बीएफ मोटी लड़की

छवि स्रोत,बीएफ वीडियो भारतीय

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो खेत पर: बीएफ मोटी लड़की, कुछ जवाब देने के बजाय मैं उसका लंड चूसने और चाटने लगी, उसको शक ना हो इसलिए दुगने जोश में उसका लंड चूसने लगी.

एचडी बीएफ बुर की चुदाई

रास्ते में मैंने उसे एक्टिवा चलाने को कहा और मैं पीछे बैठ कर उसकी कमर पर हाथ घुमा रहा था, गर्दन पर किस कर रहा था. बीएफ देहाती चुदाई वालीमेरा दर्द धीमे धीमे कम होता गया और अब तो मुझे गांड में लंड से मजा आने लगा.

राहुल ने फ़िर झटका दे मारा और उसका आधा लंड मेरी माँ की चूत में घुस गया था। मेरी माँ दर्द की अधिकता से काढ़ते हुए ‘अह्ह्ह. हिंदी सेक्सी बीएफ अच्छी वालीबहुत मोटा और लम्बा लंड था। फिर तो यार समझो मेरा चुदने का मूड बन गया।आगे की सेक्स स्टोरी में मैं आपको बताऊंगी कि कैसे अपनेगांडू भाईकी वजह से मुझे चुदना पड़ा, कैसे मुझे उस डिलीवरी बॉय ने चोदा और उसके बाद मैं किस-किस से चुदी और भाई को भी चुदवाया।मुझे मेल करके बताओ कि मेरे भाई की गे सेक्स स्टोरी कैसी लगी।[emailprotected].

ये चारों भी शॉर्ट्स में ही थे… अजय ने रूबी का टॉप और ब्रा निकाल फेंकी तो रूबी ने भी उसका शार्ट नीचे खींच दिया और नीचे बैठ कर उसका लंड अपने मुंह में ले लिया.बीएफ मोटी लड़की: विनोद मुझे बहुत प्यार करते हैं, मैंने भी अपने पति से बहुत प्यार करती हूँ.

उसको रोज नहीं तो हफ्ते में एक बार चुत चाहिए ही चाहिए। अब अगर उसको ना मिले तो वो चिड़चिड़ा हो जाता है और अपने ही नियम कायदे चलाने लगता है। तेरे पापा के साथ भी शायद यही हो रहा होगा.उसका लंड चूत को मस्त चोद रहा था और वह बीच बीच में चूत के ऊपर उंगली से रगड़ भी रहा था.

बिहारियों की बीएफ वीडियो - बीएफ मोटी लड़की

तभी आंटी सब्जी वाले पे गुस्सा होने लगी, वो प्याज़ के रेट बहुत ज़्यादा बोल रहा था, तभी मैंने आंटी से झूठ बोला, मैंने आंटी से कहा- अरे आंटी, आप प्याज़ क्यों खरीद रही हैं, मेरे एक अंकल हैं जो प्याज़ की खेती करते हैं, वो अक्सर हमारे घर पर प्याज़ भेजते हैं, काफ़ी तो घर पर खराब होकर जाते हैं, मैं उनमें से कुछ आपको दे दूँगा.!हम दोनों हँसने लगे।आंटी ने कहा- तो है क्या केले जैसा टेस्ट?संदीप ने कहा- हाँ मीठा तो है.

मुझे कई बार अपनी दुकान को बंद करके उपकरण और इत्यादि पुर्जो के लिए शहर जाना पड़ता था, इस वजह से मेरा व्यापर में काफी नुकसान हो रहा था. बीएफ मोटी लड़की चाची मदहोश होने लगी और सिसकारियाँ भरने लगी जिससे मैं और भी उत्तेजित हो गया और उसकी ठुकाई और भी जोर से करने लगा.

घर पहुँच कर उन्होंने कहा- मैं काफी थक गई हूँ, मैं शावर लेकर आती हूँ, तुम बैठो.

बीएफ मोटी लड़की?

वो गाउन पहन कर बाहर आई और बोली- क्या देख रहे थे?मैंने कहा- कुछ नहीं भाभी, वो… मैं पानी के लिए उठा तो उधर नजर चली गई. रयान ने उसे फिर समझाया कि अगर किसी से दोस्ती करके मन बहलता है तो थोड़ी बहुत बेईमानी में कुछ हर्ज़ नहीं!कह कर वो हंस पड़ा. यह सुनते ही मेरे मुंह से निकल गया- हाँ अम्मा, जल्दी जाओ और उन्हें ले आओ.

सुबह नहाकर 9 बजे दोनों नीचे आये तो रयान की माँ पिताजी ने हंसते हुए कहा- खुल गई आंख…दोपहर को पूरा परिवार मूवी गया और रात को बाहर डिनर लेकर लौटे. तेरी चूत देखी तो मैं रह नहीं पाया, बस हो गई ग़लती!अब मैंने कुछ भी नहीं सोचा, बस झट से उसका लंड पकड़ा और अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी. चोद दो मेरी चूत को।इतना सुनते ही राज ने मुझे बिस्तर पर पटका और मेरे ऊपर चढ़ गया और बोला- आज तो प्रमिला तेरी चूत की ऐसी चुदाई करूँगा कि तू जिंदगी भर याद करेगी।राज ने अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ना चालू कर दिया, मैं पागल हो गई। तभी राज ने एक झटके में मेरी चूत में अपने लंड को उतार दिया.

‘थैंक्स स्नेहा…’ मैंने कहा और दही बड़े खाने लगा साथ में मैं स्नेहा को गहरी नज़र से देखता जा रहा था. मोना मज़े से लंड को चूस रही थी मगर उसकी चुत की प्यास बढ़ती जा रही थी। इसलिए उसने लंड मुँह से निकाल दिया और खुद गोपाल के मुँह की तरफ़ चुत करके फिर से लंड चूसने लगी।गोपाल समझ गया कि इसको भी चुत चटवानी है. उसकी पूरी उंगली चूत के अंदर थी जिसे अब वो अंदर-बाहर कर रहा था, उसके नाख़ून मुझे चुभ रहे थे लेकिन मजा भी उतना ही आ रहा था.

