गांव की देहाती बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,सेक्सी सेक्सी चोदी चोदा वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

लक्ष्मी की बीएफ: गांव की देहाती बीएफ हिंदी, मेरी चूत एकदम साफ़ थी क्योंकि मैंने आज ही अपने चूत को बाथरूम में जाकर साफ़ किया था.

सेक्सी ब्लू सीन दिखाओ

मैंने कहा- मैं इतनी जल्दी तुम पर विश्वास कैसे कर सकता हूँ?ये कहकर मैंने फोन काट दिया. गूगल सेक्सी मूवी दिखाओउसने मेरी बीवी को सोहेल के दांतों से काटने के निशान वगैरह भी दिखाये थे.

मैं आइसक्रीम की तरह भाभी की चूत को चाट रहा था, जैसे ही जीभ चूत की दीवारों से टकराती, भाभी की आह निकल जाती. प्रीती झिंटा सेक्सीमैंने लिफ्ट में लगे बाजू वाले आईने में देखा कि वो लगातार मुझे ही देख रही थीं.

एना तो जैसे पागल हो गयी थी, मैं एक हाथ से उसके जी स्पॉट पर और दूसरे हाथ से उसकी चूत के दाने को मसल रहा था.गांव की देहाती बीएफ हिंदी: मैंने उसको चूमना चालू कर दिया, वो भी मेरा साथ देने लगी और हम दोनों जमकर एक दूसरे को चूमने लगे.

मैंने जैसे ही प्रिया की चूत में दो उंगलियां डालीं, तो अभी दोनों उंगलियां आधी ही अन्दर गई होगीं कि प्रिया सिसकारने लगी- ओह … दर्द हो रहा है.फिर अंत में अशोक ने अपने लंड से निकले वीर्य को अपने बेटी की चूत में ही गिरा दिया और उसी वक्त मयूरी के चूत ने भी पानी छोड़ दिया.

ट्रिपल एक्स गावठी सेक्सी व्हिडीओ - गांव की देहाती बीएफ हिंदी

मैं मुस्कान की चूत पर हाथ लगाते हुए बोला- तुमने बस यहां से ही करवाया था?बोली- हां.जब वो सेक्सी आवाजें करने लगी थी, तब उसका मतलब यही था कि वो अब पूरी तरह से गर्म हो गयी थी.

फिर कुछ देर बाद रशीद ने अपने लंड का पूरा पानी पायल के मुँह में डाल दिया. गांव की देहाती बीएफ हिंदी जैसे ही लंड ने चूत से दोस्ती की तो भाभी भी मेरा साथ देने लगीं और अपने चूतड़ उछाल उछाल कर मुझसे चुदवाने लगी थीं.

अब जल्दी से मिलवा दो इसे मेरी पिंकी से … टाइम कम है!”अदिति मेरी जान, लंड को लंड ही कहो न और तुम्हारी पिंकी नहीं चूत कहते हैं इसे!”धत्त, मैं नहीं कहती ऐसे गंदे शब्द!” बहू ने नखरे दिखाए.

गांव की देहाती बीएफ हिंदी?

मौसी ने बिस्तर के किनारे को पकड़ा और फर्श पर टांगें फैला कर चुत खोल कर खड़ी हो गईं. तभी चाची और जोर से लिपटती हुई एक लम्बी सीत्कार के साथ बोलीं- मैं गई रे … चोद … जोर से आह … आह!तभी चाची की चूत एक साथ ढेर सारा पानी उगलने लगी. मयूरी- मुझे भी बहुत सुख की अनुभूति हुए है पापा… आपको भी धन्यवाद… पर अभी तो आपको बहुत कुछ करना है… मेरी गांड की सील अभी भी खुली नहीं है… आपको इसको भी खोलना है और मुझे अब रोज़ चोदना है.

मैंने तो उन्हें जब से देखा है, तब से ही फिदा हूँ और उनके नाम की रोज बेनागा मुठ मारता हूँ. घर पहुंचते ही उसने नए फ़ोन के लिए पूछा तो मैंने अगली बार दिल्ली से लाने की बोला और सुबह वाली ट्रेन से वापस दिल्ली आ गया. यह सुन कर मैंने अपने हाथ से सुपारे के चमड़ी को सुपारे के ऊपर चढ़ाने के लिए आगे की ओर खींचा और कुछ ज़ोर लगाने पर चमड़ी सुपारे के ऊपर चढ़ गयी.

ये कहकर पति ने अपना लंड धक्का मारने के लिए चुत से बाहर निकालना चाहा तो लंड बाहर नहीं आ रहा था और मेरी चुत में भी दर्द हो रहा था. तभी वो आ गयी, मैंने मेरे दोस्तों का परिचय करवा दिया और वो सभी से हंस के बोलने लगी. जैसे ही उधर खिसकी तो देखा कि अंकल को मैं टच हो गई क्योंकि जगह बिल्कुल कम थी पर थोड़ी जगह निकल आई और अंकित लेट गया.

