एक्स एक्स एक्स की बीएफ

छवि स्रोत,सैंडल बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ चल जाए: एक्स एक्स एक्स की बीएफ, शुरू में वो मुझसे दूर अलग चेयर में बैठती थी, फिर बात होते-होते वो मेरे पास बैठने लगी और अक्सर हम लोग हैंडशेक भी कर लिया करते थे.

बीएफ पिक्चर छत्तीसगढ़ी में

आंटी रखवाने वाला सामान लेने दूसरे कमरे में गईं तो मैंने अपने लंड को बैठाने की कोशिश की. बीएफ बीएफ चोदने वाला वीडियोवो देखने में उतनी आकर्षक नहीं थी लेकिन उसका कसा हुआ हुस्न देख कर किसी का भी लौड़ा सलामी ठोकने लगे, उसका ऐसा गदराया हुआ बदन था.

मेरा लंड तो उनकी चूत का प्यासा था, वो तुरंत उठकर खड़ा हो गया और अब मैं लंड को धीरे धीरे चाची की गांड पर रगड़ने लगा. मां के बीएफ सेक्सीमैंने चुपके से चाची की एक नंगी वीडियो भी बना ली है, जिसमें उनकी नहाते हुए की वीडियो है.

एक लम्बी लकड़ी से दूर से दरवाजे को हिलाया तो वो हल्का सा खुल गया और जितना खुला उतना मेरे लिये काफी था.एक्स एक्स एक्स की बीएफ: उनके सफ़ेद बोबों पे भूरे निप्पलों को चूसा, काटा, जिससे वो मदहोश होने लगीं.

मेरा मन कर रहा था कि अभी पटक कर चोद डालूं साली को, लेकिन जोश में होश खोने से गड़बड़ हो सकती थी.अच्छा, गुड़िया तेरा नाम तो बता क्या है?” अंकल जी ने मेरे सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए पूछा.

बीएफ ब्लू वीडियो ब्लू - एक्स एक्स एक्स की बीएफ

हम दोनों एक साथ चिल्ला रहे थे- ऊह्ह्हह्ह मर गया …मैंने एक बार फिर पूरी ताकत लगा कर पीठ उठा कर लंड को बाहर खींचने की कोशिश की लेकिन लण्ड टस से मस नहीं हुआ.हर बार चूतड़ उठा कर विपिन जी के लंड को गप्प से निगल जा रही थी उनकी चूत.

भाभी हंस कर बोलीं- मेरी जैसी क्यों चाहिए?मैंने कहा- आपकी जैसी क्यों चाहिए ये तो आप खुद ही अच्छी तरह से जानती हैं. एक्स एक्स एक्स की बीएफ उसके लंड को सहलाते हुआ बाहर निकाला, तो देखा कि रितेश का लंड पहले से एकदम कड़क स्थिति में था.

गुलाबो की योनि मेरे लिंग के सम्पूर्ण स्पर्श को पाकर व्याकुलता से पगला गयी थी.

एक्स एक्स एक्स की बीएफ?

मैं भी एक सयुंक्त परिवार में रहता हूँ और ये सेक्स कहानी मेरे ताऊ और ताई की है. मेरी पिछली कहानीपति के बिना घर में एक रातमें आपने पढ़ा कि मेरा पति रोहन अपने दोस्त के घर चला गया. फिर उसने मुझे नीचे लेटा दिया और मेरे बदन को चूमती हुई नीचे की तरफ जाने लगी.

उसी समय इंग्लिश मीडियम वाले सेक्शन में एक लड़की पढ़ती थी, जिसका नाम अनु था. मगर फ्यूज बल्ब भी भला कभी जलता है? उन्होंने मुझे आवाज दी और कहने लगे- देखो सुधा, बल्ब नहीं जल रहा है. मगर ये सभी जानते हैं कि मसाज से तनाव दूर होता है और रिलैक्स अनुभव होता है और ये सब अनुभव करना हर उम्र में अच्छा लगता है.

क्यों अपने आपको तकलीफ़ दे रही हो?मेरा लंड मसलते हुए नफीसा कह रही थी कि जुल्फी मैं यह नहीं कर सकती. दिलिया बोली- मेरा निचला होंठ चूसो!मैं निचला होंठ चूसने लगा तो मेरी दुल्हन की चूत ने मेरा लण्ड ढीला छोड़ दिया, वह ऊपर उठ गयी और लण्ड बाहर आ गया. मैं- जीजू, आप से कभी भी चोदने के लिए नहीं कह सकती, यह भूल जाओ जीजू कि मैं खुद तुमसे मुझे चोदने के लिए कहूंगी.

