हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ

छवि स्रोत,फिल्म हिंदी फिल्म सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

पति पत्नी के बीएफ वीडियो: हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ, अब मैं पीछे से साइड में हो गया और एक हाथ से कोमल के कंधों और पीठ की मालिश करने लगा और दूसरे हाथ से ढेर सारा तेल कोमल के चूतड़ों पर डाला और एक हाथ से कोमल की गान्ड के छेद तक तेल रगड़ने लगा और दूसरे हाथ से उसकी पीठ पर… फिर मैं तेल कोमल की गान्ड के छेद पर गिरा कर उंगली से अंदर करने लगा.

सेक्सी फुल एचडी वीडियो सेक्सी

लगभग छह माह तक ऐसे ही लगन से काम करते रहने के बाद एक दिन उस वृद्ध महिला ने मुझसे कहा- साहिब, मेरी सबसे छोटी बहू के घर बालक होने वाला है इसलिए मुझे तीन-चार माह के लिए उसके पास जाना पड़ेगा. कहानी सेकससुधीर के पूछने पर मोना थोड़ी हिचकिचाई मगर जब सुधीर ने दोबारा पूछा तब मोना ने कहा- वो बात ऐसी है आपको मेरे सवाल शायद कुछ पर्सनल लगें मगर ये मेरी मजबूरी है.

मोना ने नीतू का फ्रॉक निकालना चाहा तो वो शर्मा गई और मोना का हाथ पकड़ लिया. ब्लू पिक्चर दिखाइए सेक्सी ब्लू पिक्चरगुलशन- सुनो अनिता, मैं कल सुबह 11 बजे आऊंगा, तब तक तुम अपना फैसला मुझे बता देना.

तब तक आंटी होश में आ गईं थीं और साफ सफाई करके हम तीनों सोफे पर बैठ गए थे.हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ: ? मैंने तो किसी दोस्त को नहीं देखा, दरअसल गोपाल थोड़ा अजीब ही है। उसके इतने कोई खास दोस्त हैं भी नहीं.

नीतू भी बिल्कुल गोपाल के बताए अनुसार कर रही थी, अब उसको भी लंड पकड़ना अच्छा लग रहा था और उसमें कुछ उत्सुकता भी थी क्योंकि उसकी बस्ती की लड़कियां उसके सामने बहुत कुछ बातें करती थीं जो उसने मोना को नहीं बताई थीं.मैंने मैडम के गिलास में बीयर डाली फिर बीयर का बोतल नीचे टेबल पर रख कर एक हाथ मैडम की चूची पर रखा और बोला- मैडम चोद दूँ क्या?मैडम ने मेरी ओर देखा और मुस्कुरा कर हां में सर हिला दिया.

গার্ল ফটো - हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ

ऐसी लौड़े की प्यास से भरी हुई स्त्रियाँ चुदाई में बेहद मज़ा देती हैं.उसने मुझे फिर बिस्तर पे लेकर दो बार और चोद दिया और हम दोनों वहीं बिस्तर पर एक दूसरे की बाहों में सो गए.

मैं उसके बदन की गर्मी में मदहोश होने लगा… मेरी आंखें बंद हो गईं… वो धीरे-धीरे अपने लंड को मेरी नाभि पर रगड़ने लगा. हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ बाकी हो सकता है कि मुझसे ही लिखने में कोई कमी रह जाती होगी जिस कारण आप में से कुछ को मेरी कहानी मनघड़ंत लगती हैं.

नीतू- ठीक है दीदी आप जाओ… मैं सब देख लेती हूँ… मैं जीजू को खाना भी दे दूँगी.

हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ?

यार जब पानी ही लेना था तो मुझे क्यों देख रही थी?साली औरत का भी पता नहीं होता कि चाहती क्या है?इतने में वो फिर से कमरे से बाहर आई और जैसे मैंने चादर से चेहरा ढक लिया, सिर्फ़ आँखों से चादर हटी हुई, ऐसे पड़ा रहा. उनको देख कर सभी बिल्डिंग वाले आहें भरते थे और सोचते थे कि कब मौक़ा मिले और उन्हें चोद दें. फ्लॉरा क्या सोचेगी कुछ अक़ल है कि नहीं तुम लोगों में? और टीना तू भी इनके साथ शुरू हो गई?टीना- अरे मैंने क्या किया है.

हूँ उ… उ… उई… उई… ई… है ई… और जोर से… और जोर से…’वो अपनी गांड उठा-उठा कर भी मेरे लंड को अपने चूत में ले रही थी, सिसकारियाँ ले ले कर चुदवा रही थी. मॉंटी- दीदी अब आपको आराम मिला कि नहीं?सुमन- बहुत आराम मिला है मॉंटी. मेरे पास इनके फ्लैट की डुप्लीकेट चाबी है, सोचा कि तुम लोग आओगे, तब तक नहा लूंगी और दिन भर दोनों ननद भाभी तेरे मस्ताना का मजा लेंगे.

ऐसा मैं कई बार किया और मेरा लंड और उसकी चूत बिल्कुल ड्राई हो गई, तो मैंने फिर से अपना लंड थोड़ा थूक लगा कर उसकी चूत में डाला. चल आजा।सुमन- नहीं दीदी ये मुझसे नहीं होगा, प्लीज़ आप निकाल लो ना प्लीज़।टीना ने उसके पजामे में हाथ दिया और बड़े आराम से रिंग निकाल ली। वो आदमी हिला भी नहीं. मैं तो खुद चुदक्कड़ बन गया था, मैं भाम्प गया कि शायद मैडम चुदना चाहती थी.

