बीएफ कपड़ा

छवि स्रोत,राजस्थान सेक्सी वीडियो सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बड़ा लंड की बीएफ: बीएफ कपड़ा, … सच में बहुत मजा आ रहा है … हां…ऐसे ही … ओह्ह्ह सैयां जी … मैं आज से आपकी पत्नी बन गयी.

नेपाली में सेक्सी वीडियो दिखाएं

तभी मेरा हाथ आहना के स्तन पे आ गया और मैं उसके स्तन उसके ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने लग गया. सेक्सी बता दियाभाभी जी थोड़ी सी देर चेयर पर बैठी और कुछ थोड़ा बहुत मेरे बारे में और मेरी फैमिली के बारे में जानकर कहने लगी- अब मैं चलती हूँ, नीचे खाना बनाने का काम करना है.

मैंने उससे कहा- देख सिखा तो मैं सब दूँगा, पर तुझे मेरा पूरा पूरा साथ देना होगा. एक्स एक्स एक्स तमिल सेक्सी वीडियोहम कुछ देर बाद अलग हुए और बाथरूम से निकल कर अपने बेडरूम में चले गए.

नमकीन सा स्वाद और साथ में उनके मुंह से निकलती सिरहन … आह्ह् … लगता है कि असली घोड़े की सवारी की जा रही है.बीएफ कपड़ा: इस तरह से काफ़ी देर तक मुझे गर्म करके बोला- कैसा लगा मैडम जी?मैंने कहा- जैसा लगना चाहिए, वैसे ही लग रहा है.

अब आगे:मीना को बिस्तर में शांत पड़ी देख मैं समझ गया कि उसको कल रात हुए हवस के खेल से उबरने में समय लगेगा.उसके करीब 5 मिनट लंड चूसने के बाद मैंने फिर से उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया.

करिश्मा कपूर वीडियो सेक्सी - बीएफ कपड़ा

यह घटना आज से 2 साल पुरानी है जब मैं अपने गांव से दूर जॉब कर रहा था.इसके बाद उसने मेरी तरफ प्यार की नजरों से देखा, तो मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रख दिया.

मैं- वो आपका दोस्त भूरिया?रमेश- मालिक वो तो कभी कभी आता है, जब उसे कुछ काम हो. बीएफ कपड़ा हम दोनों बेताबी से किस करने लगे और एक दूसरे की लार को चाटे जा रहे थे.

इससे पहले मैं कुछ सोच समझ पाता, मैडम ने मेरी पैन्ट की ज़िप नीचे कर दी और लौड़ा मेरे अंडरवियर से बाहर.

बीएफ कपड़ा?

फिर मैंने अपना लंड चाची की चूत में से बाहर निकाला और चाची ने कंडोम का सारा माल अपने मुँह में ले लिया और फिर लंड को चूसने लगी. मेरा लंड भी उसकी ऐसी हरकतों के कारण पहले ही उसे चोदने के लिए तड़प उठा था. और तू क्या सोचती है कि वहां शहर में मैं अकेला खुश हूं? तेरे बगैर मैं भी परेशान हूं.

लगभग दस मिनट बाद मैंने भी उसके मुँह में अपने लंड का सारा पानी निकाल दिया और वो मेरे लंड का सारा पानी पी गयी. पांच मिनट बाद वो नार्मल हुई तो बोली- थैंक यू, आज जाके एक मर्द का मजा मिला. मामी बोलीं- मतलब? क्या अभी सही से मालिश नहीं कर रहा था?मैंने कहा- जैसी मालिश अपनी बीवी की करता हूँ, वैसी तो जब होती है, जब वो मेरे नीचे होती है.

फिर आरज़ू ने अपना कुर्ता उतारा और अब वो सिर्फ एक सफेद कलर की पारदर्शी बनियान में थी और फिर कुछ देर बाद वो भी नीचे उतर गयी. अन्तर्वासना पर लंड चुत की देसी चुदाई की कहानी का मजा लेने के साथ मुझे मेल भी करते रहो. वह मचल रही थी और बार बार अपनी कमर उठा कर मेरे लिंग को अपनी योनि में प्रवेश करवाना चाह रही थी.

रात को काफ़ी अंधेरा था, मेरी तो गांड फट रही थी क्योंकि मेरा तो पहली बार था. वो बोली- अच्छा तो कब आऊं अंकल?मैंने उससे कहा- जब तेरे मम्मी पापा काम पर चले जाएं, तब आना.

