भोजपुरी बीएफ चूत

छवि स्रोत,संगीत सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी लव फिल्म्स १८: भोजपुरी बीएफ चूत, वो मेरे लंड को तेजी से अपने मुँह में लेने लगी और मुझे भी मज़ा आने लगा.

मेघा फिल्म

मैंने अपने लौड़े की रफ्तार बढ़ा दी और तेज़ी से चोदने लगा अब वो भी साथ देकर आहह आहह चोदो मुझे … ले लो मेरी … आहह आहह चोदो … चोदो मुझे … आहह करके लंड लेने लगी थी. सील तोड़ने वाली सेक्सीलेकिन उसने अपना पैर हल्का सा हिलाया तो मैंने अपना पैर वापस कर लिया।मुझे बिल्कुल बर्दाश्त नहीं हो रहा था और मेरा लंड भी मेरे पैंट में खड़ा हो रहा था और मुझे दर्द महसूस हो रहा था.

मैं उससे बात करने के लिए तड़प रहा था, बहुत हिम्मत जुटा कर जैसे तैसे मैंने उससे बात करने की कोशिश की. भोंसड़ी दिखाओअंकल बोले- अब तुम कोई छोटी सी बच्ची तो हो नहीं, जो मैं ज़मीन में बैठ जाऊं और तुमको अपनी गोद में बिठा लूं.

जैसा मेरी लाइफ में मेरे साथ हुआ था, मैं वैसा ही आप लोगों को लिख रही हूं.भोजपुरी बीएफ चूत: हालांकि मुझे उस वक्त तक भाभी के फिगर के साइज का नहीं पता था, लेकिन उनका फिगर परफेक्ट था.

हमारी बातें बढ़ने लगीं, तो वो बोली- तुझे पता है, तू मेरा पहला क्रश था.उनकी मां ने खुद उनके सामने चूत चुदवाई थी तो वो भी खुलकर मेरे लंड से चुदाई करवा सकती थी.

दुल्हन लहंगा डिजाइन hd - भोजपुरी बीएफ चूत

अब आगे बार डांसर की कहानी:मैं दूसरे दिन तैयार होकर इकबाल के अड्डे पर जाने के लिए रेडी हुई.एक दिन नवाब ने मुझसे मेरे घर का पता मांगा, लेकिन मैंने मना कर दिया और उसे पता नहीं दिया.

तब भी मैं डरते हुए भाभी के घर गया और वर्षा भाभी को उनकी ब्रा दे दी. भोजपुरी बीएफ चूत इस तरह से हम दोनों एक दूसरे को कामुक बातें सुनाते हुए चुदाई का मजा लेने लगे.

अभी तो तुमने कहा था कि मैं तुम्हारा लंड मुँह में ले सकती हूं, फिर चूत में लेने से क्या हो गया.

भोजपुरी बीएफ चूत?

मैंने अपने लौड़े की रफ्तार बढ़ा दी और तेज़ी से चोदने लगा अब वो भी साथ देकर आहह आहह चोदो मुझे … ले लो मेरी … आहह आहह चोदो … चोदो मुझे … आहह करके लंड लेने लगी थी. फिर तू तो घर पर अकेली ही रहती है, ले जा किसी दिन दोपहर में उसको अपने कमरे में और चैक कर उसका सामान कैसा है और कैसी परफॉर्मेंस देता है. मैंने फिर से उनका सर अपने दोनों हाथों से पकड़ा और अपने स्तन पर दबा दिया.

मैंने उसका एक हाथ अपने लंड पर रखा तो उसने एकदम से अपना हाथ हटा लिया. जेठजी मेरे ऊपर पूरी तरह से छा गए और मेरी दोनों बगलों से हाथों को ले जाकर नीचे से मुझे आगोश में ले लिया. वो मेरे लंड की मुठ मारने लगी और मैं उसकी चूचियों के निप्पलों को पीने लगा.

ये सब देख कर धीरे से उसने अपनी जीभ निकाली और मेरी गांड की छेद को चाटना शुरू कर दिया. जैसे ही वो मेरे गले लगी, तो उसकी चुचियां मेरे सीने से दबती हुई बड़ी मस्त प्रतीत हो रही थीं. फिर मेरी फ्रेंड आकर उसको ले गयी ताकि किसी को शक न हो कि वो रात भर एक लड़के के साथ अकेली थी.

