दूसरा बीएफ

छवि स्रोत,कुत्ता और लेडीस की बीएफ फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

नंबर एक सेक्सी वीडियो: दूसरा बीएफ, तभी लवली ने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत पर रखने से पहले मुझे रुकने को कहा और बोली- विशु, एक मिनट पहले मेरी बात सुन ले; फिर तेरा लंड मैं अपनी चूत में डालूँगी।मैंने कहा- हाँ जी बोलिये?तो उसने कहा- विशु, देख मेरा पहली बार है इसलिए आराम से करना.

कुंवारी लड़कियों की देसी बीएफ

उसने अपने भैया से पूछा कि कौन सी लूँ?तो पीयूष बोला- ये सब बकवास देख रही हो, तुम थोंग वाली पैंटी ले लो. सेक्स सेक्स बीएफ दिखाइएपहले तो मुझे उबकाई आने लगी … क्योंकि उसका लंड इतना मोटा था कि मेरे गाल मानो फटने लगे थे.

दोस्तो, नयी जवानी का सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको अपनी अन्तर्वासना को आगे लिखूंगा, जिसमें मेरी बहन पूजा ने मुझे किस तरह से चुत चोदने दी और मेरी सेक्स कहानी का हिस्सा बनी. बीएफ रेप सीनइसके बाद मैंने दीदी की चुदाई की और उनके साथ सामूहिक चुदाई की चर्चा करने लगा.

मैं उसके लिए हमेशा कुछ न कुछ गिफ्ट लेकर जाता था जिसे देख रूपाली बहुत खुश हो जाती थी.दूसरा बीएफ: मैं बोला- अगर मैं तेरे साथ शादी करूं, तो करेगी?यास्मीन मुझे देखते हुए बोली- तुम तो शादीशुदा होगे.

अब जब मैं उनकी चूत में धक्के लगा रहा था तो पच पच की ध्वनि सी पैदा हो रही थी.’ क्यों कर रहा था!मैंने कहा- यार, सरीना की गांड बड़ी मस्त है … मैं उसके नाम की मुठ मार रहा थारिया बोली- तुझे सरीना की गांड इतनी पसंद है?मैंने कहा- हां यार.

झारखंड का बीएफ दिखाइए - दूसरा बीएफ

मैं उसकी मख़मली गांड को सहलाने लगा और उसके रसीले होंठों को अपने होंठों में भरके चूसने लगा.नवाब मेरे हाथ से अपने लंड को रगड़वा रहा था और वो खुद मेरे मम्मों पर हाथ घुमा रहा था.

हमारी बातें बढ़ने लगीं, तो वो बोली- तुझे पता है, तू मेरा पहला क्रश था. दूसरा बीएफ कमल ने कहा कि जॉब करने की कोई जरूरत नहीं है तो सारा के पास दिन में सिवाय मटरगश्ती करने के अलावा काम भी कुछ नहीं होता था.

जोया अगली दिन सुबह अपने घर से निकल गयी और कानपुर वाली ट्रेन पकड़ कर चल दी.

दूसरा बीएफ?

लेकिन मैंने अपनी सांस पर संयम बरतते हुए उसका लन्ड हलक में बनाए रखा और धीरे धीरे उसको अंदर-बाहर करने लगी।अब मैं खुद से ही उसके लन्ड को हलक तक के लेकर चूसने लगी।कुछ देर लन्ड चुसवाने के बाद सागर ने मेरी पैंटी उतार के सूंघा और मुझे टेबल पर टांग फैला कर बिठा दिया, खुद कुर्सी पर बैठकर मेरी चूत को चूमने लगा।थोड़ी देर चूमने के बाद वह मेरी चूत को चाटने लगा. अब मुझसे रुका न गया क्योंकि दीदी के मुंह से अब हल्की हल्की आह्ह निकलना शुरू हो गयी थी. मैंने देखा कि चादर पर जितनी जगह पर लवली के चूतड़ थे तो उसके बीचोबीच एक खून का एक घेरा बन गया था.

चाची बोलीं- वह दिख नहीं रहा?मम्मी ने बोला- उसका बदन दर्द कर रहा है, इसलिए वो सोने चला गया है. लकी ने टोका तो सारा बोली- यहाँ नोएडा में दो तीन महीने रह लो, तुम भी साले, बहनचोद, फट गयी जैसे शब्दों के बिना बात नहीं करोगे. पोर्न भाबी सेक्स कहानी एक ऐसी औरत की है जो अपने पति से खुश नहीं थी.

