अंग्रेजन के बीएफ

छवि स्रोत,भोसड़ा भोसड़ा

तस्वीर का शीर्षक ,

ताकि चुदाई: अंग्रेजन के बीएफ, दीदी की टांगों के बीच में चूत पर काले घने बाल देख कर मैंने दीदी से कहा कि आपने तो कहा था कि लड़कियों के बाल नहीं होते.

सबसे ज्यादा मजा देने वाला कंडोम

जब मैंने तौलिया माँगा तो स्वाति मेरी तरफ देखने लगी और हंसी- यार मिनी, यहाँ मैं अकेली हूँ. ब्लू नंगी सेक्सी पिक्चरलेकिन मैंने पहले अपना लंड चाची के मुँह में पूरा घुसेड़ दिया और 15 सेकंड बाद निकाला, जो कि चाची में थूक से गीला हो गया था.

कुछ दिनों बाद ये सिलसिला बंद हो गया क्योंकि भैया का तबादला दूसरे शहर में हो गया और वो लोग वहां शिफ्ट हो गए. गंदी सेक्सीमाया ने चौंक कर अपनी आँखें खोलीं, लेकिन अगले ही पल वापस बंद कर लीं.

करीब 15 मिनट तक लगातार उसकी चूत को चोदने के बाद अब लंड में भी प्रेशर बनने लगा था.अंग्रेजन के बीएफ: फिर हमने शाम को डिनर किया और मोना के साथ संभोग भी किया और दोनों सो गए.

हां पापा जी, फिर न जाने कब ऐसा मौका मिले!” बहूरानी जी भी कुछ मायूस होकर बोली.मैंने हथेली का एक कप सा बनाया जिस में मेरी उंगलियाँ नीचे की ओर थी और उससे प्रिया की योनि को पूरा ढाँप लिया.

गूगल सेक्स कैसे करें - अंग्रेजन के बीएफ

मैं भी उसके गले लग गई क्योंकि मैं जान गई थी कि इस तरह मुझे देख के कंट्रोल करना आसान नहीं है.थोड़ी देर वैसे ही पड़े रहने के बाद दोनों ने एक दूसरे को साफ किया और किस किया.

मैंने उसे मनाया कि कुछ नहीं होगा और मैं बहुत प्यार से गांड मारूँगा और शुरू में थोड़ा दर्द तो होता ही है, पर एक बार अगर उसे चस्का लग गया तो फिर वो हर बार पहले गांड ही चुदवाएगी. अंग्रेजन के बीएफ उनको ऐसा करते हुए बहुत मजा आने लगा और वो गांड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगीं.

उस टाइम हमारी कोई बात नहीं हुई, हम दोनों क्लास में आए, लेक्चर स्टार्ट हो गया था.

अंग्रेजन के बीएफ?

पिंकी ने अपनी आँखें दर्द से बंद कर दी, पर एक उफ़ भी मुँह से नहीं निकाला. उसने भी देर ना करते हुए मेरे लंड का टोपा खोला और उसे अपने मुँह में ले लिया. मैंने पूछा कि तुम्हारा कितना बाकी है?उसने बोला कि मैं तो दोबारा भी झड़ चुकी हूँ, तुम इतने दमदार तरीके से चोद रहे थे कि मैंने तुम्हें बीच में नहीं रोका.

मुझे गांड में दर्द हो रहा था, पर मैं बॉस को अन्दर की ख़ुशी महसूस करवाना चाहती थी इसलिए बिना चिल्लाये ही गांड में बॉस का आधा लंड ले लिया. खाना खाकर मैं सोने लगा तो माँ दूध लेकर आयी तो मैं जान कर नहीं उठा तो वो चली गयी और कुछ देर बाद फिर आयी और मेरे सिर पे तेल लगा के मालिश करने लगी. तेरी आदत हो जाएगी, तुम्हें लंड लिए बिना चैन नहीं पड़ेगा और तू फिर से मुझे कहेगी कि तूने मुझे चुदवाया, तू छिनाल है.

तो तुम्हारे लिए भी एक सरप्राइज़ है मेरी जान और वो आज रात को तुम्हें पता चलेगा. उसके बाद मैंने उसे अपने नीचे आने को कहा और मैं ऊपर से उसे हल्के हल्के प्यार से चोदने लगा, फिर रफ़्तार बढ़ाने लगा. अब मैंने भाभी की चुत पर जीभ लगा दी, जीभ का अहसास पाते ही वो सिहर उठीं और ‘श.

मैं रुबीना के ऊपर टूट पड़ा और उसके शरीर से खेलने लगा और कभी होंठ कभी गर्दन तो कभी सूट के ऊपर से उसके निप्पलों को चूसने लगा. अब कमल ने मुझे थोड़ा तिरछा करके लिटा दिया और मेरी एक टाँग को पकड़ कर अपने कंधों पर रख लिया.

