मोटी औरत के साथ बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो खाली

तस्वीर का शीर्षक ,

हस्तमैथुन से हानि: मोटी औरत के साथ बीएफ, बोल है कि नहीं?शाकिर- भाई साहब यह बात तो आप मेरे से बेहतर जानते हैं.

भगवान सेक्सी पिक्चर

वो अब मेरे गले में किस कर रहा था और मुझे मज़ा भी बहुत आ रहा था तो मैंने मना भी नहीं किया कि अब ये ना करो. तेरे नाल प्यार सोनिएपांच मिनट तक इसी पोजीशन में भाभी की गांड चुदाई करने के बाद मैंने लंड बाहर निकाला तो वो तरह से कंपकंपा रही थीं और अधमरी कुतिया सी बेड पर निढाल पड़ी थीं.

इतने में पूजा रूम में आ गई, उसने पिंकी को इस हाल में देखा तो हैरान हो गई. हिना खान की नंगी फोटो” महेश्श्श्श… इईईई… श्श्श्शशश…” कहते हुए ममता जी ने मेरे बालों को जोर से पकड़ लिया, ममता जी को एक झटका सा लगा था जिससे उनका पूरा बदन थरथरा गया और एक मीठी सी सुबकी के साथ उनकी दोनों जाँघे मेरे सिर पर कस गयी।उफ्फ्फ्फ़… क्या गर्म चूत थी, मानो किसी आग की भट्टी पर ही मैंने अपने होंठ रख दिये हों.

मैंने अपना लंड चाची के मुँह में दे दिया और अपना सारा रस अपनी चाची के मुँह में निकाल दिया.मोटी औरत के साथ बीएफ: दस मिनट उसकी छूट रगड़ने के बाद मैं उसके टॉप में हाथ डाल कर उसकी मक्खन जैसी नर्म चुचियों को दबाने लगा.

तभी हम दोनों चुदाई बीच में छोड़ के बाहर निकले, उसने अपना घास की गठड़ी उठाई और जाने लगी.तो मेरा लण्ड अन्दर ही नहीं जा रहा था तो मैंने एक जोर का झटका मारा और लगभग आधा लण्ड अन्दर चला गया तो वो जोर से चिल्लाई मगर तभी मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए और उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठ चूसता रहा। कुछ देर बाद वो भी मेरे होंठ चूसने लगी। फिर मैंने अपना लण्ड और अन्दर डाला जो थोड़ी दिक्क़त के साथ अन्दर चला गया। उसकी चूत से गर्म-गर्म खून आने लगा। शायद उसने नहीं देखा.

सेक्सी वीडियो एचडी खेसारी लाल - मोटी औरत के साथ बीएफ

सानिया मेरी ओर देखने लगी तो मैंने उससे पूछ लिया कि उसे भी गाने सुनने हैं क्या?उसने हाँ की तो मैंने एक इयर प्लग निकाल कर उसे दे दिया और वो उसे अपने कान में लगा कर मेरे साथ गाने सुनने लगी.उस्मान माया के मम्मों को घूरते हुए बोला- क्यों मैडम, सुमित सर ने ज्यादा परेशान तो नहीं किया ना?नहीं उस्मान, अभी मुझे जल्दी है मैं बाद में बात करती हूँ.

अब ममता भी धीरे धीरे उत्तेजित होने लगी और मेरे बालों को सहलाने लगी. मोटी औरत के साथ बीएफ इस तरह से सोनी भी पहली बार किसी लड़के के साथ इतना घूमने फिरने लगी थी.

विश्वास है कि मेरी पिछली कहानियों की तरह यह भी आप सब को पसंद आई होगी.

मोटी औरत के साथ बीएफ?

उन्होंने मुझे हटाया और अपनी टाँगें फैला कर किसी भूखी कुतिया की तरह मुझे देखने लगीं. मैं चाची की कमर सहला रहा था, पर चाची कीचुत की प्यासअभी भी नहीं बुझी थी. अगर उन्होंने गर्भपात की दवाई की पर्ची लिख कर दे दी तो काम बन सकता है.

मैंने मन में कहा कि अरे मम्मी इसी पतले शरीर पर तो लड़के मरते हैं, मोटी हो जाऊँगी तो कोई पूछेगा भी नहीं. दीपक ऊपर से करारा धक्का लगाते हुए गांड को गुडगांव बना रहा था और मैं भी नीचे से हर धक्के के जवाब में एक करारा ठाप चुत में लगाते रहा. मेरी इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि मेरा बॉयफ्रेंड अवी मुझे अपनी बांहों में भरे हुए था और मुझे बेतहाशा चूम रहा था.