मैंने धीरे से अपने होंठों से उसके नीचे वाले होंठ को अपने दोनों होंठों के बीच लिया और उसे चूसने लगा.

चूंकि हमारी दोस्ती अभी नई थी, इसलिये वो मेरे पे भरोसा नहीं करते थे.

मेरी बात सुनकर उसके भीतर एक आत्मविश्वास सा जागृत हो गया और वो भीतर से प्रसन्न हो गयी. ये कहते हुए मणि ने कोमल के शॉर्ट्स के बगल से उसकी चूत में उंगली डाल दी. मैं उनके पीछे जाकर खड़ा हो गया और उनकी कमर में हाथ डालकर खड़ा हो गया.

इस जगह, परपुरुष से इतनी देर बातें करने का कोई गलत अर्थ भी निकाला जा सकता था. ‘भैया, तुमसे मिलने आने का सोच रही हूँ, तुम तो दोस्त के साथ रहते हो, कोई दिक्कत तो नहीं होगी?’‘शैली, मैं अभी थोड़ी देर में फोन करता हूँ. मामी बोलीं- तुम तुम्हारे मामा की क्यों टेंशन लेते हो, उसकी परमीशन में ले लेती हूँ.

उसने मेरे हाथों से कंडोम का पैकेट ले लिया और उसे देख कर मेरी तरफ देखा.

मैंने कोमल की चूत को और ज्यादा ज़ोर से मसलना और दबाना शुरू कर दिया. मुझे समझ नहीं आया कि क्या कहूँ।मैंने कहा- जब कोई सामने से दिखाएगा तो कौन गधा होगा जो नहीं देखना चाहेगा. उसे लग रहा था कि शायद चिन्टू उससे नाराज है, तभी तो वो उसके घर नहीं आया.

कभी कभी तो उनकी शर्ट काफी ज़्यादा फट जाती और उनका कड़क जिस्म फ़टे कपड़ों में से बाहर झांकने लगता. तो डॉली ने कहा- हां करो मदद … इनके मिस्टर तो पी के टुन्न हो गए हैं, वहीं नीचे हैं. जैसा कि आपको मैंने पिछली कहानी में बताया था कि वो वीडियो कॉल में मेरे लंड की साइज देख कर खुश हो गई थी और वो मेरा लंड लेने के लिए तड़प रही थी.

मैं ऐसे ही उसके ऊपर ही लेटा हांफता रहा और वो मेरी कमर और मेरे बालों को सहलाती रही.

इस बार सारा पहले से ज्यादा तेज़ चिल्लाई, सारा के आंसू निकल आये थे, पर मैं कहां मानने वाला था. थक हार के आखिरकार मेरे पास यही रास्ता बचा कि मैं किसी दूसरे लंड से प्यास बुझाऊं.

बीएफ कपड़ा मेरी हाइट पांच फिट तीन इंच की थी, पर उस समय वजन मात्र पैंतीस किलो था. दीदी की सासू माँ बोलने लगी- ये एक हफ्ते से चल रहा है ना … पूछो मुझे कैसे मालूम … याद है मैं एक दिन जब सुबह मंदिर से आयी, तुमने दरवाजा खोला और तुम्हारी दीदी बाथरूम में थी.

बीएफ कपड़ा जैसे ही उसकी नजर मुझपे पड़ी, तो मैं हंसने लगा और उसने अपने फ़ोन को बंद कर दिया. मैं उनकी बात समझ गयी और बोली- हाँ पापा बहुत भूख लगी है।उन्होंने मुझे मेरे होंठों पर एक लंबा किस दिया और मैं उनकी सीने से लिपट कर अपनी चूची को उनसे रगड़ने लगी।पापा मेरे छोटे गुलाबी कमसिन होंठों को चूसने लगे, अपने हाथों से अपनी बेटी के छोटे छोटे दूध को दबाने लगे उनका साइज पता करने लगे।मुझे बहुत मज़ा आने लगा, मेरी चुत गीली होने लगी और मेरे अंदर आग बढ़ने लगी.

आशीष अपना मुँह ऊपर करके बोला- आह साली लगता है, तू तो बहुत बड़ी छिनाल बनेगी … ऐसा तो सिर्फ रंडियां ही करती हैं, जैसा तू कर रही है.

