हिंदी बीएफ 12 साल

छवि स्रोत,गाड़ी कार्टून

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी 2001: हिंदी बीएफ 12 साल, अब उससे बात नहीं होती है लेकिन जब भी चुदाई करनी होती, तो सीधे फकिंग की बात कर लेते हैं.

सूरत कॉल गर्ल्स

” महेश ने भी अपनी धोती उठाकर पहनते हुए कहा और चुपचाप वहां से निकल गया।नीलम तुम बापू के साथ नंगी? नहीं! मुझे अब भी अपनी आँखों पर यकीन नहीं हो रहा है. देहाती सेक्स वीडियो hdमुझे इस बात की खुशी भी होती है कि आप मेरे लेखों को पढ़कर अपनी प्रतिक्रियाएं मुझ तक पहुंचाते हैं.

उनके हाथ मेरे बालों को सहला रहे थे और मेरे हाथ उनकी चूत की दरार को. लोकल सेक्सी वीडियो हिंदी मेंवो एक दम कड़क था और एक भी बाल नहीं था उस पर!सर लंड हाथ में पकड़ा के आगे पीछे करवाने लगे.

अब मैंने नीरू को बेड पर लिटाया और उसकी गांड के नीचे तकिया रख कर उसकी टांगें हवा में फैला दी जिससे उसकी चूत बिल्कुल ऊपर को हो गयी.हिंदी बीएफ 12 साल: फिर मैं वहीं रुक गया और उनके चूचों को चूसने लगा, उनके निप्पल को काटने लगा और उनके होंठों को चूसने लगा.

उसने भी मस्ती में कहा- आपका ये दीवाना थोड़ी देर में आपकी खिदमत में हाजिर हो जाएगा जानेमन.मैंने आंख मार कर कहा- अगर आपने देख लिया था, तो अन्दर आ जाते न, आपको और अच्छे से दिखा देता, चाची प्लीज बुरा मत मानना, आप मुझे बहुत ज्यादा अच्छी लगती हो … और मैं आपसे बहुत ज्यादा प्यार करता हूं.

इंडियन सेक्सी कॉम - हिंदी बीएफ 12 साल

उसने मेरी जांघ को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और मुझे अपने ऊपर लिटा लिया.मुझे लगा कि मैं अब झड़ने वाला हूं, तो मैंने कहा कि तुम अपनी स्पीड बढ़ा दो.

पहले तो मुझे लगा था कि ये सब टाइम पास करने का जरिया है … और फालतू का काम है. हिंदी बीएफ 12 साल उसके अलावा सभी ने यही समझा कि मैं सील पैक हूं।अब इधर मेरे पीछे विवेक ने मेरी गांड को पकड़ कर कूल्हों को थोड़ा ऊपर उठाया और अभय को बोला- अभय भाई अब इसका मुंह आप अच्छे से बंद कर लो.

मैंने मॉम से कहा- मुझे आगे के काम के लिए दो दिन बाद विदेश जाना पड़ेगा, तो मैं आज आपको पापा के पास घर में छोड़ देता हूं … फिर वहीं से निकल जाऊँगा.

हिंदी बीएफ 12 साल?

पिंक रंग की ड्रेस पर मेंहदी का रंग उसकी खूबसूरती को अलग ही चमका रहा था. कुछ देर मस्ती करने के बाद फिर सोचा कि कुछ नया किया जाए इसलिए मैंने सुझाव दिया कि इन दोनों औरतों को थोड़ा दूर रेत में पूर्णतया नग्न अवस्था में ऐसी जगह लिटा दिया जाए जहां समुद्र की लहरें इन दोनों के ऊपर आएं और स्वयं ही फिर बह कर उतर जाएं. नाश्ते में मनोज और सुनील बैठे, दीपा गर्म गर्म कटलेट सेक रही थी तो वो नहीं बैठी.

उनकी मैरून कलर की लिपिस्टिक के दाग मेरे लंड पर लग गए थे, जो और मुझे उकसा रहे थे. सोनिया- मेरे पास आ जाओ ना … तुम्हारी प्यास बुझाने के लिए मेरे पास बहुत सारा पानी है … आओ और जी भर के पियो. मैंने शॉट्स लिए और उनको अपने कैमरे की गैलरी में देखा, तो मेरा लंड खड़ा होने लगा.

मैं एक बार फिर झड़ गयी और मेरा पानी निकलते ही सर ने मेरी चूत से लंड निकाल कर मेरी चूतके ऊपर पानी छोड़ दिया और मेरे ऊपर लेट गए. वन्दना सामने से नीरू की चूत चाट रही थी और पीछे से मेरा लन्ड ले रही थी. मैं उस खड़ी आग के सामने नीचे घुटनों के बल बैठ गया और उसके पेटीकोट का नाड़ा खींच कर नीचे गिर जाने दिया.

