बीएफ वीडियो कॉल

छवि स्रोत,राजस्थानी सेक्सी वीडियो के साथ

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन सेक्स भाभी: बीएफ वीडियो कॉल, दीदी की एकदम लाल जीभ और उस पर चमकता राल, और वो उसे अपने होंठों में भर भर कर चूस रहा था मानो जैसे आज दीदी की जीभ तो पूरी खा ही लेगा.

कल्याणपुर सेक्सी

।रूपा- मेरी चूत में जाएगा या नहीं…! सुना है बहुत दर्द होता है?मैं- दर्द में ही तो मजा है… क्यों दर्द बर्दाश्त नहीं कर सकती हो?रूपा- जान तुम्हारे लिए तो मैं कुछ भी सह सकती हूँ।मैं- अपने नीचे वाली में ऊँगली करो न. 12 साल की लड़की की सेक्सी ब्लू पिक्चरडार्लिंग !कविता- तो अब मजा दोगे भी क्या ?मैं कविता का इशारा समझ चुका था, मैंने उसे सोफे पर बैठाया और टाँगें ऊपर कर उसकी दोनों टाँगों के बीच बैठ कर अपनी जीभ गीली चूत पर रख दी और जब चूत पर जीभ चलाने लगा।तो कविता ने एक लम्बी कामुक सिस्की भरी, आह.

!रेहान की आवाज़ सुनकर आरोही मटकती हुई वहाँ आई, उसको दर्द था, पर दर्द को सहन करके बड़ी अदा के साथ आई थी और आते ही अन्ना को ‘हैलो सर’ बोल दिया।अन्ना- हैलो हैलो जी बैठो जी. लड़की के सेक्सी हिंदी मेंसंता आँखे बंद किये तपस्या कर रहा था।भगवान प्रकट हुए और बोले- वर माँगो वत्स !संता ने फटाक से आँखे खोली और प्रणाम करके चलने लगा।भगवान ने आवाज लगाई- …वर तो लेते जाओ वत्स !संता- नहीं जी नहीं ! पहली बात तो यह कि मुझे वर नहीं वधू चाहिए !दूसरी यह.

चाची बोली- अब कितना तड़पाएगा मेरे पहलवान! चोद दे मुझे! ऊह ह्ह हाँ चोद दीईई ऊऊह!मैंने चाची की एक टांग अपने कंधे पर और दूसरी टांग को बेड पर रखा और अपने लंड को उनके दाने के ऊपर रख क़र धक्का दिया और मेरा आधा लंड उनके चूत के बालों को चीरता हुआ उनके चूत में समां गया.बीएफ वीडियो कॉल: मैं उन्हें देख क़र पूरे जोश से उनकी चूत को काटने लगा,चाची अहाहा हाह सीईईएईईइ अआजह्हा आहा अह्हह ओह्ह्ह हूह्ह ह्म्म्म अह्हह क़र रही थी, उन्हें पूरा आनन्द आ रहा था.

मैं पागलों की तरह उससे चुम्बन करने लगा और उसके होंठों को चूसने लगा और धीरे से मैंने अपना एक हाथ उसके मम्मे पे रख दिया और उसे मसकने लगा.!उसने गद्दे के नीचे से कंडोम निकाला और मेरे लण्ड पर चढ़ा दिया।मैंने उसको घोड़ी बनाया और उसकी चूत में लण्ड घुसा दिया। वो तनिक सिसियाई और कुछ ही पलों में उसके मुँह से आवाज निकलने लगी- ओह कमल… और तेज और जोर से करो.

भाई बहन की नंगी वीडियो सेक्सी - बीएफ वीडियो कॉल

उ…उ…ह… की आवाज निकली व दर्द से मेरी आँखें बाहर उबल पड़ी, उनमें आँसू भर आये और मेरी योनि से खून का फव्वारा निकल पड़ा।मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी योनि में जबरदस्ती कोई मोटी लोहे की जलती हुई छड़ घुसा दी हो।मेरे होंठ महेश जी के मुँह में थे इसलिये मेरा मुँह बँद था नहीं तो मेरे मुँह से इतनी जोर से चीख निकलती की सारे घरवाले जाग जाते। मैं बस उँहह.वो मुझसे बोली- बेटा तुम यहीं पूजा के पास रहना, मैं एक पार्टी में जा रही हूँ, इसके पापा और भाई वही हैं.

मेरा दिल किया कि इसी साली को चोदकर अपना लण्ड शांत कर लूँ …सलोनी एक ओर खड़ी होकर अपने कपड़े पहन रही थी और वो आदमी सिगरेट पीते हुए उसको घूर रहा था। वो सिगरेट पीते पीते उठकर सलोनी की ओर बढ़ा, मैं उसको देखते हुए ही उस लड़की की ओर गया।कहानी जारी रहेगी।. बीएफ वीडियो कॉल …आआ… आआआ…आअहह… माइईईई मैं …त त तो गई…तभी उसने इशरत का मुँह घुमाया और ज़ोर से उसके होंठों को चूमने लगा.

मैं- हा हा! ऐसे शरमाओगे तो कैसे सेक्स कर पाओगे मेरे साथ? तुम चाहते हो कि मैं किसी और से सेक्स करूँ?यह सुनकर जय ने फड़ाक से अपना लंड बाहर निकाला और कैमरे के सामने मसलने लगा.

बीएफ वीडियो कॉल?

खाना खाते वक़्त फ़ूफ़ी बोलीं- तुम्हारे कमरे में सी-डी प्लेयर है तो मुझे कोई अच्छी पुरानी फिल्म देखने दो. आह’ कर रही थी।फिर मैं उसकी गर्दन को चूमने लगा, वो गर्म होती जा रही थी। मैंने धीरे से उसकी ब्रा निकाल दी और मैंने उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया, उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी।फिर मैंने उसे बेड पर लिटाया और उसकी चूत चाटने लगा।क्या चूत थी. क्या… मैं… आपका बाथरूम… यूज़ कर सकती हूँ सर…? !! ? बाहर का बहुत गन्दा हो रहा है…वैसे भी ज्यादातर लेडीज स्टाफ ये अंदर का ही बाथरूम यूज़ करती थीं तो उसमे कोई प्रॉब्लम नहीं थी.

मैंने उसके गालों पर हाथ फेरा, और इसी बहाने मुझे पहली बार उसके नर्म और मुलायम गालों पर अपना हाथ फेरने का मौका मिल गया. ह…ह… की जोर से आवाज निकली और मैं अपनी योनि से ढेर सारा पानी छोड़ते हुए शाँत हो गई।कुछ देर बाद महेश जी भी चरम पर पहुँच गये उन्होंने मेरे शरीर को कश कर पकड़ लिया और अआह. !उसका भूरे रंग का दाना दूर से ही चमक रहा था, उसकी चूत के दो द्वारों को खोलते ही लालिमा चमक उठी जैसे बादलों के बीच बिजली चमक रही हो।वो मेरे लिंग को खींचने लग गई, उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया, उसकी मादक सिसकारियाँ पूरे कमरे में गूँज रही थीं। ‘हूं…आ…आह.

?मैंने कहा- बस ऐसे ही…!फिर मैं उसके और पास गया और वो कुछ भी नहीं बोली। मैंने उसका हाथ पकड़ लिया, इधर अँधेरा हो चुका था। हमें छत पर कोई नहीं देख सकता था।मैंने उससे कहा- मोनी तुम मुझे भैया मत कहा करो. !मैं उठा और उसके नीचे तकिया लगाया। उसकी टाँगें फैला दीं और उसकी चूत पर लौड़ा लगा दिया।वो चिल्लाने लगी।गिरिजा- बाबा, मार ही दोगे क्या. तभी बाथरूम का दरवाज़ा खुला और वो मेरे पास आकर देखने लगी।मैंने उसे अपनी बांहों में भर लिया और हंसने लगा.

तुझे देखना है तो बता?मैं अजीब भी असमंजस में था, देखना भी चाहता था मगर कहूँ कैसे?मैंने बस सिर नीचे कर लिया।वो फिर बोला- अगर देखना हो रात में एक बजे छत पर आ जाना चुपचाप… लेकिन हाँ, अगर कुछ हरकत करने की कोशिश की तो यह मत भूलना कि मैं पुलिस में बहुत बड़ा अफ़सर हूँ, गाण्ड में डंडा डाल कर मुँह से निकाल लूँगा. मैं सलोनी की परवाह ना करते हुए अपना हाथ सीधे पेट से सरकाते हुए मधु की मासूम फ़ुद्दी तक ले गया जहाँ अभी बालों ने भी पूरी तरह निकलना शुरू नहीं किया था…उसका यह प्रदेश किसी मखमल से भी ज्यादा कोमल था ….

