सैक्सी बीएफ

छवि स्रोत,বুলু ফিল্ম সিনেমা

तस्वीर का शीर्षक ,

செஸ் மோவிஸ்: सैक्सी बीएफ, मामी- आप मुझे वीडियो कॉल करो, पहले मैं आपको देखूंगी … पर खुद को नहीं दिखाऊँगी.

हॉट सेक्सी मॉडल

तो उसने कहा कि बाजार में उसका रूम है, वहाँ कोई नहीं आएगा।फिर मैंने उनको रूम पर चलने को बोला।20 मिनट बातें करते करते हम उसके रूम पर आ गये। चाचा के लड़के ने हमें रूम की चाबी दी और बोला कि वो एक घण्टे बाद आएगा।हम रूम में आ गये। रूम में आ कर उसने अपना घूंघट हटाया. जानवर लड़कियों की सेक्सीबाद में मैंने देखा कि मशीन में पड़ी उस पैंटी पर उसके लंड का माल लगा हुआ था और उसके लंड के माल की खुशबू भी आ रही थी उसमें से!फिर अगले दिन मैंने वही किया.

माय हॉट सिस सेक्स स्टोरी एक लम्बी चौड़ी चूत और लंड की घिसाई से फूली हुई गांड की तरह बहुत बड़ी है। इस कहानी को समझने के लिए पहले आप इसके पात्रों को जानें. सेक्सी स्टोरी चुदाई कीदोस्तो, मेरे दामाद को अपने सीने से लगाने से मेरी चुत में चुलबुली होने लगी थी.

पंजाबन की कुंवारी चूत चूसते हुए मुझे जो मजा उस वक्त मिल रहा था वो मैं यहां शब्दों में नहीं बता सकता.सैक्सी बीएफ: उसके दचकों की आवाज हमारे कानों में भी आ रही थी जो तनु और मेरी उत्तेजना को भी बढ़ा रही थी.

उसके बाद भी मैंने अपने बच्चों को बड़े ही प्यार से पाला, उन्हें किसी भी चीज की कमी नहीं होने दी.पौने नौ बजने के कुछ ही पहले किसी ने दरवाजे पर नॉक किया तो मैं समझ गया कि वही एस्कॉर्ट होगी.

देवर और भाभी का सेक्सी व्हिडिओ - सैक्सी बीएफ

ऐसे में मजा तब और बढ़ जाता है जब सामने वाली ब्याहता भी चुदाई की प्यासी हो.सही समय पर जहाज टेक ऑफ कर गया और कुछ ही मिनटों बाद हम धरती से बहुत उंचाई पर हवा में थे.

वो मुझे किस किये जा रही थी और मेरे हाथ उनके पूरे शरीर पर घूम रहे थे. सैक्सी बीएफ उसके साथ दिनभर बैठ कर लड़कियों वाले प्रोग्राम और सास बहू वाले सीरियल्स भी देखा करता था.

मैं समझ गया कि चूत शेव करने के बाद किरण ने परफ्यूम्ड क्रीम मली होगी.

सैक्सी बीएफ?

जब उसे चुत चोदने मिल जाएगी तो वो बिना किसी वजह से मेरी बेटी से झगड़ेगा भी नहीं. उसको देखकर किसी बूढ़े का भी लन्ड भी जवानी पर उतर जाए।लखविंदर और धर्मपाल ने दो दिन बाद मिलने का वादा किया और वो दोनों अपने अपने घर चले गए।दोस्तो, आपको यह मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी. दो मिनट के अंदर ही कल्लू अनु को नंगी कर चुका था और खुद भी नंगा हो चुका था.

वो भी लंड के धक्के चूत में लगाते हुए बोला- हां साली चुदक्कड़… तेरी चूत को मैं पहले दिन से चोदने का मन बना चुका था. वो दोनों मेरी सौतेली मां की चुदाई कर उसकी बुर और गांड का भुर्ता बना रहे थे. उससे बात करते टाइम मैंने देखा कि माया भी काफी खुश और एक्साइटेड लग रही थी.

फिर वो पीठ पर मसाज करने लगा लेकिन मेरी ब्रा के हुक आ रहे थे बीच में तो वो नीचे कमर पर मसाज देने लगा. फिर मैंने बचे खुचे कुछ धक्के उसकी चूत में और मारे कि चुदाई के आनंद के अतिरेक से मेरी आंखें मुंद गयीं और लंड से रस की फुहारें बरसने लगीं. अगले दिन मैं काम पर जाने लगा तो रसोई में रुबीना बाजी और मां खाना बना रही थी.

