हिंदी बीएफ प्लीज

छवि स्रोत,बीएफ मोती बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी पंजाबी फिल्म: हिंदी बीएफ प्लीज, जब मेरे लंड को लेकर सोनू मेरी छाती पर लेटी तो मैंने अपना हाथ उसके चूतड़ों से नीचे ले जाते हुए उसकी चूत और अपने लंड को छूकर देखा.

बीएफ चोदी चोदा खुल्लम-खुल्ला

मैंने डिल्डो उसके हाथ में पकड़ा दिया और खुद जाकर उसके सामने घुटनों के बल खड़ा हो गया. सेक्स बीएफ कुंवारी लड़कीजिससे हम दोनों एक दूसरे से गंदी चैट भी करते और फोटो और ब्लू फिल्मों के क्लिप भी देखते.

जैसा कि मैंने ऊपर ही लिखा था कि मेरा देवर शरीर से थोड़ा मजबूत है, इसलिए वो मुझे बहुत अच्छे से चोद रहा था. आलिया भट्ट सेक्सी वीडियो बीएफचाची की चुदाई के बाद मुझे चुदाई का ऐसा चस्का मुझे लग गया था कि अब चूत के बिना रहना मेरे लिए मुश्किल था.

इस बीच वो दो बार अपना पानी छोड़ चुकी थी। मेरी ज़बरदस्त चुदाई के बाद वो काफी थकी हुई लगने लगी थी।अब उसकी हालत देखकर मेरे लण्ड में भी कड़ापन और ज्यादा बढ़ने लगा था। मेरे लण्ड के अंदर जैसे तूफान उठा हुआ था और मैं उसकी चूत को रगड़ने में लगा हुआ था। वो दर्द से कराहने लगी थी। मैं उसकी चूत को चोदने में लगा हुआ था जैसे आज अपने लण्ड से चूत को फाड़ ही दूंगा.हिंदी बीएफ प्लीज: दस मिनट में उसने मुझे 2 बार कस कस के पकड़ा था मतलब वो 2 बार झड़ चुकी थी.

मैं साइड हुआ तो नैना ने अपना सर मेरी छाती पे रख लिया और मेरी छाती पे अपनी उंगलिया फिराने लगी.अगर कोई ग़लती हुई हो तो माफी चाहूंगी। अपना सुझाव आप मुझे ईमेल कर सकते हैं.

राजीव बीएफ - हिंदी बीएफ प्लीज

इस हालत में मैं बिल्कुल पागल सी हो गई और अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था.सोनल की खुलती बंद होती चूत को दादाजी ने अपनी एक हाथों की उंगलियों से खोल कर रखा था और दूसरा हाथ उसकी चूत की तरफ बढ़ा दिया.

घर में साड़ी, कभी सलवार कमीज कभी स्कर्ट और कभी जीन्स टॉप में रहती थी. हिंदी बीएफ प्लीज क्याआआ?” हैरानी के कारण मेरे मुँह से निकल गया और मैं तुरन्त नेहा की तरफ देखने लगा … वो अब मेरी तरफ देखकर मुस्कुरा रही थी.

उसके मुंह से ऐसी सेक्सी बातें सुनकर मेरा लंड भी खड़ा होना शुरू हो गया था.

हिंदी बीएफ प्लीज?

अंकल ने अपनी ज़िप पैंट की खोलकर अपना लंड बाहर निकाल कर, मेरा हाथ ले जाकर उसे पकड़ा दिया. दोस्तों आपको कहानी कैसी लगी, मुझे मेरी मेल आईडी पे मेल करके बताना मत भूलियेगा. मुझसे वो बहुत ही खुल कर बात कर रही थी, जबकि मुझे थोड़ी झिझक हो रही थी.

लगे हाथ आंटी ने एक्सेप्ट भी कर ली और आंटी का ही मैसेज भी आ गया- अरे वाह … इतनी जल्दी प्रोफाइल भी खोज ली?मैंने स्माइल वाला इमोजी भेज दिया, तो आंटी ने भी स्माइल का इमोजी भेज दिया. वह मेरी छाती को खाए जा रहा था और मैं पूरे जोश में उसका साथ दे रही थी।फिर मैंने अपने पति के दोस्त को अपने ऊपर सीधा कर लिया और उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत में ले लिया क्योंकि हमें बहुत दिन हो गए थे तो उनका दोस्त मुझे अपनी बांहों में लेकर गपागप चोदने लगा और मैं मस्त हो कर उसका साथ दे रही थी. मेरा खड़ा लंड अभी भी उसकी चुत में ही था तो मैं हिल कर उसे अन्दर बाहर करने लगा.

