बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी

छवि स्रोत,बीएफ हिंदी फिल्म सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

वीडियो बीएफ पिक्चर ब्लू: बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी, और वो मेरा अंडरवियर उठाते हुए और दोनों हाथ से ऊपर उठाकर मेरी तरफ देखने लगी- ओह.

बीएफ सेक्स व्हिडीओ कॉम

मुझे पता ही नहीं चला।अब मैं उसकी साड़ी को खोल रहा था, साड़ी उतारने के बाद वो मेरे सामने पैंटी और ब्रा में थी।मैंने उसे गोद में उठाया और बेडरूम में ले जाकर बेड पर बिठाया। मैंने उसके पैरों को उठाया और बारी-बारी से उंगलियों को चूसने लगा। इन नाजुक अंगों को चूसने के कारण वो सिसकारियाँ भरने लगी थी।वो बोली- नवीन. अंग्रेजी में बीएफ पिक्चर दिखाओतो वो मुझे देख कर खुश हो गई और मेरे करीब आते हुए मुझसे गले लग गई, उसकी चूचियाँ मेरे सीने में दब रही थीं।मेरे शरीर में उत्तेजना पैदा होने लगी.

शायद नींद कमजोर हो रहे थी। मैंने जल्दी से एक की बार में मेरा लण्ड उसकी गाण्ड की दरार में डाल दिया। बस दो मिनट में ही मैंने निकाल लिया. ब्लू सेक्स नंगी पिक्चरऔर वैसे भी कल रात में तेरी भाभी ने काफी जोरों से मालिश की थी। तेरी और तेरी भाभी की आवाजें कल रात को जब में पानी पीने उठी थी.

वो मेरे लण्ड को चूसने लगी, फिर बोली- चल अब जल्दी से मुझे चोद डाल!मैं अपना लण्ड उसकी चूत पर रख कर मसलने लगा।वो तड़पती हुई बोली- चल अब जल्दी से अन्दर डाल दे.बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी: तब जाकर कोमल को चैन आया।आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है? आप बस जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो!कहानी जारी है।[emailprotected].

जो अब फूल गए थे और पहले से ज्यादा कड़क हो गए थे।मैंने जब उसे देखा तो वो ये देख कर इतराने और मुस्कुराने लगी। मैंने देर ना करके उसके मम्मों को मुठ्ठी में पकड़ा और बड़े प्यार से सहलाने लगा और सहलाने के साथ-साथ मस्त रसीले आमों को बीच-बीच में थोड़ा दबा भी लेता था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तब उसने अपना हाथ मेरे हाथों पर रख कर कहा।रिया- क्या यार अर्शित.अब वो पूरी नंगी संगमरमर की मूर्ति तरह लग रही थी।मैंने उसके चूचे चूसना शुरू किए। फिर मैंने उसकी चूत की वो चटाई की.

बीएफ चुदाई वाला सेक्सी - बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी

अपनी पढ़ाई के लिए मैं पार्टटाइम जॉब हेतु महिलाओं के जिस्म की बॉडी मसाज का काम करता हूँ। अपने काम से मैंने कई मेमों.और तो और गाँव की नई-नई दुल्हनों की भी चूतें देखी हैं।भाभी- अरे वाह.

फिर अगले दिन ताई जी और ताऊ जी किसी काम से बाहर जा रहे थे और घर में खाना बनाने वाला कोई नहीं था तो सुबह ताई जी घर आकर मम्मी को बोल गईं कि संदीप घर में अकेला है और उसको खाना दे देना. बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी अब जल्दी से इसको चूत के दीदार करवा दो।सन्नी हँसता हुआ उस घर के पास गया और घन्टी बजाने लगा।थोड़ी देर बाद नौकर ने दरवाजा खोला.

मैं समझ गया कि वो नशे में टुन्न हैं।गरमी के दिन होने के कारण मकान मालिक भी ऊपर ही टहल रहे थे, उसके बावजूद भी मैं दीदी के दूसरे कमरे में चला गया।दीदी रसोई से मेरे लिए चाय लेकर बगल वाले कमरे में आईं। उस कमरे की लाइट खराब होने के चलते वहाँ अन्धेरा था।मैं दीदी से बोला- आपको चोदने का मन कर रहा है।दीदी बोलीं- जीजाजी घर पर ही हैं और मकान मालिक के घर वाले छत पर टहल रहे हैं.

बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी?

तो वो उछल पड़ती थी।काफ़ी देर मम्मों को चूसने के बाद मैंने उसकी साड़ी उतार दी। अब वो सिर्फ़ पेटीकोट में थी. फिर कपड़े पहने और एक बार फिर एक-दूसरे को चूमा और ऊपर आ गए।यह सिलसिला खूब चला. तो उसने कहा- आपकी फीस?मैंने कहा- वो मैं कल काम पूरा होने के बाद ले लूँगा।वो बड़ी अदा से बोली- कल काम ‘पूरा’ करके ही जाइएगा.

मुंबई से मेरी चचेरी बहन पिंकी गरमियों की छुट्टियाँ गुजारने मेरे घर आई थी। वो अभी कमसिन उम्र की थी. उसे चूमना शुरू कर दिया।इस बार सोनी मेरा पूरा साथ दे रही थी। मैंने उसे 15 मिनट तक चूमा और फिर मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए।उसने अन्दर लाल रंग की ब्रा और पैन्टी पहनी थी।मुझसे अब कण्ट्रोल नहीं हो रहा था. हम दोनों के दिलों की धड़कनें तेज थीं और एक प्यारा सा अहसास हो रहा था।मैं इस काम में नया खिलाड़ी था और धीरे-धीरे किस कर रहा था.

