बीएफ देहाती एक्स वीडियो

छवि स्रोत,puron xxx विल्लेज boy lign

तस्वीर का शीर्षक ,

हप्सी सेक्सी: बीएफ देहाती एक्स वीडियो, जब दोपहर में स्कूल से वापस घर आते थे, तब हम लंच करके अपने कमरे में चले जाते थे.

चेन्नई की चुदाई

चुदाई के बाद हम दोनों इतने थक गये थे कि कब नींद आ गयी, पता ही नहीं चला. सारा अली खान सेक्समैंने थोड़ा प्रेम-प्रसंग युक्त होते हुए उनके गाल को चूम कर बोला- मेरी जानेमन चाची, अब क्या हो गया, अब किस सोच में उलझी हुई हो? ज़रूर कोई गंभीर बात है.

ससुर जी चले गये और मैंने फूफा जी को बेड पर लिटा दिया, मगर उनको लिटाते वक़्त मुझे उनको सामने से पकड़ना पड़ा और उस वक़्त फूफा जी की छाती मेरे दोनों चूचों से एकदम से सटी हुई थी और उनका लंड भी मेरी चूत के बिल्कुल सामने था. xएक्सएक्सएक्समैंने आदी से कहा- ये क्या कर रहे हो? मैं तुम्हारी भाभी हूँ।आदी ने कहा- भाभी इतना बनने की जरूरत नहीं है, मुझे पता है आप भी यही चाहती हो।मैंने कहा- ये गलत है।आदी ने कहा- कुछ गलत नहीं है…और मुझे और कस कर पकड़ लिया, मेरे बूब्स मसलने लगा और साथ ही साथ किस भी कर रहा था.

अब हम लोग जमीला के बैडरूम में आकर वापस बाथरूम में घुस गए और एक बार फिर नहाये और बाहर आये.बीएफ देहाती एक्स वीडियो: जो कि हमने बारी-बारी से एक-दूसरे की सिर्फ़ पेंटी उतारी लेकिन ब्रा नहीं उतारी।हम दोनों हील पहन कर ही रखी थीं और विग और स्टॉकिंग भी पहने रहे थे। उसने मुझे बेड पर लेटाया और खुद मेरे ऊपर लेट गया। हम दोनों की साँसें एक-दूसरे की साँसों से मिल रही थीं। उसने लिपस्टिक के ऊपर लिपग्लॉस लगा रखी थी.

मैंने बिना सोचे अपने घर वालों को छोड़ दिया था। आज 21 साल हो गए मुझे उनसे मिले हुए। तुम्हारे पापा के प्यार में कोई कमी नहीं थी मगर अपने परिवार से दूर होना क्या होता है.वो देखने में बहुत ही सुन्दर था और उसका जो बॉडी थी, बहुत ही अच्छी!वो मुझे देखते रहे, मैं भी उसको देखती रही.

सनी लियोन सेक्सी शॉट - बीएफ देहाती एक्स वीडियो

पहले मैंने उसका टॉप उतारा और उसके पीछे जाकर कान को हल्के-हल्के काटने लगा.मेरा दूध पी जाओ। लेकिन आप जानते हैं कि प्रताप ने अपने अहसानों की आड़ में मानो मुझे खरीद लिया है। वह मुझे अपनी मिलकियत का सामान समझता है। मुझे सदैव धमकाता रहता है। जिसकी वजह से मुझे न चाहते हुए भी उसकी सभी बातें माननी पड़ रही हैं। अगर मैं ऐसा नहीं करूंगी तो वो मुझे 24 घंटे में पैसे लौटाने की चेतावनी देता रहता है.

अनु मुझसे हमेशा चुदने की जिद किया करती थी।जब भी अनु के घर पर कोई नहीं रहता था तो मैं अनु के घर जाकर अनु को बहुत चोदता था।उम्मीद है आप सबको मेरी यह सच्ची देसी चुदाई की कहानी पसंद आई होगी। मुझे जरूर मेल करें कि आपको कहानी कैसी लगी![emailprotected]. बीएफ देहाती एक्स वीडियो इन सब का फ़ौरन असर हुआ और उसकी बुर फिर से पनिया गई और मेरे लंड को लगा कि चूत की गिरफ्त कुछ ढीली हुई है.

मैं समझ गया कि मेघा मेरे सामने किसी और से चुदना चाहती है और मुझे भी चोदते देखना चाहती है.

बीएफ देहाती एक्स वीडियो?

जल्दी कर ना!मैंने फिर भी उनकी चूत को चाट-चाट कर गीली कर दी, फिर उनकी चूत में ज़ुबान डाल कर चाटने लगा. नेक्स्ट टाइम करेंगे।तो वो बोलने लगे- फिर इस खड़े लंड को नेक्स्ट टाइम तक कैसे रोकेंगे?तो मैंने कहा- तुमको और मज़ा चाहिए?उन्होंने कहा- हाँ।तो मैंने कहा- जैसा मैं बोलती हूँ वैसा करना, कुछ एक्सट्रा करने की ज़रूरत नहीं है।उन्होंने कहा- ओके बेबी. तो यहाँ से भी अंकल आंटी और काम वाली बाई सब साथ गए हैं। मैंने कहा मुझे मामू के साथ खेलना है तो मैं यहीं रुक गई।संजय- और आर्यन नहीं रुका ऐसे तो वो मुझसे बहुत चिपकता है?पूजा- उसने तो बहुत ज़िद की मगर उसको बुखार है ना.

पूरा झड़ने के बाद तीन पतियों की बीवी ने किलो भर का लंड अपने मुंह में लेकर चाटना शुरू कर दिया और जब तक वो सिकुड़ कर बिल्कुल छोटा नहीं हो गया, उसे सहलाती-पुचकारती रही. जैसे ही मैंने उसकी चुत को छुआ तो उसके मुख से हल्की से आहहह ससस… की आवाज निकल पड़ी. मैंने फिर पूछा- कहाँ जा रही हो? कौन-कौन जाओगे?तो उसने बताया कि एक रिश्तेदार के घर शादी में जाना है.

