बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म

छवि स्रोत,औरत का फोटो सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ ब्लू प्रिंट: बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म, लेकिन मैंने उनकी चिल्लपों को अनसुना करते हुए एक ज़ोर का धक्का लगा दिया.

सेक्सी जापानी सेक्सी

नेहा को इस बात का अहसास तब हुआ, जब उसका सार मुँह मेरे वीर्य से भर गया और उसको सांस लेने में दिक्कत होने लगी. नंगी सेक्सी पिक्चर दिखाइए वीडियोअमित भी समझ गया कि अब मैं उसका लंड फिर से लेने के लिए तैयार हूँ और उसने फिर से लंड को चूत के मुख पर रखकर एक धक्का मार दिया.

उधर नेहा आंटी निशा को अपने बेटे के साथ देखकर और उत्तेजित हो रही थीं. कॉलेज गर्ल सेक्सी वीडियो फिल्ममैडम ने लंड चूस कर बाहर निकालते हुए कहा- आपका लंड तो बहुत बड़ा और मोटा है … मेरे पति से दोगुना है … आप थोड़ा आराम से अन्दर कीजिएगा … मुझे आपके लंड से थोड़ा डर लग रहा है.

जैसा कि मैंने अपनी पिछली कहानियों में बताया था कि मैं ग्वालियर शहर में रहकर अपनी पढ़ाई कर रहा हूँ और मैं शहर से थोड़ी दूर एक छोटे शहर या कस्बे का रहने वाला हूँ.बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म: मैंने भी देर ना करते हुए गाड़ी स्टार्ट की और भाभी को अपने रामगंज स्थित फ्लैट पर ले गया.

जब मैंने उनकी चूत में अपनी उंगली की तो वो मेरे लंड को ज़ोर से आगे पीछे करने लगीं और ज़ोर से मोन करने लगीं.मैंने उससे मिलने की बात की, तो वो कहने लगी कि जब कभी भैया घर पर नहीं होंगे, तो देखते हैं.

फुल सेक्सी व्हिडिओ इंग्लिश - बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म

मैं वंदना के ऊपर से हटा और उसके दोनों पैर अपने कंधे पर रख कर चुत पर अपने लंड को रगड़ने लगा.मैंने दोनों हाथों से चाची की चूत को खोल के देखा, वो अन्दर से बिल्कुल गुलाबी और रस से भरी हुई थी.

फिर मैं चुपके से अपने बिस्तर से उतरा और छोटी चाची के कमरे में चला गया. बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म मैंने जैसे ही उसकी चूत को टच किया, सलोनी ने झट से मेरा हाथ पकड़ लिया.

मैं मन में सोचने लगा कि यार अनिल की क्या किस्मत चमकी है … क्या मस्त दूध जैसा गोरा माल चुदाई के लिए मिल गया.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म?

तुम क्या सोचते थे कि मैं तुम्हारा अच्छा दोस्त हूं या तुम्हारा कोई भाई हूं, जो तुम्हारी ऐसे ही मदद कर रहा हूं. करीब दस मिनट तक मुझे इसी तरह तड़पाने के बाद वो मेरी तरफ़ अपनी गांड करके मेरे ऊपर झुक गयी. इट्स ओके डियर … होता है कभी कभी … मैंने तुम्हें कुछ बोला क्या? तुम क्यों शर्मिंदा हो रही हो?” यह कहकर उसने मेरे स्तनों को जोर से भींच लिया और अपने स्तनों को मेरी पीठ पर दबा दिया.

दुकान काफी बड़ी थी जो अच्छी चलती थी। घर से खुशहाल थे, सभी सुख सुविधा मौजूद थीं।मैं दुल्हन बन कर सोनू के घर आ गई। बाकी तो ठीक था सब … उनका लंड भी ठीक था. इस आसन में वो मुझे अपने ऊपर लाया और उसके बाद मुझे अपने लंड पर बैठा कर मुझे चोदने लगा. तुम बेफिक्र चोदो … जब मेरी चूत में तेरे लंड की रगड़ पड़ेगी, तो इसकी गर्मी कम हो जाएगी.

इतने में नूपुर का कॉल आ गया, उसने बोला- कहां हो, दिख नहीं रहे हो?मैंने कहा- मैं गेट पर आ गया हूं, तुम कहां हो?इतने में मुझे वो दिख गयी और मैं पीछे से उसके पास जाकर खड़ा हो गया और धीरे से कान में बोला- हैलो नूपुर. जब मैं उसकी गांड के छेद को चाटता हूँ तो उसका छेद कभी फैल जाता है और कभी सिकुड़ जाता है. ”आज मैं कौशल्या को ऐसे चोदना चाहता था कि वो मेरी वासना की दीवानी हो जाए.