पति के गुज़र जाने के बाद शुरुआत के कुछ साल मेरे और मेरी बेटी के लिए बहुत मुश्किल के थे. अनुराधा ने जी भरके लंड चूसा और इसके बाद वो मेरी तरफ़ अपनी गोरी पीठ करके खड़ी हो गयी. कोमल की सांसें तेज हो चुकी थीं और मैं अपने प्यासे होंठों की प्यास उसकी पीठ से बुझाने में लगा हुआ था.

आंटी ने मेरे लम्बे और मोटे लंड को देख कर हैरानी जताई तो मैंने भी उनकी चूचियां दबा दीं. उसने अलमारी खोली।मैंने कहा- उसमे ऊपर वाले दराज़ में मेरी बीवी के कपड़े हैं। तुम उनमे से एक ब्रा और पेंटी निकाल कर पहन लो।उसने एक सफ़ेद ब्रा और एक मेरून कलर की पेंटी निकाल कर पहन ली।फिर उसने मेरे कहने पर मेरी बीवी की लिपस्टिक लगाई, आँखों में काजल डाला। आने हिसाब से वो थोड़ा साज संवर कर मेरे पास आई।मैंने कहा- बड़ी सुंदर लग रही हो!जबकि वो लग नहीं रही थी.

शाम को शीना को कुछ शॉपिंग करनी थी, तो उसने पीयूष को भी साथ ले लिया.

मैं भी मान गया कि अभी इसे पहले लंड का मजा दे दूँ फिर बाद में इससे लंड चुसवाने का मजा ले ही लूंगा.

गांव जाने के बाद हमें पता चला कि गांव में हमारे पास वाले घर में ही किसी को कोरोना हो गया था. और क्या चुचियां थी … बिल्कुल टाइट कैनवास के बाल जैसी!मेरे एक हाथ में तो पूरी आ भी नहीं रही थी, इतनी बड़ी बड़ी थी। उनको मसलने में मुझे बहुत मजा आ रहा था. अब मैंने अपने पूरे लंड को साबुन से चिकना कर लिया और उसकी गांड के छेद पर लंड रख कर हल्का सा दबा दिया.

हमें चूंकि चरम सुख का मजा लेना था, तो वो भी अब कुछ नहीं बोल रही थी. मैं तो अब मजे में था मगर धीरे धीरे चुदाई करते हुए टाइम का पता नहीं चला और मेरे एग्जाम पास आ गये. अब सारा की बारी थी तो लकी नीचे बैठा और सारा ने अपनी टांगें उठा कर लकी के चेहरे, छाती पर पेशाब की धार मारी.

मुझे तो लग रहा था कि अभी ही उसे पकड़ कर अपना पूरा लंड उसकी चुत में उतार दूं और उसे चोद चोद कर भोसड़ा बना दूं.

किन्तु लज्जावश बिल्लो बोली- मना किसने किया किया है, खोलकर देख लीजिए न. जब उससे नहीं रहा गया, तो उसने मेरे लंड के टोपे को अचानक से अपने होंठों से छू लिया. उसने मेरी कमर में चिकोटी काटकर मुझे इशारा किया कि राज देख लेगा, ऐसे मत देखो.

फिर कभी मौका होता, तो मैं उनके घर रात रुक कर उनको उनके पति का सुख दे देता. कुछ दिन बाद एक दिन अचानक से मेरे पेट में बहुत तेज़ दर्द होने लगा, तो मैं डर गई कि कहीं कुछ बच्चे वाली दिक्कत तो नहीं हो गयी. जो भी मुझे एक बार मेरी इस हिलती हुई गांड को देख लेता है, तो बस देखते ही रह जाता है.

वो भी मेरे बदन की मुलायमियत से रूबरू होता चला गया और अपना हाथ मेरे मम्मों की तरफ ले जाने लगा.

मेरी बीवी ने आगे कहा- उसकी एक प्रॉब्लम है, जिसको सॉल्व करने के लिए उसे आपकी मदद चाहिए. यह दुविधा कैसे दूर हुई?दोस्तो, आप रोहन और उसकी मॉम के बीच सेक्स सम्बंधों पर आधारित सेक्स कहानी को पढ़ रहे हैं.

दूसरा बीएफ मैं बुत बना हुआ अपनी जगह ही खड़ा रहा और वो अपने चेहरे को दीवार के साथ लगा कर खड़ी रही. जेठजी का लंड नीचे को लटका हुआ था और नीचे बड़े बड़े अंडकोष झूल रहे थे.