मेरा एक हाथ उसके मम्मों को सहला रहा था, दूसरा हाथ उसकी मोटी गांड पर घूम रहा था. आश्चर्य की बात यह थी कि दादाजी ने लुंगी के अन्दर कुछ भी नहीं पहना था. मैं अपनी गर्म चूत में कभी खीरा तो कभी मोमबत्ती डाल कर उसकी प्यास बुझाती थी.

वो अजीब अजीब सी आवाजें निकालने लगी- ऊई आआआईई … उम्म्ह … हह …मैं उसकी टांग उठा कर घमासान चुदाई करने लगा. पुनीत मेरे बाल पकड़कर अपना पूरा लंड मेरे मुँह में घुसा कर अन्दर तक डाले दे रहा था.

उसने मुझे फ्रेश होने के लिए कह दिया और उसके बाद हमने साथ में खाना खाया.

मैंने उसकी चूची को चूसते हुए अपने दोनों हाथ नीचे किये और घाघरे के ऊपर से उसके भरे हुए मासंल नितम्बों को सहलाने लगा.

जब तू यहां से जाएगी, तो हम दोनों भाई दबा दबा के तेरे दूध बहुत मस्त कर देंगे. गांव से बाहर निकलते ही मैंने उससे उसका नाम पूछा तो उसने अपना नाम ललिता बताया. वह डिल्डो लेने में इतनी मस्त हो चुकी थी कि उसकी हालत खराब होने लगी थी.

”नेहा हंस कर खड़ी हो गई और अपनी जांघों को दूर दूर तक खोल कर मेरी जांघों के ऊपर खड़ी हो कर बोली- कम ऑन अब तू इससे सीधा पकड़ कर रख, मुझे इससे अपनी चूत में घुसाना है. और अब मैं स्वर्ग में था … आँख बंद करके … उसी हिसाब से मैंने उसकी चूची की निप्पल भी मसल दी. मतलब मैं एक जबरदस्त माल की तरह तैयार होकर अजय को लेने रेलवे स्टेशन पहुंच गयी.

इतना कहने की देरी थी कि उसने तुरंत मेरा पल्लू खींच कर नीचे कर दिया और मेरे तने हुए स्तनों को ऐसे देखने लगा जैसे कोई वहशी कुत्ता हो.

मैंने उनकी गांड पकड़कर अपनी स्पीड बढ़ा दी, तो वो भी कुछ देर के बाद झड़ गईं. लेकिन कुछ दिनों के बाद वापस भाभी का कॉल आया- आप कहां हो? मैं अजमेर के रेलवे स्टेशन पर खड़ी हूँ. फिर उन्होंने मेरे ऊपर आकर अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक जोरदार धक्का लगाया जिससे उनका आधा लंड मेरी चूत में घुस गया.

पर इस बार मैं अड़ गयी- नहीं सर … ये नहीं!मैंने एकदम से सीधी खड़ी होकर कहा. वे उंगली में वैसलीन लेकर लंड के बाहर रहने वाले में हिस्से में लगाते जा रहे थे. यह तो मेरा बड़ा सौभाग्य है, जो उसकी जैसी खेली-खाई ग्रेट चुदक्कड़ कन्या से मेरी शादी हुई.

तो उनमें से एक बंदे ने मुझसे कहा कि मेम साहब आपको कभी भी चुदाई का मन करे तो हमें बुला लेना.

फिर उसने अपने एक हाथ से अपना लंड पकड़ा और मेरे को बोला- वन्द्या तू ऐसे ही खड़े हुए में बता दे. सच में इतना मजा आया, पर माल तेरी गांड में ही आया और मेरा काम हो गया.

हिंदी बीएफ प्लीज लगभग 5 मिनट की खड़े खड़े चुदाई करने के बाद मैंने उसे लिटा दिया और उसके ऊपर आ के अपने लंड की स्पीड को बढ़ाते हुए चोदने लगा. दस पंद्रह औरतों ने मुझे घेर रखा था … और उनके ब्वॉयफ्रेंड मुझे खा जाने वाली निगाहों से देख कर जल रहे थे.

हिंदी बीएफ प्लीज तो मैंने पहले तो ना कर दी फिर पापा ने भी मुझे चलने को कहा तो मैंने हाँ कर दी. साली कुतिया आंटी ने अपना मुँह खोल दिया और बोलीं- मुझे प्यास लगी है.

