लोकल सेक्स बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,भारतीय बियफ

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू बफ ब्लू बफ: लोकल सेक्स बीएफ वीडियो, जो बहुत कम शादीशुदा महिला बोलती हैं।मैं उसके दोनों पैरों के बीच में आ गया और ममता ने भी दोनों टाँगों को जितना हो सकता था.

भारतीय खुला सेक्स

जो भाभी देख रही थीं।मैंने कहा- भाभी क्या देख रही हो?कहने लगीं- गौरव, तुम्हारा ये तो बहुत मोटा और लंबा लग रहा है।कह कर वे उसको टच करने लगीं. ब्लू फिल्म सेक्स एचडीपर हमारी टीचर को मुझ पर भरोसा नहीं होता था, वह हर रोज सिर्फ मेरी ही तलाशी लेती थीं। मेरा बैग चैक करतीं.

तो उन्होंने मेरे हाथों को पकड़ते हुए मेरी पैन्टी को खींचते हुए मेरी पैन्टी निकाल कर मुझे पूर्ण रूप से नंगा कर दिया।अब तो मेरे शरीर पर एक धागा भी नहीं था। मेरा पूरा नंगा जिस्म उनके सामने दिन के उजाले में था. भाभी और देवर की सेक्सी मूवीपर वो उसे ऊपर से ही सहलाने लगी। मैं अब उसकी चूत को उसके जीन्स के ऊपर से ही दबा रहा था।मैंने उसकी पैन्ट का बटन खोलने की कोशिश की.

क्या खूबसूरत उसका बदन था … सब कुछ बहुत अच्छा था … उसके बदन का साइज 34 30 34 था, मुझे इस साइज की औरतें बहुत पसंद आती हैं इसलिए मैं उसे गौर से निहार रहा था.लोकल सेक्स बीएफ वीडियो: तो किसे मजा न आ जाए।मैं तो उनकी चूत के ऊपर की हड्डियों का दबाव भी अपने पर महसूस कर रहा था.

फिर मैंने उसे लण्ड मुँह में लेने को कहा।वो बेमन से लण्ड चूसने लगी और देखते ही देखते मेरा लण्ड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा हो गया।अब मैंने उसे सीधा लिटाया और उसके दोनों पैर अपने कन्धे पर रख लिए। उसने मुझे लण्ड पर तेल लगाने को कहा क्योंकि उसकी सील अभी तक टूटी नहीं थी।लेकिन मैं तो उसे दर्द देना चाहता था.एक तो अँधेरा और ट्रेन की आवाज़ से अब सब आसान हो गया था।फिर उसके मुँह से ‘आअहह.

सुहागरात सेक्स वीडियो एचडी - लोकल सेक्स बीएफ वीडियो

मैंने उसकी चुत में थोड़ा और थूक लगाया और जोर जोर से उंगली हिलाने लगा.मैंने ज्यादा नहीं सोचा और उसके पैर के ऊपर ही हाथ रख दिए, उसने जरा भी विरोध नहीं किया।उसके विरोध न करने से मेरे लौड़े की घंटियाँ बजने लगीं और मेरे दिमाग में वासना जागने लगी, मेरी आँखों से नींद गायब हो चुकी थी.

दिल तो नहीं भरा था चुदाई से, मगर उसका टाइम हो चुका था, इसलिए उसने बाय बाय कर दी. लोकल सेक्स बीएफ वीडियो दरवाजा खुलता चला गया। मैं यह भी भूल गई कि छत और छत पर बना कमरा दूसरे का है। यहाँ कोई हो सकता है.

बस 7-8 तगड़े झटकों में मैंने सारा वीर्य अन्दर ही डाल दिया और उसके ऊपर ही लेट गया।उसके चहेरे पर खुशी दिख रही थी।कुछ देर हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे, फिर मैं उठा और घड़ी की तरफ देखा.

लोकल सेक्स बीएफ वीडियो?

मैंने अपना हाथ उसके पजामा के ऊपर से ही उसकी बिना चुदी चूत पर रख दिया। पहले तो उसने अपनी पैर दबा लिए. उनका नाम अनीता है, वे देखने में बहुत सेक्सी हैं, उनकी उम्र 25 साल थी, उनका फिगर 30-30-36 का है।उनके पति सेना में हैं इसलिए वो कभी-कभार ही घर आ पाते हैं।मुझे अनीता भाभी बहुत अच्छी लगती हैं। उस दिन मेरी किस्मत खुल गई। मैं कॉलेज से आ रहा था. वो बोली- वो बात ठीक है लेकिन मेरा नहीं मन … और मुझे पता है आप मुझे फ़ोर्स नहीं करोगे.

दो दिन बाद एक दिन शाम 6 बजे उसका फोन आया, मैंने उठाया तो उधर से कोई आवाज नहीं आई. और जब वो अकेले होती है तो ‘आई लव यू सैयाँ’ भी बोलती है, मैं भी उसे ‘आई लव यू टू. मुझसे रुका नहीं गया और मैं तुरंत उसके ही बाथरूम गया और उसके नाम पर एक मुठ्ठ मार ली।मुठ्ठ मारते समय अंकल की बेटी ने मुझे देख लिया और मुझसे बोली- मुझे छुप-छुप कर देखते हो और मुठ्ठ मारते हो।मैं उससे रिक्वेस्ट करने लगा- प्लीज़ ये बात किसी को मत बताना.

