरी हो गयी। अभी मैं फिर चंडीगढ़ वापस आ गया हूँ। देखो, अब कब तक कोई मस्त माल मुझे अपनी प्यास बुझाने को अपने पास बुलाती है। मेरा लण्ड तो इसी आस-उम्मीद में है।मुझे ज्यादा अच्छा उनकी सेवा करने में लगता है जो महिलाएं घर में अकेली रहती हैं या जिन्होंने तलाक ले लिया है. मैंने उनको बताया था कि मेरा पति मुझे रात में एक बार ही चोद पाता है. उसी दिन मैंने सोच लिया था कि किसी न किसी तरह अपने इस सेक्सी जवान भाई के लंड तक पहुंचना है.

और जैसे ही खड़ी हुई तो मेरे दोनों पैरों में और बुर, जो अब चूत बन चुकी थी, में दर्द हो रहा था.

उसकी बात से हम दोनों को होश आया और राधिका ने मेरी जांघ से उठकर अपने होंठ पौंछे. मेरी फीलिंग उसके प्रति न होने का कारण ये था कि उसके बोलने रहन सहन मुझे पसंद नहीं था. अब देर करना उचित ना लगा, मगर तब भी मुझे समझ नहीं आ रहा था कि आगे बात कैसे बढ़ाई जाए.

मैंने देखा कि ऋतु की गांड से एक तरल पदार्थ बह कर बाहर निकल रहा था जो उसकी चूत की तरफ जा रहा था. इस वाकये ने मेरी पूरी जिन्दगी में उथल पुथल करके रख दी।मेरे अब्बू के घर में मेरी अम्मी के साथ ही मैं और मेरी बीवी रहते हैं। मेरे अब्बू की उमर 50 साल है.

तभी भाभी मुझसे अलग हो गईं और बोलीं- ये क्या कर रहे हो?मैंने कहा- भाभी मुझे कुछ हो रहा है … आपको नहीं हुआ क्या?मैंने इतना कहकर भाभी को पीछे की और धकेला और सोफे पे गिरा दिया. फिर दो मिनट बाद वो हुआ जिसने अंदर मेरे अंदर काम की ज्वाला एकदम से ही भड़का दी. वो पूछने लगी कि मैं आज दिन में फ्री हूँ क्या?तो मैंने हां बोला, तो वो बोली- यार दो महीने हो गए जयपुर आये हुए … मैंने अभी जयपुर ही नहीं देखा है.

ஹோமோ செக்ஸ் வீடியோ

दर्द की वजह से श्वेता मैडम के मुँह से आह निकली, पर उसमें भी मादकता भरी हुई थी.

अंकल के घर के सामने खड़ी होकर मैंने डोर बेल बजायी …[emailprotected]कहानी जारी है. मैं झट से बाथरूम गयी और स्कर्ट पैंटी उतारकर चुत को मसलने लगी, चुत की दरार में उंगली अन्दर बाहर करने लगी. वहां पहुँच कर जैसे ही मैंने एक बार हॉर्न बजाया, तत्काल वसुंधरा ब्यूटी-पार्लर से बाहर निकल आयी.

तो हुआ ये कि मैं दो हफ्ते बाद एक दिन घर के बाहर बैठा एक दूसरी भाभी जो कि पड़ोस में ही रहती हैं, उनसे बात कर रहा था. जोन्स ने अपना एक हाथ मेरी जांघ पे रखा हुआ था और हल्के हल्के सहला रहा था. करीना कपूरचा सेक्सी व्हिडीओजैसे जैसे बटन खुल रहे थे, वैसे वैसे मेरी किस्मत के ताले खुल रहे थे.

उसने एक साड़ी का पैकेट मुझे दिया और कहा कि मायके में कोई परेशानी तो नहीं होगी ना?मैंने कह दिया कि कोई परेशानी नहीं, मायके में मैं मेरी ज़िंदगी अपने हिसाब से जी सकती हूँ, शादी के बाद थोड़ी आज़ादी हो गयी है मायके में. न जाने क्यों … उनकी इन गंदी बातें सुनकर गुस्सा आने की बजाय मेरी चुत गीली होने लगी। मेरे निप्पल भी खड़े हो गए थे और स्तन भी फूल गए थे। इस वक्त नितिन घर पर होता तो शेरनी की तरह उस पर झपटती!पर क्या रे … वो काम से गया हुआ था।मैंने निराश होकर दरवाजा खोला.

