भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ

छवि स्रोत,कंडोम xxx

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्सी इंडियन बीएफ: भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ, उसने शाम सात बजे के आस पास उसके घर से थोड़ी दूर एक किराने की दुकान पर आने को कहा.

सेक्सी गाना के साथ

पर उसने मुझसे प्रॉमिस करवा लिया कि ये बात उसके और मेरे अलावा किसी को पता नहीं चलेगी. राखी सावंत के सेक्सी वीडियोउस समय इस बात को लेकर मैंने उधर एक कमरा किराए पर लेने के लिए मामा जी से कहा.

अब भैया ने सिगेरट को बुझा दिया और अपने हाथ से भाभी के सर को पकड़ कर उन्हें अपने लंड पर दबाने लगे- आंह साली रांड चूस माँ की लवड़ी … आह लंड चूस कुतिया … आह बड़ा मजा आ रहा है बेबी … चूस ले मादरचोद. करिश्मा के नंगे फोटोअंजलि भाभी बोलीं- बस करो, तुम दोनों काम करोगे या नहीं, मुझे तो लग रहा है लड़ाई जरूर पहले ही कर लोगे.

मैंने हाथ आगे करते हुए शिल्पा को हैलो बोला और शिल्पा ने भी मुझसे हाथ मिलाया.भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ: उसकी बहुत तेज आवाज में चीख निकल गई और वो बुक्का फाड़ कर चिल्लाने लगी.

विशू बोला- तो क्यों रोक कर रखा है इनको … जाने दे अब!उसने कहा- अरे एक एक डबलरोटी वाला राऊंड मार लेते हैं, बहुत दिन हो गए हैं.सरिता ने भी अपने हाथों से मुझे कस कर जकड़ लिया और अपनी टांगों से मेरी गांड को जकड़ लिया.

सुहागरात क्ष वीडियो - भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ

मैं नंगी पड़ी बस उनकी तरफ देख कर मुस्कुरा दी और मैंने अपने सूखे होंठों पर जीभ फिराई.भाभी ने मुझे कमर से पकड़ लिया और कहा- मेरे ऊपर लेटे रहो।फिर काफी देर तक हम मस्ती करते रहे.

मैंने दीदी के मुंह पर हाथ रखते हुए इशारा किया कि आवाज ज्यादा तेज न निकाले वर्ना मां सुन लेगी. भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ उसने कहा- अन्दर कुछ मत पहनिएगा, दूध निकालने में बहुत दिक्कत होती है.

मम्मी ने मुझे पास बुलाकर सब बताया, तो मुझे तो अन्दर से हेनू हेनू होने लगा.

भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ?

जब मैं नहा धोकर बाहर आया तो दीदी अभी भी वैसे ही चूत फैलाये हुए लेटी हुई थी. अब आप तो ससुर जी को खुश नहीं रख पा रही हो तो किसी को तो उनकी खुशी का ध्यान रखना होगा।यह बोल मैं वहाँ से चली गयी. जब भी गांव में जाता, वहां पर घूम रही भाभियों और लड़कियों के उठे हुए बड़े बड़े दूध व बड़ी बड़ी गांड को देख कर मेरा लंड कड़ा हो जाता.

फिर मैंने लंड उनकी चूत पर रखा और उनके हाथ को फिर से पकड़ लिया और अचानक एक तेज झटका मारकर आधे से कुछ ज्यादा लंड भाभी की चूत में उतार दिया. मैंने पैंटी के ऊपर से ही अपनी नाक की नोक से उसकी चूत को सहला दिया और उसी पल उसने भी अपनी चुत उठा कर मेरे सर को अपने हाथों में भर कर दबाने की कोशिश की. न जाने ये कौन सी प्यास थी जो हमारे होंठ बुझाना चाह रहे थे लेकिन हर चुम्बन के साथ वो प्यास बढ़ती जा रही थी.

भाभी का घर यूपी में है और जिस जगह घर है, वहां का एरिया बहुत अच्छा है. फिर पता नहीं उसकी आंखों में देखते ही मुझे क्या हो गया था कि मुझसे रुका ही नहीं जा रहा था. दोस्तो, भाभी कीबहन ने मुझसे कैसे चुदवायाऔर किस किस तरह से सेक्स कहानी में घुमाव आया.