रगड़ते-रगड़ते ही मैंने गांड के छेद में लंड का निशाना सैट किया और जोर का धक्का दे दिया. मैं भला अपने प्यारे देवर को ऐसे तड़पता हुआ कैसे छोड़ सकती हूँ।भाभी की यह बात सुनते ही मुझमें जोश आ गया और भाभी को जोर से भींच दिया। मैंने भाभी को ‘I Love You’ बोल दिया. मैं इस कहानी में कुछ जगहों के नाम और मेरी भतीजी का नाम बदल रहा हूँ क्योंकि अब उसकी शादी हो गयी है.

आआआह … इस्सससी ई!” गहरी और मदभरी सीत्कार न चाहते हुए भी मीता के होंठों से फूट पड़ी और उसने अपने हाथों से मेरा सर जोर से अपने चिकने पेट से कसकर चिपका लिया और इसी के साथ मेरे पूरे होंठ गहरी नाभिकूप में जा समाया और मेरी जीभ और होंठों ने नाभितल को चूसना और चाटना शुरू कर दिया. मेरी भाभी की 5 फुट 3 इंच हाइट की थीं और वे ज्यादा पतली नहीं थीं, पर मोटी भी नहीं थीं.

तभी विकास भी दरवाजा बंद करके अन्दर आ गया और दादा जी को मेरे ऊपर चढ़े देख भौंचक्का देखता रह गया.

स्विमिंग पूल के आसपास कोई सर छुपाने की जगह नहीं थी और इसलिए हम दोनों कमरे की तरफ भागे.

क्योंकि उनकी प्रोफाइल तो दम्पति की थी, पर मुझसे केवल पुरुष सदस्य ही चैट करता था. आज रात को कर लेना।फिर मैं मान गया और अपना लण्ड उसके मम्मों के बीच में लगाकर रगड़ने लगा और वो भी मेरा ज़ोर-ज़ोर से साथ दे रही थी। वो एकदम पूरी रंडी की तरह मेरे लण्ड के साथ खेल रही थी।दोस्तो. वो मेरे निप्पल को जंगली बिल्ली की तरह चूस रही थी और काट रही थी।मैं दर्द से सिसकार रहा था- आअह्ह्ह ह्ह्ह.

तो उन्होंने पूछा- अंजलि और मेरे बीच में क्या है?तो मैंने सब सच-सच बता दिया. पर उसने मुझे वहीं से एक ‘टाटा’ किया और गेट से बाहर चली गई।वो कौन थी. और रेगुलर जिम करने वाला व्यक्ति हूँ। मेरा लन्ड काफ़ी मोटा है और उसका सुपारा लड़कियों को बहुत पसन्द आता है।यह मेरी पहली कहानी है.

कुछ देर बाद रेवती खाना लेकर आ गई और मुझे अपने हाथों से खाना खिलाने लगी.

तब वो वापस दोबारा मेरे कमरे की तरफ आने लगे। मैं जल्दी ही आकर सो गई. तो दो दिन के बाद आऊँगा।मैं घर से बाहर निकला और रात को मामी के घर आ गया।मामी मुझे देख कर बहुत खुश हुईं और उन्होंने मुझे गले से लगा लिया।पहले हम दोनों ने चाय पी और बातें करने लगे।मामी उस दिन बहुत सुंदर लग रही थीं, मैंने धीरे से एक हाथ मामी के मम्मों पर रख कर उनको मसलने लगा और उनको किस करने लगा।मामी भी मेरा साथ दे रही थीं।मामी ने सलवार और कमीज़ पहना हुआ था. राजू के जाने के बाद मैं अपनी चूत चुदाई की कल्पनाओं में डूब गई और मेरा हाथ मेरी चूत पर रेंगने लगा.

मैंने भी अब प्रिया की दोनों चूचियों को हल्के हल्के दबाना और मसलना शुरू कर दिया. आपको पसन्द आई या नहीं, तो मुझे जरूर लिखिएगा।दोस्तो, जैसा कि आप जानते हैं मैं औरंगाबाद महाराष्ट्र से हूँ।यह बात तब की है. यह मेरे लिए सबसे अधिक ख़ुशी का मौका था, क्योंकि जो मैं करना चाहता था.

तो बोली- कल दिन में आ जाऊँगी।अब मैं कल का इन्तजार करने लगा अगले दिन उसका फोन आया.

पर आपका?चाची बड़े प्यार से बोलीं- मुन्ना अब तेरी बारी है।ऐसा कहकर वो मेरे मुँह पर आकर बैठ गईं। मेरे चेहरे के दोनों और अपने जाँघें फैलाए हुए चाची ने चूत मेरे मुँह के सामने लाकर रख दी।मैं पहली बार इतनी करीब से चूत देख रहा था।चाची बोलीं- चूसो विनोद. !!पुनीत बिस्तर पर बैठ गया और पायल के चेहरे को हाथ से थपथपाने लग गया.

लोकल सेक्स बीएफ वीडियो वो फिर से चिल्ला उठी।फिर मैंने उसके होंठों पर होंठ रखे और उसके कंधों को कस कर पकड़ लिया ताकि अब वो हिल ना पाए और मैंने एक और ज़ोर का धक्का मार कर लण्ड पूरा उसकी चूत में घुसा दिया।मैं थोड़ी देर उसी पोजीशन में रहा. तो इन सबको करने की कोई जल्दी नहीं होती। बस एक-दूसरे के साथ को पूरे सुकून से जीने और मरने की ख्वाइश होती है।फिर वो बोली- मैं तुम्हारे लिए चाय बनाती हूँ.