दूसरा बीएफ मैंने भी आंटी के नीचे वाले होंठ को अपने दांतों से दबा लिया और मसलने लगा. रमेश अपनी बीवी का कमेंट्स सुनकर एकदम से झेंप गया और कहने लगा- नहीं नहीं, मैं ऐसा कुछ नहीं देख रहा था.

फिर वो जब दोबारा गिलास में कुछ लाने लगी तो एकदम उसका पैर किचन के दरवाजे की चौखट में ठोकर से टकरा गया और वो धड़ाम से नीचे जा गिरी।गिलास की सारी लस्सी फर्श पर फैल गयी और मैं मौसी को उठाने दौड़ा.

सेक्सी वीडियो चोदी चोदा देखने वाला

मैंने एक हाथ उसकी पीठ और एक उसकी नंगी जांघों पर लगाया और उसको अपनी गोद में उठा कर उसको उसके कमरे में ले गया. भाभी मेरी बात से शर्मा गईं और बोलीं- अच्छा … इतनी अच्छी हूं मैं!तो मैंने बोला- हां आप बहुत सुंदर हो. पहले तो मैंने सोचा कि वो ऐसे ही झूठ बोल रहा है, पर उसके बार बार बोलने पर मैंने सोचा कि इसकी मदद कर देता हूँ.

फिर हाथ पीछे ले जाकर मेरी ब्रा खोल दी और मेरी शर्ट उतार दी, ब्रा भी उतार दी।अब मैं ऊपर से पूरी नंगी हो चुकी थी और सागर बारी बारी से मेरी दोनों चूचियों को चूसता और चाटता जा रहा था।सागर ने मेरे दोनों निप्पल पे भी बहुत चाटा और मेरे निप्पल पे काट भी लिया।सागर की इस हरकत से मुझे भी बहुत तेज उत्तेजना चढ़ने लगी. पंकज ने बोला- जानू, मेरी एक बात मानोगी?पूजा बोली- तुम्हारे लिए तो अब जान भी हाजिर है … बोलो क्या बात है?पंकज ने कहा- पूजा डार्लिंग, मैं तुम्हारी गांड का रस अपने लंड को चखाना चाहता हूँ … और मैं भी चखना चाहता हूं. मैं उम्मीद करती हूँ कि यह वर्जिन बहन की सेक्स कहानी आपको पसंद आएगी.

मैं सुहैला के बग़ल में लेट कर उसके एक मम्मे को चूस रहा था और दूसरे को अपने हाथ से दबाने लगा.

अजय के मरने के एक साल तक मैंने नहीं किसी और मर्द के लिए नहीं सोचा, किसी गैर मर्द का ख्याल भी अपने मन में नहीं लाई. मगर जब मैंने उससे कुछ भी नहीं कहा तो वो बोली- आपने फोन नहीं लगाया?मुझे नहले पर दहला मारने का मौका मिल गया; मैंने कहा- फोन क्यों लगाना था?अब वो सकपकाई और मेरी तरफ देखने लगी. जब उससे रुका नहीं गया तो उसने आंखें खोल दीं और हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे।अब मैं श्वेता के होंठों को चूस रहा था और वो मेरा पूरा साथ दे रही थी.

मगर अभी इस महामारी के चलते काफी दिनों से मुझे किसी से चुदने का कोई मौका नहीं मिला था. एक दिन ऐसे ही बातों बातों में उसने पूछा- क्या कर रहे हो?उस समय रात के 11 बज गए थे. भाभी एकदम से नींद से जाग गईं और मुझे दूर धकेलने लगीं, पर मैं उनके दोनों हाथ पकड़ कर उनको ताबड़तोड़ चोदने लगा.

उस दिन मैं मॉम की इस बात को कई बार सोचा और अंदाजा लगा लिया कि कुछ न कुछ तो मॉम के दिमाग में भी चल रहा है या उनकी चुत में कीड़ा काट रहा है. मैंने उससे पूछा- बताओ क्या काम है, जिसके लिए तुम मुझे बुला रहे थे?लड़का- मुझे आपका नंबर चाहिए.

हम दोनों का ये युद्ध अति उत्साहित होने के कारण दस मिनट में ही समाप्त हो गया. उन्होंने अन्दर काले रंग की ब्रा और पैंटी पहन रखी थी और बाल सारे गीले थे. दूसरी तरफ सुनील ने मेरी दीदी की नाइटी ऊपर कर ली थी और दीदी की चूत में उंगली डाल रहा था.