मेरी उत्तेजना का कोई ठिकाना ना था, मैं इसस्सस कर उठी, वासना के मारे आँखें लाल हो गई, मैं बिना नशा किये भी मदहोश होने लगी. उन्होंने मेरे हाथों को और पीछे की तरफ खींचा और अब दोनों के लंड आपस में सटे हुए पूरे के पूरे मेरी गांड में आ फंसे. उधर फ़रीदा राजे और मेरी चुदाई की बातें सुन सुन के राजे से चुदने की बहुत इच्छुक हो गई थी मगर राजे ने मना कर दिया था कि मैं किसी उस धर्म की लड़की से पंगा नहीं लेना चाहता.

मेरी सांसें रुक रही थीं। उसका लम्बा मोटा सख्त लंड मेरी गांड में घुसा हुआ था। मेरी गांड कुलबुलाने लगी. वो आगे बोली- लेकिन वो भी पहली बार सिर्फ तुम्हारे लिए… तब तुम अपने दोस्तों को नहीं बुलाओगे… फिर बाद में हम तय करेंगे कि आगे क्या करना है.

मैं उसके बारे में ही सोच रहा था, तभी मैंने रात को जब शिवानी बहुत गहरी नींद में थी.

मेरी नज़र हट गई और मैं सामने देखने लगा लेकिन हवस तो मेरे अंदर भी जाग गई थी.

मैंने फिर चुप्पी तोड़ी और पूछा- क्या तुम अब तक मुझसे शाम के लिए नाराज़ हो?मानसी- नहीं जस्सी, पर हमें ऐसा नहीं करना चाहिए. आपने तो अंधेरा कर दिया, कुछ दिख नहीं रहा।संजय- अरे पगली दोपहर का टाइम है लाइट की क्या ज़रूरत है और अंधेरे में ज़्यादा मज़ा आएगा. मैं एक छोटे से गाँव की रहने वाली हूँ, मैं अपनी पढ़ाई और नौकरी के चक्कर में शहर में आ गई थी लेकिन मेरे माँ-बाप अभी भी वहीं गाँव में रहते हैं, वो शहर आते नहीं है और मैं गाँव जाती नहीं हूँ.

मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। मेरा लंड और भी फूल कर कुप्पा हो गया।कुछ देर बाद मैंने उसे लेटा दिया और उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया। मेरे चूत पर मुँह रखते ही वो एकदम मचलने लगी और उसके मुँह से ‘अह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह माँ मरी अह्ह्ह उह्ह्ह. उस टाइम तक मैं सेक्स और उससे जुड़ी बातों के बारे में कुछ ज्यादा ही जानने लगा था. वहीं की एक लाईट जलाए हुए थे। मैं इस रोशनी में उनके बदन को आसानी से देख पा रही थी।मेरा मन मचलने लगा.

मैं उसके पीछे-पीछे अपनी हवस से बेबस होकर उसके लंड को करीब से देखने की चाह में बढ़ा जा रहा था.

फिर मामा बोले- अब जल्दी से मेरा लंड चूस कर गीला कर दो ताकि गीला लंड तुम्हारी चूत में आसानी से घुस जाए. उसमें मैंने बताया था कि कैसे सपना आंटी ने, जब मैं मात्र 18 वर्ष का था तो मुझसे चुदवा कर मुझे चोदने में ट्रेंड किया था. टीना- ओये मैडम, मेरे मासूम भाई को क्यों बलि का बकरा बना रही है? अगर सीखना ही है तो किसी मर्द के साथ करके सीख.

जॉन- अरे क्या हुआ कुछ बोल तो?फ्लॉरा- उउउ उउउ भाई एमेम में अभी नहाने गई तो उउउ मेरे जगह-जगह लाल निशान हैं. और आपने मुझे अपने ग्रुप में शामिल तो कर लिया मगर शायद अभी तक मुझे अपनी फ्रेंड नहीं माना है, इसी लिए कल की पार्टी में भी मुझे अपने नहीं बुलाया।विक्की- अरे तुम वहां होतीं, तो डर के भाग जातीं, फ्लॉरा की सबने की ऐसी हालत की कि. मैंने जब इस पर भी कोई ऐतराज नहीं किया तो राहुल समझ गया कि रास्ता साफ़ है.

मैंने सोचा, शायद किसी गांव से कोई शॉर्ट कट होगा, यही सोचकर मैं मन को तसल्ली दे रहा था.

बात है पिछली सर्दियों की, हम सभी को 2 छुटियाँ एक साथ आ गईं, तो हम सबने वो छुटियाँ घर पर रह कर एन्जॉय करने का प्लान बनाया. वो चूत पर थोड़ा सा थूक देता और फिर जीभ से उसे चूत पर फ़ैलाने लगा!इस प्रक्रिया में मेरी जानेमन को बहुत मजा आने लगा, वो जोर-जोर से सिसकारी भरने लगी.

बीएफ देहाती एक्स वीडियो उनका पति रात को देर से घर आता था और मेरे ख्याल से वो जल्दी सो भी जाता था. साथ ही मनोज ने म्यूजिक चला दिया और हम सभी केक से खेलने लगे और म्यूज़िक पे डांस करने लगे.

बीएफ देहाती एक्स वीडियो यह हिंदी चुत की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उन्होंने पीठ से और ऊपर आने को कहा ब्लाउज होने के कारण मैं बिना तेल के दबाने लगा तो उन्होंने कहा- एक मिनट रुक!और पीछे घूमकर अपना ब्लाउज और ब्रा भी उतार दी और मेरी ओऱ पीठ करके लेट गईं, मैं तेल लगाने लगा. फिर तो मैं रोज सबका एक-एक करके ले ही लूँगी।फ्लॉरा की बात संजय ने मान ली। बाकी सब उसके मम्मों और होंठों पे टूट पड़े। इधर संजय ने लंड चुत पे सैट किया और जोरदार झटका मार दिया, जिससे आधा लंड चुत को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया।फ्लॉरा- आईईइ आईईइ मार डाला रे.

