एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ

छवि स्रोत,बुर कैसे चोदा जाता है

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉक्टर का सेक्सी बीएफ: एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ, फिर हमारे एक सेमेस्टर का एग्जाम खत्म हुआ, तो हम दोनों घर जाने वाले थे.

सेक्सी पिक्चर चोदा चोदी चोदा

मुझे नहीं पता कि भाभी ने किस वजह से वो बात मेरे दोस्त को बता दी थी. दूध किसे नहीं पीना चाहिएवो पतली है लेकिन उसके चूचे एकदम सामने की तरफ नोकदार उठे हुए हैं और बड़े मस्त लगते हैं.

कुछ बूंदें भाभी के मुँह में गईं, कुछ उनके चेहरे पर गिरीं और कुछ उनके मम्मों पर आ गिरीं. छोड़ा छोड़ी फिल्मपर आज मैं यह मौका खोना नहीं चाहता था, तो मैंने लंड चुत से नहीं निकाला.

मैंने धीरे से आंखें खोल कर देखा, तो वो बाथरूम से केवल एक अंडरवियर में बाहर आ गया था.एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ: मेरी गांड में जो वीर्य था उसकी बूंदें अज़ीम के मुँह पर गिरने लगीं और वह उसको चाटने लगा.

सबसे बातचीत हो रही थी।सबने शाम को खाना खाया और सोने की तैयारी की मेरी तो धड़कनें बढ़ने लगी.मैं बनावटी गुस्सा दिखाता रहा और उसको काम से निकल जाने के लिए कहता रहा.

बीपी ब्लू सेक्सी पिक्चर - एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ

बीस मिनट तक बड़ी बुआ की गांड मारने के बाद वैसे ही छोटी बुआ की गांड मारनी शुरू कर दी.इतना कहकर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और अवनीत से अपना लण्ड चूसने को कहा.

वो मुझसे बोले- तुमको चलेगी?मैंने कहा- नहीं अंकल, मैंने पहले से दो पैग लिए हुए हैं. एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ वो पहले तो हटाने लगी लेकिन मैंने उसकी चूत को जोर जोर से सहलाना शुरू कर दिया.

इसी तरह पहले एक बार सत्यम ने बारी बारी से हम सब चुदक्कड़ों की चूत फाड़ी और अपना सारा माल हम सबको पिलाया.

एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ?

मैं- ठीक है तब सुषमा मादरचोद … अब तू देख … कैसे तुझे रंडियों के जैसे चोदता हूँ. अब तू ही बता क्या करूँ?एकदम अचानक से आकांक्षा मेरे नज़दीक आयी और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए. लेकिन बाद में फिर हम उसकी ज्यादा जिद करने पर मैं मान गई और हम दोनों साथ में एक होटल में गए.

कुछ देर बाद मां झूमती हुई आईं और मेरे सामने उन्होंने ब्रा पेंटी छोड़ कर अपने सारे कपड़े उतार दिए. इसी के साथ उसने अपने होंठों को खोल दिया और उसी समय मेरी जीभ ने उसके मुँह में हमला कर दिया. उसके बूब्स हैं तो बड़े … यानि 36 के हैं … पर वो 34 की ब्रा पहनती थी.

रोज मैं कॉलेज के बहाने से निकल जाता और जया को लेकर वहां पहुंच जाता. अम्मी ने यह बात मानी थी, उन्होंने अलमारी से तेल की बोतल निकाली और सुनीता की चूत पर लगा दी. मेरे विचार से तुम कुछ दिन के लिए अलग घर ले लो तो सब कुछ ठीक हो जायेगा.

उसकी सेक्सी फिगर का दीवाना होकर मैंने उसे पटाया और उसके घर में उसकी चुदाई की. तेल की शीशी से तेल हाथ पर लेकर मैंने उसकी गांड में अच्छे से तेल लगाया और उसकी गांड को अंदर तक चिकनी कर दिया.

उन्होंने मेरे लंड को चड्ढी के ऊपर से पकड़ लिया और लंड मसलते हुए बोलीं- कितने महीनों से लंड का स्वाद नहीं चखा है.

इस पर मां बोलीं- मालिश बेटा रहने दे, तू थोड़ी कमर ही दबा दे, तुझे भी नींद आ रही होगी.