फ़िर मैंने उसकी जींस और ब्रा दोनों निकाल दीं। अब पूजा मेरे सामने लाल रंग की पैन्टी में थी। उसकी पैन्टी के सामने का हिस्सा पूरा गीला हो चुका था, मैंने उसकी पैन्टी उतार दी।अब पूजा पूरी नंगी मेरे सामने थी और वो मेरी चड्डी उतारने लगी।हम दोनों नंगे एक-दूसरे को कुछ देर देखते रहे।पूजा मेरे लन्ड को पकड़ कर आगे-पीछे करने लगी।मैं- मुँह में ले लो जानू!वो- अपने जानू का लन्ड चुसवाओगे. तो उसकी सील पैक चूत कैसी कमाल की होगी।जैसा कि आपने मेरी पहली कहानीपड़ोसन भाभी की चूत चुदाई जन्नत मजामें आपने पढ़ा कि किस तरह सीआईएसएफ़ वाले की बीवी और बहन को पेपर दिलाने के लिए ले जाकर भाभी को उसकी ननद के आगे चोदा था. तो उन्होंने अपना पोज़ बदला और अपने घुटने हौले से मोड़ लिए और मुझ पर जैसे अपने घुटनों के बल बैठ गईं।पर जैसे ही भाभी ने इस आसन में पहला शॉट लगाना चाहा.

जिससे वो लगभग चरम सीमा पर पहुँचने वाली हो गई थी। मैंने अपनी उंगली से उसकी चूत के अन्दर के जी-स्पॉट को सहलाने लगा. जैसे लण्ड को अन्दर महसूस कर रही हों।कुछ पलों बाद बुआ मेरे ऊपर कूदने लगीं.

सेजल के बोलते ही मैंने उसे पीछे से अपनी बाँहों में जकड़ लिया और उसकी ब्रा को उतार दिया।उसके मम्मों के निप्पल काले थे.

गर्मियों की छुट्टियों में मैं अपने घर आ गया।एक दिन शीतल मेरी बहन से मिलने मेरे घर आई।उसको देख कर फिर से मेरा दिल बोला- काश.

ये शब्दों में बयान करना शायद थोड़ा मुश्किल हो।धीरे से मैंने एक हाथ उसकी सलवार के नाड़े की तरफ बढ़ाया. मगर जैसे ही उसका ध्यान रॉनी की तरफ़ गया उसको बहुत शर्म आई और उसने अपने चेहरे पर हाथ लगा लिया।पुनीत- हाँ सही कहा तूने और ये शर्माना छोड़. ’ आदि आवाजें निकाल रही थी और मेरे लंड को आमंत्रण दे रही थी कि वो उसकी कोंपल सी कोमल योनि का मर्दन करके उसे कली से फूल बना दे।मैंने उसकी चूत के नीचे एक तकिया लगाया और अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर लगाकर थोड़ा सा ही धकेला था कि वो दर्द से बिलबिला उठी.

इसी लिए मैं खुद ही लगा लेता हूँ।’माँ की आँखों में चमक थी और मादक मुस्कान के साथ वे बोलीं- भला मेरे बेटे के लण्ड की मालिश से मेरा हाथ क्यों दुखेगा. रवि ने उसके चूचों को दोनों हाथों में भरा और जोर जोर से दबाते हुए उसकी चूत में तेज तेज धक्के मारने लगा।वो लड़की चीखने लगी. वहीं जा रही हूँ।मैंने कहा- कब तक आओगी?बोली- शाम 7 बजे तक आऊँगी।मैंने कहा- ओके, ठीक है।‘हम्म.

यदि आप ये जानना चाहते हैं कि आपकी पार्ट्नर आपसे सेक्स करते टाइम संतुष्ट हुई या नहीं.

प्लीज़ पहले अपना गाना रजिस्टर पर लिख दो और अपनी प्रैक्टिस शुरू करो।प्रैक्टिस के वक्त वो स्लीव लैस टॉप पहन कर आती थी। जब भी डांस करते वक्त वो अपने हाथ ऊपर उठाती. ला गाड़ी दे कागज और डीएल दिखा।पुनीत ने पायल को कहा कि वो अन्दर ही रहे और खुद नीचे उतर गया।पुनीत- क्या बात है हवलदार साहब. ’ निकल गई।मैंने अब और जोर से धक्का लगाया तो लंड एकदम चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया.

मैं बाथरूम में जाकर फोटो निकाल कर लाती हूँ।’उसने बाथरूम में जाके फोटो निकाल कर सेंड किया. सुहागरात का ही तो डर लग रहा है।इतना सुनते ही मैंने उसको बाँहों में भर लिया. तो उसने सन्नी को इशारा कर दिया कि कोमल को अपने ऊपर लेटा कर अच्छे से चिपका ले.

मैं उस पर एकदम से टूट पड़ा और उसकी ब्रा को खोल दिया। जैसे ही उसके चूचे उसकी ब्रा से बाहर आए.

मेरा नाम सेक्स का राजा है, मेरी उम्र 20 साल है, मेरा लण्ड पूरा 6 इंच का है।मैं जानता हूँ कि रंडियों के लिए ये नाप छोटा है. लेकिन दोषी ने उसकी गाण्ड पर चमाट मारते हुए सौम्या की गाण्ड पक्की पकड़ कर रखी हुई थी ‘हाय दइया.

बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी वैसे ही मैडम ने मेरे सर को पकड़ कर चूत पर दबाने लगीं, दूसरी बार मैडम ने पानी छोड़ा. वो सामने से हटकर मेरी ओर मुँह करके हुईं और मुझे जोर का धक्का दे दिया।मैं गिरने ही वाला था कि संभल गया और अपना लंड हाथ से पकड़ कर लेट गया.

बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी ’ भरते थे। यह मुझे उनके कमेंट्स से पता चलता था कि मैं कैसी माल हूँ।मेरे भैया थोड़े पुराने ख्यालों के हैं. सो हम लोग ये सब सहन कर गए।इस तरह हम दोनों जेल जाने से बच गए और हम एग्जाम देकर खुशी-खुशी अपने कमरे पर लौट आए।आप सब अपने ईमेल जरूर लिख भेजिए।[emailprotected].