कितना मज़ा आ रहा था।संजय- मेरी जान क्या तुझे इससे भी ज़्यादा मज़ा लेना है?पूजा- हाँ, मामू लेना है।संजय- तो मेरी बात सुन अपनी आँखें बंद कर ले और कुछ भी हो जाए. अब दो लड़कियाँ और 3 लड़के कमरे में नंगे खड़े थे; उन तीनों के लंड काले, बड़े और मोटे थे.

माला के ब्लाउज के ऊपर वाले दो बटन ही सिर्फ बंद थे और सोते हुए ऊपर सरक जाने के कारण उसके दोनों उरोज उसमें से बाहर निकल गए थे.

इस बार दोनों लड़कों ने बड़ी ही निर्दयता से अपने लंडों को दो अलग-अलग दिशाओं में चलाते हुए नर्म-गुलाबी गांड का भुरकस बना दिया.

दरवाज़ खुला था और मैं सीधा माँ के पास इस तरह से गया जैसे कुछ हुआ ही नहीं है. पी ले मेरा पानी मेरी रांड, आज से तू मेरी कुतिया बन के रहेगी, पूरा पानी पी जा कुतिया, ले मेरा छूटा!और इसके साथ ही उसने मेरा मुँह उसके वीर्य से भर दिया, इतना कि मैं उसे पूरा भी निगल नहीं पाई. ऋतु बोली- मजा आ गया…लंड चूसने में तो मजा हैही… रस पीने का मजा भी अलग ही है.

लेकिन मैं उसको चोद नहीं रहा था, तड़फा रहा था, उसकी चुदाई की भूख बढ़ा रहा था. मैंने पहले की तरह अपनी बाँहें उसकी गर्दन में और टाँगें उसके नितम्बों से लिपटा ली थीं. वो वहीं पर पानी की टंकी के पास हाथ धो रहा था और मैं वहाँ जाकर अपना मुंह धोने लगा.

मैं अकेला रहता हूँ इसलिए चाय मुझको ही बनानी पड़ती है।आंटी- तुम्हें अगर लगे तो तुम यहाँ चाय पीने आ सकते हो।अब ये मेरा रोज़ का प्रोग्राम बन गया। हम एक-दूसरे के साथ घुल-मिल गए। लेकिन वो मुझे उस तरीके से नहीं देखती थी, जो मैं चाहता था।एक दिन जब मैं उनके घर गया.

प्रयास करूंगा कि जल्दी ही समय निकाल कर इसे भी लिख कर यहाँ अन्तर्वासना पर उपलब्ध करा सकूं!यह कहानी यही समाप्त होती है. मुझे विश्वास है कि मेरी यह दास्तान आप लोगों के लण्ड और चूत से पानी की नदियाँ बहा देगी. मैंने गांड मरवाई है।सौरभ- मैं भी तेरी गांड मारूँगा।सोनी- आज नहीं बाद में.

हमारे घर से थोड़ा ही दूरी पर एक 19-20 साल की कमाल की आइटम रहती है जिसका नाम है तमन्ना… साधारण परिवार से होने के कारण वो ज़्यादा मॉडर्न तो नहीं पर फिर भी उसके जिस्म का आकार और नैन नक्श किसी का भी लंड खड़ा करवा दे. वो बोला- कंडोम से मज़ा नहीं आता!मैंने कहा- मैं बिना कंडोम के नहीं करुँगी. वो मेरे लंड की ओर देख ही रही थी पर कुछ नहीं बोल पाई और मेरे वीर्य को अपने साड़ी और पेट पर से साफ करने लगीं.

ऋतु कसमसाई और बोली- देखेंगे!अपना गाउन पहन कर उसने अपने डिल्डो को अंदर छुपा लिया और बोली- मुझे भी अपनी बुर पर तुम्हारे होंठों का स्पर्श काफी अच्छा लगा… ये अहसास बिल्कुल अलग है… और मुझे इस बात की भी ख़ुशी है कि मेरा अब कोई सिक्रेट भी नहीं है.

मैंने धक्का लगया तो इस बार एक बार में ही लंड चुत के अन्दर घुसता चला गया. ऐसे तो ये रंडी सबका चूस कर ही निकाल देगी। अब इसकी चुत चोदने का टाइम आ गया है।साहिल- संजय तू आगे से डाल.

हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ मैंने कहा- अम्मा, मैं तुम्हारी समस्या को समझता हूँ लेकिन मैं इस बारे में तुम्हारी क्या मदद कर सकता हूँ?अम्मा तुरंत बोली- साहिब आप ही तो सब से अधिक सहायता कर सकते हो. तुझे पसंद आए बस वो ले ले।बस फिर क्या था, उसने और भी कपड़े ट्राई किए, कुछ स्कर्ट्स भी लिए। सुमन के दिमाग़ में लन्दन की लड़की की इमेज थी तो उसने कुछ सेक्सी शॉर्ट स्कर्ट्स और टॉप भी ले लिए।गुलशन जी बस इधर-उधर घूम रहे थे, उनको नहीं पता था कि सुमन क्या-क्या ले रही है। जब काफ़ी देर हो गई तो वो सुमन के पास गए और उससे पूछा- कितना टाइम लगेगा?सुमन- बस हो गया पापा.

हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ मगर मुझे तो ऐसी कोई बात नहीं नज़र आ रही।मॉंटी- नहीं दीदी ये कभी-कभी बड़ी होती है. पिछले एक साल का समय तो मैंने जैसे काट लिया था पर अब, जबकि मैंने मानसी के हुस्न का दीदार कर लिया था और उसकी गर्मी को महसूस कर चुका था, मेरे लिए रुकना असंभव सा प्रतीत हो रहा था.

