किस करने वाला बीएफ

छवि स्रोत,औरत की सूची

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म देसी चुदाई: किस करने वाला बीएफ, लेकिन रवि मामा यह कहते हुए नहीं उतरे कि उन्हें खेत पर जाना है और वो वहीं सोएंगे.

सेक्सी घोड़ा की फिल्म

मेरा पेनिस खड़ा होकर उसकी पूसी पर दवाब बना रहा था, वो पूरी तरह गर्म हो चुकी थी और अपने दोनों पैर मेरी कमर के बाहर लपेट रखे थे।उसके बाद मैंने अपने दांतों से खींचकर उसकी ब्रा निकाल दी और रितिका के दूधिया बूब्ज़ चूसने लगा. फोन काट दे मम्मी आ गई क्याअच्छे से पेल के मेरे यार ने मेरी बहन के पूरे मज़े लिए और फिर उसकी गांड में गुड़ मॉर्निंग कर दी.

मेरी हालत में सुधार लाने के लिए उसने मुझे एक दूसरी लड़की का नंबर दे दिया. बेबी नेम्स गर्लउसके आते ही मैंने उसके होंठों पर एक ज़ोर का किस किया और वो भी मुझे किस करने लगी.

मैं इस वक्त भाभी को फुल रफ्तार में चोद रहा था और भाभी आवाजें कर रही थी.किस करने वाला बीएफ: काफी मना करने के बाद भी जब वो नहीं मानीं, तो मजबूरी में मैंने ये सब ले लिया.

फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी मैक्सी के अन्दर से ले जाकर उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया.मैं यह देखकर हैरान हुआ, और खुश भी कि उन्होंने कोई कपड़े नहीं पहने थे, पूरी तरह नंगी, चादर में लिपटी सोई थी.

तेलुगु गर्ल सेक्स - किस करने वाला बीएफ

अब मैंने धीरे से उंगली को चूत में डालनी स्टार्ट कर दी और मेरी उंगली अंदर चूत में आराम से घुस गई.मैं भी बाथरूम में गई और मैंने फालतू का सामान बाहर निकाल दिया क्योंकि उस सामान का गिरने का डर था.

पैंटी बेहद गीली थी और उसमें अजीब सी बदबू आ रही थी। पैंटी फेंकने के बाद अनन्त ने दीदी की जांघों को फैलाया और अपना मुंह उनकी टांगों के बीच में लगा दिया. किस करने वाला बीएफ आज मेरी चूत को फाड़ दो, आज कुछ भी हो जाए लेकिन मेरी चूत फाड़े बगैर मत झड़ना … आआह और ज़ोर से … उउउईईई अम्मी … आहह.

मैंने दीपक से चौंकते हुए पूछा- यह तुम क्या कह रहे हो? तुमने अपनी भाभी को चोदा है?हां यार … मैं सच कह रहा हूं!” दीपक बोला.

किस करने वाला बीएफ?

जब मेरी उम्र जवान लौंडे की हुई, तब रवि मामा की जवानी भरपूर निखर चुकी थी और अब वह मुझे बहुत अच्छे लगते थे. रवि मामा की हाइट 5 फिट 10 इंच के करीब थी, मतलब खानदान में सबसे ऊंचे लंबे आदमी थे. इसी समय मेरे दिल का पुराना कीड़ा फिर से ज़िंदा हुआ और फिर से दिल उनके मस्त लंड का स्वाद चखने और उनके जिस्म का आनन्द लेने के लिए मचलने लगा.

मेरे अन्दर जाते ही उसने दरवाज़े को लॉक कर दिया और वह मेरे लिए जूस लेकर आ गई. खैर हमारी बातें होने लगी और मुझे लगने लगा कि मैं उसे पसंद आ गया हूँ तो मैंने भी फ़्लर्ट करना शुरू कर दिया. मैं उसकी पगड़ी को पकड़ कर खुद ही अपने चूतड़ उठा उठा अपनी योनि उसे चाटने को प्रेरित करने लगी.

’‘क्या दीदी! आप भी …’‘वैसे एक बात है, जब मम्मी यहां आयी थीं, तब तो तुम लोगों को बड़ी मुश्किल हुई होगी, क्योंकि मम्मी के सामने तो दीदी ऐसे नहीं रह सकती. उसका सांवला रंग, अच्छी देह और सवा पांच फुट की हाइट, उस पर तने हुए मस्त बोबे, चौड़ी गांड … बड़ी मस्त माल में बदल चुकी थी वो. भाभी जोर जोर से कमर हिलाने लगी और बोलने लगी- जोर से जीजा जी … जोर से आहहह … मेरा काम होने वाला है!और इंदु ने अपने पैरों से मेरे कमर को जकड़ लिया.

