अच्छे बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ शायरी हिंदी माई

तस्वीर का शीर्षक ,

एक नंबर सेक्सी वीडियो: अच्छे बीएफ, मैंने कहा- रानी अब मैं कुर्सी पर बैठे बैठे तुझे शीशे के सामने चोदूंगा.

बीएफ इंग्लिश वीडियो एचडी

उस वक्त वो सिर्फ ब्लू कलर की शर्ट और वाइट कलर की पैन्ट पहने खेतों में काम करता रहता था. भाभी के बीएफ सेक्सी वीडियोफिर मैं उसके पेट को सहलाता हुआ नीचे उसकी चूत की तरफ अपना हाथ को ले गया और आराम आराम से उसकी चुत कर दाने को रगड़ने लगा.

वो इस वक्त मुझे इतना कस के पकड़े हुए थे कि मेरा हिलना भी मुश्किल था. देहाती हिंदी बीएफ बीएफकाफ़ी देर बाद जब वो नहीं झड़ा तो मालती खुद ही उससे बोली कि मैं तो थक गई हूँ.

वह मस्ती में मेरी गांड मार रहा था, मैं उसके नीचे कुतिया बन कर चुदाई करवा रहा था.अच्छे बीएफ: मैंने एमबीए की पढ़ाई की है।मेरे गाँव में एक पुष्पा नाम की 35 साल की भाभी रहती थी। वो देखने में एकदम मक्खन जैसी गोरी और मोटे चूतड़ वाली थी। उसका फिगर 36-32-38 का था उसके पति और दो लड़के दोनों मुंबई में रहते थे। वो अपनी एक छोटी लड़की के साथ रहती थी। उसकी वो लड़की अभी कुल 3 साल की थी।भाभी की निगाहें नशीली थीं और जब वो अपने चू्तड़ मटका कर चलती थी.

तभी तो वो तुम्हारी चूत चाट रहा था।फिर मैं रात को घर आया और मौसी से कहा- मेरा सिर दर्द कर रहा है.रुको न … तुम तो आते ही शुरू हो गए? बस यही काम रह गया क्या मुझसे? सिर्फ चोदियेगा ही … या कुछ बातें भी करेंगे हम?”बातें तो हो जाएगी लेकिन पहले यह आग तो बुझे मीता जी!” यह कहकर मैंने दोनों उभारों को कस कर थाम लिया और नीचे झुकने लगा.

स्कूली हिंदी बीएफ - अच्छे बीएफ

बिल्कुल साफ़ थी।मैंने उसे हाथ से छू कर देखा, मैंने जैसे ही उसे हाथ लगाया वो एकदम सिकुड़ कर मेरे सीने से लग गई।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब तो कन्ट्रोल से बाहर था, मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत पर रखा और हल्का सा ही अन्दर गया होगा.मैंने उसी टाइम टैब बदल दिया और सामने ट्रिपल एक्स वीडियो प्ले हो गया.

तो वो एकदम से गरम हो गई और सिसकारियां लेने लगी।तब मैंने सोचा ये आई तो चुदने ही है पर जरा नखरे कर रही है. अच्छे बीएफ मुन्ना अंकल राज अंकल से बोले- यार यह लड़की बहुत सेक्सी है, मैं एक पल भी नहीं रह पा रहा हूं.

तुम कहां तक जा रही हो?तो उसने बताया कि उसकी दीदी की तबीयत अचानक खराब हो जाने की वजह से उसे लखनऊ जाना पड़ रहा है और आज उसके पास टिकट भी नहीं है क्या आप मेरे लिए एक बार टी टी ई से बात करेंगे?मैंने हां कह दी और फिर से ईयरफोन लगाकर गाने सुनने लगा।रात के करीब 8:30 बजे थे, और टीटी टिकट चेक करने आ गया था.

अच्छे बीएफ?

सो 10 मिनट बाद मैंने ज़ोरदार चुदाई शुरू कर दी और अपना पानी उनकी चूत में निकाल दिया।दस मिनट में उनका 3 बार पानी निकल गया था।कुछ पलों बाद भाभी ने बताया- मैंने एक बार तुझे घर के सामने रोड के किनारे पेशाब करते हुए तेरा लंड देख लिया था. मेरे चाचा की लड़की अभी छोटी उम्र की है, तो वो जवान लड़के लड़की की मस्ती के बारे में अभी कुछ नहीं जानती थी. और जब वो अकेले होती है तो ‘आई लव यू सैयाँ’ भी बोलती है, मैं भी उसे ‘आई लव यू टू.

और मैं अपने बेडरूम में चली गई और जाकर पति से चिपक गई।मेरे ऐसा करने से पति समझ गए कि मैं चुदाई चाह रही हूँ।वह बोले- जान चूत कुछ ज्यादा मचल रही हो तो चोद देते हैं… नहीं तो मैं बहुत थक गया हूँ. मैं भी काफ़ी बेसब्री से उसका इन्तजार करता। रोज बातें करने के कारण हम दोनों काफ़ी खुल गए थे।हम रोज देर रात तक बातें करते फिर कुछ दिनों के बाद उसने नया मोबाइल लिया. प्रिय अन्तर्वासना पाठकोफरवरी महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियां आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए….

