सनी देओल बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,हिंदी में सेक्सी पिक्चर देखना

तस्वीर का शीर्षक ,

16 साल की लड़कियों का: सनी देओल बीएफ सेक्सी, मैं पहले भी कई बार चुद चुकी हूं लेकिन उनका लंड इतना बड़ा था कि मुझे काफी दर्द हुआ और मैंने अजय की पीठ पर अपने नाख़ून गड़ा दिए.

पता नहीं कौन सा नशा करता गाना

शायद आप मुझ भूल गए हो, तो मैं आपको फिर से अपने बारे कुछ में बता देना चाहता हूँ. கேரளா செஸ்जब मैं चलने लगा तो मैंने अपना हाथ सोनू की तरफ बढ़ाया, सोनू ने मेरे हाथ को पकड़कर हाथ मिला लिया.

पुनीत जी मुझे लगता है, मेरी चूत फट गयी है पीछे भी लगता है मेरी गांड को चीर फाड़ दिया है. सेक्सी ओपन अंग्रेजीप्रमिला बोली- हां यार … ये तो सच में घोड़ा ही है … तभी तो अन्नू और डोली ने इसे अपने साथ रखा हुआ है.

उसको देख कर कोई कह ही नहीं सकता था कि यह साली 3 बच्चे पैदा कर चुकी है.सनी देओल बीएफ सेक्सी: पायल की चूत से मैंने अपना लंड बाहर खींच लिया तो तुरंत ही पायल ने कहा- आपने अपना लंड बाहर क्यों निकाला है? डालो ना … मुझे मजा आ रहा है.

और हां, मैं आपको यह भी बताना चाहूंगा कि मेरी पिछली कहानी और यह कहानी मेरी जिन्दगी की सच्ची घटनाएं हैं.दोस्तो, यह थी मेरी और बुआ की बेटी , मेरी फुफेरी बहन वंदना की बुर गांड चुदाई की कहानी.

गांव का सेक्सी वीडियो एचडी - सनी देओल बीएफ सेक्सी

कुछ देर मैम की गांड मारने के बाद मेरा काम होने वाला था, तो मैं उनकी गांड में ही झड़ गया.कुछ देर रुक कर अजय ने एक और जोरदार झटका मारा और उनका सारा लंड मेरी चूत में समा गया और मैं दर्द के मारे चिल्ला उठी.

इतना कहने की देरी थी कि उसने तुरंत मेरा पल्लू खींच कर नीचे कर दिया और मेरे तने हुए स्तनों को ऐसे देखने लगा जैसे कोई वहशी कुत्ता हो. सनी देओल बीएफ सेक्सी बाद में हमें नींद आने लगी, तो हम दोनों भी एक दूसरे की बांहों में सो गईं.

रवि उठ कर सीधे हो गए और मुझसे बोले- थोड़ा कमर पीछे घोड़ी स्टाइल में ऐसी कर लो.

सनी देओल बीएफ सेक्सी?

ऊपर से नेहा जोर जोर से सांसें ले रही थी, जिससे उसकी मुनिया में संकुचन व प्रसारण भी हो रहा था. मैं उसके अहसास को महसूस करने लगा था और मेरा लण्ड पैंट में तनाव में आना शुरू हो चुका था. तो मैंने दुबारा और क्रीम लगा कर एक झटका मारा, तो टोपा अन्दर घुस गया.

जैसे ही मैंने उसके ऊपर की चमड़ी को खींच कर पीछे किया, सुपारा खुल गया. इस बीच वो अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ रही थी, जिससे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. उन्होंने कहा- लेकिन तुम तो इतने बड़े हो गए हो और अच्छे भी लगते हो … फिर क्यों नहीं है?मैंने सहज भाव से कहा कि आज तक मैंने कभी भी ऐसा सोचा भी नहीं था.

दोस्तों आज पहली बार में उसकी चूत की चमड़ी को अपने लंड की चमड़ी पर रगड़ते हुए देख रहा था और मैं आपको बता नहीं सकता कि मुझे उस समय कितना मज़ा आ रहा था. मैं- गजब … क्या बात है और भैया कहां हैं?भाभी- वो आज घर पे नहीं हैं. नमस्कार दोस्तो, कैसे हैं आप लोग! मेरा नाम समीर खान है, मैं उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर से हूँ.

थोड़ी देर चूसने के बाद वो अपने घुटने मेरी कमर के अगल बगल बेड पर टिका कर बैठ गयी. उसके साथ के मर्दों को जबरदस्ती जगाना पड़ा कि भैया उतरो, स्टॉप आ गया है.