साथ ही अपने चेहरे यानि नाक, गाल, होंठ और ठुड्डी से लंड के हर कोने को रगड़ने लगी. अब बताओ क्या तुम अपनी दीदी को अपनी पत्नी मानने के लिए तैयार हो?उस वक्त मुझे याद आया, जब मैं कैंटीन में था.

जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो उसने कह ही दिया- आह्ह … दीपक, अब और नहीं रुका जा रहा.

उसने पूछा- कहां जा रहा है?मैंने नवीन को पकड़ लिया और वहीं उसको गले से लगा लिया.

उसने कहा- मैं क्या छोटा बच्चा हूँ अब?हम दोनों में झगड़ा शुरू हो गया. उसकी चूचियों को हाथ से मसला और उसकी दोनों टांगों को थोड़ा चौड़ा करके अपने लंड को हाथ से पकड़ कर उसकी चूत के छेद पर लगाया. क्या बात है?मैंने डर के मारे कुछ नहीं बोला और उसके बाद अनुष्का ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया.

मैं सोचने लगी कि अब मम्मी जी क्या करने गईं … या अब क्या करने वाली हैं. सोनू कहने लगी- वह तो है ही, तभी तो मेरे पापा मम्मी के ऊपर चढ़े रहते हैं. वो पहली चुदाई से लेके पूरी रात और सुबह तक नंगी ही रही और मैं भी यूं ही नंगा बना रहा.

यह पहला इस तरह का एहसास था, मुझे अपने आप ही लगने लगा कि मामा बस कुछ कर दें, मेरी यह तड़प मिटा दें और मुझे छोड़ें नहीं, बस ऐसे ही बांहों में कसे रहें.

फिर उसने एकदम से लंड को बाहर से रगड़ते हुए चूत में एक झटका देते हुए अंदर कर दिया. फिर संडे को उनका मैसेज आया कि उन्हें कहीं जाना है, क्या मैं ले जाऊंगा?मैंने हां कर दी. इस बार सारा पहले से ज्यादा तेज़ चिल्लाई, सारा के आंसू निकल आये थे, पर मैं कहां मानने वाला था.

कई बार वहां कोई लड़की मिल जाती है, लेकिन ज्यादातर लड़कियों के नाम पे वहां सब लड़के ही होते हैं. लण्ड खड़ा हो गया तो तुरंत बाथरूम में गया और मुठ मार कर बाहर आ गया।थोड़ी देर में भाभी ने खाना बना दिया और कहा- देवर जी खाना खा लो. यदि आपको मुझसे कहानी के बारे में कुछ और कहना है अथवा अपने विचार रखने हैं तो आपका स्वागत है.

उसके बाद हम लगातार तीन दिन ऋषिकेश घूमे और बहुत बार प्यार भरी चुदाई की रितिका के साथ बिताए.

मैंने पता नहीं कहां से हिम्मत जुटाई और अपना हाथ उसकी कमर पर रख दिया. बाहर आकर कहने लगे कि सपना तुम भी अपने आप को बाथरूम में जाकर साफ कर लो.

किस करने वाला बीएफ वह बोली- पागल हो गये हो क्या? मरवाओगे मुझे?शिखा ने मना कर दिया तो मेरा मन उदास हो गया. इसी के चलते मैंने अपनी लुल्ली निकाल कर दिखा दी और इसके बाद बड़ी ही उम्मीद के साथ रवि मामा से अपना लंड खोलकर दिखाने को कहा.

किस करने वाला बीएफ अब मैं हर रोज जिम से आते ही सीधा भाभी के घर जाने लगा और रसोई में भाभी के साथ खड़ा होकर अंडे उबालता था. मैं भी अपने एक पैर के अंगूठे से उनकी चुत को पेंटी के ऊपर से ही कुरेदने में लग गया, जिससे उनकी सांसें तेज़ होने लगीं.

इधर मैंने झड़ते समय अपने मुँह से मैडम की चूत को चूसना छोड़ दिया था जिससे मैडम की गांड फिर से उछाल मारते हुए अपनी चूत को मेरे मुँह पर मारने लगी थी.

जंगली लोगों की सेक्सी पिक्चर

इसके बाद सुदीप का जब भी मन करता है, वो मुझे चोदने मेरे रूम पर ही आ जाता है. जब मेरा लंड शांत हो गया, तब मैं उसके ऊपर से हटा और अपने लंड को उसकी चुत से बाहर निकाला. तुम्हारे आइसक्रीम के लिए पैसे कौन देता है?”कभी कभी पापा दे देते हैं.