वो चल भी नहीं पा रही थी।उसके जाने के बाद मैंने सोचा कि कही साली 9 महीने बाद मुझे गिफ्ट ना दे दे.

दिवाली बीएफ सेक्सी

कि मैंने दो-तीन बार कॉलेज की एक लड़की के साथ सेक्स किया है।अब तो भाभी मेरे कमरे में आने-जाने लगी थीं और मेरी सब चीजों को भी देख लेती थीं।जब भाई नहीं होते थे. मुझे तो खयाल ही नहीं रहा कि घर में उनकी सासू माँ भी हैं।जब ख्याल आया तो मैं उठा और एक बार देख कर आया कि वो कहीं जाग तो नहीं गईं।फिर मैं वापस आया और अभी कुछ और करता कि भाभी ने कह दिया- जल्दी से अब चोद दो ना. जिससे मेरे लंड का सुपाड़ा सपना की चूत में करीब 3 इंच तक घुस गया, साथ ही साथ सपना की एक जोरदार चीख निकल गई.

धीरे से सीधा हुआ।अब मुझे सब कुछ साफ दिखाई दे रहा था। मेरे सीधे होने के कारण दीदी की नाइटी और थोड़ी ऊपर उठ गई। मेरा लंड अब लोहे की रॉड की तरह तना हुआ था।मैंने धीरे से दीदी की नाइटी कमर तक ऊपर कर दी, अब दीदी की पैन्टी मुझे साफ दिखाई दे रही थी। मैं एकदम खुश हो गया।अब मैं धीरे से और थोड़ा उससे सट गया और अब मेरा लंड दीदी की चूत पर टच होने लगा था।डर और ख़ुशी के मारे मेरी साँस फूल रही थी. फिर मैंने एक झटका और मारा पूरा लंड भाभी की चूत में फिट हो गया।भाभी की चीख निकल गई ‘आआई… ईउउउ. तो उसके फोन पर कॉल आ गई।मैंने ध्यान नहीं दिया कि मेरा नम्बर उसके पास आ गया है।उससे अगले दिन मैं दोपहर तक खाना खाने नहीं गया.

बहुत सेक्सी लग रही थी। पूजा अपनी चूचियां मेरे सीने में बार-बार सटा रही थी.

वो मैं आपको अगले भाग में पूरा किस्सा ब्यान करूँगा।[emailprotected]. सहेली के घर वालों को मुझे अपना भाई बताया और कहा कि मेरे साथ में आया है।फिर उनकी सहेली ने हम दोनों को गेस्टरूम में आराम करने के लिए कहा. फिर उन्होंने मेरी चूत में उंगली डाली और उंगली से मुझे चोदने लगे।जब मेरी चूत थोड़ी गीली हो गई.

आ जा।वो बिस्तर पर चित्त लेट गया और मैं उसके लंड को अपनी चूत में सैट करते हुए बैठ गई।तो वो बोला- बैठना नहीं है. लेकिन उस दिन उसने लॉक किया हुआ था।यह देखकर मेरा मन फिर उदास हो गया।मैंने धीरे से डोर को ठोका. और 5-7 झटकों में मैं चूत में ही झड़ गया।भाभी मेरे ऊपर ही लेट गईं और हम आपस में ऐसे ही होंठों को चूसने लगे।करीब 5 मिनट बाद भाभी पास ही लेट गईं और कपड़े से पहले मेरा लंड पोंछा फिर अपनी चूत साफ़ की।भाभी फिर मेरे लंड से खेलने लगीं और मैं उनकी चूचियां दबाने लगा और कभी चूतड़ों को सहलाने लगा।मैं बोला- जानू.

तेरे दोनों मम्मों को मैंने अपने होंठों में ले लिया है और तेरी चूत में अपना लंड डाल दिया है. यह सुन कर वो चली गई।शाम को जब हम चाय पी रहे थे तो उसने मुझसे आकर फिर पूछा.

बहुत मज़ा आ रहा है सर जी।अपना मज़ा और बढ़ाने के लिए मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला और बिस्तर से उतर गया। मुझे पता था कि वो घोड़ी नहीं बनेगी. कंप्लीट करके घर आया था। मैंने घर पर 2 -3 महीने रुकने के बाद सोचा कि मामी-मामा के यहाँ हो आऊँ. उसने सफेद रंग की कॉटन की पैंट पहन रखी थी जो काफी पतले फेबरिक की थी और उसमें से उसकी काली फ्रेंची उसकी जांघों पर कसी हुई साफ नजर आ रही थी जो जिप के पास जाकर एक बड़ा उभार बना रही थी।मैंने एक नजर उसको देखा और फिर चुपचाप बगल में से निकल गया।वो कुछ नहीं बोला और कुछ देर बाद सब ढोल के आगे नाचने लगे.

’मैंने अपनी स्पीड और बढ़ाई। अब मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था। मैंने नीचे से हाथ डाल कर उसकी चूत में उंगली डाल दी तो उसकी चूत में से पानी निकलने लगा।मैं अपनी दो उंगलियाँ उसकी चूत में चला रहा था.

मैंने दोनों दूधों को हाथों में लेकर मसलना शुरू किया जिससे वो सिसकारियाँ लेने लगी ‘आहहहह मरररर गई. फिर हम दोनों छत पर जा कर खेलने लगे।दरअसल उसने जिस चाहत पर मुझे खेलने के लिए ऑफर किया था. अब चूस ले।मैंने अब उसके खड़े लौड़े को बड़े आराम से मुँह में ले लिया। मुझे अब कोई दिक्कत नहीं थी, मैंने लण्ड को चूस-चूस कर और मोटा कर दिया।अब वो बोला- हिमानी तू पेड़ को पकड़ कर घोड़ी बन जा.

तब भी मुझे दर्द सा हो रहा था।थोड़ी देर बाद वो उठा और मुझे खड़ा किया. तो मैंने उससे कहा- सामान लेकर मैं कल आ जाऊँगा।इस सब में कितना खर्चा लगेगा.

