सेक्सी बीएफ इंडिया वाली

छवि स्रोत,साली की चुदाई साली की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

रक्षाबंधन का वॉलपेपर: सेक्सी बीएफ इंडिया वाली, अगर तुम थोड़े देर के लिए बर्दाश्त कर लोगी, तो बाद में बहुत मज़ा आएगा.

चूत क्या है

मेरा मन नहीं लग रहा था और तुमसे बात होने के बाद मेरा लंड ढीला होने के नाम नहीं ले रहा था और सबके सामने मैं इस तरह रह भी नहीं सकता था, बार-बार तुमसे हुई बात मेरे जहन में आ रही थी, इसलिए मैं तुरन्त होटल आया और नंगा होकर तुम्हारा नाम लेते हुए मुठ मारने लगा. बीपी विडियो देखने वालावह उठी और उसने मेरे लंड को पकड़ कर अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी.

थोड़ी देर के बाद उसे थकान होने के कारण गहरी नींद आ गई थी।रात के करीब 3:00 बजे थे। विक्रम और रीना के कमरे से आने वाली चुदाई की आवाज भी रुक गई थी। शायद वो दोनों भी सो गए थे।इस तरह आज भाइयों ने अपनी बीवियों को बदल कर भोगा था, देवर ने भाभी और जेठ ने बहू की चूत चुदाई की. अंग्रेजी सेक्सी बीएफ दिखाएंबाद का किस्सा-ऐ-मुख़्तसर तो यह रहा कि प्रिया की शादी बहुत धूमधाम से हुई और शादी के बाकी के समारोह में वसुन्धरा का सब के साथ व्यवहार आश्चर्यजनक रूप से शालीन और मधुर रहा.

मैं आप सबको बताना चाहता हूँ कि यह कहानी बिल्कुल सत्य घटना है, कोई मनघड़न्त बकचोदी नहीं है.सेक्सी बीएफ इंडिया वाली: फिर मैंने उसकी टांगों से फूलों को हटाया और लिक-किस करके हुए पाँव तक पहुंच गया और जहाँ जहाँ के फूल हटाता था वहां किस करता चला गया.

अब तक मेरे मम्मों और चुत के मज़े ले रहे ससुर जी बोले- साली मेरी बहू तो मुझसे भी ज़्यादा तेज निकली.दीद के जाने के बाद मुझे एक अजीब सी शांति मिली और अब मेरा मन चुदाई का खेल खेलने का करने लगा.

ٹرپل ایکس سیکسی - सेक्सी बीएफ इंडिया वाली

मेरे कॉलेज के एग्जाम आने वाले थे, इसलिए मैं अपने दोस्त के घर पढ़ाई करने जाता था.सही में … मोनी की चूत बिल्कुल सपाट थी।उसकी चूत ऊपर से तो सपाट थी ही, चूत की फाँकें भी इतनी ज्यादा बड़ी और फैली हुई नहीं थी.

मैंने अपने पैर की उंगलियां अपने हाथों से पकड़ लीं … और चौपाया बन गई. सेक्सी बीएफ इंडिया वाली बार बार चूत का लिसलिसापन वो अपनी मुलायम जीभ से चाट कर मुझे एक मस्त सा सुख दे रहा था.

मैंने भाभी के चूचों को जोर से दबाना शुरू कर दिया और जल्दी ही भाभी गर्म हो गई.

सेक्सी बीएफ इंडिया वाली?

वो उठ कर अपने रूम की तरफ जाने लगी जहां पर रितेश मानसी की चुदाई कर रहा था. भाबी के चूतड़ इतने भारी थे कि उनके दोनों चूतड़ आपस में सटे हुए थे, जिस वजह से भाबी की गांड का छोटा सा छेद वैसे ही दिखाई नहीं दे रहा था. मैं तो सोच रहा था कि तेरी दीदी को ही मर्दों की भूख है लेकिन तुम भी कुछ कम नहीं हो.

राजे डॉगी … अब अपनी बेग़म को बेडरूम तक ले चल … बेग़म के सामने घुटनों पर बैठ जा … बेग़म के पैरों के नीचे तौलिया लगा दे … फिर धीरे धीरे बेग़म की तारीफ करते हुए बैडरूम को चल. अब मैं फिटनेस सेंटर में एक्सरसाइज के लिए रोज़ भाभी की हेल्प करने लगा और धीरे धीरे हम फ्रेंड्स बन गए. फिर भी हार मानने की जगह मेरी तरफ से स्वीटी को पटाने की कोशिशें जारी रहीं.