मेरा खड़ा हुआ लंड उसकी चूत की चुदाई कर रहा था और हम दोनों ही मजे ले रहे थे. यह कहते हुए उसने अपने मुलायम होंठों की पंखुड़ियां मेरे होंठों पे फैला दीं. तभी अचानक सोनिया वहां आ गई और उसने बुआ से पूछा- क्या बात है, आप रो क्यों रही हो?तो बुआ ने उसे पूरी बात बता दी.

उसने एक जगह दिखा कर मुझे बताया- तुम जब चाहो ले जाओ और फिर छुपा कर रख देना.

मैंने वो गोली भी खा ली।तो दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी यह पहले सेक्स की घटना जिसमें मेरे चाचा ने मुझे यानि अपनी भतीजी को चोद कर कली से फूल बना दिया. उसने मुझसे कहा- अगर आप रोज दूध लेती हैं, तो ले जाइए बाद में पैसे दे देना. तो बोले- हां तू चला जा, इस लड़की को यहीं छोड़ दे … क्योंकि ये तो अब हमसे यहां से चुदवा के ही जाएगी.

वह आकर मेरे साथ बेड पर लेट गयी और हम दोनों एक-दूसरे को किस करने लगे. वह बहुत धीरे-धीरे और बड़ी अदा से बात करती थी, आंखें हमेशा उनकी ऐसे रहती थी जैसे उन्होंने ड्रिंक किया हो. मैं भी अपनी गांड के छेद का सत्यानाश करवाते हुए बोली- आह मेरे लाल आअह्ह … चोद दे … मेरी गांड को भी फाड़ दे … आअह्ह … उफ्फ्फ आई लव यू वंश माय बेबी … उम्म्महह!वंश बोला- आई लव यू टू मम्मी मेरी जान उफ्फ्फ… आआहह … क्या गांड मरवाती हो!गांड में उसके लंड के साथ मैं अपनी चूत के दाने को भी मसले जा रही थी.

घर में घुसते ही भैया ने आवाज लगाई- भावना डार्लिंग कहां है तू … अब रंग लगवाने को तैयार हो जा. मैं बस यही सोच रही थी कि आखिर यह मुझे इस तरह से एकटक घूर क्यों रहा है?थोड़ी देर बाद जब मैं अन्दर गई, तो वह लड़का मेरे आगे पीछे होने लगा, नाश्ता की ट्रे लेकर आया और मुझे दो प्लेट नाश्ता दे गया.

मैंने भी बेशर्म बनते हुए अपनी पेंट में हाथ डाल कर अपने लंड को एक दो बार मसला. अब मेरे मामा का लड़का, जिसका नाम धीरज था, मुझ पर बहुत ज़्यादा नज़र रखने लगा. मेरा लण्ड सही जगह रख कर मैंने धीरे-धीरे दबाव बनाना शुरू किया तो मेरा सुपारा थोड़ा अंदर गया … मेरी आंखें सलोनी के चेहरे पर ही थीं.

उसकी चुत को हाथों से चौड़ा करके मैंने लंड को उसकी चुत की फांकों के अन्दर रख दिया.

अम्मी भी अब्बू के लंड को हाथ में लेकर हिलाने लगी और 69 पोजीशन में आकर अब्बू का लंड चूसने लगी. मगर फिलहाल मेरी चूत में इतनी गर्मी भरी हुई थी कि बस चाह रही थी कोई उसके अंदर लंड को डाल दे, चाहे लंड छोटा हो या बड़ा. कंडोम पहनते ही मैडम ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरा लंड अपने हाथ से चूत पर सेट कर लिया.

मुझे तो खुद को भी अपने स्तनों को हाथ लगाने में शर्म आती थी और इधर मेरा स्तन आराम से अंकल के हाथ में आ गया था. दोस्तो और सहेलियो … कैसी लगी मेरी और पायल की ये और एक चुदाई की कहानी.

उसने मेरी जीन्स को खींचकर निकाल दिया, साथ ही मैंने अपने अंडरवीयर को उतार दिया. वह मचल रही थी और बार बार अपनी कमर उठा कर मेरे लिंग को अपनी योनि में प्रवेश करवाना चाह रही थी. मर्दों को तो ऐसे सुडौल और गोल चूतड़ खुले ही ज्यादा आकर्षित करते हैं.

