जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,5 साल लड़की की सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी हिंदी मराठी: जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ, ’मौसी बाथरूम जाने लगीं और गिरते-गिरते बचीं।वीर्य उनकी चूत से निकल कर जांघों पर बह रहा था.

desi सेक्सी poto

तो मैंने देखा कि वो अपने अंगूठे को मेरे पैर पर घुमा रही थी। वो मेरे काफ़ी करीब बैठी थी. देसी सेक्सी मंसउतना ही उसके चूचे भी उछल रहे थे।मैं भी उसकी कमर और गाण्ड को पकड़ कर ऊपर-नीचे होने में मदद कर रहा था।आअह आह्ह.

फिर कुछ देर बाद गोपाल और श्याम का जिस्म अकड़ने लगा और उधर रानी और सरिता भी तेजी से अपनी गांड को उठा कर लंड को अपने अन्दर ले रही थीं।फिर गोपाल पहले ढीला पड़ गया और रानी के ऊपर लेट गया. यूपी सेक्सी पिक्चरतो कैसे किसी को गलत तरीके से कुछ कह या कर सकता था। आप समझ ही सकते हैं।वहाँ पर फैशन डिजाइनिंग में एक न्यू फैकल्टी आई थी.

तब वो बिस्तर के किनारे बैठ गया और सामने वाला उसकी जगह आ गया। उसने भी मुझे कुतिया ही बनाए रखा और मुझे चोदने लगा, मुझे उससे से चुदवाने में भी उतना ही मजा आ रहा था।तीसरे गोरे ने और पास आकर मेरे हाथ में अपना लंड पकड़ा दिया.जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ: गर्मी आ गई थीं। हमारे यहाँ इतनी तेज गर्मी होती है कि दोपहर में कोई घर से बाहर नहीं निकलता।गर्मी में दिनेश अपने घर में सिर्फ कच्छा पहन कर घूमता था या कभी-कभी दुपट्टे को लुंगी जैसा लपेट लेता था।अब मैंने सोच लिया कि कैसे भी करके इसका लण्ड ज़रूर देखना है।हमारे किराएदारों वाले हिस्से में तीन कमरे थे.

उनके मुँह से इस तरह की कामुक आवाजें निकल रही थीं।मैं भी ये नजारा देख कर अपना पैन्ट खोलकर अपने लंड को हाथ में लेकर आगे-पीछे करने लगा।मुझे ऐसा करने में बहुत मजा आ रहा था.लेकिन मज़ा दर्द पर ग़ालिब था। अब फरहान मेरे लण्ड को भी चूस रहा था और मेरी गाण्ड में अपनी उंगली को भी अन्दर-बाहर कर रहा था।जैसे ही मैं मंज़िल के क़रीब हुआ.

सेक्सी भाभी व्हिडीओ - जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ

और बिना तेल के ही लेना चाहिए। बस लौंडिया की चूत के पानी में चुदाई करो.तो अब भी उसने कुछ नहीं कहा।मैं अब पक्का हो गया कि यह भी मुझसे चुदना चाहती है।मैंने उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया और एक हाथ से उसकी चूचियों को दबाने लगा। उसकी चूचियाँ बहुत सख्त थीं, ऐसा लग रहा था जैसे मैं कोई बॉल दबा रहा होऊँ।मैंने अपना हाथ उसकी सलवार में घुसेड़ दिया और पैन्टी के अन्दर से उसकी चूत को सहलाने लगा। उसकी चूत बिल्कुल चिकनी थी.

और कुंवारा हूँ। लम्बाई 5 फुट 8 इंच और बदन औसत है। मैं सीधा-सादा सा इंसान हूँ, एक प्राइवेट कम्पनी मैं जॉब करता हूँ और जयपुर में रहता हूँ।मेरा लण्ड अच्छा खासा लम्बा और मोटा है. जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ तो उसका मन उसको चोदने को अवश्य करेगा।उसका रंग बहुत गोरा है। उसकी उम्र 19 साल है और चूचियों का साइज़ 36 है। उसकी चूचियाँ बहुत बड़ी हैं.

तो मेरा मन मुठ मारने का हो जाता है।यह कहानी लिखते-लिखते भी मैंने दो बार मुठ्ठ मारी है।आप सबका भी धन्यवाद.

जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ?

उसका फिगर 34-28-34 का रहा होगा। मैं उसको बहुत पसंद करता था और शायद वो भी मुझे पसंद करती थी।यह सिलसिला करीब दो महीने चला. लेकिन तू मुझसे पहले किसी से चुदवा चुकी है अपनी नाज़ुक और नर्म चूत को. 6 बज गए हैं और मेरी फैमिली वापस आने ही वाली होगी। हम सबने अपने कपड़े पहने और जाने को तैयार हो गए।मैं कामरान को गुडबाइ किस करना चाहता था.

बहुत दर्द हो रहा है।मैं थोड़ी देर यूँ ही रुक गया और उसे किस करने लगा. वो जानते थे कि उनकी चुदाई से मेरा मन नहीं भरा है।मैं आगे बोली- पापा को अभी फोन करने जा रही हूँ कि भैया ने यहाँ मुझे अकेले पाकर मुझे चोद दिया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब भैया ने अपने हाथ जोड़ लिए. वो मेरी पूरी जिंदगी को पूरी तरह बदल देने वाला था। मेरी नज़रों के सामने जवानी से उफनती मेरी 42 वर्षीए मौसी की मादक गाण्ड थी.