कभी मैं इतना शर्मीला था कि स्कूल टाइम में लड़कियों के छूने से ही रोने लग जाता था पर टाइम ने मुझे भी बदल दिया.

देसी गांव की बीएफ फिल्म

उसके मुँह से आवाजें आ रही थी- आआईईई मेरी माँ आआह्ह ह्ह् बचा लो आआह्ह्ह आराम से… अह्ह्ह्ह्ह…! आःह्ह्ह आउच… जान आराम से… दर्द होता है… आःह्ह्ह आअह्ह हह्हह उफ्फ ओह्ह ह्हह्ह… मार डाला रे हरामी बहनचोद!हमारी ये चुदाई देख अब पीटर का सयंम ख़त्म हो गया, उसने फट से दारू का गिलास मुँह से लगाया और एक सांस में ख़त्म करके हमारी तरफ आ गया. तू आ तो सही।पूजा ख़ुशी से कुर्सी के पास आई और जब वो बैठने लगी तो संजय ने चालाकी से उसका स्कर्ट ऊपर को कर दिया।अब पूजा संजय के खड़े लंड पर बैठी थी बीच में बस पतला सा बरमूडा और पेंटी आ रही थी।पूजा- ऑउच मामू मुझे नीचे कुछ चुभ रहा है।संजय- अच्छा ऐसी बात है. वो इतना उत्तेजित था कि जैसे बहुत कम समय में कई तरह से चोद लेना चाहता हो.

बात जनवरी 2011 की है, मैंने अपने जीवन की प्रथम हवाई यात्रा की गोवा से इंदौर, इंदौर पहुँचते ही मेरी एक अजीज मित्र अक्षिमा मुझे लेने इंदौर हवाई अड्डे पर आई. साफ़ साफ़ बोल ना?’‘मेरी वेजाइना को लिक कर दो जैसे अभी किया था!’‘वेजाइना नहीं, इसे चूत कहते हैं. मैं चाची के घर गया, चाची कुर्सी पर बैठी हुई थी, मैंने चाची को पूछा- अब कैसी तबीयत है?चाची बोली- अब आराम है.

इतना तो तुम बोल ही सकते हो, अच्छा आगे बताओ?सुधीर- आगे क्या बताऊं, उस दिन जो कच्ची कली के साथ गोपाल ने क्या किया, उसके बाद तो किसी चुदी हुई चुत में उसे मज़ा ही नहीं आता। वो बस किसी ना किसी तरह छोटी उम्र की लड़की ढूँढ ही लाता और उसी के साथ चुदाई करता। वो पागल हो गया था.

मैंने चाची से पूछा- चाची किस तरफ दर्द है?चाची बाईं चूची के ऊपरी हिस्से के तरफ इशारा करते हुए बोली- इस तरफ!मैंने चाची के चूची के ऊपरी भाग को सहला कर देखा फिर उसे दबाया और चाची से पूछा- आराम लग रहा है?चाची ने हाँ में जबाब दिया. लगभग दस मिनट ऊपर नीचे मालिश करने के बाद आंटी ने कहा कि मालिश कई दिन करवानी है और यह कह कर आंटी ने मुझे होठों पर किस कर लिया. मैं किस जन्नत में घूम रही थी।काफी देर ये सब होने के बाद मैं एक बार अपना पानी छोड़ चुकी थी। फिर वो उठा और मेरे ऊपर सीधा बैठ गया और बोला- कैसा लगा?मेरी साँसें बहुत तेज़ थीं.

एक दिन चाची की तबीयत खराब हो गई, सीमा ने मुझे फोन पर बताया, तो मैंने उन्हें क्लिनिक लेकर आने के लिए कहा, सीमा चाची को लेकर क्लिनिक पर लेकर आ गई. ये सब खेल मुझे इतना पसंद था कि जब भी मैं वहां जाता तो उसके साथ वो सब जरूर करता था. मुझे मालूम है कि मुझसे सेक्स स्टोरी लिखने में बहुत गलतियां हुई होंगी.

मैंने चाची से पूछा- तभी रात को बिस्तर पर बैठे आप इसी बारे में सोच रही थी? क्या उस समय आपको यह शक हुआ था कि मैं मामी के साथ बात कर रहा हूँ?मामी बोली- हाँ इसी बारे में सोच रही थी लेकिन मेरे दिमाग में तुम्हारी मामी के बारे में तो कोई बात नहीं आई थी. सोच सोच कर दिमाग की नसें फट रहीं थीं।बड़ी मुश्किल से आँसुओं को छुपाता हुआ नीचे उतरा और बाहर निकलकर पास की नहर के किनारे जाकर चीख चीख कर रोया.

हमें आज रात ही गाँव जाना होगा।यह बात सुनकर मोना की तो हालत पतली हो गई, कहाँ तो उस पर सेक्स का खुमार चढ़ा हुआ था और कहाँ ये बुरी खबर सुनने को मिली।मोना खड़ी हुई और गोपाल के पास आकर उसके चेहरे को देखने लगी।गोपाल- मोना प्लीज़ अब ये मत कहना की मेरी चुत को शांत करो. उसने भी मौके का फ़ायदा उठाया और अपने लंड को मेरे चूतड़ों की दरार में दबा कर आगे झुका और कहा- हाँ न्यूज़ पेपर ही है. 10 मिनट के बाद मेरा उसके मुख में निकल गया, मेरा पहली बार था लेकिन मुझे भी पता था.