जीजा जी ने भी लंड बाहर निकाल कर मेरे मम्मों पर माल टपका दिया, जिसे दीदी ने मेरे मम्मों को चूसते हुए चाट लिया.

हॉट देसी फिल्म

मैं जब भी ब्लू फिल्म कालों की चुदाई देखती थी, तो मेरे मन में भी इतने ही बड़े लंड लेने के सपने आते थे. वो अपनी साड़ी को हमेशा अपनी कमर से थोड़ा नीचे पहनती है और वो साड़ी भी हमेशा ज्यादातर जालीदार होती है तो उसके टाइट बूब्स हमेशा उनके बड़े गले से बाहर की तरफ आए हुए होते थे!एक दिन मेरी मम्मी ने मुझसे चाची के घर पर जाकर दही लाने के लिए कहा. पायल की चूत से मैंने अपना लंड बाहर खींच लिया तो तुरंत ही पायल ने कहा- आपने अपना लंड बाहर क्यों निकाला है? डालो ना … मुझे मजा आ रहा है.

एक दो बार तो मेरा लंड उसकी गांड के ऊपर से इधर-उधर हुआ, जिसे देखकर वंदना कह रही थी कि मैंने बोला था ना. मेरे पूरे पेट में हाथ फेरते हुए रवि ने मेरी नाभि में अपने होंठ रख दिए. करीब 15 मिनट बाद मैं झड़ने को हुआ, तो उसने जोर से लौड़ा चूसना शुरू कर दिया.

मान-मनौवल के बीच नीना रानी के अंदाज पर प्रशांत कहकहे लगाकर हंसने लगा.

अब मैं वहां से बाथरुम के बहाने से जाने लगा और मीनाक्षी को इशारा किया कि बात कर ले. अब फच्च … फच्चच् …” की आवाज के‌ साथ साथ तेज पट्ट … पट्ट्ट …” की आवाजें भी आना शुरू हो गईं. मैंने सोनू से पूछा- तुम्हें मेरा किस करना और यह सब करना अच्छा लग रहा है या बुरा लग रहा है?सोनू ने कहा- अच्छा लग रहा है.

तुम कहने लगी थीं- चोद ना लवड़े, मेरी चुत में लंड डाल साले …तुम्हारे इस वाक्य पर मेरी रिएक्शन तुम्हारी तूफ़ान चुदाई करने की थी, तो मैंने तुम्हारी चुत की पुत्तियां फैलाईं और अपने लंड का टोपा तुम्हारी चुत के मुँह पर रख दिया. उधर चाची आँखें बंद करके हल्के स्वर में मादक सिसकारियां सी ले रही थीं. महेश मेरे दोनों दूध पकड़ के जोर जोर से इतना दबाने लगा कि वहां भी दर्द होने लगा.

धीरे धीरे भाभी की कमर की हरकत अब तेज‌ होने‌ लगी थी, इसलिए मैंने भी‌‌ अब उनकी चूचियों को जोरों से मसलना शुरू‌ कर‌ दिया. उसने अन्दर जाकर ब्रा पेंटी के ऊपर अपना बुरका पहन लिया और बाहर आ गई.

कुछ देर बाद सोनल ने अपना मुँह ऊपर उठाया और अपने होंठ दादाजी के होंठों पर रख दिये. अगले दिन पति शाम तक आने वाले थे, तो सुखबीर ने मुझे दोपहर फ़ोन कर अपनी योजना बताई. फिर बोली- यह तब तक अन्दर ही रहेगा, जब तक तुम ये नहीं बोलोगी कि हां मज़ा आ रहा है … इसको अन्दर रहने से तुझे मजा आ रहा है.

भाभी तो उसको देखकर रोने ही लगी क्योंकि तीन साल बाद जो मिली थीं वो दोनों.

खैर अपने कपड़े सही करने‌ के बाद सुलेखा‌ भाभी ने हम दोनों के‌ प्रेमरस से भीगी उस पेंटी को बिस्तर से उठाकर अपने‌ ब्लाऊज में छुपा‌ लिया और फिर धीरे से कमरे का दरवाजा खोलकर पहले तो‌ इधर उधर देखा और फिर झटके में कमरे से बाहर निकल गईं. अब जैसे ही नेहा ने मेरे लंड को बाहर निकाला ढेर सारा वीर्य नेहा के मुँह से निकलकर मेरी जांघों पर फैल गया. प्रमिला ने देखा और कहा- ओय साले की गांड भी?एकता ने बोला- साले की एक एक चीज टेस्टी है.

