देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,घोड़े वाली बीएफ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सुहागरात वाला: देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ, मीनू- बुरा ना मानना बाबूजी, आप जो कह रहे हो … वो कुछ समझ आ रहा है और कुछ नहीं.

मां के साथ सेक्सी बीएफ

मीता तो पहले हे डॉक्टर को सब कुछ दिखा चुकी थी, इसलिए बिना सवाल के वो नंगी होकर खड़ी हो गई. reverie बीएफमैं डर गया और और चचा से गिड़गिड़ाते हुए बोला- चचा गलती हो गई दारू के नशे में, हम अब ये सब नही करेंगें.

तब भी आप सब से निवेदन है कि मेरे हौसले को बढ़ाने के लिए इस सेक्स कहानी पर अपनी राय और कमेन्ट जरूर करें. सेक्सी बीएफ वीडियो एचडी डाउनलोडमेरी पिछली कहानीमेरे लंड को मिली पहली चूतमें मेरी बुर चोदने की तमन्ना पूरी हो गई थी.

जैसे ही उसने मुझे देखा कि वो तुरंत ही चिल्लाती हुई घबरा गई और दौड़ कर अपने रूम की ओर भागी.देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ: जैसे ही हम शहर से बाहर सुनसान सड़क पर पहुंचे मौसा जी ने मुझे छेड़ना सताना शुरू कर दिया.

रुक्मणी- कुणाल, मैं इसे हाथ में पकड़कर चूम लूं?मैं- भाभी, आपकी अमानत है.काल का चक्र कुछ ऐसा चला कि मैं किसी अन्य पुरुष से जानबूझ कर अपने जिस्म में धधकती वासना की आग बुझवाने लगी; ये सब बातें मैं आगे आप सब से साझा करूंगी.

बीएफ सेक्सी फुल इंग्लिश - देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ

मेरी गर्लफ्रेंड मधु ने मुझसे कहा कि अभी संजना का कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं है, उसके जिस्म में जवानी की आग भरी पड़ी है, तो वो रात में मुझसे ही लिपट जाती है … लेकिन मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता है.उनकी गांड को मैंने थोड़ा सा ऊपर उठाया और साड़ी को खोल कर उतार दिया.

नीचे से मैंने पूजा भाभी की साड़ी में हाथ दे दिया और उसकी जांघों को सहलाते हुए उसकी पैंटी में हाथ घुसा दिया. देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ मैं पूरी ताकत से धक्के लगा रहा था और भाभी नीचे से गांड उठा-उठाकर मेरा पूरा साथ दे रही थीं.

एक दिन मैंने उसको अपना लंड निकालकर दिखा दिया तो …हैलो मेरे सभी प्यारे दोस्तो, चुदासी आंटियो और सेक्सी लड़कियो! कैसी चल रही है सेक्स लाइफ? मुझे उम्मीद है कि सबकी चूतों को लंड और सभी लौड़ों को गर्म-गर्म चूतों का मजा मिल रहा होगा.

देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ?

उनका साड़ी का पल्लू नीचे सरक जाता और मैं उनकी चूचियों को ताड़ता रहता और फिर बाथरूम में जाकर मुठ मार लिया करता था. मधु को जब भी मन करता है, वो होटल में … या मैं उसी के घर पर जाकर उसकी ताबड़तोड़ चुदाई कर देता हूँ. मैंने अपना एक हाथ उनकी सलवार के ऊपर से ही उनकी चूत के ऊपर फिराना शुरू कर दिया, तो वह और गर्म हो गईं और अजीब अजीब सी आवाजें निकालने लगीं.

मौसा जी ने भी धक्के लगाने बंद कर दिए और मेरे निप्पलस चूसने लगे फिर होंठ चूसने लगे. पर सर्दी की रात होने के कारण डर नहीं था और हम दोनों एकदूसरे को रौंदने में लगे थे. क्या मस्त खुशबू आ रही थी उसकी चूत से! मैंने लगभग 2-3 मिनट तक उसकी चूत को चाटा और चूसा।उसके बाद में खड़ा हुआ और उसके दोनों पैरों को अपने दोनों कंधों पर रखा और फिर अपने लंड को उसकी चूत के द्वार पर सेट कर दिया.