अब तू ये क्या कर रहा है? नेहा दीदी तो ठीक हैं … मगर मम्मी? मम्मी को भी नहीं छोड़ा तुमने?” प्रिया ने गुस्से से तमतमाते हुए कहा. पर उसने अपना मुँह दूसरी तरफ घुमा लिया और बोली- मुँह से नहीं करूँगी … पता नहीं कैसी महक आ रही है.

मेरा रूम, मकान की चौथी मंजिल पर था और मेरे घर के सामने वाले घर में एक आंटी रहती थीं, जो इस कहानी की नायिका हैं.

मैंने उसकी साड़ी का पल्लू हटा दिया और मम्मों को पूरी मस्ती से दबाने लगा.

इस बीच सोहन ने उसे एक ब्लू फिल्म दिखाई, जिसमें एक लड़की को दो लड़के चोदते हैं. फिर एकदम से उसने मेरे लंड पर अपना मुंह दबा दिया और वह मेरे मुंह में झड़ गई. मैं बरेली का रहने वाला हूँ और मैंने गाजियाबाद के जाने माने कालेज में दाखिला लिया.

मनीषा- कोई तो बात है अब बोलो भी?मैं- एक बात पूछूँ?मनीषा- हाँ जरूर!मैं- तुम्हारा बॉयफ्रेंड मुझसे अच्छा था क्या शक्ल सूरत या सेक्स करने में?मनीषा- नहीं … शक्ल सूरत तो उसकी ठीक ठीक थी पर सेक्स में तुम उससे काफी बेहतर हो. इस पूरे प्लान में मैं कहीं नहीं था क्योंकि इनका प्लान दीवाली के बाद जाने का था और दीवाली के वक़्त मेरा बिज़नेस जोर पर होता है तो मैं नहीं जाने वाला था. बलवंत के साथ बिताई रात जितनी खतरनाक थी ( पढ़िये मेरी कहानीवह खतरनाक शाम) उतनी ही हसीन इसके साथ बिताई वह रात थी, रात के बीतते हर प्रहर ने मुझे भी तृप्त किया और उसे भी.

वो नैना से बोली- दीदी, मैं शाम को कॉलेज से सीधा माँ के घर करनाल जाऊंगी.

फिर वो दौड़ता हुआ बाथरूम में गया और वीर्य थूक कर कुल्ला करके वापस आ गया. कुछ देर की चुदाई के बाद मैंने लंड को लगभग सुपारे तक बाहर निकाल कर अपना थूक मैंने उसकी चूत में गिरा दिया ताकि थोड़ी चिकनाई मिल जाए. पुनीत ने मेरे कूल्हों की तरफ जो लंड रस लगा था, उसे अपने हाथों से गांड की छेद पर लगाया और फिर अपने लंड का सुपाड़ा जैसे ही मेरी गांड में रखा, मैं उछल पड़ी और उसके थोड़े से ही दबाने पर आधा लंड मेरी गांड में घुस गया.

मैं सीधा बाथरूम में जा कर मुठ मार कर आया, फिर थोड़ा फ्रेश हुआ और फिर हम पुष्कर के लिए निकल गए. भाभी चुपचाप नीचे चली गई लेकिन उनको मेरे मोटे लंड की फीलिंग पूरी हो चुकी थी. तभी वो रुक गया और मेरे दोनों घुटनों को उसने दबा कर मेरे कंधों से लगा दिया और अपना लंड मेरी गांड की जड़ तक मेरे अन्दर ठोक दिया.

उसकी चूत एकदम चिकनी चमेली थी, जो एक विधवा की चुदास का मेकअप साफ़ तरीके से दिखा रहा था.

मुझे ये देखकर हैरानी हो रही थी कि मेरी सती सावित्री बीवी रंडी की तरह चुदने के लिए तड़प रही थी. कुछ देर यूं ही पड़े रहने के बाद हम दोनों लोग सेक्स करने के मूड में आ गए.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म अजय का लंड तो मोटा था ही लेकिन उसके हाथों की मांसल उंगलियां भी लंड जैसी ही फील दे रही थीं. अपनी चूत से दबा दबा कर लंड का पानी चूत में निकालने के थोड़ी देर बाद नेहा मेरी तरफ मुस्करा के देख कर बोली- क्यों राजू मज़ा आया कि नहीं.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म जब मैं चलने लगा तो मैंने अपना हाथ सोनू की तरफ बढ़ाया, सोनू ने मेरे हाथ को पकड़कर हाथ मिला लिया. मेरे ऐसे ऊपर जाना, बस ज़ीनत को बताना था कि मैं ऊपर जा रहा हूँ, तुम भी वहीं आ जाओ.