!तो सविता हँसने लगी और बोली- अरे ज्यादा दिन नहीं हुए एक हफ्ता ही हुआ होगा।मैं बोली- क्या ठाठ हैं तुम्हारे.

अब तक उन्होंने भी मुझे कपड़ों से अलग कर दिया था और मेरे बदन पर सिर्फ मेरा अंडरवियर ही बचा था !!तभी उन्होंने अपने नाज़ुक हाथों से मेरे लण्ड को पकड़ा और उसे सहलाने लगी.

सलमा थोड़ी देर बाद- सुनो जी जेल खुली है और कैदी बाहर है!इरफ़ान फिर चढ़ जाता है और दबा के सलमा की चुदाई करता है और पास में लेट जाता है. !वो कुछ बोलता इसके पहले जूही अन्दर आ जाती है। लेकिन साहिल ने डोर खोलने के पहले वीडियो बन्द कर दिया था।जूही- मुझे आप से जरूरी बात करनी है, प्लीज़ डोर बन्द कर दो।साहिल डोर बन्द कर देता है और चुपचाप जूही को देखने लगता है।जूही- साहिल मेरी बात ध्यान से सुनना और प्लीज़ पूरी सुनना। उसके बाद जो तुम्हारा मन हो से वो करना।साहिल- तुम यहाँ कैसे आ गईं. लेकिन मुझे पता था कि ऐसे चोदने से मेरा लण्ड फुहार मारने से कुछ देर रुक जाएगा।मैंने प्रीति का कुरता उतार कर साइड में रखा और उसके होंठ चूसते हुए उसकी चूचियाँ मसलने लगा।प्रीति भी अपनी कमर गोल-गोल घुमाने लगी, उसकी जीभ मेरी जीभ से टकराने लगी।उत्तेजित होकर प्रीति ने अपनी ब्रा नीचे कर ली और मेरा मुँह अपनी चूचियों पर लगा दिया।मैं भी पूर्ण उत्तेजित था, प्रीति की चूचियों को काटते.

पता नहीं क्या बात है इस खेल में !आज रात अपने मित्र से पूछ कर फिर कोई कारनामा करने की इच्छा है ![emailprotected]. !मैंने कहा- जान एक बार फिर से मेरे लंड को चूसो और गीला करो।उसने पाँच मिनट तक फिर लंड चूसा। मैंने उसकी चूत को चूसते हुए उसकी चूत में फिर से चिंगारी भड़काई। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब फिर से दुबारा कोशिश की लौड़े से मेहनत और निशाना लगाया और दोनों सफल. !”हम लोग उसकी दो-अर्थी बातें सुनकर हँस पड़े।मैंने उसे डांटते हुए कहा- चमेली तू हरदम हँसी-मज़ाक करने के मूड में क्यों रहती है.

!रेहान- अच्छा यह बता कि मेरे बोलने से वो मान जाएगी क्या?राहुल- नहीं यार वो बहुत स्मार्ट है, ऐसे नहीं मानेगी.

एक लड़की बोली- हय क्या तुम अकेले हो? शादी तो नहीं हुई ना तुम्हारी?इरफ़ान खुश होते हुए- हाँ हाँ मैं अकेला और कुंवारा हूँ…इरफ़ान ने फिर पूछा- लेकिन तुम कौन हो?उधर से जवाब आया- कमीने तेरी बीवी सलमा बोल रही हूँ. ये तो… अंदर…मैं- क्या अंदर? क्या हो रहा है?मधु- व्व्व्व्व्व्वो भाभी अंदर… और व्व्व्वो !!!!!ऑफिस में ही नीलू और रोज़ी से मस्ती करने के बाद मैं बहुत आराम से फोन पर बात कर रहा था…लण्ड को अपनी खुराक भरपूर मिल गई थी, फिर भी दिल तो बावरा होता है रे…सलोनी का फोन मधु के पास था… दोनों किसी स्कूल में थी जहाँ सलोनी ने जॉब करने के लिए कहा था…मधु ने के ऐसी बात बताई कि मेरे कान खड़े हो गए…झूठ नहीं बोलूंगा. !”मैंने उसकी चूत फाड़ डाली थी। उसकी चूत से खून निकल आया। उसकी चूत फट चुकी थी। मैंने उसकी सील तोड़ दी। वो दर्द के मारे कराह रही थी और मैंने उसे प्यार से सहला रहा था। वो बेचारी दर्द से बिलबिला रही थी।मैंने अपने लण्ड को हिलाने की कोशिश की तो वो बोली- बाबूजी, अब नहीं अब निकाल दो प्लीज़.

मुझे इस साईट के बारे में पहले से ही नहीं पता था, मेरे एक दोस्त ने बताया था इस साईट के बारे में, मैंने तो अनदेखा कर दिया उसकी बात को! तो फिर जब मैंने इसे एक दिन पढ़ा तो बस इसका दीवाना हो गया हूँ. सखी चारों तरफ चांदनी थी, हम तरण-ताल में उतरे थे,जल तो कुछ शीतल था लेकिन, ये बदन हमारे जलते थे,जल में ही सखी सुन साजन ने, मुझको बाँहों में भींच लिया,उस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. मैंने कब मना किया ! उसको मिलवाया भी असली आदमी से है। अब तुम कहते हो तो बनवा दूँगा। अब मैं जाता हूँ… ओके रात को कॉल करके बताता हूँ कि कल कब जाना है।राहुल- अच्छा यार तू जा.

मैं आपको याद तो हूँ ना? अरे वही जिसको आपने बहुत सारे मेल किये थे मेरी कहानीबचपन की सहेलीपढ़ने के बाद!अब आगे की कहानी पर आता हूँ, इस बार भी मेल करना!मैं सीमा को 8-9 बार चोद चुका था.

मैं चूसती रही कुछ ही देर में उसका लण्ड दुबारा खड़ा हो गया था।पिछले तीन घंटों की लगातार चुदाई की वजह से मेरा पूरा बदन टूट रहा था। मैं कुछ करने की हालात में नहीं थी। तभी आशीष ने मुझे उठाया और मेरे नीचे लेट कर मेरी गाण्ड में अपना लण्ड डाल दिया और अपनी गाण्ड उठा-उठा कर धक्के मारने लगा।मैं अन्तर्वासना से भर गई. स्तन की घुंडी पे चुम्बन ले, जिह्वा से उनको उकसाया,पहले घुंडी मुंह अन्दर की, फिर अमरुद तरह स्तन खाया,होंठ-जिह्वा-दांतों से दबा-दबा, सारा रस उनका चूस लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

बीएफ वीडियो कॉल मेरे सामने सिर्फ नंगी जाँघें ही नहीं बल्कि एक नरम गदराई और बिल्कुल नंगी कुँवारी गांड स्कर्ट के ऊपर हो जाने से झांक रही थी. ओके अफ उ आ…!अब रेहान अपने लौड़े को धीरे-धीरे हिलाने लगा।आरोही का दर्द से बुरा हाल था, और वो आहें भर रही थी, मगर रेहान को कुछ नहीं बोल रही थी। उसकी चूत में जो खुजली हो रही थी, वो मिट चुकी थी, क्योंकि दर्द ज़्यादा था और मज़ा कम.

बीएफ वीडियो कॉल मैं आपको याद तो हूँ ना? अरे वही जिसको आपने बहुत सारे मेल किये थे मेरी कहानीबचपन की सहेलीपढ़ने के बाद!अब आगे की कहानी पर आता हूँ, इस बार भी मेल करना!मैं सीमा को 8-9 बार चोद चुका था. यह सब में मैंने न जाने उससे कितनी बार मोबाइल रिचार्ज करवाया और अब एक ही रात में पंद्रह हज़ार खर्च कर दिए.

नीलू… उसने बहुत काम संभाल लिया है…सलोनी- ओह… तो यह बात है, लगता है उसने मेरे बुद्धू राजा को रोमांटिक भी बना दिया है…उसने आँखे घूमाते हुए बोला- …केवल ऑफिस का काम ही ना… फिर लण्ड को पकड़ते हुए… कुछ और तो नहीं ना…??अचानक मेरे दिमाग में विचार आया और बोला- …क्या यार सलोनी.