छोटी लड़की की बीपी

जब भाभी आई तो मैं खड़ा हो गया और मैंने भाभी को खड़े-खड़े ही अपनी बाहों में लेकर उनकी टांगों को थोड़ा चौड़ा करके उनकी चूत के ऊपर अपने सुलगते लंड के सुपारे को रखा और इसी पोजीशन में उनके उभरे हुए गोल और चिकने चूतड़ों को अपने हाथों से दबाता रहा. थोड़ी ही देर में यह कड़क लंड मेरी नीना की चूत में सरपट दौड़ लगाने के लिहाज से तैयार हो गया. उसने कहा- अभी तक जितने भी मेरे पास आए, उनमें से तुम्हारा लंड सबसे बड़ा है और सख्त भी, आज तो मज़ा ही आ जाएगा.

तो आशीष बोला- ठीक है मेरी डार्लिंग बहुत सेक्सी है तू … क्या बताऊं मुझसे भी नहीं रहा जा रहा. आप सब ने मेरी पिछली कहानीराजस्थानी भाभी की चुदाई-1को बहुत प्यार दिया, बहुत मेल आए. ’ इस प्रकार कर रही थी, जैसे घोड़े को चाबुक पड़ने पर वो हिनहिनाना रहा हो.

पर उससे ये दर्द सहन नहीं हुआ और उनके मुँह से चीख निकल गयी- आई … ईई ईई मर … गई … मम्मी … अब दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

मामी ने शायद लिंग के उभरने का अहसास कर लिया था, वे जोर जोर से सांसें लेने लगीं. उन्होंने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर ऊपर नीचे रगड़ा और फिर छेद में थोड़ा सा घुसाकर टिका दिया. मेरा तो जी कर रहा था कि अभी मामी के कपड़े फाड़ कर चूत में लंड पेल दूं.

चाची बाथरूम में नहा रही थीं और ज़ोर ज़ोर से गाना गा रही थी ‘कुण्डी मत खटकाओ राजा … सीधा अन्दर आओ राजा … धीरे धीरे राजा …’बाहर बैठ कर मैं भी मज़े से गाना सुन रहा था कि अचानक चाची ने मुझे आवाज़ लगाई- सुन … वो मैं अपनी टॉवेल और कपड़े तो बाहर ही भूल गयी हूँ, ज़रा दे दे. मैं एक बार फिर से हाजिर हूँ इसी से आगे की नयी कहानी लेकर जो मेरी उसी फ्रेंड रचना की है। उसके कहने पर मैं ये कहानी आप लोगों तक पहुंचा रही हूँ। मज़ा लीजिये इस कहानी का, आगे की कहानी मेरी फ्रेंड के शब्दों में ही सुना रही हूँ।मैं रचना, मेरी बड़ी बहन कुसुम मुझसे 7 साल बड़ी है।यह कहानी तब की है जब मैं बीस साल की थी. उसने जरा भी समय गंवाए मुझे अपनी बांहों में एकदम से जकड़ लिया और होंठों से होंठ चिपका कर खड़े खड़े ही चुम्बन करना शुरू कर दिया.

अब मेरे स्तन उसके स्तनों के ऊपर थे, सोनल ने नीचे से मुझे बांहों में भर लिया और मुझे अपने शरीर पर दबाने लगी. मैंने राजन को जाने से रोक लिया और उसको वहीं पर खड़ा रहने के लिए बोल दिया.

कोमल मेरे लंड पर ऊपर से नीचे तक जीभ ले जाती और फिर वापस से नीचे से ऊपर तक जीभ फिराती हुई वापस ऊपर की तरफ आ जाती. तब वो बोला- झूठ ना बोलो, मुझे पता है कि तुमने पहले भी मेरी बुक्स उठाई हैं मगर मैं किसी से कुछ नहीं कह सकता था क्योंकि अगर किसी को कुछ पता लग जाता तो मैं किसी को मुँह दिखाने लायक नहीं रहता. कभी कभी सलवार सूट पहनना होता था, तो वो भी गांव का ही सिला हुआ पहनती थी.

कुछ दिनों बाद भाभी का कॉल आया और वे कहने लगीं- आज रात को खाना खाने मेरे घर आ जाओ.