मेरे मुंह से एक भारी हुंकार निकली, ऋतु समझ गई और उसने हमारी किस तोड़ते हुए मेरा लंड बाहर निकाला और बेड के किनारे पर लेट कर मेरा गीला लंड अपने मुंह में ले लिया.

हिंदी सेक्सी व्हिडिओज

अब वो फ्लॉरा की चुत को जीभ से कुरेद रहा था पूरे भगनासे को मुँह में लेकर चूस रहा था. बड़ी मुश्किल से उसने 2″ लौड़ा अन्दर किया होगा इधर पूजा की आँखें फटने को हो गईं. वो मेरे सामने बैठी और बोली- मेरे पास डिल्डो सिर्फ एक वजह से है क्योंकि मेरे पास ये चीज असली में नहीं है.

’‘आआआह… समीर आज मेरी प्यास बुझा देना… मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा है. मुझे तो वो लड़की कभी समझ ही नहीं आती थी, सारा दिन नशा करती रहती थी और रात को किसी लड़के साथ डिस्को में चली जाती और देर रात लौट कर आती… तब तक मैं सो चुकी होती थी. पूजा- हम दोनों से तुम्हारा क्या मतलब है… मैं तो अभी तक इसके लिए तैयार ही नहीं हुई.

अगले दिन मुझे दीदी के उनके सामने आने में और उनसे आँख मिलाने में शर्म आ रही थी, पर जैसे तैसे मैं गया.

मैंने कई नौकरी के लिए जगह जगह इंटरव्यू दिए पर कहीं पर भी नौकरी नहीं मिली. वो बोली कि वो किसी से मकान शेयर करने को भी तैयार है बशर्ते कोई उस जैसी लड़की हो. वो मेरे खड़े-पड़े लंड पर ऊपर से नीचे तक फुर्ती से चूत को रगड़ने लगी और चूत का दाना लंड पर घिस घिस कर अपनी कमर और तेज तेज स्पीड से चलाने लगी मैं समझ गया की अब ये झड़ने पे आ गई है.

मैं समझ चुका था कि अब वो झड़ने वाली हैं। हालांकि मैं भी झड़ने वाला हो गया था सो मैंने भी तेजी पकड़ ली। हम दोनों की स्पीड बहुत तेज हो गई थी। पूरे रूम में बस ‘पच…पच…पच. मैं एकदम मस्त हो गई थी और आवाज़ निकल रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’मेरी चूत भी गीली होने लगी थी. मैं तुरन्त अपना पायजामा उतार कर एक पल में बिस्तर पर कूद पड़ी और उसका पायजामा नीचे खींच दिया.

अब मैं सोचने लगा कि माँ को कैसे बाहर भेजू ताकि सीमा दीदी को चोद सकूं. लेकिन एक दिन मैंने देखा कि उनके घर की लाइटें बंद थीं और भाभी बहुत परेशान सी खिड़की के पास बहुत देर तक खड़ी रहीं.

चाची बोली- अरे अशोक, तुम कितना चोदते हो, मेरी चुत की हालत खराब हो जाती है… आह!मैं हल्का सा मुस्कुरा कर बोला- चाची, अब मुझे आपकी गांड मारनी है. मैं शादीशुदा हूँ।मैं- आंटी सिर्फ़ किस ही कर रहे हैं।आंटी- अगर किसी को पता चला तो. दोस्तो, आज ये जो देसी कहानी आपको बताने जा रही हूँ, यह मेरे साथ हुई एक सच्ची घटना है.

हमने नँगे ही खाना खाया और कोमल तो और भी चुदक्कड़ निकली उसने तो मेरी गोदी में बैठ के मेरे खड़े योगिराज को चूत में घुसा के खाना खाया। हमको बहुत मजा आया.

मैं धीरे धीरे अपने हाथ का दबाव बढ़ा रहा था तो अब भाभी को सब समझ में आ गया था, वो बोली- मुझे छोड़ और यहाँ से जा!पर मेरे ऊपर वासना चढ़ चुकी थी तो मैंने उन्हें बेड पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर उनके होंठों को चूमने लगा. वो चलकर पीछे से मेरी गांड पर आकर बैठ गया और अंडरवियर समेत ही अपना लंड मेरी गांड पर रगड़ने लगा. मैंने उन सब प्रश्नों का उत्तर दे कर जब उनसे उनकी खैर खबर पूछी तब रुआंसी हो कर बोली- मुझे तीन माह तक आनन्द और संतुष्टि देकर तरसने के लिए छोड़ कर चले गए हो और अब पूछ रहे हो कि मैं कैसी हूँ.

वो भी पूरी स्पीड में अपनी चूत चुदवाती हुई अपने मुंह से सिसकारियाँ निकाल रही थी, बोल रही थी- उई आः सी सी चोदो हाँ ऐसे ही. हालांकि वहाँ पसीने की गंध थी पर मैं भी अभयस्थ खिलाड़िन थी, इसलिए फर्क पड़ने का सवाल ही नहीं उठता, मैंने ऐसा करते हुए लंड के छेद में जीभ घुमाई, मुझे वीर्य रूपी अमृत का अनुमान हुआ, तो मैंने उस मोटे लंड के छोटे छेद में अपनी जीभ घुसाने का पूरा प्रयत्न किया, पर असफल होने लगी तो मैंने लंड को पूरा निगलने जैसा बर्ताव किया और अपने गले तक लंड डालकर चूसने लगी.