फिर मैंने अब प्रीत को पेट के बल लेटा दिया और उसकी चूत में लंड डाल कर फिर से उसकी चुदाई करना चालू कर दी।प्रीत और मैं दोनों ही पसीने से पूरे नहा चुके थे।इसी तरह प्रीत को चोदते हुए कोई 5 से 7 मिनट हुए ही होंगे. तो मैंने तुरंत उसके होंठों को अपने मुँह में ले लिया और उनको चूसने लगा. लड़ाई करनी है क्या? आराम से क्यों नहीं बैठ जाता?लेकिन मैं वो करता रहा.

तो एक लड़के सुदर्शन ने आकर मेरी चूचियों को मसलना चालू कर दिया।मेरे शरीर को कोई मर्द पहली बार टच कर रहा था. मन हो रहा है कि बस शुरू हो जाऊं और खास करके तुम दोनों ने कपड़े भी इतने हॉट पहने हैं कि मैं तो क्या.

दस मिनट बाद ही आपी की बेचैनी दोबारा शुरू हो चुकी थी, शायद उनका पानी फिर बहने लगा था।जब आपी की बर्दाश्त से बाहर होने लगा तो आपी ने मेरी बात को काटते हुए कहा- सगीर प्लीज़ तुम अपनी कुर्सी को घुमा लो.

तो कभी उसकी पूरी जीभ को अपने मुँह में पूरा अन्दर तक लेकर उसकी जीभ को बड़े सेक्सी तरीके से चूसता।काफी देर तक मैं उससे ऐसे ही चुम्बन करता रहा।फिर मैंने काजल से कहा- तू अपना थूक मेरे मुँह में डाल न.

जो आज भी मुझे उत्तेजित करती है।बात 5 साल पहले की है। मेरे पति के फूफ़ा जी की बीवी यानि बुआ जी की तबियत बहुत खराब थी और उनके घर कोई नहीं था. तो यहाँ मस्ती चल रही है और वहाँ वो तीनों बाहर आ गए हैं।अर्जुन- क्या बात करते हो. मैं तो बस उन्हें देखता ही रह गया।मामी बोलीं- ज़रा मेरी पीठ पर साबुन लगा दे.

तब उन्होंने मेरे गाल पर किस किया और ‘थैंक यू’ कहा और घर चली गईं।मेरे लंड ने भी अन्दर ही अन्दर उनको सलामी कर दी। उस रात को मैंने एक प्लान बनाया और दूसरे दिन प्लान के मुताबिक मैंने उनके बाथरूम की एक आधी ईंट का टुकड़ा निकाल दिया। अब जैसे ही वो नहाने अन्दर गईं. तो मैंने देखा कि उसको करेंट सा लगा है। मैं समझ गया कि इसको कुछ हुआ था।मैं हर रोज़ माउस पकड़वाने के बहाने उसके हाथ को टच करने लगा और दबाने लगा और वो भी कुछ नहीं बोलती थी. मेरा मोटा लवड़ा अन्दर नहीं घुस रहा था।मैंने किसी तरह सुपारा उनकी चूत में फंसा कर जोर लगाया.

जो कि गाँव के चौराहे की तरफ़ जाता था। मेरा जब भी घर से चौराहे या चौराहे से घर आना-जाना होता था। तो कभी-कभी उसकी झलक देखने को मिल जाती थी.

तो आपी बेतहाशा हँस रही थीं और उनके चेहरे पर जीत की खुशी थी।उन्होंने हँसते-हँसते ही कहा- कमीने तुमने बदला ले लिया है. वो कुछ नहीं बोलीं और मैं गुस्से से घर आ गया।शाम हो गई तो मैं घर से बाहर खड़ा था. उसके आगे मैं अपना सारा दर्द भूल गया।हुआ यूँ कि एक दिन सुबह-सुबह मेरे दोस्त का फोन आया कि आज किसी काम से बाहर चलना है.

पहली बार करके थोड़े टाइम बाद मेरा निकलने वाला था। मैंने उसको अपने नीचे लिया और जोर-जोर से चोदने लगा और थोड़ी देर में हम दोनों एक साथ ही झड़ गए।मैं उसकी बगल में ही लेट गया और फिर उस रात मैंने उसके साथ एक बार और सेक्स किया था।दोस्तो, मैंने पहली बार अपनी ज़िंदगी में सेक्स किया था. वो एकदम रांड बनी हुई थीं। लगता था जिन्दगी भर की चुदाई वो तीनों आज ही कर डालेंगे।तभी तीनों का जोश ठण्डा पड़ता दिखाई देने लगा. तो मैंने अब एक उंगली प्रीत की चूत में डाली और अन्दर-बाहर करने लगा। प्रीत कुछ ज्यादा ही मस्त हो रही थी ‘ऊऊऊहह ऊऊऊऊ.

उसकी साँसें अब तेज़-तेज़ चल रही थीं।इधर मेरा लण्ड उसकी टांगों के बीच से उसकी चूत को चुम्बन करने की कोशिश कर रहा था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !फिर उसने अपने होंठ हटा दिए और बोली- बस इससे ज्यादा कुछ नहीं करना।मैंने कहा- ठीक है.

चुपचाप खुद लण्ड निकालकर मेरा मूत पी और एक बूँद भी नीचे गिरा तो सोच लेना. और बस वो मस्त होने लगी।मैंने उसके चूचों को हल्का सा दबाया तो उसने आँखें बन्द कर लीं और मेरा हाथ पकड़ कर अपने सीने को दबवाने लगी। मेरे होंठ उसके होंठों से अलग नहीं हो रहे थे और मैं उसके चूचों को भी दबा रहा था।मैंने थोड़ा जोर से दबाना शुरू किया.

जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ ’ की आवाज में बदल चुकी थी और वो अब मेरा साथ बड़े मजे से दे रही थी। उसके हाथ मेरे पूरे शरीर पर घूम रहे थे।चुदाई करते समय कुछ देर के लिए मैं रुका, मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके गालों को होंठों को चूमने लगा।वो लण्ड की कमी से तड़पने लगी।मैं चुदाई बीच में छोड़ कर उसके पूरे शरीर को चूमने लगा. और हुक्स खोलते ही मैंने हाथ आगे की तरफ लाकर उसके मम्मों को ऊपर से छूने और मसलने लगा।वो गनगना उठी.

जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ पर मैंने देर न करते हुए हल्का सा लंड बाहर निकाला और पूरी दम से धक्का दिया। इस बार उसकी आवाज ही नहीं निकल पा रही थी. फिर मेरा बदन चूमता हुआ नीचे की ओर जाने लगा।मैं भी उसका साथ दे रही थी.

कोई आम सा लड़का कहाँ किसी फिल्म में हीरो होता है।कुछ बातों के बाद हम फिर मूवी पर ध्यान करने और मुठ मारने लगे।अब हम दोनों को ही मुठ मारने में ज्यादा मज़ा आ रहा था.

हिंदी सेक्सी फीचर फिल्म

यही सोचता की मियां-बीवी जा रहे हैं।क्या मालूम उस दिन मौसी को ले कर मेरे दिमाग में अलग-अलग तरह फीलिंग्स आ रही थीं।जब भी मैं बाइक स्लो करता तो मौसी का स्पर्श पाते ही. मैं बहुत दिनों से तड़फ रहा हूँ।मैंने उनकी चूचियों को दबाते हुए चूमा, उनकी चूचियाँ अब तक हार्ड हो चुकी थीं।वो मेरी तरफ़ घूम गईं और बोलीं- अभी जाओ और कपड़े बदल कर आओ. अम्मी झड़ चुकी थीं।असलम अंकल ने भी तूफानी गति से धक्के मारते हुए उनकी चूत में अपने लण्ड का लावा छोड़ दिया।उन दोनों की चुदाई देखकर मेरी भी चूत गीली हो गई थी.

और दबी आवाज़ में हँसने लगीं।‘मेरा बस चले तो मैं तो आपको सात पर्दों में छुपा कर रखूँ जहाँ मेरे अलावा आपको कोई देख भी ना सके!’मैं ये कह कर आपी के कमरे की तरफ चल दिया।आपी बोलीं- नहीं सगीर यहाँ नहीं. मामा मेरे मुँह के सामने आ गए।अब मामा ने मुझे लंबी साँस लेकर रोकने को कहा।मैंने वैसा ही किया. वो उसकी चूत को हल्का सा दबा कर अपनी उंगली उसकी फाँक पर फिराने लगा।पायल की नजरें अर्जुन से मिलीं तो वो नशे में थी.

हम दोनों भाई कंप्यूटर पर ट्रिपल एक्स मूवी देख रहे थे कि अचानक दरवाजा खुला और आपी अन्दर आईं।और हमारे पास पड़े हुए सोफे पर जा बैठीं।आपी बोलीं- फरहान दरवाज़ा बंद कर दो।अब आगे.

जिससे मेरे और उनमें खूब जमती थी। वो हमेशा मुझसे मज़ाक करती थीं। कभी-कभी सेक्सी मज़ाक भी कर लेतीं और गर्लफ्रेंड्स को लेकर पूछतीं. तो मैंने अपना सर नीचे झुका लिया।इस पर अंकल ने मेरा चेहरा अपने हाथों से ऊपर उठाते हुए कहा- इसमें शरमाने वाली क्या बात है। तुम बालिग हो और मैं समझता हूँ कि तुम्हें औरत और मर्द के रिश्तों के बारे में सब कुछ पता होगा।चूँकि मैं ज़्यादा संकोची या दकियानूसी ख़यालों वाली लड़की नहीं थी. जो मर्ज़ी करो!आपी ने मुझे हार मानते देखा तो अकड़ कर फिल्मी अंदाज़ में बोलीं- अपुन से पंगा नहीं लेने का.

पर अब मैं रहम के मूड में नहीं था।मैंने पूरे जोर से धक्के मारने शुरू कर दिए, उसके नाखून मेरी कमर में गड़ रहे थे. लाल रंग का टॉप पहना हुआ था और खुले बालों को एक साईड कर रखा था।जब चेहरे पर नजर गई. वो और तेज़ गति से चोद रहे थे। उन्होंने मुझसे कहा- मेरा निकलने वाला है.

मैंने पूछा- पीयूष, क्या मैं आपको हग कर सकता हूँ?उसने कहा- देख, मैं पहले भी बता चुका हूँ कि मेरे अंदर ऐसी कोई फीलिंग नहीं है अगर तू मेरे साथ कुछ करना चाहता है तो मुझे उत्तेजित कर और अपना काम कर ले…यह कहकर वो फिर चैट में लग गया. कोई धब्बा या किसी पिंपल का नामोनिशान नहीं था।मैं अपनी बहन के मम्मों का 1-1 मिलीमीटर पूरी तवज्जो से देख रहा था और इस नज़ारे को अपनी आँखों में हमेशा हमेशा के लिए बसा लेना चाहता था।यह कहानी एक पाकिस्तानी लड़के सगीर की है.

दस मिनट बाद ही आपी की बेचैनी दोबारा शुरू हो चुकी थी, शायद उनका पानी फिर बहने लगा था।जब आपी की बर्दाश्त से बाहर होने लगा तो आपी ने मेरी बात को काटते हुए कहा- सगीर प्लीज़ तुम अपनी कुर्सी को घुमा लो. तो मैंने फरहान से कहा- तू आज फिर से लड़की बन जा।उसने कहा- भाई ये नहीं हो सकता. तब अपनी एक उंगली में तेल लगाकर मेरी गाण्ड के छेद के साथ खेलना। फिर खेलते-खेलते उंगली को गाण्ड के छेद में डाल देना.