मैं चाची की चूत की तरफ बढ़ा और मैंने चाची की टांगों को चौड़ी करके उनकी चूत पर अपने लंड का सुपाड़ा रगड़ना शुरू कर दिया.

यह मैंने कई लड़कियों सील तोड़ते हुए महसूस किया कि अगर सही तरीके से किया कोई दर्द नहीं होता.

स्कर्ट इतनी छोटी थी कि जब वह चेयर पर बैठी तो उसकी स्कर्ट और थोड़ी पीछे हो गई और उसके पट और ज्यादा दिखाई देने लग गए. उसके बाद जब सोनू खड़ी हो गई तो मैंने खड़े होकर उस को बांहों में लिया और उसे होंठों पर किस कर लिया. फिर उनको प्यार से सहलाते हुए और उनके होंठों पर किस करते हुए मैंने कहा- आय लव यू खाला … आपको चोद कर मैं धन्य हो गया.

पहली बार मैंने उसे छुआ था और मुझे महसूस हुआ कि मेरे छुअन से उसका शरीर सिहर उठा था. मैंने कहा- तुम डरो नहीं जान, बस एक बार दर्द होगा उसके बाद तुम्हें मज़ा आने लगेगा. बस क्या था, दोनों ओर से ‘डन’ होने के बाद सब्जियां समेटते हुए नीना अपने नए-नवेले चोदूशेर प्रशांत को लेकर बेडरूम में चली गई.

अभी आँख लगी ही थी कि तभी एक सुंदर सी और बहुत ही खूबसूरत लड़की मेरे पास आई और उसने मेरी नींद खराब कर दी.

फिर पापा 69 की पोजीशन में आ गये और मॉम की चूत चाटने लगे और मॉम पापा का लण्ड चूसने लगी. इस समय के दौरान मेरा मन ऐसा करता था कि कोई आए और मेरी चूत फाड़ दें।मेरे पति जब वापस आए तो करीब रात के 9:00 बजे होंगे. एक दिन सोनू की मम्मी मेरे कमरे में आई और मुझसे पूछने लगी- सोनू की पढ़ाई कैसी चल रही है?मैंने कहा- बहुत अच्छी चल रही है.

मैंने उसके अलग-अलग तरह की पोज में चोदने का मजा देना चाहा मगर वह उन सब आसनों में ज्यादा सहज नहीं हो पाती थी. भाभी बोली- चोद मुझे! और ज़ोर से चोद … ह्ह्ह् … अम्म्म … अह्ह्ह्ह!मैं वैसे ही उसको चोदता रहा. फ़िर वो मेरे पेट से नीचे की तरफ़ बढ़ी और उसका गाल मेरे लंड पर छुलने लगा.

आप में से जिन स्त्री पुरुषों का यौन जीवन एक ही साथी तक सीमित है, वे यौनांगों की विविधता और खूबसूरती से अनभिज्ञ हैं.

मनीषा- कोई तो बात है अब बोलो भी?मैं- एक बात पूछूँ?मनीषा- हाँ जरूर!मैं- तुम्हारा बॉयफ्रेंड मुझसे अच्छा था क्या शक्ल सूरत या सेक्स करने में?मनीषा- नहीं … शक्ल सूरत तो उसकी ठीक ठीक थी पर सेक्स में तुम उससे काफी बेहतर हो. मैं- मैडम, मज़ा आ रहा है ना, आप तो इतने में ही रोने लगी हैं, मानो पहली बार किसी मेहमान ने आपकी चूत का दरवाजा खटखटाया हो.

सनी देओल बीएफ सेक्सी उधर मॉम तो चिल्ला भी रही थी- अआहह हहह … और तेज चाटो हहह … ससस हहह हहह …और तेज!लेकिन मैं तो चिल्ला भी नहीं पा रही थी. कॉलेज खत्म होने के टाइम मैंने उससे कहा- अब निकलो … वरना मेरे घर पर भी कोई आ सकता है और हमें देख कर समझ जाएगा कि हमने आज कॉलेज से बंक किया है.

सनी देओल बीएफ सेक्सी नुपूर अचानक से उछल गयी लेकिन मैंने उसको छोड़ा नहीं और चुत में जोर जोर से दोनों उंगलियों को अन्दर बाहर करने लगा. हमें कसके पकड़ लेना अगर डर लगे तो!मानसी- ठीक है।मेरा लंड और खड़ा होकर धोती से उछलने लगा.