इसकी मोटाई से ही अहसास हो रहा था कि आज मेरी बहन को इसे झेलना भारी पड़ेगा. तो कोई मुझे ये बताए कि मैं अपनी भाभी को गाण्ड मारने के लिए कैसे राजी करूँ।[emailprotected]. ’उसका शरीर एकदम जकड़ गया और उसकी चूत के मसल्स ने मेरे लंड को जकड़ लिया।वो एक फव्वारे की तरह बह गई और मैंने भी अपने लंड का पानी उसकी चूत को समर्पित कर दिया।वो पाँचवी बार झड़ चुकी थी.

हमको बीएफ देखना है

क्या कर रहे हैं।मैंने जाकर खिड़की में से देखा तो दोनों एक-दूसरे से चिपके थे और एक-दूसरे को किस करने में लगे थे।थोड़ी देर देखने के बाद मेरा मन भी चुदाई करने का होने लगा, मैंने भी दीपक को किस करना शुरू कर दिया।फिर से अन्दर देखा तो दोनों एक-दूसरे के कपड़े उतार चुके थे.

तो वो अचानक चौंक कर उठी और मुझे मना करने लगी।मैंने जब ज़िद की और नाराज़ होने लगा तो रिया ने अपने मम्मों की तरफ इशारा किया- इनको चूसो न. उसका आधार कार्ड बनाते समय मैं उसका हाथ पकड़े रहा और उसकी तरफ देखता रहा।क्या गर्मी थी उसके हाथों में. मुझे मेरी ईमेल[emailprotected]पर लिख कर जरूर बताइएगा और अगर आपको कहानी पसंद आई तो अपनी लंड से फोटो जरूर भेजिएगा और अन्तर्वासना पर कहानी को रेट करना और कमेंट करना मत भूलिएगा।आशा करती हूँ आपका और हमारा रिश्ता यूँ ही बरक़रार रहेगा।आपकी चुदकड़ जूही परमार.

आपका हाथ लगते ही बदन में बिजली सी रेंगने लगी।रॉनी- अच्छा ये बात है. तो उसने मेरे दोनों चूतड़ों को तबले की तरह बजाना शुरू कर दिया।तो मैंने भी हँस कर ‘हाँ’ बोल दिया- कर लो बाबा. नंगी नंगा वाला वीडियोफिर वो अपना गिलास पीने लगा और मैं कोल्डड्रिंक पीने लगा।थोड़ी देर में मॉम आकर बोलीं- चलो चिंटू खाना खा लो.

तो उसकी सहेली मान गई और अनामिका ड्रेस चेंज करके आ गई, हम डिनर के लिए निकल गए।मैंने डिनर करते हुए पूछा- मेरे फ्लैट पर चलो. जब मैं 12वीं की पढ़ाई कर रहा था और हॉस्टल में रहता था और तब मेरी पहचान कोमल (बदला हुआ नाम) से हुई। कोमल एक भरपूर माल किस्म की गदराई हुई लड़की थी.

हम दोनों इतने गरम हो गए थे कि आयशा मेरे निप्पलों में दांतों के निशान लगाने लगी थी. ’ कह रही थी।मैंने सोनी के चूचों को चूसना चालू किया और जोर-जोर से उसके हिलते हुए चूचों को चूस रहा था।सोनी को दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था. तो मैंने उनसे बोला- भाभी मैं झड़ने वाला हूँ।तो वो बोलीं- अन्दर मत झड़ना.

मैं राजस्थान का हूँ पर अभी मैं गुजरात में नौकरी करता हूँ। मेरी उम्र 27 वर्ष है. यह कहानी मेरे एक दोस्त रोहित ने भेजी है आप उसी के शब्दों में उसकी कहानी का आनन्द लें. मैं जल रही हूँ। मेरी आग बुझा दो आज।मैं- मेरी जान आज मैं तेरी सारी आग बुझा दूँगा।अब मेरी बारी थी.

और गीत भी साथ पड़ी चेयर को पास खींच कर बैठ गई।गीत ने सिमरन को कहा- यार किचन में जाकर कोल्ड ड्रिंक और जूस और स्नेक्स ले आ.

तो मैं उसको उसकी छत पर छोड़ कर आया।सुबह 6 बजे मैंने पिंकी को कॉल किया और बोल दिया- सोनी को मत उठाना आज उसकी सुहागरात बहुत अच्छी तरह से मनी है।तो पिंकी बोली- ऐसी वाली मेरे साथ कब मनाओगे?मैंने कहा- बहुत जल्द ही. तब शमिका कॉर्नर के ग्रोसरी शॉप पर खड़ी थी।शमिका उन चार लड़कियों में से एक थी जिसकी मम्मी को मैंने पिछली बार झूठा साबित कर दिया था और उसके एवज में शमिका की मम्मी ने तानिया नाम के एक शीमेल से मेरी दुर्गति करवा दी थी इस घटना को आप मेरी पूर्व की कहानियों में पढ़ सकते हैं।अब उस घटना के बाद आज पहली बार मेरा शमिका से सामना हुआ था। तो इस घटना को आगे जानते हैं।मैं कुछ लेने के लिए शॉप में गया.

जिसका नाम संजना था।हम दोनों में गहरी यारी-दोस्ती थी, हमारी रिलेशनशिप को 6 महीने हो चुके थे, अभी तक हम बस किस करके ही अपना काम चला रहे थे।हम जब भी मिलते. और मैं नॉटी नटखट कंचन हूँ, मैं अभी बीएससी कर रही हूँ। मेरी फिगर 34-30-36 की है, अब तो आप लोग समझ ही गए होंगे कि मैं कितनी हॉट माल हूँ।हमारे खर्चे ऐसे थे कि ना तो हम बहुत ज़्यादा ऐशो आराम से रहते थे. मैं भी नंगी ही थी। मैं उठी और अपनी ज़रूरत का सारा समान बिस्तर पर ले आई।वो एकदम बेहोशी में सोए हुए थे। मैंने नींद में ही उनकी गाण्ड और चूतड़ों की क्रीम और तेल से खूब मसाज की.