बीएफ चलने वाली सेक्सी

मैंने गुस्से में उससे पूछ लिया- चुदने के लिए कोई और देख रखा है क्या?वो भड़क गई और जाने लगी !मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने करीब खींच कर धीरे से कहा- यार क्यों तड़पा रही हो. आज तेरी चूत और गाण्ड की खैर नहीं…प्रिया अब बुरी तरह डर गई थी और अपने ही जाल में फँस भी गई थी, उसको कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करे और क्या ना करे।विकास ने उसके मम्मों को दबाने शुरू कर दिए और लौड़ा को उसके होंठों से स्पर्श कर दिया।विकास- अरे क्या हुआ. !’ मेरे हलक से बस इतना ही निकला।फिर पता नहीं क्या हुआ, चाची कांपने लगीं और रोने लगीं।मैंने उनका सर अपने कन्धे पर रख लिया। वो अचानक मुझसे चिपक गईं और ज़ोर से रोने लगीं।मैं समझ नहीं पा रहा था कि क्या करूँ.

तुम्हारी मस्त गुलाबी चूत के आगे इसकी क्या बिसात।मुझे आशीष से ऐसे जवाब की उम्मीद बिलकुल नहीं थी।मैंने उसकी ओर देखा तो अंकिता और आशीष एक-दूसरे के होंठों को चूसते हुए हँस रहे थे।अंकिता मेरी ओर उसी छोटी सी तौलिया में आई और अपनी दो उँगलियाँ मेरी चूत में अन्दर तक घुसा दीं और आशीष की तरफ देख कर बोली- अरे इस छिनाल की चूत तो अब भी गीली है आशु बेबी. तुमसे नहीं होगा भाई हा हा हा…!राहुल ने गुस्से में दोबारा लौड़ा सुराख पर रख कर जोरदार झटका मारा तो आधा लंड गाण्ड में घुस गया, दर्द के मारे आरोही बेड पर लेट गई और उसके साथ साथ राहुल भी उसकी पीठ पर ढेर हो गया। ज़ोर से बेड पर गिरने के कारण पूरा लौड़ा गाण्ड में घुस गया।आरोही- एयाया एयाया आआ… निकालो उ बहुत दर्द हो रहा है… आआ… यह कोई तरीका आअहह. मैंने उनकी सलवार को खोल दिया और पेंटी के अंदर हाथ डाल कर हाथ फेरने लगा तो उनकी चूत पूरी गीली थी बहुत पानी निकल रहा था और मेरा लंड भी एकदम टाइट हो गया.

कुछ देर बाद, मैंने फिर से उनके मम्मे चूसना शुरू किए वो फिर से गरम हो गईं और मेरा भी लंड फिर से तन गया.

”मैंने उसे निशांत, उम्र 26 लिख कर भेज दिया।उसने एक हफ्ते बाद की बुकिंग कराई थी और बुकिंग की एक कॉपी मुझे भेज दी उसने।अब मुझे सच में डर लग रहा था, मैंने तो उसे अब तक देखा भी नहीं था न ही उसकी आवाज़ सुनी थी, और तो और उसका नाम भी नहीं जानता था मैं. मैंने उनके मुंह में अपना लंड डाला, वो तो जैसे तैयार थी, पूरा लंड मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी, जैसे रेगिस्तान की गर्मी में किसी को पानी मिल जाए!कुछ देर बाद मैं अपनी जीभ से उनकी नाभि चाटने लगा. वो हमेशा ऐसी ब्रा पहनती थी कि उसके चूचे मिसाईल की तरह लंड पर वार करते थे।मैं हमेशा से ही उसके चूचों को देखने की ताक में रहता था और जब कभी उसकी ब्रा के थोड़े से भी दर्शन हो जाते.

!’मैं घुटनों के बल उनके सामने बैठ गया। फिर उन्होंने मुझ को पकड़ कर अपने ऊपर गिरा लिया। मेरा लण्ड सीधा चाची की चूत से टकराया हम दोनों की चीख निकल गई, ‘ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह चाची. !उसकी चड्डी उतारी तो अन्दर से 8 इंच लम्बा 3 इंच मोटा लंड पूरे मस्ती में लहराता हुआ निकला।राज ने मुँह में लेने को बोला, पर मैंने मना कर दिया तो वो जिद करने लगा तो मैं मना नहीं कर पाई और मुँह में लेकर चूसने लगी। मुझे पहले अच्छा नहीं लगा।उसके बाद उसका लण्ड और सख्त होने लगा और राज मेरे सर को पकड़ कर मुँह में चोदने लगा और 10 मिनट की मुँह चुदाई के बाद, आह. आप भी घेले (लोल) हो ! मैं आयल मसाज और जल थैरेपी की बात कर रही थी !’ उसके मुँह पर अबोध मुस्कान थी।‘ओह.

शर्म करो बगल में फिरोज़ भाई और नसरीन भाभीजान हैं… तुमने उनके सामने मुझे नंगी कर दिया। छी-छी क्या सोचेंगे जेठ जी?” मैंने फुसफुसाते हुए जावेद के कानों में कहा जिससे बगल वाले नहीं सुन सकें।तो इसमें क्या है? नसरीन भाभीजान भी तो लगभग नंगी ही हो चुकी हैं। देखो उनकी तरफ़. केवल नीचे से ऊपर ही हो सकता है ना…मुझे तो पता ही नहीं था कि वो इंजेक्शन लगाएंगे… वरना मैं कोई पजामा जैसा कपड़ा पहन लेती.

मैंने फ़ूफ़ी की टांगें फैला दीं और अपना लंड उनकी चूत पर सैट करके धीरे से धक्का मारा पर अंदर नहीं गया और फ़ूफ़ी की सिसकारी निकल गई ‘सस्सस्स…’ फिर मैंने झट से वैसलीन की क्रीम अपने लंड पर लगा दी और फ़ूफ़ी की चूत में अंदर तक लगा दी और वापस लंड को सैट कर के धीरे से अंदर धक्का लगाया. स्तन की घुंडी पे चुम्बन ले, जिह्वा से उनको उकसाया,पहले घुंडी मुंह अन्दर की, फिर अमरुद तरह स्तन खाया,होंठ-जिह्वा-दांतों से दबा-दबा, सारा रस उनका चूस लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. पहली बार मुझे लगा कि कच्छी पहननी चाहिए थी !पर तब तो उन्होंने इंजेक्शन लगा गाउन ठीक भी कर दिया था…मधु- नहीं भाभी.

रुमाल से सब साफ़ करके दोनों एक दूसरे से लिपट कर सो गए…सुबह साढ़े पाँच के करीब हम देहरादून पहुँचे। ठंडी हवाएँ चल रही थी जो बदन में सिहरन ला रही थी। मैंने शोना के हाथ को अपने हाथ में लिया और कुली को सामान दे स्टेशन से बाहर आया.

!गिरिजा- मेरे पति मुझे बच्चा नहीं दे पा रहे हैं।मैं- क्या?गिरिजा- हाँ बाबा…मैं- तुमने किसी डॉक्टर से सलाह ली. बहुत मस्त हो तुम मेरी बहना… ऐसी चुदक्कड़ औरत मैंने पहले नहीं देखी…आ अहह… निक्की मेरी बहन अब मेरी बीवी बन गई है… तू मेरी बीवी है शीना दीदी… ऊऊहह… निक्की तुम मेरी हो… और मैं बहनचोद. रात हो चुकी थी, दादा-दादी दोनों ही घर के बाहर वाले हिस्से में सोते थे, मैंने खाना खाया और ऊपर छत पर चला गया सोने.

सच्ची 3 बज गया।मैंने उसको घड़ी दिखाई और बोला- खुद देख लो…तो बोली- यार आज इतनी अच्छी नींद आई कि मेरा अभी भी उठने का मन नहीं हो रहा है. हय देख लो तो लंड खड़ा हो जाए।मैं उसको चोदने की निगाह से देखा करता था। वो भी शायद कुछ चाह रही थी लेकिन मुझे अभी पक्का यकीन नहीं था।जब वो मेरे छोटे भाई को पढ़ाती थी, मैं अपने कमरे से उसे देखा करता था, उसके चूचे साफ़ दिखते थे।सही कह रहा हूँ.