मैं बोली- अब तू भी मेरी चूस … मैं साथ साथ तेरी बुर चूसती हूँ।तो वो धीरे धीरे से मेरी गर्म बुर चूसने लगी।मैं भी अब मस्ती में आ गई और अपनी बहन की बुर को जोर जोर से उंगली से रगड़ कर चूसने लगी. चलने लगे तो थोड़ी दूर चलने के बाद मौसी ने मुझसे पूछने लगी- तुम्हारी शादी हो गई है क्या?मैंने कहा- नहीं मौसी.

मुझे मज़ा आ रहा है! रुको मत!तो मैं 69 में हो गई और अपनी टांग चौड़ी कर दी।मेरी गांड फैल गई और बुर तनु के मुंह के पास आ गई.

मेरी मां को भी कभी कभी किसी मर्द के नीचे पिस जाने का मन करता था … पर वो डरती थीं कि कहीं कोई उनको परेशान न करने लगे.

अब आप लोग मेरी सहायता कीजिए … मैं क्या करूं, जिससे मेरा बेटा मुझे मिल जाए. मैंने दीदी के बूब्स को दबाना शुरू कर दिया और उसकी चूत में उंगली से चोदने लगा. जैसा कि उम्मीद थी, थोड़ी देर में टी टी एक नये आर पी एफ के जवान के साथ आ धमका और मेरे शौहर से टिकट मांगा.

वरना ये डर जाएगी और मम्मी को बता दिया तो मम्मी मेरी गांड तोड़ देंगी।अब मैंने उसकी चोली में से लाल वाली उठाई और उसे पहनाने लगी।फिर पीछे से हुक बंद कर दिए. अब ज़ोहरा आपा को लेकर अम्मी और अब्बू के बीच घर में झगड़ा नहीं होता था. फिर कुछ दिन बाद शनाज़ की डेट नहीं आई तो उसने मुझे अम्मी को ये बात बताई.

भाभी- देखो, मैं तुम्हारे सामने हाथ जोड़ती हूं कि मेरी चुत में जो खुजली होती है, इससे मैं तंग आ चुकी हूं.

मेरा इतना कहना था कि उसने मेरा लंड पकड़ कर अपनी गुलाबी चूत पर टिकाया और बोली- चीकू, कर दे मेरी मुराद पूरी … मैं भी तुम्हारे इस लंड से चुदने के लिए बहुत तरसी हूं. धीरे धीरे मैं चुदाई करता रहा, उसको चूमता रहा, उसकी चूचियों को दबाता रहा।कभी बीच में उसको किस करने भी लग जाता था।नीचे से मैं अपने धक्के धीरे-धीरे लगाता रहा।उसको मजा आने लगा और वह भी अपनी गांड को थोड़ा-थोड़ा नीचे से चलाने लगी।जब उसको चुदते हुए दो तीन मिनट हो गये तो बोली- अब थोड़ा तेज तेज करो, अब अच्छा लग रहा है।उसकी चुदास बढ़ते ही मैंने भी स्पीड बढ़ा दी. कोई 35 मिनट लगातार उसकी गांड चोदने के बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया.

मैं पहली बार स्खलित हुई और मुझे ऐसा आनंद मिला कि मुझे इसकी आदत सी लग गयी. मगर जैसे ही उसे आहट हुई कि मैं बाहर आ रही हूं तो उसने फोन एक ओर रख दिया और टीवी को चेक करने का नाटक सा करने लगा. कुछ पल बाद मैंने अपनी अंडरवियर भी उतार दी और वो मेरे लंड को देखते ही बोली- ओ मर गई … ये तो बहुत मोटा और लम्बा है … मुझे नहीं होगा.

मैंने कई बार डिम्पी की चुदाई उसके घर में ही की थी और सोनू इस बात को जानता था इसलिए कोई परेशानी वाली बात नहीं थी.

अमन अपना हाथ नीचे ले जाकर मेरी चूत मसल रहा था और मैं अमन का लंड हिला रही थी. पिछली बार कानपुर गया था, तो वहां मात्र कुछ मिनटों के लिए हेमा चाची से मुलाकात हो पाई थी.

सैक्सी बीएफ मेरे मन में भी अब जवानी की हिलोरें उठने लगी थीं और ऐसा लगने लगा था कि कोई मुझे रगड़ कर चोद दे. उनको कहां छोड़ें? वो किसके साथ रहेंगे? अगर किसी के पास छोड़ेंगी, तो पति भी शक करेगा.