मैंने भी कुछ सोचे बिना उसे पीछे से पकड़ लिया और उसके उरोजों को दबाने लगा, उसकी ब्रा उतार कर उसके दोनों बूब्स दबाने लगा. जब मेरी जीभ से हो रही गुदगुदी मानसी से नहीं झिली तो उसने मेरे बालों को पकड़ कर खींचा जिससे मैं अलग हो जाऊँ पर मैंने इतनी ही देर में उसकी चूत को अपनी मुट्ठी में भर ऐसे निचोड़ा कि उत्तेजना के कारण उसकी चीख निकल गई, उसने मेरे बाल छोड़ दिए और उसके पैर कांपने लगे.

फिर हम दोनों लन्दन घूमने निकल पड़े! हम दोनों ने घूमते हुए काफी एन्जॉय किया और हमारा मूड भी फ्रेश हो गया.

अब सुन अन्तर्वासना वर्ल्ड की सबसे बेस्ट साइट है हिंदी सेक्स स्टोरी के लिए और वहाँ बहुत से राइटर हैं मगर मेरी फेवरेट पिंकी सेन है, तू उसकी ‘विज्ञान से चूत चुदाई ज्ञान तक’ स्टोरी रीड करना.

मौसी आकर मेरे पास बैठी और बात करने लगी, मुझसे पूछने लगी- दुबई में क्या करता है और वहां की लाइफ कैसी है?मैंने उन्हें बताया- मैं जिम में ट्रेनर हूँ, मोटी लेडीज को स्लिम करने की ट्रेनिंग देता हूँ. इस बार में कहाँ रुकने वाला था।मैंने एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर डाल दिया और वो गाली देने लगीं। मैंने भाभी की ‘चिल्ल-पों’ को नजरंदाज किया और उनकी गुलाबी गांड को धकापेल मारे जा रहा था।थोड़ी देर बाद भाभी सामन्य हुईं और मैंने उनकी चूचियां मसकता हुए लगभग 15 मिनट तक भाभी की गांड की चुदाई की।अब मेरा माल निकलने वाला था तो वो बोलीं- मेरी गांड के अन्दर ही अपना गरम रस निकाल देना. रास्ते में अंशुल ने मुझे कहा- तुम बहुत प्यारी हो और तुम्हें मैं सचिन सर के पास छोड़ के आने वाला हूँ.

समझी कुतिया?सुल्लू रानी ने पहले तो रीना रानी को धक्का देकर हटाया, फिर धीरे से आधी उठी. इन दो रातों में रयान और निष्ठा ने अपना चुदाई का कोटा पूरा कर ही लिया. उसके बाद तो हर दूसरे दिन मैं गीता की चुदाई करता, अब वो रामू काका से नहीं चुदवाती थी, सिर्फ मुझसे!दिनो दिन मैं भी शातिर होता जा रहा था, अब मैं जान गया था कि मेरा नौ इंच का मोटा काला लंड ही मेरी सब से बड़ी ताकत है, मैं सोसाइटी की हर औरत, हर लड़की को लाइन मारने लगा.

जिन्होंने मेरी कहानियाँ नहीं पढ़ी, वो ऊपर मेरे नाम के लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं… तो जैसा मैंने बताया कि उस कहानी को बहुत से पाठकों ने पसंद किया और उन्हीं पाठकों में से एक थी इस हिंदी सेक्सी स्टोरी की नायिका करिश्मा भाभी.

कोई जल्दी तो कोई ज़्यादा टाइम लेता है।सुमन- अब समझी उस स्टोरी में भी ऐसा ही कुछ लिखा था।टीना- हाँ सही समझी. जैसे-तैसे 6 बजे और बस अपने निर्धारित स्थान पर आकर लग गई और हम बस में बैठ गए. हम दोनों अब एक दूसरे के बिल्कुल समीप थे, दोनों एक दूजे की आँखों में खोये हुए थे कि इतने में कब उसने मेरे होंठों को अपने लबों में ले लिया, पता ही नहीं चला यारो!मेरे अन्दर भी सेक्स की अधूरी कामनायें पूरी तरह से जाग चुकी थी और वो भी आज मुझे पूरी तरह से भोगने के लिए तैयार था.

पहले तो वह मुझे देखते ही घबरा गई, पर उसने आराम से गेट बंद किया और मेरे पास आ गई. रात में करीब बारह बजे का समय था, हमें कोई मिल भी नहीं रहा था कि रास्ता पूछ लें! हम बस चले जा रहे थे!चलते चलते मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था, शायद शादी का खाना कुछ ठीक नहीं था. शैली ने मुँह से लंड बाहर निकालना चाहा, पर मैंने निकालने नहीं दिया बल्कि उसे क्स कर पकड़ कर पूरा माल ज़बरदस्ती उसे पिला दिया.

तय समय पर हम लोग घर से निकल लिये और साथ में उस लड़की को भी बैठा लिया.

निकी तो बहुत ज्यादा गर्म थी, मैंने उसकी शर्ट खोल कर उतार दी और ब्रा भी उतार दी. कोई एक घंटा बाद काका जब वापस आए तो मोना करवट लिए नंगी ही सोई पड़ी थी।काका- हाय मोना रानी कितनी प्यारी है रे.

बीएफ मोटी लड़की जो उनकी मुस्कराहट से से पता चल रहा था।कुछ देर तक तो मैं भाभी को आराम-आराम से चोद रहा था। जब भाभी की मस्ती बढ़ने लगी तो मैंने अपनी स्पीड थोड़ी बढ़ा दी। भाभी एकदम से अकड़ने लगीं।उसके बाद मेरे लंड को एक अजीब सा महसूस हुआ. यह भाई बहन सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने देर ना करते हुए आपने दांतों से उसकी पेंटी उतारी और फिर ब्रा… पर शानवी को शायद कुछ मजा नहीं आ रहा था.

बीएफ मोटी लड़की ’ से सारा कमरा गूँज उठा।फिर मैंने उनकी गांड पर हमला किया और वो भी डॉगी स्टाईल में. ’ ऐसी आवाज़ें आती रहीं।फिर कुछ 15 मिनट के बाद मैंने और शीना आंटी ने एक साथ पानी छोड़ा और उस रात मैंने उनको तीन बार औरआंटी को चोदा। वैसे भी बाहर तो बारिश हो रही थी.