उनका इशारा पाकर मैं बड़ा खुश था कि मुझे मौका मिला है कि भाभी को चोद सकूं. उस दिन शाम को जब मैं उनके साथ बैठा था, तो वो बोलीं कि कल मुझे कचहरी जाना है … अगर तुम मेरे साथ चल सको, तो बहुत अच्छा रहेगा क्योंकि वहां सब अकेली औरत को बड़ी अजीब नज़रों से देखते हैं.

मेरी इस हरकत से आकृति आंटी अब एकदम से कामुक हो गईं और उन्होंने मेरे होंठों को काट लिया.

मैंने अपनी मॉम को उन्हीं के बिस्तर में कैसे चोदा, इस सेक्स कहानी में आपको पढ़ने मिलेगा.

मनीष की एक गर्लफ्रेंड थी, वो उसके साथ काफी मजे करता और उसके साथ की सेक्स कहानी को सुना कर मुझे जलाता. मुझे लेटे हुए एक मिनट ही हुआ था कि तभी मौसी ने करवट ली और मेरी तरफ हो गयी।वो एकदम से बोली- देख आया मामा भांजी की चुदाई?मैं एकदम से चौंक गया. किस करते करते मैंने आसिफा का टॉप उतार दिया और नाभि से लेकर गले तक खूब चुम्मियां की.

कुछ देर बाद सरिता भाभी खड़ी होकर विजय के पास गई और बोली- विजय, मैं घर जा रही हूँ … कल आऊंगी. उसने जैसे ही मेरी अंडरवियर निकाली, उसके चहरे पर अजीब सी ख़ुशी नजर आने लगी. और हां मुझे यह भी बताएं कि इस गाँव की चूत की चुदाई कहानी पढ़ने के दौरान आपने अपने लंड को कितनी बार हिलाया.

मैं उनकी गोद में लेट गया तो भाभी बात करते हुए मेरे सिर में हाथ फेरती रहीं.

दो मिनट बाद मैं अपने कमरे से निकल कर फिर से छत पर आ गया और उसकी पैंटी को फिर से देखने गया. आज मैं आपके लिए एक हसीन प्यार का लम्हा, सेक्स से भरपूर चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हूँ … मजा लीजिए. मैं भाभी को चोदने के चक्कर में कंडोम लेने अपने घर से करीब 5 मील दूर गया, वैसे जहां मैं रहता हूँ … वहां बहुत से मेडिकल स्टोर हैं … लेकिन वो सब मुझे जानते थे, तो मैं अपनी पहचान छिपाने को लेकर दूर गया था.

एकता- क्या मारने की बात कर रहे हो?मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा- गोटी. वह लंड को जैसे चूस रही थी, उसे मैं शब्दों में बयान ही नहीं कर सकता. ऐसा लगता था कि भाभी को आज बहुत दिनों बाद चुदाई का इतना ज्यादा मजा मिला था, तभी वो इतनी शांति से सो रही थीं.

उसका ध्यान कंप्यूटर पर कम था और मेरे मम्मों की क्लीवेज पर ज़्यादा था.

उसके झड़ने के बाद मैंने उसका लन्ड एकदम चूस चूस कर साफ कर दिया।इस दिन बाद से हमारा रोज का ही काम हो गया था. कमल के सो जाने के बाद भी सारा एक दो घंटे फोन पर इधर उधर चैटिंग करती और उलटी सीधी हरकतें करती.

भोजपुरी बीएफ चूत वो खिलाड़ी थी और आहह आहह आहह करके करके मस्त होकर अपनी चूत से लंड को चोद रही थी।उसने बताया कि वो थानेदार और दूसरे पुलिस वालों से भी चुदवाती है।अब मैं और जोश में आ गया और बोला- ले मेरा ले!वो बोली- राज, तुम मस्त चोदते हो. आते जाते समय हम दोनों जब रोज ही एक दूसरे को देखने लगे, तो मैं उसे देखा करता था.