लोकल सेक्स बीएफ वीडियो और उसकी ब्रा खोलने की कोशिश में उसका हुक टूट गया और उसके रसीले संतरे बाहर आ गए।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !हम दोनों की एक बार आँख मिली. मी प्रथमचा लंड जसजसा चोखत होते तो उसासे देत माझ्या तोंडात लवडा पूर्ण घुसवण्याचा प्रयत्न करू लागला.

तो मैंने सोनी को अलग कर दिया और ‘सॉरी’ बोल कर खड़ा हो गया।सोनी- ओह्ह.

देवर भाभी की रोमांटिक बीएफ

अभी वे पूछेंगे तो मैं क्या कहूँगी?तभी उन्होंने मेरा किस करना छोड़ दिया. और कुछ ही दिनों में वो मेरे से बात करने में खुल गई।मेरा मन उससे चोदने का करता था लेकिन क्या करता. मम्मी जी (सासु माँ) को मिलने का दिल कर रहा है, घर चलें?मैं- ओके नो प्रॉब्लम.

लेकिन मॉम ने ज़रूर अपने कमरे का दरवाज़ा खोला और पूछने लगीं- क्या हुआ. शुरू से ही मैं थोड़ा शर्मीला था तो लड़कियों से ज्यादा बात नहीं करता था। मेरे लिंग का आकार 6 इंच है जो किसी भी लड़की को संतुष्ट कर सकता है. और ज़बरदस्ती पीछे से सेक्स कर रहे थे।मैंने कहा- मैं दिन भर की भूखी-प्यासी हूँ.

उसने दरवाज़ा खुला छोड़ा हुआ था।मैं बाथरूम की दहलीज से अंदर झांका तो वो नंगे बदन और नंगे पाव नीचे फर्श पर केवल फ्रेंची पहन कर बैठा हुआ था। उसके सामने बेडशीट थी जिसपर वो पानी डाले जा रहा था और पानी डालते ही बेडशीट से लाल रंग का पानी बाहर निकल रहा था.

मयूरी के लिए ये नया नहीं था, वो पहले भी कई बार अपनी चूत अपने दोनों भाइयों से चटवा चुकी थी पर एक औरत के होंठों और जबान की बात ही अलग होती है और विशेष रूप से अपनी सगी माँ आपकी चूत चाट रही हो तो उसकी बात ही थोड़ी अलग होती है. पूछने पर उसने बताया था कि वो कम उम्र में ही चुदाई कर चुकी थी, अब तक जब मौका मिलता है तब कर लेती है. मेरा नाम बिपिन है और मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूँ। बहुत दिनों से सोच रहा था.

मैंने उसकी चूत में उंगली अन्दर बाहर करने की रफ्तार और तेज कर दी, जिससे कुछ ही देर में प्रिया ‘ओह्ह … बेबी मैं गई …’ कहते हुए झड़ गई. उसे श्यामा ने ही कहा हुआ था कि सारे कपड़े उतार कर बैठे सिवा चड्डी के. जैसे ही मेरी टांगों को चौड़ा किया मुन्ना अंकल एकदम से मेरी चूत देखकर शायद पागल से हो गए और बोले- यार इसे सीधा लिटाओ, यह तो बहुत ही गजब की आइटम है, क्या कमर है पतली नाजुक सी … देखो राज इसकी कमसिन जवानी बिल्कुल खिल रही है.

शीतल- दरवाजा खुला है… अंदर आ के रख जा…विक्रम ने बाथरूम का दरवाजा धीरे से खोला और अंदर गया. तो बॉस ने इस बार मुझसे सब कुछ साफ-साफ बता दिया और कहा- नेहा हमारी कंपनी को एक बहुत बड़ा कांट्रॅक्ट मिला है.

मुझमें सेक्स की बहुत आग है, इसी लिए मैं हर आंटी भाभी लड़की को उसी नजर से देखता हूँ. किसी का लंड अपनी चूत में लेने से! अगर मेरे ससुराल वालों को पता चल गया तो कितनी बदनामी होगी. पर उनका पल्लू सीने से हटा हुआ था।मैं वहीं चाची की छाती के पास बैठ गया और चाची का सीना देखने लगा। मन कर रहा था कि छू कर देखूँ.

पर दोनों के धक्के एक साथ नहीं लग पा रहे थे जिससे ठीक से बात नहीं बन पा रही थी।तो मैंने कहा- भाभी पहले आप उछल लो.

थोड़ी देर तक तैरने के बाद मैं पूल से बाहर निकल कर अपनी टेबल पर आकर बैठ गया और अपने ड्रिंक की चुस्की लगाने लगा. लो थोड़ा तो आपको टेस्ट करा देती हूँ।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !इतना कहकर पायल ने अपनी जीभ की नोक से बूँद को उठाया और पुनीत के मुँह में अपनी जीभ घुसेड़ दी. दोस्तो, मेरा नाम निशा है। मैं 40 साल की हूँ, मेरा फिगर 38सी 36 40 है और मैं दिखने में बहुत ही हॉट और सेक्सी हूँ। आप लोगों ने मेरी पिछली कहानियों को पढ़ा, काफी सराहा और काफी कमेन्ट भी दिये इसलिये एक और सच्ची कहानी लेकर आई हूँ आपके के लिये कि कैसे मैंने अपने छोटे भाई की पत्नी के साथ मनाली में लेस्बीयन सेक्स किया।अब मैं कहानी पर आती हूँ.