तब मैंने अपनी मौन स्वीकृति दे दी और मनु ने तो मेरे नक्शे कदम पर चलना ही ठीक समझा, लेकिन परमीत को कोमल ने उकसा ही लिया. कुछ देर बाद उसने मुँह ऊपर करके मेरी आँखों में देखा और कुछ क्षण बाद मेरे होंठ उसके रसीले होंठों को चूम रहे थे.

जिस नजारे का हम दोनों दोस्त बेसब्री से इंतजार कर रहे थे अब वह हमारे सामने शुरू हो ही गया था.

उसकी सास ने जोर देकर कहा था कि मैं अपने पति मनोज को लेकर एक हफ्ता पहले ही पहुंच जाऊं और जन्मदिवस मनाने के लिए हो रही तैयारियों में हाथ बटाऊं.

नहीं तो मुझे पसन्द नहीं है चूसना … लेकिन आज तुमने मेरा वो हाल कर दिया कि मैं ना चाहते हुए भी तुम्हारे लंड को चूसे बिना नहीं रह पायी. बस में काफी देर आराम करने के बाद सबा जब बस से उतरी, तो उसका लड़खड़ाना थोड़ा कम हुआ. उसने मेरे होंठों को छोड़ कर मेरी आंखों में देखते हुए कहा- राज, तुम इतनी सेक्सी कहानियां लिखते हो, मुझे तो यकीन नहीं हो रहा! उस दिन जब तुमने मेरी ब्रा में अपना माल छोड़ा तभी से मेरी चूत तुम्हारे लंड के नाम से गीली होने लगी थी.

गाड़ी में बैठने के बाद मुझे फिर से नींद आ गयी, इस बार भी वही हुआ लेकिन इस बार मैं उसकी गोदी में सो गया. वहां जाते ही सुनीता बोली- ये क्या हरकत है … शर्म नहीं आती यूं हाथ में लिए घूमते हुए. दोस्तो, आपका स्वागत है मेरी रीयल सेक्स कहानी के दूसरे भाग में।कहानी के पहले भागजवान लड़की की सेक्स कहानी-1में आपने पढ़ा कि किस तरह मैंने पूजा और सुखविन्दर की चुदाई का कार्यक्रम बना दिया.

मैं बोली- नहीं, मुझे जानना है कि क्या बात है?वो बोला- मेरी मां कह रही थी कि बंध्या का परिवार पूरे गांव में बदनाम है.

और उनका लन्ड मेरी चूत पर रगड़ मार रहा था।आआआ … ईईईई … आआआ … हहह … नि…का…ल…आ. वो बहुत देर तक वैसी ही रही जब तक कि उसको यह अहसास नहीं हुआ कि उसका बेटा भी वहीं है, और वो बहुत देर तक उस स्थिति में नहीं रह सकती. इस बात पर संजय ने हरामीपन वाली स्माईल दी, बाकी किसी को कोई खास फर्क नहीं पड़ा, लेकिन मेरे दिमाग में एक बिजली सी कौंध गई.

सीमा कई बार ग्रुप सेक्स की क्लिपिंग्स डाल देती तो और उससे पूछतीं कब करा रही हो… बात मजाक की मजाक में ही ख़त्म हो जाती. लेकिन मुझे उसकी चूत से चॉकलेट मिक्स चूतरस का इतना मस्त स्वाद आ रहा था कि मैं सब भूल ही गया था. कह कर अंशु ने कच्छी उतार दी, बोली- ऐ मालिनी … आ मेरी चूत को प्यार कर! और कामिनी, तू मेरे भाई का लण्ड चूस के तैयार कर। लेकिन ध्यान से … उसका पूरा प्रोग्राम नहीं करना। उपिन्दर के बाद शैली के ऊपर उसका नम्बर है। उसके लौड़े का पानी तेरी बहन के किसी छेद में जाएगा.

इसी बीच मेरे लंड ने अंदर तक घुसने के मुकाम को हासिल कर लिया था और ऐसा लग रहा था जैसे मैंने किसी बर्फ के खाने में अपने लंड को दे दिया हो.

जब उन्हें लग गया कि मैं खाली हो गया तो उन्होंने अपने हाथ को मेरे लंड पर दबा के बचा रस निकालने को नीचे से ऊपर की तरफ ले गयी. दीपा नहीं मानी तो उसने दीपा को आलिंगन करके दीपा किस दिया और कहा- प्लीज.