पर मैं पहली मुलाक़ात में उसे परेशान नहीं करना चाह रहा था। इसलिए मैं उसे ‘गुड नाईट’ हग करके बाहर आ गया। जब गाड़ी की चाभी देखी. उसने मुझे फिर चोदा और मैं फिर झड़ गयी और फिर थोड़ी देर बाद वो भी झड़ गया. मैं भी उसके गले लग गई क्योंकि मैं जान गई थी कि इस तरह मुझे देख के कंट्रोल करना आसान नहीं है.

गजब का ठंडा पड़ गया था बोनेट और इन सबने जो मेरे चूतड़ों का अब तक तबला बनाया था वो चोट खाया हिस्सा उसकी वजह से दर्द कर गया. उसकी टी-शर्ट में से उसकी खूबसूरत जवानी उभर कर आने लगी जिसे देख कर मेरा लौड़ा एक बार फिर अपनी ऊँचाइयों पर सर उठाने लगा था। मधु मिनी शॉर्ट्स में बहुत कामुक लग रही थी।तभी मधु ने मुझसे कहा- वाटर राइड पर चलें?मैं कहा- ओके.

आनन्द- तुम जैसी जवान और खूबसूरत लड़की के साथ संभोग करने मिला यही बहुत है.

फिर कुछ देर मैंने उसे ऐसे ही चोदा, वो अब तक दो बार झड़ गई थी, पर मेरा रस निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था.

यदि मुझे आपको बोलना होता कि आप दे दो, तो मैं अपने दोस्त के लिए थोड़ी बात करता. आंटी ने पूजा से कहा- देखो रोशनी को पहले वो भी शर्मीली थी, पर अब बड़े आत्मविश्वास से चलती है. आह… इस वक्त चाची क्या मस्त माल लग रही थीं; उनका भीगा बदन एकदम मस्त दिख रहा था; उनके चूचे ब्लाउज में से साफ तने हुए नजर आ रहे थे.

जब मैंने तौलिया माँगा तो स्वाति मेरी तरफ देखने लगी और हंसी- यार मिनी, यहाँ मैं अकेली हूँ. यह देख कर मैं डर गयी, घबरा गयी और बोली – मुझे छोड़ दो, प्लीज़ जाने दो!तभी भाभी के पापा बोले- आरती, चिंता मत करो, डरो नहीं, कोई दिक्कत नहीं होगी! मेरी जिम्मेदारी… भरोसा रखो, किसी को पता नहीं चलेगा, तुम एंजॉय करो, मेरा वादा है, भरोसा रखो. मेरी इस रसभरी देसी हिंदी पोर्न स्टोरी के पिछले भागगैर मर्द से जिस्मानी रिश्ता-1में आप सभी ने अब तक जाना था कि मेरे शौहर के साथ काम करने वाला लड़का मेरी चूत चाटने के बाद मुझे अपने आगोश में लिए हुए था.

उसका नंगा पिछवाड़ा और होने वालीभाभी के मटकते चूतड़बहुत मस्त लग रहे थे.

दोस्तों ये मेरी पहली पोर्न कहानी थी, आपको अच्छी लगी हो तो मुझे जरूर बताना आपके मेल का इन्तजार करूँगा. कुछ देर बाद वो कमसिन जवानी उठी और बगल के खेत में अपना पेटीकोट उठा कर मूतने लगी. मैं उससे बोला- मेरे लीवर जिगर फिगर में हो तुम, वक्त बे वक्त आए फीवर में हो तुम.

उन्होंने भी मेरी बहुत तारीफ की और मुझसे कहा कि तुम अब मेरे साथ न्यूयार्क चलोगी. गुड नाईट बेटा जी!” मैंने भी कहा और उसका सिर अपने सीने से सटा लिया और उसे थपकी देने लगा जैसे किसी छोटे बच्चे को सुलाते हैं. वो बहुत चिल्लाई… पर मैंने उसका मुँह दबाया और उसकी गांड मारनी चालू कर दी.

ऐसी परिस्थतियों में मैं महिलाओं और लड़कियों के बीच काफी घुलमिल जाता रहा, जिससे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों की लड़कियों और महिलाओं को चोदने में सहजता होती है.

उसकी फ्रेंड भी दिखने में एकदम मस्त थी, पर पता नहीं क्यों उस दिन मुझे अपनी बहन के अलावा दूसरी कोई लड़की अच्छी ही नहीं लग रही थी. अब मर्द के सामने भी तू अपने मम्मों को खुद ही रगड़ेगी?साली बहनचोदी, ला मैं चूसता हूँ तेरे मम्मों को.