आप सभी का धन्यवाद करता हूँ कि आपने मेरी कहानियों को पढ़ कर मुझे बहुत प्यार दिया.

इससे मैंने उनके दिल में अपने लिए जगह बना ली थी।अब भाभी भी मुझसे काफी फ्रैंक हो गई थी. मगर सुमन ने तो ठान लिया था कि जब-जब उसको मौका मिलेगा, वो अपने पापा को सिड्यूस करती रहेगी. आंटी की चुत चुत गीली हो चुकी थी इसलिये पहले झटके में मेरा लंड आधा अंदर चला गया.

पीटर ने रिया के दोनों पैर फैलाए और मुझे कहा- निकी, मुँह बंद कर इसका!मैंने भी तत्परता से अपने होंट रिया के होटों पे रख दिये और उसके मम्मे दबाने लगी. सेक्स स्टोरी पढ़ता और धीरे-धीरे उसने मुझे भी साथ में मिला लिया। अब हम दोनों को लड़की चोदने का भूत सवार हो गया, मगर लड़की लाते कहाँ से, ये एक दिक्कत थी।मोना आराम से सुन रही थी मगर सुधीर इतना बोलकर चुप हो गया।मोना- अरे क्या हुआ आगे तो बोलो?सुधीर- सॉरी मैंने इतने गंदे शब्दों का यूज किया.

अन्तर्वासना के पाठकों एवं पाठिकाओं चाची ने मामी के बारे में मुझसे क्या बातें करी तथा वह हमारे घर कितने दिन रही, यह सब जानने के लिए आपको कुछ प्रतीक्षा करनी पड़ेगी. माला ने भी मेरे लिंग की त्वचा को पीछे सरका कर लिंग-मुंड को बाहर निकाल लिया और फिर उसके किनारों को अपनी उँगलियों एवम् अंगूठे से सहलाने लगी. उस समय उस मकान के बगल वाली बिल्डिंग में सामने वाली खिड़की में एक सुन्दर और सेक्सी भाभी रहती थीं, जिनका फिगर 34-28-36 का था.

मराठी बीएफ जबरदस्त

मैं खुद वहां उसके साथ गया था। हमारे गाँव की जैसी छोटी दुकान नहीं है.

मगर इतना पढ़ा-लिखा आदमी और चाय की दुकान?काका- अरे उसी ने बताया था और बताया क्या. अब यार मैं भी जवान था और वो आंटी पंजाबन थीं, जो कि मुझे बाद में पता चला. इस बार मैंने उसकी कसम से मजबूर होकर हाँ कर दी और बोला कि सिर्फ एक बार ही भोपाल आऊंगा उससे मिलने, इसके बाद वो मुझे नहीं बुलायेगी, न मैं कभी फिर दुबारा आऊंगा.

सुधा भी मरियम के बगल में बैठ गई और दोनों बारी-बारी से मेरे लंड को चूसने लगी। दोनों अपनी जीभ से मेरे सुपारे को ऐसे चाट रही थी जैसे आईसक्रीम चाट रही हों!अब मेरे लंड की जलन और दर्द दोनों कम होने के साथ-साथ खत्म भी हो गया. जैसे ही सुलेखा अपने कमरे में गई, रीना रानी ने आवाज़ लगाई- मम्मी मैं जा रही हूँ!सुलेखा ने भी आवाज़ लगा दी कि रीना अच्छा जा तू!रीना रानी झट से भाग के मेहमानों वाले कमरे में चली गई, मुझे बोल गई कि बाहर वाला दरवाज़ा आवाज़ करते हुए बंद कर दूँ ताकि सुलेखा समझे कि रीना गई. क्सक्सक्सक्सक्सक्सक्सक्समेरी मैडम की चुदाई की सेक्सी कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करें![emailprotected].

मैं स्लैब की ओर झुकी हुई थी किचन में, अचानक से मामा जी ने धक्का मारा, आधा लंड मेरी चूत में घुस गया. सब लोग सेक्स करना चाहते हैं, मैं भी सेक्स का बहुत बड़ा एडिक्ट हूँ, पर मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो मैं अक्सर हाथ से ही लंड हिलाकर शांत हो जाता हूँ.

सब मेरी वजह से, समझी! नहीं तो पता नहीं इस वक़्त कहाँ होती।अनीता- बस बस मेरा मुँह मत खुलवाओ. मुझे लगा कि जैसे उसकी चूत से रस की बरसात हुई हो, मेरी झांटें तक नहा गईं. मैंने टांगें फैला लीं।मैंने जब सामने देखा तो पाया कि मेरा दोस्त सुकांत अपनी खाट से मेरी ओर नजरें गड़ाए था। वह अपने भाई साहब की गांड मराई बड़े ध्यान से देख रहा था। मेरी उससे नजरें मिल गईं।अब मेरे टांगें फैलाने के बाद सुकांत के भाईसाहब ने पूरा लंड मेरी गांड में पेल दिया। इसके बाद लंड डाले उसे पांच छः मिनट तो हो ही गए थे।वह मेरे कान के पास बोला- थोड़ा मोटा है न इसलिए डाले रहता हूँ.

गोपाल- अरे जान… नाराज़ क्यों होती हो, अभी खाना खाने के बाद चुदाई करेंगे ना. पूजा उल्टे पाँव उसके पास आ गई। जब वो बैठने लगी संजय ने उसका स्कर्ट ऊपर कर दिया और उसको कल की तरह बैठा लिया। अब लंड सीधे चुत से टकराया तो पूजा सिहर उठी।पूजा- इससस्स उफ़फ्फ़ मामू आपकी गोद में आज ये गर्म-गर्म क्यों लगा?संजय- तूने चड्डी नहीं पहनी ना इसलिए. बस फिर क्या था संजय ने मौका देख कर उसको वहां से निकाल लिया और घर से थोड़ा दूर छोड़ कर खुद चला गया ताकि किसी को शक ना हो कि सुबह से ये उसके साथ थी।पूजा घर चली गई और उसकी माँ ने उसको देखा तो उसने झूठ कह दिया कि गिर गई थी। बस फिर क्या माँ ने पूछताछ की कि ज़्यादा तो नहीं लगी.