तो मैंने तुमको बुलाया।सब जानते हुए भी मैंने उससे पूछा- क्या कोई बात करनी है?‘बात तो हम लोग कहीं बाहर भी कर सकते हैं।’मैं बस उसको परेशान कर रहा था.

तो उनकी सिसकारियाँ बढ़ने लगीं।मैं उनके निपल्स को ज़ोर-जोर से होंठों में दबा कर खींचते हुए चूसने लगा. चल जल्दी कुत्ती की तरह बैठ।मोना- ये लो सर बन गई आपकी कुत्ती।सर- अब देख तेरा कुता कैसे तुझे चोदेगा।इसी के साथ सर ने अपना लण्ड मोना की चूत में डाल दिया और धक्के लगाने लगे। करीब 10 मिनट के बाद. तो मेरी ‘वो’ गीली नहीं होगी क्या?’‘अब मौसी इतना गीला कर ही दिया है तो उसे अपनी प्यारी खूबसूरत सी चूत का रस भी पी लेने दो।’लोहा गर्म था.

उसी के ऊपर बैठ गई और जबरदस्ती अपना पूरा जोर लगा कर मेरे लण्ड पर बैठने लगी।काफी कोशिश करने के बाद मेरा मोटा लण्ड नहीं घुसा. कहना क्या चाहती हो?उसने कहा- आई लव यू।मैं एकदम सन्न रह गया और उससे कहा- कब से यार?तो वो बोली- जब आप पिछले साल आए थे.

आपने ये मूवी कहाँ से ली है?क्योंकि उस वक़्त ऐसी मूवीज का मिलना बहुत मुश्किल होता था. मैंने उसकी बात पर ध्यान न देते हुए उसकी ब्रा और टॉप को उसके ऊपर से निकाल का फेंक दिया।दोस्तो, मुझे इस चुदाई में जो आनन्द आ रहा था. खेत में पानी देने।मैंने कहा- मैं अभी आया 2 मिनट में।यह कहकर मैं ऊपर चला गया और भाभी को खिड़की से देखकर लंड आगे-पीछे करने लगा।मैंने सोचा भाभी भी मस्त हैं.

भंवरी देवी सेक्सी वीडियो

क्योंकि मेरा पहला अवसर था।तभी वो कुछ रिलॅक्स हुई और उसने इशारा किया।मैंने एक शॉट और मार दिया.

कुछ देर की पीड़ा झेलने के बाद वो मेरा साथ देने लगी और अब वो बोल रही थी- आह्ह. मैंने चाची को अपने पास खींच लिया और उनके होंठों को चूमने लगा।उन्होंने लिपिस्टिक लगा रखी थी और मैं जोर से उनके होंठों को चूस रहा था. और जोर-जोर से चूसो।मैंने प्रीत का सर पकड़ा और जोर-जोर से उसके मुँह की चुदाई करने लगा। कुछ मिनट मैं ऐसे ही उसके मुँह को चोदता रहा और फिर मैंने प्रीत के मुँह से लण्ड को निकाला और पूछा- मुँह में ही निकाल दूँ?प्रीत बोली- ठीक है.

सेक्स की तरफ बिल्कुल भी ध्यान नहीं जाता था। इसी तरह दिन गुज़र रहे थे. मानो मैं स्वर्ग में बैठा हूँ।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तभी मामी बोलीं- ऐसे ही पड़े रहोगे या उठोगे भी?मैं उठ कर जाने लगा तो मामी ने पूछा- कहाँ जा रहे हो?मैं बोला- पेशाब आ रही है।जब मैं पेशाब करने की तैयारी में था तो मुझे मेरी चड्डी गीली लगी. सेक्सी वीडियोस ऑनलाइनवो तो तुम्हें मेरे साथ नसीब नहीं होगी।तो फिर मैंने कहा- जिस दिन मनाऊँगा उस दिन इस बारे में सोचेंगे।यह कहकर मैं टीवी देखने लगा और मौसी रसोई में बर्तन धोने लगीं।फिर मैं उठकर मौसी के पास चला गया.

फिर तुमको भी शांत कर दूंगी।मदन बोला- सोनिया मुझको तो आज पहले तुम्हारी गाण्ड चोदना है।सोनिया बोली- यार उस दिन बहुत दर्द हुआ था. वो करना चाहिए। जैसे कि कुछ गर्ल्स वीट या एनफ्रेंच जैसी क्रीम से रिमूव करवाती हैं.

पर कहा नहीं।मैंने भी उसको अपने दिल की बात बताई और कहा- तुम नहीं जानती कि मेरा क्या हाल है. मैंने भी उसके चूतरस से सनी उंगलियों को उसकी चूत में घुमाने के बाद बाहर निकालकर उसके गर्दन पर घुमाकर उसे चाटने लगा। मेरी जीभ के गर्म से अहसास से वो फिर मूड में आ गई।अब मैंने उसकी पैन्टी को नीचे खिसकाया और उसकी आँखों में देखकर उससे पूछा- क्या तुम तैयार हो दिव्या??दिव्या ने कहा- इसे लेने के लिए मैं तो कब से मरी जा रही हूँ राज. जब देखो लार टपकाता रहता है।टोनी- अरे यार पुनीत अब बस भी कर ये शराफत का ढोंग.

वो अभी भी कांप रही थीं।मैंने उनके गालों को चूमते हुए फिर से उनकी गर्दन को चुम्बन किया। जैसे ही मैं उनके पेट पर अपनी जीभ को फेर रहा था. और वे सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउज में नदी के किनारे उतर कर नहाने लगीं। कुछ देर बाद बाद में उन्होंने अपना ब्लाउज और पेटीकोट भी निकाल दिया। अब वो सिर्फ पैन्टी में थीं। उनकी तनी हुई चूचियाँ देख कर मेरी हालत ख़राब होने लगी, मेरा लंड खड़ा होने लगा।मैं अभी भी निक्कर में था. मैं भी इसे एक्सपीरियंस करना चाहती हूँ।तो बस क्या था मैंने अपनी 150 CC की बाइक निकाली और कहा- आईए.