नाइटिसेक्स

अनन्त के पास जाते ही दीदी ने उसके लंड को पकड़ लिया और अपने हाथ में लेकर उसको सहलाना शुरू कर दिया.

अब मैं झड़ने के करीब था तो मैंने पूछा- कहाँ निकालूं?उसने अंदर ही निकालने को कहा और बोली कि मैं तुम्हारा वीर्य अंदर ही महसूस करना चाहती हूँ।मैं जोर से धक्के देने लगा. इधर मेरा नसीब जाग गया और मुझे भाभी के साथ सुहागरात मनाने का मौका मिल गया. आख़िर वो घड़ी भी आ गई और धीरज ने अपना लंड मेरी बुर पर रखा और मेरे मुँह पर अपना मुँह रख कर और मेरे मम्मों को जोर से दबा कर एक कस कर लंड का बुर पर धक्का मारा जिससे लंड का टोपा मेरी कुंवारी बुर में घुस गया और मैं दर्द से बिलबिलाने लग गई.

आशीष बोला- यार तू जबरदस्त है मुझे क्या हर लड़के और मर्द को तेरे जैसी सेक्सी गर्ल फ्रेंड और वाइफ चाहिए. सारा आपा ने मुझे बताया कि इमरान के कमजोर लंड के कारण उसकी सील अब तक नहीं टूटी है … और आज मैं उसकी सील तोड़ दूँ. செக்ஸ் மலையாளம்मैंने अपने हाथ से पहले तो उससे थोड़ा खेला और उसकी गोटियों को चूमना और चूसना शुरू किया, फिर धीरे से अपनी जीभ से उसके टोपे को चाटना शुरू किया.

मेरे लंड में बहुत ज्यादा तनाव था क्योंकि पहली बार मैं किसी लड़की के साथ इस तरह का आनंद ले रहा था. फिर जो लड़का कैमरे से शूट कर रहा था, वो बोला- भाई इसको उल्टा कर दे, फिर जींस खोल … वीडियो में गांड पहले दिखानी है.

मैं उनकी बातें ध्यान से सुन रही थी, तभी मेरी चुत के अन्दर से कुछ रिसने लगा, रस सा आने लगा. उनके बॉब कट घुंघराले बाल थे, बड़े करीने से वह साड़ी पहनती थी, स्लीवलेस ब्लाउज़ में उनकी बड़ी-बड़ी खड़ी चूचियां और साड़ी में कसी हुई उनकी भरी हुई गांड किसी भी आदमी को अपनी तरफ आकर्षित कर लेती थी. उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा- विशु बेटा आज तुम यहीं रुक जाना और हमारे साथ ही खाना खा लेना.

अनुष्का वर्मा की गांड फिल्मों में ज्यादा बड़ी दिखाई नहीं देती मगर वह मेरे मोटे लंड को आराम से खा गई. भाभी ने एक लंबी सांस ली और मुझे अपनी छाती के ऊपर हाथों से खींच लिया और ज़ोर से जकड़ कर आह … आह … करते हुए अपना पानी छोड़ दिया और टांगें सीधी कर दी. मैं भी गांड उछाल कर उसका साथ देने लगी, उसे कसके पकड़ लिया, उसकी पीठ और उसके कूल्हों पे अपने नाख़ून से खरोंचती हुई चुदती रही.

उसने एकाएक मेरे चेहरे को पकड़ा और रोकते हुए कहा- सारिका जी बुरा न मानो तो एक बात कहूँ?मैंने कहा- हां कहिए?उसने अब अपने मन की बात कहनी शुरू कर दी- सारिका जी सेक्स तो सभी करते ही हैं पर कुछ अलग करने का मजा अलग ही है.

उस दिन माँ, बाबा गांव चले गए थे तो मैंने ही उसे अपने घर सोने के लिए बुला लिया. माँ व पापा अपने कमरे में चले गये और मैं ड्राईंग रूम में लेट गया। फिर मैंने पूनम के फोन पर एक मेसेज़ किया और साथ में ही उसने जवाब दे दिया।मैंने पूनम से कहा- जब मामा सो जायें तो मेरे पास ड्राईंग रूम में आ जाना!तो वो मान गयी।फिर मैं पूनम से मेसेज़ पर चैट करता रहा.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:मैं सम्भोग के लिए सेक्सी डॉल बन गई-3. लेकिन जैसा मैंने ऊपर बताया था कि मैं शुरूआत मामी से करवाना चाहता था, इसलिए मुझे थोड़ी राह देखनी पड़ी. और रही बात कि भाभी मुझसे चुदवायेगी या नहीं? तो पहली बात तो कि जब वह दीपक से चुदवा सकती हैं तो किसी और गैर मर्द से चुदवाने में वह बिल्कुल नहीं हिचकेंगी और भाभी मुझसे चुदवा लेगी.