निगाहों से उसके द्वारा मेरी तरफ फेंके गए सवालों के जाल को अपनी निगाहों के जवाब से सुलझाते हुए मैंने हामी भरी. एक कमरा प्रिया के मम्मी-पापा के लिये था और एक कमरे में वो तीनों भाई बहन सोते थे.

तो उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता और फिर तभी खिड़की से उन्होंने तुम्हें देखा और कहा कि वो नीचे सूरज है. उनकी तलाशी क्यों नहीं लेतीं?‘क्योंकि वे तुम्हारी तरह शैतान नहीं हैं. तब तक तुम आराम कर लो।यह कह कर मैं घर से निकल गया।मैं रास्ते में यही सोचता जा रहा था कि अगली बार स्वाति के होश में ही उसको चोदूँगा।अगली बार मैंने स्वाति को उसके पूरे होश में चोदा और पूरे हफ्ते अलग-अलग तरीके से चुदाई की.

बीएफ भेजिए बीएफ वीडियो में बीएफ

मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसे उठाया और उसकी पैन्टी को उतार फेंका।उसकी पैन्टी गीली हो चुकी थी.

चाहे जो हो जाए।इसलिए सबका सोना जरूरी था। करीब आधी रात को मैं उठी और बेडरूम की लाईट जलाकर देखा कि पति बहुत गहरी नींद में थे। मैं लाईट बंद करके बाहर निकल आई और हॉल में मद्धिम प्रकाश में मैंने टोह लिया. इसके बाद मैंने अपने कपड़े उतारे और तना हुआ लंड उसकी चूत के सामने हिलाया. तो उसकी गाण्ड में चुभने लगा।उसने यह भाँप लिया था और एकदम से ठीक होने की कोशिश भी की.

हम दोनों रोजाना चुदाई करते थे और उसके बाद जब भी मौका मिलता है हम उसे गंवाते नहीं हैं। अब चाची को 2 बच्चे भी हो गए हैं. तो क्या तुम मुझे उज्जैन तक तक बाइक से छोड़ दोगे?तो मैंने कहा- हाँ ठीक है. इंडियन भाभी सेक्सी एचडीसंतोष आणि निलिमा या सर्व प्रकाराकडे पाहत होते, उद्या सूरु होणारा कार्यक्रम आजच सुरु झाला होता.

मैंने भी उसकी बेकरारी को देखते हुए उसका लंड पकड़ कर अपनी चुत में डाल लिया. दिल तो नहीं भरा था चुदाई से, मगर उसका टाइम हो चुका था, इसलिए उसने बाय बाय कर दी.

पर समय के साथ सब नॉर्मल हो गया।पहले मैं मामी के घर ज़्यादा नहीं जाता था और मेरे मन में मामी के बारे में कोई ग़लत बात नहीं थी।पर एक दिन मैं और मेरा दोस्त बाइक पर उनके घर के आगे से जा रहे थे. उसने मुझे बताया कि वो मेरे साथ मस्ती करना चाहती है पर मेल में, न ही कभी मोबाइल नं बताएगी न ही मैसेज करेगी. प्रिया थोड़ा गुस्सा में कहने लगी- मुझे पता है … आप मानोगे नहीं … ठीक है पर जल्दी करो, जो भी करना है और याद रखना कि कुछ भी खराब नहीं होना चाहिए.

मुझे एकदम जवान लड़के बहुत पसंद हैं। जनरली मैं 18-23 साल तक के लड़के तलाश करता हूँ. मेरी खुशी का तो ठिकाना ही नहीं था। फिर कुछ दिन तक वो ऐसे ही मुझसे फ़ोन पर बात करती रही।कुछ दिन बाद मेरे जोर देने पर वो मुझसे मिलने को तैयार हुई।मैंने उससे मिलने के लिए एक पार्क में शाम को 6 बजे बुलाया. और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मैं आज आपको जो कहानी सुनाने जा रहा हूँ.

तो म्हणेल तर तू सटीस्फाई झाली असे आम्ही मानु ,ठीक ? राखीने मानेनेच होकार दिलापुढे वाचण्यासाठी वाट पहा !अभिजित / चुतचोदू[emailprotected].

बस ब्रा की स्टेप के ऊपर ही ब्लाउज की स्टेप चिपकी थी। मैं बहुत सुन्दर लग रही थी। मैंने सिर्फ़ सिंदूर छोड़ कर पूरा मेकअप किया था। आज मैंने अपने बाल खुले रखे थे. मैं अन्तर्वासना पर बहुत सारी सेक्स स्टोरी पढ़ चुका हूँ और आज भी नियमित रूप से सेक्स कहानी पढ़ने के लिए सबसे पहले अन्तर्वासना साईट को ही खोलता हूँ.

