बीएफ पिक्चर नई नई

छवि स्रोत,वीडियो सेक्स फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

कार्टून में बीएफ: बीएफ पिक्चर नई नई, मैंने उनकी गांड को सहलाते हुए कहा- चिंता मत करो मामी … मैं मरने नहीं दूंगा आपको.

network alerts खोल

कविता को मालूम था कि अगर वो नहीं गयी तो रवीना पानी का मग लाकर उसके ऊपर डाल देगी. लिग के फोटोअब रवि बीच में था और रवीना और कविता बेल की तरह उससे चिपट कर डांस करने लगीं.

मैं भी जोश में आकर मां के दोनों मम्मों को अपने दोनों हाथों से मसल रहा था. मोहरा हिंदी मूवीतुम पहली बार नहीं करवा रहे हो, मुझसे भी बड़े बड़े दोस्तों से करवाई होगी.

वो बियर का स्वाद लेते हुए मेरे कान के पास मुँह लाकर बोली- थैंक्स फूफाजी, बियर से मजा आ गया … लेकिन आज बियर की जगह व्हिस्की या रम पीने को मिल जाती, तो ठंड लगनी कम हो जाती.बीएफ पिक्चर नई नई: मेरे मुंह में अभी भी रमेश का लंड था और वो लगातार अपने लंड को धक्के लगा लगा कर मेरे मुंह में घुसाये जा रहा था.

लेकिन एक हफ्ते बाद उनके किसी रिश्तेदार की मौत हो गयी और उनको मृतक के अंतिम संस्कार में अपने गांव जाना पड़ा.तभी मेरे मुँह से निकल गया कि मुझसे ऐसी बातें ना कीजिए, मुझे शर्म आ रही है.

कॉलेज की छोरी सेक्सी - बीएफ पिक्चर नई नई

इस बार उसके मुँह से आवाज़ तो नहीं आई, मगर आंखें बंद करके मुँह को ‘एयेए.”तुम कहो तो मैं ट्राई कर सकता हूँ?” मैंने हँसते हुए पूछा तो सानू जान ने शरमाकर अपनी मुंडी नीची कर ली।यार सानू? एक बात समझ नहीं आई?”क्या?”उसे यहाँ पर तुम्हारे काम करने के बारे में किसने बताया?”मुझे लगता है यह बात उसे भाभी ने ही बताई होगी.

मैंने कहा- मैं तो पहले से ही आप पर फ़िदा था … हां यदि आपकी तरफ से लिफ्ट न मिलती, तो अलग बात थी. बीएफ पिक्चर नई नई जहां पर कौड़ा पड़ा वहीं से मैंने उसकी गांड को कौड़े से जोर रगड़ दिया ताकि उसको और ज्यादा दर्द हो.

वो बहशियाना अंदाज में बोला- अभी कहां मेरी रंडी बहना … अभी तो मैं शुरू ही हुआ हूं.

बीएफ पिक्चर नई नई?

हमने एक होटल में रूम बुक किया हुआ था। उस दिन मैंने एक ब्लैक कलर की साड़ी पहनी हुई थी और उस पर रेड कलर का ब्लाउज था. मैंने उसके बूब्स मसलना शुरू किया साथ ही मेरा घुटना जो उसकी जांघों के बीच में दबा हुआ चूत पर दस्तक दे रहा था, उससे चूत को रगड़ने लगा. मैंने उसे कैसे चोदा?मेरी सेक्स कहानीदेसी आंटी के साथ मेरी पहली चुदाईमें मैंने बताया था कि कैसे मेरी सेक्स लाइफ रेणु आंटी के साथ शुरू हुई थी.

नीरजा ने कोई विरोध नहीं किया, उसने सिर्फ अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया. को … आईईईईईइ …”मैंने कसकर उसे अपनी बांहों में कस लिया और फिर अंतिम 3-4 धक्कों के साथ ही मेरा लावा फूटकर पिचकारियों की शक्ल में उसकी चूत को सींचता चला गया। नताशा को भी अंदाज़ा हो गया था तो उसने जोर से अपनी चूत को अन्दर सिकोड़ लिया और मेरा पूरा वीर्य अन्दर लेने की कोशिश करने लगी जैसे अंतिम बूँद तक चूस लेना चाहती हो।हम दोनों की ही साँसें बहुत तेज हो गई थी। कमरे में हालांकि ए. करीब एक घंटे बाद में फिर से उन्हें बताने गया कि अंकल जी का फोन आया है और वह कुशल मंगल चंडीगढ़ पहुंच गए हैं.

अब आगे:आहह … क्या मुलायमियत थी … क्या टेस्ट था … कल्पना से परे …हम दोनों चूमाचाटी में खो गए थे. मैंने अपनी मम्मी की चुत में दस बारह जबरदस्त धक्के दिए, तो अदिति ने मेरे लंड पर अपना चुतरस का गर्म फव्वारा छोड़ दिया. अपनी बात खत्म करते हुए सुरेश ने कुछ मेडिकल पेपर वैभव को दिखाए, जो कि उन लड़कियों के थे.