चाची ने एक लिस्ट देते हुए कहा- चल अब बातें बनाना बंद कर … और दुकान से यह सामान लेकर आ. वो उछल उछल कर मजे से चुद रही थी और उसके 36 इंच के दूध मस्ती से उछल रहे थे.

तो उसका भी हौसला बढ़ गया और उसने मुझसे धीरे से कहा- आपके हाथ बहुत ही सुंदर हैं.

श्रुति ने गेट के बाहर भाभी की तरफ कुछ इशारा किया और भाभी कमरे में आ गईं.

मैंने भी सोचा कि ये जिद्दी लड़की तलने वाली नहीं है, इसी के सामें इसकी मम्मी की गांड मारूंगा. लेकिन जन्मदिन के 3 दिन पहले अचानक रात में मुझे तेज बुखार आया।जिस दिन मामा का जन्मदिन था, उस दिन की सुबह तक मेरा बुखार काफी कम हो चुका था पर मुझे अच्छा महसूस नहीं हो रहा था. वो बोली- मुझे अपने घर जाना है, अगली बार जब हम मिलेंगे तो दोनों खुल कर मस्ती करेंगे.

प्राची को भी गांड मरवाने में मजा आने लगा था, उसके मुँह से भी मादक सिसकारियां निकल रही थीं. मैंने पापा को काफी समझाया कि आप चले जाएं, मुझे यहां बहुत जरूरी काम है. मैंने सोचा कि 4 दिन तो कुछ होना नहीं है, एक बार ट्राई और कर लिया जाए.

फिर उसने गले से हटाया और बोली- क्या बात है … आज बहुत लेट हो गया तू?मैंने कहा- हां दीदी, वो आज एक टैक्स रिटर्न फाइल करनी थी तो इसलिए लेट हो गया.

मुझे इतना यकीन हो गया था कि वो मेरे अलावा किसी और से प्यार नहीं कर सकता था. जवानी की दहलीज पर कदम रखते समय जिस तरह के सेक्स के सपने दिमाग को उत्तेजना के शिखर पर पहुंचा देते हैं, उस सबका समावेश इस हिंदी सेक्स कहानी में आपको पढ़ने को मिलेगा. मेरी बात पर भाभी हंस पड़ीं और मेरे गाल पर चिकोटी काट कर बोलीं- क्या फट रही थी आपकी?मैंने भी उनकी नाक से नाक रगड़ कर कहा- गांड.

मगर जब भी घर में कोई बाहर से आता या मेरी दीदी लोग आते तो उसी रूम में सोया करते थे. दीदी को मैं इतना गर्म कर देना चाहता था, जितना उत्तेजित जीजाजी जिया दीदी को नहीं किया होगा. ‘ठीक है मेरी जान गुलाब, मैं तुम्हें अपने लंड के लिए और अधिक इंतजार नहीं करवाऊंगा.

मैं पीछे से सरिता का गाउन ऊपर करके अपने दोनों हाथों से उसकी गांड मसलने लगा था.

मैंने अपना एक हाथ उसके हाथ पर रख दिया और दूसरे हाथ को उसकी गर्दन पर फेरने लगा. अब भाभी को भी मजा आ रहा था, वो भी बेड के नर्म गद्दे पर अपनी गांड उठा कर धक्के लगाने लगी थीं.

भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ मैंने अपनी जीभ से और उंगलियों से उसकी चूत का तीन बार पानी निकाल दिया था. आधे घंटे बाद फोन करने के बाद भाभी गुस्से से दोस्ती ना करने का बोलकर दोबारा फोन नहीं करने को बोली.

भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ एक मर्तबा मेरे दोस्त अरुण के साथ ये तय हुआ था कि संडे को एक्सट्रा क्लास के बहाने कैफे जाएंगे. लेकिन वो सब जैसे पारुल की बात सुन ही नहीं रहे थे और अपने अपने कपड़े उतारकर अपनी अपनी जगह को सैट करने में लगे हुए थे.

हम चारों लोग के मन में यह था कि भैया कहीं मजा तो लेकर निकल ना जाएं.