उसका पूरा लंड अन्दर जाने लगा और मेरी रंडी बहन मीनाक्षी अपना मुँह चुत जैसा बनाकर ‘अआह … आआह …. खाला की गोल गोल चूचियों से भरी, उनकी छाती और भरे भरे गालों के साथ उनकी नशीली आंखें, मुझे नशे में कर रही थीं.

मैं- जेठ जी, उसे पहले ही सर्दी हो गयी है, उसी वजह से वह बह रही है, इससे पहले की सर्दी और बढ़े, आप मेरी पैंटी उतार दो. वो- लगाऊं फोन?मैं- हैं ग्वालियर में एक दो, जिनके साथ, उन्हीं के उनके कहने पर करता हूँ. मैंने उससे पूछा- तुम्हें यह रिंग कैसी लगी?उसने कहा- यह तो बहुत अच्छी है.

बीपी ब्लू फिल्म दिखाइए

सच में मेरे देवर ने आज मेरी चूत को चोद कर मेरी प्यास को शांत कर दिया था.

एक दिन मेरी सहेली के पति मुझसे मेरी ब्रा और पेंटी का रंग भी पूछने लगे थे. मेरा मन किया कि इसे अभी गले लगा लूँ, लेकिन मैंने खुद पर कंट्रोल किया और नूपुर से बोला- घर चलें?वह मेरा हाथ पकड़ कर अपने साथ ले गयी. अंकल थाड़े असमंजस थे और उन्होंने जल्दबाजी में अरुणा को अपनी बांहों में भर लिया और अपने होंठ उसके होंठों पे लगा दिए.

दोस्तो, मैं बता नहीं सकता कि वो कैसा मंज़र दिख रहा था और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. उनको काम से फुरसत ही नहीं है, कभी फ़ोन कर लो तो बस झिड़क कर फ़ोन काट देते हैं. गोरी गोरी बीएफमैं मन में सोचने लगा कि यार अनिल की क्या किस्मत चमकी है … क्या मस्त दूध जैसा गोरा माल चुदाई के लिए मिल गया.

मैं कुछ दिनों से नोटिस कर रहा था कि पान दुकान में एक लड़का रोज़ ठीक हमारे चाय पीने के समय आता है और वहीं से खड़ा होकर सिगरेट पीते हुए मुझे बहुत प्यार से ताड़ता है. इतने में नूपुर का कॉल आ गया, उसने बोला- कहां हो, दिख नहीं रहे हो?मैंने कहा- मैं गेट पर आ गया हूं, तुम कहां हो?इतने में मुझे वो दिख गयी और मैं पीछे से उसके पास जाकर खड़ा हो गया और धीरे से कान में बोला- हैलो नूपुर.

चूंकि मैं एक बार झड़ चुका था तो अबकी बार मुझे टाइम लगना स्वभाविक था. इन्हीं मादक आवाजों के साथ नेहा की सिसकारियां भी कमरे में गूंजने लगी थीं. उन्होंने चुदासी सी आवाज में कहा- नहीं, पानी डालने से फफोले आ सकते हैं.

ओह्ह्ह्हह … मां … मुझे कुछ हो रहा है महेश्श्श … प्लीज कुछ करो … मैं मरर … जाऊंगी. वो- मजाक ठीक है, लेकिन अगर ये सच हुआ, तो तेरी ऐसी की तैसी हो जाएगी जरा संभल के चलो, अभी बता रही हूँ. मेरे घर का गैस सिलिंडर खत्म हो गया तो माँ ने सबीना आंटी से बात की कि अगर आपके पास गैस का एक्स्ट्रा सिलिंडर हो, तो आप दे दो, हमारा आते ही हम आपको भिजवा देंगे.

खुशबू कैसे लेती होगी इसको अपने अंदर?मैंने भाभी को सीधे लेटाया और उनकी टांगें फैला दी और उनके ऊपर चढ़ गया.

उसकी चूत चुसाई से मेरी चूत ने एकदम से पानी छोड़ दिया और मेरी चूत का सारा पानी मेरे देवर ने पी लिया. वो मुझसे बोला- वन्द्या तुम बस आज जमके मेरा लंड चूसो और मैं जी भर के तुम्हारी चूत चाटूंगा.