अब आ जाओ ऊपर !” मैंने कहा।नहीं पहले तुम इसका नाम लो।”वैसे तो औरतों के लिये लंड का नाम और वो भी किसी पराये मर्द के सामने लेना बड़ा मुश्किल होता है लेकिन मेरे लिये कोई बड़ी बात नहीं थी। फिर भी मैं शरमाने का नाटक करते हुए झिझकते हुए धीरे से फ़ुसफ़ुसाई, लंड !”क्या. और एक सिगरेट और जला दे।चुदाई रोक कर उससे रम का गिलास लिया और बड़ा सा घूँट खींचा तब तक सीमा ने सिगरेट जला कर मुझे थमा दी चखना की जगह सिगरेट भी खूब मजा देती है. थोड़ा बहुत तो मैंने बताया है परंतु बाकी का तुझे ही समझाना होगा।’ चंदा रानी की आवाज़ आई।वह बच्चे को बहला रही थी, बच्चा दूध पिये हुए था और अब खेल रहा था, अभी उसका कोई सोने का मूड दिखाई नहीं पड़ रहा था।मैं बोला- ठीक है !और नन्दा रानी को चूम के बोला- नन्दा रानी… अभी जो मैंने तेरे साथ किया वह चुम्बन कहलाता है। इसे बहुत देर देर तक किया जाता है….

एचडी बीएफ पिक्चर दिखाइए

तुम्हारी बुर फट जाएगी और तुम्हें बहुत दर्द होगा।वो बोली- भैया आपको मैं एक बात बता दूँ कि लण्ड कैसा भी हो.

सॉरी हाँ लेकिन यह जरूरी है…!साहिल- यार सचिन, यह साली जूही तो बहुत सवाल पूछ रही है रेहान को टेन्शन में डाल दिया. लगातार मेरी नाक बह रही है, सारा बदन टूट रहा है, अभी उठी हूँ… श्रेया ने कॉफी बना कर दी, उससे भी ज़्यादा कुछ फ़र्क नहीं लगा उसने पूछा- कैसी तबीयत है?मैं बोली- थोड़ा दर्द है चूचियों और निप्प्लों में पर ज्यादा नहीं !वो हंसती रही मुझे देख कर. और मुझे कुछ भी करने का मौका नहीं देते।फिर उसने मुझे खींच कर एक चुम्मी ली।इस बार वो कुछ ज्यादा ही पास आ गई थी। उसके गोल-गोल मम्मे मेरी छाती में गड़ गए।मैंने उसकी मम्मों की ओर हाथ बढ़ाया तो उसने मना कर दिया।बस हम यहीं तक सीमित रहेंगे.

मनोज- हाइईन्न्न हैं…कक्क क्या बोला तुमने…सलोनी- अरे यार इसको आगे वाले को सुपारा ही कहते हो ना…मनोज- हे हे व्व्वो हाँ बिलकुल. अब जाओ बाय…!ओके फ्रेंड्स… यह भाग भी गया।अब आपको रात का इन्तजार होगा कि जूही के साथ रेहान कैसे चुदाई करेगा और पार्टी में राहुल को ऐसा क्या नुस्ख़ा देगा कि राहुल स्ट्रॉंग हो जाएगा।आपको इन सभी सवालों के जवाब अगले भाग में देने की कोशिश करूँगी।और कुछ दोस्तों के मेल आए कि आरोही के साथ रेहान जो कर रहा है वो गलत है।दोस्तो, अपने अभी सिक्के का एक पहलू देखा है. हिंदी सेक्सी वीडियो इमेजधीरे-धीरे घुसाना !संजय मेरी टाँगों के बीच में बैठ गया और मैंने उसका लंड धीरे से अपने चूत में डाल लिया, उसके मुँह से आह निकल पड़ी।वो बोला- आह.

दोस्तो, मेरा नाम स्वाति है, 28 साल की एक शादीशुदा लड़की हूँ, मेरी शादी को 2 साल हुए है और मैं काफी समय से अन्तर्वासना पढ़ रही हूँ।मैं अपने बारे में आपको बताती हूँ, मैं बहुत ही मॉडर्न लड़की हूँ M. आप रुकिये…मैं आँखें बन्द करके लेटी रही !पाँच मिनट बाद एकदम मुझे अपने निप्पल पर कुछ ठंडा सा लगा, एकदम आराम मिला, सुकून मिला… आँखें खोली तो श्रेया मेरे निप्पल पर बर्फ़ लगा कर बैठी थी और उसने भी… कुछ भी नहीं पहना था, वो पूरे कपड़े नीचे उतार कर आई थी… उसका गोरा बदन धूप से लाल हो रहा था…मुझे बुरा लगा, मैंने कहा- अरे मुझे गुस्सा तुम पर थोड़े ना आया था.

राहुल झट से मेरे कमरे से बाहर निकल गया। मैं उसके पीछे पीछे उसी हालत में ड्राइंग रूम तक आई और घर का दरवाज़ा अन्दर से बंद किया और बाथरूम में जाकर बाथटब में जाकर पानी में जो लेटी और बीते हुए आनन्ददायक पलों को याद करते करते कब शाम हो गई कुछ पता ही ना चला।मेरी गांड की खुजली मिट चुकी थी, राहुल ने अपना वादा निभाया और अब अक्सर मेरी इच्छानुसार आकर मेरी गांड और चूत की खुजली मिटाता रहता है।. गर्मी की छुट्टी होने के कारण हमारे बड़े दादाजी की पोतियाँ भी आई हुई थीं, एक नाम बिट्टू था जिसकी उम्र 20 रंग गेहुआ शरीर पूरा भरा हुआ था और दूसरी का नाम सोनू था, जिसकी उम्र 19 रंग गोरा और वक्ष के उभार बड़े-बड़े थे. पर मुझे नहीं पता था कि वो अब मेरे लंड की इतनी शौकीन हो गई है, वो अब भी जब उसका पति घर नहीं होता तो मुझे कॉल कर देती है।एक बार तो हम 2 रात 3 दिन एक साथ रहे थे, बिलकुल नंगे… वो भी उसी के घर पर…!आपको मेरी कहानी कैसी लगी? अपनी राय जरुर दें।[emailprotected].

मैंने अपनी गति बढ़ा दी… वो भी नीचे से उछलकर मेरा साथ देते हुए चिल्लाने लगी- …डाल दो पूरा अन्दर… मेरी प्यास बुझा दो… और जोर से. शैलेश भैया- तेरा मन भीगने को किया या कुछ और वजह से भीग रहे थे…! नुसरत के लिए तो नहीं न भीग रहे थे?मैं- नहीं नहीं, मैं तो आपके लिये भीग रहा था।शैलेश भैया- क्यूँ गाण्ड मरवाना चाहता है क्या?वो फ़िर से गमछा पहने हुए थे, मगर इस बार उनका लंड पूरा टाईट था और गमछे के ऊपर से ही पूरा शेप पता चल रहा था।मैंने उनके गमछे के ऊपर से ही लंड छू कर कहा- इतना मोटा लंड…मुझे तो डर लगता है. फिर विश्वनाथन आनंद आता है…आनंद: चलो संता बंता शतरंज खेलते हैं…संता: नहीं, आप तो हमें आसानी से हरा दोगे…आनंद: अच्छा चलो, तुम दोनों और मैं अकेला…बंता: फिर भी हम हार जाएंगे…!आनंद: ओके, चलो मैं बाएँ हाथ से खेलूंगा…संता-बंता: हाँ फिर ठीक है…(आप फिर हँस पड़े! चुटकुला अभी खत्म नहीं हुआ है जी !).

!रेहान ने लौड़ा बाहर निकाल लिया और जल्दी से हाथ पकड़ कर आरोही को बिठा कर खुद खड़ा हो गया और लौड़ा उसके मुँह में दे दिया और झटके मारने लगा।रेहान- आ.

30 बजे थे, उसने अपनी छोटी लड़की को अपने साथ में लिया जो एक साल की थी और उसका बैग मैंने पकड़ लिया।मैं बोला- तेरा बड़ा लड़का नहीं आ रहा क्या?तो वो बोली- उसका स्कूल है, वो अपने दादी के पास ही रहेगा।हम लोग 8 बजे बस-स्टैंड पहुँचे और 8. !मैंने फिर से कड़े शब्दों में उससे कहा- मैं सोच कर तुम्हें बताऊँगी।उस दिन मैं पूरी रात सोचती रही, एक बार तो ख्याल आया कि यह अमीर लोग क्या ग़रीबों की इज़्ज़त खिलौना समझते हैं.