भोजपुरी बीएफ चूत मैंने धीरे से उसकी मैक्सी ऊपर कर दी।अब मैंने थोड़ी सी हिम्मत करके नींद का बहाना बनाकर अपना हाथ उसकी गान्ड पर रखा तो मेरे होश उड़ गए।उसने पैंटी नहीं पहनी थी. मैं तुरंत ही बोला- अपने पति की तरह नामर्द समझी हो क्या? जब तक तू आह आह से बाप बाप तक नहीं बोलना शुरू नहीं करेगी, तब तक छोड़ने वाला नहीं हूँ.

मैं अब तक बहुत सारी चुत चोद चुका हूं, कभी किसी को निराश नहीं किया है.

दूध axswaray xxx sax

अब जब उनका पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया तो मुझे अहसास हुआ कि उनके बड़े बड़े अंडकोष मेरी गांड से सट गए हैं. अगले दिन रात को मैंने रिया से बोला- कल तो तुम लंड मुँह में लेने को मना कर रही थीं, फिर लंड कैसे चूस कर रस खा लिया?वो हैरानी से मेरी तरफ देखने लगी और बोली- भाई, ये सब क्या कह रहे हो?मैंने उसे रात की पूरी बात बताई कि कैसे मजे में उसने मेरा पूरा लंड चूसा और वीर्य पी गई. उसके मोटे मम्मे मेरे सीने पर जैसे ही लगे, मेरे लंड का मौसम एक बार फिर से बनने लगा.

बदनामी के डर से मेरे शौहर ने अलग घर ले लिया और मैं उसके साथ इस नए घर में रहने आ गई. नाना-नानी अपने कमरे में बगल में ही सो रहे थे।मीनू आनंद में आह्ह … आह्ह … स्स … करके मस्त सिसकार रही थी और मामाजी के बालों में हाथ फिरा रही थी. कुछ पल के बाद मैं अपने दोनों हाथों से उसकी दोनों चूचियों को दबाने लगा.

मैंने पूछा- कभी प्रेगनेंट भी हुई?उसने बताया कि हां एक बार हुई थी, मगर हमने जाकर इलाज करवा कर सफाई करवा ली थी.

सरिता तो जैसे किसी नल से दूध पी रही हो, वैसे उसका हब्शी लंड चूस रही थी. फ्री चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैं एक नयी अपार्टमेंट बिल्डिंग में सिक्योरिटी गार्ड था. आज मैं भी अपनी एक सच्ची और सुखद घटना का अनुभव आप सबके सामने इस न्यू सेक्सी भाभी चुदाई कहानी के माध्यम से रख रहा हूँ.

यह बात सुन कर पीयूष के शरीर में झनझनाहट पैदा हो गई लेकिन अगले ही पल उसने सोचा कि यह तो मेरी सगी बहन है इसके लिए मुझे ऐसा नहीं सोचना चाहिए. मैंने कहा- हाँ ये तो सच है कि तुम ही मेरे लिए एक गिफ्ट हो, तुम्हारा प्रेम, तुम्हारा समर्पण और आने वाले जीवन में तुम्हारा मेरे साथ इस संबंध को निभाना ही सबसे बड़ा गिफ्ट होगा मेरी लाइफ का।मैं उसके साथ सट कर बेड की पुश्त से अपने पीठ टिका कर बैठ गया. अब सुबह करीब 4 बजे मैं अपनी गाड़ी के पास आई, तो वही पर एक हैंड पम्प लगा था.

कुछ देर बाद अब रोमी ने कहा- मैं अब तुम्हारी गांड चूसूंगा और चाटूंगा. मैंने कहा- हां, अब जल्दी से कपड़े उतार दे और मेरे लंड को चुत चोदने दे.

और ये सोनू का लंड भी इससे छोटा है, पर रोमी के लंड से ज्यादा मोटा है. उस आदमी ने कार आगे बढ़ा दी और एक जगह रोक कर मुझे लस्सी पिलाई, फिर मुझे मेरे घर से थोड़ा दूर ड्रॉप कर दिया. मैंने पूछा- कहां किया था?वो बोली- चित्रकूट में … हम दोनों वहीं घूमने गए थे और वहीं हम दोनों ने शादी भी कर ली थी और सुहागरात मनाने के लिए सेक्स भी किया था.