अब मोना भी उसके लंड को पकड़ लिया और चमड़ी को नीचे उतार कर सुपारा बाहर निकाल लिया.

लंड अन्दर नहीं जा रहा था तो उसने अपने बैग में से क्रीम निकाली, अपनी चूत पे और मेरे लंड पे लगा कर फिर कोशिश करने लगी.

रोशनी ने मेरे पास आकर मुझे होंठों से किस किया और मेरे सहमे हुए लंड पे प्यार से हाथ फेरा. और हां सबसे खास बात यह कि मेरा बॉयफ्रेंड अवी भी था, वो मुझसे रोज कहता कि चलो कहीं घूमने चलते हैं पर मैं मना कर देती थी. प्रिया ने तत्काल इशारा समझा और अपनी कमर थोड़ी ऊपर उठा दी; मैंने तत्काल और देर ना करते हुए कैपरी को प्रिया के शरीर से अलग किया.

विनोद स्वाति को रूम में ले गए, उनके बीच कुछ बातचीत हुई, फिर विनोद मेरे पास आए, उन्होंने मुझसे हाथ मिलाया और मुझसे बोला कि जो सुख मैं स्वाति को नहीं दे पाया, वो आप जरूर देना. तभी सिराज के धक्के तेज हो गए और एक ही मिनट में उसने अपना सारा पानी मेरी गांड में भर दिया।सिराज की कम से काम दस पिचकारी मैंने अपने अंदर महंसूस की. वो मुँह ऊपर करके जोर से हंसने लगीं और फिर जब मुँह नीचे करके मेरे लंड को देखा तो कुछ बोली नहीं.

मैंने उसकी चूत पर लौड़ा रखा और अपने लण्ड पर ढेर सारा थूक लगा लिया। एक हाथ से उसके मम्मे दबा रहा था.

कॉलेज में सब टीचर और स्टूडेंट्स उसके बारे में जानते हैं कि वो कितनी सरलता से जिस लड़की को चाहे पटा लेता है. तभी मुझे उसके चूतड़ दिखे और मैं उसकी गांड मारने के बारे में सोचने लगा. मैंने अंजलि के होंठों को अपने होंठों में दबाया और अपनी उनकी उसकी चूत में फिराने लगा, उंगली से उसकी चूत कुरेदने लगा.

”अंकित को अब माया की गांड दिख रही थी और उसकी माया की गांड मारने की तड़प बढ़ती जा रही थी. मैंने कहा भी कि ऐसी कोई बात नहीं है, मैं बिल्कुल ठीक हूँ, पर वो जिद करने लगीं, कहने लगीं- नहीं, मुझे जानना है कि बात क्या है? तू क्यों इतना परेशान रहता है. उनके लंड ने मेरी चूत की गुफा को पूरा खोल दिया था और मेरी चूत ने लंड को पूरा जकड़ा हुआ था.

एक प्रशंसक, जिनका नाम विनोद है, उन्होंने मुझे मेल किया और कहा कि उन्हें मेरी कहानी काफी पसंद आई और वो उसी विषय में मुझसे फ़ोन पर बात करना चाहते हैं.

सुमित चहकते हुए बोला- अमित सर ने कहा है कि पेंटी में खुद उतारूं, नहीं तो वो आपकी पेंटी नहीं लेंगे. विवेक भी फुल स्पीड में अपने लंड को कामिनी की चूत में पेले जा रहा था.

अंग्रेजन के बीएफ उधर माधुरी पुलकित और मंजरी को भाई बहन समझती थी तो उनकी नजदीकी को भाई बहन का प्यार समझ कर अनदेखा करती थी. मेरी और सुधा की प्रिया को समझाने की लम्बी कोशिश (जिस में असली मुद्दा तो यह था कि आस्ट्रेलिया जा कर प्रिया अपने मां-बाप की दकियानूसी रोक-टोक से आज़ाद रहेगी और कुछ अपना अपने तौर पर कर पाएगी.

अंग्रेजन के बीएफ नाभि में जीभ घुमाते हुए मैं अपने हाथ उनकी कमर पर बंधी साड़ी की गांठ पर ले आया और ज़ोर से उनकी साड़ी की गांठ को पकड़ कर खींचा तो साड़ी एक झटके के खुलकर नीचे गिर गई. जब सारा रस चाट कर साफ कर दिया, तो वो मेरे कुछ इस तरह बैठ गया कि उसका 7″ का मोटा लंड मेरे होंठों के एकदम पास आ गया था, जिसे देखते ही मेरी जान निकल गई.