रास्ते में किसी से मैंने पूछा तो उन्होंने मुझे साउथ इंडियन फ़ूड के एक अच्छे रेस्तरां का रास्ता समझा दिया. तभी मैंने उसकी गरदन पर कई किस कर दिए, जिससे वो चिहुंक उठी और मुझसे और भी सट कर चिपक गयी.

भाभी का ध्यान पड़ने से पहले मैंने पानी की बाल्टी फेंक दी थी और जैसे ही हमारी नजरें मिलीं, सेक्सी भाभी ने अपने आपको ढकने के लिए एकदम से तौलिया लपेट लिया.

नाजुक अंग है तो थोड़ी एहतियात से करना।” उसने मेरी स्वीकृति की परवाह किये बगैर बंधी हुई टॉवल को पेट तक उठा दिया।और तब मुझे पता चला कि उसने नीचे चड्डी नहीं पहनी हुई थी।क्रमशःआप मेरे बॉस की सेक्सी बीवी की कहानी के विषय में मुझे अपनी राय से मेरी मेल आईडी या फेसबुक पर अवगत करा सकते हैं…[emailprotected]फेसबुक: https://www.

मैं सर से पांव तक काँपने लगा, मुझे अपने पैरों पर खड़ा होना मुश्किल हो रहा था. उसने मुझे आवाज़ लगा कर रोक लिया और एक फ़ोन करने के लिए मेरा मोबाइल माँगते हुए बोली- थोड़ी देर में दे जाऊँगी. मैं पता जानने उनकी ओर बढ़ा और जब तक मैं कुछ हाय हैलो बोलता, उन्होंने मेरा हाथ पकड़ा और गुस्से में खींचते हुए ये बड़बड़ाते हुए अन्दर ले गईं कि तुम ना हमेशा नालायक ही रहना, पूरा आधा घंटे लेट हो गए हो और अब फालतू के सैकड़ों नखरे करोगे, सो अलग और पैसों के टाइम बिलकुल भी कम ज्यादा ना करोगे.

अब उनकी बारी थी मेरे से खेलने की … मैं तो उनके लंड चूसने के तरीके से पहले ही परिचित था, बहुत मस्त लंड चूसती हैं. मैं अपने पड़ोस की एक छत से उनके मकान पर गया और जैसे ही छुपकर भाभी को ढूँढने लगा तो देखकर मुझे जोर का झटका लगा. मैंने तारा की बात को मजाक में लेते हुए जवाब दिया कि जब मर्ज़ी चली आना.

मैं तो पागलों की तरह उनको देख रहा था, वो जानती थीं कि मैं उनसे क्या चाहता हूँ.

इस दौरान मैंने नेहा के बारे में काफी कुछ जान लिया था कि वो किस कॉलेज में पढ़ रही है और उसके कॉलेज आने जाने की क्या टाइमिंग रहती है. लेकिन भैया पता नहीं कहीं ड्यूटी के सिलसिले में कहीं बाहर गए हुए थे और वैसे भी वो नौकरी के सिलसिले मैं बहुत ही कम घर पर रहा करते थे. आज बहुत बातें कर रहा है?मैं- कुछ नहीं, आप जैसी जानदार और शानदार आंटी से तो बातें करना मेरा सौभाग्य है.

अंकल आगे बोले- लंड तो देख लिया, सूंघ भी लिया और अब इसे चाटना और चूसना रह गया है … इसे भी सीख लो. मैंने उसे 10-15 मिनट ऐसे ही चोदा, उसकी कमर दर्द करने लगी और मेरी टांगें जबाव देने लगीं. जैसे कोई पॉर्न फिल्म मेकर लाँग शॉट, क्लोजअप लेने के लिये अलग अलग पोजीशन्स लेता है.

मैंने कहा- सच में … मुझे तो कोई कमी नहीं लगती तेरे अंदर, मैं लड़की होता तो तुझे बॉयफ्रेंड बना लेता।वो बोला- हाय… ये बात पड़ोस वाली शीतल क्यों नहीं बोलती। साला मुट्ठी मार-मारकर थक गया हूं उसके नाम की।मैं मन में थोड़ा खीझ गया… मैं यहां इस पर डोरे डाल रहा हूं और इसको शीतल की पड़ी है। मुझे जलन सी हो रही थी उसकी बातें सुनकर। मुझे लगा, ये तो चूत के पीछे पागल है, मेरा चांस कहां है.

बस मौसी तो खड़े खड़े ही मेरे लंड को मसलने लगीं, जो कि पहले से खड़ा था. मुझ जैसी अनाथ को मात्र एक चुदाई की चूत समझा जाता रहा, उसे चुदवा कर पैसे कमाने का जरिया बनाया जाता रहा.