अब मैं खुश होकर हवा में उड़ने लगा था, रह रह कर उसके नंगे जिस्म की कल्पना में खो जाता और उसकी चूत चटाई और चुदाई के दिवा स्वप्न देखता रहता. और मैं उसका हाथ पकड़ कर स्कूल के पीछे एक कोने में खींचते हुए ले गई और वो मुझे ‘अरे अरे. ’वो ऐसे बड़बड़ा रही थी, इससे मेरा जोश बढ़ रहा था। मेरा लंड वापस पूरा तन चुका था। मैं चूमते हुए उसकी नाभि पर रुक गया और उसके इर्द-गिर्द चाटने लगा। प्रिया को जैसे होश ही ना रहा.

સુહાગરાત વિડીયો

रफीक बोला- यार क्यों झूठ बोलते हो? दूसरा कौन है लंड वाला?मोहन बोला- मैंने आपको बताया तो था राजेश भाई के बारे में… वो आये हैं आज और आज हम तीनों ही सुबह से घर में नँगे हैं और चुदाई का मजा ले रहे हैं.

कॉलेज के सर जी से ही गांड मराई, वर्मा सर को गांड का मजा दिया, कुछ दोस्तों को खुश किया. दोस्तो, तो ये थी मेरी रियलफैमिली सेक्स स्टोरी… आपको कैसी लगी आप जरूर बताइएगा. ओह्ह्ह… आअह्ह्ह्ह… मर गई!बहुत जोर से झटका मारा था मेरे देवर ने… मेरी आँखों से आँसू निकल आये, आज तक किसी ने भी इतनी जोर से मुझे झटका नहीं मारा था। आदी का आधा लंड मेरी चुत के अंदर था मेरे मुँह से जोर की चीख निकली मगर उस चीख को सुनने वाला कोई भी नहीं था.

तूने ये सब सीखा कहाँ से?मैंने हंस कर कहा- ब्लू-फिल्म देख-देख कर!इतना बोल कर मैं थोड़ा ऊपर उठ कर भाभी की चूची चूसने लगा। अब मुझसे न रहा जा रहा था तो मैंने उन्हें फिर से जोर-जोर से चोदना चालू कर दिया।फक् फॅक. ? मैंने तो किसी दोस्त को नहीं देखा, दरअसल गोपाल थोड़ा अजीब ही है। उसके इतने कोई खास दोस्त हैं भी नहीं. पवन सिंह के सेक्सी गानेउस के बिस्तर में घुस कर मैंने अपनी हरकत करनी शुरु की, मैं उस की कमर पर हाथ रखा कर सहलाने लगा, वो नींद में थी पर तब भी उसने मेरे हाथ को अपने हाथ से हटा दिया.

अब मेरी जीभ मेरे होठों पर बाहर निकल आई और उसने भी भांप लिया कि मैं उसके लंड को चूसना चाहता हूँ. कुछ देर में चाय पी कर मैं वहाँ से निकल गया, बाजार जा कर सब्जी खरीद कर माँ को दे आया फिर अपने कमरे में जा कर मोबाइल में बी एफ देखने लगा.

मैंने देखा कि रेणु दीदी अपनी सलवार में एक हाथ डाल कर उंगली कर रही थीं और अज़ीब सा फेस बना रही थीं. इसी पोजिशन में मुझे अपने जिस्म से चिपकाते हुए उसने अपने रसीले होंठ मेरे चेहरे के पास लाते हुए धीरे से पूछा- और सुना जान… क्या हाल हैं तेरे… तेरी गांड को याद कर करके मैंने बहुत बार अपना कच्छा खराब किया है. स्नेहा मुझे दरवाजे तक छोड़ने आई और फिर मेरे गले में बाहें पिरो को मुझे एक लम्बा सा चुम्बन दिया होंठों पर… मैंने भी उसका निचला होंठ ले लिया अपने मुंह में, फिर उसने अपनी जीभ मेरे मुंह में दे दी इस तरह तीन चार मिनट तक चूमा चाटी चलती रही.

पूजा बड़ी हैरानी से ये सब देख रही थी, उसे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि ऋतु अपने सगे भाई का लंड इतने मजे से अन्दर ले रही है और वो अपना मुंह फाड़े ये सब अनहोनी होते देख रही थी. शाम को मैंने ऋतु को बताया कि मैंने सन्नी और विकास से बात कर ली है और वो ऋतु और पूजा को एक साथ नंगी देखने के लिए ढाई हजार देने को तैयार हैं यानी एक शो के पांच हजार रूपए! और साथ ही साथ ये भी कहा है कि अगर वो ऋतु की चूत भी चाटना चाहते हैं तो उसके पांच हजार रूपए अलग लगेंगे. लेकिन हरियाणा के गांवों की एक खास बात ये होती है कि यहाँ के लोग गांव के बाकी सभी लोगों के बारे में जानकारी रखते हैं कि कौन किसका बेटा है, कौन किसका दादा है, किसका परिवार कितना बड़ा है, किसके कितने खेत हैं और किसकी कितनी भैंस हैं.

मैंने देखा कि बिल में तो मैनफोर्स कंडोम का स्टॉक लिखा था इसीलिए वो कहने में शरमा रही थी.

मैंने कहा- उई आह आह सी सी… ले संभाल अपने यार को साली आह आह उफ़… आ गया मैं आह्ह… सी सी सी सी…जब तक मेरे लंड भी अपना फव्वारा रुचिका के मुंह के अंदर छोड़ दिया और रुचिका ने लंड को कस कर होंठों में दबा लिया और फिर तुरंत ही होंठ खोल दिए और मेरा झड़ रहा लंड उसके खुले मुंह के होंठों के पास नेहा ने पकड़ा हुआ था, लंड की बरसात कुछ उसके मुंह के अंदर और कुछ बाहर उसके गले पे, नाक पे हो रही थी. तो मैंने कहा- कि आप क्या देखोगे?तो उन्होंने कहा- तुम्हें हमसे ज्यादा कौन जाने?तो मैंने कहा- ये भी ठीक है.