मैं उसके दोनों पैरों के बीच में बैठा और उसकी चुत पर लंड रख कर एक ही बार में पूरा लंड अन्दर पेल दिया.

उन्होंने अपने हाथों से मुझे मना कर दिया और बोलीं- बस कुछ मिनट और दम साध लो … मैं भी आने ही वाली हूँ. मैंने उसी पैंटी उतारी और उसे देखा तो उसमें गांड के पास एक बहुत छोटा सा छेद था. एक दूसरे के होंठों को चूसते हुए ही हमें नींद आ गयी और हम दोनों नंगे ही लिपटकर सुबह तक सोते रहे.

मैंने गांव में अपने भाई से उस लड़की बिल्लो के बारे में पूछा, तो पता चला कि उस घर के लड़के ने बिल्लो को भगाकर शादी की थी. मैं फिर से तैयार हो गया और भाभी मेरा लंड पकड़ कर जोर से हिलाने लगीं और ऊपर नीचे करने लगीं.

अगले दिन शाम को मेरे भाई का एक दोस्त आया, जिसकी मुझ पर बहुत पहले से नज़र थी. मैंने उसकी चूत में उंगली चलानी शुरू कर दी और वो मेरे लंड को हाथ से सहलाने लगी. मोहन एक रिटायर्ड पुलिस वाला था, जिसने अपनी जिन्दगी में किसी का भला नहीं किया था.

गूगल मुझे सेक्सी देखना है

भानजा मामी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मामी और मैं चुदाई का मजा ले चुके थे.

आज हम दोनों को अपने प्यार को साबित करने का मौका मिला, तो मैं कैसे इस मौके को जाने देती. फिर अचानक से बाजी अपने बैग से कुछ निकालने गईं और बैग को वहां वापस रखा, तो अचानक लाइट चली गई. यह सुनकर मैं बहुत खुश हुआ कि चलो मेरी वजह से किसी की इच्छा तो पूर्ण हुई.

इस तरल पदार्थ में उसने कोई मस्त सी दवा मिला दी थी जिससे मुझे चुदाई करने की उत्तेजना चढ़ने लगी. पर पंकज मेरी बहन को चोदे बिना कहां मानने वाला था; फिर वो मेरी बहन को किस करने लगा और उसकी चूत पर लंड सैट करके अन्दर डाल दिया. चोदा चौदीएक मिनट के अन्दर ही वो नार्मल हो गयी और अपनी चुत को मेरे लंड पर धक्का देने की कोशिश करने लगी.

रोमी ने सरिता भाभी की गांड को देखा, तो उसकी गांड सूज गयी थी लेकिन उसकी गांड का छेद काफी खुल चुका था. उसने अपने हाथ से मेरे लंड के सुपारे से अपनी चुत के दाने को घिसना शुरू किया और मेरी आंखों में वासना से देखने लगी.

बस तेरे आमों का रस पीना है इसलिए तुम मेरे लौड़े की सवारी करो और मुझे मैंगोशेक पिला दो. सुबह करीब पांच बजे वो मेरे घर से चला गया और मैं उसे विदा करके फिर से सो गई. चुम्बन के साथ ही मैं भाभी के इन सम्वेदनशील अंगों पर हल्की हल्की बाइट भी देने लगा.

मैं लंड चुत में पेल कर थोड़ा रूक गया और आराम आराम से अन्दर बाहर करने लगा. वो मेरी गोद से हट कर नीचे बैठ कर मेरे लंड को चूस कर खड़ा करने लगीं और लंड खड़ा होते ही आंटी मुस्कुरा दीं. मुझे भी काफी दिन बाद लंड चूसने को मिला था तो मैं भी पूरी तन्मयता से लंड चूस रही थी.

देखा तो सामने आकृति आंटी एक सफेद रंग का मिनी स्कर्ट और ऊपर पीले रंग का टॉप पहने हुई थीं.

किसी सेक्स कहानी में मैं खुद ही एक पात्र बन जाती हूँ, ताकि जिसकी वो कहानी हो … उसकी जानकारी गोपनीय बनी रहे. दोस्तो, हाथ में दारू का गिलास, सामने ब्लू फ़िल्म और बाजू में चुदक्कड़ लड़की हो … तो पार्टी में और क्या चाहिए.

