दिल्ली कॉलेज के बीएफ

छवि स्रोत,फिल्म सेक्सी देखना है

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फिल्म ससुर बहू: दिल्ली कॉलेज के बीएफ, शायद बसंती वहां पर खड़ी होकर मेरे बारे में ही सोच रही थी, जिस कारण उसकी आंखों में वासना के लाल डोरे पड़ गए थे।मैंने उसे आवाज दी। उसने मेरी आवाज को जैसे सुना ही नहीं.

एक्स सेक्सी राजस्थानी

फिर कॉन्डम का पैकेट एक तरफ डाल कर मैंने भाभी के पूरे कपड़े उतार दिये. సెక్స్ వీడియో హిందీ బిఎఫ్लेकिन सबसे सुंदर लड़की उनमें सोनल थी जो बाद में मेरा क्रश भी बन चुकी थी।अब धीरे धीरे उन लड़कियों का हरामीपन बढ़ता जा रहा था.

जब चाची की तरफ से कोई विरोध नहीं दिखा, तो मैंने आगे हाथ बढ़ाए और हल्के से उनके चुचे दबाने लगा. साउथ सेक्सी भाभीमुझे अपने कंधे पर उनके बड़े दूध की मुलायमियत का अहसास हुआ, तो मेरा लंड तन्ना गया.

साली जी, इसे एक बार अपने हाथों में लेकर प्यार तो करो थोड़ा सा, जैसे कल किया था.दिल्ली कॉलेज के बीएफ: भाभी की चूत इतनी गर्म थी कि मेरा लंड अन्दर की गर्मी पाकर और भी मोटा हो गया था.

जब उठे तो उसने जल्दी से कपड़े पहने और मेरे होंठों पर किस करते हुए कहा- मौसी आने वाली होंगी, मैं जाती हूं.मैंने महसूस किया कि उसकी आंखों में बस वासना थी, जो कि उसके चेहरे पर मुझे साफ दिख रही थी.

సిస్టర్ అండ్ బ్రదర్ సెక్స్ వీడియో - दिल्ली कॉलेज के बीएफ

वो असहज होते हुए बोली- क्या कर रहे हो, जान निकालोगे क्या?मैंने कहा- इतनी प्यारी जान की जान निकाली नहीं जाती है, इसके लिए तो जान दी जाती है.मैंने धीरे से अपना तना हुआ लंड छुपाने के लिए अपना बरमुडा और चड्डी ऊपर को खींची तो भाभी ने किताब फेंक कर झट से से मेरा बरमूडा मेरी कमर से पकड़ लिया.

… तुम ऐसी हालत में छोड़कर मुझे कैसे जा सकते हो?मैं- संगीता मुझे माफ कर दो, मैं दोबारा से ऐसा नहीं करूंगा. दिल्ली कॉलेज के बीएफ सुबह से ही मेरी गांड में दर्द हो रहा था और ठीक से चला भी नहीं जा रहा था.

इस तरह की मेरी चुदाई की स्पीड इतनी तेज थी कि लंड चूत से निकल कर सुधा की गांड में चला गया.

दिल्ली कॉलेज के बीएफ?

दस मिनट की धुंआधार चुदाई के बाद हम दोनों एक साथ ही शान्त हो गये।हम दोनों अपनी साँसों को नियंत्रित करने लगे।फिर हमने थोड़ी देर रुक कर आराम किया मैंने उसको पानी पिलाया और एक दर्द की गोली खिला दी. अब मुझसे बरदाश्त नहीं हो रहा था मगर फिर भी मैंने बर्दाश्त किया और अपने काम में लगी रही. वो नखरे दिखाते हुए बोली- क्या कर रहे हैं? छोड़िए हमें। कोई देख लेगा तो क्या बोलेगा। छोड़िए सर जी हमें, नहीं तो आपकी बीवी को बता देंगे।मैं जानता था कि बसंती ये सब नाटक करते हुए बोल रही थी.

साल भर पहले रिटायर होने के बाद मैंने भी फरीदाबाद में एक फ्लैट खरीद लिया और रहने लगा. लण्ड के अन्दर बाहर होने से हनी को दिक्कत हुई तो मैंने एक बार फिर से तेल लगा लिया. कभी कभी हंसी मजाक में वो मेरे बूब्स भी दबा देता या निप्पलों मसल कर खड़े कर देता था.

मयंक बोला- यार, आज मेरी सुहागरात हो जायेगी क्या?मैंने कहा- हां, होगी क्यों नहीं, मैं अपने हाथ से मनवाऊंगा अपने दोस्त की सुहागरात।तभी सोनम चाय लेकर आ गयी. मुझे हर वक्त दिखाई देना चाहिए कि तू अपने दोनों छेदों के अन्दर अपने हाथों से उनकी चुदाई कर रही है. इस अवस्था में मुझे उंगली करने में काफी परेशानी हो रही थी … तो मैं बेड से उतर गया.