मेरा ये पहला अनुभव था, जब कोई‌ लड़की मेरे लंड पर बैठकर इस तरह से खुद मजा लेने के साथ साथ मुझे भी उतना‌ ही मजा दे रही थी. तो देखने लगी।मैं भी वहीं बैठ कर नाटक देखने लगा। कुछ देर बाद पूजा का भाई उसको बुलाने आया तो बोली- मैं नाटक देख कर आ रही हूँ।पूजा उसके बाद 9. यह मेरा वादा है तुमसे।तो सपना ने शिखा से मेरा लंड देखने की चाहत की.

इस बीच अब मुझे उसकी चूतड़ दिखे तो मन हुआ कि अभी गांड में लंड को ही डाल दूँ. क्या बोलते हो, इन्हें सजा दूं या नहीं?मां चुदवा अपनी।” मैंने थोड़े झल्लाये लहजे में कहा और वह ‘हो हो …’ कर के हंसने लगी।मां क्यों … मैं ही चुदवाऊँगी इन भड़वों से। चलो रे सजा झेलो.

चुदाई के बाद मैं झड़ गया और हम दोनों ने थोड़ी देर के लिए रेस्ट किया.

फिर धीरे से उठा। मैंने देखा उसका लंड वीर्य से सना पड़ा था और नीचे लटक गया था। उसका लटका हुआ लंड भी मुझे काफ़ी बड़ा लग रहा था।मैंने दर्पण में अपनी चूत की तरफ़ देखा.

उसका साइज़ तो नहीं बता सकता, पर हां जब वो पीछे घूमी, तो उसकी उठी हुई गांड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. हम दोनों ने मौक़ा देखा तो प्लान बना लिया था कि हम दोनों सम्मेलन में नहीं जाएंगे. आपकी प्रसंशा या टिप्पणी दोनों ही मेरे लिए बहुमूल्य हैं।चलिए अब अपने बारे में कुछ बता दूँ।मेरा नाम राज है.

लम्बे लौड़े का मालिक है।एक दिन मैं अपने दोस्त के पास गया हुआ था कि हमारे बीच सेक्सी बातें शुरू हो गईं।संजय कहने लगा- यार रवि. काफी दिनों से कहानी लिखने की सोच रहा था तो आज मैंने सोचा कि आप सबके सामने अपनी कहानी क्यों ना बतायी जाये. ऋतु जी आप बुरा ना माने तो मैं आपका स्क्रीन टेस्ट लेना चाहता हूँ।मैं कुछ बोलती.

आखिरकार मैं उसके मुँह में झड़ गई ‘अअआहहह उउफ हहह ओहहह रीतिका अअआ इईई …’ फफॅच्च से उसके मुँह में सारा पानी छोड़ दिया और उसने भी बड़े मजे से मेरी चूत का रस दोबारा पिया।फिर हम दोनों एक-दूसरी से चिपक कर लेट गयी और हम दोनों सो गयी.

विकास भी अपने लंड को मेरी चुत में पेलने लगा और फिर मेरी चुत विकास के मोटे लंड से चुदने लगी. मुझे मानो जन्नत की सैर होने लगी। वो चप्प-चप्प” करके लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।मैंने उससे 69 की अवस्था में आने को कहा. तो मैंने कहा- तो तुम खुद ही अपने हाथों से मुझे कंडोम पहना दो!उसने मुझे कंडोम पहनाया और अपनी चुत पर मेरे लंड को रख दिया।मैंने भी उसके स्तनों को दबाते हुए उसको चूमना शुरू कर दिया और अपने लंड को उसकी चुत पर लगातार रगड़ता रहा.

जैसे ही मेरी गांड में लन्ड टच हुआ, मैं पागल हो उठी, मुझे लगा कि बिना देरी किए सीधे घुसा दें … पर बोल नहीं पाई. मेरी चीख निकल गई।मेरी चीख इतनी तेज थी रात सन्नाटे को चीरती दूर तक गई होगी। उसने भी घबड़ाहट में एक शॉट और लगा दिया और पूरा लण्ड चूत में समा गया।मैं कराहते हुए बोली- हाय. औसत कद-काठी का मर्द हूँ। मैंने अपने शरीर को कसरत कर-करके बहुत फिट रखा हुआ है। मेरे औजार (लंड) की लंबाई और मोटाई अन्तर्वासना के और पाठकों के जैसी ही है.

मुझे पागल कर देता है और मैं अपने आपको नहीं रोक पाती।मैंने कहा- ये बात है तो फिर और एक राउंड हो जाए चटाई का.