वो भी मेरे गले में बांहें डाले मेरे से एकदम चिपक गयी। उसे वैसे ही लेकर मैं कुर्सी पर बैठ गया। वो मेरे गले में बांहें डाले हुए थी. शीतल भाभी के मुँह से यह बात सुन कर मुझे लगा कि जरूर भाभी के मन में कुछ है.

पता चला कि भाभी के पति के पेट में दर्द हो रहा है जो क्लीनिक पर आने में असमर्थ था.

मैंने दीदी को नंगी कर दिया और उसकी चूत के सामने पहली बार इतने नजदीक से दीदार किए.

लेकिन मीरा बोली कि नहीं ऐसे तो क्रीम चादर में लग जाएगी, आप चादर हटा कर लगाओ. मैंने भी अपना हाथ ढीला छोड़ दिया और अपने होंठ उनके होंठ से अलग कर लिए. कुछ समय तो मुझे कुछ समझ में नहीं आया कि सब कहां चले गए दरवाजा खुल्ला छोड़ कर?मैं थोड़ा और अन्दर की तरफ गया, तभी मुझे बाथरूम से पानी गिरने की आवाज सुनाई दी.

फिर सरिता मेरा सर बाहर खींचकर बोली- हर्षद बस करो अब … और नहीं सह सकती मैं … अब डाल दो अपना लंड मेरी चूत में … आंह जल्दी से चोदो मुझे!मैं खड़ा हो गया और सरिता को जोर से अपनी बांहों में कसकर उसके होंठों को चूसने लगा. कुंवारी भाभी की कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि मुझे अपने ऊपर झुका देख कर मेरी इस हरकत का एहसास तो भाभी को भी हो गया था, पर उन्हें कोई आपत्ति नहीं थी, तो मैंने भी मौके का फायदा उठाकर अपना एक हाथ उनके उभरे हुए वक्ष पर रख दिया. बीवी ने बगल में रखी वैसलीन की डिब्बी मेरे हाथ में दे दी, जो उसने पहले से ही अपने पास ले रखी थी.

फिर मैंने सहला सहला कर बिल्कुल ही गर्म कर दिया और उसकी ब्रा पेंटी भी उतार डाली.

वैसे भी जवानी के वो दिन ऐसे होते हैं कि दिन में अगर सौ काम करो तो नब्बे काम लौड़े को शांत करने के लिए लिए होते हैं. उसकी बातों में अब ये बातें भी स्थान लेने लगी थीं कि मुझे किस तरह का ब्वॉयफ्रेंड पसंद है वगैरह वगैरह. पिंकी बहुत धीरे से बोली- क्या कर रहे हो जीजा जी!पिंकी की धीमी आवाज़ किसी डर की वजह से नहीं, बल्कि पिंकी का बहुत मन था कि अमर उसको छेड़े, उसके बदन से खेले, इस वजह से वो सिसिया रही थी.

अब मामी बिना कुछ कहे ही उठ कर नाइटी पहनने लगी और चुपचाप कमरे से बाहर निकल गई. कई जगह पर तो गुदगुदी हो जाती है मगर एक फ्रेशनेस की फीलिंग भी आती है. मेरा लंड उसके गले तक फंसाने के लिए मैं उसके बालों को पकड़ कर पूरा जोर लगा देता था.

कमेंट और मेल में अपने विचार बताएं, अच्छा रिस्पॉन्स आने पर मैं आपको अपनी जिंदगी में आई और लड़कियों की कहानियां भी बताऊंगा.

वसुन्धरा की दोनों आँखों से आंसुओं की मोटी-मोटी बूँदें टपक रही थी और मैं अपने होंठों से वसुन्धरा का एक-एक आंसू बीन रहा था. घर आकर मैंने डोरबेल बजाई तो मेरी प्रियतमा राशि मुस्कराती हुई दरवाजा खोलकर मुझे अंदर खींचने लगी.

एक्स एक्स एक्स की बीएफ मैं अपना लिंग-मुण्ड वहीं टिका छोड़ कर वसुन्धरा के जिस्म के ऊपरी भाग पर छा गया. हर लड़की को पहली बार चूत में लंड घुसवाने पर दर्द होता ही है, अभी ठीक हो जाएगा.