क्या तुम्हें इसमें कोई दिक्कत है?सारा एक एक दांव संभाल कर चल रही थी.

मैंने जोर का झटका मारा तो मेरा लौड़ा मॉम की गांड को चीरते हुए अन्दर घुस गया. भाभी को लंड सहलाने में प्राब्लम हो रही थी, तो उन्होंने मेरी पैंट निकाल दी. कुछ देर बात हुई मैंने उससे उसका नाम पूछा, तब उसने अपना नाम लिली बताया.

मेरे हाथ उसके चूचों को बेरहमी से मसल रहे थे और उसके निप्पलों को कुरेद रहे थे. मैं बगल मैं ही बैठा था, तो उसने मुझसे पूछा- अरे राहुल, तुमने मेरी पैंटी देखी क्या?मैंने कहा- मुझे क्या पता?वो बोली- अरे वो जो मैंने परसों के दिन पहनी थी ब्लू कलर की.

मैंने आयशा की तरह नाजिया को भी अपने मुँह पर बिठाया और मैं उसकी चूत को चाटने लगा. मेरे पूछने पर प्रिया ने मुझे बताया था कि तेरी बहन और पंकज एक ही क्लास में पढ़ते हैं. उनकी आंखों में साफ-साफ कामवासना दिख रही थी जो कि भांग पीने से बढ़ गई थी.

मेहता सेक्सी

इस बीच बहुत सारी बातें हुईं और मैं और मौसी उसी संबंध को महसूस करने लगे जो कुछ वक्त पहले मेरे और मौसी के बीच में था जब हम एक दूसरे के साथ खूब मस्ती मजाक करते थे।उसके बाद मौसी किचन में खाना बनाने के लिए चली गयी.

कमल के हाथ सारा के कन्धों पर थे और पीछे से लकी ने उसकी कमर पर घेरा बनाया हुआ था. उसने कुसुम से पूछा कि ये सब क्या है?कुसुम ने उसे रोहन के आने से आज सुबह तक की सारी बात शेखर को बता दी. सारा को जब कमल का होश आया तो उसने हाथ बढ़ाकर उसका लंड पकड़ लिया और उससे कहा- अब तुम आओ.

ये अनीषा मैडम ऐसा क्या काम करती हैं?वो आदमी बोला- यार तुम इस बिल्डिंग के सिक्योरिटी गार्ड हो, तुम्हें पता नहीं है कि क्या काम होता है?मैं बोला- अरे यार मुझे नहीं पता है, अगर पता होता तो मैं तुमसे क्यों पूछता. मैंने अपनी सहेलियों से पूछ कर अपनी चुत पर वाटरप्रूफ फाउन्डेशन भी लगाई थी और उसके ऊपर कैडबरी चॉकलेट के स्वाद वाली क्रीम भी मल ली थी. सेक्स इंग्लिश सेक्स बीएफकोमल की मांसल और कामुक चूचियां ब्लाउज से ही उसकी चलती हुई तेज सांसों के साथ ऊपर नीचे हो रही थीं.

मैंने बड़ी चालाकी से उनसे ये कहते हुए उनका नंबर भी मांग लिया कि आपके नम्बर की जरूरत पड़ेगी और मुझे कुछ पूछना हुआ, तो आप अपना फोन नंबर दे दीजिए. मैंने और मिथुन ने मिलकर मेरी बेहन के लिए लंड सैट किये और सामूहिक चुदाई का प्रोग्राम बना लिया.

हॉल से निकलते समय वो जल्दी उठ गया और मुझे मोबाइल दिखाते हुए आने के लिए इशारा करने लगा. मेरा लंड गर्म होकर तन गया था और उसके हाथों में सांप के भांति हिलने लगा था. वो बोली- मैं अब हर रोज आपके साथ ऐसे ही कपड़े पहनकर सोऊंगी क्योंकि आप मेरे पति हैं … और मेरा सब कुछ अब आपका है.

मैं अपने चूचे उसको पिलाने लगी।फिर उसने मेरी चूत पर लंड लगाना शुरू कर दिया।मुझे मजा आ रहा था। मैं चाहती थी कि वो लंड को जल्दी से मेरी सील पैक चूत के अंदर डाल दे. मम्मी पापा के अलावा मेरा एक छोटा भाई भी है, जो अभी ग्यारहवीं में है और वो अभी 18 साल का हुआ है. देहरादून से रोहन नई दिल्ली स्टेशन पर पहुंचने वाला था, उसके पिताजी उसे लेने आये थे.