मैंने सोचा कि ये सरदार व्यवहार से तो बहुत कोमल है और आसानी से वश में आ जाता है, पर जैसा कठोर बदन है, कहीं मुझे अपने वश में न कर ले.

गांव की सेक्सी वीडियो हिंदी

यह सुनकर मुझे बहुत दुख हुआ, पर मेरे मन में ख्याल आया कि भाभी मुझसे कुछ चाहती हैं क्या … एक बार कोशिश करके देखना चाहिए, इस वक्त लोहा गर्म है, हथौड़ा मारने का ये सही वक्त है. मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाना शुरू किया … तो पहले पहल वो चिल्लाईं, लेकिन फिर कुछ देर के बाद चुप होकर लंड को जज्ब करने लगीं. जब उस दिन तूने मेरी गांड से लंड टच किया तो समझो मेरी लॉटरी ही खुल गई थी.

मगर उसने मना कर‌ दिया और बोली- रहने दे … मुझे कोई परवाह नहीं है … जिसे देखना है देखने दो!शायद प्रिया को भी पता चल गया था कि नेहा ने हमें देख लिया है, इसलिए ही उसने ये बात थोड़ा जोर से कही. मेरी बहन अब पूरी तरह गर्म हो चुकी थी, उसने लपक कर मेरा लौड़ा पकड़ लिया और उसे चाटने लगी. मैंने जब उनको देखा तो वो नीले सलवार सूट में थीं, क्या गज़ब की माल लग रही थीं.

मेरा लंड उसकी चूत में ऐसा महसूस कर रहा था, जैसे अन्दर किसी ने लंड की गर्दन दबोच ली हो और वो छूटने के लिए छटपटा रहा हो.

फिर वेटर से स्नॅक्स आदि मंगाकर रूम को लॉक करके हम दोनों ने दारू पार्टी एन्जॉय करना चालू किया. मैंने पेंटी की इलास्टिक में उंगलियां फंसा कर चड्डी को नीचे खींच दिया. पर मैं दम साधे यूं ही रुका रहा और स्वीटी को जकड़कर उसके ऊपर लेटा रहा.

आपको भाई बहन की सुहागरात की कहानी कैसी लगी, उसके लिए कमेंट्स कीजिये. आह क्या … कोमल फूली हुई और चिकनी चूत थी … मानो कोई सील पैक नई नवेली दुल्हन की चूत हो. अब मैं बोला- बहुत देर हो गयी दोअर्थी बात करते हुए … अब बता कौन सी पोजीशन पसन्द है.

वैसे ही मुझे भी मालूम है कि तेरा लंड कैसे खड़ा करना है और इसका रस कैसे निकालना है. मैंने इशारे में पूछा- क्या हुआ?तो वो मुझे आंख मारते हुए मुस्कुरा दीं.

उनकी इस चुदाई की इच्छा भरी कामुक मस्ती के जवाब में मैं भी अपना करतब दिखाने को व्याकुल था. उसको चोदने की फिराक में तो हम सारे ही दोस्त रहते थे लेकिन मैंने अपनी तरफ से प्लानिंग शुरू कर दी थी. फिर पूरे लंड को उसकी चूत पे ऊपर से नीचे तक रगड़ा और फिर अपना सुपारा उसकी चूत पे टिकाकर एक जोर का शॉट लगाया.

मैंने उनकी चुत को ऊपर से हो चूमा और उसके बाद मैं अपने हाथों से उनके मस्त मोमे दबाने लगा.

मैंने अन्तर्वासना की देसी सेक्स स्टोरी में पढ़ा था कि चूत कैसे चाटते हैं, वैसे ही मैं उसकी गुलाबी चुत चाटने लगा. उसने तुरंत अपनी ब्रा उतार दिया और मैंने उसके चूचों को जोर से मसल दिया. तब सुनील बोला- आह अब यह आ गई अपनी लाइन पर … बहुत मस्त चुदक्कड़ है यार! इसकी चूत बहुत टाइट है.