एक्स एक्स एक्स की बीएफ मैं उसकी गांड को भी आज ही चोदना चाहता था लेकिन जब मैंने मोबाइल में टाइम देखा तो 2. पहले मैंने एक ही हाथ लगाया, लेकिन जब मुझसे रहा नहीं गया तो दूसरा हाथ भी लगा दिया.

वसुन्धरा का शरीर पलंग से करीब फुटभर उछला- हे राम! रा … आ … अ … ज़! मर गयी … मैं! उफ़.

बीएफ सेक्स चुदाई मूवी

चूंकि मैं अपना ऐसा साथ उन सभी ऐसी महिलाओं का देता हूं, जो सामाजिक डर के कारण अपनी जरूरत को दबाए रहती हैं. प्रिया बेड पर बैठ गई और मैं प्रिया के मुँह में लंड अन्दर बाहर करने लगा. अगर संगीता के आदमी को हमारी चुदाई के बारे में पता चल जाता तो वह अपनी सेक्सी बीवी को शायद फिर दोबारा अकेले आने का मौका नहीं देता.

वो पंखुड़ियां उसके जिस्म पर भी चिपक गयी थीं जो मुझे बहुत अच्छी लग रही थीं. रोहित मस्ती में सिसकारियाँ ले रहा था ‘स्स्स … आह्ह … चाची … उफ्फ … चूसो इसे!’ उसके मुंह से कुछ इस तरह के शब्द निकल रहे थे. भाभी का विरोध काम होता देख, मैंने उनके हाथ छोड़ दिए और दोनों हाथ से उनके बड़े बड़े तरबूजों को मसलने लगा, उनके होंठों को अपने होठों में लेकर चूसने लगा.

मैं भी उसे गटक गयी और लण्ड का टोपा चाटने लगी।तब वहां से चली।बस इसी में थोड़ा देर हो गयी।अम्मी बोली- ठीक है रेहाना … पर ये तो बता कि उसका लण्ड कितना बड़ा है?मैंने कहा- लण्ड तो बड़ा मोटा तगड़ा है.

भाभी बोली- यहीं पर खड़े रहोगे या अंदर भी आओगे?अंदर ले जाकर भाभी ने कहा- तुम बैठो, मैं तुम्हारे लिये चाय लेकर आती हूँ. उन्होंने हल्के से अपनी कमर को ऊपर कर दिया, तो मैंने बिना समय गंवाए उनके पायजामे को उनके पैरों की तरफ खींच दिया. उसी समय मैंने भी उसे अपने दिल को बात बता दी- मैं तुम्हें बहुत पसंद करता हूँ.

उसने मेरा लंड अपने हाथ में लिया और थोड़ी देर खेलने के बाद उसे मुँह में लेकर चूसने लगी. उसकी टाइट सी चूत को अपनी आंखों से निहारने की ख्वाहिश मेरे दिल में ही रह गयी. करीब 15-20 मिनट बाद मौसी भी उसी कमरे में आईं और मम्मी को झकझोरते हुए कहने लगी- जीजी, अपने लिए जगह बना लिए और मेरे बारे में सोची ही नहीं.

चाचा जी ने बोला कि कल उनको कहीं जाना है तो मुझे उनके घर पर रहने को बोला. मुझे उसका एहसास हुआ, इतना गर्म लंड रस था कि मुझे लगा मेरी चुत जल जाएगी, पिघल जाएगी.

एक दिन में उसके रूम में झाड़ू लगा रही थी, तो वह अपने बेड पर बैठे हुए हसरत भरी निगाहों से मेरी गहरे गले की टी-शर्ट में झांक रहा था. मैं समझ गया कि मेरी बहन की जवान बेटी भी वही चाहती है, जो मैं चाहता हूँ. इधर यह मेरी पहली कहानी है, इसलिए कोई भूल दिखे, तो मुझे माफ़ कर देना.

उन्होंने जल्दी से अपनी चैन खोली और अपना गोरा मोटा लंड बाहर निकाल लिया.

मैं बोला- जब मैं बुर चाट रहा था तो तुम्हें कैसा लग रहा था?वो बोली- आज से पहले इतना मज़ा कभी नहीं आया, न ही कभी इतना पानी निकला. बेड पर बैठ कर हम दोनों ऐसे बात करने में लगे थे जैसे हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त हों और बहुत सालों से एक दूसरे को जानते हों. सोनम बेटा, तू कितनी सुन्दर दिखती है जब ऐसे अपनी चूत अपने हाथों से खोल कर लेटती है.