‘बेटीचोद रेखा के मम्मे बहुत सख्त हो रहे हैं… बहुत ज़ोर से मसलना पड़ेगा… हुम्म्म ज़रा चूस के भी देखूं!’ राजे ने तपाक से एक चूचा मुंह में घुसा लिया और लगा चूसने, जबकि दूसरे चूचे को मसलने लगा.

ट्रिपल एक्स सेक्सी मूवी

और अब पांच साल बाद उसे देखा तो मैं बस देखती रह गई, लंबा चौड़ा… वो तो एकदम बदल गया था!हमारी बात हुई तो उसने बताया- मैं दिल्ली अपने किसी काम से आया हूँ. क्योंकि उस वक्त तक मुझे चुदाई की उतनी समझ नहीं थी।एक रात की बात है. मुझे रोता देख ऋषि बोला- देखो पूजा, पैसे तो मेरे पास भी नहीं है, नहीं तो मैं तुम्हें दे देता… पर मैं वादा करता हूँ कि 2 दिन का समय दो तो मैं कुछ कर पाऊंगा.

मैं थोड़ी देर बाद उठी और फोन रीसिव किया, उसे कैसे भी करके समझाया कि मैं घर के काम में बिज़ी हूँ. दीपा- मेरा छुटने वाला है जोर जोर से चोद मेरे राजा!यह कह उसने और जोर से हिलना शुरू किया और पच पच की आवाजें उसके काम रस के कारण उसकी गीली चूत से आने लगी. पिंकी की योनिद्वार से इतना अधिक प्रेमरश का स्राव हो रहा था कि अपने आप की मेरे होंठ व जीभ उसमें फिसल रहे थे। यौवन रस से भीगी पिंकी की योनि में मेरी जीभ व होंठ अब अपनी पूरी चपलता से चल रहे थे।धीरे धीरे अब पिंकी की सिसकारियाँ बढ़ती जा रही थी और उसने खुद ही कमर हिला कर अपनी योनि को मेरे चेहरे पर घिसना शुरू कर दिया था।मैं भी अपनी पूरी कुशलता व तेजी से पिंकी की योनि में जीभ चला रहा था.

एकदम तनी हुईं। उसके बड़े दूध देख कर कोई नहीं कह सकता कि वो अभी 18 की है। उसकी रेड कलर की ब्रा उसे और सेक्सी बना रही थी। अब मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को सक करने लगा।वो बोल रही थी- अब चूस ले भाई.

चुची चूसने के बाद मैं उसकी चुत में उंगली करने लगा, उसको बहुत मजा आ रहा था, निकिता बोली- मुझे अभी चोदो… मैं नहीं रह सकती!तो हम मूवी बीच में छोड़ कर अपने रूम पर आने लगे. लड़के ने ऋषि से हाथ मिलाया और मुझे कहा- डरो मत, मैं ऋषि का दोस्त हूँ, मैं आपको वहाँ छोड़ कर आऊंगा और फिर कल दोपहर लेने भी आऊंगा और फिर ऋषि आपको यहीं से ले जाकर हॉस्टल छोड़ देगा. हालांकि मेरे चूसने की वजह से रवि का लंड बिल्कुल गीला था…पर फिर भी उन्होंने अपने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया… चुदाई के दौरान रवि सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हैं।फिर रवि ने अपने दोनों हाथों से मेरी टांगों को फैलाया और अपने लंड को मेरी चूत के छेद पर रखकर अंदर की तरफ धक्का देने लगे.

अब मैं आपकी तरह ही इनके नाम बोलूँगी।टीना- अच्छा तो मैंने जो पूछा वो बता?सुमन- शुरू मैं जब मैंने बाल साफ किए तो ये. जब चाची ने पूछा कि कहाँ थे तो मैं बोला- कैस और जुबिया को पढ़ाने भाभीजी ने बुलाया था!आपको मेरी कहानी कैसी लगी मुझे[emailprotected]इस पर mail करें!कुमार सोनू साई की सभी कहानियाँ. चिंटू को किसी काम से जाना था, उसने मुझे भी चलने के लिये बोला और उस लड़की को भी बुला लिया क्योंकि चिंटू से भी वो लड़की चुदना चाहती थी.

तो मैं वहां पहुँच गया और चुपचाप उनके घर के सामने एक पेड़ पर चढ़ कर देखा तो मॉम और उनका बॉस ऊपर फर्स्ट फ्लोर पर अपने रूम में खड़े थे और मॉम ने सिर्फ़ ब्रा और पेंटी पहनी हुई थी। उनके मम्मे बिल्कुल नंगे थे। तब से मुझको पता है. तो इनकी बेटी कितनी सुंदर होगी।मैं आंटी के पास को गया, तभी अंकल ने आंटी से कहा- रमा चलो अब ज़रा घोड़ी बन जाओ.

अब सिर्फ मेरा लंड ही उसकी चूत में था बाकी मेरे शरीर का कोई अंग उससे स्पर्श नहीं कर रहा था. जहाँ मैं जा रहा था, वहीं का पता पूछ रही थी वह… मैंने उसे मुझे फॉलो करने को कहा. कुछ ने खाना खाया, कुछ ने चाय बिस्किट खाई, और कुछ पानी पी कर ही वापस चढ़ गये। मैं और रोहन ने केवल चाय पी.

उस रात कई सालों बाद कड़क जवान कामिनी को दुबारा चोदने के बाद उससे नंगे लिपट के सोने में जो मज़ा आया उसे शब्दों में बताना लगभग असंभव है.

आहहहह… तुम्हारे लंड ने… आहहह… मुझे पागल कर दिया है… मेरे राजा… आहहह. ‘गुडिया रानी, जब तेरी रानी भाभी को अभी थोड़ी देर बाद नंगी हो के चुदना ही है तो कपड़े काहे को पहन रही है बेकार में?’ मैंने मजाक किया. मैं भी स्पीड बढ़ाता गया और वो भी गांड उठा-उठा कर चुत चुदाई के मज़े लेने लगी। वो कह रही थी- जान तुमने मुझे सेक्स का असल मज़ा दिया है.

फिर हमने सोचा ‘अब कुछ नहीं हो सकता…’ तो हम अपनी बाइक पे वापस घर की तरफ चल दिये!हम जिस रास्ते आये थे, उसी से वापस जा रहे थे कि अचानक हमें लगा कि हमने गलत रास्ता ले लिया है. कई दिनों से ना चुदी होने के कारण उसकी चूत टाइट थी तो अमिता चिल्लाने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’तो मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और धीरे धीरे उसे चोदता रहा.