मोटी औरत के साथ बीएफ मैंने आँख खोल कर देखा तो पहले दोनों मुझे ही देखते हुए अपना लंड हिला रहे थे. मैंने रोती हुई पिंकी को बुलाया और उसके कान में एक आईडिया दिया, वह खुश हो गई और उसने रोना बंद कर दिया.

मोटी औरत के साथ बीएफ भाभी अगर आप नंगी भी सामने खड़ी हो जाएंगी तो हम तो दो बार सोचेंगे कि आपको ढकना है या आपको चोदना है. इस पर मैंने कहा- हाँ अगर मोना को कोई ऐतराज ना हो तो मुझे क्या दिक्कत हो सकती है.

नीचे ब्लू कलर की पैंटी पहनी थी तो पूरी पैंटी और पुसी के पास की फूली जगह भी साफ दिखाई दे रही थी.

दिल की सेक्सी पिक्चर

‍ऽऽऽ… ऐसे ही… अपनी अदिति बिटिया की चूत बेदर्दी से चोदो, इस राजधानी से भी तेज तेज चोदिये… आःह! कितना मस्त लंड है आपका… पापा खोद डालो मेरी चूत… अब आप ही मालिक हो इस चूत के!” बहूरानी जी ऐसे ही वासना के नशे में बोलती चली जा रही थी. वहां पे बहुत भीड़ थी, मुझे सिगरेट पीने की बहुत आदत है तो मैंने उन्हें बोला- मैं आता हूँ. फिर उसको देखा, वो आँखें बंद करके लेटी हुई थी, वो भी इसके लिए तैयार थी.

फिर उसने धक्के मारना शुरू कर दिया, मैं जोर जोर से आहें भर रही थी और फिर मैं थोड़ी ही देर बाद झड़ गयी।पर वो अभी नहीं झड़ा था, वो लगातार धक्के मार रहा था. जब वो किचन में जाने लगी, तब मैंने उसे अपने कमरे में आने के लिए बोला लेकिन वो बोली- नहीं, जो बोलना है यहीं बोलिए. उन्होंने मेरे सहारे चलने की कोशिश की, मगर उनके पैर ने उनका साथ ना दिया और वो गिरने लगीं तो मुझसे बोलीं- तुम मुझे अपनी गोद में उठा कर ले चलो.

पापा को चुप पाकर मैं घबरा गई, मन में डर सा लगने लगा कि तभी पापा बिल्कुल मेरे ऊपर लेट गये, उनका सीना मेरे सीने से चिपक गया, उनकी कमर मेरे कमर के ऊपर और पापा का मुंह मेरे चेहरे पर और सीधे पापा मेरे होंठों को चूमने लगे.

दर्द से मैं बेहाल हो गई, मेरे पैर काम्प रहे थे, वो मुझे झुका कर मुँह दाब के चोदता जा रहा था, मैं बार बार आगे खिसकने की कोशिश करती थी, तो अंकल ने मुझे उठा कर दीवार के पास खड़ी कर दिया, मुझे चिपका कर दीवार पर दाब दिया. फिर मुझसे रहा नहीं गया, मैं उधर ही अपनी लुंगी के अन्दर हाथ डाल कर मुठ मारने लगा. क्योंकि जब मुझे खाने के बुलाने आई थीं, तब सलवार-कमीज में थीं और अब एक पतली सी नाईटी में गजब ढा रही थीं.

तभी ममता ने अपने होंठों को मेरे होंठों से अलग करते हुए कहा- लंड अन्दर नहीं डालना है. रवि ने कई बार पूछा कि महेश के और तेरे बीच लड़ाई हुई क्या, तो मैं बात को बदल देती रही. सो वो भी अपने कपड़े बदलने अन्दर चली गई।दो ही मिनट में हम दोनों पानी में अठखेलियाँ करने लगे थे। मैंने मधु के साथ बहुत मस्ती की उसको पानी से खूब भिगोया.

फिर मेरा हाथ धीरे धीरे और ऊपर उनकी टाँगों के बीच स्पर्श करने लगा और चाची मदहोश होने लगीं और मेरा हाथ ज़ोर ज़ोर से दबाने लगीं. मैंने अपना दांया हाथ उनके गले में डाल दिया जो कि उनकी छाती को छू रहा था.

मेरा लैंड अपन कपड़ों की तह के साथ बिल्कुल उसकी चूत के ऊपर चुभ रहा था. मुझे गांड में दर्द हो रहा था, पर मैं बॉस को अन्दर की ख़ुशी महसूस करवाना चाहती थी इसलिए बिना चिल्लाये ही गांड में बॉस का आधा लंड ले लिया. तो उन्होंने कहा कि मेरे हाथ में दर्द बहुत है, मैं कपड़े नहीं पहन पाऊँगी, मैं तौलिया लपेट लेती हूँ.