गांव की देहाती बीएफ हिंदी तभी वो आ गयी, मैंने मेरे दोस्तों का परिचय करवा दिया और वो सभी से हंस के बोलने लगी. पहली बार किसी ने मुझे ऐसा किस किया था, मेरे तन बदन में आग सी लग गयी और मैंने उसको सीधे बोल दिया – जल्दी मुझे करो अब रहा नहीं जाता है मैं कबसे तुमसे कराने के लिए मर रही हूँ, मुझे चोदो आकाश!वो मेरे चूतड़ों को दबाने लगा इससे मुझे बहुत मज़ा आने लगा, मेरी चूत अब गीली होकर बहना शुरू हो चुकी थी.

गांव की देहाती बीएफ हिंदी इसके बाद मैंने डरते डरते मौसी को टच करना शुरू किया और उनके मम्मों को दबाने लगा. माइक उसे धक्के मारते जा रहा था और मुनीर मदमस्त होकर सिसकारियों भरी आवाजें निकालते हुए माइक को कभी चूमती, कभी उसके सीने को कचोटती, कभी हाथों बांहों को दांतों से काटती, कभी टांगों से उसे जकड़ने का प्रयास करती.

मैंने अपना पजामा और टी-शर्ट उतार दी और उसका टॉप और जींस भी उतार दी.

हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी में बीएफ

मैंने सोचा कि मुझे देखने के लिए आया होगा, शायद मुझसे शादी की बात हो रही होगी. मैंने अपने हाथों से उसका चेहरा ऊपर उठा लिया और एक बार प्यार से उसके होंठों को चूमने के बाद उसकी चूची को पकड़ लिया, मगर तभी प्रिया ने मुझे धक्का देकर खुद से‌ अलग कर दिया और बिना कुछ कहे फुर्ती से उठकर दोनों हाथों से मेरी निक्कर के साथ साथ मेरे अण्डरवियर को भी निकालकर अलग कर दिया, जिसमें मैंने भी अपने कूल्हों को उठाकर उसकी मदद की. वैसे तो मैं पहली बार में लगभग 15 से 20 मिनट तक चुदाई का दम रखता हूँ.

तब पूजा बोली- क्या हुआ रुक क्यों गए? 5-6 धक्के और मार देते तो मेरी चूत झड़ जाती. भाभी का ध्यान पड़ने से पहले मैंने पानी की बाल्टी फेंक दी थी और जैसे ही हमारी नजरें मिलीं, सेक्सी भाभी ने अपने आपको ढकने के लिए एकदम से तौलिया लपेट लिया. दोस्तो मैं तो एकदम से टूट ही पड़ा और उसे बेड पर लेटा कर बस चूमता ही रहा.

उसके घर में 2 रूम थे, जिसमें से एक तो उसके भाई का रूम था और दूसरा उसका.

मेरा खड़ा लंड भी बाहर आने को बेताब तो हो रहा था, लेकिन मैंने उस दिन जानबूझ कर अंडरवियर पहना था दरअसल मैं उस दिन मनीषा की तड़प देखना चाहता था और शनिवार होने की वजह से हम दोनों में से किसी का भी मन पढ़ाई करने का नहीं किया. फिर मैंने पूछा- आप कौन सी ब्रांड पसंद करती हैं?तो उसने कहा- जो आप ले रहे हो, वो ही ले लूँगी. अब तक वो अपनी बेटी की इस खूबसूरत काया और जवानी का पूरी तरह कायल हो चुका था.

उसके मम्मे बिना ब्रा के भी एकदम तने हुए लग रहे थे और उसके एक एक कदम चलने के साथ ऊपर नीचे हो रहे थे. दीदी, वैसे आपकी शादी से पहले एक बार तो सेक्स करना बनता है, उसके बाद तो मेरी किस्मत. मैंने एक नजर से जी भर के उनको देखा और धीरे से ‘हैप्पी होली इन एडवांस.

वो तीखे नयन नक्श वाली मस्त मनचली औरत थी और मेरे साथ खूब दिल खोल कर बातचीत, धींगा मुश्ती, हंसी मज़ाक करती रहती थी. मैंने सोचा कि शायद भाभी ने मुझे पोर्न देखते देख लिया था, इसलिए भाभी के अन्दर भी आग लगी है.

अंदर विक्रम अपनी माँ की चूत में और रजत अपनी माँ की गांड में लंड डालकर जोरदार चुदाई कर रहा था. बस एक हफ्ते की बात थी, पर मेरे मन बहुत बेचैन हो रहा था … तरह तरह के ख्याल मेरे मन में आ रहे थे. मैंने उसकी चूचियों को मसलना शुरू कर दिया तो उसने भी मेरा सर अपनी चूचियों पर लगा दिया.

उसने मेरा नाड़ा पकड़ लिया, मुझे पता भी नहीं चला और उसने एक झटके में नाड़ा खोल दिया.