शीला ने उसे फटाफट चाय दी और फिर बोली- आप कपड़े दे दो तो मैं धो देती हूँ. मेरी पहले की सारी कहानियां पढ़ पढ़ कर जिसे जो मिला, जिसका मिला वही घुसा लिया.

मैंने फिर से मामी को अपनी बांहों में जकड़ा और धीरे धीरे से पूरा लंड उनकी गांड में डाल दिया.

आह … नशीली सुगंध थी … ये चूतनिवास मस्त हो गया और हल्के हल्के हाथों से उन नाज़ुक पांवों को दबाने लगा.

फिर अपने कपड़े उतारो फटाफट … करते हैं।उसने अपनी शर्ट के बटन खोलने शुरू किया और मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए. राजेश ने अब उसके हाथों को ऊपर किया और पीछे से उससे चिपक के उसके कानों के पीछे चूमने लगा. फिर मैं उसके ऊपर छा गया और चूत रस के गीले होंठ उसके होंठों पर रख दिए और चूमने लगा.

पर राजेश ने आज तक किसी औरत को हाथ नहीं लगाया था, अलबत्ता कॉलेज लाइफ में उसकी एक गर्लफ्रेंड थी जिससे उसके शारीरिक सम्बन्ध भी थे. रवि रमेश की ओर देख कर बोला- क्या हुआ जनाब? होश उड़ गये न? मेरे भी होश ऐसे ही उड़ गये थे. दोनों लड़कियां हमारे लौड़ों को अपने हाथों में लेकर उनका मुआइना करने लगीं.

कुछ देर बाद मेरी हालत सामान्य हुई, तब उन्होंने एक नैपकिन पेपर उठाया और बिना अपना लंड बाहर निकाले मेरी चूत से निकल रहे खून को पौंछ दिया.

तू क्या कहता है?रमेश- यह तो बहुत अच्छा है।रवि- अच्छा तो है मगर मुझे इसमें तेरी मदद चाहिये।रमेश- हाँ बोल, बता क्या मदद कर सकता हूं?रवि- रॉयल फ़ार्मा का मालिक रजत रॉय तेरा अच्छा फ्रेंड है. और तुम्हारे बात करने का अंदाज बहुत प्यारा है और उससे भी ज्यादा तुम खुद प्यारी हो। अब तुम जा सकती हो।उसने चहक कर थैंक्यू सर कहा और जाने लगी. मैंने हैप्पी बर्थडे गाना गाया।मोमबत्ती बुझाने के बाद उसने केक काटा और एक टुकड़ा मुझे खिलाया।मैं भी उसको एक टुकड़ा खिलाया।उसने कहा- मेरा गिफ्ट कहाँ है?मैं बोला- मैं गिफ्ट देने के लिए ही आया हूं.

मैंने वहीं जाकर उन्हें पीछे से पकड़ लिया और अपना लंड भाभी की गांड में घुसेड़ने लगा. उसके माथे और गालों को चूमते हुए अपना लण्ड धीरे धीरे उसकी गीली गीली चूत पर रगड़ते हुए एक झटके में उसकी चूत में डाल दिया।मेरा लण्ड अंदर जाते ही वो बुरी तरह से उछल गयी और उसके मुंह से जोर की चीख निकल गई. वह फिर से मछली की तरह मचलने लगी और बोलने लगी- आ ह आ… … ह … मेरे आका … रुक क्यों गए … चोदिए ना … ये मेरी रंडी चूत आपकी दासी है … इस दासी पर ऐसे रहम नहीं करते सरकार … इस रंडी की चूत पर आपका अधिकार है.

मैंने उससे पूछा- घर में कोई नहीं है?वो बोली- नहीं, मैं घर में अकेली हूं.

तो उसने अभी तो राजेश की मूंछों की केंची से जितने हो सके अपनी झांट के बाल साफ़ किये और सोचा कि जब कल सामान लेने जाऊंगी तब दुकानदार से क्रीम पूछूंगी. भगवान का शुक्रिया तो इसलिए कि उन्होंने इस करिश्मे को मेरे लिए धरती पर भेजा और प्रीति का शुक्रिया इसलिए कि वो खुद चलकर मेरे पास आयी.

बीएफ पिक्चर नई नई ये समझते ही उन्होंने अपने दोनों हाथों को मेरे आगे कुछ इस तरह से रख लिया कि जिससे अगर मैं आगे होउन, तो मेरे चूचे उनके हाथों से टच हों. नीचे दी हुई ईमेल पर अपने मैसेज करें और कमेंट्स में भी अपनी राय दें.