ये कहते हुए उसने अपना लौड़ा मेरी चूत पर रखकर एक जोरदार धक्का लगा दिया और आधा लंड अन्दर कर दिया।मेरे मुँह से ‘ओह्ह्ह. संजय का लंड उसके हाथ में आ गया, जोकि लोहे जैसा सख़्त और गर्म था। लंड का स्पर्श पाते ही वो घबरा गई और जल्दी से उठ गई।संजय को कुछ करने का मौका भी नहीं मिला. मैंने भी वाश बेसन में अपने लंड को धोया और रश्मि ने अपनी चूत साफ़ की.

अब चलो सब बैठ जाओ, नहीं तो बियर गर्म हो जाएगी।सब वही गोल घेरे में बैठ गए। संजय ने शाम को टेबल कुर्सी का बंदोबस्त कर लिया था। अब पार्टी शुरू हो गई थी. मैंने उनकी गांड और अपने लंड पर तेल लगाया और 15 मिनट तक उनकी गांड मारी और सारा माल गांड में छोड़ दिया. मैंने चाची की नाईटी के हुक खोल के हाथ अन्दर घुसा दिया और कमर पे हाथ घुमाते हुए उनकी ब्रा की स्ट्रिप्स में उंगली घुसा दी.

हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ हमारी पहली मुलाकात एक झप्पी के साथ शुरू हुई जिसके दौरान मुझे उसके भरे चुचों का अनुमान हुआ. दिव्या चुपचाप मेरे पास आई और उसने मुझे गले से लगा लिया और मेरे होंठों को एक प्यारा सा किस करते हुए कहा- आई लव यू राज!मैं तो सोच भी नहीं सकता था कि आज ऐसा होगा.

सेक्सी बीपी एचडी में

डॉक्टरआंटी ने करीब 10 मिनट मेरे लंड को चूसाऔर मैंने भी उनके मुँह को चूत की तरह चोदते हुए उनका मुंह अपने वीर्य की पिचकारियों से भर दिया. मैंने उनसे पूछा- क्यों?तो उस समय मुझे अपनी बाजू दिखाते हुए वो मुझसे कहने लगी- मुझे वैक्सिंग करानी है, देखो मेरे बाल बहुत ज्यादा बड़े हो गये हैं।मैंने उनको कहा- क्या मैं आपकी कुछ मदद कर दूँ?वो पूछने लगी- तुम क्या मदद करोगी?मैंने कहा- आप जो भी कहोगी मैं आपकी उस काम में मदद कर सकती हूँ. वो पागलों की तरह चूत को जीभ से कुरेदने लगा, जैसे आज खजाना यहीं से निकलने वाला हो.

वो मुझे गाली देते हुए चोद रहे थे कि साली इसीलिए तुझे वियाग्रा का डबल डोज दिया था ताकि तू मेरा लंड झेल सके. मैं 2 दिन की चुदाई से थका था तो मैं भी फ्रेश होकर बेड पे सो गया। शाम को फोन की घण्टी से आँख खुली तो देखा 8 बज गए हैं, फोन हिम्मत का था, फोन उठाया- हेलो भाई, कैसे हो?हिम्मत बोला- भाई 10 बार कॉल कर चुका हूँ, कहाँ बिजी थे?मैं बोला- सॉरी यार, अभी जस्ट आँख खुली है, सो रहा था!हिम्मत बोला- ओके, मैं ठीक 9. स्वती नायडू सेक्सी वीडियोबोलो?सुमन तो बेचारी अभी तक कुँवारी थी मगर आज मॉंटी ने अपनी बातों से उसकी गांड फाड़ दी थी.

चाची ने मेरे होंठों तथा जीभ को चूमने एवं चूस कर मेरा साथ दिया और कुछ देर के बाद नीचे से कूल्हे उचका कर मुझे संसर्ग करने के लिए कहा.

इसलिए उसको सुला देना ठीक समझा।टीना अब मॉंटी के बिस्तर पर बैठ गई और उसके सर पे हाथ घुमाने लगी। ये मॉंटी की बचपन की आदत है. चलो एक काम करते हैं, मैं जाकर उससे पूछती हूँ कि क्या वो हमारे सामने मुठ मारने को तैयार है और उसके बदले में क्या चाहिए.

उस सीत्कार को सुन कर मैंने पूछा- क्या हुआ? बहुत दर्द हुआ क्या?माला ने सिर हिलाते हुए कहा- हाँ, बहुत दर्द हुई है. यार जब पानी ही लेना था तो मुझे क्यों देख रही थी?साली औरत का भी पता नहीं होता कि चाहती क्या है?इतने में वो फिर से कमरे से बाहर आई और जैसे मैंने चादर से चेहरा ढक लिया, सिर्फ़ आँखों से चादर हटी हुई, ऐसे पड़ा रहा. उस फ़ोल्डर में मामी की नंगी एवं मेरे साथ सम्भोग करते हुए की फोटो एवं वीडियो थी जिनमें से एक वीडियो को मामी बहुत तल्लीन होकर देख रही थी.

उन्हें देख कर मैंने भी रुचिका के सर को सुलेखा के सर के बिल्कुल पास लगा कर लिटाया और पीछे से उसकी गांड उठा कर उसकी चूत पे किस करने लगा जिससे रुचिका तो बस अब गई कि तब गई वाली हालत में आ गई.