आशीष अपना मुँह ऊपर करके बोला- आह साली लगता है, तू तो बहुत बड़ी छिनाल बनेगी … ऐसा तो सिर्फ रंडियां ही करती हैं, जैसा तू कर रही है. मेरे लंड का आकार सामान्य ही है, जो कि 6 इंच लम्बा 2 इंच मोटा और थोड़ा आगे से मुड़ा हुआ है. उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा- विशु बेटा आज तुम यहीं रुक जाना और हमारे साथ ही खाना खा लेना.

दीदी नंगी ही थी और अनन्त जीजू की गोद में बड़ी मनमोहक लग रही थी। अनन्त जीजू मेरी दीदी को अपने कमरे में ले गये, अब मेरे पास विनय जीजू शान्त लेटे थे. ये सारी चीजें प्रीति में थीं, केवल उन्हें निखारे जाने की आवश्यकता थी.

इसलिए मैं अपनी पूरी ताकत के साथ कोमल की चूत के अंदर अपनी जीभ को अंदर और बाहर करने में लगा हुआ था. उसने मुझे अपनी गोद में उठा कर बेड पर लेटा दिया और फिर से मुझे पूरा नंगा करके मेरे पूरे बदन को चूमना चालू कर दिया. मैं- कुछ किया भी या नहीं?वो- क्या करना था … घूमे फिरे औऱ वापस आ गए.

शादी में पहनने वाले गाउन

अब आगे:चूमाचाटी के साथ ही मैं अपने हाथों से मिसेज पाटिल के कपड़े उतारने लगा.

आशा जब अपनी गांड मटका कर चलती है, तो मेरा दावा है कि उसकी उछलती गांड देख कर अच्छे अच्छों के लंड का पानी निकल जाएगा. फिर कुछ मिनट के बाद माँ की चूत झड़ गयी लेकिन मेरा लंड अभी भी खड़ा था. फिर भी अगर आपको लगता है कि मुझमें या मेरी कहानी में कुछ कमी रह गयी है, तो आप मुझे ईमेल करके बता सकते हैं.

पहले तो मैं सिसकारती हुई, उससे चूमती हुई उसके ऊपर लेटी रही और वो मेरी कमर से पकड़ कर मुझे नीचे से धीमे और तेज झटके देता रहा. नमस्ते दोस्तो, इससे पहले कि मैं अपनी कहानी शुरू करूं, मैं आप सभी पाठकों को बता देना चाहता हूं कि मैं अंतर्वासना का पुराना पाठक हूं परंतु कभी भी मैंने अपने जीवन कुछ कामुक कहानी लिखने की कोशिश नहीं की. 2:30 का सेक्सीमामी की नंगी पीठ को चूमते हुए मैं फिर से घुटनों के बल नीचे बैठ गया.

विजय पागलों की तरह उसके दूध मुँह में लेकर चूसता हुआ उसको पेलता रहा. वो मुस्कुराए और एक जोरदार धक्का लगाया, उनका लौड़ा उनकी कमसिन बेटी की चुत को चीरता हुआ अंदर घुस गया.

कभी कभी तो उनकी शर्ट काफी ज़्यादा फट जाती और उनका कड़क जिस्म फ़टे कपड़ों में से बाहर झांकने लगता. मैंने अपने पैरों से उनके दोनों पैर फैलाए और अपने लंड को उनकी चुत के आस पास जमा कर रगड़ने लगा. मैंने पैरों में चप्पलें डालीं और चकराते सिर के साथ ही कमरे से बाहर निकल कर गैलरी में बाहर चलने लगा.

इस वक्त भाभी ने एक क्रीम रंग की पारदर्शी टाइप साड़ी पहन रखी थी और होली खेलने के लिए पूरी तरह से तैयार दिख रही थीं. हमारा स्नानागार ज्यादा बड़ा नहीं था, इसलिए इस तरह से पेशाब करना संभव नहीं था कि वो मेरे पीछे कुत्ते की तरह झुक कर मेरी योनि चाट सके. मैंने उसकी टांगों को अपने कंधे पे रखा और एक ही झटके में उसकी चुत के अंदर लंड उतार दिया.

जमा तो ठीक वरना मायके चली जाऊंगी- ठीक है मम्मी जी, मुझे आपकी सलाह ठीक लग रही है … बाद का बाद में देखेंगे.