मैं अपने पड़ोस की एक छत से उनके मकान पर गया और जैसे ही छुपकर भाभी को ढूँढने लगा तो देखकर मुझे जोर का झटका लगा. मैंने सोचा यही अच्छा मौका है, मैंने उससे बोला- क्या मैं आ जाऊं?उसने भी हां बोल दिया- हां आ जाओ. औरत स्नेह, ममता, वात्सल्य, आत्मीयता और अपनत्व, का अथाह सागर होती है.

आई डोंट माइंड।” वह मेरे पास लेटती हुई बोली।मैंने उठ कर ट्यूबलाईट और सीएफएल दोनों जला दिये और वापस आ कर उसके पास लेट कर उसे देखने लगा।काफी देर लगा दी।”आज जब मौका बन गया है तो क्यों न सब मजा ले लूं थोड़ा-थोड़ा. मुझे भी इन लम्हात का पहले से अंदाजा होता तो यूँ तुम्हारा तन ढलने की नौबत न आती। तुम्हारे यह थन सनी लियोनी की तरह वैसे ही फूले होते, ये चूतड़ किम की तरह बाहर उभरे होते और यह चूत पावरोटी की तरह फूली होती और तीन-तीन इंच बाहर निकली क्लाइटोरिस चूसने वाले होंठों को लुत्फअंदोज कर रही होती।”काश.

तेरी दोनों बहन भी बहुत चुडक्कड़ हैं, जब लालजी को मैं दारू पिला देता हूं, तो लालजी नशे में मुझे सब बताता है. उससे मैंने पूछा- क्या तुम होटल में भी सर्विस दे सकती हो?तो उसने कहा- नहीं, मैं केवल दिन में सर्विस देती हूं. मैंने कहा- क्यों, मैं क्या किसी को बताने जा रही हूँ?उसने कहा- नहीं, मैं अब कुछ नहीं बता सकता.

पहली पहला वाला बीएफ

जैसे ही उन्होंने मेरी ब्रा का हुक खोला, मेरे चूचे एकदम से बाहर उछल आए.

उतने में मेरे दोस्त ने मुझसे कहा- चलो झूला झूलते हैं, वो जो बड़ा वाला गोल होता है. फिर प्रीति ने कहा- नहीं भाभी, मेरा भी मन करता है प्लीज़।तो मैं बोली- ठीक है. कामुकता से परिपूर्ण यह हिंदी सेक्स कहानी जारी रहेगी, मजा लेते रहिये![emailprotected].

मैंने एक सेकंड के लिए उनके होंठ छोड़े, तो वो छूटते ही हांफने लगीं और बोलीं- ये गलत है. मैं फिर उनकी चूत को चूसने लगा। उनकी चूत के दाने को मैंने मुँह में भर लिया. एम सेक्सी वीडियोमेरा बापू अम्मा से बोल रहा था कि तुम अपनी चूत की फिक्र करो, रात को तैयार रखना.

हम तीनों ने मिल्कशेक पिया और अंकिता ने 3 सिगरेट जलाई और हमने सिगरेट पी. इतना सुनते ही जगतदेव अंकल अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे, पर लंड फिसल गया और छेद से बाहर हो गया.

तब अचानक मिताली दीदी ने अपने लाल होंठ मेरे होंठ पर रख दिए और स्मूच करने लगीं. अच्छा अब बहुत बातें हो गयी हैं, अब ज़रा मन लगा कर मेरी चूत में अपना लंड जोर जोर से पेलो. पूजा नीचे से अपनी गांड उचकाते हुए बोली- हां मेरे चोदू राजा, जब तुम अपना लंड मेरी चूत को खिला रहे तो मेरी चूत को तुम्हारा लंड खाने में क्या एतराज़ है? वैसे तुम चोदने में बहुत ही माहिर हो.

क्या तेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?मैं बोला- नहीं!तो चाची बोली- कोई बात नहीं, अब डर मत, मैं तेरे चाचा को नहीं बोलूंगी. हम वहां पहुंच गए थे, भैया के साथ घूमना फिरना भी हो रहां था लेकिन यार मैंने जैसा सोचा था ना. हम अंजाने में कितना ढेर सा सुख पीछे छोड़ आते हैं।”वह एक गहरी साँस छोड़ती पीछे अधलेटी हो गयी और चेहरा छत की ओर हो गया। इससे उसका निचला हिस्सा और ऊपर हो गया और उसकी गुदा का छेद मेरी पंहुच में हो गया।क्रमशःमेरी बहन की चूत चुदाई कहानी के बारे में अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करायें। मेरी मेल आईडी हैं.

मैं उसके ऊपर लेट गया और ब्रा के अंदर से ही बूब्स दबाने लगा और उसके गले में चूमने लगा, उसकी क्लीवेज में जीभ फेरने लगा जिससे वो और कामुक होने लगी.

तारा ने दोनों हाथों को बिस्तर पे रख खुद को सहारा दिया और धक्के सहने को तैयार हो गयी. साला हर बार यही कहता है कि चूत को साफ़ करके आना, जैसे वो मेरी चूत को अपनी प्रॉपर्टी समझता है.