मैं उसके सिर को पकड़कर अच्छे से किस कर रही थी और वो अपने हाथों से मेरे जिस्म को सहलाए जा रहा था. फिर मैंने ज़ोहरा के दोनों पैर अपने कंधों के ऊपर किया और फिर से आपा की चूत में जोर जोर से झटके लगाने लगा. वह साड़ी को हमेशा अपनी नाभि के नीचे बांधती थी और कयामत लगती थी जिसे देखकर किसी का भी लंड झटके मारने लगे।उनके पति कपड़े की दुकान चलाते थे जो हमारे घर से थोड़ी दूरी पर थी.

एक दिन श्रुति भाभी ने बताया कि वैशाली दो दिन घर में अकेली रहेगी और वो तुम्हें अपने घर बुलायेगी. अब वो बहुत सेक्सी आवाजें निकाल रही थी- अह भाई ऐसे ही मस्त मजा आ रहा है और जोर से चोदो … आह!मैं धकापेल चुदाई करता रहा. उसके मम्में काफी बड़े थे और गांड देख कर तो लंड एकदम से तन कर खड़ा हो जाता था.

अम्मी ने दूध में नींद की गोली डाली और अपने गिलास बिस्तर के पास रख लिया.

मैंने उसकी दोनों टांगों को हाथ में पकड़ कर लंड को चूत के मुँह पर रख दिया. उसके होंठों को छोड़ कर मैं उसकी चूचियों से होते हुए उसकी नाभि पर किस करते हुए नीचे तक आ गया. मुझे चुदास चढ़ने लगी, तो मैंने अपनी नाइटी में हाथ डाल कर अपने चूचों और चुत के साथ खेला और पानी निकाल कर सो गई.

मैं नींद में था तो रोज की आदत की तरह मैंने उसे अपनी पत्नी का हाथ समझ कर पकड़ लिया और साथ ही मेरी आंख खुल गयी। अपने हाथ में मीनाक्षी का हाथ देख मैं तो डर ही गया कि भाभी मुझे गलत समझ कर मेरी मम्मी से मेरी शिकायत करेगी लेकिन वो तो मुझे देख कर मुस्कुरा दी।मेरी पत्नी सुषमा को मायके गए हुए अभी तीन दिन ही हुए थे और चुदाई के बिना मेरा हाल खराब था. वो मेरे पास आई और बोली- मैं भी साथ चलती हूं, मुझे भी उसी तरफ जाना है. मेरे साथ मेरा छोटा साला सोया और मेरी बीवी सुषमा अलग कमरे में पढ़ने लगी.

माँ बहन की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैं मेरी बहन के जिस्म का दीवाना था.

कुछ देर बाद प्रशांत ने मां को पकड़ा और उनको होंठों पर बहुत जोरदार किस की और मम्मी की साड़ी को ऊपर उठा कर उनकी चूत पर हाथ लगाने लगा. मैं इसी तरह की मादक आवाजें निकालते हुए अपनी चुत में लंड का मज़ा ले रही थी.

एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ गले लगने के बाद जब उन्होंने मुझे छोड़ा, तो उनके मम्मों पर लगी हुई मेहंदी मेरे सीने पर आ लगी. रूम में पट पट की तेज आवाजें आ रही थी और मैं भी पूरे जोश में अपने लंड को हाथ में लेकर आगे पीछे कर रहा था.

एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ उसकी चुदाई से दीदी को बहुत दर्द हो रहा था … क्यूंकी उसका लंड बहुत बड़ा था, लेकिन दीदी को मज़ा भी खूब आ रहा था. तो दोस्तो, कैसी लगी मेरी और पड़ोसन भाभी की सेक्सी चुदाई हिंदी कहानी? प्लीज मुझे मेल जरूर करना.

उसने मुझे मना किया और मेरा हाथ अलग करते हुए मुझसे कहा- मेरी सोसाइटी आ चुकी है, अब अलग होकर बैठ जाओ.

सेक्सी नंगा पिक्चर भेजो

प्रियंका भाभी मेरी जांघ के ऊपर आकर बैठ गईं और हम दोनों एक दूसरे को प्यार से देखने लगे. बाबा बोले- बाहर जाकर देख, कोई है तो नहीं पास में?मैं गांड मटकाते हुए बाहर गयी और देखने लगी. माँ अब नहाने लगी थीं, वो अपनी पीठ मल रही थीं और मैं अपना लंड मलने में लगा था.