फिर मैंने लंड का दबाव बनाना शुरू किया और उसके चूचों को पीते हुए हल्के हल्के धक्के लगाने लगा.

इतने में मेरी सेक्सी डार्लिंग रानी आ गयी और उसने बड़े ही शालीन तरीके से मुझे नमस्ते किया. मैं उत्तेजित हुए जा रही थी … मुझे भी मर्द का साथ बहुत अच्छा लग रहा था.

मैंने धड़कते दिल से रानी का हाथ पकड़ा और उसे उठाने में मदद की, पर वो उठ नहीं पाई. मंजू ने अंजलि से पूछा- रमेश ने कुछ ज़्यादा तंग किया क्या?वो मुस्कुरा कर बोली कि नहीं. तब मैंने नवाब से पूछा कि तू क्या करता है?नवाब मेरे दूध मसक कर बोला- तुझ जैसी रंडियों को चोदना ही मेरा काम है.

मैं हर वक्त उसके घर के सामने से यही सोच कर निकलता था कि बस वो दिख जाए … और वो मुझे दिख भी जाती थी. मैंने सोचा कि आज घर जाकर ही हरदीप को पैसों के बारे में पूछता हूं।मैं सीधा अपने ससुराल चला गया।मैंने दरवाजा खटखटाया और हरदीप ने दरवाजा खोला। मैं और हरदीप ड्राइंग रूम में चले गए। मैं वहाँ बैठ गया और हरदीप किचन में चली गई। वो मेरे लिये दूध गर्म करके ले आई।हरदीप से मैंने पूछा- घर के बाकी सभी लोग कहां गए हैं?हरदीप- वो (हस्बैंड) तो ड्यूटी पर हैं. काफी देर तक मेरे मुंह को चोदने के बाद उन्होंने लंड को बाहर निकाला जो मेरी लार में पूरा गीला हो गया था.

दूसरा बीएफ मैंने तुरंत घर का मुख्य दरवाजा बंद किया, फिर अपने रूम का दरवाजा बंद कर लिया. उसने मेरी सेक्स कहानी को बहुत सराहा था और मेरी बहुत तारीफ भी की थी.

चलने वाली फिल्म सेक्सी

ये ओल्ड फ्रेंड सेक्सी कहानी मेरी और मेरे स्कूल की पुरानी फ्रेंड मंजू की है और आज से 2 साल पहले की है. इससे मेरे दिमाग में एक बात पक्की होने लगी थी कि इसकी चुत में भी आग लगी है. वो अपनी साड़ी के पल्लू को कमर में खौंसे रहती थी जिससे साइड से मुझे उसकी मोटी मोटी चूचियों का साफ़ आभास होता था.

चार दिन बाद अनिकेत चला गया और मैं फिर से भाभी की चुदाई का मजा लेने लगा. एकदम से भाभी मचल गई और बोली- जान कुछ खा लो, फिर तुमको काफी मेहनत करनी है. बीएफ देखते हुएआह्ह … दोस्तो … उसकी नर्म मुलायम चूची मेरे हाथ में थी।बहुत ही आनंद भरा पल था वो!नीचे उसने ब्रा भी नहीं पहनी थी।जैसे ही उसकी चूची मेरे हाथ में आई तो लंड ने उछल कूद करना शुरू कर दिया.

मेरी बीवी ने आगे कहा- उसकी एक प्रॉब्लम है, जिसको सॉल्व करने के लिए उसे आपकी मदद चाहिए.

मैंने अपनी मॉम को उन्हीं के बिस्तर में कैसे चोदा, इस सेक्स कहानी में आपको पढ़ने मिलेगा. मैंने अपने सारे कपड़ों को खोल दिया और शॉवर चालू करके अच्छे से अपने खड़े लंड को पकड़ कर उसे मसलने लगा.

कुछ मिनट हमारे बीच मौन रहा और इसी बीच मैंने तय करते हुए कहा कि इधर तो दो घंटे भी खड़े रहेंगे तो बारिश नहीं रुकेगी. हम दोनों ही आंखें बंद करके एक दूसरे के होंठों को खा सा रहे थे और जोर जोर से चूस रहे थे. मॉम ने ये बात मुझे बताई, तो मैं सोच में पड़ गया कि मॉम ये मुझे क्यों बता रही हैं.