उनके मुँह में मेरा हथियार और भी गर्म हो गया इसलिए मैंने देर न करते हुए उन्हें एक बार फिर से कुतिया बनाया और उनके पीछे आ गया. फिर दादा जी मेरी तरफ देख कर मुस्कराए और बोले- सच में रानी … मुझे नहीं पता था कि तुझमें इतनी तड़प है.

अच्छे बीएफ तो गर्म-गर्म वीर्य से उसको बड़ा सुकून मिला।पायल की गाण्ड को भर कर ‘पक्क’ की आवाज़ के साथ लौड़ा बाहर निकाला और पुनीत बिस्तर पर लेट कर लंबी साँसें लेने लग गया।पायल की गाण्ड से वीर्य टपक कर बाहर आने लगा. मैं भी हंसने लगा।हम दोनों बापस कमरे में आकर लेट गए।वो बोली- जब मेरी फ्रेंड्स करती हैं तो उनकी आवाज नहीं होती और जब मैं करती हूँ.

अच्छे बीएफ टाईट करना पड़ेगा; लंड खड़े करो भड़वो!” उसके लहराते शब्द और आंखें बता रही थीं कि उस पर कायदे से चढ़ गयी थी।कैसे खड़ा करें मैडम. निधि बस मुस्कुरा के रह गई और जल्दी से सन्नी के लौड़े को मुँह में लेकर चूसने लगी।सन्नी- आह्ह.

और मैं अपने घर जाने के लिए उठ गया।आरती ने मेरे पास आ कर ज़ोर से किस की.

सेक्सी कंडोम लगा

तो उन्होंने कहा कि हम दोनों सब प्रयास कर चुके हैं, पर मुनीर को ये सब लाइव देख कर ही उत्तेजना होती है. फिर मैंने भाभी को मेरे कपड़े निकालने के लिए कहा और उन्होंने मेरे सारे कपड़े निकाल दिए और मैं सिर्फ़ अंडरवियर में रह गया था।मैंने भाभी का शर्ट निकाल दिया. मेरे मुँह से भी सिसकारियां निकल रही थीं और मैं आह्ह्ह … आअह्ह्ह …’ करती हुई अपनी गांड को विकास के लंड के साथ आगे पीछे कर रही थी.

और मुझे उन्होंने चुम्बन करना सिखा दिया।उसके बाद मेरे साथ मेरी रजाई में लेट गईं और मेरे हाथ अपने स्तन पर रखवा लिए और धीरे-धीरे दबाने के लिए कहने लगीं।मैंने वैसा ही किया. तब लंड आराम से अन्दर चला जाएगा।मैं चित्त लेट गया और भाभी मेरे लंड के ऊपर बैठने लगीं. जो बड़े-बड़े काण्ड कर देता है।उनकी बात सुनकर हम दोनों ही हँस दिए। मैंने चाची की चूचियाँ दबानी चालू कीं.

मैंने रिया भाभी को चूमते हुए उनसे कहा- भाभी तुम जल्दी से तैयार हो जाओ.

उसका चूतरस मुझे और उत्तेजित करने लगा।थोड़ी ही देर में मेरा लौड़ा फिर से खड़ा हो गया।मैं उसकी चूत को लगातार चाट रहा था। अचानक से वो अकड़ने लगी और वो सिसकारने लगी- मैं जाने वाली हूँ. तीसरे दिन राज अंकल फिर मेरे पास आए और बोले कि सोनू मैंने सब कुछ सैट कर लिया. जिस दिन तुम्हारी चूत किसी असली लंड से खुलेगी तुमको ऐसे ऐसे कई रिमार्क्स मिलेंगे.

तभी प्रिया का हाथ भी पीछे को आया और वो मेरे लंड को जीन्स के ऊपर से ही सहलाने लगी. लग रहा था जैसे मेरा ही इन्तजार कर रही हो।उसने मुस्कुरा कर मेरा स्वागत किया और मुझे अन्दर बैठा कर. फिर वो खाना बना के घर चली गई।आपको सोनी की कुंवारी चूत की पहली चुदाइ पढ़ कर कैसा लगा.

और वो कुछ देर में अपना हाथ धीरे से थोड़ा सा नीचे ले गया और शीतल की गांड को भी थोड़ा-थोड़ा मसल दिया. पूरा लिंग ही ‘पक’ करके बाहर आ गया। मैंने और लार बना कर उसके छेद पर उगल दी और फिर दबाव डालते अंदर घुसाना शुरू किया जबकि अब उसने उसे बाहर ठेलने के लिये जोर लगाया। जड़ तक ठूंसने के बाद वापसी में फिर वही प्रक्रिया दोहराई।फिर करीब सात आठ बार ऐसे ही घुसाया निकाला लेकिन बेहद धीरे-धीरे.

लेकिन राजेश इतनी ज्यादा मात्रा में झड़ गया था कि उसका बहुत सा वीर्य मेरे मुँह से बाहर आकर मेरी ठोड़ी पर फैल गया और मैंने अपनी जीभ बाहर निकाल कर उसे भी चाट लिया।मैं अपनी हवस से खुद आश्चर्यचकित हो गया था।मैंने कहा- मेरा मुँह तो भर गया. हैलो दोस्तो, अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा खड़े लंड से नमस्कार।मेरा नाम प्रेम शर्मा है. वो वैसे ही लेटी रही ओर मैंने उसकी गर्दन ओर कान को चूमना चूसना शुरू कर दिया.