एक्स एक्स एक्स दाखवा

गहरी काली बड़ी बड़ी आंखें, सपाट पेट, मस्त कमर और एक तनी और कसी हुई गांड. शबाना के जिस्म पर लेटे हुए वीरू ने शब्बो चाची को जोर से जकड़ रखा था।शब्बो ने उसके सिर पर प्यार से हाथ घुमाते हुए उसको भी इस आनंद का मजा लेने दिया।तभी उसको याद आया कि वीरू का सारा माल उसकी चूत में ही निकल चुका था- हायला … काफिर की औलाद मेरे पेट में?कहते हुए उसने वीरू को अपने आप से अलग करने की कोशिश की मगर वीरू ने उसको उठने नहीं दिया।उल्टा उसको दबाकर फिर से उसको किस करने लगा. आज मुझे उसी तरह प्यार करने वाले इंसान की तलाश है, जो दिल से प्यार करे … और मेरे जज़्बातों को समझे.

अगले दिन वो उसी वक्त पर मेरे घर आई तो मैं उसे अपने बेडरूम में लेकर आ गया. पहले हम दोनों ने किस किया, फिर मैंने एक-एक करके उसके दोनों दूध पिए, जिससे वह गर्म हो गई थी. अब आगे भाभी चुदाई हिंदी कहानी:‘हर्षद कितना मस्त चोदते हो तुम … एक अनुभवी खिलाड़ी के जैसे.

फिर मैंने सोचा क्यों न कोई ऐसा आइडिया लगाया जाए जिससे मम्मी मुझसे चुदने के लिए राजी हो जाएं.

मैंने भाभी को अपने नीचे पोजीशन में लिया और मैंने अपना लंड भाभी की चिकनी चूत में पेलने लगा. कुछ मिनट बाद मेरा भी लावा निकल गया, जो कि मैंने उसकी चूत के बाहर निकाल दिया. उसकी आंखों में देखने से पता चल रहा था कि वो अब मेरे लिए अपना मन पक्का कर रही है.

अम्मी के मम्मों के बारे में क्या कहूँ, एकदम उभरी हुई टाइट चूचियां हैं. मैंने उसकी बातों से अंदाजा लगाया कि लौंडिया सैट होने को राजी दिख रही है तो मैंने उससे सीधे बोल दिया कि जब से तुम्हें देखा है, मुझे रहा नहीं जाता. मेरी भी सांसें रुक गयी थीं, जब आंटी ने मेरे सर को छोड़ा … तब जाकर मैंने अच्छे से सांस ली.

काफी लम्बी चुदाई के बाद एकाएक मेरी अम्मी जोर से चिल्लाईं- आह … उई … मैं गई. अब उसने खुद एक औऱ टुकड़ा चॉकलेट होंठों में लेकर मेरे दोनों हाथ ऊपर सर की तरफ पकड़ लिए औऱ मेरे मुँह पर झुक गयी.

मैं अपनी तारीफ सुन सुनकर खुश हो रही थी और साथ में मेरी चूत गीली हो रही थी. फिर ठीक रात 12:00 बजे उनका व्हाट्सएप पर मैसेज आया और हमारी व्हाट्सएप पर चैटिंग चालू हो गई. मुझे लड़कियों से ज्यादा भाभी या आंटी टाइप की औरतें चोदना ज्यादा पसंद आती रही हैं.

टीवी पर एक हॉट मूवी लगी हुई थी, उसे देखते हुए मैं अपनी गांड में उंगली करने लगा.

उसने 69 में आकर झटके से मेरा लौड़ा पकड़ लिया और उसे फिर से चाटने लगी. तभी सरिता ने आवाज दी- हर्षद ये क्या है?सरिता तकिया बाजू में रखकर मेरी ब्रीफ हाथ में लटकाकर मुझे दिखा रही थी. मैंने हिम्मत करके पेट से अपना हाथ सरकाया और उनकी सलवार में उनकी पैंटी के ऊपर ले जाकर रख दिया.

तभी बाथरूम में जानबूझ कर गेट खोलकर अपनी चुत में उंगली की थी और तुझे दिखाई थी. मुझे तो कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि ये क्या चल रहा है, कौन सा छप्पर फटा है.