करीब दस मिनट तक मुझे इसी तरह तड़पाने के बाद वो मेरी तरफ़ अपनी गांड करके मेरे ऊपर झुक गयी. मैं उनको अपने लंड पर बैठा कर बिस्तर पर ले आया, उन्हें जम कर चोदने लगा.

मैंने बिना कंडोम के उसकी चूत मारी, लेकिन बाद में उसे गर्भनिरोधक गोली भी दे दी. थोड़ा थूक से गीला करके मैंने लिंग मुँह में भर उसे जैसे ही चूसना शुरू किया. ज़िंदगी में पहली बार इतने मोटे मम्मों को दबाने और पीने को मिल रहे थे.

https మేము tl t c7nkgqxidm src dnl

प्रियंका ने मेरे सामने शर्त ऱखी थी कि अगर मैं उसके साथ यह सब करना चाहता हूँ तो मुझे शादी के बाद ही करना होगा.

मैंने उसकी तरफ सवालिया निगाह से देखा, तो उसने बेझिझक कहा कि इसको दूध पिलाना होगा. उसका ध्यान भी शायद चाय पर कम और मेरी जांघों के मध्य में हो रहे लंड के उभार पर ज़्यादा था, जिसकी वजह से उसने मुझे चाय देते वक्त मेरे ऊपर चाय गिरा दी. रवि उठ कर सीधे हो गए और मुझसे बोले- थोड़ा कमर पीछे घोड़ी स्टाइल में ऐसी कर लो.

अब नुपूर भी अपनी कमर उठा कर मेरा साथ दे रही थी और मैं भी उसकी टांगें उठा कर उसे जोर से चोद रहा था. शायद उसके शौहर ने आज तक उसकी चूत नहीं चाटी थी, इसीलिए वो इस मदहोशी से पागल सी हो गयी. गोरी लड़कियों के सेक्सी वीडियोएक घण्टे बाद उसने चोदना बंद करके अपने लंड को नेहा के मुँह में डाल दिया.

हाइट में छोटी होने के कारण सोनू को गोदी में लेकर चोदते हुए मुझे बड़ा मजा आता था लेकिन वह मेरा लंड बर्दाश्त नहीं कर पाती थी इसलिए भी मुझे वापस उसको बेड पर लेटाना पड़ जाता था और वह भी उसी पोजीशन में चुदकर ज्यादा खुश होती थी. कुन्डी लगाकर जैसे ही मुड़ा, छोटी चाची मुझे अपनी बांहों भर कर बोलीं- अब तुमको मुझे चोदना होगा.

मैं- आई लव यू … मैं ट्रेन में हूँ और बस 2 से 3 घंटे में आने वाला हूँ. सामान और स्टूल गिरने की आवाज़ सुनकर नीचे से लता भाभी ऊपर आ गई और उन्होंने मुझे हेमा भाभी के नंगे पाँव में दवाई लगाते देख लिया था. पहले तो वह मना करने लगी फिर मैंने उसको प्यार से डिल्डो लेने के लिए मना ही लिया.

मैंने भी हंस कर उसे चूमते हुए उसकी रेशम सी चिकनी नंगी जांघों पर हाथ चलाने लगा. मैं, फिर रजनी और फिर राहुल।राहुल- रजनी तुम फ्रेशर पार्टी में आ रही हो न?रजनी- हां, क्यों नहीं, हम दोनों आएंगे।अमित कोल्ड ड्रिंक और साथ में चिप्स के चार पैकेट लेकर आया और आकर मेरे साइड में बैठ गया।नेहा, ये लो …”और फिर रजनी और राहुल को भी दिया। हम वहाँ से अब निकले तो राहुल बोला कि तुम दोनों को हम छोड़ देंगे वरना ऑटो पता नहीं कब मिलेगा।वो दोनों दो बाइक से आए थे. कमाल की बात ये थी कि पहली बार इस पूरी गांड चुदाई में मेरा लंड न जाने क्यों नहीं खड़ा हुआ.

अब तक की इस रसभरी चुदाई की कहानी में आपने पढ़ा था कि मैं अपने बड़े चाचा और चाची की चुदाई देख कर मुठ मार चुका था.

इस बीच मैंने थोड़ी बेशर्मी से उससे पूछा- मैडम, लगता है आपके पतिदेव आपकी ठीक से सेवा नहीं करते हैं, लगता है काफी समय से आपकी ठुकाई नहीं हुई है. बस फ़िर क्या था, मैंने और 10-15 धक्के मारे और उसके अन्दर ही पानी छोड़ दिया.