मगर वह तो मेरे लंड को ऐसे चूसने में लगी हुई थी जैसे कुछ सुनाई न दे रहा हो उसे.

बीएफ इमेज बीएफ

उसने कहा- अरे यार यह क्या किया … मेरा मुँह खराब कर दिया … इधर उधर ही छोड़ देते. जब मेरा लंड फिर से टाइट हो गया तो भाभी कहने लगी कि अब मुझे तुम्हारे लंड को चूत में महसूस करना है. दस-बारह अप-डाउन के बाद प्रशांत को शरारत सूझी और बात नीना के कंट्रोल से बाहर हो गई.

उसे देख कर मेरे दोस्त उसे देख कर आपस में बात करने लगे थे कि मस्त माल है … यार चुदाई के लिए मिल जाए तो सारी रात चोदेंगे. हम दोनों करीब बीस मिनट सेक्स करने के बाद झड़ गए और हम दोनों का एक साथ पानी निकल गया. मैंने धीरे से सोनू के टॉप में हाथ डालकर उसके पेट को सहलाया, बहुत ही चिकना और मुलायम पेट था.

फिर मैं ही उठ गई किधर गयी चुड़ैल…” मैं मन ही मन उसे गाली देते हुए उसे ढूंढने लगी.

मैंने सोनू से कहा- सोनू हम अपनी फ्रेंडशिप की शुरुआत कैसे करें?सोनू ने कहा- मुझे नहीं पता, आप ही बताओ?मैंने कहा- ठीक है, पहले हाथ मिलाओ और फिर खड़ी हो जाओ. मैं भी अहह … अहह … करते करते उसकी चूत में झड़ गया और एक मिनट तक उसके ऊपर ही लेटा रहा. वो सोती हुई भी बहुत मासूम लग रही थी। उसके मासूम चेहरे को देखकर मेरा लण्ड टाइट होना शुरू हो गया था लेकिन अभी मैं उसके साथ कुछ भी नहीं कर सकता था क्योंकि मुझे नहीं पता था कि उसके मन में क्या चल रहा है.

भाभी ने लगभग 10 मिनट तक मेरे लंड को मुंह में लेकर जबरदस्त तरीके से चूसा और मैंने अपना माल भाभी के मुंह में छोड़ दिया. इसके बाद भी कई बार हम लोगों ने जिस्मानी आनन्द लिया और मेरे सपनों का राजकुमार मैंने पा लिया. और मज़ाक में यह भी कह दिया कि वो अब हमारी बेबी को लेकर ही वापस आएगी.

नूपुर भी इठला कर बोली- अच्छा बेटा … ठीक है … आप अभी मेरे मजे ले लो … असली मजे तो मैं आपके लूँगी, यहां आने के बाद फिर मैं भी बताती हूँ आपको. दो पल बाद जैसे ही उसने अपना लंड बाहर निकाला, तो ऐसा लगा कि उसके लंड ने मेरी गांड का कोई पार्ट निकाल लिया हो.

नैना इतनी गरम हो चुकी थी कि उसकी पैंटी उसकी चूत के पानी से गीली हो गयी थी. फिर अचानक वो मेरी तरफ घूम गयी और उसने कहा- अब तक मेरे हज़्बेंड के सिवाए कोई और पराया मर्द, मेरे इतने करीब नहीं आया है … पता नहीं क्यों पर मुझे आपका स्पर्श अच्छा लगता है. यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है, यह एक सच्ची घटना है, जो मेरी मॉम के साथ की है.

अब तक मैंने जितनी भी औरतों के साथ सेक्स किया है, रुबीना के जिस्म की बात सबसे अलग थी.

मेरा दूसरा हाथ मामा की छाती पर था और मैं मामा के कान के पास जाकर अपने मुँह से आह. नेहा- किसने कहा ऐसा?उसने मेरे हाथ से फ़ोन लिया और पोर्न साइट खोल कर एक लेस्बियन वीडियो चला के मेरे हाथ में मोबाइल दे दिया. मन तो मेरा भी है, लेकिन करूँ क्या?तब मेरे मित्र ने मुझे सुझाव में कहा- देख यार, कोई भी पराई औरत खुद तुझे नहीं कहेगी कि आओ और मुझे चोद दो, इसके लिए तुम्हें ये जानना होगा कि तुम्हारा स्पर्श उसे अच्छा लगता है या नहीं … अगर कोई आपत्ति नहीं है, तो फिर मजे ले लो.