कुछ देर बाद वो लड़की भी चली गई, मैं और चिंटू दोनों यही सोचते रहे कि उसे हमारे बारे में पता कैसे चला?जब रात में मैं घर पहुंचा तो मैंने तुरन्त मेरी ईमेल चेक की, उसमें उस लड़की का फिर से मैसेज था, मैंने उससे पूछा कि उसे हमारे बारे में कैसे पता चला तो उसने बताने से साफ मना कर दिया. फिर कल जब गोपाल तेरी चुत मारेगा, तो देखना वो खुद हैरान हो जाएगा कि ये इतनी टाइट क्यों हो गई और तुझे भी मज़ा आएगा. तो उन्होंने हाथ पीछे करके मेरे लंड को पकड़ लिया और धीरे-धीरे उसे सहलाने लगीं.

ब्लू वीडियो ब्लू वीडियो

मैं- आंटी, आप क्यों नहीं गई’?आंटी- बस ऐसे ही पीछे से कोई घर में आ जाए तो उसे भी अटेंड करने के लिए होना चाहिए.

उसने अपने दूसरे हाथ से मेरी पैंटी को मेरी जांघों तक नीचे कर दिया।मैं किसी लाश की तरह पड़ी हुई थी. छाती पर जीभ फिराई और इस तरह वो धीरे-धीरे मेरे लंड तक आ पहुँची। मेरे लंड को भाभी ने अपने हाथों से 4-5 स्ट्रोक दिए और फाइनली. उनका टॉप उतारने के बाद, मेरी नजर उनकी चूचियों पर गई, उन्होंने ब्रा नहीं पहनी हुई थी.

चलो तुम भी तो अपने नाग को आज़ाद करो। मैं भी तो देखूँ कैसा है वो?राजू तो जैसे हुकुम का गुलाम था. अब दोनों लड़कियों ने लड़कों को नीचे किया और ऊपर बैठ कर करने लगीं उनका देह शोषण… आज बेड की भी शामत थी… शायद दो चूत पहली बार उस बेड पर एक साथ चुद रही होंगी… दोनों लंडों की पिचकारी छूट गई. सेक्सी वीडियो एक्स एक्स वीडियो बीएफजुलाई का महीना था, हल्की बारिश होने लगी थी, बस स्टॉप पर हम उतरे, हम दोनों के पास छतरी नहीं थी तो बारिश में भीगते हुए हम घर की ओर चल दिए.

कहीं मेरी मर्दानगी पर आंच न आ जाए इसलिए एहितयात के तौर पर मेडिसिन ले ली थी. नहाते वक़्त मैं अपने खूबसूरत जिस्म को निहारते हुए अपनी ही कामवासना में खोई हुई अपनी चूत को सहलाये जा रही थी.

तभी मेरे मुख से ‘आ आह…’ की आवाज़ निकलने लगी, उसे पता चल गया कि अब मैं जाने वाला हूँ, वो और तेज़ हो गई. उसको अपने मुँह में लेकर चुभलाने लगे।संजू बेतहाशा सिर को कामुकता से इधर-उधर कर रही थी। एकाएक उसका शरीर अकड़ने लगा और वो बेतहाशा झड़ने लगी और पूरा पानी छोड़ने लगी।गुप्ता जी अब भी पूरी स्पीड से उसकी क्लिट को चूसे जा रहे थे।अचानक संजू बोली- प्लीज बाबा. और आँखों को कामुक बना लेता था, मैं मुस्कुरा के नजरें हटा लेती थी।अरे.

मैंने एक हाथ से अपने लंड को धारण किया हुआ था और दूसरे हाथ से उसके चूचों की मालिश कर रहा था. देसी भाभी की चूत की चुदाई का मजा लिया-1आपने अब तक की इस रंगीन और मस्त चुदाई की कहानी में पढ़ा था कि पड़ोस की रेहाना भाभी जिनका निकनेम सोनू भाभी था, वे मुझसे पट चुकी थीं और मैंने उनके मम्मों को भी सहला लिया था।अब आगे. फिर रात हुई और मैं अपने बॉस के घर पर गया और वहां पर पहुंचने के बाद मैडम ने मुझसे पूछा कि क्या तुमने दिन में खाना खाया था?मैं बोला- जी बॉस, मैंने दिन में खाना खा लिया था.

मैं रेशमा, मेरे परिवार में हम 3 लोग हैं मम्मी पापा और मैं… मम्मी पापा दोनों नौकरी करते हैं.

वैसे भी मोहल्ले की कोई कन्या जिसका नाम ले ले के हम सब मुठ मारते हैं या अपनी बीवी को उसी कामिनी का ध्यान लगा के चोदते हैं तो उसे इतने नजदीक से देखने बतियाने का मौका सालों में ही कभी आ पाता है. ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… हरामखोर… फड़ेगा क्या मेरी चूत!’ उसने दोपहर के जैसे मेरी तरफ बिल्कुल ध्यान नहीं दिया और जोरदार धक्के देना चालू कर दिया, उसके बलवान शरीर के नीचे मैं पिस गई थी, पर उसके विशाल लंड की जोरदार चुदाई से मैं सातवें आसमान में पहुंच गई थी.

सेक्स करने से या चूत को चाटने से चूत में आनन्द की हिलोरें उठती हैं जो जमे हुए पुराने रस में हिलोरें उठतीं हैं और उसमें बाढ़ लाकर उसे तेजी से चूत से बाहर बहा देती हैं,’ मैंने उसे कुटिलता से समझाया. कुछ मैंने हरामज़ादी के कंधे थाम के सहारा दिया तो सुल्लू रानी लंड मुंह से निकाले बिना बिस्तर पे चढ़ने में कामयाब हो गई. ‘आआऐईईई… फट गईइई मेरी… आआईईईई प्लीज़ मैं तेरी माँ हूँ… आआऐईई’ माँ चिल्ला रही थी.