हनी अभी भी अन्दर से बहुत डर रहा था कि वो एक अजनबी अफगानी लड़के के साथ ये क्या कर रहा है. यूं ही किस करते करते मैंने अपनी दो उंगलियां टीना की चुत में डालीं और तेज तेज चलाने लगा. पर फिर भी बार बार करने को दिल कर रहा था।मैंने सोचा कि मौसी मां को शक न हो जाए, इसलिए ना चाहते हुए भी मैं उठा और दूसरी टांग की ओर आ गया।अब चूत की छुवन का नशा मुझ पर चढ़ चुका था तो इस टांग को दबाते वक्त भी मैंने कमर पर पैंटी और चूत की बायीं फांक को बार बार मैंने हाथों पर स्पर्श किया।करीब 1 घंटे की उठक बैठक से मेरा लंड बेहाल हो चुका था.

ইন্ডিয়ান সেক্স ভিডিও

इसके आगे उन्होंने मुझसे पूछा- वह तो ठीक है, अन्दर क्या पहन रखा है?मैंने उनसे अपनी अन्दर की ब्रा और पैंटी के बारे में भी बताया.

वो भी हंस गई कि मैं बांसुरी बजाने की बात मतलब लंड चूसने की बात कर रहा हूँ. विलियम का हाथ मेरे कंधे से नीचे उतरता हुआ मेरे कपड़ों के ऊपर मेरे दाएं बूब आ चुका था. मैं सुबह शाम भाभी के घर जाता हूं और बहुत सेक्सी सेक्सी बातें करता हूं क्योंकि मैं भाभी को चोदना चाहता था.

मैंने अपना एक हाथ अम्मी के चुत पर रख दिया तो मेरी अम्मी एकदम फुल जोश में आ गईं. मेरे बहुत डराने धमकाने पर बोलने लगा- यार, मुझे तुम्हारी अम्मी बहुत पसंद हैं. एक्सवीडियो2उन्हें मैं दिखा तो भाभी ने मुझसे कहा- बाहर एक कपड़ा गिर गया था, जहां तुम खड़े थे.

मेरा सीना उसकी चूचियों पर और मेरे दोनों हथेलियां उसके बड़े बड़े गोल गोल चूतड़ों पर जम गए थे. मैंने दरवाजा बंद करने की कोशिश की, तो उन्होंने कहा- अब दरवाजा क्यों बंद कर रहे हो.

भाभी कह रही थीं- आह मेरे राजा … और जोर से और जोर से … आंह आज मेरी चुत फाड़ डालो … आह आह आह और जोर से आह चोद डालो. इसलिए दीदी ने मेरे कान में चुपके से कहा- अब मेरे ऊपर आ जा!मैंने दीदी की नाइटी को और ऊपर तक उठा दिया जिससे उसकी चूचियां भी अब नंगी हो गयीं. अंतर्वासना पर कहानियां पढ़ रही थी और साथ-साथ अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी चूत को हल्के हल्के रब कर रही थी.

भैया का प्लास्टिक से रिलेटेड कुछ बिज़नेस था, तो उस चक्कर में वो अक्सर घर से बाहर टूर्स पर जाते थे. मम्मी से एक बात और कह देना कि चुदाई के समय दोनों की आँखों पर पट्टी रहेगी ताकि एक दूसरे को ना देख पायें और किसी को कुछ ना बता पायें. वह मेरे गाल को सहलाने लगा और अपनी उंगलियों को मेरे होठों पर घुमाने लगा.

कुछ समय बाद उसने राहत महसूस की और मुझे और अपनी बहन को देखकर मुस्कुरा उठी.

क्योंकि मैंने लोवर पहन रखा था इसलिए उनको उभार साफ साफ दिखाई दे रहा था. उसने अपना गाउन निकालकर कुर्सी पर रख दिया और मेरे लंड पर लटकती पैंटी को भी निकाल कर रख दी.

चोली को मैंने उठाया और घर में अन्दर आने लगा तो ऊपर वाली भाभी सीढ़ी से नीचे आती हुई दिखाई दीं. वो थोड़ी देर तक तो मेरा साथ देती रही लेकिन थोड़ी देर बाद विरोध करने लगी. मेरा कॉलेज मेरे घर से बहुत दूर था इसलिए मैं एक छात्रावास के कमरे के लिए लगा हुआ था.