यह होटल मेरे ऑफिस के पास ही था। अब मेरे बॉस के अनुसार में सजने के लिए पार्लर गई. मेरे भैया को भी अब ये सही लगा और अगले ही दिन भैया मुझे वहां लेकर पहुंच गए. तो बोला- आज कर लेने दो।इतने में दीप भी आ गया। उन दोनों को देख कर मैं समझ गई कि आज तो मेरा बच पाना मुश्किल है।रज्जन ने मुझे पकड़ते हुए बोला- मालकिन हम दोनों ने तुम्हारे नाम की बहुत मुठ्ठ मारी है.

मेरा नाम आमोद कुमार है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ।किसी जरूरी काम से वसंत विहार जाने के लिए मैं प्रीत विहार से रूट न. पर मैं बहुत एकसाइटिड भी हूँ। घर पर माँ ने बहुत सी तैयारी भी की है।वो मुझे कार से लेने आ रहे है. दोस्तो पहली बार की चुदाई में बहुत उत्सुकता होती है और काफ़ी चीजें अजीब लगती हैं.

लोकल सेक्स बीएफ वीडियो चल बता ज्योति कहां है चारपाई?ज्योति आगे आगे चल दी, मैं उसके पीछे चल पड़ा. इससे पहले मैं सिर्फ़ अन्तर्वासना से कहानियां पढ़ता था और अपने आपको उत्तेजित करके मुठ मार लिया करता था.

मराठी बीएफ दिखाव

आखिर प्रीति आंटी को मजबूरी में झुकना पड़ा और वे मुझसे चुदवाने को तैयार हो गईं. उसकी योनि पूरी गीली हो गई थी।मैंने जैसे ही उसकी योनि पर हाथ फेरने लगा. तो मैं तुम्हें अच्छे पैसे दिलवा सकती हूँ।मैंने ‘हाँ’ कह दी और उसे किस किया और चला आया।मैंने उसकी सहेलियों को कैसे चोदा.

वो मेरी बाँहों में थी और मैं उसको किस कर रहा था। उसके बदन की सिहरन मैं महसूस कर रहा था. ’ चीख निकल जाती। पीछे से उसकी चूत भी चोद रहा था और साथ में उसकी गांड में उंगली भी कर रहा था।करीब आधा घंटा चुदाई के बाद मैंने कसके उसको पकड़ लिया और झड़ गया. देवर भाभी का देसी बीएफवो कहानी 4-5 पार्ट्स में थी तो एक के बाद एक पूरी सीरीज की कहानियाँ पढ़ डाली और कसम से बहुत ही अच्छे से एक एक सीन को गर्मा कर लिखी थी कहानी, तो कब मैं अपना लौड़ा बिस्तर पर रगड़ने लगा पता ही नहीं चला.

तब उसने खुद निकाल कर हाथ में दे दिया।वैसे वो आदमी हमारी तरह गोरा और जवान था.

तभी मुन्ना अंकल बोले- जैसी तेरी मर्जी, फिर देखना कोई उठे तो बताना! हम दोनों शुरू होते हैं. वो आगे चल दिया।दोनों भी अपनी साइकिल लेकर चल दिए।लड़के ने लड़की को ‘थैंक्स’ बोला।लड़की बोली- थैंक्स किस लिए?तो बोला- सरपंच जी से और कुछ नहीं बोलने के लिए।लड़की बोली- थैंक्स तो मुझे बोलना चाहिए.

क्योंकि मुँह में सारा वीर्य चला गया था लेकिन भाभी ने माल थूक कर लण्ड को फिर से मुँह में डाल लिया।अब मुझे से भी रुका नहीं गया और मैंने भी उनको 69 की अवस्था में लिटा कर उनकी चूत को चाटना शुरू कर दिया। भाभी ‘आहह. मुझे नहीं पता था कि लंड में से वीर्य छूटता है और वो चरम सीमा होती है. लेकिन मैं नशे में चोदता रहा और उसकी रसीली चूचियाँ दबाता रहा।उसने अपना पानी छोड़ दिया तो मेरा पानी भी निकल गया।अब वो अपनी चूत मेरे मुँह पर रख कर अपना पानी चटाने लगी।फिर बीस मिनट बाद आनवी आई और अपने कपड़े उतारने लगी।मेरा चूत चाटने को मन कर रहा था.

और मुँह से भी चूसा जाता है। ये सब मुझे ब्लू फिल्म देखकर पता चला है और मैंने चुदाई सीखी है। ऐसे भी तुम्हारी क्या मस्त चूत और चूचियां हैं, मैं तो इन्हें देखकर ही पागल हो जाता हूँ।यह कहकर मैं अनु के ऊपर लोटने लगा.

क्योंकि मेरी नौकरी अब इसी की बदौलत चलने वाली है वरना मैं तो कहीं धूप में सड़ती रहूंगी. जिससे मेरी काफी अच्छी दोस्ती होने लगी। उसका नाम अंजलि था और वो काफी भरे-पूरे बदन की थी, उसका 34-30-36 का साइज़ रहा होगा. न मैंने उनकी बात मानी क्यूँकि मैं पढ़ने के लिए दिल्ली चला गया।उनकी आखों में आज भी प्यार देखता हूँ लेकिन मैं ऐसी कोई गलती नहीं करना चाहता.