जब मुट्ठ ही दो बार मार दी थी तो फिर चुदाई एक बार खत्म हो जाती तो मेरे लंड और पूजा दीदी की चूत के साथ बड़ी ही नाइंसाफी हो जाती. नीतू तुम्हारी जांघों के बीच में हाथ रखा था, तब मुझे महसूस हुआ था, इसलिए पूछ रहा हूँ, तुम्हारी पैंटी गीली हो गई है क्या?”अंकल की बेशर्मी की हद हो गई थी.

मैंने अपना एक पैर बीवी घुटने के बाजू बाहर रख दिया, फिर बीवी को आहिस्ता से मेरे साथ पीछे आनेके लिये कहा. मैं कब से इस बात के इंतजार में था कि सलोनी मौसी कब अपनी चूत में साबुन लगाएंगी और मुझे उनकी चूत के दर्शन होंगे. पर मुझे आधे घंटे का समय तो दो। मैं तुझे वापस फोन करती हूँ।बस आधे घंटे में ही मौसी का फोन घनघना उठा।उसने कहा- हां ले भोसड़ी वाली रूपाली, मैं तेरे लिए एक नहीं दो लण्ड भेज रही हूँ। उनका कोड है ‘घंटा’.

बीएफ चलती

मैंने अब अपनी दो उंगलियां जागृति मेम के मुँह में दे दीं जिनमें उनकी चुत का रस लगा हुआ था.

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि उस उम्र में मूड स्विंग होते रहते हैं यानि की कभी इंसान खुद ब खुद खुश हो जाता है या फिर बिना कारण के ही उदास हो जाता है. भाभी बोलीं- आज मेरे ऊपर बड़ी दया दिखा रहे हो देवर जी … क्या बात है कुछ चाहिए है क्या?मैं- ऐसा कुछ नहीं भाभी, बस मैंने सोचा कि आपकी मदद कर दूँ. वो अन्दर से एकदम गोरी-चिट्टी थीं और उनका बदन दूधिया रंग के बल्ब की रोशनी में चमचमा रहा था.

दोस्तो, अगर गर्लफ्रेंड पोर्न कहानी पढ़ने के बाद आप पानी गिराते हो, तो प्लीज मुझे कमेंट्स और मेल करके अपना एक्सपीरियंस जरूर बताना. फिर अचानक एक धक्के में पूरा 8 इंच का मोटा लंड शारदा चाची की छोटी सी बुर में घुसेड़ दिया. एचडी बीएफ डॉट कॉममेरी रगड़ाई में कभी लंड उसकी चूत पर जोर से लग जाता, तो वो कराहने लगती.

प्रिया- चुदाई कीजिए मेरी!मैंने प्रिया की कमर पकड़ कर उसकी चूत में लंड अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. तो कुलीन मुझ पर लाइन मारने लगा था और ऐसे ही हम दोनों लोग की दोस्ती भी हो गयी.

फिर मार्च 2012 में अच्छी सैलरी मिलने के कारण मैं दूसरे शहर में चला गया. पर आजाद मम्मे रखने का मतलब था, मर्दों को खुली दावत … इसलिए मैंने ब्रा पहनना तय किया. मैं यहीं हूँ … कहीं भागी नहीं जा रही, तेरी ही रंडी हूँ साले … आज तेरा जितना मन करे, चोद लेना.

आप सबके मेल मुझे निरन्तर मिल रहे हैं जिनमें आप में से अधिक लोग अपनी वाइफ को किसी और के साथ सेक्स करता देखने की कामुक इच्छा रखते हैं. मेरी और नीता के मिलने की और भी बहुत सी कहानियां हैं, जिन्हें मैं आपको बाद में बताऊंगा. उसकी आह सुनकर मुझे लगा कि इसे दर्द हो रहा है तो मैंने उससे पूछा- तुम्हें सील टूटने की वजह से दर्द हो रहा है ना?उसने मुझसे कहा- मेरी सील तो पहले ही टूट चुकी है.

[emailprotected]चीटिंग वाइफ Xxx कहानी का अगला भाग:साजिश और सेक्स की कॉकटेल- 4.

लंड घुसने के कारण ढेर सारे पिच्च करके छलके रस ने हम दोनों की झांटें भिगो डालीं. उनसे बात करके पता चला कि वो एक 29 साल के मर्द थे और मुझसे बहुत ही अच्छे से बातें कर रहे थे.