अविनाश- चित्रा, आर यू सीरियस?चित्रा- यस … जब तक तुम लोग अपनी गांड नहीं मारने दोगे, तब तक हम भी तुम्हें चोदने नहीं देंगे. इस वक्त मेरे मन के किसी कोने में एक उम्मीद की लहर दौड़ी और मैंने अपने सीने के छोटे-छोटे निप्पलों को टटोला और फिगर बनने के पहले ही शरीर पर बन चुके निशान पर उंगलियों को घूमा कर महसूस किया कि शायद मेरा फिगर यहां तक हो सकता है.

वह महिला भले ही देखने में किसी हिरोइन के जैसी नहीं थी लेकिन मगर फिर भी आकर्षक लग रही थी.

मनीषा भाभी ने अपने दोनों हाथ अटेंडेट वाली सीट पर रख लिए और अपनी गांड पीछे कर ली.

हम दोनों बात कर रहे थे कि उसने अपना लौड़ा अपनी पैंट से बाहर निकाल लिया. मैंने रीतेश सर का फ़ोन नंबर बहाने से ले लिया कि कुछ सब्जेक्ट में कुछ प्रॉब्लम आएगी तो मैं पूछ लूंगी. जिया- हमारा चैलेन्ज तो याद है न!मैं- हां तुम दोनों मुंबई आने के लिए तैयार रहना.

अम्मी ने बीस साल पहले मुझे जिस चूत से निकाला था, आज मैं उसी में घुस गया था. तो मम्मी ने मुझे बाहर सामान के साथ खड़े रहने को कहा और खुद अंदर चली गयी. हमारे यहां एक कहावत है कि औरत को बस क्या चाहिए ‘मुँह में कौरा … और बुर में लौरा.

जल्दी ही हम दोनों ने एक दूसरे को नंगा कर दिया और एक दूसरे को चूसने चूमने में लग गए.

संजू रोहित के चेहरे पर उदासी देखकर ठहाका मारकर हंसी और बोली- चिंता मत करो मेरे छोटे आशिक … कभी कभी इस दौरान भी हम लोग सेक्स कर लेते हैं. ” कहते हुए उसने मेरी ओर तिरछी नज़रों से देखा।मुझे लगा वह मुझे निरा पपलू (अनाड़ी) समझ रही है।अब उसे क्या मालूम किचन में जब प्रियतमा नंगी होकर खाना बना रही होती है तो उसके पीछे खड़ा होकर उसे बांहों में भर कर उसके नितम्बों में अपना खडा लंड डालने में कितना मज़ा आता है मेरे से ज्यादा भला कौन जान सकता है।प्रिय पाठको और पाठिकाओ, आप सभी तो बहुत गुणी और अनुभवी हैं. और फिर मैंने पैंटी को दांतों में लेकर उसकी टांगों से निकाल दिया।अब सीमा पूरी तरह अल्फ नंगी मेरे सामने थी.

आई … फाड़ दी … मेरी चूत।मैंने भाभी के होंठों को कस कर स्मूच करना शुरू कर दिया उसकी आवाज अंदर ही दब गयी. मैं सुनीता आंटी की गदराई गांड से लंड टच करते हुए अपने हाथ आगे करके गैस पर सेंक रहा था. मैं भी अमनप्रीत को पाकर खुश हो गया था और अमनप्रीत भी मेरी बीवी की चूत और मेरी गांड की चुदाई करके हम दोनों के मजे ले रहा था.

सुमन भी मजे लेती, कहती- उनका भी लेगी क्या?मैंने भी कह दिया- मिले तो जरूर लूंगी, क्या बुराई है.

अम्मी की चोली ऊपर खिसका कर मैंने अम्मी की चूचियां पकड़ लीं और अम्मी की गांड मारने लगा. मौसी- चुपकर … क्या बोले जा रहा है, पागल हो गया है क्या?मैं- हां आपके हॉट लुक ने मुझे पागल कर दिया है मौसी.

दिल्ली कॉलेज के बीएफ ” उसने जानलेवा तीखी मुस्कान के साथ कहा।अब तो मैं बहुत कुछ सोचे जा रहा था। एक बात का थोड़ा डर सा भी जरूर था कि कहीं मोहल्ले की औरतें मुझे उसके घर आते जाते ना देख लेंगी तो हो सकता है कुछ और सोचने लग जाए।वैसे यह मधुर की तरह यह लैला भी मोहल्ले वालों से मिलने-जुलने में परहेज ही बरतती है इसलिए ज्यादा चिंता वाली बात भी नहीं है।आप कहें तो बाहर किसी अच्छे रेस्तरां … में … डिनर कर लेते हैं. धीरे धीरे मेरा इंटरेस्ट मेरे देवर में और बढ़ने लगा क्योंकि वो मेरी हर बात मानते थे.