मैं अपने अनुभव से कहूँ, तो जब कोई मर्द मुझे देख उत्साहित हो सकता है, उत्तेजित हो सकता है, कामुक हो सकता है और किसी भी हद को पार कर सकता है, तो फिर प्रीति जैसी महिला के लिए तो कोई भी मर्द मर तक सकता है. उसने अब निश्चय कर लिया कि अबकी बार जब ननकू गाँव आयेगा तो वो अपने पति से कहेगी कि या तो वो गांव में ही रहकर कोई धन्धा करे या फिर उसे भी अपने साथ शहर लेकर जाए. तभी उसने खुद ही बता दिया कि वो संभोग पूर्व प्रायः मुख मैथुन करना चाहते थे, पर मैं ही अपनी भागीदारी नहीं दे पाती थी.

किस करने वाला बीएफ थोड़ी देर के बाद सारा का हाथ अपने आप ही मेरे लंड पर आ गया और वो मुझसे लिपट भी गई. उसके बाद विनय जीजू ने अचानक ही अपने लंड को दीदी के मुंह से निकाल लिया और विनय के हटते ही अनन्त ने भी अपनी जीभ दीदी की चूत से निकाल दी.

भाभी जी की फोटो सेक्सी

ये कहानी मेरी और मेरे पड़ोस में रहने वाली एक जवानी की दहलीज पर कदम रखती हुई 18 साल की कमसिन लड़की के बीच की चुदाई की है. मैंने कुछ देर तक अपने लंड को हिलाया और फिर जोर से मुट्ठ मारते हुए वीर्य निकाल दिया. कॉलेज की पढ़ाई पूरी करके मुंबई में मेरी नौकरी लग गई तो मैं घर जाने के बजाए सीधे मुंबई चला गया.

फिर थोड़ा समय बीच में अजीब सी शान्ति फ़ैल गयी जैसे कि कुछ होने वाला हो. डबल बेड था तो एक तरफ चाचा सो गए और एक तरफ मैं सो गई। टाइम ज्यादा हो गया था तो जल्दी ही नींद आ गयी।रात 3 बजे के करीब मुझे लगा जैसे कोई मेरे मम्में बहुत ही बेदर्दी से दबा रहा है। नींद खुलते ही मैं समझ गयी कि ये और कोई नहीं बल्कि मेरे चाचा ही थे। मैं फिर भी सोने का नाटक करती रही. બીપીવીડીયાवह अपने घर से दूर अंबिकापुर में रहती थी और वहाँ पर रह कर वह पढ़ाई कर रही थी.

मैंने उसको समझाया- हमने अब तक कुछ गलत नहीं किया है, तुम्हारा अपनी लाइफ में खुश रहना बहुत जरूरी है.

मैंने भैया की तरफ नजर डाली, तो भैया ज्यादा दारू पीने और सुबह से होली की थकान के कारण सोफे पर ही लुड़क कर सो गए थे. ये जितने सारे मेरे शौक हैं न, ये मेरे घर से थोड़ी पूरे होते है, उन्हीं से पूरे होते हैं.

मैं उन्हें सहारा देकर वाशरूम तक लेकर गया और वॉशरूम का दरवाजा खोल कर उन्हें इशारे से अन्दर जाने को बोला. दरवाजे पास खड़ी होकर ही मैंने अपनी सलवार को नीचे किया और अपनी पैंटी को देखा. उसकी योनि जल्दी ही एक बार फिर काम रस से भर गई, तो उसने कहा- अब और मत तड़पाओ, अब अपना लिंग मेरी योनि में डालो.

उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा- विशु बेटा आज तुम यहीं रुक जाना और हमारे साथ ही खाना खा लेना.

रमेश काका ने झूठी मुस्कान लाते हुए कहा- हां मालिक, वो रात की बात रूपा को भी पता चल गई है, पर यकीन कीजिए वो भी किसी को नहीं बताएगी. यह सब देख कर मेरी आग भड़क गई और मैंने अपनी चूत आरती के मुँह पर रख कर चटवानी शुरू कर दी. वैसे 4 इंच का लंड कैसी भी महिला को संतुष्ट करने के लिए काफी होता है.