मैं जाने लगा तो वो फिर से बोली- जब मेरी पढ़ाई हो जाएगी तो मैं तुझे फेसबुक पर मैसेज कर दूंगी. एक दो बार उसकी गांड में भी लंड डालने की कोशिश की, एक बार लंड घुस भी गया था मगर उसकी गांड का छेद फट गया था. फिर भाभी ने मुझे अपने ऊपर से हटने का कहा और मैं उनके बाजू में लेट गया.

भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ [emailprotected]हॉट दीदी सेक्स कहानी का अगला भाग:बर्थडे पर स्पेशल गिफ्ट दीदी की चूत- 3. मोहन मुर्गी पालन, रवि बकरी पालन, सोनू ग्रीन हाउस में विदेशी सब्जी, फूल उगाना सीखने लगे.

ભારતીય સેક્સ

इतनी नर्म चूचियां थीं कि सारी पॉर्न स्टार भी इसके सामने कुछ नहीं थीं. अब वो भी सामान निकलवाने के बहाने मेरे पीछे खड़े होकर मेरी चुत और गांड को अपना लंड टच करवाने लगे थे. अरे यार विलास अच्छा हो गया तुमने मुझे जगा दिया, नहीं तो ना जाने कितनी देर तक सोता रहता.

मैंने एक तेज झटके में लंड पेला था, तो मामी चिल्ला उठीं- आंह मर गई … धीरे चोद भोसड़ी के!मगर मैं कहां माने वाला था … मैंने दूसरा झटका मारा और इस बार मेरा लगभग पूरा लंड मामी ने अपनी चूत में ले लिया था. उसने एकदम मेरे हाथ को अपने हाथ में ले लिया और मुझसे बोला- सच बोल रहा हूं मैं!मैंने भी थैंक्स बोल कर उसका शुक्रिया अदा किया. चूत चोदते दिखाओओरल सेक्स लंड चुसाई कहानी में मैंने बस स्टैंड के शौचालय में एक आदमी का लंड चूसकर मजा लिया.

हनी अभी भी अन्दर से बहुत डर रहा था कि वो एक अजनबी अफगानी लड़के के साथ ये क्या कर रहा है.

मेरे घर के बगल में मेरे बड़े पापा यानि कि मेरे पापा के भाई रहते हैं. मैंने सरिता को किस करते हुए कहा- सरिता, अब दुनिया की हर खुशी तुम्हें दूँगा मेरी रानी.

सोनाली ने अपनी गांड उठाकर मुझे अपनी बांहों में कस लिया और वो झड़ने लगी. वो मेरे पीछे खड़े हो गए और मेरे बालों को एक हाथ से आगे करके और दूसरे हाथ से मेरी कमर को आगे से हाथ डालकर मुझे अपनी ओर खींचा. इसके बाद तालाब में नहाने के बहाने मोहन ने सोनू की कई नंगी फोटो खींची और फोटो प्रकाश को भेज दीं.

मेरे रसीले होंठों को चूसते चूसते मेरे प्यारे पति पीछे से पेटीकोट उठाकर मेरे मोटे गोरे चूतड़ों पर हाथ फेरने लगे और आगे हाथ लाकर मेरी चुत सहलाने लगे.

मैंने आंटी को बताया कि मैं और श्रुति साथ में पढ़ें तो काफी बढ़िया रहेगा. वो पीठ के बल लेट गया और दोनों टांगें हवा में उठा कर अपने हाथों से पकड़ लीं. उसकी जांघें ज्यादा मोटी नहीं थीं, तो उसकी चूत बिल्कुल बाहर दिख रही थी.

सेकसि विडयोमैंने कुछ जोर के धक्के मारकर सोनाली की चूत में अपने लंड का गर्म लावा छोड़ दिया. गन्ने के खेत के अन्दर एक जगह पर कुछ साफ जगह पड़ी थी, शायद वहां पर गन्ने की फसल नहीं उगी थी और ये जगह खेत के लगभग बीचों-बीच थी.