दिल्ली कॉलेज के बीएफ जब रात के 12 बजे तो मैं उसके रूम में गई और उसे बर्थडे विश करते हुए अपने गले से लगा कर उठाया और अपने कमरे में ले आई. ये थी मेरी सहेली के ब्वॉयफ्रेंड के संग चलती कार में चुदाई की कहानी.

मैं सुनीता मम्मी के निप्पलों को चूसते हुए अपने एक हाथ दो उंगलियों को उनकी चुत में डाले जा रहा था.

अरे बीएफ बीएफ बीएफ

जवाब सुनते ही वो आतुर सा हो गया और अपनी बीवी के जिस्म की नंगी तस्वीरें भेजने लगा!नग्न कामुक बदन देख मेरे मुंह से भी लार निकल पड़ी. फिर मैंने वहीं रखी अपनी पैंट की जेब से सेक्स की गोली लेकर खा ली और लंड सहलाने लगा. मेरे गले को लगातार चूमता रहा और अपने लंड से छोटे छोटे धक्के लगाने लगा.

उसने तिरछी नज़र से देखा और यह कहते हुए भाग गई- धत भाईजान आप भी ना …वो शर्माते हुए भाग गयी थी, मगर मेरा चलाया तीर अपने सही निशाने पर लगा चुका था. इसलिए जब शीला उठ कर चाय बनाने गयी तो सुनील ने विशाल को आवाज देकर बुला लिया और हँसते हुए सारी बात उसे बतायीं. उनसे कुछ इधर उधर की बात करने के बाद मैंने उनसे पूछा- एक बात पूछूँ?उन्होंने कहा- हां पूछो ना!मैंने एकदम से साफ़ कहा- जीजाजी का देहांत हुए चार साल हो चुके हैं, तो इसके बाद आपको सेक्स की ज़रूरत नहीं होती?मेरे सवाल पर दीदी ने शरमाते हुए कहा- धत्त … ऐसी बात नहीं करते.

पर मैं अपने पेट तक आती, समीज और पेंटी के ऊपर से भी खुद को पूरा निहार कर असंतुष्ट ही रही.

उनकी गुलाबी चुत का स्वाद खट्टा और नमकीन सा था, पर मदहोश करने वाला था. वो ये सुन कर मुस्कुरा दी और मुझे मेरी शर्ट से पकड़ कर अपनी ओर खींचकर मुझे चूमने लगी. फिर वह अपने कपड़े पहनने लगा, मम्मी को बोला- चलो अब तुम लोगों को बस अड्डे छोड़ आता हूँ.

फिर उनके धक्के इतने तेज हो गये कि चूत में लंड का प्रेशर बर्दाश्त के बाहर हो गया. मैंने दोनों हाथों से भाभी का सर पकड़ लिया और अपने हाथों से उनके सर को आगे पीछे करने लगा. और घबराती भी क्यों ना … उन दोनों ने यह मेरा रूप तो पहली ही बार देखा था.

आपका दिल क्या कहता है?” मैंने वातावरण थोड़ा हल्का करने की गरज़ से पूछा. शरीर में थोड़ी ताकत आने के बाद मैंने सायरा को एक बार फिर से अपनी बांहों में कसकर जकड़ लिया, ताकि मुझे उसके गर्म जिस्म से गर्मी मिल सके। थोड़ी देर तक वो मुझसे चिपकी रही, लेकिन फिर वो कसमसाने लगी और अपने आपको मुझसे छुड़ाने की कोशिश करती रही.

उसके मुंह से लम्बी सी आह्ह निकल गयी- आहहहहहह … डैडी … आपका लण्ड … आह्ह।लण्ड को रमेश ने अभी आधा ही घुसाया था. मैंने रीतेश सर का फ़ोन नंबर बहाने से ले लिया कि कुछ सब्जेक्ट में कुछ प्रॉब्लम आएगी तो मैं पूछ लूंगी. वो मुस्कुराया और ऊपर इशारा किया, ऊपर से दरवाजा खुला और दो हाथ बाहर आए.

मैंने फिर कहा- घबरा मत डार्लिंग, प्रियंका से पूछ कर देख कितना मज़ा आता है.