हिंदी बीएफ 12 साल हम दोनों आखिरी की सीटों पर बैठे हुए थे लेकिन अभी तक हमारे बीच में सब कुछ नॉर्मल ही चल रहा था. मैं उपन्यास में इतनी गहरी डूब गई थी कि मुझे मेरी एकलौती बेटी की आने की आहट भी नहीं सुनाई दी.

हिंदी बीएफ 12 साल खाना के बाद मैं बेड से उठी और अपने खिड़की का पर्दा हटाया, तो मैंने देखा कि हमारे रूम के नीचे स्विमिंग पूल बना हुआ था और वहां पर लोग मस्ती कर रहे थे. पापा ने पूछा- मगर तू क्या कर रहा है?भाई ने कहा- आप लोग बस देखते जाओ और मजे लो.

मैं अपने पिताजी को अन्दर लेकर गई और उनके बिस्तर पर लेटाते समय उनकी नजर मेरी चूचियों पर चली गई और वो मुझे किस करने लगे.

सेक्सी पिक्चर अच्छी बढ़िया वाली

मैंने वासना से मारी जा रही थी, चाहर रही थी कि ये दोनों मुझे चोद चोद कर अधमरी कर दें. उसने सुनील और मनोज को कहा- आप सुनील के रूम में जाकर गप्पें मारो, तब तक में तैयारी कर लूं. पहले तो रीता बात करने में कई दिन मुझ से खुल नहीं पा रही थी लेकिन फिर धीरे-धीरे मैंने ही उसको खोलने की कोशिश की तो वो फिर मुझ से खुल कर बात करने लगी थी.

मैं आहें भर रही थी- बेबी धीरे बेबी धीरे आह बेबी धीरे धीरे आह सुहास बेबी धीरे आह …कुछ देर और चोदने के बाद सुहास भी झड़ने लगा. मैंने सोचा कि उससे भी पूछ लेता हूं कि वो भी ऑफिस पर जायेगा या साइट पर जायेगा. मैंने भी उसका हाथ अपने हाथ में पकड़ लिया और कहा- तुम्हारे हाथ दूध की तरह गोरे और रेशम की तरह नर्म हैं.

फिर एक रात को वो कहने लगा कि मुझे मेरे पैसे अभी लौटा दे मुझे कुछ जरूरी काम है.

उसने मुझे तीन ड्रेस और दीं और कहा- ये भी ट्राई करो, तुम पर बहुत अच्छी लगेंगी. मैंने उसको पानी का गिलास भर कर दिया और वो गोली खाने के लिए कह दिया. रोहन- जान तुम भी अपनी आंखें बंद करो ना अपनी टांगों को खोल दो और अपनी उंगलियां अपनी पूसी के ऊपर मसलो और सोचो कि मैं मसल रहा हूँ.

उसकी चूत की चुदाई होने के बाद उसको भी अहसास हो गया था कि उस दिन अगर वो मेरी बात मान लेती तो आज मेरे मोटे लंड से चुदकर अपनी चूत को खुश कर रही होती. तभी अचानक से भैया ने मेरी गांड के छेद में लंड रखकर एक जोर का धक्का दे मारा. मैंने भी झट से अपना मुँह खोला और भैया का 8 इंच का मोटा लम्बा लंड चूसने लगा.

”प्लीज… गौरी यह दर्द तो बस थोड़ी देर का है पर वह आनंद तो हमें कितना रोमांच से भर देता है तुम अच्छे से जानती हो. लंबे समय से सोच रहा हूँ अपने जीवन के कुछ पन्ने आप लोगों से साझा करूँ.

यहां तक कि अब मैं उसका सलाइवा भी टेस्ट कर पा रहा था, जो इतना टेस्टी लगा कि मैं बता नहीं सकता. अब उसकी गांड थोड़ी ढीली हो गई थी, मैंने उसको बोला कि एक बार लौड़े को मुँह में लेकर गीला कर दो, जिससे आसानी से गांड में चला जाएगा. हमम्म्म … उफ्फ़ … करते हुए उसने अपनी चुत में ही लंड को फंसाए हुए ही अपनी रफ्तार को एकदम से धीमे कर दी.

इस बात पर परमीत और भड़क उठी और उसने तमतमा कर कहा- अरे बोल तो सही … करना क्या है, अभी करके दिखाती हूँ.

राहुल ने दो दिन बाद ही सबको बता दिया कि उसने जयपुर में एक रिसोर्ट में चार कॉटेज बुक करवा दी हैं. मैं कपड़े पहन कर चाची के साथ ही सोफे पर उनकी जांघों से जांघें चिपका कर बैठ गया. मैं- तो!दीदी- तो … तू जल्दी से खाना खा कर सो जा … सुबह जल्दी जागना भी है.