सेक्सी वीडियो ब्लू पिक्चर चोदा चोदी

उसने फोन उठाते ही पूछा- आप पहुंचे या नहीं? सब ठीक है ना?सासू माँ मुझसे बिल्कुल चिपकी खड़ी थी, उन्हें सब कुछ साफ सुनाई दे रहा था. मैंने जिया दीदी को टिश्यू पेपर दिया और खुद के लंड को भी साफ करने लगा. ऐसा करने में उसके स्तन मेरी पीठ से दब जाते थे और मुझे इसका अहसास होता था.

मैंने उसे अपने से बिल्कुल सटा लिया, तो उसने भी मुझे जकड़ लिया और मेरा लंड उसकी चुत पर रगड़ खाने लगा. मेरी बीवी ने अपनी बहन को मेरा धक्का बर्दाश्त करने के लिए प्रोत्साहित किया. पर हाय रे मेरी किस्मत, पहली बार होने की वजह से मुझे लंड को डालने में परेशानी हो रही थी.

मैं आपको सोनाली की चूत की चुदाई की कहानी का आखिरी भाग सुना रहा हूँ. सोनाली ने घड़ी देखी, तो घड़ी में पांच बज गए थे- हर्षद अब मुझे नीचे जाना पड़ेगा. मोहन और रवि ने देखा कि प्रकाश का लंड खड़ा हो गया था, उसने पजामे अन्दर चड्डी नहीं पहनी थी.

उन्होंने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मेरे होंठों को अपने होंठों में ले लिया मैं भी उनसे चिपक गई. इससे सब लोग बूब्स को ही देखते थे और वैसे भी मैं तो अन्दर ब्रा भी नहीं पहनती थी तो स्वेटर में मेरे मम्मों का उभार कुछ ज़्यादा ही अच्छे से दिख रहा होता था.

भाभी ने जल्दी से अपने कपड़े उतार दिए और मेरे ऊपर चढ़ कर लंड पर बैठ गईं.

हालांकि इतने समय में सर ने ये जान लिया था कि मैं पब्लिक बस से आती हूँ, तो वो मेरा पीछा करने लगे. आईपॉर्नटीवीसर मुझे देखकर यही सोच रहे थे कि मैंने आज शर्ट नहीं पहनी है लेकिन वो कन्फर्म नहीं कर पा रहे थे. ताबड़तोड़ चुदाईउन्होंने मुझे देखा और पूछा- कैसे हो नितिन?मैंने भी बात शुरू की और कहा- मैं अच्छा हूँ. फिर भैया ने बिस्तर के बगल की दराज से सिगरेट की डिब्बी निकाली और एक सिगरेट निकाल कर कश लेने लगे.

अंधेरा था, तो साफ दिखाई नहीं दे रहा था … मगर चाल ढाल से लगा कि कुच्ची है.

इस तरह मैं पूरी रात उसके पास ही रहा और उस रात मैंने उसे 4 बार चोदा. उसने उन उभारों पर स्किन प्लास्टिक लगा कर बिल्कुल बूब्स से बना दिए और मेकअप और विग लगा मुझे लौंडियों वाले कपड़े पहना दिए. मोहिनी और सोनम ने बारी बारी रवि के ऊपर बैठकर, उसका लंड अपनी चूत में डाला और उचक उचक का रवि को चोदा.

कुछ ही मिनट हुए होंगे कि भाभी की चूत ने पानी छोड़ दिया और उन्होंने सारा पानी मेरे मुँह में ही निकाल दिया. मेरे अंदर आने पर काफी फॉरेनर्स ने मुस्कुराकर और सर हिलाकर मेरा अभिवादन किया और मैंने भी मुस्कुरा कर उनका अभिवादन स्वीकार किया और जहाँ मुझे बैठना था उस सीट के पास मुझे वह लड़का लेकर आ गया,मुझे जिस स्लीपर में बैठना था उसके जस्ट नीचे की डबल सीट पर दो अंग्रेज मर्द बैठे थे. इस वजह से कुछ ही देर में ही रीना ने अपने काम रस से हसित के मुँह को नहला दिया.