सैक्सी बीएफ मेरा छोटा भाई तो थक कर सो गया था, मुझे मालूम था कि वो सुबह तक नहीं उठने वाला था. फिर वो चिल्लायी- क्या कर रहे हो? दिख नहीं रहा मैंने कपड़े नहीं पहने.

बाबूजी को मेरी जांघें तो दिख रही थीं लेकिन करवट लेकर लेटे होने के कारण ससुर जी को मेरी चूत नहीं दिख रही थी.

ई-मेल का सेक्सी बीएफ

जब वो फिर से गर्म हो गयी तो उसने मुझे दोबारा से लंड डालने के लिए कहा. मैंने मुग्ध भाव से चूत को निहारा और उसके होंठों को बरबस ही चूम लिया. ठकुराईन ने खांसने का नाटक किया, तो बलदेव को होश आया और उसने अपनी सास का हाथ छोड़ दिया.

चुत को फिर से थोड़ा प्यार से मसला और उनकी चूत में अपना मूसल फिट कर दिया. जब हॉस्टल की दुनिया से बाहर अपने गांव में आया, तो मैंने इधर एक लड़की को पटा लिया और उससे बातें करने लगा. पर मैं कहा मानने वाला था … मैंने उसके होंठों पे होंठ रखकर उसके मुंह को बन्द कर रखा था ताकि वो चिल्ला न सके।थोड़ा सा इंतजार करके मैंने संगीता को जोर से अपने हाथों से जकड़ कर एक और जोरदार झटका उसकी चूत में मारा.

यार तेरी चूत इतनी टाइट कैसे है, लगता ही नहीं कि तू शादीशुदा है और एक बच्चे की माँ है?” मैंने उसके दूध मसलते हुए कहा.

वहां पर चाची के भाई की बीवी सुरभि, जो 23 साल की एक कमसिन जवानी थी, पर मेरी नजर गयी. फिर आराम से हल्के हल्के घूंट चुसकने लगा और टीवी ऑन करके हिंदी न्यूज़ चैनल्स तलाशने लगा. झड़ने के बाद मैं हाथ पैर फैलाये चित पड़ा था लेकिन हेमा चाची अपनी चूत के ऊपर हाथ रख कर हल्का हल्का दबा रही थीं.

देखती हूँ, बाबूजी कब तक पहल नहीं करते? जवान हिरनी सामने देखकर शेर शिकार न करे, यह तो हो ही नहीं सकता. मैं आज जो कहानी आपको सुना रहा हूं वो एक पाठिका से हुई बात के बाद लिखी है।उसने अपने जवान होने के दौरान कैसे अपनी बहन की न्यू चुत के साथ सेक्स का अनुभव किया और कैसे एक लड़की जवान होती है, वो सब मुझे बताया. फिर एक बार मेरी चूत को अपने थूक से गीला करके अपना लन्ड ठेलने लगा।अबकी बार जब मैं चिल्लाई तो सागर ने मेरी पैंटी मेरे मुंह में ठूँस दी.

तो वो अब अपनी चोली को बार बार हाथ लगा कर देख रही थी।नया सा लग रहा था तनु को!पर मैं तो उस अप्सरा सी सुंदर बहन का जिस्म देख कर पागल हुई जा रही थी।तभी मम्मी ने आवाज लगाई. वो मेरी तरफ गुर्रा कर देखने लगीं, तो मैंने उनकी चुची को पकड़ कर मसल दिया और सोने को कहा.

लेकिन मुझको एक बार में पूरा पैग पीना पड़ा … क्योंकि वहां सब लोग घर के भी थे. मैं एक दिन अपने पति को लेकर डॉक्टर के पास भी गई थी और कुछ दवाई भी लाई थी. मनजीत सभी के लिए कोल्ड ड्रिंक ले आई और हम बैठ कर कोल्ड ड्रिंक पीते हुए बातें करने लगे.

अरमान भी मेरे घर वालों से इतना अधिक घुल-मिल गया था कि हम लोग उसे घर का सदस्य मानने लगे थे.

क्योंकि 7 साल से मैं चुदी नहीं थी तो उन दोनों की इस हरकत से मैं एकदम पागल सी होने लगी. चूसते चूसते मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसकी चूत के अंदर उंगली करना चालू किया. मन कर रहा था कि उसकी चड्डी को उतार कर उसकी चूत में लंड को घुसा दूं लेकिन मैं जल्दबाजी नहीं करना चाह रहा था.