शायद वे पहले से ही चुत की शेविंग करके आई थीं। मामाजी ने चूत को चाट-चाट कर गीली कर दी थी। मामाजी मॉम के चूत पर जितना अपना लंड रगड़ रहे थे, उतनी ही मॉम बेकाबू होती जा रही थीं। फिर मामाजी ने अपना लंड मॉम के चूत में घुसेड़ दिया। मॉम के मुँह से जोर से आवाज निकल गई- आआह्ह्ह्ह.

मैं- चाची, सीमा काचिंग से कब लौटेगी?कहते हुए अपनी पैन्ट के अंदर उठे लंड को चाची के हाथ से सटाया. मेरा रोम रोम खिल गया, मज़ा आ गया।भाभी के मम्मों की गर्मी से मेरा लंड फिर से तनने लगा।मैं- एक बात बताओ जान.

उसने कहा – ‘क्यो नहीं, चलो मेरे रूम में चलते है… राहुल मुझे अपने कमरे में ले गया. पर मैं कहाँ मानने वाला था। मैंने उसकी चुत को खाना चालू कर दिया। मैं तेज-तेज से उसकी चुत को दांतों से काटने लगा। वो पागल हुई जा रही थीं और सिसकारियाँ लेती जा रही थीं- आ. आह।लगभग 5 मिनट तक मोना पागलों की तरह लंड को चूसती रही। वो पूरा लंड मुँह में भर रही थी और काका उसके मुँह को चुत समझ कर चोदने में लगे हुए थे।मोना- बस काका अब बर्दाश्त नहीं होता.

अगले दिन शाम को ऋतु ने बताया की पूजा की चार सहेलियाँ तैयार हो गई हैं अपनी चूत चटवाने के लिए… और वो इसके लिए दो-दो हजार रूपए देने को भी तैयार हैं. मेरे माँ-बापू ने मुझे शहर में बाहर नहीं रहने दिया, बल्कि मुझे कॉलेज के हॉस्टल में दाखिला दिलवा दिया. नौकरानी- मतलब तू भी गंडिया है?मैं- हाँ थोड़ा थोड़ा!वो झिड़क के बोली- चल हट साले छिनाल के जने… मैं तो सोच रही थी कि तू मर्द है.

बीएफ देहाती एक्स वीडियो बिल्कुल भी ज़ाहिर नहीं होने देगा कि कमीना तुझे दो सौ बार चोद चुका है. और अपनी क्लास में जा।संजय- हम में से किसी एक को किस कर या वो सामने प्रिंसीपल मैम आ रही हैं तो उनको जोरदार थप्पड़ मार… अगर ये दोनों तेरे बस के नहीं तो तीसरा और लास्ट टास्क बहुत आसान है, रात को हम पार्टी करेंगे, उसमें शामिल हो जाओ! सिम्पल !फ्लॉरा ने थोड़ी देर सोचा फिर टीना के बारे में पूछा कि पार्टी में वो भी आएगी क्या?संजय- हाँ वो भी आएगी, डर मत सिंपल पार्टी होगी।फ्लॉरा- ओके, मैं पार्टी में आऊंगी.

हिंदी सेक्सी बीएफ 18 साल

लंड अन्दर जाते ही मेरी गांड समझ गई कि बहुत मोटा हथियार है। मैंने भी एक आध साल से गांड मराई भी नहीं थी. मेरी बात को बीच में ही काटते हुए वो बोला- तो दूर क्यों खड़ा है आकर ले ले ना मुंह में!यह कह कर वो तीनों हंसने लगे. मैं साड़ी को नीचे करने लगा पर टाईट होने के वजह से नीचे नहीं हुई तो मैं चाची से बोला- चाची वो… वो थोड़ा ढीला करना पड़ेगा.

मैंने रुई रगड़ते हुए सूई चुभो दी, चाची के मुँह से सीईईई निकली, फिर सूई खींच कर रुई रगड़ने लगा और धीरे से दरार की तरफ रगड़ दिया, फिर डर के मारे छोड़ दिया. मोना- तो प्लीज़ आप वो बात बताओ जिसकी वजह से आप दोनों के बीच झगड़ा हुआ था?सुधीर- उस बात का गोपाल की कुंडली दोष से क्या सम्बन्ध है?मोना- मैंने कहा ना, उन्होंने अपने अतीत में कोई ऐसा काम किया है जिसकी वजह से ये विपदा आई है. ऐप्स विद मेटआपको यहमेरी बहन की चुदाईकी हिंदी सेक्स कहानियाँ अच्छी लगी या नहीं, आप मेरी मेल आईडी पर ज़रूर मेल करें.

जब पूरा जवान होगा तब तो इसका लंड घोड़े जैसा हो जाएगा। पता नहीं किस लड़की के नसीब में ऐसा तगड़ा लंड लिखा होगा।साथियो, आप मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स मर्यादित भाषा में ही करें।[emailprotected]कहानी जारी है।.

मुझे बहुत अच्छा लगा कि तुमने कोई ज़बरदस्ती नहीं की।इतने में अन्दर से कमरे के दरवाजे की आवाज़ आई, हम थोड़ा ढंग से बैठ गए। महक आई और प्रिया को देख मुस्कुराने लगी, राजेश उसके पीछे-पीछे आके हम दोनों से मिला और बाद में वो जल्दी में निकल गया।मैं भी थोड़ी देर बाद निकल गया. कुछ अजीब लग रहा है।मैंने सुना तो अकचका गया। मुझे लगा जैसे वो जान जाएगी।मैं झट से गुप्ता जी को हटा कर वहां बैठ गया और बोला- कुछ नहीं डार्लिंग, तुम ज्यादा व्याकुल हो ना.