मारवाड़ी चुदाई वीडियो

मैंने सरिता का चेहरा अपने दोनों हाथों में लेकर उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिए और हल्का सा किस कर दिया. आधा लंड चूत में जाने के बाद मेरी टांगें चूत में हो रहे दर्द से कांपने लगीं. एक लड़के ने सिगरेट जला ली, तो मैंने उसे हाथ से सिगरेट लेकर कश लिया और उसे वापस दे दी.

जिससे कभी कभी मेरा लंड उसकी गांड से रगड़ खा जाता कपड़ों के ऊपर से!मन तो कर रहा था कि अभी निशा के कपड़े उतार कर उसकी चुदाई कर दूँ.

उसमें बहुत सारी पोर्न मूवीज़ थीं जो उन्होंने आपस में भेजी हुई थीं; बहुत सारी चुदाई की बातें भी लिखी हुई थीं.

अंतर्वासना पर कहानियां पढ़ रही थी और साथ-साथ अपनी सलवार के ऊपर से ही अपनी चूत को हल्के हल्के रब कर रही थी. फिर मेरे लंड का फूला हुआ सुपारा उसने अपने मुँह में ले ही लिया और लंड चूसने लगी. xxcxxxc केतो उसने मुझे बात करते-करते एकदम से पूछ लिया कि क्या वह मुझे किस कर सकता है.

मैंने भी गाली देनी शुरू कर दीं- सालीबाजारू रंडी… इतने लंड खा चुकी है तू … फिर भी भैन की लौड़ी कुतिया सी चिल्ला रही है. अगले दिन अर्चना की एंगेजमेंट थी तो मेरी बीवी ने मेरे लंड पर मेहंदी लगाई थी. उनके झड़ जाने के बाद भी मैं चुत चाटता रहा जिससे भाभी फिर से गर्मा उठीं और चुदने के लिए मचलने लगीं.

मैंने कहा- हां यार ज्योति … उस दिन तुम्हारी गांड मारने का बड़ा दिल कर रहा था. विजय ने मेरी पलंगतोड़ चुदाई करके मेरे तन बदन में लगी हुई आग शांत कर दी थी अच्छी तरह … लेकिन उसके साथ बिताए उन चुदाई के दिनों के थोड़े दिन बाद ही मेरा शरीर पुनः उसके लण्ड का भूखा हो गया.

वो मन मसोस कर चला गया और मैं भी थोड़ी देर बाद उन लोगों को टैक्सी पकड़ा कर वहां से जाने को हुआ.

अगली सुबह उठते ही मदन ने मेरी गांड पर अपना लंड सटा दिया और मुझे खींच कर अन्दर घुसा दिया. मैंने एकदम से उससे पूछा- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?ये पूछ कर मैं उसके चेहरे को देखने लगा. पर मैंने अपने दोनों हाथ उसको कमर से पीछे गांड की तरफ ले जाते हुए उसकी जींस को पीछे से पकड़ कर नीचे खिसकाना शुरू कर दिया.

किन्नर का सेक्सी दीदी की चुदाई करते हुए मुझे अलग सा अहसास हो रहा था, जिसको शब्दों में बयान करना थोड़ा मुश्किल है. मैं उसे पूरी तरह से अपना बनता हुआ देख, ख़ुशी से फूला नहीं समा रहा था.

घर पर सब लोग सो गए थे तो मैं घर को बाहर से लॉक करके उनके घर पर चला गया. मैंने भाभी को फोन करके उन्हें सब बात बता दी कि मैं आज अपने पति को क्या गोली देकर आ रही हूँ. मैं बोला- तो फिर दीदी अब क्या करें?दीदी बोली- कोई बात नहीं, इस बार मैं देख लूंगी कुछ, मगर अगली बार से ध्यान रखना.

इंडियन पोर्न साइट्स

मेरे मुँह से अनायास ही ‘आह्ह …’ निकल गयी, मैं जैसे स्वर्ग के सातवें आसमान को छूने लगा था. ये तो मैं हरगिज़ नहीं चाहती थी तो मैंने पीछे पलट कर सर को गुस्से से देखा और सर का हाथ हटा दिया. उसने मुझे जी भरके देखा और मेरी आंखों में आंखें डाल कर बिना शब्दों के उस कमाल के स्खलन के लिए जैसे धन्यवाद दिया.