दीदी ने मुझसे पूछा कि ये मैं क्या कर रहा हूँ?तो मैंने अपने प्लान के बारे में दीदी को सब बता दिया.

कुछ देर बाद मैं अपने घर आ गया और आज शाम को फिर से मैं आंटी की दुकान पर आ गया. सभी दोस्तों को सादर अभिवादन।मैं आपका जाना पहचाना हूँ लेकिन कुछ नए पुरुष एवं महिला दोस्तों को अपना परिचय देना आवश्यक हो जाता है. वो अपने हाथ को तेजी से चला रहे थे और पजामा तेज तेज हिल रहा था।जब मेरा ध्यान मीनू की छाती पर गया तो मैंने पाया कि मामा का हाथ मीनू की छाती पर था। वो उसकी चूची को हाथ से सहला रहे थे.

सुहागरात की बीएफ एचडीमॉम हंस दीं और बोलीं- तेरा मन नहीं भरा क्या?मैंने कहा- मॉम, इतनी लवली चुत मारने के बाद कौन ऐसी रसमलाई सी गांड को छोड़ेगा. उसकी बड़ी बड़ी मोटी छाती और कूल्हे दिखाकर वो मुझे चुदाई के लिए उकसाती थी.

हिंदी सेक्सी भाभी सेक्सी मूवी

मैं भी बसंत की तरफ देख कर आंखों ही आंखों में उसे धन्यवाद कर देती थी. अब लकी के जाने के बाद सारा कमल से ऐसे चुदी कि वो लकी से चुद रही हो. इसके बाद मैंने एक बार बेलन की मूठ को तेल लगा कर अपनी गांड में ले लिया था.

वो शीना के साथ और भी बहुत कुछ करने की कोशिश करता लेकिन वो अभी उससे सीधा सेक्स के लिए बोलने की हिम्मत नहीं कर पा रहा था. दूसरे ही हफ्ते मैंने कल्पना की गांड की चुदाई भी की और हम दोनों ने एक दूसरे का पानी का स्वाद भी ले लिया. मेरा एक फव्वारा आने पर जेठजी ने जीभ को बाहर किया और स्तन से अपने दाहिने हाथ को नीचे लाकर, झट से एक साथ अपनी तीन उंगलियां, प्यार के रस से लबालब हुई मेरी चूत में डाल कर तेज रफ़्तार से चुत को चोदने लगे.

कुछ पल के बाद मैं अपने दोनों हाथों से उसकी दोनों चूचियों को दबाने लगा. वहां एक लड़की थी, मैं उसे देख कर बोली- यह कौन है?नवीन बोला- यह मेरी बेटी है. अब आकृति आंटी अपनी गांड में मेरा लंड लगाए हुए मेरे सीने पर अपना सिर रख कर लेट गयी थीं.

वो बोली- तो फिर मैं किसके साथ जाऊं?फिर वो कुछ देर सोचने के बाद वो बोली- तुम तो संडे को खाली होगे. उसके होंठ भी एकदम सूख चुके थे, लेकिन मैंने फिर भी उसके होंठों को नहीं छोड़ा था.

कुछ देर बाद मैंने उसको उल्टा किया और उसके मुँह में अपना लौड़ा दे दिया.

वो बेहद मदहोश होते हुए पागल हो गयी थी।मादकता में उसकी सिसकारियों का शोर बढ़ रहा था। उसकी बांहों ने मेरे सिर को जकड़ लिया. सनी लियोन का फिल्म बीएफकुछ दिन तक मुझे भाई, पापा के दोस्त, और मेरी सहेलियों के पापा और भैया चोदते रहे. बीएफ सेक्सी इंडिया वालीअब मेरी सहेलियां कहने लगीं कि कल ही तू उसको घर पर बुला ले और जब तू यहां से निकलो ना, तो उसको साथ में ले लेना. वो अपने हाथ से अपना बूब मेरे मुँह में देते हुए मादकता से कह रही थी- आह … आज पूरी चूची चूस लो … आह मेरा सारा दूध पी लो … एक बूंद भी मत छोड़ना.

इधर छोटे मामा उसके चेहरे को देखते हुए और अंदर तक उंगली को घुसाने लगे थे.