मैं अपनी अगली कहानी में आप सबको बताऊंगा की किस तरहमैंने अपनी गर्लफ्रेंड को चोदा. इस बार मैंने उसको इतना गर्म कर दिया था कि वो खुद बोल पड़ी- क्या जान ही ले लोगे … अब जल्दी से अपना लंड चुत में डाल दो प्लीज!ये सुनते ही मेरा लंड और टनटना गया मैंने उसी पोजीशन में उसके पैरों के बीच बैठ कर उसकी चुत में एक ही बार में पूरा लंड पेल दिया. उसका मन अब चुदाई से भर चुका था, तो बोलने लगी- यार अब अपना माल मेरी चुत के अन्दर ही निकाल दो क्योंकि अभी मैं माहवारी से होकर निकली हूँ.

अबकी बार न जाने क्यों मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरे जिस्म के साथ वो बाजू वाला खेल रहा था, मेरा ब्वॉयफ्रेंड नहीं. पोर्न भाबी तो खुद ही अपने हाथों से अपनी चूत को पेल रही थी … और जोर जोर से अपनी चुचियां दबा रही थी. वो बोली- आपने मुझे इतनी सेक्सी कपड़े में पहली बार देखा है, शायद इसी लिए आपका लंड तन गया है ना!मैं बोला- हां जान.

भोजपुरी बीएफ चूत मेरी मॉम सुबह ही नहा लेती हैं लेकिन उस दिन किसी काम की वजह से उनको नहाने में दोपहर हो गई थी. इसलिए मैंने ज्यादा वक्त खराब नहीं किया और तुरंत ही कार्तिक को बांहों में भर लिया.

साडी वाल्या बाया

वो अपनी एक उंगली मेरी चुत में धीरे धीरे अन्दर बाहर करता और मैं उसे ज़ोर से पकड़ लेती. मैंने दीदी की पीठ को सहला सहलाकर मसाज की; उसके पैरों की मालिश की।दीदी को बहुत आराम मिला और जब वो मसाज करवाकर उठी तो वो मुस्करा रही थी. मैं तो पागल सो हो गया था। एकदम से सेक्स चढ़़ गया मुझे।देखा तो दीदी की सहेली का फोन था और दीदी फोन पर बात करने लगी।इस बीच मैं दीदी की चूचियों को छूने लगा.

मैं एक एक हाथ से दोनों की ही एक एक चूची को बारी बारी से दबाता रहा।मेरा लंड अपने पूरे तनाव में आ चुका था और अब इन जवान चूतों को चोदने के लिए झटके दे रहा था।मैंने उनको कपड़े उतारने के लिए कहा तो वो दोनों ही जल्दी से नंगी हो गयी. और हुआ भी ऐसा ही … मेरी सभी सहेलियों ने मुझे घर से बाहर ले जाने का इंतजाम कर लिया. नाॅटी अमेरिकाआप प्लीज़ कमेंट जरूर कीजिएगा कि आप सबको हॉट देसी न्यूड लड़की की कहानी कैसी लगी.

देसी आंटी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे पड़ोस की एक सेक्सी आंटी चुदाई करना चाहता था.

हॉट रंडी सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपने ग्राहक के ऑफिस में उसी की जवान सेक्रेटरी के साथ चुदी. विजय यह देख कर सोच में पड़ गया कि सरिता की चूत का छेद लाल था और चूत काली थी.

फिर मैंने उनको मज़े से चोदा।जीजा जी नेहा दीदी को रण्डी बोल बोलकर गाली दे रहे थे।सुबह तक फिर हम तीनों नंगे लेटे थे. मैंने उसे दिलासा दिया कि जो प्यार आपका पति आपको नहीं दे रहा, वह प्यार मैं आपको दूंगा. मैं एक दिन काफी गर्म थी और मोबाइल में पोर्न देख कर अपनी चुत रगड़ रही थी.

पीयूष बोला- मेरे लौड़े को हाथ में लेकर कैसा लगा?शीना बोली- बहुत अच्छा.