वो भी मजे में मूड में हंस कर बोली- लो अब मैंने क्या किया मास्टर जी?कौशल्या जी आपके हाथ की चाय मुझे हमेशा मेरी पत्नी की याद दिला देती है, इसी लिए मैं हमेशा चाय पीने आपके घर आ जाता हूँ … आपको परेशान करने. मगर मेरे हाथ की उंगलियां स्वतंत्र थीं … जिनसे मैंने अन्दर ही अन्दर धीरे धीरे उसकी मुनिया को मसलना शुरू कर दिया.

लेकिन उनका लुक एक गांव के जवान देसी चोदू ग्वाले जैसा लग रहा था, जो नग्न अवस्था में पशुओं को खाना पानी दे रहा था. मैंने भी कुछ खास मना नहीं किया।फिर वे मेरे होंठ चूसने लगे, कभी मेरे निप्पल दबाते, कभी मेरी चूत पर हाथ फेरते। मैं खूब गर्म हो चुकी थी मैंने उनसे कहा- अब चोद ही डालो ना मुझे।तब हम दोनों चुदाई में मगन हो गए. आप ऐसा कीजिये कि आज रात तक यहीं पर ठहर जाइए, सुबह होते ही आप बस में बैठ कर चली जाना.

बीएफ यूपी वाला

इतने में अभिषेक आ गया, उसे देखते ही सन्नी उसमें इतना खो गया कि मुझसे कोक पूछना ही भूल गया.

वो बेड पर सीधी लेटी हुई थीं, उनकी एक टांग मेरे हाथ में और दूसरी टांग बेड पर रखी हुई थी. चाची ने कहा- मुझे खाना बनाना है।मैंने चाची के बेटे अंकुर से कहा- तुझे पढ़ाई नहीं करनी है क्या … जा ऊपर जाकर पढ़ाई कर ले. थोड़ी देर चिपके रहने के बाद रमीज का लौड़ा सिकुड़ कर छोटा हो गया और वह उठ कर मुझे छोड़ के कपड़े पहनने लगा.

मैं बोला- दीदी उससे मुझे मेरी किताब वापिस लेनी है, आप जरा निकाल दोगी?वो बोली- रुको … तुम्हारे जीजा को टिफ़िन पैक करके दे दूँ, फिर तुम्हें दे दूँगी. मैं भी अपनी सहेली के पति से बात करते करते खुल गयी थी और वो भी मुझसे खुलकर बातें करने लगे थे. सेक्स ओपन हिंदी मेंअभी टोपा ही अन्दर गया था कि मैम चिल्लाने लगीं और उनकी आंख से आंसू आने लगे.

कहानी के पिछले भागदेहाती मामा के साथ मेरे अरमान-1में आपने पढ़ा कि रवि मामा के लंड की तलब ने मुझे पागल सा कर दिया था और कई साल के इंतज़ार के बाद मैं उनसे अपने दिल की बात कह पाया था. मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड से भी चुदवाती हूँ लेकिन मेरी इस सहेली के भाई का चोदने का अंदाज कुछ दूसरा था.

उसको देख कर कोई कह ही नहीं सकता था कि यह साली 3 बच्चे पैदा कर चुकी है. मर्द के लौड़े का रस काफी मजेदार होता है जिसका मैं पूरा स्वाद ले रही थी. उस बुड्ढे ने जैसे ही मुझे देखा तो बोला- रमीज तू कैसे इतनी तारीफ कर रहा था कि वो लड़की नहीं कयामत है.

लंड चूत की फांकों में जैसे ही सैट हुआ तो मेरे पति ने एक हल्का सा धक्का मार दिया. साथ ही मैंने अपने एक हाथ से उनके चुचों को भर लिया और उनको नींबू की तरह निचोड़ने लगा, उनके निप्पल को उंगलियों से रगड़ने लगा. नुपूर अचानक से उछल गयी लेकिन मैंने उसको छोड़ा नहीं और चुत में जोर जोर से दोनों उंगलियों को अन्दर बाहर करने लगा.

लचकती 24 साइज़ की पतली कमर और बाहर को निकली हुई 36 की साइज की गांड.

वो सिसकारियाँ भरने लगी- आहहा आआह हाआह ह!फिर मैंने लंड निकाल लिया तो वो बोली- क्या हुआ जान?मैं बोला- यहाँ नहीं रानी, बिस्तर पर ही मज़ा आएगा. उसके बाद मैंने चाची को अपने ऊपर बैठा लिया और चाची मेरे लंड पर बैठकर उछलने लगी.

