बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ

छवि स्रोत,नंगी वीडियो हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

साउथ अफ्रीका फुल सेक्सी: बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ, वो रोमांटिक है, आशिक मिजाज है पर कुछ ऐसा नहीं करेगा जिस पर तुम्हें या उसे बाद में पछतावा हो.

ब्लू सेक्सी वीडियो डॉट कॉम

आप से मैं नाराज़ हूँ आपने मुझे तो नहीं बताया रात की पार्टी के बारे में?गायत्री- हाँ टीना. पिक्चर देसीउसने धीरे से अपना गेट खोल दिया और मैं डरते-डरते उसके घर में घुस गया.

जब उसके बेटे को यह पता चला कि कमी उसमें है तो वह बहुत दुखी हुआ और माला को किसी अन्य पुरुष से सम्भोग करके संतान पैदा करने के लिए मनाता रहा. ससुर और बहू की सेक्सऋषिका ने रयान को बताया कि उसके पति कुशल का ट्रान्सफर रयान के पुराने शहर में ही हो गया है और उसके लिए कोई वन बेडरूम सेट वो ढूंढ दे.

थोड़ी देर बाद मेरा दर्द कम हुआ तब उसने कहा- मुबारक हो, तुम्हारी चूत ने मेरा पूरा लंड अपने अन्दर ले लिया, अब तुम किसी से भी चुदवा सकती हो!मेरा भी अब दर्द कम हो गया था, तब मैं अपनी गांड को हिलाने लगी.बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ: हमारे पड़ोस में में एक नया परिवार रहने आया, उस परिवार में एक पति पत्नी और उनके पिताजी थे.

वो अन्दर आई और उन्होंने नीलेश जीजू को देख तो कहा- अरे नीलेश, तुम यहाँ?तो जीजू ने कहा- हाँ आंटी, मैं अपने घर की चाबी लेने आया था और रोमा ने मुझे चाय के लिए बोली तो मैं चाय पीने रुक गया!फिर उन्होंने कहा- अच्छा तो अब मैं चलता हूं!कह कर जीजू चले गए मैं भी अपने कमरे में आ गई और अपनी फूटी किस्मत पर अफसोस करने लगी कि इतना अच्छा चुदाई का मौका हाथ से निकल गया.जब उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में लिया, तब जो गरमाहट और उनके होठों की कोमलता और जब उनकी जीभ जब मेरे लंड पर लग रही थी.

ब्लू पिक्चर सेक्सी फुल - बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ

अब मैडम मेरे ऊपर से हटी, पास में आकर बिल्कुल सीधा लेट गई, हम ऐसे ही नीचे लेटे हुए थे.मैंने झट से भाभी की पेंटी को अपने दांतों से खींच कर निकाल ली। भाभी ने शर्मा कर पलटी मारी। उन्होंने जैसे ही पलटी मारी.

कुछ देर मुझे चोदने के बाद लंड को मेरे मुंह के पास लेकर आये, मैंने भी उस लड़की की तरह लंड को मुंह में ले लिया, एक कसैला सा स्वाद मेरे मुंह के अन्दर था, साहिल हंसते हुए बोले- दोनों के पानी का आनन्द तुम लो।साहिल ने मुझसे उस लड़की की तरह घोड़ी बनने को बोला. बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ साराह की आँखें बंद थी शायद उसकी ऐसी चुदाई पिछले दस दिनों में नहीं हुई थी.

’मैंने भी धक्के तेज़ कर दिए और उससे पूछा- कहाँ निकालूँ?तो उसने कहा- अन्दर ही डाल दो, मैं तुम्हारा माल अपनी चुत में फील करना चाहती हूँ आह आह आह.

बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ?

उसको दर्द होना लाजमी था। मगर वो बड़ी बहादुर लड़की थी, अपने दाँत को भींच कर दर्द सहन कर गई।थोड़ी देर संजय एक उंगली को ही आगे-पीछे करता रहा और पूजा की चुत को चोदता रहा। जब उसको लगा पूजा अब मज़े ले रही है. ताकि प्रेग्नेंट ना हो जाऊँ और महीने में सिर्फ़ 4-5 बार ही करवाती हूँ. ’ बोलकर वहां से कॉलेज के लिए निकल गई।उधर फ्लॉरा को पता नहीं रात को क्या हुआ था.

मैंने कहा- बस करो, अब निकल जाएगा!तो वो झूठ मूठ बोली- ओके!और पहले से भी ज़्यादा तेज़ हो गई. उसकी कुर्ती में हाथ घुसा के उसकी चूचियाँ मसलता है और उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत सहलाता है. उनके मम्मों का साइज बढ़ गया। भाभी के मम्मे बहुत बड़े और तने हुए थे और उन पर छोटे-छोटे से भूरे निप्पल हवा में लहराने लगे।अब हम दोनों ऊपर से नंगे हो चुके थे और मेरे लंड का साइज तन के 6.

वाइफ स्वैपिंग करने से रिश्तों में नयापन आता है और पत्नी को भी चरम सुख मिलता है जिसकी वह हक़दार है. सुन्दर ने उसके उँगलियों पर लगे चूतरस को लंड के सुपारे पर लगाया और उसने धीरे से पूरा लंड मेरी योनि के अंदर धकेल दिया. लाइफ में आगे बढ़ो। यह बता तुझे अच्छा लगता है तू अपने मन की कर रही है ना.

मैं कुछ बोलती, उससे पहले ही रोहन ने मेरे होंठों को चूमना शुरू कर दिया… फिर रोहन ने मेरी नाइटी को खोलकर उतार दिया।मैं बस ब्रा और पैंटी में ही खड़ी थी. अब मैंने अपना लंड बहन की चूत के छेड़ पर रखा और जोर डाल दिया, वो ज़ोर से चिल्लाई.

ऋषि एक शरीफ लड़का था तो उसने मुझे समझा और उसने इसलिए भी मुझे समझा क्योंकि वो मेरे बारे में सब जानता था.

लेकिन अनूप ने पीछे से आकर मेरी चूचियों को पकड़ लिया और जोर-जोर से दबाने लगा। मैं सिसकारी भरने लगी.