नीना कमरे से चली गई, तो उसकी आंखें मेरी चूचियों पर टिक गईं, जिससे मुझे उम्मीद हो गई. अब मैं भी चरम पर आ गया था- सीमा रस कहां लोगी … मुँह में या चुत में?सीमा- अन्दर ही निकालो आह!दस बारह धक्कों के बाद मैंने सारा रस उसकी चुत में छोड़ दिया. मैंने उसे बोला- अदिति मेरी जिन्दगी की कुछ सच्चाई है, जिसे मैंने तुम्हें अभी तक बताया नहीं है.

मुझे कभी भी कुंवारी लड़कियां पसंद नहीं आईं, क्योंकि वे नखरे बहुत करती हैं. तुम लड़कों का सही है, कुछ भी पहन लिया, हम औरतों और लड़कियों की फिटिंग का हमेशा प्रॉब्लम होता है, ब्लाउज का एक इंच भी कम ज्यादा हो गया तो दिक्कत हो जाती है।”चलो टीशर्ट ही सही है, यह भी काफी लंबा है. फिर मैंने कहा- गुड मोर्निंग … चाय बना लाऊं?अंशु बोली- नहीं कामिनी, आज चाय का मूड नहीं है। रात को तो हमारी शादी होगी और तेरी मम्मी भी होगी तो हम सोच रहे हैं सुबह तेरा प्रोग्राम कर दें। तो शराब ले आ और कुछ खाने को भी!ठीक है.

सौरव के लंड से चुदते हुए मेरी चूत ने दो बार पानी छोड़ा था जो मेरे लिए मजेदार अहसास था मगर चूत में बहुत दर्द हो रहा था।उसने मुझे कहा कि वह मेरी गांड का दीवाना है और मेरी गांड मारना चाहता है। मगर मैंने मना कर दिया। उसने मुझसे काफी जिद की पर मेरे कहने पर वह मान गया और उसने उस दिन मेरी गांड नहीं मारी.

मौसी की चूत में अपने तने हुए लौड़े को लगाकर मैं मौसी की छाती पर जैसे झूलने लगा था मैं. एक दिन जीतू मेरे घर आया और मेरी मम्मी किचन में काम कर रही थी तो जीतू मुझे मेरे बेडरूम में ले गया और मुझे किस करने लगा.

हमारा बचपन ज्यादातर गांव में ही गुजरा, पर मेरे एग्जाम के ठीक बाद पापा का ट्रांसफर शहर में हुआ और तभी मैंने शहर देखा. विकी से जब मैंने ये सब कहा, तो उसने मेरी चुदाई के लिए एक प्लान बना लिया. उसने मेरी मां की कमर पकड़ ली और उसे सहलाने लगा। मेरी मां कमर छुड़ाने की कोशिश करने लगी और वह आदमी अपने लंड को मां की गांड पर रगड़ रहा था।अब मां का प्रतिकार कम हो गया.

भाभी की साड़ी अब भाभी की चूत से सिर्फ 2 इंच ही नीचे थी लेकिन कम रोशनी होने के कारण मुझे यह नहीं समझ आ रहा था कि 2 इंच ऊपर जो कालिमा सी नज़र आ रही थी वो काले रंग की कच्छी थी या भाभी की झाटें थीं।मैंने साड़ी को थोड़ा और ऊपर उठाने की जैसे ही कोशिश की तो भाभी ने करवट बदली और साड़ी को नीचे खींच लिया. जब दिमाग में सेक्स चढ़ने लगा, तो मेरा मन चंचल हो उठा और मैं भाभी की कमनीय काया को लेकर उत्तेजित होने लगा. उसने बताया कि वो पास के गांव से है … और पापा की यहां जॉब की वजह से उन्हें यहां रहने आना पड़ा.

हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर वो चिल्लाने लगी- आह-आह … आह बस ऐसे ही और तेज पंकज …मैं लंड को तेज-तेज चुत में अन्दर-बाहर करने लगा. हाथ की गति इतनी तेज थी कि लंड में मिर्ची सी लगने लगी थी और हाथ भी दुखने लगा था.

सेक्सी good morning

अंकल ने अम्मी की चूत पर थोड़ा थूक लगाया और हल्के हल्के से अपने लंड अम्मी की चूत में उतार दिया. बहुत देर लगा दी? कहाँ रह गयी थी?वो … संजीवनी आंटी?”कौन संजीवनी?”वो … सामने वाली बंगालन आंटी”ओह … क्या हुआ उसे?”हुआ तुछ नहीं”तो?”उसने मुझे लोक लिया था?”क्यों?” मेरी झुंझलाहट बढ़ती जा रही थी।वो … वो मुझे घल पल ताम तलने ता पूछ लही थी?”फिर?”मैंने मना तल दिया. मैं मधु की दोनों टांगों को चूमने लगा और जब मैंने उसकी जाँघों को किस किया, तो मधु की आवाज मदहोश हो गयी.

एक बार फिर से दीक्षा के पीछे जाकर उसकी पूरे पीठ को चूमते तथा चाटते हुए कमर तक आ गया. हम दोनों ने साथ में शावर लिया और मैंने दीदी से कहा- हम कल तक हम घर में नग्न अवस्था में ही रहेंगे. विदेशी सेक्सी पोर्न वीडियोकिसी की कमर, तो किसी के बड़े-बड़े मम्मे, किसी का सेक्सी फ़िगर सब कुछ चैक करता.

फिर मैंने भी दो-तीन धक्के लगाये और भाभी की चूत के झाटों के ऊपर अपना माल गिरा दिया.

चाची जी धीरे से बोलीं- तुमने मुझे आज जो खुशी दी है, वह मुझे आज तक नहीं मिली, आज के बाद से मैं तुम्हारी दीवानी हो गई हूं. इससे पहले कि वह कुछ बोलती, मैं बोला- चलो यहां से, किसी सही जगह चलते हैं … वरना खड़े खड़े लोग शक करेंगे.

चूंकि हीना भी अपनी जवानी के चरम पर थी इसलिए लंड का स्वाद लेना उसके लिए बहुत जरूरी था. इसके एक साल पहले ही मैंने अन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़ना शुरू किया था. मेरे मन में चोर था कि कहीं आंटी ने मेरे वीर्य से सनी हुई पेंटी को देख लिया और उनको पता लग गया कि मैंने बाथरूम में आकर कुछ गड़बड़ की है तो पता नहीं क्या होगा.

सुचिता बोली- देख लो प्यार से रखना मेरी सहेली को … बड़ी नाजुक कली है.

अब मैंने उसकी चूत मारने का सोचा और उसकी दोनों टांगें फैला कर खूब सारा थूक उसकी चूत पर लगा दिया. जबकि हीना भी जानती थी कि साहिल समीरा के हाथ का नहीं बल्कि उसकी चूत का स्वाद चखना चाहता था. वैसे मेरी सहेली ने कई बार मुझे नंगी फिल्में दिखाई थीं इसलिए मुझे ये सब करने के बारे में पहले से पता था.

वीडियो सेक्सी वीडियो फुल मूवीअंतर्वासना की दुनिया एक ऐसी दुनिया है कि यहां बूढ़े भी अपना मनोरंजन कर सकते हैं. उसके मुंह से आह-स्स् … आह … साजिद निकल रहा था और वो अपने चूचों में मेरे होंठों को दबा रही थी.

सेक्सी वीडियो चूत चुदाई की

इस वक्त मेरा लंड रश्मि की चूत में था पर मुझे मेरे दिमाग में सिर्फ मधु घूम रही थी. मैंने उसे एक हजार रुपये दे दिए और कहा- जब भी जरूरत हो, मांग लिया करो. मगर एक दिन कुछ ऐसा हुआ कि उसके बाद चाची को लेकर मेरा नजरिया ही बदल गया.