उसने बताया कि जब पति की इच्छा होती है, तो उससे कहता है, फिर वो अपना पजामा उतार कर लेट जाती है और उसका पति संभोग कर शांत हो जाता है. मोनिका मुझसे दूर होने की नाकाम कोशिश कर रही थी क्योंकि वो भी ये बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी.

कुछ ही देर में भाभी ने अपनी चूचियां और अपने मुंह को बेड के ऊपर रख दिया, जिससे मैंने उनकी जांघों को पकड़ कर जोर-जोर से चुदाई शुरू की. मैंने अपने हाथ से पहले तो उससे थोड़ा खेला और उसकी गोटियों को चूमना और चूसना शुरू किया, फिर धीरे से अपनी जीभ से उसके टोपे को चाटना शुरू किया. वो फिर से मेरा लंड चूसने लगी और कुछ ही पलों में फिर से मेरा लंड तन गया.

करीब 11:30 पर उसी पड़ोसन ने फिर डोरबेल बजाई तो मैंने सोचा कि जीजा जी मेरे लिए सुहागदिन ना सही, सुहाग रात मनाने के लिए आये हैं. कुछ देर बाद मैंने चुदाई की गति बढ़ा दी और वो भी एक छिपकली की तरह मुझसे चिपक गयी. मैं बिना रुके बुर का रस पी रहा था क्योंकि उसकी चुत से तो झरना बह रहा था.

बीएफ कपड़ा करीब एक किलोमीटर अन्दर चलने के बाद बहुत सी झाड़ियां सी आईं, वहां उन्होंने गाड़ी रोक ली. अब वो मुझे बोलने लगी- मेरी चूत में लंड डाल!मैं मना करता रहा पर वो नहीं मानी, वो बोली- तेरा लंड तो तेरे भाई से भी तगड़ा है.

माया खलीफा सेक्सी

अब मैं भाभी का गाउन खोलने लगा, तो वो बोलीं- अमित कपड़े मत खोलो, जो करना हो ऊपर ऊपर से कर लो. मैंने उन्हें पकड़ा, तो मुझे अहसास हुआ कि उन्होंने गाउन के अन्दर कुछ नहीं पहन रखा है. तो मैंने भी हिम्मत जुटाकर बोल दिया- वह कैसे?यार मेरे मंझले भैया की शादी होने वाली है, जिसमें मैं छुट्टी लेकर घर जाने वाला हूं.

इसके बाद मैनेजर सर ने एक सिगरेट सुलगाई और मेरी चूत में उंगली डाल कर मेरी चूत के दाने को मसला. गुलाबो को भी एक्साइटमेंट होने लगा, गुलाबो भी मेरे सामने ढीली पड़ने लगी, मैं उसे हग करके गुलाबो की गांड को सहलाने लगा. 18 साल की सेक्सी लड़की की चुदाईयह देखकर मेरे पति ने मुझे अपनी तरफ खींच लिया और अपने साथ बेड पर लेटा लिया.

मैंने भी मौके का फायदा उठाकर दोनों हाथ उनके टॉप के अन्दर करके उनकी कमर और पीठ को सहलाने लगा.

मैं तो हमेशा ही तैयार रहता था कि किसी तरह कुछ जुगाड़ हो और मुझे रवि मामा का लंड देखने को मिले. आप लोग मेरी बात को सुनने के लिए तैयार तो हो जाओ तभी तो मैं कुछ बता पाऊँगा.

मैं अब उसके कपड़े उतार चुकी थी, सिर्फ अंडरवियर उसके शरीर पर रह गया था. दूसरी तरफ उसने भी मुझे पति के न होने का कह कर मुझे अन्दर बुलाया, मतलब वो भी मुझे अकेले में मिलना चाहती थी. कमरे में पहुंचने के बाद आराम करते हुए मैंने बेड पे उसके पास बैठ गया और उससे बातें करना शुरू कर दिया.

लगभग दस मिनट तक उसके होंठों को चूसने के बाद मैंने उसकी टांगों के बीच में आकर चुत पे किस कर लिया, जिससे वो एकदम से गनगना उठी और मेरे बाल पकड़ कर मेरे सर को अपनी चुत पे दबाने लगी.