लेकिन भोसड़ा नहीं बनती। यह चूत चोदने वाला बड़ी किस्मत वाला होता है क्योंकि इस नारी ने एक ही लंड लिया होता है। अगर ये चोदने मिल जाए तो किस्मत खुल जाती है। लेकिन इस किस्म की औरतें बड़ी संकोची होती हैं।तीसरी टाइप होती है चूत को सुख का दरवाजा समझने वाली.

तो ट्रेन किस प्लेटफॉर्म पर आएगी?मैंने उनसे कहा- आंटी जी आपने अनाउन्समेंट नहीं सुनी थी क्या. कितना अच्छा लग रहा है।अचानक मैंने अपना लौड़ा उसकी चूत के छेद के आस-पास घुमाया।वो सीत्कार उठी।अब खेल की शुरूआत थी. तो मैंने उनका मुँह बंद कर दिया, मैं जोर-जोर से उनकी चूत मारने लगा।फिर मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला और उनकी गाण्ड में पेल दिया।वो फिर चिल्ला पड़ीं.

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। यह मेरी पहली कहानी है।बात उन दिनों की है. कुछ नया सुनाओ?अनु ने मुझे सब बता दिया।अनु- अब मैं क्या करूँ?मैं- मज़ा आया.

’ की आवाज़ निकालने लगीं।मैं समझ गया कि उन्हें भी कुछ-कुछ ज़रूर होने लगा है और अब तूफान आने वाला है. अब मैं बदहवास की सी हालत में चल रही थी। नीलेश सीधा लेट गया और मुझे अपने ऊपर बिठा लिया और लौड़ा मेरी चूत में घुसेड़ कर बोला- ले साली धक्के मेरे. तो मैंने यह बात बताई। हम दोनों दोस्त एक-दूसरे से झूठ नहीं बोलते थे.

वीडियो देवासी सेक्सी वीडियो

बाहर ही निकालो।मैंने सारा माल सुमा के पेट पर निकाल दिया।फिर मैंने और सुमा ने कितनी ही बार चुदाई की।दोस्तो, कैसी लगी.

गर्मी का मौसम था तो दोनों को पसीना भी आने लगा था, मैंने उसके गुलाबी होंठ पर अपने होंठ रख कर चूमना शुरू कर दिया और मधु भी मेरा साथ देने लगी. यदि तेरी मम्मी ने किसी के साथ सेक्स कर लिया है, तो अब तो तू कुछ नहीं कर सकता है. तो कोई मेरी जाँघों को सहला रहा था।पूरे रास्ते इन्होंने मेरी सांस भारी कर रखी थी। जैसे ही घर पहुँचे.

अब मैं बदहवास की सी हालत में चल रही थी। नीलेश सीधा लेट गया और मुझे अपने ऊपर बिठा लिया और लौड़ा मेरी चूत में घुसेड़ कर बोला- ले साली धक्के मेरे. बिना समय बर्बाद किये, मैं उसे अन्दर कमरे में ले गया, जहां संदूक रखा था. बीएफ इंग्लिश बीएफ चोदा चोदीउसे बहुत मज़ा आया।फ़िर कुछ दिन बाद मैंने हॉस्टल छोड़ कर बाहर एक रूम ले लिया.

मैंने चुप होकर तमाशा देखना शुरू किया, तब तक परेजू मेरे पीछे आ चुका था. उसने अपने भाई से थोड़ा नखरे-भरे अंदाज में पूछा- देख लिया?विक्रम का जैसे मोह भंग होता है, तन्द्रा टूटती है और वो हकलाते हुए बोला- ह.

कुछ देर बाद मैंने उसके गोद में से नीचे उतार दिया और उसका मुँह दीवार की तरफ कर दिया. उसने बताया कि किसी काम की वजह से उसके पति नहीं गए थे, जिस कारण वो अकेली ही गई थी. जैसे ही मेरी चूत में हाथ रखा तो वहाँ चूतरस बह रहा था तो बहुत धीरे से बोले- यह वन्द्या की चूत तो पूरी बह रही है, यह बहुत चुदासी है.

कुछ ही देर में वो वीडियो देखते हुए सनी लियोनि जैसे लंड चूस रही थी और मेरे पोते सहला रही थी. और फिर हम एक-दूसरे को चुम्बन करने लगे। उसे किस करते वक़्त मेरा एक हाथ उसके मम्मों पर चला गया. ’और चाचा वहीं बगल में ले जाकर के मुझे खड़े-खड़े ही मेरे जोबन को कसके रगड़ने.

ये मेरे जीवन का एक सच है।उसके साथ फिर कभी कोई घटना होगी तो फिर लिखूंगा.