मुझे बहुत डर लग रहा था क्योंकि एक तो मैं पहले उसकी नजरों में गिर गया था. जिसका मुंबई में एक छोटा सा बिजनेस है और अपनी इधर वो अपनी फैमिली के साथ रहते हैं. ऐसा क्यों पूछ रही हो?”मेरा मतलब है कि सेक्स के दौरान तुम्हें उत्तेजना होती है?”कैसी उत्तेजना?”अभी बताती हूँ, कैसी उत्तेजना.

और वो जोर जोर से सी सीई सीईई करके आवाज करती रही।मैंने उसका एक हाथ मेरे हाथ में लिया और मेरे लंड की तरफ इशारा किया।पहले तो वो पैंट के ऊपर से ही मेरे लंड को मसलने लगी. कोमल- नो वे … मैं तुम्हें अच्छी तरह से जानती हूँ … अगर मेरे हसबैंड को पता चल गया, तो मैं कहीं की नहीं रहूंगी.

जब भाभी ने पूछा था कि दूध पीकर ही खत्म करना है … या कुछ आगे भी बढ़ोगे. बस अधनंगे अपने जिस्म को ढकने के लिए एक दुपट्टा डाल लेती थी।पर अब रोहन के साथ रोहित भी था घर पर. कई बार जब वो मुझे छेड़ती थी तो मेरे लंड से प्रीकम अपने आप निकलना शुरू हो जाता था.

लड़कों की बीएफ वीडियो

कुछ लोगों की खूबसूरती लाजवाब तो होती है, पर उनकी मासूमियत और तहजीब की वजह से वो कामवासना की नजर से नहीं देखी जाती हैं, बल्कि प्यार और पूजा की नजरों से देखी जाती हैं.

पहले तो मुझे गन्दा सा लगा, पर दूसरी तरफ सोचा कि राजन सह ले … बाद में मजे आने हैं. अब आगे:ज़ब मैं उठी, तो शाम के 6 बज चुके थे हम लोगों ने 12 घंटे के नींद ले ली थी. उन सभी की प्राइवेसी का ख्याल रखते हुए मैंने अपना और बाकी सभी का नाम बदल दिया है.

पर मैं अपने पेट तक आती, समीज और पेंटी के ऊपर से भी खुद को पूरा निहार कर असंतुष्ट ही रही. मैंने एक प्लान बनाया और एक फेक आईडी से 15 – 16 पॉर्न क्लिप की वीडियो उसके मोबाइल पर सेंड कर दीं. शर्मा के सेक्सी वीडियोअम्मी पानी लेकर आईं और पूछने लगीं- रात को मज़ा आया बेटा?मैंने कहा- नहीं अम्मी … अभी तो मुझे आपकी गांड भी मारनी है.

भाभी भाभी के नंगे बदन को देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और भाभी को चोदने की इच्छा मेरे अंदर मेरे जाग गई. वो बोला- चिंता मत कर, मैं तेरी बीवी को ऐसा चोदूंगा कि वो फिर और कोई लौड़ा नहीं लेगी। उसको रुला रुला कर चोदूंगा। अगर वो थक गयी तो फिर तेरी गांड मारूंगा.

हाँ बोलिये न अंकल?”क्या मैं और तुम अपनी जरूरतों को पूरा कर सकते हैं?”क्या मतलब?”मैंने उनका हाथ अपने हाथों में लिया और कहा- मैं तुम्हें पसंद करने लगा हूँ. गांड तो उसने भी मेरी मारी, मगर राजवीर के लिए सब कुर्बान।सीमा- तो इस तरह प्रिया एक ही रात में दो भाइयों से चुदने वाली औरत बन गयी।इस बात पर सबके ठहाके फिर से गूंज उठे. अब तक सुनील और विशाल दोनों ही कंडोम से सेक्स करते थे ताकि बच्चे की जिम्मेदारी से बचा जाए.

’मैंने दो उंगलियां चूत में डाल कर मौसी की चूत का मुआयना किया … जो अब तक गीली हो चुकी थी. आप चाहते हैं कि मैं भाई के साथ? … आप ऐसा सोच भी कैसे सकती हो?चित्रा- देख आलिया, कल तुम किसी से शादी जरूर करोगी. मैंने दीपिका के टॉप में पीछे से हाथ डाला और उसकी कमर को सहलाने लगा.

इस तरह से उसने बार बार किस करते हुए सोनम को बुरी तरह से तड़पा दिया.

जब मुझे अहसास हुआ कि ससुर जी आ चुके हैं, तो मैंने अपने पति से कहा- अपनी शादी को कितने साल हो गए, आप मुझे अब तक एक बच्चा नहीं दे पाए. उनके पेट के नीचे दो तकिया थे, इसलिए उनकी कमर ऊपर उठी हुई थी और उनका सर बिस्तर में दबा था.