!’मैं घुटनों के बल उनके सामने बैठ गया। फिर उन्होंने मुझ को पकड़ कर अपने ऊपर गिरा लिया। मेरा लण्ड सीधा चाची की चूत से टकराया हम दोनों की चीख निकल गई, ‘ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह चाची. !”तो मैं फ़िर थोड़ा धीरे-धीरे उसे चोदने लगा। लगभग 15 मिनट तक उसको चोदने के बाद जब मुझे लगा कि मेरा निकलने वाला है तो मैं फ़िर से उसे बहुत तेज-तेज चोदने लगा।उसने कहा- थोड़ा और जोर से करो, मेरा भी कुछ निकलने वाला है. ’अब सपना मस्ती में बड़बड़ाने लगी थी।दर्द भरी आहेँ अब मस्ती भरी सिसकारियों और सीत्कारों में बदल गई थी।मैं उसके दोनों खरबूजों को अपने पंजों में पकड़ कर उसकी चूत पर उछल उछल कर धक्के लगा रहा था।सपना की चूत ने खुशी में आँसू बहाने शुरू कर दिए थे और पानी पानी हो गई थी।हर धक्के के साथ अब फच्च फच्च की मधुर आवाज सुनाई देने लगी थी।‘आह्ह… चोद… चोद मेरे राजा… मैं अब आने वाली हूँ… मेरी चूत झड़ने वाली है राजा….

कंधे, स्तन, कमर, नितम्ब कई तरह से पकड़े, मसले और छोड़े गएगीले स्तन सख्त हाथों से आंटे की भांति गूंथे गएजल से भीगे नितम्बों को दांतों से काट-कचोट लियाउस रात की बात न पूछ सखी जब साजन ने खोली मोरी अंगिया!. मैं संतुष्ट हुई वह संतुष्ट हुआ, उसका तकिया मेरा वक्ष हुआगहरी सांसों के तूफानों ने, क्रमशः बयार का रूप लियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. साली का तिल खा जाऊँ। आज शादी के पाँच साल बाद भी वो चूत की रानी और बुर की शहजादी है।हम रोज घंटों बात करते और रोज रात को मैं उसकी पेलाई करता और वो बहुत चिल्लाती और जब उसके बुर से पानी निकलता… तब कहीं जाकर शांत होती.

बीएफ वीडियो कॉल ।रेनू ने पास लेट कर एक बोबे पर मेरा हाथ रखा तथा दूसरा मेरे होंठों से लगा दिया। धीरे-धीरे मैं रेनू के बोबे दबाने लगा व चूसने लगा।क्या रुई की तरह मुलायम नरम बोबे थे. ***पप्पू प्रेमी- तुम मेरे सपनों में, ख्वाबों में, जज्बातों में रहती हो।सलमा- भैया, तुमको किसी ने बेवकूफ बनाया है.

पंजाबी सेक्सी बीएफ एक्स एक्स एक्स

सन्ता चुदाई करते करते- अबे तुझे कैसे पता?पप्पू- सलमान भी बालकनी में खड़ा है…***सन्ता मास्टर- ‘She is kidding’ इसका हिन्दी में अनुवाद करो !पप्पू- वह बच्चे पैदा कर रही है।सन्ता यह जवाब सुन कर बौखला गया और कहा- यह गलत है।पप्पू तपाक से बोला- मास्टर जी, ‘Kid’ का मतलब क्या होता है?सन्ता- बच्चा !पप्पू- तो ‘She is kidding’ का मतलब यही हुआ ना ‘वह बच्चे पैदा कर रही है।***. कितना गंदा फील हो रहा है।रेहान- ओह मेरी जान को ये सब पसन्द नहीं है, अभी लो जान मैं तुम्हें गोद में उठा कर ले जाता हूँ…. चीखती रही लेकिन उसको मुझ पर तरस नहीं आया।बस इतना ही कह रहा था- तुझे मेरे सामने दूसरे मर्द से चुदाई करना है।अंत में मैं रोते-रोते उससे बोली- प्लीज़ मुझे और मत सताओ.

! मैं हमारे प्यार की निशानी को दुनिया में लाना चाहता हूँ।”मगर मैं उसे पाल नहीं सकती। तुम मेरे बदन को जितना चाहे भोग लो मगर बच्चे की ज़िद ना करो।”यह बच्चा मुझे चाहिए… चाहे पैदा करके आप उसे ना रखो।”फिर मैं उस बच्चे का क्या करूँगी?”कुछ भी करो। अनाथ आश्रम में डाल देना।”हाँ. मैं भी थोड़ा बाहर हो आता हूँ !दोस्तो, आज के लिए इतना ही। आज आपको रेहान के ऐसा करने की वजह के करीब ले आई हूँ, आगे आप खुद समझदार हो, अगर ना समझ आए तो अगले भाग में सब भेद खुल जाएगा और कल अन्ना क्या करेगा वो भी तो आपको जानना है न. सेक्सी भेजो सेक्सी चित्र!भाभी ने कहा- मैं कोशिश कर रही हूँ अर्पित, पर तू तो पंजाबी पुत्तर है न… तेरा लंड सिर्फ 5 इंच तक ही अन्दर जा रहा है। ये तेरा लंड है ही इतना मोटा मैं क्या करूँ.

”मैं उठी कपड़े और बाल ठीक किए और चमेली के साथ चाय लेकर जीजाजी के कमरे में आ गई, जीजाजी गहरी नींद में सो रहे थे।चाय साइड की टेबल पर रखकर चमेली ने धीरे से चादर खींची, जीजाजी नंगे ही सो रहे थे, उनका लौड़ा भी सो रहा था।चमेली धीरे से बोली- दीदी देखो ना कैसा सुस्त-सुस्त सा पड़ा है.

!रेहान- मेरी जान अभी सील टूटी नहीं है अब दाँत भींच लो और देखो कैसे तुम्हें कली से फूल बनाता हूँ…!इतना कहकर रेहान ने कमर को पीछे किया और जोरदार धक्का मारा. लेकिन बार-बार फिसल रहा था।इससे सोनम की बार-बार सिसकारी निकल जाती थी।अगले कुछ पलों में मैं भी प्रीति को चोदने में लगा हुआ था।प्रीति भी हल्की-हल्की सिसकारी लेकर खुद ही कुतिया बनी.

चलो अन्ना हम भी चलते हैं।दोस्तों नीलेश बात के दौरान अपना हाथ जूही के कंधे से नीचे ले आया था। उसकी ऊँगलियाँ मम्मों को टच कर रही थीं। जाते-जाते भी उसने मम्मों कोहल्का सा दबा दिया।रेहान- साला हरामी. उसने देखा कि सलमा ने सबके फोन नम्बर ऐसे सेव कर रखे थे-आँखों का इलाजदिल का इलाजकानों का इलाज़उसे अपना नाम कहीं नही दिखा तो उसने गुस्से में अपना नंबर डायल किया तो नाम सामने आया- लाइलाज***इरफ़ान दफ्तर से घर लौटा।उसे देखते ही सलमा ने कपड़े उतार दिए।सलमा- पता है ना अब क्या करना है?इरफ़ान- बिजली नहीं है, मैं मशीन के बिना कपड़े नहीं धो सकता।***. !जूही- साहिल मुझे अन्ना के बारे में कुछ बताना है।साहिल- बाद में बता देना, अभी चलो यहाँ से वरना रेहान पता नहीं क्या सोचेगा।दोनों नीचे आ जाते हैं। तब तक संजू और सचिन भी आ चुके थे, सचिन वहीं रेहान के पास खड़ा था और संजू अन्दर रूम में दारू पीने चला गया।रेहान- आओ हीरो, आओ दिमाग़ ठीक हुआ क्या इसका.

मुझे मंजूर है !क्योंकि अगर मैं ऐसा नहीं करती तो वे मुझे रोज नये नये करतब करने को नहीं बताते !मैं सजा भुगतने के लिए मान गई क्योंकि मैं जानती थी कि सजा में भी अब मुझे मज़ा लेना है।वे बोले- आज तुम्हें और श्रेया को घर की छत पर साथ में दोपहर का खाना खाना होगा.