यह पोर्न कज़िन्स सेक्स कहानी तब की है, जब मैं गर्मियों की छुट्टी में गांव गया था. मैंने पहले भी बोला था कि तुम पहली नज़र में मुझे अच्छी लगीं, तभी जब पता लगा कि हम दोनों की मंजिल एक है तो … आगे तुम खुद जानती हो. पहले थोड़ी देर तक मैंने उनका सपाट पेट सहलाया, फिर अपना हाथ नीचे की ओर लेकर जाने लगा.

मैंने बोला- जिसको हीरा आसानी से मिल जाए न … उसे उसकी कीमत नहीं पता होती, जिसको नहीं मिला होता, उसी को उसकी असली कीमत पता होती है. आशीष बोला- तू तो पागल है रे … तेरे जैसी चुद्दक्कड़ चुदासी लड़की का मैंने सुना भी नहीं है … मैं कितना लकी हूं कि तू मेरी बीवी बनने वाली है, पर लगता नहीं कि पहली बार तू चुदवा रही है. वो दर्द से चिल्लाना चाहती थी पर मेरे हाथ से मुँह बंद होने से चिल्ला नहीं पा रही थी.

एक्स एक्स एक्स की बीएफ वो दोनों आगे के दरवाजे से टॉयलेट के अन्दर चले गए और अन्दर दरवाजे को बंद कर दिया. क्योंकि हमारे घर गांव में हैं और गांव की परम्परा के चलते यहां की महिलाएं आड़-पर्दा ज्यादा करती हैं.

बीएफ दिखाइए मूवी

उसकी चूत की झिल्ली फट गई थी और खून उसकी जांघों से बहता हुआ नीचे आने लगा. उसके नाखून मेरी पीठ में घुसने लगे लेकिन मैंने अपने चोदने की गति को बनाये रखा और उसके बाद मीना मुझे कुछ इस प्रकार जकड़ लिया मानो कोई बेल किसी वृक्ष पर लिपट गयी हो!उसकी मादक सिसकारियाँ निकली ‘आहहहह हम्म्म्म ऊफफ …’ करते हुए वो झड़ने लगी और मेरी गर्दन पर चाटते हुए मेरे कूल्हों को दोनों हाथों से जोर जोर से धकेलने लगी. उसके बाद मैंने श्वेता को शुभी के ऊपर पेट के बल लेटा दिया और श्वेता की चूत मेरे लंड की तरफ आ गई.

मेरे मुँह से मीनाक्षी भाभी सुन कर प्राची हंसने लगी और मीनाक्षी भाभी भी मुस्कुरा दी. उसके बाद मैंने उस एक्ट्रेस को कैसे चोदा?मैं मुंबई से आपका दोस्त अजय सिंह. बड़ा वाला बीएफमैं बोला- इसकी क्या जरूरत थी?वो बोली- पी लो, आज बहुत मेहनत करनी है तुमको.

शीतल भाभी की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, इस पर आप मुझे जरूर अपनी राय दें.

ऐसे ही 15 मिनट की चुदाई के बाद मैंने उनकी योनि को अपने कामरस से भर दिया. जैसा कि आप सभी जानते हैं कि उस उम्र में मूड स्विंग होते रहते हैं यानि की कभी इंसान खुद ब खुद खुश हो जाता है या फिर बिना कारण के ही उदास हो जाता है.

मैं भाभी की चूचियों के निप्पल बारी बारी से मुँह में लेकर चूसने लगा. मैं- ठीक है जीजू, आज पूरी रात आप अपने लंड को मेरी चूत में ही डालकर रखना और जब मर्जी करे चोदना शुरू कर देना अपनी साली की गोरी गुलाबी चूत को!पूरा बाथरूम मेरी चूत और जीजू के लंड के रोमांचक जंग से गूंज रहा था, मेरी चूत से फच फच फच की आवाज आ रही थी. जैसे जैसे मेरा लन अंदर बाहर हो रहा था वैसे वैसे मुझे आनंद आ रहा था और सरनी नीचे पड़ी बहुत कामुक आवाजें निकाल रही थी.

इधर हमें ये सब करते काफी समय हो चुका था, पर वक़्त की परवाह किसे थी.

उस दिन वो मुझसे बोली- मैं पोस्ट ग्रेजुएट हूँ, पर क्या फायदा घर में ही रहती हूँ. फिर मैंने सुषी की चूचियों को पकड़ लिया और उसकी चूत में फिर से जोरदार धक्के देना शुरू कर दिया. भाभी बोलीं- ठीक है, तो रात को तेरे भैया घर नहीं आए, तो देखूंगी कि कितना पानी है तेरे में!ये कह कर भाभी ने फोन कट कर दिया.