आंटी कहने लगीं- केतन, कई महीनों से प्यासी चूत है मेरी … आंह तेरा जवान लंड बहुत अच्छे से चोद रहा है मुझे … आंह और चोद मेरी चूत को!कुछ देर बाद मैंने आंटी से पलटने के लिए कहा. यह मेरी पहली सच्ची गरम सेक्स कहानी है, जो मैं आप सबको आज बताने जा रहा हूँ.

फिर मैंने उनकी पैंटी भी उतार दी और उन्हें लिटा कर उनकी चूत को चाटने लगा.

[emailprotected]फ्रेंड वाइफ चीट स्टोरी का अगला भाग:भाभी की प्यासी चूत और बच्चे की ख्वाहिश- 3. खैर … मुझे इस चीज़ की कोई टेंशन नहीं थी क्योंकि आज तो वैसे भी में लवी के साथ किस से कुछ ज़्यादा करने के मूड में था. वो अब एक साथ पारुल को पकड़े हुए थे एक उसके मम्मे दबा रहा था, तो एक उसकी गोल मटोल गांड दबा रहा था.

इस वजह से मेरी गांड भी फट रही थी कि कहीं चाची गुस्सा ना हो जाएं और मेरे घर पर बता दें. उनको इस तरह देखकर मेरा दिमाग खराब हो गया और मेरा रोकना मुश्किल हो गया. उसने मेरे चूतड़ों पर अपने हाथ रखे और दबाव बना अपनी चूत टांगों को फैला कर मुझे और अन्दर जाने के लिए रास्ता दे दी.

”मैंने उसे एक हाथ से अपनी ओर खींच लिया तो सरिता के हाथ में पकड़ा हुआ मेरा लंड सीधे जाकर सरिता की चूत पर रगड़ खाने लगा.

भोजपुरी बीएफ एचडी बीएफ: मैंने बोला- दीदी यार, कब तक अपने फ़्रेंड्स की स्टोरी सुन कर अपनी कोमल चुत में उंगलियां करोगी. [emailprotected]हॉट कॉम सेक्सी कहानी का अगला भाग:दोस्त की साली की चूत की खुजली- 5.

मुझे भी कुछ समझ नहीं आया और मैंने भी उसे जोर से अपनी बांहों में जकड़ लिया. मुझे सुनकर बड़ा दुःख हुआ लेक़िन मैं कुछ भी नहीं कर सकता था क्योंकि उसकी शादी जो हो चुकी थी. पूरा लंड अंदर तक घुसाने के बाद मैं एक बार फिर से शांत हो गया और दीदी के ऊपर ही आराम से लेटा रहा.

मैंने एक पल सोचा कि भाभी ने अभी तक कुछ भी रिएक्ट नहीं किया है, इसका मतलब ये है कि भाभी जाग रही होंगी और मेरी हरकतों का मजा ले रही होंगी.

फिर वो मेरे पास बैठ गई और बोली- बेबी को सारा दिन उठाने की वजह से मेरी गर्दन बहुत ज्यादा दुख रही है. पहले तुम मेरी आग बुझाओ।अब सनी ने भी पेलमपेल कर दी।दिमाग में जल्दी थी तो जल्दी ही काम निबट गया।सनी रोज़ी को लेकर वाशरूम में घुस गया।तभी रॉकी का फोन आ गया की डेविड 15 मिनट में रेजोर्ट पहुँच जाएगा।सनी और रोज़ी फटाफट नहाए. दोनों सिसकार रहे थे। दोनों के जलते बदन माहौल को भी गर्मा रहे थे।शब्बो का मुँह वीरू के लौड़े पर ऐसे दब चुका था कि अब उसके लौड़े का सुपारा शबाना के हलक तक घुस रहा था।अपने लौड़े को एक तरह से वो धार करवा रहा था ताकि शब्बो चाची की गांड इस लंड रूपी तलवार से चीरने में आसानी हो जाए।शबाना की लार उसके टट्टे भी गीले करने लगी थी और वीरू को अब उसकी गांड चोदने को उकसा रही थी.