प्रीति के शब्द:मैं तो सुन्न पड़ गई थी, जब भाई ने मुझे नंगी ही डिलीवरी बॉय के सामने जाने को कहा. अभी मेरी आंखों से उसकी चूचियों की गर्मी खत्म भी नहीं हुई थी कि अचानक वो मेरे पैर छूने के लिए और ज्यादा झुकी … और बस उसकी चूचियां पूरे शवाब में मेरी आंखों के सामने थीं. दो-तीन मिनट के बाद आंटी वरूण के लंड की तरफ अपनी चूत को फेंकने लगी और देखते ही देखते उसकी चूत ने पचर-पचर पानी छोड़ दिया.

हम दोनों लोग की चुदाई से आवाज निकल रही थी और हम दोनों लोग की चुदाई की आवाज से और भी चुदास भरा माहौल बन गया था. नहाकर अपने साथ लाई हुई टी शर्ट व लोअर पहनकर कमरे में आया तो वो सो चुकी थी.

उसी का नतीजा था कि प्रीति बहन के नंगे बदने से मेरी नजरें हट ही नहीं रही थीं.

उसने अपनी स्कर्ट कमर तक उठा ली और अपनी चूत को मेरे लण्ड से सटा लिया.

मगर कल के जैसे ही मोनी को अपने‌ बगल में सोता देख कर आज फिर से मेरी कामनाएं जोर मारने लगीं। मोनी ने उस रात सलवार-सूट पहना हुआ था इसलिये आज उसका बदन तो नहीं दिख रहा था मगर सूट के कसाव के कारण उसके अंगों का कटाव अलग ही नजर आ रहा था। मैंने एक बार तो अपने दिमाग से ये सब बातें निकालने की कोशिश भी की मगर मोनी को अपने बगल में सोती देख‌ कर मेरा दिल‌ मान ही नहीं रहा था।यह वासना चीज ही ऐसी होती है. इसे देखकर मुझे नहीं लगता कि मैं ज्यादा देर अपने आप पर काबू कर पाऊंगा और अगर मुझ पर एक बार उत्तेजना हावी हो गई तो फिर मैं केवल अपने मन की करूंगा।वीणा-ठीक है राज भैया! आज मैं अपने मन की करवाती हूं। मैं अपने सबसे पसंदीदा सेक्स आसन 69 में आपके लन्ड को अपने मुंह में निचोड़ना चाहूंगी. उसके कुछ देर के बाद नींद की गोली ने असर किया और मानसी बोली- मुझे नींद आ रही है.

मेरा लंड उसके हलक तक गया ही था कि कुछ ही सेकेंड बाद वो मुझसे अलग होकर खांसते हुए बोली- क्या जान से मारना है मुझे? तुम्हारा लंड बहुत मोटा है … मैं धीरे धीरे ही ले पाऊंगी. मौसी ने भी अपनी चुत पसार दी और इशारा कर दिया कि चुत में अपना लंड पेल दे. चुदाई करते हुए अचानक नम्रता ने लंड को चूत से बाहर निकाला और बोली- पहले इसकी अच्छे से मालिश कर दूं, फिर इससे अपनी चूत की मालिश करवाऊंगी.

भाभी भी अब अपनी गांड हिला रही थी और आवाजें निकाल रही थी- आह्ह आह्ह आउच अम्म्म … हाय आआह …उसकी मादक सिसकारियां अब और भी बढ़ने लगी थीं.

लेकिन बुआ और ताऊ जी की वो चुदाई मुझे जब भी याद आती है मेरा लंड तन कर जैसे फटने को हो जाता है. हालाँकि इस मजाक में कोई गन्दगी न तो मेरे दिमाग में थी, न उन सबके मन में … पर शायद मोनिका को बुरा लगता था. चाय पीने के दौरान हुई बातचीत में पता चला कि जो लड़की गुप्ताइन के घर आई हुई है उसका नाम बेबी है.

उन्होंने जोर से एक धक्का लगाया मगर लंड छिटक के मेरे पेट की तरफ आ गया. उन्होंने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और फिर एकदम से शांत होकर मेरे ऊपर लेट गये. रोज की तरह जब मैं अंकल के घर गया, तो मैंने देखा अंकल ने उनकी काम वाली की चुदाई करके आराम कर रहे थे.