मुझे पता था कि जो भी करना है, मुझे ही करना है … क्योंकि आकांक्षा शर्मा रही थी. मैंने थोड़ी क्रीम लगा आकर जैसे उसकी गांड में मेरा लंड डाला, तो वो चिल्लाने लगी कि उधर नहीं … उधर से बाहर निकालो, मैं मर जाऊँगी … आन्ह दर्द हो रहा है.

शायद उन्हें लगा होगा कि मैं गहरी नींद में हूँ इसलिए बड़ी मम्मी जी बिंदास होकर अपनी चुत और चूचियां दिखा रही थीं. यहां अगर कोई माता पिता इस कहानी को पढ़ रहे हैं, इस बात पर ध्यान देने योग्य है कि अपने बच्चे पर हमेशा विश्वास करें … और खासकर अगर आपका बच्चा कोई किसी की गलत हरकत की शिकायत कर रहा है. उसके बाद भाभी ने मुझे नीचे ही लिटाए रखा और मेरे लण्ड को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया.

सनी लियोन हॉट बीएफ वीडियो

मनजीत की चुत भी साथ में ही सिकुड़ने खुलने लगी और वो दूसरी बार झड़ गई.

मैं तड़प उठी लेकिन उसने मेरे मुंह पर हाथ रख दिया और मुझे चुप कराने की कोशिश की. गुड नाईट!”अगले दिन शाम को …अगले दिन मैं अपनी कॉन्फ्रेंस से फ्री होकर साढ़े चार बजे ही मंजुला के ऑफिस जा पहुंचा. देव अंकल- तुम दोनों बात करो … मैं बाजू वाले रूम में आराम करने जा रहा हूँ.

मंजुला ने अपने एटीएम कार्ड से सब बिल्स पे कर दिये फिर मैंने फ्रिज को रसोई में और टीवी को उसके बेडरूम में इनस्टॉल करवा दिया. उनकी बातों से मुझे मालूम चल गया था कि पहली बार की चुदाई में काफी दर्द होता है मगर पहली बार चुदाई करने वाला कोई अनुभवी चुदाई करने वाला हो तो चुत काफी आसानी से खुल जाती है. സെക്സ് പടംमाँ कसम यारो … उनको चोदने में जितना मजा आया, उतना तो मेरी गर्लफ्रैंड को चोदने में मजा नहीं आया और ना ही मेरी गर्लफ्रैंड की दोनों मामी और उसके एक विधवा बड़ी माँ (मेरे गर्लफ्रैंड की माँ की बड़ी बहन) को!मैं आप लोगों को एक बात बता दूँ कि उसकी फैमिली की सभी लेडिस बहुत चुदक्कड़ हैं। जब मैं थर्ड ईयर में बाहर में रहता था तो वो मेरे साथ हर रात बिताती थी.

अब उसने मां को नीचे पटक लिया और उसकी टांगें फैलवाकर खुद उसकी टांगों के बीच में आ गया. मैंने उसे जफ्फी डाल ली और हल्के हल्के से हाथ उसके हाथों में ले लिया.

फिर अचानक से भाभी ने करवट बदल ली, अब मेरे पैर उनकी चुचों से लग रहे थे. मैंने बुआ से उनकी उदासी का कारण पूछा तो उन्होंने कहा- कुलजीत, तेरे बिना मेरा मन नहीं लगेगा. फिर मुझे ध्यान आया कि इसके अंदर तो बहुत चुदास होगी; तभी तो इसने अपने जीजा से ही शादी कर ली.

आगे उसने बताया कि उसके मायके की आर्थिक स्थिति खूब अच्छी है, चालीस एकड़ में खेती होती है. अगले ही पल मैंने दीपू की चड्डी पूरी उतार दी और उसे जोर से पकड़ कर अपनी छाती से सटा लिया. इससे मेरी मम्मी की चुत का छेद बार बार बंद तथा खुलता हुआ दिखने लगा था.

कुछ ही देर जंग चली होगी कि तभी एक जोर की कंपन के साथ मंजू फिर से उछल पड़ी और रस का छिड़काव कर बैठी.

मैंने सोचा कि अगर आप लोगों को सही लगे तो मैं अपनी बेटी को आपके यहां छोड़ कर आराम से निश्चिंत होकर चला जाऊंगा. फिर हमने हमारे लिए एक डिल्डो (नकली का लंड) भी ऑर्डर किया ताकि एक एक करके हम दूसरे को संतुष्ट कर सकें.