नेहा के हाथ अब अपने आप ही फिर से मेरे सिर पर आ गए और मेरे बालों को सहलाते हुए वो मुँह से हल्की हल्की सिसकारियां निकालने लगी. मैंने घूमकर बाजू में सोई सोनल के बदन पर हाथ डाला तो पता चला कि वह बेड पर नहीं है. मजबूत शरीर और मूछों पर ताव देते हुए बोला- रेशमा कैसी हो, अन्नु कैसी हो?हमने कहा- हम तो ठीक हैं.

वो रात रात भर मुझे दिखने लगी और मेरा मन अब उसे चोदने के लिए बेकरार होने लगा. ये सुनकर अनवर ने अपना लंड हाथ से पकड़ कर मेरी चूत के छेद में रख दिया और फंसा के बोला कि अब तू ठीक से संभल जा, मैं तेरे अन्दर डालने वाला हूं. मेरी सहेली मुझसे बड़ी चुदैल है, वो अपने बॉयफ्रेंड्स से चुदवाने के लिए होटल तक में चली जाती थी.

सनी देओल बीएफ सेक्सी उसको हम दोनों से फिर से चुदने का कहते हुए बताया कि एक साथ दो लंड चूत में लेने में बहुत मजा आया … जल्दी ही फिर से दोनों लंड एक साथ लूँगी. भाभी के जालीदार ब्लाउज के नीचे उसकी लाल रंग की ब्रा की भी झलक मुझे दिखाई दे रही थी.

बीएफ भोजपुरी वीडियो हिंदी

मेरी चूत से भी अपना मुँह हटा कर उठा, अपने कपड़े पहने और बाहर चला गया. यह बिल्कुल सच्ची कहानी है। मैं आशा करता हूँ कि यह स्टोरी आपको बहुत पसंद आएगी. मैंने उनको घुटनों के बल लेटने को कहा तो उन्होंने कहा- यहाँ नहीं, बाथरूम में नहाते हुए!मैं बाथरूम में पानी में उनकी चूत चोदने लगा और उनके मम्मों को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा.

पति के पास जाकर भी मैं क्या करती, मैं तो उनसे चुदाने ही जा रही थी, मेरा काम पहले ही हो गया और ज्यादा मजेदार तरीके से!दोस्तो, मेरी सामूहिक चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, मुझे मेरी ईमेल आईडी पर बताना. उसकी स्कर्ट से उसके भरे हुए पट और सुडौल पिंडलियाँ बहुत सेक्सी लगती थीं. सेक्सी फुल वीडियो मेंजैसे ही कोटा आने वाला था, तो मैंने नूपुर को कॉल किया, उसने बोला- ओके, मैं घर से निकल रही हूं.

मैंने ललिता को प्यार से उस पर लिटा दिया और उसके होंठों को किस करने लगा.

फिर मैंने कपड़े से उसका खून साफ किया और धीरे धीरे उसकी चुदाई चालू कर दी. एक तेज ‘आआह …’ के साथ उसकी पकड़ थोड़ी ढीली हुई और हमारे होंठ भी अलग हो गए.

मेरे एक दोस्त वहां के लोकल दलाल का मोबाइल नम्बर दिया, मैंने उसे कॉल किया और उससे मिलने गया. फिर वो दौड़ता हुआ बाथरूम में गया और वीर्य थूक कर कुल्ला करके वापस आ गया. जैसे ही आमना-सामना हुआ, तो पहले दोनों मुस्कुराए, फिर दोनों ही ठहाके लगाकर हंस पड़े.

मैं उसकी टांगों के बीच में से निकल कर साइड में आया, तो उसने मेरे जॉकी में से मेरा लंड पकड़ लिया और उसको मसलने लगी.

कुछ देर इस पोजीशन में चोदने के बाद मैंने सबीना आंटी को अपने ऊपर ले लिया- साली मादरचोद रंडी … तेरी मोटी गांड आज बजा के रख दूंगा कुतिया छिनाल. रवि मेरी चूत में पूरी ताकत से लंड डाल के अन्दर बाहर रगड़ रगड़ कर चुदाई करने लगे. वो मुझसे बोला- वन्द्या तुम बस आज जमके मेरा लंड चूसो और मैं जी भर के तुम्हारी चूत चाटूंगा.