मैंने जाने का कहा तो उसने मुझे रोक लिया और बोली- आज इधर मेरे पास ही रह जा. रवि मामा का लंड झटके मार रहा था और मैं उसके काम रस को पीने को उतावला था. होंठ पर काटने से मैं दर्द से कराह उठा और जल्दी से अपने होंठों को नेहा के मुँह से छुड़वाकर उसके चेहरे की तरफ देखने लगा.

मुझे कोई नजर तो नहीं आया, मगर बाहर सूरज की रोशनी के कारण उसके कपड़ों के लाल रंग की लालिमा फैली हुई दिखाई थी. तो मैं थोड़ा पानी झाड़ कर बाहर निकला और तौलिया खोजने लगा, लेकिन किस्मत मेरी कि उस कमरे में कोई तौलिया ही नहीं था. एक दिन सोनू की मम्मी मेरे कमरे में आई और मुझसे पूछने लगी- सोनू की पढ़ाई कैसी चल रही है?मैंने कहा- बहुत अच्छी चल रही है.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म इनके बहुत कहने पर … और वैसे एक बात बताऊं तुम्हें वन्द्या सच में तुम में बहुत आकर्षण है, मैंने बहुत सारी लड़कियों और औरतों को अपने पास बुलाया, कुछ तो पैसों की जरूरत के कारण आई और कुछ मुझसे करवाने आईं. नीना ने लापरवाही भरे अंदाज में प्रशांत को अपने किचन से एक मग कड़क कॉफी बनाकर लाने को हुक्म दिया, जिसकी अगले पांच मिनट के भीतर तामील हुई.

सेक्सी फिल्म चाहिए देखने के लिए

मैंने बताया था कि अंकल मेरे होते हुए ही घर पर आते हैं, तो शायद उनको मैं आते हुए दिख गया था. वो रोते हुए कहने लगी- इसको बाहर निकालो, बहुत दर्द हो रहा है … जान मान जाओ!फिर ज़बरदस्ती मैंने एक और धक्का मार दिया तो वो दर्द से चिल्ला उठी- भाई साब, फाड़ दी आपने मेरी गांड!और ज़ोर ज़ोर से रोने लगी. ये सब मुझे शुरू में नहीं पता था कि लंड चूत की चुसाई में भी मजा आता है.

उस रात मैंने उसको दो बार पेला था जिससे उसको चलने में दिक्कत हो रही थी. मैं अपने दोस्त से बोला- कोई बात नहीं भाई देखते हैं, एक बार मुलाकात हो जाएगी तो वो समझ जाएगा कि अब केस मेरे पास आ गया है. सेक्सी वीडियो देहाती छोडा छोड़ीयह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है, यह एक सच्ची घटना है, जो मेरी मॉम के साथ की है.

पहले तो वंदना को मुझसे बात करने में शर्म आ रही थी लेकिन थोड़ी देर बाद वह भी मुझसे ऐसी बातें करने लगी.

मैं भी जोश में थी, मैंने उसका सारा लंड मुंह में ले लिया और गपागप चूसने लगी. मैंने भाभी की चूत के पास लंड को रगड़ना शुरू किया और भाभी मस्त होने लगी.

पल्लवी की चुदाई के बाद भूख लगने लगी थी इसलिये मैंने खाने का आर्डर दे दिया।इधर पल्लवी पेट के बल लेटी हुयी थी, मैंने कैपरी पहनी और टी-शर्ट डाल ली और पलंग के पास आ गया। मेरी नजर पल्लवी के गोल-गोल उभारदार कूल्हों पर पड़ी और मैंने कस कर पल्लवी के कूल्हे को पकड़कर फैला दिया और लार को गांड की छेद में गिराने लगा. उसके ख्वाब में मेरी मटकती हुयी मोटे चूतड़ों वाली गांड का गुलाबी छेद भी मचल रहा होगा. मुझे भी नहीं पता, वैसे भी जगत अंकल का लौड़ा इतना बड़ा नहीं था, फिर भी मेरी चूत बहुत टाइट थी.

उसने बोला- बस देखोगे कि कुछ करोगे भी?मैंने बोला- अब आप ही सब कर दो.

हालांकि मैं दो भाभियों की चूत कई बार मार चुका था मगर कुंवारी चूत को चोदने का मजा ही कुछ अलग होता है. यह सुनकर अब गैब्रियल मेरी गांड में अपना लौड़ा बहुत कड़क करके और पूरी ताकत से अन्दर बाहर करने लगा और वो अपने मुँह से आवाज तेजी से निकालने लगा. सबने मेरे बारे में पूछा कि ये हैंडसम जवान लौंडा कौन है? क्या बॉडी है साले की …और वे सब इसी तरह की बातें करते हुए मेरी शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर मेरे सीने पर हाथ फिराने लगीं.