इतने में पिंकी भी उठी और उसने अपनी कमीज को उतार कर वो भी ऊपर से नंगी हो गयी. फिर मैंने चाची को कुतिया बना कर एकदम से उसकी चूत में लंड को पेल दिया. मैंने अपने दाएं पैर से उसकी मांसल जांघों को सहलाना शुरू कर दिया, वो मस्ती में तड़पने लगी.

इस समय चुत अपनी आग बढ़ाने का काम भी करती है … जिससे लंड का पिघलना भी जल्दी होने लगता है.

फिर मैंने भाभी की चुत पर थोड़ा थूक लगाया और भाभी ने अपना थूक मेरे लंड के ऊपर लगाया और वापस पहली पोजीशन में आ गए. फिर अगले ही पल उसने मेरे लंड को मुंह में भर लिया और मेरा लन्ड चूसने लगी. मेरी ननद गर्म ही चुकी थी। ननदोई ने अपने लंड उनकी चूत के ऊपर सेट कर दिया और धक्का देने लगे तो उनकी चीख निकल गई ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’लेकिन साथ ही ननदोई उनके मुंह पर हाथ रख दिया और चुदाई की गति को तेज करने लगे.

अब हम दोनों हर शनिवार रविवार को मिलते हैं और यही सब चुदाई का मजा करते हैं. अब वो भी पहले तो धीरे धीरे, फिर तेज़ तेज़ मेरे दोनों मम्मों को दबाने लगे. वह भी धीरे-धीरे बोल रही थी कि ठीक-ठाक पहुंच गए वगैरह वगैरह!मैं उससे नज़रें नहीं मिला पा रहा था.

मुझे उसकी मक्खन सी गांड बड़ी मोहक लग रही थी तो मैंने कुछ थप्पड़ उसकी गांड पर मारकर उसकी गांड को लाल कर दिया. तभी उसका हाथ मेरी पैंट पर गया … तो मैंने भी फटाफट अपने सभी कपड़े उतार फेंके और दी की चुत की सवारी की तैयारी शुरू कर दी.

मेरा लंड रानी की चूत में घुस गया था और पिंकी की चूत मेरे ठीक सामने थी. इस डर्टी सेक्स कहानी के पहले भागबड़ी बहन के साथ डर्टी सेक्स-1में आपने पढ़ा कि मेरी बड़ी बहन मुझसे चुदने के मूड में दिखने लगी थी. तो वह उठकर मेरी गोद में आकर बैठ गई।मैंने उसके हाथ को चूमना शुरू किया और गले तक आ गया.

आंटी की चुदाई और भाभी की चुदाई भी करके देखी लेकिन पहला सेक्स पहला ही होता है.

फिर मैंने उसे खड़ी किया और बेडरूम से किचन तक गांड चोदते चोदते ले गया।अब मैंने चुदाई की स्पीड को बढ़ा दिया. जिसमें सत्यम ने हमारा साथ कोल्डड्रिंक से दिया और हम सब दो दो पैग लगाने के बाद मूड में आ गए. आठ दस झटकों के बाद मेरा पानी छूटने लगा, तो मैंने उसको कस कर पकड़ लिया और उसकी चूत में ही अपना पानी छोड़ दिया.

मेरे सामने वाले घर में एक मोटी आंटी की बड़ी बड़ी चूचियां देख मैं उसकी चुदाई की सोचता था. इतना कहकर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और अवनीत से अपना लण्ड चूसने को कहा.

फिर मेरे साथ क्या हुआ?दोस्तो, मैं एक बार फिर से आपका स्वागत करता हूं रिश्तों में चुदाई की कहानी में. चुदाई के पहले ही मेरी बुर काफी गर्म हो गयी थी और उनका लंड मेरी चूत में अन्दर बाहर हो रहा था, जिससे मेरी चूत में अजीब सा अच्छा मजा आ रहा था. राजीव ने हंसते हुए कहा- साली साहिबा, आज बहुत दिनों बाद कोई टाईट चूत चोदने को मिली है.