यह कहकर उन्होंने सीधे अपने पैन्ट को खोला और थोड़ा सा नीचे करने लगे. नीरू की चूत में लंड घुसा कर मैंने पायल को अपने पास बुलाया और नीरू के चूतड़ों की दरार को फैलाकर पायल से उसकी चूत में समाए अपने लंड को देखने को कहा. वो मेरी गर्दन चूमकर मेरे ब्रा के ऊपर से बूब्स दोनों चूमने लगे और फिर सीधे लिपट के मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

अगर मैं अपनी सेक्स की दास्तान के बारे में बात करूं तो करीब-करीब एक सौ बार मैं अपनी चाची की चूत चोद चुका हूँ. जवान कुंवारी लड़की की चूत चुदाई की यह कहानी आपको कैसी लगी आप मुझे अपने मैसेज के ज़रिए बताना ताकि जल्दी ही मैं आप सबके लिए अपनी अगली कहानी पेश कर सकूं. फिर मैंने सोनू की फैंटेसी को पूरा करने के लिए अपना एक पैर बेड पर रखा और अपने घुटने को उसकी कमर के साथ लगाया और हाथ बढ़ाकर उसकी दोनों चूचियां पकड़ी और पूरा लंड उसकी चूत में डालकर उसके चूतड़ों से चिपक कर खड़ा हो गया.

हिंदी बीएफ प्लीज तो मैं वहां पर काम कर रहा था तभी वहां लैब का काम संभालने वाली मैम आईं और मेरे से इधर उधर की बात करने लगीं. और अपनी आदत के अनुसार वो मुझे भी अपनी जवानी की झलक दिखाते हुए गर्म कर रही थी.

इंडियन देसी सेक्सी एचडी

”अब क्या शर्म कौशल्या मेरी रानी … उजाले में क्या दिक्कत है, जलने दो ना लाइट, जरा मैं भी तो देखूँ मेरी रानी चुदते वक़्त कैसी दिखती है. मैं उसे रोकते हुए बोली- नहीं यहां नहीं, केवल रूम में करना … और ऐसे नहीं करना. कुछ पल बाद ज़ीनत को जब थोड़ा आराम मिला, तो मैंने अपना लंड बाहर निकाला.

इस बार मेरे खूब जकड़े रहने के बावजूद भी वो नहीं माना और उसने फिर से अपना लंड चूत से बाहर निकाल लिया. फिर मैंने उसकी चूत की एक फांक को होंठों से खोला और अपने होंठों में ले के चूसने लगा. मैं उसे रोकते हुए बोली- नहीं यहां नहीं, केवल रूम में करना … और ऐसे नहीं करनाकरीब चार-पांच मिनट तक ऐसा लगा कि मैं अभी मर जाऊंगी … दर्द के मारे जान निकल रही थी.

उसकी कमर थोड़ी बड़ी थी, लेकिन जब वो थोड़ी आगे को गयी, तो उसकी गांड तो फुल कयामत बरपा रही थी.

अब पुनीत बिल्कुल जोश में आकर बोला- साली फुल कुतिया है तू, तेरी गांड अन्दर बेहद गर्म है. मैं अंकल की बात सिर्फ सुन सकती थी, मम्मी के बैठे होने के कारण कुछ बोल नहीं सकती थी.

मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध पीने लगा, मालिनी मेरे लौड़े से खेलने लगी. पर वो बेचारी खुद को सम्भाल के बोली- मेरे पति विदेश में नौकरी करते हैं … साल में एक दो बार ही आते हैं. मैं सोच रहा था कि मैं उसको फोन कर लेता हूँ लेकिन वो एक लड़की थी, मैंने सोचा कि कहीं उसको बुरा न लग जाए.

उसने मुझे बेड पर लिटाया और चूमते हुए बोला- आज रात तुझे पूरी तरह तृप्त करूँगा मेरी जान.

जब मेरी और रूपा की नज़रें आपस में टकराईं, तो रूपा बड़ी अदा के साथ मुस्कुरा उठी और अपनी गांड मटकाते हुए स्टोर रूम में चली गयी. वो मेरे शरीर को बहुत वहशी नजरों से देख रहा था, मानो मुझसे खेलना चाहता हो. यह सुनकर मैं कमरे की तरफ भागने लगा, तो उसके दो दोस्त जो करण के बॉडीगार्ड थे.

बीएफ आई बीएफ आईमेरी बहन मेरे पास के कमरे में सोती, वो भी अपना फोन पर बातें चैटिंग करती रहती थी. जब तक फ़िल्म चालू नहीं हुई, तब तक वह मेरे चुचों से खेलती रही और मेरे ग़ालों पर किस करती रही.