मैंने उसी‌ वक्त अपना‌ एक पैर दोनों जाँघों के बीच फंसा दिया जिससे पिंकी ‌की जांघें अलग हो गई और फिर पहले तो अपनी उंगलियाँ, फिर धीरे धीरे करके पूरा हाथ ही उसकी जाँघों के बीच घुसा दिया. मगर उन फटे पुराने कपड़ों में भी वो खिलता हुआ गुलाब नज़र आ रही थी, जिसे देख कर मोना की आँखों में चमक आ गई और उसने मीना को थैंक्स कहा. रयान ने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे प्यार से बेड पर बिठाया और चाय देते हुए बोला- गलती मेरी थी!ऋषिका मस्त लड़की थी, बोली- चलो हिसाब बराबर…दोनों ने हंसते हुए चाय पी.

नेपाली सेक्सी कहानीऋषिका का शरीर सख्त हो गया और उसने भी रयान के पैरों को अपनी टांगों से दबोच लिया. थोड़ी देर बाद मैंने महसूस किया कि रोहन आयेशा की जांघें सहला रहा था, आयेशा भी मजे ले रही थी.

ब्लू फिल्म लंगा

मैं तैयार हूँ अब इस रिश्ते की शुरूआत अभी करोगे या रात को?अनिता की बात सुनकर गुलशन जी खुश हो गए और उसे गले से लगा लिया. मेरी बहू तो कुछ दिन बाद चली जाएगी मगर तूने तो मुझे मस्त खजाना बता दिया है। अब तो हर रात मेरे मज़े हो गए।राजू- तो आज मेरी चुदाई पक्की ना काका?काका ने उसको समझा दिया कि कब और कैसे उसको क्या करना है। इतना कह कर काका वापस घर चला गया।तो दोस्तो ये थी वो राज की बात. कुछ देर बाद मैं बाहर निकला तो रिसेप्शनिस्ट रश्मि मुझे देख कर सेक्सी तरीके से मुस्करा रही थी.

पूजा- देखा… मैंने कहा था ना!ऋतु- पर जब मैंने उससे कहा कि हम इसके लिए उसे कुछ पैसे देंगे या फिर कुछ और भी जो वो चाहे तो बात आगे बढ़ी. वो भी मेरे लंड को अन्दर तक ले जा रही थी जो उसके गले के अंत तक जाकर उसकी दीवारों से टकरा रहा था. 5 इंच का है, और थोड़ा कर्वी कैले जैसा है, को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

‘ओके गुड़िया रानी, ठीक है एक बार और तुम्हारी चूत को झाड़ देता हूँ लेकिन तुझे भी मेरा एक काम करना पड़ेगा पहले?’ मैं उसकी पीठ और नितम्ब सहलाते हुए बोला. मैंने भी पूछा- क्या मैं आपकी पार्टनर के साथ डांस कर सकता हूँ?तो उसने कहा- वो अगर हाँ कहे तो कर सकते हो. लेकिन हमने कुछ गलत नहीं किया है, शायद हमने एक दूसरे को और अच्छे तरीके से समझा लिया है। आप सच में बहुत अच्छे हैं, आज तक मैं जिस भी आदमी से मिली वो बस मुझे नोचना, खाना या अपने वासना का शिकार ही बनाना चाहते था, लेकिन आज से पहले मैंने आपके साथ पूरी रात बिताई, आपके साथ घूमने भी गई, मूवी भी देखी लेकिन आपने एक बार भी मुझे छुआ नहीं और मैं आपके साथ एक दो दिन में ही सुरक्षित महसूस करने लगी.

मेरे पूछने पर उसने बताया- दो मिनट का काम है, बस इंजेक्शन का दर्द होगा. जब उससे सहा नहीं गया तो उसने लपक कर पीटर का लंड अपने मुँह में ले लिया और किसी आइस क्रीम की तरह चूसने लगी.

हम दोनों कुछ देर बिना बात किये वहीँ बैठे रहे और फिर मैंने चुप्पी तोड़ते हुए मानसी से माफ़ी मांगी.

मैंने भी पूछा- क्या मैं आपकी पार्टनर के साथ डांस कर सकता हूँ?तो उसने कहा- वो अगर हाँ कहे तो कर सकते हो. देवर भाभी का सेक्सी ब्लू वीडियोदूसरे दिन मैं अंदर गया तो वो चाय बना रही थी, मुझसे बोलीं- बाहर नोटिस नहीं देखा? आज छुट्टी है, तुम्हारे सर बाहर गए हैं. அகிலா செக்ஸ் வீடியோअब उन्होंने पैरों पर जाने को कहा तो मैं उनके पेटीकोट को घुटनों तक उठाकर पैरों की मालिश करने लगा. मैं तो कभी ना करूँ।अजय- क्या यार क्यों भाव खा रही है फ्लॉरा तो अकेली 5 को झेल गई। अब तो तुम दोनों होगी तो आधे-आधे कर लेना।विक्की- आधे कैसे होंगे? हम 5 हैं अब कैसे होगा?‘तू साला चूतिया ही रहेगा.

साली क्या मस्त है रे तू उहहा ले आज तेरी गांड और चुत दोनों मारूँगा।इतना कहकर अजय ने लंड गांड से निकाल कर चुत में डाल दिया और चोदने लगा। कोई दस मिनट बाद वो झड़ गया।अब फ्लॉरा की चुत ने भी थोड़ा सा पानी फेंका.

यह बात उस समय की है जब मैं 22 साल की थी और एम एस सी प्रीवियस में पढ़ रही थी. क्या कमाल की लड़की है, साला रोहन कितना लक्की है!’ ये सब वे कहते रहे. घड़ी देखी तो तीन बजने वाले थे और ऋतु साढ़े तीन बजे तक स्कूल से आती थी.