राजे अब मेरे ऊपर लेट गया और रेखा रानी रेखा रानी रेखा रानी मेरे कानों में फुस्फुस करके बोलता हुआ मेरे गालों, होंठों, कानों, गला और नाक पर गरम चुम्मियों की वर्षा करने लगा. तभी मेरी नज़र मेरी ब्रा पर पड़ी। मुझे अच्छे से याद था कि मैंने मेरी ब्रा बाहर सूखने डाली थी. तुम हमारी कॉन्फ्रेंस कॉल में होंगे पर अपना माइक म्यूट करके। हाँ, मुझे बिमलेश को पटा कर चोदने के 15000 रुपये चाहिए और 3500 रूपये बेलेन्स के लिए भी!हिम्मत बोला- भाई, आपका दूसरा आईडिया मस्त है, मैं तुम्हारी हर सम्भव मदद करूँगा और आपको 15000 रूपये उस दिन मिलेंगे जिस दिन तुम बिमलेश को चोदोगे और 3500 रुपये कल ही आपके खाते में डलवा दूँगा। जब बिमलेश फ्री रहेगी घर में तब खुद आपको फोन करके बता दिया करूँगा.

तू कॉलेज जा तुझे देर हो रही होगी।सुमन- अरे आपको नाराज़ छोड़कर कैसे चली जाऊं. उसके बाद क्या था… मुझे भाभी की रजामंदी मिल गई, मैंने अपनी आंखें खोली और भाभी के होंठों से होंठ मिला दिए. ये आदमी कैसे इस लड़की के सारे कपड़े निकाल रहा है। मुझे बड़ी शर्म आ रही है और ये खुद नंगा है.

मुझे बताया भी नहीं आपने और कौन न्यू लड़की है, जिसे मैंने नहीं देखा.

’मुझे भी यही चाहिए था पर मैं रुक गई, उनके लंड पर कंडोम चढ़ाया और खुद पीठ के बल लेट गई- जल्दी डालो!मैंने जानबूझ कर ‘मुझे जल्दी है’ ऐसा दिखाया. उस दिन मुझे पहली बार यह भी अहसास हुआ कि जब कोई अपना औपचारिकता करता है तो कितना बुरा लगता है। रोहन की औपचारिकता मुझे चूभ रही थी, और यही संकेत था कि रोहन कोई गैर नहीं, मेरा अपना है।वो ना चाहते हुए भी जाने लगा, पर मैंने उसका हाथ पकड़ा और की-रिंग जो मैंने उसी के लिए ली थी, उसे थमा दिया और मुस्कुराते हुए कहा- तुम्हारा सामान मेरे पास रह गया था। उसी को देने आई थी।अब उसकी और मेरी नजरें मिली. तब तक वह नहा कर कपड़े सुखाने बाहर आ गई थी, उसके गीले बालों से पानी उसके उरोजों पर टपकते हुए उसके शर्ट के अंदर से शायद उसकी चूत तक बह रहा था.

प्लीज़ बता ना यार?संजय- पूजा को मार गोली और ये बता क्या तूने ये वीडियो शाम को बनाया? साली क्या मस्त लग रही है इसको देख के लंड बेकाबू हो गया और फट से पानी फेंक दिया।टीना- हाँ मैं उसके घर गई थी वैसे एक बात तो माननी पड़ेगी। साली कुतिया सच में काफ़ी सुंदर है। एक बार तो मेरी भी लार टपकने लगी उसके जिस्म को देख कर. मैं उत्तेजनावश अपने कदम गद्दे पर जमा कर, ऊपर-नीचे गांड की चुदाई करने लगा. तो मैं देखते ही रह गया। भाभी इस वक्त कयामत लग रही थीं। उन्होंने टी-शर्ट और लोअर पहन रखा था।मुझे देखते ही बोलीं- अरे आ गए.

मैं आप सभी को बताने वाला हूँ ताकि आपको मेरी इस चुदाई की कहानी पर यकीन आए कि ये सच्ची चुदाई की कहानी है।ये बात एक साल पहले की है। मेरे घर के सामने एक लड़की रहती थी.

मुझे मज़े का पता ही नहीं चला था, मगर आज बहुत मज़ा आया। उस दिन बस दर्द हो रहा था।उसको पहली बार में खून भी नहीं निकला था। इसको लेकर वो खुद कहने लगी कि पता नहीं खून क्यूँ नहीं निकला। तब मैंने उसको समझाया कि ज़रूरी नहीं हर लड़की को पहली खून निकले।दोस्तो, रिश्ते में भरोसा ज़रूरी है, खून निकलना या सील का टूटना जरूरी नहीं. कल तो खत्म हो ही जाएँगे और तू जानता ही है कि पीरियड ख़त्म होने के बाद चुत में कैसी आग लगती है, उसे लंड ही बुझा सकता है.

बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ मेरा नाम अरहान है, मैं 22 साल का हूँ, मेरा कद 6′ है, पुणे से अपनी पढ़ाई पूरी करके मैं अभी मुंबई में जॉब कर रहा हूँ. मैंने अपने पजामे में से लंड निकाला और कहा- अब अंडरवियर खोलो अपना।उसने कहा- क्या करोगे?मैंने- वही जो बीएफ अपनी जीएफ के साथ कर सकता है.

बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ एकदम तनी हुईं। उसके बड़े दूध देख कर कोई नहीं कह सकता कि वो अभी 18 की है। उसकी रेड कलर की ब्रा उसे और सेक्सी बना रही थी। अब मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को सक करने लगा।वो बोल रही थी- अब चूस ले भाई. इसके तुरंत बाद राजू के लंड ने भी कुल्ले करने शुरू कर दिए, और उसका इतना वीर्य निकला कि कप भर जाता!उसने झड़ते हुए लंड को हालाँकि मेरी पत्नी के मुंह से बाहर निकाल लिया था, लेकिन फिर भी नताशा को कितना सारा वीर्य अपने मुंह से बाहर थूकना पड़ा, और बाकी बचे वीर्य ने नताशा का पूरा चेहरा, मुंह, गर्दन, बाल ढक दिए थे.

मत बोलो, आप मुझे दीदी बोल सकती हो!तो मैंने भी उन्हें कहा- ठीक है, पर आप भी मुझे आप न कह कर मुझे रोमा ही बोलिये!उन्होंने कहा- ठीक है रोमा!तब मैंने उनका कुछ सामान लिया और उनके साथ उनके घर गई सामान रखने के बाद पायल दीदी ने कहा- बैठो रोमा, मैं चाय बनाती हूँ!मैं बैठ गई, कुछ ही देर में पायल दीदी चाय बना कर ले आई, हम दोनों बैठ कर चाय पी रहे थे.