प्रियंका चोपड़ा का सेक्सी वीडियो चाहिए

फूफा जी जब भी घर आते, उनके लिए अच्छे-अच्छे पकवान बनाए जाते और अम्मी अब्बू भी उनसे बहुत खुश रहते थे.

हमारे घर में केवल मैं और मॉम ही रहते थे, तो मॉम जब भी नहाने जातीं, तो मुझे उठा कर जातीं. एक ही झटके में मेरा पूरा लंड अपनी दीदी की चिकनी चुत के घर में सड़ाक से घुस गया. मैं सेक्स के बारे में सब कुछ जानती थी और सेक्स का मजा ले भी चुकी थी.

क्या मस्त कूल्हे थे उसके … एकदम कड़क!उसके कूल्हों को मसलते हुए मैंने उसकी लेगी में हाथ डाल कर उसकी लेगी और पैंटी दोनों को साथ में नीचे कर दिया जिससे वो शर्माकर आपने दोनों हाथ से अपने कुर्ते को खींच कर अपनी नंगी टांगों को छुपाने की कोशिश करने लगी।मैंने उसको अपने और पास खींचकर उसे अपने गले लगाया और उसे प्यार से किस करने लगा. उनकी चुत और गांड में उंगली कर कर के उनको वासना की आंधी में उड़ने के लिए रेडी कर दिया. रेखा सेक्स वीडियोउमेश सर गेट पर ही खड़े थे और उन्होंने मुझे मुस्कुराते हुए देखा और मेरी गांड पर फिर से एक हाथ दे मारा.

मुझे ऐसा लग रहा था मानो भाभी एक परी हों, जो धरती पर स्वर्ग से आई हों. अब आगे की फ्री फैमिली सेक्स कहानी:अगले दिन सब कुछ नॉर्मल था सिवाय अंजलि के … वो कुछ ज्यादा ही खुश थी।नाश्ते के वक़्त मैंने मजे लेने के लिए धीरे से पूछ लिया- क्या हुआ मेरी जान … माँ बनने वाली है क्या जो इतनी खुश हो रही है?अंजलि शर्मा गयी और हंसने लगी।मौसा अपने बैंक चले गये.

दीदी का साथ भी मेरे सर पर था, शायद वो मेरे होंठों में अपने दूध देना चाहती थी. मैंने अपना लंड बाहर निकाला तो लंड के ऊपर की चमड़ी धधक रही थी … जैसे आग में जल रही थी. दस मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसकी नाइटी को उतार दिया और उसके मम्मों को चूसने लगा.

मेरी बहन मेरी हरकतों से गर्म हो गई थी और उसकी कच्छी काफी गीली हो गयी थी. वह बहुत ही ज्यादा कमीने और गंदे इंसान थे यह मुझे बाद में अच्छे से समझ में आ गया. मेरा लंड पहले से खड़ा था क्योंकि वो मुझे काफी देर पहले से छेड़ रही थी.

रात की बात याद करके मुझे बहुत शर्म भी आ रही थी और ठरक से लौड़ा भी टाइट हो रहा था.

पर बदले में तुम्हें मुझे भी चोदना पड़ेगा।मैंने उनसे कहा- ठीक है, मुझे आपकी शर्त मंजूर है।और मैं अपने घर चला आया।दोस्तो, आपको मेरे दोस्त और मेरी गर्लफ्रेंड की मम्मी की चुदाई की कहानी कैसी लगी? बताना मत भूलियेगा. उसकी योनि की कल्पना में मैंने न जाने कितनी ही रातें अपने लंड को हाथ में लिये और चारू-चारू करते हुए काटी थी.

फिर अचानक से भाभी ने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने उनसे झूठ बोला और कहा- नहीं. भाभी के ऊपर टूट पड़ा मैं … उनके मम्मों को ब्लाउज के ऊपर से ही जोर जोर से दबाने लगा. फिर मैं खड़़े खड़े उसके मम्मों को दबाने लगा; उसके होंठों को चूसने लगा.

कुछ देर तक मैं यूं ही मैम के हुस्न को चाय के साथ पीता रहा और उनकी प्यारी प्यारी बातें सुनता रहा. मैंने लास्ट टाइम की हिस्ट्री डिलीट नहीं की थी, तो मेरा भेद खुल गया. शकील का चेहरा चमकने लगा और उसने अम्मी से कहा- तो अच्छी बात है … नेकी और पूछ पूछ.

एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ कुछ दूर चलने के बाद मैंने एकांत जगह पर टीना का हाथ पकड़कर रोका और पूछा- क्या इरादा है जनाब हमारे बारे में?उसने शर्माते हुए अपनी गर्दन झुका ली. नजमा बाजी ने सबको नीचे जाने को बोला तो अम्मी, आसिफा बाजी और नजमा बाजी और मैं और रुबीना वहीं रुक गए.

देवर भाभी सेक्सी वीडियो दिखाएं

अभी तक मैंने अपनी बीवी शनाज़ से बीती रात की घमासान चुदाई पर बात नहीं की थी. दो मिनट बाद ही मेरी बहन का फोन आया, उसने बताया कि गैस मंगवाने की जरूरत नहीं है. मेरा जांघों के टकराने से बाथरूम में पट-पट की आवाज भी जोर से गूंज रही थी.

इसीलिए मैं उसके सिलसिले में बैंक में चली गयी।जब मैं बैंक में गई तो मुझे वहां पर अमित जी मिल गए और उन्होंने मुझे पहचान लिया. ननदोई जी ने मुझे अपने सीने से लगाकर चुप कराया और कहा- मैं आपका दर्द समझता हूँ. सांसों की चुदाईगाड़ी हल्की हल्की हिल भी रही थी और उसकी जांघों मेरे चूतड़ों पर आकर लग रही थीं.

उल्फ़त- तुम्हारी गर्लफ्रेंड क्यों नहीं है भाई?मैंने कहा- अभी तक ऐसी कोई मिली ही नहीं जो कि मेरे लायक हो.

उनके घर में तीन लोग हैं, भैया भाभी औरकमसिन देसी जवानीके रस से भरी मेरी जवान भतीजी सोनिया. मैं उसे लेकर एक दुकान में गया और उसे कुछ साड़ी और ब्लाउज दिलाया और कुछ सस्ते सूट और कुछ मैक्सी दिला दी.

और साथ ही साथ बोल रही थी- मेरी जान, आज की ये रात तुमको हमेशा याद रहेगी कि कितनी किस्मत वाली गर्लफ्रैंड मिली है तुमको!अब सुधा सागर के होंठों पर अपने होंठ रख कर उसको चूसने लगी जिसमें सागर भी उनका साथ देने लगा. तो मेरे को कुछ समझ नहीं लग रहा था कि यह है कौन?मैंने उनसे फिर पूछा कि मैंने किस को अपना नंबर दिया? मैंने तो किसी को अपना नंबर नहीं दिया. मैंने पहले उसकी चूत को पैंटी के ऊपर से चूमा और फिर उसकी पैंटी को हटाकर उसकी चूत को देखा.

एक दिन मैं वापिस आ रहा था, तो मैं कुछ कदम ही चला था कि उसने मुझे पीछे से आवाज लगाई- रुको.

फिर वो बोली- तू सच में अपनी बहन को चोदना चाहता है क्या?मैंने कहा- कैसी बातें कर रही हो भाभी?वो बोली- तुम्हारी बहन अब जवान हो चुकी है और वह बाहर जाकर किसी के साथ मुंह काला करे इससे अच्छा यह रहेगा कि तुम उसे चोद दो. मैं बोला- क्या हुआ?उसने बोला- मेरा पेट दर्द हो रहा है … जल्दी से घर चलो या मुझे कहीं किसी टॉयलेट में लेकर चलो. बोलो क्या तुम मेरे साथ चलोगी?अवनीत मेरे साथ मेरे घर चलने को एकदम तैयार हो गयी.

सेक्सी के बारे में बताइएउसकी गान्ड काफी बड़ी थी।फिर मैंने उसे गान्ड से ही पकड़ कर आगे को खींचा तो उसे देख कर मैं बहुत डर गया. अगले दिन जब मैंने अपनी सहेलियों को ये सब बताया, तो वो सब पागल हो गईं.

सदाबहार सेक्सी वीडियो

उसकी चीख निकल पड़ी- आहह आहह ऊईई आहह ऊईई ऊईई सीईई आहह!वो बोली- राज, मैं मर जाऊंगी निकाल बाहर!मैंने उसकी एक न सुनी और झटके पे झटके लगाने लगा. कुछ देर तक पैंटी के अंदर ही चूत को सहलाने के बाद वो सिसकारने लगी थी. अभी इस कहानी में इतना ही लिख रहा हूं वर्ना कहानी बहुत अधिक लम्बी हो जायेगी.