बीएफ पिक्चर नई नई तो मैं रूक कर भाभी की गांड देखने लगा, उनकी गांड का छेद बहुत छोटा था। मैंने उनसे गांड चोदने के लिए पूछा तो उन्होंने मना कर दिया।भाभी- मैंने वहाँ कभी नहीं लिया और न ही कभी लूँगी।फिर मैं भाभी को गोद उठाकर बैड पर मैं नीचे लेट गया और उन्हें अपने ऊपर बैठा लिया। फिर मैंने नीचे से ही उनकी चूत चोदना शुरू कर दी।भाभी- आआहह आआआ आआहह आहह आहह … चोदो मुझे … बहुत तंग करती है ये… चोदो … आउहह आआआ ओहह. इस दौरान मैं किसी भी महिला कर्मचारी को अपने केबिन में नहीं आने देता हूं.

पर एक बात आप भी सोच रहे होंगे कि मेरे शौहर तो अक्सर बिज़नेस के सिलसिले में घर से बाहर रहते हैं, फिर उन्हें शक कैसे हुआ कि मैं कोई गलत काम कर रही हूँ.

ब्लू film.com

मुझे लड़कों के साथ मस्ती करना पसंद है और सेक्स में हमेशा कुछ नया और रोचक करती हूं. वापस जाते वक़्त पूजा का पति समीर मेरे पास आकर बोला- क्या यार … तुमने तो पूजा की मां चोद दी. सच में दोस्तो … इस बार मेरा लंड बड़ी आसानी से मामी की गांड थोड़ा सा घुस गया.

क्योंकि मेरे अनुमान से नेहा के बॉडी फिगर का साइज 36- 24 – 36 का लग रहा था।मेरी बातों से उसके चेहरे की मुस्कान उसके कानों तक खींच आई, उसने कहा- आप फिक्र ना करें सर! आपकी खुशी का ख्याल रखना हमारी जिम्मेदारी है।खुशी का नाम सुनते ही मुझे एक बात सूझी. मैंने प्यासी निगाहों से नेहा को देखकर अपनी ओर आने के लिए उसे आमंत्रित किया. थोड़ी दूर जाते ही रुमित बोला- अब तुम दोनों चनिया चोली कैसे पहनोगी … यहां तो कहीं पर भी मुझे जगह ही नहीं दिख रही है.

आप लोगों ने मेरी पिछली सेक्स कहानीप्रोड्यूसर का बेटा मॉडल पर फ़िदामें पढ़ा था कि किस तरह हमारे डायरेक्टर के युवा बेटे राजीव ने मुझे गर्म करके चोदना शुरू करके खुद ठंडा हो गया था.

जब आपका ख्वाब हकीकत में बदलने वाला हो तो इससे अच्छा तोहफा क्या हो सकता है?मैंने सब कुछ प्लान कर लिया कि प्रीति को कहां कहां घुमाना है, उसे कैमल सफारी करवानी है, रात में रेत के टीलों पर घुमाने के लिए लेकर जाना है. तभी मुझे पकड़ कर चोद देता।मैंने कहा- अगर ऐसा था तो मेरे लंड को मेरे अंडरवियर से बाहर निकाल कर चूसने बैठ जाती. चूंकि बीच की मस्ती से हम तीनों ही काफी थक गए थे, इसलिए हम लोगों ने कुछ देर रेस्ट किया.

मगर मेरे पास उसका कोई जवाब नहीं होता।फिर अचानक से मेरी जिंदगी ने करवट ली और मेरी सेक्स की जरूरत पूरी होने लगी।हुआ ऐसा कि मेरे घर के समाने एक अध्यापक रहते थे. राजेश ने उंगली निकाल कर अब शीला की टांगों को चौड़ाया और अपना मूसल पेल दिया. मैंने भाभी की दोनों चुचियों को पकड़ लिया और नीचे झुक कर उनके निप्पलों को चूसने लगा.

उसकी तेज होती धड़कनें ज्वार भाटा की भांति चढ़ती बैठती सी प्रतीत हो रही थीं. मधुर बोल रही थी कि गौरी तो शादी होने के बाद ससुराल चली जायेगी तो फिर हम सानिया को यहीं रख लेंगे।”सच्ची?”तुम्हारा मन करता है क्या यहाँ रहने को?”मेरा तो बहुत जी कलता है।”ठीक है मधुर को आ जाने दो फिर तुम्हें भी यहीं रख लेंगे … पर एक बात है.

इतने में उसने मुझसे पूछा- राकेश क्या सच में मैं तुम्हें अच्छी लगती हूं?मेरे मुँह से कुछ ना निकला. थोड़ी ना नुकुर के बाद वो मान गई और बोली- पार्टी यहां नहीं … मैं चेंज करके आती हूँ … फिर कहीं दूसरी जगह चलते हैं. अपना लंड सहलाया मैंने तो भाभी जी बोलीं- दिखा दो … मुझे भी तसल्ली हो जाएगी.

नेहा मेरा पूरा का पूरा लंड अपने मुंह में लेती और लंड को मुंह के अंदर ही रख कर अपनी जीभ को लंड के चारों और घुमाती और फिर लंड की नोक के ऊपर जीभ रख कर अपने होंठों में लौड़े को भींच कर धीरे धीरे लंड मुंह से बाहर निकालती.