तभी भाभी मुझे हटा कर बैडमैन के सामने घोड़ी बन गयी और वो भाभी की चूत में इत्र डाल कर चोदने लगा. दीदी हम दोनों के बीच में सोई, क्योंकि हम दोनों भाई बहन को उससे बातें जो करनी थीं. अंकल ने भी मुझे बहुत अच्छे से पढ़ाया, ट्यूशन में मेरे साथ मेरी दो सहेलियां सीमा और जया भी थीं और हम तीनों के पेपर्स अच्छे गए थे.

राजस्थान लड़की सेक्सीक्या हुआ नीतू?”मैं उन्हें बोली- अंकल, मुझे ठीक से पकड़े रखो, नहीं तो मैं गिर जाऊंगी. आखिरी कौने में सामने ही एक कमरा बना हुआ था जिसका दरवाज़ा हल्का सा खुला हुआ था.

मम्मी की चूत की चुदाई

मेरी कक्षा में बस मेरी तरह एक लड़की थोड़ी मुझसे छोटी, पर मेरे बराबर की थी. उनकी नर्म, गुदाज़ जांघें छूकर मुझे अजीब सी सनसनी होने लगी और मेरा लंड तनने लगा. आपके अलावा अन्य किसी को तो मालूम नहीं है न?रमेश- नहीं मालिक यहां कोसों दूर तक हमारे सिवा कोई और नहीं है.

मैंने धीरे धीरे करके उसकी गांड में लंड डाल दिया और उतने लंड से ही उसकी गांड मारने लगा. पर उससे ये दर्द सहन नहीं हुआ और उनके मुँह से चीख निकल गयी- आई … ईई ईई मर … गई … मम्मी … अब दर्द बर्दाश्त नहीं हो रहा है. गुंजन की बेवफाई के बाद मुझे बहुत दिनों के बाद चूत चोदने को मिली थी जो मेरे दिल को खुश कर रही थी.

मैं- जो भी कहना है बिंदास कहिये, आप मुझे अपना दोस्त ही समझो और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपकी बात हम दोनों तक ही रहेगी. मेरी चाल में थोड़ा बदलाव तो था ही, आज मैं एक बेवफा शौहर की बंदिश से आगे बढ़ चुकी थी. तेरी पैंटी गीली हो गई बहुत मस्त है तू!आशीष ने वहां फूली हुई जगह पर फिर से जोर से अपने होंठों को रख दिया.

पापा कभी मेरे सीने को टटोलते, कभी मेरे पेट को सहलाते और कभी उससे नीचे लेकर अपनी बेटी की कमर को सहलाते. उस महिला ने मुझे खुले पैसे देने को कहा, मैंने कहा कि खुके नहीं हैं.

उन्होंने बताया कि उनके पति होमगार्ड हैं और वो अब उनके साथ नहीं रहते.

चाचा जी का हाथ धीरे धीरे मेरे शर्ट के अंदर जाते हुए मेरी ब्रा से टच हुआ, उन्होंने मेरी ब्रा को ऊपर उठाते हुए मेरे मम्मों पर अपना हाथ पहुंचा दिया और चाचा अपनी भतीजी के नंगे चूचों को सहलाने लगे. आलिया भट्ट की सेक्सी वीडियो हीरोइनमैंने पैरों में चप्पलें डालीं और चकराते सिर के साथ ही कमरे से बाहर निकल कर गैलरी में बाहर चलने लगा. सेक्सी वीडियो इंग्लैंड एचडीबेचैन होकर मैं रोने लगी, तब दीदी ने अजय को रोकने का प्रयास किया पर अजय गुर्राकर आंख दिखाने लगा. उसकी कमर 22 की है और उसकी जो तनी हुई चूचियां हैं, वो 34 साइज़ की हैं.

मीरा- चलो अब मजाक बहुत हुआ, अब बोतल आ गई है तो दो-दो पैग हो ही जाएं.

पहुँचने के बाद हम एक पत्थर पर बैठ गए और मेरा दोस्त अपनी गर्लफ्रेंड के साथ पानी में मस्ती करने लगा. चाची बोलीं- साले … ऐसे देखना पसंद है क्या?मैं शरमाते हुए बोला- हां. केवल कमी शारीरिक संबंधों की थी, जो पति नहीं देते थे और न उन्हें कुछ ज्यादा रूचि थी.