जब लंड पेल रहा था तो वो केवल मेरी दोनों जांघों के बीच में लंड करके बहुत तेज आगे पीछे करने लगा.

ब्लू फिल्म सेक्सी इंग्लिश में वीडियो

वो लड़का अवी की ही तरह मेरी कमर में हाथ डाल कर डांस करने लगा और डांस करते करते ही उसने कहा- तुम ही इस पार्टी की सबसे हसीन लड़की हो, चार चांद लगा रही हो. ”साली, तेरी बेटी तो बहुत सेक्सी है, इसे तो दो दो लंडों से चोदना चाहिये. तीव्र काम-उत्तेज़ना के कारण मेरे नलों में हल्का-हल्का सा दर्द भी हो रहा था लेकिन प्रिया को सम्पूर्ण रूप से पाने की लगन कुछ और सूझने ही नहीं दे रही थी.

मैंने कुछ ग़लत कह दिया?मैं उसे नाराज़ नहीं करना चाहती थी तो मैं उसे मनाने लगी।वो- चाची प्लीज़ मुझे आपके साथ करना है. तब मैंने उसे बताया कि मुझे निकिता को भी चोदना है… तुम मेरी सहायता करोगी?उसने कहा- अभी वो नादान है…मैंने कुछ नहीं कहा पर उसकी गांड जवाब दे रही थी. मैं अपने रास्ते पर ही था कि अचानक से एक कार मेरे बिल्कुल पास से आगे निकली, जिसमें मेरी दीदी आगे बैठे हुई थीं, मैंने दीदी को पहचान लिया था.

यह सुनते ही सेल्स गर्ल ने भाबी से हंसते हुए कहा- भाबी जी क्या भैया को आपकी साइज़ की बारे में पता नहीं.

एक दिन सैटिंग बन गई, जब उनके घर का रिनोवेशन हो रहा था, उनके घर का सामान सैट होना था, मतलब कुछ सामान ऐसा भी था जो काफी भारी था, तो उनको सैट करने के लिए उन्होंने मुझे बुलाया. मैं वह जूस वाली बोतल लेके अपने लंड की टोपी को उसमें डुबोया और उसकी गांड के छेद पे थोड़ा सा घुसा कर टपकाने लगा, ऐसा दस बीस बार किया तो बोतल अब आधी से ज्यादा ख़ाली हो गई और उसकी गांड पूरी तरफ से चिपचिपी सी हो गई. उनके बड़े बड़े मम्मे, नाजुक कमर और उनकी मस्त फ़िगर देखकर मुझे मेरी बहन की बहुत याद आती थी.

दीदी भी एक हाथ से लंड को सहलाते हुए और दूसरे से बॉल्स को सहलाते हुए थोड़ा और ज़्यादा लंड मुँह में लेने की कोशिश करने लगी, मैंने भी दीदी के सर को हाथों में पकड़ा और लंड को हल्के से आगे पीछे करने लगा; मेरा लंड अब आधा दीदी में मुँह में जाने लगा था लेकिन दीदी के हल्के दाँत मेरे लंड पर लग रहे थे. अगले ही पल सुरेश ने रमेश से कहा- भैया, मैं काजल की चूत में अपना लंड डाल कर उसको चोदना चाहता हूँ. इतना कहते ही भाबी बच्चों को डांटते हुए घर ले गईं और कहने लगीं- जल्दी सो जाओ.

कुणाल नॉटी तो था ही उसने कौमुदी के कंधे के ऊपर से हाथ डाल कर उसकी चूची को दबाने लगा और एक पैर कौमुदी के पैर से लिपटाने लगा. अब तुम्हारा क्या मूड है?”तो उसने मुस्कराते हुए अपने दूध खुजाए और कहा- वही.

मैंने उसको भगा दिया लेकिन प्यासी चाची मुझे छोड़ने का नाम नहीं ले रही थीं. फिर रोहण मुझे किस करना शुरू कर दिया और मैं भी उसका साथ देने लगी और हमारी किस 10 मिनट तक चली। इसके बाद रोहण ने मेरी ब्रा निकाल दी और मेरे बूब्स को जानवर की तरह चूस रहा था. लेकिन लड़के ने कहा है कि प्रिया को बेसिक कम्प्यूटर कोर्स और अगर हो सके तो C++ का डिप्लोमा जरूर करवा दें.

मोना के घर वाले भी उस लड़की के साथ मोना को भेजने के लिए तैयार हो गए.