उस दिन मेरी बड़ी गांड वाली मौसी ने घाघरा और ऊपर टाइट ब्लाउज पहना हुआ था. मैंने अपना लंड फिर से उसके चुत पे टिकाया और धीरे धीरे अन्दर डाल दिया. मैं घर का सारा काम करके अपनी चूत में उंगली करती थी और अपने मोबाइल में ब्लू फिल्म देखती थी.

भाभी को धकेल के दीवार से लगा दिया और होंठों को जोर जोर से चूसने लगा. मैं भी अब तक समझ गयी थी कि मुनीर की हालत अब बहुत खराब हो चली है और वो जल्द से जल्द झड़ना चाहती है. मैं भी दिन में बोर हो जाती थी इसलिए दोपहर में हम दोनों लोग फ़ोन पर बातें करते थे.

गांव की देहाती बीएफ हिंदी अशोक को अपनेबेटी की चूततो नहीं दिख रही थी क्योंकि वो जांघों में नीचे कहीं छुपी हुई थी और वो अपने आँखें फाड़-फाड़ कर अपनी बेटी के सामने ही उसकी चूत में नजर भी नहीं डाल सकता था, पर गांड और उछलती हुई चूचियों पर से वो अपने ध्यान हटा नहीं पा रहा था. जब हॉस्पिटल से छुट्टी मिल गई तो मैं उसे घर पर ले गई और बोली कि अब मुझे जाने की इज़ाज़त दो.

सेक्सी वीडियो फुल एचडी बीएफ बीएफ

जगतदेव बोला कि सच बोल रहा है या मजाक था समाली?समाली अंकल बोले- मैं सच कह रहा हूं, वन्द्या तू बोल. अंकल का गर्म हाथ घुंडियों को रगड़ने से मेरे मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं- उफ … उफ … उई … इस्स … उह … उम … ओह … और चूसो अंकल!थोड़ी देर की चुसाई के बाद मेरी पूरे देह में चुनचुनी उठने लगी … मानो चींटियां रेंग रहीं हों. तभी मयूरी रसोई में पहुँची और पीछे से शीतल की दोनों चूचियों को जोर से दबाते हुए पूछने लगी- और मेरी चुड़क्कड़ माँ… खाना बन गया?शीतल- हाँ मेरी चुड़क्कड़ बेटी… खाना बन गया.

मेरे लंड से निकलने वाले पानी से अब मुस्कान की गांड गीली भी हो गई थी तो मेरा लंड सटासट अन्दर बाहर हो रहा था और गांड चुदाई करने में मजा आ रहा था. मैं पूरी ताकत से उसके होंठ अपने होंठों से लगा कर चूमने का मजा ले रहा था. जानवर और कुत्ते की सेक्सीवो पैसों वाली बात? कहीं कोई गड़बड़ तो नहीं चल रही? पहले तो आप अपनी कहानी बताओ.

मैं उधर बनी एक कच्ची झोपड़ी के पीछे छिप गई और उनको लंड हिलाते हुए देखने लगी.

बस, अब तो हो गया, यह आखिरी दर्द था … बस थोड़ा सा और सह लो … फिर सब ठीक हो जाएगा. पांच मिनट की जोरदार चुदाई करने के बाद मैं उस पर निढाल होकर गिर पड़ा और मैंने अपना माल उसकी चुत में गिरा दिया.

तो मैंने उससे चले जाने को कहा कि मैं खुद ट्रेन पकड़ लूँगी, तुम चले जाओ नहीं तो लेट हो जाओगे. तभी उसने अपनी गांड मेरे तरफ की, तो मुझे उसकी गांड का आकार साफ नजर आ रहा था. मुझे भी पता चल गया था कि वो मेरे साथ सेक्स करना चाहता है लेकिन चुदाई की शुरुआत कोई नहीं कर रहा था.

शौर्य ने फिर अपने लंड को हाथ में लेकर हिलाने लगा और साथ ही जोर जोर से मेरा लंड भी चूसने लगा.

ध्यान रखना कोई भी कमरे में न आने पाये, बहू के चढ़ावे के गहने भी वहीं संदूक में रखे हैं. मैंने उससे पूछा कि माइक और मुनीर कहां हैं और मिलने की जगह सुरक्षित तो है न?तारा ने तुरंत जवाब दिया- फिक्र मत करो … इस बार ऐसी जगह पर सारा इंतज़ाम है कि दिल खुश हो जाएगा और किसी प्रकार का कोई भय नहीं रहेगा. मैंने उससे पूछा- तुम मुझे अपनी बड़ी बहन समझ कर सब कुछ बताओ, मैं तुम्हारी पूरी सहायता करूँगी.

ब्लू फिल्म भेजो सेक्सी वीडियो मेंउस पर ऊपर से उसकी गांड का घिसाव भी मेरा लंड चरम की अवस्था में आ गया था और लावा उगलने को तैयार हो गया था. फिर उन्होंने मुझे अपनी तरफ को किया और बोले कि मुझे तुम बहुत अच्छा लगते हो और मैं तुम्हें प्यार करना चाहता हूँ.