सेक्सी एचडी मूवी हिंदी मेंयह सुनकर अब गैब्रियल मेरी गांड में अपना लौड़ा बहुत कड़क करके और पूरी ताकत से अन्दर बाहर करने लगा और वो अपने मुँह से आवाज तेजी से निकालने लगा. उनको देखा तो मुझे कंट्रोल नहीं हुआ और मैंने सारिका को अपनी तरफ खींच लिया और अपने करीब लाकर उसके होंठों पर किस करना शुरू कर दिया.

सेक्सी फिल्म वीडियो बीएफ ब्लू फिल्म

मैंने भी कहा कि हां मैं भी आपसे काफी दिन से बात करना चाह रहा था, लेकिन मुझे बिना किसी जान पहचान के आपसे बात करना थोड़ा ठीक नहीं लग रहा था. जब मैं सुहागरात के समय अंदर अपने कमरे में गया तो मेरी नयी-नवेली बीवी प्रियंका पहले से ही अपने कपड़े बदल कर तैयार बैठी थी. एकता बोली- क्यों तेरा शोना नहीं मिला क्या इतने दिन?ये कह कर वो मुस्कुराने लगी.

जब मेरा लंड उनकी चूत के अन्दर पूरा समा जाता था, तो हम दोनों की आह निकल जाती थी. कोई पैंतीस चालीस साल का मुस्टंडा वह आदमी इतना तो समझता था कि केवल दूध पीने पिलाने की बात नहीं है. मैंने उससे पूछा- स्वीटी, तुम्हें अपने कमरे पे ले चलूँ?उसने हां में सर हिला दिया.

प्रमिला बोली- हां यार … ये तो सच में घोड़ा ही है … तभी तो अन्नू और डोली ने इसे अपने साथ रखा हुआ है. मेरे दोस्त ने मेरी बहन की चूत चुदाई करके अपने लंड का माल उसके मम्मों पर गिरा दिया. अब मैं और आनन्द हम दोनों ने पूजा की चूत में एक साथ लंड डाले हुए थे.

मेरा उनकी चूत की दरार में अन्दर जीभ पेलते ही वो जोर से चिल्ला उठीं- आआहह … ओमम्म्म … चाटो ना जोर से … इस्स्स … उहह …वे मचलने लगीं और अपनी गांड को इधर उधर घुमाने लगीं. उसकी इस बात को सुनकर मुझे अपनी मॉम का ख्याल आने लगा और मैंने उससे इस बारे में कुछ चर्चा की, तो उसने मुझे दिलासा दिया कि ठीक है वो कुछ करेगा.

मैं मन ही मन बहुत खुश हुई।शादी होने के बाद विदाई के समय जब मैं और पति गाड़ी में बैठे तो पति ने राहुल को भी उसी गाड़ी में बुला लिया.

मैंने अपने दोस्त को आवाज दी, जब कोई जवाब नहीं आया, तो मैं उसे ढूंढते उसके घर घुस गया. देहाती नई सेक्सी वीडियोकुछ देर तो भाभी अब ऐसे ही कराहती रहीं, मगर फिर धीरे धीरे उनकी‌ कराहें सिसकारियों में बदल गईं और उनकी चुत में अब फिर से संकुचन सा होना शुरू हो गया. अंग्रेजी सेक्स वीडियो अंग्रेजीदेखने में भी अच्छे नहीं थे और रोमांस नाम की चीज़ का तो उनको पता भी नहीं था. शायद नेहा चर्मोत्कर्ष के करीब पहुंच गयी थी … इसलिए मेरे लिए उसका ये इशारा था कि मैं भी अब अपनी जुबान की हरकत को तेज कर दूँ, जिसको मैं बखूबी समझ गया और अपनी जुबान की हरकत को और भी तेज कर दिया.

थोड़ी ही देर में रूपा की चुत बहने लगी, पर मैं लगातार चूत चुसाई करता रहा.

पैन्ट नीचे करते ही चड्डी के नीचे से ही उनका लंड लग रहा था, जैसे एक हाथ का हो. मैंने कहा- आप अंकल के बिना कैसे रह लेती हो?आंटी बोलीं- रहना तो है ही यार. मम्मी ने मुझसे कहा था कि पहले चाचा के घर चले जाना, फिर वहां से रात को शादी में इकट्ठे एक साथ चले जाना.

कुछ देर नेहा की चूचियों से खेलने के बाद मैंने अपना हाथ धीरे से उसकी मुनिया की तरफ बढ़ा दिया. उसे जो मज़ा मिला, वो उसे खोना नहीं चाह रही थी इसलिए वो जोर जोर से अपनी चुत मेरे मुँह पर रगड़ने लगी. मुझसे बात करते हुए रवि ने मेरे कंधे में हाथ रख कर पीछे से मेरे सीने में हाथ रख दिया और बोले- मैंने तुम्हारी बड़ी तारीफ सुनी है.