वो अगले दिन जॉगिंग करके लौट रही थी तो मुझे देख कर मुस्कुरा दी और हम ऊपर जाने लगे साथ में तो मैंने पूछा- एक बात पूछ सकता हूँ? आप इतना फिट कैसे रहती हैं सिर्फ़ जॉगिंग करके या?तो वो बोली- नहीं एक्सरसाइज़ भी करती हूँ छत पर शाम को!मैं साथ चलने लगा और वो चली गई, मैं फिर से कुछ नहीं कर पाया, सिर्फ़ उसको जाते हुए उसके चूतड़ को देखता रहा. ! अब मेरी बारी है।संजू- हाँ आजा यार साली बेहोश हो गई है, मैंने झटका मारा तो गई काम से…!राहुल- अबे सालों ये क्या है, क्या कर रहे हो तुम सिम्मी के साथ…!राहुल को देख कर दोनों चौंक जाते हैं।अंकित- त. साजन ने नितम्ब सहलाये सखी, पूरा अंग मुट्ठी ले दबा दियाख़ुशी से झूमे मेरे अंग ने, द्रव के द्वारों को खोल दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

स्कूल टीचर की सेक्सी फिल्ममैंने कहा- बुआ मैं हेल्प करूँ क्या?तो वो चुपचाप मेरे पास आ गईं और बोलीं- ये सब तेरे और मेरे बीच ही रहेगा. !’मैं अब अपने लण्ड को अन्दर-बाहर करने लगा था, चाची की चूत से पानी निकलना शुरू हो गया था।‘ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह सायमा मेरी रानी.

बीएफ पिक्चर कुंवारी लड़कियों की

हो गयी…’उसने मुझे तुंरत उल्टा करके…मेरी गांड पर सवार हो गया… मुझे थोडी ही देर मैं लगा कि उसका लंड मेरी गांड के छेद पर था, उसने जोर लगाया और लंड गांड की गहराइयों में उतरता चला गया. और पीछे से उस आदमी का लंड इशरत की गाण्ड की दरार की बीच से होता होता हुआ चूत में घचागच घुसे जा रहा था. मैं देखत थी मैं खेलत थी, अंग मुँह के अन्दर सेवत थीमेरे मन में ऐसा लोभ हुआ, मैंने उसको पूर्ण कंठस्थ कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

वह कंधे पीछे ले गया, सखी, सारा तन बाँहों पर उठा लियामैंने उसकी देखा-देखी अपना तन पीछे खींच लियाउस रात की बात न पूछ सखी जब साजन ने खोली मोरी अंगिया!. उसने एक बार भी ना तो गर्दन घुमाई थी और ना उसका बदन जरा भी हिला था…सलोनी पूरी तरह से मधु का उद्घाटन करवाने को तैयार थी…मेरा लण्ड इस तरह की मस्ती से और भी लम्बा, मोटा हो गया था…मैं अपने हाथ से उसके चूतड़ों को मसलते हुए अपनी ओर दबा रहा था और मधु अपने कमर को हिलाते हुए मखमली चूत को मेरे लण्ड पर मसल रही थी…मेरे मुँह में उसकी चूची थी… हम दोनों बिल्कुल नहीं बोल रहे थे. !आरोही मान जाती है और अपने आप को अन्ना के हवाले कर देती है। अन्ना उसको नंगा कर देता है और खुद भी नंगा हो जाता है। कपड़े निकालने के बाद आरोही को अन्ना से घिन आने लगी। वो काला-कलूटा मोटे पेट का आदमी था। उसका काला लौड़ा एकदम तना हुआ आरोही को घूर रहा था।अन्ना- बेबी मेरे नाग को शान्त करो जी… तुम बहुत अच्छा चूसती आ.

! ओ माई गॉड पर आप तो वहाँ थे ही नहीं फिर ये सब कैसे और कब हुआ? प्लीज़ बताओ ना भाई?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !राहुल- बहना याद है… जब उस रात तुम गुस्से में तोड़-फोड़ कर रही थीं. स्तनों से अब थोड़ा नीचे आया, उसके समतल पेट को चूमा और अब उसकी नाभि की ओर बढ़ा, अपनी जीभ को घुमाया उसकी नाभि में और चाटना शुरू किया! हौले-हौले नाभि के आस पास जीभ को गोल गोल घुमाते हुए उसे चाट रहा था… उसके बदन में गर्मी बढ़ रही थी… वो दबे मुँह सिसकारियाँ ले रही थी और उसका गोरा सा बदन मचल रहा था. तभी अचानक सलमा के आंसू निकल आये!इरफ़ान ने पूछा- क्या हुआ?सलमा बोली- कुछ नहीं, हमारा पड़ोसी पप्पू याद आ गया! उसे भी यही स्टाइल पसंद था, मज़ा तो आता है, पर दर्द बहुत होता है.

तभी अचानक सलमा के आंसू निकल आये!इरफ़ान ने पूछा- क्या हुआ?सलमा बोली- कुछ नहीं, हमारा पड़ोसी पप्पू याद आ गया! उसे भी यही स्टाइल पसंद था, मज़ा तो आता है, पर दर्द बहुत होता है. मेरे अंग में धाराएँ फूटीं, दोनों का तटबंध था टूट गयामेरा सुख निस्सारित होकर, उसके सुख में था विलीन हुआस्पंदन के सुखमय योगों ने, परमानन्द से संयोग कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

ई।”मैं चूत चाटने लगा मैं चूत के दोनों होंठों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और दाने पर जीभ रगड़ने लगा तो कविता ‘उफ.

! मैंने दुबारा से उसके लौड़े को मुँह में लिया।‘छिनाल रुक भी जा, तू तो बहुत बड़ी वाली छिनाल है साली, इतना चुदने के बाद भी तेरी गाण्ड प्यासी है साले. सेक्सी पिक्चर वीडियो सुपरहिटअगले दिन मैं लाइबरेरी में बैठा असैन्मेंट्स लिख रहा था तो झलक आई और मेरी जांघों पर हाथ रख कर पढ़ाई की बातें करने लगी। अब वो 2-3 दिनों से यही कर रही थी, रोज मेरी जांघों या गाल पर हाथ फेरती या कभी चुपके से अपने बूब्स मेरे कंधों से छुआ देती।मैंने बोला- बस करो यार, हम दोनों में दोस्ती से बढ़कर कुछ हो जायेगा !तो वह हंस दी और मैं भी समझ गया, आखिर जवानी कब तक काबू में रहती. सेक्सी फूल सेक्सी वीडियोआप इसे मेरी कहानी न समझें दरअसल मुझे एक महिला मित्र ने फेसबुक पर चैट के दौरान मुझसे कहा था कि यदि मैं उसकी इस फैंटेसी को कहानी बना कर लिखूँ तो उसको अच्छा लगेगा. करीब आधे घंटे तक की चुदाई-रगड़ने के बाद वो झड़ गई और मैं अपने पप्पू को बाहर निकाल कर उसके पेट पर झड़ गया।हमने गेस्ट हाउस छोड़ा और मॉल में घूमने चल दिए…खूब घूमने के बाद शाम को 8 बजे आये तो उसने बाइक से उतर कर मुझे किस किया और मेरा हाथ पकड़ा और उसी टोइलेट में ले गई जहाँ मैंने उसे पहली बार सेक्स करते देखा था.

आह…!आरोही को बहुत तकलीफ़ हो रही थी, पर वो पूरा लौड़ा मुँह में लेने की कोशिश कर रही थी और उसके दाँत भी लौड़े को छू रहे थे क्योंकि रेहान का लौड़ा बहुत मोटा था।लगभग 5 मिनट तक वो रेहान के लौड़े को चूसती रही कभी उसके गोटी चूसती कभी लौड़ा.

!अन्ना- मैं ठीक हूँ जी कहाँ है वो लड़की जरा जल्दी दिखाओ न, मेरे को काम है, ज़्यादा समय नहीं रुक सकता जी. जी-सपॉट और क्लिट दोनों पर एक साथ प्रहार ने उसको पूरी तरह से बेकाबू कर दिया और मदमस्त राधिका सम्भोग के चरम-सुख को भोग रही थी. !यह क्या होता है?”तुम मेरे निचले होंठ को चूमो और मैं तुम्हारे होंठ को चूमूँगा।”नीति ने उत्साहपूर्वक चुम्मा लिया।अब फ्रेंच-किस दो.