जैसे ही राहुल उसके नजदीक आया, जोया ने उसके लंड को आजाद कर दिया और तुरन्त उसके लंड को अपने मुँह में ले लिया.

इसी तरह हम मेले में पहुँचे, वहां काफ़ी भीड़ थी और तरह तरह के झूले लगे हुए थे. भाभी दुबारा से झड़ने वाली थीं और उनका शरीर फिर से कड़ा होने लगा था. मैंने मन ही मन सोचा कि इस समय कौन आ गया क्योंकि ममता आठ बजे आती है.

वो जब भी खाना बनातीं तो मैं उनके पास जाकर खड़ा हो जाया करता और उनकी मदद करता रहता. रोशनी ने जैसे ही चिल्लाने की कोशिश की, उसके मुँह में बाम से भरा रस टपकने लगा.

मैंने कहा- लाओ दो, क्या घर में कोई नहीं है?अवी ने मुझे कोल्ड ड्रिंक दी और वो खुद खड़ा रहा और मुझे घूरता हुआ पीने लगा. ये सब अंकल ने इतना जल्दी अचानक किया कि मैं सम्हाल नहीं पाई खुद को, मैंने अंकल को बोला- मुझे छोड़ दो प्लीज़, मुझे जाने दो, मैं आपकी बेटी की उम्र की हूँ, प्लीज मुझे जाने दो! मैं चिल्ला दूंगी, मुझे छोड़ दो!मैं घबरा गई।अंकल बोले- सुना नहीं कि वो लोग रास्ते में क्या बोले कि क्या मस्त बीवी पाई है, जाते ही चोद देना, बहुत चुदासी है तुम्हारी बीवी. मैं भी दीदी की पीठ पर हाथ को बड़े प्यार से अपनी उंगलियाँ खोल कर सहला रहा था.

सुहागरात वाली की सेक्सी

इधर मेरी चूत में उसकी उंगली ने भी कमाल दिखाया था, मेरी चूत भी झड़ गई थी.

यही सोच कर मैं चुपचाप पड़ा रहा और मन ही मन ईश्वर से प्रार्थना करता रहा कि वे कोई चमत्कार करें और मुझे इस पापकर्म में लिप्त होने से बचा लें. वो टॉप भी ऐसा कि उसमें दो पर्त थे, अन्दर वाला कपड़ा इतना हल्का था कि ब्रा पैंटी तो छोड़ो. फिर उसने पास ही पड़ा एक दुपट्टा उठाया जो 90% तक पारदर्शी था, उस दुपट्टे को उसने अपनी चूचियों पर डाला, जैसे उसको छुपाना चाहती हो.

कुछ देर करीब 10 मिनट दबा दबा कर मेरे मम्मों की मालिश की फिर कहा- तौलिये से पौंछ लो और कपड़े पहन लो. मैंने भाभी को कोने से खींच कर बेड पर ज़बरदस्ती लिटा दिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. भाभी हिंदी सेक्सी पिक्चरमैं झट से उठ गया और पूछा कि तुम यह क्या कर रही हो?उसने मुझसे कहा- आज मुझे तेरा लंड चूसना है.

अब ऐसी दशा में मेरा पूरा शरीर उससे टच कर रहा था और मेरे खुले अंग पर उसका छूना तो बहुत ही अच्छा लग रहा था. अब मैं अपनी दीदी को बहन की नजर से नहीं बल्कि एक जवान लड़की की नजर से देखने लगा.

मैं- सर लंड को अन्दर से कैसे खुश करते हैं?बॉस- लंड को अपने अन्दर लेकर. इसके बाद मैं फिर से उठा और कोल्ड ड्रिंक फिर से भाभी की नाभि में भर कर बर्फ के दो टुकड़े उठा लिए. मैं- आह आह मेनका, मेरा निकलने वाला है… आह आह अहहहह… मैं आह आह गया…मेनका- आह हा आह आह अहहहा आ जा मेरे राजा, मेरे अंदर ही आ जा… मैं भी गयी बस आह आह हा अह्हहह… गयी… आह आह आह… मेरे… आह आह राजा…और मैं और मेनका एक साथ आ गये.

मैंने जल्दी से अपने कपड़े पहने और करवट बदल के सोने की कोशिश करने लगा. ये पहला समय था जब मैंने किसी का लंड छुआ था और कोई मेरी चूचियां दबा रहा था. इसलिए क्योंकि उसे लगा कि मुझे रास्ता समझ में नहीं आ रहा था।मुझे भी अब कुछ कुछ समझ में आ रहा था कि रोशनी को भी मेरे साथ वक्त बिताना अच्छा लग रहा है।बातों ही बातों में उसने मुझे बताया- मेरे घर वाले मेरे लिए रिश्ता ढूंढ़ रहे हैं और शायद एक साल में शादी हो जाएगी.