बीएफ सेक्सी वीडियो दिखाओ

मैंने मम्मी से पूछा कि सभी लोग गए?मम्मी ने कहा- हां गए … और आज शाम की ट्रेन से मैं और तुम्हारे पापा 4 दिनों के लिए जोधपुर जा रहे हैं. मैं भी अब जोश में आकर जल्दी जल्दी अपनी जीभ चलाने लगा, मेरी जीभ उसकी चुत की दोनों फांकों के बीच ऊपरी भाग से‌ लेकर नीचे उसके गुदाद्वार तक चल रही थी, कभी कभी मैं अपनी जीभ से उसके चूचुक को भी कुरेद दे रहा था … जिससे प्रिया का पूरा बदन झनझना जाता‌. मैंने उसे अभी एक मिनट भी नहीं चूसा था कि उसने जबरदस्ती मेरे मुँह से लिंग खींच कर बाहर निकालने का बोलने लगा- बस करो.

हमारा स्टाफ क्वॉर्टर हमारे स्कूल से लगभग दस किलोमीटर की दूरी पर है. ”और भी थोड़ी नार्मल सी बात हुई और उसने फोन रख दिया। मैं बहुत खुश था क्यूंकि बात शुरू तो हो गई थी।फिर हमारी लगभग रोज ही बात होने लगी थी. कुछ देर मैं यूं ही भाभी को छेड़ता रहा और भाभी चाय बनाने में लगी रहीं.

थोड़ी देर बाद दोस्त की बहन के पास जाना पड़ा, तो देखा कि वही औरत बहन से हंसी मजाक कर रही थी, लेकिन वह मुझे देख कर चुप हो गयी. सुबह में फिर से एक बार मस्ती भरी चुदाई हुई और मैं फिर हॉस्टल में वापस चली गई. रूम में दो दरवाजे थे, एक जो पहाड़ियों की तरफ खुलता था और एक दरवाजा गार्डन की तरफ!सारे कपल को उनका अपना अलग कमरा मिला हुआ था और मुझे और बच्चों को एक कमरा! हमने सबसे आखिर वाला कमरा चुना था ताकी बच्चे अगर अकेले कहीं निकल जायें तो किसी ना किसी की नज़र उनपे पड़े!पियू ने भी मेरे पास वाला ही कमरा सेलेक्ट किया.

जब तू यहां से जाएगी, तो हम दोनों भाई दबा दबा के तेरे दूध बहुत मस्त कर देंगे. अमित ने बाइक की स्पीड तेज़ कर दी जिससे मुझे उसके कंधे को पकड़ना पड़ा और जब वह ब्रेक लेता तो मेरी चूची उसकी पीठ से दब जाती और अजीब-सी सिरहन होती शरीर में.

मैंने बोला- कौन रेखा?तो बोली- अभी आप आए थे न … मैं बिरजू जी के घर से बोल रही हूँ.

उनकी मादक अदा देख कर मुझसे भी रहा नहीं गया, मैंने उठकर उनके होंठों को चूमने की कोशिश की, मगर सुलेखा भाभी ने मुझे धकेलकर फिर से बिस्तर पर गिरा दिया और दोनों‌ हाथों से मेरी टी-शर्ट को पकड़ कर उसे ऊपर खींचने लगीं. एक्स एक्स एक्स एक्स ब्लू बीएफमुझे क्यों तड़पा रही है, मेरी बुर में भी अपनी जीजू का लंड पूरा डलवा कर इसे फड़वा दे ना! मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा, तुम तीनों मुझे क्यों तड़पा रहे हो. नेपाली सेक्सी बीएफ वीडियो एचडीमैंने- ओके अभी चलूं?उसने हामी भर दी तो मैंने उससे कहा- आप बाहर निकल कर थोड़ा रुकिए, मैं अभी आता हूँ. हाँ आजकल इंटरनेट पर तस्वीरें देखी जा सकती हैं, लेकिन साक्षात् देखने का उन्हें छूने का और उन्हें लेने देने का आनन्द ही अलग होता है.

वैसे ये अच्छा मौका भी था, मेरा वेतन भी काफी बढ़ रहा था और हमारा परिवार अब बढ़ने वाला भी था तो मैंने हां कह दी.

उन्होंने मेरे बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मेरे पति पुलिस ऑफिसर हैं. पर अभी भी मुझे सन्नी की बॉडी से कुछ बदबू आ रही थी, शायद बहुत बुरी तरह से उन दोनों को पसीना आया था. खुशबू कैसे लेती होगी इसको अपने अंदर?मैंने भाभी को सीधे लेटाया और उनकी टांगें फैला दी और उनके ऊपर चढ़ गया.