सेक्सी ब्लू पिक्चर नंगी चुदाई वालीमेरी दवाई अब और असर करने लगी और मेरे अन्दर क्या मस्त चुदास की आग भड़क गई थी. मेरी बहन के मुँह से एक जोर की चीख निकल गई … तो मैंने मुँह पर उंगली रख के इशारा किया कि चुप रह … कोई जाग जाएगा.

सेक्सी अंग्रेजी में

एकता ने अपने मुँह में से लंड निकाल के हवा में झूलती प्रमिला की तरफ आगे बढ़ा दिया. एक महीने के बाद मेरे सास, ससुर को कुछ रिश्तेदारों के साथ तीर्थ यात्रा पर जाना था. हम अपने कमरे में नंगी होकर लेटी थी और सेक्स की ही बातें कर रही थी कि मॉम बहुत गर्म हैं यार, उनकी चूत शांत नहीं हो पा रही है.

”खाना परोसने के दौरान मेरा सारा ध्यान कौशल्या की बड़े बड़े रसीले स्तनों पर ही था. फिर मैंने उसकी टांगें मोड़ कर ऊपर कर दीं और अपना एक पैर के घुटने को मोड़ कर बेड पर रखा. आंटी की मोटी माँसल जांघें देख कर लगता था कि इनको दांतों से नोंच नोंच के खा जाऊं, पर क्या करूँ अभी मामला सैट नहीं हुआ था.

मैंने अपने लौड़े को हाथ में लेकर सहलाना शुरू कर दिया और ज्योति के पास चिपक कर रगड़ने लगा. उसने मुझे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी और मैंने स्वीकार भी कर डाली और मेसेंजर पर उसने मुझे वेव किया हाथ हिला कर. इसी दरम्यान मैंने भाभी का हाथ धीरे से पकड़ कर अपने पास में लाकर उनके गाल पर चुम्मी कर ली.

वो फ़िर से एक बार वो झड़ गयी, यानि वास्तव में उसे बहुत सेक्स की भूख लगी थी. शशश … आआह्ह्ह … महेश्श्शश …” प्रिया ने जोरों से सुबकते हुए कहा और अपनी कमर को ऊपर हवा में उठा लिया.

कहानी का पिछला भाग:अपने चोदू को माँ का पति बनवाया-3अमीषा ने माँ से कहा- माँ, तुम को यह तो सोचना चाहिए था कि घर पर एक जवान लड़की है.

मैंने लता भाभी की साड़ी ऊपर उठा कर उसके पटों (जांघों) पर हाथ फिराया. सेक्सी फिल्म सेक्सी गानेतो मम्मी ने बोला कि सोनू तुम्हारे दादाजी की तरह हैं … न बने तो उनकी गोदी में बैठ जाना. गांव वीडियो सेक्सीइस पर मेरी मम्मी ने मुझसे पूछा कि कुमार क्या तू जाएगा चाचा के यहां रहने. मैंने उसके दोनों हाथ जो मेरे घुटनों पर थे, उसको पकड़ कर अपनी जांघों के बीच लौड़े को ना छुए, ऐसे रख दिये.

हम दोनों उसके बाद जब भी मौका मिलता है, हम दोनों लोग सेक्स कर लेते हैं.

जब वह मेरे होंठों को चूसने लगा तो मन कर रहा था कि बस यहीं चुदवा लूं अपनी निगोड़ी चूत को।इसके बाद अगले भाग में बताऊंगी कि कैसे मैंने राहुल से अपनी चूत का उद्घाटन करवाया। आप सभी लोग अपने विचार मुझे यहाँ बताएं।[emailprotected]कहानी का अगला भाग:देवर जी को ही पतिदेव मान लिया-2. मैंने भी अपना मुँह खोलकर उसका स्वागत किया और उसे होंठों से दबाकर जोरों से चूसने लगा‌ जिससे सुलेखा भाभी के मुँह का मीठा‌ मीठा व चिकना‌ सा स्वाद अब‌ मेरे मुँह में घुल गया. मैं आपको बता देती हूँ कि हम दोनों पति पत्नी दिन में कभी भी किसी भी समय मूड बन जाने पर शौक से चुदाई कर लेते हैं, इसलिए मैं अक्सर चड्डी पहनती ही नहीं हूँ.