[emailprotected]ओपन चुदाई कहानी का अगला भाग:मेरे चोदू यार का लंड घर में सभी के लिए- 5. गर्लफ्रेंड सिस्टर सोनाली के बारे में तो हम जैसे भूल ही गये थे कि वो भी हमारी बगल में ही बैठी हुई है. मेरी मम्मी ने भी अपनी चुत को एक कपड़े से पौंछा और कपड़े पहन कर सो गईं.

हालॉंकि मेरी पैंटी तो रोजाना ही गीली होती थी तो सबसे पहले मैं अपनी चूत को शान्त करती उसके बाद कहानी में दिए गए मेल आई डी मेल करना; ये मेरा रूटीन वर्क बन गया।जब मैंने कोमलप्रीत कौर को मैंने उनकी कहानी में दी हुई आईडी पर मैंने मेल किया तो मेरे पास मेल का जवाब मेल पर ही आया. फिर तो ये हाल हो गया था कि जब मौका मिलता, वो मुझे चोद देते और मैं भी उनकी और उनके लंड की दीवानी हो गई थी. मेरे शरीर की तरह ही मेरा सामान भी तगड़ा ओर मोटा है। कोई मस्त भाभी देखते ही 7 इंच का लंबा मोटा हो जाता है।मेरी एक सेक्स कहानीमेरी प्यारी भाभी की चूत चुदाई की कहानीपहले भी इस फ्री सेक्स कहानी साईट पर आ चुकी है.

सैक्सी बीएफ फिर उसने मेरे ऊपर बैठते हुए अपनी चूत मेरे होंठों पर रख दी और मेरे मुँह के ऊपर बैठ गयी।मैं तो पागल सा हो गया. उनका नाम बताया मैंने तो उसने फिर लिस्ट देखा और कहा- इस नाम से भी कोई आदमी नहीं है.

बीएफ वीडियो सेक्सी नई

उसने अपने खूबसूरत गोरे बदन पर केवल तौलिया लपेटा हुआ था जिसमें उसके बड़े बड़े चूचों का ऊपर का हिस्सा दिखाई दे रहा था. जब सरिता नॉर्मल हुई, तो मैंने उसके आंसू साफ किए और उसको माथे, आंखों पर किस करने लगा. मैंने पापा के हाथ पर रख लिया और उनका सख्त हाथ छूकर मेरी चूत में कुछ अच्छा लगने लगा.

कॉलेज में मेरी पहली चुदाई की कहानी आपको पसंद आई हो तो मुझे अपने मैसेज के जरिये जरूर बतायें. फिर शराब के नशे में मस्त होकर एकाध ब्लूफिल्म देखते हुए अपनी बुर में उंगली करके ही सो पाती थी. कार्तिक सेक्सी वीडियोवो मेरी चूची को बार बार दबा रही थी तो मुझे मज़ा आ रहा था।तनु बोली- दीदी, मुझे तो ब्रा पहननी भी नहीं आती.

उसकी दोनों टांगें फैला कर जैसे ही मैंने मेरा टोपा अन्दर डाला, तो लंड चुत में नहीं गया … फिसल गया.

अब वो रोने लगी और चिल्लाने लगी- उई माँ … आआ … आह्ह … ऊईई … नो हह्ह … मर गई. पांच मिनट बाद मैंने दीदी को डॉगी स्टाइल में किया और पीछे से ज़ोर से लंड पेल कर चुत के अन्दर बाहर करने लगा.

नीचे से मैं गरिमा की चूत चाटने लगा और उधर सोनाली मेरे सिकुड़ते लंड को फिर से मुंह में लेकर चूसने लगी. सच में मॉम की चुत के रस की बड़ी मस्त महक आ रही थी; उनकी चुत से रस टपक रहा था. पर मैंने कुछ कहां नहीं और अगले दिन आने का कह दिया कि मेरे छोटे भाई की पत्नी यहां एक सरकारी ऑफिस में अधिकारी पद पर नियुक्त हुई है और सिर्फ उसे ही अपने छोटे बच्चे के साथ यहां रहना है, कल वही आकर देख के फैसला करेंगी.

पर मैंने उस टाइम ऐसा वैसा कुछ भी नहीं सोचा था कि उससे बात होगी या कुछ और होगा.

कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और उसकी मैक्सी उसकी चूचियों तक चढ़ा दी. शनाज़ की एक गलती की वजह से हम दोनों भाई बहन की मुहब्बत का राज हमारे बड़ों के सामने खुल गया. जिसकी वजह से उनके काफी ज्यादा क्लीवेज दिख रहे थे।वो दोनों कुछ बात कर रहे थे.

सेक्सी स्पेशल वीडियोफिर एक दिन मैंने सोचा कि अब तो मैं नौरीन को सारी बात बता कर उसे मनाकर ही रहूंगा। तभी मेरी छोटी सगी बहन की शादी का भी वक़्त आ गया. मेरी मां की चौड़ी गांड देख कर तनु ने हम मां बेटे की चुदाई देखने की इच्छा जाहिर की.

सेक्सी बीएफ खुलम खुला

फिर उसने कहा- मैंने कभी बियर के अलावा कुछ और नहीं पिया है … इसलिए ध्यान रखना कहीं कुछ उल्टा सीधा ना हो जाए और हम दोनों का दिन और मूड दोनों ही खराब हो जाए. तभी मुझे पता चला कि ये तो मेरी भाभी गर्लफ्रेंड है जिसे मैं चोद चुका हूँ. वो तब तक उसके मुँह को चोदता रहा, जब तक रोहन उसका सारा वीर्य पी नहीं गया.

मैंने पूछा- तो किससे चुदने में मजा आया? वो ज्यादा अच्छे से चोदता है या मैं चोदता हूं?आयज़ा- उसका इतना बड़ा नहीं था. ऐसी बहुत कम कहानियां देखने को मिलती हैं जिनको हम एक से अधिक बार पढ़ने की इच्छा करें. मेरी पिछली कहानी थी:ममेरी सास और उसकी नवविवाहिता पड़ोसनयह मस्तराम हिंदी सेक्स स्टोरी एक दिलचस्प स्टोरी है.

भले ही मेरे पास सिर्फ दो तीन दिन का ही समय था और मंजुला को चोद पाना असंम्भव ही था, पर प्रयत्न करने में क्या हर्ज था?मंजुला की चूत में उतरने के लिए पहले उसके दिल में उतरना जरूरी था और शिवांश इसके लिए उपयुक्त कड़ी था यही सोच कर मैंने उसके लिए चाकलेट और खिलौने खरीदे थे. मुझे रात वाला सीन याद आ रहा था तो मैं अपनी चूत में उंगली करके सो गई. मैंने कहा- मेरा एक कज़िन एकता कपूर की कम्पनी में असिस्टेंट डायरेक्टर है, मैं उससे बात करता हूँ.

इधर ज़ोहरा आपा अपनी चुदाई की थकान मिटा कर एक घण्टे बाद नीचे आयी और खुशी खुशी मेरी बीवी से बात करने लगी. दीदी ने बोला- आज रात को मूवी देखें?मैंने बोला- कल पेपर है दोनों का.

मैंने जल्दी से बाइक स्टार्ट की, आकांक्षा को बिठाया और वहां से आ गया.

मेरी बीवी ने दारू का ग्लास हाथ में ले लिया और उसमें अपना निप्पल डाल दिया. ലൈല മജ്നുमैंने अब अपनी उंगली से उसकी चुत को छेड़ा, तो आकांक्षा ने फिर मेरी तरफ देखा. हिंदी में सेक्सी का वीडियोउन्होंने जोर जोर से शोर मचा दिया जिससे रुबीना शर्मा गई और दूसरे कमरे में चली गई. मुझे बेपर्दा तो कर ही लिया आपने अब जो करना है जल्दी निपटा दीजिये; शिवांश की नींद टूट रही है, वो जाग जाएगा!” वो भयंकर चुदासी होकर मेरा हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचती हुई बोली.

इसलिए मेरे पास ज्यादा पैसे नहीं बचे थे और मैं एक दो बीएचके वाले फ्लैट में रह रहा था, वो भी किराये पर।डिम्पी के लिए मैंने और सोचा.

और जब शिवांश सो गया तो उसने थोड़ा मेरी तरफ खिसक कर अपनी एक टांग ऊपर उठा ली और मेरे ऊपर से निकालते हुए बेड पर रख ली जिससे उसकी चूत पूरे शवाब में आकर मेरे लंड के निशाने पर आ गयी. लड़के के जिस्म से बिल्कुल अलग।अब प्रियंका मेरी गर्दन और गले पर चूमने लगी और उसके होंठों का चुम्बन मुझे अच्छा लगने लगा।वह चूमते हुए मेरी छाती तक पहुंची और मेरे चूचों को ऊपर से चूमने लगी।मेरी चूत में पानी आने को हो गया था. जैसे ही वो नॉर्मल हुई मैंने एक जोरदार झटका दिया और लंड 4 इंच तक अंदर चला गया.