यार सोया हुआ भी बड़ा मस्त लग रहा था और मज़े की बात एकदम क्लीन था।मैंने हाथ से पकड़ कर उसे बाहर निकाला।दीपाली- ऊह. तब मुझसे गेंद भाभी की छत पर चली गई तो मैं लेने गया।छत पर जाकर मैंने देखा भाभी ब्रा-पैंटी में आँगन में नहा रही थीं।मैं तो उन्हें देखता ही रह गया। वो सांवली सी शक्ल वाली नीलम भाभी का बदन बहुत गोरा था। उनके बोबे क्या मस्त थे शानदार से और टाँगें क्या मांसल थी।वो मुझे छत पर देख कर एक पल को घबराईं, फिर मुझसे पूछा- क्या देख रहा है?मैं तो जैसे कुछ सुन ही नहीं रहा था. इस लल्लू को देखकर नाई बोला- बोलो बाल कटवाने हैं?पति- हाँ मगर नीचे के कटवाने हैं, बीवी को अच्छे नहीं लगते।नाई- भाई काट दूँगा, मगर 50 रुपए लगेंगे।पति- चलेगा, काट दो।यह पति महाशय नाई के सामने नंगे खड़े हुए और नाई ने साबुन लगाकर मस्त बाल काट दिए। इसने पैंट चढ़ाई और 50 रु.

बीएफ सेक्सी हिंदी एचडी सेक्सी

आप जैसा चाहो मैं सब करूँगी।मेरी बात सुन कर उसकी आँखों में एक अलग सी चमक आ गई।मैं नीचे ज़मीन पर पड़ी थी।वैसे ही मेरे ऊपर आकर उसने मेरे साथ चुदाई की और बोला- जल्दी ही उसकी फेंटेसी पूरी होने वाली है. जब पति को कोई फ़र्क नहीं, तो मैं क्यूँ चिंता करूँ…!फिर मैंने चूत के बाल साफ कर दिए, मेरी चूत लौड़ा लेने के लिए खिल उठी। फिर मैं फ्रेश हो ली। तब तक शायद कोई आया था, क्यूँ कि बाहर बात होने की आवाज़ आ रही थी। फिर मैं जल्दी से बाहर आकर तैयार हुई।तभी पति अन्दर आए, बोले- तुम मुझसे नाराज़ मत होना. अब मैंने उसके बदन को चूमना शुरू किया, पहले उसकी गर्दन, फिर बूब्स के ऊपर, फिर उसके पेट पर उसकी नाभि पर आकर रुक गया.

दोस्तो, यह कहानी मेरे एक दोस्त की जुबानी सुनाई जाएगी, इस कहानी से तीन किरदार हैं मैं रोहित, मेरा दोस्त शमीम और उसकी बीवी इशरत जो पुणे में रहते हैं।अब कहानी शमीम की जुबानी…पहले मैं आपको इशरत के बारे में कुछ बता दूँ।इशरत 28 साल की औरत है, अभी हमारा कोई बच्चा नहीं है, उसकी फिगर 35-28-36 है, दूध सा उजला रंग, 5’4″ कद और कसा हुआबदन, खास तौर से उसके चूतड़ों की बनावट बहुत कामुक है.

!मैं प्रेम से गांड मराने लगी, वो भी प्यार से गांड मार रहा था।अचानक उसने पूरा लंड बाहर निकाल कर पूरा का पूरा एक झटके से मेरी गांड में डाल दिया, तो एकदम से मेरा मूत ही निकल गया। हम दोनों ही जोर-जोर से हंसने लगे। चुदाई के बाद मैं शर्माने जैसा नाटक कर के शिशिर से बोली- मुझे अब बहुत शर्म आ रही है.

इन्हीं के चलते आज छोटी दूध पी पा रही है!मैं- मतलब?भाभी- अगर काका चूसें नहीं तो दूध नहीं आयेगा! तेरे भइया तो हमेशा बाहर ही रहते हैं! बड़ी आई! भैया को बता देगी!!!मैं- लेकिन. छप’ की आवाज गूंजने लगी। करीब दस मिनट की चुदाई के बाद मैंने अपना पानी उसकी गरम बुर में ही छोड़ दिया।दोस्तो, मेरी सच्ची कहानी कैसी लगी आपको, जरूर बतायें।अगली बार रुबीना भाभी ने गांड कैसे मरवाई, यह बताऊँगा।तब तक के लिए आपके मेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]. www.xxx सेक्सी मूवीबहुत दर्द हो रहा है…!पर मैं कहाँ रुकने वाला था। उसकी बातों को अनसुना करके फिर उसके होंठों को अपने होठों में लेकर अब की बार टॉप से अन्दर हाथ डाल कर दबाना शुरू कर दिया।गजब का अहसास था यार.

चिढ़ा रहा हो ! मैंने मोमबत्ती बुझा दी, बाहर आ गई।रात में अपने दोस्त को सब बता दिया मैंने, वो भी नाराज़ हो गये, बोले- इतना भी नही कर पाई? बातें इतनी बड़ी?उन्होंने मुझसे आगे बात नहीं की, बस यही कहा- कल कुछ और सोचेंगे…उधर श्रेया भी ज़िद करने लगी- आंटी एक कारनामा मेरे सामने कर के दिखाना. ज़बरदस्ती कभी करता मैं…और जो तैयार हो उसको छोड़ता नहीं…मधु के साथ भी मैं वैसे ही मजे ले रहा था… मुझे पता था कि लौंडिया घर की ही है… और बहुत से मौके आएँगे… जब कभी अकेला मिला तब ठोक दूँगा…और अगर प्यार से ले गई तो ठीक. मेरी जंघाएँ फ़ैल गईं, जैसे इस पल को मैं आतुर थीमैं कसमसाई, मैं मचल उठी, मैंने खुद को व्याकुल पायाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

ज़ेनी की गांड और बुर में बहुत कसके धकमपेल करने के बाद माधुरी ने कहा- अब तुम दोनों मेरी गांड और बुर की भी एक साथ चुदाई करो. !रेहान ने लौड़ा बाहर निकाल लिया और जल्दी से हाथ पकड़ कर आरोही को बिठा कर खुद खड़ा हो गया और लौड़ा उसके मुँह में दे दिया और झटके मारने लगा।रेहान- आ.

पिंकी सेनहाय दोस्तो, लो आज कई दिन के अन्तराल के बाद मैं नए भाग के साथ हाजिर हूँ।असल में कहानी में कुछ हिन्सा आदि पर आपत्ति जताते हुए मुझे कहानी से अवांछित भाग हटने केर लिये कहा गया था।अब तो आपको शिकायत नहीं है न.

मज़े की पड़ी है।राहुल- चुप कर साली कुतिया, अभी मूसल जैसा लौड़ा चूत में घुसवाई है। फिर भी नाटक कर रही है… उहह उहह ये ले आ…हह. 5 मिनट में ही मैंने अपना सारा पानी उनके मुँह में निकाल दिया और वो सारा माल पी गईं और मैं भी ढीला हो गया. फिर उसने कहा- आज रात तुम मेरे बुर की चुसाई जरूर कर देना, क्योंकि पहले दिन जो किया था, उसने मुझे पागल बना दिया है.

लंड चूत की फिल्म सेक्सी !’ऐसा कह कर उन्होंने दोनों हाथों से अपनी चूत को फैला दिया, मैं उनकी चूत को चाटने लगा।अजीब सी गन्ध आ रही थी।करीब दो मिनट चाटा होगा कि चाची ने मेरा मुँह झटके से अलग कर दिया, मेरा मुँह गीला हो गया था।मैंने चाची के गाउन से मुँह साफ़ किया।‘खड़ा हो जा रे. किस करने लगी।मैंने उसकी जाँघों पर हाथ फिराना शुरू कर दिया। मुझे लगा कि वो मना करेगी, पर उसने कुछ नहीं किया तो मे उसे सहलाता रहा और सहलाते-सहलाते ही उसकी चूत पर हाथ रखकर दबाया।वो सीईई…ईईई सीईईईई सीईइ नो नो… करने लगी।तो मैंने उसे पूछा- करना है या नहीं करना.

और हमने सोचा ही नहीं कॉलेज के बाद भी कोई आएगा।मैं हंस दिया तो वो बोली- तुम्हें मजाक लग रहा है न ये सब?मैंने तो बोल दिया- हाँ ! और हंस दिया. सखी साजन ने मुझको अपनी, निर्मम बाँहों में उठा लिया,और ला के किनारे तट पे मुझे, हौले से सखी बिठाय दिया,खुद वो तो रहा जल के अन्दर, मुझे जांघों से पकड़कर खीच लिया. मैं कब से आपका ही इन्तजार कर रही थी।मैंने उसे अन्दर बुलाया और बिठाया।फिर मैंने उससे पूछा- बताइए क्या लेंगे आप.