नजमा बाजी बोली- क्या हुआ?अम्मी बोली- ये रण्डी अपनी भाई से ही चूत चुदाई करवा रही थी. उसने अपने दोनों हाथों में मेरी चूचियों को भर लिया और ब्लाउज के ऊपर से ही उन्हें गूंथने सा लगा. कपड़े धोने के बाद उन्होंने अपना ब्लाउज खोला, तो उनके 36 साइज़ के चूचे आज़ाद हो गए और इधर उधर फुदकने लगे.

एक दिन की बात है, मैंने उल्फ़त से कहा- आज स्कूटी तुम चलाओ … मैं पीछे बैठता हूं. उन्होंने झुक कर मुझे चाय का कप दिया, तो मेरी नजरें उनकी धवल चूचियों पर टिक गईं. इसलिए उन दोनों ने लगभग एक घंटे में अपने कमरे में पूरा सामान सैट कर लिया था.

प्रिया मैडम ऐसे बोल रही थीं, जैसे वो बहुत दूर से भाग कर आ रही हों और उनकी सांस फूल गयी हो. मैंने दीदी की चूत पर होंठों से चूमा और उसकी चूत की खुशबू मुझे आने लगी.

इस गर्म सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको सोनल और काजल की एक साथ चुदाई की कहानी लिखूंगा.

अब आगे की कहानी :संदीप जाते समय चारू को मेरे लिए चाय बनाकर देने के लिए कह गया था. सैक्सिविडियोउन्होंने बोला- तू ये कपड़ा यहां अच्छे से बांध … ताकि ये उड़ नहीं और कोई अन्दर भी न देख सके. लूडो गोटी डाउनलोडिंगसाथ में बड़बडा़ रहा था- साली होशियारी करती है, अब पता चला मुझसे पंगा लेने का अंजाम. फिर वो बोली- तू सच में अपनी बहन को चोदना चाहता है क्या?मैंने कहा- कैसी बातें कर रही हो भाभी?वो बोली- तुम्हारी बहन अब जवान हो चुकी है और वह बाहर जाकर किसी के साथ मुंह काला करे इससे अच्छा यह रहेगा कि तुम उसे चोद दो.

दिनेश ने मॉम को अपने लंड पर बैठा लिया और लंड को मॉम की काली गांड में डाल दिया.

मेरा मतलब मैं मैम के मम्मों और उठे हुए चूतड़ों को ही देखे जा रहा था. जब अम्मी फूफा जी को दूध देने गईं, तो उनको हल्की आवाज में बोला कि शकील आया हुआ है, आज लेन देन नहीं हो पाएगा. मैंने जल्दी से पैंट की जिप खोल दी और उसका हाथ चेन के अंदर डलवा दिया.

आंटी की चुदाई और भाभी की चुदाई भी करके देखी लेकिन पहला सेक्स पहला ही होता है. मैंने अपना हाथ उसकी जांघ पर रख दिया।उसके शरीर में जैसे बिजली दौड़ रही थी। मैंने अपने हाथ को धीरे से चलाया और उसकी जांघों को सहलाने लगा। दूसरे हाथ से उसकी नाइटी के ऊपर से उसके बूब्स दबाने लगा और वो भी धीरे धीरे मेरे लौड़े को लोवर के ऊपर से ही दबाने लगी।फिर मैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया और उसके होंठों को चूमने लगा. मैं पहली बार किसी लड़की की चूत में अपने लन्ड डालने जा रहा था तो मैंने सोचा आराम से करें, कहीं भागी थोड़ी जा रही है.

सेक्सी पिक्चर वीडियो में बताएं

अब मैम सिर्फ काली डिज़ाइनर पैडैड ब्रा में उनके 34 इंच के चूचे छुपाए खड़ी थीं. कुछ देर बाद उन्होंने मेरे चूतड़ की दरार को ढेर सारा थूक से भर दिया और गांड के छेद में एक उंगली डाल दी. देखते ही देखते उसने सबके सामने ही मेरी जेब में हाथ डाला और मेरा पर्स निकाल कर उसमें से उसमें पड़े फोटो वगैरह देखने लगी और उसने चुन्नी से उसको ढक रखा था लेकिन वो टॉर्च दिखाकर उसे देख रही थी तो सब कुछ दिख रहा था बाकी सारे लोगों का ध्यान उसी पर था तो मुझे तो काफी डर लग रहा था कि लोग क्या समझेंगे। वहां पर कई सारे लोग मुझे भी जानते थे.