सेक्सी हिंदी में एक्स एक्स एक्स

मैंने सोच लिया था कि सच्चाई मैं पता लगाकर रहूँगी चाहे इसके लिए मुझे चाचा के लंड से ही क्यों ना चुदना पड़े!आज बस इतना ही, चोदाई की अगली कहानी जल्द ही लिखूँगी. वो भाभी ने एकदम से बंद कर दिया और चुत पर मेरे हाथ का मज़ा लेने लगीं।दो पल चुत का मजा लेने के बाद भाभी फिर से होंठों को चूसने के काम में चालू हो गईं। मैं उनकी चुत सहलाने लगा. तब मैंने संजय से कहा- सब तो नंगे हैं, आपने क्यूँ नहीं कपड़े उतारे?तो उन्होंने कहा- मैं बाद में उतारूंगा, तुम लोग शुरू हो जाओ!तभी पांच आदमी मेरे पास आ गए और मुझे अपना अपना लंड पकड़ाने लगे.

सलोनी फिर बोली- रवीश मुझे लगता है कि तुम्हें गांड में उंगली करना बड़ा अच्छा लगता है. देती भी क्यूँ ना मुझे अपनी जान से ज्यदा जो प्यार करती थी और धीरे-धीरे हम चूमते हुए होंठों पर आ गए. उसके आने के बाद हम बाकी लोगों से थोड़ी दूरी बना कर खड़े हो गये। रात का वक्त था ज्यादा रोशनी नहीं थी। अब मैंने आज सुबह की चुम्बन वाली हरकत के बाद उससे पहली बार कुछ कहने की सोची.

हम दोनों सीधे लेटे हुए थे, थोड़ी देर बाद मैंने करवट ली और थोड़ा सा नीचे आते हुए उसके दूध को अपने मुंह में भर लिया.

मोना ने राजू से लेकर काका तक की पूरी कहानी मीना को बता दी, जिसे सुनकर मीना की चुत गीली हो गई. अपने आप होने लगी।मेरे जो दोस्त गांड मराते हैं अपने अनुभव को रिलेट करें. जो मुझसे एक साल छोटा है, वो बहुत गोरा, खूबसूरत, सजीला जवान है, उसकी हाइट 6 फीट है.

उसके बाद हम सो गये और अगले दिन रजनी ने हमसे विदा ली और अपने घर चली गई. बाकी कुछ खास नहीं है।ममता- अरे कहाँ गई थीं तुम? और ये क्या हाल बना रखा है. चूत के इतने दीवाने हो गये कि कविता को ही भूल गये?तब रोहन ने मेरे चेहरे को थाम लिया- हाँ जान, मैं चूत मिलने से खुश जरूर हूँ पर इतना भी नहीं कि अपनी कविता को भूल जाऊं, दुनिया की कोई भी खुशी तुमसे बढ़ कर नहीं हो सकती।मैंने रोहन की आँखों में आँखें डाली और कहा- इतना प्यार करते हो मुझसे?तो उसने कहा- शायद इससे भी ज्यादा.

जहाँ मैं जा रहा था, वहीं का पता पूछ रही थी वह… मैंने उसे मुझे फॉलो करने को कहा. करीब 15 मिनट यह दौर चला और उन्होंने कहा- बेटा, अब बरदाश्त नहीं होता, चोद दे अपनी इस गुलाम को… बना दे मेरे चूत का भोसडा!मौसी के मुख से ये बातें सुन कर मुझ में और जोश आ गया, मैंने कहा- मौसी, आज तो तेरी प्यास बुझा के ही रहूँगा!मैंने अपने लण्ड का सुपारा मौसी की चूत पे रखा और एक झटके में पूरा का पूरा लण्ड अंदर पेल दिया.

काफी हद तक थक चुका राजू अब आराम से पलंग पर निढाल पड़ा अपनी भाभी से अपना लंड चुसवा रहा था, मैं कभी उसकी भाभी की चूत मारने, तो कभी गांड मारने में लगा हुआ था. करीब 20 मिनट तक हमारी चुदाई चलती रही, फिर हम एक साथ झड़ गये और मैं मैडम के ऊपर ही कुछ देर ऐसे ही पड़ा रहा, मेरा लंड अभी भी मैडम की चूत में ही था और धीरे धीरे सुकड़ कर छोटा हो रहा था. लेकिन बाली दीदी ने उसे रोक दिया कि ऐसा करेगी तो तेरे बच्चों को एक न एक दिन ये भेद खुल जायगा कि तू राजे से चुदती है.

रुई के फाहे जैसे सुकोमल स्तन जैसे थरथरा कर रह गये, आनन्द की लहरें उनमें हिलौरें लेने लगीं और उसके निप्पल या चूचुक पहली बार उत्तेजित होकर कड़क हो गये जिन्हें मैं अपनी चुटकी में ले के प्यार से यूं उमेठने लगा जैसे घड़ी में चाभी भरते हैं.

वो काफ़ी खुल गई थी, मैंने कहा- कैसा लगा मेरा लंड?वो बोली- ये भी मज़ेदार है जतिन जितना ही!फिर वो आँख मार के हंसी. उनकी गांड देख कर मेरा लंड भी खड़ा हो गया था, मैं चुपचाप खिड़की से देख रहा था।पवन अंकल माँ को बोल रहे थे- सरिता, तेरी गांड बहुत खूबसूरत है. राहुल ने अपने लिए कपड़े ख़रीदे, लेकिन मुझे मेरे लिए वहाँ कुछ नहीं मिला क्योंकि मैं केवल सलवार सूट और साड़ी पहनती थी.

और एक अजीब सी मनमोहक खुशबू बाथरूम में फैलने लगी थी।फिर उसने पानी की धार को अपनी गांड. जांच के बाद डॉक्टरों ने यह भी बताया की माला बिल्कुल स्वस्थ है और उसमें कोई कमी नहीं है तथा वह किसी भी स्वस्थ पुरुष से सामान्य सम्भोग करके गर्भवती हो सकती है.