अमनप्रीत अपना लंड अपनी पैंट की जिप से बाहर निकाल कर बेड पर लेटा हुआ था. जब एक साल पहले हमने पहली बार सेक्स किया था, तब मैंने कोमल की हालत पतली कर दी थी. मेरा मन हल्का लगने लगा, मैंने उससे पूछा- मुझे लगता था कि तू अभी सम्भोग से अछूती है.

फिर कुछ देर बाद सुहास ने मुझे बेड पर लेटा दिया और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए. मैं अपने पति के साथ गाँव की शादी में गयी तो पड़ोस के एक घर में रुके. जैसे जैसे मेरे डिस्चार्ज का समय करीब आ रहा था, मेरी स्पीड बढ़ती जा रही थीं.

दिल्ली कॉलेज के बीएफ दोस्तो, यह कहानी पिछली कहानियोंयारानाभाई-बहन ननदोई-सलहज का यारानायाराना का तीसरा दौरयाराना का चौथा दौरके आगे की कहानी है।जैसा कि आप सबको पता है कि कहानी अब तक दो मुख्य पात्रों के इर्द गिर्द घूमती रही है जो कि हैं राजवीर (मैं) और मेरी पत्नी रीना।इस वाइफ स्वपिंग के याराना में हम अलग अलग समय पर अलग अलग जोड़ों से मिले। इस याराना में सबके साथ ही बहुत मजा आया. तुम्हारी चूचियां, तुम्हारे बदन की खुशबू बदली बदली सी क्यों है?मेरे टनटनाते हुए लण्ड की खाल आगे पीछे करते हुए नीरा बोली- खुशबू नहीं बदली, मैं ही बदल गई थी.

देसी भाभी की चुदाई हिंदी बीएफ

यह साइट समाज में प्रैशरकुकर में सेफ्टी-वॉल्व जैसा कार्य अंजाम देती है. मैंने रुकैय्या की चूत से अपना लण्ड निकाला और अम्मी की गांड में उतार दिया. फिर हीना थोड़ी नीचे सरकी और काम वासना से लाल हो चुकी अपनी नजरों से मुझे एक बार और निहारा और मेरे मुंह पर अपना मुंह टिका दिया.

कुर्ते के नीचे उसने वो छोटी कुर्ती या समीज पहिन रखी थी, मैंने उसे भी उतरवा दिया. इधर मेरी सास भी चिन्तित थी कि सीमा तो शादी के एक साल के अन्दर ही मां बन गई थी लेकिन हनी नहीं बन पा रही है. सेक्सी महिमामैंने उसके हाथों को पकड़े पकड़े ऊपर उठने का इशारा किया और दीपिका जैसे ही उठी, मैंने उसे अपनी ओर खींच कर अपनी गोद में बैठा लिया.

पीछे से प्रिया आई और रिंकी को सुनील की छाती से ऊपर तक फिसलने को कहा और खुद अपने पैरों के तलुओं से सुनील के टट्टे और गांड सहलाने लगी.

हमारे घर में मम्मी, पापा, मैं, मेरी पत्नी नीरा व मेरा छह वर्षीय बेटा संजू है. मरी सिसकारियाँ निकलने लगी थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…और इसी तरह चुदते चुदते मेरा पानी निकल गया.

अविनाश- उसकी छोड़ो, तुम बताओ … क्या तुम हमारे लिए इतना नहीं कर सकते हो. एक दोस्त के साथ उसकी दोस्ती गहरी हो गयी और उन दोनों ने इस रिश्ते को और आगे बढ़ाने की सोची. कमरे तक पहुंचकर सुमन जल्दी से अन्दर चली गई, शायद उसे बाथरूम जाने की जल्दी थी.

या तो बंदी नहीं मिलती या जगह।फिर मैं गुस्से में फ़ोन रख के सो गया।अगले दिन मैंने अपने दोस्त के फ्लैट का जुगाड़ किया और उसे बोला कि सीधा वहीं आ जाये।मैंने उसे 1 बजे बुलाया था और खुद मैं 11 बजे कंडोम और काफी सारे फूल लेकर पहुंच गया था। मैंने थोड़ी सफाई की.

गुड्डी रानी ने जीभ निकाल के कुत्ते की तरह पहले बेबी रानी का हाथ और फिर अपने होंठों के आस पास लगा हुआ भी चाट लिया. इस खेल में दोनों ठंडी ठंडी आहें भर रहे थे।कुछ देर बार रोहित रोहन के शरीर से अलग हो गया. प्लीज आज मत रोको।और यह कहते हुए वे मेरे ऊपर आ गए, मेरी ब्रा को एक झटके में खोल दिया और मेरे नंगे बूब्स उनके सामने थे.