मैं बोला- साली भैन की लौड़ी, आज तो तू चुदेगी भी … और मैं तेरी गांड भी मारूंगा. मैंने धीरे से उसके एक चूचे को दबाया तो उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. हां करते ही मैंने उसके दोनों बूब्स को जोर से पकड़ा और एक जोर का धक्का मारा.

उसकी चूत का रस बहकर मेरे लंड और लंड के आसपास की बाकी जगह को गीला कर रहा था. भाभी की चूचियां वाकई में ही दुनिया की सबसे खूबसूरत चूचियों में से एक लग रही थीं.

उसने अपनी पैंटी सीधी हरी के मुँह पर फेंकी जिसे हरी ने पकड़ कर लंबी सांस लेकर उसे सूंघा.

अपने चूतड़ उठाकर जब मैं पूरी ताकत से सर के लंड पर पटकती तो चट्ट … चट्ट … फट्ट … फट्ट की जो आवाज हो रही थी वो और ज्यादा सेक्स को बढ़ा रही थी.

उसने अपने पैरों को मेरे चूतड़ों पर रख दिया।सुहानी ऊपर से मुझे अपने सीने से लगा पकड़े हुए थी इसलिए धीरे-धीरे ही मैं शुरू हुआ और चूतड़ों को ऊपर-नीचे करके लंड से प्रहार करने लगा। मेरा भीगा लन्ड उसकी सूखी योनि में से गुजर कर रगड़ खाने लगा जिससे वह पूरा कड़क और बढ़कर 10 इंच का हो गया. मौसी ने पूछा- क्या हुआ बेटा डीडी? तुम्हें इतनी ज्यादा सर्दी कैसे लग रही है?मैंने कहा- पता नहीं मौसी, मुझे भी कुछ समझ में नहीं आ रहा है. रघु- बाबूजी, आज आप हमें चुदाई के तरीके सिख़ाओगे ना … रात को कितने बजे में आपको लेने आ जाऊं?सुरेश- हां सिखा तो दूंगा … मगर रात को ठीक नहीं.

मेरी उम्र 26 साल और लम्बाई 5 फीट 8 इंच की है। शरीर की बनावट का अंदाज़ा आप हरियाणा के किसी भी जाट के बारे में सोचकर लगा सकते हैं. आज नहीं तो कल बुला लेगा, चल एक बात बता, अगर आज मैं तुझे तेरे भाई का चुसवा दूं, तो कैसा रहेगा?मुनिया- सच भाभी, लेकिन ये कैसे होगा!उसका चेहरा शर्म से लाल हुआ जा रहा था, जिसे देख कर सन्नो मुस्कुरा रही थी. तभी अम्मी ने सिर उठा के अब्बू की तरफ देखा और अब्बू के लंड को पकड़ लिया.

अब मुझे उसे आखिरी सुख देना था, तो मैंने अपने लंड को हाथ से पकड़ कर हिलाया और चुदाई के लिए उसे रेडी किया.

जिस लौड़े ने मेरी आंखों में आंसू ला दिए, उसी लौड़े का अहसास फिर से चुत में करने को मचलने लगी. इतना कामुक माहौल होने के बाद मैं भी खुद को रोक कर न रख सका और मैं एकदम से प्रिया के ऊपर लेट कर उससे चिपक गया. शायद मुझे इस बात का ध्यान भी नहीं रहता था कि वो विरोध कर भी रही है या नहीं.

दीदी ने पूछा- वैसे गांव में कहां करते थे?मीनाक्षी- इतना वक़्त तो नहीं मिलता था, बस रात में ही हम दोनों खेतों में मिल लेते थे. जब मुझे यहां का काम समझ आ जायेगा और थोड़ा सेटल हो जाऊंगा तो तुम्हें अपने पास बुला लूंगा. धीरज ने हंस कर मेरी अम्मी के दूध दबाए और बोला- तभी लंड का रस आपकी जवानी पर असर दिखा रहा है.

आपको मेरी देहात सेक्स कहानी अच्छी लगी हो तो मुझे बतायें और कुछ कमी रह गयी हो तो वो भी बतायें.

दो घंटे बाद मैं लंगड़ाती हुई बाथरूम तक जा रही थी, तभी पीछे से सार्थक ने मुझे गोद में उठाया और बाथरूम में ले गया. अब मैंने उसके गोरे गोरे बूब्स को अपने हाथों में लेकर दबाया और मुंह लगाकर किसी बच्चे की तरह उसकी चूचियों को बारी बारी से पीने लगा.

देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ मैंने अचानक से अपनी पट्टी खोल दी और देख कर हैरानी जताने लगा, जैसे मुझे कुछ पता ही न हो. उस वक्त बुआ नाइटी पहने थीं और उनके निप्पल बहुत अच्छे से नज़र आ रहे थे.

देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ रात को डिनर के बाद जब राहुल अपने रूम में आया, तब उसे मोबाइल के स्क्रीन पर रूचि का मैसेज आया दिखा. आखिरकार मैंने उसको अपनी बांहों में उठाया और ले जाकर उसको बेड पर लिटा दिया.

पानी निकलने के बाद सुरेश वहीं लेट गया और उसने सुमन को बांहों में भर लिया.

शिल्पा शेट्टी का सेक्स वीडियो

फिर मैंने तेल की शीशी लेकर पहले उनकी पीठ पर तेल की मालिश करनी शुरू कर दी. मैंने उसे घुटनों पर बिठाया और खुद खड़ा होकर कंडोम निकाल कर उसके मुँह पर लंड लगा कर मुठ मारने लगा. फिर मैंने उनकी टांगों से साड़ी को थोड़ी सी उठाकर पेटीकोट में हाथ डाल दिया तो उसने मेरे हाथ को बाहर खींच लिया.

खूब अच्छी तरह से अब्बू का लंड अपनी चूत में उतरवाने के लिए वो फ्री हो गई थीं. मैंने उससे पूछा कि तुमको मेरा नंबर कहां से मिला?तो बोली- क्यों मेरे कॉल करने से कोई दिक्कत हुई क्या?मैं बोला कि नहीं मुझे भला क्या दिक्कत होगी … फिर भी मैंने यूं ही पूछा. वो रोते हुए बोली- मर गयी मामू … ये क्या कर दिया … रंडी नहीं हूं मैं … आईई … आह्ह … फाड़ दी मेरी गांड …उई मां … मार दिया।मैंने कहा- तू आज से मेरी रंडी ही है.

तभी इकबाल ने मेरा ब्लाउज उतार दिया और धीरज ने मेरे पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया.

मैंने उनको फिर से एक बार पेड़ पर झुकाया और साड़ी पेटीकोट उठाकर चुत में लंड लगा दिया. अब ये बात तुम खुद बताओ कि क्या तुमको मुझमें कोई कमी दिखती है या मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ?कालू- कैसी बातें कर रही हो मैडम जी. जब संगीता ने अपने आपको तौलिया में लपेट लिया, उसके बाद मेरे सामने उसने देखा.

मैं धीरे धीरे उनकी पैंटी को नीचे तक सरका ले गया और चाची की गांड पूरी नंगी कर दी. उसको एक अजीब सी जलन अपनी छोटी चुत में महसूस होने लगी … और ना चाहते हुए भी उसका हाथ खुद की चुत पर चला गया. इस पर मैंने मोनिषा से कहा- इतने दिनों से तुझे नींद आ रही थी … और आज तुझे क्या हुआ?मोनिषा ने कहा- भैया मैं ज़मीन पर ही बिस्तर बिछा लेती हूं.

अब आगे की ओरल सेक्स फ्री सेक्स स्टोरीज:अभी कालू आगे कुछ और बोल पाता, तभी मुखिया का मुनीम नारायण वहां आ गया. अभी तक मैं उसको कुछ नहीं बोल पाया था, बस मन ही मन चोदने की सोचता रहा और मुठ मारता रहा.

मुझे पूरा यकीन था कि उन्हें मेरी पीठ के बीचों बीच अपने होंठों से एक किस भी किया, लेकिन मुझे बस हल्का सा ही पता लगा. जब तक ये सेक्स कहानी आपके हाथों में होगी, तब तक शायद मेरी शादी की बात आगे बढ़ जाए. मैंने अपना हाथ उनके गाउन के अन्दर डाला और उनके निप्पलों को उंगलियों से मसलने लगा.

मगर मैं तो पहले से ही गर्म था और अब मैंने रेखा आंटी की ब्रा और पैंटी भी देख ली थी.