यूँ तो सदा ही मुझे चुदाई के लिए इंतज़ार करना पड़ता था परन्तु आज न जाने क्यों यह इंतज़ार बहुत दुखदायी महसूस हो रहा था. बस इतने से ही उसके बदन ने झुरझुरी ली और लगा कि उसका रोम रोम तन गया. मैं ऊपर होती थी तब मेरे पति ने कभी भी नीचे से धक्के नहीं दिए थे, यह नई बात मुझे मोहन पेंटर से पता चली, मुझे इस आसन में अजीब सा मजा मिल रहा था, मेरा ऊपर नीचे होना और उसका नीचे से जोरदार धक्कों की वजह से मैं जोरदार तरीके से झड़ गई.

सेक्सी बीपी फिल्म हिंदी

और इसकी चिकनी गांड का भोसड़ा बना दूँगा।आसिफ़- अरे भाई, तुझे जितना पेलना है पेल, इसकी तो आज खैर नहीं.

ऐसे ही एक दिन वो आपस में बातें कर रही थीं तो रजनी मेरी पत्नी को बताने लगी कि उसके हबी इस साल भी नहीं आने वाले…तो हंसी मजाक में मेरी पत्नी बोली- अरे इतना ज्यादा तड़पती है तो मेरे वाले ले जा!वैसे तो यह बात यूँ ही मजाक में कही गई थी, परन्तु आगे से रजनी ने भी नहला पे दहला मारते हुए कहा- तो क्या हुआ जीजू को मैं ले जाती हूँ, लेकिन फिर तू तड़पती रह जायेगी. उसकी सांसें धौंकनी की तरह चलने लगीं, लंड से भरे हुए मुंह से अजीब अजीब सी आवाज़ें आने लगीं. उसके बाद ही अम्मा ने मुझसे छुट्टी पर छोटी बहू के पास जाने की बात और अपनी जगह माला को काम पर लगाने की बात करी थी.

5 मिनट में ही उसने मेरा लंड चूसकर खड़ा और कड़क कर दिया, तबी वो बोली- अब तो चोदना शुरू कर दो. इसको निकाल के वापिस सिर में भेज, नहीं तो यूँही चुतियापा करती रहेगी. सेक्सी ट्रिपल एक्स व्हिडीओफिर इन पर पल्लू क्यों रख दिया?मैं- मुझे लगा कहीं ग़लती से गिर गया हो.

पीस डालो…ऑडियो सेक्स स्टोरी-ऑडियो सेक्स स्टोरी- श्वेता और शब्दिता ब्यूटी पार्लर में लेस्बियन सेक्ससेक्सी लड़कियों की आवाज में सेक्सी बातचीत का मजा लें!मैंने तुरन्त निप्पल को कस के काटा और फिर अपने दाँत चूची में गाड़ दिये. कॉलेज के नए-नए दिन थे, आपको तो पता ही होगा इस वक्त मजा ही कुछ और होता है.

सारी बातचीत के बाद रीना ने पूछा- सैलरी कितनी होगी सर?विक्रम- आपको 8 हज़ार रुपये मासिक मिल पायेगा. ’ बोलने लगी।बाद में वो ठीक हो गई और उसका दर्द खत्म सा होने लगा। अब मैंने खुल कर झटके देने शुरू किए तो वो बोलने लगी कि और जोर से झटके मारो।मैंने दे दनादन चुदाई चालू कर दी. साहिल ने अब उसको चोदते चोदते उसके संतरे चूसना शुरू किया और रेशमा भी अब कमर उचका कर उसके लंड को अपनी चूत में और गहरा ले रही थी.

वो बोली- नहीं ब्रदर… मेरी चूत वैसे भी सूज गई है… अब नहीं झेल पाऊंगी. कुछ देर मुझे चोदने के बाद लंड को मेरे मुंह के पास लेकर आये, मैंने भी उस लड़की की तरह लंड को मुंह में ले लिया, एक कसैला सा स्वाद मेरे मुंह के अन्दर था, साहिल हंसते हुए बोले- दोनों के पानी का आनन्द तुम लो।साहिल ने मुझसे उस लड़की की तरह घोड़ी बनने को बोला. वहाँ एक बार तो साराह को यह लगा कि शादी उसकी तय हुई है या रूबी की विवेक के साथ, पर साराह और रूबी में इतना प्यार और समझ थी कि ग़लतफ़हमी का तो प्रश्न ही पैदा नहीं होता था.

अब तो मैं भी उसको काल करने लगा ताकि वो उठाये और मैं उसका स्वागत गालियों से करूं।पर वो काल उठाती ही नहीं थी।पहले मैं ये सोच कर खुश था कि भाभी होगी मुझसे मस्ती कर रही है, पर भाभी का नाम तो तनु है और वो लोग तो मेहता लिखते हैं।अब मैं यह सोच कर परेशान था कि फिर ‘ये कौन है जो मेरे पीछे पड़ी हुई है?’ऐसे ही दो तीन दिन बीत गये।फिर एक दिन व्हाटसप पर मैसेज आया- सॉरी.

चलो कहीं और चलते हैं।कॉलेज की कैंटीन में लड़के और लड़कियां बैठे नाश्ता कर रहे थे. मैंने दरवाजा बंद किया, उसको बैठने के लिए बोला, और बोला- मैं नहाने जा रहा हूँ.

जा रसोई से ले ले, मुझे सफ़ाई करनी है।सुमन- नहीं माँ आप ही लाकर दो ना प्लीज़ प्लीज़ प्लीज़. उसका तगड़ा शरीर, उसका सेक्स करने का जोश देख कर मैं उसका गुलाम हो गई थी, उसके लंड की, उसके गंदे बोलने की मुझे लत लग गई थी. तो वो मुझसे बोलीं- चुत में ही पानी छोड़ दिया।मैं हैरान होकर खड़ा हुआ तो देखा कि कन्डोम फट कर लंड के ऊपर चढ़ गया था और मेरा लंड पर भाभी की चुत का पानी लगा हुआ था। भाभी की चुत से मेरे लंड का पानी निकल रहा था।वो उठीं और उन्होंने अपनी सलवार उठा कर उससे अपनी चुत अन्दर तक साफ की और मेरे लंड को भी साफ़ करके भाभी बाथरूम में नहाने चली गईं।मैं अपने कपड़े पहन कर घर आ गया। उसके बाद भाभी को जब भी मौका मिलता है.