रीना- क्या मतलब? मैं समझी नहीं!बॉस- अरे बाबा! छोड़ो ना … बताओ कैसा लग रहा है? शिमला पहले कभी आयी हो पति के साथ?रीना- कहाँ सर … इनका तो शॉप है कंप्यूटर की … आजकल पूरा वक़्त उसी में दे देते हैं. इससे पहले कि वह कुछ बोलती, मैं बोला- चलो यहां से, किसी सही जगह चलते हैं … वरना खड़े खड़े लोग शक करेंगे. हम दोनों कार में बैठे, तो मैं बोला- क़ातिल तो आज मेरे साथ वाली सीट पे बैठा है.

रात बारह बजे ये कमरे में आये, दारू पिये हुए थे, मेरे बगल में लेट गये और मेरी चूचियां मसलने लगे. पहली बार मेरी चूत में किसी पुरूष का लंड गया था जिसका स्वाद मुझे बहुत मजा दे रहा था. विक्की के लेटते ही मैंने विक्की की तरफ पीठ करके उसके लंड पर चूत रख दी और पूरा लंड अन्दर डलवा लिया.

सीमा- रॉबी, आज जितना मज़ा तुमने दिया, उतना कभी नहीं आया … थैंक्स रॉबी. जो हाल चंडीगढ़ में मेरा था, कुछ ऐसा ही हाल शायद भाभी का भी हो रहा था.

आज सर्दी भी बहुत है इसलिए सिर्फ एक कम्बल से काम नहीं चल पायेगा शायद.

तब मैं उससे रोजाना हंसी मजाक की बातें करने लगा और तब वो मुझे देखती और मुस्कुरा देती थी. एक्स वीडियो एक्स एक्स एक्स सेक्सीचुत पर मेरे होंठ लगते ही वो मेरा सर अपनी चूत पर दबाने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… उंह … उमह!मैं चुत के दाने को चूसते हुए वोडका उसकी चूत में भरने लगा. गतराड़ा की सेक्सीउसकी गोरी-गोरी जांघों पर जवानी के भूरे-भूरे बाल आने शुरू हो गये थे. हम दोनों अपने काम पर लग गए, क्योंकि हमारे मिलन को दो घंटे खाली मिले हुए थे.

पॉर्न देखते देखते मेरे लंड ने खड़े होकर मेरी पैंट को तंबू बना दिया था.

उसके ब्लाउज के ऊपर के दो बटन खुले हुए थे, जिस वजह से उसके चुचे आधे बाहर दिख रहे थे. वो तुम्हारी सादगी और जो भी तुम्हारे दिल में है वो तुम्हारे चेहरे पर भी है, जिसे कोई भी पढ़ सकता है।उसने बताया- जब लड़के मुझे देखते हैं तो उनकी नज़रों में मुझे मेरे लिए वासना दिखती है. वो- जब सब कुछ देख लिया, तो क्या शर्माना … वैसे तुम भी तो सब देखना चाहते थे ना … अब जी भर के देख लो.

मैंने मोबाइल एक तरफ किया और अपनी जीभ उस सुराख के अन्दर डालकर चलाने लगा. फिर आह-आह करते अचानक वो सुस्त पड़ने लगी, मुझे लगा कि उसका माल निकल गया है. मैं हमेशा सोचता था कि कोई मस्त लंड मिल जाए … तो उससे बहुत देर तक खेल लूं.

गांव की महिला सेक्सी

फ्लैट के अंदर आते ही सीमा राहुल चिपट गए और फिर तो उनके बढ़ते कदम बेड पर ले जाकर ही रुके. आंटी भी शायद चुदने को तरसती थी।ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि इतने दिनों के बाद जब पति घर आये तो वह भला कैसे अपनी चूत को लंड के बिना शांत रखती होगी. उसने बहुत कोशिश की कि मैं लंड बाहर निकाल लूँ, लेकिन मेरी पकड़ मजबूत थी, सो मैंने लंड को बाहर निकलने ही नहीं दिया.

लंड बैठना शुरू ही हुआ था कि मेरे बेबस लंड पर एक और प्रहार हो गया जिसकी मुझे उम्मीद कतई नहीं थी.