बातों बातों में हम दोनों सेक्स पर आ गए और अब सिर्फ और सिर्फ सेक्स की ही बातें करने लगे थे. मैं भी देखूँ कि तेरा लंड कितना बड़ा है।यह सुनकर मेरा लंड खड़ा होने लगा और मामला हाथों से बाहर आने लगा। उन्होंने मेरे हाथों को पकड़ा और साइड में कर दिया।अब उनके सामने मेरा लंड था, वो मेरे लंड को देख कर बोलीं- अभी से इतना बड़ा कर लिया तूने?मैंने कहा- किया क्या. लंड पर बाल बिल्कुल नहीं होते हैं। मेरे लंड के हिस्से की स्किन एकदम चिकनी और कोमल रहती है, तो बुआ बड़े मज़े से लंड के नीचे चूम रही थीं।बुआ के होंठ ऊपर उठे और मेरे लंड पर आ गए। वो देखकर खुश हो गईं, मेरा लंड 6″ है।‘वाह जतिन इतना प्यारा लंड.

बीएफ मोटी लड़की उस पर तरस तो आया पर हिम्मत नहीं हुई उससे नज़रें मिलाने की… उसके इस सवाल के बाद!एक दिन मुझे कॉलेज की फीस भरनी थी तो मैंने पिता जी को फोन कर दिया. तकलीफ देय स्थिति में खड़े होकर चुदाई करने के कारण अब राजू अपने लंड को पूरा अन्दर-बाहर नहीं कर पा रहा था और सिर्फ इंच-2 ही गोरी की गांड में ठोक रहा था जबकि मैं आराम के साथ अपना पूरा लंड जड़ तक अपनी पत्नी की चूत में घुसेड़ता हुआ बाहर निकाल रहा था.

কলকাতার সেক্স

बाद में साथ में ही खाना खाते हैं।खाना खाते वक्त हम दोनों ने बहुत बातें की।भाभी ने मुझसे पूछा- क्या आपकी शादी हो गई है?तो मैंने ‘हाँ’ कह दिया, तो में भाभी ने पूछा- कोई बच्चा भी है?तो मैंने ‘नहीं’ बोल कर दूसरी बात करने लगा।उस दिन भाभी मुझसे बहुत खुल कर बात कर रही थीं।खाना के कुछ देर बाद मैं अपने फ्लैट में चला गया।रात 1 बजे मेरी घर की फ़ोन की घंटी बजी। मैंने ‘हैलो. फिर दूसरी बार उसके सगे चाचा ने घर में अकेला पा कर उसे चोदा था और फिर उसके जीजा ने भी उसकी चूत मारी थी शादी के पहले और अब शादी के बाद तो तरसती है चुदने के लिए!’ स्नेहा बोली‘हम्म… चलो ठीक है, अपुन को क्या लेना देना. उसके इसी वीक पॉइंट को मैंने एनकैश करने का मन बना लिया और उसे नजर गड़ा कर देखने लगा.

रामू काका ने अपने गिलास से गीता को एक घूंट पिलाई और बोले- ये जो गीता है न जय, साली बहुत प्यासी है लंड की, अगर इसका बस चले न तो साली सारी रात चुदाई करवा कर भी इसका पेट न भरे. वो भी जल्दी से पूरा नंगा हो गया और मेरे ऊपर चढ़ गया। वो मुझसे छोटा था इसीलिए वो बड़े मज़े से मुझे किस कर रहा था। मैं भी उसका साथ दे रही थी. बीएफ मूवी चाहिए बीएफवो काफ़ी खुल गई थी, मैंने कहा- कैसा लगा मेरा लंड?वो बोली- ये भी मज़ेदार है जतिन जितना ही!फिर वो आँख मार के हंसी.

मुझे चूत चाटने का भी बहुत शौक है… जैसे ही मामी की चिकनी चूत मेरे सामने इस कामुक अवस्था में आई, मैं उस पर टूट पड़ा एक प्यासे की तरह… मामी की चूत को पहले अच्छे से चाटा, फिर उनकी चूत के दाने को अपनी जीभ से सहलाया.

मैंने कहा- ताऊ, लगा मुझे भी कई लड़कियों को देख कर लगा था, जैसे उनकी आँखों में कोई इशारा है. जल्दी कर लेट अब तू कर रही है।सुमन- दीदी मुझे शर्म आ रही है।टीना- तुम फिर वही राग अलापने लगीं.

जवाब में वो कुछ नहीं बोली सिर्फ हाँ में गर्दन हिला कर सर झुका लिया. कहते हुए मैंने सुनीता को पीछे को लिटाया और उसकी सलवार का नाड़ा खोल कर उसे उतारने लगा. मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था, मैं भी वरुण की कमर पकड़ कर आगे पीछे करने लगी.

स्नेहा को मैंने ज्यादातर कान्वेंट स्कूल की ड्रेस में ही देखा था, वही घुटनों तक के सफ़ेद मोज़े, घुटनों से चार अंगुल ऊपर नीली सफ़ेद चौकड़ी वाली स्कर्ट और उसके ऊपर सफ़ेद शर्ट और गले में लाल टाई…लेकिन आज वो स्काई ब्लू जींस और नारंगी टॉप पहने थी जिसमें से उसके मम्मों का चित्ताकर्षक उभार सभी के आकर्षण का केंद्र था.

अगर आदमी ना हो तो भी लड़की इस नकली लंड के साथ सेक्स कर सकती है और ये भी ना हो तो उंगली से भी सेक्स कर सकती है। इसे ही आप फिंगरिंग बोल रही थी ना!टीना- शाबाश सुमन बहुत जल्दी समझ गई तुम. अपना लंड बाहर निकालो।लेकिन मैं फिर उसके मम्मों को दबाने लगा और उसे किस करता रहा। इसके साथ ही मैं अपने लंड को थोड़ा अन्दर-बाहर करने लगा।वो ‘उईईईई मर गई. इसलिए मैं साथ ही साथ उसको लिप किस भी करने लगा।फिर एक और ज़ोरदार झटका मारते ही मेरा 7 इंच लंबा लंड मेरी बहन की चुत में जड़ तक था।वो रो रही थी , शायद मैंने ही दीदी को चोदा पहली बार… उसका यह फर्स्ट टाइम था.

सेक्सी बीएफ लड़कियों केफिर माँ की चूची को धीरे धीरे सहला कर आलोक ने कहा- चाची, अब मुझे जाना चाहिए. लैपटॉप पर उसने क्सक्सक्स मूवी XXX Movie फोल्डर देख लिया और… भाई बहन की चुदाई हो गई.