कोई दस मिनट तक होंठ चूसने के बाद वो हांफने लगीं और ज़ोर से साँसें लेने लगीं, जिससे उनके चूचे ज़ोर से ऊपर नीचे होने लगे.

मैं उसके पेट पर बैठ गई अपना पूरा अपना वजन धर दिया, अब वो कुछ नहीं कर सकती थी. मेरी इस हरकत से वो एकदम से सिहर गई और आगे कुछ ही पलों में मेरा सिर अपनी चुत में घुसेड़ने लगी.

इस बार फिर पूर्व की भांति सुकुमारी भौजी ने मेरा लंड मुँह में लेते हुए, बाहर-भीतर की क्रियाशैली में मेरे मन को रिफ्रेश कर दिया. मामी ने अपना हाथ मेरे लंड पर रखा और बोलीं- ये क्या है?मैं- आपको तो सब पता है. आज अंकित और माया को उनकी सुहागरात याद आ गई थी, जब दोनों ने पूरी रात चुदाई की थी.

जब कुछ देर बाद खून बहना बंद हो गया, तब जा कर उन्होंने मुझे एक क्रीम ला कर लगाने को दी. भाभी की चूत तो पहले से चपचपाई हुई थी, तो हर बार जीभ के लय के साथ चप चप की ध्वनि आ रही थी. तत्काल मैंने बहुत ही इज़्ज़त और प्यार से प्रिया की रति-तेज़ से धधकती योनि पर अपना दायाँ हाथ रख दिया; उसकी योनि तो पहले से ही कामऱज़ से सराबोर थी और अभी भी ऱज़स्राव चालू था.

मोटी औरत के साथ बीएफ कुछ ही देर में सीमा की अनचुदी बुर ने पानी छोड़ दिया। उसने उंगली चोदन का पूरा मजा लिया था. मैंने कभी ऐसा नहीं किया था तो मैंने मना कर दिया, पर संजय मेरी चुत को इस तरह चाट रहा था कि मैं अपने आप पर कन्ट्रोल नहीं कर पाई और मैंने संजय के मोटे लंड को सहलाते हुए मुँह में ले लिया, जिसकी एक्साइटमेन्ट से संजय ने अपनी जीभ मेरी चुत में अन्दर तक डाल दी.

मसाला सेक्सी मसाला सेक्सी

फिर मैंने एकांत सड़क देख कर गाड़ी साइड पे लगाई और उसे अपनी बांहों में भर लिया. तभी रजनी की आवाज़ मुझे सुनाई दी- किधर गए?मैंने कहा- क्या हुआ भाबी?उसने कहा- ज़रा मुझे तौलिया दे देना, मैं लाना भूल गई. दोस्तो, यही वो पल था, जहां से पहली बार मेरे और मेरी बहन सोनी के रिश्ते ने कुछ अलग रास्ते को पकड़ लिया था.

होंठों से होंठ सिर्फ दो इंच दूर थे और बाकी सारा शरीर एक दूसरे से मिला हुआ. मैं उससे गले मिला और बोला- जो मेरे साथ किया, वो किसी और के साथ ना करना. सोफिया की सेक्सीअब मेरे चूतड़ और चूचे जैसे पहले बिना ब्रा के भी काफी कसे कसे रहते थे.

अन्तर्वासना के पाठको, आपको मेरी चाची की चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे बताएं, आपके मेल का इन्तजार रहेगा.

अब तुम्हारा क्या मूड है?”तो उसने मुस्कराते हुए अपने दूध खुजाए और कहा- वही. मैंने फ़िर से कह दिया- आप तो मेरी नयी फ्रेंड हो, इसलिए मैं आपकी कोई भी हेल्प कर सकता हूँ.

तभी उनके हस्बैंड का फ़ोन आया कि कब तक आ रही हो?निर्मला जी ने झूठ बोला- अभी मार्केट में हूँ. वो शाम को आ गई तो उसने वही ड्रेस लिया जो मेरे लिए पसंद किया था और पहन लिया. लेकिन हमने वहां सब प्लान किया और अगले दिन की 3 दिन बाद की होटल में बुकिंग करवा ली और हमने उस कॉल बॉय को भी बता दिया।हम फिर सोने चले गए, मुझे और संजना को नींद नहीं आ रही थी कल के बारे में सोच कर!अगले दिन हम उठे, फ्रेश हुए, हमने ब्रेककफस्ट किया और हम थोड़ी देर बाद होटल आ गए, हमने होटल में चेक इन कर लिया और हम रूम में आ गए.