उसने दोनों टांगें मेरी अपने कंधे में रखी और अपना मुँह मेरी चुत में फंसा कर इतना जोर से चाटने लगा, जैसे खा ही जाएगा. मैंने उतनी देर रुकना मुनासिब नहीं समझा और अजय को फ़ोन कर घर जाने का कारण बताकर जाने की इजाजत मांगी. मैंने शिखा की चूत को बड़े ही ध्यान से देखा और फिर उसकी चूत के पास अपने नाक को ले जा कर सूंघने लगा.

सुबह सुबह सेक्सी

वह कहने लगी- मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ती हूं, अब और देर न करो दीपक … अपना लंड मेरी चूत में डाल दो प्लीज. अब मैंने सोचा कि इसे कुछ ऐसा बताऊं कि दोनों पति पत्नी के संबंध अच्छे हो जाएं. इस बार करीब दस मिनट आंखें लड़ी रहीं और उसको किसी ने बुलाया तब उसने पलक झपका कर पीछे देखा और उठकर चला गया.

आपने मेरी स्टोरीदेसी भाभी ने सोते देवर का लंड चूसाको पढ़ कर जो मेल किए, उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

वो हल्के से सिहर गई लेकिन अगले ही पल वो भी मेरी इस मस्ती में मेरा साथ देने लगी.

मेरा लंड करीब चार से साढ़े चार इंच का है, मोटा है पर उसके जितना मोटा नहीं, मीडियम साइज का है. मैं एक हाथ से आंटी के मम्मों को भी दबाए जा रहा था और हल्का हल्का किस भी कर रहा था. verification सेक्सीमैं स्कूटर थोड़ा तेज़ चला रहा था और कोई सामने आ जाता था तो एकदम ब्रेक मारते ही भाभी मुझसे लगभग सट जाती थी.

मैं भी उठ गया और अपनी मौसी के बेटे के साथ बोतल उठाकर शौच के लिए चला गया. सोनिया एक बहुत ही शरीफ और सुन्दर लड़की थी, उसकी आंखें बड़ी बड़ी बहुत सुन्दर थीं. वो मुझसे उम्र में दो साल बड़ी थी और उसका एक बच्चा भी था जिसे वो अपनी माँ के पास छोड़ के आयी थी.

मैं उन्हें देखने लगी मगर अंदर से डर लग रहा था कि कहीं कोई आ ना जाए. थोड़ी देर के बाद जब मेरी छोटी बहन सो गयी तो सीमा मेरे कमरे में आयी और मेरे बेड पर सो गयी.

मैं ऐसे ही उसके ऊपर ही लेटा हांफता रहा और वो मेरी कमर और मेरे बालों को सहलाती रही.

मुझे देखकर वह खड़ी हो गयी और दूध का गिलास मुझे दे दिया और मेरे पैर छूने लगी. खैर अन्दर जाके कुछ खरीदने बाद जब हम निरोध (कंडोम) के सेक्शन के सामने से निकले, तब उसने मेरी कमर से मुझे पास खींचा और कान में फुसफुसाया ‘यू चूज़ …’ उसके हाथ से मेरे शरीर में एक करेंट सा दौड़ गया, योनि में गुदगुदी सी उठी कि आज उससे एक मर्द मिलने वाला है. अब मैंने धीरे से उंगली को चूत में डालनी स्टार्ट कर दी और मेरी उंगली अंदर चूत में आराम से घुस गई.

बाथरूम में नंगी नहाती हुई सेक्सी ठीक है वो पूरी ईमानदारी से मेरे साथ रही और वासना तो वासना है, सबकी जरूरत होती है. जैसे ही सब घर से बाहर निकले, चाची ने मेन गेट बंद कर लिया और मुझे आवाज़ लगाई.

मेरे पहले चुम्बन का क्या गज़ब का जवाब मिला था मैं तो उसके चूमने की अदा पर ही घायल हो गया था. उसके बाद एक दिन पापा ने मेरी इसी चुप्पी को तोड़ने के लिए मुझे मेरी बहन कुसुम के घर भेज दिया. फिर उसने कॉन्डम मेरे लन्ड पर लगाया और हल्के हाथ से ऊपर नीचे करने लगी.