लिंग कैसे बड़ा होगापहले जब मैं गांव में किसी काम से गया था … तो उस वक्त मैं पड़ोस के एक घर में गया हुआ था. डॉली ने पूछा- क्यों मज़ा आया या नहीं?वो बोलीं- मेरी लाइफ की अभी तक की सबसे अच्छी चुदाई हुई है … क्यों न मैं आज रात यहीं आप दोनों के साथ सो जाऊं … क्योंकि कल तो सभी चले जाएंगे, तो प्लीज मुझे इसके साथ रहने का मौका दे दो.

मराठी मुलींचा सेक्सी व्हिडीओ

मैंने पूछा- क्यों आपके हसबैंड?वो बोली- अरे यार, वो हमेशा अपने बिज़नेस में बिजी रहते हैं, कई दिनों तक घर नहीं आते, जब बेड पर आते हैं तो टेंशन और थकान की वजह से चुदाई नहीं करते. फिर मेरे ऊपर बैठ कर मेरे लंड को अपनी चूत पर सेट करके एकदम से बैठ गयी और चूत में पूरा लंड घुस गया और जोर जोर से कूदने लगी. हर लड़की के दिल में अपनी शादी वाली रात के लिए बहुत सारे अरमान होते हैं.

उस दिन तो मैं वहां से आ गया मगर बार-बार नवीन की याद मुझे सताने लगी. उसको अपने कमरे में बैठा कर मैं उसके लिए पानी लाया और कंप्यूटर पर ट्रिपल एक्स मूवी चला दी. मैंने किस करते हुए ही उसके टॉप के अन्दर हाथ डाल कर उसके मम्मों को सहलाना शुरू किया और झटके से उसका टॉप खोल दिया.

मैं- तू कुछ नहीं समझ पा रही है, अब देख करके बताता हूँ सुहागरात में तेरा पति क्या क्या करेगा औऱ तुझे क्या करना है. 10-15 मिनट बाद एक मोटरसाइकल के रुकने की आवाज़ आई तो आरती बोली- पुन्नी ले, तुझे चोदने के लिए लंड आ गया है. मैं ऊपर वाले से विनती कर रहा था कि ये रिया की बैंड बजा कर छोड़ दें, कहीं साले गांड मारने के शौकीन हुए तो मेरी गांड का बाजा बजने में देर नहीं लगेगी.

मगर मेरी चालू बीवी भी खेली खाई चुदक्क्ड़ थी, अगले दो मिनट के भीतर ही वह उछल कर बेड से बाहर आ गई और प्रशांत को जीभ निकाल कर ठेंगा दिखाने लगी. जब मेरी फुद्दी पूरी तरह से गीली होकर दो उंगलियां लेने लगी तो जीजा जी बोले- अब तैयार हो जाओ.

मुझे चुत को चाटने की इच्छा बचपन से थी और ब्लू फिल्मों से बहुत कुछ सीखा है.

फिर मैंने अपना एक हाथ से आहना के बालों को पकड़ कर उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. देवर भाभी के सेक्स वीडियोहम दोनों बहुत वासनामयी हो रहे थे तो जैसे ही मैं उसके बिस्तर पर बैठा, वो आयी और मेरी टीशर्ट उतार के चूमने लगी. अवोकेडो priceफिर अपने एक हाथ से अपने लंड को पकड़ लिया और दूसरे हाथ से उसके पैर को पकड़ कर मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुंह पर रख दिया और मैं रीना के ऊपर लेटता चला गया. फिर मैंने अपने होंठों को गोल करके उनकी मांसपेशियों को अपने मुंह के अंदर खींचा.

लगभग 10 मिनट की जोरदार चुदाई के बाद मेरा माल भी गिरने लगा और मैं वहीं ढेर होकर उसके पीठ पे लेट गया.

भाभी कहने लगी- देवर जी थोड़ा धीरे करना, ऐसा न हो कि मेरी चूत ही फट जाए, पहली बार इतना मोटा लंड लेना तो दूर की बात है देखा भी आज ही है, पता नहीं चूत इसे ले पाएगी या नहीं?मैंने भाभी की चूत को थोड़ा हाथों से और चौड़ा किया और भाभी के पांव को फैलाया, और चूत में एक झटका दिया जिससे आधे से भी ज्यादा लंड अंदर बैठ गया. मेरा लंड देख कर चाची ने भी अपनी नाइटी उतार फेंकी और मेरा लंड चूसने लगीं. अंकल ने पूछा- फिर बताओ हिंदी में क्या कहते हैं?मैं बोली- उसे ‘चुम्मी.