तीन दिन में दस से ज्यादा बार सेक्स करने के कारण अंकिता भाभी की चाल में बदलाव आ गया था. उसे किस करते हुए मैंने उसकी ब्रा भी निकाल दी और उसके टाइट मम्मों को किस करते हुए दूध मसलने लगा. फिर किसी महान आत्मा ने कहा है कि किसी को शिद्दत से चाहो तो सारी कायनात आपको उससे मिलाने की कोशिश में जुट जाती है.

फिर मैंने सोचा कि ये सही मौका है, इसे ही पटा लेती हूँ, अच्छा खासा लड़का है. मैंने सरोज की टांगों को थोड़ा चौड़ा किया और खड़े खड़े उसकी चूत की दरार में अपने लौड़े के फूले हुए सुपारे को टिका दिया.

मैंने भी कहा- भाभी, आप भी बहुत मज़ा देती हो, आपका शरीर इतना सेक्सी है कि चोदने के बाद भी दिल नहीं भरता. आखिर शाम को सवारी गाड़ी पकड़ने का फैसला करके मैं, अनीता और उसके बच्चों सहित जोधपुर रेलवे स्टेशन आ पहुंचा. कुछ ही पलों बाद सर ने भी अपनी टी-शर्ट को उतार दिया और लोअर निकाल कर फेंक दिया.

चूत में लंड सेक्सी

सेक्स डॉल के मुंह के पास जाकर उसने अपने चूचों को उसके मुंह से लगा दिया और उसके सिर को अपनी चूचियों में दबा दिया.

मेरी ब्रा मेरी चुचियों से एक झटके से सरक कर नीचे आ गयी और मेरे 32 इंच के बड़े बड़े मोटे चुचे उनके सामने उछल पड़े. सपाट पेट के बीच गहरी नाभि और मांसल चौड़े नितम्ब किसी भी लंड का मदनरस निचोड़ लेने में सक्षम थे. मुझे उसी पल पता लग गया था कि मेरे वीकेंड के लिए मुझे खेलने के लिए जो खिलौना चाहिए था वो ये ही है.

मैं बोली- क्या हुआ … फट गई क्या?इतने में राजीव बोला- नहीं अभी फटी नहीं … फाड़ना है. मेरी चूत के होंठ मेरे झड़ने और विक्की द्वारा चाटने के कारण बिल्कुल चमक रहे थे. सेक्सी वीडियो डॉट कॉम पंजाबीनीचे लेटी निष्ठा को शायद चुदने की मिसमिसी छूटने लगी थी … वो बार बार अपनी कमर ऊपर उठा कर चोदने का संकेत कर रही थी.

उसकी चुत बेहद टाइट हो चुकी थी और मेरा फंस फंस कर अन्दर बाहर हो रहा था. मैं अभी सिर्फ 24 साल का हूँ, अभी शादी नहीं हुई है। अभी मैं पढ़ रहा हूँ.

चुदाई के साथ में मैं कभी उनके मम्मों को मसलता, तो कभी निप्पल को होंठों में दबा कर चूसने लगता … या कभी होंठों को चूसने लगता और स्वीट बाईट भी दे देता … तो वो मचल भी जातीं. एक के बाद एक मैंने बार बार चूसा और मुंह भर भर के उसका दूध पिया।दूसरे हाथ से मैं अपने लंड को फेंट रहा था। सच में बड़ा ही मज़ेदार काम था किसी सोई हुई लड़की का दूध पीते हुये, मुट्ठ मारना।मगर फिर एक हाथ ने मेरा हाथ पकड़ लिया, जिस हाथ से मैं मुट्ठ मार रहा था।मैं एकदम चौंका, मम्मा छोड़ कर देखा, लवी ने मेरा हाथ पकड़ा हुआ था. आपने कोई जानबूझ कर तो कुछ किया नहीं और सुनो मुझे कुछ नहीं हो रहा है, आप मेरे बारे में ऐसे मत सोचो.

नेहा- पहले कुछ खा पी तो लो?मैंने कहा- बाद में!नेहा- मैं तो दिल से चाह रही थी कि आप आ जाओ. तो उसने कहा- सुन राजे … ध्यान से सुनियो जो मैं कह रही … तेरे जवाब सुन कर मैं फैसला करुँगी कि तू मेरी चुदाई की ज़रूरतें पूरी कर पाएगा कि नहीं … वैसे जो जो मैंने तेरी कहानियों में पढ़ा और जो जो बेबी और गुड्डी की चुदाई का शो देखा … उससे मुझे लगता तो है कि शायद तू मेरे लिए सही रहेगा … वर्ना तो तू मेरे से मिल ही नहीं पाता. मामी ने मेरे लंड को सहलाते हुए बोला- ये दम तो नहीं तोड़ेगा ना?वे भी हंसने लगीं.