विनय- नेहा रंडी, लंड का पानी कहा निकालूं … पियेगी मादरचोद?बॉस- हाँ साली, बता तेरी गांड को भर दूँ या प्यास बुझाएगी अपनी?मैं- भर दो मेरी गांड और चूत को पूरा … एक भी बूंद बाहर मत निकालना … आह्ह्ह मैं भी निकाल दूँगी अपना … आह्ह्ह आह्ह्ह मजा आ गया सर जोर से गांड फाड़िये अपने रंडी की … आह और जोर से. मेरी जीभ निकाल कर चूसने लगा और इतना तेजी से धक्के मारने लगा कि मुझे बहुत मजा आने लगा.

वो उठ कर दरवाजा बंद करके वापस आ रहा था तो मुझे उसका खड़ा हुआ लंड दिखाई दे रहा था. मैंने हामी भरते हुए लंड को चूत में पेलने के लिए मोना के मुँह से निकाल कर हिलाया. मैंने उससे कान में पूछा- कहां निकालूं?उसने अन्दर ही निकलने को बोला- मैं तुम्हारा बीज अपने अन्दर महसूस करना चाहती हूं.

हॉट सेक्सी चाची

मैं बोला- मेम आपने पहले बताया होता … तो अब तक तो एकाध बच्चा भी पैदा कर देता.

मैं अभी लंड पेलने की कोशिश ही कर रहा था कि तभी लंड अपना रास्ता ढूँढते हुए गुफा के अन्दर चला गया. ऑफ सीजन होने से भीड़ बिल्कुल नहीं थी और इन्हें तो वैसे भी प्राइवेसी मिली हुई थी. उसने काले रंग की थोंग (एक तरह की पेंटी) डाली थी जो नीरू भी देख रही थी.

उसने कहा- तो मुझे अब कब मौका मिलेगा मेरी जान?मैं बोली- अभी तो मुश्किल है, विक्की आ गया है. पहले एक महीने तो सुबह सवेरे गुड मॉर्निंग या रात को गुड नाइट जैसे मैसेज ही होते थे. हीरोइन की सेक्सी पिक्चर वीडियोमेरे दूध वास्तव में इतने बड़े हैं कि उनको भी काफी मजा आ रहा था।मेरा बदन भी अब उबाल मारने लगा, मेरे जिस्म की आग भड़क रही थी.

इधर उनके दोस्त भी मुझे अपनी बांहों में पा कर कण्ट्रोल नहीं कर पा रहे थे, उनका मुसल जैसा लंड पैंट को फाड़कर बाहर आने को हो रहा था. उसने लंड को चूत में लिये हुए ही फोन उठाया तो पता चला कि उसके पति का फोन था.

उसने बनियान उतार दिया और वो मेरे सामने ही बिल्कुल पूरी तरह से नंगा हो गया. अगले दिन जब समीर ऑफिस चला गया और नीलम सोने चली गई तो महेश धीरे से अपनी बेटी ज्योति के बेडरूम में घुस गया।वहाँ ज्योति अभी-अभी बाथरूम से नहा कर निकली थी और सिर्फ पेंटी और ब्रा में ही थी. ” (मुझे किसी बाजारू रंडी की तरह चोदो)मैं इतनी उत्तेजित हो गयी थी कि जल्द ही झड़ने को हो गयी.

सुनील ने जैसे ही अपनी प्लेट हटाई तो उसमें रात वाला टिश्यू रखा था और उस पर दीपा के होंठों के लाल लिपिस्टिक के निशाँ बने थे. सोफा थोड़ा साइड में था। इसीलिए महेश को वहां पर बैठने में कोई झिझक नहीं हुई. अब उन्होंने अपनी गांड का रिदम बनाते हुए मेरी चूत को चोदना शुरू कर दिया.

भले ही वो सब अचानक में हो गया पर जो कुछ हुआ अच्छा ही हुआ और मैं आगे भी उसके लिए तैयार हूं.

मैं लड़के से हाय हैल्लो करने लगा और शालिनी जी मेरे लिए किचन में चाय लेने के लिए चली गईजब वो वापस आई तो उसके साथ में एक लड़की भी थी. तो वह मान गई और काफी देर इधर-उधर घूमने के बाद मैंने पार्क के काफी अन्दर जाकर एक जगह देखी.

बियर पीने के बाद उसको भी चढ़ गयी थी और वो अपने पुराने बॉयफ्रेंड को गालियां देने लगी. अच्छी बात ये थी कि अब मेरी चुत में लंड ठीक से घुसने का समय आ गया था. मैंने समीर को बताया कि सर ने तो बस किस किया और नार्मल बातें कर के मुझे घर भेज दिया.