सुपारे को धीरे-धीरे मुँह में लेने लगी।बस 5 मिनट में ही पायल पूरा लौड़ा ‘गपागप’ मुँह में लेकर चूसने लगी। साथ ही साथ आंडों को भी हाथ से सहला रही थी।अर्जुन- चूस साली रंडी आह्ह. जिससे आवाज बाहर ना जाए।लन्ड और चूत की अभी भी लड़ाई चल रही थी। मैं अपने पूरे उफ़ान पर था। मैं चाह रहा था कि अपनी पूरी ताकत दिव्या को खुश करने में लगा दूँ। पूरा बिस्तर हिल रहा था। अब मैं झड़ने वाला था. कुछ तो चलते फिरते सेक्स बम्ब होते हैं जिनको बस चिंगारी भर की जरूरत होती है.

बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी जैसे कोई बम्बू घुसेड़ रहे हो।उनका कहना भर था बस मैंने मैम को बहुत ज़ोर से चोदना चालू कर दिया।मैम चुदाई का मज़ा ले रही थीं, अंकिता मेरे होंठों पर आकर किस कर रही थी और मैम अंकिता की चूत को चूसे जा रही थीं।मैम की चूत में अब और मज़ा नहीं था. तो वो चुप हो गई और फिर नशे में डूबने लगी।हम दोनों 69 में होने कि वजह से मेरा लौड़ा उसके मुँह के सामने ही था। नशा चढ़ते ही उसने पूरा लौड़ा चूस-चूस कर गीला कर दिया। मैं जन्नत की सैर कर रहा था। मेरा पैंतरा काम कर गया था और वो अब मेरा लौड़ा छोड़ने को तैयार नहीं थी।मैं भी उसके दाने को जुबान से रगड़ रहा था। इसी घमासान में उसकी चूत ने अपना शिखर पा लिया और प्रेम रस बहने लगा।मैं पलट गया.

बीएफ खुलासा

जिससे उसकी गाण्ड अब मेरी तरफ को हो गई थी और सारा पानी हम दोनों के ऊपर ही आ रहा था।यारों बाथरूम में पानी की बूंदों में एक हसीन लड़की की चुदाई करने से मजेदार बात और क्या होगी।अब मैंने अपना लण्ड सोनी की गाण्ड पर लगाया और जोरदार धक्का मारा, सोनी इस बार जोर से चीख पड़ी ‘आआहह. उन्हें कह कर मेरी नानी मुझे ऊपर भेज देती थीं और मामा मुझे ऊपर ले जा कर मेरे कमरे में मुझे सुला देते थे। लेकिन जब वो सीढ़ियों से ऊपर ले जाते. तुम्हारी सेवा करना चाहता हूँ।फिर तो मैं भी महारानी के तेवर में आ गई और बोली- ठीक है फिर आज आप ही सेवा कर लो। चलो अन्दर और मेरी जीन्स निकालने में मदद करो और ये नाईट ड्रेस पहना दो।बॉस बोले- फिर अन्दर क्यों जाना.

आज तो तेरी गाण्ड भी मारूँगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !राकेश जी ‘आअहह… आह्ह…’ की आवाज निकाल रहे थे और मेरे मुँह में ही झड़ गए, उनका वीर्य मेरे मुँह में भर गया. अम्मी ने मुस्करा कर ऊपर देखा और लण्ड को अपने मुख में डाल लिया। अंकल ने मस्ती में अपनी आंखें बन्द कर ली।अब अकरम अंकल के हाथ अम्मी की ब्रा को खोलने में लगे थे. ब्लू सेक्सी फिल्म दीजिएतो इसलिए वो जल्द ही मान गया और हम जल्द ही नींद की वादियों में खो गए।सुबह जब मेरी आँख खुली तो मैं बहुत मीठा-मीठा सा मज़ा महसूस कर रहा था और अपने लण्ड पर गीलापन महसूस करके मैंने अंदाज़ा लगाया कि मेरे छोटे भाई को कुछ ज्यादा ही अच्छा लगा है.

में खड़े होकर उसकी गाण्ड मार रहा था। अब इस स्टाइल में हम दोनों को ही बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।मेरे दोनों हाथों में उसकी चूचियाँ थीं और उसकी गाण्ड में मेरा लण्ड घुसा था।इस तरह से मैंने खड़ा करके उसको काफ़ी देर तक चोदा, इस दौरान भी वो झड़ी।अब मैं भी झड़ने के नज़दीक ही था, मैंने उससे पूछा- अपना पानी कहाँ निकालूँ?तो वो बोली- मेरी गाण्ड में ही निकाल दो.

वो हिजड़ों की भाषा में आशीर्वाद देने लगा।मैंने भी सोचा कि चलो रात का वक्त है. तो उसने धक्के मारने शुरु किए। उसके हर धक्के से मैं मज़े से ऊपर उछलती और चुदाई का मजा लेना चालू कर थोड़ी देर बाद हम दोनों ने अपना पानी छोड़ दिया।बाद में देखा तो बेडशीट खून से लाल हो गई थी, हमने वो चेंज की और सुबह जब मैं उठी.

उसने अपने होंठों को मेरे मुँह में दबा दिया। अपने होंठ खोल दिए और मेरा पानी जो उसके मुँह में ही था. जैसे कि मुझे नहीं ही पता कि मेरा हाथ क्या कर रहा है।उसने थोड़ी देर में कहना शुरू कर दिया- आप यह क्या कर रहे हो?मैंने बोला- सॉरी मुझे पता ही नहीं चला. और बोल नहीं सकती थी। मैं ये जानकर बहुत दुखी हुआ और फिर सबेरे 7 बजे वो और उसकी किसी स्टेशन पर सास उतर गए।जाते हुए उसने मुझे स्माइल पास की और ‘बाय’ का इशारा करके वो चली गई।मैं जब आज भी वो लम्हा याद करता हूँ तो बहुत इमोशनल हो जाता हूँ।दोस्तो, मैं आपके कमेंट्स का इन्तजार करूँगा साथ ही मैं आप सभी से फ़ेसबुक पर भी मिल सकता हूँ।[emailprotected].