ममी की चुदाई

तो बताऊंगा।मैं गुजरात का रहने वाला हूँ। कई सालों से मैं अन्तर्वासना का पाठक रहा हूँ और इसकी कामुक कहानियां पढ़कर बहुत हस्तमैथुन भी किया है।मैं अभी 26 साल का हूँ। करीब एक साल पहले मुझे आंटी मिली, जिसके साथ की चुदाई की कहानी आप सभी को बताने जा रहा हूँ।वो कामिनी जी मेरे घर के पास रहती थीं. उसने मुझे धमकी सी दी थी, मैं तुरंत उससे दूर हुआ और वो चली गई।ये पैसों से चूत चुदाई की कहानी कैसी लगी. मैं अपनी प्लेट लेकर एक तरफ कोने में खड़ा होकर खाने लगा जहाँ से स्नेहा के रूप के दर्शन और उसका चक्षु चोदन भी साथ ही करता जा रहा था.

5 इंच हो गया था। लंड मेरे पज़ामे में तंबू बन गया था। मैंने भाभी को बिस्तर पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया। मैंने फिर उनके होंठों को चूमना शुरू किया और दोनों हाथों से उनके मम्मे पूरी ताकत से मसलने लगा।सोनू भाभी मेरे नीचे तड़पने लगीं। वे मेरी कमर को अपने हाथों से सहला रही थीं और नाखूनों से नोंच रही थीं। भाभी इस चुदाई के आलम में ठंडी आहें भर रही थीं- आअहह. उसने मुझे मम्मी से मिलवाया, पर मेरी नजर बार-बार काजल पर फिर रही थी. मैंने साथ में बैठे पुलिस वाले की तरफ देखा तो वो मेरी तरफ देखकर मुस्करा रहा था.

इसी उधेड़बुन में कब मेरी नींद पड़ी मुझे पता ही नहीं चला।मैं शायद नींद में भी मुस्कुराती रही, मुझे कुछ पा लेने जैसा अहसास हो रहा था। तभी मेरे कानों से एक तेज ध्वनि टकराई- चलो उठो. उस दिन मैंने आंटी की चुदाई रात तक 4 बार की और उनकी फैमिली आने से पहले घर वापस आ गया. चोद दे जल्दी से अब।मैंने अपने लंड को पानी से गीला किया और उस पर थोड़ा सा शैम्पू लगाया ताकि खूशबू आ जाए और वो चिकना भी हो जाए। इसके बाद मैंने उनकी चुत पर 1-2 मिनट किस किया और फिर अपना लंड उनकी चुत पर रख दिया।अब मैं लंड को आंटी की चुत पर ऊपर-नीचे घिसने लगा.

इसलिए मैं दुशाली का पल्लू सही करने लगा। मैं पल्लू सही कर पाता कि इतने में दुशाली ने समझ लिया कि मेरी इच्छा क्या है। साथ ही उसकी पीठ के नीचे मेरा लंड जवान हो रहा था जो उसे महसूस होने लगा था।वो भी अब मस्ती के मूड में आ गई थी।दुशाली सीधी बोली- पंकज तुम कब से मेरे चुचे देख रहे हो. फिर आदित्य ने मेरी ब्रा उतार दी और मेरे मम्मों को मसलने लगा… वो अपने एक हाथ से मेरे मम्मे मसल रहा था.

फिर चची आकर मेरी बगल में लेट गई और अपनी चूत पर हाथ फिरा रही थी, उनको समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करें! उनकी चूत इतनी प्यासी हो रही थी कि कुछ भी मिलेगा, उसे वो अपनी प्यासी फुदी में घुसा लें.

मैंने स्नेहा की तरफ प्यार से देखा वो तो अपनी प्लेट से दही बड़े खाने में मगन थी. जबरदस्ती एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ’ मैं बुदबुदाया।‘और क्या तुम…’ उसने पूछा- क्या तुम्हारा निकलता भी है जब तुम मुठ मारते हो?‘हाँ, हमेशा… मैं कोशिश करता हूँ कि मेरा तब तक ना निकले जब तक तुम अपनी चरम सीमा तक नहीं पहुँच जाओ… पर ज्यादातर मैं तुम्हारी उत्तेजना देखकर पहले ही झड़ जाता हूँ. बीएफ इंग्लिश में चाहिएभाभी ने अंदर कुछ पहना तो था नहीं तो उसके नर्म मुलायम मम्मों को अपनी छाती पर पाकर मेरा जोश बढ़ गया और तभी भाभी ने मेरा चेहरा अपने हाथों में पकड़ा और मेरी आंखों में देखते हुए मेरे लबों पर अपने गुलाबी होंठ मिला कर चूमने लगी. गोपाल अपनी जीभ से मोना की गुलाबी चुत का रस पीने में जुट गया।कुछ देर बाद मोना फिर से नीचे लेट गई और अपने घुटने मोड़ कर चुत को पूरी तरह खोल कर लंड घुसेड़ने का निमन्त्रण देने लगी।मोना- आह गोपाल.

विकास भी इस बात से अन्जान है।लेकिन यह घटना अपने मन में छुपा न सका, इसलिए आप सब दोस्तों के साथ शेयर कर दी। उम्मीद करता हूँ आप सबको मेरी कहानी पसन्द आएगी।[emailprotected].

और ज़ोर-ज़ोर से चूस ले।वो बाथरूम के फर्श पर लेट गईं और अपनी दोनों टांगों को ऊपर करके अपने हाथों से पकड़ लिया, जिससे उनकी चुत मेरे सामने आ गई।उन्होंने पैंटी पहनी हुई थी. मैंने तुरंत उठ कर माला के कन्धों पर उसका लटकता हुआ ब्लाउज और अधखुली साड़ी को खींच कर उसके बदन से अलग कर दिया. जाकर देखा तो वही भाभी थीं।मैंने कहा- आइए भाभी।भाभी- आंटी कहाँ हैं?मैं- मम्मी तो मामा के यहाँ गई हैं, आपको कुछ काम था?भाभी- नमक चाहिए था।मैं रसोई में जा कर नमक का डब्बा ले आया और भाभी को दे दिया।भाभी फिर दूसरे दिन नमक वापिस करने के लिए आईं।मैंने कहा- इसकी क्या ज़रूरत थी.