गार्डन में पहुँच कर उसने गुस्से से मुझे एक जोरदार तमाचा मारा और बोली- तू समझता क्या है अपने आपको? पहले खुद ग़लती करता है फिर मुझे धमकी देता है?मैं- ऐसा नहीं है, पर तू कम से कम एक बार मेरी बात तो सुन ले, फिर चाहे जो करना होगा कर लेना!सोनी- नहीं सुननी मुझे तेरी कोई बात. मैं चुप थी और उनके दोस्तों के नाम थे, लड़की का नाम स्वाति और लड़कों में एक का अरुण और दूसरे का शैलेष था. तीनों की गांड कोड़े की मार से छिल गई थी और पीठ एकदम नीली हो चुकी थी.

मैं तो देखती रह गई किशोर को… मैं गुस्से से बोली- क्या???किशोर बोला- उस बिचारे की बीवी मर गई दो साल हुए… बिचारा तुम्हें दुआ देगा. उसने हम सबको देखा और चुपचाप आकर मेरी जांघ से जांघ सटा कर बैठ गई और मुझे हाय करके विश किया.

आंटी ने जोर से आँखें भींच ली थी, मेरी इस हरकत पर उन्होंने मुंह इधर उधर फेंक कर साथ देने से मना कर दिया. मैंने भाभी को अपनी तरफ खींच कर बिस्तर पर लिटा दिया और मजे लेने लगा. वो बोले- बेटी, तेरा नाम तो मुझे नहीं पता नहीं पर तेरी गान्ड बड़ी मस्त है, भरावदार है, और तेरे पजामी में से कैसी बाहर आने को बेताब हो रही है.

रामगढ़ की सेक्सी फिल्म

थोड़ी देर तक ऐसा करते रहने से उसका ध्यान दर्द से हट कर मेरी हरकतों की तरफ लग गया.

इस बीच में मैं उसके मम्मों को भी मसल रहा था और उन्हें चूस भी रहा था. मेरा मोटा लंड एकदम से भाभी की चूत में घुसा तो उनकी चीख निकल गई- अहह. मैं दीदी के पास जाकर बैठ गया, दीदी ने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया.

मेरा गांव थोड़ा दूर था और पिछड़ा हुआ था तो हम दोनों (मैं और भैया) बाइक से घर के लिए निकले. तो मैंने उसे अपने हमारे पास गद्दे पर ही बिठा लिया।अब हम तीनों गद्दे पर बैठे थे, मेरा धर्य आप लोगों की ही तरह टूटता जा रहा था इसलिए मैंने आंटी की मांसल जाँघ में अपना हाथ रख दिया. पति का पर्यायवाचीअब जल्दी से अपनी जीभ से चाट कर मेरे जूते चमकाओ, वर्ना कोड़े मार मार के चमड़ी उधेड़ दूंगी.

आह्ह…मैंने भी स्पीड बढ़ा दी, अब मैं भी पूरे मजे में था और बोल रहा था- आह. हाँ, तुम्हें पता नहीं था?”मुझे कैसे पता होगा? मैं पहली बार पोर्न देख रही हूँ.

तभी मैंने सोचा कि एक बार स्कूल के बाथरूम में जाकर माँ वाली वीडियो देख लूं, तो याद आया कि मोबाइल घर ही छूट गया था. मैंने उसे लेटाया और चोदना शुरू कर दिया, उसे दर्द भी हो रहा था पर वो भी मजे ले रही थी और कह रही थी- और जोर से… हाँ!अब मैं जल्दी नहीं झड़ रहा था, करीब बीस मिनट की चुत चुदाई के बाद मैंने फिर से उसकी चूत में अपना वीर्य भर दिया।इस बार वो बहुत खुश लग रही थी।अब रात होने लगी थी, कॉलेज के टूर की वापिसी का टाइम हो रहा था तो अब हमने अपने अपने घर जाने की सोची. मुझे लड़कों में बहुत पहले से ही इंटरेस्ट है लेकिन इस घटना से पहले मैंने किसी से भी गांड नहीं मराई थी.

यह सुन कर वो हंसने लगीं, मुझे बड़ा गुस्सा आया, मैंने उनसे पूछा- इसमें हंसने वाली बात क्या है?तो वो बोलीं- कुछ नहीं, बस ऐसे ही मुझे हंसी आ गई. इस बात पर मैं बाहर गई और थोड़ी देर बाद अवी से एक बैग ले आई, जिसमें वो ड्रेस थी. पूजा ने मुझे पकड़ कर अपनी बाँहों में जकड़ लिया और जम कर होंठों पर काटने लगी.

फिर कुछ देर बाद अवी की कॉल आई और उसने बताया कि मुझे पता है और तुम अमित का काम कर दो.

मैंने कहा- सोनी, तुम इस तरह से खुल के बातें करती हो, तो कितनी प्यारी लगती हो. घर वालों के जाने के कुछ देर बाद ही भाभी घर पे आईं और मुझसे हाल चाल पूछने लगीं, पर मैंने कुछ नहीं बोला.