बीएफ पिक्चर भेज दो बीएफ

तेरी यही चीख सुननी थी। तुझे अपने बॉय-फ्रेंड से चुदाई के वक्त दर्द नहीं हुआ क्या जो अब नाटक कर रही है. 75 से ज्यादा नहीं देगा, मेरा कमीशन 2 परसेंट अलग से होगा।कामिनी ने कहा- मैं विजय से बात करके बताती हूँ।कुछ देर में ही विजय का फ़ोन आ गया कि सौदा पक्का कर दो, परसों वो आ जाएगा और पैसे देकर गाड़ी ट्रान्सफर करवा लेना। मैंने ‘ओके’ बोल दिया।मेरा दिल तो कामिनी की तरफ था लेकिन बात कैसे करूँ, समझ नहीं आ रहा था। मुझसे रहा नहीं गया और मैंने कामिनी को फ़ोन लगा ही दिया।हैलो कामिनी जी बधाई हो. उईई ईई मा… आह ह्ह्ह…फिर दूसरा झटका मारते ही पूरा लंड चाची की चूत ने निगल लिया।चाची की चूत की भट्टी की तरह उबल रही थी.

मुझे भी अब मजा आने लगा था, मेरी चूत से एक अजीब से दुर्गन्ध आती है लेकिन न जाने वो लड़कों को क्यूँ मदहोश कर देती है. जय- सच में मुझे यकीन नहीं हो रहा!मैं- हाँ, पर अब मैं तुमसे कभी बात नहीं कर सकती क्यूंकि मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती.

आर्यन इंजीनियरमैं उसे चुम्मी करने लगा और मेरा लण्ड उसकी चूत के आस-पास छू रहा था। मेरे लिए यही काफ़ी बड़ा सुख था। मैं उसके ऊपर ही हिलने लगा और मज़ा लेने लगा। कभी उसके मम्मों को चूसता कभी उसके होंठ चूमता रहा।तभी अचानक किसी ने मेरी शर्ट खींची और मुझे साइड में फेंक दिया। मैंने पलट कर देखा वो मामी थीं।अरे बाप रे…!!मेरी बोलती बंद हो गई.

?उन्होंने बताया कि गैलरी से जाओ वहीं पर है।फिर मैंने अपनी बाल्टी और मग उठाया और नहाने के लिए चला गया। वहाँ जाकर मैंने देखा कि यह तो भाभी वाला ही बाथरूम है जिसमें दीवाल खड़ी करके आधा किरायेदारों के लिए बनाया गया था।पर मुझे इससे क्या. !’मैं- क्या मतलब?वो- अरे यार हम जब छत पर आए थे, मैं तेरे बेड पर बैठने लगी, तो मेरा पैर तेरे वीर्य पर पड़ा। मैंने देखा कि ये तेरा वीर्य है और फिर मैंने सोने का नाटक किया।मैं- सोने का नाटक क्यों. ! मैं आता हूँ।इतना बोलकर रेहान बाहर निकल जाता है। आरोही को कुछ समझ नहीं आता है।बाहर आकर रेहान किसी को फ़ोन करता है कि अन्दर आओ।एक आदमी अन्दर आ जाता है। रेहान उसको कमरे के पास खड़ा कर देता है और उसको समझा देता है कि इनको बाहर मत आने देना और खुद अन्ना को फ़ोन करता है।रेहान- कहाँ हो अन्ना? अब तक आए नहीं.

इरफ़ान- सॉरी यार मैंने सोचा कि तुम मेरी बीवी बोल रही हो…उधर से फिर जवाब आया- तेरी बीवी ही हूँ कमीने… तू बस आज घर आ जा !***सलमा और इरफ़ान सो रहे थे कि रात को ग्यारह बजे सलमा के फोन में घण्टी बजी. !आरोही बिना कुछ बोले कपड़े निकालने लगी और दो मिनट में लाल ब्रा और पैन्टी में अन्ना के सामने आकर खड़ी हो गई।अन्ना का लौड़ा तो बगावत पर आ गया था, पर रेहान ने उसको मना किया था, तो वो चुप था पर बर्दाश्त की भी एक हद होती है।अन्ना- गुड तुम बहुत सेक्सी हो. पूरे 10 मिनट मैंने खूब चुदाई की, बाद में बोला- भाभी मैं आ रहा हूँ!भाभी बोलीं- हाँ अन्दर ही आओ!और मैं वीर्य की पिचकारियाँ चूत में छोड़ने लगा, गरम-गरम पिचकारियाँ मारीं, भाभी तो आनन्द के मारे बेहोश सी हो गईं, वो भी साथ में झड़ी थीं और उनका पूरा बदन झटके खाने लगा.

तो गुस्से में आकर इरफ़ान चीखा- यह क्या हो रहा है?‘क्या – क्या हो रहा है? दिख नहीं रहा है तुम्हें?’ सलमा तमककर बोली.

बीएफ वीडियो कॉल: !”मुझे उसकी सिगरेट मांगने की अदा पर बड़ी हँसी आई। मैं सोच रहा था कि आज कितनी बड़ी चुदक्कड़ लौंडियाँ मिलीं. ’ की आवाज़ आ रही थी, जिसकी वजह से में भी पूरे जोश के साथ मैडम की चुदाई कर रहा था।उसको चोदते हुए मुझे 7-8 मिनट हो गए थे। अब मुझे भी लगने लगा था कि मैं अब झड़ने वाला हूँ।चुदाई करते हुए मैंने मैडम से कहा- मेरा पानी छूटने वाला है.

!”और वो झड गई। कुछ देर बाद करीब मैं परेशान हो गया था कि मैं झड़ क्यूँ नहीं रहा था। भाभी को फिर तो मैंने अलग-अलग आसनों में अलग-अलग तरीके से खूब चोदा। उन्होंने भी खूब मजे से चुदवाया। मुझे भी खूब मजा आ रहा था। दस मिनट बाद मैंने उनकी चूत में गरम-गरम रस डाल दिया और इस दौरान वो भी दोबारा झड गई थीं। मेरा लंड अभी तक उनकी चूत के अन्दर था, थोड़ी देर बाद हम अलग हुए।मैंने कहा- भाभी मन नहीं भरा है. कल तुम कैम पर आना।सलीम ने उसको एड करके लॉग-ऑफ कर दिया और दूसरे दिन रात में 10 बजे हम ऑनलाइन आए।पता नहीं लेकिन उसकी उम्र 35 सुन कर मुझे अच्छा नहीं लगा।सलीम से कहा- रेहान से बात हुई है. हाथ बाल्टी पर…!”आंटी ने हाथ बाल्टी पर रखे और मैंने लंड उनकी गाण्ड में घुसेड़ दिया और उनकी कमर पकड़ कर चोदने लगा। मैंने इस बार बबिता की कमर नहींछोड़ी और हुमच-हुमच कर उस रंडी की गाण्ड मारने लगा। कुतिया 5 मिनट में ही भिनभिनाती हुई झड़ गई.

!मैं बोला- जल्दी करो कोई आ जाएगा।मोना ने अपने सारे कपड़े उतार दिए और बोली- मेरी आज प्यास बुझा दो बंटी।तभी वो मेरा लंड अपने मुँह में डाल कर बोली- मुझे चोदो जल्दी.

मांसलता में वह कैद सखी, अनुपम सुख को था ढूंढ रहाआगे जाता पीछे आता, मेरी मांसलता को रौंद दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. मैं उसे मन ही मन चोद भी चुका था।लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था, एक दिन मेरा सीनियर किसी मरीज को देखने बाहर गया हुआ था और मैं उसके कहने पर क्लिनिक जल्दी पहुँच गया था. लेकिन सलमा थोड़ी देर बाद फिर से गर्म हो जाती है- सुनो जी जेल खुली है और कैदी बाहर है!परेशान इरफ़ान- तो भेन की लोड़ी थोड़ी देर बाहर की हवा खाने दे… उमर क़ैद थोड़ी हुई है इसे !***सलमा बाज़ार से नई पारदर्शी ब्रा लेकर आई.