सुहागरात बीएफ वीडियो हिंदी मेंमैं थोड़ी वासनामयी होने लगी थी लेकिन मैं बोली- प्लीज छोड़ो मुझे … यह ठीक नहीं है जीजू. वो मुझे अपना सिर हिला के बोल रही थी- रॉकी इसे बाहर निकालो, बहुत दर्द हो रहा है.

फुल चुदाई सेक्सी बीएफ

अब मैं खुद को थोड़ा एडजस्ट करके अपने दांतों से उनकी पैंटी के इलास्टिक को पकड़ लिया और धीरे धीरे नीचे सरकाने लगा. मेरा लंड तो उनकी चूत का प्यासा था, वो तुरंत उठकर खड़ा हो गया और अब मैं लंड को धीरे धीरे चाची की गांड पर रगड़ने लगा. तभी भाभी ने अपने बिस्तर पर ही मुझे बैठने को बोला- आप कुछ देर यहीं रुक जाओ, इनका दर्द रूक जाए तभी जाना.

उसने अपना हाथ सलवार से खींचना चाहा लेकिन मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे अपने खड़े लौड़े पर रख दिया. इस पूरे मजे के लिए आप सभी दोस्तों को मेरी कहानी के अगले भाग का इन्तजार करना होगा, जो मैं आप सभी के मेल आने के बाद लिखूँगा. मैं नींद में होने का नाटक करते हुए बोला- ह्म्म्म, क्या हुआ?मौसी- थोड़ा उधर सरको, मुझे भी यहीं सोना है, बाकी कहीं जगह ही नहीं है.

इसमें किसी तरह की कोई रिस्क नहीं होती है और चुदाई के लिए जगह ढूँढने की दिक्कत भी नहीं होती है. ”कौन सी न्यूज़?”मेरे प्रमोशन की …”उसकी बात सुनकर ही मैं रोमांचित हो गयी और मेरा टेंशन भी थोड़ा कम हो गया. मेरा फूला लंड देख कर बोली- आह इसे कहते हैं लंड … उस साले का तो मरा हुआ मेंढक है.

मेरी बहन के मुँह से ये शब्द सुनकर मैं चौंक गया और ज्यादा जोश में भी आ गया. इस तरह ऋजु मुझसे चुदने के लिए तैयार हो गयी। और मैं सही मौके की तलाश करने लगा।और जल्दी ही मुझे मौका मिल गया। हमारी रिश्तेदारी में किसी बुजुर्ग की मौत हो गयी थी, तो 4-5 दिन बाद उसकी तेरहवीं थी।एक दिन शाम को मेरी माँ ने बताया कि कल वो उसकी तेरहवीं में जाएंगी.

कुंवारी भाभी की कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि मुझे अपने ऊपर झुका देख कर मेरी इस हरकत का एहसास तो भाभी को भी हो गया था, पर उन्हें कोई आपत्ति नहीं थी, तो मैंने भी मौके का फायदा उठाकर अपना एक हाथ उनके उभरे हुए वक्ष पर रख दिया.

कसम खा कर कहता हूं दोस्तो, जब घर से निकला था, तब यही सोच रहा था कि चलो आज फिर चोदने को एक नई चूत मिलेगी, पर ऐसी चूत मिलेगी, ऐसा तो मैंने सोचा ही नहीं था. हिंदी बीएफ मुसलमानों कीमैंने धीरे से उसकी चूत में लंड को आगे-पीछे करना शुरू किया और वह अपनी गांड को पीछे धकेलने लगी. भारतीय बीएफ सेक्सी पिक्चरआंटी ने अपनी सलवार और पैंटी उतारी, मम्मी के चेहरे के दोनों तरफ अपने पैर रखे और बैठ गईं. उसी समय मेरी परीक्षा आने वाली थी, तो मम्मी ने पापा के करीबी दोस्त कमलेश सर को ट्यूशन पढ़ाने के लिए बोल दिया.

उसकी चूत का पूरा आकार बनावट पैंटी के ऊपर से ही साफ़ नजर आ रही थी क्योंकि पैंटी चूत से चिपकी पड़ी थी.