मेरे बारे में तुम क्या सोचते हो!उसने जब इतना खुल कर पूछ लिया तो मैंने भी बिंदास कह दिया- तुम कमाल की सेक्सी हो. रविवार के दिन मैं बाथरूम में कपड़े धो रहा था कि किसी ने दरवाजा खटखटाया. काफी देर तक मुझे चोदने के बाद इकबाल ने मेरी चूत में पानी छोड़ दिया और मेरे ऊपर ही लेट गया.

मैं इतनी कामुक हो गयी कि मैंने अपनी दो उंगिलयां अपनी चूत में डाल लीं. मैं नीला को सरप्राईज देना चाहता था और चाहता था कि आज उसे पूरा निचोड़ कर रख दूँ.

फिर उसने सिसकारते हुए मेरे सिर को ऊपर उठाया और अपनी चूचियों पर मेरा मुंह लगाकर बोली- थोड़ा सा इनको भी पी लो. मजा आया दोस्तो, अब ये साया कौन था … इसकी जानकारी आपको इस वासना की कहानी में आगे मिलेगी. अब मौसी से नहीं रहा गया तो उन्होंने अपनी रज़ाई को दूसरी तरफ कर दिया और मेरी रज़ाई में घुस गयी और मेरी बाँहों को कस कर पकड़ लिया.

चामुंडा मा

कहानी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने सोनिया को कली से फूल बनाया.

कालू- अब चलें मैडम जी, या इसको जगा कर देखने की इच्छा मन में आ गई है?सुमन- नहीं नहीं, अभी रहने दो. इन दोनों की बातें लंबी होती देख मुखिया का पारा चढ़ गया और वो ज़ोर से बोला- आ रही है या नहीं. मैंने उसको बिस्तर से नीचे पैर लटकाकर लेटने के लिए बोला ताकि मैं फर्श पर जाकर उसकी चूत में लंड डाल सकूं.

दूसरे आदमी ने एलिसा आंटी के पैर खोले और उनकी चूत पर अपने लंड को रख एक जोरदार शॉट दे मारा. नमस्ते मेरे प्रिय पाठको और पाठिकाओ, मैं आपको एक बार फिर से गाँव की न्यू चूत की सेक्स कहानी की नदी में डुबकी लगवाने आ गई हूँ. वीडियो हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ हिंदी बीएफउसके चूतड़ों को थामकर अपनी एड़ी और पीठ पर बल देकर मैं अपने चूतड़ों को तेजी से ऊपर-नीचे करने लगा।जब मैंने थोड़ा रुक कर जोर का धक्का मारा तो वह सी … सी … करने लगी और बोली- इस तरह से मुझे मेहता जी आज तक किसी ने नहीं चोदा … बड़ा आंनद है आपके चोदने में तो!मैं तो पूरे जोश में आ गया था.

कुछ ही देर में हम दोनों ने खाना खत्म कर लिया और भाभी बर्तन साफ करने लगीं. अब सुरेश तो अंधा बनकर सुमन को चोद रहा था, साथ में मुखिया उसके मुँह को चोदने लगा.

मैं बोला- भाभी, एक किस करने दोगी क्या?वो बोली- थप्पड़ पड़ेगा, ज्यादा डिमांड की तो. उसको तुम्हारे भाईसाहब के बारे में भी पता है कि उनका खड़ा नहीं होता है. मैंने ध्यान से सुना, तो वो कह रही थी कि उसके पति को घर आए पांच महीने हो गए थे और इस वजह से वो शारीरिक सुख के लिए तड़प रही थी.

इससे भाभी मेरी ओर देखने लगी- अरे ये क्या कर रहे हो!मैं- कुछ भी तो नहीं. सुमन- अच्छा … उसकी उम्र कितनी होगी?मुखिया- यही कोई 45 साल का होगा साला. मैंने उसको फिर से चूसना शुरू कर दिया और हम दोनों एक बार फिर से गर्म हो गये.

जब वो किसी काम से कहीं जाती हुई मुझे दिखतीं तो बस उनको देखता ही रह जाता था.

फिर उसके एग्जाम खत्म होने के बाद मैंने उससे बाहर मिलने का प्लान बनाया और हमने एक होटल बुक किया. कुछ देर बाद मैं पलटा और मैंने अपनी गांड को उसके मुँह के पास कर दिया.