उसे घर पर लाते ही मैंने पहले अन्दर से दरवाजा बंद किया और निधि की तरफ घूम गया. मैं बोली- देख लिया कि पानी कैसे निकलता है?तो वो बोली- दीदी, मेरा भी निकला क्या?मैं बोली- हाँ, तेरा पानी भी निकाल दिया मैंने!वो बोली- दीदी, मुझे भी लगा कि मेरी बुर में से कुछ बह रहा है।अब मैंने कहा- तनु, एक बार और पानी निकलेगी?तो वो बोली- दीदी मुझे तुम्हारे ऊपर लेटना है. बूढ़ी औरत ने कोई तावीज आपा को बांधा था और एक मजार पर किसी पीर औलिया की सेवा करने को कहा था.

वीडियो बीएफ सेक्सी फोटो

मेरी तेज चुदाई से हेमा चाची की आंखों में आंसू आ गए, तो मैंने अपनी स्पीड थोड़ी कम कर दी. बड़े सलीके से बंधी साड़ी को मैंने धीरे धीरे किरण के शरीर से अलग किया, फिर उसका ब्लाउज और पेटीकोट उतार दिया. मौसी ने मेरी शर्ट उतार कर मेरी छाती को नंगी कर दिया और मेरी छाती को चूमने लगी.

जब आधे घंटे बाद हम दोनों उठे, तो मैंने देखा कि मेरा लंड उसकी बहन अपने हाथ में लेकर सहला रही थी.

उसने चुपके से कमरे का दरवाजा बंद किया और जाकर बेड के पास पहुंच गया.

मैं जब भी अपनी पत्नी चुदाई करता तो मैं यह सोच कर ही चोदता था जैसे कि नौरीन को चोद रहा हूँ. बुआ को लगा होगा कि ये मेरी पहली चुदाई है, मैं ज़्यादा देर तक नहीं टिकूंगा. अंडरवियर सेक्सी पिक्चररात को मैं अकेले में खड़ा था तो मामी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- दिन में तुम बाथरूम में क्या करके आये थे?उनके इस सवाल पर मैं अचंभित रह गया.

बड़े पापा- हां मेरी जान, तेरी चुत का पानी जो मिलता है इसे!उसके बाद लंड चूसना शुरू हुआ. अक्षय मूवी के गर्म सीन देख कर जोश में आ गया और मेरे जिस्म को देखने लगा. मेरे लंड में आज भी इतना दम है कि एक बार किसी औरत को चोद दिया तो वो अपने पति की चुदाई भूल जाती है.

दूसरा अटैची लगा कर मेरी कमर के पास बैठ गया और मेरे दोनों स्तनों को अपने हाथों में ले लिया. जिसकी वजह से उनके काफी ज्यादा क्लीवेज दिख रहे थे।वो दोनों कुछ बात कर रहे थे.

पहले कंधे और फिर चूची पर!तो वो बोली- दीदी, चूची पर क्यों कर रही हो?मैं बोली- अरे चूची पर ही तो पहननी है.

वो जोर जोर से चूत को सहलाते हुए दूसरे हाथ से मॉम की पीठ को भी सहलाने लगा. इसके बाद मैंने निधि को अपनी गोद में कुछ इस तरह से उठाया कि उसकी चूत मेरे लंड पर आकर टिक गई. हम दोनों गिर गए और एक दूसरे को संभालने के चक्कर में वो मेरे ऊपर गिर गई.

सेक्सी वीडियो 88 अब मैं उसे पटाने का प्लान बनाने लगा और शायद भगवान ने जल्दी ही मेरी सुन ली. ब्रा खुलते ही उसके बूब्स आजाद हो गए और अपने भरे पूरे रूप में मस्ती से फुदकने लगे.

मैंने श्वेता के सिर को पकड़ लिया और उसके मुंह को तेजी से चोदने लगा. बाजी बोली- जान बच गई; वर्ना मुझे तो लगा कि ये साली किसी के सामने अपना भोसड़ा खोल देगी तो अब्बू हम दोनों को जान से मार देंगे।मैंने कहा- बाजी, राबिया के बारे में सोचो कुछ वर्ना ये कहीं गलती से भी मुंह खोल गई तो मामला गड़बड़ हो जाएगा।बाजी बोली- कुछ नहीं होगा. जब ज़ोहरा ओर शनाज़ का पेट फूल कर आगे निकलने लगा तो शनाज़ की अम्मी ताहिरा मौसी शनाज़ को अपने घर ले गई.