अपने हाथ में मेरे लिंग का साइज़ अनुभव करते हुए उसका मुंह और आँखें यूं खुली हुई थी जैसे कोई न-काबिल-ए-यक़ीन चीज़ से दो-चार हो रही हो. मैं उसका निचला ओंठ चूस कर अपना लण्ड हल्का से पीछे करता था फिर कस कर धक्का लगा कर उसका ऊपरी ओंठ चूसने लगता था जिससे चूत लण्ड को जकड़ लेती थी, उसकी जीभ को चूसने लगता था तो जैसे चूत लण्ड को अंदर खींच कर चूसने लगती थी. मैंने अन्तर्वासना की सभी कहानी पढ़ी हैं, लेकिन मुझे भाई-बहन की कहानी पढ़ने में बहुत मजा आता है। फिर मैंने भी अपनी कहानी लिखने की सोची।उससे पहले मैं आप सब को अपने बारे में कुछ बता देता हूँ.

वसुन्धरा का गर्म-गर्म ऱज़ मेरे लिंग के साथ-साथ योनि से बाहर टपकने लगा. मैंने फिर से चूत में उंगली डाली और खुद भी उसकी चूत की रबड़ी को चख लिया. चूसती रहो ऐसे ही ओह्ह …”चाची उसके लंड को मुंह में लेकर चूस रही थी और चाची के दूध हिल रहे थे.

मुंबई बीएफ सेक्स

मैं अपनी गांड की खुजली खत्म करने के लिए किसी अजनबी लंड को ढूँढने लगा और एक गे साइट में जाकर मैंने फिर से एक नया अकाउंट बना लिया. पूजा की चूत की कल्पना होने लगी तो फिर लौड़े को जोश में आते हुए देर न लगी. वो हंसकर जाने लगी तो मैंने उसे पीछे से पकड़ा और अपनी बांहों में कस के जकड़ लिया.

बाहर आते हुए देखा तो एलेक्स और जॉन बेड पर बैठे थे और रोहन काउच पर बैठे थे.

कुछ दिन बाद बहन के एग्जाम भी पूरे हो चुके थे, तो मम्मी ने कहा- जाओ, अपनी दीदी को घर ले आओ.

मैंने भी अपनी सलवार की गांठ खोल कर उसको ढीला ला कर दिया और विलियम ने उसको अपने हाथों से खींच कर नीचे उतार दिया. इसलिए तुम मेरे मुंह में ही निकाल दो साहिल … आह्ह् … उम्म … करती हुई वह और जोर से मेरे लंड को चूसने लगी. हिंदी बीएफ सेक्सी बढ़िया-बढ़ियाअब मैं ये भी समझ गयी थी कि मेरा भाई भी रात में चाची से ही बात करता रहता होगा.

अपने इस अफ़साने पर पाठकों की सुबुद्ध राय का मेरे ईमेल[emailprotected]पर मुझे बेसब्री से इंतज़ार रहेगा. खैर जब मैं नहीं रह पाती लंड के बिना … तो बेचारी मामी कहाँ रह पायेंगी. मैंने अपने बाएं हाथ से वसुन्धरा का दायां हाथ वसुन्धरा की कमर के ख़म के पास बिस्तर पर दबा लिया और ख़ुद वसुन्धरा की दोनों टांगों के बीच में घुटनों के बल उकडू बैठ कर दायें हाथ से अपना लिंग-मुण्ड वसुन्धरा की योनि पर रगड़ने लगा.

फिर मैंने एक जोरदार धक्का लगाया, तो अब मेरा लंड अंकल की गांड में घुस गया था. मेरा पूरा बदन भीगा हुआ था और मेरी भीगी हुई ब्रा और पैंटी जैसे पारदर्शी होकर मेरे चूचे और चूत के दर्शन रोहन के दोनों दोस्तों को करवा रही थी.

मैं बहुत जोर से चीखी और चिल्लाई- फट गई मेरी चुत … मार डाला रे बहुत दर्द हुआ …मुझसे अब दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा था.

मैंने अपने लंड को करीब आधा बाहर खींचकर अब एक जोर का धक्का और लगा दिया और अपने लंड को उसकी मखमली गहराई में जड़ तक ही उतार दिया जिससे मोनी जोरों के साथ चिहुंक गयी और अपने दोनों हाथों से उसने मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया. जब सबने खाना खा लिया तो मम्मी पापा अपनी चुदाई के लिए अपने बेडरूम में चले गये और धीरज अपने कमरे में जाकर अपने कपड़े चेंज करने लगा. भाभी अब बाथरूम में नहाने जातीं तो मैं चुपके से उनकी चुत और गांड देख कर मुठ मार लिया करता था.