उसकी तेज चीख निकली- ऊईई ऊईई ऊईई! मर गई … मर गई मम्मी! बचाओ बचाओ! मर गई बचाओ! मम्मी मम्मी मम्मी बचाओ!मैंने लंड को तेज़ तेज़ अंदर बाहर करना शुरू कर दिया।धीरे धीरे उसकी आवाज सिसकारियों में बदल गई उसे भी मज़ा आने लगा।उसने बताया कि उसके पति ने कभी उसकी गान्ड में लन्ड नहीं घुसाया।अब वो गांड आगे पीछे करने लगी. मैंने उनसे पूछ लिया- भाभी क्या आप कभी सेक्स करते समय रोयी हो?उन्होंने कहा- नहीं, अनिकेत के साथ कभी ऐसा नहीं हुआ. इससे सरिता भाभी को कुछ आराम मिला, पर रोमी ने अभी अपना लंड भाभी की गांड से निकाला नहीं था.

एक शानदार और फूली सी चूत थी, जो सदैव चिकनी और रसदार रहने वाली चुत थी. मैं भाभी की बात सुनकर समझ गया कि भाभी पूरी चुदक्कड़ बन चुकी हैं और आज इनको अपनी गांड में भी लंड लेने का मन है. ना चाहते हुए भी मैं अपनी मुंडी नीचे करके उनकी नाइटी के नीचे झांकता, तो मुझे तो मानो जैसे सारा मैदान अजूबा सा दिख जाता.

सेक्सी वीडियो सेक्सी सुपरहिट

मैं भी अपने हाथों को पहले उनके कंधे पीठ कमर पर लाया फिर उनकी मोटी मोटी गांड पर सहलाते हुए मसलने लगा. कुसुम अपने बेटे के लंड के स्वाद में इतनी खो गई थी कि उसे पता ही नहीं चला कि रोहन ने कब अपनी आंखें खोल दी हैं. मैं खुद से सत्यम के लंड पर अपनी गांड उठा उठा कर कूद कूद कर उससे चुदने लगी थी.

मेरी बेहन ने अपने ब्वॉयफ्रेंड को एक चिट्ठी लिखी और उसे यूं ही अपने बिस्तर पर रख कर गाना गुनगुनाते हुए वो नहाने घुस गई.

मुझे गुस्सा आ गया; मैंने कहा- मुझे बिना किसी गुनाह के सजा दी जा रही है, तो गुनाह कर लेने में ही भलाई है.

फिर मैंने उसे लंड के ऊपर बैठा कर, घोड़ी बना कर, टांग उठा कर, लेटा कर काफी पोज़ में चोदा. न्यूड भाबी चुदाई कहानी में पढ़ें कि दूध वाला अपने गाँव चला गया तो भाबी को लंड मिलना बंद हो गया. इंडियन बीएफ ब्लू सेक्सीफोन पर ही उससे दोस्ती हो गयी जो आगे चल कर …दोस्तो, मेरा नाम राहुल जोशी है, मैं जयपुर का रहने वाला हूं.

कार्तिक ने साड़ी के अन्दर से ही मेरी पैंटी को थोड़ा साइड में करके मेरी चूत के ऊपर अपनी एक उंगली रख दी और धीरे धीरे मेरी चूत को सहलाने लगा. अब हम 69 की पोजीशन में आ गए और चूत लंड को चूसने लगे।5 मिनट चूसने के बाद मैं उसके ऊपर आ गया और उसकी चूत में लन्ड को रगड़ने लगा उसकी सिसकारियां निकलने लगी।चूत के पानी से लंड गीला हो गया मैंने उसके होंठों को बंद करके जोर का धक्का लगाया. फिर लंड की चमड़ी को नीचे किया और जीजू के लंड के गुलाबी टोपे को बाहर निकाल लिया.

मैंने उनको रोकना चाहा … लेकिन उन्होंने मुझे बेड की तरफ पीछे को धक्का दे दिया और मेरी गर्दन पर किस करने लगे. मतलब ये कि साड़ी ब्लाउज पहनने से मेरे बदन का कमर तक का ज्यादातर हिस्सा साफ़ दिखता है.

सच में सरिता भाबी के मम्मों को देख कर कोई भी मर्द उनका रस पीने को बेक़रार हो जाए.

मैं नंगा था, मैंने उसी हालत में गेट खोला और खुद को ऐसे सैट किया कि मैं गेट के पीछे था और मेरा सर, हाथ और लंड साफ दिख रहे थे. पीयूष रुका नहीं, उसने एक और झटका दे दिया और उसका पूरा लंड उसकी बहन की बुर के अन्दर चला गया. फिर जैसे ही भाबी की नजर इस पर पड़ी तो उसको घुड़सवारी का मौका दे दिया.