जोर से अपना लौड़ा डाल के चूत में जम के इसको रगड़ माँ की लौड़ी बहुत मजा दे रही है. फिर मैंने कपड़े से उसका खून साफ किया और धीरे धीरे उसकी चुदाई चालू कर दी. बचपन से लेकर आज तक मैंने कई बार रवि मामा के कड़क मेहनती जिस्म को बिना कपड़ों के देखा.

चूची पीने वाला

मैंने अपने मुँह से महेश का लंड बाहर निकाल दिया और जोर से चिल्ला उठी- उई माँ … मर गई … निकालो मुझे बहुत दर्द हो रहा है. अब उससे रहा नहीं गया और बोली कि तुम तो पूरे मजे ले रहे हो … पर मेरा क्या होगा. आपको जवान लड़की की यह मस्त सेक्स कहानी कैसी लग रही है? आप अपने ईमेल भेज सकते हैं.

क्या पता उस वक्त वह नींद में ना हो और उसे पता चल गया हो कि दादाजी उसके साथ क्या कर रहे थे.

प्रिया ने नीचे ब्रा नहीं पहनी हुई थी इसलिये टी-शर्ट के निकालते ही, अब मेरे सामने दो आज़ाद सफेद कबूतर उछलने लगे.

आज मेरी छुट्टी है, आपके बेटे और बहू बच्चे को लेकर डॉक्टर के पास रूटीन चेकअप के लिए गए हैं. तब उसने पूछा कि रात में तुम्हें किसी चीज की जरूरत नहीं होती?मैंने पूछा- नहीं … मेरे पास कोई खास चीज है. नई फिल्म बीएफमेरे चूमने से पहले तो नेहा कसमसाई मगर फिर गुस्से में वो मेरे होंठों को जोरों से चूसने और काटने लगी.

जब वह मेरी गांड को पीछे से दबा रहा था तो मेरे दिल में आ रहा था कि अभी इसके लंड को पकड़ लूं. मैंने भी नुपूर को अपने ओर करीब पास खींच लिया और उसके रसीले नर्म होंठों को चूमने लगा. कुछ देर बाद अजय ने अपने मस्त लौड़े से मेरी गांड को चोदना शुरू कर दिया.

एक दिन मैंने छत पे बैठे हुए अरुणा से पूछा- तुम्हें किस प्रकार के मर्द पसंद हैं?इस पर उसका जवाब हैरानी भरा था कि उसे थोड़े सांवले और कद में औरत से करीब एक फीट लम्बे मर्द पसंद हैं और उसके शरीर पर घने बाल होने चाहिए. मैंने सोनू से कहा- जिस दिन तुम पहली बार मेरे पास आई थी और मैंने जो तुम्हारी चूत देखी थी, उसमें और इसमें दिन-रात का अंतर है.

साथ ही में वो बोली- रमित क्या कर रहे हो? मैं तो रात से पागल हुई पड़ी हूँ तुम्हारा यूँ मेरे लिप्स पे किस करना मुझे पागल सा कर गया, मैं रात से आग में जल रही हूँ और तुम मुझे छोड़ के जाने की बात कर रहे हो.

आह्ह्ह … यकीन मानो दोस्तो … ऐसे खुद की चुत और गांड चटवाने का मज़ा ही कुछ और है. मैंने उसके डांस करते चूतड़ पर एक चपत लगा कर, उसकी गांड पर उंगली दबा दी. कुछ ही देर में मुझे ढूँढते ढूँढते सन्नी वहां आ गया और मेरे खुले हुआ पैरों के बीच बैठ गया.

गर्भवती औरत का सेक्सी बीएफ उन्होंने फिर मुझे अपने ऊपर आने को कहा और मैं उनके ऊपर आकर उनकी टांगों को उठाकर चूत पर लंड रगड़ने लगा. मैं- अच्छा, तो जब मेरा घर खाली होगा तो मैं तुम्हें अपने घर बुला लूँगा, तुम्हें चलेगा?नेहा- तुम्हें कोई प्रोब्लम नहीं है, तो मुझे भी कोई प्रोब्लम नहीं है.