करिश्मा कपूर की बीएफ वीडियो

मेरी सेक्स स्टोरी का मजा लेने के लिए कहानी के आगे के भाग भी पढ़ें और मुझे अपने विचार ईमेल करें. 15 मिनट बाद अजय ने ट्रेन से उतरकर मुझे फ़ोन किया तो मैंने उन्हें बताया कि बुक स्टॉल के पास आ जाओ. सच में राजीव बहुत हैंडसम थे।तनु, बहुत खूबसूरत हो तुम!” कहकर उसने मेरी जांघें सहलाना शुरू कर दिया.

फिर मैंने उसे उल्टा लेटाया, अपना लंड उसकी गांड के छेद पर रख कर जोर का धक्का दे दिया.

वो मेरी चूत को कभी कभी धीरे धीरे चोद रहा था, तो कभी कभी मेरी चूत को चाट रहा था, जो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

नामित ने यह सब बताते हुए ही मुझे कसकर अपनी बांहों में पकड़ लिया और मेरे होंठों को चूसने लगा. सुखबीर वैसे भी बहुत आकर्षक मर्द था, मुझे उसके साथ कोई आपत्ति नहीं थी, पर केवल प्रीति के लिए मैं उससे दूर रहती थी. योनि की फोटोमेरी उम्र 20 साल है, मैं अभी पढ़ाई कर रहा हूँ। मैंने अन्तर्वासना की प्रकाशित सारी चोदन कहानियां पढ़ी हैं। आज मैं अपने जीवन की पहली आपबीती लिख रहा हूँ। अगर कुछ कमी रह जाए तो माफ करना और मेल करके बताना जरूर.

पता नहीं उस समय मेरे अन्दर इतनी ताकत कहां से आ गई थी, शायद ये भाबीजी को चोदने का जुनून था. नैना ने थोड़ा ऊपर होके खुद ही अपनी पैंटी उतार दी और मैं उसकी बिल्कुल साफ़ चूत को देखने लगा. उसने मेरा पूरा मेनू किचन में लिखवा दिया और फिर शाम को बाहर जाने का प्लान बनाया.

ड्राइवर अंकल मेरी पीठ को कस के पकड़ के धक्का लगाने लगे, तभी वह जो रमीज के साथ पहलवान की तरह अनवर आया था. मैं 40 साल की हूँ मेरा फिगर 38 सी 36 40 है और मैं दिखने मे बहुत ही हॉट और सेक्सी हूँ.

मौका पाकर मैंने उनकी शर्ट को भी निकाल दिया, जिससे मेहनती जिस्म वाला वह ग्वाला बनियान में बिल्कुल नग्न होकर कहर ढा रहा था.

वो कुछ ही देर बाद बुरी तरह गांड पीछे करके अनिल का लंड ले रही थी और मेरा भी लंड पूरी मस्ती से चूसने लगी थी. फिर मैंने उससे साफ साफ शब्दों में कह दिया कि ठीक है, मैं तैयार हूं पर कहीं शहर से बाहर व्यवस्था करनी होगी. फिर मैंने उसकी चूत की एक फांक को होंठों से खोला और अपने होंठों में ले के चूसने लगा.

इंडियन सेक्सी वीडियो हद इसकी मम्मी भी आ रही है, उसकी एज लगभग 45 वर्ष है, पर वह इसकी मम्मी है, इसलिए उसको भी चोदना जरूरी है. नई जगह होने के कारण मुझे ठीक से नींद नहीं आ रही थी, इसलिए मैं मोबाइल में पोर्न देख रहा था.

उसने मेरे वहां से जाते समय मुझसे बस एक ही बात कही- बस धोखा मत देना. उधर मॉम तो चिल्ला भी रही थी- अआहह हहह … और तेज चाटो हहह … ससस हहह हहह …और तेज!लेकिन मैं तो चिल्ला भी नहीं पा रही थी. नई जगह होने के कारण मुझे ठीक से नींद नहीं आ रही थी, इसलिए मैं मोबाइल में पोर्न देख रहा था.