परिष्कार मधु का सेक्सी वीडियोमैंने दूसरी वाली परफ्यूम की शीशी गुड्डी के हाथ में दे कर कहा- गुड्डी यह जो तूने कैंडललाइट वाला काम किया उसके लिए तोहफा. इतना कहते कहते नीरा ने मेरे लण्ड का सुपारा चाटना शुरू कर दिया और थोड़ी देर बाद अपनी टांगें फैला कर मेरे ऊपर आ गई.

बीएफ सन 2018

मैंने उसे कहा- डियर मुझे जाना होगा!तो उसने कोई फोर्स नहीं किया, कहा- भाभी जी, अब आप जाओ. मैंने उससे कहा कि रकुल और नील को पता न चले कि ये दोनों मालदीव जा रहे हैं. आप बस बताते जाइये कि क्या करना है!राजवीर- ठीक है नील! क्या करना है वो मैं तुम्हें सबके जाने के बाद बताऊंगा।रणविजय- अरे ऐसा क्या है जो सबके जाने के बाद बताएगा? हमें भी सुनना है, ऐसा क्या करने वाले हो तुम दोनों, अभी बताओ सबके सामने.

चाची के मुँह से ये सुनते ही मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और गोली की रफ्तार से चाची को चोदने लगा. ये कहानी तब की है, जब मैं 19 साल का था और दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ता था. सोनम का एक हाथ मेरे लंड को सहला रहा था और दूसरी तरफ दूसरा हाथ मेरे दोस्त मयंक के लंड को सहला रहा था.

मैंने पूछा- कैसी लगी बाबूजी, तुम्हारी भाभी की चूत?वो हवस भरे अंदाज में बोला- कयामत है जी, एकदम से कयामत।यह कह कर उसने सोनम की चूत पर एक प्यारी सी किस कर ली. कामवासना में मेरे मुँह से भी आवाजें आने लगीं- आंह चोदो … और चोदो … मेरा निकलने वाला है. संजू बोली- अच्छा और क्या क्या सीखा है?ये कह कर संजू ने बड़े कातिलाना अंदाज में अपना नेकलेस और बड़ा वाला मंगलसूत्र गले से उतार दिया.

मैं उसके ऊपर बैठ कर लंड राइडिंग करने लगी।और वह नीचे से मेरे बूब्स चूसने लगा. रोहित ने मेरी बीवी की गांड पर हाथ फेरा और दोनों चूतड़ों पर एक एक चपत लगा दी.

अपने माथे पर हाथ मारते हुए मैंने खुद से कहा- अबे चूतिये, चूत तेरे कमरे में थी और तू मुठ मार कर गुजारा करता रहा.

अम्मी ने पूछा- आज जल्दी कैसे आ गया?मैंने कहा- बस आज कॉलेज में पढ़ाई ही नहीं हो रही थी … तीन फैकल्टी आई ही नहीं थीं. హాట్ సీన్స్फिर मैंने मनीषा भाभी को बोला कि तुम मेरी ओर मुँह करके मेरे ऊपर बैठ जाओ और अपने दोनों हाथ दीवार पर रख लो. माया खलीफा सेक्सी वीडियोहमारे एक्जाम्स आने वाले थे और वो एकाउंट्स में थोड़ा ढीला था, तो उसने मुझे पढ़ाने की रिक्वेस्ट की. चाची को साड़ी बांधते हुए मैं काम वासना से ऐसे घूर रहा था … जैसे कोई भूखा शेर अपना शिकार देख रहा हो.

लेकिन आप तो जानते हैं कि हमारे पास जो चीजें होती हैं, हम कभी उसकी कद्र नहीं करते, बल्कि उस चीज के पीछे भागते हैं, जो हमारे पास नहीं होती.

लौड़ा हाथ में पकड़ते ही दीपिका उठ कर बैठ गई और बोली- कितना बड़ा और मोटा है आपका हथियार! इसे बाहर तो निकालो, क्यों छुपा रखा है?मैं बेड से नीचे खड़ा हो गया और मैंने दीपिका से कहा- आपने आप निकालो, ये आज से आपकी चीज है. मैं भी लंड चुसवाने का पूरा मजा ले रहा था और मेरी आंखें आनंद में बंद होने लगी थीं. आपको मेरी एक्स गर्लफ्रेंड की चुदाई की कहानी कैसी लगी? मुझे मेल करें.