भाबी छूटने की पूरी कोशिश कर रही थीं, लेकिन मेरी पकड़ भी बहुत मजबूत थी. इतनी चुदाई के बाद भी मेरे लंड का कड़कपन कम नहीं हुआ तो वो फिर से चुत में डाल कर दनादन चुत चोदने लगा. मैंने अपनी एक एक उंगली पिंकी और पूजा की चूत पर घुमाई, तीनों का रस उनकी गोरी गोरी टांगों से रेंगता हुआ फर्श पे गिर रहा था.

मेरी नजर गेस्टरूम में गई, मैं वहां गया तो देखा कि बुआ और दिलप्रीत सिंह दोनों बातें कर रहे थे. चाचा ने दुबारा अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक जोर का धक्का मारा तो उनका आधा लंड मेरी चूत में चला गया और मैं चिल्लाने लगी क्योंकि उनका लंड बहुत मोटा था और मुझे बहुत दर्द हो रहा था. मैं ये जानना चाहता था कि मेरी दीदी कैसे उन कुत्तों की मालकिन बन गईं और उन पर इतने जुल्म के बाद भी उन्हें कुछ नहीं हुआ.

अंग्रेजन के बीएफ मम्मी अपनी टांगों को फैलाए लेटी थीं, उनकी चूत से फूफा का रस टपक रहा था. उन्होंने मेरे फ़ोन से पापा को फ़ोन किया और बात करने लगी, तब मैं कुछ रिलैक्स हुआ और चाय पीकर बाथरूम में चला गया.

सेक्सी वीडियो 2021 सेक्सी वीडियो

कुछ देर बाद फूफा जी हाँफने लगे और आआह की आवाज के साथ झड़ गए और मम्मी के बगल में लेट गए. जैसे ही उन्होंने 2 बटन खोले, मैंने आगे बढ़ कर उनके होंठों को चूम लिया. मेरा टोपा उसकी चूत के मुँह पर था और पानी की चिकनाहट से फिसल रहा था.

मैंने उसे कुतिया की तरह अपने हाथों और घुटनों पर खडी होने को कहा और मैं पीछे से उसकी बुर में लंड डालने की कोशिश करने लगा लेकिन मेरा लंड उसकी सील बंद बुर में नहीं घुसा और उसके मुंह से हल्की सी सिसकारी निकली।फिर मैंने कई बार कोशिश की लेकिन उसकी बुर कसी हुई थी. जब मैं उस कार के पास पहुँची तो उस आदमी ने फिर से कहा- मैडम आपको मैं आगे तक छोड़ देता हूँ. दीवाना सेक्सीउसके मोटे लंड से मुझे बहुत ही दर्द हो रहा था लेकिन मजा भी आ रहा था.

अवी ने कहा- मेरी जान, वो तुम्हारे लिए ही है, तुम्हारे लिए ही लाया था.

पर मैं ये नहीं समझ पा रहा था कि दीदी कैसे उन सभी पर जुल्म करती हैं, जिसे वो सहते हैं. लेकिन मैंने देखा निर्मला जी मेरे से ज्यादा अन्तरंग बातें करने लगी थीं, लेकिन हद में थीं.

करीब दस मिनट के बाद दीदी की गांड में ही मेरा पानी निकल गया और हम दोनों उसी तरह एक दूसरे से लिपट कर सो गए. मुझे लगा कि ये लड़के मीनू के साथ छेड़खानी कर रहे हैं, तो बस मुझे पता नहीं क्या हुआ, मैं सीधा उन लड़कों से जा भिड़ा कि ये क्या लगा रखा है?उन लड़कों ने बोला- क्या ये तेरी बहन लगती है या तेरी गर्लफ्रेंड है, जो तू इतना भड़क रहा है. या अदिति बेटा… यू आर आल्सो ए रियल जेम… सच ए नाईस टाइट कंट यू हैव इन बिटवीन योर थाइस!” मैं भी मस्ती में था.

उसकी चूत एकदम क्लीन थी, चिकनी चूत थी! फिर मैंने उसका स्वेटर उतारा और उसकी टी-शर्ट भी उतार दी.

दूसरे दिन मैंने रात को आकर मोना का फ़ोन चैक किया तो आनन्द से थोड़ी बात हुई थी. निर्मला अब मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी थी, मतलब साफ़ था कि वो ओरल सेक्स यानि अपनी चूत मुझसे चटवाना चाहती थी. विवेक बोला- देखो जानेमन जो खुल्लम खुला प्यार करने में मजा है, वो डर डर के लेने में नहीं है.