सेक्स बीएफ खुला सेक्स उसमें मैंने पढ़ा कि सेक्स की भूख मिटाने के लिए हर तरह का मर्द उपलब्ध था. उसकी आंखें तो ऐसी हैं कि एक बार नजरें मिला कर बात कर ले, तो कोई भी मर्द उसका दीवाना हो जाए.

मैंने आपका वो देखा था, जो मुझे बड़ा दिखाई दे रहा था और आपकी जेब से चाची की ब्रा का थोड़ा सा हिस्सा दिख रहा था. मगर चूत से पानी रिसते हुए नीचे जा रहा था, तो भरोसा हुआ कि लंड पेलने के लिए रास्ता है. फिर उस कोन को उल्टी तरफ से, जो अब सीधी तरफ हो गया था, उस तरफ से आंटी पहले कोन काट काट कर आइसक्रीम खाने लगीं.

अंजनी सेक्सी

कुछ ही पलों के बाद शेखर धीरे से नीचे सरक गया और उसकी साड़ी और पेटीकोट को ऊपर उठा कर अपना मुँह उसकी चूत के पास लगा दिया. मैंने बोला- क्या मुझे आप इसके कुछ फ़ोटो और भेज सकती हैं? अगर अच्छा लगा … तो मैं कल आकर ले जाऊंगा. वो बोलीं- तुमको कोई गर्लफ्रेंड मिली कि नहीं?मैंने ना में सिर हिलाया.

फिर मैंने अपना पूरा लंड बाहर निकाल कर एक ही झटके में उसकी चूत में डाल दिया और तेज़ी में चोदने लगा. चाची और उनकी बेटी को मालूम था कि मैं उन दोनों को चोदता हूँ मगर उन दोनों को इससे कोई दिक्कत नहीं थी.

दोस्तो, आपको मेरी ये देसी गांड सेक्स कहानी कैसी लगी, कृपया अपने सुझाव मुझे मेल करके जरूर बताएं.

उसने मुझे वहां के बारे में बहुत कुछ बताया और कई सारी सलाह दीं।एक महीने के बाद मेरे जाने का समय हो गया था. मैं अपनी बेहन की टांगों में बीच में आ गया और उसकी चुत पर लंड सैट कर दिया. इंदौर के इस एक कमरे के घर में मैं औऱ बहन ही थे, खाने पीने का सब इंतजाम था … लेकिन बीवी की कमी थी.

देर ना करते हुए मैंने लंड उसकी चूत के मुख़ पर सैट कर दिया, पूजा के मम्मों को जोर से पकड़ लिया और जोरदार झटका दे दिया. इस तरह मैंने अपने कज़िन भाई के साथ देसी गांड सेक्स किया, उसकी मारी और अपनी भी मरवाई थी. मेरी बीवी ने कहा- इधर टॉयलेट कहां है?मैंने बताया कि मेला कमेटी ने टॉयलेट बाहर की तरफ बनाए हैं मुझे भी जाना है मैं अनुराधा के साथ चला जाता हूँ.

वो बोली- नहीं यार … लेकिन हम दोनों शादीशुदा हैं, हमारा ये सब करना ठीक नहीं है.

दूसरा बीएफ: वो बेहद मदहोश होते हुए पागल हो गयी थी।मादकता में उसकी सिसकारियों का शोर बढ़ रहा था। उसकी बांहों ने मेरे सिर को जकड़ लिया. उस रात मैंने 5 बार यास्मीन की फ्री चुदाई का मजा लिया और उधर ही सो गया.

’ वाला गाना लगा दिया और मुझे अपने साथ डांस करने के लिए आमंत्रित किया. मैं उनकी गोद में लेट गया तो भाभी बात करते हुए मेरे सिर में हाथ फेरती रहीं. [emailprotected]औरत की चुदाई कहानी का अगला भाग:मेरे यार के लंड की महिमा अपरम्पार- 2.

अब मुझे कुछ समझ आने लगा था और मेरे बदन में चीटियां सी रेंगने लगी थीं.

मैंने एक रात उसे चोदते हुए उससे पूछा- राज की याद आ रही है क्या … जो रोजाना चुत चुदवा रही हो. अब मैं चाहता हूँ कि कोई जवान और हैंडसम लड़का मेरी बीवी को मेरे सामने चोदे. मैंने अब परिणाम की परवाह किये बिना अपने होंठों को दीदी के दूधों पर कस दिया और मुंह लगाकर दीदी के बूब्स को पीने लगा.