मैं- दीदी, मुझे तुमसे कुछ पूछना है?सीमा- हाँ पूछो?मैं डर भी रहा था पर हिम्मत कर के बोला- ये सब क्या हो रहा है, तुम्हारे रूम एक किताब मुझे मिली थी. उसके बारे में पहले सोच लो, फिर मैं खुल कर मज़े ले सकती हूँ, नहीं तो डर के मज़ा नहीं आएगा. जब मॉंटी का दम घुटने लगा तो उसने जोर से सुमन के हाथ को हटाया और अलग हुआ.

गोरी रशियन लड़की के चेहरे के परेशान लक्षण बता रहे थे कि उसे दो मोटे-मोटे लंडों को अपनी गांड में घुसवाते हुए काफी दर्द हो रहा था लेकिन वो किसी तरह से दर्द को बर्दाश्त करते हुए बीच-बीच में दांत फाड़ते हुए मुस्कुराती जा रही थी!मेरी प्यारी सी गुड़िया ने अपना बाईं हथेली सोफे पर टिका रखी थी और दाएं हाथ से उसने सोफे को कस कर पकड़ रखा था.

मैंने बाथरूम जाकर खुद को साफ किया मैंने वापिस आकर दारु की बोतल सीधे मुँह को लगाई और जब तक पेट में जलन नहीं हुई तब तक पीती गई. फिर मेरा काम उस दिन हुआ, जब मेरा उस बिल्डिंग के ऊपर वाले फ्लैट के एक लड़के से मेरी दोस्ती हुई. मेरा आधा लंड भाबी की चूत में उतर गया।भाबी के मुँह से जोर की चीख निकली और उनकी आँखें दर्द के मारे चौड़ी हो गईं। उन्होंने मुझे धक्का देकर अपने ऊपर से हटाने की कोशिश की लेकिन मेरी पकड़ इतनी मजबूत थी कि वो चाह कर भी मुझे हटा न सकीं।भाबी दर्द के मारे वो रोने लगीं और बोलीं- प्लीज़ बाहर निकालो इसे.

अंग्रेजी बीएतो एक जोरदार धक्का दे मारा और मेरा लंड भाभी की चुत में जड़ तक धंसा दिया।भाभी के मुँह से चीख निकल गई, वो दर्द से ऊपर सरक कर बोलीं- ऊउउइईईई माँआ मारेगा क्याआअ. मैंने उसे खड़ा किया और उसे नंगी ही गले से लगा लिया और उसे कहा- तुम्हें ये सब करना काफी अच्छा लगेगा.

बीएफ वीडियो लड़की के

दीदी बोली- तेरे दूध तो ब्रा के अंदर से ही मेरे दिल को लुभा रहे हैं, ज़रा दिखा तो?मैं शर्मा गई क्योंकि मुझे अपनी चुची की तारीफ सुनना अच्छा लगता है. मेरी सहेली सुबह देर से उठती थी; उस दिन भी वो देर से उठी और मैंने उस दिन उसको चाय बनाकर पिलाई और रात के बारे में पूछा. बस्सस… बहुत हो गया… मुझे घर जाना है…’ हल्के से पिंकी बुदबुदाई।‘नहीं मेरा मन कर रहा है और कस के इन उभारों को कस कस के…’ मैं बोला.

कितनी कोशिश कर ली, नींद आ ही नहीं रही है, बदन में जगह-जगह खुजली सी हो रही है, पता नहीं क्यों?टीना- ऐसा क्या हो गया तुझे. मैंने उसकी कमर में हाथ डाल कर उसे अपनी ओर खींचा और फचाक से लंड फिर से घुसाया और उसकी चूत मारने लगा. चाची की दूसरी चुदाई करने के बाद चाची की सांसें अभी भी तेज चल रही थी.

उसके बाद अब भाभी मुझे अपनी बड़ी बहन को चोदने का मौका दे रही हैं क्योंकि उनकी बहन भी अपने पति से संतुष्ट नहीं हैं. अरे दिखा तो ये क्या है?सुमन के हाथ में एक अंगूठी थी जो बहुत ओल्ड फॅशन थी. कैसी हेल्प चाहिए आपको?गुलशन- अरे वो मेरे कपड़ा व्यापार के एक बहुत बड़े सेठ हैं, उनकी बेटी लन्दन से आई हुई है.

अपनी ये कैप्री निकाल दे और कोई पतला कपड़ा लपेट ले।मॉंटी- कपड़ा क्यों दीदी. फिर मैंने (शालु) उससे बोला- तुम अपने भाई से क्यों नहीं चुदवाती हो?वो बोली- पागल हो क्या?शालु ने बोला- मैं तो अपने भाई से खूब चुदवाती हूँ।मतलब कुल मिला कर मैंने सोनी का मन अपने भाई से चुदवाने की तरफ कर दिया।सोनी ने शालु से पूछा कि यदि मेरा भाई गुस्सा हो जाए तो?शालु बोली- कुछ नहीं होगा.

और मुझमें क्या पसंद आया?मैंने कहा- मुझे आपकी गांड बहुत शानदार और मस्त लगी.

उसका चेहरा देख मेरी हंसी छूट गई, मैंने फिर रिया को जोर जोर से चोदना शुरू किया. मुट्ठ मारकुछ देर ऐसा करने के बाद अब मेरी चूत ने अपना रस बाहर निकालना शुरू कर दिया था जिसकी वजह से मेरा जोश अब धीरे धीरे ठंडा होता चला गया और उस दिन के बाद करीब दो साल तक लगतार हम दोनों ने ऐसे बहुत बारलेस्बियन सैक्सकिया और बहुत मजे लिये जिसके कारण मेरा शरीर निखरने लग गया. आई मिलन की रात हिंदी फिल्मकोई तकलीफ तो नहीं?मैंने कुछ नहीं कहा।फिर बोला- थोड़ा तेज करूं?उसने धक्कों की स्पीड और पावर बढ़ा दी और फिर धक्के और जोरदार धक्कों में बदल गए। मैं इतना पुराना गांड मराने वाला था. संजय बोलता रहा और टीना गौर से सब सुनने लगी और ये सुनकर उसकी आँखों में चमक भी आ गई.