मैंने उसे देखा तो एक पल मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोली- मैं भी तुमको पसंद करती हूं … पर अपने पापा के डर से मैं बोल नहीं पा रही हूँ … और तुम भी नाराज़ हो मुझसे … इससे मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लग रहा है … प्लीज तुम मुझसे नाराज़ मत रहो, मैं भी तुमसे प्यार करती हूं.

दिन भर मेरी फटी रही और शाम को जब घर पहुंचा तो पापा और चाचा आ चुके थे लेकिन उन्हें देख कर लग ही नहीं रहा था कि जैसे उन्हें कुछ पता हो।उस दिन सब पहले जैसे ही था और मैं अपने काम करता रहा.

मैंने भी धीरे से उठकर उसके लंड के पास अपना मुंह रखकर कहा- हाँ … लेकिन इतने मोटे और बड़े लंड से कभी नहीं।फिर मैंने अमित के लंड को मुख में भर लिया और चूसने लगी. मेरी बुर को भी पेलो न… जल्दी।मैंने कहा- ठीक है मेरी जान, आज मैं तेरी बुर का उद्घाटन कर ही दूंगा. स्तन दबानामेरी पिछली कहानीगांड मरवाने की शुरुआतमें आपने पढ़ा कि कैसे मेरे दोस्त राजेश ने मेरे गांड का उद्घाटन किया और रात भर मेरे गांड बजाई। लेकिन कुछ दिनों बाद उसके पापा की पोस्टिंग शहर में दूसरी आफिस में हो गयी.

उन्होंने मुझे कमर से पकड़ लिया और अपनी गांड उठाकर जोर जोर धक्के लगाने लगी. मैंने देखा कि बापू ने दोनों गिलासों में दारू भरी और मां को भी दारू पीने के लिए कहने लगे. यह शायद पहली बार था जब अम्मी के मुंह से गंदी गंदी गालियां निकल रही थी हवस में.

अंकल ने मेरे दोनों हाथ में दीदी के बूब्स पकड़ा दिए और उन्हें मसलने को बोला. लेकिन मुझे डर है कि अगर उसे मुझसे चुदना पसंद नहीं आया, तो बवाल हो जाएगा.

हमको अब चुदाई के अलावा कोई ध्यान नहीं था।उसकी साड़ी का पल्लू अब उसकी छाती पर नहीं था.

मॉम उनको गांड चोदने के लिए मना कर रही थी लेकिन वो लगातार गांड में लंड के धक्के लगाने की कोशिश कर रहे थे और मॉम की गांड को खोलना चाह रहे थे. मैंने बोला- पहले वादा करो कि तुम गुस्सा नहीं होगी … और किसी से कुछ नहीं कहोगी?वो बोली- वो तो तुम्हारी बात पर निर्भर करता है. थोड़ी देर में उसकी चूत का दर्द जब कम हुआ तो वो भी थोड़ी कामुकता दिखाने लगी और अपनी चूत को मेरे लंड की ओर हल्के धक्के से धकेलने लगी.

जरीन खान सेक्स इधर मैं सोच रहा था कि मेरी बीवी शनाज़ तो बहुत अच्छे से मेरा लंड चूसती है. मैंने पहले उसे चौंक कर देखा और फिर पूछा- क्या?आकांक्षा- तू प्रिया मैडम और सर के बारे में सोच रहा था ना!मैं ये सुनकर चलते चलते रुक गया और एकटक उसे देखता रहा.

मुझे होश ही नहीं रहा कि कब सर ने परमिशन दी और कब आकांक्षा मेरे ही पास आकर बैठ गयी. और जैसे ही मैंने उसकी चूत पर मुंह ले जा कर किस किया तो वो जोर से चिल्लाने लगी और उम्म्ह… अहह… हय… याह… अह की आवाज़ करने लगी और मेरे सर को अपनी चूत में दबाने लगी. वो बोली- आंह और तेज करो चाचू … मेरा पानी निकलने वाला है!यह सुन कर मैंने अपनी गति बढ़ा दी और मैं तेजी से लंड अन्दर बाहर करने लगा.