चलिये देखते हैं कि आपको उत्तेजना आती है कि नहीं?अस्मि ने अपनी स्कर्ट को पेट तक चढ़ा लिया और उसकी मोटी गांड जिस पर नेवी ब्लू रंग की पैंटी कसी हुई थी, वो अपनी गांड को नागिन की तरह लहराने लगी.

उसने टिकट भेज दिया था, टिकट रेलवे की फस्ट क्लास एसी सुपरफास्ट का था. शमा ने हां में सर हिलाया, तो शाही सर ने एक 500 का नोट और शमा को दिया और इस बारे बड़े अच्छे से उसकी चूचियों की क्लीवेज में फंसाया.

मैंने राहत की सांस ली और डरते डरते उनको सारी बात बता दी कि मुकेश की वाइफ निशा के पेट में जो बच्चा है, वो मेरा ही है … और परासिया में कोई बाबा नहीं है. ” मैंने हंसते हुए कहा।सानिया मोबाइल को गौर से देखे जा रही थी।वह बोली- ऐसा मोबाइल तो तोते दीदी के पास भी था?हाँ उसे दूसरा दिलवा दिया तुम इसे काम में ले लो. ये सुनकर रीता वहां से नाराज होकर चली गयी और रमेश अपने दोस्त रवि से मिलने के लिए निकल पड़ा.

मैं जानता था कि चुदने की चाह तो मैंने निष्ठा के तन मन में जगा ही दी है. चेहरा गोल है और जब मैं हंसता हूं तो मेरे गालों पर गड्ढे हो जाते हैं. रिया एक रांड की तरह सारे वीर्य को जीभ निकाल निकाल कर चाट गयी और जहां जीभ नहीं पहुंची वहां उंगली पर वीर्य पोंछ पोंछ कर चाट गयी.

बीएफ पिक्चर नई नई कुछ देर चूत चाटने के बाद सर ने अपनी धोती उठा कर लंड बाहर निकाला और मुझसे अपना लंड चुसवाने लगे. नेहा ने बड़ी बेचैनी से लिंग को कुछ देर और चूसने के बाद मुझे हाथ खींचकर बाथटब के अन्दर बिठा लिया.

एक्स एक्स एक्स चुदाई फिल्म

उसकी गांड का सुराख़ बड़ा दिख रहा था, इसका मतलब वो गांड मरवाने की भी शौकीन थी. स्वरा की उम्र करीब बीस साल, कद पांच फीट चार इंच, रंग गोरा, 32 इंच की चूचियां और 36 इंच के चूतड़. हम दोनों के जाते ही सबने आखिरी विदा लेने से पहले साथ में कुछ मस्ती करने की फरमाइश रखी.

भाभी ने अपनी चूत को मेरी हिंदी चूत के ऊपर पटकना शुरू किया और साथ ही एक हाथ से मेरे एक मम्मे के निप्पल को अपनी अंगूठी और उंगली से रगड़ने लगी और दूसरे मम्मे को मुंह में लेकर चूसने लगी. और मैंने अनजान बनते हुए उसकी तरफ देखा तो वो भी ऐसा हो गया जैसे अभी रो देगा. के.जी.एफ: अध्याय 2करीब 35 मिनिट तक उसकी अलग अलग आसनों में ताबड़तोड़ चुदाई के बाद मैंने कहा- मैं झड़ने वाला हूं!तो उसने कहा- अन्दर ही झड़ जाओ! मेरी चूत को आज अपने लंड के पानी से भर दो, बुझा दो मेरी चूत की प्यास आह चोदो … मैं भी आ रही हूं राजा … और जोर से चोदो … हाय चोदो … आह.

वहां मालूम पड़ा कि साले साहब आते समय मेहसाणा से अनीता और उसके बच्चों को भी ले आए थे.

उसकी चाटने की स्पीड तेज हो रही थी और वो मेरी चूत में अंदर तक पहुंच बना रहा था. दो खूबसूरत चेहरे और उनके नाजुक होंठ जिन पर खास महंगी लिपस्टिक लगी हो, मेरे सामने आकर मुझे लालच दे रहे थे.

थोड़ी देर यूं ही उसके मम्मों से खेलने के बाद मैंने उसकी साड़ी पैरों से ऊपर पेट तक सरका दी. उसकी मोटी गांड की दरार में उसकी पैंटी धागे के समान होकर फंस गयी थी. जिससे वो नीचे से उचक उचक कर झड़ गयी और फिर बेजान सी होते हुए पस्त पड़ गयी.

मैंने वो गंदा कपड़ा उसके मुंह में ठूंस दिया और उसके लंड को जोर से पकड़ लिया.

शालिनी बार बार अपनी चूचियों को सहलाते हुए मेरे लंड की तरफ देख रही थी. मैंने लण्ड बाहर निकाल कर पैंटी को अपने लण्ड पर रगड़ा और उसे लण्ड पर लटका लिया. भाभी जब ऊपर होती तो खीरा बाहर आता और नीचे होती तो अपनी जाँघों के बीच लगा कर उसे मेरी चूत में घुसा देती.