मैंने अपनी जीभ वहां लगा दी काफ़ी समय तक उसकी चूत चाटता रहा जब तक उसका पानी ना निकल गया।फिर धीरे से मैंने अपनी गर्लफ्रेंड की गान्ड के छेद में एक उंगली धीरे से डाल दी. मैंने उसके नर्म नर्म चूतड़ों पर हाथ से दबाते हुए उसकी गांड के छेद को सहलाना शुरू किया तो वो ‘न. मैंने चौंकते हुए उससे कहा- बारहवीं में? तुम्हें देख कर लगता तो नहीं है.

बीएफ सेक्स मजेदार

वह बोलीं- मैं तुझे अच्छा लड़का समझती थी … और तू ऐसा कर रहा था मादरचोद, हवसी साले भड़वे. अब दोनों की सांसों की आवाजें धीरे धीरे कम होती जा रही थी।इस सब काम में बाबूजी को लगभग 15 मिनट लगे थे, करीब दो मिनट बाद बाबूजी ने भाभी के होंठ चूमे और गाल थपथपाये और बिस्तर से उतरने लगे. क्या कभी आपने किसी और की बीवी के साथ सेक्स किया है? या कभी आपने एक से ज्यादा लड़की के साथ सेक्स किया है? आप मुझे मेल और कमेंट करके जरूर बताना.

उन्होंने एक चुदासी रंडी की तरह उंगली के इशारे से मुझे बुलाया और साड़ी बांधना सिखाने के लिए कहने लगीं.

दरअसल मैं देखना चाह रहा था कि जो आग मेरे अंदर लगी हुई है, क्या वो आग उसके अंदर भी लगी हुई है या नहीं?दीप्ति जिस तरीके से मुझे छेड़ती थी उससे मुझे थोड़ा विश्वास तो होने लगा था कि शायद उसके अंदर भी वही भावनाएं जन्म ले चुकी हैं जो मेरे अंदर हैं.

उसने मुझसे पूछा- स्वाद कैसा लगा?मैं हंस दिया और फिर से लंड चूसने लगा. दीदी और बच्चों को भी पैक करके दे दिया था और अपने लिए भी बनाकर रख दिया था। बस मैं उसे फ़टाफ़ट गर्म करके ले आती हूँ आप बैठो. तेरे पास सेक्सीसंजू नीचे बैठ गई और रोहित के पेट, नाभि को चूसते हुए उसके पजामे को नीचे खींच कर उतार दिया.

चुपचाप टांगें चौड़ी करके गांड को ढ़ीली छोड़ दे और गांड चुदवाने का मजा ले ले. राशि जोर जोर से सिसकारने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… हांह … और जोर से… चोदो, और जोर से झटके मारो. जितना भाभी छुड़ाने की कोशिश कर रही थी मेरी पकड़ और ज्यादा मजबूत हो रही थी.

फिर जैसे ही मैंने अपने होंठों से उसकी चूत की बड़ी फांकों को छुआ तो दीपिका एकदम से जोर से ‘आह्ह्ह … आआ राज … स्सस … आईया …’ करके चिल्लाई और उसने अपने चूतड़ों के हिस्से को ऊपर उठा कर चूत को मेरे होठों से जबरदस्त तरीके से रगड़ दिया. मैंने उससे पूछा कि आपने मेरी कौन सी ऐड देखी थी तो उसने बताया कि मसाज वाली एड देखी थी.

मैंने कहा- चाची यार ऐसा ना कहो, अभी तो मैं शुरू हुआ हूँ और आप रुकने का नाम ले रही हो.

नीरा अक्सर ऐसा करती थी, यह इस बात कि इण्डीकेटर है कि आज चुदाई होगी. मगर ये क्या? अचानक ही मैं चरम सीमा पर पहुंच गया और इससे पहले कि मैं वीर्य वेग को थोड़ा रोकने की कोशिश करता मेरा वीर्य उसकी चूत में निकल गया. मेरी पैंटी और टांगों के बीच बह रही है।मेरी इस बात पर हम दोनों हँसने लगे.

सेक्सी दुआ जिया- कैसा रिलेशनशिप? अगर आज मेरी जगह भाई होते, तो पता है इससे आपके रिलेशनशिप पर क्या असर पड़ता?उधर मुझे कमरे में कुछ साफ़ सुनाई नहीं दे रहा था, इसलिए मैंने सुनने की कोशिश बंद कर दी और बेड पर बैठ गया. मेरी नंगी टाँगें फैला कर मेरे बेटे ने मेरी चूत को चाटना चालू कर दिया.

सामने टीवी पर पोर्न वीडियो भी चल रही थी इसलिए उत्तेजना भी तेजी से बढ़ रही थी. पांच दिनों की परेशानी के बाद मैं खुद में नई उर्जा को महसूस करने लगी. बेबी रानी ने गुड्डी रानी के बालों को लपेटे तो रखा मगर इतना ढीला कर दिया जिससे वो आराम से चूस सके.