मैं मन ही मन हंस रहा था कि सीमा भाबी भी कितनी बड़ी चुसक्कड़ निकली, कहां तो लंड चूसने में कतरा रही थीं और कहां मेरे लंड का रस चाट कर साफ़ कर दिया.

उसके बाद वो मेरे कुछ कहे बिना ही पेट के बल लेट गई और बोली- प्लीज़ धीरे धीरे घुसाना. मगर जिसने भी लंड मुंह में देकर चुसवाया है वो जान पाएगा कि मुझे उस वक्त कैसा लग रहा होगा. भाभी की चोदने वाला सेक्सीमेरी तरफ से ग्रीन सिग्नल मिलने के बाद अंकल का डर खत्म हो गया, वो बिंदास मेरी मचलती हुई जवानी को निहारने लगे.

पहली बार जब भाभी को शादी वाले दिन चोदा था तो इतना मजा नहीं आया था मगर आज जब भाभी पूरी नंगी थी और मैं भी पूरा नंगा था तो चुदाई का मजा भी अलग ही आ रहा था. आज तक सिर्फ पॉर्न मूवी में देखा था, पर अब उस पल को महसूस कर रही थी. अब मैंने उसके पूरे मम्मे को मसलते हुए मुँह से तेज तेज चूसना शुरू किया.

उसके बाद जब वो चले गए, तो रश्मि मेरे पास आई और मेरी गोदी में बैठ गयी. जब वो कई बार नहाकर आता था मैं उसके लंड के साइज को आंखों ही आंखों में नापने की कोशिश करती थी.

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और फिर सनी जी को कुछ इशारा किया, तो सनी जी पीछे से आ गये.

न जाने क्यों … उनकी इन गंदी बातें सुनकर गुस्सा आने की बजाय मेरी चुत गीली होने लगी। मेरे निप्पल भी खड़े हो गए थे और स्तन भी फूल गए थे। इस वक्त नितिन घर पर होता तो शेरनी की तरह उस पर झपटती!पर क्या रे … वो काम से गया हुआ था।मैंने निराश होकर दरवाजा खोला. मेरी बीवी को ज्यादातर टाइट कपड़े पहनने का ही शौक है इसलिए उसका फिगर उसके कपड़ों में बिल्कुल साफ पता चल जाता है. मैंने उसकी ओर देखा तो वो एकदम बोला- पाना!मैंने कहा- क्या?पाना पकड़ना है पाना!” वो हिम्मत करके बोला।:पाना?” मैं उसकी ओर देख कर बोली.

मोटी सेक्सी ब्लू उन्होंने पांच मिनट तक लंड मेरे मुँह में ही रखे, फिर बाहर निकाल कर पौंछने लगे. फिर एक दिन शाम के समय आंटी बोली कि मेरे साथ बाजार चलना, मुझे कुछ सामान खरीदना है.

मैंने सोचा कि शायद अब्बू को पता चल ही जायेगा और वे खुद ही उठ कर बाहर आ जायेंगे. वो बोले- आप घोड़ी बनो, मुझे ऐसे करने में बहुत मजा आता है … लेकिन मेरी बीवी करने नहीं देती. उसका लंड बार-बार झटके देकर मेरी जांघ को छू रहा था जैसे वो मेरी जांघ में छेद ही कर देगा.

மலையாள வீடியோ செக்ஸ் படம்

उस दिन से उसके बाद वह जब-जब नहाता, मैं रोज उसे खिड़की से झांक कर देखता. उसके बाद उसने ऑयल की बोतल ली और तेल को मेरे दोनों बूब्स पर डाल दिया. मैं जानता था कि हीना से रूबरू होने के बाद साहिल खुद पर ज्यादा देर तक काबू नहीं रख पाएगा.

लग रहा था कि एक-दूसरे में समा जाएंगे। वो मेरे होंठों को ऐसे पी रही थी जैसे कि खा ही जाएगी. थोड़ी देर बाद मेरे कान के पास आकर बोली- भाई मेरा भी मन करता है लेकिन किसी को पता न चल जाये इसलिए ख़ानदान की इज्जत की वजह से मैं हमेशा अपने ऊपर कंट्रोल कर लेती हूं। आप मेरे भाई हो इसलिए मैंने आपको ये सब बात बता दी। लेकिन हमारे बीच में ऐसा कुछ नहीं हो सकता.