फिर मैं उनके पेट को चूमता हुआ नीचे आ गया और साड़ी के ऊपर से ही चूत को छूने की कोशिश करने लगा. भाभी की आह आह … की मस्त आवाज निकलने लगी और वो कहने लगीं- आह अब छोड़ दे जान मैं थक गई हूँ. मैं बोला- सुनिये, अगर आपको दिक्कत हो रही है तो आप एक बैग मुझे दे सकती हैं.

फिर तीसरे दिन मैंने भाभी को एक पार्क में ले जाने के लिए प्रोग्राम सैट कर दिया. मैंने भाभी को पलट लिया और अब वो पीठ के बल लेट गयी और उसके मोटे मोटे चूचे ऊपर आकर विपरीत दिशाओं में डोल गये. फिर तुरंत उसने चाचा के अंडरवियर को नीचे खींच दिया और उनको नंगा कर दिया.

देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ मैं बोला- कपिला, आप दो मिनट यहीं लेटो, मैं किसी ऑटो को लेकर आता हूं, हमें हॉस्पिटल जाना चाहिए. थोड़ी देर बाद सीमा मामी बाड़े में से आ गई।मामी ने मेरे चेहरे की मुस्कुराहट देखी और वो समझ गयी कि पूजा की चूत का काम हो गया है.

खरगोश के फोटो

उस दिन भी बड़ी भाभी ने गहरे लाल रंग का ब्लाउज पहना था, जो आगे से बांधा जाता है. तभी न जाने कैसे मेरी अचानक से नींद खुल गई, तो मैंने धीरे से करवट बदली. तभी दूसरे रूम से भाभी की आवाज आई- सोनिया?वो मुझे पीछे धकेल कर जल्दी से रूम से बाहर निकल गयी.

लंड पर कंडोम तो लगा ही नहीं था, इसलिए झड़ने के पहले मैंने जल्दी से लंड को बाहर निकाल कर सारा माल उसकी गांड पर फ़ैला दिया. मेरी गांड में बहुत दिनों से खुजली मची थी और मैं उसको नाराज़ नहीं करना चाह रहा था, क्योंकि उसका लन्ड मुझे चाहिए था. बीएफ यूटिलिटीजमैंने हंसते हुए उन दोनों को अपने 36 के मस्त भरे हुए दूध दिखाए और बोली- ठीक है, मेरे पति का कर्जा चुकाने के लिए मैं राजी हूँ.

हैलो फ्रेंड्स, मैं आप सबकी चहेती पिंकी सेन एक बार फिर से आपके मनोरंजन के लिए एक बहुत ही कामुक सेक्स कहानी के अगले भाग को आपके सामने रख रही हूँ.

सुमन- लेकिन मैं कैसे किसी अनजान से … नहीं नहीं मुझे बहुत अजीब लग रहा है. पूरे दिन घूमने के बाद शाम को करण मुझे मेरे अपार्टमेंट के बाहर छोड़कर चला गया और मैं फाइल हाथ में लेकर बिल्डिंग की ओर आ गया.

मैं समझ गया कि अब बर्फी मिलना पक्का है, बस ये नहीं पता था, कब मिलेगी. उनके भीगे हुए ब्लाउज में उनकी मोटी मोटी चूचियों के निप्पल देख कर मेरी नजरें बार बार मॉम के बूब्स पर ही टिकने लगीं. मैं उसको किस करने लगा और चुचों को दबाने सहलाने लगा, जिससे उसको थोड़ा आराम मिल जाए.

मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]हिंदी में सेक्स की कहानी से आगे की कहानी:लॉकडाउन के बाद फिर चुदी आंटी.

कज़िन सिस्टर Xxx स्टोरी में पढ़ें कि कैसे दीदी और मैं चुदाई की आग में जल रहे थे. फिर मैंने धीरे से उनकी एक चूची पर मुंह रख दिया और उसको आराम से चूसने लगा. हम दोनों की उठने की हालत नहीं थी, पर किसी तरह उन्होंने मुझे अपने ऊपर से हटाया और मुझे बाथरूम में ले गईं.

बीएफ वीडियो सपना चौधरीउसका चेहरा मेरे चेहरे के बिल्कुल पास में था और मेरी जांघ उसकी जांघ से सट गयी थी. इस पर मुझे गुस्सा आ गया और मैं बोली- बहन के लौड़े, मेरी मां के बारे में कुछ मत बोल!इस पर आदिल मुझे एक थप्पड़ मारा और बोला- बहन की लौड़ी चुप रह.