पोर्न बीएफ पिक्चरऔर ना ही मुझे किसी से कोई सर्विसेज़ आदि चाहिए… तो कृपया करके फ़ालतू के मेल करके ख़ुद को शर्मिंदा ना करें. आपको पता है?मैं गुस्से से उनसे बोली और उन्हें कहा- चले जाओ आप मेरे कमरे से.

एक्स एक्स सेक्सी बीएफ जबरदस्ती

इसलिए इस बार मैंने अपने दोनों हाथों से उनकी गांड को थोड़ा चौड़ा किया और एक जोरदार झटका दे मारा, जिससे मेरा लंड आधे से ज्यादा उनकी गांड में घुस गया. वो सन्नी का विरोध कैसे करती। उसने अपने आपको ढीला छोड़ दिया और सन्नी का साथ देने लगी।उधर बाहर भाभी को अहसास हुआ कि निधि सामान दिखाने गई थी. मुझे तो बहुत मज़ा आता है। लेकिन अब तेरे जीजू ने लाना बंद कर दिया है.

तो गर्म-गर्म वीर्य से उसको बड़ा सुकून मिला।पायल की गाण्ड को भर कर ‘पक्क’ की आवाज़ के साथ लौड़ा बाहर निकाला और पुनीत बिस्तर पर लेट कर लंबी साँसें लेने लग गया।पायल की गाण्ड से वीर्य टपक कर बाहर आने लगा. मेरी कामुकता पूरे उफान पर थी तो मैं भी लंड चूसना चाह रही थी तो मैं जीजू का लंड चूसने लगी. कभी सेक्स नहीं किया है?मैंने कहा- थोड़ा थोड़ा पता है, पर कभी किया नहीं.

मैं बस स्टॉप पर खड़ा था कि मेरे सामने एक कार आकर रूकी, जिसके काले शीशे चढ़े हुए थे. पर तेरी चूत अब अपने भाई के लण्ड की दुल्हन बन चुकी है, चूत की मांग भर गई है।वो हँस पड़ी।मैंने उसको दस मिनट तक चोदा और सारा माल उसकी चूत में डाल दिया।जब वो खड़ी हुई तो उसकी चूत से खून और कामरस बह रहा था।मैंने उसकी चूत साफ़ की और उससे पूछा- कैसा लगा?तो वो मुस्कराने लगी. रेशमा तो सो गई थी, तब मुझे नौकरानी की ख्याल आ गया, मैं रेशमा को सोती हुई छोड़कर रूम के बाहर आ गया और नौकरानी को खोजने लगा.

इसलिए उसने अपना हाथ हटा लिया।मैंने अपने आपको कंट्रोल किया और वो मेरे सीने पर सिर रख के लेट गई क्योंकि हमें अचानक से अहसास हुआ कि अगर हम ज़्यादा बढ़े तो उसके घर वालों को पता चल सकता है।फिर मैं बाथरूम गया. उसने मुझे पकड़ा और कहा- छोटी सी जिंदगी में सब कुछ हासिल नहीं होता … और जो हासिल करने का मौका हो तो उसे छोड़ना नहीं चाहिए, उसे पा लेना चाहिए.

हम दोनों को आंटी के आने के डर से जल्दी भी हो रही थी।मैंने भाभी के टाँगें खोलीं और अपना लंड उनकी चूत में घुसा दिया.

वहीं मेरे मुँह के दोनों होंठ लंड की चमड़ी पर कस गए थे … मानो मुँह के होंठ नहीं … बल्कि बुर की फांकें हों. देसी हिंदी बीएफ पिक्चरखाने के बीच में कभी वो पैर से मेरे लंड को दबाती तो कभी मैं अपने पैर के अंगूठे को उसकी चूत में डालता. हिंदी नंगी नंगीवो बोली- काईं बात हो गयी? छोरो बड़ी जल्दी थकन लागरी हे … अभी तो मस्ती करण नो टाइम शुरू होयो है!चूँकि दूसरे दिन रविवार था तो दुकान जाने के जल्दी थी नहीं तो पूरी रात थी हमारे पास!पर रात भर का सफर और दिन भर की भाग दौड़ ने मुझे थका रखा था, और भाभी ने मुझे बांध दिया वो अलग इसलिए थोड़ा सुस्त था. वो ज़ोर ज़ोर से हँसने लगी और बोली- सच ही बोल रहे थे तुम, कुछ नहीं किया होगा, एक हग से यह हाल है … तो आगे क्या करोगे?उसकी यह बात सुन कर मेरा हौसला बढ़ गया.

मैंने फिर से आंखें खोल दी और राज अंकल को एकटक देखने लगी तो अंकल बोले- क्या सेक्सी निगाहें हैं … तेरी आंखों में भी जादू है सोनू, तू बहुत चुदासी है ये तेरी आंखें बता रही है। तू सोनू बहुत प्यासी है.

लवड्यांना, पुद्द्यांचे दर्शन झाले असते आणि पुद्द्या, कोणता लवडा आपल्या पुद्दीत टाईट जाइल याचा अंदाज घेऊ शकल्या असत्या. फिर कुछ देर में प्रिया की दर्द भरी चीखें सिसकारियों में बदल गईं … उसे भी मजा आने लगा और वो अपनी गांड को आगे-पीछे करने लगी. छीईईई …ईई … हटाओ … इसे …” प्रिया ने मेरे हाथ को झटकते हुए कहा और खुद ही अपने सूट को उठाकर मेरे लंड को साफ करने लगी.