तो साले ये तेरे उस कुत्ते बाप और रंडी बहन से पूछना तू… तेरे हरामी बाप ने मेरी माँ की लाइफ बर्बाद कर दी और इस रंडी ने मेरी माँ को बार-बार जलील किया.

उनकी गाण्ड बहुत टाइट थी, मैंने थूक लगाया और पूरा लौड़ा अन्दर पेल दिया।उन्होंने इतने ज़ोर से चीख मारी कि मैं डर गया और मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया।वो उठ कर मुझसे चिपक गईं ‘अहह. हम दोनों के लब एक-दूसरे से लिपट गए।मेरे मम्मों के निपल्स को भी वह बीच- बीच में चूस लेते थे। मेरी बुर गीली होने लगी। मैं अपनी गोल चिकनी जांघें अंकल की ठोस.

उनका पता नहीं कैसे इतना बड़ा होता है। मैं इस बात को लेकर बहुत परेशान रहता था।तभी अचानक कुछ ऐसा हुआ कि मेरी सारी परेशानी दूर हो गई।बात कुछ दिनों पहले की है. तो वो बोली- नहीं आप बैठे रहो।फिर वो मुझसे पूछने लगी- क्या आपकी शादी हो गई है?मैंने ‘नहीं’ बोला. तो उसके मम्मे नज़र आने लगे। उसके मुम्मे देखते ही मेरा लण्ड खड़ा होना शुरू हो गया।वो चाय रख कर मुड़ी.

उतना ही उसके चूचे भी उछल रहे थे।मैं भी उसकी कमर और गाण्ड को पकड़ कर ऊपर-नीचे होने में मदद कर रहा था।आअह आह्ह. हमारा टेस्ट अगले दिन 11 बजे से स्टार्ट होने वाला था। हम रूम लेने को एक होटल में गए. ’वो खुद भी अपनी गाण्ड मेरी तरफ धकेलने लगी।उसकी चूत पेलाई के बाद जब मैं झड़ने वाला था.

जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ हम सबसे बेखबर अपने मज़े में डूबे हुए एक-दूसरे की जवानी का मज़ा ले रहे थे।आखिर गीत ने अपनी चूत कि आखिरी बूंद तक मेरे मुँह में भर दी।मैंने उसकी चूत को छोड़ा और उसकी आँखों में आँखें डाल कर देखा और कहा- क्यों जानेमन. लेकिन कसम से अपने हाथ के अलावा किसी का हाथ टच होने से मज़ा बहुत आया.

गांव+की+सेक्सी

यश ऊओह्ह्ह मेरा होने वाला है।मैंने भी अपनी फुल स्पीड में प्रीत की चुदाई करना चालू कर दी. और मुझे ज़ोर से पकड़ लिया।मैंने एक शॉट और लगाया और मेरा पूरा लंड उनकी चूत की जड़ में पहुँच गया। फिर एक के बाद एक शॉट लगाता रहा और वो ‘आआहह. तो शरमाना छोड़ दो।’उसका विरोध अब खत्म हो गया, मैंने उसके लबों पर चुम्बन शुरू कर दिया.

उसने ब्रा नहीं पहनी थी। मैंने उसका एक चूचा अपने हाथों में भर कर दबोच लिया और ज़ोर-ज़ोर से दबाने लगा।उसने कराहते हुए कहा- आह्ह. हमारे साथ ये हो क्या रहा है?पुनीत ने उसको आशा के बारे में बताया और कैसे वो मरी. रात की सेक्सी पिक्चरउसकी चूत के गरम पानी की वजह से मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने मैडम से पूछा- कहाँ निकालूँ?बोली- अन्दर नहीं.

’बस मैं भी मजे लेकर उसके ऊपर होकर चुदाई कर रहा था।दस मिनट बाद उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और अपनी तरफ भींचने लगी.

इसलिए सीधे धड़धड़ाते हुए अन्दर घुस गया।अन्दर घुसते ही मैंने जो देखा. ’उनकी मदमस्त आवाज़ निकलने लगीं। फिर 10 मिनट की चुदाई के बाद मेरे लौड़े का पानी छूटने वाला हुआ.

बस 3-4 मिनट के बाद उसकी आवाज में मजा आने लगा।अब वो भी मजे लेकर चुदवा रही थी।मैंने पूछा- अब दर्द हो रहा है?‘नहीं. उसके होंठों से लेकर उसकी बाँहों और नीचे मम्मों तक बेतहाशा चूमने लगा।अर्श भी सिसकारती हुई मेरा साथ देने लगी। मैं उसके शरीर के कपड़े भी एक-एक करके उतार रहा था।अब उसके शरीर पर ब्रा और पैंटी रह गई थी। मैंने भी अपने शरीर के सभी कपड़े निकाल दिए थे। बस मेरे शरीर पर अब मेरा अंडरवियर ही था।मैं बोला- साली कुतिया. जिसके पायेंचों ने उनके पैरों को आधे से ज्यादा ढक रखा था।स्क्रीन पर वो रात वाली ही मूवी चल रही थी.

मतलब चलते समय उसके चूतड़ बहुत सेक्सी तरीके से ऊपर-नीचे होते हैं।उसका सीना देखते ही मेरा तो लौड़ा खड़ा हो जाता है। यूं समझिये कि मैं तो हर समय उसका आँखों से चोदन करता रहता हूँ। उसको बिस्तर पर इस्तेमाल करने की बड़ी आस मन में हमेशा से थी.