उसी के साथ मैं उसकी चूचियों पर गिर गया और हम दोनों अपनी अपनी साँसों को क़ाबू में करने में लग गए.

कभी कभी लगता था कि वह भी मुझे पसंद करती है, लेकिन कह नहीं पा रही है. मेरी मुश्किल यह है कि मेरी काम वासना तो रोज रात को भड़क उठती है तो चूत की मांग पूरी करने के लिए मैंने एक डिल्डो ऑनलाइन मंगा कर रखा है, उसी से खुद को मास्टरबेट करके या कभी तीन उँगलियों से चूत को झड़ा देती हूं.

सेक्सी बीएफ इंडिया वाली मैं- भाबी, आपकी ये नटखट सी चुत कुछ मूसल जैसा बड़ा सा खाना चाह रही है. उसने पानी पिया और प्यार से मेरी गांड पे चुमटी काट के कार लेके मेरे घर वालों को लाने चला गया.

सेक्सी बीएफ इंडिया वाली एक दिन मैंने रिदम को भी बता दिया कि मैं अपनी सहेली के साथ शॉपिंग करने के लिए जाऊंगी तो मेरे रिदम अपनी बाइक लेकर मुझसे मिलने के लिए शॉपिंग माल आ गया. महेश की बीवी कोई और नहीं बल्कि अनामिका थी, जो मेरे साथ स्कूल में पढ़ती थी.

मनमीता नाम सुनते ही मेरे मन में लड्डू से फूट पड़े और मैंने फटाक से उठ कर दरवाजा बंद कर लिया और उससे बात करने लगा.

ब्लू पिक्चर देसी हिंदी

मेरी तो जान निकली जा रही थी कि कहीं मैं चुत में पहुंचने से पहले झड़ ना जाऊं. एक तरफ तो उनका चुदाई करने का मूड बना हुआ था और कहाँ बीच में ये पड़ोसन आकर टपक पड़ी. स्कूल में कुल छह महिला टीचर थीं परन्तु बाली मैडम के बेपनाह हुस्न के क्या कहने! मैडम अपार सौंदर्य की मालकिन तो थी हीं, उनका व्यक्तित्व भी अत्यंत भव्य और प्रभावशाली था.

हम दोनों लोग बाइक से घूम रहे थे और जब रिदम अपनी बाइक के ब्रेक लगाता तो मेरी चूची उसकी पीठ से छू जा रही थी. कसम से जन्नत का मजा आ रहा था, करीब दस मिनट तक हम लोग उसको बारी बारी से किस करते रहे. जी मैडम … अपने बुलाया था?”हाँ राजे … कुछ काम था तुम्हारे लिए … आज मेरा ड्राइवर नहीं है तो मुझे रिक्शा से घर जाऊंगी … लेकिन समस्या यह है कि इतनी सारी कापियां चेक करने के लिए ले जानी थीं … मुझे अकेले रिक्शा में इनको उठा कर ले जाने में बहुत दिक्कत होगी … मैं चाहती हूँ कि तुम मेरे साथ रिक्शा में चलो.

वो टांगें खोल कर ‘उम्म उम्म्ह… अहह… हय… याह… ऊऊह …’ की आवाजें निकाल रही थीं.

अब वो रोटी बेलने लगी, मैं उसके बगल में खड़ा होकर बारी-बारी दोनों निप्पल को दबाता और चूत के अन्दर उंगली करता और पुत्तियों को मसलता. ऊपर से आगे की तरफ बूब्स निकले हैं … तो नीचे पीछे की तरफ गांड उठी हुई है. मैंने उससे इस दूसरे वार के साथ बोला- से … वन्स मोर मास्टर … एंड बेग फॉर इट.

मैंने उससे फिर से पूछा- मुझे जब तक जवाब नहीं मिलेगा, मैं ऐसे ही तुमको परेशान करता रहूँगा. कुछ देर बाद मैं बात करते हुए उनके पीछे खड़ा हो गया, जिससे मेरा लंड उनकी गांड को छू रहा था. खैर मैं फटाफट नहा के बाहर आया और बिना अंडरवियर के शॉर्ट पहन लिया, जो कि रात को सोते समय मेरी आदत थी.