उसके शब्द तो मेरी समझ में नहीं आए, पर हां इतना ज़रूर समझ आया कि वो नींद में मुझसे चुद ही रही थी. कुछ देर चलने के बाद घर पहुंची वो बाहर ही खड़ा था उसके घर के चबूतरे से मुझे देख रहा था और उसके साथ कुछ लड़के थे शायद उसके दोस्त थे।मैं सीधे घर में आ गयी और पहले बाथरूम जाकर अपने आप को क्लीन किया. सबा ने बहुत मज़े के साथ लंड अपने होंठों में दबाया और मेरी आंखों में आंखें डाल कर लंड चूसने लगी.

हिंदी बीएफ 12 साल उन्होंने मेरे सीने को चाटना शुरू कर दिया और एक हाथ से अपने चुत को कुरेदने लगीं. मेरी चूत फट गई क्या? घबराहट सी होने लगी क्योंकि असलियत तो मैं जानती थी कि मेरी सील इसने नहीं तोड़ी, मैं तो चार पांच बार चुद चुकी हूं.

असामीज सेक्सी

मैंने हौले से उनके एक दाने को चुटकी में लेकर धीरे से मसला और फिर अपने थरथराते होंठ उस निप्पल पर रख दिए. फिर बोलीं- मैं भाग नहीं रही हूँ देवर जी, धीरे धीरे मजा आएगा … ऐसे में आप तुरंत थक जाएंगे. उनके मुँह से ये सुनते ही मेरे कान खड़े हो गए और मैं उनके मुँह की तरफ देखने लगा.

आप लोगों के ईमेल आने के बाद ही मैं अपनी अगली कहानी लिखना शुरू करूंगा. फिर अमन बोला- यार एक काम कर … वीडियो फिर से लगा दे … जैसे वो लोग करते जाएंगे, वैसे ही हम भी करेंगे. nude hot xray in वय २५ gilesइस बार चाची बोलीं- मैंने तुझे ऐसा नहीं समझा था कि तू भी ये काम करेगा, तभी तो तुम्हारे नंबर इतने काम आते हैं, यही सब करने तू कॉलेज जाता है क्या?मैंने कहा- चाची जी प्लीज मुझे माफ़ कर दो … आज के बाद ऐसा कभी नहीं करूंगा.

अब मेरा मन भी करने लगा था कि उनके लंड को पकड़ लूं लेकिन दुल्हन वाली शर्म अभी भी रोक रही थी.

चुदाई के दौरान अच्छी खासी मेहनत होने की वजह से मुझे भूख भी जोरों की लगी थी और इधर जेठजी पता नहीं अपने कमरे में क्या कर रहे थे. चाची की गांड खोलकर मैंने धीरे से अपना लंड लगाया और एक झटका मार कर थोड़ा सा लंड अन्दर पेल दिया.

पानी गिरने के बाद भी चाची मेरे लंड के सुपारे को चाटती रहीं और उन्होंने अपनी जीभ से मेरे लंड को पूरा साफ़ कर दिया. मैंने पूछा- क्या बोलीं?वो बोली- मौसी तेरी तारीफों के पुल बांध रही थीं. कॉलेज में मेरे 3-4 लड़कों के साथ अफेयर थे जो रोज मुझको कॉलेज के पीछे खाली पड़े हुए रूम में ले जा कर चोद लेते थे.

मैंने पीछे से उनकी चुत के छेद पर लंड लगा कर जोर से झटका मारा और पूरा लंड एक बार में ही अन्दर डाल दिया.

मुझे समझते देर नहीं लगी कि जो भाव मेरे मन में उठे थे वही भाव अपनी साली को देख कर मेरे पति के मन में भी उठ रहे हैं. शबनम तो बेशर्म है, वो अंदर नंगी ही खड़ी थी … नायरा ने भी हँसते हुए अपने कपड़े उतार दिये. कुछ ही देर में उन्होंने अपने दांतों से पकड़ कर मेरी पेंटी भी उतार दी और फिर खुद भी पूरे नंगे हो गए.

कल्याण राजधानी नाईट चार्टभले ही असल में रिया जान चुकी थी कि जॉली अब नाराज नहीं रहा था, लेकिन क्या फर्क पड़ता है कि चाकू खरबूजे पर गिरे … या खरबूजा चाकू पर. हालाँकि पार्टी में अपनी वाली को चिपटा लेना या खुलेआम किस लेना इनके लिए आम बात है.

nisha सेक्सी वीडियो

मगर एक बात का ध्यान रखना कि आशीष को इस बारे में कुछ पता नहीं चलना चाहिए. इतनी देर से मेरी चूत में जो आग लगा रखी है तुमने उसको तो शांत कर दो. मगर मैं अपने हरियाणा के मित्रों से अनुरोध करता हूं कि मेरी महिला मित्रों के बारे में जानकारी न मांगें.