पहले मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था मगर अब धीरे धीरे मुझे भी मजा आने लगा. आपको एक बात यहाँ में बता देना चाहता हूँ कि मैं किसी का भी नाम, फ़ोन नम्बर या ईमेल आई डी किसी और को नहीं देता और बिल्कुल सेफ रखता हूँ, प्लीज़ मुझसे ऐसे किसी चीज़ की उम्मीद भी न करें. इसलिए मैंने धीरे से वरुण की कमर को पकड़ लिया और वरुण को धीरे से अपने ऊपर आने का इशारा किया!मेरा इशारा मिलते ही वरुण मेरे ऊपर आ गया और मुझे किस करने लगा और मेरे मोम्मे जोर जोर से दबाने लगा.

बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ कुछ ही देर ऐसा ही करने के बाद मैंने उससे पूछा- क्या लोगी?तो वो मुस्कराती हुई मज़ाक करती हुई कहने लगी- ये…और साथ ही मेरे लंड की तरफ इशारा कर दिया. मैं भी नीचे से अपने कूल्हे उठा कर उसका साथ देने लगा और उसकी योनि के अंदर की गर्मी को अपने लिंग पर महसूस करने लगा.

विदेशी चूत चुदाई

नमस्कार दोस्तो, मैंने कम्प्यूटर पर सेक्सी ब्लू फिल्म दिखा कर अपनी घरेलू काम वाली की चूत को चोदा. लेकिन अब वो यहाँ बाथरूम में कहाँ से आई। मैंने मेरी ब्रा देखी तब मुझे उसमे कोई चिपचिपी सी चीज़ लगी हुई मिली। मुझे पता चल गया कि ये वीर्य है और पक्का अविनाश ने ही मेरी ब्रा में मुठ मारी थी।मैंने बाहर आकर देखा तो अविनाश जा चुका था। मुझे बड़ा गुस्सा आया. एक भरे हुए जिस्म की मलिका थी।उसे भी कभी-कभी बहुत गर्मी चढ़ती थी, तो फोन पर ही गर्म हो जाती और कहती कि मिलने आ जाओ। आज मैं तुम्हारी प्रतीक्षा करूँगी।लेकिन मैं मजबूर था.

बहुत देर हो गई है गुडनाईट।और मैं भी भाभी से ‘गुडनाईट’ कह कर घर जाकर उनके बारे में सोचते हुए ही सो गया। फिर सुबह जल्दी उठकर मैं अपने काम पर लग गया। शाम को जल्दी घर पर आ रहा था. उसे देख कर ऐसा लगा जैसे बस एक बार ये मिल जाए तो मजा आ जाये…उसके उरोज बहुत बड़े थे और जब वह झुक कर सफाई कर रही थी तो उसके शर्ट के गले में से मुझे दिख रहे थे. सेक्सी पिक्चर नंगा वीडियोवो मैं पी जाउंगी और उसका स्वाद भी चख लूँगी।तो मैंने वैसा ही किया और उसके मुँह में झड़ गया और अपने वीर्य से उसका पूरा मुँह भर दिया, वो स्वाद लेते हुए सारा वीर्य पी गई।इसके बाद हम दोनों साथ में बाथरूम में जा कर नहाने लगे.

संजय के चेहरे पे एक शैतानी मुस्कान आ गई- अरे ये कौन सी बड़ी बात है, ये देख मेरी फुन्नी रस से भरी हुई है, तू इसको चूस के सारा मज़ा रस निकाल ले।पूजा- ओह वाउ क्या मस्त आइडिया है.

सचिन ने अब अपना लंड मेरी बुर पर रख के रगड़ना शुरू कर दिया और फिर धीरे से अंदर डालना शुरू किया. मैंने अपनी बीच की दोनों उंगली उनकी चूत में डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा.

मैंने सुल्लू रानी से कहा- आजा रानी तू भी ऊपर बिस्तर पे आजा… अपन दोनों एक दूसरे को चूसेंगे… मेरा मन हो रहा कि रानी की चूत के रस का स्वाद चखूँ… लेकिन लौड़ा मुंह से निकलना नहीं चाहिए. अगर मैं आपको प्रेग्नेंट कर दूँगा तो भैया को पता चल जाएगा कि आपका किसी से अवैध संबंध है।तब भाभी ने जो कुछ कहा उसे सुनकर मेरे होश उड़ गए।भाभी ने बताया कि बरामदे में साड़ी चेंज करने का आइडिया तुम्हारे भैया का था। उन्होंने ही ये सब प्लान बनाया था. मॉंटी का मज़ा तो दुगुना बढ़ गया अब वो भी सुमन को देख रहा था और आहें भर रहा था.

यश एक टांग खड़ी करके मम्मी को चोदे जा रहा था झटके पर झटके लगाये जा रहा था.

कभी वो कमर आगे करती, तो कभी पीछे, कभी कमर उछालती और कभी अचानक बड़े ज़ोर का धक्का मारती. उसको किस कर दो।ऐसे ही बहुत से टास्क संजय ने बताए, जिनको सुनकर सुमन दोबारा मायूस हो गई क्योंकि इनमें से एक भी करने की हिम्मत उसमें नहीं थी।सुमन- सॉरी जी आप मुझे मार लो मगर मुझसे ये सब नहीं हो पाएगा, मैं ऐसी लड़की नहीं हूँ।टीना- आह. ये मेरे से नहीं हो सकता टीना तुम बात को समझो ये उफ़फ्फ़ कैसे होगा ये?टीना- ओके मत करो.

वीडियो sexस्वाति का पति अक्सर काम के सिलसिले में दिल्ली से बाहर ही रहता था लेकिन मैंने कभी इस बात का मौका उठाने का नहीं सोचा था।हम दोनों आपस में काफी बात करने लगे थे, स्काइप पे वीडियो चेट, व्हाट्सऐप हर वक़्त हम लोग टच में रहते थे. वो फिर कभी बताऊंगा।मेरी हिंदी चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, ज़रूर बताएं।[emailprotected].