मैं वनिता के ससुर राजेन्द्र जी के बारे में सोचने लगी और अपनी प्यासी चुत में उंगली करने लगी. छुट्टी का दिन था, दोपहर को उपिंदर आया हुआ था। हम तीनों बैठे हुए थे। एक सोफे पे उपिंदर और अंशु, सामने दूसरे पर मैं। खाना पीना चल रहा था। अंशु के कपड़े उतरने शुरू हो गए थे। साड़ी ब्लाउज उतर चुका था और अब वो ब्रा और पेटिकोट में थी, दोनों का चुम्मा चाटी, दबाना मसलना चल रहा था।उपिंदर का फोन बजा, अंशु ने उठा के उसे दिया और मुस्कुरा के बोली- हमारी रखैल का है.

यह सुनकर मैं बहुत शर्मा गई, मैं समझ गई थी कि भाई का लंड अब मेरी चूत फाड़ेगा. मैं मुस्कुराया और मतवाली चाल से अपनी गांड हिलाते हुए उनके पास जा बैठा. दिशा भी अब मेरे साथ चुदाई का मजा ले रही थी और मोन कर रही थी- आह आह ओह अआ अह आह ओह फक मी ओह जीजू!राधिका अपनी चूत में उंगली डाल कर बोली- वाह मेरे राजा … दो नई चूतें क्या दिला दीं, तुम तो अपनी बीवी को ही भूल गए.

बहुत लम्बा चौड़ा आठ फुट आठ फुट का बेड जिसपर साटिन का खूबसूरत सा मैरून रंग का बेडकवर बिछा हुआ था.

उसके बाद मैंने बाथरूम में जाकर लंड को अच्छी तरह से साफ किया और उस पर ठंडा पानी डाला. धकापेल चुदाई के बाद इससे पहले मैं खलास होता, मैंने नम्रता को पेट के बल लेटाकर उसकी गांड मारने लगा. फिर जीजा ने दीदी के बालों में हाथ फिराना शुरू कर दिया और कुछ ही देर में दीदी को नींद आ गई.

जैसे उसकी जान में जान आ गयी हो। उसकी आँखें वासना के नशे में एकदम लाल हो चुकी थीं. पूरे कमरे में फट फक की आवाज़ गूंज रही थी और मैं भी मदहोशी में चिल्ला रही थी.

मेरे वापस आते ही उन्होंने मुझे अपना नम्बर दिया और अपने रूम में इनवाइट किया. कुछ ही मिनट बाद वो खुद उठ कर लंड मुँह में लेने लगी … और देखते ही देखते मेरा लंड फिर से हार्ड हो गया. वर-वधू की कुंडलियाँ तो मिलाई जाती हैं लेकिन वर-वधू की मानसिक-अनुकूलता की किसी को कोई परवाह नहीं रहती.

हिंदी भोजपुरी बफ

मेरे पापा बने जीजा से मैंने कहा- आप भी मेरी गांड को अच्छे से चोद दो.

मैं वहीं उसकी छूट के करीब आकर उसकी मरमरी टांगें चूमने और चाटने लगा. मेरी बुआ मेरे ताऊ के लंड की दीवानी सी लगी मुझे और ताऊ का मूसल लंड भी बुआ की चूत चोदने के लिए हमेशा तैयार मालूम होता था. फिर पूजा उस लड़की की तरफ देखा, तो वो भी अपना गाल पकड़ कर हां में अपना सर हिलाते हुए बोली कि तू ऐसे ही खड़ी रहेगी या कुछ कपड़े भी पहनेगी?ये बोल कर उसने आंख मार दी.

उसने कहा- पंकज अब आप नहा के आ जाओ … फिर मैं अपना काम शुरू करती हूं. मैं जाने लगा, तो आंटी ने मुझे रोका और बोली- कल वैसे भी संडे है, तुम्हें ऑफिस तो जाना नहीं है, तो आज डिनर के लिए मेरे साथ चलो. एक्स एक्स एक्स सेक्स भाभीउसने टांग उठाकर मेरे कंधे पर रख दी और मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चूत में धकेलते हुए मेरे बालों को सहलाने लगी.

मैं उसे पकड़ कर बोलने लगी- यार मज़ा दे दिया तूने आज तो।और थोड़ी देर में उसका दुबारा खड़ा हो गया. तो फिर अपने दिल में कैसे मैं उसके बारे में गलत विचार ला सकता हूँ?ये सब सोच-सोच कर मेरी अन्तरात्मा मुझे अब धिक्कारने सी लगी थी इसलिये कुछ देर टीवी देखने के बाद मैंने टीवी को बन्द कर दिया और चुपचाप सोने‌ की‌ कोशिश करने लगा.