मैं भी सत्यम के साथ ही झड़ गयी थी और उसी वजह से पानी और भी ज्यादा बहने लगा था. सरिता ने कुछ नहीं कहा, तो सोनू ने अपना लंड सरिता की गांड में पेल दिया. मैं- अब कोई प्राब्लम मुँह में लंड लेने से?निशा भाभी- आराम से करो जान … दूसरे स्ट्रोक में तो आपने मेरी जान ही निकाल दी थी.

भाई ने बहन की सील तोड़ीचुदाई के मैंने उससे पूछा- तुमको अपनी चूत और गांड मरा कर कैसा लगा?उसने खुश होकर मुझे गले लगा लिया और बोली- आकाश, आज से मेरी इस गांड पर अब सिर्फ तुम्हारा हक है. मगर उनकी हंसी देख कर मैं समझ गया कि अब भाभी मेरी मम्मी से कुछ नहीं कहेंगी.

सेक्सी पिक्चर सेक्सी चुदाई

वो लंड सहलाते हुए बोली- मैं उसकी गांड तुझे कैसे दिलाऊं भाई?मैंने कहा- कर ना यार कोई जुगाड़. मेरी चुचियाँ 38-E नाप की हैं, जबकि मेरी कमर 30 की … और गांड 40 इंच की है. उस समय मैंने वर्षा भाभी से पूछा- भाभी आप इतनी उदास क्यों रहती हो?भाभी ने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया और मुझसे पूछने लगीं- क्या आपकी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- नहीं भाभी … मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

मैंने कहा- अरे यार, तुम ये ही सोच लेना कि पंकज तेरे साथ है और वो ही तेरी चूत चाटने के लिए बोल रहा है. उस पल एक बार उसे वो अहसास भी हुआ कि जिस चूत से उसने अपने इस बेटे को जन्म दिया था, आज वही बेटा अपना लंड उसी चूत में घुसेड़ने जा रहा है. वर्षा भाभी मेरे लंड को देर तक चूसती रहीं और चूस चूस कर मेरे लंड को लाल कर दिया.

मैंने उसी तरह उसे बिठाए हुए उसके एक मम्मे को मुँह में डाला और दूसरे मम्मे को अपने हाथ से दबाने लगा. कोरोना लॉकडाउन में मुझे चूत की जरूरत हुई तो मेरी दोस्त ने अपनी सहेली से मिलवाया. मैंने कहा- बस यूं ही कह दिया; मैं इस बारे में खास कुछ नहीं जानता हूँ.

वायरस का काफी जोरदार प्रकोप चल रहा था, इसलिए एक महीने के लिए मुझे कंपनी ने अपना ऑफिस का गेस्ट हाउस दे दिया था. पूरी चादर खून से लथपथ हो चुकी थी और उसकी टांगें हिल ही नहीं रही थीं.

मेरी नजरों को शायद अनीषा मैडम ने समझ लिया था और वो मेरी धमकी से भी घबराई हुई थी.

उनके पति का काम भी फैला हुआ था, तो उसके पास भाभी के लिए कम टाइम रहता था. नंगा डांस सेक्सीलेकिन बोलते है ना कि किस्मत के आगे किसी की नहीं चलती, मेरे साथ ऐसा ही कुछ हुआ. फक विडियोलेकिन मैं आपको ये चुदाई का मजा अपनी इस सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगा. फिर मैंने सोचा कि मैंने भी तो अपनी साली के साथ सेक्स किया है … तो दोनों ही ग़लत हैं.

मेरा नाम वरुण है, ये कॉलेज गर्ल सेक्स कहानी उस समय की है, जब मैं 12वीं कक्षा में पढ़ता था.

एक पल के लिए मैं भूल गया था कि सामने मेरी बेहन मेरे दोस्त से चुद रही है. मैं गेट पर गया तो एक लड़की एक्टिवा पर ब्लू टाइट जींस और टॉप में मेरा इंतजार कर रही थी. मुझे अर्जेंट काम आ गया है प्लीज़!वो पुलिस की ड्रेस में ही थी।मैंने कहा- ठीक है! लेकिन आपको तो कोई प्रोब्लम तो नहीं होगी ना मेरे साथ?वो बोली- नहीं, कोई बात नहीं! हम मिल कर सफर तय कर लेंगे.