जानवरों के साथ सेक्स करते हुएफिर बॉस ने अपने कपड़े ठीक किए और मैं अपने कपड़े ठीक करके जल्दी से वहां से चली गई. लेकिन माधुरी जिद कर रही थी कि दो तीन चक्कर लगा कर सब लोग शादी में जा सकते हैं.

सेक्सी 2022 के वीडियो

क्या मेरे से तुझे प्यार तो नहीं हो गया?मैं- हाँ प्यार हो गया है ज़ायरा. छोड़ना मत फाड़ ड़ालो इसे…पाँच मिनट इस तरह चोदने के बाद मैंने उन्हें घुमा दिया और पीछे से उनकी चुत मारने लगा. मंजरी की भी हालत बहुत खराब हो रही थी, वो भी आँखें बंद किए बस ‘आह, आ… स्स… उफ़्फ़…’ ही बोल पा रही थी.

मैं अभी देख ही रहा था कि भाभी ने एक शरारती स्माइल दी और दवाई लगाते हुए बोलने लगीं- यह चोट मेरी वजह से नहीं, तुम्हारी वजह से लगी है. उसी फ्लोर पर एक दो कमरे का सैट भी था, जिसमें एक फैमिली किराये पर रहती थी. हम स्टेशन पहुँचने वाले थे तो अवी ने मेरा हाथ पकड़ा और किस करके कहा कि कितने दिन के लिए जा रही हो, फिर कब मिलोगी?मैंने बताया कि 20 दिन बाद कॉलेज खुलेगा, तब आ जाऊँगी.

मेरा लंड तो फटने की तरह हो गया था… मेरे लंड का लाल टोपा फूल कर पिंक हो गया था. मैंने उसके हाथ में अपना लंड पकड़ा दिया और वो मेरे लंड को सहलाने लगी. भाभी हंसने लगीं और बोलीं- मेरी जैसी क्यों?मैंने कहा- आप बेहद खूबसूरत हो और आप मुझे अच्छी भी लगती हो.

मैंने उससे कहा- इसे पकड़ो!तो उसने सर हिलाते हुए मना किया, मैंने कहा- करो तो एक बार… अगर अच्छा न लगे तो मत करना!वो मान गयी और मेरे लंड को सहलाने लगी. कुछ देर बाद वो बोली कि वो रेडी है और मुझे किस करने लगी ताकि उसकी आवाज ना निकल पाए.

सुबह कॉलेज की ओर निकलते टाइम मैंने उससे कहा कि सोनी मैं आज 2 बजे तुझे कॉलेज से लेने आऊंगा, अगर तू नहीं आई तो सबके सामने से आकर तुझे ले जाऊंगा.

मामला यह था कि प्रिया के माँ-बाप ने प्रिया के लिए एक लड़का भी देख रखा था जो आस्ट्रेलिया में था लेकिन प्रिया जिद वश हाँ नहीं कह रही थी. ब्रदर सिस्टरउस दिन के बाद दोपहर को जब भाभी सोतीं, तब मैं उनकी गांड को देखने की कोशिश करता और कभी कभी उनकी गांड की वीडियो भी निकाल लेता था. चोदा चोदी दिखाइए वीडियो मेंमैंने अपने लंड पर और उसकी गांड थूक लगाया और लंड गांड पर रख दिया और जोर लगाया तो मेरे लंड का टॉप अंदर चला गया और वो आगे सरक गई और लंड बाहर आ गया. मैंने भाभी को उनके कानों के पास किस करना स्टार्ट कर दिया तो वो फिर से गर्म हो गईं.

हम वहां से चल दिए… मैरिज हॉल में जा कर अलग हो गए, पर नज़र एक दूसरे के ऊपर ही थी.

बचपन से ही एक रूढ़िवादी और नियम की पक्की यानि कट्टर फैमिली में पली बढ़ी होने की वजह से मैंने कभी किसी लड़के की तरफ नजर उठा कर नहीं देखा और ना ही शादी से पहले मेरा कोई अफेयर रहा. इतना कह कर मैंने अपने होंठ भाभी के गुलाबी होंठों पर रख दिए और उन्हें पागलों की तरह चूमने लगा. मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और मैं उनके ऊपर लगभग कूद ही पड़ा और दोनों हाथों से उनकी बड़ी बड़ी चुची पकड़ कर दबाने लगा.