इससे हम दोनों को इन्फेक्शन हो जाएगा।वो अधचुदी मन मसोस कर रह गई।ऑफिस से आते समये गुप्ता जी बोले- तो आज फिक्स है ना?मैंने बोला- गुप्ता जी उसका मेंसिस आज पूरी तरह से क्लियर नहीं हुआ. कुछ देर के बाद माला ने अपने पेटीकोट को स्तनों के ऊपर बाँध कर और नीचे के शरीर को उसी से ढक कर बाहर निकली तब मैं दरवाज़े में ही खड़ा था. मॉंटी वैसे ही खुजा रहा था। उसको जाँघों के बीच में जहाँ अक्सर लड़कों को अंडरवियर की रगड़ लग जाती है और खुजली होती है.

देसी गांव की बीपी

मैं फूफा जी के पास गई और धीरे से फूफा जी को आवाज़ लगाई ताकि मुझे पता चल जाए कि वो पक्का सो रहे हैं. इधर मेरा भी लंड खड़ा होने लगा, मैंने तुरंत अपनी टी शर्ट और जीन्स उतार दी, केवल अंडरवियर में बचा, और फिर पूजा से अपनी अंडरवियर उतारने को कहने लगा. मोना- तुझे पता है नीतू अगर तू जीजू की लुल्ली दबाएगी ना… तो वो बहुत खुश होंगे और तुझे आईसक्रीम लाकर देंगे.

वैसे मुझे भी गांड का शौक इसने लगा दिया है पर दिन में इसलिये नहीं मारवाई क्या पता सबीना को ये पसन्द आये या नहीं आये.

मैंने थोड़ा प्रेम-प्रसंग युक्त होते हुए उनके गाल को चूम कर बोला- मेरी जानेमन चाची, अब क्या हो गया, अब किस सोच में उलझी हुई हो? ज़रूर कोई गंभीर बात है.

पर मुझे मत भूलना।मैंने भाभी के माथे पर चूमते हुए कहा- तुम्हें तो मैं जिंदगी भर नहीं भूलूंगा जान।फिर मैं वहाँ से निकल कर घर जा के सो गया।अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे पिंकी को पटा कर मैंने उसकी सील तोड़ी।मेरी देसी भाभी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे बताएं![emailprotected]. रंडी कहो और अभी चिढ़ रही हो।टीना- अबे वो टाइम बात कुछ और होती है और अभी कोई सुन लेगा तो क्या कहेगा. सेक्सी फिल्में भेजो सेक्सी फिल्मजमीला बोली- सबीना एक काम करते है!सबीना- बोलो भाभी?जमीला- राजेश तुम नीचे लेटो.

ताकतवर लंडों की आज्ञा शिरोधार्य कर मेरी हसीन पत्नी लेटे हुए चंगेज़ का गुलाबी लंड चूसने लगी जबकि घुटनों के बल बैठा रुस्लान लंड को हाथ में पकड़े हुए उसके होठों के बीच टहोकने लगा. थोड़ी देर बाद मैंने महसूस किया कि रोहन आयेशा की जांघें सहला रहा था, आयेशा भी मजे ले रही थी. मोना- अच्छा ऐसी बात है तो उसका बहुत ध्यान रखना पड़ेगा, कहीं गोपाल उसकी चुत ही न फाड़ दे और मेरी मेहनत बेकार चली जाए.

उसकी चूत को मेरे लंड की लत लग चुकी थी और पिछले दो माह से बिना चुदे जैसे तैसे खुद को संभाले हुए थी. लंड मेरी चूत की दीवारों से चिपका हुआ था इसलिए अंदर बाहर करने में भी मुझे दर्द हो रहा था.

उन्हें कॉल किया, पर कोई बाहर है, तो कोई कॉलेज में है और किसी का कोई और बहाना है, कोई नहीं मिल रहा था।यार ऐसा ही क्यों होता है कि जब हमें बहुत जरूरत होती है.

पिछले एक साल का समय तो मैंने जैसे काट लिया था पर अब, जबकि मैंने मानसी के हुस्न का दीदार कर लिया था और उसकी गर्मी को महसूस कर चुका था, मेरे लिए रुकना असंभव सा प्रतीत हो रहा था. आप चाहो तो आ जाना मेरी वेजाइना ट्रीट करने के लिए अगर आपके पास थोड़ा टाइम हो तो…’ उसकी आवाज में कम्पन और थरथराहट साफ़ झलक रही थी. अभी तक आपने मेरी पिछली कहानीकामुकता का इलाज, पड़ोसी से चुत चुदाईमें पढ़ा कि कैसे मेरे पड़ोसी राज ने रात में मेरे घर आकर मेरी चूत की चुदाई की.

सेक्सी पिक्चर नंगी नंगी पिक्चर जो कहानी मैं सुनाने जा रही हूँ वह अन्य कहानियों की तरह बनावटी नहीं हैं. अब जमीला ने खाना गर्म किया और सबीना ने चपाती बनाई और फिर हम लोगों ने नंगे ही लंच किया.

जैसे हमारा रोमांस ख़त्म हुआ, रिया अपनी बेबी डॉल नाइटी में ही जकूजी में घुस गयी और मैं शॉवर के नीचे. जैसे ही चाचा ने यह कहा तब मैंने चाची की ओर देखा तो उन्होंने मुझे चुप रहने का संकेत किया और उठ कर बड़े चाचा के पास जा कर कहा- माता जी और पिता जी को यहाँ अकेले में दिक्कत होगी क्योंकि दिन में तो भईया भाभी और ननद जी काम पर चले जायेंगे और विवेक कॉलेज चला जाएगा. कुछ देर बाद मुरुगन ने मुझे घोड़ी बना कर भी चोदा और इसके बाद मैंने उनके मूसल लंड की सवारी करने की इच्छा जताई तो मुरुगन ने मुझे अपने लंड पर बैठा कर मेरी दम से चुदाई की.