इन दो घंटों में हेमा भाभी मुझे कई बार अपने छोटे मोटे काम के बहाने अपने घर नीचे बुला लेती थी. लेकिन कुछ ही दिनों में मैंने महसूस किया कि उसका व्यवहार बदलता जा रहा था. अब अनु भी गांड उछाल कर करण का साथ देने लगी ‘आऊ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह!पूरा कमरा इस चुदाई से गूंज उठा.

आल इंडिया सत्ता रिजल्ट

मगर बाद में उसने अपनी चादर मेरे पैर पर भी डाल दी और अपना हाथ मेरी पैंट पर रख दिया और धीरे-धीरे अपना हाथ चलाने लगी. उसने मना किया और बोली- वो सब फिर कभी कर लेना … आज सिर्फ अपना लंड मेरी चूत में पेल दो, मुझे बड़ी प्यास लगी है. मुझे अभी वह बुड्ढा ड्राइवर चोद ही रहा था कि अनवर आकर सामने से मुझसे लिपट गया और सीधे मेरी चूत में अपनी हथेली रखकर उल्टा लेट गया.

तभी दूसरा करार धक्का मारकर मेरे पति ने अपना पूरा का पूरा लंड मेरी चुत में घुसेड़ दिया.

तब वह मूछों वाले दादा साहेब अंकल बोले- पहले तो तुम मुझे अंकल कहना छोड़ दो, अभी हम लोगों को साथ रहना है.

इस तरह की बातों में जब हम लोग आपस में खुल गए, तो धीरे धीरे हम लोग सेक्स चैट करने लगे. मैंने इतने में उसका पेटीकोट भी अलग कर दिया और उसको ब्रा-पेंटी में कर दिया. ऐसी सेक्सी पिक्चर’‘पर ये तो… ये तो…’‘समझिए आंटी ये मुझे पूरा मज़ा देती है, सब तरह से.

तो मैं वहां पर काम कर रहा था तभी वहां लैब का काम संभालने वाली मैम आईं और मेरे से इधर उधर की बात करने लगीं. धीरे-धीरे मैंने भाभी को बेड पर लेटा लिया और फिर उसकी साड़ी को खोलना शुरू कर दिया. क्या होंठ थे, इतने दिनों बाद किसी स्त्री के बांहों में होना मुझे तरन्नुम दे रहा था.

मैंने बोला- दो लास्ट प्रश्न … क्या आपका मन नहीं करता सेक्स का?तो उत्तर आया- हां करता है!और लास्ट सवाल था- आपको कैसा लंड पसंद है. उसके बाद मैंने अपने दोस्त को कॉल किया तो उसने मुझे अपने घर पर बुला लिया.

पर मैं कहां रुकने वाला था, मैंने उसे करीब 10 से 15 मिनट तक यूं ही बांहों में जकड़े रखा.

मुझे भी चुचियों के साथ खेलना बहुत अच्छा लगता है और जब औरत साथ दे और कहे कि और जोर से मसलो … तो फ़िर क्या बात. उसका दायां हाथ मेरे कमर से होता हुआ हल्के से मेरे लिंग को छू रहा था जो मुझे और उत्तेजित कर रहा था. हमने फटाफट खाना खाया, बल्कि भाभी ने पहला कौर मेरे मुंह में अपने हाथ से दिया और मैंने भी वैसे ही किया.

नीलू सेक्सी पिक्चर चूंकि कार में गजल सांग बज रहा था और साउंड सिस्टम की आवाज कुछ तेज थी. मैंने अपनी गर्लफ्रेंड (अब बीवी) को सॉरी कहा और वह 2-3 दिन में मान भी गयी.

मैंने कहा- हां होती है … मगर में किसी से कोई ऐसे संबंध नहीं बनाया करती. रात ऐसे ही मज़े में गुजर गयी, सुबह वो अपने घर चला गया और मैं भी रेडी होकर ऑफिस के लिए निकल गया. लेकिन जिस वक्त उसने मुझसे अपने दिल की बात कही थी, उस वक्त मैंने उससे कुछ नहीं कहा था.

कोटा कॉल गर्ल

अब काम खत्म हुआ, तेज़ गर्मी के चलते मामा ने पंखे का बटन दबा दिया और पास ही रखी खटिया के अस्त व्यस्त से बिस्तर पर जाकर धड़ाम से लेट गए और अपने बम्बू से तने लंड को पकड़कर हिलाते हुए बोले- सुकून नहीं था ना लंड लिए बिना तुझे, ले. बस मैं शुरू हो गया और जोर जोर से एक चुची को चूसता तो दूसरी को मसलता. तो जगत अंकल बोले- सेक्सी वन्द्या अब थोड़ा ऊपर नीचे बैठो … धीरे धीरे अन्दर बाहर होगा, तो दो-तीन मिनट में तुम्हें जन्नत लगने लगेगी.