हाथी की पिक्चरफिर माथे पर और फिर मेरे सीने और गले को सहलाते हुए मेरे होंठों को चूसने लगी. मुझे माथे पर कुछ ठंडक सी महसूस हुई तो देखा कि मस्तक पर कपड़े की गीली पट्टी रखी है.

सेक्सी ब्लू वीडियो में

परेशान ही हूँ शायद! हमारी कंपनी का इनपुट बहुत डाउन आया है तो मैनेजर से मीटिंग है आज ईवनिंग में।”मुझे कौन सा उनकी कंपनी के शेयर लेने थे? मैंने अपना पसंदीदा डायलॉग बोला जो हर नार्मल स्टोरी में होता है- अगर आप बोलें तो चादर थोड़ी नीचे कर देता हूँ जिससे नीचे भी मसाज कर दूंगा।कम इन फ्रंट ऑफ मी! (मेरे सामने की तरफ आओ). मेघा के सेक्सी कोमल बदन ने मुझे उन दिनों की याद दिला दी जब मैं अपने कॉलेज में था और सेक्सी कॉलेज गर्ल्स के साथ मस्ती किया करता था. रीना- वो तो मुझे पहली बार तुमसे मिलते ही समझ आ गया था, जब तुम मुझे अपनी आंखों से चोद रहे थे.

उधर सुमन, प्रतिभा, आंचल, पायल सभी ब्यूटीशयन के साथ मिलकर खुशी को तैयार करने और खुद तैयार होने में लगे थे. डार्लिंग नाराज़ क्यों होते हो इतना?मैंने कहा- नाराज़ कौन हो रहा है साली! चलो आज फिर खुद ही उतार कर आ जाओ हमारे सामने, हम भी देखें खुद कपड़े उतार कर कैसे सामने आती हैं हमारी जानेमन!तभी डोर बेल बजी और चाय आ गयी. वो लंड की चोटों से मस्ती से बोल रही थीं- आह कितना मजा आ रहा है … पूरा अन्दर तक जा रहा है … आह आज फाड़ दे मेरी चुत को अतुल … फाड़ दे इस निगोड़ी को.

मैं आंटी के होंठों और जीभ को चूसने के साथ साथ नीचे हाथ ले गया और उनकी चूत को कपड़ों के ऊपर से रगड़ने लगा. ’मीता के झटके तेज होते गए, वो पागलों के तरह मेरे निप्पल नोंचने लगी. आप अपने सुझाव ईमेल व कमेंट्स में मुझसे साझा कर सकते हैं।आपका प्यार दोस्त- किंग![emailprotected].

तभी उनमें से एक लड़के ने पास खड़ी लड़की को हग किया तो मैं समझ गयी की ये बंदी उसकी गर्लफ्रेंड है. ’मैंने लंड फिर निकाला और चूत के खून से रक्ततंजित तौलिया को उसकी गांड के नीचे से उठा कर उसकी चूत को पौंछ दिया.

अब मैं रमेश के लंड को जीभ फिरा फिरा कर चूसने लगी और वो मेरे मुंह में धक्के देने लगा.

वो लड़की अपने बॉयफ्रेंड के साथ थी तो मैंने उस लड़की से हाथ मिलाया और अपना परिचय देते हुए बोली- मैं नील की गर्लफ्रेंड हूँ. अमेजॉन लहंगामैं भाभी की चूत मारने लगा और वो भी अपना शरीर हवा में उठा उठाकर मेरा साथ देने लगी. इंग्लिश सेक्सी हिंदी फिल्ममैं सोफे पर बैठकर उन्हें पीछे से देख रहा था, उनके चूतड़ मस्त हिल रहे थे और वो काम किए जा रही थीं. उसने पीछे हाथ बढ़ाकर ब्रा का हुक बंद करना चाहा तो मैंने कहा- एक मिनट रुको, स्वरा.

इतना कह कर वे दोनों उनके बैडरूम में चली गयीं और पिंकी मुझे दूसरे बैडरूम में ले गयी.

ओ ईईई करते हुए भाभी ने मुझे अपनी छाती से भींच लिया और उनकी चूत ने पानी छोड़ दिया. सो प्लीज किसी बात का बुरा नहीं मानना; जैसे मुझे ये हुआ तो तुम्हें भी तो कुछ न कुछ हुआ ही होगा, है न?” मैंने कहा. अपने होंठ उसके गालों पर फिराते हुए मैंने धीरे से उसकी गर्दन और कानों पर भी होंठ फिरा दिए.