तभी उसकी चुत से पानी बाहर आना स्टार्ट हो गया जो सेक्स के टाइम पर निकलता ही है. वाली कोकाकोला की बोतल ले आया और उसका ढक्कन खोलकर बेबी को पकड़ा दी, दो पेग व्हिस्की इसमें मिली हुई थी. पर अंकल जी तो अपनी ही धुन में मेरी कोरी कुंवारी चूत से रसपान किये जा रहे थे और बीच बीच में मेरे पूरे नंगे बदन को निहारते हुए सब जगह से चूम रहे थे जिससे मेरी उत्तेजना और भड़क रही थी.

गांड में लंड लेकर मैं बैठ गया तो उसने कहा कि अबे हिल तो … ऊपर नीचे होते रह. मैंने प्यार से उससे कहा- देख, अब सच को छिपाने से कोई फायदा नहीं है. भाभी ने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ा और पीछे से अपनी चूत मेरे लंड के पास लाकर पीछे से मेरे लंड को अपनी चूत में घुसा लिया.

आप सभी को मेरी पहली कहानीप्यासी औरत की मालिश और चुत की चुदाईपसंद आई, उसका शुक्रिया.

अगर कहानी लिखने में मुझसे कोई गलती हो गयी तो हो प्लीज मुझे माफ़ कर देना. मैंने भी बाथरूम में जाकर बुआ और ताऊ जी की चुदाई के सीन को याद करके मुट्ठ मारनी शुरू कर दी.

मैं राधिका के पूरे शरीर पर चूम रहा था, इस दौरान मैंने उसकी गर्दन पर लवबाइट भी किये. उसी वक्त भाभी ने दिमाग से काम लिया और अपनी बहन का ध्यान अपनी तरफ बंटाने की कोशिश करने लगी. वो मेरे मम्मों को अपने दांतों से काटने लगा, मुझे बहुत मजा आ रहा था और साथ में थोड़ा दर्द भी हो रहा था.

मैंने कहा- कैसी लगी मेरी चुत?तो वो बोले- मस्त … बड़ी टाईट लग रही थी. मेरी बात खत्म होने से पहले ही नम्रता घूम गयी और लंड के चारों तरफ जीभ फिरा कर अच्छे से लंड चाटने लगी. फिर मेरे भाई ने कहा- आशना बस अब तुम मेरा लंड फिर से चूसो और खड़ा कर दो.

सेक्सी बीएफ इंडिया वाली मैं जयपुर के मानसरोवर में रहता हूँ और ऑनलाइन मार्केटिंग का काम करता हूँ. ऐसा चोदू मर्द मुझे मिल गया था जिसकी चुदाई पाकर कोई बांझ भी बच्चा जन दे.

ওপেনচুদাচুদি বিএফ

इस तरह के वीडियो को आप बस आनन्द लेकर देखिये मगर उसमें दिखाए गये सभी दृश्य कल्पित होते हैं जिनका असल जिंदगी से सरोकार बहुत कम होता है. मैंने उससे पूछा- कैसा लग रहा है?उसने कहा- मैं बहुत दिन बाद चुद रही हूँ. मैं भी पूरे जोश में लगा था और वो भी पूरी ताकत से चूत चुदवाने का मजा ले रही थीं.

तब राजेन्द्र जी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और किस करके बोले- बहुत हॉट और सेक्सी लग रही हो. हम दोनों का पानी छूटने लगा और फिर वो अपने कपड़े पहन कर सो गई और मैं अपने घर आ गया. ब्लू सेक्सी पिक्चर्सउम्म्ह… अहह… हय… याह…स्स्स … सर … दर्द हो रहा है!” वह कसमसाते हुए कहने लगी.

एक दूसरे के मुँह में मुँह डाले हुए ही हम दोनों कब सो गए, पता ही नहीं चला.

उस औरत ने कहा कि चुप रह साली वर्ना इसका लंड काट कर तेरे हाथ में दे दूँगी. जीजू की जांघों पर बैठते हुए उसने जीजू की छाती पर हाथ फिराते हुए उसको सहलाना शुरू किया तो मानसी के कोमल हाथों की मदहोशी में आनंदित होते हुए रितेश जीजू उसके चूचों को मसलने लगे.