हुआ यूं कि मेरी एक पुरानी कहानीभरपूर प्यार दुलार के साथ कुँवारी सील तोड़ीपढ़कर किसी रितिका नाम की लड़की का मेल आया मेरी मेल आईडी पर!उसने लिखा था- देखो, मैं सीधी बात करना पसंद करती हूँ, मैंने आपकी सेक्स स्टोरी पढ़ी है जो मुझे काफी अच्छी लगी और मैं आपके साथ सेक्स का अनुभव लेना चाहती हूँ. अंकल ने किस तरह से मेरी वासना को एक ऐसे स्थान पर पहुंचा दिया, जहां सिर्फ चुदाई से ही अंत हो सकता था. जब मेरे लंड ने उसकी चूत की तलहटी को छुआ, तब मुझे पता चला कि ये तो साली खेली खायी लौंडिया है.

ससुर पतोह सेक्सी

सुलेखा मुझे अपनी तरफ खींचने लगी और मैं उसके होंठों को ज़ोर से चूसने लगा. भाभी भी मेरा साथ देने लगी और मैंने उनके गले को चूमते हुए अपने हाथों को पीछे ले जाकर उनकी गांड को दबाना शुरू कर दिया. कुछ देर में दरवाजा पर आहट हुई, नूरी खाला और सारा की बहनें नरगिस, आयशा और इमरान की बहनें दिलिया उसकी बहन अबीर नयी दुल्हनों से मिलने आयी.

मैंने पूरा शांत हो कर मामी जी के कंधे पर अपना सर टिका कर उनको कस के पकड़ लिया.

मैं और मोहित दोनों को बस हर जगह सुमन ही दिखती। आते जाते हम दोनों सिर्फ उसको ही घूरते रहते। उसके मम्मे, उसकी गांड। उसका हँसना, बोलना, बात करना, चलना, चहकना। बस हम दोनों तो उसी को देख देख कर दीवाने हो रखे थे।कहानी जारी रहेगी.

उसने थोड़ी देर बाद कहा- मेरा झरने वाला है।मैंने कहा- थोड़ा सा रुको, मैं भी होने वाला हूँ।थोड़ी देर और ताबड़ तोड़ चुदाई के बाद दोनों के मुख से एक साथ लम्बी आह आआआ … की आवाज निकली और दोनों झड़ गए।हम दोनों ही निढाल होकर के पास ही बेड पर गिर गए।थोड़ी देर बाद हम बातें करने लगे. अब जैसे ही दबाव मेरे ऊपर आता, मैं उसे अपने हाथ से भींचता और अपना मुँह उसके स्तन पर रगड़ देता. नई पिक्चर सेक्सीकाफी अच्छी शादी थी, खूब आनन्द लिया और रात के करीब 11 बजे हम लोग शादी से लौटने लगे.

तब तांत्रिक ने कहा- रो मत बालिके तेरी परेशानी का हल है मेरे पास, पर तुझे इसके लिये कठिन कष्ट होगा. जीभ अन्दर जाने का सुखद एहसास उन्हें ही मालूम होगा, जिनके पति या बॉयफ़्रेंड ने कभी चुत में अन्दर तक जीभ डाली हो. 5-7 धक्कों में वो झड़ने लगी और मेरी पीठ पर नाख़ून गड़ा दिए और वो झड़ गयी.

सब चूतों और लंडों को मेरी चूत और मम्मों का सलाम, नमस्ते और शुभकामनाएं!सम्पादक के नाम: कृपया मेरी मेल आईडी इस कहानी के साथ ना दी जाए क्योंकि मेरा पिछला तजुर्बा कोई अच्छा नहीं रहा. रोज रोज की मार पिटाई से मीना को लगा कि अब वो ननकू संग और ज्यादा नहीं रह सकती.

माला की आंख बंद थीं, तो विजय ने उसकी टाँग उठाकर उसकी तड़फती चुत में अपना लंबा लंड पेल दिया.

मैं भाभी की चूत को धीरे-धीरे सहलाने लगा, उन्होंने मुझे खींच लिया और मेरे मुंह को अपनी चूचियों में दबाने लगी. मीना का कामुक चेहरा शीशे में देखते हुए उसके स्तनों को हवा में कुलाचें भरते हुए … और कभी उसके होंठों को दाँत के नीचे दबाए हुए. एक तो हम दोनों का रिश्ता ही ऐसा था और ऊपर से इस बात का भी डर लगा रहता था कि कहीं कोई देख न ले.

ఎక్స్ ఎన్ ఎక్స్ బిఎఫ్ इतना कह कर वो जैसे ही किचन में गयी, तो मैं भी उसके पीछे चला गया और उसे पीछे से पकड़ लिया. मुझे अचानक आया देखकर दोनों घबरा कर अलग हो गये और फिर मुझे दोनों ने अपने पास बुला लिया.