मॉम बड़बड़ा रही थीं- उई मॉम क्या करूँ आहह … मारो जोर से … चोद चोद दे राजू … आआह्ह … मर गईई … मज़ा आ गया राजू …मॉम जब ज्यादा लाड़ में रहती हैं, तो मेरे डैड को राजू कह कर भी बुलाती हैं … चुदवाते हुए वो उन्हें राजू राजू पुकार रही थीं. ऐसा लगा मानो वो मरने वाली हो।थोड़ी देर बाद वो नॉर्मल हो गई और मज़े से गाण्ड चुदाने लगी।‘आआआआहह.

ब्रा के आस-पास उसके मम्मों के आस-पास किस करने लगा और गर्म साँसें छोड़ने लगा।गीत को भी मज़ा आ रहा था. दोस्तो आप मानोगे नहीं, पर मैं तब भी नींद में था और मुझे लग रहा था कि मैं कोई सपना देख रहा हूँ. मैंने भाभी को ऐसे ही बिस्तर पर धकेल दिया और उनके होंठ चूसने लगा।आह्ह.

तो उन्होंने कहा- तुम अपना मुँह उधर को करो।मैंने कहा- क्यों भाभी, शर्म आ रही है क्या?वो बोली- हाँ, तुमसे थोड़ी शर्म आ रही है।मैंने पूछा- फिर कैसे होगा?तो कहने लगी- सब्र करो. हालांकि हम दोनों ने अभी तक ‘सब कुछ’ नहीं किया था, बस मेरा उसके साथ इतना ही था कि साथ में घूमना फिरना हो जाता था. में जल्दी खत्म कर दूँगा और आप हो ही इतनी सेक्सी कि पहले राउंड में कोई ज्यादा टिक ही नहीं सकता.

अच्छे बीएफ उसकी चूत भी गीली हुई पड़ी थी और मेरे लंड को उसकी गर्मी पूरी तरह से महसूस हो रही थी. पर मैं बहुत एकसाइटिड भी हूँ। घर पर माँ ने बहुत सी तैयारी भी की है।वो मुझे कार से लेने आ रहे है.

अमेरिकन सेक्सी बीपी व्हिडिओ

इससे पहले कि मैं कुछ बोल पाती, उसने अपना पूरा लंड एक ही झटके में मेरी चूत में उतार दिया. आप कौन?उसने कहा- रूपाली (बदला हुआ नाम )मैंने कहा- आपके कल रात से मैसेज आ रहे हैं?तो वो बोली- आर यू मैड. तो अंकल ने पूछा- कभी गोलगप्पा खाया है या नहीं?इस पर मैंने कुछ डर और बेचैन भाव से हाँ में सिर हल्का सा हिला दिया.

उसने मुझे अगले दिन एक जीन्स टी-शर्ट गिफ़्ट की और सरिता अनार का जूस भी लेके आई थी।उस रात और अगले दो दिन मैंने सरिता और रीना दोनों को खूब चोदा।उन दोनों ने भी खूब मज़े किए. बहुत ही सुंदर लग रही थी। उसने मुझे देखा और खुश होकर गले लगा लिया।कैसी लगी मेरी कहानी. हीनदी बीएफ बडीओहाँ… माँ… आह…शीतल- तुम्हारी चूत तो बहुत खूबसूरत है… एकदम गुलाबी… टाइट… रसीली…मयूरी- तुम्हें अच्छी लगी माँ?शीतल- हाँ बेटा… जी करता है कि इसको चूम लूँ.

यह मेरा वादा है।सोनी ने खुल कर कहना शुरू कर दिया- इतने दिन से मैं देख रही हूँ कि तुम और दीदी सेक्स कर रहे हो और अब मेरा मूड भी हो गया है.

मैंने उसको अपना नंबर दे दिया था। काफ़ी देर होने के कारण और स्नेहा की चुदाई करने से मैं भी बहुत थक गया था. चाहे कितना भी अँधेरा हो वो एक-दूसरे से ढूँढ ही लेते हैं।लंड के अन्दर घुसते ही वो मेरे ऊपर गिर गईं और मैंने उनको अपनी बाँहों में समां लिया।जब भाभी ने मेरे लंड को अपने अन्दर लिया.

फिर थोड़ी ही देर में वो अपनी जबान मयूरी की चूत के अंदर डालकर कुछ कलाबाजियां दिखाने लगी. मुझे शादी-शुदा औरतें बहुत पसंद हैं क्योंकि उनकी बड़ी गाण्ड और भूरे निप्पलों का मैं दीवाना हूँ।आप सबने मेरी कहानीसीमा भाभी की अन्तर्वासनाऔरचाचा की माल की चाचा से बेहतर चुदाईको पढ़ कर मुझे खूब मेल किए. तभी मूवी में बाथरूम की चुदाई का सीन आया, मैं चाची की जांघ पर हाथ फेरते फेरते उनकी चूत तक ले गया.