मेरा शरीर अकड़ने लगा और मैं एक ज़ोर से पिचकारी मारता हुआ दीदी की चूत में झड़ गया। मेरा गर्म लावा दीदी की चूत से बह रहा था और मैं निढाल हो कर दीदी पर गिर गया।हम दोनों ऐसे ही नंगे बिस्तर पर पड़े रहे।दीदी बोली- भाई अगर मेरा पति मुझे संतुष्ट नहीं कर पाया. और इससे ही बच्चे पैदा होते हैं।उस दिन के बाद मैंने कई बार उसका लंड चूसा। जिस कमरे में दिनेश और उसका परिवार किराए पर रहता था. पूरी अंधेरी रात में कुछ दिख भी नहीं रहा था।अब मैंने डरते-डरते अपना हाथ उनके पेट पर ही फेरना शुरू किया और कोई आपत्ति ना होता देख कर में लगा रहा। चूंकि मौसी की नींद गहरी थी.

मुझे घरेलू नौकरी चाहिएतुम मेरे होंठों को अपने होंठों में रख कर चूसो। कभी ऊपर के होंठों को. पर जब खुले तो ये बहुत बड़े थे।मैं उनके एक चूचे को चूसने लगा और दूसरे को मसलने लगा।उनके चूचे बहुत ही नरम थे.

सेक्सी चुदाई लंड की

प्लीज़ थोड़ा धीरे चूसो।मैं अब उसके एक निप्पल को दाँतों से चबाने लगा और बीच में उसे काट भी देता था. तब यह खड़े होकर बाहर झाँकने लगते हैं।मेरी कसी हुई चूत से थोड़ा नीचे. मेरे मम्मों की घुंडियाँ कड़ी होकर बाहर की ओर उभरने लगीं और मेरी बुर में गीलेपन का एहसास होने लगा।अपने आप ही मेरा एक हाथ मेरे सीने पर चला गया और दूसरा हाथ नीचे बुर को छूने लगा.

मैं धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा, वो भी अपनी गाण्ड उछालने लगीं।मैंने 2 उंगलियाँ उनकी गाण्ड में घुसेड़ दीं और ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा।वो लगभग रोने लगीं- वीजे प्लीज़. मुझे ग्रुप सेक्स नहीं करना। तुम मेरी चूत में दो लण्ड एक साथ डलवा कर तो फाड़ ही दोगे।फिर मैंने सोनिया से और कोई बात नहीं की। उसके बाद मैं जब भी सोनिया की चुदाई करता. वो बिस्तर पर बैठ गई और बोली- देखो इस वीडियो की बात कर रही थी।उसने मुझ को एक सेक्स वीडियो दिखाया मैंने कहा- तुम एक मिनट रूको.

कभी-कभी मेरी साँसें फूल जाती थीं।कुछ देर के बाद मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया. लेकिन वो कुछ खोई-खोई सी थीं। मेरी नजरों को अपने चेहरे पर महसूस करके उन्होंने मेरी तरफ देखा और कहा- उठो और जाकर फरहान को देखो।मैं उठा तो आपी ने भी कुर्सी छोड़ दी और मेरे साथ ही बाथरूम की तरफ चल दीं। दरवाज़ा बन्द था. उनकी साड़ी और पेटीकोट अलग किया और उनको पैंटी में करके उनकी पैंटी में हाथ डालकर उनकी चूत को सहलाया। उनकी चूत पर छोटे-छोटे बाल थे.

नीचे जाकर देखा तो दूध लेकर वो चाय बना रही थी। उसकी चाल कुछ लंगड़ी सी थी।मैंने पूछा- तुम ऐसी क्यों चल रही हो?‘तुम्हारी वजह से. उन्होंने वहीं खड़े-खड़े ही चेहरा मेरी तरफ घुमा कर कहा- हम्म?मैंने 3 सीडीज उनको शो करते हुए कहा- 114.

उसने नीले रंग पैन्टी पहनी हुई थी। उसकी पैन्टी को एक तरफ सरका कर मैं अपनी जीभ को उसकी चूत में घुसेड़ कर उसकी चूत को चाटने लगा.

जब फरहान बैग उठाए घर में दाखिल हुआ।मैं उठ कर उससे मिलते हुए बोला- यार फोन ही कर देते. sex ভিডিও’ निकल गई।मौसी की चुदास जागृत हो चुकी थी बस अब उनको हर तरह से तृप्त करने की तैयारी में लग गया।आपके ईमेल मिल रहे हैं और भी भेजिए इन्तजार रहेगा।कहानी जारी है।[emailprotected]. गावरान मराठी सेक्सी पिक्चरउस मादरचोद हीरो और रंडी हीरोइन की चुदाई देख कर तो बड़ा मजा आया।आमिर- साले. फिर एक दिन दोस्तों के कहने पर उससे बात की और मेरी उससे दोस्ती हो गई।वो बहुत सुंदर थी.

कुछ देर बाद मैडम फिर से तैयार हो गई, उसकी चूत की पानी की खुश्बू से फिर मैं शुरू हो गया, मैं उसकी चूत को सहला रहा था, वह अपनी चूचियों को दबा रही थी और जोर-जोर से सिसकारियाँ भर रही थी.

तो मैंने कुछ सोचा और फिर से उसके ऊपर चुम्बन करने के लिए आ गया।कुछ मिनट चुम्बन करके मैंने उससे कहा- अब तुम्हारी बारी. जबकि मेरा तकरीबन साढ़े 6 इंच का था। फरहान के लण्ड की टोपी थोड़ी गुलाबी सी थी. दोस्तो, मेरा नाम सनी राय है, मैं धामपुर से हूँ। मैं दिखने में सीधा सा लड़का हूँ। मेरी हाइट 5.