और मैंने ज़ोर से अपना पानी मोनू के मुँह पर छोड़ दिया, मोनू जीभ से चाट चाट कर पानी पीने लगा।झड़ चुकने के बाद मैंने पूछा- कैसा स्वाद लगा?‘बहुत बढ़िया था दीदी. अपने लंड को उन्होंने अपने थूक से पूरा गीला किया और वो मेरे ऊपर सीधा चढ़ गए. उसका साइज़ 35-29-34 का था।धीरे-धीरे मैंने उससे बात करने की कोशिश की.

इंग्लिश बीएफ सेक्सी अंग्रेजी

वो मम्मों को दबाने लगा, मेरी बीवी थोड़ी सहमी हुई थी।वो मेरे ही सामने मेरी बीवी को किस करने लगा होंठों से होंठ मिलाकर. अब वो मेरे कपड़े उतारने लगा और खुद भी नंगा हो गया।कुछ ही पलों में बिस्तर पर हम दोनों बिल्कुल नंगे पड़े थे।फिर वो मेरी चूचियाँ अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और मुझे और ज़्यादा मज़ा आने लगा। मेरे मुँह से ‘अहाहाहा. तारा ने लिंग को बाएं हाथ से पकड़ लिया और हिलाते हुए मुनीर का साथ देना शुरू कर दिया.

प्रिया ने इस पर कुछ कहा तो नहीं, मगर एक बार मेरी तरफ गुस्से से देखा और फिर जोरों से मेरे होंठों‌ को चूसने और‌ काटने लगी.

पानी पीकर रेवती ने मुझे धन्यवाद दिया तथा वो दुबारा मुझसे अनुरोध करने लगी.

5 मिनट बाद जब हम दोनों के होंठ अलग हुए तो वो मुझे देख कर थोड़ा मुस्कुराईं. लगता है तुम्हारा ही पम्प ख़राब हो गया है।मैंने उनकी बात को समझते हुए मौका देखकर चौका मारा- चाची ख़राब होने के लिए पंप का इस्तेमाल होना जरूरी है। और मेरा तो अभी तक यूज ही नहीं हुआ है।इस पर चाची फट से बोलीं- ठीक है. इंडियन बफ बफ’ की आवाजें निकाल रही थी। मेरा लण्ड तो मानो लोहे की तरह सख्त हो चुका था।मैं उसके पूरे बदन पर चुम्बन कर रहा था और उसके मम्मों को जोर-जोर से मसल रहा था। रेणु के मुँह से कराहने की आवाजें आ रही थीं.

मयूरी- तो आप अपने कपड़े उतार दो ना…शीतल- जरूर…और शीतल ने अपनी नाइटी उतार फेंकी और उसके साथ ही साथ उसने अपनी काले रंग की ब्रा और पैंटी भी फटाफट से उतार दी जैसे उसको अपनी बेटी से चूत चटवाने की कुछ ज्यादा ही जल्दी हो. जिस भी मेरे फ़्रेंड या पाठक ने कुँवारी लड़की की फुद्दी का पानी चखा है, वो मेरी फ़ीलिंग समझ सकता है. मैं चुप रहा तो वो समझ गई कि मैंने सिर्फ उसको न चिल्लाने के लिए यूं ही कहा था कि मेरी बात सुन लो.

रात को खाना खाकर मैं एक किताब और एक नोटबुक लेकर टीचर के घर चला गया। टीचर हमारे ही गाँव में रहती थीं. उसका फिगर 32-30-32 का फिगर का था, इतना कांटा माल था कि जो भी उसको देखता होगा, वो पक्के में उसको चोदना चाहता होगा.

’ मैंने कहा।‘तो अभी क्या कुंवारी हो तुम? आज तक स्वेपिंग में कितनों का तो ले चुकी हो.

मैंने कहा- हां हिंदी फिल्मों से पहले ये इसी तरह की फिल्म एक्ट्रेस थी. अब तुझे मेरा लण्ड चूसना गंदा लग रहा है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसके बाल पकड़ कर उसको नीचे किया और उसके मुँह में लण्ड डाल दिया और आगे-पीछे करने लगा।वो ‘गूं-गूं’ करने लगी।मैंने उसके मम्मों पर एक और जोरदार थप्पड़ मारा. औरत इससे आप पर फ़िदा हो जाएगी।अपने हाथों से मैं भाभी की पीठ हौले-हौले सहला रहा था.

सेक्स करते हुए नंगी लड़की नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैं उसकी बातें सुन ही रहा था कि उसने फिर से गिड़गिड़ाते हुए कहा- तुम्हारा क्या जाएगा. तो सबीना ने कहा- मैडम के शरारती बाबू को मैं शांत कर दूंगी!और वो सोफे से उठकर मेरे पास आई, मेरा हाथ पकड़ कर अपने रूम की ओर ले जाने लगी.

जब से वो हमारे घर भी आई जीजू के साथ तो भी हमेशा घर के काम में व्यस्त रहती थी. किसी अप्सरा सी चलते हुए सौम्या अन्दर आई।मैं मन ही मन मुस्कुरा रही थी, उसके सुनहरे बदन पर लाल रंग की साड़ी खूब फब रही थी।नाभि के नीचे जैसे तिकोनी जगह किसी भी अंजान को आमंत्रण दे रही थी, लाल ब्लाउज के अन्दर काली ब्रा दोनों स्तनों की बॉर्डर जैसे ले ले. ’ चीखें निकलने लगीं।वो बहुत गर्म हो गई थी और वो मुझे ऊपर खींचने लगी, बोली- जल्दी से मेरी चूत में अपना लण्ड पेल दो.