हिंदी बफ क्ष

मगर मज़ा बहुत ज़्यादा आ रहा था… मेरी गीली चूत कुछ ही देर में लंड को आसानी से अंदर बाहर करने लगी और पूरा लंड मेरी चूत में चला गया. इस दौरान मेरा और उसका रोज़ फ़ोन पर सेक्स हुआ और फिर वो दिन आया जिसका मुझे बेसब्री से इंतज़ार था. मुझे पता है कि आप यह भी जानना चाहोगे कि अगली सुबह क्या हुआ… मगर वो बात मैं आपको तब बताऊँगी जब आप मुझे मेल करोगे और पूछोगे कि मेरी प्यारी सेक्सी कोमल भाभी अगली सुबह क्या हुआ था…तो अब मेरी तरफ से आपके प्यारे प्यारे लौड़ों को बाइ बाइ…[emailprotected].

उस समय उस मकान के बगल वाली बिल्डिंग में सामने वाली खिड़की में एक सुन्दर और सेक्सी भाभी रहती थीं, जिनका फिगर 34-28-36 का था. आमतौर पर लड़कियों के चूचे जहाँ होते हैं, उससे थोड़ा सा और ऊपर जैसे उन्हें अलग से चिपकाया गया हो.

उन्होंने बेसिन में झुक कर मुँह साफ करने का प्रयास किया। मैंने उनको अपनी तरफ मोड़ा तो वो विरोध करने लगीं।आंटी- ये ग़लत है.

मेरे फ्रेंड ने उससे हमारे 3 और दोस्तों के बारे में बोला तो उसने ‘हाँ’ बोल दिया. फ्लॉरा जब घर गई तो ममता ने उसे लंच दिया, फिर वो किसी काम से बाहर चली गई. वैसे भगवान ने भी चूत और लंड जैसी अनमोल और मस्त चीज़ बनाई है, पर कई लोग चूत की कद्र ही नहीं करते हैं.

’फिर मैंने एक झटका लगाया और लंड थोड़ा सा अन्दर गया था, पर उसको कुछ फर्क नहीं पड़ा. आज आंटी का चेकअप है और हाँ टीना का फ़ोन भी खराब है तो शाम को आपको मिलने बुलाया है।संजय- ओके तुमने बताया. लेकिन हमने कुछ गलत नहीं किया है, शायद हमने एक दूसरे को और अच्छे तरीके से समझा लिया है। आप सच में बहुत अच्छे हैं, आज तक मैं जिस भी आदमी से मिली वो बस मुझे नोचना, खाना या अपने वासना का शिकार ही बनाना चाहते था, लेकिन आज से पहले मैंने आपके साथ पूरी रात बिताई, आपके साथ घूमने भी गई, मूवी भी देखी लेकिन आपने एक बार भी मुझे छुआ नहीं और मैं आपके साथ एक दो दिन में ही सुरक्षित महसूस करने लगी.

डॉक्टर को भी अच्छा लगा, वह उचक उचक कर मेरे लंड की सवारी करती रही और एक बार और झड़ गई.

हिंदी में बीएफ सेक्सी दिखाओ: और उनकी देखभाल को कोई नहीं था। सो भैया के बड़े भाई की वाइफ वहां रहने आई थीं।मेरी उनकी फैमिली के साथ अच्छी बनती थी।मेरा कमरा छत पर था और दिन में मैं ज़्यादातर अपने कमरे में ही होता हूँ। एक दिन शाम को मैं छत पर टहल रहा था। गर्मी के कारण मैं अधिकतर कॅप्री या टी-शर्ट में ही होता था।हुआ यूँ कि बड़ी भाभी शाम को कपड़े सुखाने के लिए डाल रही थीं. अब मैंने नीचे से हल्के हल्के झटके लगाने शुरू कर दिए थे और रुचिका भी ऊपर से झटके लगा रही थी जिससे हम दोनों को मज़ा आने लगा, हम दोनों की सिसकारियाँ निकलने लगीं.

पांच मिनट के बाद उसका लंड नॉर्मल पॉजिशन में आ गया लेकिन एडजेस्ट ना होने की वजह से वह एक तरफ ही सोया हुआ दिख रहा था. मैंने सहमति में आँख हिला दी और बस वो आकर मेरे मुँह पर अपनी चूत रखकर बैठ गई और बोली- चलो अब उधार चुकाओ. अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि संजय ने घर के सभी लोगों के सो जाने के बाद अपनी भांजी पूजा की चुत चोदने का मन बना लिया था और अब वे दोनों चुदाई का खेल शुरू करने वाले हैं.

उसने भी एक हाथ रेलिंग पर रखा और दूसरा हाथ से मेरे कंधे का सहारा ले लिया.

वो बस कुछ पूछने ही वाली थी कि काका ने खुद उसके सवाल का जवाब दे दिया।काका- ज़्यादा सोच मत बहू रानी. राजबीर ने गहरा नीला अंडरवियर पहना हुआ था और जग्गी ने कुछ भी नहीं पहना था. मेरी दोनों चुची और भी उभर कर मामा के मुँह में समा गयी, मामा जी का एक हाथ मेरी कमर को पकड़े था और दूसरा हाथ मेरी गांड के पीछे से मेरी चूत सहला रहा था, मुझे बहुत ही ज़्यादा मज़ा आने लगा था.