मैंने भी अपना लंड भाभी के चुत में डाला और चुदाई का मैच चालू हो गया.

अब उस दूध वाले की और उसके दोस्त के साथ तबेले में रंगरेलियां कैसे मनाईं. मैं खुद वहां उसके साथ गया था। हमारे गाँव की जैसी छोटी दुकान नहीं है. उसको भी मैंने इसी कोठरी में ला ला कर कई बार चोदा है, वो मेरे लंड की दीवानी है और अपने पति को छोड़कर मेरी रातें रंगीन करती है.

मैंने अपने मुंह पर पूजा के रस का सैलाब महसूस किया और उसे पीने में जुट गया. मैं अच्छा हो जाऊंगा! तब तो मैं जरूर शहर जाऊंगा। बस एक बार ठीक हो जाऊं. चूत में अभी से सुरसुराहट होने लगी और चुचुक में तेज़ी से बढ़ती हुई अकड़न का अनुभव होने लगा.

देहाती बीएफ देहाती वीडियो

उस हालत में उसे देख कर बूढ़े का लंड भी खड़ा हो जाए तो जॉय का क्या हाल होगा आप खुद समझ सकते हो. अब उनके कपड़े एक एक करके उतर गए और दोनों बेड पर एक दूसरे में सामने की कोशिश में लग गए. मगर उम्र और हाईट से कुछ नहीं होता, पसंद सबकी अलग होती है और वो इतनी दूर से आई है तो क्या अपने कपड़े नहीं लाई होगी?गुलशन- अरे तू तेरी पसंद के ले.

’ और मैंने लाइट जला ली क्योंकि इससे पहले जितनी बार लड़की चोदी है रोशनी में ही चोदी.

कितना सुखद अहसास था वो, जैसे जन्मों में किये सभी पुण्य कर्मों का प्रतिफल उस रूप में मिला गया हो!‘देखो स्नेहा बेटा, लंड को ऐसे अच्छे से संभाल के पकड़ते हैं’ मैंने उसे समझाते हुए उसकी अंगुलियाँ अपने लंड पर लपेट दींऔर फिर उसका हाथ दो चार बार ऊपर नीचे किया जिससे सुपारा बार बार बाहर झांकता और फिर छुप जाता अपने खोल में.

उस एक ही रात में उनको प्रथम बार में ही चार बार चोदने से मेरा लंड सूज गया था और सपना आंटी मुझे अपनी एक सहेली डॉक्टर बनर्जी के यहाँ लेकर गई जिसने मेरे लंड पर एक क्रीम लगाई तथा खाने की गोलियां दी और अगले दिन दिखाने को कहा. मुरुगन के लंड चूसने से मेरी चुत पानी से लिसलिसी हो गई और मेरी चुत में चींटियाँ रेंगने लगीं. एक्सएक्सएक्सएक्स एक्सप्रेस 2020उसने कहा कि मैंने पहले कभी लंड चूत में नहीं लिया है, अतः धीरे करना.

उसने किसी तरह मुझे अलग किया और बोलने लगी- आराम से करो, साँस तो लेने दो!‘ओके मेरी जान, सॉरी अब ऐसा नहीं करूँगा. इस पर मैंने गुस्से का नाटक करते हुए चिड़चिड़ाती आवाज़ में कहा- मुझे कोई शौक नहीं है किसी पराये आदमी से चुदने का… तेरी ही गांड फ़टे जा रही थी कि मोना तुझे किसी और से चुदते देखना चाहता हूँ… मेरे को नहीं चुदाई करनी, ना राज से ना किसी और से!इतना बोल के मैं भुनभुनाती हुई दूसरे कमरे में भाग आई. और फिर हम इस तरह रोज़ सेक्स करने लगे!तो यह थी मेरी पहलीसच्ची सेक्सी कहानीउम्मीद करता हूँ आपको पसंद आई होगी, मुझे ई मेल करके बताएँ कि आपको कहानी कैसी लगी.

मैं उनसे मिला, मामी खुश थी, उन्होंने मुझे अपना दूध पिलाया और मैंने उनकी खूब चुदाई. दो ढाई बजे तक घर में बस तू बचेगा और तेरी माशूका होने वाली रखैल मेरी चुदासी माँ.

मैंने उनकी चूत को देखा बिल्कुल क्लीन शेव, एक भी बाल नहीं था, मैं चूत को चूसने लगा, आंटी को बहुत मजा आ रहा था, वो मेरा लंड भी अच्छी तरह चूस रही थी.

उसके थोड़ी देर बाद रोहन ने अमन और रोहित को कुछ बोला और आयेशा के पीछे बाथरूम में जाने लगा. चन्द्र प्रकाश मेरा चोदू है, उसी के आई डी पर ही अपनी हिंदी सेक्स कहानी लिख रही हूँ. सच कहूँ तो प्यार का अहसास उस पल जो हुआ वो तो शायद किस्मत वालों को ही नसीब होता है पर उस प्यार को हम पक्की दोस्ती ही समझ बैठे.