मारवाड़ी सेक्सी बीएफ बीएफ

तो देखा वो नंबर लिख रही थीं। मैंने जल्दी-जल्दी नंबर दिमाग में बिठा लिया। इतने में मेरा स्टॉप आ गया और मैंने उतरते ही नंबर डायल किया।रिंग गई तो मोबाइल पिक हुआ।मैं- हैलो. बाकी ये आगे की कहानी है, इसमें प्रिया की चूत से लेकर उसकी गांड की चुदाई तक सब होगा. मस्त मुलायम बूब्स थे उसके एकदम गोरे।मैं आंटी के बूब्स दबाते हुए उसके पेट पर किस करने लगा.

इसके जैसी चुदक्कड़ बहुत कम ही मिलती है लेकिन जिसे मिलती है उसके लंड का भाग्य बदल जाता है. मेरा हाथ पूरा फ़ैलाने के बाद भी उसकी गांड को पूरी तरह से नहीं ढक पा रहा था. रजत- हाँ… शायद!मयूरी- अब?रजत- अब तो बाकी का काम बाद में करना पड़ेगा.

अब वो कभी कभी मेरी चूची को बहुत ध्यान से देखता था और मेरी चूची को देखकर बोलता था कि तुम बहुत सेक्सी हो. सबीना जोर से चिल्लाई, बोली- थोड़ा धीरे करो … मैं कहीं नहीं जा रही हूं. कैसे भी बस… अभी मिलना है।मेरा और उसका घर कोई 4-5 किलो मीटर के फासले में होगा, मैं उसके पास गया रात का वक़्त था तो मैंने कार ले जाना ही सही समझा.

मैंने कहा- नहीं धीरज, मैं तो कई दिन से चाहती थी कि तुम्हारा हाथ इनको जोर जोर से दबाए और तुम्हारा लंड मेरी चूत में जाए … मगर मैं कैसे कहती जब तुम मुझसे बात ही नहीं करते थे. मैंने महसूस किया कि उसके निप्पल एकदम कड़क हो गए थे और मम्मे भी तन गए थे.

मैंने बोला- क्या आपकी चूत चाटूँ?तो वो बोलीं- चूत क्यों?मैंने बोला- वीडियो वगैरह में करते हैं.

टॉयलेट में पहुँच कर पहले पूजा ने अपना चेहरा धोया और एक तौलिया भिगो कर अपने पूरे बदन को पौंछा. एनिमल सेक्सी वीडियो गर्लअभी तो आज हम तीनों ही तेरे चूत और गांड की खुजली मिटायेंगे और देख हम तीनों ही तुझे जन्नत से भी ज्यादा मजा अभी दिए देते हैं. ब्लू फिल्म सेक्सी गाने” मैं दरवाज़े पर खड़े खड़े नौकरानी से कहा।साहब, कोई गलती हुई हो तो माफ़ी दे दो… पर काम से मत निकालो!” नौकरानी ने परेशान होकर मेरी खुशामद की।ऐसी बात नहीं है शीला, असल में मैं पूरी रात बाहर जाग कर आया हूँ और आराम से सोना चाहता हूं, तुम्हारे काम की खटर पटर से मैं ठीक से सो नहीं पाऊँगा. और सही भी था … मुझे भी बहुत ज्यादा मजा आ रहा था जब वो अपने गुलाबी होंठों से मेरे गाल पर चूम रही थी।दोस्तो, आप भी कभी अपने बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रैंड या पति के साथ बाइक पर जायें तो ऐसा करके देखना … आपको बहुत मजा आएगा।खैर थोड़ी देर बाद हम खेत वाले घर पर पहुंच गए और मैंने बाईक को साइड में लगाया और चाबी निकाल कर कमरे का दरवाजा खोला, दोनों अंदर आये, मैंने दरवाजा लॉक कर दिया.

जिसका नतीजा यह निकला कि उसका सुपारा मेरी चुत को चीरता हुआ अन्दर चला गया और मेरी चुत से खून निकलना शुरू हो गया.

मैंने देखा कि पहला चूचुक काफ़ी देर तक चूसने के कारण काफ़ी फूल गया था. इतना सुनते ही जगतदेव अंकल अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे, पर लंड फिसल गया और छेद से बाहर हो गया. शीतल- हाँ… बिल्कुल!मयूरी- कोई बात नहीं… तुम घबराओं नहीं… तुम्हें जल्दी ही रंडी बना देंगे और ये सारी शर्म-हया चली जाएगी तुम्हारी… पर अभी के लिए तुम जाओ और निश्चिन्त होकर अपने बेटों के लंड और उनकी जवानी का मजा लो… तुम्हारे पति को मैं देखती हूँ.