जंगल में चुदाई वाला वीडियो

आपसे मिलाने के लिए माला और बालक को मैं थोड़ी देर बाद घर जा कर ले आऊंगी. अभी कविता के स्कूल टूअर की बातें चल रही हैं। टूअर के दौरान एक सर ने बस को अपने रिश्तेदार के गांव में रुकवाया और सभी को नहाने के लिए नदी में ले गये। वहाँ पर कविता ने रोहन के कपड़े उठा कर लाकर बस में रख दिए। कुछ लोगों को कविता की इस हरकत पर शक हुआ, पर रोहन ने बात खत्म करने को कह दिया।बस में ही रोहन और कविता के बीच कपड़े छुपाने वाली बात का खुलासा भी हो गया।अब आगे. कैसे लटक रहा है।टीना- अरे पागल ये शुरू में गंदा लगेगा लेकिन जब तुझे सब समझ आ जाएगा तो फिर बहुत मज़ा आएगा। अब गौर से देख.

दस पंद्रह शॉट में ही मैं तो चरम आनन्द को प्राप्त होकर विस्फोटक रूप से स्खलित हुई, चूत से मलाई की बरसात होने लगी, चूत तेज़ी से बंद खुल बंद खुल करती हुई मलाई से राजे के लौड़े को भिगोने लगी. सचिन ने करीब दस मिनट तक अपनी जीभ से मेरी बुर अंदर बाहर से चाट ली थी. सुबह 6 बजे मुर्गे की कुकडू कूँ से फिर आंखें खुलीं तो सूरज निकल चुका था.

उसकी चुत की खाज जो बड़ी हुई थी और इस तरह ये सेक्स स्टोरी बन गई।आप अपने मेल लिख सकते हैं।[emailprotected]. मैं नीचे आया और बाइक चालू करके सीधा मेडिकल गया और कंडोम और वियाग्रा टॅबलेट ली, जनरल स्टोर में जाकर थम्स अप की एक बोतल ली, रूम में आकर कपड़े बदले. तभी दिमाग में ख्याल आया क्यों ना इसे पटाने की कोशिश की जाये।थोड़ी देर तक यही सोचता रहा.

ये बात मुझे तब पता चली, जब मेरी क्लास के एक लड़के ने मुझे लव लैटर दिया।मैंने वो पढ़ा तो मुझे बहुत गुस्सा आया।मैंने ये बात अपनी एक सहेली को बताई।वो बोली- तेरी तो निकल पड़ी यार. मुझे परेशान देख कर अम्मा बोली- साहिब, मुझे लगता है कि आप बालक और माला को देखने एवम् मिलने के लिए बहुत व्याकुल हैं.

मैंने धीरे से अपने लण्ड को उसकी चुत में प्रवेश कर दिया, उसने मेरा पूरा सहयोग दिया.

उस दिन हम दोनों खूब घूम घूम कर सारी सोसाइटी में बड़ी मुस्तैदी से ड्यूटी की. पाकिस्तानी ब्लू सेक्सी वीडियोअब हम दोनों भाइयों जैसे दोस्तों ने एक आखिरी बार नताशा का मुंह चोदने का फैसला किया, पहले मैंने अपनी बीवी के मुंह में अपना लंड डाल कर उसे चोदना चालू किया ही था कि राजू भी अपना लंड लेकर उसके मुंह में घुसने को उतावला हो उठा. सुहागरात सेक्स पिक्चरमैं उनकी भी शिकायत प्रिन्सिपल से कर देती थी, इसलिए मेरी कोई सहेली नहीं बनती थी। बस एक ही लड़की थी जो शुरू से 12 वीं तक मेरी बेस्ट फ्रेंड रही और अब वो भी मुझसे दूर हो गई। उसका एड्मिशन हमारे कॉलेज में 12 वीं में नो काम आने से नहीं हो पाया।टीना- अच्छा कौन थी वो. लंड को निशाने पर लगा कर बिना उसकी कुछ सुने, बस धकेलता गया। वो चीखते हुए मुझे पीछे को हटाती रही.

उसके बाद चिंटू ने एक और काम के सिलसले में चला गया और थोड़ी देर में आने के लिये बोल कर चला गया.

और सुबह दादी माँ की निगाह बचा कर कहीं भी उसे चोद देता हूँ।मुझे अपनी इस बहन की बुर चुदाई की कहानी पर आपके मेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]. मैं ऑनलाइन काफ़ी सारी सेक्स स्टोरीज पढ़ती हूँ। मैं भी काफी दिनों से अपनी सच्ची कहानी लिखने की सोच रही थी और आज मैं आप लोगों को मेरी सच्ची चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ। मेरी हिन्दी काफ़ी अच्छी नहीं है. बिस्तर गीला हो चुका था और स्वाति का बदन ढीला पड़ चुका था इसलिए वो अब नीचे से कुछ रिस्पांस नहीं कर रही थी लेकिन मैं उस वक़्त भी अपनी चरम सीमा में था और उसके रोकने पर भी मुझसे कंट्रोल नहीं हो पर था इसलिए मैं उसकी मर्ज़ी ना होते हुए भी उसे जम के अभी भी चोद रहा था.

उसने मुझे गलत तरीके से छुआ और सभी लड़कों के साथ मिलकर मेरा मजाक उड़ाया, ऐसे में तमाचा ही खायेगा ना. वैसे तो टीना भी उससे मिलना चाहती थी क्योंकि आज उसके नहीं आने का कारण उसको पता था कि हो ना हो. अब तो हर शुक्रवार को मैं राजे के घर आ जाती हूँ और तीन दिन खूब चुदती हूँ.

घड़ी बीएफ वीडियो में

सारा मूड खराब कर दिया।टीना धीरे से संजय के पास गई और उसके लंड को सहलाते हुए कहा- अरे नाराज़ क्यों होता है, मेरे ये होंठ किसी चुत से कम हैं क्या और साथ में ऐसा नजारा दिखाऊंगी तुझे कि 5 मिनट में तू पानी फेंक देगा।संजय सवालिया नज़रों से टीना को देख रहा था और टीना उसके लंड को पेंट से आज़ाद कर रही थी। टीना ने पेंट उसके घुटनों तक खिसका दी और अंडरवियर को भी नीचे कर दिया।संजय का 8″ का लंड आज़ाद हो गया. मेरी दोनों तरफ से चुदाई हो रही थी, अब मुझे भी मज़ा आने लगा था, मैं अब मज़े से चुदवा रही थी, मुझे इतना मज़ा कभी नहीं मिला था मुझे चूत से ज़्यादा अब गांड मरवाना अच्छा लग रहा था. पेंट नीचे खिसकाया उसका अंडरवियर नीचे खिसकाया।अब वह खुद उल्टा पलट गया तो मैं उसके ऊपर चढ़ गया। इधर-उधर देखा कहीं कोई नहीं था। मुझे तेल क्रीम न दिखी.