काजल अग्रवाल की सेक्सी बीएफ वीडियो

जो मेरे बारे में नहीं जानते हैं, उनके लिए बता दूँ कि मेरी फिगर बहुत अच्छी है. करण ने मेरी बीवी के बाल जोर से पकड़े और लंड उसके मुँह की तरफ करते हुए कहा- ले चूस मेरी रंडी मेरा लंड चूस … साली कुतिया … मेरे टट्टे भी चाट साली …उसके ऐसा कहते ही अनु ने मेरी तरफ देखा, शायद उसे अचानक कुछ अजीब लगा कि संजय के सामने कैसे इसका लंड मुँह में लूँ?फिर मैंने उसे इशारा किया कि कोई बात नहीं … लंड चूस लो … कोई बात नहीं. उनके बाथरूम का दरवाजा लॉक नहीं था वो हल्का सा दरवाजा खोल कर मुझे बोली- मैं अपना टॉवल तो ले आयी पर ब्रा पैंटी लाना भूल गयी, वहां सामने बेड पे रखे हैं जरा उठा कर मुझे दे दे।मैंने बेड से उनके ब्रा पैंटी लिए और मौसी के बाथरूम के दरवाजे के सामने जाकर उनके हाथ में दे ही रह था कि गलती से उनके हाथ से टकराकर दरवाजा थोड़ा ज्यादा खुल गया.

मैं अकेला खड़ा होकर, बड़ा अजीब सा महसूस कर रहा था, लेकिन कर भी क्या सकता था. वो मुझे चूमते हुए बोलीं- आज दो साल बाद मुझे शान्ति हुई … सच में मज़ा आ गया.

किसके लिए इतना सिंगार कर रही हो?तो ललित ने मुस्कराते हुए कहा- तेरे लिए.

जबकि हो सकता था कि उन्होंने बिजली आ जाने के कारण मुझे जाने का कह दिया हो. जबकि आज से पहले भी सरोज चाची मेरे साथ बाइक पर बैठ चुकी हैं, लेकिन आज डर के बाद उनका स्पर्श मुझे भारी सुकून दे रहा था. उस लम्बे मोटे लंड से मेरी चुत की खुजली शांत होती है, पर मेरा मन और तन शादी के बाद बहुत ही कामुक हो चुका है.

हम दोनों ने कपड़े पहने और उसने मेरे लंड को भी एक कपड़े से साफ कर दिया. उसकी खुली हुइ चूत मेरे लंड के ठीक सामने थी और मेरे लंड को आमंत्रित कर रही थी. फिर मैंने उसके काले हुस्न की तारीफ की और इस वजह से मैं उसका भरोसा जीतने में कामयाब हो गया.

8 वर्षों से मैंने किसी स्त्री को आंख उठा कर नहीं देखा था, लेकिन कौशल्या की मिलनसारिता और हँसमुख मिजाज ने मुझसे बातें करना सिखा दिया था.

सनी देओल बीएफ सेक्सी: इसके बाद तो मैं जब तक वहां रहा, तक तक मैंने ललिता को कई आसनों में चोदा. मैंने नेहा को जोरों से भींच लिया और चार पांच किस्तों में अपना सारा लावा नेहा के मुँह में ही उगल दिया.

एक तेज ‘आआह …’ के साथ उसकी पकड़ थोड़ी ढीली हुई और हमारे होंठ भी अलग हो गए. अब तक इस सेक्स कहानी के पहले भागमेरी मस्त पड़ोसन की चाय और गर्म चूत-1में आपने पढ़ा था कि दोस्तों के साथ दारू पीने के बाद दोस्तों के उकसाने पर मैंने अपनी कामुक पड़ोसन कौशल्या के घर चला गया था. उसकी नजर मुझ पर पड़ी, उसको ध्यान ही नहीं था कि वो बिना कपड़े की बाहर आयी थी, उसने मुझसे पूछा- क्या काम है?मैंने उसकी तनी हुई चूचियों को देखते हुए कहा- कुछ नहीं, ये शंकर का हेडफोन देने आया था.

आंटी हँस पड़ीं और छूटते ही बोलीं- तो आ जाओ … लगा लो पानी … खेत भी बहुत प्यासा है.

बिस्तर में लेटते ही इतनी जल्दी नींद लगी कि पता नहीं चला कि कब मैं नींद के आगोश में चली गई. मैक ने भी अपनी पोजीशन बनाई और उसने मेरे छोटे-छोटे दूधों को अपनी हथेली में पकड़कर जमकर दबाकर भरा और मेरी चूत को अपने हाथों की हाथों से थप थप किया. मेरी बहन के पड़ोस में एक खूबसूरत मगर हाइट में थोड़ी छोटी महिला रहती थी.