मां बेटे की बीएफ चुदाई वीडियो

उस समय वासना के वशीभूत होने के कारण उस आदमी को सेक्स के अलावा कुछ भी नजर नहीं आ रहा था. उसने कहा- क्या? मतलब क्या नहीं समझ पा रही हूं मैं?मैंने कहा- देखो, मैं तुझसे बहुत प्यार करता हूँ और तुझे पाना चाहता हूँ और तुम्हारे साथ प्यार करना चाहता हूं. मैंने प्रीति को घोड़ी बना दिया और उसके पीछे जाकर उसकी चूत में अपना लण्ड पेल दिया.

फिर एक बार मेरी चूत को अपने थूक से गीला करके अपना लन्ड ठेलने लगा।अबकी बार जब मैं चिल्लाई तो सागर ने मेरी पैंटी मेरे मुंह में ठूँस दी. यहां की रसीली कहानियां पढ़ कर मेरे मन में भी एक तरंग उठती कि मैं भी अपना इकलौता सेक्स एडवेंचर लिखूं!बड़ी हिम्मत करके कोरोना काल का सदुपयोग करते हुए यह सच्ची सेक्स वासना कहानी पिछले सात आठ माह से थोड़ी थोड़ी लिख रहा था जो अब जा के पूर्ण हुई है.

मैं जब भी प्रीति से उसकी तीसरी बेटी हनीप्रीत से मिलवाने की बात करता, वो टाल जाती.

वो मस्ती में मेरे लंड को चूस रही थी और फिर एकाएक मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी निकल कर उसके मुंह में गिरने लगी. थैंक्स टू यू टू फॉर आल दैट प्लेजर यू गेव मी!” वो भी मेरी छाती चूमते हुए बोली. मैं भी उनके पीछे ही चल दिया।नीचे आकर बाजी टॉयलेट में घुस गई तो राबिया बोली- इमरान, मुझे पता है कि तुम्हें अजीब लगेगा, मगर मैं तो रोज़ तुम दोनों को चुदाई करते देखती हूं.

एक दिन की बात है कि मैं अपनी छत पर सबसे ऊपर वाले कमरे में बैठा हुआ था. लेकिन एक बात मैं कहूंगी कि उसकी पैंट में उसका लंड मैंने तनाव में कई बार देख लिया था. मैं समझ ही नहीं पा रहा था कि अपनी गर्लफ्रेंड डिम्पल को पहली बार कैसे अकेले में मिल सकूँ.

मैं उलटे पैर वापस बाहर आ गया और सोचा पता नहीं वो क्या सोच रही होगी.

सैक्सी बीएफ: मेरी रिजर्व बर्थ होने के बावजूद मुझे अपनी बर्थ तक पहुंच पाने का अवसर बड़ी मुश्किल में मिल सका. खैर … वैसे ही करते करते हम दोनों शिमला पहुंच गए, वहां उसके चाचू उसे लेने आए हुए थे.

कुछ देर के बाद चाची चाय लेकर मेरे रूम में आई और बोली- रात को मेरी चूत को पेले बिना हो सो गये तुम!मैंने चाची की गांड को मसलते हुए कहा- मेरी रंडी, मैं तो तुम्हें ही पेलने के लिए गांव आया हुआ हूं. मेरे जेठ की जवानी भी ढल गयी थी मगर अब घर में कई जवान बच्चे हो गये थे. उसने जल्दी ही हमारा स्कूल भी बदलवा दिया और हमें प्राइवेट स्कूल में दाखिला दिला दिया.

मेरी चुत अमन का लंड खा रही थी और ऊपर में अमन के हाथों से खाना भी खा रही थी.

पर वो कहते हैं ना कि अगर आप किसी चीज़ को शिद्दत से चाहते हो, तो पूरी कायनात उसे पूरा करने में लग जाती है. उसने कहा- बस देखना चाहते हो?मैंने कहा- एक बार दिखाओ तो सही, फिर खुद ही देख लेना कि मैं क्या चाहता हूं. सच में तो वोटर आई डी कार्ड था और उनके फोटो के साथ उनका नाम विश्वजीत सिंह लिखा था.