फिर हम थोड़ी देर ऐसे ही लेटे रहे, बाद में उठ कर देखा तो पूरी चादर भीगी हुई थी, कहीं कहीं खून के निशान थे. ट्यूबलाइट की तेज रोशनी में उसका जवां हुस्न मेरे तन मन में हाहाकार मचाने लगा. पिंकी को बिल्कुल घरेलू लड़की की तरह से सजाया था ताकि उसका असली रूप उनको ना दिखे.

बलात्कार बीएफ वीडियो

दो लड़कियों से मेरा संपर्क नहीं है, पर पड़ोस की एक भाभी तो मेरे लंड की इतनी दीवानी हैं कि जब कभी भी मौका मिलता है, वो मुझसे चुदवा ही लेती हैं. वाह और लंड को क्या चाहिए था अब … नेकी और पूछ पूछ … जिसकी चुदाई के सपने देखते थे, वो हमारे सामने चूत देने को राजी हो गई थी. उसने आसमानी नीले रंग का स्पोर्ट्स वाला शार्ट्स पहन रखा था जिसमें अंदर लटक रहा उसका लंड उसके कदमों के साथ इधर-उधर डोलता हुआ एक बार दाईं.

मैंने अपना हाथ धीरे-धीरे टॉप के ऊपर से उसकी चूची पर रख दिया और धीरे-धीरे सहलाने लगा.

फिर नाइट में उनको होटल में ड्रॉप किया, तो उस लड़की ने मुझे रोक कर बोला कि मुझे आपसे टूर के बारे में बात करनी है.

थोड़ी देर ऐसे ही भाभी की चुदाई करने के बाद मैंने उनको घोड़ी बना दिया और गांड पर 3-5 चांटे मारते हुए एक झटके में लंड घुसा दिया. दो दिन बाद मम्मी ने कहा- सोनू, खाना तू परोसा कर आज से!तो मैं खाना परोस रही थी, जैसे ही झुक के खाना देने लगी तब मैंने देखा कि वहां बैठे सभी मर्द, एक दो को छोड़कर, सब मेरी तरफ घूरे जा रहे थे. आदिवासी सेक्सी दिखाइए वीडियोपायल के मुँह से हल्की सी आवाज निकली उम्म… अह… और उसने अपनी गांड भी आगे की ओर खिसका ली.

”लंड पर लंड की घर्षण, चेहरे पर चेहरे की घर्षण होने से मैं उत्तेजित हो गया. उसने पूछा- मुझे कब करोगे?मैंने कहा- रात को!वह खुश हो गई और वहां से चली गई. मैंने हिमानी को बेड पर लिटाया और उसकी टांगों को खोल कर चूत को चौड़ी करके देखा.

तुम मुझे पार्किंग के पास मिलो।मैं पार्किंग के पास गया और उनका वेट करने लगा। कोई 15 मिनट के बाद एक आई-20 आ कर रुकी और शीशा नीचे करके उन्होंने आवाज दी- रवि आओ अन्दर।मैं अन्दर बैठ कर बोला- साक्षी जी ये कार?साक्षी- मेरी है. लेकिन मैंने कुछ भी पूछना उचित नहीं समझा और पूजा जैसे जो करती रही, मैं देखता रहा.

तब मैं भी पूजा की बातों को मान कर उसको अपनी कमर चला चला कर चोदने लगा और अपने दोनों हाथों से उसकी चूचियों को मसलने लगा.

मैंने पहले तो अपनी उंगली को प्रेमद्वार पर गोल‌ गोल घुमाया और फिर उंगली को प्रेमद्वार पर रख कर हल्का सा दबा दिया, जिससे मेरी उंगली का लगभग आधा पौरा उसमें धंस गया और प्रिया के मुँह से एक जोर की सिसकारी निकल गयी- उइइईईई … इश्श्श्श्श … अह … ओह … उय्य्य्य …उसने मेरे हाथ को जोर से अपनी चुत पर दबा लिया और फिर से अपनी कमर को ऊपर हवा में उठा लिया. थी तो ऐसी हसीन कि हमेशा मेरे मन में ख्याल आता था कि काश इतनी बुरी न होती।अंदर आ जाओ।” वह रूखे स्वर में बोली तब मैंने गौर किया कि उसके शरीर पर घरेलू कपड़े ही थे, यानि वह तैयार नहीं हुई थी अभी।कोई जवाब दिये बिना खामोशी से मैं नीचे उतर कर उसके पीछे चल पड़ा।इस बारिश ने भी मुसीबत कर रखी है. अन्दर हल्का सा अंधेरा था, उसने लाइट नहीं ऑन की थी, लेकिन उस डोर से उसकी वही पुरानी जेस्मीन और गुलाब की मिक्स खुशबू आ रही थी.

चुनार सेक्सी वीडियो मैंने कहा- यह कैसे हो सकता है, जब मैंने वायदा किया तो उसको निभाना भी मेरा ही काम है. फिर मिशनरी पोज में लेकर मौसी को अपने लंड के नीचे लिया और एकदम फ्रंटियर मेल जैसे चुदाई करना चालू कर दिया.