हम खाली सुन रहे हैं आप ना आते तो मैं भी इसको मारने ही वाला था।पीछे-पीछे मुनिया भी बाहर आ गई और पुनीत के चेहरे पर थूक दिया।मुनिया- कुत्ते पैसे के बहाने तूने मेरी इज़्ज़त लूट ली.

बहुत पतले कपड़े वाली।मैंने कहा- ये तो नाईट गाउन है।तो बॉस बोले- तो पहन लो. मैंने फिर से अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए।अब हम दोनों पर सेक्स का पूरा खुमार चढ़ चुका था। मैं अब धीरे-धीरे कपड़ों के ऊपर से ही उसके चूचे दबा रहा था और वो बस सिसकारियाँ ले रही थी।उसके 36″ के चूचे बिल्कुल रुई की तरह बिल्कुल सॉफ्ट थे।अब मैं उसकी सलवार का नाड़ा खींचकर खोल चुका था. उसको सुरभि अपनी उंगलियों में दबा कर मींजने लगी।‘तूने तड़पाया था न मुझको.

भोजपुरी बीएफ हिंदीअब इतना मज़ा लेना तो इनका बनता है ना।टोनी- अरे मैं तो मजाक कर रहा हूँ. मेरी इस बात से वो खुश हो गईं और मुझे चूमने लगीं।तभी भाभी ने कहा- अब जल्दी अपना काम खत्म करो.

सेक्सी बीएफ डॉक्टर वीडियो

तो तृषा ने मेरा स्वागत किया और हम दोनों ऊपर के कमरे में चले गए।उसके साथ कुछ देर गप-शप के बाद उसने बताया कि उसको पढ़ने में कुछ दिक्कत हो रही है. मैं यहाँ कोई खेल के लिए नहीं अपनी आशा का बदला लेने आया हूँ। अब तू कुछ नहीं बोलेगी. तो वो बहुत दुखी हो गई।ये सब बातें मैंने उससे चैटिंग के टाईम ही बोल दी थीं.

यह सुनते ही मेरा लण्ड जैसे पगला गया और अँधाधुंध फायरिंग की तरह लण्ड अन्दर-बाहर जाने लगा।उसने भी अकड़ते हुए पानी निकाल दिया. उसके ख़त्म होते ही हम एक-दूसरे के होंठों पर लगे हुए केक को अपने होंठों से साफ़ करने लगे। फिर हमने उसे एक तरफ रखा और दूसरी पारी की तैयारी करने लगे।मैंने दोनों सिंगल बेड को मिलकर एक बड़ा बिस्तर बना दिया था। सोनिका ने थोड़ी देर के लिए मुझे बाहर भेजा। जब मैं अन्दर गया तो मेरी तो बांछें खिल गईं क्योंकि बिस्तर पर सोनिका नहीं. जिसमें लड़का लड़की बहुत पैशन से एक-दूसरे को किस कर रहे थे।वो देख कर बोली- भैया, ये क्या लगा दिया?तो मैंने कहा- ये तो नॉर्मल पिक्चर्स हैं।इस पर वो बोली- ये नॉर्मल है.

जिससे वो मुझसे दोबारा चूत चटाने के लिए हमेशा तैयार रहे और मुझे उसकी चूत मारने का मौक़ा मिले।कुछ ही देर में सोनाली ने चिल्लाते हुए अपने असीम आनन्द को प्राप्त किया और बोली- जल्दी उठो राहुल. लेकिन मैंने ग्रेजुएशन में एडमिशन लेने के साथ ही कंप्यूटर कोर्स भी ज्वाइन कर लिया था. मेरी हिम्मत और बढ़ गई।अब मैं अपना हाथ धीरे-धीरे उसकी जांघ और चूतड़ों पर फेरता रहा और उसके और थोड़ा नज़दीक हो गया.

फिर मैंने उसको हाथ से हिलाना चालू किया।तभी उसने कन्डोम निकाला और लण्ड पर लगाने के लिए मुझे दिया।मैंने कहा- अनु यहाँ कोई देख लेगा। लेकिन वो नहीं माना।मैंने लण्ड पर कन्डोम चढ़ा दिया।अब अनु बोला- देख हिमानी तेरा पसन्दीदा खुश्बू वाला कन्डोम है. तो वो मुझे कमरे में अकेले खड़ी मिल गई।मैंने पीछे से आकर उसकी पीठ पर हाथ रख दिया और पीछे से उसकी गर्दन पर चुम्बन कर लिया, वो चिहुंक गई और मुझको खड़ा पाकर कर उसने कहा- भैया यह म़त कीजिए.

क्योंकि अकेले उनको थोड़ा डर लगता था।मैं फिर से भाभी को चोदने के लिए सोचने लगा और प्लान बनाने लगा।जब भाभी सो गईं.

तुमसे बात करके मेरा दिल हल्का हो गया है।मैंने कहा- देखो भाभी आपको कभी कोई भी बात जो आपको परेशान करे. ಸೆಕ್ಸ್ ಬಿಎಫ್ ಇಂಡಿಯನ್उस रात मैं और मेरी बहन एक ही बिस्तर पर सो रहे थे। वो पिछली रात भी मेरे साथ अकेले इसी बिस्तर पर थी. xxx hd video हिन्दीमसलता रहा।मैंने उसके दोनों रसीले मम्मों को बारी-बारी से खूब चूसा।अब प्रियंका. और वो मेरे ऊपर गिर गई और मुझको यहाँ-वहाँ चूमने लगी।मेरे हाथ मेरे बस में नहीं रहे.

फिर बैठ कर लंड को प्यार से चूसने लगी।दोस्तो, उसके होंठों की गर्मी से मेरा लंड फिर कड़क हो गया। इस बार मैंने उसको घोड़ी बनने को बोला और मैंने पीछे से उसकी चुदाई करनी शुरू की।जैसे मैं आगे को धक्का देता.