मैंने मुँह को हटाया नहीं और चूत को पूरी तरह से चाट के सारे पानी को चाट भी गया. उसने कहा- आशना यस आशना यस …मुझे पता चल गया कि वो लंड चूसने के लिए कह रहा है … पर मैंने पहले कभी लंड नहीं चूसा था, तो मुझे पसंद नहीं था. लेकिन जब से जीएफ हाथ लगी है, तब से इसी की चूत को भाभी की चूत समझ कर चुदाई के सपने पूरे कर लेता हूँ.

मैंने बिना देर किये गीतू को नीचे बैठा कर अपना लण्ड उसके मुंह में दे दिया.

रिदम मुझे अपनी बाइक पर घुमाने के लिए बोलता था लेकिन मैं उसको मना कर देती थी. उसी तरह मैंने एक बार फिर नम्रता को अपनी गोद में लेकर लंड उसकी चूत में डाला और चूत की मथाई शुरू कर दी. उस दिन पूरा दिन हम सबने सिटी घूमी और शाम के बाद से ही रूम में आ गए फिर पूरी रात चुदाई का मज़ा किया.

सेक्सी नंगी वीडीयोसौरव थोड़ी देर रुका और बोला- जानेमन, कितने दिनों से तुम्हारी गांड मारने की तमन्ना थी, आज वो भी पूरी हो गयी. उसने मुझसे कहा- अब और मत तड़पाओ, जल्दी से चोद दो … वरना मैं मर जाऊँगी.

कामवाली बाई के साथ

अब वो जब भी अवि को मुझे देते, तो जानबूझ कर मेरे मम्मों को पकड़ कर मसल देते … और मैं कसमसा के रह जाती. काजल मेरा पूरा वीर्य पी गई और गीली जीभ से लंड को चाट चाट के पूरा साफ़ कर दिया. थियेटर पर पहुंच कर मैंने दो कॉर्नर सीट की टिकट्स के लिए कहा और हम अन्दर जाकर अपनी सीट पर बैठ गए.

उसने दोबारा से मेरा लंड मुंह में ले लिया और मेरी गांड पर हाथों को दबाकर उसे जोर से चूसने लगी. उसने अपनी स्कर्ट कमर तक उठा ली और अपनी चूत को मेरे लण्ड से सटा लिया. सुबह घर जाते वक्त मैंने स्वीटी को उठाया, तो स्वीटी तो मानो आसमान में उड़ रही थी.

रानी की किलकारियों से मेरी हवस भी परवान चढ़ गयी और मैंने दनदना कर ज़बरदस्त तूफानी तेज़ी से शॉट लगाने शुरू कर दिए. फिर कुछ मिनट बाद उसे भी मजा आने लगा था और वो अपनी गांड उठाते हुए मेरे लंड से कुश्ती लड़ने लगी थी. दोनों के दोनों एक दूसरे के जिस्म को ऐसे भोग रहे थे जैसे एक-दूसरे का रस निकालने के लिए मरे जा रहे हों.

वह उठी और उसने मेरे लंड को पकड़ कर अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी. लेकिन मैंने उसे एक बार और मुँह में लंड लेने को बोला क्योंकि मुझे लंड चुसवाना बहुत अच्छा लगता है.

अगला दिन गुजरने के बाद जब रात आई तो मोनी खुद ही मेरे पास मेरे साथ बिस्तर पर आकर लेट गई.

अब मैंने बहुत ही जोर जोर के धक्के लगाते हुए भाभी को चोदना शुरू कर दिया. ब्लू पिक्चर दिखाओ बढ़ियामगर अगले कुछ मिनट बीत जाने के बाद वो सब के सब फिर से हमारे सामने आकर बैठ गये. खुलेआम सेक्सी पिक्चरहम लोग जब तक बाजार नहीं पहुंचे, तब तक वो मेरी चूची को दबाता रहा और उसने मेरे हाथ को उठा कर अपने लंड पर रखवा लिया. मैं राधिका के पूरे शरीर पर चूम रहा था, इस दौरान मैंने उसकी गर्दन पर लवबाइट भी किये.

बेडरूम में जाके बुरका निकाल कर मैं पलंग पे लेट गयी और उसकी हरकतों को याद करके स्माइल करने लगी.

उसने कहा कि ऐसा हो नहीं सकता कि आजकल कोई बिना गर्लफ्रेंड के रहता हो. मैं टेबल पर ही उसे धकापेल चोदे जा रहा था और वो अपनी आंखें बंद करके मुझसे हटने को बोल रही थी. अब मैं केवल चड्डी में थी क्योंकि उस ड्रेस के साथ ब्रा नहीं पहनी थी.