मैंने उठकर क्रीम की डिब्बी ली और ढेर सारी क्रीम उनकी गांड के छेद पर लगा दी और अपने लंड पर भी लगा ली.

अभी तक मेरा आधा लंड उसकी वर्जिन चूत में घुस चुका था, पर काम अभी काफी बाकी था. साथ ही उसके होंठों पर किस कर रहा था और ऊपर ही ऊपर लण्ड घुमा रहा था।कुछ ही देर में उसका शरीर अकड़ने लगा और वो चिल्लाने लगी- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है. जैसे ही रसोई आई… वहां अंधेरा होने की वजह से आंटी आगे हो गईं और सिलिंडर रखने को कहा.

ब्लू सेक्सी दाखवादीदी की टांगों के बीच में चूत पर काले घने बाल देख कर मैंने दीदी से कहा कि आपने तो कहा था कि लड़कियों के बाल नहीं होते. मैंने उससे बोला- इसमें खराबी क्या है? आप सुन्दर हैं, जवान हैं तो क्यों नहीं.

बफ पिक्चर हिंदी सेक्सी

उसने मेरे से ये गिफ्ट माँगा कि उस रात मैं उसके साथ रुकूं और हम एक हो जाएं. अब महेश मेरी चूत को चाट कर गीला कर रहा था और मैं उसके लंड को मज़े से चूस रही थी. फिर अचानक वो एक बार मेरे होंठ के पास आई और मेरे होंठों पर किस करके उसने सीधे मेरे लंड को पकड़ कर सुपारा अपने मुँह में भर लिया.

मैं उसे तड़पाने के लिए जान बूझ के ऊपर को उठ जात और वो तड़पती रह जाती. मैंने लंड उनकी गांड पर लगाया और जोर से एक शॉट मारा, तो आधा लंड उनकी गांड में चला गया और वो चिल्लाने लगीं- प्लीज़ बाहर निकालो प्लीज़. पर तुम्हारे जिस्म का जादू आनन्द पर भी सवार है, ध्यान रखना मोना डार्लिंग.

मेरा लंड जैसे ही अन्दर गया, वैसे ही आंटी ने अपने मुँह से चीख निकाली और कहा- आह… साले फाड़ दी… तेरे 8 इंच के लंड ने मेरे अन्दर तूफान उठा दिया. उस वजह से मेरी पीठ उस नंगी जमीं से रगड़ खाकर छिल गयी मगर जिस तरीके से वो मुझे चोद रहा था इस तरह का छीलना मेरे लिए मायने नहीं रखता था. ये कहते कहते खड़े हो गए और एक गरमा गरम चुम्मा मेरे अधरों पर रख दिया.

लंच खत्म होने के बाद मैंने उसे उसके कॉलेज ड्रॉप किया और खुद अपने कॉलेज जाने के लिए निकला, तभी उसने मुझे पीछे से आवाज़ लगाई. पर नेहा ने, उसके साथ ऐसा किसने किया, ये बात छुपा ली, उसके लिए उसे बहुत मार भी पड़ी।और बाद में जल्दी शादी भी कर दी गई।उसकी शादी के बाद हम फिर मिले वो आज भी मेरा अहसान मानती है, अब वो दो बच्चों की माँ है और अपने पति के साथ अपनी ससुराल में बहुत खुश है।समाप्तकहानी कैसी लगी इस पते पर बताएं…संपादक संदीप –[emailprotected]लेखक रोनित-[emailprotected].

इस तरह से मैंने पड़ोसन छाया भाभी को चुदाई के सुखा के साथ साथ औलाद का सुख भी दे दिया था.

बहुत कुछ दूँगीमें बताया था मैं बीकानेर का हूँ और अभी जोधपुर में रह कर अपनी CA की पढ़ाई कर रहा हूँ।दोस्तो, अन्तर्वासना पर यह मेरी दूसरी कहानी है. सेक्सी क्राइम स्टोरीअब तक इस हिंदी पोर्न स्टोरीसेक्सी माया की अन्तर्वासना-1में आपने पढ़ा कि माया को अपने पहले प्रेंजेटेशन में सफलता मिल गई थी इसी के साथ उसको अमित और उस्मान के लंड मिलने की उम्मीद हो चली थी. पहिली रात्रपर कहते हैं न कि जब लंड खड़ा हो तो उस समय सिर्फ चूत ही दिखाई देती है और जब तक की वो शांत न हो जाए, कुछ समझ में नहीं आता. मैं एकदम नंगी हो गई।वो मुझसे हाइट में काफ़ी छोटा था इसलिए मैं नीचे बैठ गई। उसने मुझे जफ्फी डाल ली.

क्योंकि मेरी छटी इन्द्रिय कह रही थी कि यहाँ उसी की खुशबू चारों ओर फैली हुई थी.