उसका पानी कहाँ इतनी जल्दी निकलने वाला था।एनी ने झटके खाते हुए ही सन्नी का लण्ड चाट कर साफ किया और घुटनों के बल घोड़ी बन गई।अर्जुन- आह्ह. कभी ज़ोर से निचोड़ देता।सोनाली चाहे-अनचाहे मन से मुझसे हमेशा मना करती. मैं एकदम सपने से बाहर आया।वो लड़की अपने भाई को लेकर उतरी, उसे लेने के लिए एक दादाजी आए थे.

उसके बाल खींचने लगा। वो भी मेरे साथ मस्ती करने लगी। इसी मस्ती के दौरान बीच में एक बार मेरा हाथ उसकी चूची में लग गया. थोड़ा घूम कर आएँगे तो ठीक लगेगा।आप जल्दी से मुझे अपनी प्यारी-प्यारी ईमेल लिखो और मुझे बताओ कि आपको मेरी कहानी कैसी लग रही है।कहानी जारी है।[emailprotected]. मेरी शादी को अभी 6-7 साल बाकी हैं और तुम्हारी 1-2 साल में शादी हो ही जाएगी।हमारे यहाँ लड़कियों की शादी जल्दी हो जाती है.

वीडियो में बीएफ पिक्चर दिखाएं

नीचे सफेद रंग की कसी हुई पजामी पहनी थी जो बारिश में उसकी त्वचा से चिपक गई थी और कूल्हों पर सूट के कट में से उसकी गुलाबी पैंटी भी नज़र आ रही थी. वाओ देख तेरे अन्दर कैसे आग लगी है और मेरा लौड़ा बुझा रहा है तेरी जवानी की आग. पर तब भी मैंने कहा- नहीं पर वो सोफ़्टवेयर मेरे घर पर है।बोली- ठीक है.

मुझे पता ही नहीं चला।अब मैं उसकी साड़ी को खोल रहा था, साड़ी उतारने के बाद वो मेरे सामने पैंटी और ब्रा में थी।मैंने उसे गोद में उठाया और बेडरूम में ले जाकर बेड पर बिठाया। मैंने उसके पैरों को उठाया और बारी-बारी से उंगलियों को चूसने लगा। इन नाजुक अंगों को चूसने के कारण वो सिसकारियाँ भरने लगी थी।वो बोली- नवीन.

हम दोनों साथ ही पढ़ते थे।प्यार करने वालों का दिन यानि कि वैलेनटाइन डे आया.

मैंने प्रीत को पीछे से पकड़ लिया और मेरा लंड अब प्रीत की गाण्ड से कपड़ों के ऊपर से ही उसकी चूत में जाने को बेताब होने लगा था।इतने में प्रीत बोली- बेबी तुम न बहुत शरारती हो. जिसको मेरी ही तरह एक जवान लड़के से पहली नज़र में ही प्यार हो गया और वो भी उसके सपने देखने लगा. ब्लू सेक्सी फिल्म मद्रासी‘तुम्हारा घर किधर है?’उसने मुझे अपने घर का पता बता दिया। मैं अपने दोस्त के साथ उसके घर पास पहुँचा.

अपने हाथों की कॉफ़ी बनाओगे।मैंने कहा- आप भी साथ दोगी।नेहा भाभी बोली- ओके ठीक है।फिर हम मेरे कमरे में गए और मैं हाथ धोकर कॉफ़ी बनाने लगा. सविता- पहले कपड़े धोती हूँ फिर नहाऊँगी।फिर सविता भाभी कपड़े धोने लगी।जब भाभी झुककर कपड़े धो रही थी. कोई न कोई काम निकल आने की वजह से उसे नहीं चोद पाया था।उसके बाद मैंने अपना वो व्यस्तता वाला काम ही छोड़ डाला और एक नया जॉब पकड़ लिया।उसके बाद मैं गाँव गया.

तो वो इस पर झुक गई और मुँह में लेकर ऊपर-नीचे करके लण्ड चूसना शुरू कर दिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !कुछ देर चुसवाने के बाद मैंने उसको घोड़ी बनाया और उसकी चूत को थूक से गीला किया और अपने लण्ड की टोपी उसकी चूत पर फेरने लगा।वो बोली- मेरी जान अब डाल भी दो अन्दर. कमरे में ममता की सेक्सी आवाज़ थी।दोस्तो, कुल मिला कर कमरे का माहौल वासना से सराबोर था।ममता- राजी अब डाल भी दो लण्ड.

तो उसने एकदम से मेरा लोअर उतार दिया और टी-शर्ट भी निकाल दी। मेरे 6 इंच लम्बे और 3 इंच मोटे लण्ड को अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगी। कुछ ही पलों में हम दोनों 69 की स्थिति में आ गए.

पर सोनी अभी भी मेरे लण्ड को देख रही थी।मैंने सोनी को नीचे बिठा दिया और उसके मुँह में लण्ड डाल दिया। सोनी आराम से प्यार से मेरे लण्ड को चाटने लगी थी।आह्ह. मुझे तुमसे यही उम्मीद थी। इस टोनी से ज़्यादा मज़ा मैं तुम्हें दूँगा और तेरी ऐसी मस्त चुदाई करूँगा कि तू बस याद करेगी।पुनीत- सन्नी. उसने मुझे एक तरफ फेंका और जाकर आगे बैठे कंडटक्टर के कान में कुछ फुसफुसाया.

जवान लड़की की चूत दिखाओ तो मैंने फिर से उसको घोड़ी बना कर चोदना शुरू कर दिया, कुछ देर तक मैं उसको जोर-जोर से चोदता रहा, वो भी मजे से चुदवाती रही।उसने कहा- मेरी जान अब मैं लेटता हूँ और अब तुम मुझे चोदो।तो वो बोली- मैं तुम्हें कैसे चोद सकती हूँ?मैंने कहा- आओ. और झट से हाथ अपना हाथ उसके मम्मों में उगे हुए अंगूरों की ओर ले गया.