मगर अभी तक ये पता नहीं था कि प्रिया की उस लड़की से बात होती है या नहीं. जीजा जी की नाइट ड्यूटी थी तो वो लुंगी बाँध कर कूलर के सामने पैर करके सो गए. लंड की छुअन से मुझे अच्छा तो लग रहा था, लेकिन इस गांड चुदाई के खेल में बहुत दर्द भी हो रहा था.

सेक्सी फिल्म वीडियो ब्लू

उन दोनों बहनों के साथ लुक्का-छिपी का ये खेल मैंने काफी दिनों तक खेला और फिर मैं अपने घर आ गया. मेरे पास एक पुरानी साइकिल थी स्कूल जाने के लिए जो यदा कदा मुझे सताती रहती थी, कभी पंक्चर कभी पैडल टूटना कभी चैन टूट जाना कभी हैंडल ढीला; इन्हीं सब मुसीबतों से जूझते हुए मैंने स्कूल पास किया. नम्रता जम्हाई लेते हुए हैलो बोली, तो दूसरी तरफ से आवाज आयी- नम्रता तुम आज स्कूल नहीं गयी क्या.

मैं उसकी और सहूलियत के लिये पेट के बल लेट गया, अब नम्रता मेरे कूल्हे को अपनी पूरी ताकत लगाकर मसल रही थी.

पहली बार की चुदाई में ही हम दोनों बहनों को जोरदार चुदाई का मजा मिला था.

मौसी ने मुझे पास के एक कमरे में बुलाया और जल्दी जल्दी चुदाई का काम ख़त्म करने को बोलने लगीं. मौसी ने मेज़ से उतरकर वहीं पास पड़े कपड़े से अपनी चूत साफ की, फिर वही कपड़ा मुझे पकड़ा दिया. सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो दिखाइएशानदार! जन्नत दिखा दी तूने दीपिका! और चूस बेटा! आह्ह …” रवि ने कामुक सिसकारी भरते हुए कहा.

”मम्मी खड़ी हुईं और एक एक कर के सारे कपड़े उतार दिए, पूरी नंगी लेट गयी।अंशु ने मेरी चुचियाँ दबाई- सोच रही हैं कि जांच होगी। इसे पता नहीं कि अभी मेरा भाई इसके ऊपर चढ़ेगा. मैं पानी लेने जाने लगा तो उन्होंने कहा- अभी रहने दे, मैं बाद में मंगवा लूंगा. अब मैंने डॉली से कहा- चार घंटे का समय कैसे गुजरेगा, चलो पिक्चर देखते हैं.

मेरे मन में वासना सी उठने लगी और मैं वहीं पर खड़ी होकर उनकी उड़ती हुई लुंगी के नीचे अंडरवियर को देखने लगी. मैंने फिर उसी जगह (पैर के अंगूठे और उंगली के बीच) अपनी जीभ टिका दी और जैसे और लोग जीभ से योनि-भेदन करते हैं ठीक वैसे ही अपनी जीभ वसुन्धरा के पैर के अंगूठे और उंगली के बीच की जगह में आगे घुसाने लगा.

भाभी अपनी गुदगुदी गांड लगभग एक फुट तक उठा कर मेरे मुँह की में देने लगी.

वो शर्मा गई और बोली- नहीं!मैंने बोला- प्लीज़!वो मेरे लंड को पकड़ कर चूसने की शुरुआत की, पहले तो उसने सुपारा टेस्ट किया. मैंने सोचा कि अगर किचन का काम खत्म हो गया और जागृति बाहर आ गई तो आज उसे फिर से हमारी चुदाई का पता लग जाएगा. अब मैंने डॉली से कहा- चार घंटे का समय कैसे गुजरेगा, चलो पिक्चर देखते हैं.

सेक्सी ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो वहाँ मेरा कोई फ़्रेंड नहीं था। मैं समय काटने के लिए मैं फ़ेसबुक पर बहुत ऑनलाइन रहता हूँ और पहले भी कई लोगों से मुलाक़ात कर चुका हूँ। साथ में मैं ऑनलाइन सेक्स मूवीज़ भी देखता हूँ।फ़ेसबुक पर मैं बहुत सी लड़कियों और भाभियों को रिक्वेस्ट भेजता हूँ कि काश़ कोई मिले और मैं मज़े ले सकूँ. मैंने फिर भाभी से पूछा- आप कहां रहती हैं?उन्होंने बताया कि वो आवास विकास में रहती हैं.