इसलिए दीदी को दर्द हो रहा था।फिर कुछ धक्कों के बाद दीदी नॉर्मल होकर सुनील का साथ देने लगीं, अब दीदी ‘फक मी फक मी.

इधर सुहाना का हाथ भी अपने रस से गीला हो गया था, वो अपने हाथ को मेरे मुंह के पास लाई, मैं समझ चुका था कि वो क्या चाहती है, मैंने उसके हाथ को चाटकर साफ किया।जब दोनों ने एक दूसरे का चाटकर साफ कर लिया तो मैं और सुहाना फिर एक दूसरे के अगल-बगल लेट गये, सुहाना ने मेरे पैरों पर अपने पैर चढ़ा लिए.

चुदाई की मस्ती में मुझे बुआ की चुत में से इत्र की तरह महक आ रही थी।बस उनकी पांच साल से सूखी बुर को किस करते और चाटते हुए लाल कर दिया। उनके मुँह में मैंने उंगली डाल रखी थी. मेरा हथियार अब मेरी जींस को फाड़ने पर आमादा था और मुझे वहां दर्द भी होने लगा था. एक्स एक्स सेक्सी ब्लू पिक्चर7-8 मिनट बाद वो झड़ गई, उसके पानी का स्पर्श होते ही मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया.

बहुत देर तक उन यादों में खोये रहने के बाद मुझे पता ही नहीं चला कब नींद आ गई और अगला दिन शनिवार होने के कारण मैं देर तक सोता रहा. उन पर टंके हुए से भूरे निप्पल गजब लग रहे थे। उसकी चुत भी एकदम चिकनी थी और थोड़ी फूली हुई भी थी।गोपाल- अरे क्या बात है जानेमन. उन्होंने बहुत टाइट ब्रा पहनी हुई थी, जिससे उनके मम्मों के बीच की दरार इतनी कसी हुई थी कि उसमें एटीएम कार्ड भी नहीं घुस सकता था।फिर मैंने भाभी के मम्मों को दबाया और उनकी ब्रा खोल दी। जैसे ही भाभी की ब्रा खुली.

मैं उठना चाहती थी लेकिन उसने मुझे कस कर जकड़ा था, मैं चिल्लाने लगी- मुझे गांड नहीं मरवानी है… प्लीज, मेरी गांड मत मारो, मेरी गांड फट जाएगी!लेकिन तभी मेरी गांड पर मुझे लंड महसूस हुआ, मैंने कहा- प्लीज, धीरे करना!उसने थोड़ा ज़ोर लगाया और उसका टोपा मेरी गांड में घुस गया, मैं चिल्लाने ही वाली थी कि दूसरे ने मेरे मुंह में अपना लंड डाल दिया. मैंने देखा कि माँ अपने हाथों से आलोक के लंड को ऊपर नीचे कर रही थी, माँ ने अपनी साड़ी खोल दी और अपने ब्लाऊज निकाल कर चूची नंगी कर ली.

थोड़ी देर में चिंटू ने उनका गर्म माल मेरी गांड में निकाल दिया और लंड को बाहर निकाल लिया.

तभी दूसरा नीचे लेट गया, मैं उसके लंड की सवारी करने लगी लेकिन चार पाँच झटकों के बाद वो रुक गया और मुझे अपने ऊपर झुका कर मेरे होंठ को चूसने लगा. थैंक्स!’ कहा।मैंने भी उसे ऐसा ही जवाब दिया और पास रखे क्रीम कलर की नेपकिन को पकड़ कर अपने शरीर को साफ करने लगी तो मुझे अहसास हुआ कि नेपकिन में तो वीर्य के साथ खून भी दिख रहा है. नीचे से एंड्रयू का लम्बा लंड चूत के छिलके उतार रहा था, तो पीछे से स्वान का मोटा लंड गांड की बखिया उधेड़ रहा था.

सेक्सी ब्लू ओपन वीडियो रीना रानी ने आवाज़ दी- कहाँ जा रही है रंडी? वापिस आ फ़ौरन!सुल्लू रानी बोली- क्या बाथरूम भी न जाऊँ रीना? बड़े ज़ोर की सुस्सू लगी है. अंजलि के एकबारगी सिसकारी निकल गई- ह आह्ह आह हय ईई ईई हई उफ़्फ़ ह्म्फ़…उसके मुँह से सिसकारियों की आवाज बढ़ती ही जा रही थी, तभी वो अपनी कमर तेजी के साथ हिलाने लगी और अटक अटक कर बोली- हाँ आ.

आंटी खड़ी होकर बोली- ले मैंने आँखें बंद कर ली, अब बता!मैं आंटी के पास गया और उनकी उनकी साड़ी नाभि से नीचे करके उनकी नाभि को जीभ से चाटते हुए बोला- मुझे आपकी नाभि बहुत अच्छी लगती है. मेरी हथेली उसकी कमर से लेकर ऊपर गर्दन तक फिसलती रही, बीच में कहीं कोई अवरोध महसूस नहीं हुआ, मतलब साफ़ था कि वो ब्रा नहीं पहने थी. जब तक वो जमा हुआ पुराना रस इस अंग से शीघ्रता से स्खलित नहीं होगा तब तक ये मुहाँसे नहीं जायेंगे.

गुजराती sex

अगले हफ्ते रामू काका ने मुझे कहा- आज रात को 12 बजे के बाद हम ड्यूटी से वापिस अपने क्वाटर में आ जाएंगे. उसने मेरे मुँह में पेलना शुरू किया।मुझे धीरे-धीरे मज़ा आने लगा, एक तो लंड की खुश्बू, वो भी बिना धुला हुआ लंड और साथ ही इतना तगड़ा लंड। मैंने लंड को हलक तक लेने की कोशिश की और जोर-जोर से चूसना शुरू कर दिया।रमीज़- शाबाश गांडू, तुझे हमने पहली नज़र में सही पहचाना था कि तू हमारे काम का ही बंदा है।मैंने अपनी वेस्ट उतार दी. मेरे भरे हुए नग्न शरीर के कारण रवि का लंड सातवें आसमान की ऊंचाइयों को छू रहा था.