वह पूरे जोश से झड़ रही थी और कह रही थी- आह … यू आर टू गुड, फक मी लाइक एनीथिंग (तुम बहुत अच्छे हो, मुझे पूरे जोर से चोदो). पहले तो वो मना कर रही थी और बोल रही थी कि मुझे थोड़ा अजीब लग रहा है लेकिन जब मैंने उसको सेक्स की बातें करके गर्म किया तो वो मान गयी. शायद रीमा वीर्य पीना पसंद नहीं करती थी, इसलिए वो अपना मुँह हटाने लगी.

मैं उन्हें ताकता ही रह गया, क्योंकि वो इतनी ज्यादा हॉट लग रही थीं कि मस्त माल की सही परिभाषा दिख रही थीं. वह चीखना तो चाह रही थी, लेकिन भाभी ने उसके होंठों पर कब्जा कर रखा था. ये सबसे सुकून का पल होता है जब दोनों साथी एक साथ स्खलित हो जायें!कुछ देर बाद:पूजा- राज एक बात बताऊं … मैं मैंने बहुत ही कम बार अमित का लन्ड चूसा है.

शायद मामी को यह समझ आ गया था इसीलिए इस बार उन्होंने हाथ छुड़ाने की ज्यादा कोशिश नहीं की जैसे कि मुझे झड़वा कर वो ये सब जल्द ही ख़त्म करना चाहती हों।जब मैं उनकी कलाई पकड़ के पीछे लाया तो मैंने गौर किया कि इस बार उनके हाथ में कुछ अलग सा फील है. पापा ने पूछा- मगर तू क्या कर रहा है?भाई ने कहा- आप लोग बस देखते जाओ और मजे लो.

मैंने महसूस किया कि वो भी अपनी चूत फैला कर मेरे पैर की रगड़ का मजा ले रही थीं.

मुझे विश्वास हो गया था कि अब चाची मेरे लम्बे लंड को लेने के लिए मचल गई हैं. इंग्लिश सेक्सी फुल एचडीवो दोनों आपस में एक दूसरे के होंठों को चूसने में लगे हुए थे और लड़के ने उस लड़की की लैगिंग में हाथ डाला हुआ था. सेक्स मूवी एचडीमेरा प्री-कम के गिरने तथा भाभी का चूतरस के स्त्राव के कारण पच पच फच फच की आवाज और भाभी का मंद मंद कराहना मुझे बड़ा ही आनन्दित कर रहा था. फिर वो ऑफिस चले गए जब वह शाम को आए तो उन्होंने मुझसे कहा- जान मैंने तुम्हारी ख्वाहिश पूरी कर दी, मैंने अपने बॉस को आज खाने पर बुलाया है, बस आज तुम उनका मनोरंजन कर दो ताकि मेरा प्रमोशन हो जाए और वे खुलकर तुम्हें मजा दें.

वो बोला- आप लेंगी क्या?मैं- क्या दोगे आप?वो लंड पर हाथ फेरते हुए बोला- जो आपकी इच्छा हो.

जैसा कि मैंने पहले भी बताया था कि अन्तर्वासना पर सेक्स स्टोरीज तो एक से बढ़कर एक आती ही रहती हैं इसलिए मैं अब सेक्स में कुछ नयी बातें लिखता हूँ और मुझे ख़ुशी है कि वो बहुत पसंद की जाती हैं. उसने मुझे फिर से नंगी कर दिया और पास पड़ी मेज पर घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चुदाई शुरू कर दी. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैं उसकी आंखों में आंखें डालकर सेक्स कर रही थी.

थोड़ी देर की चूमा चाटी के बाद वो घुटनों पर बैठ गयी और मेरे लंड से खेलने लगी. इधर मैंने गांड के छेद का अहसास करते ही दबाव बना दिया, तो मेरा सुपारा बीवी की गांड के अन्दर प्रवेश कर गया. मैं जब भी किसी महिला को देखता, तो एक बार पीछे मुड़ कर उसकी मटकती हुई गांड को जरूर देखता था.

भोजपुरी का सेक्सी वीडियो एचडी

कुछ देर मस्ती करने के बाद फिर सोचा कि कुछ नया किया जाए इसलिए मैंने सुझाव दिया कि इन दोनों औरतों को थोड़ा दूर रेत में पूर्णतया नग्न अवस्था में ऐसी जगह लिटा दिया जाए जहां समुद्र की लहरें इन दोनों के ऊपर आएं और स्वयं ही फिर बह कर उतर जाएं. वो अब एकदम से अकड़ गयी और बोली- अब मत तड़पाओ … चोद दो मुझे … बहुत प्यासी हूँ … पति के साथ मेरा डाइवोर्स होने के बाद से मैंने कभी चुत नहीं चुदवाई … प्लीज़ आज मुझे चोद कर मेरी प्यास बुझा दो. थोड़ी देर तक तो दीदी शांत रही, फिर अचानक उनका हाथ पकड़ कर बाहर की ओर खींचकर बोली- क्या कर रहे हो साकेत … ये सब गलत है … आपको तो सिर्फ बात करनी थी न.