वो गाउन पहन कर बाहर आई और बोली- क्या देख रहे थे?मैंने कहा- कुछ नहीं भाभी, वो… मैं पानी के लिए उठा तो उधर नजर चली गई. कुछ ही पल के बाद सुल्लू रानी के बदन में मुझे एक तेज़ कंपकंपी सी दौड़ती हुई महसूस हुई. जब मुझे होश आया तो एक पल कि मुझे लगा कि सपना था पर पास में बैग देख कर समझ आया कि सपना नहीं यह सच था कि मैंने अपनी फीस के 1 लाख 30 हज़ार गुमा दिए थे.

xxxxx हिंदी

आपका लंड मोटा है।फिर मैंने भाभी के होंठों पर किस किया और धीरे-धीरे धक्के लगा कर पूरा लंड चूत में डाल दिया। एक-दो पल रुकने के बाद मैं धक्के मारने लगा।सोनू भाभी के मुँह से तेज ‘आ आह. सुल्लू रानी पहली बार किसी को अमृत पिला रही थी इसलिए वो ज़्यादा कण्ट्रोल नहीं कर पाई. फिर 15 मिनट बात मेरा छूटने लगा, उसने अन्दर छोड़ने से मना कर दिया तो मैंने उसके पेट पर ही छोड़ दिया.

उसी तेल से मैं उनकी मालिश कर रहा था।फिर 2-3 बारी लंड को गांड पर लगाया तो वो उछल कर चुत पर जा लगा, जिससे हम दोनों को गुदगुदी हुई और फिर काफ़ी झटकों के बाद मेरा आधा लंड आंटी की गांड में घुस गया।लंड घुसते ही आंटी चिल्ला पड़ीं- आआईयईई.

अब मैं उसके साथ बातें करते हुए बार बार चूत शब्द का इस्तेमाल जानबूझ कर कर रहा था.

मैं बड़ा हैरान हुआ, मैंने गीता की और देखा वो सोफ़े पे बैठ कर चाय पीने लगी और मुझे आँख मार कर मुस्कुरा कर इशारा किया, जैसे कह रही हो, चिंता मत कर, मज़े कर!मैंने अपनी बेल्ट और पैन्ट की हुक खोली और अपनी पैन्ट और चड्डी उतार कर नीचे गिरा दी. पिछले तेरह माह से मैं बिना विवाह किये भी एक शादी शुदा पुरुष की तरह जीवन जी रहा हूँ और माला विवाहित होने के बावजूद भी एक पर-पुरुष के साथ जीवन व्यतीत कर रही है. हीरोइन वाला बीएफ सेक्सीमाला की बात सुन कर मैंने उसके स्तन से अपना मुंह हटा दिया तब उसने बालक को दूसरी तरफ बिस्तर पर लिटा दिया.

फिर अपनी बाहें पूरी ऊपर उठा के ज़ोर से चिल्लाई- सुनो सुनो सुनो सब लोग सुनो… आज मेरी माँ चुद गई… आओ कमीनों सब के सब आकर देखो कैसे मेरी माँ चुदी पड़ी है… हा हा हा मम्मी कुतिया बधाई हो बधाई, आज तेरी बेटी कीमाँ की चुदाईहो गई… हा हा हा… राजे, बहन के लौड़े… दे मुझे लाख लाख बधाईयाँ… तेरी रीना रानी की माँ चुद गई…ये सब बोलते हुए रीना रानी सुल्लू रानी के मुंह पे चढ़ के बैठ गई- ले मेरी बदचलन माँ. फिर तू ऐसा क्यों बोल रहा है?मैंने दीदी से सीधा पूछ लिया- तुम्हारे और सुनील के बीच में क्या चल रहा है?दीदी यह सुन कर चुप हो गईं. उसके बाद लंड को लड़की की गांड में पेल दिया और चुदाई करना शुरू कर दिया।लड़की भी ‘ये ये…’ करके उसका हौसला बढ़ाती जा रही थी, वो आदमी कभी उसकी गांड मारता तो कभी चूत की चुदाई करता।एक बार फिर उस आदमी ने अपने लंड को बाहर निकाला और लड़की के मुंह के पास ले गया.

झांटें छोटी छोटी हों जिनमें से चूत के लिप्स की स्किन भी दिखती रहे, ज्यादा घनी नहीं!नेट पर पोर्न देखने के मामले में भी मैं काली झांटों वाली लड़की ज्यादा प्रेफर करता हूँ. मेरे पति मुझसे पूछने लगे- क्या हुआ?तो मैं बोली- शायद उसका काम हो गया!इतने में बाथरूम का दरवाजा खोलने की आवाज़ आई तो मैं और मेरे पति वैसे ही लेट गये, जैसे लेटे थे!वरुण आया, कमरे की लाइट जला कर देखा, सब सो रहे हैं तो लाइट बंद कर के मेरे बगल में लेट गया.

बस इतने में ही नीलू चीख पड़ी और बोलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत दर्द हो रहा है.

फिर अचानक बोले- नीचे का दर्द ठीक है?मैं सुनकर चौंक गई, मैं पूछने लगी- क्या मतलब?तो वो बोले- तुमने ही तो कहा था सर से पैर तक सब दर्द कर रहा है!आज मैं कुछ अलग सा महसूस कर रही थी, मेरे पति के देखने का अंदाज, उनके बोलने का अंदाज, उनकी हरकतें सब कुछ जैसे अलग सा लग रहा था!मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि आज हो क्या गया. वो पीछे से मेरी जांघों और गांड के कूल्हों पे अपना गर्म लंड घिस रहे थे. उसकी बीवी अनुपमा तो काफी दुबली पतली थी और उसके स्तन 30 इन्च के करीब के थे.

पिक्चर हिंदी सेक्सी बीएफ बहुत स्वीट थे, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।वो भी अपने मम्मों पर मेरा सर दबा रही थी. यह हिंदी फ्री सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!कुशल लॉन में बैठा था.

उसके बाद जो हुआ उससे मुझे समझ में आया कि इन दोनों ने यह लव बेंच क्यों बनाई है. नाम क्या था उसका?सुमन- उसका नाम रीता था दीदी।टीना- अच्छा अब ये बता तुझे पीरियड्स आए तो कैसे हैण्डल किया तूने. तेरी कसम मैं किसी को नहीं बताऊंगी।संजय- अच्छा तो सुन तू तो जानती है मैं अपने मॉम डैड का एक ही बेटा हूँ।टीना- हाँ यार मुझे पता है।संजय- सुन तो ले यार.