करीब 20 मिनट के बाद वो बाथरूम से बाहर निकली, वो भी सिर्फ एक टॉवल में. अगर आपको यह रियल सेक्स कहानी पसंद आई हो तो मैं आगे भी आपके लिए ऐसी कहानियाँ लेकर आता रहूंगा. इसके लिए वनिता के ससुर जी ने अपने बेटे को कुछ काम से 2 दिन के लिए बुआ के घर भेज दिया.

भौजी की चुदाई हिंदी में

मैं- चलो ठीक है माफ़ किया, लेकिन सच बताओ क्या तुम दोनों बहन भाई एक दूसरे के साथ सेक्स करते हो?निहारिका- नहीं, हम बस अपनी सब बातें शेयर करते हैं. राजे आज तू यह रबड़ी मेरे दूधों पर रख के खाएगा … देख कितना मज़ा आएगा मादरचोद … तू भी क्या याद रखेगा कि क्या रबड़ी खायी थी. अब मैंने डॉली से कहा- चार घंटे का समय कैसे गुजरेगा, चलो पिक्चर देखते हैं.

अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था इसलिए मैंने उसके ब्लाउज के हुकों को खोलना शुरू कर दिया और वह कसमसाने लगी. वो ‘आह … उम्म … आ … आ … उम्म ओह … फ़क मी विवेक … फ़क मी विवेक चोद दो मुझे … अपना बना लो.

पहली बार की चुदाई में ही हम दोनों बहनों को जोरदार चुदाई का मजा मिला था.

हाथों में आने के बाद उसकी जांघें ऐसे लग रही थीं जैसे वह कोई रबड़ की गुड़िया की तरह है बिल्कुल नर्म और मुलायम. मेरे लिए यह मौका पहली बार था कि मैं किसी लड़के के साथ हॉल में मूवी देखने आई थी. इससे आपके पति को यह विश्वास हो जायेगा कि आपने योनि के साथ कुछ छेड़छाड़ नहीं की है.

फिर मैंने उसका लंड बाहर निकाला और किस करके कहा- मुझे मुख में लंड लेना बहुत पसंद है. मैंने आंटी की साड़ी का पल्लू खींच दिया और आंटी का ब्लाउज दिखने लगा जिसमें उसके चूचे भरे हुए थे. उन्होंने अपनी टाँगें फैला ली और अपनी जन्नत का दरवाज़ा खोल दिया।मैं अपने लंड को उनकी चूत के ऊपर रगड़ने लगा, वे मुझे अपनी ओर खींच रही थी, उन पर चुदाई का नशा छाने लगा, उन्हें मजा लगा.

मुझे देखकर उठ कर खड़ी हो गयी और घर में जाने का मेन गेट खोल के मुझे भीतर आने का इशारा किया.

सेक्सी बीएफ इंडिया वाली: उइई … आआ … ह्ह्य … माँ … स्स्स … ओह्ह … क्या कर रहे हो … मैं मर जाऊंगी. लेटने के बाद मैंने माँ की टांगों को फैला दिया और उनकी चूत में अपने लंड को रगड़ने लगा.

आशना[emailprotected]कहानी का अगला भाग:ममेरे भाई ने मेरी कुंवारी चूत की चुदाई की-2. राधिका के दोनों हाथ मेरे हाथ पर आ गए और वो अपने मम्मों को मसलवाने का मजा लेते हुए बीच-बीच में अपनी आंखों को बंद कर ले रही थी. फिर मैं कुछ बोलता, उससे पहले ही उन्होंने मेरे लिप्स पे अपने लिप्स रख दिए और मुझे स्मूच करने लगी.

अगर देखा जाये तो हम दोनों की करतूत में फर्क ही क्या है! जिस तरह से काजल सुमिना की सहेली है वैसे ही सुमिना भी तो काजल की सहेली है.

मैंने एक दो धक्के मार कर उसके चूचों को चोदा तो लंड सायमा की ठुड्डी से जा लगता. अंकल के साथ उन दोनों को जो मज़ा आया था, वह पूरा सिनेमा मैं देख चुकी थी. उसने बताया कि उसके हस्बैंड दुबई में बिजनेसमैन है और वह गुडगांव में फ्लैट लेकर अकेली रहती है.