आंटी की गीली चूत को देखते हुए मैं जोर से मुठ मार रहा था और आनंद में डूबा जा रहा था. और तू बेअक्ल, दिमाग से बिल्कुल खाली है क्या? तेरे को समझ नहीं आता कि तेरी ये जवान साली इस मौके का फायदा उठा कर तुझसे चुदवाना चाहती है. हाँ मगर, पहली बार जब तुमने मुँह में डाला था तो मुझे भी बहुत अजीब लगा था लेकिन बाद में बहुत मज़ा आने लगा.

इंडियन हिजरा सेक्स वीडियो

वानी- ओह्ह माय गॉड … मुझ पर थोड़ा रहम करो सर, मेरी चूत में दर्द हो रहा है. शादी से पहले और शादी के बाद भी मेरे शारीरिक संबंध लड़कियों और भाभियों के साथ रहे हैं और भी नई हसीनाओं के साथ शारीरिक संबध बनाने के लिए उत्सुक भी हूँ. वो जान बूझकर अपने चुचे और चूतड़ को हिला कर रिझा रही थीं … ऐसा लग रहा था, जैसे भाभी मुझे दीवाना बना रही हों.

अपने लण्ड का सुपारा स्वरा की बुर के मुखद्वार पर रखकर मैंने अपनी हथेलियां बेड पर टिका दीं.

उनके घर में कोई और था नहीं … तो आंटी शायद और भी खुल कर एन्जॉय क़र रही थीं.

” साली जी बोलीं और फिर उसने अपनी हथेलियों में खूब सारा तेल मल लिया और मेरी चड्डी में नीचे से हाथ घुसा कर अपने बाएं हाथ से मेरे लंड में तेल लगाने लगीं. गैस पर रखा सामान जलने लगा तो नेहा ने गैस बंद कर दी और बोली- चलो बेडरूम में. बढ़िया कपड़ामीता- पर अंकल आप तो पूरे जानवर हो … एक बार भी ख्याल नहीं आया मेरी कमसिन चूत का … और मेरा … कितनी बेरहमी से अपना लंड मेरी चूत में डाला … मेरी तो जान ही निकाल दी आपने!मैं- मेरी जान वो पल ही ऐसा होता है, जब मर्द को जानवर बनना पड़ता है … वरना जो आनन्द बाद में आना है, उससे तुम वंचित रह जाती … और मैं अगर तुम्हारी बात मान लेता, तो तुम मेरे को लंड दोबारा डालने ही नहीं देती.

अभी पिछले साल उसको एक बेटा भी हुआ है।अब हुआ यूं कि वो कुछ दिन के लिए अपने माँ बाप के घर आई थी. थोड़ी देर यूं ही उसके मम्मों से खेलने के बाद मैंने उसकी साड़ी पैरों से ऊपर पेट तक सरका दी. वो चुदाई वाला प्यार नहीं … बल्कि देवर भाभी वाला स्नेह प्रेम!हाँ वो अलग बात है कि अब भाभी की झिझक और शर्म कम हो गयी है.

अचानक ही मेरे मुँह से इस तरह के अप्रत्याशित बोल निकले, तो अनीता भी आश्चर्य में पड़ गयी. फिर भाभी ने अपनी पेंटी पहनकर साड़ी ठीक की और मुझे चिपक कर बोलीं कि अब समझ आया कि निशा को भी कितना मज़ा आया होगा.

अगले दिन जब मैं सोकर उठा और अपने कमरे से बाहर निकला तो सब सामान्य था.

मैं यूँ खुश था जैसे सांतवे आसमान पर उड़ रहा हूँ।किट्टू ने जोर की चीख के साथ अपना सारा रस मेरे लण्ड पर उगल दिया था. कभी मेरे बारे में सोचा है कि मैं क्या चाहती हूँ! मेरी क्या इच्छा है … मेरे क्या अरमान हैं! क्या तुम समझते हो कि मुझे सिर्फ तुमसे जिस्मानी प्यार है? क्या मैं तुमसे बस अपने जिस्म की भूख मिटाना चाहती हूँ! अगर ऐसा होता, तो मुझे बहुत मिल जाते है. अब और आगे नहीं!मैंने भी कहा- अब एक साहित्यकार को छेड़ा है, तो सुनना तो पड़ेगा ही!उसने कहा- साहित्यकार हो … ये जान कर ही तो आपको प्रशंसा के लिए कहा.

लौंडिया लंदन मौज करो दोस्तो, आपने कभी वेबकैम मस्ती की है तो नीचे कमेंट्स में जरूर बतायें. चाचा ने हमारे जांघिये में हाथ डालकर हमारी चूत को छुआ तो हम पगला गये.