कम उम्र की लड़की का बीएफ

”मना कर देती तो चुदती कैसे?”खैर, अब तुम आराम से मजे ले लेकर चुदवाओ. मेरा लावा अम्मी की चुत में फूट पड़ा और मैं झड़ जाने के बाद अम्मी के ऊपर ही लेट गया. फिर वो तीनों खड़ी होकर अन्दर चली गईं और हम तीनों बियर पीने में मस्त हो गए.

अगर वो तैयार हुई तो हम तीनों आज मजा लेते हैं।वो एक बार में ही तैयार हो गया।उसके बाद मैं होटल आ गया, होटल में सुमन लेटी हुई थी। मैं भी उसके बगल में लेट गया।शराब की महक सुमन ने भाम्प ली, उसने तुरंत कहा- अरे तुम वहाँ पीने गए थे क्या?अरे नहीं वो दोस्त है और ये सब तो होता हैं दोस्ती में! तुम्हें भी पीनी है क्या?”कल तो पिलायी थी. जिस भी अंग पर मेरे गर्म होंठ लगते तभी दीपिका के मुंह से गर्म आह्ह निकल जाती थी.

दीप्ति की गांड उसकी पजामी में कई बार ऐसी मस्त लगती थी कि अचंभित हो जाता था.

कोमल- क्या कर रहे हो?मैं- देखो … उसने हमें देख लिया है, वो तुम्हारे पति को कॉल करे … उससे पहले तुम उसको भी इस खेल में शामिल कर लो … तब ही हम दोनों बच पाएंगे. गार्डन में बहुत लोग थे, पर वे सब बहुत दूरी पर थे और सब अपने अपने में मस्त थे. ”अब्बू के कमरे के अधखुले दरवाजे से झांककर मैंने देखा कि रुकैय्या अब्बू का तहमद हटाकर उनका लण्ड चूस रही थी और अब्बू रुकैय्या की चूचियां दबा रहे थे.

रोहित बोला- प्लीज भाभी ये तो मेरा आखिरी बार है ना … तो थोड़ा सह लीजिए ना. बाकी लड़कियों का तो और भी बुरा हाल था, सबके हाथ उनकी पैंटी में थे और अपनी अपनी बुर सहला रही थी. मायरा की चूचियों को मैं चूसने लगा और उसने मेरे सिर को अपने चूचों पर दबाना शुरू कर दिया.

आआआ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह!” करके ऐसे चिल्लाई जैसे चूत में पेला गया लण्ड गले तक पहुंच गया हो.

दिल्ली कॉलेज के बीएफ: आप लोग तो जानते ही हो कि अपने देश में फेक आईडी चलाने वाले भी बहुत लोग होते हैं. वो मदहोश हो चुकी थी।रमेश ने रिया को खड़ी होने के लिए कहा और खुद उठकर बैठ गया। उसने रिया की नाभि को चूमा और उसमें जीभ घुसाकर चाटने लगा। रिया खड़ी खड़ी आहें भर रही थी।वो अपने दोनों हाथ रमेश के कंधों पर रखे हुए थी। उसकी आंखें बंद थीं और भवें कामुकता से तनी हुई थीं। रमेश ने रिया की चूत में उंगली घुसा रखी थी.

लेकिन उनकी गर्म सांसों से जाहिर था कि मौसी लंड के लिए उत्तेजित थीं. उसने अपना बॉक्सर नीचे कर दिया, तो उसका खड़ा लंड मेरी आंखों के सामने हिलने लगा. सुनील बोला- ज्यादा नौटंकी मत कर, मैं एक घंटे से बाहर खड़ा हुआ अपना लंड सहला रहा हूँ.

इस अवस्था में मुझे उंगली करने में काफी परेशानी हो रही थी … तो मैं बेड से उतर गया.

आलिया- भाभी अगर आप उसी बारे में बात करने आई हैं, तो मुझे कोई बात नहीं करनी है. मैंने दोनों हाथों से उसके बालों को पकड़ लिया और उसके साथ मुख मैथुन शुरू कर दिया. मैंने अपने हाथ से उसका पल्लू हटाया उसने ब्रा टाइप का ब्लाउज पहन रखा था जिसमें उसकी दूध सी गोरी चूचियां बाहर निकल रही थीं, ब्रा को फ़ाड़ देना चाहती थी।मैंने अपनी गर्लफ्रेंड का ब्लाउज उतारकर उसकी फ़िरोज़ी ब्रा खोलकर उसकी चूचियों को क़ैद से आजाद कर दिया.