सेक्सी भाभी पाकिस्तानी

अपने सगे भाई की ऐसी कामुक हरकत देख कर ज़ोहरा आपा की 24 साल की जवानी दहक उठी. उन्होंने अपने पैरों से मेरे दोनों पैरों को दबा लिया और अपने दोनों हाथों से मेरे हाथों को पकड़ लिया. उन्होंने जैसे ही फ़्रिज खोला, मैंने पीछे से भाभी को पकड़ लिया और कसके अपने सीने से चिपका लिया.

आंटी- ओह्ह किशु … तेरा लंड तो बहुत मोटा और लम्बा है … आग लग रही है … मैं तड़प रही हूँ … मेरी चुत इस कड़क लंड के लिए मचल रही है मेरा बेबी … जल्दी से आ जा. इससे गांड चिकनी हो गई थी और मॉम की गांड में लंड जाने के लिए तैयार था.

टीना- मीत, अब और बर्दाश्त नहीं होता … जल्दी से डाल दो मेरी चुत में अपना हब्शी लंड और शांत कर दो इसे प्लीज़ … ये मुझे बहुत तंग करती है.

उस वक्त मैं अपनी बीएससी पूरी कर चुका था और मास्टर्स शुरू करने वाला था. फिर दोपहर हो गयी और मैं बुआ और फूफा को बाहर बस स्टैंड तक छोड़कर आया. जिससे भाभी की चीख निकल गई और बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आराम से … तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है और मोटा भी!मगर मैं बिना रुके धकापेल चुदाई करने लगा.

अगले भाग में है कि मैंने अपनी गर्लफ्रेंड के साथसुहागरात कैसे मनायी. बाइक पर उल्फ़त के चिपक कर बैठने से मैं परेशान हो जाता और मेरे लंड में तूफान आना शुरू हो जाता था. मैं- अरे अंकल मैंने पी रखी है, कहीं गाड़ी कहीं लड़ गयी तो?अंकल- तुम उसकी चिंता मत करो और अपनी सीट से बाहर निकल कर इस तरफ आ जाओ.

ऊपर से मैं पिंकी की चूत में जीभ को अंदर तक डाल कर उसकी चूत को जीभ से चोदने लगा था.

एक्स एक्स एक्स एक्स एचडी बीएफ: मैं सेक्स के बारे में सब कुछ जानती थी और सेक्स का मजा ले भी चुकी थी. तभी जूही जाग गयी और अपनी मम्मी पर चिल्लाने लगी तो उसके मम्मी उसको समझाती हुई बोली- मुझे पता है कि रोज़ रात तुम अपने कमरे में चूत में उंगली करती हो.

उधर मैंने अपना हाथ बढ़ाकर कुसुम की गांड को अपनी तरफ किया और उसकी चूत में अपनी दो उंगली डालकर उसको चोदने लगा. इसके बाद मैंने और सुमेधा किचन में आ गए और हम दोनों ने मिल कर खाना बनाया. मॉम बोली- ये क्या है?बॉस बोले- तुम्हारी चूत को चोदने की मशीन है ये!बॉस ने अब मॉम को अपनी ओर खींच लिया और उसकी चूत में हाथ को रगड़ने लगे.

फिर जैसे ही मैंने धक्का देकर अपनालंड चुत के अन्दरडाला, तो कुसुम उछल पड़ी और उसकी चीख निकल गई.

मैंने चाची को बताया- संडे को हमारा प्लान है … आप भी चलो ना हमारे साथ!चाची ने साफ़ मना कर दिया और बोलीं कि अभी तुम दोनों चले जाओ. जैसे ही मैंने दरवाजा लगा दिया, उस लेडी ने गाड़ी चालू की और मेरे घर के तरफ न चलकर उल्टा दूसरी तरफ चल दी. मैं भी ननदोई जी का साथ देने लगी और वे मेरे मम्मे दबाने लगे।वो सलवार के ऊपर से ही मेरी चूत दबाने लगे और मैंने उनका लण्ड पकड़ा हुआ था.