मैं राकेश अपने दोस्त रमेश की कहानी का तीसरा भाग आपके लिए लेकर आया हूं. फिर भी मुझे तुमसे कुछ अलग और ख़ास उपहार चाहिए।मैंने फिर कहा- तो तुम कहो तो सही, तुम्हारे लिए तो मेरी जान हाजिर है।खुशी ने कहा- मुझे तुम्हारी जान नहीं चाहिए, बस तुम्हारा लिंग चाहिए।उसकी बातों ने मुझे रोमांचित कर दिया और मैंने खुश होते हुए लेकिन थोड़ा भाव खाते हुए हंसते हुए लिखा- हा हा हा हा … मेरा लिंग तो तुम्हारा ही है. दोस्तो, अपनी पिछली कहानीनजर थी मां पर, बेटी चुद गयीमें मैंने आपको बताया था कि मेरे पड़ोस में रहने वाले एक पंजाबी परिवार की लेडी मनजीत पर मेरी नजर थी, मैं उसे चोदना चाहता था.

बुर की चुदाई चुदाई

मेरी तकलीफ वो पहचान गया इसलिए वो रुक गया लेकिन लंड गांड में से नहीं निकाला. दरसअल मेरी फुद्दी मैं अभी तक माल भरा हुआ था और खड़ी होनेके कारण अब वो फुद्दी के होंठों तक आ गया था लेकिन उनके लौड़े इतने लंबे थे कि बाहर नहीं निकल रहा था।उंगलियाँ बाहर निकाल कर उसने काले को एक मोटी गाली दी और कहा- साले, इसे साफ किसने करना था, हर बार मुझे ही करना पड़ता है।यह कहकर उसने आस पास देखा. उन्होंने झीना सा गाउन पहना हुया था, जिसमें उनकी ब्रा और पेंटी साफ़ दिख रहे थे.

इसी योजना के अनुसार उसने निशा के पीरियड के 14वें दिन के हिसाब से प्लान किया. जैसे जैसे मैं चुदाई की रफ़्तार बढ़ाता गया, प्रीति जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी- अह्ह्ह … उम्म … बहुत मजा आ रहा है अजय … हाये … चोद दो … मेरी चूत को खोल दो अजय … आह्ह अजय … ओह्ह अजय … फक मी … आह्ह … फक मी … जोर से।चुदते हुए वो बोली- अजय, लगता है तुमने तो सेक्स में पीएचडी कर रखी है.

नैन्सी ने आकाश को कहा- तुम भी बाथरूम में जाकर टॉवल से अपने को सुखा लो और गीले कपड़े उतार लो.

मैं बिल्कुल उसके चेहरे के ऊपर ही खड़ी थी ताकि उसको मेरी टपकती हुई चूत अच्छी तरह से दिखे. उसने अपनी चूचियों को दोनों हाथों से थाम लिया और दोनों को आपस में रगड़ते हुए दबाने लगी. राजेश ने शीला को जाने को कह दिया और उसे 1000 रूपये अलग से दिए कि तुम्हें अपने लिए कोई कपड़ा लेना हो तो ले लेना.

आखिरकार मुझे एक मैच्योर महिला मिली जो देखने में लगभग मधुलिका के जैसे ही दिखती थी. मैंने अब नेहा के मम्मों के ऊपर जीभ घुमा कर और उसके पेट से लेकर नीचे चूत तक आस-पास जीभ घुमा कर नेहा को तड़पा दिया था. पहले तो सर ने अपने दोनों हाथों से मेरे मम्मों को जी भर कर खूब दबाया और मेरे एक दूध को अपने मुँह में भर कर चूसने लगे.

मैं- आह्ह … चूसो मेरी जान … तुम तो अपनी मां से भी ज्यादा बेहतर तरीके से लंड चूसती हो। ओह्ह यस … थोड़ा करीब आओ डिअर ताकि मैं तुम्हारी चूत को लंड डालने के लिए तैयार कर सकूं.

बीएफ पिक्चर नई नई: ”ओके … अच्छा तुम एक काम करो … धीरे-धीरे अपने पैर पसारकर सीधे कर लो. कम से कम मुझे अपना दास बना कर ही रख लो यार। किंतु अगर तुम्हें लगे कि मैंने तुम्हारे बारे में कुछ गलत सोच लिया है तो प्लीज इसके लिए मना कर देना.

कुछ देर चूचियों को चूसने के बाद सर ने मेरी पैंटी भी निकाल दी और मुझे टेबल पर लिटा दिया. फिर उसके हिप्स को सहलाता हुआ उसकी पीठ चूम चूम कर उसे नार्मल करने लगा. उधर गुड्डी रानी चूं चूं किये जा रही थी कि मुझे इस तरह से क्यों नहीं चोदा.

मैं वहीं दरवाजे के पास खड़ा था और भाभी भी मेरे करीब आकर खड़ी हो गयी.

उसके स्पर्श का अब मेरे कोई भी विरोध ना करने के वजह से उसका हौसला बढ़ गया और वो अब तेज़ तेज़ मेरे दोनों चूचों को दबाने लगा. मैंने अपना हाथ नीरजा के मम्मों पर रखा और नीरजा को अपनी तरफ चिपका लिया. इसके साथ ही उसके मुंह से जोर की सीत्कार निकली- आहहहा … आहआह आआआ … ओ … ओहह … आह्ह … करते हुए वो परम आनंद में चीख पड़ी.