आपकी स्टोरी पढ़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा यहाँ तक की मेरी पेंटी 3 बार गीली भी हो गई. मेनका- आह आह अतुल, चूसते रहो मेरी चूत को, मेरा आ…आह आहह्हा हाअ आहहाहा निकलने वाला है आह अहह… अतुल मैं… आह अतआ… गयी… अतु…ल… आहहहह्ह…और मेनका दीदी की चुत का ज्वालामुखी फट गया. कर लूं क्या?तो उसने बोला- नहीं यार… कैसी बात कर रहे हो? ये बहुत गन्दी जगह होती है!मैंने कहा- श्री यार… ऐसा कुछ नहीं है, यह चूत चाटना, लंड चूसना तो सम्भोग क्रिया का एक हिस्सा ही है.

ப்ளூ ஃபிலிம் மூவிஸ்

कमरा पूरी मादक आवाज से लबालब था और उनकी चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया था. मैंने अपनी पति के साथ ट्राय किया, लेकिन उन्होंने मेरी चूत नहीं चाटी और एक मिनट बाद ही मेरे ऊपर लेट के नार्मल तरीके से चोद कर सो गए. सच में बड़ा मजा आ रहा था और जब मेरा रस निकलने को हुआ तो मैंने उससे मेरा लंड मुँह में लेने को कहा तो उसने मेरा लंड से कंडोम उतार कर अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से लंड चूसने लगी.

वो सिर्फ ड्रिंक की चुस्कियाँ ले रही थीं, उन्होंने बातें करना बंद कर दी थीं.

दस मिनट की चुदाई के बाद आनन्द ने लिंग को बाहर निकल कर मोना की योनि के ऊपर अपने वीर्य की पिचकारी डाली.

नीग्रो द्वारा शर्मीली भारतीय शादीशुदा औरत की चुदाई लोगों को पसंद आती है. मैं बोला- हां ये सही है मैं आपको चोदना चाहता था पर डायरेक्टली नहीं पूछ पा रहा था इसलिए दोस्त का नाम लेकर बात की थी. সেক্স ভিডিও ফকিংकुछ देर बाद मैं उसी रूम में पहुँच गई और डोरबेल बजाई तो उसी लड़के ने दरवाजा खोला और अन्दर आने को कहा.

मम्मी तो जैसे अब सातवें आसमान पर पहुंच गई थीं और फिर अचानक से उनकी अहम. मैं- दीदी एक बात पूछूँ… आपको मज़ा तो आया ना मेरे साथ?दीदी- हाँ सन्नी बहुत मज़ा आया…मैं- तो फिर एक बार और कर. फक मी आयुष फक मी हार्ड…’मैं भी कहां रुकने वाला था, तो ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाता रहा.

वो मेरी रजाई में आ गई और अपना हाथ मेरे पेट रखकर मेरा हाथ अपने पेट पे रख कर मेरे साथ सो गई. अगली सुबह रोशनी जल्दी क्लास में आ गई और उसने मुझे मुस्करा कर देखा, मैंने उसे टालना शुरू कर दिया.

मुझे चैन आ गया कि भाभी लंड चूत का प्रयोग करने लगी थीं- देवर जी भाभी की चूची पी रहे थे और पीते हुए चपर चपर की आवाज भी निकाल रहे थे.

मैं उसकी गांड पर हाथ रख कर उसको अपनी और उछाल रहा था ताकि उसकी चूत में अन्दर तक लंड पेल सकूँ. मैंने भी उसको दिखाने के लिए और जोर जोर से अपने लंड को सहलाने लगा और उसका नाम लेकर मुठ मारना जारी रखा. महेश ने मुझसे कहा कि बर्थ डे उसके साथ मनाऊं और किसी तरह उसके साथ रुक जाऊं, वो उस दिन कुछ खास करना चाहता था.

छोडा छोड़ि का वीडियो पैंटी पूरी तरह गीली हो चुकी थी और इसी बात से मेरी भी मस्ती कुछ बढ़ गई थी, मैंने दीदी के बूब्स से अपने फेस को हटा लिया और दीदी की पैंटी की तरफ हो गया और हाथ से पैंटी को पकड़ कर उतारने लगा. अभी जो हुआ, मैं उसके बारे में सोच रही थी, इसलिए मुझे उतना मजा नहीं आ रहा था.

ओ के पापा जी!” बहूरानी बोली और फिर लाइट्स ऑफ हो गयीं, कूपे में घुप्प अँधेरा छा गया. आपने मेरी पिछली कहानी तो पढ़ी ही होगी कि कैसे रवि और विवेक ने मेरी खूब चुदाई की. मैं- ठीक है दीदी, मत करना लेकिन लंड तो चूसो ना!मैंने दीदी के सर को पकड़ कर अपनी तरफ किया और लंड पर झुका दिया; दीदी ने भी लंड को मुँह में लिया और आधे लंड पर सर को ऊपर नीचे करते हुए चूसने लगी.