फिर कुछ देर बाद हम उठे और बाथरूम में गए और एकदूसरे को पानी से साफ करने लगे. नवीन गैस स्टॉव के साथ में बैठकर खीरा छीलने में लगा हुआ था जिसके छिलके वहीं फर्श पर ही डाले जा रहा था. उसकी गांड मारकर मुझे इतना मजा आया कि मैं समझ गया कि हिरोइनों की गांड इतनी मस्त क्यों होती है.

ऑनलाइन कपड़े शॉपिंग boy

जब अनन्त जीजू का लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया तो उसके बाद अनन्त ने दीदी के चूचों को अपने हाथों में भर लिया. चूंकि वे काफी लम्बे थे लगभग 6 फिट और क्योंकि वह खेत में मेहनत करते थे, तो उनकी बॉडी किसी खिलाड़ी की तरह ही काफी सुडौल और मस्त थी. मुझे भी जानना था कि ऐसा क्या है वीडियोज में, जो मम्मी जी मुझे दिखाना चाहती हैं.

समय बहुत ज्यादा हो गया था और उसके घरवाले भी आने वाले थे इसलिए मैंने जल्दी से अपने कपड़े पहने और सुचेता को एक किस किया और फिर उसके घर से आ गया।उसके बाद मैंने उसकी कई बार चुदाई की और उसकी गांड भी मारी कभी होटल में तो कभी उसके घर में ही उसकी चुदाई की।अभी कुछ दिनों पहले ही वो अपने गांव में चली गई. मैंने भाभी के घुटनों को थोड़ा मोड़ दिया और चूत के छेद के ऊपर अपने मोटे लंड का सुपारा रखा और अपनी पीठ से ज़ोर दे कर लंड को चूत के अंदर डालना शुरू किया.

लेडी ने मेरी जांघ पर हाथ फेरते हुए पूछा- फिर तुम क्या करते हो?मैंने उसका हाथ अपने लंड की तरफ बढ़ता हुआ महसूस किया.

रात को भी आंखों से नींद गायब थी … कभी मम्मी जी की बातें याद आतीं, तो कभी वसीयत, तो कभी हितेश के वीडियोज. मेरा मुँह उसके बूब्स के बहुत करीब था मेरी सांसें उसके बूब्स पर टकरा रही थीं. बाहर से तो उसकी चूत सांवली थी मगर अंदर से वह जैसे गाजर की तरह लाल थी.

फिर मैंने सोनू से कहा- सोनू, यदि मजा लेना है तो थोड़ा सा दर्द बर्दाश्त करना होगा और अगर चीखना है तो तुम अभी उठो, अपने कपड़े पहनो और अपने घर जाओ. फिर मैंने खुद ही अपनी पैंट अपनी टांगों से अलग कर दी और उसके सामने अपने तने हुए लौड़े के साथ खड़ा हो गया. उसने भी मेरी टी-शर्ट और लोवर को उतार दिया और जॉकी के ऊपर से ही मेरा लंड सहलाने लगी.

मैंने एक और जोरदार झटका मारा, जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड भाभी की चूत में समा गया.

किस करने वाला बीएफ: कुछ देर बाद मैं उसके ऊपर से लुढ़क कर साइड पे बेड पे सीधा गिर गया और मेरा लंड भी बाहर आ गया. मैंने जानबूझ कर मजा लेने के लिए पूछा- कहां चला जाता था मामी मुझे याद नहीं है?मामी- कहीं नहीं … और अब चुपचाप सो जा.

मेरी कमर अपने आप आगे-पीछे होने लगी और जैसे मैं उसके मुंह को चोदने लगा. एक पल बाद मैं उल्टा हो गया और मैंने फिर से भाभी को अपना लंड मुँह में दे दिया. वहां उन्होंने अपनी शॉपिंग की और एक लेडिज स्टोर से अपने लिए ब्रा पेंटी भी खरीद की.

माला को कोई पहले से ही चोद रहा है, ये बात विजय को काफ़ी देर बाद पता लगा.

गलत था उसका इतनी जोर जोर से कमर हिलाते हुए झड़ना और कपड़े गन्दा करना क्यूंकि मेरा फ्लैटमेट भी आने वाला था. वो मेरे लंड को चूस रही थी और मैं उसकी चुत को चाट रहा था … काट रहा था. उसके लंड में अभी वह पहले जैसा तनाव नहीं था जबकि विनय जीजू का लंड अपने पूरे उफान पर था.