ভোজপুরী ক্স

मैंने हैरानी से उसके ओर देखते हुए कहा- अम्मा, आप यह क्या कह रही हैं? यह बालक मेरा और माला का कैसे हो सकता है?अम्मा बोली- साहिब, जब मैं छोटी बहू के पास गई हुई थी तब आपके और माला के बीच जो रास-लीला चलती रही उसके बारे में मुझे सब पता है. मैंने कन्डोम लिया और उसे पहना दिया और कहा- मादरचोद, तुझे कन्डोम भी नहीं पहनना आता. उन्होंने कहा- तुम इसे चेक करो, मैं कपड़े बदल कर आती हूँ…मैं स्टूल पर बैठ कर कम्प्यूटर देख रहा था कि भाभी नीले रंग का गाउन पहन कर आई.

और हमारे पार्टनर्स की भी मजबूरी है वर्ना वो हमें अकेला नहीं छोड़ते!कुशल भला आदमी था. मैं सोचने लगा कि अब क्या करूँ, फिर सोचा कमला को एक बार ठीक से देख तो लूँ।मैंने मोबाईल निकाला और उसके उजाले को पास बैठी कमला के चेहरे के सामने ले गया।वाह.

मैंने स्माइल देते हुए कहा- लेकिन आप सर से काफी छोटी लगती हो उम्र में?तो उन्होंने बताया कि वो 22 साल की है और सर 29 के हैं.

भैया जॉब में ही ज़्यादा बिज़ी रहते है और रात को घर आते हैं, वे भाभी से बहुत प्यार करते हैं. आंटी खड़ी होकर बोली- ले मैंने आँखें बंद कर ली, अब बता!मैं आंटी के पास गया और उनकी उनकी साड़ी नाभि से नीचे करके उनकी नाभि को जीभ से चाटते हुए बोला- मुझे आपकी नाभि बहुत अच्छी लगती है. मैं अपने घर 2-3 महीने में एक बार ही जा पाता हूँ तो मार्च के महीने में मुझे कुछ जरूरी काम से घर आना पड़ा, रात की ट्रेन थी प्रयागराज एक्सप्रेस… स्लीपर में सोते हुए आया तो मैं लगभग साढ़े चार बजे सुबह अपने घर पहुंचा, सबसे मिला, चाय पी, अब सोने का समय तो था नहीं, मेरा घर नहर के पास में ही है तो मैं घर से बाहर निकल गया टहलने… नहर पर जाकर सिगरेट जलाई अब छः बज चुके थे तो बाकी लोग भी टहल रहे थे.

पता है जब मैं उसके साथ थी तो वो बार बार तेरी तरफ ही देख रहा था और उसका लौडा भी तुझे देख तना हुआ था. मैं अपने साथ हुई सबसे पहले चुदाई की कहानी लिख रही हूँ।यह कहानी कुछ पुरानी है. मैंने जानबूझ कर कुछ भी रिऐक्ट नहीं किया क्योंकि मुझे बहुत मजा आ रहा था.

और ऐसे अचानक पानी आता है तो अजीब लगता है। हाँ अगर पता हो पानी आएगा.

बीएफ मोटी लड़की: अच्छा दिखना सुन्दर दिखना हर लड़की की इच्छा होती है और मैंने स्नेहा की कमजोर नस पर हाथ रख दिया था और मुझे यकीन था कि अगर मैंने सब्र से काम लिया तो उसकी चूत के दर्शन तो पक्का हो ही जायेंगे और हो सकता है कि मेरा काला कलूटा मूसल जैसा लंड भी उसकी गोरी गुलाबी मुलायम कुंवारी चूत की सील तोड़ने में कामयाब हो जाए!‘स्नेहा, इन मुहाँसों का इलाज नैचुरोपेथी या आयुर्वेद से ही संभव हैं. बचा हुआ स्वान का लंड कहाँ जाता… वो भी मेरी बगल में आकर खड़ा हो गया और अपने लंड को मेरे लंड के साथ हमारी पार्टनर के मुंह में घुसेड़ने का प्रयास करने लगा.

तीसरी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि मेरी मान प्रतिष्ठा मोहल्ले में बहुत अच्छी थी अतः मैं किसी भी तरह की कोई भी रिस्क लेने के खिलाफ था या स्थिति में ही नहीं था तो मैं स्नेहा का चक्षु चोदन करके और उसे ख्यालों में लाकर अपनी बीवी को चोद चोद कर या मुठ मार कर ही खुश था. तो इनकी बेटी कितनी सुंदर होगी।मैं आंटी के पास को गया, तभी अंकल ने आंटी से कहा- रमा चलो अब ज़रा घोड़ी बन जाओ. जिसमें लड़की डिल्डो के साथ मज़े करती है और फिर एक वर्जिन लड़की का वीडियो दिखाया, जिसमें एक लड़की बस उंगली से अपनी चुत को रगड़-रगड़ के शांत होती है।ये सब देख कर सुमन की हालत पतली हो गई.

अब मैं उनसे नाटक करने लगा- क्या मैडम आप भी सपनों से डरती हो?अब वो कुछ नहीं बोली.

मेरे बूब्स देख कर शायद उन्हें भी अब कुछ कुछ होने लगा था, वो अब सेक्सी बात भी करने लगे थे, मैं भी पूरे मजे ले रही थी, मैं तो चाहती ही थी उन्हें अपने जवानी दिखाना!बातों ही बातों में जीजू ने मुझ से कहा- रोमा, क्या तुम्हें शादी नहीं करनी? सुहागरात नहीं मनानी?मैंने उन्हें हँसते हुए कहा- मुझे शादी ही नहीं करनी जीजू!तभी उन्होंने कहा- तो क्या सिर्फ़ सुहागरात मनाओगी?तो मैं हँसने लगी. चल अब अपना फिगर बता।उनकी बातों से सुमन घबरा सी गई उसके पैर काँपने लगे थे। उसने डरते हुए कहा।सुमन- ज्ज्जजी वो मुझे नहीं पता।साहिल- ले भाई अजय तेरे मज़े हो गए. ’ की आवाजों से कमरा गूंजने लगा।मेरे संतरे हिल-हिल कर आकाश से कह रहे और तेज चोदो.