यह सुनते ही उन्होंने मुझे बेड पे पटक दिया और अपना लंड मेरी चुत में डाल दिया. दोनों के मुँह से आवाज़ें निकल रही थी और दोनों बेपरवाह होकर एक दूसरे को चोदने में व्यस्त थे. हम रूम में आए, रीना के लवर ने बोला- बॉस प्लीज़ अन्दर जाइए, आज की नाइट के लिए बेस्ट ऑफ लक.

बीएफ सेक्स मराठी सेक्स

सुनील ने अपना ग्लास पायल के होंठों से लगा के पिला दिया … पायल एकदम से उठ गयी और थूकने लगी, बोली- ये क्या पिला दिया, इसमें कतरा सा क्या मिलाया है?सुनील हंसने लगा, मैंने देखा था सुनील ने मुठ मार के अपना वीर्य दारू में मिक्स करके पायल को पिला दिया था. मैं उसको तुरंत बिस्तर पर ले आया और उसके साथ किस्सम-किस्सी चालू कर दी. फिर वो हल्की नाराज़गी सा मुँह बना के मुस्कुराने लगी, मैं समझ चुका था कि बात बन चुकी है.

हम दोनों ने चुदाई का भरपूर मजा लेने के लिए अपने अपने घरों झूठ बोला और 3 दिनों के लिए खजुराहो का प्लान बनाकर अपने घरों से चल दिए. तो पिछली कथा में बात यहां तक पहुंची थी कि बहूरानी ने मुझे कहा था कि मैं कम्मो को मार्केट ले जाऊं और उसे नया स्मार्टफोन दिलवा दूं; पैसे तो कम्मो के पास हैं.

उसने जल्दी ही अपनी कुछ फ्रेंड्स के साथ आने को कहा है, उसके बाद का किस्सा जब होगा तो आप सभी को जरूर लिखूंगा.

तूने कब जीएफ बना ली?मैंने कहा- चाची मैं जैसा दिखता हूँ, वैसा हूँ नहीं. जैसे सफेद रंग के लड़के या लड़की को नंगा देखने की ख्वाईश थी मेरी, वैसे ही माऊथ सेक्स की भी चाहत थी. कुछ देर बाद वो चाचा से बोला कि इसकी टांगें फैलाओ ताकि चूत को देख सकूँ कि यह चुदी हुई है या नहीं.

कुछ देर बाद मैं उठी और बाथरूम में जा कर अपने आपको अच्छी तरह से साफ किया और कपड़े डाल कर वापिस घर आ गई. अंकल जी, कहां खोये हुए हो इतनी देर से?” कम्मो ने बोलते हुए मुझे कंधे से हिलाया. देखा है तो इतना मजा भी तो दिया है, वैसे मेरा क्या देखना है तुमको?” मैंने भी सेक्सी आवाजें निकलते हुए कहा.

उसके 32 इंच के बोबे, 30 इंच की बलखाती कमर और 34 इंच की उभरी हुई गांड.

गांव की देहाती बीएफ हिंदी: उन कपड़ों में उसका शरीर ढका हुआ कम, उघड़ा हुआ अधिक लग रहा था, उसका सुन्दर, गोरा, गोल चेहरा जिसपर मोटी मोटी सेक्सी आँखें थी तथा उसके गाल पर काला तिल था जो और भी सेक्सी लग रहा था. यह कहानी मेरी सच्ची हिंदी सेक्स कहानी है, इसमें कोई मिलावट नहीं है.

मेरे जिस्म में अब कोई दर्द नहीं था, सिर्फ और सिर्फ सेक्स की प्यास थी. रशीद पायल के मम्मे को आम समझ कर उसका रसपान करने लगा … और चूसते हुए मसलने लगा. पता नहीं ऐसा मौका फिर कभी हाथ आएगा भी या नहीं, मैं ये मौका हाथ से गंवाना नहीं चाहता था.

उधर माइक तेज़ी के साथ मुनीर की धज्जियां उड़ाये जा रहा था और तारा उन्हें देखकर पूरा मजा ले रही थी.

माइक ने एक और आखरी हल्का धक्का दिया और तारा के ऊपर अपना पूरा वजन गिरा दिया. तुम्हें नहीं लग रहा?मैं बोली- इससे कुछ नहीं होता बुड्ढा और जवान उम्र से कुछ नहीं होता अंकल, मैं सच बताऊं बस इंजॉयमेंट होना चाहिए, मर्द लड़की को सेटिस्फाई कर दे और लड़की मर्द को सेटिस्फाई करे और हर तरह की सर्विस मर्द को दे. जो औरत हर रोज अपने पति से चुदवाती हो, उसे ही ये मालूम होगा कि 6 दिन चुत की चुदाई ना हो, तो चुत की क्या हालत हो जाती है.