भाभी मेरे लंड को देख कर बोलीं- जीत यार, तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है. उसने रूम में आकर पानी की बॉटल रखी और जाने लगी कि तभी उसकी नज़र मेरे पे पड़ी. उन्हें देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और शाम का पूरा खेल मेरी आँखों के सामने से गुजर गया.

तेरी माँ भी बोल रही थी कि आजकल तू बड़ा चुपचाप रहता है किसी से ठीक से बात नहीं करता, क्या हुआ है? मुझे बता, शायद मैं तेरी कोई मदद कर सकूं. मैं वहीं खड़ी ही थी कि मैंने देखा एक कोई आ रहा है तो मैं आगे की तरफ चलने लगी. सुबह 8 बजे मेरी नींद खुली तो देखा कि मामी नंगी ही किचन में नाश्ता बना रही थीं.

सबसे बड़ा लंड सेक्सी वीडियो

मीना जी ने एक लंबी साँस लेते हुए कहा- हम दो ही रहते हैं, अभी बच्चे के बारे में सोचा नहीं है. जैसे ही मैंने पीछे से उनकी गदराई हुई गांड को ठुमकते हुए देखा तो मेरे होश उड़ गए. संजना ने कहा- अब शुरू करें?उसने कहा- ओके मैम।उसने पूछा- पहले किसके साथ करना है?संजना ने मेरी ओर उंगली से इशारा करके कहा- इनके साथ करना है।संजना सोफे पर जाकर बैठ गयी फिर उस बॉय ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और बेड पर लेटा दिया। वो मेरे करीब आ गया और उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया।उसने मुझे 15 मिनट तक किस किया, फिर वो मेरे गले को चूमने लगा.

मैं ऊपर बढ़ती जा रही थी क्योंकि नीचे मेरी गांड में अमित का लंड घुसने वाला था.

उनके पति एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करते हैं और उनका एक बच्चा भी है.

इसे सोनी ने कुछ माइंड नहीं किया… पर मुझसे कंट्रोल करना अब मुश्किल हो गया था. फिर उसने अपना काम करना शुरू किया पहले उसने मेरे सीने पर किस किया फिर पेट पर और फिर मेरे लंड की जड़ के पास किस करने लगी. सेक्सी बहू की कहानीउफ्फ पापा जी, इस खेल का भी अपना एक अलग ही मजा है; आज पहली बार जाना! अह… मजा आ गया सच में!” बहूरानी थके थके से स्वर में बोली.

वे बोलीं- ऐसे नहीं, मैं बिस्तर पर लेट जाती हूँ, तुम मेरे ऊपर आकर चुदाई कर लो. अब कमल ने मुझे थोड़ा तिरछा करके लिटा दिया और मेरी एक टाँग को पकड़ कर अपने कंधों पर रख लिया. पर रोशनी से ये सहन नहीं हुआ, वो बोली- राहुल मैं तुम मुझसे प्यार करते हो.

अब अंकित माया के दाने को जीभ से चाट रहा था और साथ ही साथ चूस भी रहा था. अपना लंड उनकी गांड के छेद पर रख दिया और अपना एक हाथ उनके मुँह पर रखते हुए एक ज़ोर का झटका दे मारा.

भाभी मेरे लंड को सहला रही थी और मैं उसकी एक चूची को मुँह में लेकर चूस रहा था.

पर एक दिन वो मुझे नहीं दिखाई दी, मैं बहुत उदास हो कर कॉलेज चला गया. मेरे भीतर का मर्द बहूरानी की कामुक चेष्टाओं से पूर्ण उत्तेजित हो चुका था. विक्की तू अपनी रोशनी दीदी के पीछे से हाथ पकड़ और मैं इसके कपड़े उतारता हूँ.

सेक्सी पिक्चर दिखाइए मूवी मुझे उम्मीद ही नहीं थी कि इतने कम समय में जान पहचान में ही उन्होंने मुझे टाइटली हग कर लिया. थोड़ी देर में ही भाभी फिर से साथ देने लगीं और अपनी कमर उठा उठा कर चुदवाने लगीं.

यहाँ कुछ हिंदी सेक्सी कहानियां पढ़ने के बाद लगा कि मुझे भी अपने साथ घटे पूर्व के बारे में कुछ शेयर करना चाहिए. चाटो मेरी चूत को बहुत गर्म है आज ठंडी कर दो, तुम लोग बहुत अच्छे से चूत को चाटते हो. वो तीनों हमारी इतनी तारीफ कर रहे थे कि हमें ही शर्म आने लग गई।तभी रानी ने केक काटने के लिये बोला जो चिंटू और परीक्षित लेकर आये थे।केक काटकर रानी ने सबसे पहले मुझे खिलाया और उसके बाद तीनों को, फिर मैं बेशर्मी दिखाते हुए उसे हैप्पी बर्थडे” बोलते ही उसके होंठों पर किस करने लगी। हमें इस तरह किस करता देखकर उन तीनों ने भी रानी के होठों पर किस दी उसके बाद हमने खाना खाया.