ठीक है मैं चलता हूँ।सन्नी वहाँ से निकल गया और टोनी फिर से लड़कियों के आस-पास मंडराने लगा. चाहे ये सब उसका पहली बार ही क्यों ना हो।शाज़िया के मना करते ही मैं शाज़िया की चूत पर मुँह रख कर उसकी चूत को चूसने लगा। एक तो शाज़िया पहले ही गर्म हो चुकी थी. पसंद आए तो बड़ाई और ना पसंद आए तो शिकायत के लिए मेरी ईमेल आईडी पर आप ईमेल कर सकते हैं.

बॉलीवुड हीरोइन के सेक्सी बीएफ

तो फिर मैं इसे नहीं पा सकूँगा।मैंने देर ना करते हुए संजना की चूत पर हाथ रख दिया और चूत में उंगली करने लगा।संजना छूटने के लिए मचलने लगी। मैंने भी अब झिड़की लगा कर संजना से कहा- साली नखरे चोद रही है. नहीं तो रोशनी और अंकित जग जाएंगे।वो हल्के स्वर में चिल्लाने लगी- जल्दी से बाहर निकालो इसे. बीच-बीच में मैं उसके मम्मों को भी चचोरता जा रहा था और उसके गुलाबी चूचुकों को दाँतों से कभी-कभी कुतरता भी जा रहा था।मेरे मुँह में एक चूचा था.

और धीरे से बोली कि तुम्हें चलेगा? यानि राजेश या कोई औरत प्रवीण के साथ झेल लोगी?’‘तो तुमने क्या कहा?’मैंने कहा- राजेश का तो मुझे मालूम नहीं. और उसकी क्लिट को सहलाने लगा।अब मैं उंगली से उसके जी-स्पॉट को रगड़ने लगा.

होठों को छोड़ अब मैंने अपना मुंह उसकी चूचियों में दे दिया और उसकी ब्रा को दांतों से नीचे खींचने लगा.

और दो एक साथ उंगलियां चूत में डाल दीं।अब मैं अपनी पूरी गति अपनी उँगलियों को उसकी चूत में तेज-तेज अन्दर-बाहर करने लगा. बड़ी मुश्किल से मैंने उसके हाथ को पकड़ कर अपना लंड उसको पकड़ाया।जैसा मेरा अनुभव था. पर उन्होंने अपनी ताकत लगाते हुए मुझे अपने करीब लेकर मुझे सीने से चिपका लिया और बिस्तर से उठ खड़े हो गए।उन्होंने मुझे अपनी बांहों में भींचते हुए कहा- इतनी भी जल्दी क्या है.

जोर-जोर से।सपन अपना लौड़ा जल्दी-जल्दी अन्दर-बाहर करने लगा।कुछ ही धक्कों के मॉम बोलीं- आईईई. मैं कैसे पहले जाऊँगा ये प्लान को तुझे अंजाम देना है।सन्नी उनको समझने लगा कि कैसे कल सब काम करना है और उसने अर्जुन को भी कुछ बातें समझा दीं।उधर पुनीत गाड़ी में बैठा ही था कि पायल उस पर बरस पड़ी।पायल- भाई ये क्या नाटक है. मगर दोनों ने कुछ नहीं कहा और वहाँ से निकलने की तैयारी में लग गए।उधर सन्नी सीधा अर्जुन के पास गया.

होंठ छोड़कर वो फिर से मेरी गर्दन पर चूमने लगा और मेरी आहें निकलना शुरु हो गईं। मैंने उसको कसकर बाहों में भर लिया और उसको अपने अंदर समाने के लिए बेताब हो उठा, उसकी छाती से आती पसीने की खुशबू.

बीएफ भोजपुरी वीडियो एचडी: पर उन्होंने मुझे इतनी जोर से पकड़ रखा था कि मैं पूरी ताकत लगा कर भी अलग नहीं हो पा रही थी।मेरे बार-बार कहने को सुन कर उन्होंने अपना मुँह मेरे मुँह से लगा दिया और मेरा मुँह बंद कर दिया। उन्होंने अब अपने हाथ मेरे पीठ से हटा के चूतड़ों पर रख दिए।अब मेरे चूतड़ों को जोर से दबाते हुए ऐसा करने लगे. हम एक-दूसरे के मुँह से सांस ले रहे थे।हमें एक-दूसरे के शरीर में चिपटना अच्छा लग रहा था। एक-दूसरे को पी जाना चाहते थे.

मैंने उसकी तरफ देखा जैसे मैंने उसकी मांग को सुना ही नहीं तो उसने अपनी चूत को सहला कर कहा- मुझे चोदो न. हे भगवान वो एकदम पटाखा बन गई थी, वो अब बहुत हसीन दिखने लगी थी।जब एक दिन वो नहाने के बाद बाहर आई. पहली बार किसी लड़की को बिना कपड़ों के इतनी नज़दीक से देख रहा था।उसके ‘वहाँ’ से बहुत ही मादक खुश्बू आ रही थी।मैंने अपना मुँह वहाँ लगा दिया और धीरे-धीरे चाटने लगा.

उसे चुम्बन करने लगा।रिंकू अपना एक हाथ सोनिया की चूत पर रख कर चूत के दाने को मसलने लगा। फिर सोनिया ही रिंकू को 69 पोजीशन में ले कर आ गई और उससे बोली- अब चूत चूसो मेरी.

चारों तरफ जीभ घुमा-घुमा कर चिकनी बुर पर लगी चॉकलेट को चाट रहा था।हाय. इस हिंदी सेक्स स्टोरी के पहले भागकमसिन लड़की और चूत की भूख-1अब तक आपने पढ़ा. हम दोस्तों का उसूल था कि अगर किसी को मदद चाहिए तो हम सब दिल से उसकी मदद करते थे।एक आंटी.