नीलम ने मुझसे पूछा- आज आप क्या करने वाले हो?तो मैंने उससे कहा- आज तेरी आराम चुदाई होगी।‘मतलब?’‘मतलब की आज तेरी सील टूटेगी.

एक कमरा प्रिया के मम्मी-पापा के लिये था और एक कमरे में वो तीनों भाई बहन सोते थे. जब मैं घर पहुंचा तो वो ठीक नहा कर निकली थी और उसके बदन से इतनी ज़बरदस्त खुशबू आ रही थी कि क्या बताऊं. जो मेरे साथ हुआ है। मैं एक हाउसवाइफ हूँ और एक मिडल क्लास फैमिली से हूँ।मैं 32 साल की हूँ.

बीएफ दिखाइए बीएफ दिखाइए बीएफपर वो खुश लग रही थी।मैंने अपने कपड़े पहने और उसको कहा- अब तुम अपने बेडरूम में जाओ. मॉम खिलते हँसते ऊपर से रपट कर तेजी से नीचे आईं और गप्प से लंड के ऊपर अपनी चूत को साधते हुए डैड की गोद में ऐसे गिरीं कि डैड लंड फट से मॉम की चूत में समां गया.

भारतीय सेक्सी वीडियो मजेदार

क्योंकि मेरा उसके साथ बूँदी जाने के प्लान था क्योंकि मेरा जन्म दिन भी अगले दिन था. वो सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में थी।मैं उनके मम्मों को दबाने लगा, उन्होंने मुझे नंगा होने को कहा. जो अभी भी अपने पति के देहांत के बाद मुझे बाजार में दिखाई देती है। उस दिन के बाद तीन महीने लगातार.

हम दोनों कुछ ही दिनों एक अच्छे बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड की तरह मिलने जुलने लगे थे. ’वह भी तीसेक शॉट मार कर अपने लण्ड का पानी मेरी बुर की गहराई में छोड़ने लगा।मैं कहानी भेजती रहूँगी. फिर अपनी गुलाबी पैन्टी नीचे की। उनकी जाँघें देख कर तो ऐसा लगा कि अभी जा कर उसे चूम लूँ।भाभी अब मूतने लगी थीं.

नहीं तो अब तक तुझे चोद-चोद कर तेरी जान हलक में ला देता।फिर काफ़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और चुसाने लगा. मेरा देवर यह बात सुनकर बोला- भाभी मैं हूँ ना आपका देवर … मैं आपसे प्यार करूँगा. तो थोड़ी जान में जान आई और मज़ा भी बहुत आने लगा।फिर करीब 5-6 झटकों में मैं पानी छोड़ गई.

फिर मैंने कहा- मैं उतार दूँ मेरी जान!रीतिका बोली- हाँ उतार दो दीदी जान!लेकिन कपड़े उतारने के बजाये हम किस करने लगी, वो भी मुझे किस करने लगी. हल्का-हल्का पानी छोड़ रही थी।मैंने कोमल को बिस्तर पर सीधा लिटाया और उसकी दोनों टाँगें चौड़ी करके जो चूत का नजारा देखा.

कल रात के बारे में बताना चाहूँगी। कल रात मेरे मंगेतर मुझसे एक रेस्टोरेंट मिले थे.

उसकी मम्मी जिनका नाम प्रीति है, बहुत सेक्सी हैं और वे नई-नई स्टाइल में चुदवाना पसंद करती हैं. गांव देहात की लड़कियों की बीएफपूजा मेरी बातों को सुनकर बेहद खुश हो गयी और मुझको अपने बांहों में भरकर मुझे तीन-चार चुम्बन मेरे होंठों में दे दिए. बीएफ लड़की और कुत्ता कीदादा जी ने मुझे करीब बीस मिनट तक चोदा और फिर मेरी चूत के अन्दर ही उन्होंने अपना लावा छोड़ दिया. मुझे उम्मीद है कि आपको ये चुदाई कथा बहुत पसंद आ रही होगी अभी इसमें और भी मजा आना बाकी है।मेरे साथ अन्तर्वासना से जुड़े रहिए और मुझे अपने मेल भेजते रहिए।[emailprotected].

फिर किस किस तरह से सब मेरे साथ हुआ, अगर आप सब वह जानेंगे तो मैं सच बोल रही हूं आप पागल हो जायेंगे.

अब तक की इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि प्रिया ने मुझे फिर से उसके साथ सेक्स करने के लिए मजबूर कर दिया था और वो मेरे कपड़े उतारने के लिए उन्हें फाड़ने पर उतारू थी. मेरे कामरस से मेरी योनि और जांघें भीग चुकी थीं… मेरी आंखें बंद थीं. मैं बाथरूम के पास खड़ा हो गया। वहाँ काफ़ी लोग खड़े थे और मेरे बाजू में एक लेडी खड़ी थी.