मेरा लंड देखते ही उन्होंने अपने मुंह में ले लिया और फिर उसके बाद मैंने उन्हें नंगी किया. फिर जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उसकी पैंट की चैन खोलकर उसका लौड़ा बाहर निकाल लिया. पूरे कमरे में पच्च पच्च फच्च फच्च उईई आआहह उईई सीईई की आवाज तेज होने लगी.

सनी लियोन की एक्स एक्स एक्स सेक्सी मूवी

मॉम किसी रंडी की तरह गांड उठाते हुए बोलीं- अब डाल भी दे ना मादरचोद … रगड़ क्या रहा है. मैंने शरमाते हुए पूजा से कहा- पूजा, मैं आज से मम्मी की ब्रा को हाथ नहीं लगाऊंगा … पर मैं क्या करूं मेरा ये लंड रोज इस वक्त खड़ा हो जाता है. वो बहुत आराम से अपनी हथेलियों का इस्तेमाल करते हुए लकी की उत्तेजना को बढ़ा रही थी.

मैंने अपनी कमर को और अकड़ा दिया, जिससे मेरे स्तन और भी ऊपर को उभर गए.

तो आज आंटी ने मुझे अपने काउंटर के अन्दर बुला लिया और अपने बगल में एक स्टूल पर बिठा कर सब बताने लगीं.

थोड़ा चढ़ने पर ही हवा से उसकी कुर्ती उड़ने लगी और मेरी नजर उसके हिलते हुए चूतड़ों पर टिक गयी. दोस्तो, आपको मेरी मामी की चुदाई की ये देसी गांव की चुदाई कहानी अच्छी लगी या नहीं … बतायें जरूर।आगे भी मैं आपके लिएगर्मागर्म सेक्स कहानियांलेकर आता रहूंगा. मनीषा कोइराला की नंगी फोटोअब लकी के जाने के बाद सारा कमल से ऐसे चुदी कि वो लकी से चुद रही हो.

कमल ने उससे पूछा- क्या तुम भी किसी और के साथ करना चाहती हो?सारा- बिल्कुल नहीं। हाँ मैं इतना चाहती हूँ कि तुम मुझ पर विश्वास करो. मैं समझ गया कि लौंडिया आज चुदाई के मूड में ही आयी है और पूरे मजे लेना चाहती है. जेठजी अपनी उंगलियों से मेरी चूत की फांक को दोनों तरफ से फैला रहे थे, जिससे मेरी चूत पूरी तरह फैली जा रही थी.

उसने मुझसे कहा- विशु, मुझे बहुत तेज पेशाब लगी है अपनी गोद में उठा और मुझे बाथरूम में ले चल क्योंकि तूने मेरी चूत फाड़ दी है इसलिए मैं ठीक से चल नहीं पा रही हूँ।मैंने लवली को गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया. ये कहते हुए विजय ने कपड़ों के ऊपर से भाभी के एक मम्मे पर अपना मुँह लगा दिया.

उसने मेरे लंड को तुरन्त अपने मुँह में ले लिया और निप्पल की तरह चूसने लगी.

थोड़ी देर जेठजी के सीने से एक प्रेमिका की तरह चिपकी हुई मैंने अपना चेहरा ऊपर किया और जेठजी को वासना भरी अधखुली निगाहों से देखा और अपने सुर्ख थरथराते हुए होंठों को हल्का सा ऐसे खोल दिया … मानो मैं अपने जेठ को चुम्बन करने का खुला निमंत्रण दे रही हूँ. अभी मैं दिसम्बर 2019 में मौसी के यहां पर गया था। उस वक्त मेरे एग्जाम खत्म हुए थे और मुझे एक प्रोजेक्ट के लिए एक फैक्ट्री में जाना था. रोहन ने जब अपनी युवावस्था में कदम रखा था, तभी से उसका अपनी मॉम के प्रति आकर्षण था.

बॉलीवुड हीरोइन एक्स एक्स एक्स वीडियो अब आगे इंडियन सेक्सी चुदाई कहानी:अगले दिन कमल के ऑफिस जाने के बाद सारा ने लकी को फोन मिलाया. [emailprotected]हॉट आंटी सेक्स कहानी का अगला भाग:मां बेटी की चुदास मेरे लंड से मिटी- 2.