चुत लैंड की वीडियो

सुमन- मुझे ऐसे मर्द पसंद हैं, जो खुद पर काबू रख सकते हैं … और एक बात कान खोलकर सुन लो, मैं तुम्हारे मालिक की कोई बीवी नहीं हूँ, जो तुम ये बोल रहे हो. मैंने एक उंगली मौसी की चूत में डाली तो मौसी मेरे लंड को कस कर पकड़ कर आगे पीछे करने लगीं. फिर भाभी अचानक से बोलीं- कुणाल एक काम करना, तुम रुक्मणी को हमारे बारे में भी सब बता देना.

शुरू में तो उसने अपने मुंह को बंद ही रखा लेकिन 2-3 मिनट के अंदर ही मेरी जीभ उसके मुंह में घुसने लगी थी और उसके मुंह के अंदर घूम रही थी. फिर उसने मेरे फनफना रहे लंड को मुंह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी. जैसा कि मैंने लिखा कि मैं रूचि की शादी में गयी हुई थी; नमन भी शादी की शाम को ही आ पाए थे और बारात आने के बाद वरमाला की रस्म होते ही वो रात की ही ट्रेन से लौट गए थे.

विक्रम कार चला रहा था और मैं उसकी बगल वाली सीट पर थी। आदिल मेरे पीछे वाली सीट पर था। ऑटोमेटिक कार थी। विक्रम कभी हाथ मेरी चूची पर मारता तो कभी मेरी चूत पर। जैसे ही कार हाईवे पर आई पीछे से आदिल ने मेरी चूची पकड लीं।मैंने विक्रम की तरफ देखा तो वो हंस रहा था। मुझे समझ आ गया कि मुझे इन दोनों के लंड से ही चुदना होगा. मैंने धीरे से अंडरवियर भी अपनी जांघों से निकाल कर अलग कर लिया और मैं अब बनियान में मॉम के सामने नंगा था. मैंने आपको भाभी कहा, आपको बुरा तो नहीं लगा?रुक्मणी- नहीं, बुरा क्यों मानूंगी.

मित्रो, मेरी पिछली कहानीसेक्सी आंटी की चुत चुदाई का मजाआपने पढ़ी होगी. मीता- नहीं बाबूजी, आपको नहीं मालूम, मेरी एक जुड़वां बड़ी बहन और थी रीता, वो 19 की ही थी, लेकिन अभी 3 महीने पहले पास के जंगल में लकड़ी लाने गई थी, तो वापस ही नहीं आई.

आंटी भी मेरे लंड का माल चूत में लेकर मस्त हो गयी और हम दोनों थक कर लेट गये.

मुखिया- अबे भोसड़ी के … मेरा गुलाम होकर मुझे नहीं बता रहा!कालू- मालिक आपको मुझ पर विश्वास नहीं है क्या! आपका काम बन जाएगा और क्या चाहिए आपको, बोलो मंजूर है?मुखिया- साला पहले ही दिमाग़ खराब है. शक्ति शक्ति बीएफअब जाओ मन लगा के काम करो, मुझे और भी बहुत काम करने हैंदोनों बाप बेटे ख़ुशी ख़ुशी जाने लगे, तभी कालू ने पासा फेंका. इंग्लिश पंजाबी सेक्सी बीएफउस दिन हम दोनों होटल के कमरे में अन्दर जाकर पहले हमने एक दूसरे को ज़ोर से हग किया और स्मूच किया. सुरेश की आंखों पर पट्टी बांध कर सुमन सीधी लेट गई और उसने अपने पैरों को मोड़ कर सुरेश से कहा कि वो उसके पैरों के बीच बैठ कर उसकी चुदाई करे.

गिलास लड़ाकर हमने चियर्स किया और जैसे ही मैंने पहला घूँट मारा तो उल्काई हुई और सारा बियर मैंने मुंह से बाहर फेंक दिया.

मैडम जी मेरे सामने घोड़ी बनी हुई अपनी चूत चुदाई का पूरा मजा ले रही थीं। लगभग 10 मिनट तक इसी आसन में चोदने के बाद मैंने उनको आसन बदलने के लिए बोला।उनसे मैंने बोला- आप इस तरह से अपनी ही जगह पर घूम जाओ कि लंड बाहर न निकलने पाए।मैंने इसमें उनकी मदद की।उनको मैंने अपने हाथों के बल अपना शरीर रोकने को बोला और उनके एक पैर को उठाकर ऊपर कर दिया. उसके कंधे पर प्यार से सहलाते हुए मैंने कहा- चिंता मत कर, सब कुछ ठीक हो जायेगा. कुछ टाइम बाद मोनिषा पानी पीने के लिए उठी और सीधे पानी पीकर वापस आयी.