तो शरमाना छोड़ दो।’उसका विरोध अब खत्म हो गया, मैंने उसके लबों पर चुम्बन शुरू कर दिया. मैंने अपनी टाँगें उठा कर उनके ऊपर रख दीं।अब उन्होंने धक्के लगाना शुरू कर दिए। हम दोनों काफी गरम हो चुके थे और एक-दूसरे का भरपूर साथ दे रहे थे।मैं उनके हर धक्के का जबाव अब अपनी कमर को उचका कर दे रही थी।कुछ देर बाद उन्होंने मुझसे कहा- क्या तुम ऊपर आना चाहोगी?मैंने कहा- ठीक है. तब अंकल ने अपना चेहरा उठा कर मेरे चेहरे की तरफ देखा। हम दोनों की आँखें मिलीं.

सेक्सी फिल्म करता हुआ

फिर हमारी बातें मिलना-जुलना सब शुरू हुआ।मुझे किस करना बहुत अच्छा लगता है. तो फरहान अपने शॉर्ट के ऊपर से ही अपने लण्ड को मसल रहा था। मुझे भी बहुत अधिक ख्वाहिश हुई कि मैं भी अपने लण्ड को सहलाऊँ। तो मैंने हिम्मत की और फरहान की परवाह किए बगैर शॉर्ट के ऊपर से ही अपने लण्ड को पूरा अपनी गिरफ्त में लेकर हाथ आगे-पीछे करने लगा।फरहान ने मेरी तरफ एक नज़र डाली और कुछ बोले बिना. और वो चुप।मैंने कहा- क्या हुआ?उसने कहा- तुम्हें नहीं पता?उसने मुझे आँख मारी.

यहाँ तक कि उसके मम्मों की भी तारीफ़ कर डाली।उसे बुरा नहीं लगा।मैंने उससे पूछा- तुम्हारे पास स्काइप एप्लीकेशन है।उसने कहा- हाँ।मैंने उससे कहा- तो चलो हम अभी वहाँ मिलते हैं।वो राज़ी हो गई।दोस्तो.

तुम मेरी सहायता करोगी?उसने कहा- अभी वो कच्ची है।मैंने कुछ नहीं कहा.

तो मैं उससे बात कैसे करूँगा और कहाँ से शुरू करूँगा।सब सोचते-सोचते पता नहीं कब नींद आ गई. अपना टॉप नीचे से ऊपर की तरफ बहुत ही मादक और कामुक तरीके से मुझको ललचाते हुए ऊपर ले गई। उसने चूचों के पास जाकर अपने हाथ रोक दिए और अपने दोनों चूचों को अपने हाथ से कस कर दबा दिए।सीत्कार भरते हुए उसने कहा- आह जीजू. सेक्सी वीडियो पुराना एचडीऔर मेरे लण्ड पर ऊपर-नीचे होने लगी। हालांकि इसमें भी मुश्किल हो रही थी.

मेरा लण्ड उसके खून से भीग चुका था।मैंने अब हल्के-हल्के धक्के लगाना चालू कर दिए. उनके गोरे चूतड़ों पर व कमर पर तेल लगाया और मालिश करने लगा।मैं उनकी अच्छे से मालिश कर रहा था कि तभी मैंने थोड़ा तेल अपनी उंगलियों पर लगाया व उनकी गाण्ड पर भी थोड़ा तेल लगाया। इसके बाद मैं धीरे अपनी उंगलियां उनकी गाण्ड पर रगड़ने लगा।कुछ देर बाद एक उंगली उनकी गाण्ड में डालने लगा. ’इससे पता चल रहा था कि प्रीत अब गर्म हो रही है।मैं प्रीत के टॉप के अन्दर हाथ डाल कर उसके चूचों को सहला रहा था और साथ ही साथ पेट को भी.

आंटी को गर्म करना।मायके जाते हुए भी बेबी गाड़ी में सीट पर गद्दी रख कर गई।रात में दोनों माँ-बेटी इक्कठी सोईं. लेकिन यह बात उनको पता चल गई और उनका साहस बढ़ गया, उन्होंने अपना एक हाथ मेरी चूची पर रख दिया।मेरी तरफ से कोई विरोध ना होते देख कर.

मैं मन ही मन नीलम को चोदने की सोच रहा था।नीलम के मम्मों की झलक ऊपर से ही दिखाई दे रही थी। उसके मम्मों के उठाव देखते ही मेरा लण्ड फिर से खड़ा होना शुरू हो गया। वो चाय का कप रखने के लिए मुड़ी.

’ वो थककर बोलीं।‘वो सामने पीली वाली बिल्डिंग दिख रही है?’ मैंने कहा।‘क्या हुआ उसको?’ उन्होंने थकान में ही कहा।‘वहाँ पर मैंने फ्लैट लिया हुआ है. उसके लिप्स को खाना चालू कर दिया। सुरभि भी प्रियंका के चूचे दबाते हुए. मैं अपनी मौसी के यहाँ रह कर 12वीं में पढ़ रहा हूँ। आपको जो मैं कहानी बताने जा रहा हूँ.

पक्षी सेक्स उसका मोटा लण्ड 3 इंच चूत में घुसता चला गया।मेरे मुँह से एक तेज आवाज़ निकली- आआईए. तो बाकी भी यात्री आ गए और ट्रेन पूरी फुल हो गई।अब मैं अपनी ही सीट पर गया.