కన్నడ సెక్స్ హెచ్ డి

आपने आध घंटे तक रगड़ा था, मेरी गांड लाल कर दी थी, आज तक चिनमिना रही है. साली कुतिया ना जाने कितने लंड खा चुकी होगी अब तक!खैर मुझे क्या… मेरे लिए तो ये दो दिन का मेला है, हंस खेल कर मजा ले लो!मैं कंडोम की दो डिब्बी खरीद लाया और घर आकर अंजलि को दिखाई. मैंने कुछ नहीं कहा, तब उसने फिर से पूछा- क्या मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ?मैंने कहा- तुम तो बहुत सुंदर हो, तुम्हें तो कोई भी अपनी जीएफ बनाना चाहेगा.

मैंने बहुत बारीक लाइन वाली पैंटी पहनी थी जिसमें सिर्फ पुसी की लाइन छुपे, तो मेरे पुसी के बाल थोड़ा बड़े थे, वो भी दिख रहे थे।मैं बाहर निकलने में शरमा रही थी तो भाभी ने बोला- चलता है आरती, यहां कोई नहीं, सिर्फ लेडीज़ हैं और पापा लोग!जैसे ही मैं बाहर निकली और कपड़े जहां रखे थे, वहां पहुंची तो वहां कपड़े वाला बैग नहीं था।मैंने भाभी को आवाज लगा दी- भाभी कपड़ों का बैग नहीं है. उसने एक बार फिर मेरे को गले लगाया जोरदार चूमा और फिर बोला- वाह दोस्त वाह मजा बांध दिया.

मैं घर आया और केवल बनियान में हो गया मैंने नीचे लंड पर केवल तौलिया लपेट रखी थी.

वैसे एक बात बता तू आजकल मेरे घर क्यों नहीं आता? और न ही मेरा फोन उठाता है. उसके उठे हुए दूधिया स्तन कलश हैं, उभरे हुए मस्त कूल्हों की वजह से कोई भी उसकी और आकर्षित हो जाता है. उनमें क्या मस्त मादक महक आ रही थी। ख़ासकर उसके अंडरआर्म और मम्मों वाली जगह पर। ज्यादा देर हो गई थी.

बस मैंने उनके ब्लाउज के सारे बटनों को खोल दिया और उनके एक दूध में मुँह लगा कर मस्त होकर पीने लगा. अब वो जोर जोर से हांफता हुआ मेरी धर्मपत्नी की गांड मारने लगा था, जमैका बगल से आकर सोफे की हत्थी पर टेक लगा लंड को सुन्दरी के मुंह में घुसेड़ने लगा. अब दो दिन बाद ही बताऊँगी, अभी सो जा मेरे प्यारे भाई!मैं- ओ के प्यारी दीदी!दो दिन तक मैं सोचता रहा कि आख़िर दीदी कौन सी बात बताना चाहती हैं.

मैंने कहा- अब मैं आपकी प्यास बुझा दूँ छाया?वो बोलीं- मैं तुम से चुदने के लिए कब से तैयार हूँ.

अंग्रेजन के बीएफ: लेकिन शायद मोना जोया की चूत देखना चाहती थी, इसलिए उसने बिना देर किए उसकी पेंटी भी नीचे खींच दी. अमित- मिनी, एक काम था हो जाएगा?मैं- हाँ हो जाएगा क्या है बताओ?अमित- पहले वादा करो कि मना नहीं करोगी.

मेरा लंड पूरी तरह से लोहा बन चुका था और शायद उनको भी मालूम हो गया था क्योंकि मेरा लंड उनको टच कर रहा था. अंजू- हाँ दीदी, हो सकता पहली बार देखा हो इसलिए… वैसे यहाँ के लड़के बहुत ख़राब हैं. गरम कहानी शुरू करने से पहले मैं अपने नए पाठकों को अपने बारे में बता दूँ.

”अच्छा तुम अपनी चुन्नी, सलवार, कमीज़, ब्रा, पेंटी सभी कुछ उतार कर चेयर पर रख दो और गोलू तुम्हारी साइज़ की नाप लेके बताएगा कि तुम कितना सच बोल रही हो.

फिर लंड को उसके चूत के छेद पे रखा, मेरा लंड एकदम डण्डे की तरह टाईट था. छोटी की गांड का साइज कम जरूर लग रहा था पर चपटी हुई या बेडौल बिल्कुल नहीं थी।छोटी ने अपना दुपट्टा निकाल के किनारे रख दिया और अपने हाथों से मेरे सीने को सहलाने लगी. कुछ देर बाद उठ कर चाची के बाथरूम में नहाने के बाद अपने कपड़े पहन कर घर वापस जाने लगा, तो चाची बोलीं- आलम तुम मालिश बहुत अच्छी तरह से करते हो.