राहुल- तुम्हें कहां जाना पसंद है?रूचि- मुझे किसी शांत जगह पर बैठना पसंद है, क्यों न हम ऐसी ही किसी जगह जाएं, जहां दूसरा कोई नहीं हो?राहुल- ठीक है, हम ऐसे ही जगह चलते हैं. चूंकि हम दोनों ही फ्लैट में अकेले थे और नंगे ही घूम रहे थे, किसी का कोई डर ही नहीं था. मैंने उसके फोन में भी चुदाई की एक पोर्न मूवी डाल दी और उसके फ़ोन को रख दिया.

मुंह में बदबू आना

तभी मैंने संजना की कमर को पकड़ कर उसे लंड पर दबा लिया और झटका देकर पूरा लंड सेक्सी लड़की की चुत के अन्दर कर दिया. दीक्षा ने मेरे हाथ को पकड़ कर इशारा किया कि थोड़ा रुक जाओ … और आराम आराम से करो. पिता सामान मौसाजी से जो मेरा जिस्मानी रिश्ता बन गया था उसके बारे में सोच कर मुझे दिनभर आत्मग्लानि और मानसिक पीड़ा होती रही.

मुखिया- तुम अभी तक गए नहीं, यहीं खड़े हो!बिरजू- मालिक हम गरीबों पर थोड़ा रहम करो.

मुखिया का ख़ास आदमी कालू, जब हवेली पर पहुंचा, तो सुमन एकदम तैयार होकर उसका इन्तजार कर रही थी.

साथ ही भाभी हमेशा हाथों में चूड़ियां और गले में नेकलेस पहने रहती थीं. मैंने कई बार तुम्हारी धोती में देखने की कोशिश की है, लेकिन वहां कभी तंबू नहीं बनता … ऐसा क्यों?कालू- हा हा हा मैडम जी, आप भी ना … मैं ऐसा-वैसा मर्द नहीं हूँ. सेक्सी बीएफ वीडियो सेक्सी बीपीवो कहते हैं ना कि जब आप किसी को दिल से पाना चाहते हो, तो भगवान भी आपकी मदद करता है.

तो प्लान के हिसाब से मैंने अपनी जॉब से कुछ दिन की छुट्टी ले ली और सब परिवार वालों को अपनी ससुराल छोड़ आया. इकबाल ने मुझे घुटने के बल बिठा दिया और दोनों अपने खड़े लंड मुझे चुसवाने लगे. एक दिन भाभी का कॉल आया- आज मुझे बाजार से कुछ कपड़े लेने हैं, तो साथ चलना.

सुमन- ऊ मां … ये क्या है … इतना बड़ा उफ्फ … सोया हुआ भी इतना ख़तरनाक लग रहा है. फिर कुछ देर बाद बुआ ने मुझसे कहा- तुम टीवी देखो, मैं नहा कर आती हूँ.

मगर पति ने भी कसम खाई हुई थी कि सर से चुदवाये बिना वो मेरी चूत के दर्शन अपने लंड को नहीं करवायेंगे.

मुझे ऐसा लग रहा था जैसे उसके दूध मेरी गर्लफ्रेंड मधु के मम्मों से बड़े हों. मेरी बातों को अंकिता बड़ी ध्यान से सुन रही थी और बस वो मेरी तरफ ही देखे जा रही थी. कालू- चलो जैसा आप ठीक समझो, अब चलें या और यहां रुकना है?सुमन- थोड़ी देर बैठो ना … तुमसे मुझे कुछ बात करनी है.

सेक्सी बीएफ एचडी वाली सेक्सी मैंने उनकी ब्रा में मुंह देकर उनकी चूचियों की घाटी को जीभ से चाटना शुरू कर दिया. वो लंड को ऊपर रगड़ कर मज़ा लेने लगा और जल्दी ही मीता की चुत पर अपना वीर्य गिरा कर उसके पास लेट कर हांफने लगा.