अब सलवार का नाड़ा टूटते ही वो बेजान सी होकर तुरन्त नीचे गिर गयी और उसके घुटनों में जाकर फंस गयी, जिसे प्रिया ने अब पूरा ही उतारकर नीचे फर्श पर ऐसे फेंक दिया, जैसे कि वो उसकी सबसे बड़ी दुश्मन हो. मैं तो उसके बारे में तुम्हें भी कुछ नहीं बताऊंगा, लेकिन पहले तुम मेरी उसके साथ कुछ बात तो करवा दो.

मेरी पत्नी और नीरू पायल की चूत में मेरे लंड को अंदर बाहर जाते हुए देख रही थी और मैं पायल की छोटी सी चूत की ताबड़तोड़ चुदाई कर रहा था.

इस लिए तुम मेरे घर मुझसे जब पहली बार मिलने आयी, तो मैंने कहा भी था कि नीलू मेरे विचार तुम्हारे बारे में बदल रहे हैं, तुम मुझसे मिलना बंद कर दो, नहीं तो मेरे अन्दर का जानवर, जो कई दिनों से भूखा है, जाग जाएगा, फिर जो तूफ़ान मेरे और तुम्हारे जिन्दगी में आएगा, वो ना तुमसे संभलेगा … न मुझसे. मनीषा- कोई तो बात है अब बोलो भी?मैं- एक बात पूछूँ?मनीषा- हाँ जरूर!मैं- तुम्हारा बॉयफ्रेंड मुझसे अच्छा था क्या शक्ल सूरत या सेक्स करने में?मनीषा- नहीं … शक्ल सूरत तो उसकी ठीक ठीक थी पर सेक्स में तुम उससे काफी बेहतर हो. फिर मैंने धीरे से अपना एक हाथ उसके पेट पर रखा और उसने ज़रा सी भी हरकत नहीं की.

चूत के रस की मादक खुशबू मुझे कुछ ज्यादा अन्दर तक चाटने पर आमादा और दीवाना कर रही थी. उसने डरती सी आवाज में मुझसे पूछा- आप कब आए?मैंने कहा- जब तुम बाथरूम में थीं, पर तुम बिना कपड़ों के कैसे? बाहर गांड मरवा के आ रही हो क्या?उसने कहा- नहीं वो बस कोई घर पर नहीं था. मैंने नुपूर को बेड पर लिटा दिया और उसकी चुत पर मुँह लगा कर उसका रस पीने लगा.

इसे प्यार से चोद कर हमारी तरह ही कली से फूल बनाओ! लेकिन इसको दर्द ना होने पाए!मैंने कहा- ठीक है, जैसी आपकी आज्ञा!मैंने समय की मांग को देखते हुए पायल की बुर पर अपनी जीभ लगा कर उसको चाटना शुरू कर दिया.

बीएफ फिल्म चोदा चोदी फिल्म: वो भी खुले मिजाज की महिला मानो जानबूझ कर अपने जिस्म का मुजाहिरा कर रही थी. लेकिन मेरी मंशा थी कि आज के दिन मैं तुमको पूर्ण रूप से सेक्स से अवगत करा दूँ.

अगले ही पल मैंने भाभी के ब्लाउज को खोल दिया और उसकी पीठ को पीछे से चाटने लगा. उसने बड़े प्यार से मुझे उठाया, मेरा लंड कपड़े से साफ किया … फिर मुझे जोरदार किस किया. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:लंड की प्यासी चूत गांड का मेला-2.

मैंने कहा- साली, एक बार नीचे हाथ कर के देख ले, कहीं तेरी बात झूठी न हो जाए.

इसीलिए मैंने भी सोचा कि मैं भी अपनी जिन्दगी की एक पहली और बिल्कुल सच्ची चुदाई की कहानी आपसे शेयर करूँ. अगर आपको मेरी कहानी पसंद आये या कोई अन्य सुझाव देना चाहे, तो मुझे मेल कर सकते हैं. जगत अंकल बोले- मम्मी कुछ बोलेगी तो मैं बोल दूंगा कि मेरे पैर दर्द करने लगे हैं … इसलिए बदल लिया, तू चिंता मत कर मैं सब सम्हाल लूंगा.