नमस्कार दोस्तो, मैं देव कुमार जयपुर से आपके लिएआंटी की प्यासी जवानी मांगे लंड-1से आगे का भाग लेकर आया हूँ.

मैं नीचे की तरफ ही था कि उसने मेरी गर्दन को पकड़ा और अपना लंड मेरे मुंह में दे दिया. नम्रता- हां याद है तुमने मुझसे मेरी चूत का रस चाटने के लिए मांगा था. अब मैंने परवीन का मुँह अपने खड़े लंड की तरफ किया, तो उसने थोड़ी नानुकुर के बाद मान लिया.

मैंने मुस्कुराते हुए उनके गाल पर एक किस किया, तो उन्होंने भी मेरे गाल पर किस किया और एक हाथ स्कर्ट के अन्दर डाल कर मेरी चुत को पैंटी के अन्दर से सहला दिया. राधिका ने विजयी मुस्कान के साथ कहा- मैं चाहती हूँ सोनल कि अब तुम राज की जांघ पर बैठकर राज को किस करो. बेड पर पटकने के बाद एक ही झटके में उन्होंने कोमल के स्कर्ट और चड्डी को उतार दिया.

मैंने कहा- नैना कितने दिनों से भूखी हो?वो बोलीं- बहुत दिनों से … मेरे उनसे कुछ होता ही नहीं … आकर खाना खाकर सो जाते हैं, इसलिए तो मैं तुम्हारे पास आ गयी हूँ.

हिंदी बीएफ पिक्चर बीएफ पिक्चर: फच-फच की आवाज तेज हो चुकी थी, मेरे धक्के के कारण रेखा का जिस्म हिल रहा था और साथ ही उसकी चुचियां भी हिल-डुल रही थीं. वो दर्द से तड़पने लगी थी, पर मैं ठहरा मेडिकल स्टूडेंट, मुझे सब पता था कि पांच मिनट में यही लौंडिया गांड उठाकर चुदने लगेगी.

वह मेरी मां को देखकर मुस्कराया और वहां से चला गया। मेरी मां शर्म से पानी-पानी हो रही थी. लगभग पंद्रह मिनट के बाद ताऊ जी चाची से बोले- कोमल अब जवान हो गई है. आप जीत गये।मुकुल राय- अरे मेरी जान … तूने इतनी जल्दी कैसे हार मान ली। अभी तो शुरूआत है। देखना आगे आगे मैं क्या करता हूँ।इतना बोलकर मुकुल राय अपने दोनों हाथ परीशा की पीठ पर रखकर उसकी ब्रा का स्ट्रिप्स को खोल देता है और अगले पल परीशा झट से अपने गिरते हुए ब्रा को दोनों हाथों से थाम लेती है।मुकुल राय अगले पल परीशा के ब्रा को पकड़कर उसके बदन से अलग कर देता है और परीशा भी कोई विरोध नहीं कर पाती.

आह्ह … आह्ह … आआ … आह्ह … दोगुनी तेजी के साथ हाथ को लंड पर चलाने लगा.

मैंने हां में सर हिला दिया मगर अंदर से अज़ीब सा डर था कि मैं कहाँ फंस गई आज!जोन्स मुझे बहुत ही गन्दी निगाह से देख रहा था जैसे खा ही जाने वाला था मुझे!बॉस के ऊपर आज बहुत गुस्सा भी आ रहा था कि मुझे किसके साथ छोड़ के चले गए. ”मैंने उन्हें अंदर बुलाया, सोफे पर बिठा के उन्हें पानी दिया, दोनों लगभग नितिन की ही उम्र के थे।” सॉरी भाबीजी … आप को खामखा तकलीफ दी. इस तरह अब रोज ही सोनल मुझे पार्क में मिल जाया करती थी और मैं उसके इर्द-गिर्द मंडराता रहता था.