त्रिशाकर मधु का mms video

मैं उनकी बात समझ गयी और बोली- हाँ पापा बहुत भूख लगी है।उन्होंने मुझे मेरे होंठों पर एक लंबा किस दिया और मैं उनकी सीने से लिपट कर अपनी चूची को उनसे रगड़ने लगी।पापा मेरे छोटे गुलाबी कमसिन होंठों को चूसने लगे, अपने हाथों से अपनी बेटी के छोटे छोटे दूध को दबाने लगे उनका साइज पता करने लगे।मुझे बहुत मज़ा आने लगा, मेरी चुत गीली होने लगी और मेरे अंदर आग बढ़ने लगी. यह सब करते करते मैडम धीरे धीरे सरक सरक कर कुछ ही दूर रखे दीवान तक जा पहुंची थीं. वो बोले- तू एक काम कर … दारू के एक दो पैग और बनाने की व्यवस्था कर … मैं इसे थोड़ा और रंग के आता हूँ.

अभी मैंने दो तीन ही धक्के मारे थे कि सारा ने दर्द से तड़फ कर मुझे रोक दिया, वो बोली- दर्द हो रहा है … आपका तो बहुत बड़ा है … मेरी चूत बहुत छोटी है फट जाएगी. और जैसे ही वो अपनी चूत पर मेरे लंड की रगड़ को एंजॉय करने लगी, मैंने दो झटके लगाए, मेरा आधा लंड उसकी चुत में चला गया.

पापा अपने मज़बूत हाथों से मेरी चूचियों को ज़ोर से दबाते जिससे मेरी चीख निकल जाती थी और उनका हाथ धीरे धीरे मेरी लेगिंग्स की तरफ बढ़ने लगा.

उफ्फ … उसके बाद उसके लंड को देखा, तो वो एकदम मूसल सा खड़ा लहरा रहा था. मैंने अपने लंड के बाहर निकले हिस्से पर थूक लगाया और उसके दोनों पैरों को फैला दिया. पापा अपने हाथों से मेरे सिर को सहलाते रहे और मैं उनका लौड़ा अपने मुँह में लेकर चूसती रही.

अब चुदाई के अगले शॉट में नीना खुद ही डायरेक्शन देने लगी यानि खुली मस्ती का सौ फीसदी माहौल बन गया था. मेरी चुदैल चुदक्कड़ बीवी की चुदाई की कहानी के प्रथम भागदौड़ पड़ी मेरी बीवी की चुदाई एक्सप्रेस-1में आपने पढ़ा कि मेरी बीवी ने अनायास ही हमारे पड़ोसी का लम्बा बड़ा लंड देख लिया था और उसकी चूत उस लंड का भोग लगाने के लिए लालयित हो उठी थी. जैसे ही उसने जींस खिसकाकर उतारी, वैसे ही आशीष बिना पलक झपकाये मुझे देखने लगा.

मैं जैसे जैसे उसका लंड चूसती, वो वैसे वैसे मेरे बाल पकड़ के अपनी तरफ खींचता जाता और मेरे चूचों को दबाता जाता.

बीएफ कपड़ा: वो कराहने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ मुझे ऊपर से धकेलने की कोशिश करने लगी. मैंने भी देर ना करते हुए एक ही झटके में पूरा लंड चाची की चूत में घुसा दिया.

उसके बाद जो भी हुआ, उसकी पूरी सच्चाई मैं अपनी एक पूर्व की कहानीकमसिन लड़की की मोटे लंड की चाहतमें लिख चुकी हूं. इस पर डॉली ने कहा- और आपके हब्बी?तो मिसेज पाटिल बोलीं- उनको तो एक बार नींद आई, तो फिर सुबह ही उठते हैं. जैसे जैसे मैं ज़ोर लगा रहा था, उनकी दबी आवाज में चीख निकलती जा रही थी- आराम से डाल ना साले, आअहह … मर गयी … चोद दिया रे इसने तो … बहुत दर हो रहा है राजा, बाहर निकाल इसे.

अपनी हथेली में उन्होने मेरे लंड को थाम कर हिलाना, सहलाना शुरू किया.

विजय का माल निकलने वाला था कि माला ने उसके लंड से कंडोम हटा कर लंड अन्दर कर लिया और कहने लगी कि आज मेरी चूत आपके माल का नज़ारा लेना चाहती है. मेरे द्वारा बताया हुआ उनको याद रहता था क्योंकि मैं एक एक चीज़ समझा कर बताता था पर सर वैसे नहीं बताते थे. फिर थोड़ी देर हम दोनों एक दूसरे के आंखों में खोए रहे और एक दूसरे को निहारते रहे.