निश्चित तौर पर यह उस दिन हुई ग्रैंड चुदाई की याद थी, जो तन्हाई में सामना होते ही वे खुलकर हंसे बिना नहीं सके. क्या देख रहे हो?मैं बोला- कुछ नहीं, आज तुम कुछ ज्यादा ही खूबसूरत लग रही हो. मालिनी के मुँह से एक तेज चीख निकल गयी, वो चिल्लाने लगी और साथ में गालियां बकने लगी- बहनचोद, अपनी बहन पर रहम कर, उम्म्ह… अहह… हय… याह… इतना मोटा लौड़ा मेरी चूत में पेल दिया.

हिंदी सेक्सी बीएफ चुदाई

इस केबिन में मेरी ऊपर वाली बर्थ थी, सफर करीब बीस घंटे का था इसलिए खाने के लिए घर का टिफिन साथ में था. फिर भी मैं चूंकि जोर से चीख उठी थी इसलिए गौरव का लंड मेरे मुँह से निकल गया था. फिर अजय ने मुझे खड़ा किया और मेरे होंठ चूसने लग गये और मैंने भी उनका साथ देना शुरू कर दिया.

मैं उसके घर गया, उसने दरवाजा खोला और कहा- तू बाथरूम में जा … मैंने पानी गर्म किया है, वो लेके आती हूँ. मैंने राहत की सांस ली और अब मैं बेड के किनारे अपनी गोरी गांड रख कर सीधे लेट गई.

उसने मुझसे उसके घर का कम्प्यूटर ठीक करने के लिए पूछा तो मैंने फट से जवाब दिया- हां क्यों नहीं, मेरा तो काम ही यही है.

फिर मैं अपना घर छोड़ कर यहां दिल्ली आ गया क्योंकि मुझे इस जलालत के पैसे से जिन्दगी जीना दुश्वार लगने लगा था. इतना कहकर छत्तू ने मेरी पीछे से स्कर्ट पूरी ऊपर कर दी और मुझे बोला- तुम्हारी चूत बहुत गर्म है वन्द्या, बहुत बह भी रही है. उसकी पीड़ा जान कर मैं कुछ देर रुक गया और उसके ऊपर लेटे रह कर फिर से उसके होंठों को चूसने लगा.

पता नहीं उस आदमी ने क्या सोचा और गुस्सा होने की जगह कहा- ओके, तो यहीं से खड़े होकर चुदाई के मज़े ले. मुझे उसकी चूत में उंगली डाले 2 मिनट ही हुए होंगे कि उसका शरीर अकड़ने लगा. और रही सही कसर हमारे एक कॉमन फ्रेंड ने पूरी कर दी। उसने हमारे बीच इतनी गलतफहमियां पैदा कर दी कि हमारे बीच की खाई बढ़ती ही चली गई।फिर मैंने भी सोच लिया थाहोगा कोई मेरा अपना तो पढ़ लेगा मेरी आँखों को,कह के हाल सुनाया भी तो क्या सुनाया.

उसने जैसे ही अपनी जांघिया नीचे सरकाया, उसका लिंग टन्न से झूले की तरह ऊपर नीचे होने लगा.

हिंदी बीएफ प्लीज: थोड़ी परेशानी होती है, पर क्या करें … जिंदगी में जीना है, तो काम कर प्यारे …मैंने भी मस्त मिज़ाज में अपनी बात कही. मुझे याद है, जब पहली बार तुम मेरे बेडरूम में आयी थीं, थोड़ी शर्मायी सी, घबराई सी थीं.

मैंने अब उसके कुर्ते में हाथ डाल कर उसके बोबों को दबाना शुरू कर दिया, उसे बहुत मज़ा आ रहा था. और उधर पापा मम्मी की चूत का सारा रस पी गये और मम्मी अआहह उउह हहह … करके शांत हो गई. इस पर अरुणा बोली- कोई बात नहीं अंकल गलती मेरी है, मुझे दरवाजा बन्द रखना चाहिए था और राज तो अभी नहीं आया है.

पर एक तरफ से ठीक ही था, क्योंकि जब से आए थे, वे अधिकांश समय घर पर ही रहते थे, तो मेरा मन कामवासना की ओर नहीं जाता था.

एक उंगली से मैं प्रमिला की चुत के दाने को भी सहला रहा था, जिससे प्रमिला भी सिसकारियों के साथ मुँह से ‘ऊऊ ह्ह्ह आआअह्हह …’ की आवाजें निकाल रही थी. तभी पुनीत बोला- वन्द्या तू दुनिया की सबसे सेक्सी और सबसे बड़ी चुदक्कड़ लड़की है. करीब 15 मिनट के बाद चाचा के खर्राटे की आवाज सुनाई देने लगी … तो मैं समझ गया कि वो लोग सो गए हैं.