फिर इन 2-3 महीनों में और भी बहुत कुछ हुआ। आपको सब बताने का दिल है।बस आप ईमेल करके बताइएगा. हम दोनों को आंटी के आने के डर से जल्दी भी हो रही थी।मैंने भाभी के टाँगें खोलीं और अपना लंड उनकी चूत में घुसा दिया. इसलिए वो दूसरे बाथरूम में नहाने चली गई।मुझे अन्दर जाकर याद आया कि मैं अपना तौलिया बाहर ही भूल गया हूँ। मैं तुरन्त बाहर आया और अपने बैग से तौलिया निकाल कर वापस जा ही रहा था कि मुझे दूसरे बाथरूम में पानी गिरने की आवाज़ आई।मैं बाथरूम के दरवाज़े की झिरी पर आँख लगाकर देखने लगा। मेरे हल्के से हाथ लगते ही दरवाज़ा थोड़ा सा खिसक गया। मैंने थोड़ा और दरवाज़ा खिसका कर देखा.

पति पत्नी सेक्सी जोक्स

सुनील की ऐसी हरकतों से और गीली हो गई। मेरी चूत की हालत काफी खराब हो चुकी थी. मुझमें सेक्स की बहुत आग है, इसी लिए मैं हर आंटी भाभी लड़की को उसी नजर से देखता हूँ. तभी प्रीति ने अपना गाउन की डोरी को ढीला किया और उसे अपनी बांहों से ढीला करते हुए नीचे गिरा दिया.

कभी आप भी आज़माना।उसकी इसी बात का फायदा उठा कर मैंने उसकी टी-शर्ट को ऊपर उठा दिया। उसको हल्के से उठाया और टी-शर्ट उतारने लगा, उसके थोड़े से विरोध के बावजूद मैंने उसकी टी-शर्ट को उतार दिया।आह.

दोनों ही बाल बच्चे वाले हैं। बड़ी चाची अक्सर हमारे यहाँ कुछ ना कुछ काम करने आती रहती थीं।पहले उनके बारे में बता दूँ.

और उसका टॉप निकाल कर फेंक दिया।नीचे उसने पिंक कलर की ब्रा पहनी हुई थी।कसम से दोस्तो, क्या क़यामत लग रही थी वो. वो मछली की तरह झटपटाने लगी।उसकी चूत में बहुत तेज परपराहट के साथ दर्द होने लगा. सेक्सी बीएफ वीडियो देहाती मेंफिर उसने मेरे से बात करनी शुरू कर दी। मुझे मेरी तरफ से सब कुछ ठीक नजर आ रहा था। मैंने हिम्मत करके उसकी चूचियों को धीरे से छू दिया.

ज्यादा चालाक बन रहा है क्या?” प्रिया ने मेरी तरफ घूर घूर कर देखते हुए ही कहा. इसके बाद वो मेरे ऊपर आकर मेरा लंड सहलाने लगी, जिससे मुझे फिर से जोश आ गया. देखते हैं इसकी चूत को संजय ने कैसे बनाया है।फिर उसने मेरी गर्म चूत पर हाथ लगा कर देखा और फिर बोली- अरे जानू.

कभी कभी नीलू की कोई फ्रेंड भी हमारे साथ होती है, लेकिन अगर पार्टनर सेक्सी हो तो फिर सेक्स का मजा कुछ अलग आता है. क्योंकि उसके घर वाले तो बहुत निर्धन हैं।अपनी इसी आर्थिक तंगी को दूर करने के लिए साक्षी ने एक रास्ता अपनाया.

इसलिए हम दोनों सही मौके और जगह की तलाश में थे।शुक्रवार को उसका फोन आया और कहा- कल शाम 5 बजे बाद मेरे घर पर कोई नहीं है.

उसके बाल पकड़ कर मैंने अपना लंड उसके मुँह में अन्दर घुसाया- ले चूस. फिर चाची मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोलीं- मज़ा आया मेरे राजा? मैं तो तीन बार झड़ गई. आनन्द लीजिएगा।मैं उस वक़्त 12वीं क्लास में पढ़ती थी, मेरी उम्र 18 साल की थी.

रानी मुखर्जी के बीएफ पर उसकी चीखें मेरा हौसला बढ़ा रही थीं मेरी उत्तेज़ना को भड़का रही थीं।मैं एक समान स्पीड से धक्के लगा रहा था, अब वो मेरा साथ दे रही थी. तो उसका आभार कैसे मानते हैं? उसी तरह मैंने भी नीलम के दोनों दूध भरे मम्मों को दबाकर उसे शुकिया कहा।अब उसे लिटाकर उसकी चूत का बाजा बजाना शुरू करना था।आधा घंटा मैंने उसके साथ फोरप्ले किया.