मामी को मजा आ रहा था इसलिए नींद से जागने के बाद भी उन्होंने कुछ नहीं बोला और वो धीरे धीरे सिसकारने लगी. चूत पर होंठ लगते ही भाबी सिहर उठी और चूत फैलाकर पीठ के बल बेड पर गिर गयी. फिर जब तक उसके लंड से एक एक बूंद न बह गई, उसने लंड बाहर नहीं निकाला.

jalshamoviez कॉम

बायआपकी पिंकी सेन[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गांव की चुत चुदाई की दुनिया- 8. वे जांघिया के ऊपर से अपने लन्ड को पकड़कर अपने मोटे केले की लंबाई और मोटाई दिखाने लगे. वो भी पलंग से नीचे उतरी और अपने कपड़ों को ठीक करने लगी। सारे कपड़े नीचे बिखरे पड़े हुए थे.

अब मेरी चूत उनके लंड को छू रही थी; और मैंने अंदाज़ से पूरी ताकत से कमर उछाल दी. विक्रम साइड में बैठ गया और मैं सीधी हो गई।आदिल का लण्ड मेरी गांड में था, मैं उस पर कूदने लगी।उसका लण्ड मेरी गांड में अन्दर बाहर होने लगा।थोड़ी देर में वो चिल्लाया- बहन की लौड़ी मैं आने वाला हूं!इतना सुनते ही मैं और तेजी से उछलने लगी.

उसने लाकर वो बैग एक तरफ रख दिया और हाथ मुंह धोने अंदर वॉशरूम में चला गया.

इससे पहले मुझे जब मुझे उसके बारे में पता चला था, तो उसको चोदने का मन हुआ था. मेरे भाई ज्यादातर बिजनेस लाइफ में बिजी रहते हैं और इसी वजह से भाई-भाभी के बीच बहुत कम सेक्स होता है. जाते हुए अंकल ने कहा- मैं गांव जा रहा हूं कुछ दिन के लिये, यहां पर तुम्हारी आंटी को तुम्हारे भरोसे छोड़कर जा रहा हूं.

शादी में मैं किस किस के सवालों का जवाब देती फिरुंगी कि मैं अकेली क्यों आई. फिर दूसरे दिन से हम लोग खुशी-खुशी रहने लगे और अगले 2 महीने तक मैं वहीं रुका और मैंने दोनों की जमकर चुदाई की।तो दोस्तो, यह थी मेरी देसी सेक्स फॅमिली स्टोरी. उन्होंने अपने ब्लाउज के दो बटन खोले और बायां स्तन बाहर निकाल कर मेरे होंठों में ऐसे रख दिया, जैसे वे अपने बच्चे को दूध पिला रही हों.

खैर मैंने उसकी पैंटी एक तरफ रख दी और अपने कंधों पर उसके एक पैर को रख लिया.

देसी हिंदी बीएफ देसी हिंदी बीएफ: दूसरी ओर संगीता अकेले रवि का वज़न संभाल नहीं पायी और एकदम से फिसल कर मुझ पर आ गिरी. बाहर आकर मैंने आकांक्षा को कॉल किया, लेकिन उसने पिक नहीं किया … शायद किसी काम में बिजी होगी.

फिर वो अलग होकर बोली- मेरी पैंटी के साथ क्या क्या करते थे तुम, अभी करके बताओ. काफी दिन हो गये थे लंड को चूत का स्वाद नहीं मिला था और मेरे लंड को उस वक्त एक चूत की बहुत सख्त जरूरत थी. लगातार 4-5 धार वीर्य की मेरे मुंह पर गिरी और मेरा पूरा चेहरा सन गया.

दो पल बाद मैंने उसके मुँह पर हाथ रखते हुए फिर से लंड को धक्का दे दिया.

मैंने तो सोचा कि भाभी को गले से लगा लूं, पर मैं वैसा नहीं कर सकता था. रूचि- अच्छा सुनो न राहुल … कल संडे है, तुम क्या कर रहे हो कल?राहुल- कुछ खास नहीं, क्यों?रूचि- कल मेरे घर पर कोई नहीं है, मम्मी एंड पप्पा गांव जा रहे हैं. उसने मेरे अंडरवियर में हाथ दे दिया और मेरे लंड को पकड़ कर उसको अंडवियर के अंदर ही सहलाने लगी.