फिर उन्होंने मेरे ब्लाउज और ब्रा पैंटी को भी मेरे शरीर से अलग कर दिया. वो बोली- राज, तेरा लौड़ा कहां है?मैंने उसके हाथ में पकड़ा दिया।उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और उसकी चूचियां टाइट हो गई।अब मैंने उसकी मैक्सी उतार दी और उसे लंड पर झुका दिया. फिर हॉल से निकलते ही मैंने अपना मोबाइल कान से लगाया और फाल्स कॉल किया.

सेक्सी वीडियो वीडियो देसी

मैं उनकी चुत को फिर से चाटने लगा और अपने हाथों से उनके मम्मे दबाने लगा. अगले दस मिनट तक मैं ऐसे ही जोर जोर से धक्का मारता रहा और उसकी चुत के मजे लेता रहा. फिर मैंने उसकी चूत में उगली दे दी और जाकिरा अपनी चूत में भी उंगली करने लगी.

उनकी उम्र 48 वर्ष है और वो दिखने में बहुत स्मार्ट और एक अच्छे शरीर के मालिक हैं. उसके इस खुलासे से मैं एकदम से चौंक गई- क्या … ये तुम क्या कह रहे हो बसंत! मैंने खुद उसे देखा है उसके पास सब कुछ है.

मैंने उससे पूछा- बताओ क्या काम है, जिसके लिए तुम मुझे बुला रहे थे?लड़का- मुझे आपका नंबर चाहिए.

वो उस किताब पढ़ने में इतनी मस्त थी कि उसे ये भी ध्यान नहीं रहा कि मैं उसके कमरे में आ चुका हूँ. मेरा नाम निशु तिवारी है और मैं उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले की रहने वाली हूँ. कई बार मेरे पति मेरी गांड में लंड देने की कोशिश करते थे लेकिन मैं मना कर देती थी.

अब भाभी भी समझ चुकी थीं कि जो स्पीकर लेने आने वाला था, वो कोई और नहीं, बल्कि उसकी फ्रेंड का पति यानि मैं ही हूँ. अब तक मैं भी वासना की आग को महसूस करने लगा था और मुझे खुद से कल्पना की चुदाई की आग सताने लगी थी. अब मैं किसी तरह ससुर जी का लंड खड़ा करके उनको खुद चुदाई के लिए तैयार करना चाहती थी.

मुझे उसका लंड अपनी चुत की गहराइयों में आता जाता बड़ी सनसनी दे रहा था.

भोजपुरी बीएफ चूत: तकरीबन 12 बजे उन्होंने मेरी रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट किया और मुझे मैसेज किया- अभी तक सोये नहीं?मैंने भी बोल दिया- हां, नींद नहीं आ रही है. निशा भाभी- नहीं रहने दो यार … बस अब मेरी फुद्दी चोद दो … चुदाई करो, कब से तड़पा रहे हो.

वो तो लंड को बिल्कुल रंडी के जैसे चूसने लगी थी।फिर वो बोली- राज, तुम आज पुलिस वाली को चोदोगे. वर्षा भाभी बोलीं- रोज तो मुझको देखते हो … तब हॉट नहीं लगती हूँ?मैंने कहा- ऐसा नहीं है भाभी, आप तो बहुत ही ज्यादा सुंदर हो. इसके घर मैं जानबूझ कर इतना सेक्सी बन कर आई थी क्योंकि उसके पापा 55 साल के एक मर्द थे और उनकी मुझ पर बड़े दिनों से नज़र थी.

फिर उन्होंने मेरे माथे पर किस किया और मुझसे कहा- बेबी आर यू सो स्वीट.

दो मिनट बाद मैंने स्पीड थोड़ी बढ़ा दी और धकापेल चुदाई करना शुरू कर दी. आयशा ने अपने बैग से दारू की बोतल निकाली, तो हम तीनों ने दो दो पैग लिए और फिर से तरोताजा हो गए. सरिता भाबी के मम्मों पर छोटे छोटे से काले अंगूर से निप्पल एकदम कड़क थे.