गाना बीएफ सेक्सी कुछ देर के बाद मैंने उसको गोद में उठा लिया और उसको बेडरूम तक लेकर गया. ऊपर वाले से बस यही दुआ करता था कि जल्द से जल्द कोई आइटम चोदने को मिल जाए.

वो जोर से चिल्लाने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ पर घर में कोई था नहीं, तो मैंने उसका मुँह बंद किया और दूसरे जोरदार झटके के साथ पूरा लंड चूत में उतार दिया. पीछे से चूचियों का दबाव और साथ में नारी का स्पर्श मिलते ही लंड तुरंत खड़ा हो गया. जब मैंने अपने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाला तो मेरा वीर्य जो उसकी चूत के अंदर था वह बाहर की तरफ बहने लगा.

नंगी बीएफ सेक्सी मूवी

कुछ पल बाद मैं अपने मुँह में सरिता एक चुची लेकर चूसने लगा और एक हाथ से दूसरी चुची मसलने लगा. हम दोनों को ऐसा करते देख कर दिशा ने भी अपनी ब्रा निकाल दी और खुद ही अपने मम्मों पर हाथ घुमा कर मसलने लगी. उसके बाद मैंने फिर हाथ को उसकी पैंटी के अंदर घुसा दिया और उसकी चूत पर रख दिया जो कि गीली हो रही थी और बहुत ही गर्म थी जैसे भट्टी जल रही हो.

मैंने फ़ौरन वसुन्धरा को अपने बाएं हाथ से अपने आलिंगन में लेकर कस लिया और लगातार उसके चेहरे पर यहां-वहाँ चुम्बन लेने लगा. मगर साथ ही जब चुदाई की आग बेकाबू होने लगी तो मैंने चूत रानी को भी पीछे से जमाई जी के चूतड़ों पर रगड़ दिया.

मैं गांव आया तो मेरे घर पर दो चाचा चाची, स्नेहा, मायरा और छोटे चाची का एक बेटा था.

मैं पायजामे के ऊपर से ही भाभी की चूत को धीरे धीरे सहलाने लगा और चूत के दाने को धीरे धीरे मसलने लगा. सर ने लंड पर मम्मी के हाथ का टच महसूस किया तो वे भी मम्मी के दूध दबाते हुए बोले- अच्छा वो बात. मैंने उसकी साड़ी का पल्लू उसके कंधे से नीचे सरका दिया और उसे पकड़ कर उसकी साड़ी अलग करने लगा.

मेरा हाथ भी अब उसके लण्ड पर तेज तेज चलने लगा, मैं उसका लण्ड जोर जोर से मसलने लगी. मैंने उसकी जांघों पर किस करना शुरू कर दिया और वह भी मेरे हर चुम्बन का मजा ले रही थी. सुखबीर के धक्कों से मैं यह तो समझ गयी थी कि उसे बहुत मजा आ रहा और उसका जोश साफ झलक रहा था.

पर मेरा अभी नहीं हुआ था तो मैंने झटके लगाना चालू रखा, थोड़ी देर में उसे फिर से मजा आने लगा और फिर से मेरा साथ देने लगी.

एक्स एक्स एक्स की बीएफ: ये कह कर भाभी ने सामने की बेंच पर रखे अपने बैग्स अपने पास रख लिए और मेरे लिए जगह बना दी. मुझे भी किचन के काम से आज रात के लिए मुक्ति मिलने वाली थी तो मैंने खुश होकर कहा- ओके, मैं तैयार हूँ … ऊई माँ.

अंकल ने बोला कि मेरे औजार को तूने ही बाहर निकाला और सहलाया था, तो अब कोई फायदा नहीं है. मगर मैंने तो अपने पर काबू रखना ही सही समझा, पर इस भोसड़ी वाले लंड को को कौन समझाए … उसने तो फिर से खड़ा होना चालू कर दिया था. डॉक्टर ने रिया को उल्टा सोने को कहा और कहा कि अपनी टी-शर्ट ऊपर कर दो.

जैसे ही मैंने अपनी गांड ऊपर उठाई … हम दोनों ने देखा कि बस रुक चुकी है.

मैंने हल्के से अपने लंड को उसकी गांड की दरार पर ऊपर नीचे फिराना शुरू किया. मैं नहीं चाहता था कि अजय मीना के सामने आये और अजय को देख मीना बिना चुदे ही चली जाए. फिर उन्होंने मुझे पलट कर घोड़ी बना दिया और डौगी स्टाइल में करके मेरी चूत में लण्ड पेल दिया और मेरे चूतड़ों पर चपत मार मार के मुझे चोदने लगे.