पर परमीत के ऊपर बीयर हर पल अपना कब्जा बढ़ा रही थी और कोमल ने तो शायद शकुनि से बड़ा षड़यंत्र रचा था.

इतना बोल कर अभय ने मेरे होंठों को कस कर अपने होंठों से दबा लिया पीछे से विवेक ने पूरी ताकत लगा कर मेरी गांड में लंड को घुसा दिया.

एक दिन हम दोनों बात कर रहे थे, तो मैंने उससे पूछा- शान एक बात बताओ तुम्हें सबसे ज्यादा किस में दिलचस्पी है? लड़की में या औरत में?उसका झट से जवाब आया- औरत में. मुझे ऐसा लगा मानो जैसे किसी ने गर्म सरिया मेरी बुर में घुसा दिया हो. हिंदी विलेज सेक्ससभी पार्टी में मशगूल थे, तभी मामी मेरे पास आ गईं और मुस्कुराते हुए बोलीं- क्या हुआ जनाब ध्यान कहां है आपका?तभी मेरा ध्यान टूटा और पाया कि ये क्या … मामी तो कब की मेरे काफी पास आ गई हैं.

वैसे पहले भाभी को उसके पास जाना ठीक नहीं लगा था मगर उस लड़के ने भरोसा दिलाया था कि वो कभी भी कोई ऐसा काम नहीं करेगा जिससे भाभी की बदनामी हो. फिर बॉस और विनय दोनों ने खड़े होकर मुझे अपने हाथों में उठा लिया और मुझे उछाल उछाल कर मेरी चूत गांड को फाड़ना शुरू कर दिया. इधर भाबी भी अपने बुर पर मेरा सिर दबाए जा रही थीं और मस्त कामुक आवाजें निकाले रही थीं- आह … बहनचोद चल … अपनी दीदी की बुर को अच्छे से चाट … वरना तेरी माँ की बुर अपने पति के लौड़े से फड़वा दूंगी.

मैंने भाभी की चूत चूसने की कोशिश की, तो उन्होंने मना कर दिया और कहा कि कहीं ऐसा न हो कि चूत पीने में ही आपके नलका से पानी गिरने लगे. मैंने खुद को वापस खींचने की कोशिश की मगर पापा मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगे.

मैं- अब किस बात का इंतज़ार है मेरे पतिदेव … अब शुरू हो जाओ और मिटा दो सारी खुजली मेरी चूत की … और बुझा लो प्यास अपने लंड की.

फिर दीदी ने पूरी ताकत से उनके हाथ से अपने आपको छुड़ाया और अपने मुँह को दोनों हाथों से बंद करके जोर जोर से सांस लेने लगी. मैंने वापिस रूम में जा कर सेजल दीदी को जगाया और उनके होंठों पर किस करने लगा … गर्दन पर भी किस करने लगा. वो मुझे जो भी काम कहती थीं, मैं उसको तुरंत पूरा करता था, चाहे वो कैसा भी काम हो और किसी भी समय हो.

जादू पिक्चर रात को दो बजे के करीब हम दोनों को फिर से सेक्स चढ़ गया और मैंने उसकी चूत की चुदाई रात में ही चालू कर दी. ”हाय हाय मज़ा आ रहा होगा न … पूरा प्रोग्राम वहीं होगा?”हाँ अब यहाँ और कोई नहीं है। अब तेरी मम्मी को नंगी करेंगे। तू वहां चुदवाएगी और तेरी माँ यहां! अब रखती हूँ, चुदाई की शुभ कामनाएं.

ये सेक्स कहानी मेरी पिछली गाँव की भाभी की कहानी के बाद की है, तो आप सभी अपने लंड को हाथ में ले लें और सभी भाभियां लड़कियां आंटियां अपनी चूत में उंगली डाल कर इस गाँव की भाभी कहानी का आनन्द लें. मैंने सोचा कि पड़ोस में सरोज भाभी के खेत में पानी होगा क्योंकि उनके खेत में झोपड़ी भी थी. उसके बाद मैंने गिफ्ट्स वहीं कुमार के रूम में रख दिए और हम दोनों चले आए.