सनी लियोन का बीएफ चुदाई वाला

जो इस ग्रुप की हेड थी।उसने साक्षी से कहा- आज शाम को 7 बजे तक मेकअप वगैरह करके तैयार हो कर आ जाना। मैं तुम्हें कस्टमर को दिखा दूँगी. मीठानंद ने प्रीति के बालों को पकड़ा और प्रीति के नर्म और गर्म रसीले होंठों को अपने होंठों के बीच दबा लिया. वो खेलते खेलते मेरे पास आई और मेरे फ़ोन में देखने की कोशिश करने लगी.

कितना अच्छा लग रहा है।अचानक मैंने अपना लौड़ा उसकी चूत के छेद के आस-पास घुमाया।वो सीत्कार उठी।अब खेल की शुरूआत थी. वैसे-वैसे वो पागल सी होने लगी और उसने मेरे लण्ड पर अपना हाथ रख दिया।अब वो मस्ती में आकर ज़ोर-ज़ोर से जीन्स के ऊपर से ही मेरा लण्ड दबाने लगी। मैं कुछ देर ऐसा करते हुए उसके स्तन दबाता रहा। फिर मैंने दो उंगली डालने की कोशिश की… तो उंगली जा नहीं रही थी।तभी वो भी चिल्लाई- उई माँ मर गई.

मैंने उसकी चूत में अपनी उंगलियां तेजी से पेलनी शुरू कर दीं, उसकी मुनिया से झर झर पानी की धार बह कर उसकी जांघों पर होते हुए फर्श को गीला करने लगी.

मैंने रेवती की तरफ देखते हुए उसे बैठने के लिए कहा और पानी पीने के लिए दिया. फिर मैंने उसको सीधा करके एक उंगली उसकी चूत में डाल दी, वो एकदम से जाग गई. सामने एक नाटे कद का काला सा लड़का खड़ा था। मैं चुदाई के कारण कुछ हांफ सी रही थी और मेरी जाँघ से वीर्य गिर रहा था।कहानी कैसी लग रही है.

मैं अपनी मम्मी को उनकी हर गंदी आदतों के बाद भी सबसे ज्यादा मानती हूं. मैं ऐसे लिख कर ज्यादा अपने आपको को तुर्रम खां नहीं बनाऊंगा कि मेरा लंड घोड़े जितना बड़ा है, या सांड के जैसे लम्बा है. उन दिनों दिसम्बर चल रहा था। मेरी माँ घर के बाहर काम कर रही थीं और पापा भैया के साथ दीदी के यहाँ चले गए थे तो घर में मैं अकेला ही था।उस दिन जो हुआ अब आगे बताता हूँ मेरी ताऊजी के बड़े लड़के की बहू यानि मेरी श्वेता भाभी.

वो मेरी चूत की दरार को बहुत देर तक अपनी जीभ से चाटता रहा और उसके बाद वो मेरी चूत को खोलकर मेरी चूत को अन्दर तक चाट रहा था.

लोकल सेक्स बीएफ वीडियो: जो इस ग्रुप की हेड थी।उसने साक्षी से कहा- आज शाम को 7 बजे तक मेकअप वगैरह करके तैयार हो कर आ जाना। मैं तुम्हें कस्टमर को दिखा दूँगी. पर मैंने उन्हें नहीं छोड़ा और एक और जोर का धक्का दिया।मेरा लण्ड पूरा अन्दर पहुँच गया और वो छटपटाने लगी.

जिसे पढ़कर सभी सम्माननीय पाठकों के लंड चूत चोदने को बेताब हो जाएंगे और सभी चुदासी पाठिकाओं की चूत लंड के लिए पानी छोड़ने लगेंगी. सामने एक नाटे कद का काला सा लड़का खड़ा था। मैं चुदाई के कारण कुछ हांफ सी रही थी और मेरी जाँघ से वीर्य गिर रहा था।कहानी कैसी लग रही है. मेरे से पूछने लगी कि इतनी स्पीड और इतने माल का क्या राज है? जब कि उसके पति इतनी स्पीड के कभी आस पास भी नहीं पहुंचा.

मुझे भी कुछ मज़े लेने दे।वो मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे पूरे शरीर को चाटने लगीं।सच यार.

जब मैं 12वीं कक्षा में पढ़ता था। मैं हमेशा किसी को चोदने की सोचता रहता था। उस समय एक बन्जारन की लड़की मेरे घर के सामने रहती थी।वो कुछ सांवली थी. तू तो बड़ा हरामी है।मैं फिर से उनकी चूत चाटने लगा और जीभ उनके चूत में पेलने लगा।वो ‘आआहह…आआहह…आ’ की आवाज़ें निकाल रही थीं, वो बोलीं- कुत्ते आ. तो वो पेशाब करने के लिए रूका और पेशाब करने लगा।उसी समय एक साइकिल आ रही थी अचानक साइकल सवार नहर में जा गिरा नहर में पानी बहुत था और साइकल सवार पानी में डूबने लगा।ये देखकर लड़के ने आव देखा न ताव.