दोनों गाण्ड मटकाती हुई कमरे में चली गईं और मैं लण्ड सहलाता हुए इंतज़ार करता रहा। कुछ देर इंतज़ार के बाद मुझे अन्दर बुलाया. तो आंटी ने डाँट कर मुझे कपड़े बदलने के लिए दे दिए और मैं बाथरूम में गया। वहाँ मुझे कुछ किताबें दिखीं. तो मैं कमरे से बाहर निकल कर गाना गुनगुनाने लगा।भाभी ने मेरी और देखा और बोलीं- राज छोरे के करे है?मैं बोला- कुछ ना भाभी.

एक्स एक्स सेक्सी वीडियो बांग्ला

मैंने लौड़े की खाल पीछे कर लंड का टोपा निकाल लिया और भाभी के पीछे खड़ा हो गया।मैं वासना में होश खो चुका था. उनका चेहरा लाल हो चुका था। वो मेरे चेहरे की तरफ देख भी नहीं रहे थे। उन्होंने अपने इनर को उठाया. फिर एकाएक प्रवीण मेरी कमर पर झुक गया और बालों भरी छाती से मेरी कमर को कंधे तक कवर करते हुए मुझ पर अपना भार डालते हुए तेज तेज लंड को गांड में घुसाने और निकालने लगा जैसे कोई कुत्ता एक कुतिया को चोदता है।उसकी इस क्रिया से मैं जन्नत की सैर करने लगा और किसान के लंड को होठों से भींचते हुए जोर जोर से चूसने लगा, उसके हाथ भी मेरे सिर पर आकर मेरा मुंह लंड में घुसाने लगे और दो मिनट बाद प्रवीण जोर जोर से आह.

मुझे इंतज़ार रहेगा आप सभी की मेल्स का।आपका दोस्त रवि स्मार्ट[emailprotected]. उसने हमसे कहा- आप जानती हैं आप किस ट्रेन में और किस कोच में बिना टिकट के यात्रा कर रही हैं.

मतलब किशोर अवस्था से ही नारी को नग्न देखने की बहुत तेज उत्कंठा होती है।इसी वजह से नग्न नारी के जिस्म को दर्शाने वाली पत्रिकाएं.

और दोनों चुदक्कड़ों को खूब गालियाँ देता रहा।अब मैंने अपने दोनों हाथों से प्रियंका के मम्मों को पकड़ लिया और पूरा ज़ोर लगाकर मम्मों को मसलते हुए. असलम अंकल ने अम्मी को अपने आगोश में लिया हुआ था। वह अपने हाथों को अम्मी के बदन पर घुमा रहे थे। अम्मी अंकल की कमर पर हाथ फिरा रही थीं. मन करता कि यहीं मुँह रख दूँ उनके लंड पर और चूस लूँ इसे!ऐसे ही देखा देखी में सारा साल बीत गया और फाइनल एग्जाम्स की डेट्स आ गईं।सभी अध्यापकों ने कहा कि जिन बच्चों को जो भी सवाल पूछने हैं एग्जाम से पहले पूछ लें इसके बाद फिर एग्जाम शुरु हो जाएंगे।सवाल तो मेरा भी था लेकिन गणित का नहीं.

मैंने लौड़े की खाल पीछे कर लंड का टोपा निकाल लिया और भाभी के पीछे खड़ा हो गया।मैं वासना में होश खो चुका था. वो स्टूल के ऊपर चढ़ गईं।मैं स्टूल को पकड़ कर नीचे खड़ा था।मैंने जब ऊपर देखा. तो मौसा घर के बारे में पूछने लगे- सब घर में कैसे हैं?मैंने कहा- सब ठीक हैं।फिर ऐसे ही बात करते-करते 6 बज गए और इस बीच यह भी पता चला, मौसी ने बताया- पांचवीं मंजिल पर भी एक फ्लैट अपना है.

फिर उसका मुस्कुराना।यही सब कोई 3 या 4 महीने चला।इसके बाद मोनिका संग क्या-क्या हुआ इस सब को मैं अगले पार्ट में लिखूंगा.

जबरदस्त चुदाई वीडियो बीएफ: तो हम सभी को बाहर ग्राउंड पर खेलने भेज दिया गया। ग्राउंड पर और भी क्लास के स्टूडेंट खेल रहे थे. पर जान एक काम करना होगा आपको।प्रीत बोली- क्या करना है?मैं बोला- ज्यादा कुछ नहीं.

लेकिन तभी मेरी सहेली ने कहा- यही तो मेरा यहाँ ख्याल रखता है। पहली बार ही थोड़ा दर्द होगा. तो बोल उठी- ये क्या कर रहे हो?तो मैंने कहा- जैसे आपने मेरा हाल किया. ’मैंने भी फूफाजी के साथ नाश्ता कर लिया और मैं अपने कमरे में पढ़ने के लिए चला गया.

अब हम दोनों के बीच कोई खास झिझक नहीं रह गई थी। अंकल और मैं कुछ बोले बिना ही एक-दूसरे के इतना समीप आ गए थे कि हमारे जिस्मानी रिश्ते की राह बेहद आसान हो गई थी।मुझे लग रहा था कि अंकल के सीने से लग कर उन्हें खूब प्यार करूँ।मैं अंकल से बिल्कुल लगी हुई खड़ी थी, अंकल ने कहा- आओ.

लड़ाई करनी है क्या? आराम से क्यों नहीं बैठ जाता?लेकिन मैं वो करता रहा. तो मैंने कहा- साली मैंने तुझे तैयार करके तेरा पानी निकाला और झड़वाया और तू कमीनी मुझे चोदने को बोल रही है।मौसी ने कहा- बोलो कैसे करूँ तुम्हारी सेवा?मैंने कहा- अब तू सही बात कर रही है. और वो दोनों मुझको छोड़ने नीचे तक जाने लगीं।मेरी नजर आगे चल रही सुरभि पर पड़ी.