हिंदी ऑडियो पोर्न उस वक्त लगभग 11 बज गए थे। इस वक्त मैंने सिर्फ़ फ्रेंची पहनी हुई थी। मैं ऐसे ही रूम से बाहर मुँह धोने के लिए आया। जब मैंने मुँह पर पानी डाला. चूत की भट्टी की गर्मी पाकर वो कांपते हुए होठों से मेरी बीवी का चुम्बन करते हुए अपनी जीभ निकाल उसके मुंह में घुसेड़ने लगा, जबकि उसका निर्दयी चुदाई यंत्र बिना किसी दया के मेरी असहाय बीवी की चूत मारने में लगा ही हुआ था!थोड़ी देर बाद मैं एंड्रयू की बगल में लंड नताशा के चेहरे के सामने पेश करता हुआ लेट गया और मेरी प्यारी गुड़िया मुस्कुराते हुए उसे चूसने में लग गई.

वो भी मेरे लंड को अन्दर तक ले जा रही थी जो उसके गले के अंत तक जाकर उसकी दीवारों से टकरा रहा था. प्लीज़ निकाल लो।लेकिन मैंने उसके चूचों को मसलते हुए धीरे-धीरे चोदना जारी रखा। जब उसकी सिसकारियाँ बढ़ने लगीं. नहीं तो रंडी, तुझे पता ही है मैं किसी भी चूत को कभी छोड़ता हूँ क्या!तब तो रीना रानी कुछ नहीं बोली.

एक्स एक्स बीएफ 2020 का

गाँव में चारों तरफ घरों की सफाई आदि चल रही थी। गाँव में ही मेरी एक गर्लफ्रेंड थी बबली… वो बिल्कुल देसी लड़की है जैसी भारत के गाँवों की लड़कियाँ होती हैं. तो अभी जैसे मुँह बंद किया वहां भी आप मेरे मुँह को बंद कर देते।संजय- ऐसे तुझे समझ नहीं आएगा. चाची बोली- नहीं, चूतड़ पर ही दे दो!चाची बेड पर जा कर पेट के बल लेट गई.

अजय लगता है तुमने तो सेक्स में पीएचडी कर रखी है… लगता है आज तो तुम सच में मेरी चुत और गांड के बीच में सुरंग खोद कर ही दम लोगे. मनोज ने हाथ उठाया और मैंने अपना एक हाथ उठाया और हमने हाथ से हाथ टकरा कर हाय फ़ाय किया.

उफ़ क्या मस्त कर देने वाला अहसास था।हम तीनों अभी सीट पर ही बैठे-बैठे कर रहे थे। मैं उनके बीच से निकला और पीछे की सीट पर आकर मेरी जीन्स निकाल दी और सीट पर लेट कर उनकी तरफ देखने लगा।वो दोनों भी मेरा मुँह देख रहे थे कि ये क्या कर रहा है। तभी राहुल तुरंत अपनी पेंट.

जैसे ही पूजा ने लंड अपनी चूत से निकाला, तो उसने देखा कि मेरे लंड और उसकी चूत पर ढेर सारा खून लगा था जिसे देख वो डर गई. मैंने कहा- आप सिर्फ 5 दिन मेरे साथ रहते हो और बाकी टाइम मुझे अकेली रहना पड़ता है।पति ने कहा- मैं इससे ज्यादा टाइम नहीं दे सकता!सॉरी बोल कर वो चले गए. रोहित ने मुझे और रोहन ने आयेशा को पकड़ रखा था अमन हम दोनों के पीछे जाकर हमारी गांड सहलाने लगा.

वैसे यार संजय ये पार्टी का क्या नया फंडा है?संजय- कुछ नहीं, तुम लोगों के लिए चुत का इंतजाम हो गया समझो. ‘आआआआअह… मर गई माँआआ… आआह…’मैंने सविता के निप्पल को दांतों से पकड़ के खींचा और धक्के लगाने लगा. मैंने इधर उधर की बातें करके फ़ोन काटा, एक बार और मुट्ठ मारी और सो गया.

मैंने माला से कहा- तुम्हारी योनि बहुत कसी हुई है जिससे मुझे संसर्ग करने में काफी दिक्कत हो रही है.

बीएफ देहाती एक्स वीडियो: उसके मुंह के अन्दर जाते ही वो कुछ ज्यादा ही मोटा और बड़ा हो गया था. आप मेरी पहली कहानीपड़ोसन आंटी की चुत चुदाई करके चोदना सीखापढ़ चुके हो.

मैं एक छोटे से शहर में रहता हूँ।बात उस समय की है, जब मैं जवान हुआ ही था। मेरे लंड का साइज 7 इंच है और मैं बहुत ही आकर्षक लड़का हूँ। मेरा किसी लड़की को चोदने का बहुत मन होता था।मेरे मोहल्ले में एक फैमिली रहती है. जब गुलशन ने लंड बाहर निकाला, तो वीर्य के साथ बहुत सा खून भी बाहर आ गया. साधु बाबा तो चले गए मगर मोना को असमंजस में डाल गए।सॉरी दोस्तो, बीच में आने के लिए ये साधु वाला किस्सा काल्पनिक है.

तो उसने चाय के लिए पूछा तो मैंने भी हाँ कर दिया।वो चाय बना कर लाई और हम साथ बैठ कर चाय पीने लगे। चाय पीते पीते उसने मुझसे पूछा- आपकी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?मैंने कहा- नहीं, मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।माधवी- क्यों कोई मिली नहीं या बनाया नहीं?मैंने कहा- नहीं, ऐसा नहीं है, मेरी दो गर्लफ्रेंड रह चुकी हैं लेकिन अब नहीं है.

ऋतु ने मेरे खड़े हुए लंड को अपने हाथों में लेकर कहा- और अगर तुम चाहो तो इसका भी आनन्द ले सकती हो. जैसे ही मैंने चूत से लंड बाहर निकाला मेरा वीर्य उसकी चूत से निकलता हुआ उसके पटों पर बहने लगा. उसके मुख से आनन्द भरी आह ईई उईई सीई ई छोटू उईई सीई सीई सिसकारियाँ निकालने लगी.