उस पर तरस तो आया पर हिम्मत नहीं हुई उससे नज़रें मिलाने की… उसके इस सवाल के बाद!एक दिन मुझे कॉलेज की फीस भरनी थी तो मैंने पिता जी को फोन कर दिया. मैंने उसको लंड चुसाने का मन बनाया, मैं लेट गया और उसके सर को नीचे धकेला, वो नए जमाने की लड़की थी, उसको अंदाज़ा हो गया कि मैं क्या चाहता हूँ, वो नीचे आई और मेरे पैरों पर बैठ कर मेरे लंड को सहलाने लगी, झुक कर मेरे लंड को चूमा और एक बारगी मेरे लंड को मुँह में ले लिया.

जिससे अमिता की गांड और चूत से रस टपकना शुरू हो गया।अमिता मज़े से जोर-जोर से सिसकारने लगी- उई आह आह.

तभी मैं उसके कपड़ों को निकालने लगा उसने फिर मुझे रोककर खुद ही उसके पूरे कपड़े निकाल दिए और फिर से मेरे लंड को चूसने लगी. मैंने उनसे उनके बारे में जानकारी मांगी तो पता चला कि वो भी इंदौर से ही है, उनकी शादी को छः साल हो गए हैं… उनकी पांच साल की एक बेटी है, उनके पति का व्यवसाय है जिस वजह से वो बहुत व्यस्त रहते हैं, वो करिश्मा भाभी पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते हैं तो वो बहुत अकेलापन महसूस करती थी और इसीलिए मुझसे दोस्ती करना चाहती थी. रूबी ने नीचे डाइव मारी और विवेक का लंड हिलती आगे निकल गई अब विवेक भी कहाँ चूकता उसने पीछे से रूबी को पकड़ा और मम्मे जकड़ लिए उसके… अब वासना चरमोत्कर्ष पर आ गई थी.

‘अगर तुमने वादा कर ही दिया है तो कोई बात नहीं लेकिन फिर भी एक बार और गहराई से सोच लो. अब मैंने लंड को धीरे से थोड़ा बाहर किया और फिर एक ज़ोर का धक्का देकर पूरा अंदर डाल दिया जिसकी वजह से मैडम की चीखने की आवाज़ मेरे मुँह में दबकर रह गई. जब हम मूवी देख रहे थे तो मैंने उसका हाथ पकड़ा उसने कुछ नहीं बोला, आराम से पकड़ लिया।मेरी हिम्मत बढ़ गई, मैंने उसकी जांघ पर हाथ रखा तो उसने मेरी तरफ देखा और स्माइल कर दी.

इस कारण भाभी मुझे कुछ नहीं बोली बल्कि उन्होंने मेरे हाथ पर अपना हाथ रख लिया।थोड़ी देर बात और हिम्मत करके मैंने मेरा एक पैर भी उनके ऊपर रख दिया और जताया कि मैं बहुत गहरी नींद में हूँ।मेरा घुटना भाभी की चूत पर टच हो रहा था.

बिहारी सेक्सी भोजपुरी बीएफ: नाक लगा के सूंघा, फिर जूसी से बोला- जूसी रानी तेरी बहन पास… मैं कर दूंगा इसकी चूत को शांत… मस्त गुलाबी गुलाबी चूत है हरामज़ादी की बिल्कुल तेरी रसीली चूत जैसी… मज़ा आएगा दोनों कमीनी बहनों को चोद के!मैं जानती थी इस ड्रामा का अंत तो यही होना था. ’ की आवाज़ आई।मुझे थोड़ा डाउट हुआ तो मैंने हल्का से गेट ओपन किया, वहां लाइट ऑफ होने की वजह से कुछ साफ़ दिखाई नहीं दे रहा था। बस इतना दिख रहा था कि भाई ने मेरा गाउन पहना हुआ है और विग लगाई हुई है।मैं सोच में पड़ गई कि ये क्या हो रहा है। वो डिलीवरी बॉय बेड पर बैठा था और भाई उसके पैरों के बीच में बैठकर उसका लंड चूस रहा था। मेरा तो ये सब देखकर बुरा हाल हो गया और मैं पागल सी हो गई.

लेकिन बाली दीदी ने उसे रोक दिया कि ऐसा करेगी तो तेरे बच्चों को एक न एक दिन ये भेद खुल जायगा कि तू राजे से चुदती है. आपको जबरदस्त चुदाई की यह कहानी कैसी लगी, आप मुझे अपने सुझाव मेरी ईमेल पर जरूर देना।[emailprotected]. नमस्कार दोस्तो, मैं कमल राज सिंह, आपका पुराना दोस्त, एक बार फिर अपनी कहानी लेकर हाज़िर हूँ।दोस्तो मेरी उम्र 27 वर्ष, कद 5 फीट 10 इंच, सीना 44 इंच है, मैं एक मज़बूत बदन का पंजाबी लड़का हूँ।मैं चंडीगढ़ में एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता हूँ, अपने मम्मी पापा जो रिटायर्ड हैं, के साथ अपनी बड़ी सी कोठी में रहता हूँ.

फिर नहीं होगा।मैंने फिर से जोर से एक धक्का दे मारा और इस बार मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुसता चला गया, वो दर्द से तड़फ उठी, वो बोली- प्लीज़ निकाल लो.

वो बड़ी निश्चिंत सी होकर बेड पे लेट गई- अब जितनी जान है तेरे मे, पूरी जान लगा दे, जब तक मैं न कहूँ, तू रुकना मत और झड़ना मत. मैंने अपनी आंटी के घर उनकी किरायेदार भाभी को देखा और समझ गया कि भाभी का सेक्स का मूड है, ये भाभी चुदाई करवा लेगी. भाभी ने खेला मेरे बर्थडे पर चुदाई का खेल-1अब तक आपने इस सेक्सी स्टोरी में पढ़ा कि भाभी अपनी कामुकता भरी हरकतों से बार बार मेरे लंड को खड़ा कर देती थीं लेकिन फिर मुझे मुठ मारने के लिए छोड़ देती थी।अब आगे.