फिर कभी इनकी गाण्ड भी फाड़ डालूँगा।उन दो दिनों में मैंने मामी को 8 बार चोदा।दोस्तो, मुझे बहुत मज़ा आया. तो उसके मुलायम मम्मे मेरे सामने आ गए।मैं एक हाथ से उसका चूचा मसल रहा था और दूसरे हाथ को उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चूत पर फिरा रहा था।मैंने कोमल के होंठ छोड़ कर उसके मम्मों को मुँह में ले लिया।फिर मैंने कोमल के सारे कपड़े उतार दिए और खुद भी नंगा हो गया।मेरा लण्ड देख कर वो घबरा गई और उसके मुँह से आवाज़ निकल गई ‘इतना मोटा. बड़ा मजा आ रहा था। वो भी मेरे बालों को कस कर पकड़ कर मुझे कह रही थी- औऱ जोर से.

लड़की से सेक्सी वीडियो

मैं बिस्तर पर साइड में बैठ गया। हल्की-हल्की सर्दी होने के कारण उसने कहा- रजाई में पैर ढक लो. इसलिए आपको इस सच्ची घटना के कामरस की धार से सराबोर करके पूरा मजा देने की कोशिश करूँगा।कहानी जारी है।हिंदी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:कमसिन लड़की और चूत की भूख -2. काफी देर प्रयास करने के बाद जब मुझे सफलता नहीं मिली तो मैंने उसकी चूत को दोबारा से चाटना शुरू किया कि वह गर्म हो जाए तो शायद उछल कूद बंद कर दे.

कि कहीं वो पापा को ना बता दे और मेरी पिटाई हो जाए।टबस यही सोच कर चुप रह जाता था. लेकिन अगले दिन जो हुआ जिसके बारे में मैंने कभी सोचा नहीं था।मैं सो रहा था.

शायद उस लेडी के फादर थे।वो मेरे इतने करीब थी कि उसका जिस्म मुझसे चिपका हुआ था।उसके बगल वाले का बैग बार-बार गिर रहा था.

जिसे देख कर सन्नी के मुँह में पानी आ गया।निधि बिहारी को देख कर एक तरफ़ हट गई. मैंने कहा- भाभी आपकी मटकती गाण्ड में लण्ड घुसाना है।पर वो मना करने लगी. फिर करीब दस मिनट की लंड चुसाई के बाद रजत के लंड ने वीर्य छोड़ दिया तो शीतल उसके वीर्य को पी गयी और अपना मुँह पौंछ कर रजत की तरफ देखकर मुस्कुराई और कमरे से बाहर चली गयी.

यह सुनकर रेवती तकिये के कवर को हाथ में लिए खड़ी की खड़ी रह गई और मुझे देखने लगी. फिर उन्होंने मुझे कटोरी दी और बोले- ये बहुत कीमती अमृत है, इसे बर्बाद मत होने दो सीमा. मैं साड़ी पहन कर तैयार हो गई और हम दोनों राकेश जी के घर पहुँच गए।वहाँ एक पार्टी थी.

वो तड़फ उठी।मैंने उसके पैर खोल दिए और अपनी जीभ को उसकी बुर के मुहाने पर टिका दिया। अपनी जीभ से उसकी बुर की फांकों को चाटते हुए जीभ को ऊपर-नीचे फिराने लगा।वो मेरा सर अपनी चूत पर दबाने लगी, मैं जोर-जोर से चाटने लगा.

अच्छे बीएफ: मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ।तो मैंने पूछा- छोटू कौन?खुद को मेरे से अलग करके मेरी तरफ घूमी और और लंड को पकड़ कर बोलीं- ये छोटू. आज भी उन्होंने अपने बदन को इतना मैंटेन कर रखा है कि कोई भी उन्हें चोदने को तैयार हो जाये.

साथ ही मैं उसकी चुत के दाने को लगातार रगड़ रहा था, जिससे प्रिया मस्ती भरी सीत्कारें ले रही थी. फिर ज्योति बोली- तो रवि, इतना मोटा अन्दर जाएगा कैसे?मैं बोला- जैसे तुम्हारी उंगली जाती है. फिर तो धकापेल 15 मिनट तक चोदता रहा। उसने भी पूरा साथ दिया और 15 मिनट के बाद हम एक साथ ही झड़ गए।उस रात हमने चार बार सेक्स किया और अगली सुबह जब पलंग की चादर देखी.

मुझे उठा देखकर स्वाति चाय बनाने लगी तो मैंने कहा- चाय मैं बना देता हूँ तब तक तुम तैयार हो जाओ।स्वाति नहाने के लिए जाने लगी.

आपने मेरी कहानी पढ़ी कि कैसे मैंने अपनी बुआ की सील तोड़ी और उसके बाद मुझे कई ईमेल्स भी मिलीं।अब मैं उससे आगे का किस्सा बयान कर रहा हूँ।उस दिन जो भी कुछ हुआ. मैं मुस्कराने लगी।वो मेरी तरफ से ग्रीन सिंगल था।मैं बोली- राकेश जी स्क्रीन टेस्ट कहाँ लेना है?अब मैं समझ गई थी कि मेरी चुदाई होनी है सुधा के सामने. या उनकी वाइफ उनसे साथ सेक्स नहीं कर पाती थीं।मेरी सहेली साक्षी को एक लड़की.