देहाती सेक्सी चलने वाला

मैं शब्दों से बयान नहीं कर सकती, मैं बहुत खुश थी कि बहुत दिनों बाद आज एक मर्द मेरी चुदाई करने वाला है. रोहण मुझे रूम में ले गए तो मैंने देखा कि रूम बिल्कुल सुहागरात के हिसाब से सजा हुआ था. सुबह उठा तो रात का सीन आँखों के सामने आ गया और लंड फिर से खड़ा हो गया.

मेरी इस रसभरी देसी हिंदी पोर्न स्टोरी के पिछले भागगैर मर्द से जिस्मानी रिश्ता-1में आप सभी ने अब तक जाना था कि मेरे शौहर के साथ काम करने वाला लड़का मेरी चूत चाटने के बाद मुझे अपने आगोश में लिए हुए था. अब बॉस ने मेरे जींस की बटन को खोल दिया और पेंटी के साथ एक झटके में नीचे कर दिया.

कुछ देर सांस लेने के बाद मैंने आँख खोली तो उन पाँचों को अपनी तरफ ही देखता पाया।मैं जैसे तैसे उठ कर बैठी, सबसे पहले मैंने अपने बूट निकाल कर फेंक दिये, बगल में पड़ी बोतल उठा कर तीन चार तगड़े घूंट भरे, शराब गले से लेकर पेट टेक सब कुछ जलती हुई अंदर गयी.

जब मैंने उसका पजामा उतारा तो उसने पिंक रंग की कच्छी पहनी हुई थी जिसके अंदर जन्नत का द्वार छिपा था. वैसे एक बात तो है दोस्तो जब बात चुदने चुदाने की हो तो साला इंसान सारी शरम हया बेच कर खा जाता है. जब उसने नहीं रोका तो मैंने उसकी जीन्स में हाथ डाला और पैंटी के अन्दर हाथ डाल कर उसकी गांड दबाने लगा.

किधर मिला जाए, जब इस पर बात हुई तो उसने कहा कि मूवी देखने चलते हैं. जब उनके घर पर कोई नहीं रहता, तो वो मुझे फोन करके बुला लेतीं और मैं उनके घर जाकर उनकी चुदाई कर देता. जब सपना थोड़ी देर में गाड़ी में आई तो मुझे देखकर ख़ुशी से फिर लिपट गई और आकर मेरी बाजू की सीट पर बैठ गई.

मैंने भी दीदी को बाँहों में ले लिया और उनके रसीले होंठों को चूमने लगा.

मोटी औरत के साथ बीएफ: फिर शराब के एक नए पैग बनवा कर उसमें तीनों के लंड को बारी बारी से डुबो कर पैग पी गई. बाद में खाना खाते वक़्त शहजाद ने बच्चों से संजय को मिलवाया, कुछ ही देर में संजय उनसे घुल मिल गया.

अब मुझे लगा कि अब अंजलि को नीचे से नंगी किया जा सकता है, मैंने अपना हाथ बाहर निकाला और उसके लोअर को नीचे खिसकाने लगा. है ना सही बात?मैं- अच्छा ठीक है यदि 15 दिन का काम है तो इतने दिन कर लूँगी. मैं अपने पैर का अंगूठा कभी गोल गोल घुमाता चूत में कभी अप एंड डाउन कभी दायें बायें… उसकी चूत अब खूब रसीली हो उठी थी; मेरा अंगूठा पूरा गीला हो गया था.

यह बात मुझे पता चली तो मैं तो खुशी से पागल हो गया, पर मम्मी को पता ना चल जाए इसलिए नॉर्मल रहा और सिंपली हाँ बोल दिया.

इस कोशिश में उसने थोड़ा वक़्त लिया और अपनी गांड जानबूझ कर हिला हिला कर मटकाती रही. मैं हैरान था मगर ताज्जुब की बात ये है कि 4 साल की वासना आज इस सिवान में कैसे भड़क उठी? मरता क्या न करता? कई धक्के मारने के बाद मेरे लंड में चोटें आ गई थीं, मगर वासना अभी भी अतृप्त थी. मैंने सोचा कल इसे मेरी वजह से डांट पड़ी है तो क्यों ना आज इसे बाहर कुछ अच्छा सा खिला कर खुश कर दिया जाए.