दोस्त की मां की सेक्सी वीडियो

जब वो मेरे होंठों को खुला छोड़ता था तो मेरी सांसें चलती थीं वरना मैं फिर से उसकी बांहों में तड़पने लगती थी. इसी बीच मेरा वह दोस्त और मेरी पत्नी हम दोनों आलिंगनरत जोड़े के पास आए और मेरी बीवी ने मेरी अंडरवियर और उसके पति ने अपनी पत्नी की अंडरवियर पूरी तरह निकाल कर अलग कर दी. मैं भी उसके चूचे देखने के लिए एक्साइटेड हो रहा था लेकिन उसके लिए मुझे उसको पहले गर्म करना था.

अब चारों ब्रांडेड कपड़ों के शोरूम में घुस गयीं और चारों ने ही मिनी स्कर्ट और अलग अलग तरह के टॉप लिए. ” नीलम ने अपने आप को अपने ससुर से छुड़ाकर सोफ़े पर जाकर बैठते हुए कहा।नीलम की साँसें ज़ोर से चल रही थी.

दीपा ने दो चार सुट्टे मार कर सिगरेट मनोज को लौटा दी और वाशरूम का दरवाजा लॉक कर लिया.

फिर मैं उसकी जीभ को निकाल कर चूसने लगा था और वह भी इसी तरह मेरा जीभ को चूस रही थी. पर सुनील ने माल इतना निकाला था कि उसकी चूत से लावा जैसा निकल रहा था. चूंकि मासी अचानक से बिना सूचना दिए आ गई थीं, तो माँ पिताजी को इस बात की कोई खबर ही नहीं थी.

मैंने तो किसी भी तरह के ऐसे खेल और शर्त के लिए साफ मना कर दिया और देर होने की बात कहकर जल्दी घर चलने की जिद भी करने लगी. और तभी …पिछले दरवाज़े से घुस कर तीन शख्स उसके सामने आ गए।सिर्फ ब्रा पैंटी में अंशु, अंडरवियर में राजेश और पूरा नंगा उपिन्दर।अंशु- साली जी, पति का लण्ड तो कल रात मिलेगा और वो तेरी ज़िन्दगी का मेन प्रोग्राम होगा। और हर प्रोग्राम से पहले रिहर्सल होती है, वो अभी होगी तेरी विदाई से पहले। तेरी दीदी के दोनों पति और उसका बॉयफ्रेंड तेरे पूरे मज़े लेंगे. उसके बाद मैंने अपने आंसर शीट नेहा को दे दी और उसकी शीट लेकर बैठ गया.

उसमें से निकल रहा पानी वो पूरा का पूरा चाट गए।उनकी खुरदरी जीभ से मुझे बहुत मजा आ रहा था, वो पूरी जीभ को ऊपर नीचे करते हुए चाट रहे थे। मैं तो बस अपने बदन को नागिन की तरह हिला रही थी और बस मुँह से सिसकारी ही निकल रही थी- आअह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआ ऊऊईईई आऊच उईईई माँआआहन ह्ह्ह्ह आआअह्ह बसस्स स्स्स्स्स करोओओओओ आआअह्ह्ह … नहीं ईईई ईईई नाआआआ!मगर वो कहाँ रुकने वाले थे.

हिंदी बीएफ 12 साल: कुछ देर तक लंड चुसवाने के बाद सुहास बेड पर लेट गया और उसने मुझे अपने ऊपर बैठा लिया. पर कानपुर जब पहुंचा, तब बड़ी मामी शिखा हमारे लिए कोल्डड्रिंक लेकर आईं.

दोस्तो, अपनी अगली सेक्स कहानी में आप सभी ले लिए लिखूँगी कि कैसे हम सभी ने मिल कर ग्रुप सेक्स में गैंग बैंग किया और कैसे राहुल और सीमान्त ने मेरी गांड की सील तोड़ी. इसी के चलते मैं एक हाथ से निशा के मम्मों को मसल रही थी और एक हाथ को अपनी चुत में डालने की कोशिश करने में लगी थी. विक्की अपने कपड़े उतार दिए और मैं तो बस उसकी शर्ट पहन कर बैठी थी, सो मैंने भी उतार दी.

दोस्तो, आपने मेरी दो कहानियाँमेरी बीवी की उलटन पलटनदिल मिले और गांड चूत सब चुदीपढ़ी.

सोफा थोड़ा साइड में था। इसीलिए महेश को वहां पर बैठने में कोई झिझक नहीं हुई. कुछ देर सोचने के बाद वो तैयार हुई और गाउन पहने हुए मसाज के लिए लेट गई. उसको भी लंड फिर से लेने का मन कर रहा था लेकिन मेरे मन में उसकी गांड घूम रही थी.